हिंदी बीएफ पिक्चर देखना

छवि स्रोत,इंग्लिश नंगी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

आंध्रा सेक्सी शॉट: हिंदी बीएफ पिक्चर देखना, मैंक्या बोलूं, क्या हो रहा था, आज मैं अब जमीन पर तो नहीं थी, बस उड़ रही थी.

सेक्सी फिल्म ब्लू फिल्म सेक्सी

मैं उसकी कलित को होंठों में लेकर चूसने लगा तो उसकी कामुकता का कोई पारावार नहीं रहा और साथ ही वो मेरा लंड भी तेज़ी से चूसने लगी. देसी हिंदी एक्स एक्स एक्समैं- सर लंड को अन्दर से कैसे खुश करते हैं?बॉस- लंड को अपने अन्दर लेकर.

उसको मैं धक्के मार कर दूर करती पर वो इतना ताकत वाला था कि उसने मुझे एकदम से जकड़ लिया और मुझे चोदता रहा. xxx मराठी सेक्सयदि कोई भी ग़लती लगी हो तो उसे माफ़ करना और मुझे ईमेल में बताना कि मेरी प्यार की हिंदी चोदन स्टोरी कैसी लगी.

मैं- तो करो ना खुद… मुझे क्यों मजबूर करती हो ऐसा करने को!दीदी ने मुँह खोला और लंड की टोपी को लिप्स में भर के मुँह में लिया और हल्के से चूसने लगी.हिंदी बीएफ पिक्चर देखना: मैं अपने होंठों से उसके होंठ चूसने लगा, थोड़ी देर में उसका शरीर अकड़ने लगा, वह झड़ गयी और मैंने तौलिये से अपने हाथ और उसकी चूत को साफ़ किया.

इस बीच मैंने अपना हाथ ज़ोया की सलवार के अन्दर डाल दिया, उसकी चूत पानी छोड़ रही थी.लड़की के बारे में बता दूँ… वो दिखने में तो कुछ खास नहीं थी, बस ठीक ठाक थी.

राधिका का सेक्सी वीडियो - हिंदी बीएफ पिक्चर देखना

यह मेरी पहली हिंदी सेक्सी स्टोरी है, आपको यह कहानी कैसी लगी, अपने विचार मेरी मेल आईडी पर जरूर देना.वो 48 साल का आदमी पता नहीं कहां से गजब की शारीरिक ताकत का प्रदर्शन कर रहा था.

पापा एक मल्टी-नॅशनल कंपनी में काम करते हैं इसलिए वो घर पर ज़्यादा नहीं रह पाते थे. हिंदी बीएफ पिक्चर देखना मैं तो तुम्हारी परखना चाहती थी कि तुम मुझसे सच्चा प्यार करते हो या बस मुझे चोदना चाहते थे और तुम इस परीक्षा पास हो गए.

उन्होंने काफ़ी कोशिश की, पर वो नहीं जागे और नींद में ललिता को गाली देने लगे- जा चली जा मादरचोद… मुझे सोने दे… थोड़ी देर में आता हूँ, मेरे सिर में बहुत दर्द हो रहा है.

हिंदी बीएफ पिक्चर देखना?

लंड तो लंड ही होता है उसके पास सोचने समझने के लिए बुद्धि विवेक कहाँ होता है; लंड को तो किसी औरत के जिस्म की आंच महसूस हो तो वो तुरन्त ही लड़ने भिड़ने को, दंगा करने को तैयार हो जाता है; उसे तो नर मादा के बीच बनने वाले उस एक रिश्ते को ही निभाना आता है. मम्मी के नियम कड़क होने की वजह से सोनी घर में भी हम भाइयों से ज़्यादा बातें नहीं करती थी, बस कोई काम हो तो ठीक. उन्होंने मुझे हटाया और अपनी टाँगें फैला कर किसी भूखी कुतिया की तरह मुझे देखने लगीं.

आपने मेरी हिंदी सेक्स कहानी को इतना पसंद किया कि मैं अपनी अगली स्टोरी लिखने से खुद को रोक नहीं सकी. खैर मैंने भी ज्यादा नाटक करना ठीक नहीं समझा और मैं उनका साथ देने लगा. अगर आप मेरी कहानी पढ़ना चाहें तो मेरा ईमेल आईडी इस वेबसाइट पर टाइप करके पढ़ सकते हैं.

