सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स वीडियो बीएफ चोदने वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ 4 साल की: सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ, तभी मीना ने बेड के साइड टेबल पर रखी तेल की शीशी उठाई और मेरे लण्ड की मालिश करने लगी.

एचडी बीएफ सेक्सी गर्ल

मेरी बात पर वो कहने लगे कि तुम्हारी दीदी की चूत भी सील पैक नहीं थी. बीएफ सेक्सी पिक्चर देखमीना और दिलीप हर शनिवार को नाइट शो मूवी देखने जाते थे, रात को 9 बजे से 12 बजे के बीच के समय का मुझे सदुपयोग करना था.

फिर अंकल दीदी की जांघों के बीच में बैठ गए और अपने लंड को दीदी की पानी छोड़ती हुई चुत पर रख दिया. मनीषा की सेक्सी बीएफमैं लंड खींच कर बाथरूम की तरफ जाने वाला ही था कि मेरे हाथ को पकड़ कर निधि बोली- मादरचोद बहनचोद चूतिये … जाता किधर है हरामी … मेरे ऊपर मूत न!मैंने खड़े होकर नीचे फर्श पर कुतिया बनी निधि के ऊपर ही मूत दिया.

कृपया अपने सुझाव मुझे जरूर भेजें और कोई गलती हुई हो, तो माफ कीजियेगा मेरा मेल आईडी है.सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ: यह भी मुझे बाद में पता चला कि इस बात के लिए उन दोनों की बात पहले ही हो चुकी थी.

कुछ देर के बाद उसने एक जोर से झटका मारा, तो दीदी के मुँह से आआह्ह्हह की तेज आवाज निकल गई.तो उन्होंने ऐसे ही मुझे सीधा करके पीठ के बल लेटा कर मेरी गीली चूत में लंड डाल दिया.

सेक्सी वीडियो सेक्स बीएफ सेक्सी वीडियो - सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ

लेकिन मैंने दीदी को इस बात का पता नहीं चलने दिया कि मैंने उनकी चुदाई को देखा है.जैसे ही मैंने पढ़ा कि नायक ने नायिका की दोनों टांगें अपने कंधे पर रख लीं और लंड को चूत में जड़ तक पेल दिया.

उसकी सहेलियों में मनु का शरीर पहले से भरा-पूरा था इसलिए अब उसकी कसावट में कमी आ गई थी. सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ मेरे मामा की शादी की शादी के दूसरे दिन से ही मेरे एक्जाम थे, जिसके कारण मुझे विदाई के तुरंत बाद निकलना पड़ा.

मैं बोला- चलो मान लिया, उसने तुम्हारे साथ कुछ नहीं किया लेकिन तुम्हारी बुर बताती है कि इसकी चुदाई हुई है.

सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ?

जेठजी- काम तो कल सुबह भी हो जाएगा जस्सी, अभी मुझे और मत तड़पाओ प्लीज!जेठजी की तड़प देखकर मुझे मज़ा आ रहा था, उन्हें और तड़पाने के लिये मैं थोड़ा गुस्से का नाटक करते हुए बोली- नहीं, सुबह आप को भी आफिस जाने की जल्दी होती है और मुझे भी … ये सब काम अभी खत्म नहीं किया, तो सुबह दोनों को लेट हो जाएगा, अभी आप चुपचाप जाकर हॉल में या अपने बेडरूम में बैठिए … और मुझे मेरा काम खत्म करने दीजिए. शायद आलिया अभी झड़ी नहीं थी … इसलिए वो मेरे लंड से चुदने को जल्दी मचाने लगी. तब तक वसुंधरा भी वार्डरोब से एक ए-4 साइज़ का एक लिफ़ाफ़ा निकाल कर मेरे सामने की कुर्सी पर आ विराज़ी.

मैं फिर अपने कमरे में गया और सो गया … मम्मी ने भी दवा खाई और अपने कमरे में सोने चली गईं. संजू बहुत वफादारी से बोली- मुझे माफ कर दीजिएगा, मैंने आपसे बिना पूछे ऐसा कह दिया, पर हालात ही वैसे थे. भाभी का नाम सपना था (बदला हुआ नाम) उसने तीन मैसेज में लिख कर मुझसे कुछ जानना चाहा था.

