बेंगोली बीएफ व्हिडीओ

छवि स्रोत,गांव देहात की देसी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी पिक्चर फिल्म 2: बेंगोली बीएफ व्हिडीओ, मैं उनकी गांड ले ऊपर से हाथ फ़ेरने लगा और गांड को धीरे-धीरे मसलने लगा.

इंग्लिश सेक्सी कार्टून वीडियो

पर मैं कहां सुनने वाला था, मैं एक हाथ से उसकी चुची मसल रहा था और दूसरे हाथ से उसकीचूत को उंगली से सहला रहा था. सेक्सी वीडियो चुदाने वाली देहातीवो बोला- जानू बहुत दिन हो गए हैं तुम्हारी चुत को देखे, आज पूरी सफाई करके रखना.

उनकी खूबसूरती को चार चांद लगाने में उनके लम्बे बाल पूरी शिद्दत से उनका साथ देते हैंमाँ की गांड भरी और उठी हुई है और उनके मम्मे भी 36डी साइज़ के हैं. देवर भाभी का नंगा सेक्सीअपने फ्लैट में पहुँचते ही वो कॉफी बनाने चली गई और मैं ड्रॉइंग हॉल में बैठ गया.

एक मिनट बाद जब आंटी बाहर आईं तब मैंने ध्यान से देखा कि वास्तव में आंटी कुछ परेशानी में दिख रही थीं.बेंगोली बीएफ व्हिडीओ: वो अभी भी धीरे धक्कों के साथ पानी निकाल रहा था।फिर मैंने उसे अपने मम्मों का सारा दूध पिला दिया.

मैंने उसके पैरों को थोड़ा सा और फैलाया और एक हाथ से लंड को पकड़ कर चुत के छेद पर टिका कर थोड़ा ज़ोर का धक्का मारा.मैं समझ नहीं पा रहा था कि फोन पर दूसरी तरफ कौन है… लेकिन उनकी बातों से लग रहा था कि दीदी की कोई फीमेल फ्रेंड है.

नागिन की सेक्सी वीडियो - बेंगोली बीएफ व्हिडीओ

बाहर क्यों जा रहे हो?मेरे फ्रेंड के मुँह से आवाज़ नहीं निकल रही थी, वो मेरी वाइफ को देखता ही रहा, उसी के सामने मेरी बीवी ने कपड़े चेंज कर लिए.वो जी स्ट्रिंग पहनती थीं… जिसके पीछे की और सिर्फ एक पतली डोरी होती है… जो कि दीदी की गांड की दरार के अन्दर छुपी हुई थी.

इतना दर्द हुआ कि मुझे कुछ होश नहीं रहा, मैं पूरी ताकत से चिल्लाने लगी, रोने लगी. बेंगोली बीएफ व्हिडीओ फिर मैंने भी झट से दरवाजा बंद कर दिया था और उसको बांहों में भर कर चूमने लगा तो उसे भी मजा आया और उसकी कामवासना प्रज्जवलित होने लगी, वो भी मेरा साथ देने लगी, मैंउसके लबों को चूसने लगाऔर साथ ही उसके बदन पर हाथ फिराने लगा.

मैंने भी कपडे पहने और उसे उसके घर के मोड़ तक छोड़ कर आया क्योंकि उससे ठीक से चला नहीं जा रहा था.

बेंगोली बीएफ व्हिडीओ?

कई बार मयूर से कहते थे- यार अगर रचना की चूत दिला दो तो तुम्हारा तुरंत ही प्रमोशन कर दूँ. जब तक उसका पति और बच्चा नहीं आया, तब तक कभी वो मेरे फ्लैट में तो, कभी में, उसके फ्लैट में खूब चुदाई का मजा किया. खैर ये मेरा काम नहीं है, उसने भी तुम्हें लाने के लिए पूरी मेहनत की थी.

मैं बेड पर एकदम नंगा था, जब भाभी मेरे पास आकर लेट गयी तो हम दोनों की जीभ फिर आपस में टकरा गयी। भाभी अपने हाथ से मेरे लंड को मसल रही थी और मैं उनकी गांड पर हाथ फिरा रहा था, कुछ देर बाद मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया, जब मैंने भाभी की चुत को अपनी उंगलियों से छुआ तो भाभी को चुत एकदम गीली थी. मैं अब मजे लेकर साली की चुदाई देखने लगा, मैं चाहता तो दोनों को अभी रोक सकता था लेकिन मैंने सोचा पूरी रिकॉर्डिंग कर लेता हूँ. कल जब हम अकेले होंगे तो तुम जैसे चाहो वैसे मेरे मम्मों को दबा लेना.

