सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो

छवि स्रोत,सेक्स बढ़ाने के लिए क्या खाना चाहिए

तस्वीर का शीर्षक ,

भोजपुरी लड़की चुदाई: सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो, लालजी ने पूछा- वन्द्या दुल्हन कौन बनेगी?मैं बोली- लालजी दुल्हन मैं बनूंगी और कौन बनेगी?लालजी बोला- तब ठीक है वन्द्या.

घोड़े वाला सेक्स

वहां सब लेडीज एक ही बड़े रूम में रहती हैं इसलिए मुझे साथ में नहीं ले जा सकती थीं. 1 ते 10 घनउसके बारे में ये चर्चा सुनती थी कि यह रात रात भर अपने यारों के साथ होटलों में जाती है.

दोस्तों की संगत में मैं काफी पहले से ही मुठ मार रहा हूँ और पॉर्न देखना भी शुरू कर दिया था, जिसके प्रताप से मेरा लौड़ा काफी बड़ा हो गया है. भारत दुल्हन फोटोग्राफीअचानक एक दिन जब मैं सुबह जिम से वापिस आ रहा था तो देखा कि सोसाइटी में एक ट्रक खड़ा था.

मैं बोला- ठीक है, आ जाओ!वो अंकल 5 मिनट बाद आये और बोले- चलो!तो मैं बोला- अंकल, मुझे बहुत डर लग रहा है।वो बोले- अरे, डरने की कोई बात नहीं है, चलो कुछ नहीं करूँगा.सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो: मैंने लंड ठेलते हुए पूछा- भाभी भैया आपको चोदते नहीं हैं क्या, आपकी चूत तो काफ़ी टाइट है.

फिर थोड़ी देर बाद चाची ने खर्राटे भरने शुरू कर दिए और अपने आपको इस तरह से फैला दिया ताकि मैं उनकी भारी पूरी जवानी का नजारा भरपूर कर सकूँ.गाड़ी जब मैंने अपने घर पास रोकी, तो आंटी बोलीं- पहले मेरे घर चलो, वहाँ मुझे कुछ काम है.

माधुरी हीरोइन की नंगी फोटो - सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो

अपनी बेटी की चूत में अपना मोटा लंड घुसाने के लिए उसको तैयार कर रहा था.अपनी स्कर्ट जो जानबूझ कर चुत के पास तक ले गई जैसे कि मैं शराब पी कर नशे में आ गई हूँ और मुझे नहीं पता कि मैं किस तरह से लेटी हूँ.

मैंने अपनी चूत मसलते हुए कहा- जल्दी मार लो मेरी चूत!वो हँसता हुआ बोला- चूत तो मार चुका हूँ, अब गांड की बारी है. सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो सोनिया ने झुक कर अपने गोरे गोरे मम्मे दिखाए और कहा- पहले आप कसम लो.

उन्होंने मुझे चूमा ओर प्यार से आई लव यू बोल कर वो मेरे सीने पर सिर रख कर सो गईं.

सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो?

मैं निश्चित टाइम पर पहुँच गई और जैसे ही गाड़ी आई तो उसमें वो ही आदमी बैठा था, जिसने कल मेरी चुदाई की थी. मैंने उसको पकड़ कर चूमा और सोचा कि इसकी चुत मेरा मोटा लंड खा खा कर ढीली हो गई. अभी उनकी जवानी को सोच ही रहा था, कि वो बता रही थी- हम दोनों माँ बेटी साथ में योगा करने जाती हैं.

इससे मेरी आवाज़ अब बन्द हो गई, मुझे लगा कि दर्द से मेरी जान निकल जाएगी. तभी वो मेरे कमरे में आईं और उन्होंने मुझे मेरी माँ के बारे में पूछा. बाहर आ कर उस आदमी ने गीता को चोदने की निगाहों से देखते हुए कहा- अगर आप भी कुछ करवाना चाहो तो आ जाओ.

मैं भाभी से बोला- भाभी एक बात बोलूँ अगर बुरा ना मानो तो?भाभी बोलीं- हां बोलो. मैंने बहुत सोचा और एकाध बार मॉम के सामने अपने लंड की झलक भी दिखा दी, जिससे उनका मन मैं अपने लंड की तरफ कर सकूँ. टीवी वाले कमरे से किचन साफ़ दिखता था और मैं बस दीदी की तरफ ही देख रहा था.

पूजा के वस्त्र, उस की साड़ी, ब्लाउज पेटीकोट, बरा पेंटी सब बिस्तर पर उसके सिराहने ही रखे हुए थे, पूजा पूरी नंगी थी तो उसकी चूत भी एकदम नंगी थी, मेरी आँखों के सामने थी. तो मैंने कहा- इनके भूत के साथ कहीं आपकी चुड़ैल तो नहीं जागेगी ना?मैडम बोलीं- नहीं, अभी तो नहीं! बस देखते हैं कि कब तक शांत रहती है.

