बीएफ बिहारी वीडियो में

छवि स्रोत,पुष्प फुल्ल मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

कुछ-कुछ सेक्सी: बीएफ बिहारी वीडियो में, इसलिए कहती हूं कि आप बड़े अनमोल हो … और अपनी आंखों से आंसू पौंछ लें.

सेक्सी गुजराती देसी

मेरी बाकी की फैमिली चंडीगढ़ में रहती है, इसलिए मैं हर शनिवार को अपने घर आया करता था. देसी लड़कियों की सेक्सी चुदाईरमेश का लंड भी एक बार फिर से तन कर मेरी चूत में जाने के लिए तैयार दिख रहा था.

वैभव ने हंस कर कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी!उसने किसी को फोन लगाकर बुलाया और उसके आ जाने पर उसे अपनी जेब से निकाल कर एक लिस्ट थमाई. सेक्सी फिल्म चोदा चोदी हिंदीतो ठीक है डन रहा, संडे रात 8 बजे के बाद और पूरे तीस हजार। बॉय।इतना बोल कर रिया ने फोन रख दिया.

उसने मुझे गाड़ी के पार्ट्स के बारे में बताया और बोल कर अच्छे से समझाया कि गाड़ी कैसे चलती है.बीएफ बिहारी वीडियो में: बारिश इतनी तेज थी कि बारिश की बूंदों से चोट लग रही थी … साथ ही चुदाई की आग में तप्त शरीर की मदहोशी भी बढ़ रही थी.

फिर दोनों दोस्तों ने मिल कर रिया की चूत और गांड बेरहमी से बजाई और रिया भी दोनों मर्दों के लंड को झेल गयी.तब तक तुम भी सो जाओ, मैंने रात को ही नेहा को बोल दिया था कि वह हर रोज तुम्हें बेड टी दे दिया करेगी.

देसी सेक्सी वीडियो भाभी देवर - बीएफ बिहारी वीडियो में

मैंने भी उसकी आंखों में देखा और आंख दबाते हुए नीचे आकर उसकी चुत से मुँह लगा दिया.मुझे भी भाभी जी को देख कर लग रहा था कि बस अभी पटक कर उनके ऊपर चढ़ जाऊं और भाभी जी की चुदाई कर दूं.

मैंने समझ लिया था कि भाभी ने मेरी बात को घुमा दिया और कोई रिप्लाई नहीं किया. बीएफ बिहारी वीडियो में मैं हाथ बढ़ा कर टॉवल नीरजा को देने लगा, जिसके लिए नीरजा ने हल्का सा दरवाजा खोला.

उसका गोरा बदन सांचे में ढला हुआ सा प्रतीत हो रहा था, अंग-अग में चिकनाई थी, रोम-रोम से मादकता टपक रही थी और उसके चेहरे को प्रेम और वासना की मिश्रित कांति चमक रही थी.

बीएफ बिहारी वीडियो में?

मेरा लंड पूरी तरह से गीला हो गया था … तो अब बड़ी आसानी से चुत में अन्दर बाहर हो रहा था. मैंने लंड हिलाते हुए कहा- मामी तैयार हो ना आप … संभल जाओ अब आपकी गांड का गड्डा खुदने वाला है. हम दोनों एक दूसरे को पसंद करते हैं और हमारे बीच काफी टाइम से सेक्स भी हो रहा है.

तुम बोलो, किस काम से आई हो?पायल ने आंखें नचाईं और कहा- वाह जी वाह … अब हम बिना काम के … आपके पास आ भी नहीं सकते?मैंने कहा- नहीं … मेरा मतलब ऐसा नहीं था … तुम आज बहुत व्यस्त हो. इस पर मैंने उससे पूछा- ऐसा भी क्या हो गया आपके साथ?वो और ज्यादा गम्भीर होकर बोली- उसने कभी ये समझा ही नहीं कि मैं क्या चाहती हूं. इसलिए मैंने अपनी गीली चूत को उसके पूरे चेहरे पर रगड़ा ताकि उसका लंड तैयार हो जाये और फिर मैं अपनी टांगें फैला कर उसके लंड पर बैठने लगी.

मैं आशा करता हूँ कि भाभी आंटी और लड़कियों के अलावा बाकी भाई लोगों को मेरी अन्तर्वासना सेक्स की कहानी जरूर पसंद आएगी. तभी उसने एक और झटका मारा और पूरा का पूरा लंड मेरी गांड में समा गया. चढ़ते वक्त आंटी की साड़ी उनकी गोरी और सुडौल पिण्डलियों के ऊपर उठ रही थी और आंटी अपनी गांड को मटका मटका कर चल रही थी.

