बंगाली भाभी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ इंग्लिश पिक्चर हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

15 सेक्सी बीएफ: बंगाली भाभी बीएफ, मैंने लंड को चूत के छेद पर सुपारा सैट किया और एक शानदार झटका दे दिया, जिससे मेरा लंड 4 इंच अन्दर चला गया.

मूवी बीएफ वीडियो

फिर कुछ देर ऐसा करने के बाद उसने बाहर निकाला और मेरी टांगें खोल दीं. बीएफ इंग्लिश पिक्चर देखने वालीमैंने उसकी छाती को नंगी कर दिया और फिर मेरे हाथ उसकी पैंट के हुक की तरफ बढ़े.

उनकी चुत आग की भट्टी की तरह तप कर गोल्डन रंग सी चमकती हुई दिख रही थी. ट्रिपल एक्स व्हिडीओ बीएफआपको तो पता ही है मुझे वीर्य पीना तो बहुत ज्यादा पसंद है इसलिए मैंने उनके वीर्य का एक एक कतरा अपने मुंह में गटक लिया और लंड को चाट चाट कर साफ कर दिया.

मैंने घण्टा भरा संचालक की सहायता की और वहाँ से निकल कर उसको बोल दिया कि मेरा भोजन होटल में ही भिजवा दे.बंगाली भाभी बीएफ: काजल ने मेरे लंड पर हाथ रख कर सेक्स का जो तूफान मेरे अंदर पैदा किया था वो अब शांत हो गया था.

इसलिए वो हीना के मस्त चूचों को अपने हाथों से दबाने में संतोष प्राप्त करने की कोशिश करने लगा.उसने हीना के ब्लाउज तक हाथ भी बढ़ाए मगर हीना ने उसके हाथों को रोकते हुए समीरा के आने के डर का इशारा कर दिया.

देवर ने भाभी को चोदा साड़ी में - बंगाली भाभी बीएफ

जैसे-जैसे वसुंधरा ने जोर लगा कर नाड़ा खोलने की कोशिश की, वैसे-वैसे गाँठ और कसती गयी और अब तो हालात पूरी तरह वसुंधरा के काबू से बाहर हो गए थे.कल में कॉलेज से 11 बजे निकल जाऊंगी और कॉलेज के पीछे वाले पार्क में तुम्हारा इंतजार करुँगी.

मैंने पीछे मुड़कर उनको एक अच्छी सी स्माइल दी, उनके मुँह पर आश्चयर्जनक भाव देख कर मुझे हंसी आने लगी थी. बंगाली भाभी बीएफ वैसे मूवी इंग्लिश थी, इसलिए भीड़ भी कुछ नहीं थी और हॉल में मुश्किल से 20 लोग थे.

साली छिनाल, आज मैं तेरी चूत को चोद-चोद कर कुएं जितनी गहरी कर दूंगा.

बंगाली भाभी बीएफ?

चाटो बेटी अपनी सहेली की बुर, अब जो मर्द आएगा, उसको तुम दोनों की काली और इसकी गोरी चूत चोदने में खूब मज़ा आएगा. इसलिए सोचा कि क्यों न मैं भी आपको अपने जीवन की एक ऐसी ही घटना से रूबरू करवाऊं. नाइटी पहन कर मैं बाथरूम से बाहर निकली और मेरे बाहर निकलते ही उसने मेरी तरफ देखा.

वैसे भी 11 बज चुके हैं और 5 बजे तक लखनऊ पहुँच जाऊंगा। और मुझे नींद भी नहीं आ रही है. मैंने मधु के चेहरे को उठाया और उसे रोता देख कर उसके होंठों को चूमने लगा. मेरी कहानी पढ़ने के बाद मुझे एक मेल आया और उन्होंने मुझे उनकी कहानी लिखने की रिक्वेस्ट की, जो मैंने मान ली.

फिर वो मेरे ऊपर तब तक लेटी रही, जब तक मेरा लंड चूत से बाहर नहीं आ गया उसके बाद वो मुझसे चिपककर सो गयी और सुबह नींद खुलने पर भी वो मुझसे नंगी ही चिपकी रही. मैंने भाभी से उनके मम्मों को दबाने की इच्छा बतायी, तो वो भी बोलीं कि उन्हें भी मेरा लंड पकड़ना है और वहीं नीचे आने का बोला. सांवले दूध और काले ब्राउन रंग के निप्पल जो मूंगफली जितने बड़े हैं बाहर आ चुके थे।अब मां धीरे-धीरे अपनी पैंटी निकालने लगी और जब पैंटी निकल गई तब मेरी मां उसे चेक करने लगी.

