सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए

छवि स्रोत,वीडियोbef sax

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी विडियो हिंदी ओपन: सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए, अंजलि- अब आप जल्दी से मुझे वो दो जो मैं चाहती हूँ आपसे!वो कभी मेरे निप्पल चूसती तो कभी मेरे होंठ… मैं उसकी गांड की दरार में उंगली करने लगा.

ओपन सेक्सी मसाज

पहले उसको किस किया, फिर सुपारे को थोड़ा मुँह में लेके चूसने लगी। एक मिनट चूसने के बाद उसने वापस लंड अन्दर कर दिया और हँसती हुई नीचे भाग गई।संजय- उफ़फ्फ़ साली इत्ती सी है मगर चुदवाने को बेताब है। इसका भी जल्दी कुछ करना होगा. साउथ इंडियन पिक्चरमैंने एक ज़ोरदार धक्का लगाया जिससे लंड का उपर का हिस्सा ही गांड में घुस पाया.

ठीक हो जाएगी।जॉय चला गया और ममता ने फिलहाल फ्लॉरा को उठाना ठीक नहीं समझा और वो अपने काम में बिज़ी हो गई।उधर टीना की आँख आज बहुत जल्दी खुल गई थी. அன்னன் தங்கை செக்ஸ்वो कुछ बोली नहीं, मैंने उनके मुंह को पकड़ा और सीधा स्मूच किया, उनके पिंक लिप्स को चूसा 5 मिनट… फिर चूचों को दबाया, फिर नाईटी उतार कर चूचों को चूसा.

अगले दिन उसे कहीं जाना था तो उसने मुझसे सुबह जल्दी आने को बोला सैर पर… तो मैं चार बजे के आस पास पहुंच गया… वहाँ पे सन्नाटा था.सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए: यह पोज मुझे बहुत पसंद है, इसमें लंड भी अच्छा टाइट जाता है चूत में और धक्के मारने मेंलड़की के हिप्स का सपोर्ट भी मिलता है जिससे आनन्द और बढ़ जाता है.

फिर मैंने उनसे पूछा- क्या हुआ मैडम, क्या आप ज़्यादा डर गई हो?मैडम बोली- नहीं तो!मैं बोला- फिर आप बिल्कुल चुप क्यों हो?तो मैडम बहुत ही धीरे से बोली- मुझे बहुत प्यास लगी है.एक दिन मैं अपनी छत पर बैठी एक किताब पढ़ रही थी कि तभी मैंने देखी की नीलेश जीजू भी अपनी छत पर आए.

राजस्थान चुदाई - सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए

बस इतने से ही उसके बदन ने झुरझुरी ली और लगा कि उसका रोम रोम तन गया.यह देख भाभी थोड़ा सकपकाई पर थोड़ी देर बाद जो हुआ उसे देख मैं हैरान था, उन्होंने मेरा हाथ के ऊपर हाथ रख और अपनी चुची दबवाने लगी.

आप मेरी भाभी हो।तब भाभी ने मेरे गले लगते हुए मुझसे कहा- प्लीज़ मुझे माँ बना दो।मैंने कहा- मुझे सोचने के लिए समय चाहिए।मेरे दिमाग में चल रहा था कि मैंने भाभी के साथ सेक्स किया तो इसके पति को शक हो जाएगा तो कहीं कोई लफड़ा न हो जाए।भाभी ने मुझे 2 दिन दिए।दो दिन बाद भाभी मुझसे उत्तर पूछने आईं तो मैंने कहा- भाभी आपके पति तो नपुंसक हैं. सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए ’ कर रही थी।ऐसे तो कोई पॉर्न स्टार या रंडी ही कर सकती है।तो मैंने पूछा- तुमने ये सब इतना अच्छा से कहाँ से सीखा?तो बोली- मैंने बहुत पॉर्न मूवी देखी हैं, ये सब वहीं से सीखा है।अब मैं उसके मुँह को चोदने लगा था और उसके गले से ‘गुउउउ गुउउउ.

बोलती क्या?बोलने को था ही क्या?मेरा दावा है कि उस टाइम उसके दिल में यही ख्याल चल रहा होगा कि अब सिवाय आत्महत्या के कोई इज़्ज़त बचाने की राह नहीं है.

सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए?

फिर मैंने बेडरूम का दरवाजा खोला तो दंग रह गया, सामने अमिता लाल ब्रा पेंटी पहने तैयार तो रही थी, उसके गोर बदन पर ये कसावटी ब्रा पेंटी गजब लग रहे थे. तभी आलोक ने कहा- मुझे पता है कि आप चुदने के लिए बेक़रार है, आपको बड़ा बड़ा लंड चाहिए. फिर उन्होंने मेरे वक्ष का साइज़ चेक किया और मेरे साइज़ से 1 नंबर छोटी ब्रा और पेंटी के 4-5 सेट मंगवा लिए.

इस बीच चाची मेरे लंड पर हाथ ले जा कर सहलाना शुरु कर दिया था, उसने पैन्ट का जीप खोल कर लंड बाहर निकाल लिया और हाथ में लेकर सहलाते हुए बोली- वैसे तेरे बाप के लंड में तो दम नहीं है, उसका तो सबसे छोटा है, तेरे माँ को एक बेटा नहीं दे सका, तब तेरे चाचा ने तेरी माँ को चोदा, तब तू पैदा हुआ. यश कहने लगा- मैं झड़ने वाला हूँ… बता लंड का माल कहाँ गिराऊँ?मेरी चुदक्कड़ मम्मी में कहा- मेरी चूत में ही गेर दे और मुझे फिर से माँ बना दे. वो मुस्कुराई।मैंने उसके गाल पर किस किया और उसने मेरे गाल पर किस किया।बस मुझे इशारा मिल चुका था.

तभी सुधा बोली- देख नया लड़का है, उसके बारे में तू ठीक से जानती नहीं है, कहीं ऐसा न हो कि लेने के देने पड़ जाये?‘उसकीमां की चूत!’ मरियम की आवाज आई. मैंने भी बिना सोचे समझे हाँ कर दी।रूम में हम दोनों कुछ देर चिपक कर लेटे रहे, उसके बाद साहिल ने चाय के आर्डर दिया, चाय पीने के बाद मैं नहाने धोने और फ्रेश होने के लिये अपने कपड़े निकालकर बाथरूम के अन्दर गई और जैसे ही मैंने दरवाजा बन्द करना चाहा तो साहिल ने दरवाजा बन्द करने से मना किया. इस पर भी जब वो कुछ ना बोली तो मैंने धीरे-धीरे उसके पूरे मम्मे को हथेली से दबाना शुरू कर दिया।अब मैं पूरा खुल चुका था.

