गर्ल का बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो बीएफ इंडियन एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

बाप बेटी का दुष्कर्म: गर्ल का बीएफ वीडियो, ’ करने लगीं।जैसे-जैसे उनकी कामुक आवाज बढ़ रही थी, वैसे-वैसे मैं अपनी उंगली की रफ्तार बढ़ा रहा था, साथ ही उनकी मस्त नंगी चिकनी गांड को चाट रहा था।कसम से दोस्तो, मामी की गांड हालीवुड की किसी एक्ट्रेस जैसी मादक लग रही थी। मैं उनके ऊपर चढ़ गया और कमर गर्दन और गालों को चूमने लगा।मामी बोलीं- जल्दी कर.

नेपाली बीएफ भेजिए

तो लंड ऊपर की तरफ फिसल गया। फिर मैंने उसके मम्मों को पकड़ते हुए बोला- सीमा, जरा मेरी मदद तो करो?तो उसने मेरे लौड़े को फिर से अपनी बुर पर सैट किया और अपने हाथों से बुर के छेद पर दबाव देने लगी। अब मैंने भी वक़्त की नजाकत को समझते हुए एक जोरदार धक्का दिया, जिससे मेरा आधा लौड़ा उसकी बुर की गहराई में अन्दर जाकर सैट हो गया।इस धक्के के साथ ही सीमा के मुँह से एक दर्द भरी आवाज़ निकल पड़ी- आह. मुसलमानी बीएफ दिखाइएउसके निप्पल काफी कड़क हो गए थे।फिर मैं 69 की पोजीशन में आ गया और उसकी चूत चाटने लगा, वह भी मेरा लंड चूसने लगी।कुछ ही देर में वह मेरे मुँह में झड़ चुकी थी। मेरा भी होने वाला था.

लेकिन मुझे एक अच्छी और प्यारी गर्लफ्रेंड की तलाश है।मेरे सभी जानने वाले कहते हैं कि तेरी तो ढेर सारी प्रेमिकाएं होंगी. fm रेडियो वीडियो बीएफजो अपने हीरो के लंड को पूरा मज़ा देना चाहती थी।कुछ मिनट तक उंगली करने के बाद दीदी ने निहाल को हटाया। निहाल समझ गया कि दीदी अब गरम हो गई हैं.

और जो मिली वो भी पहले से मैरिड निकली।अब झेंपने की उनकी बारी थी, वो थोड़ा सा शर्मा गईं और हम दोनों ही चुप हो गए।मुझे लगा मेरा ओवर कॉन्फिडेन्स मरवाएगा। फिर मैंने सोचा कि थोड़ा रिस्क लेना पड़ेगा, वरना कुछ नहीं होगा। तो मैंने अपना हाथ शॉल के अन्दर थोड़ा चलाने लगा। मेरी उंगलियां पहले उनके हाथ पर टच होने लगीं.गर्ल का बीएफ वीडियो: इस्स्स ओफ्फ!मैंने भी कसके माया के निप्पल को मुँह में लेकर काटना शुरू कर दिया तो वो उछल पड़ी और वो अपने पैरों से सरोज का चेहरा दबोच कर चूत की तरफ दबाने लगी, साथ ही माया मेरे सर को खींचकर अपने चूचियों की ओर दबाने लगी।माया- मम्मा.

तो मामी बोलीं- मेरे पैरों पर बैठ जा ना, ताकि मालिश आराम से हो सके। मैं मामी का इरादा समझ गया और अपने दोनों पैर उनके कूल्हों के दोनों तरफ डाल कर गांड पर लंड टिकाता हुआ बैठ गया।मैंने पीठ पर हाथ फेरा तो मेरा लंड फूलने लगा.ज़रूर!उस वक़्त तक मौसम भी थोड़ा ठंडा हो गया था, वो भी कुछ ठंडक महसूस कर रही थीं, उन्होंने अपने बैग से एक शॉल निकाली और अपने जिस्म पर लपेट ली। इस वजह से जो मुझे उनकी सेक्सी बॉडी दिख रही थी.

ब्लू बीएफ वीडियो सेक्स - गर्ल का बीएफ वीडियो

तभी वो बोली कि वो भी अपने रूम में सोने जा रही है।मैं अपने कमरे में आकर सो गया।मैं 9.रंग गोरा, बॉडी जिम में कसरत करके बहुत आकर्षक बनाई हुई है। मैं दिखने में काफ़ी मस्त हूँ। मैं अपने लंड की लंबाई मोटाई के बारे में कुछ नहीं कहना चाहता हूँ.

मैंने करीब 5 मिनट तक उसके होंठों को चूसा और साथ ही उसकी चुची को धीरे-धीरे ऊपर से दबाने लगा।कुछ पलों के बाद ही मैंने उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए. गर्ल का बीएफ वीडियो मुझे खुशी है आपने मुझ पर भरोसा करके मुझे अपनी तकलीफ बताई।मैंने उसे स्तन सुडौल करने वाली एक क्रीम बताई और उसे लगाने के उपाय बताए।तभी वैभव चिल्लाने लगा और मैंने फोन रख दिया।मैं इन दिनों खुश था, लेकिन मेरे रूम पार्टनर का व्यवहार अब अजीब रहने लगा था। हम सारे काम बांट कर किया करते थे.

मैंने कहा- जब तुमने ऊपर से मुझे नंगी कर दिया है तो अधूरा काम कर के तो जाओगे नहीं… और मैं भी गर्म हूँ!उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और खड़े होकर पहले मेरे नंगे शरीर को देखा और फिर मेरी चूत को चाटना शुरू कर दिया.

गर्ल का बीएफ वीडियो?

लेकिन मैं भी थक गया था, सो मुझे भी नींद आ गई।दोस्तो, अब अगली हिंदी सेक्स कहानी में बताऊँगा कि उनकी वो तैयारी क्या थी और फिर उसकी बेटी मीनू को भी चोदने का मौका मिला। फिर बाद में दोनों माँ-बेटी को कैसे जमकर मसला. थोड़ा लंड अन्दर घुस गया, पर सील तो टूटना बाकी थी, वो दर्द से तड़फ रही थी।मैंने थोड़ा और जोर से लंड पेला, तो वो चिल्ला उठी- बाहर निकालो. तुम और काव्या मिल कर निशा को मनाओ और इधर मैं और वैभव मिल कर उसके ब्वायफ्रेंड को मना लेंगे। क्यों वैभव ठीक कहा ना मैंने?’वैभव- हाँ.

पर मुझे बार-बार मौसी की वो लाल रंग की चड्डी और ब्रा दिखाई दे रही थी। मेरे मन में ख्याल आया कि चड्डी की गंध इतनी मदहोश कर देने वाली है. आप बेफिक्र रहिए।फिर उन्होंने बहुत ही मस्त तरीके से मेरे लंड की सकिंग की, वो बोलीं- तेरा लंड बहुत लंबा और मोटा है. ताकि मैं फेसबुक चला सकूं।मैंने जब सुमन भाभी का अकाउंट फेसबुक पर बनाया था, उसी दिन उसको अपनी फ्रेंड लिस्ट में एड कर लिया था।बच्चों को बाहर भेज कर सुमन भाभी मेरे सर पर खड़ी हो गई थी।मैंने कहा- भाभी आप इतनी खूबसूरत हो.