अभी एक कुंवारी लड़की की बुर में लंड घुसाया ही था कि मेरे दोस्त की बीवी वहाँ आ गई और थोड़ा नाराज होने के बाद वो भी हमारे चुदाई के खेल में शामिल हो गई. अब मैं धीरे से उठी और एकदम कूल्हे मटकाती हुई धीरे धीरे वापस उस भीड़ की तरफ चल पड़ी. वो मेरा जरा सा भी विरोध नहीं कर रही थीं बल्कि वो भी मस्त होकर मेरा साथ दे रही थीं.

मैंने उनसे पूछा- आप क्यों परेशान कर रही थी मेरे दोस्त को… आपकी भी नई नई शादी हुई है, भैया जो आपको परेशान करते हैं, उसका बदला निकल रही हो?तो वो बोली- पागल… मेरी शादी को 14 साल हो गये और मेरे दो बेटे हैं. पिंकी को रोते हुए देखकर, गोलू खुश हो गया और उसकी भिन्डी भी कड़क हो गई, पर अब भी केवल 5 इंच से ज्यादा नहीं हुई थी.

मॉम बेड पर मुझसे छूटने की हल्की सी कोशिश कर रही थीं और मैंने उनको रगड़ रगड़ कर गरम कर दिया था.

जब मैंने भाभी का गॉउन उतारा तो देखा कि भाभी ने तो पैंटी ही नहीं पहनी थी.

मुझे कुछ संदेह हुआ और मैं अब ये जानने को उत्सुक हो उठा था कि मामला क्या है. मैं और पीयूष दोनों एक दम नंगे दोनों के बदन पर एक भी कपड़ा नहीं था, एक दूसरे से लिपट गये. अगले कुछ मिनट हम वैसे ही पड़े रहे तब वो बोली- बहुत दिनों बाद चुदी हूँ आज मैं… मुझे मजा आया, तुम्हें मज़ा तो आया ना?मैं उसे एक प्यारा सा किस करते हुए बोला- बहुत मज़ा आया, अब तो यह मजा रोज मिलेगा, जब चाहें मिलेगा!उसने हाँ में सर हिला दिया और बोली- हाँ, बहुत अच्छा लगा.

लेकिन मैंने देखा कि उसका मूड वाकयी खराब था और उसने मेरी विश का जवाब भी थैंक्स कह कर दिया. पर मैं कहाँ मानने वाला था, मैंने कहा- चुप कर चोरनी… एक तो चोरी करती है और ऊपर से पुलिस से जुबान लड़ाती है?और मैं उसकी दोनों टाँगों को फैला कर के अपना चेहरा उसकी जांघों के बीच ले जा कर उसकी बुर को गौर से देखने लगा. मैंने घड़ी में देखा तो ग्यारह बज चुके थे और लगभग सभी लोग थक कर सो गए थे.

चाहे कामऱज़ की वजह से प्रिया की योनि पहले से ही खूब चिकनी हो रही थी, तदापि चित टांगों के साथ योनि भेदन में प्रिया को बहुत दर्द होना था तो मैंने प्रिया के दोनों पैर मोड़ कर प्रिया के नितंबों से करीब एक फुट की दूरी पर रख दिए; इससे प्रिया की योनि की मांसपेशियाँ थोड़ी सी ढीली हो गयीं जिस से मुझे प्रिया की योनि में अपना लिंग प्रवेश करवाने में थोड़ी सुविधा होने वाली थी.

अब मैं उसके गोर गोरे गालों को चूमने लगा और अपने दोनों हाथों से उसके दोनों चूतड़ मसलने लगा. उसकी आँखें मेरे उस तम्बू पर पड़ीं और उसकी सौ वाट के बल्ब ऑन होने लगे. तो कोई ऊपर का कमरा खोल दीजिए और सलाद पानी और पांच ग्लास रख दीजिए तभी मैं निकली, पहली बार मम्मी ने बोला- आरती, इनको ऊपर के रूम में सब जमा दो.

जैसे हर एक लड़के को लगता है कि उसकी कोई गर्लफ्रेंड हो, मुझे भी यही लगता था और मैं भी यही चाहता था कि वो मुझसे बहुत प्यार करे और मैं हमेशा उसके ही साथ अपने आपको खुश रखूं और उसे भी ख़ुशी दूँ. फिर मेरी वाइफ भी वहां आ गई, वो चेयर ले कर वहीं फ्रेंड के सामने बैठ गई और उसने अपनी टांगें हल्की सी खोल दीं. मैंने सुना है और फिल्मों में देखा भी है, मगर कभी नहीं सोचा था कि मुझे भी कभी यह सब करने को मिलेगा.

मेरी इस कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने मेरी पड़ोसन भाभी का सेक्स समाधान किया.

