वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,সেক্স ভিডিও নতুন

तस्वीर का शीर्षक ,

झारखंड सेक्सी देहाती: वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो, बुआ ने घुटने हल्के से मोड़ लिये और उनकी चूत सामने की तरफ खुल सी गई.

एक्स एक्स एक्स वीडियो बीएफ एचडी

आंटी- ओके … अब चलो यार, कभी कभी अपनी तन्हाई को दूर करने के लिए पी लेती हूँ. नंगी पिक्चर अंग्रेजों कीराजेश ने होंठों पे एक और चुम्बन लिया और इस बार चूचियाँ भी दबाईं।डॉक्टर- राजेश, तुम इसके मज़े लो मैं जा रही हूँ.

उसने मेरे लंड को चूस चूस कर इतना गर्म कर दिया था कि लंड ने अपना सारा पानी उसके मुँह में छोड़ दिया. एचडी बीपी दिखाओमुझे नहीं पता वो दोनों कब से इस तरह एक-दूसरे की प्यास बुझा रहे थे लेकिन दोनों के अंदर सेक्स जैसे कूट-कूट कर भरा हुआ है.

इतना कहने के साथ ही मैं बिछौने पर लेट गया और नम्रता ने मेरे सीने पर थोड़ा तेल गिराते हुए मेरी मालिश शुरू कर दी.वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो: भाभी ने लंड हाथ में लिया और बोली- इतना बड़ा लंड मैंने आज तक नहीं देखा.

मैंने मैडम के सेक्सी फीगर और गांड के बारे में सोचा तो लंड फटाक से तन गया.मैं मनीषा के साथ सात दिनों तक रहा और हम दोनों ने हर जगह और हर आसन में चुदाई का आनन्द लिया.

ओन्ली राजस्थानी सेक्स - वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो

मैंने भाभी के चूचों को जोर से दबाना शुरू कर दिया और जल्दी ही भाभी गर्म हो गई.मैं- तो क्या आप मेरा ये काम करोगे?अंकल- हां बेटा, मैं जरूर करूंगा, मगर मेरी तुम्हारी अम्मी से ज्यादा बात कभी नहीं हुई है.

इसके बाद मैंने भाभी को अपने नीचे लिया और उसके एक मम्मे को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगा. वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो या फिर चलो दोनों लोग एक साथ ही मूतने चलते हैं, मैं तुम्हें मूतते हुए देख लूंगी और तुम मुझे.

दीदी अपने पति से अपनी गांड को चुदवाते हुए नॉर्मल होने की कोशिश कर रही थी मगर जीजा के धक्के बहुत ही तेज थे.

वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो?

तेजी से उसकी चूत को चोदते हुए मैं उसके जिस्म को भोगने लगा, उसके चूचों को पीता और दबाता रहा. मेरी पिछली कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरे जीजा जी मेरे साथ सुहाग दिन मनाना चाहते थे लेकिन किस तरह से उनके साथ मेरा सुहागदिन पूरा नहीं हो पाया और फिर एक रात को उन्होंने मेरी चूत चोद दी थी. आप सभी से निवेदन है कि आपको मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे ज़रूर बताएं.

मैं दिलिया की चुची पर जानवरों की तरह टूट पड़ा। उसके चूचुक जिन्हें आज तक किसी ने नहीं छुआ था, अब मैं उसके दायें निप्पल को चूस रहा था और काट रहा था। फिर मैंने उसके बायें स्तन को भी फूल हटा कर नंगा कर दिया निप्पल को चूसा और काटा! उसके स्तन एकदम फूल कर सख्त हो गए थे और निप्पल भी कठोर हो ऊपर को तन गए थे।दिलिया समझ गयी कि अब उसकी चूत की बारी है. मैंने रात को ही अपने शरीर के सब बाल साफ कर लिए और अगले दिन ग्वालियर के लिए चल दी. हैलो फ्रेंड्स, मेरी पहली कहानीचलती बस में गांड मराई की हसीन रातके लिए आप लोगों के मुझे बहुत सारे ईमेल आए, जिनसे मुझे मालूम हुआ कि मेरी कहानी आप सभी को बहुत अच्छी लगी.