असल जिन्दगी में सेक्स और चुदाई की प्यासी किसी महिला या लड़की को ढूंढना बहुत ही मुश्किल होता है. भाभी- नहीं, अभी तो हमें देर हो गई है, मैं कुछ और जुगाड़ लगाती हूँ, आज अंदर लेना जरूर है, नहीं तो आज मेरी रात नहीं कटेगी.

वो मेरे सामने आकर बैठ गया और उसने अपनी चड्डी टेबल के नीचे से मेरे हाथ में दे दी.

फिर उसने मुझे पेट के बल लेटने को कहा और मेरी बनियान ऊपर सरका कर पीठ और कन्धों की भी अच्छे से मालिश कर दी.

नीरजा- आह … बहुत अच्छा लग रहा है राज … आज तुम्हारा लंड लेकर मजा आ गया. जब तक वो अपना सर मेरी तरफ लायी, तब तक मैंने पैंट से लंड को बाहर निकाल लिया था. मैं तो पहले ही गर्म थी … ऊपर से इस घटाटोप बारिश ने मेरी चुदाई की बेकरारी और बढ़ा दी थी.

इस तरह की क्रिया हम दोनों में से किसी के लिए भी मजा देने वाली नहीं हो सकती थी. बेबी रानी चिढ़ के बोली- मुझे नहीं करनी किसी से बात … इसको चुदना हो चुदे, नहीं तो साली माँ चुदवाये … तू छोड़ इस रंडी को. उसने लंड को मुट्ठी बांध कर पकड़ा और मेरी आंखों में देखकर कहा- सच में संदीप … तुम और तुम्हारे लंड पर मैं अपना पूरा जीवन वार दूँ … तब भी कम है.

तो मैंने पूछा- तुमने अपनी बुर के बाल साफ किये या नहीं?तो उसने ना कहते हुए मुंह नीचे कर लिया.

कि यहां हर चीज़ ठेके पर हो रही थी, सभी काम के लिए कर्मचारी तैनात थे. अब दोनों लड़कियों को इतना मजा मिल रहा था कि दोनों मज़े से जोर जोर से सिसकार रही थीं. थोड़ी देर तक रानी किए गांड चूसने का लुत्फ़ उठाकर मैंने मुंह नीचे की तरफ करके रानी का नितम्ब चाटने शुरू किये.

अब मैं चरम सीमा की ओर बढ़ रही थी और अचानक ही मेरी चूत से मेरा रस निकल कर उसकी जांघों पर फैलने लगा और मैं अपने बूब्स के निप्पलों को अपने ही हाथों से भींचने लगी. फिर शाम को 5 बजे मेरी आँख खुली तो मैंने दो कप चाय बनायी और बाहर ले कर आ गयी. तुम तैयार हो जाओ … ठीक है!मैंने अपने बैग में चनिया चोली ले ली और ईशिता के आने का वेट करने लगी.

कुछ देर रवि के लंड से अपनी चूत की बाहर से मसाज करवाने के बाद रवीना ने अपने हाथों से रवि का लंड अपनी चूत में कर लिया और लगी उछलने.

प्रीति भाभी मेरे आगे और मैं उसके पीछे बैठ गया लेकिन जैसे ही नीचे बैठा हुआ ऊँट उठने लगा तो प्रीति घबरा कर मुझसे चिपक गयी और गलती से उसका एक हाथ फिसल कर मेरे लंड पर जा लगा. मैं कुछ बोलती कि इतने में राजीव मेरे दूसरी साइड में बैठ गया और मेरे दूसरे गाल पर किस करते हुए बोला- मधु जी मान जाइए ना … कसम से आपको भी बहुत मजा आएगा.

बीएफ बिहारी वीडियो में नैना अपनी ही रौ में बोले जा रही थी- रमित … मैं तुमसे एक अच्छी दोस्ती तो चाहती हूँ … जानती हूँ समाज की नज़र में ये गलत हो सकता है, पर मेरी में नहीं. होते होते हम दोनों साथ में कई बार खाना भी खाने लगे और थोड़ा हंसी मजाक भी होने लगा.

बीएफ बिहारी वीडियो में फ्री देसी सेक्स गर्ल स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपनी कामवाली की जवान बेटी को पटाने के चक्कर में उसे दाने पे दाना डाले जा रहा था. राजेश टॉवल से अपने लंड को पौंछते हुए बाथरूम में चला गया और दोनों ने अपनी अपनी सफाई की और बाहर आकर कपड़े पहने.

शायद आज मेरा सपना सच होने जा रहा था जो मैंने 2 साल पहले प्रीति को बताया था.