उसकी चूत में लिसलिसा पानी हो जाने से मेरा लंड अब उसके चूत में आसानी से जा रहा था और उसकी कामुक सिसकारियां सुनकर मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. एक कमलेश सर हैं जो ट्यूशन पढ़ाते हैं, वही बस मुझे टच किए हैं, उनका लन्ड मुंह में लेकर चूसा है मैंने और उन्होंने नीचे मेरी चूत चाटी है। पर अपना लन्ड मेरी चूत में नहीं घुसाया, मतलब डाला नहीं। मैं झूठ नहीं बोल रही… फर्स्ट टाइम आज आप दोनों चोदने वाले हो।मेरे मुंह से सब कुछ अपने आप साफ साफ निकलने लगा.

बेंगोली बीएफ व्हिडीओ लेकिन जब उसने मुझे आश्वासन दिया कि वो मेरी गांड को देखेगा, उससे खेलेगा, उंगली से रागादेगा लेकिन मेरिउइ गांड में लंड नहीं घुसायेगा तो मैं मान गया और उसके कहे अनुसार लेट गया. मैं- क्या हम बेस्ट फ्रेंड बन सकते हैं?माँ- फ्रेंड्स तो हम हैं ही!मैं- ऐसे वाले नहीं… बेस्ट फ्रेंड्स जिनके साथ हम कुछ भी शेयर कर सकें… अपनी प्रॉब्लम्स, अपनी फीलिंग्स… चाहें वो कैसी भी हों!माँ- कैसी भी फीलिंग शेयर करने के लिए तुम अभी बच्चे हो.

बेंगोली बीएफ व्हिडीओ उसके बाद मैंने गुंजन के गाल, आंख, सर में बहुत सारे किस किए और उसके कपड़ों के ऊपर से ही उसके चूचों पर किस किया. अन्दर वो लाल रंग की जालीदार ब्रा पहने थीं, जिसमें वो बहुत ही सेक्सी लग रही थीं.

विनय ने जीभ से मेरी चूत को चोदना शुरू कर दिया, जिसे मैं ज्यादा देर तक नहीं झेल पाई और विनय के मुँह में ही झड़ गई.

इंडियन बीएफ वीडियो सेक्स

जब मैं ज़ोर से चूचे में दांत गाड़ देता तो अलका रानी की चीख निकल जाती और तब वो ज़ोरों से चूतड़ उछाल के धक्का मारने की चेष्टा करती. फिर उन्होंने मुझसे बात करना शुरू कर दी और पूछने लगीं कि कौन से कॉलेज में हो. मैंने सोचा पहले चुपके से देखता हूँ कौन है, तो मैंने धीरे से जाली में हाथ डाल कर अन्दर से बंद जाली को बिना आवाज किए आहिस्ता आहिस्ता खोल दिया और मैं घर में घुस गया.

भाभी के मुँह से मादक सिसकारियां निकलने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह…उनकी पेन्टी गीली हो चुकी थी, तभी मैंने एक उंगली उनकी चूत में घुसा दी, जिससे वो चिहुँक उठीं. पापा सुबह ड्यूटी पर निकल गए, मम्मी सुबह 10 बजे निकल गईं और मैं अकेला घर पर रह गया था. मन ही मन मैं उसकी हिम्मत की दाद देने लगी, मैं उसकी वासना जगाने में लगी हुई थी लेकिन यहाँ तो उसने तो मेरा काम ही उठा दिया था.

मैंने अपनी गांड हल्की सी पीछे की और कर दी ताकि वो आसानी से अपना हाथ डाल सके.

मैं- आप मरवा दोगी… अगर माँ ने डैड को बता दिया तो वे मेरी फाड़ देंगे. वो भी अपनी माँ की जैसी नाटी यानि 4 फीट 8 इंच की साइज़ पर ही रूक जाएगी. तभी उन्होंने मुझे अपनी तरफ घुमाया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए.

मैं उसकी चूत पर ऊपर दाने पर लंड का टोपा लगा कर चूत की दरार में ऊपर से नीचे तक ले जाने लगा. आआआ स्स्स्स…”अच्छा लग रहा है?”आआह…”तुम बहुत टेस्टी हो जान आआह… स्स्स्स…”वो मेरी जांघों को जीभ से चूसने लगे. उसके बाद मैं धीरे धीरे होंठों से होकर कानों तक गया और उसके कानों को धीरे धीरे काटने लगा, जिससे उसकी मादक सिसकारियां धीरे धीरे बढ़ने लगीं.

एक दिन शाम को मैं गार्डन में बैठा था तो एक छोटा सा करीब 5 साल का लड़का मेरे पास आया और मेरे बगल में बैठ गया. चिंटू ऊपर की बर्थ पर सो रहा था, जो मुझे मिली थी, क्योंकि और कोई भी आने वाला नहीं था तो नीचे की बर्थ मैंने ले ली.

मैं अपने घुटने के बल फर्श पर बैठ गया था और मेरे सामने वह चुपचाप खड़ी थी. उनके मुँह से लगातार मादक सिसकारियां निकल रही थीं, जिनसे कमरे का वातावरण और भी सेक्सी हो गया था. मैंने कई बार नीति मैडम को बोला था कि मैं उस रुचिका चौधरी (जाटणी) मैडम को चोदना चाहता हूँ.