इससे मेरी हिम्मत बढ़ी, मैंने उससे कहा- मुझे किस करना है!वो कुछ नहीं बोली तो मैंने हौसला करके मुँह आगे बढ़ाया. तो पहले से ही उसके लिए मैं आप सभी से माफी चाहता हूँ।मेरा नाम अभिषेक है। मैं अन्तर्वासना का पिछले 5 साल से पाठक हूँ। मैं नागपुर का रहने वाला हूँ, पर अब मैं बैंगलोर में जॉब करने के कारण यहीं शिफ्ट हो गया हूँ।यह कहानी कुछ दिन पहले की है। मैं जहाँ किराए से रहता था वहाँ मेरे रूम के सामने एक शादीशुदा कपल रहते थे। भाभी का फिगर 34-32-36 के लगभग का रहा होगा. इससे तेरी स्कर्ट सारी गीली हो जाएगी।’ रवि ने फुसफुसा के अपना लंड हिलाते हुए कहा और वो चिकनी जांघों की रेशमी फिसलन का मजा ले रहा था।‘ओह यस… मेरे राजा… यस मेरी जांघों पर निकाल दे.

अगले दिन मैं बहुत खुश थी, मैंने जल्दी से नाश्ता बनाया, तब तक दोनों नहा चुके थे, पतिदेव और योगी को नाश्ता दिया।फ़िर पतिदेव अपने कार्यस्थल की ओर निकल गए और योगी बहाना बना कर अपने घर की ओर निकल गया।अब मैं भी नहाने के लिए जाने ही वाली थी कि तभी डोरबेल बजी। मैं दरवाजा खोलने के लिए दौड़ी. अब बस करो!पापा ने उनके कान में फुसफुसाते हुए कहा- चुप रहो डार्लिंग, कुछ बोलोगी तो उठ जायेंगे.

लंड मोटा और काला होना चाहिए।मैं हमेशा ही अपनी गर्लफ्रेंड को किसी नीग्रो से चुदते हुए सोच कर मुठ मारता हूँ, मेरी गर्लफ्रेंड को भी यही पसंद है।हम दोनों एक नई ठरकी सेक्स स्टोरी लेकर आपके सामने हाज़िर हैं। इसमें मेरी गर्लफ्रेंड और मैं एक ट्रक ड्राइवर से केवल 50 रूपए ले कर मज़े की शुरूआत कर लेते हैं।एक रात जब हम दोनों कहीं से वापिस आ रहे थे.

फिर मैंने अपना हाथ उसकी कमर पर रखते हुए उसे अपनी तरफ खींचा।वो बोली- इस गेम में क्या करना है?मैंने बोला- बड़ा सिंपल गेम है.

वो मेरी तरफ प्रश्न सूचक नज़रों से देख रही थी और मैं उसके शरीर का मुआयना कर रहा था. अब मैंने अपनी गांड को थोड़ा ऊपर उठाया और लंड पकड़ कर कोमल यानिकुंवारी दुल्हनकी चुत में रगड़ने लगा, वो सिसकारियां भरने लगी और उसकी साँसें तेज होने लगीं।वो चुदास से तड़पने लगी और ‘आआई उउऊह आअह. साली का बदन भी का पूरा सुडौल था। एकदम गदरायी जवानी, दूधिया जिस्म, कसे हुए मम्मे और गोल उठी हुई गांड, पीछे से बाहर को निकले हुए चूतड़… पट्ठी की जवानी पूरी कयामत ढा रही थी।मैंने धीरे धीरे अपने जिस्म को सारिका के जिस्म से भिड़ा दिया.

ऐसा लग रहा था कि मेरा लंड को किसी गर्म भट्टी में घुसा हो।अब रवीना भी उछल-उछल कर गांड मरवा रही थी. पर कुछ कहा नहीं, उनको लगा कि मेरा लंड पैंट में होगा।मैंने अपने पैरों को फैला कर उनके पैर के ऊपर ले लिए ताकि वो हिल ना सकें।फिर मैंने गाड़ी स्टार्ट की और चलाने लगा। मेरा लंड खड़ा होते-होते उनकी गांड के छेद को टच होने लगा था। पैंट से बाहर होने के कारण मेरा लंड बड़े आराम से उनकी गांड से रगड़ रहा था।दीदी को कुछ लगा तो. फिर यूं ही लगभग रोज ही उससे काफ़ी-काफ़ी देर देर तक चैट होती रहती थी। अब हम काफ़ी खुल गए थे और खूब बातें करते.

वो भी मेरी हरकतों का मजा ले रही थीं।फिर मैंने उनकी साड़ी हटा दी, मेरे सामने ब्लाउज में उनके बड़े-बड़े चूचे फंसे दिख रहे थे। मैंने उनका ब्लाउज खोलना शुरू किया.

इतना मस्त माल कैसे छिपाए बैठी थीं। मुझे आपकी अभी मस्त चुदाई करनी है।पर मामी की तरफ से कोई जवाब नहीं आ रहा था। फिर बस हर रोज बस यही बातें होतीं कि क्या पहना है. वंदना की ब्रा अब उसकी दोनों बाहों में झूल रही थी और उसके हाथ वापस से मेरे सर को अपनी चूचियों में दबाने का प्रयास कर रहे थे. अगर इतनी जल्दी पापा बन जाओगे तो फिर वो सब करने में अच्छा नहीं लगेगा ना.

अब तक आपने पढ़ा कि:हर्ष सर मेरे क्लास टीचर थे, मुझे अपनी जवानी पर बहुत नाज था, मैंने हर्ष सर को फ़ंसा कर फ़ायदा उठाने का सोचा… मैं उनके पास गई, कहा कि वो जो कहेंगे, मैं करुँगी, बस मुझे पास होना है, जो मांगेंगे, वो मैं दूंगी।अब आगे:अचानक मैं उठ कर उनसे लिपट गई और बोली- सर, मुझे न जाने क्या हो रहा है. इसकी चुत में एक बार में ही पूरा ही पेल देता हूँ।फिर मैंने ज़ोर से एक और धक्का मारा. इसलिए एक ही झटके में मेरा आधे से ज्यादा लिंग उनकी चूत में समा गया।भाभी की एक तेज चीख निकल पड़ी- इईई.

मुझे समझ में ही नहीं आ रहा था। साथ ही मुझे डर ये भी था कि कहीं भाई ना जाग जाए।तभी एकदम से मामी बोलीं- क्या ठण्ड लग रही है?मैंने ‘हाँ’ कर दी और मामी ने कहा- चादर तेरे साईड में तो रखी है.

तू यार खामखां मुझपर शक कर रही है। अगर कोई होता तो पगली मैं तुझे न बताती? तुझसे मेरी कोई बात छिपी है क्या??सरोज- साली. रज़िया शेख नाम की एक आंटी सेक्स की प्यासी थी, यह मुझे तब पता चला जब एक दिन उन्होंने मुझे अपने पास बुलाया.

