एचडी की बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,वीडियो सॉन्ग सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स वीडियो नंगी पिक्चर: एचडी की बीएफ सेक्सी, मैंने अपनी आँखें बंद कर ली और बोला- फिर?विनय- तुम्हारे होंठों का रस पीना चाहता हूँ.

हिंदी मराठी बीपी पिक्चर

अब जल्दी से अपने लंड को मेरी गांड में डालो।उसने अपने लंड को गांड पर रखा. क्सक्सक्स पॉर्न व्हिडिओसदूसरी तरफ ये भी लग रहा था कि घर में ही माँ की दबी हुई वासना को शांत करके ठीक किया.

दोनों उरोजों के बीच की घाटी को चूमा-चाटा पर सब्र कहाँ?हम लोग बड़ी ही असुविधजनक स्थिति में बैठे थे लेकिन परवाह किस को थी. बहन चुदाईफिर मैंने उसकी गांड पर जोर से एक थप्पड़ लगाया, जिससे उसने अपनी गांड को लंड की तरफ जैसे सरका दिया हो.

मुझे उसका लंड काफ़ी सॉफ्ट सा लग रहा था। लौड़ा रगड़ते हुए उसने लंड को एक जगह पर रोक दिया.एचडी की बीएफ सेक्सी: आह चोद और सुन, आज का पूरा दिन और पूरी रात हम दोनों को नंगा ही रहना है.

फिर 28 अक्तूबर, 2016 को मुझे दिन में एक मैसेज मिला कि तुम आज रात क्या कर रहे हो?मैं- कुछ ख़ास नहीं लेकिन अगर आप चाहो तो मैं आपके लिए कुछ भी कर सकता हूँ.अब मेरी हालत तो खराब हो गयी, मैं अपना लन्ड पारुल की चूत में जल्दी से जल्दी डालना चाहता था.

पति पत्नी की चोदा चोदी - एचडी की बीएफ सेक्सी

मुझको कुछ गड़बड़ लगा, फिर दिल मानने को तैयार नहीं हुआ, मैं गाड़ी के पीछे पीछे चलने लगा.जब अंजलि ने मुझे कमरे से गायब पाया तो उसने मुझे आवाज लगाई- अंकित भाई कहाँ हो? आ जाओ, चाय ठण्डी हो जायेगी.

उन दोनों में से एक बीच वाली साली से मेरी कुछ ज्यादा ही बातचीत होती रहती है. एचडी की बीएफ सेक्सी मैंने धीरे से अपना लंड बाहर निकाला और हाथ से पकड़ कर धीरे से सुपारा मॉम की दोनों जांघ के बीच में लगा कर पीछे से बुर की फांकों के ऊपर लगा दिया.

मैंने उनको उल्टा किया और टांगों को बिस्तर से नीचे करके खुद नीचे आ गया.

एचडी की बीएफ सेक्सी?

मैं आंटी को उलटा लेटा कर उनकी गांड में लंड डालने लगा और कुछ ही दर्द के बाद मेरा पूरा लंड आंटी की गांड में हाहाकार मचाने लगा. मैं तो एक को मुँह में ले कर चूसने लगा और दूसरे को अपने हाथ से मीसने में व्यस्त हो गया. उसके गाल एकदम मस्त चिकने थे, मैं जब उसको चूमता था तो उसके गालों को काट खाने का मन होता था.

अब मैं आप लोगों को अपनी सहेली के बारे में बता दूँ… मेरी सहेली का नाम रानी है, उसके बूब्ज मस्त और गोल हैं. रास्ते में मैंने सोचा कि क्यों ना निशा का मूड ठीक करने के लिए शाम को कुछ सरप्राइज़ दूँ. चड्डी उतारते ही मेरा 5″ लंबा और 3″ मोटा लंड उसके होंठों को छूता हुआ उसकी नाक पर लगा.

उन्होंने मुझे 3-4 थैले पकड़ा दिए और कहा कि आप देख लीजिये, मैं अपनी समझ में सही लाई हूँ. करीब 10 मिनट बाद भाभी का शरीर अकड़ने लगा और चीखती हुई झड़ गयी, और मैंने भाभी की चुत का सारा रस पी लिया जो बहुत ही टेस्टी था. मैं अगले दिन का वेट करने लगा और सुबह हुई तो मैंने जल्दी से रेडी होकर गुंजन को कॉल किया.

चाची ने मुझे उनके मम्मों को देखते हुए कई बार नोटिस किया, उनके लबों पर हल्की सी मुस्कान थी लेकिन कुछ नहीं बोली, बस अपना दुपट्टा ठीक कर लिया. अब दीदी हल्की हल्की आह आह की आवाज़ के साथ अपनी उंगलियों से अपनी चुत को चोदे जा रही थीं.

