सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ पिक्चर बताइए हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ बढ़िया से बढ़िया: सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ, ”मैं बाहर ब्रा पेंटी और नाइटी पहन कर बाहर आ गई पर सामने से नाइटी ओपन ही रखी थी तो मेरे चूचे और गीली चूत दिख रही थी.

वीडियो बीएफ सेक्सी चुदाई

दोस्तो, आज भी मुझे याद है, जब उसका पानी निकला तो उसके पानी ने मेरे लंड की जड़ तक बौछार मारी थी, बहुत सुखद समय था. माधुरी का बीएफहम दोनों खाना खा ही रहे थे कि घंटी बजी, बाई ने दरवाज़ा खोला तो दोनों मैडम ही थीं.

बाप बेटी की चुदाई की पूरी कहानी मेरी सेक्सी आवाज में सुन कर मजा लें!इस कहानी को पूरा पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें![emailprotected]. बीएफ पिक्चर व्हिडिओ मेंबताओ कैसी कही?मैंने उन तीनों से पूछा तो तीनों ही खुश हो गई और जो पोजीशन मैंने बताई थी वैसी ही हो गई।दिशा प्रीति और दीक्षा की बारी बारी से चूत चाटने लगी जिससे वो दोनों सिसियाने लगी और मस्त होकर मेरे लंड और पोते चूसने लगी.

जैसे ही मेरे हाथ उसके मम्मों पर लगे एक तेज़ कंपकंपी उसके बदन में आयी.सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ: मेरी निगाहों को पढ़ कर चाची ने मुझसे अपनी नजर चुरा ली और हंसने लगीं.

आंटी ने मुझे एक ब्रा दिखा कर पूछा- ये कैसी लग रही है?मैंने मन में सोचा कि ये मुझसे क्यों पूछ रही हैं.घर आकर मुझे लगा कि अगर मैं इन दोनों का कहा करता रहूँ, तो हो सकता है कि वो मेरी विडियो किसी को न दिखाएँ और ये बात छुपी ही रहे।मुझे क्या पता था कि अगले ही हफ्ते मैं कुछ और मर्दों की हवस मिटाऊंगा! पर वो कहानी अगली बार।मेरी गांड की कहानी कैसी लगी?मुझसे बात करने के लिए[emailprotected]पर मेल भेजें.

हिंदी बीएफ टीवी चैनल लाइव मेअनिंग - सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ

जैसे ही पानी निकलने को हुआ, उसने फिर से मेरे मुँह में लंड डाल दिया.उनके धक्के लगाने के अंदाज से पता चल रहा था कि वो जल्द ही चरमोत्कर्ष को प्राप्त करना चाहती हों, करीब पंद्रह मिनट चुदाई के बाद वो थोड़ी अकड़ती हुई बड़बड़ाने लगी- राज चोदो और जोर से, फाड़ दो मेरी चूत को… बहुत परेशान कर रही थी, मेरी बरसों की प्यास बुझा दो और वो अपनी चूत मेरे लिंग पर तेजी से रगड़ने लगी, उम्म्ह… अहह… हय… याह… तेजी से उछल उछल कर चुदने लगी.

भाभी अपना मोबाइल उठा के नम्बर डायल करने लगीं, मुझे समझने में देर ना लगी कि वो किसको फोन लगा रही हैं. सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ मैंने कहा- ठीक है!और फिर उसने नकली लण्ड को अपनी चूत के ऊपर बाँध लिया और लड़कों की तरह चोदने लगी और मुझे किस करने लगी.

वो भी मुझसे इतनी अधिक खुश रहने लगी थी कि वो हमेशा मेरा इन्तजार करती थी.

सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ?

हम लोग तीन लड़कियां थीं तो हमने सोचा रात में यहीं रूक जाती हैं, सुबह जब कोई गाड़ी मिलेगी तब अपने घर जाएंगे. तभी आंटी ने मॉम से कहा कि वो मुझे अपने साथ में मार्केट ला जाना चाहती हैं. वहां काफी देर इधर उधर की बात करने के बाद उस ने बताया कि मैं आज भी तुमसे बहुत प्यार करती हूँ, पर अब इस रिश्ते को आगे नहीं चला सकती.

वहीं मेरे ऑफिस में एक लड़की भी थी! चंचल, बड़ी बड़ी आंखें, हमेशा फुर्तीली और तेज! अपना काम बखूबी करती और फिर किसी की एक ना सुनती!उसके साथ मेरा काफी अच्छा दोस्ताना हो गया! हम दोनों मन लगा कर अच्छा काम करते और फिर कभी कुछ बातें कर लेते!ऐसे ही कुछ दिन बीते, फिर महीने बीत गए. मेरा लंड का टोपा जैसे ही उसकी चूत में गया ऐसा लगा जैसे किसी भट्टी में घुस गया हो. हमने अपने नंबर एक्सचेंज किए उसने नम्बर देते हुए कहा- मैं फोन करूँगी, तुम मुझे फोन नहीं करना.