गर्ल का बीएफ वीडियो आँख भूरी सी और नशा जगा देने वाली थीं।शुरू में तो मैं कुछ नहीं कर सका, बस उस लाइन मारता रहा. आप जल्दी फ्री हो जाओ तो आ जाना।वो ‘हाँ’ बोल कर मुस्कुराई और गांड मटकाते हुए चली गईं, मैं उनकी गांड को लटकते-मटकते हुए देख रहा था।मैं अपने ऑफिस में आकर इस सुहाने सफ़र की सुहानी को याद कर रहा था कि मेरा लंड खड़ा हो गया।आप ही सोचिए कि जिसके बारे में सोचने से ही ये हो रहा है, तो वो मेरे पास बैठी थीं.

गर्ल का बीएफ वीडियो उन दिनों मेरा भी उन्हें यहाँ आना जाना था। सुमन मुझे बहुत अच्छी लगती थी। सुमन एकदम स्लिम फिगर की लाज़वाब औरत थी।एक दिन सुमन के पति ने मुझसे डिमांड की- विकास मेरे गेट पर एक कैमरा लगा दो।मुझे मौके की तलाश थी ही कि कब भाभी से खुलकर बात कर सकूं. मगर इस चुदाई में क्या मजा आया, कसम से लंड बाग़ बाग हो गया।उस दिन हमने 3 बार चुदाई की और ये चुदाई का दौर एक साल तक चला। इस एक साल में मैंने उसकी बुआ की लड़की की भी चुदाई की, वो कहानी के अगले भाग में लिखूंगा।मैंने बिल्कुल सच्ची सेक्स कहानी लिखी है.

अभी मैं बहुत ज़रूरी काम कर रही हूँ।जीजू हँसने लगे और उन्होंने अपना लंड मेरी गांड में डाल दिया।मैं जब भी जीजू को अकेले देखती.

बीएफ इंग्लिश में सेक्स

उन्होंने अपने होंठ मेरे कोमल होंठों पर रख दिए। ये मेरी लाइफ का पहला किस था. कर लूँगा, पर लड़की तुम्हीं को पसंद करनी होगी!रोमा खुश होते हुए बोली- ठीक है. मेरा निकलने वाला है।मैं भी बोला- मेरा भी निकलने वाला है।यह बोलते-बोलते मैं उसके ऊपर गिर गया, मेरा सारा रस उसकी चूत के अन्दर निकल गया था, वो भी ज़ोर-ज़ोर से हाँफने लगी, बोली- आह्ह.

उसके योनि रस की सुगंध…4-5 इंच की दूरी से देख रहा था मैं नंगी चूत का यह सुन्दर नज़ारा… हल्के हल्के रोयें जैसे बाल… दो काले रंग के चूत के फांकें! बीच में मोती सी भगनासा! पूरी चूत काम रस से सनी. जरूर बताइएगा।यदि आपका रिस्पोंस मिला तो मैं अपनी और कहानियां आपको इस ही तरह भेजता रहूँगा।[emailprotected]. मैंने उसे किस किया और उसके थोड़ा शांत होने पर वापिस झटका मारा और इस बार पूरा लंड अन्दर पेल दिया।उसकी आँखों से आंसू आ रहे थे तो मैंने पूछा- ज्यादा दर्द हो रहा है क्या?बोली- नहीं.

और चला जा।वो मेरे आँसू पोंछने लगीं। मेरे दिमाग़ का शैतान उनको बिना चोदे जाने को राज़ी ना था.

सब मुझे प्यार से दीपिका बुलाते हैं। आज मैं आप सबको अपनी गांड चुदाई की कहानी सुनाना चाहता हूँ।सबसे पहले में आपको को अपने बारे में बता दूँ. वो भी खत्म हो चुकी थी, वो अपनी दोनों पैरों को मेरे दोनों पैरों में फंसा कर अजीब ढंग से मुझे जकड़ चुकी थीं।भाभी अपने हाथों से मेरी पीठ को कभी सहलातीं. तो मैं भाग कर तुझे बताने आई हूँ कि तुम्हारे कमरे की आवाज़ बाहर तक आ रही है.

अभी तो सही ढंग से चुदाई बाकी है, चुत को चाटना बाकी है।आप मुझे ईमेल कर सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।. बिल्कुल किसी बड़ी एक्ट्रेस की तरह। साहब एक बार एक गरीब आदमी की मदद करने की सोच कर दिखवा दो. यह सेक्स स्टोरी मेरी और मेरी मामा जी की बेटी के बीच की है। अभी मेरी उम्र 21 साल है.

तो मैंने सोचा कि मैं भी अपनी एक सच्ची कहानी आप सब को बताऊँ।बात 5 माह पहले की है, मैं परीक्षा खत्म होने के बाद गाँव आ गया था। मुझे पता चला कि मेरे पड़ोस के चाचा का देहांत हो गया है। उस समय चाची की उम्र 45-46 की रही होगी. हँसा और चल पड़ा।भाभी ने मुझे आवाज दी और कहा- जाते टाइम मेरे यहाँ होते जाना!भाभी का बेटा उस वक्त उनके घर में नहीं था।मैं कुछ पल दोस्त के पास रुका और भाभी के घर जाने लगा। मैं जब भाभी के घर आया तो वो मेरे पास आईं और बोलीं- बहुत दिन से तुम्हें बुलाना चाहती थी.

क्या हसीन मोटे-मोटे मम्मे थे, मेरे तो हाथ में ही नहीं आ रहे थे। मैंने मम्मों को पकड़ कर जोर-जोर से चूसना शुरू किया और बोला- इनको तो बचपन में चूसता था. पर धीरे-धीरे डालते रहना।मैंने धीरे-धीरे लंड अन्दर डाल दिया। दो-तीन मिनट हम वैसे ही रुक गए।अब वो थोड़ा संभला और बोला- यार धक्के दो न. साथ में खाएंगे।मैंने ‘हाँ’ कहा और आंटी से बोला- मैं 10 मिनट में आता हूँ।मैं फिर अपने कमरे में चला गया और मैंने टॉयलेट में जाकर अपने लंड को मुठ मार कर शांत करने लगा।मुझे मुठ मारते समय आंटी का वो सीन बार-बार दिख रहा था.

उस सीनियर स्टाफ के कारण आंटी की चुत नहीं चोद पा रहा था।अब हम लोग उस घर में चले गए, जो सर ने हमें रहने के लिए दिया था। घर होटल से 10 मिनट की दूरी पर ही था। यहाँ शिफ्ट होने में हमें 3-4 दिन लग गए।इन दिनों हम लोग बिल्कुल फ्री थे.