उसके जिस्म के साइज़ की बात करूं, तो दीदी की ब्रा की साइज़ 95 सेंटीमीटर की और पैंटी शायद 100 सेंटीमीटर की थी. (साला चूतिया है क्या ये! मुझे क्यों घसीट रहा है साथ में)फिर हम उठ कर बाहर आ गये. तो वन्दना खुश होते हुए बोली- चलो तुम कल जीजू के साथ ही स्टूडियो चली जाना, इस बहाने तुम इन्हें जल्दी ले भी आओगी.

उन्होंने पूछा- अजय और सुना … तेरी पढ़ाई कैसी चल रही है?मैंने कहा- चाची, पढ़ाई ठीक ही चल रही है. वो मेरी मम्मी की चूचियां दबाते हुए बोला- तेरी चुत शांत हुई या नहीं?मम्मी ने उसके हाथ से सिगरेट ली और कश लेते हुए उसके लंड को पकड़ कर हिलाते हुए कहा- बड़ी राहत मिल गई तेरे लंड से … मजा आ गया.

फिर दीदी ने नाइट लैंप जलाकर बाकी लाइटें बंद कर दीं, कमरा धीमी लाल रौशनी से नहा उठा.

मैं खुद चूंकि पहले से ही वाशरूम में हस्तमैथुन कर आया था तो इस फ्रंट पर तो मैं पहले ही सेफ था.

मेरे मामा एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते हैं, इसलिये वो उस समय दिल्ली में थे. मेरा एक हाथ मेरे मम्में पेट जांघ और चूत को सहला-सहला कर मुझे और उत्तेजित कर रहा था. अब इन बातों से ध्यान हटाकर मैंने केले को बिस्तर के नीचे बड़े सम्मान से एक कपड़े से ढक कर रख दिया, क्योंकि सुबह उसे सबकी नजरों से बचा कर फेंकना भी था.

मन तो मेरा भी यही चाहता था कि बाकी कामों के बारे में सोचना छोड़ कर इस पल का मज़ा लूं, पर फिर दिमाग में आया कि पूरी रात बाकी है और जेठजी को भी तो तड़पाना है … इसलिए मैं उन्हें अपने से अलग करते हुए बोली- ठीक है, आपको जो करना है बाद में करना … क्योंकि अभी मुझे बहुत काम करना बाकी है. राज प्रीति को देख कर चौंक गया और बोला- प्रीति, तुम यहाँ क्या कर रही हो?प्रीति ने बहाना बनाते हुए कहा- ऐसे ही घूम रही हूं. उसने लिखा कि मैं देश के एक नामी गिरामी न्यूज़ चैनल की एंकर हूँ और दिल्ली में फ्लैट लेकर अपनी एक सहेली के साथ ही रहती हूँ। उसने मुझे चैनल का नाम भी बताया था लेकिन गोपनीयता के लिए मैंने चैनल का नाम यहाँ नहीं लिखा है.

तब उसने कहा- क्या हुआ बोलो?मैं- प्लीज़, ये बात किसी को मत बताना प्लीज़ डार्लिंग.

इसके बाद मामी ने मेरी बनियान उतार दी और मेरी अंडरवियर को भी उतार दिया. भाभियों से विशेष इल्तिजा है कि अगर उनको लगता है कि मेरी सील पैक चुत चुदाई की कहानी में कोई कमी रह गयी हो, तो प्लीज़ मुझे जरूर बताना. संदीप के भाई ने एक मेमने का जिक्र किया, वो उसके साथ खेल कर बहुत खुश रहता था.

कुछ देर बाद उसने बोला- मैं जरा घर होक़र आती हूँ … तब हम लोग फिर से काम करना शुरू करेंगे. उसने पहले मेरे घर का नम्बर मिलाया क्योंकि मेरे घर ही ज्यादा दबाव रहता था. मालकिन ने एक मस्त सी आह भरी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ और अपनी कमर जोर जोर से ऊपर नीचे करने लगी.

मैंने आव देखा न ताव उसका लोअर झट से नीचे उतरा और अपनी नाइटी उतार फेंकी, अभी मैं पूर्ण रूप से नंगी थी बस गले में मंगल सूत्र था.