बेटे की चुदाई सेक्सी

आप सबके लिए हम दोनों ने सुबह से लग कर बहुत कुछ लज़ीज़ चीज़ें पकाई हैं. वैसे भी आधे घंटे के अंदर तुम लोगों ने पहना हुआ सब कुछ उतार ही देना है. रति की दोनों टांगें फैला कर वो उनके बीच में बैठ गया और अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया.

जवानी के कारण मेरे अंदर सेक्स करने की इच्छा बहुत तेज होती जा रही थी. मैं गुड्डी रानी के पैरों की तरफ बैठ गया और सुन्दर से, गोरे गोरे मुलायम से, उन पांवों को हल्के हल्के स्पर्श से सहलाने लगा. मैं मेरे कॉलेज के साथी आर्मी में जाने के कम्पटीशन की तैयारी में लगा था.

बातों बातों में मैंने उससे उस दिन वाली बात पूछी और कहा- तुम उस दिन मुझे गंदा क्यों कह रही थी?वो हंसने लगी और बोली- और क्या कहूं?पढ़ाई की किताब में कोई ऐसी गंदी किताब रखता है क्या?मैंने कहा- कैसी किताब?वो बोली- अच्छा तुम्हें नहीं पता?मैं- नहीं तो!फिर वो बोली- नाम बताऊं क्या?मैंने कहा- हां, बताओ, मुझे भी तो पता चले.

उसके बाद उसे चूमते हुए बाकी बची हुई पैग मैंने पी ली।मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?इस पर वो धीरे से मुस्कराई. जब इस तरह से मुझसे रहा नहीं गया, तो मैं सलहज को दोनों बांहों में लेकर बोला- शायद आज पहले चुदाई का योग है. भाभी- संजय … तुम्हें मुझमें क्या पसंद है?मैं- तुम्हारा नेचर, तुम बहुत सुंदर हो शशि, सच कहूँ तो मुझे तुम्हारे चूतड़ बहुत पसंद हैं और चुचे भी.

अब मेरे मुंह से निकल गया- वो सब तो ठीक है! पर खुशी है कहां?भाभी जी थोड़ा और हंसी और आँखें मटकाते हुए कहा- संदीप जी, उसकी शादी है. कुछ देर तक वह मुझे ऐसे ही चोदने के बाद वो दोनों चरम सीमा के करीब पहुंच गये थे. उनमें से कुछ ने बहुत ही उत्तेजक अंडरगार्मेंट्स पहनी हुई थी और कई ने पारदर्शी साड़ी डाली हुई थी जिसमें उनकी चूचियां आदि हिस्से अच्छे से दिख रहे थे.

गीत मेरी तरफ देखती हुई बोली- कैसे लगा हमारा अंदाज़?मैंने भी गीत को हाथ से इशारा करते हुए कहा- सुपर डार्लिंग. मगर रवि ने मना कर दिया और एक कॉलेज गर्ल की चुदाई का मजा लेने की बात कही.

वैसे तो उन्होंने मुझे पहचान लिया था, फिर भी मैंने अपना परिचय दिया- मैं संदीप … संदीप साहू. मैं बोला- फिर से बोल कुतिया … क्या हो तुम मेरी!वो बोली- साले मैं तेरी रांड हूँ … रखैल हूँ … जी भर के चोदो मुझे. तुषार उसके साथ आगे बैठ गया और रुमित जल्दी जल्दी मेरे पास पीछे आकर बैठ गया.

रवि- मगर जो भी हो, रांड तो नम्बर 1 है ये। देख जरा इसकी गांड … कितनी मस्त है! जी करता है अपने दाँत गड़ा दूं इसमें।रमेश रिया की नंगी गांड को देख कर एक हंसी के साथ बोला- तो गड़ा दे ना… रोका किसने है? पैसे किस बात के दिए हैं तूने?रवि- हां, सही बोलता है यार!रवि ने झुक कर रिया की गांड में अपने दाँत गड़ा दिये.

आकाश ने नैन्सी को ऊपर वॉशबेसिन के स्लैब पर बिठा दिया और उसकी टाँगें चौड़ा कर चूत चुसाई तेज करी. मुझे किसी से कोई बात नहीं करनी!इस पर वो लड़का बोला- देखिये, वैसे तो मैं आपको नहीं जानता. फिर उसने पोजीशन बदली और उसके लंड को मुंह में लिया और गांड उस सेक्स डॉल के मुंह पर रगड़ने लगी.

मोहल्ले में वो ये कह दे कि शीला अपने बच्चे के पास है, लॉकडाउन के बाद आएगी. आ रहा है ना मजा जीजा साली का सेक्स कहानी में! कमेंट्स में मुझे बताएं.

