बीएफ फिल्म हिंदी में देसी

छवि स्रोत,मियां बीवी की चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी गाना व्हिडीओ में: बीएफ फिल्म हिंदी में देसी, अब तक हम दोनों बहुत गर्म हो चुके थे और एक दूसरे को चूमने और चूसने में लग गए थे.

𝓱𝓲𝓷𝓭𝓲 𝔁𝔁𝔁

उसको लंड चूसता देखकर मैंने शीला को हिलाना चाहा, पर वो गहरी नींद में थी, इसलिए मैंने अपना सारा ध्यान पद्मा पर लगा दिया और कुछ ही सेकंड में लंड खड़ा हो गया. ওপেন সেক্স মুভিमैंने कहा- वर्षा तेरा दिल से शुक्रिया, तूने सही जवाब दे कर मुझे पापा से बचाया, नहीं तो पापा आज मुझे मार मार कर मेरी जान ही निकाल देते.

इशारा समझकर प्रशांत ने अपना अंडरवियर ही नहीं बल्कि बनियान को भी निकाल फेंका. हिजरा सेक्समैं रूम में पहुंचा और अपने कपड़े उतार कर सिर्फ एक शॉर्ट चड्डी में लेट गया, जिसमें मेरा 8 इंच का लंड बमुश्किल ढका हुआ था.

मेरे लंड की पिचकारी निकलने को हुई, मैंने उसके मुँह से लंड बाहर खींचने का प्रयास किया.बीएफ फिल्म हिंदी में देसी: चुचे से खेलते ही वो एकदम से गरम हो गयी और अपने हाथ से मेरे पैर को पकड़ कर अपने चुचे पर दबाने लगी.

उसने अकुलाते हुए गांड उठाई और कहा- यार अब और मत तड़पाओ … डाल भी दो.मैंने पूछा- क्या हुआ? तुम नाराज हो क्या मुझसे?वह बोली- नहीं पागल, तुमने एक साइड से मेरी चूचियों को दबा दिया इसलिए दूसरी साइड मुझे दर्द हो रहा है.

एक्स एक्स एक्स देहाती फिल्म - बीएफ फिल्म हिंदी में देसी

शायद मैं बहुत दिनों के बाद संभोग कर रही थी, इसी वजह से मैं कुछ अधिक कामुक हो गयी थी.बहुत खुश लग रही थी बुआ, उन्होंने मेरे माथे को फिर से किस किया तो मैंने फिर से उनको लिप्स पर ज़ोर से किस कर लिया.

मेरा पड़ोसी लौंडा मेरे पीछे आ गया और मेरी गर्दन को किस करते हुए मेरी चूची को दबाने लगा. बीएफ फिल्म हिंदी में देसी मीशा चीख पड़ी- ऊई मेरी माँ, मर गयी उई उई उई … ये तो बहुत मोटा है, भैया बड़ा दर्द हो रहा है, मर गई मैं तो, मर गई आप तो कह रहे थे थोड़ा सा दर्द होगा.

उसके बाद मैंने उससे कहा- आगे भी कुछ करना है या जाऊं?उसने कहा- तुम खुद ही सोच लो क्या करना है.

बीएफ फिल्म हिंदी में देसी?

रिशु ने मिशिका की पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर किस कर दिया तो मिशिका ने रिशु का मुंह अपनी पैंटी में घुसा दिया. दो मिनट बाद वो भी अन्दर आ गई और दरवाजे को अन्दर से कुंडी मार कर बंद कर दिया. फ्रेश होकर जब सासू माँ के पास गई, तब उनसे पता चला कि हितेश ऑफिस जा चुके हैं.

एग्जाम खत्म हुआ और मैं तुरंत कॉलेज से बाइक उठाकर मेडिकल स्टोर गया और वहां से एक पैकेट कंडोम का लिया. उनकी नशीली आँखों में आज अजीब सी खुमारी छाई हुई थी, वैसे भी उन्होंने लता और मेरी चुदाई की आवाजें सुन लीं थीं, जिससे वह उत्तेजित हो गई थीं. मैंने उसका लोअर उसके घुटने तक सरका दिया और फिर उसकी पैंटी की इलास्टिक को अपने दांतों से पकड़ कर नीचे खींचने लगा.