दोस्तो, मैं आपकी प्यारी सेक्सी कामुकता से भरपूर बिलकीस बानू… उम्मीद करती हूँ कि आप लोग मुझे भूले नहीं होंगे। आपको तो याद ही होऊँगी.

संदीप मॉम की कॉलेज की गाड़ी का ड्राइवर था, जो कि बाहर गाड़ी लेके खड़ा था. उसने अन्दर आकर घर के म्यूजिक सिस्टम पर कोई गाना लगा दिया और बड़े ही कामुक अंदाज़ में गाने के साथ साथ डांस करते हुए एक एक करके अपने कपड़े उतारने लगी. बीच बीच में वो सिसकारियां ले रही थी ‘आह… उह्ह… उम्म्ह… अहह… हय… याह… ओहह… उम्म्म्म…’अब मैंने उसे जोर से अपनी बाँहों में जकड़ लिया और चूमना शुरू कर दिया.

मेरे प्यार दोस्तो, कैसे हो आप सब… मेरा नाम हरी है, मैं गाज़ियाबाद के पास मोदीनगर शहर में रहता हूँ. भाई का लन्ड अब्बू के लन्ड से छोटा था तो मुझे अब्बू के लन्ड से चुदने की इच्छा ज्यादा थी, पर अब्बू के लन्ड पर आज अम्मी मुँह मार के बैठी थी।भाई लगातार मेरे बूब्स दबा रहा था.

वैसे ही अपनी दोनों टांगों को आपस में रगड़े जा रही थीं… साथ ही अपने होंठों को अपने दांतों से काटे जा रही थीं. क्योंकि वो शादी में भी नहीं आ पाया था। वो पढ़ाई के लिए बाहर गया हुआ था।राज. मैंने उसके बाल पकड़ कर उसके मुँह को चोदना चालू किया, जब तक मैं थक नहीं गया, तब तक उसके मुँह में लंड को पेलमपेल पेलता रहा.

बीएफ वीडियो ब्लू सेक्सी

मैंने अर्जुन के बाजू पर अपना सिर रखा और एक हाथ अर्जुन के कमर पर! अब मुझसे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था तो मैंने धीरे धीरे अर्जुन की टी शर्ट में अपना हाथ डालना शुरू किया और सेक्सी बॉडी को छूकर मेरे अंदर करेंट दौड़ गया जिससे मेरे लंड ने फुंकारें मारना शुरू कर दिया.

अब मैं मुख्य घटना पर आती हूँ, मेरी शादी को 20 दिन ही हुए थे और हम दोनों हर रात चुदाई का मज़ा भी ले रहे थे. झटके से पैंटी खींच कर मैंने एक चुम्मा उसकी चूत पर जड़ दिया।चूत पर मेरे लबों के स्पर्श से वो अन्दर तक सिहर उठी। उसे जरा भी अंदाजा नहीं था कि मैं ऐसा कुछ करूँगा। उसके मुँह से निकले सीत्कार ने मुझे और जोश दिला दिया। मैं उसकी टांगों को फैला कर जोर-जोर से उसकी चूत चाटने लगा।वो बोल रही थी- आह. अब मैं शाम को ऑफ़िस वाले लड़के, जिसका नाम विनय था उसको पटाने के बारे में सोचने लगी.

मैं बोला- सच बताओ, कौन है?मेरी बीवी फिर बोली- कोई नहीं है, मैं सच बोल रही हूँ. मेरी साली का नाम करीना (बदला हुआ नाम) है, उसका कद 5 फुट 4 इंच है, रंग गोरा… और 36-30-34 की मस्त फिगर है. पंजाबन सेक्सीपापा तो काम के सिलसिले में पहले से ही अधिकतर समय घर से बाहर किसी न किसी दूसरे शहर में ही घूमते रहते थे.

साले हरामी मार डालेगा क्या? जा जाकर अपनी बीवी की गांड मार भोसड़ी के…पंकज ने धक्का मारते हुए कहा- अरे जान, स्मिता तो चूत भी सही से नहीं देती. भाभी की चुदाई करते करते मेरी शादी हो गई और अब मैं अपनी बीवी के साथ अलग फ्लैट में रहने आ गया.

मैं उसकी गर्दन पर चूमने चूसने लगा और चुचियों की घुंडी को चूसने लगा. भाभी बोली- तुम भी पेंट उतार दो!मैंने जल्दी से पैन्ट और चड्डी उतार दी, मेरा 7 इंच का लंड देख कर बोली- मस्त है तुम्हारा हथियार… आज मजा आएगा!फिर हम लोग बेड से नीचे आ गए, कालीन बिछी हुई थी तो कोई प्रॉब्लम नहीं हुई. वैसे उसके घर वाले मॉडर्न ख़यालात वाले थे और वो काम्या के कहीं भी आने जाने पर कोई रोक नहीं लगाते थे.

