बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी वीडियो खुल्लम खुल्ला

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्स एक्स बीएफ डॉट कॉम: बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में, आप प्लीज़ मुझे मेल करके भाभी की कहानी के बारे में बताना कि कैसी लगी.

जंगल में मंगल ब्लू फिल्म

मैं- अरे अंकल मैंने पी रखी है, कहीं गाड़ी कहीं लड़ गयी तो?अंकल- तुम उसकी चिंता मत करो और अपनी सीट से बाहर निकल कर इस तरफ आ जाओ. बीपी के साथऔर थोड़ी देर बाद तो पूरा का पूरा अंदर लेने लगी। अब उसके मुंह से आह जैसी आवाजें निकल रही थी।हम खुले में थे क्योंकि ऊपर रास्ता भी था तो मैंने उसके मुंह पर मुंह लगाकर उसकी आवाज को रोक लिया और आराम से धक्के लगाने लगा.

वो मेरे सामने इस समय काले रंग की ब्रा पैंटी में बहुत ही मस्त लग रही थी. मैं हूं दासी तेरी दासीक्या तुम सुहागरात के लिए तैयार हो?तो उसने कहा- जी सुहागरात नहीं सईंया जी, सुहागदिन कहिये.

मैं वहां से उठाकर उसको बेडरूम में ले गया, उसको वहां बेड पर लिटाया और वहां उसको 5 मिनट किस किया.बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में: मेरे लंड को वो अपने गले तक लेकर जा रही थी। मैं भी हैरान था कि मामी मेरे लंड को पूरा का पूरा जड़ तक चूस रही थी।करीब 7-8 मिनट की चुसाई के बाद मुझसे रहा न गया; मैंने मामी के सिर को पकड़ा और जोर जोर से लंड के धक्के देने लगा.

मुझे बड़ा मजा आ रहा था और मोनिका रजाई में मुँह छिपाकर आआआ… कर रही थी.उसकी चूत को पांच-सात मिनट तक चाटने के बाद जब उससे रहा न गया तो वो बोली- बस करो मैडी … आह्ह … मेरी जान निकलने वाली है, जल्दी से कुछ करो, मैं और बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं.

मोदी की सेक्सी - बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में

बुआ बोलीं- हां, पर हममें से किसी को तैरना भी नहीं आता … और यहां खुला भी है, तो हम यहां नहा भी नहीं सकते.अब तो मैं अक्सर ही सुनसान सड़क पर कार से जवान मर्दों की बाइक को ठोकती रहूंगी, बदले में फिर …आप तो जानते ही हैं … मेरी ठुकाई भी होती रहेगी.

वो कुछ ही देर में मेरी अम्मी को ताबड़तोड़ चोद रहा था और मेरी अपनी कुहनियों के बल रसोई की स्लैब से अपने आपको टिकाए हुए खड़ी थीं. बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में मैंने अपनी गांड चुदाई की शुरूआत कैसे की? चचा ने मेरी गांड कैसे मारी.

मेरी पत्नी मायके से वापिस लौट आयी थी, मैं अपनी बीवी की चुदाई में खुश था.

बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में?

मेरा बेटा अभी तक सो रहा था, तो मैंने उसको उठाना सही नहीं समझा और मैं उसके स्कूल के लिए निकल गई. फिर जब उसने देखा कि मैं अंदर नहीं आ रही हूं तो वो खुद काउंटर से बाहर आया और फिर मुझे मेरा हाथ पकड़ कर अंदर ले गया. जब मैं कभी उन आंटी के घर की तरफ गया, तो वो घर की खिड़की से मुझे देख कर मुस्कुरा देती थीं.

रात को मेरे साथ लेटे हुए वो मेरे पेट पर हाथ रखे हुए थी; कभी मेरी जांघ पर सहला देती थी तो कभी मेरी छाती पर।मैं जान गया था कि इसकी चूत में जरूर कुछ खुजली हो रही है. आज मैं आपके लिए मेरे साथ घटी घटना को सेक्स कहानी के रूप में सुना रहा हूं. कुछ देर बाद तनिष्क ने मुझे घोड़ी बना कर मेरी गांड में अपना लंड डाल कर चोदना शुरू कर दिया.