सवाल समझाते हुए मैंने देखा कि उसने किताब में एक पर्ची मेरे पास छोड़ दी थी. नीचे से वह भी अपनी गांड को उकसा कर मेरा साथ देने की पूरी कोशिश कर रही थी. मैंने आपको कोई और ही समझ बैठी!” मैंने खड़े होकर उन्हें नमस्कार किया और हाथ जोड़कर लजाते हुए उनसे माफ़ी मांगी.

हम लोगों ने खाना खाया, साथ में एक एक पैग भी पिया और फिर से चुदाई की तैयारी करने लगे. फिर वो जीजू की छाती के निप्पलों को चूसने लगी तो जीजू ने मानसी की गांड को दबाना शुरू कर दिया.

मैंने पट्टी निकाल दी और सोचने लगा कि शायद मुझे सबसे पहले दिशा चोदने को मिलेगी.

मैंने लंड को पैंट के अन्दर किया, अनुषी को दूसरे दरवाजे से बाहर किया और खुद मैं अन्दर मां के पास आ गया.

तुम्हारी बेटी भी कैसी है … दुनिया में इतने सारे लंड हैं लेकिन इसने अपनेबाप से ही चूत चुदवा ली. मैंने ऊपर भी लिखा था कि मुझे औरतों और लड़कियों की गांड सूंघना और चाटना बहुत पसंद है. उसके लंड मुँह में लेने के बाद दस मिनट बाद ही लंड का माल उसके मुँह में छूट गया.

आगे सुमेर बोला- देख आमिर, तेरा लण्ड तो तगड़ा है और पहली चुदाई ख़ास होती है, उसे यादगार बनाना चाहिए. ऊह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह का जवाब मेरा लण्ड देता था, धकाधक, धकाधक. जब मैं पेपर देकर रूम पर वापस आया तो अलका अभी अभी नहा के बाहर आई थी.

बाथरूम का दरवाजा खुला हुआ था और मैं नंगी, जवान, अपनी सहेली को गर्म कर रही थी.

कोई 5 मिनट बाद वो आयी और चहकती हुई बोली- चाचू अमेरीकन पाई: बुक ऑफ लव देखनी है. पर एक बात थी कि खाना बनाने की तैयारियों के बीच वो मुझसे चिपकती, फिर पलटी मार के अपनी पीठ को मेरे सीने से चिपकाती और फिर मुझे पीछे से पकड़ लेती. वातानुकूलित वातावरण में मुझे अच्छा फील होने लगा और मुझे स्मरण हुआ कि मैं वहां क्यों गई थी.

मैंने नीचे से भाभी की साड़ी को पेटीकोट समेत उठा लिया और एक हाथ से उनकी पैंटी को सहलाने लगी. जब तक मैंने हाथ-मुंह धोया तो अचानक अंदर से उसकी माँ की चीखने की आवाज आने लगी. मैंने खुद को घुटनों के बल कर लिया और देखा कि नंगी रानी तौलिये पर खड़ी है.

कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि पहली रात को मैंने वासना से वशीभूत होकर मोनी की चूत तक पहुंचने का रास्ता बना लिया.

उसकी चुत से निकला कसैला सा पानी मेरे मुँह में भर गया जिसे मैं पी गया. उसने मुझे गाली देते सुना तो उसने मुझे भी गाली देते हुए बिस्तर लाके पटक दिया और मेरी टांगें फाड़ते हुए लंड सैट किया.

वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो करीब आधे घंटे के बाद उनका लंड एक बार फिर से टाईट हो गया और हम दोनों ने फिर से चुदाई शुरु कर दी. करीब पांच मिनट बाद मेरी चूत ने अंकल के लंड को अपने अन्दर सैट कर लिया और मुझे अंकल से चुदने में मजा आने लगा.

वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो अगले दिन फिर रीना सुबह साढ़े ग्यारह बजे आ गयी, मैंने उसे अपनी बाइक पे बिठाया. फिर हमने रात को एक बार चुदाई की और सो गए।सुबह नाश्ते की टेबल पर मैं मम्मी-पापा से मिला.

