छोटी सी लड़कियों की बीएफ

छवि स्रोत,हीरोइन की बीएफ सेक्सी मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

xxx hd video मराठी: छोटी सी लड़कियों की बीएफ, उसने तुरंत ही एक थपकी मेरी चूचियों पर दे दी और मुझे मज़े से अपनी बांहों में भरकर कहा- अपने अंकल से क्यों शरमाती हो … तुम बड़ी हो गई हो, खूब दबवाकर मज़ा लिया करो.

रेप करने वाली बीएफ

बहुत कम समय में हम दोनों इतनी अच्छी सहेलियां बन गई कि अब मुझे उसके बिना जी ही नहीं लगता था. बीएफ सनी लियोन की एचडीउसने कहा- जीजा, जल्दी से पेल दो अपना लंड मेरी चुत में … मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

प्लीज आप चाचा को कुछ मत बताना, नहीं तो मेरा यहां आना-जाना ही बंद हो जायेगा. हिंदी बीएफ हिंदी बीएफ ब्लू पिक्चरउसने 60-70 बार फिंगर फ़क किया था कि मैं अपनी जवानी का पहला कुंवारा पानी बहाने लगी, जिसे दोनों बाप-बेटी फ़ौरन जीभ से चाटने लगे.

अंकल ने मेरा दुपट्टा हटाया और चूची पकड़ते हुए बोले- तेरे कबूतर बड़े सुन्दर हैं.छोटी सी लड़कियों की बीएफ: वो मेरा मोबाइल मुझसे छीनने लगी और मैं उससे अपना मोबाइल दूर करने लगा.

मैंने शर्म से आँखें फेर लीं और अपनी गर्दन दीवार की तरफ करके परे देखने लगी.ये थी मेरे साथ घटी सच्ची घटना, जिसे मैंने आपके सामने प्रस्तुत किया.

बीएफ हिंदी में अच्छा वाला - छोटी सी लड़कियों की बीएफ

उसने पीछे मुझे देखा, बोली- आराम से … पूरी रात के लिए तुम्हारी ही हूँ.प्लीज़ जल्दी-जल्दी चोदो न … यस फ़क, चोदो ना!और पंकज का पानी निकल गया.

आज वो तीनों मिल कर अपने दोस्त की बीवी की चुदाई करेंगे!मैंने कहा- ठीक है, तुम मजा करो. छोटी सी लड़कियों की बीएफ दीदी के चूसने से लंड जल्दी ही झड़ गया और दीदी मेरा पूरा माल चट कर गयी.

मेरी सेक्स कहानी के पिछले भागज़िम वाले लड़के के साथ दोबारा सेक्स का मजा लिया-1में अब तक आपने पढ़ा कि मुझे अपने मायके जाना था.

छोटी सी लड़कियों की बीएफ?

माँ ने बड़ी बहन बसंती को मामा के पास ही रहने को छोड़ दिया, ताकि कुछ खर्चा कम हो जाए. उसका लंड मुंह में लेकर मैं अपनी तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं कर रहा था. चूंकि अब मैं भी निद्रा से बाहर आ चुका था इसलिए मौसी के हाथों के स्पर्श के कारण देखते ही देखते मेरा लंड मेरी फ्रेंची में तन गया.

राहुल के मन में आया कि फोन वापिस स्विच ऑफ कर दे … पर उसने रजनी को बोल दिया- मैं फ्लैट में ही हूँ और सो रहा हूँ और प्लीज डिस्टर्ब मत करो. पर बहन की लौड़ी … अपनी चुत की चुदाई की आग में सब कुछ सहन करते हुए बोली. मैंने आंटी की गोरी चिकनी गुलाबी गांड भी बड़े प्यार से … आंटी के बिस्तर पर ही, आंटी की इच्छा से मारी.

उसने कहा कि उसके दोस्त ने उसको अपने घर बुलाया है और रोहन के अलावा उसने एक और दोस्त को भी बुलाया है. चाचीवह बोलीं- अमित ये क्या कर रहे हो? मैं तुम्हारी चाची हूं, तुम्हारे चाचा की बीवी. वो बोली- मेरा एक अर्जेंट काम है, तुम कर सकते हो क्या?मैं- हां क्यों नहीं.

दोस्तो, जब भी उसकी नंगी पीठ को देखता हूँ न, तो मैं उत्तेजित हो उठता हूँ. जब बात मर्द वाली आ जाती है तो कोई भी मर्द अपनी बेइज़्ज़ती नहीं करवा सकता.