लगभग आधा घंटे तक चुदाई चली और हम दोनों करीब घंटे चुदाई के बाद ही झड़े. क्योंकि मेरी कॉलोनी में एक औरत अपने आशिक के साथ होटल में पकड़ी गयी थी, इसलिए मैं होटल में ये सब नहीं करना चाहती थी.

उसकी टांगें फैलाईं और अपने लिंग महाराज को उसकी चूत की गुलाबी फ़ांकों पर रख कर एक धक्का मारा.

यह कच्छी भी उतनी ही छोटी थी और बड़ी मुश्किल से भाभी की चूत को ढक पा रही थी.

किस करते करते मैंने हाथ उसके टॉप में डाल दिया और उसके 34 के बूब्स को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा. फिर धीरे-धीरे आगे बढ़कर ब्रा और पेटीकोट में उसके सामने दरवाजे पर आई और मुस्कुरा कर जोर से दरवाजा बंद कर दिया. कुछ देर की दमदार चुदाई के बाद उसने मेरे अन्दर ही अपना सारा पानी छोड़ दिया.

मैं हाथ से उसके चूतड़ों को दबाता हुआ उसकी चुत के ठीक ऊपर के हिस्से को चाट रहा था. मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था तो मैंने उसे खड़ा किया और वापिस एक बार घोड़ी बनाकर लंड उसकी चुत में पेल दिया और वो धक्के खाने लगी. जब भी मम्मी कपड़े धोती थीं तो मैं ही उन धुले हुए कपड़ों को ऊपर सूखने डालने जाता था.

दो या तीन मिनट में ही उनका पानी निकल जाता है। मेरी शादी को 2 साल हो गए.

वो ऐसे चल रही थी, मानो कोई हीरोइन सच में रैम्प पर कैट वाक कर रही हो. वह बहुत खुश हुआ और अगले दिन पापा के जाते ही मैंने सौरव को फोन कर दिया. लेकिन मुझे तो अब नशा चढ़ गया था तो मैंने खड़े होकर अपनी आधी पैन्ट और अंडरवीयर सरका कर लंड उसके सामने रख दिया.

मैंने पीछे से मौसी की चूत में लंड को पेल दिया और उनकी कमर को अपने हाथों से थाम कर तेजी से उनकी चूत की चुदाई करने लगा. भाभी तो खुद को मुझे सौंप ही चुकी थीं, वे मेरी किसी भी हरकत का विरोध नहीं कर रही थीं. उसके बाद वो मेरे कुछ कहे बिना ही पेट के बल लेट गई और बोली- प्लीज़ धीरे धीरे घुसाना.

तभी भाभी ऊपर आ गई और उन्होंने मुझे ऐसा करते हुए देख लिया और बोली- क्या सूंघ रहे हो रामू? और ये तुम्हारे हाथ में क्या है?मेरी चोरी पकड़ी गई थी.

मैं अर्पित इंदौर का रहने वाला उच्च शिक्षित युवा हूँ और एक सम्पन्न परिवार से सम्बन्ध रखता हूँ. मैंने ध्यान दिया कि अनुषी जब भी अन्दर बाहर जाती, तो वो हमारे घर की तरफ जरूर देखती.

बंगाली भाभी बीएफ मेरा नाम अहमद है और मैं मेरठ के पास एक गाँव का हूँ लेकिन अभी मेरठ सिटी में रहता हूँ। अभी मेरी उमर 29 साल की है. आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह्ह … की आवाजें दोनों के ही मुंह से निकलने लगीं.

बंगाली भाभी बीएफ हम किस कर रहे थे, मैंने चूत में धीरे धीरे धक्के देना चालू कर दिया था. बस फिर क्या था मैं उस पर गिद्ध सा टूट पड़ा और कुत्तों की तरह उसके होंठों को चाटने लगा.

नताशा भाबी को लाने के चक्कर में मैंने कैसे प्रिया जी से संभोग किया.

बीएफ गंधी

चूत की दोनों फांकों के बीच में दबी हुई कच्छी ऐसे लग रही थी जैसे हंसते वक्त भाभी के गालों में डिम्पल पड़ जाते हैं. कुछ ही देर बाद भाबी गांड उठा उठा कर अपनी चुत मेरे होंठों पर रगड़ने लगीं. बस गांड के मुहाने पर रख कर थोड़ा सा दबाव देर तक बनाये रखता या जब तक झड़ न जाए, तब तक लंड घिसता रहता.