मैंने कुछ दिन बाद जब उससे उसकी चूत की फ़ोटो मांगी तो उसने ये कहते हुए मना कर दिया कि मुझे शर्म आती है.

हालांकि मुझे उनकी गांड तो दिख ही गई और मुड़ते हुए मैंने उनकी जंगली बालों वाली अद्भुत चूत भी देख ली.

आंटी हंस दीं और बोलीं- सच में उसी दिन मैंने भी सोच लिया था कि तेरे लंड से ही अपनी चुत की खुजली मिटवाऊंगी. इसी तरह एक दिन वो मेरे बाजू में बैठ कर मुझसे बातें कर रही थी और मम्मी किचन में खाना बना रही थीं. 15 मिनट बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए, मैंने पूरा माल बाहर उसके पेट पर गिरा दिया और उसकी चूत का पूरा पानी पी गया।घर में कोई था नहीं और किसी के आने का डर भी नहीं था तो हम तीनों नंगे ही सो गए। जब अगल बगल में दो दोनंगी खूबसूरत लड़कियांहो तो सोने का अलग ही आनन्द मिलता है, ये मुझे उस दिन पता चला।कब नींद लगी, कोई होश नहीं था, नींद खुली तो जूही मस्त ठंडा शर्बत बना रही थी.

जिस दिन चाचा जी को जाना था, तो उन्होंने मेरे घर फोन किया कि आज घर पर चाची और बेटा अकेले हैं तो आज हार्दिक को बोल दो कि वो इधर ही सो जाएगा. मैं खड़े होकर उन दोनों को देखने लगा, वो दोनों एक दूसरे से लिपटे हुए थे, वो कामिनी की चुची सहला रहा था, कामिनी उसको किस कर रही थी, वो दोनों इसी तरह लिपटे चिपटे रहे और करीब 15 मिनट के बाद गाड़ी से उतर कर मॉल में चले गए. मैं मासूम सी शक्ल बना कर बोली- सर मैं ज़रूर आ जाऊंगी, अगर ज़रूरत पड़ी तो पूरी रात भर भी रह लूँगी, मगर आप मेरे भाई का काम तो कर देंगे ना?पूरी रात रुकने का नाम सुन कर वो अपना लंड सहलाता हुआ बोला- हां क्यों नहीं.

अब विनय ने मेरा सिर पकड़ लिया और एक झटके में लंड को मेरे गले तक पेल दिया, जिससे मुझे खांसी आ गई.

दस मिनट बैठने के बाद मैंने उससे कहा- जल्दी चलो वरना मम्मी उठ गईं तो प्राब्लम हो जाएगी. पर एक बार की बातों में उसके साथ उस तरह की बातें हुईं, जो उससे पहले कभी नहीं हुई थीं. भाई का लन्ड अब्बू के लन्ड से छोटा था तो मुझे अब्बू के लन्ड से चुदने की इच्छा ज्यादा थी, पर अब्बू के लन्ड पर आज अम्मी मुँह मार के बैठी थी।भाई लगातार मेरे बूब्स दबा रहा था.

लेकिन अभी भी डर ये था कि कहीं ये गुस्सा न हो जाए, इसलिए मैंने होंठों पे किस नहीं किया. नैना को पता था कि मैं ऑफिस में कंप्यूटर पर काम करता हूँ और मुझे कंप्यूटर की जानकारी है, तो वो मुझसे कहने लगी कि उसको भी कंप्यूटर सीखना है. जैसे ही लंड मेरे होठों को रगड़ा, उसके टच करने से गरम गरम उसकी छुअन से मुझे बहुत मस्त अजीब सा लगा और मैंने अपने हाथ से उसका लन्ड पकड़ कर मुंह में भर लिया और चूसने लगी लन्ड!बालू का लन्ड बहुत बड़ा नहीं है इसलिए आराम से मुंह में पूरा घुसा दिया और मैं चूसने लगी, चाटने लगी.

अचानक एक दिन बातों बातों में उसने बताया कि उसकी रूममेट कुछ दिन के लिए अपने घर चली गई है और वो आजकल बिल्कुल अकेली है.

मेरे दिमाग में काम करना बंद कर दिया, मेरी बीवी गैर मर्द की बांहों में थी. इसके बाद हम पीवीआर में गए, वहां हमने मूवी देखी, इसके बाद हमने एक होटल में रूम बुक किया और हम दोनों कमरे में पहुँच गए.