और उसने मुझे एक मेट्रो की जगह बताई कि वहाँ उतर जाना, मेरे शौहर लेने आएंगे तुमको।मैं बोला- ठीक है।वहाँ पहुँचने के बाद मैंने उसको कॉल किया कि जहाँ तुमने बताया वहाँ पहुँच गया हूँ।वो बोली- ठीक है, ये आ रहे हैं. अपने रूम में गई मैं और प्रीत को जगाकर उसके पर्स से 2 हज़ार रूपए निकाल कर बाहर आकर आदी को दे दिए.

सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ मैंने कहा- मैं तेरी गांड की चुदाई का स्वाद भी चखना चाह रहा हूं मेरी रानी. वैसे तो मैं ऐसा माल रखता ही नहीं, फिर भी कई बन्दों की बॉडी रिएक्शन कर जाती है.

सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ लेकिन अभी भी लंड अन्दर बाहर होते हुए मेरी चूत के भगनासा की चमड़ी को साथ में चिपका कर लाता ले जाता रहा. पिंकी के होंठ और बोबे उसकी कमजोरी थी और दोनों का मर्दन एक साथ होते ही पिंकी बेकाबू होने लगी.

मेरी चूत बहुत गोरी है, हालांकि चेहरे के गोरेपन और चूत के गोरेपन में बहुत फर्क होता है, फिर भी चूत का रंग उजला और साफ था.

इस्नोफीलिया

दोस्तो, आप सभी को एक बार फिर से मेरा प्यार भरा नमस्कार।मैं अर्जुन सहगल एक बार फिर से हाजिर हूं. आपने अब तक की चुदाई की कहानी के पहले भागआंटी के साथ चुदाई की सुनहरी रात-1में पढ़ा था कि मारिया आंटी ने मेरा लंड पकड़ लिया था और वे मेरा लंड चूसने लगी थीं. मैं पेंटी लाइन पर आकर जीभ से पूरी चुत के इर्द गिर्द के भाग को जितना चूम रहा था … वो उतना ही तड़प रही थी.

मुझसे जितना अन्दर तक हो पा रहा था, मैं जेठ जी का लंड उतना अन्दर तक अपने मुँह में ले कर अपना मुँह ऊपर नीचे करने में लगी थी. मुझे उसका ये व्यवहार समझ नहीं आया, लेकिन परमीत जान गई कि मनु ऐसा क्यों कर रही है. लंच के कुछ देर बाद घंटी बजी और सभी लोग अपने अपने क्लास रूम में चली गईं.

यह बात तब की है जब मैं फर्स्ट ईयर में था। छुट्टियों में घर आया हुआ था.

मैं तो मचल उठी।मेरा भाई मेरी चूचियों के ऊपर के नग्न भाग को चूम रहा था. पहली बार मैंने एक मर्द के वीर्य को अपने मुंह के अंदर लेकर उसका स्वाद चखा था. वो बोला- साली झूठ मत बोल … ऐसे ही तेरे चूतड़ नहीं निकले हैं, सच बोल और बता कि पति के अलावा और किसका ले रही है.

उधर लंड हाथ से हिलाते हुए मेरे मुँह से मेरी गर्लफ्रेंड जिया के बारे में निकल गया था. मैं उन्हें धक्का देकर अपने से अलग करते हुए बोली- क्या भैया जी, अभी भी आप मुझे श्वेता भाभी ही समझ रहे हैं क्या? इस बार तो मैंने अपनी नाइटी पहनी है. और वो मेरे लन्ड पर बैठ के मुझे चोदने लगी और आह आह आह आह की आवाज निकाल रही थी.

छोटी उम्र से ही मेरी आदत थी कि मैं अपने लंड की साफ-सफाई को लेकर काफी सतर्क था. उनके अनुसार चाचा जी ने उनको चोदना छोड़ दिया था और वो अपनी शारीरिक प्यास न बुझ पाने के कारण परेशान थीं.

रीना की चूत पर मैंने अपने लंड को लगा दिया और उसकी चूत के दाने को लंड से रगड़ने लगा. अब ममता ने भी परिस्थितियों से समझौता कर लिया है और वो अपनी जिन्दगी अपने हिसाब से जीती है. वो एक हाथ से अपनी चूत तथा एक हाथ से अपनी चुची को ऊपर से ही मसल रही थी.

उन मित्रों तथा पाठकों के स्नेह व गुरूजी के सहयोग के लिए हृदय हमेशा आभारी रहता है.