उसकी चूत में उंगली डालने से मुझे महसूस हुआ कि वो शायद पहले भी सेक्स कर चुकी थी. उसकी इस चालाकी पर खुश होकर मैंने रीना रानी के चूतड़ों पर एक ज़ोर की चपत लगाई तो रीना रानी ने मस्ती में किलकारी मारी.

‘थैंक्स स्नेहा…’ मैंने कहा और दही बड़े खाने लगा साथ में मैं स्नेहा को गहरी नज़र से देखता जा रहा था.

मैंने उसकी चुची पर किस की, बहुत मजा आ रहा था, बिल्कुल दूध की तरह सफ़ेद थी और बड़ी बड़ी थी उसकी चुची… मैं खूब मजा ले रहा था और उसकी सिसकारी साफ सुनाई दे रही थी.

मेरे पापा को यहाँ रहना ज्यादा पसंद नहीं है, वो अपने फार्म हाउस, जो शिमला के पास है, में रहना पसंद करते है और इसलिए बीच-बीच में वहाँ जाते रहते हैं।हमारी कोठी के पीछे के हिस्से में नौकरों के रहने का छोटा घर है जिसमें मेरे ऑफिस का चौकीदार बाबू सिंह और उसकी पत्नी रानी रहते हैं। रानी हमारे घर में साफ-सफाई और खाना बनाने का काम करती है. नीचे ठंड लगेगी।चूँकि रूम में एक ही रजाई थी। मैं सोते वक्त ट्राउजर व टॉप पहन कर सोती थी। कुछ दिन ऐसे ही बीते. नहीं तो अकेले तुम्हें ही पढ़ा दूँगी।मैंने कहा- ठीक है आंटी जी।फिर मैं दोपहर को स्कूल से सीधा उनके घर चला गया, मैंने गेट नॉक किया काफ़ी देर तक किसी ने नहीं खोला।फिर आंटी ने गेट 5 मिनट बाद गेट खोला।मैंने कहा- क्या हुआ आंटी आप सो रही थीं क्या?वो बोलीं- नहीं मैं नहा रही थी।मैंने पूछा- ऋषि की तबियत कैसी है अब?वो बोलीं- वो सो रहा है.

घण्टी बजी और उधर से बिमलेश- हेलो?राजेश- हेलो, बिमलेश जी बात कर रही हैं?बिमलेश- हाँ जी, बिमलेश बोल रही हूँ, आप कौन बोल रहे हैं?राजेश- जी, मैं राजेश बोल रहा हूँ राजस्थान से, मुझे आपका नम्बर एयरटेल से मिला है दोस्ती के लिये!मैंने झूठ बोला. मुझे ठंड लग रही है।तो मैंने उनसे कहा- थोड़ी चिपक कर बैठो तो तुम्हें भी थोड़ी गर्मी लगेगी और मुझे भी।फिर थोड़ी देर के बाद भाभी को ज्यादा ही ठंड लगने लगी थी तो वो मुझसे और अधिक चिपक गईं और इससे मुझे भी अच्छा लग रहा था क्योंकि उनसे जो गर्मी मिल रही थी. अपने जबाव जरूर दें ताकि मैं आगे की गे सेक्स स्टोरी लिख सकूं।[emailprotected].

अंदर छेड़ा छाड़ी पूरे जोरों पर थी, चारों ओर अँधेरा था, हल्का म्यूजिक चल रहा था.

तो आंटी ने मुझे वापिस बिठाया और कहा- क्या बार-बार मुझसे दूर भाग रहे हो. मैं हाउस वाइफ हूँ, मेरे पति एक बहु राष्ट्रीय कम्पनी में काम करते हैं. उसके बाद चंदन ने जाकर गेट बंद कर दिया।मैं पीछे से गई और उसे अपनी बांहों में भर लिया।वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगा.

‘आअह्ह्ह आह आह आह आह ये ये ये यस यस यस ओह्ह्ह आआह्ह…’हालाँकि यह उसका पहली बार था, फिर भी वो अपनी पहली कोशिश में ही सफल रही शायद पोर्न फिल्म से सीखा था. मेरा पानी पूरा उसके लंड और गोटियों पर गिर गया।मैं संतुष्ट हो चुकी थी. मेरा लंड बहुत कड़क हो चुका, था भाभी का हाथ लगते ही और कड़क हो गया।फिर भाभी मेरा लंड निकल कर हिलाने लगी और बोली- बहनचोद, तेरा लौड़ा तो घोड़े जैसा है, आज तो मैं जन्नत की सैर करूँगी.

जो काफी लम्बा और मोटा था।अंकल बोले- मेरी रानी, जल्दी से लंड चूस ले, उसके बाद मैं तेरी चुत फाड़ दूंगा।आंटी ने जोर से लंड चूसना शुरू कर दिया। करीब पांच मिनट में ही लंड एकदम से तन कर आंटी के मुँह से बाहर आ गया।अंकल ने आंटी को पकड़ कर बिस्तर पर चित लेटा कर उनकी टांगें चौड़ी कर दीं।अब अंकल ने आंटी की चुत को बिना चूसे ही अपना लंड उनकी चुत पर रखा और एक जोर का झटका दे मारा। तभी आंटी चीख पड़ीं.

मैं रीना के कहे अनुसार फर्श पर घुटनों के बल बैठ गया और रीना रानी बेड पर ठीक मेरे सामने आकर उकड़ूँ बैठ गई. जीजू अंदर आये मैंने उन्हें बैठने के लिए कहा और चाय बनाने के लिए किचन में चली गई.

सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए उस पर तरस तो आया पर हिम्मत नहीं हुई उससे नज़रें मिलाने की… उसके इस सवाल के बाद!एक दिन मुझे कॉलेज की फीस भरनी थी तो मैंने पिता जी को फोन कर दिया. मैं- आपने अभी क्या पहना है?भाभी- में नाइटी में हूँ!मैं- सिर्फ़ नाइटी?भाभी- हट शैतान!मैं- अरे बोलो ना भाभी?मिताली भाभी- मुझे शर्म आ रही है.

सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए मई का महीना था जयपुर शहर में काफी गर्मी पड़ रही थी, मेरी दुकान से दूर एक जूस की दुकान थी जहां मैं अक्सर जाया करता था. जूसी- मैं समझी नहीं तू क्या कहना चाहती है?मैंने डरते डरते बोल ही दिया- देख मैं फिर से बोल रही हूँ कि अगर मेरी बात तुझे ख़राब लगे तो हम दोनों इसको हमेशा के लिए भूल जायेंगे.

मैं झड़ने वाली हूँ।मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने जोर-जोर से धक्के मारना चालू किए और थोड़ी देर बाद मेरे वीर्य की पिचकारियां उसकी चुत में गिरने लगी और उसी वक़्त वो भी झड़ गई।हमने एक-दूसरे को कस के पकड़ा हुआ था और कुछ पल की अकड़न के बाद हम दोनों एक-दूसरे किस करने लगे।थोड़ी देर बाद मैं फिर से उसके चूचे दबाने लगा.

सेक्सी वीडियो आज की नई

सॉरी यार आज मैं इतना उत्तेजित हो गया था कि मैं लंड पर छतरी लगाना भूल ही गया।मैंने अपने लंड पर कंडोम लगाया और बुर के छेद पर रख कर अपने एक हाथ को उसके मुँह पर रख दिया. मैं देखने लगा तभी वो शायद कुछ लेने को झुकी तो उसकी चूचियाँ लटकीं, मैं देखता रह गया. हाय दोस्तो, मैं अप्सरा रिजवी एक बार फिर हाज़िर हूँ अपनी नई कहानी लेकर!मेरी पिछली कहानीचोदाई मेरी चूत की मेरे भाई के लंड सेमें बताया कि अम्मी अब्बू की गैरहाज़री में हम भाई बहन ने कैसे ज़बरदस्त चोदाई की.

कोई देखता तो उसे ऐसा लगता कि कई लड़कों ने मुट्ठ मार के लावा बिखरा दिया है. मैंने सचिन को कस के पकड़ लिया और अब शायद मेरा मन भी यही था कि सचिन मुझे चोदते रहें!सचिन काफी देर तक धक्के लगाते रहे, अब मैं झरने वाली थी… मैंने सचिन को कस के पकड़ लिया. अब वो बिल्कुल नंगी थी, मैं उसको किस कर रहा था कभी बूब्स पर, कभी कमर, पर कभी टांगों पर…वो बहुत ज्यादा चिकनी थी।किस करते हुए मैंने उसकी टांगें खोली तो देखा ‘बिल्कुल साफ़ चूत…’मैं देखते ही चूसने लगा उसकी चूत और उसके दाने को…वो बहुत गर्म हो गई थी सिसकारियाँ भर रही थी, उसकी चूत गीली हो गई थी।अब वो खड़ी हुई, मेरा लंड निकाल के रगड़ने लग गई और घुटनों पर बैठ कर के झुक के लंड को चूसने लग गई.

तो उन कपड़ों में से आंटी की पैंटी नीचे गिर गई। मैंने कपड़ों को साइड में रख दिया और फिर उनकी पैंटी को जैसे ही उठाया.

और एक अजीब सी मनमोहक खुशबू बाथरूम में फैलने लगी थी।फिर उसने पानी की धार को अपनी गांड. उनके भरे हुए चूतड़ों के कारण उठी हुए गांड और मदमस्त भरी हुई चूचियाँ… गहरी नाभि, नंगा पेट देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था. नमस्ते दोस्तो, आप सबने मेरी पिछली कहानीमेरे पति ने मुझे उनके दोस्त से चुदते देख लिया-1को बहुत पसंद किया.

उसमें से एकदम आर-पार दिखता था। वो गाउन मैंने ब्रा-पैंटी के ऊपर पहन लिया. तू मेरी गांड भी मारेगा।मैंने कहा- फिर चुपचाप मरवाई क्यों नहीं?वो कहने लगीं- नहीं यार. उनके मम्मों का साइज बढ़ गया। भाभी के मम्मे बहुत बड़े और तने हुए थे और उन पर छोटे-छोटे से भूरे निप्पल हवा में लहराने लगे।अब हम दोनों ऊपर से नंगे हो चुके थे और मेरे लंड का साइज तन के 6.

कुछ देर तक मैंने ऐसे ही होंठों और जीभ के जोर से सुनीता की चूत को खूब चूसा और सुनीता के मुख से ‘उन्ह आह सी सी…’ निकलने लगा. दूसरी तरफ रानी की गांड का छेद भी चिंटू ने खोल दिया था और वो भी मेरी तरह दर्द से तड़प रही थी और उनसे छूटने की कोशिश कर रही थी और दर्द से उसके भी आँसू निकल रहे थे.

वो बहुत खुश था।अगले दिन आकाश मेरे सामने आया तो मेरी साँसें रुक गईं।कई दिन तक तो ऐसे ही रहा वो मुझे छूता था तो मेरी साँसें रुक सी जाती थीं। वो ये बात समझ गया था इसलिए उसने मुझे टच करना बंद कर दिया था। सच में आकाश बहुत समझदार था. जैसे उनको कोई तकलीफ़ हो रही ही और वो दर्द से कराह रही हों। ओह गॉड यानि वो सेक्स की आवाजें थीं शिट अब समझ आया मुझे।टीना- क्या समझ आया. मैंने फिर से उसकी चूत की होंठ को हल्का सा अपनी उंगली से खोला और अपना लंड उस पर सेट किया और एक ज़ोर सा झटका मारा, मेरा आधा लंड उसकी चूत में घुस गया, वो चीखने वाली थी लेकिन मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए, उसकी चीख दबा दी और फिर से एक ज़ोर का झटका मारा, मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर चला गया.

फाड़ दो मेरी चूत!मेरे लंड से दुगने लम्बे और मोटे लंड को अपनी चूत में लेकर नताशा सातवें असमान के घोड़े पर सवार हुई सरपट दौड़े जा रही थी.