मैंने उनके फोन पर फोन करके पूछा- आज बड़ी खुश नज़र आ रही हैं भाभी जी, क्या बात है?भाभी बोलीं- तुमने शिकायत का मौका जो नहीं दिया.

मैंने दोबारा से नंगी भाभी को नीचे लिटाया और उसके चूचों को काटने लगा.

उसने राहुल को जोर से बेड पर धक्का दिया और उसके बगल में लेट कर उसकी आँखों में आँखें डाल कर उसे कभी देखती कभी चूमती. इसी तरह उनके गुलाबी होंठ भी बोल रहे थे कि चूस लो … मेरा पूरा रस निकाल दो. उसकी सांसें काफी तेज चल रही थीं और मेरी सांसें भी काफी तेज चल रही थी.

जब मैंने मोबाइल देखा तो उसमें नेट सैटिंग ही बंद थी, जिसे मैंने सही कर दिया और उसके मोबाइल में नेट चालू हो गया. फिर मैं ज्योति के टमाटर जैसे गालों पर किस करने लगा और उसे पूरे चेहरे पर चुम्बन किए. उसकी दर्द से भरी चीख निकली … लेकिन मेरा मुँह उसके मुँह से लगा होने के कारण उसकी आवाज दबी रह गयी.

मैंने कहा- आपको नंगी देख कर किसकी नीयत खराब नहीं होगी भाभी?वो बोली- हे भगवान, आज तेरे भैया से तेरी शादी की बात करनी ही पड़ेगी। इससे पहले मैं कुछ और कहता वो अपने कमरे में भाग गई।भाभी से इस तरह की सेक्सी बातें करने और उनकी कच्छी को उनके सामने ही सूंघने के बाद मेरे अंदर की प्यास बहुत ज्यादा बढ़ गई और मेरा लंड तन गया.

बड़ा मजा आएगा इस पोजीशन में, साथ में तेरे चूतड़ों पर हाथ से चाटें मार कर भी मजा लूँगा. मैं उठा और उसको कुतिया सा झुका कर लंड उसकी चुत पर सैट करके झटका दे मारा. इस बार मैंने नैना को देखा, तो वो बड़ी मासूमियत से गहरी नींद में डूबी हुई थी.

एक बार हम दोनों सेक्स की बातें कर रही थी तो हम दोनों ही गर्म हो गईं और हमने उस दिन थोड़ा बहुत सेक्स भी किया. जब उसका दर्द शांत हो गया तो उसने आँखों से मुझे अनुमति दे दी और मैंने अपना बेस्ट दिया. मैं चिल्लाने को हुई तो मामा ने लंड बाहर निकाल लिया और मुझे समझाने लगे कि इससे कोई नुकसान नहीं होता.

बाहर झमझमाती बारिश के शोर और कमरे में शमा की पीली झिलमिलाती रोशनी में मुझे वसुन्धरा की गोरी, पुष्ट जाँघों के ऊपरी सिरे पर छोटी सी डिज़ाईनर किसी हल्के रंग की पैंटी (गुलाबी या पीली) में बंद नारी के अन्तरंग और गुप्त अंग की झलक मिली.

आज मैंने ही वहां टेबल पर किनारे पर जानबूझ कर ग्लास रखा था ताकि मेरे करवट लेते टाइम तुम जल्दी से जाने की सोचो, तो पहले पर्दे से फिर ग्लास से टकराने से वो गिर जाए. क्योंकि मैंने नशे में उन्हें गले तो लगा लिया था, पर अब मुझे उनकी सांसें मेरी छाती पर महसूस होने लगी थीं.

छोटी सी लड़कियों की बीएफ साहिल ने उसकी कमर को थाम लिया और पूरा लंड हीना की चूत में उतार दिया. मैंने आंटी की गोरी चिकनी गुलाबी गांड भी बड़े प्यार से … आंटी के बिस्तर पर ही, आंटी की इच्छा से मारी.

छोटी सी लड़कियों की बीएफ थोड़ी देर में मुझे भी आनन्द आने लगा था, मैं रंडी सी बोलने लगी- डाल साले कुत्ते … मेरी चुत में पूरा लंड डाल दे … दिखा दे अपना लंड का दम … मिटा दे मेरी चिकनी चुत की प्यास. जोन्स ने अपना एक हाथ मेरी जांघ पे रखा हुआ था और हल्के हल्के सहला रहा था.

मैंने भी उसका हाथ अपने लंड पर रखा और एक हाथ से उसके बूब दबाने लगा और एक हाथ उसकी बुर पर जीन्स के ऊपर से रगड़ कर उसे उत्तेजित करने लगा.

