दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,आदिवासी सेक्स बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन सेक्सी बाप विडिओ: दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ, मेरा मन हो रहा था कि काश चाची की चुदाई कर पाता… पर कैसे?डर रहा था कि चाची डाटेंगी और माँ को भी कॉल देगी.

बिहार का ब्लू पिक्चर सेक्सी

तो मैं बोला- मुझे बॉडी से बॉडी वाली मालिश तुम दोगी और नॉर्मल मालिश रफीक. সানি লিওন ক্সক্সক্স ভিডিওनीतू को अब मज़ा आने लगा था, वो भी लंड की मुठ मारने में लगी हुई थी और थोड़ी देर बाद गोपाल के लंड की नसें फूल गईं, वो रोकना चाहता था मगर उससे कंट्रोल नहीं हुआ और उसके लंड से एक के बाद एक पिचकारी निकलने लगीं, जिससे चादर भी खराब हो गई और नीतू का हाथ भी वीर्य से सन गया.

अब आज के बाद बस तू मज़े ही लेना।राधा कुछ ना बोली, बस मुस्कुरा कर काका को देखने लगी। इधर मोना भी संतुष्ट हो गई थी, वो राजू के सर पे बड़े प्यार से हाथ घुमा रही थी।मोना- आह. ಬಿಎಫ್ ವಿಡಿಯೋ ಇಂಡಿಯನ್एक दिन ऋषिका को बुखार हो गया, रयान ने उसे सुबह चाय के साथ बिस्कुट दिया और मेडिकल स्टोर से दवाई लाकर दी.

अगले दिन शाम को ऋतु ने बताया की पूजा की चार सहेलियाँ तैयार हो गई हैं अपनी चूत चटवाने के लिए… और वो इसके लिए दो-दो हजार रूपए देने को भी तैयार हैं.दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ: रोज की तरह मैंने अपने सारे कपड़े निकाले सिर्फ़ एक पतला सा बरमूडा पहना और लेट गया।टीना- सारे कपड़े मतलब.

मैंने उसके मम्मों को दबाते हुए एक हाथ से उसकी पैंट के साथ पैंटी भी निकाल दिया.बात लीक होने के अलावा यह रिस्क भी था कि उसका दोस्तों के बीच में मज़ाक उड़ना शुरू हो जाता कि सुमित की बीवी एक टैक्सी है, जिसका जी चाहे चोद ले.

सेक्सी बीएफ वीडियो हिंदी देहाती - दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ

मॉंटी तो मज़े में पागल हुआ जा रहा था और उधर खिड़की के बाहर टीना सब कुछ देख रही थी.मैं आंटी के गले पर किस करते हुये नीचे आया और कुर्ते के ऊपर से ही उसकी बाईं चूची चूसने लगा और दूसरी वाली हाथ से दबा रहा था.

अपने देश के सरकारी कर्मचारियों का हाल तो आपको पता ही है, काम के टाइम ज़्यादा गायब ही रहते हैं. दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ तो एक बार हम रंडी के पास गए, पहली बार था तो उसे चोदने में बहुत मज़ा आया। मगर रोज जाने लगे तो धीरे-धीरे मज़ा कम होने लगा और गोपाल ने भी कहा कि इनरंडी की चुदाईमें मज़ा नहीं आता.

मैंने तुरंत उठ कर माला का ब्लाउज एवम् पेटीकोट उतार कर उसे नग्न किया और फिर अपनी टी-शर्ट एवम् लोअर उतार दिया.

दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ?

अब मैं खुश होकर हवा में उड़ने लगा था, रह रह कर उसके नंगे जिस्म की कल्पना में खो जाता और उसकी चूत चटाई और चुदाई के दिवा स्वप्न देखता रहता. मैडम ने चाची को बेड पर लेटने के लिए कहा, फिर चाची के पेट को दवा के चेक किया, फिर मैडम ने चाची को उठ जाने के लिए कहा और मैडम ने दवा लिखी, बोली- ज्यादा दिक्कत नहीं है जल्दी ठीक हो जायेगी. मैं अकेले में उसे गर्लफ्रेंड ही कहता था जैसे- हेलो गर्लफ्रेंड! कैसी हो?फिर एक दिन मैंने मौका देख कर गर्लफ्रेंड के गालों की एक चुम्मी ले ली और वो भागते हुए बाहर चली गई.

वो इस बात को सुनकर कैसे रिएक्ट करती है।फ्लॉरा- अरे क्या यार ये तो नॉर्मल है सबको पीरियड आते हैं. पूरा झड़ने के बाद तीन पतियों की बीवी ने किलो भर का लंड अपने मुंह में लेकर चाटना शुरू कर दिया और जब तक वो सिकुड़ कर बिल्कुल छोटा नहीं हो गया, उसे सहलाती-पुचकारती रही. पहले फ्रेश हो लो, चाहो तो नहा लो, सफ़र की थकान उतर जायेगी!’ वो बोली.

मेरा तो मन कर रहा था कि इसको अभी पकड़ कर इसके सारे जिस्म को भंभोड़ डालूँ. माफ़ कीजिये दोस्तो, अगर कहानी का लुत्फ़ लेना है तो थोड़ा तो सब्र करना ही पड़ेगा. कुछ ही देर में मामा ने मेरी चुदाई की रफ़्तार तेज़ कर दी, मामा जी की जाँघें ज़ोर ज़ोर से मेरे चूतड़ों पर टकराने लगी, मेरे चूतड़ गीले होने के वजह से किचन में ज़ोर ज़ोर की पच पच की आवाज़ गूंजने लगी, मेरी भी उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज़ किचन में गूंजने लगी.