मैंने उससे कहा कि तुम आज ही ऑफिस से त्यागपत्र दे दो, जो उसने बिना किसी झिझक के मुझे पकड़ा दिया. उसकी इस हरकत पर मुझे बहुत गुस्सा आ गया, पर मैं कुछ कर नहीं सकती थी. नकाब में बस इतनी जगह ही खुली थी कि वो अपना मुँह चुत, लंड और मम्मों पर मार सकें.

वो भी झड़ने वाली थी- आह… हां बेबी… मैं फिर से झड़ने वाली हूँ… हां… जोर से… साले फाड़ दे इस गांड को हां ऐसे ही चोद दे कमीने… आआहह… हह… मम्ममाह… आहहा…फिर हम दोनों एक साथ झड़ने लगे. चाची इस वक़्त 32 साल की होंगी जबकि मेरे चाचा की उम्र लगभग 40 साल की है.

मैंने प्रिया को कमर में हाथ डाल कर थोड़ा ऊपर उठाया और प्रिया के हाथ ऊपर कर के आराम से उस की टी-शर्ट निकाल दी.

मैंने शिकायत करते हुए कहा- अगर पहले बोल देतीं, तो अब तक कितनी बार मज़ा कर लेते और मुझे बार बार बाथरूम में मुठ नहीं मारनी पड़ती.

मैंने उसकी तरफ पीठ की, वो मेरे कंधे को धक्का देते हुए बोला- दोस्त औंधे हो जाओ… दूसरी कोई पोजीशन मुझे पसंद नहीं है. लंड झड़ जाने से मोहन थोड़ा ठंडा हो गया था, पर मैं तो एकदम गरम हुई पड़ी थी. अगर हमने आपके लिए महिला ग्राहक भेजा तो ही आपकी कमाई से हम थोड़ा सा कमीशन लेंगे, वर्ना हम एक पैसा भी नहीं लेंगे.

अनामिका- अगर हमारे साथ एक और इंसान जुड़ जाए तो हम तीनों को और भी मजा आ जाएगा. फिर मैंने उसे आँख मारते हुए पूछा- कैसा रहा टेस्ट… कितने नंबर मिलेंगे मुझे?उसने बोला- फुल से भी ज्यादा… तुम बहुत देर तक टिकते हो… तुम्हारे लंड में अच्छी खासी रांड को थका देने का पावर है. साथ ही मैं उसकी आँखों में देख रहा था और वो मेरी आँखों में देख रही थी.

कितनी कड़क चूचियाँ हैं तेरी, तेरे लिए तू बहुत दमदार लड़का खोजना पड़ेगा.

फिर उसने बिना कुछ कहे मेरा लंड, जो सात इंच लम्बा और ढाई इंच मोटा था, गप्प से मुँह में ले लिया. वो तो जल बिन मछली की तरह तड़पने लगी थी, उसके मुँह से बस ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आअहह ऊओह प्लीज़ मज़ा आ रहा है… और करो…’ किए जा रही थी. युवक हमारी मेज के पास रुक कर हमसे वहां बैठने की इजाजत मांगने लागे, और हमने उन्हें सहर्ष अनुमति प्रदान कर दी.

मैं ज़ल्दी से उठ गया, उनकी नजर मेरी पैन्ट पर पड़ गई और वो फिर से मुस्करा उठीं. लगभग 5 मिनट बाद मैं उठा और उसको भी उठाकर कपड़े से एक दूसरे को साफ किया. समीर- देख, मैं टॉयलेट में जा रहा हूँ, मेरे जाने के ठीक 2 मिनट बाद, तू आ कर 3 बार नॉक करना मैं दरवाजा खोलूंगा, तू अंदर आ जाना.

वो मुझे मेरे दोस्त वीर की पार्टी में मिला था, उसी ने मुझे उससे परिचय कराया था.

मैं शाम को ऑफिस से निकलने के बाद सीधा कामिनी के ऑफिस गया और अपनी बाइक खड़ी करके ऑफिस के रिसेप्शन पे गया. मेरा दोस्त आया और उसने मुझे आँख मार कर कहा- जा दोस्त, अब तेरा नम्बर.

सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ उसने बताया कल वो पूरे दिन के लिए मिल सकती है और कल के बाद शायद न मिल पाए. उसके बाद मैंने भाभी की कई सहेलियों को भी चोदा और वो सब भी मेरी सेवाओं से संतुष्ट हैं.

सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ दोस्तो, मेरी इस हिंदी सेक्स स्टोरी में मजा आ रहा है ना? तो मुझे ईमेल जरूर कीजिएगा. कुछ लड़के लड़कियां कोनों में खड़े चूमने और एक दूसरे के जिस्म से खेलने में मगन थे.

मैंने उसके होंठों पे उंगली रखी और पूछा- यहाँ किस किया?उसने हाँ में सर हिलाया.