बीपी हिंदी सेक्सी मूवी

पता नहीं क्या हो गया था कि इतनी उत्तेजना हो गई थी कि मेरा पानी वहीं पर निकल गया. लास्ट एग्जाम होने के बाद मैंने घर में दोस्तों के साथ एक पार्टी भी रख ली. छोटे ताले पे कुछ लिखा था … जोकि इतनी कम रोशनी में मैं पढ़ नहीं सकता था.

बदन मैं अजीब सी सुरसुरी हो रही थी और पहली बार चुत से कुछ बह रहा है, ऐसा अहसास हो रहा था. इस क्रियाओं के बीच मेरा लंड एकदम से लोहे की राड की तरह से तन चुका था, मैंने रेखा को अपने नीचे लिया और उसके साथ फोरप्ले करने के लिए उसके निप्पल को मुँह में लेकर चूसने लगा. एक बार तो उन्होंने मना किया,लेकिन मेरे दोबारा बोलने पर मेरी रज़ाई में आ गईं.

उसने पूछा- क्या मतलब?मैंने कहा कि देख बेटा तूने मुझे भड़का दिया है और अब मैं सह नहीं पा रहा क्यूंकि तूने मेरे छोटू को जगा दिया.

जिसे जो लगे, लगने दो।मैं उदास हो गया और डर भी रहा था तो भाभी हँसने लगी और बोली- जानेमन, घर में तेरे और मेरे अलावा कोई नहीं है. आज मैं आप लोगों को एक सच्ची घटना सुनाने जा रहा हूँ, जो एक ईमेल से शुरू होती है. अब कॉलेज में मैं सलवार सूट पहनती थी, जीन्स पहनने की हिम्मत नहीं हुई.

मुझको भी समझ आ गया कि वह औरत शायद इस तरह की नहीं हो, इसलिए मैंने भी और कोशिश करना जरूरी नहीं समझा. मगर मैंने आंटी को एक नई ब्रा भी लाकर दे दी क्योंकि उनकी एक ब्रा तो मैंने ही फाड़ दी थी. नैना की उंगली पर थोड़ा सा प्रीकम लग गया, जिसे पहले तो उसने बड़ी नफरत से देखा.

मैंने शर्म से आँखें फेर लीं और अपनी गर्दन दीवार की तरफ करके परे देखने लगी. मौसी के आने के बाद पता चला कि वो पार्टी के प्रचार के लिए अब 6 महीने यहीं पर रहने वाली हैं.

उस मस्त फिगर वाली गदराई हुई लड़की का नाम परवीन था, शुरू शुरू में तो उससे ज्यादा बात नहीं हुई, क्योंकि वो बहुत शर्मीली थी. खैर … अब मैं उठ कर भाबी के ऊपर लेट गया और मैंने भाबी की टांगों को अच्छे से चौड़ा कर दिया ताकि लंड बेहिचक सीधा भाबी जी की चुत में घुस जाए. हम एक दूसरे को पागलों की तरह किस करने लगे, कभी वो मेरे ऊपर कभी मैं उसके ऊपर … यह सिलसिला करीब 15 मिनट तक चला.

अंगिया और ब्लाउज़ हटने के बाद वसुन्धरा की साड़ी, अस्त-व्यस्त ही सही … रंग में भंग डाल रही थी.

तेज चोदो जान … और तेज!मैं भी झड़ने वाला था और उसके हाथ मेरी कमर पर दबाव बनाये जा रहे थे. भाबी- किस बारे में बात करने के लिए आए थे?मैं- भाबी जो अभी आपने कहा, आपने उस दिन मुझे और नताशा भाबी को चुदाई करते हुए देख लिया था, इसलिए मैं आपसे रिक्वेस्ट करने आया था कि प्लीज़ इस बात को मम्मी को कभी ना बताएं. मैंने कहा- यार, ऐसा कुछ नहीं है, बस इस अजनबी शहर में तुम ही मेरी फ्रेंड हो इसलिए तुमसे कहा है … वैसे बताओ न कल तुम क्या कर रही हो?उसने कहा- मैं क्या कर रही हूँ, उसको गोली मारो.

मैंने सोचा कि क्यों न मैं भी एक कॉल ब्वॉय को बुला लूँ और आज रात चुदाई के मजे लूं?यही सोचकर मैंने एक जिगोलो को फोन कर दिया और उसे रात को 11 बजे के लगभग आने का टाइम दे दिया. बोली- नहीं, रूको नहीं भोसड़ी वाले, चीर दे इसी तरह मेरी गांड, बड़ा इठलाती थी … आह मेरे राजा आह.