इसके साथ उसने मेरी चुत के ऊपर एक खड़े हुए लंड का स्केच भी बना दिया, जिस पर लिखा था अशोक स्तम्भ. मुझे थोड़ी गुदगुदी हो रही थी, थोड़ी ही देर में मेरा छोटा सा नुन्नु बड़ा हो गया. रोशनी क्या तुमने कभी अपनी झांटें साफ़ नहीं की?”उसने मासूम सा चेहरा बना कर मेरी तरफ देखा और ना” में सर हिला दिया.

मैंने उसे मेरे गेम्स के बारे में बताया तो वो बहुत एग्ज़ाइटेड हो गया था.

वैसे तो वो अच्छी औरत थी, लेकिन वो टोटका आदि करती थी और शराब बेचती थी तो कोई उसे पसंद नहीं करता था. अभी दिन के 2 बजे हैं, तुम्हारी मम्मी तो 5 बजे आती हैं ना, तुम्हें कोई और काम तो नहीं है? क्योंकि झांट काटने और शेप बनाने में मुझे एक घंटा तो लगेगा.

जिस वक़्त मैं घर पर आई, उस वक़्त भी मैंने पूरी ड्रेस जैकेट और जीन्स के नीचे ही पहन रखी थी. मैंने भी ठान लिया था कि वाइल्ड सेक्स किसे कहते हैं आज बता के ही रहूंगा।कहानी जारी रहेगी. मैंने पूछा- क्या तुम सिंगल हो?वो बोली- क्यों शादी करनी है?मैंने भी कह दिया- आप कहो तो कर लें?वो बोली- क्या कर लें.

अपक सब को मेरी हिंदी पोर्न स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करके जरूर बताएं![emailprotected]. मेरी इस तरह की चुदाई से वो दो बार और झड़ी मैं भी चोदते चोदते थक चुका था तो मैं भी अपना पानी निकलना चाहता था, मैंने पूछा- कहाँ निकालूं?तो वो बोली- अंदर ही करो, मेरा ऑपरेशन हो चुका है, कोई प्रॉब्लम नहीं है. कटीली आँखें, गुलाबी होंठ, लम्बी गर्दन, एवरेस्ट और कंचनजंघा जैसे उनके मम्मे, पतली कमर और चौड़ी गांड किसी के लंड को खड़ा कर देने में एकदम सम्पूर्ण माल.

बेंगोली बीएफ व्हिडीओ मैंने उस प्यार से बोला- जी कहिए?वो बोली- क्या आपका ही नाम मनीष है?मैं- हां, बोलो. उसकी कोशिश ने आखिर मुझे हरा दिया और मैंने भी उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया.

सेक्सी बीएफ भाभी और देवर की

दीदी- यार तेरा प्रमोशन हो गया, तूने बताया भी नहीं… प्रमोशन की तो ग्रैंड पार्टी लगेगी बॉस. मेरी बीवी ये सब खिड़की में से देख रही थी, जैसे ही मेरा फ्रेंड गेट खोल कर अन्दर आया तो वो मेरी वाइफ को नंगी देखा और ‘सॉरी भाबी. उधर वो लड़का मेरी साली की पेंटी में हाथ डालकर उसकी चूत को सहलाने लगा और एक हाथ से उसके दूध मसल रहा था.

जैसे ही उसने दरवाजा खोला, मेरी जानम मेरे सामने थी, मैंने एकदम से उसको धक्का देते हुए दरवाजा बंद करके उसको अपनी बांहों में लिया. अगले एक मिनट में मैं थोड़ा पीछे हट गया जिससे मेरे और मेरे छोटे भाई के बीच में काफ़ी जगह बन गई. राजस्थानी औरतों का सेक्सीपहली बार शायद तुम्हें चुदते समय मजा भी न आये!रेहाना को समझा कर चलता किया तभी क्लाइंट्स आना शुरू हो गई।अगले दिन यानी 21 फरवरी, सुबह करीब 8:00 बजे रेहाना मेरे घर पर आ गई.

जब मुझे कुछ करने का मन होता था, तब मैं कभी कभार हस्त-मैथुन कर लेता था.

इसके बाद हम पीवीआर में गए, वहां हमने मूवी देखी, इसके बाद हमने एक होटल में रूम बुक किया और हम दोनों कमरे में पहुँच गए. पूजा बोली- अमित, अगर बदनामी का डर न होता तो तुमको भाभी को चोदने के लिए कभी न कहती.

जब उससे जोर से बोला तो उसने बताया कि मैंने आपके मम्मों को देखा था, जिससे यह खड़ा हो गया था. मैं ऑफिस में चुपचाप अपने काम में लग गई और किसी से कोई खास बात नहीं की. आपको मेरी फर्स्ट टाइम सेक्स कहानी कैसी लगी, आप अपने सुझाव मुझे इस ईमेल आईडी पर भेज सकते हैं.