मैं गचागच उसकी चूत का चोदन करने में लगा हुआ था और वह आनंदित हो रही थी. मैं उसके पीछे आ गया, तो मैंने अपना लंड पीछे से उसकी चूत में डाला और चोदने लगा. तो मैंने उसकी बात मान ली और अपनी साड़ी कमर तक उठा कर पैंटी निकाल दी.

वो भी समझ रहा था कि मैं उसके साथ सेक्स करना तो चाहती हूँ लेकिन नारी सुलभ विरोध कर रही हूँ. बोला- यह पकड़ ले … अपने लिए 2-3 अच्छी-अच्छी पैंटी और जो भी तुम्हें लेना हो, अपनी पसंद का ले लेना.

मैंने कहा- मामी, बस कपड़े पहनने के लिए ही जा रहा हूँ।मामी की नज़र जैसे मेरे बदन को ही निहार रही थी.

मुझे कुछ भी अब होश नहीं बचा था, मैंने सोची आज तो ये साला कल्लू हब्शी मुझे पागल ही कर देगा.

वो सोचता था कि इतनी सुंदर और सेक्सी मॉडल लड़की हाथ लग गयी है, इसके साथ जवानी के सारे मज़े ले लूँ. वाह चिकनी बुर थी, मैं उसकी बुर पर हाथ फ़ेरने लगा, परन्तु इस बार मैंने अपनी उंगली उसकी बुर में नहीं डाली क्योंकि मुझे डर था कि कहीं वह फ़िर से ना बिदक जाए, इसलिए मैं सिर्फ़ उसकी बुर को ऊपर से ही मसलता रहा. कार में बैठने के बाद मैंने भाभी से पूछा कि कहीं वह मुझसे नाराज़ तो नहीं हो गई है.

अपने शौहर के लिए प्यार अब भी था, इसलिए आए दिन बेटे के बहाने उनसे बात करके उन्हें वापस पाने की कोशिश करती, पर हर बार जब वो दुत्कार देते तो एक रोष सा आ जाता कि बस अब बहुत हो गया. मेरी चूत से इतनी जोर की फच फच की आवाज आने लगी कि कोई कमरे के बाहर हो तो उसे भी सुनाई दे जाती. तो मैंने अपनी सलवार का नाड़ा खोला ही था कि अचानक किसी ने दरवाजे पर आवाज लगाई.

ऋतु- क्या?मैं- क्या सर? गांड मारने का?रवि- हां …मैं- पर सर ऋतु ने आज तक कभी गांड नहीं मरवाई है.

मतलब वो पैंतीस साल की थी, उसके चुचे 36 इंच के थे और उसकी गांड 37 इंच की थी. फिर इसके बाद तो उस का हाथ मेरे पीछे तरफ अपने आप मेरी कूल्हों में चलने लगा और उसका लंड भी दोनों चलने लगे. वो मुझसे पूछने लगा- सर, ये शंकर सर की पत्नी तो कब का स्वर्ग सिधार गई थीं.

चौबीस साल लगते ही अब्बू ने एक पुराने जानकार एक अच्छे परिवार में मेरा रिश्ता तय कर दिया. जहाँ उनके उछलने से मुझे लेटे लेटे ही चुदाई का आनन्द मिल रहा था, वहीं उनकी उछलती हुई बड़ी बड़ी चूचियां लंड में और उबाल ला रही थीं. कुछ देर बाद मैंने उसकी गांड में ही माल छोड़ दिया और उसके ऊपर से हट गया.

करीब 5 मिनट के बाद मैंने उसके कपड़े उतार दिए तो मेरी आँखों के सामने उसका नंगा बदन था, उसके फिगर को देख कर मेरा लंड बहुत ही ज्यादा टाइट हो गया.

उसके बोबे बहुत ही प्यारे थे और उसके गुलाबी निप्पल पर जैसे मैं टूट पड़ा और चूस-चूस कर उसे चरम सीमा पर ले आया. सुनसान अँधेरे कमरे में चुदाई की वो मधुर आवाज घप घप घप और उसकी दर्द भरी सिसकारियां ‘अह अह अह हम्म ह्म्म्म.