मैं नौकरी का मारा, मैंने तुरन्त उस नम्बर पर कॉल किया और पोस्टर में बताई गई जगह पर पहुंच गया.

तभी मुझे ऐसा लगा कि कोई मेरे लंड को सहला रहा है। मैंने मुंह को चूत से हटाया तो देखा कि काजल मेरे लंड को सहला रही है। मैंने झूठमूठ का गुस्सा दिखाते हुए कहा- कि ये क्या कर रही हो? तब शीतल ने मुझे कहा कि उसका बॉयफ्रेंड उसको छोड़ के चला गया है और वो जब से मेरे साथ आई थी, तब से उसका भी चुदाने का मन कर रहा था.

उसका बिहेवियर बाकी दिन जैसा ही था, ना कुछ बातचीत, ना हाय हेलो… सारा दिन में उसी के बारे में सोच रहा था. मैं भी वहां से निकल पड़ा, लेकिन तभी उसका फोन आया कि उसने खाना नहीं खाया था और होटल में 11 बजे के बाद डिनर नहीं मिलता है, तुम मुझे डिनर करवाने ले चलो. कुछ देर बाद मैंने पूजा की चूत के छेद पर अपना लंड टिकाया और एक धक्का मारा और उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और हिलने लगा।मुझे तब भी विश्वास नहीं हो रहा था कि वो मुझसे चुदवा रही है। लेकिन मुझे हैरानी भी हो रही थी कि पूजा इतनी जल्दी चुत चुदाई के लिए कैसे मान गई और उसकी चूत में मेरा लंड बिना किसी रुकावट के कैसे एकदम से घुस गया.

लालजी ने मेरी पीठ को चाटते हुए मेरे मुँह के सामने अपना लंड ला दिया. वो शायद जल्दी में थी या कोई और भी उसके पास था, तो उसने रात में बात करने का बोल कर फ़ोन रख दिया. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:आपा के हलाला से पहले खाला को चोदा-2.

अभी तो कुछ घंटे ही बीते थे जिनमें इन्होंने पागलपंथी की हद को लगभग पार कर दिया था.

वो मेरी चूत में जोर जोर से झटका देने लगा और हम दोनों कुछ देर की चुदाई के बाद झड़ गए. सारी रात का या एक चुदाई का ही?वो बोली- सारी रात के लिए घर पर क्या बोलूँगी?मनोरमा ने उससे कहा- उसकी तुम फिकर ना करो. जब आपा गहरी नींद में सो गईं तो मैंने थोड़ा सा तेल आपा की चूत पर लगा दिया और जैसे ही लंड चुत पे रखा कि तभी आपा जाग गईं और मुझे डांटने लगीं.

इसके बाद मैंने एकता को डॉली के ऊपर घोड़ी जैसा बनने का बोला और डॉली की गांड पर झुक कर बहुत सारा थूक लगा दिया. टीवी से डीवीडी जुड़ा हुआ था, जिसमें पहले से ही एक हिन्दी की मूवी लगी हुई थी, जिसमें सिवाए क्सक्सक्स चुदाई के और कुछ नहीं था. और वो रमेश को बोली- बाहर आकर आराम से पलंग पे चोदो इस लोंडिया को… और भैया इसका बदला मुझ से लेंगे.

फिर भी करीब 5 मिनट तक दोनों चूचियों को अपने प्यारे भाई के मुँह में दिए रही और जब बर्दाश्त से बाहर हो गया तो बोली- अब फिर कभी चूस लेना भाईजान.

अब हॉस्पिटल में सब फॉर्मलिटीज पूरी करने और उस आदमी को एडमिट करने में जितना वक़्त गुज़रा, तब तक उसका सारा नशा उतर गया. मुझे पता है कि वो मेरे जिस्म का दीवाना है क्योंकि मैं जब भी अपनी सहेली के घर जाती हूँ तो वो किसी न किसी बहाने से मेरी सहेली के कमरे में आता है और मुझसे बातें करने की कोशिश करता है.

सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो उसने देर न करते हुए अपनी उंगलियों को पद्मिनी की पेंटी पर ठीक चूत के पास फेरा. जब पद्मिनी मुड़कर टेबल पर से चाय लेने जा रही थी तो बापू ने उसको फिर से बांहों में जकड़ कर किस किया और बिस्तर पर पद्मिनी को थामे हुए बैठने को कहा.

सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो मैंने पूजा को बताया कि शुक्रवार से सोमवार तक ऑफिस की चार दिन की छुट्टी है. तभी एकदम से उन्होंने पैरों को इकठ्ठा करके थोड़ा दबाव बनाया तो मुझे लगा उनकी तरफ से ग्रीन सिग्नल है.

और थोड़ी देर बाद जब लंड महाराज फिर से टाइट हो गये तो मैंने आरुषि को बेड के सहारे झुका कर खड़ा करके पीछे से लंड उसकी फुद्दी के मुँह पर लगाकर मैं एक बार थोड़ा पीछे को हुआ और एक झटका लगाते हुए लन्ड को फुद्दी में धक्का मारा तो लंड थोड़ा सा उसके अंदर घुस गया.