सपना ने मेरी तरफ देखा तो मैंने अपनी जेब से उसे दो हजार रूपए देते हुए कहा- ठीक है. गांड और चूचियां देख कर किसी का भी लंड उसको चोदने के लिए तड़प सकता था. मैंने उसे कहा- मादरचोद, तू अब मेरी चूत में अपना लौड़ा घुसायेगा भी या बाहर ही माँ चुदवाता रहेगा?मेरी गालियाँ सुन कर उसे जोश आ गया और उसके मेरी चूत के छेद में लंड टिका कर एक धक्का मारा और एक बार में ही उसका पूरा लंड अंदर था.

दीदी की आवाज से मेरी तंद्रा टूटी- तेरा इरादा क्या है … वैसे तो बड़ी भोली बनती है और देख ऐसे रही है, जैसे मुझे खा ही जाएगी. कोई 25 से 30 मिनट तक मैं लंड को मालकिन की चुत में आगे पीछे करता रहा.

उसने फिर अपने लंड की मुठ मारना शुरू कर दिया और एकदम से उसके लंड से माल की पिचकारी निकल कर मेरे पेट पर गिरने लगी. वो मुझसे बोली- सर मैं सुसु करने जा रही हूं … अब नहीं देखोगे मुझे सुसु करते हुए?मैंने उसके पास जाकर उसके होंठों को चूम कर उसकी ब्रा के ऊपर से उसके चुचे दबा दिए. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के माध्यम से मुझे कुछ मित्रगण ऐसे मिले हैं, जो न केवल मेरी कहानियों की हर दिन प्रतीक्षा करते हैं बल्कि उसके साथ ही इन्सान होने के नाते एक अपनी मित्रता का अहसास भी करवाते हैं.

हिंदी ऑडियो सेक्स वीडियो

उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया और मुझे अपनी ओर खींचते हुए बोला- दीदी सुन तो सही.

जब मेरे डिस्चार्ज का समय करीब आया तो मैंने पूछा- कॉण्डोम लगा लूँ?तो बोली- क्यों पैसा खर्च करते हो साहब, हमारा ऑपरेशन हो चुका है, आप अपनी मस्ती पर ध्यान दो. मैं आवेग में कह गया।प्रीति के शब्दों में:मैं अपने भाई की आंखों में देख रही थी। मैं सच में उसकी ओर बहती जा रही थी। ऐसी तारीफ मेरी किसी ने नहीं की। उसके द्वारा मेरे होंठों की तारीफ़ ने तो मेरे अंदर हलचल पैदा कर दी थी। मैं उसकी आंखों में अपने लिए चाहत देख पा रही थी। जी हाँ … जिस्मानी चाहत।मगर विशाल की बातें उससे थोड़ी अलग थीं. इस पर मनु ने मस्ती से कह दिया- अभी पटा नहीं है … इसलिए बॉयफ्रेंड नहीं कह सकते.

प्लीज़ आपको अच्छी लगी या नहीं … मुझे ज़रूर बताना ताकि मेरा हौसला बढ़ सके और मैं आपका आगे भी मनोरंजन कर सकूँ. ”अब देखो मेरी पत्नी को मरे लम्बा अरसा हो गया, कुलदीप को मरे भी छह साल हो गये. बीएफ सेक्सी एचडी में बीएफ सेक्सीहम दोनों एक-दूसरे को देखकर मुस्कराने लगे और मैं अपने बैग के साथ उसके पास चला गया.

मैंने उसको बांहों में कस लिया और उसके होंठों के रस को निचोड़ने लगी. मुश्किल से बीस धक्के मारने के बाद मैंने अपना सारा माल उनकी चूत में ही छोड़ दिया.

संगीता की कमर पकड़कर चोदना शुरू ही किया था कि सीढ़ियां चढ़ती मीना की आवाज सुनाई दी. मगर अभी मेरे दिमाग में एक ही भूत सवार था कि मैं किसी तरह उसको इतनी गर्म कर दूं कि वो अपनी चूत को चुदवाने के लिए तड़प उठे. उसके बाद भी हम दोनों मिलते रहे, हम दोनों बस किस कर पाते थे या वो मेरे लंड को मसल देती थी और मैं उसकी चूचियां मींज देता था.