वो भी दूध चुसवाते हुए आहें भरने लगी उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैं एक हाथ से उसके एक बूब को दबाता रहा और दूसरे को चूसता रहा.

सेक्स पावर गोली

फिर धीरे धीरे मैं उसके होंठों से हटकर उसके गर्दन पर चूमने और चाटने लगा. इतना जोर जोर से अपने लन्ड को मेरी चूत में डालने लगा कि मैं पागल हो उठी. मुझे लग रहा था कि शायद अंकल भी मेरी अम्मी को इमेजिन करके शायरा आंटी की चुदाई कर रहे थे.

मोनी के बदन में इतनी गर्मी थी कि उसने मेरे अंडकोषों के अंदर इकट्ठा हुए वीर्य को गर्म लावा बनाकर बाहर आने पर मजबूर सा कर दिया. वो सब मुझे चिढ़ा रहे थे कि यार तेरी तो आज रात को दीवाली ही दीवाली है. मैंने आने के बाद अपने कपड़े पहने और जीजा ने भी अपने कपड़े पहन लिये.

फिर दो-तीन घंटे ऐसे ही बीत गये और मानसी ने खाने के लिये पूछा तो मैंने बोल दिया कि आज बाहर से पिज्जा मंगवा लेते हैं.

उसके बाद मैंने जोश में आकर उसके चूचों को दबाना शुरू कर दिया और इतनी जोर से मसला कि उसकी चीख निकलने लगी. मानसी की टांगों को चौड़ी करके वो उसकी टांगों के बीच में बैठ गये और उसका टॉप उतारने लगे. मगर उनकी आवाज इतनी ज्यादा तेज नहीं थी कि बाहर आकर बच्चों के कानों तक पहुंच पाये.

दो दिन बाद उसका मेरे पास फोन आया कि तू अपनी कुछ अच्छी अच्छी सी फोटो सेंड कर दे. फिर मैंने उसकी गांड का छेद भी चाटा बहुत अच्छा स्वाद था और बहुत नाजुक भी. मुझे अच्छा लगेगा और मैं आप लोगों के लिए कोई और किस्सा या घटना लेकर वापस आऊंगा.

मैं मानती हूँ कि तेरे भैया अब मेरी चूत को शांत करना जरूरी नहीं समझते लेकिन मैं उनकी पत्नी हूँ और इस तरह से मैं तुम्हारे साथ कुछ नहीं करना चाहती. यह कहानी उस समय से शुरू होती है, जब हम तीनों गांव के स्कूल में बारहवीं क्लास में पढ़ते थे.

चूंकि वो मेरे जिले का था, मैंने प्रॉब्लम नजरअंदाज करते हुए फाइल साइन कर दी. वसुन्धरा के हाथ अब अटैची-केस के हैंडल से हट चुके थे और अब वो सहजता से सीट की पुश्त से पीठ लगाए, गोदी में रखे अटैची-केस पर अपने दोनों हाथ टिकाये बाएं हाथ की तर्जनी उंगली पर दायें हाथ से दुपट्टा लपेट-खोल रही थी. मैंने उसके लेफ्ट हाथ को खोला और उसे पुलअप मशीन के दूसरे बार से फैला कर बांध दिया.

बियर खत्म होने पर मैंने उसकी उस कोमल चूत को चाटने लगा और साथ ही साथ उस प्री-कम रस का भी मजा लेने लगा, जो शायद उसके ज्यादा उत्तेजना के कारण निकल आया था.

जाने को तो वो दोनों पापा के साथ भी जा सकती थीं लेकिन पापा के साथ उनके न जाने का कारण यह था कि सुमिना और काजल दोनों जवान लड़कियां थीं इसलिए अपने से बड़ी उम्र के व्यक्ति के साथ वो न तो खुल कर बातें कर पातीं और न ही मटरगश्ती ही हो सकती थी. अब प्रिया की तरफ मैंने ध्यान देना शुरू कर दिया क्योंकि प्रिया ही एक ऐसी लड़की थी जो मेरी बात उससे करवा सकती थी. एक दिन सुबह बाहर निकला तो देखा गुप्ताइन अपने पोर्टिको में बैठकर चाय पी रही थी और उसके साथ एक लड़की बैठी थी, सुन्दर सा गोल मटोल चेहरा और गदराया हुआ भरा पूरा जिस्म.