सुकांत सेकन्ड ईयर में था। मेरी उम्र तब यही कोई बाईस तेईस की रही होगी. उसने लंड की पिचकारी मेरी चूत में छोड़ दी। जैसे ही उसका पानी मेरी चूत में गिरा.

मैं इससे क्या बोल रही हूँ! और ये मुझसे क्या पूछ रही है।मैंने कहा- सैक्स नन्न्न्नहीं तो.

बहुत दिनों के बाद पोस्ट कर रहा हूँ, क्या करूँ… लिखने को समय ही नहीं मिला!चलो शुरू करते हैं:मैं ग्वालियर शहर में भाड़े पर कमरा लेकर रहता था, मैं वहां लगभग 6 साल तक रहा.

सभी खुश थे… और नताशा के बाथरूम से वापस आने पर सब उसकी आवभगत में लग गए!दोनों मेहमानों ने खुद अपने हाथों से बनाकर अपनी भाभी को शेम्पेन का पेग दिया और खाने को स्नेक्स. और अचानक उन्होंने पीछे से आकर ना… मुझे अपनी बांहों में ले लिया और बिना कुछ पूछे मुझे चूमने लगे. ऋतु ने मेरे खड़े हुए लंड को अपने हाथों में लेकर कहा- और अगर तुम चाहो तो इसका भी आनन्द ले सकती हो.

चलो अब बैठ जाओ, मैं भी चड्डी निकाल कर आती हूँ।संजय कुर्सी पर बैठ गया, उसने बरमूडा नीचे कर लिया और पूजा को उल्टा ही पास आने को कहा ताकि उसको लंड दिखाई ना दे।वैसे तो लाइट बंद थी. कामुकता से वो पूरी बेकाबू होती जा रही थी।एकाएक मैंने उसे चूसना छोड़ दिया. थोड़ी देर बाद गुलशन ने अनिता को नीचे लेटा दिया, उसके पैरों को मोड़ कर कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया, जिससे उसकी चुत ऊपर उठ गई.

एक डेढ़ घंटे के बाद जब सुमित सोकर उठा तो मैंने पूछा- अब कर लूँ राजे से बात, मैंने उसका फोन नंबर ज्योति से ले लिया है.

राजे मुझे उठाये उठाये बैडरूम में जा पहुंचा और मुझे बिस्तर पर पटक दिया. इसलिए मेरे जाने के पश्चात मुझे मंझली बहू की सुरक्षा की चिंता लगी रहेगी. पर उसके शहर में यह संभव नहीं था और बाहर आने जाने के समय उसके घर से कोई न कोई साथ होता था.

मित्रो, आगे की कहानी भी बहुत मस्त लगेगी आपको कि कैसे स्नेहा ने मुझे कसम दे दे के भोपाल बुलाया और खुद भी चुदी और किसी और को भी मुझसे चुदवाया. ऐसा एक साल चलता रहा, पर एक दिन मेरे पापा पता चल गया कि यह दोनों गलत काम करते हैं. फिर मेरी निप्पल पर किस करने लगीं और इसके साथ ही चाची ने एक हाथ मेरे बरमूडे में डाल दिया.

पहले तो मुझे कुछ दिखाई ही नहीं दिया पर जब गौर से देखा तो हैरान रह गया क्योंकि ऋतु की बुर मेरी आँखों के बिलकुल सामने थी.

मैं- जरूर मेरी रानी बुलाओ तुम तो, आज उसकी गांड का उदघाटन कर देता हूँ वैसे तेरी गांड भी चोदने का भी दिल है. ’‘मेघा आज रात हमारे साथ चलो… मेरी वाइफ के सोने के बाद मैं तुमसे प्यार करना चाहता हूँ.

दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ एकाएक वो लड़का भी उठा और अपनी सीट से बाहर निकलते हुए बस के बीच से होते हुए नीचे उतर गया. अंत में जब वो झड़ने को हुआ तो उसने पूछा- कहाँ गिरा दूँ?तो मैंने कहा- मेरी चूत में ही छोड़ दे.

दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ टीना के साथ सब हंसने लगे और अजय चिढ़ गया और गुस्से में उसने लंड पेंट के बाहर निकाल लिया।अजय- क्या मूँगफली बोलती है साली. आंटी ने बोला- तो क्या फिर से मेरी गांड चाटना और मारना पसंद करोगे? मुझे भी तुम्हारा लंड भी बहुत मजेदार कड़क और जवान लगा है.

साइकिल पर बैठते समय उसकी कुर्ती ऊपर चढ़ गई जिससे उसकी सफ़ेद सलवार के अन्दर से उसकी गुलाबी जांघों और सफ़ेद पेंटी की झलक मिली जिसे देखकर ही चित्त प्रसन्न हो गया.