उन्हें देख कर मेरी नीयत पहले दिन से ही खराब हो गई थी। सुमति भाभी बहुत ही क्यूट थीं. कि दोबारा फिर से अपनी ज़िंदगी की एक और कहानी लिख रहा हूँ।वो अभी पिछले महीने ही मैंने झज्जर में एक मैनेजर की हैसियत से जॉब स्टार्ट की है, यह रोहतक से 30 किलोमीटर की दूर है।मैं अपनी कार से रोज रोहतक से झज्जर जाता हूँ। मैं अक्सर दिल्ली बाइपास से जाता था, तो वहाँ देखता था कि बहुत सी लड़कियाँ कॉलेज में जाने के लिए होती थीं। मेरा मन तो करता था, इन्हें पकड़ कर चोद दूँ। मगर अब नौकरी शुरू की थी. वो एकदम सच है। भले ही आप उसे सत्य मानें या नहीं ये आप पर निर्भर करता है।बात आज से दो साल पहले की है.

पर वो मुझे कोई रिप्लाई नहीं देती थी।एक दिन उसकी सहेली के माध्यम से मुझे पता चला कि वो भी मुझे प्यार करती है. इनके अन्दर तो दो-दो लंड और जाने चाहिए।तभी पूजा बोली- हाँ जरूर साले.

उसने मुझे बेड पैर लिटा दिया और मेरी चुची मसलने लगा, किस करते हुए मेरे निप्पल मसल रहा था. बड़े आराम से मेरा मूसल लंड आंटी की गांड में अन्दर-बाहर हो रहा था।आंटी की गांड मारने में बहुत मजा आ रहा था. फिर उसने मेरे पास एक बच्चे को भेजा। मैंने पूजा की तरफ देखा तो उसने अपने कान पर हाथ लगा कर फोन करने जैसा इशारा किया। मैं समझ गया और मैंने उस बच्चे के हाथ से अपना नम्बर उसके पास भेज दिया, उसने झट से नम्बर ले लिया और अपने घर चली गई।रात को उसने मुझे कॉल की और बोली- मैं तुमसे लव करती हूँ।मैंने भी उसे ‘लव यू टू.

ट्रिपल एक्स बीएफ व्हिडीओ एचडी

क्योंकि वो हर बार कहते हैं कि वो अभी इस बात के लिए तैयार नहीं हैं और इस कारण अब हम दोनों की मैरिड लाइफ बहुत अधिक मधुर नहीं रही है।मुझे लगा कि यह सही मौका है, मैंने उनका हाथ अपने हाथों में ले लिया और कहा- कोई बात नहीं.

उसी दिन से मैं उनकी गांड को चोदने के बारे में सोचने लगा था।दोस्तो, अब मैं आपको जो भी बताने वाला हूँ, उसे सुन कर बहुत सारे लोगों को लगेगा कि ये झूठ है, लेकिन मेरा विश्वास कीजिए मैं ये घटना इसीलिए बता रहा हूँ क्योंकि ऐसा मेरे साथ सच में हुआ था और इतनी जल्दी में हुआ था, जिसकी उम्मीद खुद मैंने भी कभी नहीं की थी।आप सब तो जानते ही हो कि आजकल व्हाट्सएप कितना चल रहा है. जिनके पति उस वक्त किसी क्रिमिनल केस में जेल में थे।जैसे ही मैं अन्दर गया मैंने देखा. बस जरा अपनी सुन्दर मस्त चुदासी चूत को और चूतड़ों को अच्छी तरह देख लेने दे.

आज भी जब मेरी उंगलियाँ वंदना कि ब्रा के हुक से टकराईं तो वही एहसास हुआ. तो उसने जल्दी से तौलिया उठाया और मेरी तरफ देख कर मुस्कुराते हुए कमरे में घुस गई।इस वक्त वो बहुत सुन्दर लग रही थी। उसका साईज 38-34-38 का रहा होगा। उसे नंगा देख कर और उछलते मम्मे देख कर मेरा लंड पजामे से बाहर आने को हो रहा था।मेरे भाई की शादी को 4-5 साल हो गए हैं. बीएफ सेक्सी देसी लड़की कीतो वो भी मचलने लगी।मैं भी पूरा चुदास में भरा हुआ था, मैंने उसकी चूत पर लंड रख कर झटका मारा, तो मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया।वो चीख पड़ी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ तो मैंने उसका मुँह दबा लिया और एक और झटका मार दिया।अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत में घुस चुका था.

’कुछ ही देर बाद वो अकड़ गई और झड़ गई उसी के साथ मैं भी उसकी चूत में झड़ गया।हम दोनों कुछ देर लंड और चूत का अहसास लेते रहे, फिर मैंने उठ कर अपने कपड़े पहने और उसे अपना कार्ड दे दिया।मैंने कहा- हया तुम्हें कभी मेरे लंड की जरूरत पड़े तो मुझे कॉल कर लेना ओके।उसने मुस्कुरा कर कहा- ओके. तो हम सोचेंगे।वो उदास सी हो गई और टेबल पर बिल के पैसे रख चली गई।मैं भी चला आया।मैं रात भर सोचता रहा था कि मैंने उसे ऐसा क्या कह दिया।अगली सुबह वो मुझे वर्कशॉप में मिली और मैं उससे बात करने गया.

श्वेता जाग जाएगी।भाभी मेरी गोद से उतर कर दूसरे कमरे की तरफ चल दीं, मैं भी भाभी के पीछे-पीछे उस कमरे में आ गया।कमरे में आकर पहले तो मैंने अपनी कमीज को उतारा. पर मैंने सर के पास जाना बंद कर दिया, सर ने भी मुझे खुद नहीं बुलाया।पर मेरे इस ज्ञान ने मुझे एक मासूम नादान लड़की से बिंदास बोल्ड लड़की बना दिया।यह थी मेरे और हर्ष सर के बीच की मेरे पहले बुर चोदन की कहानी. मैंने रात को भाभी की चूत में अपना मुँह लगा दिया था। कुछ विरोध के बाद भाभी मुझसे चूत चटवाने लगी थीं।अब आगे.

तुम और काव्या मिल कर निशा को मनाओ और इधर मैं और वैभव मिल कर उसके ब्वायफ्रेंड को मना लेंगे। क्यों वैभव ठीक कहा ना मैंने?’वैभव- हाँ. तो कभी खड़े करके चोद रहा था।कुछ देर चुदने के बाद आंटी को सुकून मिल गया।फ्रेंड्स मेरी आंटी की चुदाई की सेक्स स्टोरी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल करें।[emailprotected]. मेरी जान ही नहीं निकल रही थी बस।मेरा तो मूड ऐसा हो गया और मैंने उसी पल सोच लिया था कि आज तो बिना शालू की चुदाई के सो ही नहीं पाऊँगा।मैंने शालू को इशारा किया और साइड में आने को कहा। वो धीरे से आई और बोली- क्या हुआ राहुल?मैं उससे बोला- यार शालू आज तुझे देख कर तो मेरी हालत बिगड़ रही है.

चढ़ बैठ!यह कह कर उसने मेरा लंड पकड़ लिया और चूसने लगा।फिर कैलाश ने मुझे उसके ऊपर बिठा दिया। मेरा लंड तो फड़फड़ा रहा था.