बीएफ फिल्म हिंदी में देसी मैंने अपनी टांगें ऊपर की तो किशोर ने मेरी टांगें अपने कंधों रख लीं. अब आगे:फिर जब सर पूरी तरह से शांत हो गए तब उन्होंने हम दोनों को घर जाने के लिए बोल दिया।जब हम लोग स्कूल से कुछ दूर अपने गाँव की ओर चले आए तब पिंकी ने मुझे गाली देना शुरू कर दिया.

बीएफ फिल्म हिंदी में देसी अजय ने आँख दबाते हुए कहा- तुम जानती हो, बीपीएल राशनकार्ड कैसे बनता है?सुजाता ने झुक कर अपनी चूचियों को हिलाया और कहा- हां, मुझे सब मालूम है. आखिरकार वह दिन आ ही गया, जब सती-सावित्री की तरह पेश आने वाली मेरी बिंदास चुदैल ‘धर्मपत्नी’ की मुराद पूरी हो गई.

हां एक बात … ‘आरती की चुदाई का अशोक से और मेरी चुदाई का धीरज से’ सिवा हम दोनों के किसी को नहीं पता था.

हिंदी बीएफ सेक्सी पिक्चर ब्लू

मैं मस्ती से बड़ाबड़ाए जा रही थी- साले हरामी … पहले मेरी चूत तो शांत कर दे. आंटी ने बादाम का दूध दो गिलासों में निकाला और हम दोनों ने एक एक ग्लास दूध पी लिया. इधर सरदारजी जोश में नटखटी होने लगे, उनके मुँह से कमेन्ट्री शुरू हो गई- नहीं जा रहा सही जगह, इधर उधर मार रहा है.

मैंने देखा कि मिशिका के फोन में रिशु नाम के एक लड़के का मैसेज आया हुआ था. उसे सब पता चला तो वो कहने लगी- अगली बार जब उससे मिलो, तब कुछ भी हो जाए. क्योंकि बाहर आकर पता लगा कि रात में ठंड बढ़ चुकी थी और ऑटोवाले भी उसको लालच भरी नज़रों से देख रहे थे.

इस दुबारा की चाटने की क्रिया ने हम दोनों को फिर से गर्म कर दिया था.

”क्या बात कर रही हो? तुम इससे पहले कभी नहीं झड़ी थी, तब तो और मजे की बात है … आज मैं तेरी सारी भूख मिटा दूँगा मेरी जान. हम जो सजती संवरती बनती ही इसीलिए हैं कि मर्द लड़के हमें देख कर आहें भरें और हमारे लिए पागल हों. मैंने भाभी को पीछे करके उनको अपनी बाहों में भरा और ज़ोर से भींचकर ऊपर उठा दिया.

वो मूंछों वाले दादा साहेब बोले- जल्दी ही कर रहा हूं … नहीं तो तू तो ऐसी गर्म आइटम है, ऐसी माल है कि पहले तो तेरे एक एक अंगों को पहले चाटता, उसे प्यार करता और एक एक अंग को सहलाता, उनसे दो चार घंटे खेलता, तब जाकर तुझे चोदता, पर अभी समय बिल्कुल नहीं है. मैं रोनी शक्ल बनाकर कभी क्वेस्चन पेपर को कभी आन्सर शीट को देखने लगी. हम जो सजती संवरती बनती ही इसीलिए हैं कि मर्द लड़के हमें देख कर आहें भरें और हमारे लिए पागल हों.

कभी जब बहुत मन करता है तो रात भर नींद नहीं आती और मैं चूत में उंगली से कर लेती हूँ. मेरी गांड चुदाई एक बड़े लंड से हो रही थी और दूसरी तरफ कुतिया की तरह मैं फौजी का लंड चाट रही थी.

भाभी बोली- यार रेशमा … तुम्हें तो पता है कि मेरे पति बाहर गए हुए हैं. फिर चली जाना और यह पैंटी याद के रूप में मैं रखूंगा, तुम नयी ले लेना. तो कैसी लगी आप लोगों को मेरे मित्र की चुदाई की कहानी … मुझे मेल कीजिएगा.