ब्लाउज के पीछे डिजाइन

खुद पद्मिनी ने अपनी कमर को थोड़ा सा ज़्यादा बापू के जिस्म से दबाया और बापू के लंड को अपने पेट के नीचे मोटा और तना हुआ महसूस किया. पेशाब की आवाज़ सुनकर मम्मी जी दरवाज़े पे आ गयी और मुझे मूतते हुए देखने लगी. वो मेरे लिए एक गिलास पानी लाये और बोले- कैसा लगा घर?मैं बोला- अंकल, आपका घर तो बहुत अच्छा है, क्या करते हैं आप?तो बोले- मैं सरकारी नौकरी करता हूं।मैं बोला- ठीक है, अंकल जी अब क्या करना है?तो वे बोले- अरे करना क्या… मजे करेंगे और क्या!मैं बोला- ठीक है, चलो करते हैं!अंकल मुझे अपने बेडरूम में लेकर गए और मेरे गालों पर किस करने लगे और एक हाथ से मेरे लन्ड को दबाने लगे.

फिर मुझे देखते हुए बोला- पहले ही कर लेना चाहिये था, लेकिन कई बार जल्दबाजी भारी पड़ जाती है। यहां आओ।फिर वह मुझे पकड़ कर अंदर घसीट लाया जहां अहाना तख्त पर अब बैठ गयी थी और कपड़े भी उसने पहन लिये थे और डरी सहमी मुझे देख रही थी।राशिद ने परली साईड की खिड़की बंद की, दरवाजा वापस बंद किया और बत्ती जला दी। मैं उन दोनों को ही घूरे जा रही थी. अब स्नेहा रोने लगी थी और कह रही थी- मुझे दर्द हो रहा है सोनू, आज छोड़ दो, फिर कभी कर लेना!मगर मुझे पता था कि आज अगर छोड़ दिया तो दोबारा कभी मौका नहीं मिलने वाला मुझे… तो मैंने फिर उसे ज़मीन पे लेटने के लिए कहा और उसके ऊपर आ कर फिर अच्छे से अपना लन्ड सेट किया और जोर लगाया. मैंने रेखा रानी के निश्चल से निढाल शरीर को उठाकर अपनी बगल में लिटा दिया और खुद करवट लेकर उसकी तरफ मुंह करके लेट गया.

फिर मैं थोड़ी देर रुका रहा, वो नॉर्मल हो गईंअब मैंने जोर का झटका लगाया, वो बिस्तर पर गिर गईं और उनकी आँखों से आंसू निकलने बंद नहीं हो रहे थे.

शादी इंदौर में थी। उस शादी में संयोग ऐसे बने कि वर पक्ष से चाची और वधू पक्ष से मैडम दोनों एक जगह टपक पड़ीं और ऐसा हो नहीं सकता कि इनमें से कोई मेरे साथ बिना कुछ किए रह सके!मैंने तो जाते ही साफ़ साफ़ बोल दिया- ना! मतलब कुछ नहीं होगा. अलका ने कॉफ़ी मग के पास नाक ला कर दो तीन गहरी गहरी सांसें लीं- हूँ… खुशबू तो बढ़िया है इस ब्रांडी की… आइये लेखक साहिब आराम से बैठ कर कॉफ़ी पीते हैं. भाभी ने अपने पैर फैला लिए थे, जिससे अब उनकी चूत की लाइन साफ़ साफ़ नज़र आने लगी थी.

फिर वो अपने स्कूल बैग को उठाने वाली थी, तब बापू ने इशारे से उसको अपने गोद में बैठने को कहा. फिर लौड़ा पकड़कर उसकी चुत के छेद पर तेजी से धकेला तो लगभग 3 इंच लंड घुस गया. उन्होंने सिगरेट का कश मारा और मैंने एक लंड फंसा कर एक धक्का दे मारा.

उसने देर न करते हुए अपनी उंगलियों को पद्मिनी की पेंटी पर ठीक चूत के पास फेरा. जैसे ही मैंने उसकी चूत पर हाथ लगाया तो वो चिहुँक उठी और मेरा हाथ पकड़ कर दूर करके फुसफुसा कर बोली- दीदी जग जाएगी.

मुझे यह जान के बहुत खुशी हुई और आप सबने जो मुझे मेल किये, सबके मेल का भी बहुत बहुत शुक्रिया। आप सब के इसी सहयोग से अब मैं अपनी एक और नई और सच्ची कहानी के साथ हाज़िर हुआ हूं। मुझे पूरी आशा है कि मेरी यह कहानी भी आपक सब पाठकों को पसंद आयेगी. जब भाभी को नीचे उतारा तो मैंने कहा- भाभी ब्रा भी उतार दूँ?वे बोली- जो करना है कर लो, बस मुझे दर्द से आराम दिला दो. मेरे ऐसे देखने से उसे शर्म आती गयी और उसने अपने हाथों से अपने चेहरे को छुपा लिया.