पर मुझे वहाँ रहने में मजा नहीं आ रहा था, इसलिए मैं और मेरे दो दोस्तों ने मिलकर किराए पर एक घर ले लिया था। घर के मालिक भी बाजू के घर में ही रहते थे, उनके घर में वो और उनकी बीवी रहती थी।उनकी शादी को दस साल हो चुके थे. पर उसकी कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई। मुझे उसकी चुची बड़ी मुलायम लग रही थी, मैं धीरे से हाथ फेरता रहा। तभी मुझे उसकी चुची दबाने का आईडिया आया और मुझ पर थोड़ी हवस भी हावी होने लगी।मैंने धीरे से उसकी एक चुची सहलाई.

क्या दूधिया शरीर था, मैं तो बस देखता रह गया।मेरे सपनों में आने वाली मामी की गोरी भरी हुई गांड. क्या तुम मेरे साथ सेक्स करोगे?उसने यह कहते हुए अपने एक हाथ से मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरा लंड मसलना स्टार्ट कर दिया और एक हाथ से अपने चूचे प्रेस करने लगी. मेरा नाम महेश है, मुझे सभी माही बुलाते हैं। मैं पुणे में रहता हूँ। मेरी उम्र 27 साल है और मैं 5 फीट 9 इंच लंबा सांवला सा लड़का हूँ। मेरा लंड 7 इंच लंबा और 2.

फिर हम खाने के लिए एक रेस्टोरेंट में गए। वो रेस्टोरेंट सिर्फ़ कपल्स के लिए था। हम दोनों भी एक केबिन में जाकर बैठ गए और चाऊमिन के लिए ऑर्डर किया।मैंने अपना हाथ उसकी जाँघों पर रखा तो उसने कहा- तुम मेरे एक अच्छे दोस्त हो और दोस्त ही रहो. मेरी बाल रहित गुलाबी कुंवारी बुर उनके सामने बेपर्दा थी।हर्ष सर की आँखों के चमक बढ़ गई… और उन्होंने भी अपनी पैंट और अंडरवियर निकाल दिया… मेरे सामने उनका लंबा सा लंड था गोरा गोरा उनकी ही तरह ऊपर से गुलाबी…तब तक भी मुझे इस बात का अंदाज़ा नहीं था कि यह मेरी बुर के अंदर जायेगा. मेरी पीठ व गांड ऊपर थी।सर मेरे ऊपर चढ़ बैठे और घुटनों के बल मेरी जाँघों पर बैठ गए।अब मेरी गांड उनके लंड के सामने थी। उन्होंने अपने दोनों हाथ मेरे चूतड़ों पर रखे और मसलने लगे। फिर उन्होंने क्रीम लेकर उंगली से मेरी गांड में क्रीम लगाई और उंगली गांड में डाल दी व उसे अन्दर-बाहर करने लगे, फिर उंगली निकाल कर दो उंगलियाँ घुसेड़ दीं।मैं चीख पड़ा- सर सर.

गर्ल का बीएफ वीडियो अब कुछ देर के बाद वो धीरे-धीरे अपनी गांड हिला रही थी।मैंने कहा- दीदी, तुम्हारी जिस्म तो एकदम मेंटेन है।तो उसने कहा- अब जल्दी करो जो करना है।मैं धीरे-धीरे दीदी की गांड में लंड पेलने लगा और वो ‘आअह्ह. पर मैंने उसकी पेंटी नहीं दी।मैंने उससे पूछा- अब कब मिलना होगा?उसने कहा- जल्दी ही.

जानवरों की नंगी बीएफ

पर उस दिन मैंने पहले से ही सीट रोक ली थी और उसके बस में आने का इंतजार कर रहा था।वह आई और उसने एकदम से मुझसे पूछा- क्यों मिस्टर. मैं पूरी दास्तान लिखने का प्रयास करूँगा।मैं आप सभी के मेल की प्रतीक्षा में हूँ।[emailprotected]. क्योंकि अभी तो सिर्फ़ सुबह के 4:30 बजे थे।मैं रोमा की ओर देखते हुए बोला- अभी तो सुबह के सिर्फ़ 4:30 बजे हैं.

चमकता हुआ काम रस मुझे अपनी ओर खींच रहा था, मुझसे रुका न गया, मैंने अपनी जुबान से उस काम रस से भरी चूत को चाट लिया।‘नहींईई… रोहित… आआ अह्ह्ह… ओह्ह माआअ…’ हिना एक बार फिर ऐंठ गई।लेकिन मैं उसकी चूत का काम रस पिए बिना उसे चोदने वाला नहीं था. तो वो पैसा कमाने के लिए ज्यादातर घर के बाहर ही रहता था। भाभी के घर में तीन ही लोग थे. सेक्सी बीएफ मूवी भेजो’ बोला और गाल पर किस किया।फिर कार चल पड़ी।रास्ते में उसने कुछ खाने का सामान भी लिया, फिर हम उसके घर पहुँच गए, काफी बड़ा घर था।उसने मुझसे कहा- तुम थक गए होगे.

बाहर निकाल लो।मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में ले लिया। मैं उसकी बात नहीं सुनना चाहता था मुझे मालूम था कि थोड़ी देर में ये ‘लंड.

उसमें दर्द हो रहा है।मैंने पूछा- क्यों दर्द क्यों हो रहा है?तो वो हँस गया. तेरा लंड तो मस्त खड़ा है।सरला भाभी ने हाथ में लंड पकड़ कर और जोर से साड़ी के ऊपर से अपनी चूत पर दबाने लगी- सी.

अब तक किमी अपनी शादी, सेक्स लाईफ और अपने साथ हुए धोखे को बता रही थी और मैं सारी बातें चुपचाप सुन रहा था।मैंने किमी से कहा- और दूसरी बार तुमने आत्महत्या का प्रयास क्यों किया?किमी ने मेरी आँखों में आँखें डाल कर कहा- अकेलेपन का दर्द तुम नहीं समझ सकते संदीप. सीधा तो उनसे बोल नहीं सकता था, क्योंकि घर का मामला था।मैं पक्का भी नहीं था कि वो मुझसे चुदने को राजी हो सकती हैं, पर मुझे मामी की चुत चोदनी जरूर थी।अब मैं उनसे हर रोज नंगा होकर फ़ोन पर बात करता और मुठ मार लेता।एक दिन बारिश का मौसम था. तो हम अलग हो गए।वो बोला- मैं अभी आता हूँ!और वो बाथरूम में चला गया।उसके जाते ही हम दोनों ने एक बार एक दूसरे की आँखों में देखा और फिर एक साथ एक दूसरे पर टूट पड़े.

मैं भी जोर से अन्दर-बाहर करने लगा।मॉम बोलीं- मजा आ रहा है बेटा तुझे!‘हाँ मॉम बहुत रसीली चुत है आपकी.