उसका लंड अब शीला की बेकरार चूत में घुसने को मचल रहा था और शीला की चूत के ऊपर रगड़ मार रहा था. चूचियों के पास तो कई बहुत बड़े लाल लाल निशान थे, जो सूख कर भूरे रंग के हो गए थे. उसकी जीभ मेरी पतली सी पैंटी के ऊपर फिर रही थी और मेरी चूत से निकल रहे रस को पैंटी के ऊपर से ही चाट रही थी.

हिंदी कॉलेज की सेक्सी वीडियो

एक रात पहले ही हमारी दोस्ती फोन पर हुई थी और न उन्होंने मुझे देखा था न मैंने उनको।वो रात मेरे लिए इसलिए भी खास होने वाली थी क्योंकि पहली बार मैं किसी बड़ी उम्र के आदमी से चुदने वाली थी.

रुमित बोला- आशना तुम कार में अपने कपड़े चेंज कर लो, हम सब यहां ही खड़े हैं. ब्रश आदि से फ्री हो कर जैसे ही मैं मुड़ा तो दरवाजे के पीछे नेहा की बहुत ही सुंदर पैंटी और ब्रा टंग रही थीं. फिर अनीता ने सबको हॉल में जाने को कहा और भावना को बाथरूम से आ जाने को कहा.

अपने होंठों से स्वरा के होंठ चूसते हुए मैंने लण्ड को स्वरा की बुर में धकेला. मेरी स्टोरी सुनकर रिंकी ने एक आइडिया मुझे बताया और कहा कि मैं उसी के मुताबिक ज्यादा से ज्यादा नॉटी बनकर खेलूं. கன்னட ஆண்ட்டி செஸ் வீடியோमन ही मन ब्रा पेंटी के शरीर में धंसे होने का भी अनुमान लगा लिया और कपड़ों को ज्यादा गौर से निहार कर अपनी शंका की पुष्टि कर ली.

वहां पर तीन तरह के ऑप्शन थे- ऑडियो चैट, वीडियो चैट और xxx वीडियो चैट. हमने बहुत देर तक गरबा खेला … पर गरबा खेलते खेलते रुमित मुझे बार बार देख रहा था … और चांस देखकर मुझे टच कर रहा था.

पास जाने पर झाड़ियों के पीछे से कुछ आवाजें सुनाई दीं- बस अब छोड़ दो! मुझे कॉलेज के लिए देर हो जायेगी. मैंने उसके मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही चूमना और हल्के से काटना शुरू कर दिया. रमेश का लंड भी एक बार फिर से तन कर मेरी चूत में जाने के लिए तैयार दिख रहा था.

अब आगे:पायल ने ड्राइवर को वैभव वाले होटल पर गाड़ी रोकने को कहा और साथ ही उसने किसी को फोन करके गेट पर बुला लिया. मतलब तो समझ गए न … मेरी भोसड़ी पसंद करने वालों … मैं अपना खुद का रंडीखाना खोल लूंगी. अरे इतनी जोर से चिकोटी क्यों काटी?” मैंने भी उसका गाल हौले से काटते हुए पूछा.

अब तो आप समझ ही गए होंगे कि वक्ष नोकदार ही था और नितम्ब भी काफी उभरा हुआ था.

इसी के चलते मुझेडेल्ही सेक्स चैट वेबसाइटमिली और मैंने इस पर रोल प्ले सेक्स करके किस्मत आजमाने की सोची. मैं इसे लेकर थोड़ा नर्वस भी था और चिंतित भी। मगर साथ ही एक रोमांच भी था कि लाइव रोल प्ले सेक्स चैट में कल्पना की कोई सीमा नहीं होती है.

मैं काफी देर तक नेहा के चूतड़ों में लंड फसाये, उसकी गर्म पीठ पर अपनी छाती को डाले पड़ा रहा. मैं नेहा के होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा और साथ ही उसके मम्मों को अपनी छाती के नीचे दबा कर उसे मज़ा भी देने लगा. अब आगे पढ़ें बाप बेटी का सेक्स:होटल मूनलाइट पहुंच कर रमेश सीधा रवि के रूम पर पहुंचा.

मैंने धीरे से अपनी शर्ट का एक बटन और खोल दिया जिससे मेरे मम्मों की बीच की गहराई उनकी हथेलियों से रगड़ने लगी. पुरानी कबाड़ा साईकिल थी … कभी मेरे चाचा उसे चलाते थे … मगर अब वे उसे कम इस्तेमाल करते थे. मैं एक नितम्ब दबा भी रहा था, सहला भी रहा था और दूसरा वाला चूतड़ चूस रहा था.