मैं भी उसके मूसल लंड से हिल हिल कर और चुत को उछाल उछाल कर चुदती थी.

इसी सास ने अपने लड़के को बहुत ही भड़काया था और मेरी एक ना सुनी कि उसने मेरे साथ क्या करवा दिया. और राशिद दोनों हाथों से उसे नीचे से ऊपर सहला रहा था, उसके दूध दबा रहा था और बारी-बारी एक-एक दूध पी रहा था।फिर दोनों के चेहरे मिले और दोनों एक दूसरे के होंठ चूसने लगे. वो मेरे लंड को बड़े आश्चर्य से देख रही थी और उसे हिला कर जोर से पकड़ कर देख रही थी.

मैंने- इसके लिए पैसे भी बहुत लगते हैं और वैसे भी मैं बॉडी मसाज करके ही खुश हूँ. लेकिन अब डर लगने लगा है कि दूसरा पति भी अगर मुझे ऐसा ही मिला तो? दूसरी बात यह कि मैं यहीं इसी घर में रहकर किसी गैर लड़के को पटा कर अपनी यौनवासना ठंडी कर लूं लेकिन इसमें बदनाम हो सकती हूँ और कोई लड़का मुझे ब्लैकमेल भी कर सकता है.

उसके होंठों पर मुस्कराहट थी लेकिन मैं इस वक़्त सिर्फ अपने मज़े पर एकाग्र होना चाह रही थी।थप-थप का एक कर्णप्रिय संगीत कमरे में पंखे की आवाज़ के साथ मिक्स हो कर गूंजता रहा और मैं जन्नत की सैर करती रही। नशे से मेरी आँखें तक मुंद गयीं थीं।थोड़ी देर बाद यह सिलसिला फिर थमा और राशिद मुझसे अलग हो गया। वह बेड से नीचे उतर गया और अहाना को चित लिटा कर उसे एकदम किनारे खींच लिया, उस दिन की तरह. मैंने कहा- ये तो बहुत देर से तड़फ रहा है, अब बस इसे प्यार कर लेने दो और इसे वो सब कुछ दे दो, जो ये चाहता है. उसके बाद मैं वहाँ से जाने लगा और उनकी देवरानी, जिसका नाम सरोज था उसको बोलकर निकलने लगा.

सेक्ससक्स

राज ने मुझे चूमते हुए खाट पर लेटा दिया, उसका बड़ा सा लंड मेरी बेचारी सी चूत के पास ही था, वो मेरी चूत को किस करता हुआ उसके अंदर प्रवेश करने लगा.

आर्थर खुश होकर उसके कहे के अनुसार करने लगा लेकिन इस बार बहुत धीरे-धीरे… उसने अपने गर्दभ लंड को मेरी जीवनसंगिनी की गांड में घुसेड़ कर मशीन की सुई की तरह शार्ट धक्के लगाने शुरू कर दिए. तब मैंने देखा कि माँ और बाप दोनों ही नंगे थे और बाप का मूतने वाला (लंड) खड़ा हुआ था और बहुत लंबा और मोटा भी हो चुका था. वासना के कारण उसकी चूत से रस निकलने लगा था, उसकी सलवार गीली सी हो चली थी.

तभी मैंने अपने लंड को ज्योति की चूत से बिना निकाले पूरा खींच लिया और पूरी ताकत से एक और जोरदार धक्का लगा दिया, जिससे मेरा लंड ज्योति की चूत में 7 इंच तक घुस गया ज्योति एकदम से तड़फ उठी लेकिन वो कुछ कर न सकी. मैंने ज्यादा देर न करते हुए अपने लंड को उसकी चूत के अंदर डाला और फटाफट चुदाई शुरू कर दी. க்ஸ்க்ஸ்க்ஸ் விதேஒஸ்मैं उससे कुछ बोलता, उससे पहले कॉल पर काजल बोली कि यार तुम 12 बजे के बाद आना, अभी मैं पापा के साथ कहीं जा रही हूँ, बाद में बताती हूँ.

मैंने तुरंत उसको 69 की पोजीशन में लिटाया और उसकी चिकनी चूत को चाटने लगा. भाभी- डाल भी दो अब अपना लंड… मेरी रंडी चुत में… फाड़ दे इसे… अपनी रंडी की तरह चोद मुझे… बुझा दे मेरी प्यास को…मैंने देर ना करते हुए अपना लंड एक जोरदार धक्के के साथ उनकी चूत में पेल दिया.

मैंने उससे पूछा- अच्छा बताओ तुम्हारा दूध इतना बड़ा बड़ा कैसे और इतना टाईट कैसे?तब उसने कहा- मेरे पड़ोस में एक दोस्त है, उसी ने मुझे एक दवा बताई, मैं वो यूज़ करने लगी, तब से मेरे ये दूध बड़े हो गए, उससे पहले मेरे छोटे छोटे दूध थे और मेरे ऊपर कोई कपड़ा नहीं सेट होता था. मैं तो तुम्हें इसलिए इतने पैसे दे रहा हूँ क्योंकि तुम्हारी चुत अभी तक सिर्फ़ मेरे से ही चुदी है. यह सुन कर मैं बिल्कुल चुप हो गई क्योंकि अब कुछ बोलने को बाकी ही नहीं बचा था.

