मराठी बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो नंगी वाली पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

रॉकी गुर्जर: मराठी बीएफ बीएफ, हम दोनों बात कर रहे थे कि उसने अपना लौड़ा अपनी पैंट से बाहर निकाल लिया.

भाभी की सेक्सी चूत चुदाई

मेरा मन भी भाभी बाथरूम करते हुए हुए देखने का हुआ तो मैं भाभी के पीछे पीछे बाथरूम में पहुंच गया।जब भाभी बाथरूम में मूत रही थी, उसी समय मेरी नजर वहां बाथरूम में टंगे हुए रबड़ के एक होज़ पाइप पर गई जो लगभग एक इंच मोटा और 10 फीट लंबा होगा मैंने उसको उठाया।भाभी मूत कर चुकी थी तो मुझसे पूछा- इसे ऐसे क्यों निकाला?मैं बोला- देखती जाओ मैं क्या-क्या करता हूं अब तुम्हारे साथ।फिर मैं भाभी से बोला- घोड़ी बन जाओ. सेक्सी एचडी वीडियो नेपालीमैं कमरे में इंतजार कर रहा था और सोच रहा था कि बाहर पता नहीं क्या हो रहा है.

एक बार जब हनी मायके आई तो मेरी पत्नी की सलाह पर मेरी सास हनी को लेकर डॉक्टर के यहां भी गई और कुछ इलाज भी हुआ. सेक्सी फिल्म सेक्सी लड़कीमुझे लगा कि कहीं मेरी वजह से तेरी नींद न ख़राब हो जाए तो यहीं बैठ गया.

मुझे खुद को इतने ध्यान से देखता पाकर रानी शर्म से निगाहें झुकाकर, दोनों बांहें क्रॉस कर के अपनी चूचियाँ छिपाने की नाकाम कोशिश करने लगी.मराठी बीएफ बीएफ: इस सेक्स कहानी के पिछले भागभाभी और उनकी सहेली की चूत गांड चुदाई-1में अब तक आपने पढ़ा था कि सुबह सुबह संजना भाभी और उनकी सहेली शीना दोनों की चुत मेरे लंड से चुदने के लिए तैयार हो चुकी थी.

फिर कोट सूट पहनने के बाद तो मैं बहुत ही आकर्षक हो जाता हूँ, साथ ही मेरी कातिल मुस्कान और सहज व्यवहार लोगों को बहुत जल्द मेरा नजदीकी बना देता है.मैं बोली- बेटा, एक राज की बात बताऊं?वो मेरी तरफ हैरान होकर देखने लगा- हां बताओ न मॉम.

सेक्सी चुदाई की कहानिया - मराठी बीएफ बीएफ

अब अरविन्द के लंड पर अनीता बैठी उछल कूद कर रही थी और शीला की चूत में अरविन्द की जीभ लपर लपर कर रही थी.उसने कहा- काली क्यों?तब मैंने मजाक करते हुए कहा- क्योंकि मैं काला हूं ना.

उसकी चूत को एक आदमी बुरी तरह से पेल रहा था और लड़की की मादक आवाजें सुन कर हम तीनों भी उत्तेजित हो रहे थे. मराठी बीएफ बीएफ जब मैं जवाहर से मिला था तो उसके कुछ महीने के बाद ही मैं अपने पैतृक शहर वापस आ गया था.

मगर वीर्य का वेग रुका ही नहीं और फिर से मैं उसकी चूत में स्खलित हो गया.

मराठी बीएफ बीएफ?

मेरा तो बुरा हाल था मेरा लण्ड तो पैंट फाड़कर बाहर ही आने वाला था।हम दोनों का हाल तो बहुत बुरा हो गया वो भी अब उतावली हो गयी फिर उसने मेरा पैंट उतार दिया और मेरे अंडरवियर के ऊपर से ही मेरा लण्ड सहलाने लगी। फिर उसने मेरे कपड़े उतार दिए और मेरे लण्ड को मुंह में लेकर चूसने लगी। मुझे लगा जैसे मैं सातवें आसमान में हूँ।अब मुझ से नहीं रहा गया. मैं दबे पांव अन्दर चला गया और पास से अम्मी को मजा लेते हुए देखने लगा. इसके लिए तुम मुझे कहीं भी हाथ लगा सकते हो … लेकिन कपड़े के ऊपर से ही.