जैसा कि मैंने बताया था कि मोनिका की शादी के बाद हम दोनों फिर से दोबारा होटल में मिले थे और वहां हमने दबा के सेक्स किया था. ऊऊऊ ऊईईई ईई माँ … उफ्फ्फ … आआअह्ह …” करते हुए मैं दीदी के बॉस के लंड पे कूदने लगी. उसने भी कहा- मुझे भी चरम सुख प्राप्त हुआ संजय … मैंने तुम्हारी आभारी रहूंगी.

लेकिन मुझे आप सभी से एक शिकायत भी है, आप लोग मेरी सेक्स स्टोरी पर लाइक और कमेंट नहीं करते हैं.

शैली पूरी तरह थक चुकी थी जब वो चुदाई करवा के मेरे कमरे से निकली तो!उसकी मम्मी रेखा ने भी जब उसे देखा होगा तो वो समझ गयी होगी आज उसकी बेटी की जम कर चुदाई हुई है. इस तरह मैंने उसे रात भर में 4 बार चोदा और हम दोनों ऐसे ही नंगे सो गए.

कहानी के अगले भाग में मैं बताऊंगा कि भाभी और मेरे बीच में और क्या-क्या हुआ. मनु सायकिल से उतर कर पास आई और मेरे हाथों को पकड़ कर मुझे मेरी ही घड़ी दिखाकर बोली- जरा ढंग से देख कुतिया … अभी दस ही बज रहे हैं और मैं समय से पहले ही तेरे पास आ गई हूँ. एक मर्द के लिंग को छूना और उसको हाथ में लेकर महसूस करना मुझे बहुत सुखद लग रहा था.

सपना- हम्म … अभी तो पूरी फिल्म बाकी है … अभी तुमने मेरे जलवे देखे कहां हैं. कुछ लोगों से पूछने पर पता लगा कि तूफान की वजह से आगे रास्ता बंद कर दिया गया है. मेरे मन में डर लगने लगा लेकिन फिर भी हिम्मत करके मैं बाइक से उसके घर के लिए निकल पड़ा.

सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ इसके बाद संदीप ने फिर से बहुत सारी क्रीम मेरी गांड के छेद में लगानी शुरू कर दी. खाना खाते हुए चर्चा में पता चला कि उसकी बहन शाम को बाबू जी के साथ ही लौटेगी.

বেঙ্গলি সেক্সি বিএফ

उसने मेरे लंड को अपनी चूत पर रखवा लिया और फिर से उस पर बैठती चली गयी. वो दीदी के ऊपर ही ढेर हो गए और दीदी ने उनको अपनी बांहों में सुला लिया और अपनी टांगें अंकल की पीठ से कस ली थीं. तब मैं फिर से चिल्लाई- तुम ये भी लगाते हो … पागल तुम्हें तो मैं सुबह बताउंगी.

आलिया- राज, मुझसे शादी कब करनी है?मैं- इस बार जाकर मॉम-डैड से बात करता हूं. जैसे जैसे मेरे हाथ उसकी चूत की तरफ बढते थे तो उसकी जांघें अपने आप ही फैलने को हो जाती थीं. सेक्सी बीएफ पिक्चर चलने वालीकाले बालों और काले नाईट-सूट में वसुंधरा का गोरा बेदाग़ चेहरा चाँद सा चमक रहा था.

ये तुम्हारे लिए ही तने हैं … आह चूस लो इनको … सारा रस निचोड़ लो इनका.

स्नेहा भाभी और मेरी, हम दोनों की आवाजों से रूम में मदहोश कर देने वाली आवाजें गूंज रही थीं. पर उनको कोई फर्क नहीं पड़ रहा था, मेरी हर चीख के साथ उनकी रफ़्तार तेज़ हो रही थी.

और आप की …??” अपने सिहरते हुए जिस्म को मेरे जिस्म के साथ रगड़ते हुए खनकती हुई आवाज़ में वसुंधरा ने पलटवार किया. आलिया- राज, मुझसे शादी कब करनी है?मैं- इस बार जाकर मॉम-डैड से बात करता हूं. अब शायद उस जवान कुंवारी चूत की कामवासना भी कामरस के रूप में अपनी बेचैनी को बयां कर रही थी.

दो मिनट में ही मेरे लंड से वीर्य की पिचकारी निकल कर वहीं दीवार पर जा लगी.