मैंने जाकर अपने कपड़े वहां रखे और दोनों कमरे और बाल्कनी सब कुछ देख लिया. दीदी- सन्नी, लंड चूसने के लिए तुमने सारे कपड़े क्यूँ उतार दिए?मैं- अरे दीदी जब मस्ती ही करनी है तो पूरी तरह करो ना!दीदी- नहीं सन्नी, मैं इस से आगे कुछ नहीं करूँगी. रात को मैं अपने कमरे में था, मुझे बाथरूम जाने की जरूरत लगी, मैं नीचे जाने लगा.

शाकिर मुस्कराते हुए मेरे पास आया, मेरे पैन्ट के बटन खोलने लगा, मेरे से बोला- भाई साहब तेरे पर मरते हैं, परसों तेरे को देखा तो बोले इसकी दिलवाओ तो मैं तेरे को ले आया. तो उसने मुझे इशारा किया कि मुझे भी सुनने हैं गाने!मैंने कहा- कैसे?तो उसने कहा- आप भी इधर आ जाओ!और मैं उसके बर्थ पर चला गया और हम दोनों एक एक इयर फोन से गाने सुनने लग गए.

वैसे चूत छोड़ कर जाने का मन तो नहीं कर रहा था, पर मरता क्या ना करता.

इसके बाद उसने अपनी सहेलियों से जाने की पर्मिशन ली और मेरे साथ चल दी.

फिर गुरप्रीत ने उनके पेटीकोट के नाड़े को खींच कर खोल दिया और उसे उतार दिया. गुड नाईट पापा जी!” बहूरानी मेरी तरफ करवट लेकर बोली और अपना एक पैर मेरे ऊपर रख लिया. बेशक मंजरी की चूत भी पूरी गीली थी और पुलकित का लंड ‘पिच पिच’ की आवाज़ करता हुआ अंदर बाहर आ जा रहा था, मगर फिर भी मंजरी को काफी दर्द हो रहा था.

आखिरकार मैंने अलमारी से संजय का फेवरेट ब्लैक ड्रेस निकाल कर पहन लिया. रीना अभी भी रो रही थी पर मैं नहीं रुका और चुदाई करता रहा और कुछ मिनट बाद हम दोनों झड़ गए. उन्होंने कहा- तुम एक अच्छे लड़के हो और मुझे भी तुम पसंद हो लेकिन इसका मतलब यह नहीं तुम ऐसी हरकत करो.

मैं वहां गया तो उन्होंने कहा कि यहां मुझे अच्छा नहीं लग रहा, कहीं कोई अच्छी जगह है, जहां कोई ना हो.

भाभी भी मेरा सर पकड़ कर अपने चूचे पर दबा रही थीं, लग रहा था कि जैसे वो मुझे इनको आज़ाद करने को बोल रही हों. और मेरे हल्का सा धकेलते ही ममता जी फिर से बिस्तर पर लुढक गयी। ममता जी के बिस्तर पर गीरते ही मैं उनकी चूचियों को छोड़ कर फिर से उनकी चुत पर आ गया. हमें डर था कि कहीं कोई आ न जाए तो मैंने उसकी जीन्स पूरी नहीं उतारी.

मेरी चुदाई बाकी थी, लेकिन इन लोगों ने मुझे बुरी तरह गर्म कर दिया था. इन सब बातों की वजह से उसके लिए अपने परिवार के सदस्यों के बीच चुदाई कोई नई बात नहीं थी. उसने अपनी उंगलियों से मेरी चूत को खोलते हुए अपना लंड डालना शुरू कर दिया.

दोस्तो कैसी लगी मेरी हिंदी पोर्न स्टोरी? अगर आपका भी किसी के साथ कोई नाजायज़ रिश्ता बन गया है, तो मुझे जरूर मेल करें.

कुछ देर के बाद चचा ने मेरी ब्रा को उतार दिया और मेरी बड़ी बड़ी चुचियों को अपने हाथों में लेकर दबाने लगे और मेरी चूची एकदम बड़ी बड़ी और गोल गोल हैं. बहूरानी, अब मैं झड़ने वाला हूं तुम्हारी चूत में!”झड़ जाइए पापा जी; मेरा तो दो बार हो भी चुका और तीसरी बार भी बस होने ही वाला है…”फिर मैंने आखिरी पंद्रह बीस धक्के और मारे, फिर बहू की पीठ पर झुक गया और मम्मे थाम लिये.

हिंदी बीएफ पिक्चर देखना यह घटना जब घटी थी, तब मेरी उम्र 19 साल थी यानि आज से 3 साल पहले की घटना है. फिर वो बोला- बेटी, अब मैं किसी को नहीं बोलूंगा, तू तो मेरी बेटी जैसी है, जा बेटी जा!मेरी चूत सूज गई थी, मैं कपड़े पहन जल्दी जल्दी घर जाने लगी.