इस घर में रहने वाली मैं टीना रांड का आज से तू मालिक है … चोद दे चोद दे … ठोक दे उइ इ इ आह. मेरा दिल कर रहा था कि मैं अदिति को बेडरूम में ले जाऊं और उसे बांहों में ले कर खूब प्यार करूँ … उसके ये रस भरे होंठ चूस लूँ, उसकी ये मांसल जांघें और उठी हुई गांड सहला दूँ. पर ये क्या … रजनी ने अपनी उंगली उसके होंठों पे लगा दी और बोली- ज्यादा बदमाशी नहीं.

मैं कुछ ही देर में यह भूल गई कि जीजा भी मेरी चूत की चुदाई को खड़े होकर देख रहे हैं.

उसकी आंखें लाल हो गई थी। जब प्रिया को राहत मिली तो मैं धीरे धीरे से चोदने लगा. मैंने बेडशीट अपनी मुट्ठियों में दबा ली और दर्द को सहन करने की कोशिश करने लगी. परंतु उस दिन के बाद से मैं मर्दों के लंड के माल के लिए प्यासी सी हो गई.

फिर हमने कपड़े पहने और दूसरे दिन मिलने का कहकर एक लम्बा चुम्बन किया और में घर आ गया. कुछ ही देर में दरवाजे की घंटी बजी तो मैं समझ गयी कि मसाज वाला आ गया है. मैंने मना करते हुए कहा- आपने जो मुझे मज़ा दिया, मेरे लिए वही बहुत है.

भले ही उन्होंने मेरी चूत को प्यासी छोड़ कर अपने लंड का पानी निकाल दिया था लेकिन मेरी चूत पर भोला से पहला हक तो मेरे जीजा का ही बनता था. पहली घंटी में जब मुझे कोई उत्तर नहीं मिला, तो एक मिनट रुकने के बाद मैंने 3-4 बार घंटी बजा दी.

मैं तो लड़कियों को ताड़ता रहता था लेकिन उसका चेहरा मुझे कहीं भी याद नहीं आ रहा था. वो दर्द से कराहने लगी लेकिन मैंने धीरे-धीरे अपना लंड उसकी चूत में चलाना शुरू कर दिया ताकि उसकी चूत में उसको मजा आने लगा. लेकिन मुझे अभी लन्दन जाना है, तो मैं और मधु आपके यहाँ रोज नहीं आ सकते हैं.

कुछ देर बाद चाची- अरे कोई देख लेगा … किसी को पता चल गया, तो क्या होगा.

मैंने पल भर की देरी किये बिना ही उसके लाल सुपारे वाले गोरे से लंड को अपने मुंह में भर लिया और उसके रस को जीभ से चाटती हुई उसके लंड को चुसाई का मजा देने लगी. हम लोग जयपुर दो दिन तक रुके और इन दो दिन में हमने हर आसान में सेक्स को खूब एंजाय किया. मेरे प्यारे दोस्तो, आपको ये कहानी कैसी लगी? इस पर अपने कमेंट के जरिये मुझे जरूर बतायें.

फिर उसने समीरा का परिचय साहिल से करवाते हुए कहा- साहिल मामा, ये मेरी बहन समीरा है. जब मैं ठंडी बियर उनके चूत में डाल कर चूसता, तो वो मदमस्त आवाज करते हुए चिल्ला उठतीं.

उसको तो यह भी पता था कि मैं मानसी की चूत और गांड चोदने की फिराक में रहता हूं. अम्मी बोलीं- ऐसा मत कहिये, अभी तो आप जवान हैं, दूसरी शादी कर लीजिये. सोनम और भी ज्यादा जानने की बात कहने लगी, तब भाभी ने उसे पिछली कहानी (मेरी बीवी मुझसे नहीं चुदती) में हुईं सारी घटनाएं बताईं और ये भी बताया कि कैसे मेरी और सोना की लाइफ सुखद बन पाई.

भोजपुरी फुल सेक्सी बीएफ

लेकिन बरसात तो हल्की हल्की अभी भी चालू था बंद होने का नाम ही नहीं ले रही थी.