उसका शाम को रिप्लाई आया- बस रहने दो … तुम बस फेंकते रहो, भला कौन थप्पड़ मरवा के गांड लाल कराये अपनी.

साड़ी के बाद ब्लाउज, फिर ब्रा और आखिर में पेटीकोट का नाड़ा भी खोल दिया. एकाध जो बचे थे, उनके लिए पहले से ही गेस्टहाउस में सारी व्यवस्था कर दी गयी थी. अब भैया की शादी थी, तो हम किराए वाले भी एक फैमिली टाइप ही हो गए थे.

मैंने धीरे से उसके हाथों को हटा कर उसकी आँखों में झांकते हुए उसको देखा. आपको आपकी निशा का गर्मागर्म चुम्मा ऊऊम्मआह!विराट और निशा[emailprotected].

थोड़ी घरेलू कसरत करके उससे बनावट भी सही है और जिन्हें अंगों के नंबर जानने में ज़्यादा रूचि है, उनके लिए बता दूं कि मेरा आकार 34-29-35 का है और सी कप के चूचे हैं मेरे. जब उसने मेरा देखा तो घबरा गई, मैंने अपना लण्ड उसके हाथ में दिया और उसे मुँह में लेने को कहा. वो मुझे बहुत गालियां दे रही थी- और चोद साले … और चोद … रंडी बना दे मुझे कुतिया बना ले अपनी.

इंग्लिश सेक्सी बीएफ भेजिए

मैंने उसकी एक बगल में किस किया तो मुझे एक सेक्सी स्मेल आई ‘ऊऊओह … उफफ्फ़.

हालाँकि बीच में कुछ और फालतू फोन भी आये जिन्होंने मेरा नंबर उसी टैग से लिया था लेकिन वे मेरे परिचय वाले न साबित हुए तो मैंने बात बढ़ानी ठीक न समझी। क्या पता कौन हो कैसा हो. थोड़ी देर बाद ही उसके बॉस की गाड़ी ड्राइवर लेकर आया और उसने मेरी बीवी को चलने को कहा. वर्षा बोली- दीदी मैं जब तक जिन्दा हूँ, आपको कुछ भी नहीं होने दूंगी.

वो लंड को जोर जोर से चूसने लगीं, बीच बीच में आंड भी दबा दबा के मुझे तड़पाने लगी. उसके बाद मेरे पति एक महीने बाद बिजनेस के काम से तीन महीने के लिए बाहर चले गए. एक्स एक्स एक्स ब्लू फिल्म सेक्सीहम दोनों ने खाना खाया और उसके बाद हम दोनों लोग लेट कर एक दूसरे से बात करने लगे.

वहां भाभी की चड्डी और ब्रा दिखी तो मैंने उन्हें सूंघ कर मुठ मारी और सारा माल चड्डी में गिरा दिया. आज मेरी उम्र बेशक 29 साल है, परन्तु कभी खुद को जवान महसूस नहीं किया.

हालांकि उसका टमाटर के आकार का सुपारा मेरी चूत को उत्तेजित कर रहा था, लेकिन बेचारी फुद्दी को इस वक्त अगले ही पल होने वाले दर्द का अहसास ही नहीं था. वो बोली- अंदाज़ा तो एकदम सही लगाया है, लगता है तुमने भाभियां चोदी हैं. मैं भी चुदाई का यही मतलब समझने लगी थी, यह सब कुछ मजे मैं जानती ही नहीं थी.

मैं- हैलो मेम, मैं मदन के दोस्त का पापा हूँ, वो आपके घर की चाभी लाया था. बीच बीच में मैं उनके पेट, चुचों और कंधों को भी चूम रहा था ताकि उनको और उत्तेजना आये और वो ऐसे ही बेकरार रहें. बॉस एक उंगली से मेरी बीवी की चूत का छेद देखने लगा चूत का दाना देख कर उसे रहा न गया और उसने अपनी जीभ चूत के दाने पर लगा दी.

डॉली ने मेरे गाल पर चिकोटी लेते हुए कहा- यू नॉटी … सबकी चुत में अपना मूसल डालना चाहते हो.