हिंदी बीएफ पिक्चर देखना यहाँ तक कि लड़की घर से बाहर निकले तो परिवार का कोई ना कोई सदस्य साथ होना चाहिए. मैंने उसकी एक ना सुनते हुए और एक झटका लगाया तो मेरा पूरा का पूरा 7 इंच का लंड उसकी चुत के अन्दर घुसता चला गया.

वो तो मैंने पहले ही अपने हाथों से खोल रखी है पूरी… आ जाओ आप जल्दी से!” वो बेचैन स्वर में बोली.

सेक्सी पंजाबी सेक्सी मूवी

सिराज ने पूछा- क्या हुआ? लगे रहो उसके साथ!तो एक ने कहा- जनाब उसको तो दारु ज्यादा हो गई है, अब वो लुढ़क गयी घंटे तक! हमारा तो एक ही बार हुआ था, अभी मन भी नहीं भरा. मगर मैं अब कहां रुकने वाला था, मैंने अपने एक दोस्त को फोन किया जो दिल्ली में कमरा लेकर रहता था और उससे बोला कि मुझे एक दिन के लिए तेरा कमरा चाहिए. मैंने उनको 6 बजे मेट्रो से अपने घर के पास वाले मेट्रो स्टेशन पर बुला लिया और जल्दी जल्दी अपना पूरा कमरा ठीक करके कपड़े पहन कर उन लोगों को लेने के लिए चली गई.

मैंने उनको अपनी देह से दबाते हुए अपनी जीभ निकाल कर उनके चेहरे पर फिराना शुरू कर दी. लेकिन पिंकी तो सिर्फ मेरे बैंगन की दीवानी हो रही थी, पर उस वक्त उसने ओके कर दिया. फिर जाते समय मैंने आज छाया को अपना कार्ड दिया औऱ कहा- कुछ भी काम हो तो फोन करना.

अब श्री चूत चुदाई के लिए पूरी तैयार थी, मैं पहले से तेज़ धक्के लगाने लगा और अब वो भी स्मूच करने लगी.

अब तक मैंने अपने आप पे बहुत कंट्रोल किया था मगर यह फुल स्पीड चुदाई की वजह से मेरी अब चीखें निकलने लगी. मुझे एक बार को लगा था कि मामला फिट हो गया लेकिन अभी कुछ और भी हो सकता था. उन दोनों में से एक तो रीना की छोटी बहन कविता थी और एक उसकी मामी की लड़की जिसका नाम रेनू था.

जब भी मैं उसकी सलवार के ऊपर से उसकी बुर को सहलाता था और उंगली घुसेड़ने की कोशिश करता था, वो कसमसा कर रह जाती थी. उसके आने से मेरी नींद खुल गई और मैं बिना टीशर्ट के ही कोमल के सामने चला गया. मैंने हाथ से दीदी की सलवार के नाड़े को पकड़ा और खींच दिया, सलवार खुल गई, मैंने दीदी की तरफ देखा तो उनके होश उड़ गये थे, मैंने एक हाथ से सलवार को उतारना शुरू कर दिया और खुद सोफे पर दीदी के साथ थोड़ी से जगह में लेट गया.

फिर मैंने आहिस्ता से अपनी मध्यमा उंगली प्रिया की योनि की भगनासा सहलाई और अपनी उंगली जरा सी नीचे ले जा कर दरार के ज़रा सी अंदर घुसायी; तत्काल प्रिया के मुख से आनन्दमयी कराहटों के साथ सी… ई… ई. अपनी फ्री सेक्स स्टोरी के बारे में बताने से पहले मैं अपने और अपने परिवार के बारे में बताना चाहूँगा.

मेरे पीछे संजय के आने की आहट हुई, मैं पीछे मुड़ कर देखती, इससे पहले ही संजय ने पीछे से मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मेरी गरदन को चूमने लगा. मेरी सेक्स कहानी के पहले भागमेरी रशियन बीवी दो लंडों से खेली-1में आपने पढ़ा कि कैसे मेरी रूसी गोरी नाजुक सी बीवी एक गोरे और एक काले लंड के साथ खेल रही है. एक 18 साल के गर्म लौंडे के सामने पूरी नंगी हो चुकी थी।वो- चाची जी आपने हाथों.

एक शनिवार की दोपहर मैंने कहा- वरुण बेटे, यहां आज कितनी गर्मी है, सोचती हूँ कि नहा लूँ.