मैंने दूसरा धक्का देते हुए अपना पूरा लंड भाभी की चूत में डाल दिया और धक्के मारने लगा. रिया- क्या बात … मेरे बिना अकेले ही फिल्म देख रहे हो?मैंने कोमल की पीठ पर हाथ रखकर कहा- मेरे साथ दोस्त भी हैं … वो सब छोड़ … कॉल क्यों किया?रिया- क्यों नहीं कर सकती?मैं- रिया एक काम कर … मैं तुमसे बाद में बात करता हूं, अभी मुझे फिल्म देखने दे. वे जोश जोश में या जानबूझ कर बार बार अपने दांत मेरे मम्मों पर चुभो रहे थे … जिससे मुझे दर्द तो हो रहा था लेकिन एक नए लंड की ख्वाहिश ने इस मीठे दर्द से मुझे मज़ा दिलाना शुरू कर दिया था और मैं मीठी मादक सीत्कारें भरते हुए जीजू का साथ दे रही थी.

मैं बाहर आ गया और उनके बाथरूम में जाते ही मैं सोचने लगा कि कहीं मेरी अम्मी की नजर मोबाइल पर न पड़ जाए. इतना कहकर अम्मी ने अपना लहंगा कमर तक उठा दिया और टांगें चौड़ी कर दीं. नए और जवान लंड की चाहत में मेरी खोपड़ी बड़ी तेजी से इस पर काम करने लगी थी कि आदी को कैसे पटाया जाए.

स्नेहा भाभी- अच्छा जी … मेरे पीछे पड़ कर क्या करोगे?मैं- जो सब करते हैं. मैं बोला- आज सिर्फ देख देख कर हाथों से ही करता रहेगा क्या?मेरी बात समझ कर राहुल अपनी जीभ निकाल कर मेरे निप्पल्स पर फेरने लगा.

मैं कुछ दूर सोफे में बैठ कर आराम करने लगा, यहां से मैं खुशी को देख पा रहा था और उससे नजरें मिलने पर मुस्कुरा कर जीवन के हसीन पलों की पूंजी एकत्रित कर रहा था.

ज्ञान जी को मैंने जब पहले दिन कार में पीले रंग के पोलो टीशर्ट और नीली जीन्स में देखा तो उसी क्षण चूत में सरसराहट मच गयी थी.

मैंने उससे उसका पता व फोन नम्बर देने के लिए कहा तो उसने मना कर दिया. आप बस बताते जाइये कि क्या करना है!राजवीर- ठीक है नील! क्या करना है वो मैं तुम्हें सबके जाने के बाद बताऊंगा।रणविजय- अरे ऐसा क्या है जो सबके जाने के बाद बताएगा? हमें भी सुनना है, ऐसा क्या करने वाले हो तुम दोनों, अभी बताओ सबके सामने. झड़ जाने पर हो सकता था कि वो लंड लेने में नखरे करने लगतीं … इसी लिए मैं उठ गया.

मैं भी कई दिन से उनके लंड को अपने होंठों से छूने का इंतजार कर रही थी लेकिन अपनी चूत को सहला कर ही सांत्वना दे रही थी. मैंने शराब की बॉटल खोल कर पैग बनाए और हम तीनों ने पैग लगाने शुरू कर दिए. जब राज आलिया को धनाधन चोद रहा था और वो चिल्ला रही थी, तब मुझे अन्दर से थोड़ा डर लग रहा था कि इससे चुदकर मेरा क्या हाल होगा.

मैं यकीन से कह सकता हूँ कि ये कहानी पढ़ते हुए बीच में ही पुरुषों के लंड पानी छोड़ देंगे और महिला पाठकों की भी कच्छी गीली हो जाएगी.

मैं खुद को एक रंडी महसूस कर रहा था, जो ग्राहक को खुश करने के लिये कुछ भी करती है. दस पन्द्रह मिनट बाद भाई ने अपना गर्म गर्म वीर्य मेरी गांड में छोड़ दिया. धीरे से मैंने उसकी चूत पर अपने गर्म होंठ रख दिये और उसकी चूत को किस कर दिया.

फिर वो भी गुस्से में बोलीं- तुम्हारी उम्र में और मेरी उम्र में काफी अंतर है. अनीता की बात सुन कर और शीला ने बेशर्मी से अपने मम्मे साब के मुँह में घुसा दिए. जब मैं न रहूँ, तो अपने साहब को अपनी चूत का सुख दे दिया करना, बेचारे उसके बिना तड़पते रहते होंगे.

लंड तो मेरा भी खड़ा हो गया था लेकिन ज्यादा देर वहां रुक कर ये नजारा देखने में भी रिस्क का काम था.

तो इसलिए इन लम्हों की सारी रुमानियत मैं शिद्दत से अपने अंदर उतार रहा था. इससे पहले कि मैं कुछ समझता या पूछता, उससे पहले ही उसने कह दिया- जय, तुम मुझसे ऐसे नाराज मत हुआ करो.

मराठी बीएफ बीएफ मैंने उनके दोनों चुचों को पकड़ कर बाहर निकाला और बारी बारी से चूसने लगा. जिया- कैसा रहा?कोमल- क्या कहूँ तुमसे!जिया मुस्करा कर बोली- मुझे आपकी आवाज सुनाई दे रही थी.