नम्रता- चल मेरे राजा, बर्दाश्त कर लो, पर सड़का मत मारो, अपना यह पूरा गुस्सा मेरी चूत के लिए बचाकर रखो, परसों मेरी चूत चोद-चोदकर पूरा गुस्सा निकाल लेना. सुमेर का लण्ड खड़ा हो गया तो सुमेर बोला- आमिर ध्यान से देख ले कि कैसे चुदाई करते हैं.

उधर वो दोनों लेकलान और मारव पूरे दम से मुझे दोनों छेदों से चोद रहे थे. यह तो सब करते हैं किंतु वह तुम्हारी कच्ची उम्र थी जब तुमने हमें संभोग करते देखा। यह केवल एक बार नहीं अपितु बार-बार था।इस उम्र में जब किसी को पॉर्न फिल्म देखने को मिलती है तो उसका हाल भी यही होता है किंतु तुमने तो पॉर्न फिल्म को जीवन्त रूप में देखी थी. तभी पीछे से मेरी मम्मी की एकदम से आवाज आई- कौन आया है?तब जाकर मैं बुआ से अलग हुआ, लेकिन जब तक गले लगा रहा, मैंने महसूस किया कि बुआ भी मेरी चौड़ी छाती की गर्मी का मजा ले रही थीं.

गांव के मकान का नक्शा

उसके बाद वो उठे और चुपके से मेरे कमरे के दरवाजे से बाहर निकलते हुए दरवाजे को ढाल कर चले गए.

दोस्तो, मुझे मेरी पिछली कहानीकैब से बेडरूम तकमें आप सभी का इतना ज्यादा प्यार देने के लिए धन्यवाद. मैं उसका सिर अपने टांगों के बीच में दबा रही थी, मुझे अपनी चूत में आग लगी हुई महसूस होने लगी थी. शीतल भाभी ने मुझसे पूछा- मुझको यहां क्यों लाए हो?मैंने उसे आँख मारते हुए बोला- तुमने मुझको क्यों बुलाया है.

उन्होंने अपना रूम नम्बर कन्फर्म किया और मैं उनके कमरे में पहुँच गयी. वो जीजू की पैंट से बाहर निकल कर खड़े हुए लंड पर अपनी गांड रखते हुए उनकी टांगों के बीच में बैठ गई और जीजू की शर्ट उतारने लगी. मोटे लंड कामैंने पूछा- किस लिए?वो बनावटी गुस्से से बोली- अरे बाबा खाना खाने के लिए.

”आंटी अपना हाथ मेरे लोअर में डालकर मेरा लण्ड पकड़कर बोली- बहुत बड़ा है तेरा. रात के दस बज गए थे, निहारिका भी घर जा चुकी थी, तो मैंने निहारिका को फोन किया, उससे बोला- जान तुम कपड़े चेंज मत करना, जैसी मेले में दिख रही थी, वैसी ही रहना.

उसने मुझे खींच कर अपने करीब किया और अपने होंठ मेरे होंठ पर रख कर किस करने लगी. मैं घूमते हुए उसकी बायीं तरफ आया और उसके नंगे सॉफ्ट चूतड़ों पे दे मारा. मैंने अपनी बुक वगैरह सब एक ओर रख दीं और उसके लैपटॉप की ओर देख रही थी.

मैं उसके हाथ की तरफ जोर लगाते हुए अपनी गांड को धकेल कर उसके हाथ को जैसे चोदने की कोशिश करने लगा. मैं जानता था आंटी इतनी जल्दी से तो नंगी हो नहीं सकती है इसलिए पहले आंटी को गर्म करना जरूरी था. उसके मोटे मोटे चुचे, फिर पतली सी कमर और फिर उठी हुई गांड … मेरा लंड तो पूरा खड़ा हो गया.