उनकी गोरी टांगें एकदम खुली हुई थीं और वो आदमी भाभी के ऊपर चढ़ कर उनकी चूत में अपना लंड डाले हुए धकापेल चुदाई कर रहा था. उनकी चूचियों की मनमोहक खुशबू मेरे नाक से होते हुए मेरे पूरे जिस्म में फैल गई. ऊपर दिनेश ने अब मेरे एक दूध को पकड़कर इतने जोर से दबा दिया कि मेरी चीख निकल गई.

जब मैंने उसको देखा तो वो कोई 50 साल का बुड्डा होगा, मुझे डर लगने लगा और मैं वहाँ से हट कर दूसरी जगह खड़ा हो गया और अपने काम पर चला गया.

मैं पूरे जोश में भाभी को चोद रहा था और वो भी पूरा साथ देते हुए चुद रही थीं. और क्या हाल है नताशा डार्लिंग?” मैंने नताशा से उसका आगे का प्रोग्राम जानने की गरज से पूछा.

फिर दूसरा बोला- हम दोनों को आपकी चुत मारनी है, अगर आपने मना किया तो हम ये वीडियो नेट पर डाल देंगे. उस टाइम मैंने सरोज को देखा पटियाला सूट में एकदम कमाल की अप्सरा सी लग रही थी. पहले दोस्त को बुलाएगा फिर साथ में दोस्त की लुगाई को खुद के लंड के लिए बुला लेगा.

उसके बाद उन दोनों को मैंने अपने मोटर साईकिल से उनके घर के पास तक छोड़ दिया, उसके बाद मैं अपने दोस्तों को लेकर घर चला आया. वासना के कारण उसकी चूत से रस निकलने लगा था, उसकी सलवार गीली सी हो चली थी. तब वो बोली- अब देर मत करो, मैं बहुत दिनों से इस चीज के लिए तरस रही हूँ.

सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो जैसे ही मैं कुतिया बनी, उसने अपना मूसल मेरी चुत में घुसेड़ कर और मेरे ऊपर चढ़ते हुए मम्मों को निचोड़ना शुरू कर दिया. मैं अपना एक हाथ उसकी स्कर्ट में डालते हुए उसकी चूत पर पहुँच गया था.

गोडी गाना dj

पूरे परिवार को दिखाऊँगा।मैं- वह चूँकि हम हैं इसलिये हम समझ सकते हैं लेकिन इतनी कम रोशनी में यह कौन हैं क्या है, कोई नहीं समझ पायेगा।समर- ढक्कन. तो किसी-किसी टाईम उसकी मुनिया में अंदर की तरफ बड़े जोर की खुजली मचती है, इतनी तेज कि लड़की परेशान हो जाती है।”भक्क. मैंने पूछा- कैसा लगा?तो उसने जवाब में मुझे किस करना शुरू कर दिया और मुझसे चिपकने लगी.

अलका ने एक छोटा सा पजामा, जो उसके घुटनों के तीन या चार इंच नीचे तक था, पहना हुआ था. चूत के नाम पर लंड अकड़ गया तो मुझे मुठ मार कर लंड की अकड़न समाप्त करनी पड़ी. गुजराती वीडियो सेक्सी पिक्चरवो मुझे बोल रहा था- तुम्हारे साथ एन्जॉय करने में अलग मजा है!और वो बोल रहा था- तुम मेरे एक फ्रेंड से भी चुदवाओगी.

फिर जब मेरी गर्लफ्रेंड को लंड देखने की इच्छा हुई और मैंने उसकी इच्छा कैसे पूरी की.

दो दिन पहले उसका फोन आया कि वो वापिस आ गई है और मुझे मेरी माँगी चुत को ले कर आएगी. उसके बाद मैंने उनके गले पे किस किया और धीरे धीरे ऊपर आते हुए भाभी के होठों को चूसने लगा.

मगर लंड की अपनी ही महानता है, इसके बिना चूत भी अधूरी रहती है और उसको पाने के लिए रोती है. उसने उसकी चुत को खोल खोल कर देखा और इसी बहाने वो अपना मुँह उसकी चूत के पास ले जाता था, जिससे फिल्म में लगे कि जो बनाई जा रही थी कि वो चूस रहा है. ये नाम मैंने प्यार से रखा है, वैसे उसका नाम कुछ दूसरा है… जो मैं लिखना नहीं चाहता.

जैसे ही मैं बाजार से वापस आया तो मैंने सीधे अपने कमरे में जाकर आंटी की नाम की मुठ मारी.