मराठी बीएफ बीएफ मैंने भी अपनी बहन की सहेली नताशा की चूत मारी और फिर उसकी कुंवारी गांड को तेल लगाकर खोल दिया. यह भाव-भरा समर्पण, प्यार था … केवल प्यार! पर देर-सवेर इस में वासना का समावेश तो हो के रहना था.

फिर मैंने दो मिनट तक अपनी सहेली के दूधों को पीया और फिर उसके होंठों को चूसने लगी.

हिंदी बीएफ सेक्सी नंगा

पीठ पर मालिश करवाते हुए मेरी चूत से आनंद के आंसू बाहर आने ही वाले थे कि ज्ञान ने मुझे पलट कर सीधी कर लिया और मेरी नंगी, साफ, बिना झांटों वाली चूत ज्ञान के आगे पसर कर उसको ललचाने लगी. मम्मी इतना गर्म हो गयी थीं कि अपनी गांड नीचे से ऊपर उठा उठा कर अपनी चुत में फिंगरिंग का मज़ा ले रही थीं. उसने मुस्कुरा कर लंड को देखा और वो मेरे लंड को हाथ में लेकर सहलाते हुए मुँह में लेकर चूसने लगी.

सच कहूँ … तो मुझे लंड से ज़्यादा उसका सुपारा होता है, उसे चाटना मुझे बहुत पसंद आता है. मैं- अच्छा आंटी आप बस मुझे कसके पकड़ लो, मैं तेज चलाता हूँ … आपको मैं घर तक बिना भिगाए लेकर पहुंच जाऊंगा. फिर मैंने उन्हें मना नहीं किया और उन्होंने मेरी चूत में ही अपना पानी निकाल दिया और मेरे ऊपर लेट गए थक कर!हम दोनों काफी देर तक एक दूसरे से ऐसे ही चिपके रहे.

स्नेहा भाभी बोलीं- आपको कैसी लड़की पसंद है?मैं- मुझे तो बिल्कुल आपके जैसी चाहिए.

मैंने अपने अपने ऑफिस के दोस्त को फोन लगाकर बोल दिया- भाई मेरी आज तबीयत खराब है, मैं नहीं आ पाऊंगा. चूंकि मेरी जींस टाइट थी … इसलिए जीजू को उतारने में आसानी नहीं हो रही थी. मेरा मन तो उनका लंड चूसने का हो रहा था, मगर वो गांव की औरत उधर थी, तो इज्जत का फालूदा बन जाता इसलिए मैं मन मसोस कर वहां से चुपचाप चली आई.

और जब मैं थोड़ा झुका, तो प्रतिभा ने मेरे चेहरे पर जमकर हल्दी का लेप लगा दिया. मैं बोला- कौन से दो काम?तो नीतू बोली कि एक तो आप मुझे इस एड के लिए फाइनल करोगे और दूसरा आप मेरे साथ भी सेक्स करोगे … क्योंकि आशा बता रही थी कि आपका वो बहुत जानदार है. लेकिन तभी मैंने उसके दोनों हाथ फैला कर ऊपर को कर दिए और रोहिताश को दोनों हाथ पकड़ने का इशारा कर दिया.

उसने मुझसे कहा- ट्रक वाले तो कंडोम प्रयोग नहीं करते … सारा पानी चुत में ही छोड़ दिए होंगे, ये पानी में दवा है कि तुम प्रेग्नेन्ट न हो. इससे संजू को बड़ी अजीब गुदगुदी हो रही थी, वो आंखें मूंदे रोहित के बालों को सहला रही थी.

राशि जोर जोर से सिसकारने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… हांह … और जोर से… चोदो, और जोर से झटके मारो. मैं उसके बूब्स को बारी बारी से मुंह में लेकर चूस रहा था और साथ ही साथ अपने हाथों से दबा भी रहा था. जहां दो औरतें किस कर रही हों … तो कोई भला कैसे इस सुख का मजा लेने से मना कर सकता है.

लेकिन उन्हें मनाएंगे कैसे … तुमने कुछ सोचा है क्या?चित्रा- नहीं … मैंने अभी इसके लिए कुछ नहीं सोचा है.

फिर मैंने उसकी पैंटी को धीरे धीरे नीचे करते हुए उतारना शुरू किया और बहुत ही धीरे धीरे उसकी चूत को नंगी कर दिया. ट्रक ड्राईवर ने मुझे ऊपर से नीचे तक देखा और जोश में बोला- छोड़ देंगे जी, चढ़ जाओ जी. मुझे बहुत शर्म आ रही थी कि ये ऐसे किसी को अपने कपड़े उतारने कैसे दे सकती है.