हिंदी बीएफ हॉट बीएफ

5 इंच मोटा है, मैंने जैसे ही लंड निकाला, वो पागलों की तरह मेरे लंड को हिला-हिला कर चूसने लगीं. शाम को चाचा घर आए और मुझे और रवि को चाची के पास ही सोने का बोल के खुद बाहर चले गए. तब तक संजय ने लंड गांड में डाल दिया था। एक दर्द की लहर फ्लॉरा के पूरे जिस्म में दौड़ गई।संजय अब ‘दे घपाघप.

मैंने भी उसकी मैक्सी जाँघों तक खिसका दी, नीचे से वो एकदम नंगी थी; उसकी गर्म गर्म चूत को मैं सहलाने लगा. मैंने हम दोनों के पूरे कपड़े उतार दिए और सीमा को बिस्तर पे लिटा दिया. मैं- आज मैं थक गया हूँ, आप ही सब्जी ले आओ न?माँ- ठीक है, मैं ही ले आती हूँ.

मैं दो बार झड़ चुकी थी मगर मेरा देवर मुझे लगातार चोदे जा रहा था, मुझे बहुत मजा आ रहा था.

फिर मैं उसकी चूचियों के दाने को चूसने लगा, एक तरफ उसकी चूत में उंगली कर रहा था और दूसरी तरफ उसके दूध को चूस रहा था. मैं चल भी नहीं पा रही हूँ, मुझे चुत में बहुत दर्द हो रहा है और पैर भी दुख रहे हैं. इसके पहले आप पढ़ चुके हैं कि मुझे स्नेहा को चोदने के लिए क्या क्या जतन करने पड़े और आखिर में उसे हासिल करने में सफल हुआ.

उस के बिस्तर में घुस कर मैंने अपनी हरकत करनी शुरु की, मैं उस की कमर पर हाथ रखा कर सहलाने लगा, वो नींद में थी पर तब भी उसने मेरे हाथ को अपने हाथ से हटा दिया. मेरे छूने मात्र से ही उसकी चूत गीली रसीली होने लगी और मेरी उंगलियाँ चूत रस से भीग गईं. मैंने पीटर की तरफ देखा तो वो इस कदर हमें देख रहा था जैसे कोई जलजला देख रहा हो.

मीना- अच्छा ऐसी क्या बात है बता तो? मैं समझी मुझे ही जल्दी है तुझसे मिलने की, मगर तू तो मुझसे भी ज़्यादा उतावली हो रही है. हरामजादी एक नंबर की चुगलखोर है।संजय- अबे सालों घर का इंतजाम हो गया है.

जब डिल्डो उसके अन्दर जाता तो उसकी बुर के गुलाबी होंठ अन्दर की तरफ मुड़ जाते और बाहर निकालते ही उसकी बुर के अन्दर की बनावट मुझे साफ़ दिखा देते. इतने में रफीक ने अपनी दोनों उंगली सबीना की गांड में जड़ तक घुसा दी जिससे दर्द के मारे सबीना ने मुँह बन्द करना चाहा पर मस्ताना की वजह से मुँह बन्द नहीं हुआ. उस वक्त मैंने स्कर्ट और टॉप ही पहना हुआ था।वो मुझे देख कर बोला- क्या बात है भाभी.

दोनों ने अपने लंड बाहर निकाले तो नताशा की गांड का खुला छेद किसी भट्टी के मुंह जैसा लग रहा था! चेहरे पर वही एवर ग्रीन मुस्कान! खुले मुंह में शानदार गुलाबी जीभ सभी को दीवाना बना दे रखी थी.

एक दिन मेरे अंकल की चुनावी ड्यूटी लग गई और आंटी मामा के यहाँ गई हुई थीं, उधर कोई बीमार था. मैं उठ खड़ा हुआ, मेरा पूरा मुंह गीला था और उस पर सभी लड़कियों का मिला जुला रस लगा हुआ था. माला की मुसकराहट का उत्तर मैंने भी मुस्करा कर दिया और उसके पास आ कर तौलिया लेकर अपने बदन को पौंछता रहा.

पर फिर भी मेरा मुँह उनकी टांगों के बीच में समा गया। पहले तो मैं अपनी जीभ उसकी चुत के ऊपर ही फिराता रहा।दीदी तो इतने में ही पागल हुई जा रही थी। वो बोली- मोहित ये सब तो तेरे जीजाजी भी नहीं करते. ऐसे तो ये रंडी सबका चूस कर ही निकाल देगी। अब इसकी चुत चोदने का टाइम आ गया है।साहिल- संजय तू आगे से डाल.

लेकिन भैया जागे हुए थे।उन्होंने लेटे हुए ही अपना एक हाथ मेरे पेट पर रखा. फिर मैंने चूत के अंदर एक उंगली डाली और चूसने के साथ साथ उंगली से उसे चोदने लगा. मैंने उसके नाखूनों की चुभन को सहते हुए उसी तीव्रता से संसर्ग करता रहा और कुछ ही क्षणों में माला ने बहुत ही ऊँची आवाज़ में एक लम्बी चीत्कार मारते हुए मेरी कूल्हे एवम् कमर को अपनी टांगों से जकड़ लिया.

बीएफ थिएटर

अब अनिता का दर्द कम हो गया और फिर से वो उत्तेजित हो गई… उसकी चुत में खुजली होने लगी.