रात को जब वो डिनर करके वापिस जाने लगा तो मैंने उसको बाहर तक छोड़ा और उसके इतना पास चिपकी सी रही कि अपने मम्मों की रगड़ भी उसको लगाती रही.

हमने एक दूसरे का मूत पीने का नेट पर पढ़ा था कि मूत पीने से कोई बीमारी या खतरा तो नहीं था. फिर जब हम दोनों का काम खत्म हो गया तो दोनों लड़कियाँ बोली- चलो अच्छा हुआ, एक बोतल और मिल गयी मूतने के लिये, अब जब हम लोगों को पेशाब लगेगी, तो एक दूसरे के मुंह में मूत लेंगी।लेकिन अभी मुझे पेशाब आयी है!” सोनी बोली. मैंने कहा- कोई बात नहीं भाभीजी, आपके छेद के दीदार तो हमने वैसे भी कर लिए.

सेक्सी ठोका ब्लूमुझे कल दिन भर चुदाई होने की वजह से बहुत हल्का हल्का महसूस हो रहा था. अन्दर वो लाल रंग की जालीदार ब्रा पहने थीं, जिसमें वो बहुत ही सेक्सी लग रही थीं.

बिहार का वीडियो बीएफ

मैं दोबारा मुठ्ठ नहीं मार सकता।मैंने उसे दीवार से लगा कर खड़ा कर दिया। शायद उसे भी मजा आ रहा था इसलिए ज्यादा विरोध नहीं कर रही थी। मैंने उसके दोनों हाथों को दीवार से लगा कर ऊपर करके पकड़ लिए. इस बात पर भैया बोले- अरे मनन, तुमसे कैसी शर्म, तुम तो हमारी काफी बातें जानते हो. मैं उनके होंठों को चूसने लगा, वो पीछे जा कर दीवार से सट गईं मैंने उन्हें जकड़ लिया.

मैंने उस पुलिस अधिकारी को फोन भी किया कि भाई तुम्हारा केस ख़त्म हो गया है. दस मिनट तक उसके हाथ को सहलाने के बाद मैंने धीरे से उसके गले को अपने होंठों से सहलाना शुरू किया और गाल पर किस किया. कुछ समय बाद वे तीनों तो अपनी बाईक पर बैठ कर चले गये और मेरे मन में मानो लन्ड की आग लगा गये… मेरा भी लंड खड़ा हो चुका था और अब मुझे किसी दमदार जिस्म और फाड़ू लन्ड की जरूरत थी, मैं चाहकर भी लन्ड को भूल नहीं पा रहा था.

उन्होंने भी मेरा साथ दिया औऱ अपने हाथों से अपना कुर्ता उतार कर मेरे हाथ की हथेलियों को अपने बोबों पर रख दिया जिन्हें मैं ब्रा के ऊपर से ही मसलने और दबाने लगा. लिफ्ट देकर चूत मिलीउस कहानी में आपने पढ़ा था कि रात में मैंने एक लड़की को लिफ्ट दी और मुझे चूत मिल गई. जैसे ही मेरा कोई हाथ उसकी पीठ सहलाते सहलाते उसकी दायीं या बायीं बगल की ओर बढ़ता तो प्रिया उत्तेजनावश मुझे अपने आलिंगन में और जोर से कस कर मेरे मुंह पर यहाँ-वहाँ चुम्बनों की बारिश कर देती.

कुछ 10-15 धक्कों के बाद वो झड़ गईं और उनके थोड़ी देर बाद मैंने एक जोरदार धक्का मारा और वो बेड पर गिर गईं. उनके बड़े बड़े चुचे और बहुत मोटी गांड हैएक दिन मम्मी को किसी काम से मामा के घर जाना था.

मैंने झट्ट से आँखें खोली तो पाया कि बैडरूम का दरवाज़ा भी बंद था और बैडरूम की ट्यूब-लाइट तो बंद थी ही अपितु फुट-लाइट भी बंद थी.

रीमा- पागल, खुल कर नहीं बोल सकता था? मैंने बोला था ना मैं खुले विचारों वाली लड़की हूँ. हिंदी सेक्सी वीडियो फुल सेक्सी हिंदीयही भाभी इस स्टोरी में महत्वमपूर्ण भूमिका है, वो आज भी मेरे इस लंड पर फिदा है. खेसारी की सेक्सी मूवीकई बार मयूर से कहते थे- यार अगर रचना की चूत दिला दो तो तुम्हारा तुरंत ही प्रमोशन कर दूँ. मैं विनय के लंड को उठा कर उसके नीचे देखने लगी और उसमे मुँह लगा कर सूँघने लगी.