लेकिन मानव स्वभाव के अनुसार हम नकारात्मक विचार को ज्यादा तूल देते हैं. दोनों अंकल शायद कोई गोली खाकर आए थे, तभी इतनी देर से चोदे जा रहे थे.

गांड चुदाई के बाद हम दोनों ने फिर से नहाया और वाशरूम से बाहर निकल कर एक दूसरे को साफ़ किया. जब वो लंड चूस कर थक सी गयी तो फिर से सोफे पर चूत फैला कर लेट गयी और मुझे भी अपने ऊपर आने के लिए कहा. मेमरानी ने भी अपनी गांड आगे पीछे करते हुए मेरे धक्कों से धक्के मिलाये.

ब्लू फिल्म ब्लू पिक्चर बीएफ

मैंने कंडोम लंड पर पहन लिया और गांड पर लंड सैट करके धक्का लगा दिया.

मेरी उत्तेजना बहुत बढ़ गयी थी लेकिन मैं किसी तरह खुद को कंट्रोल करने की कोशिश कर रहा था. मैं भी दरवाजे पर खड़ी हुई उसकी कुंवारी चूत का दर्द महसूस कर सकती थी. वो बोला- चिंता मत कर, मैं तेरी बीवी को ऐसा चोदूंगा कि वो फिर और कोई लौड़ा नहीं लेगी। उसको रुला रुला कर चोदूंगा। अगर वो थक गयी तो फिर तेरी गांड मारूंगा.

मोनू प्रियंका की टांगों को सहला भी रहा था और उन्हें चूस भी रहा था।दूसरी तरफ़ मुस्कान की सलवार का नाड़ा सतीश ने खोल दिया और उसकी टांगों के रास्ते मुस्कान की सलवार को उतार दिया. और आज तो मन कर रहा है लिटा के किस करूं!तो कर लो न सर … किसने मना किया है!”अच्छा, मेरे करीब आओ!आ गई सर!”मैंने तुमको पलंग पर लिटा दिया. किस-किस सेक्सीदिखने में वो मेमसाब से दुगनी खूबसूरत थी, बस उस पर नौकरानी का ठप्पा लग रहा था.

तब मैंने फिर दोहराया- तुमने उसके साथ सेक्स किया था या नहीं?इस बार उसने झुके हुए ही सर हाँ मे हिलाया. कहानी पढ़ सत्य असत्य आसानी से समझ जाते हैं इसलिये 6 महीने में एक बार लिखो लेकिन सत्य लिखो जिसे पढ़ने पर पाठक कामुक होते हुए हिलाते रहें और पाठिकाओं की योनियों से रस टपक पड़े.

वह तो मुझे सुबह पता चला जब मेरे साथ श्लोक था। उसने मुझे बताया कि यहां सब हैं और सबके साथ ऐसा खेल खेला है। तब मैं थोड़ी नॉर्मल हो पाई हूं. उसको दर्द हो रहा था इसलिए वो लंड को वापस बाहर निकालने के लिए कहने लगी. वो मुझसे लंड दिखाने के लिए कह रही थी और मैं शान्ति भाभी के संग चुदाई की अपनी पोल खुल जाने के बाद अपनी पुरानी यादों में खो गया था.

तुम मुझे चुदने पर मजबूर नहीं कर पाए … इसलिए अब कभी भी मुझे छूने की कोशिश मत करना. मेरे मुँह से आवाज़ सुनकर तुषार और भार्गव भी अपनी जगह बैठे बैठे अपने लंड को सहलाने लगे थे. मैंने कहा- जान, चुत चोदूं या गांड?उन्होंने कहा- मेरी जान, अब सब कुछ तेरा है, जिसे तू चोदना चाहे, उसे चोद ले, पर यार प्लीज एक बार मेरी चुत को फिर से शांत कर दे.

थूक लगाने के बाद रोहित ने संजू की चूत में लंड को घुसाया, तो पूरा लंड सरसरा कर घुस गया.

दीपिका की नजर बार बार मेरी जीन्स में तने हुए मेरे लंड पर जा रही थी और मेरी नजर उसकी कैपरी के अंदर पकौड़े जैसी दिख रही चूत पर टिकी थी. अब रोहित भी उठा, उसने संजू को बांहों में कसकर दबोच लिया और चिपक गया.

तो मैंने उन्हें नीचे उतरने को कहा, वो उतर गईं और बेड पर सीधी लेट गईं. आप लोगों ने मेरी स्कूल सेक्स स्टोरीसुधा के साथ वो रातपढ़ी और आपके कई मेल प्राप्त हुए. इस गांडू की चुदाई कहानी के अगले भाग में आपको मेरी गांड मारने का रस मिलेगा.