बदले में जो चाहे कीमत आप मुझसे वसूल कर सकते हैं।यह कह कर उसने अपना मैक्सी उतार दी और बातें कहना शुरू की।‘मैं जानती हूं आपको मेरे बड़े-बड़े मम्मे बेहद पसंद हैं। आप हमेशा इन्हें घूरते आए हैं। मैं भी चाहती थी कि तुम इन्हें देखो। प्रताप की तरह मेरी चूचियों को मसलो. पूजा- क्या हुआ मामू आप मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो?संजय- क्या मस्त है रे तू पूजा. उसके बाद अनु मेरी गर्लफ्रेंड बन गई में बहुत खुश था और अनु भी बहुत खुश थी। और फिर मेरी अनु से मोबइल पर बात होने लगी। हम दोनों बहुत खुश थे.

क़सम से अब आप जीजाजी को भूल जाओगी।फिर मैं भी बिस्तर पे चढ़ गया और उसके ऊपर लेट कर उसे चूमने लगा। मैं उसके दोनों मम्मे बारी-बारी से दबाने लगा। फिर मैंने दाँये तरफ वाले निप्पल को अपने मुँह में भर लिया और हल्का हल्का सा काटने लगा।उसे दर्द हो रहा था. अब उसकी चूत किसी प्यासी बुलबुल की तरह मुंह बाये मेरे लंड को तक रही थी. செக்ஸ்வீடியோ தெலுங்கு வீடியோअब मैंने बच्चे को बीच में बिठाया और मैं उनके घर आ गया, उनका घर बहुत अच्छा था।जब मैं जाने के लिए निकलने लगा तो उन आंटी ने कहा- अरे रूको.

वो दोनों हाथ कमर पर टिकाए हुए वहाँ पर सुकून से मूत रहा था… मतलब उसने अपना लंड पकड़ भी नहीं रखा था फिर भी उसकी धार काफी दूर तक जा रही थी. फिर भाभी को अपनी बांहों में जकड़ कर उनके रसीले मदमस्त मम्मों को दबाते हुए उन पर किस करने लगा.

होंठ फिर मिल गए… अब बेताबी ज्यादा थी… सांसें गर्म हो चुकी थीं, रयान ने ऋषिका के टॉप के अंदर हाथ डाल कर उसकी पीठ को सहलाना शुरू किया. आप चेंज करो, मैं अभी फ्रेश हो जाती हूँ।गोपाल- जान ये कमरे का हाल ऐसे क्यों है? चादर नीचे पड़ी है सब अस्त-व्यस्त सा है. मेरा नाम सुम्मी है, मेरी उम्र 25 साल है, मैं एक कॉल सेण्टर में काम करती हूँ.

आपको ऐसी बात कहते शर्म नहीं आती?मैंने कहा- जब पूछने वाले को शर्म ही नहीं. शादी में चूसा कज़न के दोस्त का लंड-13अभी तक आपने पढ़ा कि मैं रवि की तलाश में हिसार जा पहुंचा और बस में मिले संदीप की बाइक पर बैठकर रवि के गांव की तरफ जा रहा था. मेरी टाँगें हवा में लटकी हुई थीं जिनको सँभालने के लिए मैंने राजे की कमर से दोनों पैर ज़ोर से लपेट दिए और बाहें उसकी गर्दन में माला की तरह डाल दीं.

मैंने रोहित के हाथ में साबुन देते हुए कहा- मेरी पीठ पर मल दो इसे!मैं अपना चेहरा पानी से बाहर निकालकर टब में उल्टी लेट गई और रोहित मेरी कमर को अपनी टाँगों के बीच में रखकर मेरी गांड पर बैठ गया.

माला को ऊपर बैठ कर संसर्ग करते हुए अभी दस मिनट ही हुए थे कि उसका शरीर अकड़ गया तथा उसकी योनि में बहुत तेज़ संकुचन हुआ और वह सीत्कार मारते हुए मेरे ऊपर लेट गई. रोहित बोला- साली, तेरी बहन तो एक नम्बर की रंडी है, मेरा भाई अभी उसे चोद कर आया है और तू सीधी होने का नाटक कर रही है.

आकाश ने मेरी साड़ी का पल्लू हटा दिया और मेरी चुचियों को ब्लाउज के ऊपर से मसलने लगा. रात को मैं अपने बिस्तर पर लेटा ही था, अब तो नींद भी आँखों में आती नहीं थी और बस इस इंतज़ार में रहता था किचूत का दरिया हमें भी अब तो नसीब हो,बहुत दिन हुए सूखे रेगिस्तान को,किश्ती बना कर लंड कीहमें भी आता है तैराना बखूबी. उसने नीचे देखा और अपनी चुत को भी हाथ लगा कर चैक किया।उधर संजय का लंड तो लोहे जैसा सख़्त हो रहा था। वो सोच रहा था कि अब इसे कैसे शांत करूँ, तभी उसकी मुश्किल पूजा ने आसान कर दी।पूजा- मामू अपने तो मेरी फुन्नी को चाट के साफ कर दिया और सारा मज़ा रस भी पी गए.