बीएफ बिहारी वीडियो में अब मैं चरम सीमा की ओर बढ़ रही थी और अचानक ही मेरी चूत से मेरा रस निकल कर उसकी जांघों पर फैलने लगा और मैं अपने बूब्स के निप्पलों को अपने ही हाथों से भींचने लगी. मैंने उसके लिए 2 कहानियां लिखीं जो उसे बहुत पसंद आईं और वो बोली- कभी मौका मिला मुझे तो मैं तुमसे मिलने जरूर आऊंगी।यह बात अक्टूबर 2019 के पहले हफ्ते की है.

हिंदी ब्लू फुल सेक्सी

फिर मैंने कुछ सोच कर निष्ठा से कहा- साली जी, बस दो तीन मिनट और लगेंगे, अबकी बार इसे अपने पैरों के बीच दबा कर कर दे न जल्दी जल्दी!मैंने याचना करने जैसे स्वर में कहा. वीकेंड में मैं अपना सारा स्ट्रेस निकालना चाह रही थी (उसके साथ ही कुछ और भी)।मैंने अपने कई दोस्तों के पास फोन किया लेकिन कोई भी उस रात को फ्री नहीं था. मुझे इसे खुशी के प्यार का उपहार समझ कर ग्रहण कर लेना चाहिए।अब तक बहुत सी बातें स्पष्ट हो चुकी थी.

मैंने भी तीन साल से नहीं कराई थी, तीन साल पहले एक बारात में मेरे एक रिश्ते के मामा मतलब मेरी मामी के भाई ने मेरी गांड मार दी थी. मैंने गाड़ी निकाली और हम दोनों पड़ोस के एक रेस्ट्रोरेंट में चले गए. रंग गुलाल होलीबाकी की गाड़ियाँ शायद और दूसरे ट्रेन के इंतजार में खड़ी रही।कहानी खुशी की शादी तक पहुंच चुकी है.

चलो कोई बात नहीं फिर!” मैं संक्षिप्त स्वर में कहा और आंखें मूंद कर फिर आहिस्ता आहिस्ता कराहने लगा.

कई बार जब अनिल मनोचा पीकर सोफे से उठ नहीं पाते तो नैन्सी आकाश को ही फोन करके बुलाती थी, और इसके लिए उसने चुपके से जीने की एक डुप्लिकेट चाभी उसे दे रखी थी. मैंने अपनी मम्मी की चुत में दस बारह जबरदस्त धक्के दिए, तो अदिति ने मेरे लंड पर अपना चुतरस का गर्म फव्वारा छोड़ दिया.

भाभी- नहीं, अभी तो हमें देर हो गई है, मैं कुछ और जुगाड़ लगाती हूँ, आज अंदर लेना जरूर है, नहीं तो आज मेरी रात नहीं कटेगी. मैंने भी मेरे दिमाग को सैट किया और आठ दस धक्कों में हम दोनों एक साथ स्खलित हो गए. कविता ने अब आयल सीधा रवीना के मम्मों पर उड़ेल दिया और मम्मों से लेकर उसके पेट पर हाथ फहराते हुए वो सीधे अपनी हथेलियाँ रवीना की चूत में ले गयी.

भाभी मेरे ऊपर चढ़ी, अपने दोनों घुटनों को मेरे आस पास किया और अपनी भारी मोटी गांड को उठाकर मेरे लण्ड के सुपारे को पकड़कर अपनी चूत के छेद पर सेट किया और धीरे धीरे नीचे बैठ गई.

एक तो वो लॉकडाउन खुलते ही पीजी खाली करेगा और दूसरे आज रात उसे नैन्सी की चुदाई करनी होगी. और फिर झड़ने के करीब भी पहुँच गये।मेरे पूरे जिस्म में आनंद ही आनंद भर गया. अच्छा इधर मेरी तरफ देखो फिर बताओ कि ये कैसे करना है?” निष्ठा ने पूछा.

हिंदी सेक्सी चुदाई स्टोरीमैं भी मस्ती में आकर भाभी की तरफ देखकर मुस्कुरा दी और भाभी के जाने के बाद मैं दरवाजा बंद करके फिर भैंस और भैंसा की चुदाई को देखने लगी. वहां जाकर हमने आराम किया और 4 बजे बाइक से जैसलमेर घूमने का प्लान किया.