चाची- धीरे धीरे … आआह … ऊऊह … ये सब गलत है जीशान … अपनी चाची के साथ ऐसे नहीं करते. मेरे हर धक्के के साथ उसकी तेज स्वर में ;गूं गूं हम्म गूं उम्म्म …’ की आवाज निकल रही थी. मुझे भी लगा कि भैया कहां फंस गए, ऐसी घटिया सी दिखने वाली औरत के साथ कैसे उन्होंने शादी कर ली.

सेक्सी एचडी बिहार

अब मैं समझ चुका था, श्वेता मैडम ने मेरी प्रॉब्लम को कुछ हद कर हल्का कर दिया था.

आंटी भी हांफते हुए जोर जोर से सांसें लेते हुए वहीं नीचे कारपेट पर लेट गईं. एक पल के लिए तो दिमाग में आया कि मैं अब रात में बिना किसी से बताये उनके घर से निकल कर अपने शहर के लिए ट्रेन पकड़ लूं. मुझे तो मानो जन्नत का स्वाद आ रहा था।इधर मैं उसकी चूत को पागलों की तरह चूस रहा था, उसकी चूत को अपनी जीभ से चोद रहा था.

अंदर जाकर मैंने वहां देखा कि आंटी की सफेद ब्रा और काली पेंटी पड़ी थी। क्या सेक्सी ब्रा-पेंटी थी! मैं तो देखता रह गया।उनको देखकर तो मेरा लण्ड पूरा का पूरा 8 इंच का हो गया। मैंने ब्रा को हाथ में लेकर सूंघा और पेंटी को भी नाक से लगाकर उसकी खुशबू लेने लगा. हाँ और इसकी मम्मी को दो दामाद!”वैसे मैं सोच रहा हूँ कि इसकी मम्मी को भी अपनी पत्नी बना लें!”अंशु ने प्यार से मेरे गाल पे चुम्मी ली और बोली- नहीं उपिंदर, सिंदूर तो सिर्फ इसकी मांग में भरेंगे। इसकी मां को रखैल बनाएंगे. बीएफ गाने वीडियोमैंने उसकी ओर देखा तो वो एकदम बोला- पाना!मैंने कहा- क्या?पाना पकड़ना है पाना!” वो हिम्मत करके बोला।:पाना?” मैं उसकी ओर देख कर बोली.

वो कुछ देर चिल्लाता रहा, उसके मुँह से जोर जोर से आह आह की आवाजें निकल रही थीं. मैंने उसको कुछ कॉस्मेटिक का सामान भी दिलवाया ताकि वो सज-संवर कर मेरे साथ संभोग करे.

मैंने एक ही झटके में पूरा लंड अन्दर पेल दिया, जो उसकी बच्चेदानी पे जाके लगा, उसकी चीख निकल गई- रॉबी, धीरे प्लीज़ आह … आह … यस … मजा आ गया … चोद दे. आप कृपया मुझे आगे शिफ्ट करवा दीजिये वरना मेरे पेट में दर्द हो जायेगा. कम उम्र में ही उनकी शादी एक ऐसे आदमी से हो गई थी जो उनसे डेढ़ गुना बड़े थे आयु में।आप ही सोचो कि जब एक औरत जो तीस साल की हो चुकी है और उसका पति उससे डेढ़ गुना ज्यादा बड़ा है उम्र में, तो इस बात का अंदाजा आराम से लगाया जा सकता है कि उसके पति की उम्र कितनी होगी.

मैंने मामी से पूछा कि ये जनाब कौन थे?मेरी मामी बोलीं- मेरे पहचान वाले थे. ये मेरी अन्तर्वासना पर पहली सेक्स कहानी है, पाठक और पाठिकाएं मुझे[emailprotected]पर मेल करके अपने सुझाव दे सकते हैं. उसके ब्लाउज के ऊपर से ही मैंने भाभी के चूचों को दबाना शुरू कर दिया.

इस तरह कुछ दिन मेरा मतलब 9 महीने बाद भाभी को लड़का हुआ, जो कि मेरा ही अंश था.

फिर मेरे लिंग महाराज को अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लग गयी. मैं समझ गया कि आज रात भाभी की चुदाई निश्चित है। उस रात को मैंने पहले की तरह भाभी के दरवाजे से कान लगा कर खड़ा हो गया.

मैंने अपना सिर उसके पैरों की तरफ कर लिया। मैंने उसकी कैपरी उतारी फिर पैंटी … फिर उसकी चूत पे किस करने लगा. दीदी के ब्लाउज के बटन पूरे न लगे होने के कारण उनका एक निप्पल मुझे दिख गया. अंकल जी आप निर्दयी हो, दया ममता तो है ही नहीं आपके हृदय में!” मैं सुबकती हुई बोली.