ये सुन कर मीना खूब हंसने लगीं और बोली- अरे इस ब्यूटीपार्लर में 3 घंटा फँसी रही और ऊपर से मुफ़्त में ये सरदर्द मिला. तभी मैंने एक करारा शाट मारा और चुत की मुलायम दीवार भेदता हुआ मेरा आधा लंड चूत के लाल किले में समा गया. अब मेरा बहुत बुरा हाल हो गया तो मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और अपना लम्बा लंड उनके मुँह के सामने ले आया, जिसे देखकर पायल भाभी ने अपनी आँखें बंद कर लीं, पर मैं कहाँ रुकने वाला था.

तो मैंने उनसे पूछा- आपको मुझसे क्या काम था?उन्होंने कहा- अरे काम कुछ नहीं था. उन्होंने बोला- जान तुमने मुझे आज वो सुख दिया, जिसकी मुझे ज़रूरत थी.

मैं उससे पूछती- वर्षा, तुम मुझसे नाराज तो नहीं हो ना इस बुखार के लिए?वो बोली- नहीं दीदी, मैं तो खुश हूँ. मैं अपने कमरे में कपड़े चेंज करने चली गई। मैंने पहले अपनी कमीज़ उतारी. मैंने चाची को हटाने की कोशिश की ताकि चाची को लगे कि मैं ऐसा नहीं हूँ.

12 साल लड़की की सेक्सी फोटो

इसके बाद अगले दिन उसके मम्मी पापा चले गए और हम उसी होटल में रुक गए ताकि दूसरे दिन उसका प्रोजेक्ट पूरा हो जाए.

मैंने कहा- फिर आप भी चलो हमारे साथ!तो उन्होंने कहा- बेटा, बहाने मत बना, जा जल्दी!तो मुझे जाना पड़ा. इस बीच जोया ने मेरा लंड चूसना बन्द कर दिया क्योंकि अब वह पूरी तरह से खड़ा हो गया था और उसका रस निकलना भी अब बन्द हो गया था. कुदरत ने क़ातिल को तमाम हथियारों से नवाज़ दिया था और किसी ना किसी पर कयामत बरपा हो के रहनी ही थी.

हट पहले मुझे लंड मुँह में लेने दे?”मम्मी ने तुरंत ब्रायन का लम्बा मोटा लंड अपने मुँह में ले लिया. सुरेश अंकल एक और जोर का झटका दिया, अब पूरा एक हाथ का लंड मेरी चूत में समा गया और मैं लिपट गई उनसे दर्द के मारे!तभी राजेंद्र अंकल ने मेरी गांड में पीछे होल में थूक लगाया और अपना लंड एक झटके में पूरा घुसा दिया मैं और जोर जोर से रो रही थी. सेक्स वीडियो फुल सेक्सीसेक्स की उत्तेजना, वासना जितनी लड़कों में होती है, उससे ज्यादा लड़कियों में होती है.

और सो गई। मैंने अपनी पीठ रवि की तरफ की हुई थी।थोड़ी ही देर बाद रवि ने मुझे पीछे से कस कर चिपका लिया। मैं एकदम शॉक सी हो गई. गांव में मैं अवी से ज्यादा से ज्यादा 4-5 मिनट ही बात करती थी ताकि किसी को पता ना चले.

उसके बाद बहुत प्यार से उसको फँसाना, तब आएगी दिव्या रानी हमारे लंड के नीचे. थोड़ी देर बाद कमल मुझसे दूर हट गया, पर मेरा मन तो आज कुछ और करने को था. मैंने अपना नाम शालू बताया तो उसने रूम से बात की और मुझसे कहा कि वो आपका ही इंतजार कर रहे हैं.

मैंने अंकल के बारे में जानने की कोशिश की तो मालूम हुआ कि अंकल, उनके एक दूसरे मकान में रहने चले जाते हैं. मेरे मूड थोड़ा ख़राब हो गया, फिर मैंने सोचा कि पहला चान्स आया है, क्यों छोड़ूँ, मैंने कहा- कोई बात नहीं जी, हमसे मालिश तो करवाइये!उसने तरस खा के पूछा- आखिर तुम्हें चाहिए क्या?तुम्हें चोदना…”यह सुन कर तो उसकी आँखें खुली की खुली है रह गई. तो मैं आपके सामने अपने जीवन की प्रथम अद्भुत् सेक्स अनुभव प्रस्तुत कर रहा हूँ.

चाची मुझसे बोलीं- तुम्हारी भी शर्ट और पेंट खराब हो जाएगी, तुम भी उतार दो.

फिर हम दोनों वहां खूब खेले और फिर हम शाम को बाहर से डिनर कर के होटल रूम में आ गए. इस तरह चुदते हुए थोड़ी देर बाद वो झड़ने लगीं और जोर-जोर से अपने चूतड़ों को मेरे लंड पे हिलाते हुए वो शांत हो गईं.