मेरे ऐसा करते ही वाणी खुद नीचे से अपनी कमर उठाते हुए लंड पर धक्के मारने लगी और मैं उसकी चुची को चूसता रहा. मिसेज रॉय का परिचयमैं अपनी पिछली कहानी में बता चुका हूँ, जो हमें क्लब में मिली थीं.

तो उसने मेरे कान की तरफ अपनी गर्दन कर दी और बहुत धीरे से बोला, जिससे रंजना को ना सुनाई दे- सोनू, मुझे तेरी चूत में भी डालना है. इसके बाद उसने अपना लंड मेरे हाथ में दे दिया और अपना लंड मुझे हिलाने के लिए बोला. अब मैं क्या करता? तो मैंने उसे ज़बरदस्ती घोड़ी बनाया, उसकी गांड को काफी देर तक सहलाया, फिर अपने लौड़े पर नारियल का तेल लगाया, उसकी गांड पर भी ढेर सारा तेल लगा दिया.

फिर मैंने कहा- अरे भाभी जी मैं मदन के दोस्त का पापा बोल रहा हूँ … मदन आज यहां रुकने वाला था. भाभी ने अपनी बांहें फैला कर मुझे अपने आगोश में ले लिया और बहुत प्यार करने लगीं. पहले तो मैंने उस पर ध्यान नहीं दिया, लेकिन बाद में ध्यान से देखने पर पता चला कि इसे तो मैं पहले से ही जानता हूँ.

बीएफ फिल्म हिंदी में देसी उस कॉलब्वॉय को मैंने काफी बड़ी कंपनी से हायर किया था, इसलिए मैं उस पर भरोसा कर सकती थी. उसका लंड बहुत मोटा और लंबा था जिसकी वजह से मेरी झांट सी चूत में घुस ही नहीं रहा था.

बीएफ वीडियो लोड

माँ ने मुझे उनका फोन नम्बर दे दिया था ताकि मैं उनसे फोन पर बात कर सकूँ. मुझे बिल्कुल भी होश नहीं था और अब डेविड ने स्पीड बढ़ा दी और चुदाई के कारण मेरी आवाज और तेज हो गयी थी. रात के वक्त सास-ससुर खाना खाकर सोने चले गए और मैं तथा भाभी सब काम खत्म करके अपने बेडरूम में सोने चले गए.

चूत को चाटते हुए पांच-सात मिनट हुए थे कि उसकी चूत ने बहुत सारा पानी छोड़ दिया. तब मैंने भैया को देखा … उनका लंड खड़ा हुआ था, तो मेरे मुँह से निकल गया- अरे ये क्या है लम्बा सा. ब्लू पिक्चर वीडियो सेक्सी वीडियोयह सुन कर मैं थोड़ा चौंक गया, मैं समझ गया कि कल रात वो मेरा सपना नहीं हकीकत था.

तब मैं मम्मी से बोली- मम्मी आशीष मुझे प्यार करता है और मैं भी उससे बहुत प्यार करती हूं.

उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे होंठों पर अपने होंठों को टिका कर मेरे होंठों को चूसने लगी. साथ ही मैं अपने हाथों से उनके तने हुए मम्मों को दबाकर जोर मसल रहा था.

यहां पर एक तरफ ऐसी बिल्डिंग खड़ी हुई दिखाई देती हैं कि लगता है कहीं विदेश में घूम रहे हैं और दूसरी तरफ बीच-बीच में छोटे-छोटे पुराने गांव बसे हैं जो केवल नाम के ही गांव रह गए हैं. गाड़ी जैसे जैसे तेज चलने लगी, राज अंकल मम्मी को जोर जोर से कस के पकड़े हुए उनके दूधों को दबाने लगे थे. उसके 2 बच्चे भी हैं मेरे साले को शराब पीने की बहुत ज्यादा आदत है, जिस कारण घर में क्लेश होता है.

जब मैं 22 साल का था तब मेरी भाभी ने मुझे मुट्ठ मारते हुए देख कर रंगे हाथ पकड़ लिया था.

मेरा मन ऐसा कर रहा था कि बस आज मैं इसकी हो जाऊं और इसे अपना सब कुछ दे दूँ. थोड़ी देर ऐसे ही वीडियो कॉल के बाद मैडम बोलीं- मैं आपको थोड़ी देर में बताती हूं. उस दिन मैंने पहली बार महसूस किया शिखा मेरे साथ आज कुछ ज्यादा ही चिपक कर बैठी थी.