उसके गोरे चूचे और उसके चूचों पर ब्राउन रंग के निप्पल देख कर अजय ने उसके निप्पलों को मसलना शुरू कर दिया. उसने सफेद रंग का गाउन पहन रखा था जिसके अंदर से उसकी लाल ब्रा और काली पेंटी दिखाई दे रही थी. मैंने जो हाथ से चूत को फैलाया, तो वह खुश होकर जीभ को चूत में घुसेड़ने लगा.

छोटी सी लड़कियों की बीएफ मैं बीच में सबको रोकते हुए बोला- देखो बच्चा आप लोगों की लाइफ को बचा सकता है. हम दोनों की बातें प्यार में बदल गयी और हम दोनों को पता भी नहीं चला.

चुदाई वीडियो सेक्सी में

मैंने शर्म से आँखें फेर लीं और अपनी गर्दन दीवार की तरफ करके परे देखने लगी. भाभी की चूत ने पानी छोड़ कर उसकी चूत को आस-पास के एरिया से गीला कर दिया था. फिर एक दिन मैंने सोचा कि मुझे अपने जीवन की घटना भी अंतर्वासना पर आप लोगों के साथ शेयर करनी चाहिए.

आज के समय में जिन लोगों को लगता है कि सिर्फ भला इंसान होने से कुछ मिल सकता है, तो वह गलत है. वो एक ट्रांसपेरेंट नाइटी में थी, जो कि मुश्किल से उसकी जांघों तक की थी. बीएफ हिंदी जंगल मेंकुछ क्रीम लेकर अपने लंड पर लगा दिया, उसके बाद मैंने वही वीडियो चलाकर टेबल पर नम्रता के सामने रख दिया और उससे कूल्हे को उसी तरह से फैलाये रखने को कहा.

एक रात मैं लेट के मोबाइल चला रहा था, तभी मुझे किसी के रोने की आवाज़ सुनाई दी.

वह बोली- बहुत बिगड़ गए हो तुम।मैं बोला- मुझे तुम्हारी ही अदाओं ने बिगाड़ा है।वह हंसने लगी और उसने एकदम मेरे पास आकर मेरी शर्ट को खोलना शुरू कर दिया. कानपुर आकर उसने पड़ोस वाली आंटी को सैट कर लिया था और कभी-कभी उन्हें चोद भी दिया करता था.

वो बड़ी बेशर्मी से कहती कि वो चुद चुकी है और कहती थी कि जो मज़ा इस कच्ची उम्र में चुदने का है वो ज़िन्दगी में फिर कभी नहीं आने वाला. आपके जज़्बात की कदर करती हूँ, पर जो नहीं हो सकता, वो कभी नहीं हो सकता. आज बड़ा प्यार उमड़ रहा है मेरे ऊपर?उसने एक हल्का सा मुक्का मेरे सीने पर ठोकते हुए कहा- आप बड़े वो हैं?फिर वो शिथिल हो गयी, उसके शिथिल होने से मैं उसकी पीठ सहलाते हुए बोला- अरे नराज हो गयी क्या?रेखा- अरे नहीं ऐसी कोई बात नहीं है.

शाम को पापा ने कहा कि तुम पढ़ाई के चक्कर में अपनी तबियत खराब मत कर लेना.

मैंने उसको बड़े प्यार से देखा, तो वो फिर वो बोली- डू यू लव मी?मैंने उसके हाथ को चूमते हुए उससे कहा- यस आई लव यू टू. आते ही मैंने उसे अपनी बांहों में भरकर होंठों पर होंठ रखकर चुम्बन करना शुरू कर दिया. मेरी नजर तुरन्त ही घड़ी पर गयी, तो देखा कि कॉलेज जाने का टाईम हो रहा था.

बीएफ फिल्म मस्तकहीं गिर ना जाऊं, इसलिए मैंने अपनी बांहें अंकल के गले में डाली और उन्हें कस कर पकड़ लिया. फिर एक ही बार में उसके पूरे बदन को अपनी नजरों के स्कैनर से स्कैन कर लिया.

बिहार की भाभी की सेक्सी

अब हम घर में नहीं मिल सकते थे इसलिए स्कूल के बाद स्टडी के नाम पर हम मेरे दोस्त के होस्टल के कमरे में मिलते रहे. पहली बार जब भाभी को शादी वाले दिन चोदा था तो इतना मजा नहीं आया था मगर आज जब भाभी पूरी नंगी थी और मैं भी पूरा नंगा था तो चुदाई का मजा भी अलग ही आ रहा था. उसके निप्पल पे होंठ के बीच में रखकर दबाए जा रहा था और जीभ से चाट रहा था.