उसने मेरे चेहरे पर अपने दोनों हाथ रखकर मुझे अपने होंठों को चूमने के लिए आमंत्रित किया. धीरे-धीरे करके मैंने अपनी पूरी जीभ चुत के अन्दर डाल दी और चूत को पूरी शिद्दत से चाटने लगा. उसकी मुझसे छूटने की जद्दोजहद में उसका हाथ पीछे मेरे लंड पर लगा और मेरे दोनों हाथ उसके चूचों में लग गए.

सरकारी नौकरी के चलते मेरी पोस्टिंग एक शहर से दूसरे शहर में हर 3-4 साल में होती रहती है तथा कई बार तो कुछ अर्जेंट काम के चलते भी 2- 4 दिन के लिए देश के अन्य किसी भी शहर में जाना पड़ जाता है. इसी बीच एक और लड़की, जो कि कोचिंग के कैश काउंटर पर बैठती थी, उसका नाम श्यामली था. सेक्सी वीडियो भेजो बीएफमैंने रश्मि की चुत पर अपना लंड लगाया और एक बार में ही पूरा अन्दर डाल दिया.

कई बार मेरी उससे नजरें भी मिल जाती थीं, तो मैं अपनी नजर हटा लेता था. अंकल की नजर उसकी सूजी हुई चूत पर पड़ी और अंकल हंसने लगे और मेरी मां को एक किस करके बोले- हाय, आज तो मेरे बेटे को गिफ्ट लेकर दूंगा.

एक दिन की बात है, उसकी तबियत ठीक नहीं थी, उस दिन वो बाहर अकेली बैठी थी. उसके बाद सोनू ने आखिरकार मेरे लंड को खींच कर बाहर निकाल लिया और उसको अपने हाथ में लेकर टोपे को आगे-पीछे करने लगी. चूंकि ये मेरी पहली चुदाई थी, तो हिम्मत बनाने के लिए मैंने बियर पी ली थी.

मेरा हाथ भी कहां रूकने वाला था, मैं रेखा की नाईटी उठाकर उसकी चूतड़ को सहलाते हुए उंगली उसकी दरारों के बीच चलाने लगा. मैंने पापा से कहा- मैं ख्याल रखूंगा लेकिन आज मुझे अपने फ्रेंड के घर पर पढ़ाई करने के लिए जाना है और मैं रात को वहीं रहूंगा. उसके मोटे चूचों को दबाते हुए उन पर अपनी पकड़ तेज करता जा रहा था मैं.

जिंदगी में पहली बार मुट्ठ मारने में इतना मजा आया मुझे क्योंकि रात को तो मैं थका हुआ था लेकिन रात भर नींद लेने के बाद लंड में एक अलग ही जोश भर गया था और सुबह-सुबह की एनर्जी थी लौड़े में।तभी मेरी नज़र वहां पड़ी हुई ब्रा और पैंटी पर पड़ी.

शादी के क्या कारण रहे ये तो मैं यहां पर नहीं बता सकता हूं लेकिन मेरी कहानी जहां से शुरू हुई वो आपको जरूर बता देता हूँ।जब मैंने उसको पहली बार देखा तो वो देखने में कुछ खास नहीं लगी थी मुझे. उसके बाद श्वेता मैडम बोलीं- संजू हमारा एक दूसरे पे बहुत प्यार और भरोसा है.

मैंने गेट पे उसे रोका और बोला- दीदी, तुम गेम पूरा नहीं कर पाईं, इसकी सजा तो तुम्हें मिलेगी. राहुल ने तुरंत फ्रिज से आइस क्यूब निकल कर उसके गोर मम्मों पर मलनी शुरू करी. मैं दीदी की चुत में लंड पेलता, तो दीदी मेरी छाती से चिपक कर अपनी चूचियों का सुख मुझे देने लगती.

मेरी देसी कहानी आपको कैसी लगी?[emailprotected]इससे आगे की कहानी:सलहज को चोदा पत्नी जैसे यात्रा में. उसने बोला कि कहां ठीक रहेगा?मैंने बोला- रुको मैं अपने एक दोस्त से पूछता हूं. मेरे ऐसा करने पे उसको गुस्सा आया और उसने एक हाथ से जोर से मेरे बालों को पकड़ लिया और एक झटके में मेरे होंठों पे अपने मोटे मोटे होंठ रख दिए और बहुत बेदर्दी से मुझे किस करने लगा.