कोमल ने कहा- यार, तू तो सच में खिलाड़ी बन गई है, पर अब मेरा भी कमाल देख!कहते हुए उसने मेरे बगल से सामने झुकते हुए अपनी जीभ मेरे मुंह में डाल दी और मेरी जीभ को चूसने लगी, मुंह में मुंह डालकर इस तरह जीभ चूसना मुझे और भी रोमांचित कर रहा था, साथ ही उसने मेरे निप्पल और मम्मों को बड़े ही अंदाज से सहलाया, फिर दबाया, फिर मसलने लगी. मैंने आदी से कहा- ये क्या कर रहे हो? मैं तुम्हारी भाभी हूँ।आदी ने कहा- भाभी इतना बनने की जरूरत नहीं है, मुझे पता है आप भी यही चाहती हो।मैंने कहा- ये गलत है।आदी ने कहा- कुछ गलत नहीं है…और मुझे और कस कर पकड़ लिया, मेरे बूब्स मसलने लगा और साथ ही साथ किस भी कर रहा था. फिर वहाँ से हम दोनों साथ जाएँगे।वीरू- टीना के घर ही लेकर जाना इसको.

दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ तू रुक मैं अभी तेरी माँ को पटा कर आती हूँ।टीना जल्दी से बाहर गई और हेमा जी को एक झूठी कहानी सुना दी कि उनके कल टेस्ट हैं मगर ये बात अर्जेंट उसको पता लगी। अब उन दोनों ने तैयारी भी नहीं की है।हेमा- हे राम. मैं बहुत डर गया और मैंने उससे कहा कि अगर उसने ऐसा किया तो मैं उसका वीडियो इंटरनेट पर डाल दूँगा और उसे वीडियो दिखाने लगा.

बीएफ सेक्सी अंग्रेजी सेक्सी

अचानक हुए इस हमले से मैं पूरी तरह से हिल गई और ‘आआईई उम्म्ह… अहह… हय… याह… भोसड़ी के मार डाला मादरचोद आआह्ह ह्ह्ह…’ ही बोल पाई. तभी मामी जाग गई और मुझसे पूछा- तुम क्या कर रहे हो?मैंने जल्दी से उनके होंठों पर किस करना शुरू किया. अब मना क्यों कर रही है… फिर तेरी दीदी आ जाएगी, तो तू फिर उसके पास भाग जाएगी.

अब तो वही था कि अंधे को क्या चाहिए दो आँखें… और मेरे लंड को चूत… जो शायद मुझे मिलने वाली थी पर अब भी एक तरफ इतनी हिम्मत तो कर दी थी पर खुले में इतनी रात कोएक भाभी मेरे ऊपर गिरी हुई और मैंने उसे पकड़ा हुआ था, अगर कोई देख ले तो शायद उस औरत को तो कोई बाद में पूछता सबसे पहले मेरी पिटाई करता और बात पड़ोस की होने की वजह से पिटाई भी ज़्यादा ही होती. मैं बाहर निकल कर माँ के सामने नजर झुकाए हुए चुपचाप खाना खाया और अपने कमरे में सो गया. सोनी फिल्मइधर घर पर गोपाल मज़े की नींद सो रहा था मगर ये दोनों अब फ्री हो गई थीं, तो मोना ने सोचा क्यों ना नीतू को कुछ तैयार किया जाए ताकि आज ही कुछ मजेदार हो जाए.

कुछ देर के बाद माला ने अपने पेटीकोट को स्तनों के ऊपर बाँध कर और नीचे के शरीर को उसी से ढक कर बाहर निकली तब मैं दरवाज़े में ही खड़ा था.

फिर मामा ने मुझे स्लैब की ओर मोड़ कर झुका दिया, मैंने दोनों हाथ से स्लैब को पकड़ लिया, मामा फिर मेरे चूतड़ के पीछे से मेरी चूत सहलने लगे, मेरी चूत दोबारा से सूख चुकी थी, मामा जी ने नीचे झुक कर अपने दोनों हाथ से मेरे चूतड़ फैला कर गांड के पीछे से मेरी चूत चाटने लगे, मैंने भी और ज़्यादा झुक कर अपनी गांड फैला दी ताकि मामा आसानी से चूत चाट सकें और मज़ा लेने लगी. उसने बोला- अपना लंड तो दिखाओ… उसे फ्री करो चड्डी से!मैंने- खुद देख लो.

उस रात दस बजे जब हम सब घर पहुंचे, तब दोनों चाचा ने मम्मी पापा से कहा- भईया भाभी, सब काम तो ठीक से निपट गया है, अब हम चलते हैं, एक घंटे में वापिस गाँव पहुँच जायेंगे. उसको बेड पर औंधा लेटा दिया और उस पर चढ़ बैठा। मैंने अपने लंड को उसके पिछवाड़े रगड़ दिया।‘अब बोल?’वह बोला- थोड़ा थोड़ा।मैंने कहा- अबे रात को देखूंगा. कब से कोशिश कर रही हूँ कि मेरा भी पानी छूट जाय लेकिन नहीं हो रहा!’‘नहीं, लंड को घुसाने से तो तुम्हारा कुंवारापन छिन जाएगा.

छेद से झाँकने के बाद पूजा ने धीरे से कहा- वाव… ऋतु, तुम्हारे https://www.

मैं उसको देख रहा था और जब वो नीचे बस की साइड से गुजर रहा था तो उसने भी मुझे देख लिया कि मैं उसको ही देख रहा हूँ. इसी के साथ एंड्रयू ने अपना लंड स्वान द्वारा खाली की गई गांड में घुसेड़ दिया. तुझे भी बहुत मजा आएगा।मैंने अन्तर्वासना की कहानियों की चुदाई को याद किया.