मगर तेरे पापा के चिड़चिड़े होने का एक कारण हो सकता है।सुमन- क्या कारण हो सकता है दीदी और उसमें बुरा क्या मानना?टीना- मुझे लगता है तेरे पापा की सेक्स लाइफ डिस्टर्ब है. कुछ ही देर ऐसा ही करने के बाद मैंने उससे पूछा- क्या लोगी?तो वो मुस्कराती हुई मज़ाक करती हुई कहने लगी- ये…और साथ ही मेरे लंड की तरफ इशारा कर दिया. फिर उसने मेरा लंड निकाला और मेरे 6 इंच के लवडे को देखते रही, फिर उसे चूसने लगी, उसकी चूसने के अंदाज से मुझे और जोश आ गया और मैंने सारा माल उसके मुँह में छोड़ दिया जिसे वो पी गई.

’ कहने लगीं। मुझे समझ में आ गया कि वो फिर छूटने वाली हैं। मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी। थोड़ी देर बाद उनकी चूत के अन्दर ही माल डाल दिया और उनके ऊपर ही पड़ा रहा।फिर मैंने उन्हें थोड़ी देर बाद अपने ऊपर ले लिया और उनके मम्मों को चूसने लगा। थोड़ी देर बाद मेरा लंड अपने आप ही बाहर आ गया तो वो उठ कर बाथरूम में जाने लगीं।मैंने कहा- रुको ना. इस कारण वो बेफिकर हो कर साड़ी खोल रही थीं।सबसे पहले उन्होंने अपना पल्लू नीचे किया.

तभी चिंटू झड़ने के करीब पहुंचे और पूरी गति के साथ धक्के लगाने लगे, मेरी तो जैसे साँसें ही रुक गई, मैं दर्द से तड़पने लगी- आह्ह आह्ह्ह आह्ह आह्ह्ह आह्ह्ह निकालो, दर्द हो रहा है, प्लीज धीरे, धीरे, आह्ह आह्ह्ह आआआ आःह्ह्ह ह्ह्ह अह्ह्हम्म ह्ह्म्म्म ह्म्म्म. हैलो फ्रेंड्स, मैं आप लोगों को अपनी ज़िंदगी के पहली बुर की चुदाई की हिंदी पोर्न स्टोरी बताना चाहता हूँ कि कैसे मैंने अपनी ममेरी बहन की बुर की चुदाई की. यह देख कर मैं हैरान था पर देख कर खूब मजा भी आया।कुछ ही पलों में भाभी झड़ गई और भाभी ने अपनी उंगलियाँ भी चाट ली।मुझे नींद नहीं आ रही थी, रात के करीब 12 बज रहे थे, मैंने सोचा कि भाभी को देखा जाए कि वो क्या कर रही है.

जानवर सेक्सी जानवर का सेक्सी

मेरा लंड कड़क होने लगा।अब मेरे हाथ ने उनके एक स्तन को दबाया तो मेरा लंड पूरी सलामी देने लगा। मेरा लंड उनकी जांघ पर स्पर्श करने लगा, इससे उनकी नींद खुलने लगी। मेरी गांड फट रही थी कि क्या होगा पर मैंने हिम्मत नहीं हारी और अपना कार्यक्रम निरन्तर जारी रखा।उनकी नींद खुली तो ये देखकर वो हैरान हो गईं कि ये क्या हो रहा था, बुआ मुझसे बोलीं- ये क्या है जतिन.

मजा लेने को कुछ दिखा तो पहले!उसने अपने एक बोबा पकड़ा और कहती कि तरबूज़ के रस से भरी पड़ी मेरी चुची तेरे मुँह में आने को टाइट हो रही है राजा. उनको देख कर मैं और ज़ोर से लंड चूसने लगी, अपनी गांड को लंड पर पटकने लगी. तो मैंने गिलास खाली कर दिया।चंदन ने मुझे इसी तरह से पेप्सी का और एक गिलास भर दिया। जैसे मुझको पता न था कि इसमें शराब है.

और जोर से चिल्ला कर कहा- पेलो दीदी, पूरा का पूरा अंदर डाल दो, सभी मर्दों के कर्मों की सजा आज इसी को देते हैं।मैं डर के मारे कांप गया, तब उन्होंने कहा. उसके मुँह से ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज़ आने लगी। मैं उसे आराम से चोदने लगा पर वो मेरा साथ नहीं दे रहा था, इसलिए मुझे थोड़ा कम मजा आ रहा था।मैंने कहा- यार मजा नहीं आ रहा है, यहाँ से कहीं और चलते हैं।उसने कहा- जहाँ भी ले चलना है, ले चलो. एक्स एक्स सेक्सी राजस्थानीफिर वो आदमी उस किशोरी के कपड़े उतारना शुरू करता है, लड़की विरोध करती है लेकिन उसके बदन से एक एक कपड़ा उतरता जाता है, पहले दुपट्टा फिर कुर्ती फिर शमीज फिर उसकी ब्रा और उसके समोसे जैसे छोटे छोटे मम्मे नंगे हो जाते हैं.

उस रात कई सालों बाद कड़क जवान कामिनी को दुबारा चोदने के बाद उससे नंगे लिपट के सोने में जो मज़ा आया उसे शब्दों में बताना लगभग असंभव है. यह हिंदी पोर्न सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!आकृति उत्तेजित हो चुकी थी, वो तुरंत मेरा लोअर नीचे करके मेरे लंड को चूसने लगी, मुझे 2 ही मिनट में उसने सातवें आसमान में पंहुचा दिया और मैं उसके मुंह में झड़ गया और वो सब पी गई.

तू समझा कर, सही मौका आएगा तब तुझे बता दूँगा। फिलहाल तू कपड़े निकाल लंड में दर्द होने लगा है।टीना- ही ही ऐसा क्या हो गया. धीरे धीरे उसके मदमस्त यौवन की महक चहूँ ओर फैल गई और उसके इन्तजार में भँवरे टाइप के लौंडे लपाड़े रोमियो गली के मोड़ पर खड़े हो उसे रिझाने की प्रतिस्पर्धा करने लगे. वो मेरे लंड पर आ गिरा।इस सबसे मुझे अजीब करंट सा लगा और उन्हें भी कुछ ऐसा ही लगा।भाभी ने जल्दी से मेरे लंड से हाथ हटाया और पीछे को होकर बैठ गईं।मैंने भी भाभी से सॉरी कहा.