माया और सरोज के लेस्बियन सेक्स के साथ मैं भी अपना लंड चुसाने का मजा ले रहा था।अब आगे. कुछ नहीं होगा।मैंने भी शिप्रा को अपनी बांहों में जकड़ लिए और उसे चुप कराने लगा।आमतौर पर लड़के इन हालात में वहाँ से चले जाते हैं. मैं उसके ऊपर चढ़ गया और फिर उसकी चूत में लंड पेल कर उसे किस करने लगा।आज हम दोनों ने खुल कर पूरा मजा किया। इसके बाद तो जैसे वो मेरे लंड की मुरीद हो गई थी।अब हम जब भी अपने मायके आती है.

देसी नंगी सेक्सी बीएफ’ की आवाज आने लगी।डॉक्टर साहब नेहा को गोदी में उछाल-उछाल कर नीचे से लंड के धक्के देते रहे।फिर डॉक्टर साहब ने नेहा को नीचे उतार कर उसको झुका दिया। नेहा दीवार के सहारे झुक कर खड़ी हो गई और डॉक्टर साहब ने नेहा को पीछे से पेलना चालू कर दिया।ऊपर शावर से पानी गिरना चालू था। जिस वजह से चुदाई में ‘फट. प्लीज मुझे बताओ, मैं क्या करूँ?भाभी बोलीं- तुमने आज तक कभी किसी लड़की को चोदा है?मैंने बोला- नहीं.

सेक्सी बीएफ गंदा

मन में यह उत्सुकता जागी और मैं यही पता लगाने के लिए व्याकुल हो उठा. वर्षा मेरे गांव की देसी सी लड़की है जो पास ही के मोहल्ले में रहती है। वो मेरे गांव की सबसे सुंदर लड़की है, उसे सब लड़के अपनी बनाना चाहते थे, पर वो किसी को ज्यादा भाव नहीं देती थी।मैं पढ़ाई के कारण हमेशा ही गाँव से बाहर रहा था, कभी-कभी ही गांव आ पाता था।जिस वक्त की यह घटना है. अब मैं उन्हें क्या बताता कि उनकी हसीन बीवी ने अपने हुस्न के जाल में मुझे फंसा कर यूँ मदहोश कर दिया कि कहीं जाने का मौका ही नहीं मिला… मन में यह ख्याल आते ही मैं मन ही मन मुस्कुराने लगा और एक बार फिर रेणुका का नंगा रेशमी बदन मेरी आँखों के सामने आ गया.

जब मैं राजकोट में अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा था। मैं शुरू से ही बहुत शर्मीले किस्म का रहा हूँ। लड़कियां तो दूर की बात हैं, मैं औरतों से भी ठीक से बात नहीं कर सकता था, पर अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ कर मेरी सेक्स करने की ख्वाहिश बहुत बढ़ जाती थी।मैं शुरू में तो अपने दोस्तों के साथ रहता था. पर उनका बदन इतना भरा-पूरा था कि मैं तो बस उनके ही ख्वाब देखता रहता था।चाचा के परिवार से अलग होने के बाद मेरा मन नहीं लगता था। मैं जब भी चाचा के घर जाता था. वो कान की लौ मुझे अनंत आनन्द की अनुभूति दे रही थी। उसे चूसने से वो पूरी तरह सिहर उठी थी। वो अब मर्यादाओं को भूलने लगी थी, पर अभी भी उसने आपको सम्भाल रखा था।मैंने अपना हाथ उसकी कमर पर रखा.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… मगर बस इतनी थी कि वो और मैं ही सुन सकें।जब मैंने उसकी चूचियों पर किस किया. जो मुझे चोदना चाहते थे।मेरे पापा ने उनसे कहा- यार मनोज दीपक घर पर अकेला है. बात यही नहीं रुकी, राहुल ने हाथों से हाथ हटा कर मेरी कमर में हाथ डाल कर अपने और नज़दीक कर लिया.

लेकिन उसने मना कर दिया।मैंने रिया हाथ पकड़ कर बोला- तुम मेरी अच्छी फ्रेण्ड हो ना, प्लीज़ मुझे बताओ क्या हुआ है?उसने बोला- मुझे एक दोस्त की जरूरत है।मैंने कहा- मैं हूँ ना तुम्हारा दोस्त. तो आयशा ने मेरा लंड हाथ में ले लिया।उसके हाथ में मेरा लंड जाते ही मैं बहुत हॉट हो गया था।मैंने आयशा से कहा- इसको मुँह में लो.

अब इजाज़त दीजिए, आपके मेल मिलने के बाद ही अगली चुदाई की कहानी लिखूंगा।मुझे[emailprotected]पर अपने ख्यालात भेजिए.

अन्दर उसने पिंक रंग की ब्रा पहनी हुई थी।मैंने उसकी छोटी से कसी हुई ब्रा निकाल दी. इंग्लिश में बीएफ इंग्लिश मेंएक बार में सात पैकेट लाने से सुबह शाम के हिसाब से तीन चार दिन चल जाता था और मैं आज ही दूध के पैकेट लेकर आया था।अब मैंने सारे पैकेट फ्रिज से निकाले और एक बाल्टी में तीन पैकेट फाड़ कर डाल लिए और बाकी के पांच पैकेट बिना फाड़े ही बाथरूम में रख आया। बाल्टी को मैंने पानी से भर दिया और किमी के कमरे में रखी गुलाब जल की बोतल को भी बाल्टी में उड़ेल दिया।अब गुलाब कहाँ से लाता. कॉलेज की लड़की की बीएफ पिक्चरपर कुछ मिनट के बाद उसे मजा आने लगा और वो मेरा साथ देने लगी।करीब दस मिनट के बाद मैं झड़ने वाला हुआ और मैंने लंड निकाल कर देखा तो उसमें खून और मल लगा हुआ था। उसकी आँखें बंद थीं. उसमें दर्द हो रहा है।मैंने पूछा- क्यों दर्द क्यों हो रहा है?तो वो हँस गया.

मैं उनकी बुर में अपनी जीभ डालकर जोर जोर से अन्दर बाहर कर रहा था और वो मस्ती में अपनी कमर उठा उठा कर चीखे जा रही थीं- आआह्हह राजा.

मजा आ गया।’मैंने उसे चूमा।कुछ देर बाद बोली- मैं कपड़े पहन लूँ?मैंने कहा- क्यों अभी भी शर्मा रही हो क्या?वो बोली- नहीं तो. तो वो सिसकारी भर लेती। मैं उसके एक मम्मे को हाथ से दबा रहा था और दूसरे को मुँह से चूस रहा था।अब मैं उसके मम्मों को चूसते-चूसते नीचे की तरफ जा रहा था और वो सिसकारियां भर रही थी।मैंने उसको किस करने के बाद अपनी गोद में उठा कर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके पूरे बदन को चूसने लगा, अब मेरे साथ वो भी हॉट हो चुकी थी।मैं अभी उसको और चूसना चाहता था क्योंकि उसका फिगर था ही इतना मस्त. मेरा कद 5 फट 3 इंच है, रंग दूध की तरह सफ़ेद है।मेरा साइज़ 30-26-32 का है.