बंगाली भाभी बीएफ मैंने कहा- आपको अगर मेरे साथ रहने में परेशानी न हो तो?वो बीच में ही बोल पड़ी- आप भी कैसी बात करते हैं कंवर साहब, आपके साथ रहने में क्या परेशानी हो सकती है मुझे? रही बात आपके ड्रिंक करने की तो मैं आपकी पीने की आदत से वाकिफ हूँ. वह सोच रही थी कि ये मैंने खुद को किस मुसीबत में डाल दिया। मां पूरे वक़्त इसी सोच में थी कि अब वह क्या करे.

बीएफ 11 साल

मामी बोली- जी आप कौन?मैं फोन के रिसीवर पर हाथ रख कर धीरे से उनके कान में बोला- रेशमा डार्लिंग आप बिंदास बात करो, मुझे भी सुनना है कि कौन है?तब मामी बोलीं- हैलो आप कौन?उधर से कोई बोला- मैं मोहित हूँ जी … आपकी सहेली का पति. मैं अन्दर का सीन देख बिल्कुल भौचक्का रह गया।मैंने देखा कि अब्बू कपड़े उतार चुके थे. अरे बाप रे …” कहते हुए वो बाथरूम में घुस गई और जल्दी से तैयार होकर आ गई.

वो मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मुझे किस करते हुए मेरी चूत को बड़ी बेरहमी से चोद रहे थे. मैं- थैक्स यार, अच्छा याद है न तुम मुझे अपनी चुदाई का किस्सा सुनाओगी न. सनी लियोन की सेक्सी फोटोसदिशा को अपने ऊपर किया गया कमेन्ट याद था, इसलिए उसने भी राधिका का मजा लेना चाहा.

जैसे ही मेरे लंड ने माल छोड़ना शुरू किया, वो रूक गयी और मुँह के ही अन्दर लंड लिए हुए माल को लेने लगी.

मैं फटाक से अंदर घुस गया और घुसते ही भाभी ने गेट अंदर से बंद कर लिया. कई फिल्मों में तो एक लड़की को दूसरी की पोट्टी खाते हुए भी देखा था लेकिन इस तरह से अपनी आंखों के सामने मैंने चूत से निकलने वाला पीरियड का ब्लड नहीं देखा था.

ये सीन देख कर मेरा भी हाथ रूक नहीं रहा था, अपने आप सुपाड़े पर चलने लगा. हम दोनों साथ में झड़ते रहे, ऐसा लग रहा था कि हमारी बस यही दुनिया है. वो अकेले रहते थे, इसीलिए मेरी माँ पिता जी और मैं उनका ख्याल रखते थे.

अब अगली कहानी में बताऊंगा कि उसकी बहन और उसकी सहेली की चुदाई का मजा कैसा रहा.

आपके जज़्बात की कदर करती हूँ, पर जो नहीं हो सकता, वो कभी नहीं हो सकता. वो खेलने लगी मेरी चुचियाँ से।एक और बात बोलूँ, तुम गुस्से तो नहीं होंगे?”हाँ बोल न!”तुम घर में ब्रा पहना करो, इनकी शेप अच्छी बनी रहेगी. कुछ ही देर के बाद मेरा दर्द कम हो गया तो फिर मुझे ऐसा लगा कि अब मैं जन्नत में हूँ.

हिंदी में ब्लू पिक्चर हिंदीउसकी चूत एकदम सनी हुई थी लेकिन उसने चूत को क्लीन शेव किया हुआ था। उसकी चूत को देख कर लग रहा था कि वो भी पूरी तैयारी में आयी हो। मैंने एक उंगली उसकी चूत में डाली और वो छटपटाने लगी लेकिन मैं नहीं रुका। मैं उंगली को और अंदर डालता रहा। उसे दर्द हो रहा था। मैं बीच-बीच में उसकी योनि पर हाथ फेर कर फिर से उंगली डाल देता था. मैं सिर्फ अंडरवियर में रह गया और मैंने अपना 6 इंच का खड़ा हुआ लंड परवीन के हाथ में दे दिया.

ब्लू बीएफ फुल मूवी

उसने उठ कर दरवाजा हल्का सा बंद कर दिया ताकि हमारी सेक्स की आवाजें बाहर न जा सकें और हमें सर्दी भी कम लगे. मैंने अपना लण्ड उसके मुंह में दे दिया तो मजे से चूसने लगी, कुछ देर में बेबी थक गई तो बोली- कितनी देर लगाओगे?अभी कहाँ?”मेरी जान लेनी है क्या?”नहीं, गांड लेनी है. उसने पास पड़ी कुर्सी उठायी दरवाजे के पास लगा कर बैठते हुए बोली- तुम नहाओगे, मैं देखूंगी और मैं नहाऊंगी तो तुम मुझे देखना.