अगर तुम चाहो तो मेरे एक दो दोस्त भी हैं जो तुम्हारी जवानी का मज़ा लूटना चाहते हैं.

मैंने कहा- कल हमने सारे शरीर के अंग देख लिए थे, अब किसी को कोई प्रश्न हो तो पूछे. हैलो मेरी प्यारी भाभी, आंटी… आपको राज़ा का प्यार भरा नमस्कार… कैसे हैं आप सब कुछ काम की वजह से मैं अपनी अगली कहानी लाने में लेट हो गया, जिसके लिये माफ़ी चाहता हूं. हम दोनों एक दूसरे के बदन की गरमी को भोगना चाह रहे थे लेकिन मौक़ा नहीं मिल रहा था.

फिर मैंने लंड निकाल कर आंटी की फुद्दी पर थूक लगाया और लंड रख कर ज़ोर लगाया, लंड पूरा अन्दर चला गया. आह चोद और सुन, आज का पूरा दिन और पूरी रात हम दोनों को नंगा ही रहना है. दीदी ने मुझे फिर से किस किया और वो ऐसा करते करते मेरे ऊपर की तरफ आ गईं.

बीएफ फिल्म बीएफ हिंदी में बीएफ

मेरी नजर उसकी जांघों के जोड़ पर यानि जहां बुर होती है, वहां थी, लेकिन अंजलि की बुर पैंटी से ढकी हुई थी. फिर कुछ देर के बाद मैंने मैंने खुद को थोड़ा सा नीचे को मोड़ा ताकि मेरी रानी के मम्मे मेरे मुंह के पास आ जाएं. मैंने फिर उसकी चुत को इतना अधिक चाटा कि थोड़े ही समय बाद उसकी चुत से सफ़ेद गाढ़ा और लसलसा और चिपचिपासा पानी बाहर आ गया.

मैंने माँ की चूचियों को कस कर दबाना शुरू किया, फिर माँ ने धीरे से आह्ह किया.

मैंने उसके साथ काफी देर फ़ोरप्ले किया और अब तो एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे.

मैंने उसकी कमर के नीचे तकिया लगाया और उसको अपनी बुर फैलाने को बोला. उसका रंग जरा सांवला था, पर क्या कटीली स्माइल थी उसकी, मैं तो देखता रह गया. मोटी औरत की सेक्सी कहानीफिर एक और जोर का झटका लगाया और पूरा लंड उसकी चुत में पूरा अन्दर तक पेल दिया मेरे आंड उसकी चुत के मुँह पर जम गए थे.

वो भी इतनी गरम हो गई थी कि जैसे ही मेरे होंठ उसकी चुत को चूमते, वो अकड़ जाती. मुझे पता था कि मॉम नीचे कुछ नहीं पहनती हैं, तो मैंने मॉम की मैक्सी धीरे धीरे ऊपर करना शुरू की और उनकी गांड से ऊपर तक उठा दी. उनकी नज़र मेरी तरफ चली गई और उन्होंने अपनी साड़ी झट से नीचे करके कहा- तू यहां क्या कर रहा है?तो मैंने बोल दिया- मुझे लगा आप कुछ काम कर रही हो तो मदद करने आ गया था.

अगले 15 सेकंड में वह किसी वार्ड में घुस जाता या फिर आगे बरामदे में लगी भीड़ में चला जाता… और उससे पहले मुझे उसे रोकना था. रीमा- महक तो अच्छी आ रही है, कोई परफ्यूम लगा रखी है क्या?मैं- नहीं, साबुन और पसीने की मिलावट होगी.

मैं नीचे अपनी चुत में आशीष का लंड लिए उसके आगे हाथ जोड़ कर गिड़गिड़ाने लगी.

माँ- तुम्हारी माँ की उम्र और साइज़ क्या है?मैं- 44 साल और 36डी-32-34 की साइज़ है. फिर उसने दूसरे झटके में पूरा लंड अन्दर कर दिया और अन्दर बाहर करने लगा. तो वो मुझे आँख मारते हुए बोलीं- तुम्हारे अंकल को ऐसी मूवी देखना पसंद ही नहीं हैं.

हीरोपंती की सेक्सी फिर मैं अपने काम में लग गया था और वह भी घर में साफ़ सफाई करने लग गई थी. मैं लड़कियों के फिगर के बारे में ज्यादा कुछ नहीं जानता तो मुझे नहीं पता उसकी फिगर क्या है, पर वो बहुत ही अच्छी दिखती है.

मैंने फिर अपने आपको प्रेशर डाल कर उसके मुँह में ही अपना माल झड़ाने लगा. मैंने अपना हाथ उसके हाथ के ऊपर रख कर उसको ट्रेनिंग देना लगा, तो कुछ ही देर में उसकी साँस तेज होने लगी. दीदी- चल इसी बहाने तू फिक्स स्टाफ तू हो गई स्कूल की… प्रमोशन का प्रमोशन मज़े के मज़े भी… मज़े से याद आया.