एचडी की बीएफ सेक्सी कुछ मिनट के बाद मैंने माँ को अपने नीचे लेटा लिया और उनकी जी स्ट्रिंग पेंटी उतार कर मम्मी की मदमस्त चूत पर अपनी जुबान फेरना शुरू कर दी. मैंने पैंटी नहीं पहनी थी तो मेरी चूत नंगी सामने आ गई जिसे जमाई जी शीशे में देख रहे थे.

एचडी की बीएफ सेक्सी उसके बाद मेरी सौतेली मां का सगा बेटा किसी लड़की के साथ शादी करके कनाडा चला गया अपनी माँ को छोड़ कर!अब आगे. वीरवार रात को निकलना था, शुक्रवार सारा दिन चढ़ाई कर के दर्शन करने थे, शुक्रवार रात वहाँ से वापसी कर के शनिवार सवेरे वापिस घर पहुँच जाना था.

आने वाले चंद घंटे मैं पूर्ण तौर पर आप की अर्धांगिनी की तरह गुज़ारना चाहती हूँ.

सेक्सी ब्लू फिल्म एडल्ट

मैंने विनय का हाथ दबा दिया, जिसे विनय ने भी महसूस किया और बोला- नेहा कल पूरी रात मैं बस तुम्हारे बारे में ही सोचता रहा. मुझे पता तो लग गया था कि ये भी मुझे पसंद करती है, बस आई लव यू बोलना था. थोड़ी देर बाद मैं उठा और निशा से बोला- उठो और अपने आप को साफ़ कर लो.

फिर वो बोली कि आगे भी कुछ करना है या यहीं खड़े खड़े किस ही करते रहोगे. हालाँकि मैं पायल को अक्सर कर चोदता रहता था लेकिन उसका फ़ीगर ही कुछ ऐसा था जिससे वो हर बार बहुत सेक्सी लगती थी और उसे हर बार चोदने का मन करता था. यह चपत वहशियाना नहीं था, इसलिए शायद प्रेरणा को भी पसंद आया और उसने लंड चूसने का अपना सारा अनुभव उस पल उड़ेल देना चाहा।पर इतने वाइल्ड फोरप्ले को मेरा लंड और बर्दाश्त ना कर सका, और लावा उगलने को आतुर होने लगा, मेरे शरीर में कंपकंपी और सिहरन होने लगी, मैंने प्रेरणा के बालों को पकड़ कर उसके सर को अपने लंड में जहाँ तक हो सके दबा लिया और पिचकारी उसके मुंह के अंदर मारने लगा.

पता नहीं क्या जादू था उसमें, जैसे ही वो लंड को गले तक ले जाकर चूसती, हर बार करेंट सा दौड़ जाता.

आज का दिन मैं दिल खोल कर जी लेना चाहती थी क्यूंकि मैं जानती थी, मुझे दूसरा मौका कभी नहीं मिलेगा. मेरा अब भी उससे बात करने को बहुत मन कर रहा था मगर मेरे पास उसका नंबर नहीं था. फिर उन्होंने भी देर नहीं की और चिंटू ने मुझे उनकी गोदी में उठा कर अपने लंड को मेरी चूत में फंसाने लगा.

मैंने करवट ली और सैम के ऊपर पैर रख दिया, जो उसके लंड पर पड़ा और पैर रखने से वो बड़ा होने लगा. उनके द्वारा एकदम से लंड पेल देने से मां की चीख निकल गई और वे एकदम से चिल्लाने लगीं- हाय मर गई… मेरी चूत फट गई आह… निकला लो प्लीज़ तुम्हारा बहुत मोटा लंड है. मैंने बोला- आपका प्यार सच्चा है क्या?उन्होंने बोला- हां, और मैं उससे मिलना चाहती हूँ.

अंत में दो कुर्सियाँ खाली थीं, एक मेरे पति के बगल में और दूसरी भाई साहब के बगल में. मेरे मम्मे अब पूरे संतरे बन चुके थे, निप्पल पूरे बेर की तरह के तन चुके थे.

मेरी भाभी का नाम ज्योति है, उनका रंग दूध की तरह गोरा है, हाइट में वो मेरे कान तक हैं. जिस वक़्त मैं घर पर आई, उस वक़्त भी मैंने पूरी ड्रेस जैकेट और जीन्स के नीचे ही पहन रखी थी. मैंने तुरंत ही एक चूची के निप्पल को अपने होंठों के बीच दबा लिया और चूसने लगा.