सविता भाभी एक्स

दीदी के चूचे मेरी छाती पर दबे हुए थे और हम एक दूसरे की पीठ खरोंच रहे थे. जैसा हर लड़की को यह अहसास हो जाता है कि कोई आदमी उसको घूर रहा है, वैसे ही अलका भी ताड़ गई थी कि मैं उसे ध्यानपूर्वक देख रहा हूँ. उसने प्यार से फ़िर मेरा एक लम्बा सा चुंबन लिया, फिर बोली- अच्छा राजे मैं ज़रा बाथरूम जाकर आती हूँ… बड़ा प्रेशर बन रहा है चुदाइयों के बाद… यूँ गई और यूँ आयी!अलका रानी ने जैसे ही उठने का प्रयास किया मैंने उसे रोक दिया- रुको रुको मेरी जान… अभी एक ज़रूरी काम तो हुआ ही नहीं… तेरा स्वर्ण रस पीना बाकी है न… इस ग़ुलाम के होते हुए मैडम को बाथरूम जाना पड़े ये तो हो ही नहीं सकता.

कामिनी जोर से बोली- राहुल!मैंने कहा- हां…वो बोली- जल्दी से इधर आ… और साफ़ कर. उसकी रेशमी, नर्म, मुलायम और घुंघराले झांटों के बीच उसकी बुर तो ऐसे लगती होगी, जैसे घास के बीच गुलाब का ताजा खिला हुए फूल हो. रात के करीब डेढ़ बज रहे थे, नवीन किचन में ज़मीन पर लुंगी और कुर्ते में सो रहा था.

उसका भी मन अब चुदने को कर रहा था पर कोई ढंग की जुगाड़ नहीं बन पा रही थी.

दोस्तो और सहेलियो भाभियो… बताओ न… कैसी लगी मेरी देसी सेक्स स्टोरी… जल्दी से मुझे मेल करके बताओ[emailprotected]. तत्काल मैंने अपने होंठों और जीभ का रुख अपने दायीं ओर मोड़ लिया और दोनों पर्वतों के बीच की घाटी को चुम्बनों से भरता हुआ और अपने मुंह के स्राव से गीला करता हुआ दूसरे पर्वतश्रृंग की ओर अग्रसर हुआ. पर मुझे कहां पता था कि मुझे मेरी ज़िंदगी की भयानक सजा मिलने वाली है.

जब सामने बैठ कर टांगों को ज़रा सा भी ऊपर करती थी तो चूत पूरी नज़र आती थी क्योंकि स्कर्ट के नीचे भी कुछ नहीं था. दोस्तो, मेरी कई सेक्स कहानी अन्तर्वासना पर आ चुकी हैं, जैसेसौतेली मॉम की चुदाईमॉम की अन्तर्वासना शान्त कीघर की चूतों के छेदअब मेरी नई सेक्स कहानी पढ़ें. वो जैसे ही बेड पर लेटने को हुई, मैंने उसे पकड़ लिया और कहा- ऐसे नहीं जान पहले पूरे कपड़े उतारो.

मेट्रो में घुसते ही भाभी रुक गई पर मैं पीछे से भागता हुआ आ रहा था तो अपने आपको रोक नहीं पाया और भाभी की गांड से अपना लंड गलती से टकरा दिया. मेरा लंड लोहे की गरम रॉड की तरह हो गया और उसका सुपारा एक बड़े मशरूम की तरह फूल गया और टमाटर की तरह लाल हो गया।तभी प्रीति बोली- वीशु जी, अब मुझसे बरदाश्त नहीं हो रहा है, अब अपना लंड मेरी चूत में डाल दो!चूँकि तीनों की चूत अनछुई थी, मतलब तीनों की चूत सील बंद थी, इसलिये मैंने किसी भी तरह की कोई जल्दबाजी नहीं दिखाई और सब्र से काम लेना उचित समझा.

मैंने ध्यान नहीं दिया लेकिन मेरे दोस्त ने उसकी स्माइल नोट कर ली। उसके चले जाने के बाद वो मुझे बोला- यार क्या पटाखा है ये लड़की। कुछ भी हो ये लड़की मुझे पटवा दे।मैंने कहा- साले स्टूडेंट हैं मेरी। ऐसे लड़की चाहिए तो ओवरब्रिज के निचे से ले आ।हम दोनों हंसने लगे।फिर वो दोस्त चला गया और मैं अपनी क्लास मैं आ गया. जूसी रानी के आ जाने के बाद मैंने अलका रानी को होटल में बुला कर चोदना शुरू किया. मैंने जब उसकी बीवी को देखा तो मेरा लंड उसकी चूत का स्वाद चखने के लिए तड़प उठा.

रामसुख- बढ़ा चढ़ा कर फालतू बातें नहीं कर… मुझे चूतिया मत बना… टाइम कम है.