उधर फोन पर शहजाद- नसीम, तुम अपने हिसाब से देख लो और संजय का ख्याल रखना. संजय मेरी गरदन को दोनों तरफ से बेतहाशा चाट रहा था, जिससे संजय की लार से मेरी गरदन पूरी गीली और लाल हो चुकी थी. मैंने उन्हें बेड पर चित किया और उनके मम्मों पर फिर से टूट पड़ा, जिससे मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.

मैंने हल्की सी जबरदस्ती की तो ममता जी ने अपने हाथों को भी चुत पर से हटा लिया और अब ममता‌ जी की‌ नंगी चुत मेरे सामने थी. दीदी पर वो भयानक दर्द, इस चूत की तड़प से लाख गुना अच्छा है, मेरी वो जानलेवा चूत की तड़प तो चली गई. मैंने मौके का फ़ायदा उठाते हुए थोड़ा सा ज़ोर लगा कर सुपारा अन्दर किया तो भाभी छटपटा गई और कहने लगी- आराम से पेल भैनचोद.

हिंदी बीएफ पिक्चर देखना मैं बोला- दीदी, मैंने कभी किस नहीं किया, मुझे नहीं पता कि किस कैसे करते हैं. पुलकित मंजरी को रेस्तराँ में ले जाता, खूब खिलाता पिलाता, मंजरी बहुत खुश थी क्योंकि वो खाने पीने की शौकीन थी.

साली की सेक्सी चूत

भाभी बोलीं- अच्छा तो बताओ क्या अच्छा है मुझमें?मैंने कहा- आप में बहुत कुछ है. जैसे ही नाभि को चूमते हुए नाभि के अंदर अपनी जीभ डाल दी, मेरे मुंह से सिसकारी निकल गई. कुछ देर बाद जब माया सारा रस पी चुकी थी, वो उठी और अंकित के ऊपर आ गई.

मैंने थोड़ी हिम्मत की और हाथ उनकी गर्दन से थोड़ा नीचे की ओर सरका कर उनकी चुचियों को छूने की कोशिश करने लगा. मैंने उसके हाथों को हटा के सीधा उसके निप्पल को अपने मुँह में लिया और पागलों की तरह चूसने लगा. नंगी फिल्म दिखाओ हिंदी मेंआते वक्त मैंने एक मोबाइल लिया जिसमें सीक्रेट तरीके से फ़ोन रिकॉर्ड हो सके और किसी को पता न चले.

तभी भैया का फोन आया कि उन्हें आज रात की ट्रेन में हैदराबाद जाना पड़ेगा और 4-5 दिन वहाँ रहना पड़ेगा.

मैं उनकी चूत को सहलाने लगा और थोड़ी देर में ही वो ऐंठ सी गईं और झड़ गईं. सुबह कॉलेज की ओर निकलते टाइम मैंने उससे कहा कि सोनी मैं आज 2 बजे तुझे कॉलेज से लेने आऊंगा, अगर तू नहीं आई तो सबके सामने से आकर तुझे ले जाऊंगा.

आह… इस वक्त चाची क्या मस्त माल लग रही थीं; उनका भीगा बदन एकदम मस्त दिख रहा था; उनके चूचे ब्लाउज में से साफ तने हुए नजर आ रहे थे. आप बोलिये? मैं बुरा नहीं मानूँगी, लेकिन जो भी बोलना है जल्दी बोलिए. मैंने उसको मेरे इस धक्के के बारे में बताया नहीं था वरना वो पहले ही डर जाती और उसको ज्यादा दर्द होता.

वीडियो में वो और अकीरा दोनों ही पसीने से लथपथ हो चुके थे, वो थक कर बैठ गया और हल्का पेग बनाया, उसका लन्ड अभी भी अकीरा की चूत में ही था.

इसी के साथ उसका छोटा सा मुंह भी अब अधिक खुलना शुरू हो गया, जिसके फलस्वरूप जमैका अपने काले सर्प को उसके गले तक अन्दर घुसेड़ना चालू हो गया था. किसी भी पल उसके अन्दर की आग बाहर आने को बेताब थी और महेश बस चूत को कुरेदे जा रहा था. एक क्षण में मेरे लिंग में ज़बरदस्त तनाव आ गया और मुझे लगा कि प्रिया ने मेरी पीठ पर एक जोर से चिकोटी भी काटी थी शायद!अलग होते वक़्त प्रिया ने कपड़ों के ऊपर से ही अपने बाएं हाथ से मेरे लिंग को भी टटोला.