सीट पर बैठने के बाद चारू ने बताया कि मुझको तुमसे ढेर सारी बातें करनी थी, तो इसलिए मैंने इंग्लिश मूवी की टिकट ली … ताकि कुछ भी डिस्टर्बेंस ना हो. मैंने हल्के से थोड़ी सी आंख खोल कर देखा तो मौसी मेरी फ्रेंची पर हाथ फिराते हुए मेरे लंड को सहला रही थी. उसने भी अपने शरीर को काफी संभाला हुआ है। पतली कमर और वी शेप के सीने के कारण वह किसी मॉडल से कम नहीं लगता जैसा कि वीणा ने बताया था, उसके लिंग की लंबाई साढ़े सात इंच थी जो कि मेरे लिंग से थोड़ी ज्यादा है.

बॉस- बस इतनी सी बात!मेरी बीवी बोली- उन्होंने फटाफट मेरे बैंक खाते में दो लाख ट्रांसफर कर दिए। और फिर मैं सब कुछ छोड़कर आपके पास चली आयी। बाकी सब तो आप जानते ही हो। मुझसे गलती हो गयी मुझे माफ़ कर दीजिए। किसी को भी मुँह दिखाने लायक नहीं रही मैं तो!मैं अब पूरा उत्तेजित हो चला था, मैंने बस इतना कहा- अरे रीना, हो जाती हैं ऐसी नादानियाँ! तुम होश में नहीं थी। आगे पूरा जीवन पड़ा है. उनकी बनियान में से उनकी बालों वाली छाती दिख रही थी। मां अंदर चली गई और रमेश अंकल ने दरवाजा बंद कर लिया।मां डरी हुई थी और सोच रही थी कि अब वह क्या करे. मैं मन ही मन सोचने लगा था कि साड़ी अगर थोड़ी और ऊपर उठ जाये तो भाभी की चूत के दर्शन ही हो जायें।मैंने हिम्मत करके बहुत ही धीरे से साड़ी को ऊपर सरकाना शुरू किया.

मैंने तुरन्त लंड बाहर निकाला, नम्रता टेबिल से नीचे उतरी और घुटने के बल बैठकर मेरे लंड को मुँह में लेकर उसकी चुदाई करने लगी. चुदाई की कहानी का अगला भाग:मौसी की लड़की को पटा के चोदा-2लेखक के आग्रह पर इमेल आईडी नहीं दी जा रही है.

मेरा पूरा माल निकलने के बाद उसने ऐसा झटका मारा कि मेरे माल के साथ उसकी चूत से ब्लड भी बाहर गिरने लगा.

हम लोग जयपुर दो दिन तक रुके और इन दो दिन में हमने हर आसान में सेक्स को खूब एंजाय किया. बीएफ हिंदी खुल्लम-खुल्लाउसकी मरमरी जांघ चूमते हुए जैसे ही उसके गांड तक पहुंचा, क्या मस्त खुशबू आ रही थी उसकी चुत से. सेक्सी बीएफ चुदाई की कहानीउसके बाद उसने अपने हाथों को मेरी छाती पर रखा और निप्पल को मीसने लगी. मैं उसकी गांड को लंड से रगड़ रहा था और अपने हाथों से उसके पेट तथा कमर को सहला रहा था.

वापस आने के बाद चाची ने मुझे कॉफी के लिए पूछा तो मैंने मना कर दिया.

जैसे ही मेरा लंड उसके सामने आया, वो खुश हो गयी, बोली- वाओ यार क्या मस्त लंड है तुम्हारा. फिर उसको अपने शरीर से थोड़ी दूर हटाकर उसने उसके चूचों को चूसना शुरू कर दिया. पर समय जो थोड़ी देर पहले तक तेजी से भागा जा रहा था, उसकी गति अब काफी कम हो चुकी थी.

साथियो, आपके लौड़े खड़े हो रहे होंगे और आप सोच रहे होंगे कि वो लौंडिया कैसी दिखती होगी. आखिरकार वासना की जीत हुई और मैंने मेरे घर का दरवाजा खोला, बाहर कोई नहीं देख कर खुशी से मैंने अपने घर का दरवाजा लॉक किया और अंकल के घर की तरफ भागी. मैंने उसके पीछे खड़े होकर लण्ड का सुपारा उसकी गुफा के द्वार पर रखा और पेल दिया.