कुछ देर बाद चाची बोलीं- एक बात कहूँ आकाश बेटा?मैंने कहा- हां कहिए… ये पूछ क्यों रही हैं?उन्होंने कहा- क्या मैं सच में सुन्दर लग रही थी?मैंने कहा- और नहीं तो क्या… अगर चाचा आपको ऐसे देख लेते तो फिर…इतना कह कर मैं चुप हो गया और हँसने लगा.

और दूसरी तरफ से भाभी भी मुझे भरपूर मजा दे रही थी और मेरे लंड के चमड़े को पीछे खिसका कर आइसक्रीम की तरह सपर सपर करके चाट रही थी और मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं स्वर्ग में आ गया हूँ. और फिर मेरी हिम्मत और बढ़ गयी और फिर मैंने भाभी को सीधे सीधे पकड़ लिया एकदम से… तो फिर भी भाभी ने कुछ नहीं कहा. जो सुख मुझे मेरी सगी बीवी, मेरे बेटे की माँ नहीं दे सकी थी वो सुख उसकी बीवी, मेरी पुत्रवधू… कुलवधू मुझे दे रही थी.

अपना लंड उसके हाथ में देते हुए कहा- क्यों साली साहिबा, क्या इसे लेने का इरादा पक्का कर लिया है. मैंने माँ की सीधा बैठाया और उनको अपने लंड के नीचे लेते हुए उन्हें चित कर दिया.

उसमें वो सिड्यूसिंग वाला सीन आ रहा था तो अचानक मैं चाची की ओर देखने लगा. मैंने उससे पूछा- क्या मेरी बात रवि से हो सकती है?तो उसने मुझसे बोला- वो अभी घर पर नहीं है. जिस तरह कुत्ते कुतिया को चोदते हैं, ठीक उसी तरह से वो मुझे पकर पकर पेल रहे थे.

हिंदी सेक्सी ब्लू पिक्चर मूवी

उसने मुझे फिर से दीवार की तरह मुँह करके खड़ा कर दिया और इस बार उसने मेरी गांड पर थूक लगा कर फिर से लंड टिका दिया.

जो सुख मुझे मेरी सगी बीवी, मेरे बेटे की माँ नहीं दे सकी थी वो सुख उसकी बीवी, मेरी पुत्रवधू… कुलवधू मुझे दे रही थी. दोस्तो, कैसी लगी मेरी हॉट सेक्स स्टोरी?रांड औरतों की कोई जाति नहीं होती. अब मैंने विनय की चड्डी को नीचे कर दिया और उसका 7 इंच का भूरे रंग का लंड मेरे सामने आ गया.

ये सच है कि किसी लड़की की नंगी चूचियों को देखने से ज्यादा उसकी अधनंगी चूचियों को देख कर वासना जागती है. प्रिया को तत्काल इस का भान हुआ और उस ने मेरा हाथ अपने हाथ में जोरों से कस लिया और मेरा हाथ यहाँ वहाँ चूमने लगी. ब्लू पिक्चर आजाकुछ ही देर में मैंने उसको भी पूरा नंगा करके मैं उसके सामने सेक्सी डांस करने लगी.

मेरे घर के थोड़ी दूरी पर मेरी एक फ्रेंड रहती थी, जिसका नाम अदिति (बदला हुआ नाम) था. इतनी देर में वही लम्बी गाड़ी आकर रुकी और मेरी बीवी उसमें बैठ कर निकल गई.

तभी मैंने उसे खड़ा किया और पास में एक बिना हत्थे वाली चेयर पर बैठा दिया. नमस्कार दोस्तो, यह कहानी मेरी मौसी की बेटी की कुंवारी बुर चुदाई की है. कुछ दो मिनट तक धक्के लगने के बाद ही वो झड़ गई और उसका शरीर अकड़ गया, वो उठते हुए मुझसे लिपट कर ‘आआ.

उसने कुछ भी नहीं कहा तो मैं दूसरा हाथ उसकी गांड पे ले गया और गांड मसलने लगा. तभी अचानक बाहर से गाड़ी के हॉर्न की आवाज़ ने पूरे माहौल में डिस्टर्बेंस डाल दिया. मैं उनके होंठों को चूसने लगा, वो पीछे जा कर दीवार से सट गईं मैंने उन्हें जकड़ लिया.

भाभी ने मेरी टांगों में टांगें फंसा लीं और मुझे जरा भी न हिलने दिया.