हमने कई बार साथ कई सेल्फियां लीं, जिसमें किसी में वो मुझे पीछे से बांहों में लिए था, तो किसी में मैं उसकी नंगी पीठ पर हथेलियां घुमाती रहती थी.

मेरे स्कूल की ड्रेस में सफ़ेद सलवार और लाल सफ़ेद रंग की चेक का कुरता हुआ करता था, कुर्ते के ऊपर सफ़ेद दुपट्टा सीने के उभार ढकने के लिए होता था. मैंने अंकल से कहा- अंकल, आपका लंड तो अम्मी के नाम से ही खड़ा हो गया है.

बस अब क्या था, जैसे ही चूची मेरे हाथ में आकर नंगी हो गईं तो मैंने उसकी चूचियों को बारी-बारी से मसलना और भींचना शुरू कर दिया. इसके बाद तो मानो काजल की उफनती जवानी का जलवा ही मेरे सामने बिखर रहा था. जब उसने गर्म होकर सिसकारी ली तो मैंने अपनी जीभ उसके मुंह के अंदर डाल दी.

भाभी की गुलाबी चूत देख कर मेरी लार टपक गई … उनकी चूत पे एक भी बाल नहीं था. दोस्तो, अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली कहानी है, आप लोगों को ये कहानी कैसी लगी. मैं भी मेरी जीभ की नोक काजल की चूत में और गहराई तक डालने लगा और दोनों हाथों से काजल की चूचियों को बेदर्दी से दबाने लगा.

वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो मैं धीरे धीरे अपना हाथ उनकी कमर पर फिराने लगा … और अपने हाथ को बुआ की चूची तक ले गया. दोस्तो, अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली कहानी है, आप लोगों को ये कहानी कैसी लगी.

विद मेट कैसे डाउनलोड करें

दिल ही दिल में मैं चाह तो रहा था कि उसके साथ कुछ टांका फिट हो जाये. रात 3:30 वो उठा और उसने मुझे और विक्रम को उठाया। मैं तैयार नहीं थी पर वो हैवान होकर मेरे नंगे जिस्म पर टूट पड़े और मुझे उठा लिया. मैंने ज्यादा देर ने करते हुए उससे कहा- मैं तुमसे कुछ कहना चाहता हूं अदिति.

फिर वो बोले- अब तू मेरी बीवी की तरह मेरे पास आकर बैठ और बोल कि मेरी कमर में मोच आ गई. यह देख कर मैं उसको गोद में उठा कर घर ले आया और मैंने दादा जी से उसके लिये दवा देने के लिये कहा. हिंदी वाली ब्लू फिल्म दिखाओमेरा लंड भी चूत चूत पुकारने लगा था और ज़िद करने लग गया था कि स्वीटी की ही स्वीट चूत चाहिए.

यह जगह सेफ नहीं लग रही है लेकिन आपकी ख़ुशी के कारण मैंने ऐसा किया है.

चारों ने खाना खत्म किया और हाथ धोकर मैं राधिका को अपने साथ उठाकर अपने कमरे में ले गया. चूत पर हाथ से शेविंग क्रीम के झाग बनाने से जहां मुझे मजा आ रहा था, वहीं चाची ने भी चूत खोल दी थी और मेरे हाथ की रगड़ का मजा ले रही थीं.

इस मज़े को पाकर सरिता और भी बेचैन होकर बोली- हाय पापा कितना मजा आ रहा है … बिना लंड के तो मैं मर ही जाऊंगी. सोनम बेटा, इसे एक बार चूस कर गीला तो कर दो; फिर देखना इसका कमाल!” अंकल जी ने मुझसे कहा. इसी बीच नताशा भाबी मेरे लंड को मुँह से निकाल अपने नर्म हाथों से लंड को दबाने लगीं.

वो बेड के किनारे खड़े हुए थे और मैं उनके लंड को अपने हाथ से पैंट के ऊपर से दबा रही थी.