धीरे धीरे मेरे दोनों बेटे पढ़ लिख कर विदेश में नौकरी करने लगे और शादी करके वहीं सेटल हो गये. टवेंटी-टवेंटी खेलना है विक्रम मेरी जान!विक्रम- बिल्कुल … क्यों नहीं और तुम को भी हैप्पी न्यू ईयर!आशा है आपको हमारी नयी कहानी पसंद आयी होगी. दोस्तों आप भी दुआ कीजिए कि उससे मेरा संपर्क हो जाए, मुझे वो मिल जाए.

मराठी बीएफ बीएफ एक बार फिर से रोहिताश हम दोनों के पास आया और फिर मेरे अंडकोषों को सहलाते हुए मेरा उत्साह बढ़ाने लगा. इस पर जब कभी किसी के पास फोन में जरा सा भी पोर्न देख लिया, तब तो पूछो ही मत कि चूत का हाल क्या होता था.

बीएफ हिंदी 2022

वे मारते मारते बोले- लग तो नहीं रही? धीरे करूं?मैं कहना चाहता था- ‘उस्ताद और जोर से।’ मगर कह नहीं पाया. मैंने रवि का हाथ पकड़कर उसे अपने गाउन के अंदर अपनी कमर पर रख दिया।रवि भी आगे का इशारा समझकर मेरी नंगी पीठ को सहलाने लगे. अब से तू मेरा गुलाम है और तू मेरी गांड चाटेगा और मेरा मूत भी पीयेगा.

चित्रा- कल रात के बारे में, वैसे कैसी रही कल की रात!आलिया- आप तो भाई को जानती ही हो. चाची बाथरूम में जाने लगीं, तो मुझे याद आया और मैंने कहा- रुको मेरी जान … मेरे होते आप पैदल क्यों जा रही हो. प्रिया भाभी की सेक्सी फिल्मआआअहह … आआअहह …जैसे ही लंड मेरे मुँह में गया, मुझे बहुत मज़ा आने लगा.

रोहित के लंड को अपने हाथों से छूते हुए संजू बोली- बाप रे … इतना टाई.

चाची की चुत में से बहता लावा मुझे अपने लंड पर बड़ी सुखद अनुभूति दे रहा था. पर मैंने अपने धक्के लगातार जारी रखे और स्पीड बढ़ाते हुए ताकत से चोदने लगा.

उसने घूर कर देखा और मुझसे पूछा- क्या बात है?मैंने अपने एरिया का नाम बता कर लिफ्ट मांगते हुए कहा कि क्या मुझे वहां तक छोड़ सकते हो. मैं भी झुक कर अपने चूचों में उसके सर को दबाते हुए उसके माथे पर चुम्बन करती, तो वो अपने हाथों को पीछे लाकर मेरे सर को अपने सर पर झुका लेता था, जिससे मेरी चूचियां और दिल की धड़कनें उसे गर्म करने लगती थीं. उस रात मैंने अम्मी के साथ व्हिस्की का मजा भी लिया और अम्मी ने मुझे सिगरेट भी पिलाई.

मैंने रीतेश सर का फ़ोन नंबर बहाने से ले लिया कि कुछ सब्जेक्ट में कुछ प्रॉब्लम आएगी तो मैं पूछ लूंगी.

मैंने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए और अम्मी के पास बेड पर आ गया. मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है।मैंने कहा- यार ये कैसे हो सकता है कि कोई भी लड़का इतनी खूबसूरत लड़की के पास ही ना आये?हीना ने अपना काम करते हुए ही कहा- मैंने ऐसा भी नहीं कहा सर. उन्होंने मेरे मुँह को अपने दोनों अंगूठों को अन्दर डाल कर खोला और ऊपर वाले होंठ को अपने मुँह में दबा लिया.

बिहारी सेक्सी वीडियो बिहारी सेक्ससंगीता के फ्लैट के नीचे पहुंचते ही मैंने उसको कॉल किया कि मैं आ गया हूं. फिर अंकल ने मम्मी की साड़ी को ऊपर उठा दिया और मम्मी को घोड़ी बना दिया.

गांव की देसी लड़की की बीएफ

…आलिया- आहह भाई आहह याहह आह ओह भाई…दीदी- आहह आह ओह आकाश याह या उहह आहह. मैं- अच्छा आंटी आप बस मुझे कसके पकड़ लो, मैं तेज चलाता हूँ … आपको मैं घर तक बिना भिगाए लेकर पहुंच जाऊंगा. अब रमेश ने रिया के बालों को गुच्छा बना कर कस कर पकड़ लिया और उसकी चूत में धक्के मारने लगा.