भाबी भाई से कह रही थीं- तुमसे कभी कुछ नहीं होता, तुम्हें बस अपना अपना दिखता है, मैं वैसी प्यासी की प्यासी रह जाती हूँ. उनके करीब हुआ तो भाभी ने मेरे गालों पे हाथ फिराया और मुझे खींचते हुए अपनी गोदी में लिटा लिया. मौसी के ऊपर लेटे लेटे ही मुझे नींद आ गई क्योंकि मुझे थकान भी बहुत हो गई थी.

मुझे कुछ समझ नहीं आया तो मैंने हल्का सा खंखारने की आवाज़ करके मैडम को चौंका सा दिया. वो मुझे गेट तक छोड़ने आईं और बोलीं- दो दिन के बाद मैं घर पर अकेली रहूँगी, तुम कभी आ सकते हो.

भाभी ने मुझको देखा और कहा- कुछ चाहिए?मैंने कहा- भाभी, आप बहुत सुन्दर दिखती हो. लेकिन इतनी तमीज़दार औरत के मुँह से ऐसे शब्द सुन कर आज मैं हैरान था और मुझे डर भी लग रहा था कि पता नहीं भाभी शाम को क्या करने को बोलेंगी. और ना जाने कब मैंने अपना हाथ उस की तरफ बढ़ा दिया। वो मेरे सामने बैठी थी, हमारे बीच में टेबल थी, वो मेरे हाथ की तरफ देख रही थी।मैंने नीचे से उस का पैर अपने पैर से सहला दिया।उसने मेरा हाथ पकड़ लिया.

राजस्थानी गांव की चुदाई

मैं टॉप के ऊपर से दीदी के चूचे दबाने लगा और दीदी जींस के ऊपर से मेरा लंड मसलने लगीं.

थोड़ी देर ऐसे ही चोदने के बाद विवेक ने लंड निकाल कर कामिनी की गोरी गांड पे पिचकारी छोड़ दी. मैं भी खुश हो गया और मैंने जोरदार धक्के के साथ पूरा पानी चुत में ही डाल दिया और कसके पकड़ लिया. वो थोड़ा ऊपर को उठीं और मेरा लंड अपनी गांड की दरार में सैट करके फ़िर से बैठ गईं.

मेरा देवर कभी कभी मेरे बेड रूम में आता था तो मैं उसके साथ थोड़ी मस्ती करती थी और वो भी मेरे साथ बहुत मस्ती करता था. मगर आंटी नहीं मानी, उन्होंने पहले मेरी शर्ट निकाल दी और मेरे सीने पर किस करने लगीं जिससे मुझे कुछ कुछ होने लगा. एक्स एक्स बीएफ राजस्थानीइस बार मैंने जब धक्का मारा तो मेरे लंड का सुपारा उसकी कोमल चूत में जा चुका था.

इसको भी उन्होंने सीसी कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया और मुझको दिखा कर बोलीं- अगर कभी मुँह खोला तो यह सब तुम्हारे पापा को दिखा दूँगी. चुदाई के बाद चंदर बोला- बिंदु जी, जिस दिन आपका पति कहीं आउट स्टेशन हो, तो आपको मुझसे चुदाई के लिए पूरी रात के लिए आना होगा.

फिर शादी में पूरा दिन निकल गया, पर मोहन ने मेरी गांड को हाथ तक नहीं लगाया. मेरा हाथ को उसने अपनी चूत में दबा कर रखा और कुछ सेकण्ड्स में ही वो झड़ गई. भाभी इस वक्त काम की देवी लग रही थीं, उनका जिस्म किसी अनजानी खुशबू से महक रहा था.

मगर मैंने उनसे इस जंगली चुदाई की चाहत की वजह जानने की कोशिश की तो उन्होंने मुझे अपनी आपबीती की बात कही. मेरी भी टांगें तो थीं मगर मैं कहीं भी जा नहीं सकती थी क्योंकि नंगी रखी गई थी. दूसरी बात वहां सिर्फ प्रेमी-प्रेमिका और पति-पत्नी को जाने की अनुमति होती है, भाई-बहन को नहीं.

पर अभी चूत की आग बाकी थी, बाहर आकर पहले तो हमने एक दूसरे को पौंछा ताकि सर्दी न लगी, और फिर एसी ओन करके नंगे ही कम्बल में घुस गए.

फिर चंदर बोला- मेरी जान बिंदु, जाओ अपनी चुत को साबुन से धोकर ही मेरे सामने आओ और इस पर कोई सेंट भी लगा लेना, जो आपको पसंद हो. उसकी जांच नहीं करानी है क्या?उसका जवाब था- उसमें तो बस तुम्हारा लंड ही जाता है रोज़ रोज़ और कुछ नहीं है.