मैंने अपने तने हुए लंड को हाथ में लेकर हिलाते हुए भाभी को दिखाया और कहा- देखो, कैसे उतावला हो रहा है मेरा औजार आपकी इस प्यारी सी मुनिया (चूत) को एक बार फिर से प्यार करने के लिए. बिक्कू ने पूछ लिया कि तुम लोग कब तक घर पहुंच रहे हो तो मेरे भाई ने वहां से जवाब दिया कि हम लोगों अभी घर आने में एक या डेढ़ घंटे का टाइम और लगने वाला है. उस दिन जब दिन भैया काम पर गये थे तो वो भाभी के साथ मेरा पहला दिन था.

सेक्सी बीएफ वीडियो देहाती वालाउसको मैं पहली बार देख कर मर मिटा था, मैंने सोचा था कि कैसे भी उसको चोदना है. एक और बात! कभी गौर कीजियेगा पाठकगण! पुरुष आँखें खोल कर अभिसार करना पसंद करता है और स्त्री आँखें बंद कर के.

जुदाई कैसे करते हैं

उसने फिर से मुझे किस करना शुरू किया और धीरे धीरे मेरी शर्ट के बटन भी खोल दिए. मैं- हैल्लो अंकल, आप यहां कैसे?शर्मा अंकल- बेटा तुम्हारी मॉम से कुछ काम था मुझे. फिर धीरे धीरे अंकल ने अपनी जीभ से उसे और गीला कर दिया और फिर बहुत तेज तेज मेरी चूत की क्लिट को चूसने लगे.

जब मेरा वीर्य निकलने को हो गया तो मैंने लंड से वीर्य छूटने का वीडियो रिकॉर्ड किया. पांच मिनट तक मैं भाभी की चूत को चाटता रहा और फिर वो एकदम से उठ कर बैठ गई. मैं भी अब दोगुनी तेजी के साथ अपनी चूत को उनके लंड की तरफ धकेल रही थी.

उसको एक गिलास पकड़ाया और अपने होंठ से गिलास को चाट चाट कर हल्का हल्का सिप लेने लगी. फिर मैंने उसको बातों से इस तरीके से पटाया कि भाभी रात को मेरे पास रहें और किसी के पता भी ना चले. मैं भी थोड़ा उत्तेजना में था, तो मैंने उससे कहा कि अगर मालिश शुरू करनी है, तो मुझे तुम्हारे मम्मे चैक करने पड़ेंगे.

मैंने भी अपने आप को थोड़ा ऊपर उठा कर उसके मुँह में अपना मम्मा डाल दिया और फिर उसके पेट पर बैठ गयी. फिर चाची बोलीं- अपने मन की कर ली हो, तो अब मेरे मन की भी कर दो … मुझसे रहा नहीं जा रहा है … क्यों मुझे तड़पा रहे हो.

शाम को दीदी कोचिंग चली गई … मैं जल्दी से उनके कमरे में गया और उनकी किताब से उस कागज को निकाल कर पढ़ने लगा.

इधर मुझे खुद को पता नहीं चला कि मैं भोली भाली गीत, कब इतनी बेरहम बन गई. बीएफ सेक्सी वीडियो दिखाकुछ देर के बाद उसने अपनी चूची को बाहर निकाल लिया और उसको दबाने और मसलने लगी. मराठी बीएफ दिखावमम्मी चिल्ला चिल्ला कर आवाज कर रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… चोद दो मुझे … आआह … तेरा लंड पूरा अन्दर तक जा रहा है. जब जीजा को मेरी चिकनी चूत दिखी तो वो हवस भरी नजरों से मेरी चूत को देखने लगे.

ये कहते हुए उन्होंने एक वी-नेक की टी-शर्ट और एक शॉर्ट स्कर्ट पहनने को दिया.

उन्होंने जल्दी करने को बोला, तो मैंने गद्दा मोड़ कर औंधा लेटा दिया और उनकी गांड को ऊपर की तरफ उठा कर उनकी कमर पर और गांड पर किस करने लगा. मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसका एक हाथ मेरे मम्मों पर आ गया और वो दबाने लगा. एक बार मैंने उनसे कहा- आप दूसरा बच्चा पैदा कर लो … मुझको आपका दूध पीना है.