उसकी चूत जैसे चू रही थी, रानी की जाँघें भी भीग गई थीं उसके रस के बहाव से… साफ था कि रानी बेहद उत्तेजित हो चुकी थी और चुदने चूदाने को बिल्कुल तैयार थी. उसके बाद हम सो गये और अगले दिन रजनी ने हमसे विदा ली और अपने घर चली गई. और बुझा दो इसकी आग को।मैंने भी देर ना करते हुए लंड के सुपारे को चुत पर टिका कर हल्का सा धक्का लगाया.

और जोर-जोर से लंड को सहलाने लगी। वो अपने मुँह से मादक सिसकारियाँ भर रही थी। उसकी चुत पूरी गीली हो चुकी थी और मेरा लंड भी फूल कर लंबा और मोटा हो चुका था।मैंने देर ना करते हुए.

टीना की बात सुनकर सुमन खुश हो गई और टीना से चिपक गई।टीना- अरे क्या हुआ इतनी खुश क्यों है?सुमन- वो दीदी, कब से मेरे दिमाग़ में ये चल रहा था कि इतने गंदे टास्क के बारे में संजय जी को पता होगा तो वो मुझे किस नज़र से देखते होंगे इसलिए मुझे उनसे मिलते समय बड़ी शर्म आती थी।टीना- अच्छा ये बात है. क्या कर रहे हो?मैं- तुमसे प्यार कर रहा हूँ।वो- ऐसे थोड़ी न होता है।मैंने थोड़ा चुत को सहला कर कहा- हां और कैसे होता है?वो बोली- नहीं नहीं ये गलत है.

तभी जूसी की एक ऊँची आवाज़ में चीख की आवाज़ आई, एक नहीं तीन चार मस्ती वाली चीखें… संभवतः वो भी झड़ गई थी. जीजू ने मेरा टॉप उतार दिया और मेरी चुची को दबाने लगे, उनके गर्म और कड़क हाथ अब मेरी चुचियों के ऊपर थे. तेरी जैसी आइटम के लिए तो एक मुँह चुत पे और एक गांड में तीसरा एक मम्मों पे चौथा दूसरे आम पर और एक तेरे मुँह में लंड डाल कर तुझे मज़ा दे।फ्लॉरा- आहा काश इतना मज़ा मिल जाए आह.

तो उस पार्टी में मैं गया, सबसे हाय हेलो के बाद मैंने खाना शुरू किया तभी मुझे स्नेहा दिखी. राजे ने उसका नाम ही जूसी इसलिए रखा है कि वो इतना ज़्यादा रस का फव्वारा सा छोड़ती है जितना मूत्र भी नहीं करती होगी. नहीं तो कहोगे कि बातों में लगाकर मैंने ही आपको जाने के लिए लेट कर दिया।गुलशन- अरे चाय तो ठीक है.

सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए एक झटके में संजय ने लौड़ा बाहर निकाल लिया और पूजा के मुँह पर हाथ रख दिया।संजय- पागल है क्या. फिर भाभी संग फोन पर बात करते-करते 15 से 20 दिन और निकल गए। भाभी को प्रपोज करने के बाद हमारी बातों में बदलाव आने लगा। हम फ्रेंड्ली बातों से आगे बढ़कर खुल कर सेक्स की बातें करने लगे। मैंने सोनू भाभी से उनका फिगर पूछा.

एक्स एक्स सेक्सी वीडियो एचडी हिंदी

यह था मेरा पहला सेक्स आंटी के साथ!आपको मेरी हिंदी सेक्स स्टोरी कैसी लगी?[emailprotected]. मैं धीरे-धीरे निशा की चुत सहलाने लगा, जब दर्द थोड़ा कम हुआ तो निशा ने इशारा किया और मैं धक्के मारने लगा. ओह्ह गॉड… क्या गांड थी! इतनी मस्त कि सारा दिन चाटता रहूं!मैंने अपना हाथ उनके चिकने चूतड़ पे फेरा… एकदम मलाई थी!शायद उन्हें भी मेरा टच अच्छा लगा.

अब राजू को ज्यादा स्पेस मिलने के कारण वह बड़ी लहर के साथ लंड को मेरे लंड के लगभग समान्तर और सीधा रखते हुए गांड में घुसेड़ने में समर्थ हो गया और नताशा के चेहरे की चमक ने भी इस बारे में बता दिया था. रात को मुझे मेरी पत्नी ने साथ वाले बिस्तर पे सोने के लिए कह दिया और वे दोनों बैड पे सो गई और बैडरूम की लाइट बंद कर दी. ब्लू फिल्म वीडियो में ब्लू फिल्मगीता ने अपना गिलास उठाया और मेरी तरफ देखती हुई, उसमें से दारू पीने लगी.

तो चलो इनको थोड़ा सुस्ता लेने दो, हम टीना के पास चलते हैं। वहाँ भी आज आपको गरमागर्म सीन देखने को मिलेगा।रात को 11 बजे टीना चुपके से घर से बाहर निकल जाती है। बाहर संजय बाइक पे खड़ा उसका वेट कर रहा था। वो सीधी जाकर बाइक पर बैठ जाती है और दोनों एक मकान में चले जाते हैं।टीना- ऐसी क्या जरूरत आ गई संजू जो तुमने मुझे ऐसे अर्जेंट में बुलाया?संजू- सब्र कर मेरी जान.

चूचुक के मुंह में आते ही मैंने उसका दूध पीने लगा और वह अपने हाथ को मेरे सिर के बालों में फेरने लगी तथा थोड़ी थोड़ी देर के बाद मेरा माथा भी चूम लेती. थोड़ी देर के बाद सुल्लू रानी का दर्द घट गया जब रीना रानी ने धीरे धीरे खीरे को आगे पीछे करके उसकी गांड मारनी शुरू की.

मैंने हल्के से अपने होंठ उसकी फुद्दी पे रख दिए…‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… सस्स् स्स्स्स सिईईई ईईई…’ वो सिसकारी लेने लगी और मैं शुरू हो गया फुद्दी चूसने…10 मिनट बाद उसने कहा- मुझे मलाई खानी है!मैंने कहा- खा ले, तेरी मलाई है, तू ही तो खाएगी!वो मेरे ऊपर आ गई और मेरा लंड अपने होठों में दबा लिया. आज आपके पति के साथ ड्रिंक करके मूड बनाने का मन था।दुशाली- तो क्या हुआ. बता भी दे क्या बात है कौन है ये पूजा?संजय- देख टीना मैं तुझपे भरोसा करता हूँ इसलिए बता रहा हूँ.