”नहीं भाईजान आप इसलिए खुशकिस्मत नहीं हैं कि आपको इतनी खूबसूरत बहन मिली. मेरा दिल तो ऐसे लगता था, जैसे वो मेरे मुँह के रास्ते बाहर आ जायेगा. मैंने कहा- भाभी नसीब देखने के लिए क्या दिक्कत है… क्या मैं कोई मदद कर सकता हूँ?भाभी बोलीं- तुम ही मेरे नसीब को दिखा सकते हो.

लगातार आनन्द से भरी सिसकारियाँ लेते हुए थोड़ी देर में ही आरुषि ने अचानक मेरा सिर अपनी टाँगों में जकड़ लिया और कमर उठा कर एक तेज सिसकारी के साथ अपना यौवन रस मेरे मुंह पर छोड़ दिया जिसका स्वाद बहुत ही बढ़िया था, जिसे मैंने पूरा चाट कर साफ कर दिया. उसकी माँ समझ गई कि मैं भी एक नंबर का हरामी हूँ, सो वो मेरे लंड को पकड़ कर तेज़ी से ऊपर नीचे करने लगी. आप सब लोगों ने मेरी पिछली कहानियों को बहुत सराहा और बहुत ज्यादा संख्या में मेल करके अपनी राय मुझे बताई, इसके लिए आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद.

सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ अगर आप राजस्थान के हैं, तो आपने झुंझुनू का नाम तो सुना ही होगा, बस उसी के पास में मेरा गांव है. मैंने कहा- जानेमन, अभी तो सिर्फ होंठों से टच किया है, अभी तो और भी करंट लगेगा.

एक्सएक्सएक्स.ह

और दिशा तुम दोनों की चूत चाट सकेगी, ऐसे तुम तीनों को कुछ न कुछ चाटने को मिलेगा. अन्नू बोली- हमारे सेवक की सेवा से मजा आ रहा है या नहीं?एकता बोली- यार, मेरे पास ऐसा सेवक हो तो मैं दिन रात बेडरूम में ही रहूँ. वो खुद किसी कंपनी में काम करती हैं, उसी के प्रॉजेक्ट के लिए यहां आई हैं.

इसके बाद टॉप को थोड़ा ऊपर करके मेरी कमर से लिपट गये और मेरी नाभि पर अपनी जीभ से चाटने लगे और नाभि को करीब 3-4 मिनट तक चूमते रहे. सहर ने मेरे लंड को मेरी पैंट के ऊपर से ही पकड़ लिया और उसको दबाने लगी. बीएफ चुदाई लंड चूतक्योंकि जब भी मेरी माँ मेरे सामने आएगी, तो मुझे वो नंगी ही दिखाई देगी, जिसे मैं चोद रहा होऊंगा.

बस फिर क्या था, उसने मुझे अपने गले से लगा लिया और ब्रा का हुक पीछे से खोल दिया, जिसका असर यह हुआ ब्रा उतर गई और मैं ऊपर से पूरी नंगी हो चुकी थी.

उसने अपने दोनों हाथों से बैड की चादर को भींच लिया और कमर को ऊपर करके चुत मेरे मुँह से सटा कर बोलने लगी- आह और मत तड़पाओ… चोद दो मुझे…मैं उसकी चूत चाटे जा रहा था. गोलू तेरी नुन्नी खड़ी नहीं होती तो क्या हुआ, तू पिंकी की चूत में अपनी कड़क उंगली घुसा दे.

ऊपर से इस पैसे की महामारी में दोस्त का कर्ज़ा कर दिया, सो वो कष्ट अलग था. वो देख कर तो जैसे मेरे दिमाग़ में एक शरारत सूझी और मैं उनकी पैंटी पर बने हुए हर एक होंठ को अपने होंठों से चूमने लगा. उसके मुंह से ऊँऊँऊँऊँऊँ… ऊँऊँऊँऊँ की ध्वनि निकली- ‘क्या करते हैं… प्लीज़ तंग न करिये ना.

पर मैं नहीं रुका, मैं घर आ कर सीधा रूम में घुस गया और अन्दर से लॉक करके बिस्तर में लेट गया.

अर्न्तवासना से मेरी कहानियों को पढ़कर बहुत से लोग फेसबुक पर मुझसे जुड़कर मेरे बहुत अच्छे दोस्त बने हैं, इसलिए इस साइट का भी बहुत बहुत धन्यवाद. फिर अचानक से भाबी की पेंटी के ऊपर से उनकी फूली हुई चुत को चाटने लगा. मैंने उसको दीवार के सहारे झुकाया और उसकी टांगों के बीच से लंड चूत में पेल दिया.

बीएफ सेक्सी वीडियो हिंदी भोजपुरीमैंने कमरे में आकर साड़ी बदलना शुरू किया ही था कि तभी मुझे मेरे पीछे कुछ हरकत सी होती लगी. घर पहुँचे तो बाई को आवाज़ दी, बाई ने खाना लगाया, थोड़ा थोड़ा खाना सबने खाया.