पहली बार शान्ति भाभी जब मुझे चोदने का ज्ञान दे रही थीं, तो मैंने उनके मम्मों को पीते पीते ही सुर्ख गुलाबी कर दिए थे. जब मैं जवाहर से मिला था तो उसके कुछ महीने के बाद ही मैं अपने पैतृक शहर वापस आ गया था. मेरा मन तो उनका लंड चूसने का हो रहा था, मगर वो गांव की औरत उधर थी, तो इज्जत का फालूदा बन जाता इसलिए मैं मन मसोस कर वहां से चुपचाप चली आई.

न जबरदस्ती कर सकती थी और न ही वासना की आग में जल रहे अपने जिस्म के अंगों पर छिड़कने के लिए मर्दन का पानी ही मांग सकती थी. मैंने हंस कर कहा- तो पूरी बात किया करो ना … अधूरी बातों में कफ्यूजन तो होगा ही!इस पर उसने कहा- ठीक है आगे से ख्याल रखूंगी, पर अब चलो … वहां आंचल, सुमन और प्रतिभा दीदी खाने पर इंतजार कर रही हैं … और मुझे भी तो बहुत भूख लगी है. मेरे लंड को देखते ही उसके मुँह से सिसकारी निकल गई- इस … स…स … आह राज … इतना मोटा लंड कहां छुपा रखा था?ऐसा बोलती हुई वो नीचे बैठ गई और लंड को हाथ में लेकर सहलाने लगी.

उसने फिर से पानी छोड़ दिया।लेकिन मैंने अपना काम चालू ही रखा। धीरे-धीरे मैंने भी अपने लण्ड के धक्कों की स्पीड बढ़ा दी। मेरा लण्ड उसकी चूत में काफी तेजी से अन्दर-बाहर हो रहा था।आखिरकार मेरे झड़ने का वक्त आ ही गया, मेरी साँसें तेज़ होने लगी। पूरा शरीर पसीने से तर था। सपना भी तीसरी बार झड़ रही थी. रमेश- वाह … साली रंडी। तेरी गांड कितनी खूबसूरत लग रही है। चुदकर पूरी खुल गयी है। अंदर का गुलाबी हिस्सा अब बाहर से भी दिख रहा है। दस मिनट में ही मेरे लण्ड ने इसकी खूब खबर ले ली।उसने उसकी गांड में उंगली घुसाते हुए कहा।रिया- मेरी इस चुदी हुई गांड की एक फोटो ले लो डैडी, अच्छा रहेगा.

शीला फटाफट काम निबटा कर अपने क्वार्टर गयी और नहाकर महकती हुई और अपने हिसाब से बढ़िया मेकअप करके आ गयी.

बीच बीच में जीजा जी लंड को उसके होंठों तक ले जाते थे और लंड जैसे मेरी सहेली के होंठों को किस करके वापस लौट आता था. नंगी सेक्सी पिक्चर दोवहां से निकले तो योजनानुसार मेरी पत्नी बोली- आये हुए हैं तो मुझे एक नाइटी दिला दीजिये. रंडियों की चुदाई सेक्सीकविता भाभी- इसका इंतजाम भी मैं ही करूं?मैं उनकी तरफ याचना भरी नजरों से देखने लगा. कोमल- प्रोटेक्शन साथ लेकर आए हो?मैं- आज तो बिना कंडोम के चुदाई होगी.

रमेश- वाह … साली रंडी। तेरी गांड कितनी खूबसूरत लग रही है। चुदकर पूरी खुल गयी है। अंदर का गुलाबी हिस्सा अब बाहर से भी दिख रहा है। दस मिनट में ही मेरे लण्ड ने इसकी खूब खबर ले ली।उसने उसकी गांड में उंगली घुसाते हुए कहा।रिया- मेरी इस चुदी हुई गांड की एक फोटो ले लो डैडी, अच्छा रहेगा.

जहां मैंने एड पोस्ट की थी उसमें जो मेल आईडी मैंने दिया हुआ था वहां पर एक लेडी का कमेंट भी था. तभी मैंने अपने पेंट की जेब से कंडोम के कुछ पैकेट निकाल कर उसे दिखा दिए. मैंने चुत की फांकों का अहसास अपने लंड के सुपारे पर किया और उसको चूम कर एक बार फिर से पूछा- तैयार हो?उसने अपने हाथों से मेरी कमर को पकड़ कर चुत उठाते हुए लंड के सुपारे से टच किया और कहा- हूँ … पेल दो.

मेरी नयी हिंदी में सेक्सी कहानी भी एक पुरानी क्लासमेट के साथ सेक्स की है. टवेंटी-टवेंटी खेलना है विक्रम मेरी जान!विक्रम- बिल्कुल … क्यों नहीं और तुम को भी हैप्पी न्यू ईयर!आशा है आपको हमारी नयी कहानी पसंद आयी होगी. यह नयी आवाज़ थी गुड्डी की जो हमारी चुदाई से उत्तेजित होकर जाने कब नंगी हो चुकी थी.