कुछ दस मिनट में जैसे ही पतली ने पानी छोड़ा, मैंने लिंग निकाला और मोटी को अपनी ओर खींचते हुए उसकी योनि में लंड घुसाकर पेलने लगा. तो मैंने कहा- इनके भूत के साथ कहीं आपकी चुड़ैल तो नहीं जागेगी ना?मैडम बोलीं- नहीं, अभी तो नहीं! बस देखते हैं कि कब तक शांत रहती है. जब मैं लौट रहा था पोखर की ओर तो अपना अंडरवियर कंधे पर रखे था पीछे से भाई साहब भी चले आ रहे थे, पास आए तो देखा कि उनका भी अंडरवियर कंधे पर था, मेरी तरह नंगे थे एक और खास बात थी कि उनका नौ इंची का मस्त लंड खड़ा था, टनटना रहा था मतलब ऊपर नीचे हो रहा था.

सेवानिवृत्ति पर बधाई संदेश हिंदी मेंकाजल ने माधुरी को इशारा किया तो वो हँसते हुए काजल की पीठ पर हाथ मारते हुए बोली- मेरी जान तेरी सुहागसेज तैयार है. ऐसे कोई तीन चार मिनट तक मेरी बहू अपने ससुर से चुदाई का मज़ा लेती रही, फिर …पापा जी, अब मैं आपके ऊपर आऊँगी.

सोनम कपूर का सेक्स

दोस्तो उस समय मैं केवल टावेल में था, मेरा सीना खुला हुआ था और भाभी के पीठ से चिपका हुआ था. फिर एक दिन जब मैं दिन के समय बाहर बैठा था और उनके सोने का इंतजार कर रहा था. मेरे ऐसा करने से वो तड़प रही थी और मुँह से आवाजें निकाल रही थी- आआह.

मैं उसकी जीभ पीने लगा और मैंने उसके गले को चाटना से काटना शुरू कर दिया. और वो रमेश को बोली- बाहर आकर आराम से पलंग पे चोदो इस लोंडिया को… और भैया इसका बदला मुझ से लेंगे. फिर धीरे धीरे उन्होंने बताया कि अब उनके पति ज़्यादा सेक्स नहीं करते, वे हमेशा काम में बिज़ी रहते हैं.

उसकी चूत का पानी निकल कर बाहर आ रहा था, जो मैं चप चप करते हुए पी रहा था. मैं भी एक हाथ से उसकी चूत में उंगलियां कर रहा था और दूसरे हाथ से उसके सर को पकड़ कर जमकर किस कर रहा था. मुझे उनकी इस बात से चिढ़ सी हुई और मैं नाराजगी के स्वर में बोला- ठीक है.

उसी दिन शाम को मुझे अंजान नंबर से मैसेज आया- हाय…तो मैंने वापिस मैसेज किया- हैलो…फिर मालूम हुआ कि ये उन्हीं भाबी जी का मैसेज था तो बस ऐसे हाय हैलो करते करते हमारी बात शुरू हुई. कुछ देर बाद तक, जब वो अलग अलग ना होने पाए तो मैंने देखा कि वो चुपचाप खड़े हो गए.

फिर मैंने एक हाथ उनके नीचे डाल कर उनके साड़ी को ऊपर कर दिया तो पाया कि उन्होंने पेंटी नहीं पहन रखी थी और वो एकदम नंगी थीं.

इसी बीच गर्मियों की छुट्टियां आ गयीं और इनके सास-ससुर अपने पोते यानि कि सुकन्या जी के बेटे को लेकर गाँव चले गए. sexx फिल्मदूसरी तरफ मैं भी शादीशुदा था, मगर मैं अपनी सेक्स लाइफ से काफी संतुष्ट था. छोटी सी बच्ची की सेक्सीमैंने धीरे से उनकी सलवार भी खोल दी और पेंटी को भी उसके साथ ही उतार दिया. मैं उसकी चूत में उंगली कर करके चूत के दाने को जीभ से चाटता रहा और करीब दस मिनट बाद उसका बदन एकदम अकड़ने लगा.

वो सोफे पे अपने चौड़े से तशरीफों को रखते हुए बोलीं- तुम्हारी ये ईदी मुझे पंसद आई.

मैंने भी उसे लन्ड चूसने के लिए ज्यादा जोर देना ठीक नहीं समझा और मैं फिर से उसकी चुत चाटने लगा. मैंने उसके होंठों को चूमा जो काफी रसीले थे, उसकी गर्दन पर किस किया. एक बात और सुन लो अगर मैं अपनी औकात पर आ गई ना तो फिर तुम भी बच नहीं पाओगे.