सेक्स xxx video

अंकल पूछने लगे- फिर बेटा सर्दी में काम कैसे चलता है?मैंने कहा- बस ऐसे ही चल जाता है. वो अपनी बहन से बहुत प्यार करता है, इसलिए वो घर जाने के लिए तैयार हो गया और न चाहते हुए भी उसने मुझे हटा दिया. अंकल मेरे से बात करने लगे और उन्होंने पूछा- क्या आप अक्सर इस स्टॉप पर आते हैं?मैंने कहा- हां हफ्ते में दो या तीन बार तो आता ही हूं.

इधर मेरी गांड फट रही थी कि उसको हिडन कैमरे के बारे में न मालूम चल जाए, पर किस्मत को क्या करता. कुछ देर में वो भी सो गया लेकिन मुझे नींद कहां थी, मेरे दिमाग़ में कीड़ा रेंग रहा था. अब तक आपने पढ़ा था कि मैं भाभी को बेहद जंगली तरीके से चोदने की बात मान कर अपने दोस्त नीरज के पास आया था.

हमारे परिवार में अब्बू और अम्मी के अलावा मेरा भाईजान भी हैं जो मुझसे 4 साल बड़े हैं. इधर मेरे धीरे धीरे धक्के लगाने के कारण और दिशा द्वारा प्रीति के दूध चूसने और दबाने के कारण प्रीति का दर्द धीरे धीरे मजा में बदलने लगा जिसकी वजह से वो नीचे से अपनी कमर हिला कर अपनी चूत में मेरा लंड लेने लगी. सर ने मुझे पैन ड्राइव दी और कहा- इसमें बहुत पोर्न मूवीज़ हैं, इनको ध्यान से देखना, कल ऐसे ही चुदाई करेंगे।मैंने पैन ड्राइव अपनी किट में रख ली.

और हां भैया, अगर ये बात अगर मम्मी पापा को पता लगी, तो मैं कसम खा कर कह रही हूँ कि मैं सुसाइड कर लूँगी. मैंने मन ही मन तय कर लिया कि अगर अलका की चुदाई मिल गई तो जैसे ही मेरे घर के ठीक पीछे वाला घर, जब कभी भी खाली होगा, तो वो घर सत्येन को अलॉट कर दूंगा.

मेट्रो में घुसते ही भाभी रुक गई पर मैं पीछे से भागता हुआ आ रहा था तो अपने आपको रोक नहीं पाया और भाभी की गांड से अपना लंड गलती से टकरा दिया.

हमारे बोर्ड के एग्जाम पास आने लगे थे और क्लास में टॉप करने का सोच सोच कर मैं परेशान रहने लगा, क्योंकि बिना मैथ में अच्छा नम्बर लाए यह संभव नहीं था. बीएफ दिखाइए बढ़ियाउसने मुझसे दूध पिलाने का कहा तो मैं उसकी छाती पर चढ़ गई और उसको अपने चूचे चुसाने लगी. सेक्सी बीएफ देहाती भोजपुरीअनामिका- अरे मैंने उसको हमारे बारे में सब बता दिया है और वह अब हमारे साथ सेक्स करने के लिए एकदम पूरी तरह से तैयार है क्योंकि उसका पति उसकी हवस नहीं मिटा पाता है और उसने रोते हुए मुझे सब बताया तो मैंने उसको सब बता दिया कि मैं कैसे अपने पति के साथ और तुमसे चुदाई करवाती हूँ, पिछले 2 साल से तुम्हारे पास आकर मेरी भूख को मिटा रही हूँ. जैसे ही उन्होंने मेरा खड़ा लंड देखा, वो देखकर उसको हाथ में लेकर सहलाते हुए बोलने लगीं- आज 3 साल बाद इतने बड़े लंड से चुदाई का मज़ा ही कुछ और होगा.

मैंने कहा- ये बात आप मुझे पहले बता देतीं, मैं कबसे आपको चोदना चाहता था.

मेरे साथ बेडरूम में आते ही नीलम ने मेरी शर्ट उतार दी, पूनम ने मेरी पैंट उतार दी. वो बोली कि ठीक है, पर आप किसी को बताएंगे तो नहीं ना?मैंने कहा- नहीं. फिर धीरे धीरे उसकी जाँघों से किस करते हुए नीचे तक पूरे पैर पर किस किया, सभी उंगलियों को मुँह में ले कर चूसा.

अब मैं पिंजरे के पंछी की तरह से थी, जिसके पर तो हैं, मगर उड़ नहीं सकता था. मैं भाभी को लिटा कर उनके होंठों पर अपने तप्त होंठ रखकर उनको चूमने लगा. वो भी बीच बीच में मेरा लंड बाहर निकालकर हल्की हल्की सिसकारियां ले रही थी.