सेक्सी वीडियो दिखाएं ऑनलाइन

लेकिन आप इसे सच्ची माँ कर पढ़ेंगे तो आपको लगेगा कि जिए आप उस लड़की की गांड मार रहे हों. फिर धीरे से पैंटी को निकालते हुए मैंने भाभी की चूत को आजाद कर दिया. कई बार तो कोचिंग बंद रहती मगर वो जरूर आता।मैं समझ गई कि ये मुझे लाइन मारता है। उसकी निगाहें बस मेरी छत पर ही टिकी रहती थी।अपने जिस्म की आग से मजबूर मेरे अंदर भी उसके प्रति सुगबुगाहट होने लगी.

फिर मैंने नेहा को एक लिप किस की और जैसे ही गीत ने संजय के होंठों से होंठ हटाये तो संजय ने नेहा को एक लिप किस की. उसकी सूजी हुई चूत को मैंने कपड़े से साफ किया और उसको अपनी गर्म गर्म जीभ से चाटने लगा. उसके बाद मैंने उसकी टांगों को फैला दिया और उसकी गांड के छेद पर आसपास रगड़ा.

और आएशा कभी मेरे लौड़े को चूस रही थी तो कभी रंजु की चूत को!उधर दीपक का लंड रंजु तैयार कर रही थी जो आएशा को पीछे से पेलने को तैयार था।रंजु की कमसिन चूत आएशा के होंठों की गर्माहट झेल न पाई और भलभला कर झड़ने वाली थी. और फिर मैंने काँपते हुये हाथों से नीचे झुक कर धीरे से उसकी टीशर्ट ऊपर को उठाई।कभी मन में डर आए, कभी रोमांच, कभी कामवासना।मगर हिम्मत करने से कुछ मिलता है।मैंने हिम्मत करी और लवी की टी शर्ट आराम से मैंने ऊपर उठा कर उसके दोनों मम्मे नंगे करे दिये।कमरे की धीमी रोशनी में उसके गोरे मम्मे मुझे बहुत ही प्यारे लगे।पहले तो मैं उन्हें देखता रहा. लेकिन एक बात तो सच है कि तुम्हारा अनुभवी प्यार किसी का भी दिल जीत सकता है.

मैं इतना अधिक एक्साइटेड हो गया था कि मैं अपने कंट्रोल से बाहर हो गया था. क्या तुम मुझसे दोस्ती करोगी?वो एक बार तो मुझको देखती ही रह गई फिर अपना हाथ छुड़ाते हुए बोली- ये तुम क्या कह रहे हो? तुम तो मेरे रिश्तेदार हो.

मैं दर्द से रोने लगी और गाली देने लगी- बहन के लंड छोड़ मुझे … साले अपनी सगी बहन की गांड क्यों नहीं मारता जाकर … हट जा साले.

वो अब पूरी चुदने लायक आइटम बन चुकी थी। बस मुझे उसे किसी भी तरह अपने झांसे में लेना था।मैं उसके पास गया और उसे ‘हाय’ कहा। उसने भी मुस्कुराते हुए ‘हाय’ का जवाब दिया।मैंने मम्मी से कहा- मम्मी मैं रितु को थोड़ी देर अपने कमरे में ले कर जा रहा हूँ मुझे कालेज के बारे में इससे कुछ बात करनी है।मम्मी ने कहा- हां चले जाओ मैं चाय-नाश्ता बना लेती हूं तब तक. செஸ் ஆடியோमेरे कानों से लेकर गांड के छेद तक और मेरी चूत से लेकर मेरे पंजों तक मेरे शरीर का कोई अंग उन्होंने चाटे बिना नहीं छोड़ा. नंगी पिक्चर बताओ सेक्सीनिष्ठा, मेरा ये बहुत देर से खड़ा है इस कारण पेट में तेज दर्द होने लगा है. इंडियन भाभीस चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरे दोस्त की भाभी भी मेरे से चुद कर माँ बनना चाहती थी.

रुमित ने मेरा दुपट्टा लिया और कार के बीच में उसका परदा बना दिया, जिससे मुझे शर्म ना आए.

मालकिन और सेक्स गुलाम कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपने कॉलेज के जूनियर लड़के को अपना गुलाम बना कर उसके साथ चूत चुदाई का खेल खेला. एक निप्पल को अंगूठे और तर्जनी में लेकर मसला और दूसरी निप्पल मुंह में लेकर जीभ फिरानी शुरू कर दी. कहीं तू भी उसकी तरह ऊपर से रगड़ कर पानी तो नहीं छोड़ देगा?इतना सुनते ही मैंने नीरजा की पैंटी को उतार कर उसको पूरी नंगी कर दिया और उसकी मस्त गुलाबी फूली हुई बुर को देखने लगा.