बीएफ वीडियो हॉट सेक्स

मैंने वहाँ चारों और देखा कोई नहीं था। मैंने उसे किस करना शुरू किया और हाथों से उसके चूची को दबाने लगा।वो बोली- अभी नहीं!मैं बोला- लंड खड़ा है. मैंने उससे पूछा कि मेरी प्यारी कुतिया और चूसने की चुदने की इच्छा है?वो बोली- मुझे तो जब चाहे चोद लो. दीपिका की हरकतें तेजी पकड़ने लगीं और उसने अपनी चूत को मेरे ऊपर की तरफ खड़े उल्टे लौड़े पर जोर जोर से रगड़ना शुरू कर दिया.

मैंने कोमल को घुमाकर घोड़ी बना दिया और उसकी गांड पर चपत लगाकर धक्का दे मारा.

वो भी मुझसे पूरी तरह से चिपक गयी थी। अब मेरे लंड को और रोक पाना मेरे लिये मुश्किल हो रहा था। मैं उसके पेटिकोट का नाड़ा खोलकर उसके पेटिकोट को धीरे धीरे नीचे करने लगा तो वो थोड़ी-थोड़ी कमर उठाने लगी। मैं समझ गया कि आंटी को अब लंड की गरमी की ज़रूरत है.

तभी आंटी ने खुशी को जरा घूम आने को कहा और वह कुछ दूरी पर गार्डन में घूमने लगी. साथ ही रीना को भी खबर न लगे कि उसका देवर और देवरानी वहां जा रहे हैं. सेक्सी वीडियो एचडी न्यू हिंदीजीजा जी का घर एक मंजिला था, जिसमें चार कमरे, एक स्टडी रूम, किचन, हॉल था.

नहीं तो मैं शर्म के मारे मर जाऊंगी।मैंने भी रहम किया, कुछ देर शांत रहकर उसकी चुदाई के उपाय सोचने लगा और उसके बदन को निहारते रहा. मैंने तुरंत कहा- तो चाचा की शरीफ बेटी कौन है?तो खुशी ने बिस्तर की तरफ इशारा किया- ये है ना आँचल!उस शादीशुदा सभ्य महिला ने मेरा अभिवादन किया जिसका मैंने भी विनम्रता पूर्वक जवाब दिया।अब खुशी मुझे चारों तरफ से घूम-घूम के देखने लगी. मैंने सिर घुमा कर देखा तो मेरे पति रवि मेरी तरफ पीठ करके लेटे हुए थे.

मुझे तुम्हारी बनाई मेंहदी तुरंत ही धोनी पड़ेगी।तो हीना ने बेचैनी से पूछा- क्या हुआ सर, मेंहदी की डिजाइन पसंद नहीं आई क्या?तो मैंने कहा- अरे ऐसी बात नहीं है, डिजाइन तो तुमने बहुत खूबसूरत बनाई है पर मुझे जोर सो शुशु लगी है, तो कपड़े खोलने से पहले मेंहदी तो धोनी पड़ेगी ना!हीना का चेहरा एकदम से उतर गया. जल्दी से जल्दी अन्दर घुसने के मकसद से मैंने जोर से धक्का मारा तो मेरा पूरा लण्ड रुकैय्या की चूत में समा गया.

किसी अनहोनी की आशंका के चलते अब्बू दौड़ते हुए ऊपर आये और अपना तहमद बांधते हुए पूछा- क्या हो गया, चिल्लाई क्यों थी?तभी रुकैय्या कमरे में पहुंची और अपने लहंगे का नाड़ा बांधकर अपनी चोली के हुक बंद करते हुए बोली- अब्बू, आप भी अजीब सवाल करते हैं.

मैं मुस्कान और प्रियंका को अपने रूम में ले गया, दोस्तों को कुछ देर में वापिस आने को बोला।रूम में जाकर मैंने मुस्कान को कहा- देखो यार, हमने पहले भी सेक्स किया है, परन्तु आज ग्रुप सेक्स करना है. घर पहुंच कर मैंने देखा कि मेरी बीवी के साथ में पड़ोस की ही दो महिलायें बठी हुई थीं. ये उसके आगे की घटना है।पिछली घटना याराना का चौथा दौर की कहानी मुझे अपने साले श्लोक ने गोआ जाते वक्त सुनाई थी। उस वक्त रास्ते में हमने तय किया था कि याराना के जितने भी यार थे, उनको सबको एक साथ इकट्ठा करके एक महायाराना का मजा लिया जाये.