हम दोनों ने चुदाई का मजा कैसे लिया?कैसे हो दोस्तो! मेरा नाम संजय है और मैं बलरामपुर (यू. मैंने उसकी जालीदार पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को रगड़ना शुरू कर दिया. अभी मैं ये सब सोच ही रहा था कि मैडम के चीखने की आवाज़ आयी- उईईई ईईईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… मां मर गयी …सर- आहहहह अब लगा है निशाना … कितनी गर्म चूत है मैडम तुम्हारी आहह … लंड जल सा गया.

ये बात उन दिनों की है, जब मैं 19 साल का हो चुका था और 12वीं क्लास में आया था. अगली बार ब्रेक लगाने के साथ मैंने भाभी के कान के पास किस कर दिया और लगे हाथ उनकी गर्दन को भी चूम लिया.

वो मादक सिसकारियां भरने लगीं- आंह आऊं ऊहम … चूसो … जी भरके चूसो … अब ये तुम्हारे ही हैं.

जन्मदिन के बाद मेरी ननद ने कहा- भाभी, भैया तो विदेश चले गए हैं, भाभी आप यहीं कुछ दिन के लिए रुक जाओ.

मैं उत्तेजित होकर उसको अपनी चूत में और अन्दर तक उंगली करने के लिए बोल रही थी. मुझे नींद नहीं आ रहा थी और लंड पूरा तना हुआ था इसलिए मुझे मुठ मार कर काम चलाना पड़ा. उस लड़के ने कोमलप्रीत कौर का नाम लेते हुए कहा- मैं आपसे बात करना चाहता हूँ.

वो दोनों कहने लगे कि उसका फिर से एडमिशन बड़ा मुश्किल है, क्योंकि पुलिस केस हो गया है. उसने आगे बताया- वो दिन भर काम पर रहते हैं और रात को बोलते हैं कि मैं बहुत थका हूँ और सो जाते हैं. मैंने अपने लंड को धीरे से पीछे लेकर थोड़ा नीचे कर दिया और बुआ की चुत पर सटा दिया.

मुझे भाभी के फोन से प्रिया का नंबर मिल गया, पर नंबर लेकर क्या कर सकता था … मैं ये सोचने लगा.

वो थोड़ा चीखी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ जिसके कारण मैंने आगे कुछ नहीं किया, बस अपना लौड़ा उसकी चूत में रहने दिया. पर जहां तक मुझे पता था, आज तो कॉलेज में कोई प्रोग्राम और एग्जाम भी नहीं था. वो उसकी चूत पर हाथ ले गयी और पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को सहलाने लगी.

आखिर में मैंने पूरा पानी मैम की गांड में ही डाल दिया और हम दोनों मस्ती से सांसें नियंत्रित करने लगे. मम्मी- हां, मैं इन मां बेटे के रिश्तों में अंधी हो गयी थी और भूल गयी थी कि वो भी एक लड़का है और मां को अपने बेटे की इच्छा का ध्यान रखना चाहिए. मगर वो ज्यादा देर तक लड़की के द्वारा हो रही लंड चुसाई के सामने टिक नहीं पाया और उसने उस लड़की के सिर को अपने लंड पर दबा दिया.

मैंने उनके जाने के बाद अंदर से घर के दरवाजे को बंद कर लिया और फिर टीवी पर पोर्न फिल्म देखने लगा.

मैंने जब सैट-टॉप बॉक्स को देखा तो उसमें कोई स्मार्ट कार्ड ही नहीं लगा था. अब आगे:तो दोस्तो, फिर मैं माँ के कमरे में चला गया और पापा पूर्वी के पास चले गए।माँ के बारे में मन में सोच सोच के ही मेरा लंड खड़ा हो चुका था।जब मैं माँ के कमरे में गया तो वो सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में आँखें बंद करके लेटी हुई थी। माँ को पता नहीं था कि पापा की जगह मैं उनके बाजु में लेटा हुआ हूं.

बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में यह एक साल पहले की बात है, जब मैं अपने बड़े भैया के घर दिल्ली गया था. लेकिन मैंने वो नहीं लिया और उस लेडी को बांहों में भर कर खूब प्यार किया.

बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में मैंने किस करते करते अपना एक हाथ उनकी दायीं चूची पर रख दिया और हल्का हल्का सहलाने लगा. रात भर की चुदाई के बाद जब वो संतुष्ट हुई, तब हम दोनों चिपक कर सो गए.