तब मामी बोलीं- कहा था ना… आई ट्रेन पटरी पर?तो मैं बोला- ट्रेन तो बनी ही इसीलिए है!उन्होंने मेरा लिंग पकड़ा और अपने मुंह में डालने से पहले बोलीं- अब देखें भी कितनी लंबी दूरी तय करती है तुम्ही ये ट्रेन!और लिंग के सुपारे को खोलकर उस पर अपनी जीभ घुमाने लगीं जिससे मुझे कुछ ज्यादा ही मजा आने लगा. मैं इस वक्त उसके ऊपर इस तरह से लदा हुआ था कि नीचे से उसकी चूत में मेरा लंड हाहाकार मचा रहा था और ऊपर उसके थन मेरे होंठों का शिकार बने हुए थे. मैंने कहा- और नहीं तो क्या… पता है फूफा जी, जब आपका लंड पहली बार मेरी चूत में घुसा था तो मुझे कितना दर्द हुआ था… दर्द के मारे मेरी तो जान ही निकलने वाली थी, उस वक़्त तो मैं ज़ोर से चिल्लाने वाली थी.

xxx कहानीया

मनोहर ने अपना आधा लंड चूत से निकाला और मेरी चूत खोल कर देख कर अपनी उंगली मेरी चूत में डाल कर बोला कि हां थोड़ा बहुत खून निकला है क्योंकि ये वन्द्या नई लड़की है, कम उम्र की है और वो मर्द ही कैसा, जो लड़की की चूत से खून ना निकाले. एक निपुण मूर्तिकार द्वारा घड़ी गयी किसी हसीन मूर्ति सी पतली कमर, उसके नीचे ग्रेसफुली फैलता हुआ नितम्ब तक का बदन, फिर उतना ही ग्रेसफुली टांगों तक जाता हुआ साटिन सा चिकना शरीर. मैं मेडिकल स्टोर से नींद की गोली ले आया और शाम को मौसमी के जूस में डाल कर सबको पिला दिया.

फिर भी करीब 5 मिनट तक दोनों चूचियों को अपने प्यारे भाई के मुँह में दिए रही और जब बर्दाश्त से बाहर हो गया तो बोली- अब फिर कभी चूस लेना भाईजान.

मैं बोली- तुम्हें दूल्हा बनना है, तो तुम अपने अच्छे कपड़े पहन लेना और अच्छे से तैयार हो जाओ.

फिर एक दिन शाम को मैं अपनी बाइक से कुछ सामान लेने बाहर गया और वो मुझे सामने से आती हुई दिखीं, बाहर की सड़क पर कोई नहीं था और वो भी अकेली थीं. आऽऽह… आ…धीरे… आऽऽह… हां… आऽऽह… जोर से…मेरे मुँह से भी आह उम्म्ह की आवाजें निकल रही थी। मेरे धक्के बढ़ते जा रहे थे, चाची भी अपनी गांड हिला हिला कर मेरा साथ दे रही थी।थोड़ी देर बाद चाची ने मुझे कस के पकड़ा और बोली- मेरा हो गया!पर मैं लगा रहा. कल्याण राजधानी चाटमनोरमा ने चुत की पंखुड़ियों को खोल कर दिखाना शुरू किया और गीता से कहा कि ऐसे करने से लंड में खून खौलने लगता है.

उस दिन कुछ नहीं हुआ।अगली शाम हम साथ में बैठ कर भुट्टे खा रहे थे, तभी उसने मुझे चिमटी काट ली, बदले में मैंने भी उसको चिमटी काट ली. हमने अपने मोबाइल नंबर एक दूसरे को दिए और इस तरह बातें करते करते शहर पहुंच गए. मेरे रूम पे आते ही उसने इशारे से मुझे पास बुलाया, मैं उससे कुछ पूछता, उससे पहले ही उसने कहा- वाशरूम में छिपकली है, मैं कपड़े कैसे चेंज करूं?मुझे उसकी बचकानी बात पर हसीं और प्यार दोनों आ रहा था.

उनके मम्मों के उठान और गांड को देखकर कोई भी पागल हो ही जाएगा क्योंकि उनके फिगर का साईज़ कुछ 38-34-40 के करीब होगा. स्पीड धीरे-धीरे बढ़ने लगी।लेकिन थोड़ी देर में ही नितिन आ धमका और मुझे अपना लिंग निकालना पड़ा।अब मैं किसी अंग्रेज़ की तरह वापस उसे नहीं चुसा सकता था, पता चलता कि वक़्त से पहले ही खलास हो जाता.

उसके होंठों और चूचियों को चूसने लगा मैं!5 मिनट बाद जब वो नॉर्मल हुई तो फिर होंठ चूसते हुए मैंने एक तेज धक्का लगा दिया.

फिर एक दिन मुझे पता चला कि वो फेसबुक पर है, मैंने उसे फेसबुक पर फ्रेंड बना लिया. मैंने रेखा रानी के निश्चल से निढाल शरीर को उठाकर अपनी बगल में लिटा दिया और खुद करवट लेकर उसकी तरफ मुंह करके लेट गया. डिनर के बाद जैसे ही कमरे में गए तो मैंने तीन चार घंटों से अकड़े लौड़े की वजह सेटट्टों मेंहोते हुएदर्द से विचलित होकर जूसी रानी की जम के चुदाई की.

हिंदी सेक्स फिल्म सेक्स फिल्म मैंने पीछे से ही उनके दोनों तरफ से अपने हाथ ले जाकर उनके हाथों को नीचे कर दिया, जिससे वो पलट कर मेरे सीने से चिपक गईं. अंकल बोले- मस्त लन्ड है रे तेरा!फिर मैंने एक और जोर का धक्का लगाया, इस बार लन्ड पूरा अंदर चला गया.