मैंने उस चीज को हाथ से महसूस किया तो पता चला कि दीदी ने अपनी चुत में एक बैंगन घुसा रखा है जिसको वह अन्दर बाहर कर रही थीं. पर जब से मैं उसकी जिन्दगी में आया हूँ, उसने अपने सारे गलत धंधे बंद कर दिए और अब वो किसी दूसरे घर में रोज काम करके पैसे कमाती है.

प्रिया ने चूस-चूस कर मेरा निचला होंठ सूज़ा दिया था, आवेश में आ कर अपने तीखे नाखूनों से मेरी पीठ पर अनगिनत खूनी लकीरें उकेर दी थी. भाभी खाना बनाने लगी तो मेरे मन में ख्याल आया कि मैं भी भाभी के साथ रसोई में जाता हूँ. अब दीदी ने अपने दोनों हाथों से मेरा सिर पकड़ कर अपने मम्मों में जोर से दबा लिया और मादक सिसकारियां लेने लगीं.

तभी उनका ध्यान मेरी पेंट में बने तम्बू की तरफ गया और वो हंसने लगीं. अब विनय ने मेरा सिर पकड़ लिया और एक झटके में लंड को मेरे गले तक पेल दिया, जिससे मुझे खांसी आ गई. शायद हमें एक दूसरे से उस समय आँखों ही आँखों में प्यार हो गया, पर हम कुछ नहीं बोले.

एचडी की बीएफ सेक्सी मैंने आइसक्रीम को आंटी के चुचों की लाइन में डाल दी और उनके रसभरे मम्मे चाटने लगा. जैसे ही मैंने ये जाना कि अब मुझे चूमना छोड़ देना चाहिए और बाकी चीजों पर ध्यान देना चाहिए, तो मैंने उसके होंठों से धीरे धीरे चूमते हुए कान की ओर अपना रुख मोड़ लिया.

কাজলের সেক্স

मैंने उससे कहा- अगर तू मुझसे ऐसे बात करेगी तो मुझसे बोलना बंद कर दे. जब मैं जवान होने लगी थी, तभी से उनकी निगाहें मेरी तरफ गंदी हवस भरी होने लगी थी. लेकिन पवन ने मेरा हाथ पकड़ लिया और बोला- बेटा, क्या हो रहा है?मैं कुछ बोलता, इससे पहले अजय ने मेरी गांड को मसलना शुरू कर दिया और पवन ने मेरा हाथ अपने लंड पे रखवा दिया, वो मेरे होंठों को चूमने लगा.

मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने कहा कि वो भी सेमिनार अटेंड करने आई है और वो भी किसी को नहीं जानती. दोस्तो, मेरी माँ के साथ सेक्स सम्बन्ध की मेरी रियल स्टोरी कैसी लगी, प्लीज़ रिप्लाई जरूर करना. सेक्सी वीडियो ब्लू पिक्चर भोजपुरीइसके बाद मैंने उसकीगांड और चूतको सुबह 4:00 बजे तक मजा दिया और लिया भी!दोस्तों, आप हैरान होंगे कि एक कुंवारी लड़की ने ऐसे कैसे अपने रूम पर बुला कर चुत चुदाई करवा ली.

उसकी आँखें मेरे उस तम्बू पर पड़ीं और उसकी सौ वाट के बल्ब ऑन होने लगे.

फिर उसकी चूत के छेद में मेरा लंड समाता चला गया और मैं उसकी ज़ोरदार चुदाई करता रहा. सेजल भाभी एक हाथ से नीचे से मेरे लंड की गोटियों को सहला कर जोश में उम्म्ह… अहह… हय… याह…” कह देतीं, तो मैं अपनी स्पीड बढ़ा देता.

यही कारण रहा कि हम दोनों रोज़ रात को एक दूसरे के लिए तड़प तड़प के रह जाते थे. एक दूसरे के मम्मों को दबाना चूचियों को चूसना, चुत चुसवाना और चूसना आम बात हो चली थी. मैं बोली- छोड़ कुत्ते कमीने, मत कर साले, घटिया जीजा, मादरचोद छोड़!जो गालियां आती थी, सब दे डाली और रो भी बहुत रही थी पर जीजा को कोई भी फर्क नहीं पड़ रहा था, वो फिर से अपना लन्ड घुसाने में लग गए.

मेरी साली जिसे मैं एक अनचुदी और सीधी सादी लड़की समझता था, वो ये क्या कर रही है.

नमस्ते दोस्तो, कैसे है आप सब… मेरा नाम समीर है, मैं 25 साल का हूँ और काफी गोरा व दिखने में स्मार्ट और हैंडसम हूँ. मैं जागा तो नंगी भाभी को देखते ही मैंने उन्हें अपनी बांहों में भर लिया और चूमने लगा. वो काफी हॉट कपड़े पहन के जाती और उस जैसी पटाका आइटम को देख मर्द आहें भरा करते.