ब्लू फिल्म हिंदी मेंथोड़ी ही देर में भाभी ने आवाज़ लगाई और कहा कि मैं सोनू को बेडरूम में ही सुला दूँ. उनमें से दो ने मेरी भी मारी है और एक जो चिकना सा था, उसकी शकूर भाई ने ही मुझे दिलवाई थी.

डॉगी और औरत की सेक्सी

मैंने संजय की तरफ देखकर मना करना चाहा, पर मैं कुछ कहती उससे पहले संजय ने मेरे होंठों को अपने होंठों में भर के लिपलॉक कर लिया और अपनी उंगलियों से मेरी पेन्टी के ऊपर से सहलाने लगा. पहले तो कहानी प्यार और मोहब्बत से शुरू हुई और धीरे धीरे 4-5 हफ्तों में चूमा चाटी का सिलसिला शुरू हो गया. मैं रुका तो वो मेरे पास आई और बोली- मुझे कॉलेज साथ ले चलो, मौसम भी ख़राब है और बस का पता नहीं कब तक आएगी.

फिर उस रात हमने खूब मस्ती की पर चूत चुदाई नहीं की, मैंने उसकी चूत चाट चाट कर उसे एक बार स्खलित करवा दिया. मैदान साफ देख मैंने रीना को बेड पर पीठ के बल लिटाकर उसकी चुत पर सवार हो एकदम से मस्त चुदाई करने लगा. बहुत मोटा है इस नीग्रो हब्शी का… अपनी मासूम बच्ची को बचा ले राधिका.

तो फिर मैंने अपने आपको संभाला और बाहर आ गया।उसने ऑमलेट और परांठे बनाए और बेडरूम में लेकर आ गई. मगर एक दिल तो ये भी कह रहा था- पांच जने चोदने वाले है तो जिंदगी बन गयी यार! अपने आप मेरे मुँह से सिसकारियां निकलने लगी. मैंने तुरन्त सुकुमारी भौजी के मुँह तरफ अपना तना हुआ लंड किया और उनकी चूत पर अपना मुँह रखा.

फिर उसके बाद तो मेरी हालत ऐसी हो गई कि मैं आप सबको क्या बताऊं आप लोग को भी पता होगा, अगर अपने किसी से सच्चा प्यार किया होगा तो आप मेरी स्थिति समझ सकते हैं. क्योंकि बाल गीले होने के कारण उनकी नाईटी हल्की भीग सी गई थी और शरीर से चिपक गई थी.

इधर मैं अपने आवेश में आ चुका था, मैंने फटाक से सुकुमारी भौजी की चोली खोल कर उनके दोनों मम्मों को सहलाने लगा, कभी जीभ से चाटता तो कभी मुँह पिचका कर उन निप्पलों को चूस लेता था.

साथ ही उन्होंने मुझसे बात करते हुए पहले वाली चुची को ब्लाउज के अन्दर कर लिया. चुदाई वाला सेक्स वीडियोशादी के दो दिन के फंक्शन में हमारी मुलाकात की शुरूआत बहुत ही ख़राब हुई, जो भड़काऊ और झगड़ने जैसी थी. देहाती सैक्सपर जैसे ही दूसरा सोफा उठाने के लिए झुकीं तब उन्होंने पल्लू कमर पर बाँध लिया था, वह खुल गया. मैंने कहा- नमस्ते छाया जी, बोलिए कैसे याद किया?छाया बोली- आज मिलना चाहती हूँ.

मैं तो खुशी के मारे पागल सा हो गया और जोश में आकर उनके मम्मों को छोड़ कर, उनको दोनों हाथों से पकड़ कर घुमा के अपने सीने से लगा दिया.

उनके लंड ने मेरी चूत की गुफा को पूरा खोल दिया था और मेरी चूत ने लंड को पूरा जकड़ा हुआ था. मैं अपने हाथ नीचे की तरफ बढ़ाता रहा और उनका पेटीकोट भी नीचे सरकता रहा. या अदिति बेटा… यू आर आल्सो ए रियल जेम… सच ए नाईस टाइट कंट यू हैव इन बिटवीन योर थाइस!” मैं भी मस्ती में था.

फिर हम दोनों ने एक दूसरे के गुप्त अंगों को साफ किया और कपड़े पहन लिए. लंड बड़ा होने के कारण मानवी भाभी से ठीक से सांस भी नहीं ली जा रही थी और उसकी आँखों से पानी निकलने लगा. उसकी पाव की तरह फूली चुत के चिकने होंठ किशमिश की तरह रसीले लग रहे थे.