!उसकी कामुक आवाजें सुनके मुझे और मजा आने लगा… और मैं अपना पूरा मुँह उसकी चूत में घुसा कर उसको जोर-जोर से चाटने लगा।आअह्ह. फिर वो मान गई। उसने अपने घर में झूठ कह दिया कि मैं फ्रेंड्स के साथ कॉलेज ट्रिप पर जा रही हूँ।इस तरह से 3 दिन के लिए नागपुर आ गई। मैं उसे लेने स्टेशन गया, हम दोनों घर आ गए।हम दोनों फ्रेश हुए और खाना खाने लगे, मैं खाना खाते-खाते ही उसे किसी न किसी बहाने से टच करने लगा, उसको भी मजा आ रहा था।फिर शाम हो गई. साली अब ज़िप खोल, मेरा लंड मेरी पैंट में से निकाल और उसको पकड़ कर हिला!मेरी गर्लफ्रेंड ने उसकी जिप खोली और लंड बाहर निकाला, ड्राईवर का लंड छोटा सा था, लंड करीब 4.

बीएफ पिक्चर भेज दो बीएफ

शाम के वक़्त वहाँ चला जाता था। वहाँ पार्क में जाकर मैं एक कोने में बैठ कर म्यूज़िक सुनता रहता।शाम के वक़्त वहाँ बहुत सारी लड़कियां और भाभियाँ आती थीं, कोई वॉक के लिए. तो गर्लफ्रेंड भी जरूर होगी?मैंने सर हिला कर मना कर दिया।इस पर आँचल ने नाराज़ होते हुए कहा- ज्यादा झूठ मत बोलो. तो उसके लिए वहाँ से शिमला चलना कोई मुश्किल नहीं था।हमने चंडीगढ़ बस स्टैंड पर मिलने का समय फिक्स किया था। मुझे नहीं पता था कि उसके साथ उसकी एक सहेली भी आएगी।हम तीनों ने बस पकड़ी और शिमला के लिए चल पड़े। वहाँ जाकर हमने एक होटल में दो कमरे ले लिए ताकि मैं और कोमल एक कमरे में.

इसलिए लंड घुस तो गया, पर भावना की गांड से भी खून की धारा बह निकली।मूसल के गांड में घुस जाने से भावना लगभग बेहोश सी हो गई थी.

मानो बोलना चाह रही हों कि बस ऐसे ही करता रह, मजा आ रहा है।वो अपनी आँखें जोर से बंद किए हुए मजा ले रही थीं.

मेरे मन में अपराध भाव था कि मेरी वजह से मेरी दीदी की जिंदगी दांव पर लग गई है।अगले दिन उसने फिर मौका देख कर मुझे कहा- आज रात तुम दरवाजा खुला रखना, हम आयेंगे. इसी बीच मैं झड़ गई और वो भी झड़ने लगे, उन्होंने अपना पानी मेरे पेट पर गिरा दिया।फिर वो चले गए।हम लोग के घर के बाहर छोटा सा आँगन है वहाँ जीजू अक्सर बैठा करते थे और वहीं पर जो रूम बना था. जिओटीवी बीएफ सेक्सीआज खड़ा नहीं है!यह कह कर गीता ने लंड को दबाकर अपनी चूत को कमल की जाँघों पर रगड़ दी।जवान 28 साल का कमल.

अशोक जी से ओर उनके बॉस से चुदवाया करती हूँ। तू अभी छोटी है और थोड़ी बड़ी हो जा. किसी ने गाड़ी रुकवाई और थोड़ी देर में गाड़ी चल दी।मैं अपना हेडफोन लगा ही रहा था. क्या मस्त माल लग रही थीं।वो भी मुझे ऐसे देख रही थीं, मानो मुझसे पूरी नंगी हो कर चिपटना चाहती हों।हम सभी सोने लगे, पर मुझे कहां नींद थी.

मेरा नाम महेश है, मुझे सभी माही बुलाते हैं। मैं पुणे में रहता हूँ। मेरी उम्र 27 साल है और मैं 5 फीट 9 इंच लंबा सांवला सा लड़का हूँ। मेरा लंड 7 इंच लंबा और 2. काफी देर से आपका इंतजार कर रहा था।मैं मरीज को देखने लगा और चाची अपने घर चली गईं।आपके विचारों का स्वागत है।[emailprotected].

तो वहीं फाड़ दूँगा कुतिया।भाभी हँसने लगीं और मुझे प्यार से जकड़ कर चूमने लगीं।भाभी- बहुत आग है साले कमीने तुझमें लौंडिया चोदने की.

जो मुझे बहुत पसंद आया। उसकी फैमिली भी मुझे अपनी फैमिली की तरह ही खुले और अच्छे विचारों वाली लगी।बर्थ-डे पार्टी बहुत रात तक चली। फिर मैं अपनी बाइक से अपने घर वापस आ गया।अब हमारी दोस्ती और भी गहरी होने लगी। इसी तरह कुछ समय बीता और अब मेरा जन्मदिन भी आ गया। मैंने उसे मूवी देखने चलने को इन्वाइट किया. अपनी जिन्दगी से घिन आने लगी, मेरी जेठानी ने भी मेरे मोटापे और भद्देपन का खूब मजाक उड़ाया, उसने तो यहाँ तक कह दिया कि मेरे भद्देपन के कारण मर्द मेरे से दूर भागते हैं और अब मुझे सेक्स, आकर्षक या उत्तेजना जैसे शब्दों से चिढ़ हो गई।पर हद तो तब हो गई. ’फिर मैंने उसकी पेंटी निकाल दी और देखा कि उसकी गुलाबी मखमली चुत बिल्कुल चिकनी कुंवारी दिख रही थी। उसकी चुत की सील तोड़ने का सौभाग्य मुझे प्राप्त हुआ था।मैंने झट से चुत को चाटना शुरू कर दिया और वो पूरी तरह गर्म हो गई ‘ऊऊह.

बीएफ सेक्सी वीडियो कुत्ते वाली अपना खड़ा लंड तेरे रश्मि मुलायम बड़े-बड़े चूतड़ों से रगड़ते हुए एक चूची मुँह में लेकर चूसते हुए दूसरी चूची का खड़ा निप्पल को उंगलियों के बीच पकड़ कर गोल गोल घुमाना चाहता हूँ।’रवि नोरा के ब्लाउज में खड़े निप्पल देख रहा था।‘ओह माय गॉड… उफ़… तू मेरे चूतड़ों के पीछे क्यों पड़ा है? क्या मेरी गांड मारना चाहता है? जालिम चोदू सांड… बिल्कुल नहीं करने दूँगी रवि. जबकि वहीं उसकी पत्नी बहुत चालाक किस्म की औरत थी। उसका चक्कर अपने ही ड्राइवर के साथ था और वो भी उसके साथ ही रहता था। इस बारे में शिल्पा भी जानती थी.