मैं वहीं पर खड़ी होकर अपने कपड़े बदलने लगी, सबसे पहले साड़ी उतारी फिर अपने शरीर को पौंछने लगी. मैं भी उससे किसी अबला नारी जैसे बोलने लगी- छोड़ मुझे कुत्ते कमीने … मैं तेरी माँ समान हूं. तो अमृता के साथ हुआ ये कि उसके बॉयफ्रेंड ने उसे कहीं मिलने के लिए बुलाया और चुपचाप अपने दो दोस्तों को और बुला लिया और फिर उन तीनों ने उस बेचारी का सब जगह से वो हाल किया कि आप समझ ही सकते हैं.

मैं उसकी किताबों को साफ कर रही थी तो मुझे उसके कमरे में उसकी पढ़ाई की किताबों के नीचे एक नंगी तस्वीरों वाली मैगजीन मिली. मैं उसकी कमर को जोर से पकड़ कर खड़ी थी, ताकि कोई भीड़ का धक्का लगे, तो मैं उसके ऊपर गिर न जाऊं. मैंने जीभ से नैना की मुनिया से लेकर गांड तक एक बार ज़ोर से चाट लिया, तो नैना एकदम से उछल पड़ी और बोली- आह चाचू क्या कर रहे हो … ये तो चीटिंग है.

उसके दोनों चुचे आजादी के साथ फड़क उठे और साथ ही मेरे दिए हुए हजार रुपए भी नीचे गिर गए. आह … ओह्ह … आह्ह … करते हुए मैंने सारा का सारा वीर्य मौसी की चूत में खाली कर दिया.

सबकी खुशी और मजे के लिए था। लेकिन मुझे डर था कि विक्रम मेरे और रीना के बारे में क्या सोचेगा? अगर विक्रम ने इसे सामान्य सामाजिक जीवन के नज़रिये से देखा तो उसका भाई और भाभी दोनों ही उसकी नजरों से गिर जाएंगे। किंतु मैं अब उसे क्या जवाब दूं.

तभी उसके पापा यह कहते हुए घर के अंदर जा घुसे- चलो चलो! अंदर चलो यार! बहुत भूख लगी है. network alerts बीएफ बीएफ बीएफ”अंकल को भी उनके आने की भनक लग गयी और वो पीछे हो गए, मैंने भी अपने कपड़े ठीक किए और हम दोनों कुछ हुआ ही नहीं, इस भाव में बैठ गए. दर्जी सेक्सी बीएफअब ज्योति बोली- भगवान के लिए मुझे छोड़ दो, मैं तुम्हारे पैर पड़ती हूँ. अब मैंने दीक्षा की शर्ट को निकाल दिया और अपनी टी-शर्ट को भी हटा दिया.

इस बार मैंने भाभी को सीधा किया और अपना लंड उनकी चुत पर रख कर झटका मारा दिया.

मैं रजाई के अंदर ही था इसलिए मैं उसके लंड को अभी तक देख नहीं पाया था. पहले तो वे मना करने लगे, लेकिन बंटी जी ने कहा- सनी भाई मान लो इसकी बात … देखो अभी मजा आया कि नहीं … लगता है इसके पास ढेर सारे आईडिया हैं. उसकी चूत की गुफा में बहुत अंधेरा था मगर उसको चाट कर जो नमकीन स्वाद आया उसका मजा भी अलग ही था.

मैंने जानबूझ कर बाइक जंगल के रास्ते से ली और थोड़ा दूर जाकर बाइक बन्द कर दी. दूर-दूर तक सुनसान रास्ता था और रोड पर गाड़ियां भी बहुत कम चल रही थीं।रात के करीब 8 बज चुके थे और मुझे भूख लग रही थी, मगर आस-पास दूर-दूर तक कुछ नहीं था।तभी अचानक मेरे सामने जंगल में से भागता हुआ एक नीलगाय (हिरन जैसा जानवर) मेरी कार के सामने आ गया. तो लिंग का मुंड अंदर फंस गया और अक्षिता के मुँह से एक हल्की चीख निकली- उइई माँ … मैंने सोचा कि ये काम की देवी तो नाम की तरह ही अक्षत है.