सेक्स व्हिडीओ थ्रीजीवहाँ पहले रीमा ने पानी दाल दाल कर अपनी गांड धोई, फिर मैंने उस कॉलेज गर्ल की गांड में उंगली डाल कर उसकी गांड अच्छे से साफ़ की. बिंदु बोली- मैं तुम्हारे कहने से इसे छोड़ रही हूँ वरना अभी पुलिस बुला कर इस को अन्दर करवा देती.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स सेक्सी

मैं आने वाले समय से अनजान था कि मेरा क्या होने वाला था!मेरी बीवी की चुदाई की रियल सेक्सी कहानी पर अपने विचार मुझे भेजें![emailprotected]आगे की कहानी :बीवी को उसके बॉस के कमरे में छोड़ा चुदाई के लिए. कमाल की बात ये थी कि उस दौरान हम दोनों मां बेटा के बीच में कोई बातचीत नहीं होती थी और बस खेल खत्म होने के बाद हम दोनों माँ बेटा की तरह सो जाते थे. मैं मीषा की चूत के होंठों को अपनी उँगलियों से खोल कर उसमें जीभ घुसा कर चटाने लगा, जल्द ही मीषा की चूत ने नमकीन पानी छोड़ दिया.

मैंने कहा कि यार जब तुम मुझसे प्यार करती थी तो अब तक बोला क्यों नहीं?परवीन- बस मैं डर रही थी. जैसे ही मुझे पता चला कि रुचिका का ब्रेकअप हो गया और उसके बॉयफ्रेंड की शादी भी हो गई. थोड़ी देर में वो आई तो मैंने आते ही उसे पकड़ लिया और बहुत ज़ोर से हग कर लिया.

तभी प्रिया ने अपने दोनों हाथ मेरी पीठ पर ऐसी सख्ती से जकड़े कि प्रिया का ऊपर वाला धड़ हवा में मेरी छाती के साथ चिपक गया. बस अब मौके का इंतज़ार था कि कब मौका मिले और कब मैं उससे कुछ बात करूँ. मैंने फोन रखा और चूत सहलाते हुए बोल दिया- चल जीतू अब तुम्हारी बारी है.

मैं बोला- सच बताओ, कौन है?मेरी बीवी फिर बोली- कोई नहीं है, मैं सच बोल रही हूँ. मगर मैं कहना चाहती हूँ कि मैं एक शादीशुदा औरत हूँ और अपने घर को और अपने परिवार को सबसे पहले देखना ज़रूरी होता है.

मेरे प्यारे दोस्तो, मैं हार्दिक आप सबके सामने अपनी कहानी लेकर आया हूँ.

मैंने अपनी हथेली को टोपों से थोड़ा नीचे को खिसका लिया और टोपे नीचे को उतरती हुई चूत में फंस गए!नताशा थोड़ी सी कुनमुनाई, लेकिन उसने टोपों को बाहर नहीं निकलने दिया. देसी लंड से चुदाईसलवार-सूट पहनी लड़की में एक अलग ही बात होती है और गांव की लड़की के तो कहने ही क्या। वो पूरी बम पटाखा माल लग रही थी।जैसे ही वो घर के अन्दर आई. एक्स एक्स एचडी सेक्सखैर जैसे ही मैं उनके घर पहुँचा, उन दोनों ने बड़ी ही गर्मजोशी से मेरा स्वागत किया. अपनी मां की इतनी लम्बी चुदाई देख कर मेरा लंड भी दो बार अपना पानी छोड़ चुका था.

निकाल ले अपने लंड को!पर मैंने भाभी की एक बात ना सुनी और भाभी को किस करने लगा.

इससे पहले हम लोग नॉर्मली ही बातें किया करते थे, थोड़ी बहुत मस्ती भी हो जाती थी. पूरे पांच महीने लगे तुझे बिस्तर पर लाने में… मैं भी पक्का चूतनिवास हूँ… हिम्मत नहीं हारी… पीछे पड़ा ही रहा. मैंने कहा- क्या हुआ है तुम्हें, तुम कुछ कहना चाहती हो, तो मेरे छत वाले रूम पर आ सकती हो?उस वक्त लगभग दिन के एक बजे थे.