हिन्दी बीयफमैं- अरे मायूस क्यों होती हैं आप … चलिए इसी बात पर एक एक जाम और हो जाए. फिर उसने अपनी साड़ी वैसे ही लपेट कर बांध ली, जैसे शो शुरू होने से पहले थी.

बीएफ बीएफ ब्लू पिक्चर बीएफ बीएफ

उसने अलग से खटिया ना होने बिस्तर को नीचे लगाया।हम दोनों के बीच में सोनू को लेकर सो गए। रात को करीब 4 बजे मेरे नींद खुल गई। देखा तो सोनू नीचे को हो गया था और मेरे छाती पर रेखा का हाथ था। मेरा हाथ रेखा के छाती पर था। मुझे मज़ा आ रहा था. इसके बाद हम में से किसी के भी उठने की हिम्मत नहीं थी, तो हम करीब आधा घन्टा ऐसे ही लेटे रहे. उसकी तेज आवाज निकली, लेकिन मैंने अनसुना करके एक बार फिर प्रयास किया.

कमर मेरी उनके कमर से चिपक गई थी, तभी मेरे सलवार के ऊपर से ही कमर के नीचे जांघों में कोई सख्त चीज चुभ रही थी. शौहर ने मुझे छोड़ने से पहले मेरे साथ कुछ समय बिताया था, तब जी भर के मुझे मज़ा दिया था. मेरी चचेरी बहन की चूत चाटते हुए जो कामरस बाहर निकल रहा था उसका स्वाद मेरे मुंह में आना शुरू हो गया था.

बात खत्म करने के पश्चात मैं बिस्तर से उठी और अपनी छुपाई हुई संदूकची बाहर निकाली. भाभी कुछ देर बाद कपड़े पहनकर मेरे रूम में आयी और मैं जानता था कि भाभी के बिना पेंटी के ही आई है. मैं उनके सामने खड़ा हो गया और हमने एक दूसरे को सब कुछ भूल कर चूमना शुरू किया.

हाह … आह्ह् … हम्म … करते हुए मैं आंटी की चूत में अपने लंड को खाली करने लगा. ठंड का मौसम कुत्तों के मिलन का होता है, इस वजह से जहां तहां कुत्ते कुतियों के पीछे से चिपके हुए मिलते हैं.

बाद में उसके द्वारा पता चला कि इसका पहले से भी कोई था, जिससे प्रीति चुद चुकी थी.

रात को करीब 12 बजे मेरी नींद खुली, तो मैंने अपने मुँह को शीला की चुचियों के बीच पाया. कुंवारी सेक्स वीडियोथोड़ी देर आराम करने के बाद सीमा आंटी उठने की कोशिश कर रही थीं, पर उनसे उठा ही नहीं जा रहा था. ആന്റി സെക്സ് വീഡിയോസ്उन लोगों ने मुझे अपनी गाड़ी से उसी शादी के पंडाल के पास पहुंचा दिया. कहानी शुरू करने से पहले मैं आप लोगों को अपने बारे में कुछ बता देना चाहता हूँ.

मैं हाँफ रहा था और कोमल ने मेरे सारे वीर्य को अपने अंदर गटक लिया था.

उन्होंने 4-5 थप्पड़ बहुत जोर के मारे और बोलीं- इतना ही मन पढ़ने में लगा … अभी तेरी उम्र ही क्या है. इतने में ही नीचे से कब उसका हाथ मेरी लोअर पर जाकर मेरे लंड को टटोलने लगा मुझे इसकी खबर भी नहीं लगी. सासू माँ- आओ आओ कल्पना बेटा, कब से अकेली बैठी बोर हो रही थी, अच्छा किया जो तू खुद ही चली आयी, वरना मैं ही तेरे पास आने वाली थी.

कौशल्या अब पूरी थक चुकी थी, पर मैं पूरी बेदर्दी के साथ उसकी चुदाई कर रहा था. कुछ सहकर्मी अच्छे दोस्त भी बन गए, उनके दूसरे देश के होने के कारण हर रोज़ कुछ ना कुछ नया जानने को मिलता. अब ना जाने मुझे क्या हो गया, मुझे कुछ समझ ही नहीं आया कि मैं क्या करूँ.