वो अपनी सांसें संभाल कर बोली- बड़ी तेज तेज कर रहे थे, क्या खाया था ऐसा?मैंने भी धीरे से कान में बोला- अभी तो दूसरी बार करूंगा तब देखना।फिर मैं उसकी चूची को मसलता रहा और चूसता रहा.

गंगानगर सेक्सी वीडियो

कुछ बातें कहने की बजाय लिख कर दिल का बोझ हल्का कर लेना बेहतर विकल्प होता है. लेकिन मैंने सोचा हुआ था कि मैं अपनी शादी के बाद ही अपनी चूत को अपने पति से ही खूब चुदवाऊँगी और सेक्स का मजा लूंगी. अगली बार ब्रेक लगाने के साथ मैंने भाभी के कान के पास किस कर दिया और लगे हाथ उनकी गर्दन को भी चूम लिया.

मैंने कहा- लेकिन मैं यहाँ पटना में 3 दिन के लिए हूँ और मेरा घर वेस्ट बंगाल में है और वहाँ मैं अकेले रहता हूँ, सोच लो. मैं अपने कमरे में गया, तो कमरा बिल्कुल सुहागरात की तरह सजा था और दोनों बुआ दुल्हन की तरह लाल साड़ी में पलँग पर बैठी थी. अब वो एक औरत हो गई है तुम्हारे लन्ड से चुद चुद कर! मुझे भी अपनी रंडी बना लो.

सामने सपना के पापा बैठे थे, मुझे नहीं मालूम था कि वो सपना के पापा हैं.

मगर फिर भी हम किसी न किसी तरह से चुदाई की जगह और समय निकाल ही लेते थे. एक दिन जब मैं सुबह नीचे कुछ काम कर रहा था, तो मेरे मकान मालिक ने मुझसे बोला- तुम तो रिंकी के कॉलेज में ही पढ़ते हो ना?मैंने अनजान बनने का नाटक किया और बोला- मुझे तो नहीं पता अंकल कि रिंकी भी वहां पढ़ती है. भाभी ने एक जोर की हंसी निकालते हुए कहा- वाह देवर जी, बाबूलाल को मुझे दिखाओ.

मैंने उसकी पैंटी को भी उतार दिया और मैंने देखा कि उसकी चूत शेव की हुई थी और गीली हो गयी थी. मॉम की सुसु चाटने के बाद अंकल मॉम के पास बैठ गए और उन्हें किस करने लगे. मैंने सिर्फ हंस कर उनकी पढ़ाई करने की आदत को तारीफ़ की निगाहों से सराहा.

लगभग 5 मिनट तक ये चूसने चाटने के खेल खूब जबरदस्त चला और अब उसका लंड खड़ा हो गया था. मैं- अरे अंकल मैंने पी रखी है, कहीं गाड़ी कहीं लड़ गयी तो?अंकल- तुम उसकी चिंता मत करो और अपनी सीट से बाहर निकल कर इस तरफ आ जाओ.

रमेश ने बाबा से पानी मांगा और कहा कि हमारी गाड़ी खराब हो गयी है, मैं गाड़ी में पानी डालने जा रहा हूं. थोड़ी देर में मेरा लंड फिर से तैयार हो गया और अब मैंने मेरे दोस्त की बीबी को डागी स्टाइल में लिया और अपना लंड उसकी गांड पर सेट किया. झड़ने के बाद मैंने उनसे पूछा तो मैम बोलीं- मैं भी दो बार झड़ चुकी थी.

ननदोई जी ने अपना लंड दीदी की चूत से बाहर निकाल लिया और अपना वीर्य एक कपड़े पर छोड़ दिया.

मुझे कुछ अजीब सा लगा और मैं बिना किसी तरह की कोई आवाज़ किए, उधर ही कान लगाकर सुनने लगा. मैंने लंड बाहर निकाल कर उसके मम्मों पर अपना पानी डाल दिया और उसके बगल में लेट गया. मेरा लंड उसकी चुत में दो इंच ही घुसा था कि वो ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ चिल्लाने लगी.

इसी लालसा के कारण शादी में भी मैं अब चारू को किसी न किसी प्रकार से अपनी ओर आकर्षित करने की कोशिश कर रहा था. जैसे उसने वजन मेरे लंड पर डाला तो मेरा सुपारा उसकी बुर को चीरता हुआ अंदर घुस गया और वो एकदम से चीखने लगी.