थोड़ी देर तक रानी किए गांड चूसने का लुत्फ़ उठाकर मैंने मुंह नीचे की तरफ करके रानी का नितम्ब चाटने शुरू किये. फिर मैंने उससे पूछा- आप किस टाइप का सेक्स करना पसंद करेंगी?तब वो बोली- सबसे अलग!मैं समझ गया कि इसकी चूत कुछ ज्यादा ही प्यासी है. आप जानते ही हैं कि कुंवारे लड़कों का इन सबका अंत मुठ मारने से होता है.

राशि खन्ना का सेक्सी वीडियो

मेरा भाई बोला- तो ठीक है … फिर फ़ोर-सम का मजा भी आ जाएगा, चलो मुझे कोई दिक्कत नहीं है. वे पहचान गए और बोले- अरे भैया बहुत दिनों बाद मिले हो … तो एकदम पहचान नहीं पाया … माफी चाहता हूं. चाचा ने अपना लण्ड हमारे मुंह से निकाला और हमारी टांगों के बीच आकर हमारा जांघिया नीचे खींचा, हमने अपनी आँखें बंद कर लीं.

थोड़ी ही देर में सरोज ने पीछे होकर अपने चूतड़ों को दीवार से लगा लिया.

लंड सूखा होने की वजह से दर्द से मैं कराह गयी और राजीव को ऊपर से हटाने लगी.

रीना रंजु दोनों बहनों से बारी बारी रोज रात दीपक के साथ मुझे चूत चुदाई करते पंद्रह दिन निकल गए थे।अचानक एक दोपहर में पापा ने फोन किया- तुम्हारी मम्मी की तबियत ठीक नहीं है. सलहज और नजदीक आकर मेरे हाथ पकड़ कर बोली- हटो इस लड़की के पास से … आज से आप मुझे अपनी पत्नी ही समझो. सट्टा किंग फरीदाबाद रिपोर्टदेखो निष्ठा मेरे लिंग का खड़ा हो जाना एक नेचुरल क्रिया है, प्रकृति के अपने नियम हैं, शरीर की कुछ क्रियाएं परिस्थितिवश अनचाहे, अनैच्छिक, अपने आप स्वतः ही होती हैं.

चाहे तो तुम मेरी सहेलियों को मेरी कोठी में ले जाकर सेक्स कर सकते हो. कुछ देर बाद मां नहाकर बाहर आ गईं और मुझे आवाज देकर बोलीं- हर्षद अब तू जा और जल्दी से नहा के आ जा. थोड़ी देर बाद जब हम नॉर्मल हुए तब वो मेरे ऊपर से खिसक कर मेरी तरफ करवट लेकर लेट गयी.

मेरा भाई बोला- तो ठीक है … फिर फ़ोर-सम का मजा भी आ जाएगा, चलो मुझे कोई दिक्कत नहीं है. देख मैंने कहा था ना मज़ा आयेगा … अभी देखे जा … कितना ज़्यादह मज़ा आने वाला है.

उसकी खूबसूरती का गुणगान करने के लिए मेरे पास शब्द और स्थान दोनों की ही कमी है.

हे कन्ट (चूत के गुलाम), ये है तुम्हारे लिये मेरा कैदखाना, तुम्हें यहीं पर मुझे खुश करना है!” मैंने हुक्म देते हुए कहा और सोफे पर बैठ गयी. फिर उसने अपने हाथ से मेरे हाथ को पकड़ा और अपने लंड पर रख कर हिलाने लगा. सेक्स की सची कहानी में पढ़ें कि पहली एंकर ने मुझे अपने फ्लैट में बुलाया कहा कि वहां तीसरी वाली एंकर भी आयेगी.

सेक्सी हिंदी वीडियो नंगी सीन मैं अभी भी उसके साथ रिलेशनशिप में हूँ और हमने मेरे घर का कोई हिस्सा नहीं छोड़ा है जहाँ हमने चुदाई न की हो।हमने उसकी कार में भी चुदाई की थी. मैंने पम्मी के कंधे पकड़ कर उसे इस बात का इशारा दिया कि मैं अब आने वाला हूँ, मगर पम्मी ने हाथ के इशारे से मुँह में ही झड़ जाने के लिए कह दिया.

उसे देख कर मेरे मुँह से निकल गया- वाह … तुम तो मुझसे भी ज्यादा बेसब्र निकलीं. मैंने अपना कामरस उसके मुँह में ही त्याग दिया था, जो सीधे ही उसके हलक से नीचे उतर गया और जो बचा हुआ अमृत उसके चेहरे पर फैला था, उसे उसने हाथों से पौंछ लिया. बीच बीच में लंड को पीछे लाता और जोर से गांड में पेल कर धक्का मारता.