इसके बाद उनका माथा चूमा और अंत में उनके रसीले होंठों को अपने होंठों में भर लिया।उनकी तरफ से भी मेरे होंठों को चूसा जाने लगा।मुझे आज भी उनके होंठों का वो टेस्ट याद है।शुरू में वो थोड़ी हिचक रही थीं. जैसे उनकी बुर में बाढ़ आ गई हो और अब मैं भी गिरने वाला था।मैंने उनकी बुर में आठ-दस धक्के न्यूक्लियर बम जैसे गिराए. लेकिन हिम्मत करके मैं कमरे के नजदीक चला गया।अब मैं आंटी को छुपकर देखने लगा, आंटी अपनी चूत साफ़ कर रही थीं।दरवाजे की झिरी से मैं सही से देख नहीं पा रहा था.

देहाती बीएफ देखने वाली

एक गिलास में पीने से प्यार बढ़ता है।वो दोनों एक ही गिलास से दारू पीने लगे।थोड़ी देर में नेहा डॉक्टर साहब की गोदी में जा कर बैठ गई, नेहा डॉक्टर साहब से बोली- बीवी भारी तो नहीं लग रही न?मेरे मुँह से निकल गया- यार साइड में बैठ कर पी लो न!वो बोली- तुझको बड़ी पीछे मिर्ची लग रही है फुसफुस. मैंने अपने हाथों को हरकत दी और धीरे से उसकी ब्रा को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर उसकी चूचियों के ऊपर से हटा दिया. फिर केक काटने के बाद डांस का प्रोग्राम शुरू हुआ।अब सब मस्ती में डांस करने लगे। उधर हम दोनों भी साथ में ही डांस कर रहे थे, तो डांस करते समय मेरी हाथ ग़लती से उसकी चुची से छू गया.

और मम्मे बड़े बड़े हैं।दीदी के दो बच्चे हैं, दस साल की लड़की और सात साल का लड़का!मैं उन्हें चोदने के सपने देख-देख कर कई बार मुठ मार चुका हूँ. मैंने जैसे मौन स्वीकृति दे दी हो और पेंटी को नीचे उतर जाने दिया।पेंटी के उतरते ही रेशमा ने कहा- वाह क्या बात है, रोने का इनाम कड़कते लिंग से.

वो बहुत ही मस्त महिला थीं। उस समय उनकी उम्र लगभग 40 साल थी और उस वक्त मेरी उम्र 20 साल थी।आंटी बहुत प्यारी और सेक्सी महिला थीं, उनके स्तन एकदम टाइट और नुकीले थे.

अगले बच्चे का क्या प्लान है?भाभी गरम होते हुए बोलीं- जब आप बोलो!मैंने कहा- मेरा मन करे तो अभी कर डालूँ भाभी!तो भाभी ने खुलते हुए बोला- तो रोका किसने है?मैंने भाभी की पीठ पर हाथ रख दिया और उनसे चिपक कर बैठ गया। भाभी ने भी मेरे पेट पर हाथ रख दिया व मेरे पेट को मसलने लगीं।मैंने देखा कि भाभी चुदासी और गर्म हो चुकी हैं तो मैंने भाभी के मम्मों पर हाथ रख दिया। भाभी के मुँह से ‘आहह. न जाने कितनी देर तक वो मुझे चूमते सहलाते रहे उंगली को धीरे धीरे अंदर बाहर करते रहे… फिर वो उठ कर मेरे पैरों के बीच में आ गए. वो ये बातें मुझे जलाने चिढ़ाने के लिए बोल रही थी।पर असलियत वो नहीं जानती थी कि दरअसल मैं खुद ही अब सेक्स के लिए तैयार थी पर उससे होने वाले दर्द का अंदाजा लगाने के लिए मैंने ऐसी शर्त रखी थी.

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोफरवरी महीने में प्रकाशित हिंदी सेक्स स्टोरीज में से पाठकों की पसंद की पांच सेक्स कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…. उन्होंने पास आकर प्यार से मेरे बालों पर हाथ फेरा और कहा- डरो मत बहू रानी, तुम्हारी योनि में मैं बहुत आराम से लिंग डालूंगा, मैं बहुत दिनों से किसी मोटी औरत से संभोग करने के सपने देखता था, मैंने बहुतों से सेक्स किया. जैसे मैंने ये किया, उसने मुझ फिर से कस लिया, 8-10 धक्के मैंने और लगाए कि मेरा शरीर भी पिघल कर उसके शरीर में समाने लगा, इसके साथ मैं भी निढाल सा उसके ऊपर ही लेट गया.

हम दोनों अक्सर मिलते रहते हैं, बातें भी खूब करते हैं, लेकिन मेरे मन में उसके प्रति सामान्य ख्याल ही थे, अपनी बहन को मैंने सेक्स की नजर से नहीं देखा था.

गर्ल का बीएफ वीडियो: ’ और मेरी रसधार निकल गई और कुछ सेकंड में भैया भी जोर से गुर्राए और उनका गाड़ा मरदाना वीर्य मेरे हाथ में छप गया था।थोड़ी देर बाद मैं अपने घर आ गया।कुछ दिन ऐसे ही सब चलता रहा। मेरे पीठ पीछे भैया ने क्या किया. और अब सफर आराम से होगा। मैंने मोबाइल में अपनी प्लेलिस्ट लगाई और आराम से गाना सुनने लगा।करीब दो घंटे बाद बस डिनर के लिए रुकी.

और उसके दो बच्चे हैं, एक लड़का और एक लड़की। उसका पति दवाई कंपनी में दवाइयाँ सप्लाई करने का काम करता है।जब वो मेरी कॉलोनी में आई थी. एक साल में ही मैंने अपनी नई कार खरीद ली थी और अपनी जिन्दगी का अकेले ही मजा कर रहा था।तभी मेरे साथ कुछ ऐसा हुआ, जिसे मैं भुला नहीं पाया। मैं आज तक उस पल को याद करता आ रहा हूँ।हुआ ये कि मेरे पास एक कॉल आई, उधर से एक लड़की की आवाज़ थी। वो बोल रही थी कि रवि भैया आपके साथ हैं?मैं बोला- सॉरी जी. मुझे उसके बारे में थोड़ा जानकारी चाहिए।जब मैंने भाभी से पूछा- कब आना है?भाभी बोली- आप अभी आ सकते हो.

लेकिन डर और संकोच ने मुझे रोका हुआ था।सेक्स की शुरुआत तो मैंने अपनी ओर से आज तक नहीं की थी.

वर्ना मैं मर जाऊँगी।ये सुनते ही मैंने उसे पूरा नंगा कर दिया, उसकी चुत पर काले घने बाल थे। मैं उसकी टांगों के बीच अपना मुँह ले जाकर उसकी गुलाबी चुत चाटने लगा। मैं काफी देर तक उसकी चुत चाटता रहा।इसके बाद मैंने अपना लंड जो अब तक पूरा खड़ा व लोहे की रॉड के समान हो गया था. अभी तो सही ढंग से चुदाई बाकी है, चुत को चाटना बाकी है।आप मुझे ईमेल कर सकते हैं।[emailprotected]कहानी जारी है।. पर उसके चूचियों को छूने का कोई मौका नहीं मिला, हाँ एक-दो बार मैंने उसके चूतड़ों को हल्के हाथों से टच जरूर कर लिया था.