తమిళనాడు సెక్స్ సెక్స్

मेरे पापा जॉब करते हैं, इसलिए वे तैयार होकर अपनी जॉब के लिए निकल गए. मगर पिछली बार इतना सब कुछ हो जाने के बाद मैं ज्यादा देर तक उससे दूर नहीं रह सका. उनकी बनियान में से उनकी बालों वाली छाती दिख रही थी। मां अंदर चली गई और रमेश अंकल ने दरवाजा बंद कर लिया।मां डरी हुई थी और सोच रही थी कि अब वह क्या करे.

गर्मियों के दिन थे और मेरा पूरा परिवार किसी शादी में गांव गया हुआ था.

इसलिए भाभी मुझे देखते ही सबसे पहले अपनी मैक्सी का गला ठीक करती थीं.

इस वजह से मां को हल्का सा दर्द होने लगा और वो मादक आवाज में सिसकारी भरने लगी. मैंने मधु के हर हिस्से को अच्छी तरह किस किया और मधु की चूचियों को चूसने लगा. बीएफ वीडियो कुंवारी लड़की कीमैंने अपने हाथ आंटी के बोबों पर रखे और जोर जोर से दबाने, मसलने लगा.

कोशिश आखरी सांस तक करनी चाहिये यारो …मिल गई तो चूत और नहीं मिली तो उसकी माँ की चूत।मैने अपने सभी साथियों (लंड, आँखें, होंठ-मुँह-जीभ, कान-नाक, हाथ, दिल और दिमाग) की आपातकालीन बैठक (एमर्जेन्सी मीटिंग) बुलाई. मेरा नकली गुस्सा देखकर अंकल फिर जोश में आ गए, मुझे बांहों में भर कर मुझे डीप किस करते हुए मुझसे बोले- मैं इस शुक्रवार ऑफिस से जल्दी वापिस आ जाऊंगा, घर में भी कोई नहीं रहेगा. ये सुनकर दिशा एकदम से चहकते हुए उठी और बड़े ही कामुक अंदाज में मेरी जांघ पर आ बैठी.

सुमन अभी नर्सिंग की पढ़ाई कर रही है और उसकी बड़ी बहन की शादी हो चुकी है. खैर मेरी ये इच्छा भी उदयपुर में आकर पूरी हुई।मैं एक साल पहले यहां पढ़ाई करने आया था और एक रूम लेकर रहने लग गया। मैं जिस रूम में रहता था वहीं पास में एक कपल भी रह रहा था.

उनकी सीत्कार भरी आवाज निकल गई- आआहह … कमीने अब चाची को रुलाएगा क्या?मैं- अरे सॉरी चाची गलती से हो गया.

थोड़ी देर वैसे ही सोने के बाद दीदी ने मुझे उठाया और हम दोनों बाथरूम में नहाने चले गए. लेटे लेटे ट्रेन चलाने में मजा नहीं आ रहा था, मैं उठा, एक एक करके अपनी टांगें सीधी कीं और डॉली को उठाकर अपनी गोद में बैठा लिया और उससे कहा- अब तुम करो. सिर्फ हम दोनों ही बाहर निकले, बाहर हमें कोई नहीं जानता था, इसलिए जब उसने मेरी कमर पे हाथ रखा, तो मुझे कोई एतराज नहीं हुआ.

बीएफ भोजपुरी ब्लू फिल्म अब आगे शुक्रवार का मुझे बेसब्री से इन्तजार था, जब मेरी कमसिन चूत को अंकल का फौलादी लौड़ा फाड़ने वाला था. मैं बेडरूम में हूँ, आप यहां खुद को अपनी ही पारखी नज़र से एक नज़र निहारिये, ख़ास तौर पर अपने लहंगे को आगे से … बायीं ओर से.

फिर हम लोग एक रेस्तरां में लंच को गए, तो उन्होंने बताया कि मैं यह सब अपने पति के साथ भी कर चुकी हूँ, इसलिए ये सब मुझे अच्छी तरह करना आता है. फिर उसने मेरी साड़ी को ऊपर उठा दिया और मेरी पैंटी के ऊपर से मेरी चूत को रगड़ने लगा. फिर उसने दूसरा कप मेरी तरफ बढ़ाते हुए मुझसे कहा- अरमान मामा, ये आपके लिये.

शिल्पा शेट्टी नंगी फोटो

माय गॉड … कसम से क्या माल लग रही थी वो … मैं उसे नीचे से लेकर ऊपर तक देखता ही रहा गया. मैं शर्म भूलकर दोनों चूचियों पर हाथ रखकर बोली- अंकल धीरे से दबाइएगा, मुझे दर्द होगा. एक दिन शाम को मम्मी ने मुझे बाजार से कुछ सामान लाने को बोला, मुझे वापिस आने तक रात हो गयी.