उसने दीदी की टांगों को दोनों हाथों से पकड़ कर उसकी चूत में लंड को रख दिया. तब तक नानी पड़ोस में चली गईं क्योंकि बगल के घर में लड़की की शादी थी. थोड़ी देर में मैंने प्रीति को सीधा किया और अपने लंड को प्रीति की चूत पर सेट कर के उसके मुँह को अपने मुँह में दबा लिया और जोर का शॉट मारा.

लड़कों वाली

यह कह कर भाभी ने मुझे आंख मार दी … मैं समझ गया कि भाभी अपनी चुदाई का राज इसके सामने खोलना नहीं चाहती हैं. पार्टी में सबके साथ एन्जॉय करने लगी। लेकिन मेरी गांड फटी पड़ी थी क्योंकि मेरा मोबाइल भाई के पास ही था। व्याकुलता में रात कटी. मैं- अरे मेरी जान … अभी तो शुरू किया है … आगे आगे देखो … क्या क्या सुजाऊंगा.

फिर कुछ देर के बाद उनका फोन आया- वो बोले, बंध्या मैं तेरे पास बहुत जल्द ऐसे ही 3-4 रईस लोगों को लेकर आने वाला हूं.

दूसरे दिन के बाद मैं अपनी कार से लुधियाना के लिए निकला और रास्ते से हमेशा की तरह दो बोतल व्हिस्की ली और सीधा लोकेशन, जहां फ़ोटोशूट होना था, पहुंच गया.

फिर जब कॉलेज से जाने के लिए मैं अपनी सहेलियों के साथ निकल रही थी, तो संदीप फिर मिल गया. मैं- अच्छा … फिर भी आप मुझसे चिपकते जा रहे हैं?जेठजी- हां … पिछली बार अनजाने में गलती हो गयी थी, लेकिन इस बार जानबूझ कर गलती करनी है. आज वाली बीएफमम्मी- आआह चोद दे मुझे … आआह भैन के लौड़े … तेरी पूरी फीस दी है हरामी … पूरा मजा लूंगी.

तभी मैंने दीदी की एक सहेली का कमेंट्स पढ़ा- हां यार, शिवम तो तेरा ही है. मैं उनके लन्ड देख कर एक बार तो डर सी गयी उनके बहुत बड़े बड़े लन्ड थे. मैंने पूछा- क्या करूँ?तो ममता ने कहा- पानी छोड़ो साहब, अब हम थक गये हैं.

मैंने जल्दी से प्रिया भाभी के बदन से सारे कपड़े एक एक करके उतार दिये. पर उसके घर में कुछ अनहोनी हो जाने के कारण उसको सिल्क को अकेले छोड़ के जाना पड़ा और उस बुरे दिन में उसकी कार सॉरी टैक्सी भी ख़राब हो गई उसको सुनसान रास्ते में अकेले चलना पड़ा.

काफी देर तक उसने मेरे होंठों का रस पीया और फिर मेरे कानों में कामुक से स्वर में बोली- तुम कुछ नहीं करोगे क्या?उसके बाद मैं उठ गया.

ये बात तो आप सब जानते ही हैं लेकिन जब चूत चोदने को मिल जाये तो सीधे स्वर्ग में जाने के बराबर होता है बाकी दुनियादारी तो चलती रहती है. मनु सब कुछ सामान्य दिखाने का असफल प्रयत्न कर रही थी, जबकि हमारे सीने में ज्वारभाटा उफान ले रहा था. खैर छोड़ो … ये बताओ कि तुम उससे संतुष्ट हुई कि नहीं?इस बात पर संजू नार्मल हो गई और खुश होकर बोली- हां बहुत ज्यादा मजा आया.

तिरंगा बीएफ उसके बाद जीजा ने मेरी चूत में लंड के सुपारे को अंदर घुसाने का प्रयास किया. तेरी गर्लफ्रेंड तो क्या तेरी बीवी भी फिर पड़ोसियों से चुदवाती फिरेगी.

”बेटा, इतना सब तो तुम्हें जानना और सीखना पड़ेगा वरना हैप्पी के साथ कैसे गुजारा होगा? तुम एक काम करो, शरमाओ नहीं और अपना कुर्ता ऊपर उठाकर चूचियां बाहर निकालो. रेखा को लेकर मैं बेडरूम में आ गया और अपने लण्ड पर कॉण्डोम चढ़ा लिया. उसके बाद आंटी ने मेरा सर पकड़ कर मेरे होंठों को अपने होंठों से चिपका लिया और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने चाटने लगे.