तो मैंने लाये हुए दोनों चॉकलेट के पैकेट उसके हाथों में दिए और उसको गोद में उठाकर उसके कमरे में ले आया।बाहर जाकर उसकी मम्मी के कमरे का दरवाजा बाहर से बंद कर दिया और पीहू के रूम में आया। चॉकलेट के दोनों पैकेट पिघल गए थे।पीहू ने कहा- भइया, ये तो पिघल गए हैं. कुछ देर चुत चाटने के बाद मैंने उसको लेटाया और उसका गर्म सरिया जैसा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. वे दीवानी होती भी क्यों नहीं … इतना मस्त लौड़ा जो गांड में हलचल मना कर बाहर आया था.

स्कूल टीचर की सेक्सी चुदाई

मैं उसकी चूत चुदाई करना चाहता था पर रिश्तों में चुदाई में डर लगता है.

घर में अकेली होने के खयाल से मेरे लंड में उत्तेजना के झटके लग रहे थे. मेरा लंड रानी की चूत में घुस गया था और पिंकी की चूत मेरे ठीक सामने थी. हम दोनों चुदास से भरे हुए थे और जल्द से जल्द चुदाई कर लेना वास्तव में पागलों की तरह एक दूसरे को चूमना शुरू कर दिया.

मेरा लंड दर्द करने लगा था लेकिन उसकी चूसने की इच्छा पूरी नहीं हो रही थी. वो बोली- गांव आइयेगा तब पहचानियेगा न … शहर में रह कर आप लोगों को गाँव पसंद ही नहीं आती है. इंडियन सेक्सी झवाझवीअगर कोई कमी थी तो वो थी सिर्फ मेरी चूत की चुदाई की। मुझे मेरे पति अच्छे से नहीं चोद पाते थे, मेरी अन्तर्वासना अतृप्त रह जाती थी.

मैं मुस्कुरा दिया तो उन्होंने वो ढोकला वाला डब्बा खोल कर एक ढोकला का पीस निकाला और एक दूसरे के मुँह के पास लाकर आधा आधा दबाते हुए खाने लगे. मौसी ने मुझे छाती पर चूमा, मेरी चूचियों के निप्पलों को चूसा और फिर पेट पर चूमा.

हालांकि उसने बस मजाक में ही मेरी सिगरेट छीन ली थी और मैंने इसी बात पर इसकी पिटाई कर दी. एक दिन बुआ घर आई हुई थीं, तो उन्होंने पापा को बोला कि मयूर को बोल दो कि वो हमारे घर ही रह ले. जब हम किसी रिश्तेदार या जानकार के यहां जाते हैं तो इस तरह के ख्याल आना लाजमी है.

मेरे अंदर भी कुलबुलाहट थी जिससे मेरा लण्ड थोड़ा तन गया और गमछी में उभार आ गया. धीरे धीरे करके वो मेरे लंड पर बैठ गयी और मेरा लंड उसकी चूत में अंदर चला गया. लंड को अंदर डालकर मैं मौसी के ऊपर लेट गया और उसकी चूत में धक्के लगाने लगा.

इसने यह शर्त रखी थी कि कि तुम अपनी मामी और अपनी चुदाई की बातों का यकीन दिलाओ.

सुनीता ने फोन मिलाया और अपने पति को कहा- मैं आज इकरार के घर पर सो जाती हूं क्योंकि अकेले में मुझे डर लगता है. थोड़ी देर किस करने के बाद हमसे रहा नहीं गया और हम अपने कमरे के तरफ चल पड़े.

मैं उनको जगह जगह किस करने लगा और अपने हाथ पीछे ले जाकर उनकी ब्रा का हुक खोलने की कोशिश करने लगा लेकिन वो मुझसे खुल नहीं रहा था. कभी रानी की चूचियों को दबा रहा था तो कभी पिंकी की चूचियों को दबा रहा था. वो मुझे रोक रही थी और कहे जा रही थी कि जान बस करो … मुझसे जरा भी बर्दाश्त नहीं हो रहा है … मेरी जान मुझे शांत कर दो.

उन्होंने पूछा- तुम कितने बजे कॉलेज आती हो रोज?मैंने उन्हें अपने कॉलेज की टाइमिंग बताई तो वो कहने लगे- मेरा भी उसी वक्त अपने बैंक जाना होता है. फिर वो अंकल चले गये और मॉम दरवाजे को बंद करके अपने रूम में चली गयी. उनके चूचे टाइट हो गए थे और उनकी चूचियां ब्रा को फाड़कर बाहर आने को बेताब थीं.

बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में जब मैंने उससे ये पूछा, तो उसने बोला- अरे यार मैं घर पर बोर हो रही, तभी तो इधर आई हूं … और अब तुम भी जा रहे हो. बस इतना कह कर वो अपने घर चली गईं और मैं भी उनकी मटकती गांड को देखता रहा जो भाभी के चलने पर काफी दिलकश लग रही थी.

सेक्सी एचडी कॉलेज

मैंने उसे रोका और कहा- मेरी जान … ऐसी ही खा जाओगी क्या … रुको पहले … तुम्हारी गहराई का आनन्द तो ले लूं मैं!ये बोलकर मैंने उसे खड़ा किया. फिर उस रात हमने दो बार और जमकर चुदाई की और उसके बाद हमें जब भी मौका मिला … हम लोग चुदाई करते. होंठ रखते ही वो एक बहुत तेज सिसकारी लेकर मेरा सर पर हाथ रख कर दबाने लगी.

उसने मोबाईल वापस से नीचे रखा और कहा- ठीक है, मैं एक की जगह दो गोली दे देता हूं. शकील ने कहा- आज मैं आपकी कमर की मालिश ऐसे करूंगा कि सब जोड़ खुल जाएंगे. www xx vidéosx full2020मैंने बोला- भाभी मैं कॉलबॉय नहीं हूँ … वैसे कहिए आपकी क्या फरमाइश है?भाभी बोलीं- पहले खाना खा लो, मुझे भी खाना है.

मैंने पूछा- और वो शादी वाली बात?उसने कहा- कुछ नहीं, तेरी मां शादी में आई थी.

मैंने पहली गाड़ी के पास जाकर खिड़की के कांच पर खटखटाया, तो अन्दर बैठे आदमी ने कांच नीचे किया. रिश्तों में चुदाई की मेरी हिंदी सेक्स स्टोरी में आपको मजा आ रहा है? कमेंट करके बताएं कि आपको यह चुदाई कहानी कैसी लग रही है.

आप मम्मी-पापा को आप ये बोल देना कि मेरे दोस्तों ने उनके घर पर पार्टी प्लान की है, हमें वहाँ जाना पड़ेगा।तो दीदी मान गयी।शाम को हम पापा के पास गए और जैसा प्लान किया था, वैसा बोल दिया।पर पापा ने मना कर दिया। क्यूंकि वे अपने घर की लड़की को रात को कहीं बाहर जाने नहीं दे सकते थे।पर बाद में मैंने भी कहा- पापा, कुछ गलत नहीं होगा. तो चलिए आते हैं सीधा मेरी कहानी ‘ट्रक ड्राईवर की बीवी की चुदाई’ पर. इसके बाद मैंने उनके कपड़े उतारने शुरू किए और हम तीनों कुछ ही देर में नंगे हो गए.

रास्ते में मैंने बुआ से बोला कि मैं मेडिकल स्टोर से कंडोम ले आता हूं, जिससे कोई खतरा ना रहे.

इसके बाद चाचा जी ने अपने पेंट की जेब से एक सिगरेट निकाली और सुलगा आकर मजा लेने लगे. नीता की चुदाई का मौका मुझे नहीं मिल पाया।अगली सुबह मैं उठा तो नीता और शिल्पी पहले से ही जागी हुई थीं क्योंकि वो आज रात को आंटी के रूम में सोई थी।कल जब से नीता ने मेरा लंड चूसा था तब से ही मेरे अंदर चुदाई की तलब लगी हुई थी. तो मैंने बोला- ठीक है … आप दोनों जब सीखने के लिए इतना कर रही हो, तो मैं भी अपनी बुआओं के लिए इतना तो कर ही सकता हूँ.

कंडोम दिखाओफ़िर मैंने माही की गांड भी मारी,गांड मारने की कहानीमैं अगली बार लिखूँगा. मामी उसके तरफ जानबूझकर थोड़ा सा झुककर बैठी थी जिससे उनकी बड़ी बड़ी चूचियों की गहराई सागर की दिखे.