मेरे कई बार कहने पर उसने उंगली से प्री कम ले कर अपने होंठों पर लगाया और फिर अपनी उंगली को चाट लिया. फिर मेरे मन में पता नहीं क्या आया कि मैंने उसकी जांघों को हल्के से छू कर देखने की सोची.

वो इस बात से बिल्कुल ही बेखबर थीं। मैंने देखा कि भाभी किचन में काम कर रही थी.

वो भी खुल कर सब कुछ करना भी चाहती थी, जैसे आज वो अपने चुदने का प्लान पहले से ही बना के बैठी हो। तभी तो ऐसा ड्रेस, ऐसा सजा हुआ रूम, बीयर पीने का मूड, सभी बस एक ही तरफ इशारा कर रहे थे।खैर मेरा क्या … मुझे तो आज की रात जन्नत ही मिलने वाली थी शायद।हम बीयर पी रहे थे और बातें कर रहे थे और साथ साथ हमारे बीच का फासला भी कम होता जा रहा था. आंटी ने भी अंकल को कस कर पकड़ा हुआ था और नीचे से अपनी कमर उठाकर धक्के लगा रही थीं. अब मैंने स्पीड 4 पे कर दी, वो एकदम से निढाल सी हो के गिरी और रेलिंग पकड़ के वो किसी तरह सम्भली.

उसके लंड पर मेरी चूत का खून लगा था। उसका वीर्य बहुत गर्म था। एक के बाद एक धार उसके वीर्य की मेरे पेट पर गिर रही थी।सारा माल लंड से टपकने के बाद वह उठा और मेरे माथे पर एक किस करके बाथरूम में चला गया जो मेरे बेडरूम में ही था. रात के करीब दस बजे भाभी का मैसेज आया- क्या हो रहा है … खाना खा लिया कि नहीं?मैंने रिप्लाई किया- नहीं यार … अभी तो बियर पी रहा हूँ, खाना रखा हुआ है अभी खाऊंगा. मैंने एक हाथ से अपना मुँह दबाया और दूसरे हाथ से उसके सर पे प्यार से बालों को सहलाने लगी.

मैं उनको आवाज लगाने को हुई, उसी समय मुझे उनके बेडरूम से ‘अउम्म … अहह … ‘ की आवाजें आ रही थीं.

छोटी सी लड़कियों की बीएफ: पर अचानक रजनी के हाथ से कॉफ़ी का कप लड़खड़ाया और उसके टॉप पर गर्म गर्म काफी गिर गयी. जब मैंने अपनी नौकरी से कुछ दिनों की छुट्टी घर पर समय बिताने और मौज मस्ती करने के लिए ली थी.

मैं उसकी चूत को चाट रहा था जबकि वह मेरे लण्ड को मुंह में लेकर फिर से खड़ा करने की कोशिश कर रही थी. मगर सारा का सारा माल नीचे बह गया था और सिर्फ दीवार पर गीलापन ही रह गया था. मेरी नाक से सांस लेने में भी मुझे परेशानी होने लगी लेकिन भाभी ने कस कर मुझे दबाया हुआ था.

मैंने कहा- हाँ जी, कौन बोल रहा है?पवन मोटर गेरेज से पवन बोल रहा हूं, आप कौन बोल रही हैं?”मैं शालिनी बोल रही, यहाँ अजमेर से बाहर बाई पास से आगे मेरी गाड़ी ख़राब हो गई है और सामने आपके बोर्ड पर नंबर लिखा हुआ है, तो क्या प्लीज आप आ जाओगे?”हाँ मेडम, मैं बस पहुँचता हूँ.

तभी मैंने एक जोर का धक्का लगा दिया, जिससे मेरा आधा लंड उसकी गर्म चुत में अन्दर जा चुका था. वह मुझे गंदी गालियां दे रही थी।मैं उसकी जांघों को चूमते हुए नीचे आता गया और उसके पैरों की उंगलियां भी चूमीं जिससे ज्योति मचलने लगी और बोल रही थी कि चोदो, चोदो प्लीज़ … तन्मय आज मेरी चूत पूरी रात भर चोदो। अपने लण्ड के पानी से भर दो मेरी चूत. लंड चुत के अन्दर आने के बाद 30 सेकंड हम दोनों रुके, फिर उसने धीरे धीरे धक्के देना शुरू किए.