वो तड़प रही थी और उसकी सिसकारियाँ तेज हो रही थी- अहह… अहहह… आराम से कर मादरचोद… सीसीसी… ऊइ उइ उइउ माँआया… मेरी चूत… आहाहाहा ईईईई… मार डाला इस हरामी ने…कुछ मिनट बाद जब मेरा निकलने वाला था, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और पागलों की तरह धक्का लगाने लगा.

अब नहीं रहा जाता यार।मैंने सोचा कि ये सही टाइम है। मैंने अपना लंड को पहले उनकी चुत के ऊपर रगड़ा तो वो तड़फ़ने लगीं और चिल्लाने लगीं- उउह. लेकिन उसके बार-बार कहने पर मैंने उसका लंड थोड़ा सा चूसा। उसके बाद उसने मेरी चूत को खूब चाटा।अब उसने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मुझे चोदने लगा. थोड़ी देर बाद मैंने फिर एक जोर का धक्का मारा और आधा लंड बुर में उतार दिया.

ब्लू एक्स एक्स एक्स वीडियोहमने उस रात पूरी रात चुदाई की, सचिन ने कम से कम 5 बार उस रात में मुझे चोदा. उसके बाद मैंने अपना सुपारा चाची की चूत में घुसा दिया, वो चिहुंक गई और बाहर निकालने के लिए बोलने लगी, उनको दर्द हो रहा था क्योंकि अभी उनके कोई बच्चा नहीं था.

जवानी की सेक्सी फोटो

मैडम बोली- उईईई उफ्फ कुत्ते साले… तेरा बहुत बड़ा है! थोड़ा मेरे ऊपर रहम कर! आह्ह्ह्ह!मैं थोड़ा रुककर ऐसे ही अपने लंड को डाले कुछ देर रुका रहा, फिर मैंने मैडम के दोनों बूब्स को एक एक हाथ में पकड़ा और बूब्स को दबाते हुए बूब्स के बीच में अपनी जीभ से चाटने लगा. मैंने देखा कि मम्मी ने अपनी साड़ी घुटनों तक ऊपर कर रखी थी और यश के ओंठ चूस रही थी और यश एक हाथ से मम्मी की मोटी मोटी जांघें सहला रहा था. इस बार मैंने उसकी कमर के नीचे दो तकिये रख कर उसकी टाँगें खोली और अपने लंड से चूत रगड़ने लगा।स्वाति की सिसकारियाँ अब और तेज हो रही थी.

एक तेल की शीशी लाए और मेरे लंड पर तेल लगा दिया। थोड़ा तेल उन्होंने अपनी गांड पर भी लगा लिया और बेड पर ऊपर पैर करके लेट गए।फिर मैंने उनकीगांड में पहले उंगली करके छेद देखाऔर अपना लंड लगा दिया. उसके मुँह से भी मादक सिसकारियाँ निकलने लगी थीं, जो शायद मॉंटी के कान तक भी गई. कुछ देर चोदने के बाद मैं निशा से बोला- माल कहाँ निकालूँ?वो बोली- अंदर ही आने दो, मैं पिल ले लूंगी.

प्लीज़ आप नाराज़ मत हो मगर मुझे कोई आसान सा टास्क दे दो। ये सब नहीं प्लीज़. तो मुझे अच्छा लगा। फिर मेरी उससे पूरे दिन बात नहीं हो पाई क्योंकि घर में सभी लोग थे तो मैंने भी ज्यादा बात करने की कोशिश नहीं की।रात में हम सभी लोग एक खेल रहे थे, थोड़ी देर तो बड़े भी खेले पर बाद में हम छोटे लोग ही रह गए।रीना और मैं अलग-अलग टीम में थे, मेरी टीम में मैं और मेरी बुआ की लड़की थी। उसकी टीम में मेरी बुआ का लड़का भी था।जैसे-जैसे गेम आगे बढ़ा. मैंने मस्ती में उसकी चुची पर काट दिया, वो चीखी- अहह्ह्ह्ह कुत्ते… काट मत!मैंने कहा- सॉरी चाची!और चाची के पैर फैला दिए.

मेरा दर्द धीमे धीमे कम होता गया और अब तो मुझे गांड में लंड से मजा आने लगा. तभी नीचे से धक्का लगना स्टार्ट हुआ, मैं भी अपनी गांड हिला कर उसका साथ दे रही थी.

लेकिन मैं उसको ज्यादा भाव नहीं देती थी। मैं नहीं चाहती थी कि मैं किसी से चुदूँ क्योंकि मैं जॉब करके पैसा कमाना चाहती थी। तो जैसा कि मैंने बताया कि मैं प्रतिदिन जॉब करने जाती और वो मुझे लाइन मारता था.

सचिन थोड़ी देर से वैसे ही रुके और मेरे दर्द के कम होने का इंतज़ार करने लगे. સેક્સ કરતો વીડિયોनेहा के मचलते मम्मे – ऑडियो सेक्स स्टोरीसेक्सी लड़की की आवाज में सेक्सी कहानी का मजा लें!साहिल- यार वासु, तुझे नहीं लगता कि नीलिमा भाभी रीता भाभी से ज्यादा हॉट लगती हैं?मैंने कहा- धीरे से बोल, रजत सुन लेगा, और देखा जाय तो तू सही है, मुझे भी ऐसा लगता है. सेक्सी फिल्म चोदी चोदायश एक टांग खड़ी करके मम्मी को चोदे जा रहा था झटके पर झटके लगाये जा रहा था. वो चिल्लाई…मैं भाभी की चूत से बहने वाले कामरस की भीनी भीनी खुशबू को सूंघने लगा.

मामी ने धीरे से अपना हाथ मेरे गाल पर फेरना शुरू कर दिया था और मेरा हाथ हल्के से खींचकर अपने बूब्स पर ले गई थी और मुझसे जोर से दबवाने के लिए अपने चूचों पर मेरे हाथ को दबाने लगी.

खेत में एक कोने में झाड़ियाँ और उस झाड़ी में मम्मी अपनी चूत चुदवा रही थी. अम्मा की सारी बात सुनने के बाद मुझे महसूस हुआ कि उन दोनों ने मेरे साथ संतान पाने के लिए छल किया था. अजय ने विला को डोर बंद करते ही साराह को पागलों की तरह चूमना शुरू कर दिया.