એક્સ એક્સ સેક્સી

उस चैट को पूरा पढ़ कर पता चला उसके बहुत सारे नंगे फोटोज उसने सर को भेजे हुए थे. बोल दो ना कि ओवर टाइम करना है तो यही काम करना पड़ेगा वरना काम छोड़ दो. मेरा हाथ सीधा मेरी चुत पे चला गया और मैंने अपनी चुत में उंगली शुरू कर दी.

ठप ठप ठप की मधुर आवाज़ के साथ वो आहह आहह आहह कर रही थीं और उनकी गांड स्प्रिंग की तरह दब के ऊपर नीचे हो रही थी, सच में बहुत ही मज़ा आ रहा था.

जैसे ही उस गाड़ी की शीशे उतरे, मैंने अंदर नजर घुमा कर देखा कि उसमें करीब चालीस की एक खूबसूरत सी आंटी बैठी हैं.

मैंने कहा- वो कैसे?वो बोली- क्या आप भी जीजू उंगली तो इतनी छोटी होती है तो वो तो आसानी से ही जाएगी न. करीब पौने घंटे में फोन की घंटी बजी- निवास जी, आपको जगाया तो नहीं ना?”आवाज़ थर्राई हुई थी. बीएफ सेक्सी में बीएफ सेक्सी में बीएफकुछ ही देर में वो भी धीरे धीरे गरम होने लगी और उसने भी मेरे होंठों पे अपने होंठ लगा दिए.

मैंने नीचे जा कर मम्मी को कपड़े दे दिए और थोड़ी देर बाद फिर ऊपर जा के देखा तो सब वैसे ही सो रहे थे। मेरा मन तो काफी कर रहा था कि जाकर चाची के बदन साथ फिर से खेलूं पर मैं डर भी रहा था कि कोई आ न जाये या कि कहीं चाची जग न जाये. मैंने हँसते हुए कहा- मैडम जी कॉफी पीकर थोड़ी बहुत नींद अगर आती होगी तो वो भी भाग जायगी… कोई तकलीफ नहीं होगी मुझे… मैं ब्रांडी साथ लेकर आ रहा हूँ… कॉफ़ी में ब्रांडी मिला के लेंगे तो बढ़िया नींद की मेरी गारंटी. वो तो एकदम बेड से उछल पड़ी- अहाआहह… आअहहाहह… आहहाह… कम ऑन बेबी… अन्दर तक चाटो और जोर से चाटो हां ऐसे ही आह… आह…वो मेरे मुँह को अपनी बुर पे दबाने लगी.

तो इन पन्द्रह दिनों मेंइंडियन सेक्सी वाइफका क्या हाल होता होगा?उस समय भाभी के कपड़े देखकर मुझे कुछ कुछ हॉट सा फील हुआ था कि भाभी ने बहुत ही ज्यादा एक्सपोज करने वाले कपड़े पहन रखे थे. इस कहानी में मैंने एक भाभी के बारे में लिखा है, जो कि मुझे पिछले महीने अहमदाबाद के बोपल एरिया के गोटिला गार्डेन में मिली थीं.

जब मैं झड़ रहा था तब दी ने अपने दोनों हथेलियों को मेरे लंड के सामने लगा दिया और मेरे स्पर्म को अपने दोनों हाथों में ले कर बड़ी प्यार से उसे चूम लिया.

पर इस बार वो मुझे घूरती रही, मैंने भी हिम्मत करके आँखों से आंखें मिलायी और पहले की तरह कान पकड़ कर सॉरी कहा और भाभी ने स्माइल पास की. राजू- ठीक है मेमसाब मैं जा रहा हूं… जब किसी को कुछ करवाना ही नहीं है… तो मैं चला. उस दिन हमने डेढ़ दो घंटे सेक्स लिया जिसमें अनामिका ने तीन बार पानी छोड़ा था और मैं दो बार झड़ चुका था, एक बार मैंने अपना माल उनकी चूत में छोड़ दिया था और दूसरी बार उनकी गांड में।और फिर थोड़ी देर बाद हम किस करने लगे और मैं अपने बदन को साफ कर के मेरे कपड़े पहन कर मेरे घर वापस आ गया.

न्यू सेक्सी बीएफ हिंदी मेरी चुत तो चुद कर ढीली हो गई थी मगर आशीष का लंड मेरी चुत में घुसने के लिए पूरे जोर पर था. मैंने देखा तो भाभी मेरी छाती पे सिर रखे हुए आँखें बंद करके सो सी चुकी थीं.

कॉलोनी काफी अच्छी बनी हुई है जैसी कि आम तौर पर बड़ी कंपनियों की कॉलोनियां हुआ करती हैं. तुम लोगों की पैन्ट इतनी कैसे फूली हुई है?”तुम्हारी चुदाई की आवाजें आ रही थीं… इसलिए हमारे लंड फूल गए हैं. पोर्न वीडियो देख कर मेरी हालत खराब हो जाती है, अन्तर्वासना पर सेक्सी कहानियां भी चार पांच पढ़ी थी।तभी बालू ने मोबाइल पर एक इंडियन पोर्न वीडियो निकाल कर लगा दिया जिसमें एक लड़की बहुत स्लिम मेरी तरह और तीन बहुत लम्बे चौड़े काले नीग्रो… तीनों ने लड़की के कपड़े उतार दिए और अपने भी मैंने आंखें बंद कर ली.