सेक्सी वीडियो सुहागरात न्यू

अब शाकिर ने खुद ही शीशी का ढक्कन खोला, फिर उंगलियों में लेकर अपनी गांड में लगा कर दोनों उंगलियां डाल लीं. कुछ देर लोवर के ऊपर से लंड को छूने के बाद मैंने अपन लोवर भी नीचे उतार दिया और अब हम दोनों पूरी तरह से नंगे हो चुके थे. चलो फिलहाल इस बार मैंने अमित को मना कर दिया और कह दिया कि जब ऐसा होने की सम्भावना होगी तो बता दूंगी.

उन्होंने गांड फाड़ कर रख दी, मेरा मुँह बंद कर लिया था इसलिये चिल्ला नहीं पाया था.

मैं- तो करें शुरू?वह नाटक करते हुए- क्या शुरू करना है?मैं- कुछ नहीं… लेट जा इधर ही!वह- सोने के लिए लाए हो या कुछ करने के लिए?तभी मैंने उसके कंधों पर हाथ रखा और उसने अपनी आँखें बंद कर ली और तभी मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए.

ये सुनकर मेरे दिल को बड़ी तसल्ली हुई क्योंकि इसी लिए तो मैंने ये सब प्लान किया था. जोया सारा पानी पी गई और उसका लंड भी अच्छी तरह से चाट कर साफ कर दिया. সানিলিওনেরসেক্সভিডিও সেক্সিयह सुन कर मैंने पैंटी और ब्रा भी निकाल दी और जो नई थी उस पैंटी को पहन लिया.

मेरी बदनामी हो जाएगी।संजना ने कहा- ऐसा कुछ नहीं होगा।फिर संजना ने कहा- अगर तुम तैयार हो तो मैं आगे कुछ बात करूँ?मैंने थोड़ा सोचा और फिर उसे हाँ बोल दी, मैंने उसे कहा- पर हम काल बॉय को बुलाएंगे कहाँ?संजना ने कहा- तू उसकी टेंशन मत ले।अब संजना ने अपनी एक दूसरी सहेली को फ़ोन किया और उससे पूछा कि उसके पास कोई कॉल बॉय का नंबर है क्या. डॉक्टर ने कुछ टेस्ट करवाए थे और रिपोर्ट देखने के बाद बताया है कि वाइरल फीवर है. पापा अपना लंड पकड़ कर मेरे चूत में फिट करने लगे, मुझसे बोले- आरती मेरी जान, मैं तुमको चोदना चाहता हूं!मैं बोली- प्लीज चोद दो मुझे, अपना लंड मस्त डाल दो मेरी चूत में!पापा बोले- सच बता, आज तक किसी से चुदवाई हो?मैंने बोला- हां पापा, मैंने आज से पहले कई बार चुदवाया है, पर आज से आपसे चुदाई कराऊंगी और जिससे आप बोलोगे, उनसे चुदवाऊंगी.

इस दौरान मुझे मालूम हो गया था कि मेरी बुआ की बेटी, मेरी बहन अंजलि बहुत बड़ी चुदक्कड़ थी, वो मेरे लंड पर बैठ कर ऐसे कूदती थी जैसे घुड़सवारी कर रही हो!इतनी बड़ी चुदक्कड़ होने के बावजूद कुतिया ने मेरा लंड नहीं चूसा मेरे बार बार जोर देने के बावजूद भी लेकिन साली अपनी चूत बड़ा मजा ले ले के चटवाती थी. उसके अगले कुछ मिनट बाद मेरा लंड भी पिचकारी छोड़ बैठा… पूरी धार भाभी के मुँह में छूट गई.

कुछ देर बाद उसने पूछा- लग तो नहीं रही?दो तीन धक्के के बाद लंड डाले रूक हुआ था.

ठीक इसके बाद मैं नीचे बैठ कर कल्याणी की चुत को चाटने लगा और दाने को दाँत से खींच कर हौले से काटता भी जा रहा था. ”मैं- क्या आप दिखा सकती हैं?तब उन्होंने काले रंग का नाइट ड्रेस पहना हुआ था. आप सभी के उत्तर देने का भरसक प्रयास करता हूँ पर खेद है कि मैं सभी के उत्तर नहीं दे सका.

सनी लियॉन का बफ अब रोहण ने मेरी ब्रा पैंटी भी निकाल दी और मेरे बूब्स को चूसने लगे, फिर उन्होंने मेरी चूत चाटी में तो झड़ गई. मैंने कहा- इस वक्त?उन्होंने कहा- देखो बंटी राजा, हम गाड़ी गाड़ी खेलते हैं.

जैसे ही मैं सही से खड़ी हुई कि अमित तेजी के साथ ऊपर बढ़ा और उसका थोड़ा सा लंड मेरी गांड में घुस गया. हम लोगों ने खाना खाया और इसके बाद अपनी पुरानी ट्रेन की चुदाई की बातें करने लगे. थोड़ी मेरे बड़े ताऊ ने उस लड़के के माता पिता को बुलाया और उनसे बात करने लगे.