पर मैं बहुत परेशान थी क्योंकि मैंने अपने पति के अलावा किसी को अपने पास भी नहीं आने दिया. इस बार उसने नॉर्मल पोज़िशन में ही लंड पर कंडोम चढ़ाया और मुँह में कंडोम के ऊपर से ही लेकर लंड चूसने लगी. मेरे अंदर ऐसी फीलिंग आ रही थी जैसे मेरा दम घुटने वाला हो, एक गंदी सी बेचैनी होने लगी।मैंने गगन से कहा- मैं जा रहा हूं, फिर किसी दिन आऊंगा!कहकर मैं रूम से बाहर आ गया.

साली की चुदाई कहानी

यह कहते हुए दोनों ऐसे ही अगल बगल आ कर मेरे निप्पल और पेट पर किस करके नहाने लगीं. एक से ही हम दोनों पियें तो?सोनू का लौड़ा फनफना के खड़ा हो चुका था, उसने अंडरवियर नहीं पहना था तो मैं साफ़ देख के महसूस कर पा रही थी सोनू के लन्ड को!मैं समझ गयी कि बेटा अब गर्म हो रहा था. उसका 34-30-32 का फिगर मेरे लंड में हलचल पैदा कर रहा था, मुझे बार बार यही ख़याल आ रहा था कि वह अपनी चूचियाँ और गांड हिलाते हुए कैसे चुद रही होगी.

मैं भी उससे चुदवा कर खुश थी, मैं उसको बोली- मैं भी चुदवाना चाहती थी. अब मैं एक हाथ से ज्योति का बांयाँ बूब दबाने लगा और दूसरे बूब को मुँह में लेकर चूसने लगा.

हम वो सच में कब करेंगे?उसने कहा- जल्दी ही…उसने फ़ोन पर गुड नाईट कहा और फ़ोन रख दिया.

राज शॉट पे शॉट मारता चला गया और मधु उस जोरदार चुदाई का मजा लेने लगी. अब सोनू मेरी गांड मारते हुए मुझसे बोला- मम्मी, तू मुझे बहुत पसंद है. आप सबको लग रहा होगा कि कम्मो का क्या हुआ उसे मोबाइल दिलवाया कि नहीं.

उस नाइट में मेरा फ्रेंड अपने फ्रेंड को मेरे घर ले कर आ गया और मेरी वाइफ को बोला- देख लो भाभी… ये मेरा फ्रेंड है. मैंने अपनी दोनों बहनों को कपड़े दिला दिए और अपना जो शादी के लिए जरूरी सामान लेना था, वो भी ले लिया और घर आ गये।और फिर शादी की रात जब मेरे चाचा का बेटाअपनी सुहागरात मना रहा थातभी हम तीनों भाई बहन मिल कर अपनी दूसरी सुहागरात मना रहे थे।अब मैं 19 साल का हूँ और कामिनी की शादी हो चुकी है लेकिन जब भी वो हमारे घर आती है हम दोनों चुदाई जरूर करते हैं और खूब मजा करते हैं. तो मीठे से जैसे उन्हें कुछ याद आया और कहा कि परसों ईद है, तो तुम्हारा परसों का खाना हमारे घर पे ही होगा.

मेरी टांगों के बीच आकर उन्होंने मेरे पैरों को घुटनों के पास से मोड़कर मेरे पेट की ओर किया.

सेक्सी बीएफ जानवर का वीडियो: आंटी ने कहा- देखो बेटा, तुम मेरे बेटे जैसे हो इसलिए तुम्हें समझा रही हूं, हस्तमैथुन मत किया करो. लेकिन मेरा अभी बाकी था, तो उन्होंने बोला- तुम नीचे हो जाओ, मैं ऊपर आती हूँ.

मैं उनके रूम की खिड़की के पास चली गई, जो पूरी खुली थी और उस पर पर्दा लगा हुआ था. मैं भैया की शादी से 2 महीने पहले ही अहमदाबाद आया था क्योंकि एग्जाम होने वाले थे. इसके बाद मैंने उसके टॉप में हाथ डाला और उसकी चूचियों को सहलाने लगा.

लालजी बोला कि पहले यह बताओ कि पीयूष क्या बनेगा?तो मैं बोली- यह देवर बन जाएगा.

फिर मैंने एक हाथ उनके नीचे डाल कर उनके साड़ी को ऊपर कर दिया तो पाया कि उन्होंने पेंटी नहीं पहन रखी थी और वो एकदम नंगी थीं. ऐसा लग रहा था मानो उनके गोरे चुचे सामने से दावत दे रहे हों कि आओ और हमको खा जाओ. वो अपने हाथों के नाखून मेरे पीठ पे गड़ाने लगीं, जिसके कारण मुझे दर्द भी हो रहा था, लेकिन उस समय उस दर्द का भी अपना मजा था.