पिंकी को गुस्सा आने लगा और उसने विक्की को कहा कि हंस क्या रहा है तू, यहीं तुम दोनों में से किसी का भी लंड राहुल सर के लंड से बड़ा होगा तो मैं अपनी क्लिट का दाना दिखा दूँगी. इन दोनों के बाद अभी 2 दर्जन से ज़्यादा लड़के मेरी गांड मारने के लिए खड़े थे. और जब दोनों कमाने लगे तो हम खूब एन्जॉय करते, डांस बार और पब जाने लगे.

चुदाई सेक्स चुदाई

भाभी ने उनकी बहुत सेवा की लेकिन उनको जरा भी आराम नहीं हुआ और इस वजह से वो बहुत दुखी रहने लगी. मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागबॉय से कॉलबॉय का सफर-2में अब तक आपने पढ़ा. हमने शाम को चाइनीज खाया फिर गार्डन में घूमे और रात को 8 बजे घर पर आ गए.

उनकी चूत थोड़ी फूली हुई और एकदम कली जैसी गुलाबी थी, जैसे कोई अधखिला गुलाब हो.

छोड़ो ना… कल रात को इतनी जोर से बजाने के बाद भी तुम्हारा दिल नहीं भरा क्या??मैं- जान, तुम चीज़ ही ऐसी हो कि दिल नहीं भरता.

मैंने भी देर न करते हुए लंड उनके मुँह से निकाला और चूत पर रगड़ने लगा. वो मेरे पैर की मालिश करने लगीं, वो मालिश करते करते मेरे लंड को बार बार देख रही थीं. তামান্না বিএফजब उसके लंड से पानी निकलने वाला था तो उसने मेरे मुँह पर से पट्टी उतार दी और मालूम उसने क्या किया.

उसके बाद रुचिका कालेज चली गई और फिर लगभग एक घन्टे बाद मैं पहुँचा तो रुचिका मुझे देखकर मुस्कराई. फिर जब मैंने उनसे जोर देकर और अपनापन दिखाते हुए कुछ बताने पर जोर दिया. आंटी की कामुक सिसकारियां मुझे और मजे दे रही थीं और मैं भी पूरा होश खोकर उसका बन चुका था.

मैंने दूसरे दोस्त को रूम के लिए बोला और बहुत खोजने के बाद होटल में एक रूम मिला. उन्होंने वह ढेर सारी शॉपिंग की और उसी बन्दे ने अपना कार्ड निकल कर पेमेंट किया और वो निकल कर शॉपर्स स्टॉप के शोरूम में घुस गए.

अब मैंने धीरे से उठकर रूम के नाइट लैंप को बंद कर दिया और वापस अपनी जगह पर आ गया.

मैंने सीधा मॉम की मैक्सी के ऊपर से हाथ घुसाया और उनके मम्मों को सहलाने लगा. कुछ पीएंगी?मैंने कहा- मैं पीती तो नहीं मगर आपको नाराज़ भी नहीं कर सकती इसलिए आप जो कहेंगे मैं करूँगी. मैंने उसके होंठों को चूमते हुए एक और धक्का लगाया, जिससे मेरा पूरा लंड उसकी चूत में चला गया.

सनी लियोन की सेक्सी विडियो फिर जब रुचिका को उसके बॉयफ्रेंड ने शादी के लिए बोला तो पता नहीं क्यों रुचिका ने उसे मना कर दिया. हुआ यूं कि जिस ऑफिस में मैंने ज्वाइन किया, उसी बिल्डिंग में काफ़ी सारे ऑफिस है.

अन्तर्वासना के पाठको, आपको मेरी मॉम के व्यभिचार की यह हिंदी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करके बताएं. फिर हम दोनों उत्तेजना में होंठों को किस करने लगे और मैं उसकी चुचियों को दबाने लगा. कभी उसकी नाइटी घुटनों तक सरका के उसको शूट करता रहा कभी उसका एक पैर ऊपर मोड़ के जिससे उसकी जांघ का कुछ हिस्सा मेरे कैमरे के हिस्से में भी आ जाए.

xxnx हिदी

यह सुन कर मैं थोड़ा घबरा गई, मैंने सर से पूछा- आपने मुझे क्यों बुलाया है?उन्होंने कहा- मैं तुम्हें पास तो कर दूँगा लेकिन मुझे भी कुछ चाहिए. पानी का गिलास मुझे थमाते वक़्त प्रिया के होंठों पर वही ‘मोनालिसा मुस्कान’ देख कर मेरा मन तो कई बार मचला लेकिन क्या करता… वचन-बद्ध था. करीब दस मिनट दीदी की चुदाई में दीदी फिर से झड़ गईं और उनकी चुत में जलन होने लगी, उन्होंने मेरे लंड से खुद की चुत को अलग कर लिया.