इनका चोपड़ा के सेक्सी बीएफ

मैंने लंड का सुपारा उसकी चूत की फांकों में घिसा और उसके दोनों दूध को पकड़ कर लंड उसकी चूत में रगड़ने लगा था. जब ऐसा दो-तीन बार हो चुका तो चाची मुझसे पूछने लगी- देव, तुम्हारा ध्यान कहाँ है?मैं- कुछ नहीं चाची, बस ऐसे ही!मैंने हड़बड़ाहट में जवाब दिया. चाय पीते हुए उसी ने बात शुरू कि वो यहां पे एम बी ए करने आयी है और उसका नाम अदिति है.

मैंने आपको एक बात अपने बारे में नहीं बताया कि मुझे चूतड़ों पर थप्पड़ मारना बहुत पसंद है.

आह-आह करते हुए उसने अपनी चूत को मुट्ठी में भर के भींच लिया और कस-कस कर मसलने लगी.

अब एक दिन मैं मौसी की चूत चोदता और फिर दूसरे दिन मानसी मेरे कमरे में आकर मुझसे चूत और गांड चुदवाने पहुंच जाती थी. अगले ही पल मन में यह भी आता कि यह तो मेरा अपना ही दोस्त है और दोस्तों के बीच में ना कोई पर्दा होता है ना कोई संकोच. नेपाली लड़की के बीएफ वीडियोलेकिन दोस्तो, सेक्स में औरत या लड़की को जितना तड़फाओ, उनको बाद में उतना मज़ा आता है.

मैंने अपनी दिशा बदली और अपना मुंह उसकी चूत के पास ले जाकर चूत के लबों पर जीभ फेरना शुरू किया. अब कैसा लग रहा है मेरी सोनम बिटिया को?” अंकल जी मेरे सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए बोले. इसका एक कारण भी था, सुमन भाभी के पति उनसे बहुत रहते थे और शायद उनको सेक्स की भूख परेशान करती होगी.

फिर हमने खाने का सामान टेबल पे रखा और मैं फ्रिज से शैम्पेन की बोतल और दो गिलास ले आया. ऐसा लगा जैसे मेरा लंड मुझसे कह रहा है कि बस बरसों की प्यास आज मिटा दूं अपने दोस्त से थोड़ा सा प्यार उधार मांग लो और थोड़ा सा प्यार अपने दोस्त को उधार दे दो.

मेरा बेटा बस ‘आअह्ह आह्ह वेरी गुड मम्मी आह्ह्ह आअहह …’ कर रहा था और मैं उसका लंड गपागप चूस रही थी.

उसने नीचे पेंटी पहनी हुई थी इसलिये मैंने भी बस एक दो बार ही उसकी चुत के फूले हुए उभार को सहलाकर देखा. मैंने उसके चुचे जो कि बाहर ही थे, उन्हें दोबारा दबाना चालू किया और करीब 4 या 5 मिनट बाद मैंने कहा- मैं झड़ने वाला हूँ. अब मेरी जीभ और होंठ कभी श्वेता मैडम चूस रही थीं, तो कभी मैं उनकी जीभ और होंठ चूस रहा था.

एक्स एक्स एक्स एक्स सेक्सी बीएफ लगभग 15 मिनट धक्के लगाने के बाद चाची ने अपने पैरों से मेरी कमर जकड़ ली और कहने लगीं- मेरा होने वाला है. उसमें आखिर में लिखा था कि अब हमारी कोई बात नहीं होगी और हम दोनों के लिए अच्छा नहीं होगा.

फिर उसको अपने शरीर से थोड़ी दूर हटाकर उसने उसके चूचों को चूसना शुरू कर दिया. मैंने कहा- हाँ जी, कौन बोल रहा है?पवन मोटर गेरेज से पवन बोल रहा हूं, आप कौन बोल रही हैं?”मैं शालिनी बोल रही, यहाँ अजमेर से बाहर बाई पास से आगे मेरी गाड़ी ख़राब हो गई है और सामने आपके बोर्ड पर नंबर लिखा हुआ है, तो क्या प्लीज आप आ जाओगे?”हाँ मेडम, मैं बस पहुँचता हूँ. वो जिस तरह से लंड को चूस रही थी उससे ऐसा लग रहा था कि बेचारी कई सालों से लंड की प्यासी है.