गुड्डा गुड्डी वाली सेक्सी वीडियो

वो अपनी चूत पर थप्पड़ मारती और गालियां देती, भगवान को कोसती कि मुझे जवान बना कर क्यों तड़पा रहा है. मैंने तुरन्त सुकुमारी भौजी के मुँह तरफ अपना तना हुआ लंड किया और उनकी चूत पर अपना मुँह रखा. वो अपनी टांगें मेरी कमर के गिर्द फंसा कर मेरी गोद में बैठ गई और चुत फंसा कर मस्ती से मेरे लंड पर हिलाने लगी.

मैंने उससे पूछा- आप कौन और मेरी बीवी कहां है?वो बोली- वो अन्दर नहाने गई हैं. मैंने सोचा इस बार बोल देता हूँ और हिम्मत करके कुछ करने की सोच ही रहा था कि फ़रवरी महीना स्टार्ट हो गया.

मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ और मैं उनके ऊपर लगभग कूद ही पड़ा और दोनों हाथों से उनकी बड़ी बड़ी चुची पकड़ कर दबाने लगा.

क्योंकि वो कामुक सिसकारियाँ लेने लगी थी।मैंने अपनी उंगली गोल गोल घुमानी शुरू कर दी और अब तो वो मचलने लगी और जोर जोर से आवाजें निकाल कर कह रही थी- और जोर से करो. ”ये कहते हुए मैंने एक किशमिश को अपने होंठों में दबा लिया और उसके मुँह के ऊपर झुक गया. ओके।मैंने देखा उसका लण्ड पैन्ट में खड़ा हुआ था।उसने बड़ी मासूमियत से कहा- चाची शादी तो बाद में होगी.

उसका कद भी पांच फीट चार इंच तो होगा ही, उसकी फिगर 34-28-34 का था और उसका रंग एकदम दूध जैसा सफेद था. मैंने उनको उकसाते हुए कहा- देख क्या रहे हो सालो? आ जाओ और चोदो मुझे दोनों साइड से! और लंड है तो ले आओ… आज सब के सब ले लूंगी!तुरंत एक बंदा नीचे लेटा और उसने मुझे अपने ऊपर खींच कर अपना लंड मेरी चुत में घुसा दिया और दूसरे ने पीछे से अपना लंड मेरी गांड में ठोक दिया। मेरे मुँह से किलकारी निकल गयी. तभी उन्होंने मुझसे पूछा कि मैं जब कपड़े धो रही थी, तब तुम क्या देख रहे थे?मैंने कहा- कुछ नहीं.

चाचा कुछ देर रुक गए और उसके बाद वो मुझे धीरे धीरे चोदने लगे, मेरा दर्द थोड़ा कम हुआ था तो चाचा मुझे थोड़ा तेज तेज चोदने लगे और जोर के धक्के मेरी चूत में मार मार कर जल्दी जल्दी चोद रहे थे और मैं सिसकारियाँ ले रही थी.

हिंदी बीएफ पिक्चर देखना: जैसा कि मैंने बताया उस टाइम सोनी अपने बीएससी लास्ट ईयर में थी, वो भी अपनी पढ़ाई पे खूब ध्यान देती थी. वो बोली- मैं भी तुम्हे पसंद करती हूँ समीर… प्यार तो मैं भी तुमसे करती थी, पर मेरा भी तुम जैसा हाल था, मैं तुमसे बोल न सकी.

भाभी मेरे पास आईं और मुस्कुराते हुए पूछा- ऐसे क्या देख रहे हो?मैंने झेंपते हुए कहा- कुछ नहीं. तो उन्होंने कहा कि मेरे हाथ में दर्द बहुत है, मैं कपड़े नहीं पहन पाऊँगी, मैं तौलिया लपेट लेती हूँ. मेरे पड़ोस में एक भाभी रहती हैं, उनका नाम पायल है और उनका फिगर 36-30-38 है.

मैंने उन्हें करीब दस मिनट तक लगातार किस किया, उसमें मुझे काफी मजा आया.

मैं एक बार में ही अपना सुपारा डालना चाहता था और ये जानता था कि इससे इसे बहुत दर्द होगा. लेकिन पिंकी तो सिर्फ मेरे बैंगन की दीवानी हो रही थी, पर उस वक्त उसने ओके कर दिया. सुबह जो हम होटल में गए थे एक साथ खाने, वो सोच सोच कर तो मैं और भी ज़्यादा खुश हो रहा था.