वो बस मुस्करा देती हैं और बस इतना ही बोलती हैं कि गिराएगा ही या किसी में बच्चा बनाएगा भी?मैं शर्मा जाता तो वो हंसते हुए कहती हैं- मेरा भी किसी दिन इलाज कर देना अनूप. लंड चुसाई के साथ में उसकी मादक आवाज़ें माहौल को और अधिक कामुक बना रही थीं.

पहले जब मैं हस्तमैथुन करता था तो मैं हर बार बहुत जल्दी ही झड़ जाता था, पर पता नहीं आज क्या हो रहा था.

फिर मैंने अन्दर जाके टकीला की दो 50 एम एल वाले कांच के छोटे वाले गिलास निकाले और विक्की, गोलू को दिए. मैंने लैपटॉप देख कर कहा कि इसे ठीक करने में थोड़ा टाईम लगेगा, इसलिए मैं इसे घर ले जाकर ठीक करता हूँ. मैंने दूसरा ब्रश इस्तेमाल किया, नहाया और रूम में वापस आके कपड़े देखे.

आआआहह… बहुत दिन बाद किसी ने ऐसे मेरी मस्त चूत चूसी है…”क्यों वो नहीं चूसता था?”वो तो बस लंड अन्दर डाल के चोदना शुरू कर देते थे… जल्दी से सीधे चोद देते थे… ऐसे मस्ती नहीं करते थे…”मेरी बात सुनकर मेरी चुत की और जोर से चुसाई होने लगी. इसके बाद मैंने भाभी के कपड़े पूरी तरह से अलग किए और अपने कपड़े भी उतार कर उनके ऊपर चढ़ गया, भाभी ने भी अपनी बांहें पसार कर मुझे अपने आगोश में भर लिया. जब मेरा हाथ बहन की बुर पर पड़ा तो वो बेड से आधा फीट ऊपर उछल पड़ी और कराहने लगी.

रहने के लिए मेरे डैड के दोस्त का फ्लैट खाली था, जिसे उन्हें रेंट पर देना था, तो उन्होंने बोला कि मैं वहां जाके रहूँ.

एचडी की बीएफ सेक्सी: जिसके पीछे कॉलेज के सभी लड़के पड़े रहते थे, पर ये अपनी नजरें भी ऊपर नहीं करती थी। खुद मैं भी इसे पटाने की सोचता था। मैं ये भी नहीं जानता कि वो मुझे पहचानेगी भी या नहीं। क्योंकि वो कक्षा के किसी लड़के से बात तो दूर. तो थोड़ा आराम कर लेता हूँ।सास बोली- हाँ बेटा, तुम आराम करो।मधु बोली- चलो.

तो मैं भी किचन में चला गया और वहीं खड़े रह कर बात करने लगा और भाभी से टच होने लगा. इतने से उसका मन नहीं भरा, और वो दोबारा उसका चुम्बन लेने को नीचे को झुका तो मेरी सती-सावित्री पत्नी ने अपनी गुलाबी जीभ को पतला बना बाहर निकाल दिया, जिसे आर्थर ने अपने मुंह में ले लिया! जी भर कर चुसवाने के पश्चात् नताशा ने अपनी जीभ को वापस ले लिया, और अब तक अपनी जीभ बाहर निकल चुके आर्थर की जीभ को अपने मुंह में लेकर चूसना शुरू कर दिया. नताशा इस बार जोर से छटपटाई लेकिन मैंने अपने लंड से उसके मुंह को तेजी के साथ चोदना शुरू कर दिया और दोबारा उसके कन्धों को थोड़ा सा उचका कर नीचे दबा दिया.

पूनम भाभी के बारे में मैं पहले ही अपनी पिछली कहानी में बता चुका हूँ क़ि कैसे मैंने देसी भाभी को चोदा था, तो अब ये उसी का आगे का भाग है.

मैंने आंटी को पानी पिलाया तो उस टाइम उनकी चुन्नी हटी हुई थी और उनके कुरते का डीप गला होने के कारण उनके चुचे साफ़ दिख रहे थे. इस सब पर बहुत सोचने के बाद मैंने वरुण अग्निहोत्री के नाम से एक फर्जी फेसबुक अकाउंट बनाया और उनको फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दी, जोकि माँ ने चार दिन बाद एक्सेप्ट कर ली. एक बार फिर से आजमायश की घड़ी आ रही थी लेकिन मुझे खुद पर, अपने कौशल पर, अपने प्यार पर और सब से बढ़ कर अपनी जान प्रिया पर भरोसा था कि सब ठीक हो जाएगा.