सेक्सी बीएफ 3

मेरी चुत तो भरपूर गीली थी, इस वजह से उनका लंड आसानी से मेरी चूत में अन्दर तक चला गया. तो प्रिया की मम्मी को साथ चलने के लिए फ़ोन लगाया गया और साली साहिबा भी फटाक से सुधा के साथ चलने को तैयार हो गयी. इस वक्त शराब का हल्का हल्का सुरूर चढ़ने लगा था और अब मुझे साली की नशीली आँखें थी लंड खड़ा करने पर मजबूर कर रही थीं.

हम दोनों धीरे धीरे एक दूसरे को पसंद करने लगे और धीरे धीरे पता ही नहीं चला कि कब हम दोनों को एक दूसरे से प्यार हो गया और हमारी रोमांटिक बातें कब फोन सेक्स चैट में बदल गईं. दीदी ब्लू रंग की ब्रा और ब्लू रंग की जी स्ट्रिंग पहने हुए अपनी गांड मटकाते हुए किचन में दाखिल हुईं.

मैं सिसकारी भी नहीं निकाल पाई क्योंकि चिंटू ने मुझे और मेरे होंठों को उनके होंठों से अलग ही नहीं होने दिया.

करीब 5 मिनट तक मैंने मिंकी की नाभि में जीभ डाल कर घुमाई, उसके बाद मैं उसकी चूत पर आ गया और एक हाथ से उसका बायाँ दूध दबाने लगा और सीधे हाथ की एक उंगली उसकी चूत में डाल कर उसकी चूत के दाने पर अपनी जीभ चलाने लगा।जैसे ही मैंने मिंकी की चूत के दाने पर अपनी जीभ लगाई, वैसे ही मिंकी एकदम ऐसे उछली जैसे उसे 1000 वॉट का करंट लगा हो और पलक झपकते ही उसने अपने दोनों हाथ से मेरा सर पकड़ा और अपनी चूत पर दबाने लगी. फिर मैंने उसकी जांघों की मालिश की और कूल्हों को छोड़कर सीधे पीठ पर चला गया, मैंने अब कंधों से मालिश करना शुरू किया. वो मेरालंड लॉलीपॉप की तरह चूस रही थींलंड लॉलीपॉप की तरह चूस रही थीं और मैं उनकी चूत का मादक रस निचोड़ रहा था.

हां ड्रॉइंग रूम में ड्राइवर तुम्हारा इंतज़ार कर रहा होगा तुम उसको जहाँ बोलोगी, वो वहीं छोड़ कर आएगा. उसने भी मुझे किस किया और कहा- तुम चाहो तो यही आनन्द तुम्हें रोज मिल सकता है. मां की चिल्लपों सुन कर रमेश अंकल के दूसरे दोस्त ने अपना लंड मेरी मां के खुले मुँह में डाल दिया.

मेरी वासना भारी यह हरकत नाज़ शीशे में देख रही थी और कामवासना से उसकी आंखें बड़ी होने लगी।फिर मैंने जूही की शर्ट ऊपर कर के उसकी चुची नंगी कर ली और मसलने लगा और लोवर में हाथ डाल कर चूत मसलने लगा.

बेंगोली बीएफ व्हिडीओ: आज मैं आपके सामने एक सच्ची घटना लेकर आया हूँ, यह कहानी ज्यादा पुरानी नहीं है, सिर्फ छह माह पहले की है. पानी का गिलास मुझे थमाते वक़्त प्रिया के होंठों पर वही ‘मोनालिसा मुस्कान’ देख कर मेरा मन तो कई बार मचला लेकिन क्या करता… वचन-बद्ध था.

दीदी ब्लू रंग की ब्रा और ब्लू रंग की जी स्ट्रिंग पहने हुए अपनी गांड मटकाते हुए किचन में दाखिल हुईं. मैं उसी के साथ चला गया, वहाँ गया तो देखा कि उसकी दो बुआ व उनके बच्चे आए हुए थे. चड्डी उतारते ही मेरा 5″ लंबा और 3″ मोटा लंड उसके होंठों को छूता हुआ उसकी नाक पर लगा.

लेकिन मेरी मां कोई कुंवारी लौंडिया तो थी नहीं, जल्दी ही उनकी चूत ने लंड से सैटिंग कर ली और मां को चुदाई में मजा आने लगा.

मैंने लंड उसकी गांड से निकाला और एक टांग हाथ में लेकर उसकी चुत में शॉट लगाने लगा. उनके हाथों को अपनी पीठ पर रखवा दिए और कहा- अगर थोड़ा भी दर्द हुआ, तो मुझे जोर से पकड़ लेना. बाहर निकलने पर भाईसाहब मुस्कुरा कर पूछने लगे- कैसा रहा पाठा का लंड.