भोजपुरी में सेक्सी वीडियो बीएफचून्चियों का रस पान करा दो ना…जिससे पिंकी शर्मा गई और कहने लगी- क्या बोल रहा है… प्लीज…ऐसे नहीं… मुझे शर्म आ रही है…’मुझे मेरा सिग्नल मिल गया था, अब मेरे होंठ सीधे उसके निप्पल पे थे, पहले तो मैंने हल्के से किस किया फिर उसे मुंह में भर के हल्के हल्के चूसने लगा जिससे पिंकी सिसकने लगी और अपने नितम्बों को पलंग पे रगड़ने लगी।दूसरा निप्पल मेरी उंगलियों के बीच था. सुमन- नहीं पापा, मुझे कुछ नहीं चाहिए बस मेरे लिए आपका प्यार ही बहुत है.

बीएफ मोटी मोटी गांड वाली

आलोक, स्वाति और अनिल बाहर हमारा ही इंतज़ार कर रहे थे… क्योंकि रोहित की तबियत ठीक नहीं थी तो मुझे भी उसकी देखभाल के लिए वही रुकना पड़ा।सब लोगों के जाने के बाद रोहित मेरे ही रूम में आ गया. हिम्मत ने अपने हाथ को टॉवल में घुसाया और योगिराज को हाथ में लेकर बोला- यार राजेश, हर बार तेरे योगिराज की साइज थोड़ी बढ़ जाता है, मोटा होता जा रहा है. वो उठी और बाथरूम में चली गई, वहां उसने सोचा नहा लेगी तो ठीक हो जाएगी.

आअहहह… जोर से और जोऊर से!मैंने अपना मुंह ऋतु के मुंह से जोड़ दिया और उसकी जीभ चूसने लगा. फिर गुस्से से बोलीं- जल्दी से मुझे चोद, अब रहा नहीं जा रहा है, सुन नहीं रहा है?फिर मैं मैडम के ऊपर आ गया, मैडम की चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा, फिर मुझे नीचे धकेल कर कहा- अब जल्दी डाल इसे इसके घर में!मैडम मेरे लंड को पकड़ कर चूत में घुसाने की नाकाम कोशिश कर रही थीं. और तभी कुछ जलवा हुआ,पीटर ने नीचे झुक कर, कमर जकड़ कर, रिया को उल्टा करके उठाया- मतलब रिया की टाँगें ऊपर उठ गयी और सर जमीं की तरफ हो गया.

बाकी सब वहीं रह गए।वीरू- क्या बात है फ्लॉरा आज तो बड़ी अलग लग रही हो. मैंने पूछा- कहाँ तक जाना है?‘मुझे कुछ किलोमीटर दूर एक छोटा सा गाँव है. एक साल तक तो मैं उसके स्टडी सेंटर पर जाता रहा, इसके बाद मैं उसके घर पर बनी क्लास मे जाने लगा जहाँ पर बैच टाइम सुबह 7:00 था.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि सुमन के सामने कल की पार्टी की चुदाई की चर्चा होते होते रह गई थी।अब आगे. मैंने उसकी चूत को ध्यान से देखा… बिल्कुल चिकनी, बिना बाल की, लगता था आज ही उसने सफाई की हो.

उसके मुंह के अन्दर जाते ही वो कुछ ज्यादा ही मोटा और बड़ा हो गया था.

अब वो ब्रा तो पहनती नहीं थी, उस टाइम उसके चूचे भी बड़े वाले संतरे जितने होंगे. इंग्लिश बीएफ ओपन व्हिडिओहम दोनों कुछ देर बिना बात किये वहीँ बैठे रहे और फिर मैंने चुप्पी तोड़ते हुए मानसी से माफ़ी मांगी. सेक्स बीएफ सेक्सी वीडियोमैंने भी समय न गंवाते हुए भाभी को चुदाई के पोज में लिटाया और अपने लंड को उनकी चुत पर सैट कर दिया. ’‘हाँ सविता इसे नरम होंठों से सहलाओ न… तुम्हारे ये बड़े-बड़े दूध से भरे थैले भी बाहर आना चाहते हैं.

फिर मैंने आबिदा से पूछा- तुम ये सब कब से करवा रही हो और क्यों करवाती हो?तो उसने बताया कि वो लगभग एक साल करवा रही है.

उसने किसी तरह मुझे अलग किया और बोलने लगी- आराम से करो, साँस तो लेने दो!‘ओके मेरी जान, सॉरी अब ऐसा नहीं करूँगा. सुमन ने अपनी नई ड्रेस नहीं पहनी थी मगर उसने एक रेड सलवार सूट पहना था, जिसमें वो खिल रही थी. एक दिन की बात है, मुझे घर से शाम सात बजे में फोन आया घर आने के लिये, बहुत जरूरी काम था.