अंजली की सेक्सी चुदाई

उसे शराब की जरूरत थी तो मैंने उसे होटल रूम में पिलायी और चालू माल की चुदाई की. उनकी मस्त गांड और गुदाज पटों को देखते ही मेरा लण्ड लोअर में तन चुका था. चाचा स्वभाव के बहुत अच्छे थे, गांव में ठेला लेकर आते तो हमें फ्री में चाट खिलाते.

दो मिनट तक लंड चुसवा कर मैंने उसे नीचे पटक लिया उसकी टांगों को चौड़ी करके उसकी जांघों के बीच में उसकी चूत पर लंड रख कर एक जोर का धक्का दिया. उपसंहारनिष्ठा की शादी के बाद भी उससे कई बार मिलना हुआ कभी किसी रिश्तेदारी के शादी समारोह में कभी किसी अन्य कारण से और मैंने निष्ठा की आँखों सदैव ही में अपने लिए चाहत और चुदाई करने का मूक आमंत्रण ही देखा.

मैंने रुचि भाभी को रोल प्ले शुरू करने के लिए कहा और ऐसा माना कि कोई मुझे अगले तीस मिनट तक कॉल या मैसेज नहीं करे और मैं अपने लाइव सेक्स चैट सेशन का पूरा मजा ले सकूं.

थोड़ी देर बाद उसने खुद को अलग किया और अपना चूत देखने लगी। जहाँ अभी मेरा वीर्य लगा गया था उसके साथ खून भी था।वो चूत देखने के बाद मेरी ओर देखकर मुस्कुराने लगी और बाथरूम चली गयी. जिससे उसको थोड़ा होश आया।होश में आते ही सबसे पहले मुझे महसूस हुआ जैसे मेरे लण्ड पर किसी ने गर्म पानी सा डालना शुरू कर दिया हो। मैं समझ गया कि दर्द के कारण किट्टू का पेशाब निकल गया था।मेरी तो जैसे गांड ही फट गयी थी. इस बार मैंने थोड़ा जोर से धक्का लगाया था, जिससे थोड़ा सा लंड चुत में घुस गया और वो चिल्ला उठी.

फिर घर वाले आ गये।इसके दो दिन के बाद ड्राइवर तो मुझे नियमित चोदता या कभी अपना लंड चुसवाता. अनीता ने कहा- चल भावना … जा, ये तुझको बुला रहा है और इसपर चढ़कर चुदाई कर देना … ये वही चाह रहा है. पर तुम मेरे लिए कुछ मत लेना, मैं नहीं रखूंगा।थोड़ी ही देर में व्हाटसप पर आठ बहुत मंहगे कोट सूट और शेरवानी की पिक आ गई.

मैं बोला- अगर आगे भी मौका मिलता रहा तो मैं तुम्हें ऐसी ऐसी जगहों पर चुदाई का मजा दिलवाऊंगा कि तुम याद रखोगी.

बीएफ बिहारी वीडियो में: मैं तो इसे और चोदना चाहता हूँ। तू क्या बोलता है?रमेश- नहीं यार, तू ही मज़े कर. तभी रवि बोला- क्या रंडी थी यार, उसके बारे में सोच कर मेरा लंड अभी भी खड़ा है!रमेश- हाँ यार, कुछ बात तो है इसमें!रवि- मेरा तो जी नहीं भरा.

पर मुझे अपनी इन गंदी सोचों पर खुद ही शर्म आ गयी और मैं उन अश्लील विचारों को दिमाग से निकालने के लिए कुछ और सोचने का प्रयास करने लगा. इस दरम्यान जयपुर वाली मेरी महिला ने मुझे एक आलीशान फ्लैट भी दिला दिया. मन ही मन वो सोचने लगा- अगर ये रंडी बन ही गयी है तो मैं भी आज इसको अपनी मर्दानगी दिखा ही देता हूं.

वे बोले- कोई सामान नहीं डालना पड़ा … पहियों के टायर ट्यूब सही थे … केवल बाल्व बदले हैं … अब हवा नहीं निकलेगी.

मौका देखकर मैंने शांति को एक हजार रुपये दिये और कहा- ये पैसे तुम्हारे लिए हैं, सोमवार को काम पर आना तो सज संवर कर आना. उसने लंड चूसते हुए मेरी गोलियों को दबाया और लंड को चुंबन देकर वहां से उठ गई. उसने अपने सीने को साड़ी के पल्लू से ढक लिया और रोल प्ले शुरू करने के लिए एक अच्छी पोजीशन में आ गयी.