नंगी बीएफ सेक्सी चुदाई

मेरा लंड अब बड़े मजे से गचागच, सटासट उसकी चूत में अन्दर बाहर होने लगा था. बुआ ने मुझे भी अपने घर चलने को कहा, पहले तो मैं दिखावा करने लगा लेकिन जब रिंकी ने मेरा हाथ पकड़ा तो मैंने भी हाँ कह दिया. मैंने खुद को अपने रूम में बंद कर लिया और अपनी सलवार को उतार कर पहले थोड़ी देर चूत के दाने को मसला.

पहले मैंने अपना हाथ उसके हाथ में रखा, तो वो बोली- क्या कर रहे हो?मैं बोला- आपकी अंगूठी देख रहा हूँ.

उन्होंने अपने होंठ मेरी गर्दन से रगड़े, तो मेरे बदन में वासना की तरंगें उठने लगीं.

तभी मुझे पता नहीं चला कि पीछे बैठी लेडीज कब चली गईं, उधर कुछ रस्म हो रही थीं. उसने मेरा हाथ पकड़ के मुझे अपने पास खींच लिया, जैसे उसने हाथ पकड़ा. लड़की लड़की चुदाई वीडियोकभी जब बहुत मन करता है तो रात भर नींद नहीं आती और मैं चूत में उंगली से कर लेती हूँ.

वो बोला- अब नहीं रुका जाता, मैं बहुत दिनों से इस चूत का दीवाना बना हुआ हूँ, आज मुझे यह नसीब हुई है. मुझे आज भी याद है उसने उस वक्त जो बोला था- उफ्फ रीना … क्या हुस्न है तुम्हारा!पराये मर्द से फ़्लर्ट होना मुझे भी आनंद देने लगा था. उनके बाल रेशम की तरह काले थे और उनका चेहरा बहुत ही गोरा, सोने की तरह चमकदार और उनका पूरा बदन भी वैसा ही था.

उसके मुँह से अब ‘आआहहह … ऊउम्म उम्म्ह… अहह… हय… याह… आईईईई सीईईईसीई … आआआ …’ की आवाजें निकल रही थीं. उसको देखकर भाभी गुस्से से लाल हो गई और अपनी उस पेंटी को मेरे मुंह पर फेंकते हुए बोली- इसे तू अपने पास ही रख.

इस कहानी के बारे में अपने विचार आप मुझे नीचे दिये गए मेल पर बता सकते हैं.

’ बोलते हुए अपने मुँह का माल गटक गई और दोनों एक दूसरे का मुँह पर गिरा हुआ वीर्य साफ करने लगीं. वह मेरी गांड को पकड़ कर खुद ही अपनी चूत में मेरे लंड को धकेलने की कोशिश करने लगी मगर मैं पूरा लंड आंटी की चूत में अंदर तक नहीं जाने दे रहा था. मैं सबको जवाब देना चाहती हूँ, पर लेकिन इतनी ज्यादा ईमेल मिलती हैं कि मैं सबको एक साथ जवाब नहीं दे सकती, थोड़ा समय जरूर लगता है लेकिन मैं जबाव सभी को देती हूँ.

नंगे ब्लू फिल्म जब बातचीत से बेकरारी बढ़ी तो सब्र की इन्तेहां खत्म हुई और हमने मिलने का प्रोग्राम बना लिया. उनके हाथ मेरी पीठ और और चूतड़ों पर चल रहे थे।तभी अचानक राहुल बोले- रुको भाभी … उन्होंने मुझे अपने ऊपर से उठाया और उन्होंने वो संतरा और अंगूर उठाए.