एक्स एक्स वीडियो बीएफ दिखाओ

उसका पति चाहता है कि मधु तुम्हारे साथ सेक्स करके अपने परिवार को बचा ले. एक दूसरे के बदन की गर्माहट और ऊपर से एसी की ठंडी हवा हमारी कामुकता बढ़ा रही थी. तो हुआ यूं कि वो कमरे के गेट पर खड़े होकर मुझसे बातें कर रही थी, तभी मैंने कहा- आप रोज बोलती हो कि मन करता है कि मेरे गाल पर चुम्मा ले लूँ … तो आ जाओ आज ले लो.

तो वो मुझे उठाती हुई खुद मेरे ऊपर आ गई और मुझे नीचे लिटा कर फिर मेरे तने हुए लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. आंटी कुतिया की पोजीशन में आ गईं और अपने चूतड़ मटकाने लगीं- लो मेरे मालिक आपके लंड के लिए पेश है इस कुतिया की भोसड़ी, ठोक दो इसमें अपना लौड़ा और भर दो इसे अपने काम रस से.

मैंने छोटा वाला स्टूल पैर से खींचा और उसकी दाएं पैर को स्टूल पे रखवा दिया.

रश्मि ने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और उसे दस मिनट तक डीप ब्लो जॉब देती रही. वह मेरे सामने खड़ी ऐसे शर्मा रही थी, जैसे मानो आज ही हमारी सुहागरात हो. मेरे लौड़े से लावा फूटने को था मगर भाभी के बारे में अभी कुछ नहीं पता नहीं लग रहा था कि उसकी चूत का फव्वारा अभी कितनी देर में बाहर आकर गिरेगा.

मेरी ज़ेहनी हालत की बाबत वसुंधरा को सब कुछ ठीक-ठीक पता था और वो मेरी हालत पर मन ही मन आनंदित हो रही थी. फिर अंकल जी बेड से उतर गये और साइड टेबल से हरे रंग की टीन की डिब्बी से खूब सारा तेल निकाल कर अपने लण्ड पर लगा लिया; मैंने पहचाना वो जैतून का तेल था जो बहुत ही चिकना होता है. इसलिए जब उसका मैसेज आया, तो मैं उठकर उसकी छत से होते हुए उसके घर में अन्दर चला गया.

पहले मैं उनकी तरफ ज्यादा देखती भी नहीं थी, पर अब उसने नजर मिलाना और उनका मेरे बदन को निहारना, मुझे अच्छा लगने लगा था.

बंगाली भाभी बीएफ: मैं सीढ़ी से आता, तो जैसे ही 3 फ़्लोर पे आता … मेरी स्पीड अपने आप स्लो हो जाती … क्योंकि वो कई बार अपने डोर के पास कुछ ना कुछ कर रही होतीं. वो दूसरे हाथ से लंड को सहजता से सहलाती रहीं, जिसके कारण उस दिन मेरी पिचकारी बंद होने का नाम ना ले रही थी.

डर और आशंका के मारे मेरा बुरा हाल था जैसे किसी पेशेंट को ऑपरेशन थिएटर में जाने के पहले होता है. मेरे घुटने नीचे जमीन से टकराए तो एकदम दर्द हुआ और 2 मिनट के लिए मैं उठ नहीं पाया. नैना ने पहले मेरे कड़क मोटे लंड को फटी आंखों से देखा, फिर एक उंगली से मेरे लंड की चमड़ी को सुपारे पर से नीचे की ओर दबाया, जिससे मेरा गुलाबी सुपारा तुरंत खुल के बाहर आ गया.

मैंने हैरानी से काजल की तरफ तिरछी नजर करके देखा तो उसने अपना दुपट्टा अपने हाथ से ठुड्डी के नीचे इस तरह से दबाया हुआ था कि दुपट्टे ने सुमिना और मेरे बीच में एक दीवार सी बना दी थी और सुमिना की नजर इस तरफ पड़ ही नहीं सकती थी.

थोड़ी देर ऐसा करते रहने के बाद मैं अलग हुआ और नम्रता से बोला- जान, अब तुम नीचे बैठ जाओ … तो मैं तुम्हारे तीसरे छेद को भी चोद दूं?वो पलटी और घुटने पर आ गयी, मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाला, तो वो उसको चूसने लगी. मधु- रश्मि, तूने क्या सोचा, मेरा इस दुनिया में सिर्फ तेरे सिवाए कोई नहीं है. पहली बार मेरी चूत में किसी पुरूष का लंड गया था जिसका स्वाद मुझे बहुत मजा दे रहा था.