हॉट सेक्सी इंडियन

रेखा मेरे लण्ड के पास आई, उसे छूकर दोनों हाथ से प्रणाम किया और बोली- मेरी तौबा, अब आज नहीं … फिर किसी दिन!मैंने कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी. अब तक की मेरी इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि मैं जीजा जी की बहन की चुत मारने के बाद मैं अपनी बहन के मदमस्त जिस्म को वासना से देख रहा था. अपने हाथ को नीचे सरकाते हुए मैं उसकी चूत की दरार पर उंगली घुमाने लगा.

मेरी कामुक सिसकारियों और उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाजें तेज होने लगीं. मेरी दीदी और मेरे रूम के बीच के दीवार के सबसे ऊपर एक बड़ा सा तक्का (छिद्र) था.

भाभियों से विशेष इल्तिजा है कि अगर उनको लगता है कि मेरी सील पैक चुत चुदाई की कहानी में कोई कमी रह गयी हो, तो प्लीज़ मुझे जरूर बताना.

मैं- हा हा हा … कॉलेज की बाकी लड़कियां भी यही सोचती हैं, मेरे से उसका नम्बर मांगती हैं. अगर कामकाजी होता तो नौकरी कर रहा होता या फिर पूरी फैमली होती तो फिर अपने में कंट्रोल करता. काफ़ी देर तक मैं उसके ऊपर चढ़ कर उसका लंड अपनी फुदी के अंदर बाहर करती रही और फिर उसने मुझे पलट कर अपने नीचे कर दिया और अपना लंड मेरी फुदी में जड़ तक धकेलते हुए मुझे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा.

मैंने तुरंत दरवाजा खोल दिया और अनजान बनते हुए कहा- अच्छा हुआ दीदी आप आ गईं, हमें घर के लिए देर हो रही है, हम चलते हैं. नींद खुलने के बाद मैंने देखा कि उसने मुझे पूरा जकड़ लिया है। और मुझे यह भी अहसास हुआ कि उसकी इस हरकत से नीचे मेरा लंड सलामी दी रहा है. मैं उसकी इस बात का अर्थ समझने की कोशिश में उसकी आंखों में आंखें डाल दीं.

मैं- अच्छा … फिर भी आप मुझसे चिपकते जा रहे हैं?जेठजी- हां … पिछली बार अनजाने में गलती हो गयी थी, लेकिन इस बार जानबूझ कर गलती करनी है.

सेक्सी बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स बीएफ: यह कहते हुए विवेक ने अपनी हथेली मेरी चूत में रख कर मुट्ठी में बंद करके मेरी चूत को जोर से मसल दिया तो मेरे मुंह से चीख निकल गई। मेरी नाईटी को विवेक ने पकड़ कर कमर के ऊपर जैसे ही खींचा तो मेरी कमर तक का जिस्म उन दोनों के सामने नंगा हो गया. मैं राजवीर, वसुंधरा के इस कॉटेज को जैसे चाहे यूज़ कर सकता था, चाहे तो किराए पर दे सकता था या बेच सकता था.

उनके दोस्त ने मेरे मुँह के पास आकर अपना लंड मेरे मुँह में ठूस दिया. सुबह उठकर मैं घर पर सामान्य थी और कल की पार्टी के कारण आज हम लोगों ने कॉलेज जाना भी कैंसल कर दिया था. अब तो मेरा मन भी करने लगा था कि अपनी बहन के साथ अपनी भी चूत की चुदाई करवा लूं.

मैं जीजा जी से उन दोनों के द्वारा दिए काम की वजह से थक गए थे और इसका बदला लेने के लिए आज की रात उन दोनों लड़कियों की जबरदस्त चुदाई को लेकर जीजा जी से बात कर रहा था.

कई बार माता पिता शादी के लिए भी कह चुके थे पर हर बार मैं आदर के साथ मना कर देता था. चाची को इतना मजा आ रहा था दोस्तों कि वो बस यही कहे जा रही थीं कि मेरी चूत मारते रहो जान … मुझे बहुत मजा आ रहा है. तो सायरा भी पीछे नहीं रहने वाली थी, वो भी मेरे निप्पल को मसल रही थी और इसी मदहोशी में सायरा मेरे निप्पल को दांतों से काटती तो कभी उसको पीने की कोशिश करती.