देसी भाभी की चूत

शाम को मैंने अपनी हॉट ब्लैक साड़ी पहनी जिसके ब्लाऊज का गला गहरा था, मैं बार बार उसे अपने मम्मे दिखाती रही, पर वो कुछ भी नहीं समझ रहा था या समझ कर भी नासमझ बन रहा था. इतना कह कर मैं नीचे फर्श पर बैठ गया और रानी के सेट होने का इंतज़ार करने लगा. एक तरफ तो चुत लंड की वासना के कारण हम दोनों अलग नहीं होना चाहते थे, दूसरी तरफ अपने साथियों के सामने खुद को लज्जित सा महसूस कर रहे थे.

एजेंसी पहले आपको कहेगी कि हम मेम्बरशिप के पैसे नहीं लेते, हम बस कमीशन पे काम करते हैं. दोपहर को वैशाली भाभी मुझको बुलाने हमारे घर पर आईं और हम वहां से मार्केट चले गए.

पहले मैं सविता भाबी को अपना लंड चुसवाना चाहता था, पर वो अपनी चुदास की मस्ती और एक अनजानी लज्जा में अपनी आंख ही नहीं खोल रही थीं.

वो बके जा रही थी- आआआहह यस्स… प्लीज़ फक मी फक्क मी… और अन्दर तक डालो… चोद चोद कर जान निकाल दो मेरी… भोसड़ा बना दो मेरी इस चूत का… रंडी बना ले मुझे अपनी… हरामी, आज से मैं रखैल हूँ तेरी बहनचोद!उसको चोदते हुए बहुत देर हो गई थी, पर मेरा पानी निकल ही नहीं रहा था. एक दिन ऐसे ही विशाल भैया कंपनी के काम से बंगलौर गए थे और जाते वक़्त मुझ यह बताते गए कि अगर वैशाली को किसी चीज़ की ज़रूरत पड़ जाए तो उन्हें मार्केट लेके चले जाना. मैंने जैसे ही उसके चूत के मुँह में अपना लंड रखकर हल्का धक्का मारा, मेरा लंड का सुपारा उसकी चूत के अन्दर घुस गया.

मुझे सोता देख कर जब पापा वापस आए तो उन्होंने पूछा कि क्या हुआ है इसको, जो अभी तक सोई हुई है. फिर तो दोस्तो, मेरी मामी के साथ चुदाई का सिलसिला चलता रहा, मैं जब भी उनके घर पंजाब में जाता तो वहाँ भी चुदाई करता!आपको मेरी पूजा मामी की चुदाई की कहानी कैसी लगी, मुझे ज़रूर बतायें! मैं आपके मेल्स का इंतज़ार करूँगा. मैंने उसे नीचे लिटा कर अपनी स्पीड बढ़ाकर फिर से दस मिनट की जोरदार चुदाई की.

उस दिन पापा को ऑफिस के किसी काम से बाहर जाना था और अगले दिन ही वापिस आना था.

सेक्सी ब्लू सेक्सी बीएफ: यह सुनते ही मेरे तो लंड में तनाव आ गया, मैंने भी उसे चूमते हुए पूछ लिया- किसके पास जाओगी जानेमन?तो मंजू चुप हो गयी. तुम गे हो क्या या फ़ीलिंग नहीं आती?वो कुछ नहीं बोला और चुपचाप नीचे उतरा और जमीन पर सो गया.

एक स्कर्ट डाली जो काफ़ी खुली हुई थी और घुटनों के काफी ऊपर तक की थी. फिर अचानक उसकी चुत से रस की धारा निकल पड़ी, मैं उसका पूरा पानी पी गया और पूरी तरह से चाट चाट कर साफ कर दिया. मॉम ने भी एकदम से पैरों को हवा में ही मोड़ लिया, जिससे मॉम की चुत एकदम बाहर निकल आई.

मैंने फिर से साड़ी ऊपर करने की कोशिश की, तो भाभी ने अपना पैर जरा सा हटा दिया, जिससे साड़ी ऊपर करने में मुझे आसानी हो गई.

अब तो बस उसके शरीर पर एक पैन्टी बची हुई थी, वो भी आगे से पूरी भीगी हुई थी. मैंने कहा- आंटी जी, आप क्या कर रही हो?उन्होंने कहा- बेटा वो ही करने लगी, जो तुम बाथरूम में जा करते हो, मैं तुम्हारी यहीं पर मुठ मार देती हूँ. फिर 5 मिनट बाद व्हाट्ससैप पर उसी नम्बर एक और मैसेज आया, जिसने मुझे वीडियो भेजा था.