कुत्ता के सेक्सी फोटो

ऐसे ही बैठे हुए मैं आकांक्षा के बारे में सोच रहा था कि आकांक्षा रूम में आई और कहने लगी- फिर से कहां ग़ुम हो गए? प्रिया मैडम का सेक्स फिर ख्यालों में आने लगीं क्या?मैं- नहीं … अबकी बार ख्यालों में तू आई है … तेरा लाल सुर्ख चेहरा आंखों में घूम रहा है … मैं कोशिश कर रहा हूँ कि ये सब दिमाग से निकाल दूँ, पर निकल ही नहीं रहा. हमारी पहले ही बात हो गई थी यानि कि मैंने उसको बता दिया था कि मैं आ रहा हूं. आपको स्टूडेंट मॉम टीचर सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मेल करके जरूर बताएं.

हम दोनों आ गए और किराए पर रहने लगे।मैं घर की जरूरत का सामान ले आया और रुबीना बाजी को बोला- बाजी आज से मैं आपका शौहर हूं, कोई पूछे तो ये ही बताना. अपने लंड को चाची की चूत पर सेट करके मैंने एक जोरदार झटका मारा और चाची की चूत में मेरा लंड घुस गया. फिर एक दूसरी की फुद्दी को फुद्दी से रगड़ रगड़ कर चोदने लगी और चूची मसलने लगी.

बोलो क्या तुम मेरे साथ चलोगी?अवनीत मेरे साथ मेरे घर चलने को एकदम तैयार हो गयी. अब देखना उन सब को मजबूरी क्या होती है ये समझ आ जाएगा और नजमा बाजी की तो मोटी गांड से खून निकलना है।फिर वो बोली- छोड़ो, आओ मेरा भी मन है चुदाई का. मैंने उसकी पैंटी के उपर से अपनी उंगलियों से छेड़खानी शुरू कर दी और ऊपर से ही उसकी भगनासा को सहलाने लगा.

मैंने पूछा- और वो शादी वाली बात?उसने कहा- कुछ नहीं, तेरी मां शादी में आई थी. मैं समझ गया और आराम से धक्का मारा क्योंकि उसकी चूत बाजी से ज्यादा छोटी थी.

एक पल बाद मैंने उनकी पीठ के नीचे हाथ ले जाते हुए उनकी ब्रा का हुक खोल दिया और उनकी ब्रा को दोनों हाथों से निकाल दी.

मैं भी जोश में आकर और तेज़ तेज़ चोदने लगा।अब दोनों की सिसकारियां निकलने लगीं और हम चुदाई में खो गये. अन्तवासनामैंने मौके का फायदा उठाने की सोची और चाची के ब्लाउज का बटन खोल दिया. x वीडियो galaxy 2 aeoलेकिन उन्होंने सागर से बोला- अब झटके मरना शुरू करो।इतने दर्द के बाद भी मामी की उतेजना दर्द से ज़्यादा हावी थी. भाभी तेज सिसकारी ले रही थी- ओह्ह … उईई … स्स्स … आह्ह … जल्दी डाल ना … आग लगी है चूत में … आह्ह … बहुत प्यास है … चोद दे राजा।अब भाभी मुझसे रहम मांगने लगी तो मैंने एक जोरदार झटका मारा.

मैंने चिल्ला कर कहा- नहीं बेबी, वहां नहीं!लेकिन वह धीरे-धीरे ऐसे ही करता रहा, कभी जीभ से चाटता, बार-बार कभी उंगली कभी चाटना!इस वजह से मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

राजीव ने यीशा की टांगों के बीच आकर अपना लंड मेरी बीवी की चूत पर रखा और मेरी बीवी की चुत की फांकों में रगड़ने लगा. मैं अपनी जिन्दगी के इस दर्द को आप लोगों के साथ बड़ी ही हिम्मत के साथ बांट रहा हूं. मेरे शौहर ने पूछा- ये किस प्रकार की तलाशी है?उसने मुझे छोडा़ और घूम कर मेरे शौहर को थप्पड़ और मरा और कहा- बहनचोद मुझे सिखायेगा.

उसका एक पैर सीधा था और दूसरा पैर मुड़ा हुआ जिसे मैं टटोल रहा था।मेरा हाथ मेघा की निक्कर को ऊपर करते हुए उसकी चूत तक पहुंच गया था।मैंने तुरन्त उसकी टीशर्ट उतारी और उसकी ब्रा में कैद उसके छोटे छोटे संतरे मुझे दिखने लगे. उम्मीद है कि मेरी आपबीती आप लोगों को ज़रूर पसंद आएगी।कहानी आगे बढ़ाने से पहले मैं अपने बारे में बता देता हूं. दोस्तो, ट्यूशन के साथ-साथ वह मेरे से बहुत सी अश्लील हरकत करते भी थे और करवाया करते थे.