मेरे अन्दर भी अब वासना की लहरें उठने लगी थीं। मेरा मन भी अब अपने भाई के साथ सेक्स करने के लिए तड़प रहा था क्योंकि मेरे भाई की बॉडी ही ऐसी थी, जिसे देख कर लड़कियां उस पर मर जाती थीं।वैसे भाई की एक गर्लफ्रेंड भी थी. अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा था कि पूजा की छोटी सी बुर संजय का मोटा लंड सहन नहीं कर पाई और वो चिल्ला पड़ी. बिल्कुल वही हेयर स्टाइल… वैसा ही हंसमुख और लम्बा चेहरा… भरे हुए दूध के ग्लास और पतली कमर के नीचे मोटे-मोटे गद्देदार चूतड़… कुल मिलकर वो सेक्स बम्ब लग रही थी.

बीएफ ब्लू फिल्म सेक्सी चुदाई

मैं जान गया था कि लड़की लाइन पर आ चुकी है, बस थोड़ी सी झिझक, थोड़ा सा डर बाकी है, वो भी अपने आप निकलेगा और वो खुद आगे आकर कदम बढ़ायेगी. मैं तो उसकी सफेद शर्ट में फंसी हुई चूचियाँ ही देखता रह गया जो शर्ट फाड़ कर बाहर आने को तैयार थी. यह कहानी सिर्फ मनोरंजन के लिए लिखी गई है, इससे किसी व्यक्ति, नाम, स्थान से कोई सम्बन्ध नहीं है.

रोते रोते मैं अपना हाथ पीछे ले गई तो पाया कि अभी तो उसके लंड का केवल सुपारा ही मेरी गांड में घुसा है.

बिना सोचे समझे मैंने वाइब्रेटर रिया की चुत में पूरा का पूरा पेल दिया.

वो देखने में मेडम से भी ज्यादा हॉट थी तो मैंने जाते ही उन्हें किस करना शुरू कर दिया. जो कि उनको बहुत सूट कर रही थी। इस वक्त मैं भाभी की मस्त फिगर को बेहद कामुकता से देख रहा था। उनकी फिगर बहुत मस्त थी। अभी भी याद आ रही है. हिंदी में चुदाई वाली ब्लू फिल्ममैं- आप चित लेट जाइये… मैं चेक कर के देखता हूँ, दर्द कैसे हो रहा है.

कहाँ निकालूं?तो उसने कहा- अन्दर ही डाल दे।मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और वो फिर से झड़ने वाली ही थी कि तभी हम दोनों साथ में झड़ गए. पूजा उल्टे पाँव उसके पास आ गई। जब वो बैठने लगी संजय ने उसका स्कर्ट ऊपर कर दिया और उसको कल की तरह बैठा लिया। अब लंड सीधे चुत से टकराया तो पूजा सिहर उठी।पूजा- इससस्स उफ़फ्फ़ मामू आपकी गोद में आज ये गर्म-गर्म क्यों लगा?संजय- तूने चड्डी नहीं पहनी ना इसलिए. वो बेचारी इतना सब कैसे सहन कर पाती, बदले में वो अपनी चूत उठा उठा कर मेरे मुंह पे मारने लगी.

यह तो मैं सभी कहानियों में बता ही चुकी हूँ कि राजे कैसा चैंपियन चोदू है. ये देखो मेरा होमवर्क भी पूरा हो गया।संजय- बहुत अच्छी बात है अब क्या करोगी?पूजा- कुछ नहीं आप थोड़ा रेस्ट कर लो बाद में मुझे पढ़ा देना।संजय- नहीं पहले तुझे पढ़ाऊंगा.

शक्ल से भिखारी लग रहा था। उसने फटा हुआ कुर्ता और पजामा पहना हुआ था।सुमन- दीदी क्या कर रही हो आप हटो वहां से.

हुआ यूं कि एक दिन हमारे पड़ोस के थाने से फ़ोन आया कि पुलिस ने मेरे पति को गिरफ्तार कर लिया है। किसी ने छोटी बच्ची को गाड़ी से टक्कर मार दी है और पुलिस ने शक के आधार पर इनको धर लिया है।मैं थाने भागी. लेकिन उसने तुरंत अपना हाथ हटा दिया। मैंने दोबारा से उसका हाथ लंड पर रख दिया. रात हो चुकी थी और बाइक पर चलते हुए संदीप ने अपना खड़ा लंड मेरे हाथ में दिया हुआ था.

बीएफ पिक्चर सेक्सी मूवी हिंदी दोस्तो, इसके बाद कई बार जैसे मौका मिलता हम दोनों चारपाई को किचन में ले जाते और अपनी चुदाई की आग को ठंडी करते, मजे करते!भाभी तो थी और गर्लफ्रेंड भी, तो स्वाद भी मौके मौके पर चेंज होता रहता था. वो रिंग लेकर उस शराबी के पास जाकर बैठ गई। सुमन को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था।सुमन- ये आप क्या कर रही हो.

मैंने शरीर को संभालते हुए उठना चाहा तो गांड में जैसे मिर्च लगने का इतना तेज अहसास हुआ जैसे किसी ने कोई जलती हुई चीज़ गांड में देकर निकाल दी हो. मम्मी पापा ने उन्हें समझाया- देखो, पिता जी और माता जी थके हुए हैं और इस समय उन्हें आराम की आवश्यकता है. तो चल तू जल्दी शहर आ जा, मैं किसी अच्छे डॉक्टर से तेरा इलाज करवाऊंगी.