पोर्न मूवीज से लेकर वाइब्रेटर तक सब का वो खुल कर इस्तेमाल करती थीं और दोनों ने आपस में यह वादा किया था कि जिसकी भी शादी पहले हो जाएगी उसके पति से पहला सेक्स दूसरी करेगी… इंजीनियरिंग की पढ़ाई ख़त्म होते ही साराह की शादी विवेक से तय हो गई जो एक एमएनसी में जीएम था. फिर 4-5 दिन बाद सुबह 11 बजे अचानक आंटी ऊपर आई तो अचानक आंटी को ऊपर देख कर मैं हड़बड़ा गया, मैंने आंटी को रूम में आने को कहा तो वो आ गई. पिछली बार तो तुम्हारी मम्मी की वजह से मैं मुँह नहीं लगा पाया था लेकिन आज मैं उसे जरूर चखना चाहूँगा.

सेक्सी स्टोरी video

जब मैं उनके घर गया तो उन्होंने कहा- ज़रा फ्रिज साइड कर दीजिये!और हम दोनों मिलकर फ्रिज को धक्का देकर साइड करने लगे. जिससे अमिता की गांड और चूत से रस टपकना शुरू हो गया।अमिता मज़े से जोर-जोर से सिसकारने लगी- उई आह आह. ‘हाँ-हाँ, क्यों नहीं… डाल दो जानू तुम भी मेरी गांड में… मैं तुम दोनों के लंड अपनी गांड में महसूस करना चाहती हूँ!’ नताशा ने मेरी तरफ देखते हुए कहा.

पहले तो उसको यकीन नहीं हुआ मगर मोना ने उसे वो बातें बताईं, जो साधु ने उसके बारे में बिना जाने बताई थीं.

चोद दे जल्दी से अब।मैंने अपने लंड को पानी से गीला किया और उस पर थोड़ा सा शैम्पू लगाया ताकि खूशबू आ जाए और वो चिकना भी हो जाए। इसके बाद मैंने उनकी चुत पर 1-2 मिनट किस किया और फिर अपना लंड उनकी चुत पर रख दिया।अब मैं लंड को आंटी की चुत पर ऊपर-नीचे घिसने लगा.

मेरी ये सेक्स स्टोरी मेरी मुँहबोली सिस्टर की है, उसे मैंने कॉलेज में सिस्टर बनाया था, वो भी मेरे कॉलेज की लड़कियाँ पटाने के मतलब के लिए बनाया था. मैंने अपने पजामे में से लंड निकाला और कहा- अब अंडरवियर खोलो अपना।उसने कहा- क्या करोगे?मैंने- वही जो बीएफ अपनी जीएफ के साथ कर सकता है. ट्रिपल एक्स इंडियन व्हिडीओचूंकि इस समय सभी बच्चे एंव टीचर बिल्डिंग से बाहर जा चुके थे, इसलिये मुझे भी डर नहीं था, मैं भी सीधा उनके पीछे उनकी नजर को बचाकर दरवाजे के पास पहुंचा तो मरियम की आवाज आ रही थी, वो सुधा से सलवार और पैन्टी उतारने के लिये बोल रही थी.

‘साले कुत्ते, अब क्या कर रहा है?’ माँ चिल्लाई मुझ पर… फिर बोली- मुझे समझ में आ गया, लगता है पहले से तुम दोनों विचार करके आए हैं. मैं एक सिरे से अपने लंड के टोपे को एंड्रयू के लंड की बगल से अन्दर घुसेड़ने में कामयाब हो गया, और जोर लगाने पर मेरा लंड एंड्रयू के लंड से रगड़ खाता हुआ हमारी बीवी की गांड की गर्मियों में पहुँच गया…क्या गजब का अहसास था! ऐसा शानदार अहसास आज तक नहीं हुआ था. वो मना कर रहे हैं। मुझे कुछ शॉपिंग करनी है।तो मम्मी मुझे फोर्स करने लगीं।मैं तो तैयार ही था, फिर मैं तैयार होकर उसके साथ बाइक से निकल लिया। सिटी हमारे घर से 8 किलोमीटर दूर है। उस दिन प्रीति ने एक टाइट जीन्स और ब्लैक कलर की टॉप पहन रखा था।जब हम कुछ दूर निकल गए तो उसने मुझे अपनी बांहों में पकड़ लिया। उसने अपने चेहरे पे दुपट्टा बाँध रखा था, जिससे उसे कोई पहचान ना सके।क्या बताऊं फ्रेंड्स.

पूरी झांट मैंने कल ही साफ की थी, जिस वजह से मेरा लंड और भी बड़ा लग रहा था. मेरा रंग थोड़ा सांवला हैं और मेरे लिंग की लंबाई लगभग 5-6″ होगी क्योंकि मैंने कभी इसकी नाप नहीं ली.

तीसरी और सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि मेरी मान प्रतिष्ठा मोहल्ले में बहुत अच्छी थी अतः मैं किसी भी तरह की कोई भी रिस्क लेने के खिलाफ था या स्थिति में ही नहीं था तो मैं स्नेहा का चक्षु चोदन करके और उसे ख्यालों में लाकर अपनी बीवी को चोद चोद कर या मुठ मार कर ही खुश था.

उसे तो अब बस बुर चाहिये थी!मेरे सामने उसका नया नया यौवन से परिपूर्ण बदन खुला हुआ था. फिर मैंने दूसरी उंगली डाली, फिर तीसरी उंगली डाली, तब वह फड़फड़ा रही थी. सबसे पहले मैंने उसकी कमीज़ की जिप को खोला और साथ साथ उसकी गर्दन को सहलाते हुए उसकी गाल और होंठों को चुसना शुरू किया और फिर कसमसा कर एक अंगड़ाई ली और अपनी कमीज़ को उतार दिया, वो मुझे पूरा सहयोग कर रही थी.

विदेशी सेक्सी वीडियो ओपन दीदी ने भी देर नहीं की और उसका लंड चूसने लगीं।दीदी इस वक्त लंड चूसते हुए एकदम मस्त रंडी लग रही थी।यह चुत चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!फिर सुनील ने दीदी को ज़मीन पर सीधा लेटाया और दीदी की झांट रहित चुत को चूसने लगा। दीदी के मुँह से निकलती ‘इसस्स्स्स्स्. फिर कोमल ने पत्ते बांटे तो मोहन हारा, उसने मोहन से मेरा पैन्ट उतरवा दिया.