सील टूटा हुआ सेक्सी वीडियो

वो मेरे सामने इस समय काले रंग की ब्रा पैंटी में बहुत ही मस्त लग रही थी. बात एक या डेढ़ साल पहले की है मैं चंडीगढ़ में अकेला रहता था और किसी ना किसी को ढूंढता रहता था अकेलेपन से इतना ज्यादा दुखी हो गया था कि किसी ना किसी के साथ रहने के लिए हमेशा ललचाया रहता था. कुछ देर बाद मुझे कुछ आराम हुआ, तो सर ने अचानक से एकदम झटका देते हुए लंड को अन्दर ठेला.

तो मेरे प्यारे दोस्तो और भाभियो, रिश्तों में चुदाई की मेरी यह सच्ची सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल जरूर करना।[emailprotected].

मैंने आंटी की गांड में थूक से चिकनाहट दी और उंगली से उसकी गांड को सहलाया.

अब वैसे भी तुम्हारे भैया के किसी काम की नहीं मेरी चूत। मगर मेरी चूत में जलन बहुत हो रही है. एक बार तो मुझे घबराहट सी हुई लेकिन जब तक मैं लंड को वापस अपनी चेन के अंदर घुसाता तब तक वो लड़की चल कर मेरे पास आ गयी थी. ब्लू फिल्म बताएंमैंने अपनी जीभ को उसकी चुत के छेद में डाल दिया और एक हाथ से उसकी चुत के दाने को सहलाने लगा.

मेरा ये कुर्ता छोटा था लेकिन उसमें गला काफी खुला हुआ था, जिस वजह से सामने से मेरे मम्मों की क्लीवेज काफी खुली दिख रही थी. वो भी गांड मटका मटका कर लंड ले रही थी।अब मैंने उसे घोड़ी बनने को कहा. शायद ज़ोहरा सोफे पर पिछली रात की फ़रिश्ते के साथ हुई घमासान चुदाई के बारे में आंखें बंद करके सोच रही थी.

फिर सवा 9 महीने बाद मम्मी के दो लड़कियां हुईं, जो एक मेरी तरह और दूसरी पापा (प्रशांत) की तरह दिखती है. मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही दो उंगलियां उसकी चूत में डालने की कोशिश की, तो वो कराह उठी.

धीरे धीरे हम दोनों का नशा बढ़ता गया और उसका हाथ एक बार फिर से मेरे लंड पर चला गया.

आपको मेरी सेक्सी बहन की चूत मारी कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मेल करना न भूलें. तभी उसने मेरी तरफ देखा और मेरा हाथ जकड़ लिया।लाइब्रेरी में अक्सर कम ही लोग होते हैं जो होते हैं वो लोग बुक लेकर निकल जाते हैं। स्टडी रूम हमेशा खाली पड़ा होता है।अब उसकी तरफ से मुझे ग्रीन सिग्नल मिल चुका था। मैंने उसकी जांघ पर हाथ रखा तो वह कुछ नहीं बोली।धीरे धीरे सहलाने के बाद मैंने उसके गले में हाथ डाला और मेरी तरफ़ खींचा. मीनाक्षी के आने के बाद ही मेरी मम्मी नहाने के लिए बाथरूम में जाती थी।एक दिन मीनाक्षी मेरे कमरे की सफाई कर रही थी कि मैं जाग गया और मीनाक्षी को अपने कमरे में देख कर मैं एक झटके से बिस्तर के नीचे उतरकर खड़ा हो गया।मेरे इस तरह अचानक उठ खड़े होने से मीनाक्षी भाभी भी चौंक गई और मेरी ओर घूम कर मुझे देखने लगी.

भारत का सेक्स निशा भाभी- हां साले … क्यों दूध नहीं चूसना है क्या दोपहर जैसे?मैं- हां हां क्यों नहीं मेरी रंडी. मैंने देखा कि मैम ने अपनी साड़ी उतार दी थी और एक बड़ी हॉट सी बिना आस्तीन वाली मैक्सी पहन ली थी.

अब मैंने बिना टाइम खराब करे अपने दोनों हाथ उसकी सलवार के अन्दर डाल दिए. इस पर वो मुस्करा दी और थैंक्यू बोल कर मुझे डाइनिंग टेबल के पास आने को बोल कर किचन में चली गयी. कोई बीस धक्के के बाद उन्हें भी मजा आने लगा और वह मेरा साथ देने लगीं.