बीएफ सेक्स बीएफ सेक्स वीडियो

गुलशन ने उंगलियों से चुत के मुँह को खोला और अपना टोपा उसमें फँसा दिया. उसके जघन-स्थल के बाल बिल्कुल रेशम की तरह मुलायम थे और उसकी योनि डबल रोटी जैसे फूली हुई थी तथा उसका भगांकुर एक मटर के दाने जितना मोटा था. फ्लॉरा गहरी नींद में थी या ऐसा कहो नींद की दवा के असर से बेसुध पड़ी थी मगर उसके नाज़ुक जिस्म के साथ जॉन जो वासना का गंदा खेल शुरू कर चुका था, उससे वो तड़पने लगी थी.

वो बोला- यार अपना भी यही हल है, मगर एक तरीका है, जिससे हमें किसी लड़की को चोदने का मौका मिल सकता है, अगर अपनी किस्मत ने साथ दिया तो!मैंने पूछा- कैसे?वो बोला- फ्राइडे या सेटर डे को ट्राई करके देखते हैं. मौसी ने अपनी उंगली से अपनी चूत को सहलाना शुरू कर दिया, वो कभी मुझसे अपने बोबे चुसवाती, कभी मेरे होंठ चूसती, कभी मेरी छाती को चूमती, चूसती.

प्लीज मुझे इस सेक्स स्टोरी पर मेल करके जरूर बताना।[emailprotected].

दीदी की चूचियाँ देखते ही मेरा लंड तो मानो लोहे की रॉड की तरह खड़ा हो गया. 5 इंच की थी।हम चारू और भाभी की कामुक चुदाई देख के बिन पानी मछली की तरह तड़पने लगी, एक दूसरी को सहलाने की जगह मसलने लगी, दबाने लगी, खरोंचने लगी।उधर चारू सर ने अपनी गति बढ़ा दी थी, उसने भाभी के लटकते भारी मम्मों को थाम लिया और अपनी गति पल प्रति पल बढ़ाते चले गये, भाभी के कूल्हों से चारू की जांघों के टकराने से मन को भेदने वाली सुरमयी ध्वनि निकलने लगी. बन जा तू भी काका के लंड की दीवानी।ये दोनों छज्जे से उतर कर काका की छत पर आ गए थे। उस वक़्त काका अपने चरम पे थे और मोना की टाँगें उठा कर उसकी ज़बरदस्त चुदाई कर रहे थे। वैसे उनको आवाज़ सुनाई दे गई थी कि राजू और राधा ठीक उनके पीछे आ गए हैं।मोना- आह.

फिर मैंने लंड का हल्का सा दबाव चूत पर बनाया और स्पीड से लंड का सुपारा चूत के चीरे में चलाने लगा. बैठे बैठे ही उसने मेरा बाथरोब खोला और मेरे निप्पलों के साथ वो छेड़खानी करने लगी. जब मैं स्कूल में पढ़ता था तब मेरा एक बेस्ट फ्रैण्ड था और वो बहुत ही बिगड़ा हुआ और चुदक्कड़ था और मुझसे हर वक़्त सेक्सी बातें करता रहता!उसकी गली में एक लड़की रहती थी, वो उसे रोज़ चोदता और वो मुझे भी बोलता था कि एक बार सेक्स करके देख… कितना मज़ा आता है मालूम चल जाएगा!लेकिन मैं नहीं चाहता था कि मैं शादी से पहले किसी के साथ सेक्स करूँ… ना ही मैंने कभी मुठ मारी थी, मैं बहुत शरीफ लड़का था.

हुआ यह कि इस चालक लड़की ने अपने फौजी अफसर पति को पटा लिया कि वो अपनी बीवी को किसी पराये मर्द से चुदते हुए देखे.

दिल्ली की लड़कियों की सेक्सी बीएफ: आपको यकीन ना आए तो किसी छोटे बच्चे की नूनी को थोड़ा सहला कर देख लो, वो भी खड़ी हो जाएगी, फिर मॉंटी तो पूरा लड़का था. वेज भी और नॉनवेज भी है, मगर खाने से पहले थोड़ी ड्रिंकिंग हो जाए तो पार्टी का मज़ा आएगा.

तभी मैंने एक तगड़े झटके से एक बार में ही अपना पूरा अन्दर लंड दीदी की चुत में पेल दिया. ‘नमस्ते स्नेहा बिटिया, कैसी हो?’ मैंने उसके सिर पर प्यार से हाथ फेरते हुए पूछा. उस समय तो मैंने सोचा कि तुमने मुंबई में सम्भोग के लिए किसी युवती को फंसाया होगा और उसी से बात कर रहे थे.

नताशा के हलक से जोरों की चीखें पूरे हॉल को गुंजायमान कर रही थीं, उसकी सेक्सी आवाज को सुन कर क्रू के हर मर्द का हाथ उसके लंड को मसलने पर मजबूर किए जा रहा था.

फिर एक रोज डॉक्टर ने मुझे 2 बजे दोपहर को लंच टाइम में अपने घर बुलाया. जब से मेरा मन आपसे चुदाई करने को तड़प रहा है। मैं आपके लंड के लिए बेकरार हो गई हूँ अंकल चोदो मुझे भी. दो ढाई बजे तक घर में बस तू बचेगा और तेरी माशूका होने वाली रखैल मेरी चुदासी माँ.