सेक्सी वीडियो दिखाएं जापानी मैंने कुछ और पल उसको सूंघा और फिर अपनी जीभ निकालकर, जहाँ जहाँ वीर्य का कुछ हिस्सा बचा हुआ था, वहां से उसे चाटने लगी।मैं रोहित की मेहनत को ऐसे ही बर्बाद नहीं जाने देना चाहती थी. अंत में जब मुझसे नहीं रहा गया, तो मैंने साहब के सर के बालों को पकड़ कर अपनी चूचों की भुंडी पर रखते हुए गिड़गिड़ा कर कहा- सब्र का इम्तिहान मत लो साहब … चूचियों को चूस कर बेदम कर दो.

पीठ पर मालिश करवाते हुए मेरी चूत से आनंद के आंसू बाहर आने ही वाले थे कि ज्ञान ने मुझे पलट कर सीधी कर लिया और मेरी नंगी, साफ, बिना झांटों वाली चूत ज्ञान के आगे पसर कर उसको ललचाने लगी. फिर मुझसे रहा नहीं गया और उसी टाइम मैंने लगातार 2 बारी मुठ मार कर खुद को शांत किया. आप मुझे मेल करके बताना जरूर कि आपको प्रिया की प्यार की चुदाई की कहानी कैसी लगी.

बीएफ फिल्म देहाती हिंदी

ड्राईवर ने मेरी दोनों बगलों के बीच से अपने दोनों हाथ आगे लाए और मेरे दोनों स्तनों को अपने हाथों में भर लिया. ‘नामर्द … गांडू … छक्के … मादरचोद चूतिये …’वो मुझे ना जाने कौन-कौन सी गालियां दिए जा रही थी. अम्मी ने कहा- ठीक है … तुम्हें जो करना है, वो करो … पर अब्बू को कुछ मत बताना.

फिर उसने पूछा- दीदी, बाहर में उतना मजा नहीं आता, हमेशा जल्दी लगी रहती है. अपना लण्ड बाहर निकालते हुए मैंने गिन्नी से कहा- चलो बेबी, घोड़ी बन जाओ.

उसकी चूचियां लाइट की रोशनी में अब बिल्कुल गोरी और सफेद दिख रही थीं.

फिर जीजू ने मेरी जांघ पर हाथ फेरना शुरू कर दिया और धीरे धीरे अपना हाथ मेरी चूत पर ले आये. मैंने पूछा- चाय लेंगे या कॉफी?वो बोले- दूध!मैंने पूछा- किसका?उन्होंने मेरे वक्षों को घूरते हुए कहा- जो भी आपके पास हो. अब तो वे दोनों औरतें मेरे लौड़े को अपने हाथ में पकड़ कर खींच रही थीं.

देखा है न?” किसी अनहोनी की आशंका से मेरे तन में सिहरन की लहर सी दौड़ गयी. हीना ने पैन्ट का हुक खोला और पैन्ट को हल्के से खींचा तो पैन्ट सरक कर मेरे घुटनों पर आकर रुकी. इसी के साथ हम दोनों एक साथ झड़ गए।हम दोनों लेट गए मेरी नजर खिड़की पर गई वहां पर ज़रीना खड़ी थी वही जो अकेली थी। हम दोनों की नजरें मिली और वो भाग गई।फिर मैंने क्रिया को उठाया.

20 मिनट तक चुदाई हुई, उसके बाद मैंने अपना माल भाभी की चूत के अंदर ही निकाल दिया.

मराठी बीएफ बीएफ: जिसका मुंबई में एक छोटा सा बिजनेस है और अपनी इधर वो अपनी फैमिली के साथ रहते हैं. मैंने कुछ और पल उसको सूंघा और फिर अपनी जीभ निकालकर, जहाँ जहाँ वीर्य का कुछ हिस्सा बचा हुआ था, वहां से उसे चाटने लगी।मैं रोहित की मेहनत को ऐसे ही बर्बाद नहीं जाने देना चाहती थी.

जब उसका लंड मेरी गांड में पूरा घुस गया, तो उसने तेल की शीशी का मुँह मेरी गांड पर लगा कर टपकाना शुरू कर दिया. अब वो उसके साथ कई बार प्यार भरी बातें करते हुए पकड़ी जा चुकी थी लेकिन मैंने भी इस बात को लेकर कभी उससे शिकायत नहीं की. आलिया- मैं ना बोलूंगी, फिर भी तुम तीनों मुझे किसी तरह से मना लोगे और वैसे भी नताशा को मैं भी जानती हूँ … वो मेरी भी सहेली है.

मस्ती में उन्होंने भी वापस मेरे होंठों पर एक जोरदार चुम्बन दे दिया.

संजना और शीना दोनों एक दूसरे की चूत को चाट रही थीं और मैंने अपना लौड़ा संजना की गांड में घुसाया हुआ था. चूस क्या रहा था बल्कि कहना चाहिए कि लौड़ा रानी के मुंह को चोद रहा था. तुम घर पहुंच गईं?भाभी ने हां कहते हुए कहा- जब आप आने लगो, तो एक बार फोन कर देना.