सेक्सी राजस्थान की चुदाई

उसके टाइट चूचे हवा में लहरा रहे थे और उन पर चेरी की तरह दिखते उसके निप्पल एकदम टाइट हो चुके थे. अभी मैं ये सब सोच ही रहा था कि मैडम के चीखने की आवाज़ आयी- उईईई ईईईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… मां मर गयी …सर- आहहहह अब लगा है निशाना … कितनी गर्म चूत है मैडम तुम्हारी आहह … लंड जल सा गया. आपको तो मालूम ही है कि हम लोगों में घर में रिश्तेदारों में निकाह हो जाता है और चुदाई चलती रहती है.

किचन में मामी काम कर रही थी और सागर उनके पूरे बदन को तड़ता हुआ उनसे बात कर रहा था।कुछ देर बाद मामी काम खत्म करके बोली- चलो टी वी देखते हैं।सागर मामी के साथ बाहर हाल में टीवी के सामने पड़े सोफे पर बैठ गया. मेरी दी की गद्देदार पावरोटी की तरह उसकी चुत एक मस्त छटा बिखेर रही थी.

उसकी चूत को पांच-सात मिनट तक चाटने के बाद जब उससे रहा न गया तो वो बोली- बस करो मैडी … आह्ह … मेरी जान निकलने वाली है, जल्दी से कुछ करो, मैं और बर्दाश्त नहीं कर पा रही हूं.

जैसे ही उन्होंने मुझे इस मादक अंदाज में खड़े देखा, वो तो बस मुझे एकटक देखते रह गए. अवनीत ने बताया है कि वो रोहित गुप्ता नाम के किसी लड़के से प्यार करती है और उसी से शादी करेगी. भाभी ने कहा- मेरा टीवी नहीं चल रहा है तुम ज़रा देखो … इसे ठीक कर दो.

इस बार मुझे बहुत दर्द हुआ, लेकिन उसने मेरा मुँह तकिए में घुसा दिया और मुझे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा. मैं रसोई में गया और दूध के तीन गिलास तैयार करके उनके अन्दर एक एक गोली डाल कर मिला दीं और कमरे में ले आया. अंकल मेरे निपल्स सहलाने लगे और साथ ही साथ मेरे गले पर भी क़िस करने लगे.

फिर मैंने पूरी ताकत लगाकर एक के बाद एक तीन चार झटके दे दिये और ठोक ठोककर उसकी गांड में लंड को उतार दिया.

बीएफ सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी में: मैं सोचने लगा कि काश मैं अंकल की जगह होता और मॉम की चुदाई कर रहा होता. मेरी नर्म जीभ भी मेघा को सिसकारियां निकालने पर मजबूर कर रही थी।वह लेट कर उम्म्म् … आआह्ह.

बहुत बार चुत चुदाई के बाद आखिर सेक्सी आंटी गांड मरवाने को भी राजी हो गईं. अन्तर्वासना पर सेक्स कहानी पढ़ते हुए मेरे मन में आया कि मैं भी अपनी कहानी साझा करूँ. मेरा मन करता था कि अमित जी मुझे अपनी बांहों में लेकर मेरे होंठों को चूम कर कहें- आई लव यू!मतलब मैं मन ही मन उनसे प्यार करने लगी थी.

अब उसने अपनी दोनों आंखों को बंद कर लिया और उसकी सांसों की गति अचानक बढ़ गई।हौसला पाकर मैंने लंड के दबाव को उसकी गांड की दरार के बीच में थोड़ा और जोर से धकेलना शुरू कर दिया.

तब तक मामी पीछे पलटी तो आगे से उनके चूचों की गहराई और उनके काले निप्पल उस पीले ब्लाउज में साफ दिख रहे थे. कुछ ही पल के बाद मेरी गांड में गर्म गर्म लावा की पिचकारी लगने लगी जो मुझे बहुत ही ज्यादा राहत दे रही थी. दुनिया के बारे में ज्यादा मत सोचो, कुछ महीनों के लिए अलग घर में जाओगे तो सब ठीक हो जायेगा।आखिरकार फिर दोनों ने अलग घर में रहने का निर्णय कर लिया।उनके इस निर्णय से मेरी तो जैसे लॉटरी ही लग गई.