’जैसे ही मैं अपनी जीभ उसकी चूत के छेद पर रगड़ने लगा, उसने मेरे सर को जोर से अपनी चूत पर दबा दिया. तब वह दूसरा वाला बोला- समझा नहीं मैडम … आप नहीं बताना चाहती हो तो कोई बात नहीं. हुआ भी कुछ ऐसा ही, उसने चाटने के साथ फिर से हाथ की दो उंगलियों को घुसा कर अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

सेक्सी बीएफ हिंदी भेजो

पिछले 20 मिनट में तीन बार मिस कॉल कर चुकी है, बस उसको उसके ऑफिस से लेकर सीधे घर और अगले ढाई दिन साला कच्छी तक पहनने नहीं दूंगा उसको. मैंने ध्यान से देखा तो मुझे लगा कि मेरी सास और काम्या में उम्र का अंतर होते हुए भी दिखने में ज्यादा फर्क नहीं है. मैंने सोनू से पूछा- तुम्हारी मम्मी कैसी हैं?सोनू ने बताया- मेरी मम्मी बहुत सुंदर हैं और बहुत सेक्सी हैं, उनकी चूत तो बहुत सुन्दर और फूली हुई है.

ये कह कर मैंने वीडियो कॉल चालू रख कर अपने कपड़े उतारे और दराज में से एक नापने वाला टेप निकाला, जो टेलर लोग ड्रेस का माप लेने के लिए रखते हैं. आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी, इसके बारे में आप कहानी पर कमेंट जरूर करें.

मेरी तो एक मिनट में हवा टाइट हो गयी मैंने एकदम से पल्टी खायी और अब हम तीनों बिस्तर पर आ गये.

जब भी मैं किसी पार्टी में जाती हूँ तो वेस्टर्न ड्रेस ही पहन कर ही जाती हूँ. फिर माँ ने मुझे बताया कि वो हमारे दूर के रिश्तेदार हैं और रिश्ते में तुम्हारे मामा लगते हैं. तो दोस्तो, आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी, बताना जरूर, अगले भाग में मैं बताऊंगा.

मैंने ज़रीना से लंड निकाल कर सारा को घोड़ी बना कर उसकी चूत में लंड घुसा डाला. ’बस मैंने बातों ही बातों में उसको एक जोर का झटका मार दिया, तो अब उसकी आंख में आंसू थे. उसकी गीली और गर्म चूत की चुदाई करते हुए मैं जन्नत के मजे लेने लगा था.

अजय ने अपना लंड मेरे मुँह में घुसा दिया और पीछे से सुनील जी ने जोर से झटका मार दिया.

बीएफ फिल्म हिंदी में देसी: जब उसने कमरे की लाईट जलाई तो मैं दंग रह गई, दीवारों पर जगह जगह गंदे गंदे शब्दों के प्रिन्ट और बहुत सारी उसकी और हमारी कम्पयूटर से एडिट की गई नग्न फोटो लगी थी. भाभी बोली- जब स्कूटर पर बैठा कर जान-बूझकर झटके मारते हो, तब तो नहीं शरमाते.

यहां उसका कोई दोस्त नहीं था, तो जल्दी ही लौट आया, आकर टीवी देखने लगा. उसने मेरा लंड मुँह बाहर निकाला और बोली- क्यों पता लगा … तड़फ कैसी होती है?उसने हंसते हुए फिर से मेरे लंड को मुँह में ले लिया. मैं जाकर बैठा उसके पति ने पूछा कि क्या पीओगे?तो मैंने कह दिया कि मैं तो बीयर पीता हूँ।राहुल अंदर जाकर बीयर और उनके लिए रम लेकर आए, उनके पीछे ही संध्या आई काले रंग का गाउन पहने हुए.

मैंने भैया को साइकिल निकालने को कहा और मैंने दौड़कर तालाब में नहाने के लिये कपड़े लिये और भैया के साथ साइकिल पर बैठ गई.

अब आगे:मैं उसके पास चली गई, तो उसने मुझे पीछे दीवार की तरफ खड़ा होने को बोला. अपना मुँह मैंने भाभी के मुँह में घुसा कर उन्हें जोर से हैवान के तरह जीभ डाल कर चूमने लगा और साथ में दो उंगली भाभी के गर्म चुत में पेल कर पूरे ज़ोर ज़ोर से अन्दर बाहर करने लगा. फिर मैंने धीरे से उनके चूचे पर हाथ रखा, जब उन्होंने कोई ऐतराज नहीं किया तो मैं उनकी एक चूची को सहलाने लगा.