जिससे वो जब कभी भी मैं उससे मिलूँ तो उसको बेवफा कह सकूँ।[emailprotected]. चोद दो मेरी चूत को।इतना सुनते ही राज ने मुझे बिस्तर पर पटका और मेरे ऊपर चढ़ गया और बोला- आज तो प्रमिला तेरी चूत की ऐसी चुदाई करूँगा कि तू जिंदगी भर याद करेगी।राज ने अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ना चालू कर दिया, मैं पागल हो गई। तभी राज ने एक झटके में मेरी चूत में अपने लंड को उतार दिया. फिर तू ऐसा क्यों बोल रहा है?मैंने दीदी से सीधा पूछ लिया- तुम्हारे और सुनील के बीच में क्या चल रहा है?दीदी यह सुन कर चुप हो गईं.

सेक्सी फिल्म ब्लू पिक्चर दो

वो मेरे घर पर 3 दिन रुकी और 3 दिन तक मैंने उसको खूब चोदा, मैंने उसकी गांड भी मारी और अब जब भी मौका मिलता है, मैं उसको चोदता हूँ. ऐसे चोदने से उसकी चूत बुरी तरह पनियाँ के पानी छोड़ने लगी जो उसकी जाँघों पर से नीचे बहने लगा. मकान मालिक तो पैसे के दास हैं, दोनों बाप बेटे सुबह निकल लेते हैं दूकान पर… फिर शाम को पांच बजे ही आते हैं खाना खाने.

जिससे उनके स्तन दिखाई दिए।ये देखते ही मैंने दोस्त को बोला- तू फोन रख. लेकिन क्या करूँ जवान हूँ और चूत चाटने की ऐसी लत लग गई है कि बता नहीं सकता।मुझे भाभी और आंटियों में बहुत दिलचस्पी है.

थोड़ी देर में जूसी इतनी अधिक कामोत्तेजित हो गई कि उठ गई और हांफते हुए बोली- राजे तू चोद इसको… मैं वाइब्रेटर से मज़ा लेती हूँ… यह साली चूत मुझे बहुत दुःख दे रही है.

इसलिए मैं साथ ही साथ उसको लिप किस भी करने लगा।फिर एक और ज़ोरदार झटका मारते ही मेरा 7 इंच लंबा लंड मेरी बहन की चुत में जड़ तक था।वो रो रही थी , शायद मैंने ही दीदी को चोदा पहली बार… उसका यह फर्स्ट टाइम था. मम्मों और आख़िर में चुत पर लिया। अब उसका धुली हुई खुशबूदार फ्रेश चुत मेरे सामने थी। मैं उसकी चुत पर हाथ फेरने लगा और घुटने के बल बैठ कर एक बार उसे घूरा और फिर ज़ुबान निकालकर चुत चाटना शुरू कर दिया।मैडम ने ‘अयाह. हवा आने के लिये मैंने दरवाजा खोल रखा था, कैपरी पहने हुए था। कहानी पढ़ने के कारण कैपरी में मेरा लंड तम्बू की तरह तना हुआ था.

बीस मिनट वैसे ही लेटे रहने के बाद हम दोनों उठ कर बाथरूम में गए और एक दूसरे की जननेन्द्रियों को अच्छे से साफ़ किया. अब दोनों लड़कियों ने लड़कों को नीचे किया और ऊपर बैठ कर करने लगीं उनका देह शोषण… आज बेड की भी शामत थी… शायद दो चूत पहली बार उस बेड पर एक साथ चुद रही होंगी… दोनों लंडों की पिचकारी छूट गई. क्या सोचा?मैंने कहा- मैंने सोचा कि तुम मेरी यहाँ शिकायत करने आई हो कि मैं तुम्हें छत पर घूर-घूर के जो देखता हूँ।इस बात वो जोर-जोर से हँसने लगी, कोमल बोली- तुम पागल हो.

बहुत ज़्यादा मज़ा आया क्यूंकि इस चुदाई में सारा कण्ट्रोल मेरे पास था.

सेक्सी मूवी बीएफ दिखाइए: वो देखने में बड़ी सेक्सी माल लग रही थी, चुची उसकी 34 से ऊपर थी और रंग गोरा चिट्टा दूध की तरह था. इतना मज़ा आ रहा था जिसका कोई हिसाब नहीं…उसने भी आनन्द लेते हुए हल्की हल्की सीत्कार भरनी शुरू कर दी.

मैं उसकी शर्ट के बटन खोल कर उसकी चुची मसलने लगा, उसे अच्छा लग रहा था, मजा आ रहा था, वो मुझे किस करने लगी और लंड बाहर निकाल कर सहलाने लगी. थोड़ा काम बचा था, वो पूरा करने चली गई। वापस जाते वक़्त मैंने उसे 500 रूपए दिए और दरवाजा लगाते वक़्त उसकी साड़ी उठाकर उसके टाँगों के बीच मुँह डाल कर चूत भी चख ली।तब वो बोली- इतनी भी ठरक ठीक नहीं है. सुबह मुझे जल्दी उठना है।अगले दिन जब मैं ऑफिस से लौट कर आया और फ्रेश हुआ और भाभी के यहाँ चला गया।वहां जो देखा.

कैसे रोने लगी है।वीरू- अरे इसमें रोने की क्या बात है रैंगिंग तो सीनियर का अधिकार होता है और हमने तो तुमसे माप पूछा ही था.

मेरा लंड देखने के बाद मेरी बहन बोली- वाह… कितना बड़ा लंड है मेरे भाई का!मैंने उसको बोला- अभी इसको मुँह में लो!तो वो बोली- इससे क्या होगा?मैंने बोला- एक बार लो तो सही!मेरी बहन ने मेरा लंड मुँह में लिया, मुझे बहुत अच्छा लगा, उसको भी बहुत मजा आया. थोड़ी देर में चिंटू ने उनका गर्म माल मेरी गांड में निकाल दिया और लंड को बाहर निकाल लिया. एक बार ऋषिका भी आई तो उसे निष्ठा और रयान के पेरेंट्स ने बहुत प्यार दिया.