जब तक सुमिना अंदर घुसी मैंने दूसरी तरफ से जाकर गाड़ी का दरवाजा खोल लिया था. जैसा कि आपने मेरी सबसे पहली कहानीऑफिस की लड़की की जबरदस्त चुदाई के बाद…में पढ़ा कैसे मैंने रीना को पटाया फिर चोदा और प्रेम विवाह भी किया. मैं उसके दोने चुचों को दबाये उसके सीने और गर्दन के भागों पे किस कर रहा था.

देसी चुदाई दिखाओ वीडियोलगभग नंगे होकर मैंने मामी को वहीं बेड पर लिटा दिया और उनके ऊपर चढ़ कर बेतहाशा चूमने लगा. पहली बार जब राज के लंड से चुदी थी तो उसने मेरी चूत को जबरदस्त तरीके से चोदा था.

लिंग बड़ा करने के घरेलू उपाय

कुछ देर के बाद किसी ने कमरे में आकर मेरे चूचों को दबाना शुरू कर दिया. माँ के चूचे अब मेरी आंखों के सामने पहली बार बिल्कुल नंगे हो चुके थे. वो भी शायद किसी पर ट्रस्ट नहीं करती हैं … वरना अब तक उनका अफेयर हो चुका होता.

’ और मेरे कंठ से निकलती ‘आअह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आउउऊ उउउ …’ की गूंजें फ़ैल गई थीं. अगले दिन मेरी बीवी के पीहर से फोन आ गया कि उसकी माँ की तबियत खराब है और उसको बुलाया गया था. झड़ने के बाद मैं उसके ऊपर गिर पड़ा, वो भी मेरे कमर से पैर लपेटे झड़ रही थी.

करीब 15 मिनट की खूब चूमा-चाटी के बाद उसने मेरी साड़ी खींच कर उतार दी, फिर ब्लाउस के ऊपर से ही मेरे मम्मे दबाने चालू कर दिये. जब मुझसे रहा न गया तो मैंने उसको अपनी बगल में पटक लिया और उसकी पैंटी को खींच कर उसकी चूत को नंगी कर दिया. मैडम के पीछे पीछे मैं ड्राइंग रूम में चला गया और कापियों वाला गट्ठर एक टेबल पर रख दिया.

अचानक हुए इस हमले को मैं सह नहीं सकी और जोर जोर से चिल्लाते हुए रोने लगी. जब मैं कौतूहल वश बेडरूम की तरफ मुड़ा, तो देखा कि भाभी कपड़े पहन रही थीं.

मैंने लॉकेट की तरफ देखा और खुद को याद दिलाया कि मैं भाई की गुलाम हूँ.

नयी जगह होने के कारण और उच्च शिक्षा के कारण व्यस्त रहता था, तो मैंने बाहर भी कोई लड़की को नहीं पटाया था. एक्स एन एक्स बीपी शॉटमगर फिर सोचा कि देखूं तो सही ये हरामी आखिर है कौन जिससे सुमिना अपनी चूत चुदवा रही है. தமிழ்செஸ்मेरा कम से कम 6-7 बार पानी निकल चुका था, पर गोली खाने की वजह से उनमें से किसी का मुठ नहीं निकला था. मेरी चूची बहुत टाइट हो चुकी थी और वो मेरी चूचियों को दबा-दबा कर चूस रहा था.

उसकी इस हरकत ने मेरा हाथ मेरे तने हुए लंड पर पहुंचा दिया और मैंने अपने लंड को सहला दिया.

रूम में आकर बॉस ने रूम का दरवाजा लॉक किया और रूम का ए सी फुल कर दिया. मेरी चूत पहले से ही गीली थी इसलिए उसका पूरा लंड मेरी चूत में चला गया उम्म्ह… अहह… हय… याह… मुझे बहुत दर्द हुआ. उसके बाद हम लोगों ने ब्रेकफास्ट किया और फिर मैं अपने रूम में चला गया.

उसके बाद उन्होंने पूनम को छोड़ दिया और उन्होंने मुझे दूसरे केबिन में चलने के लिए कहा. मुझे बहुत कस कर गुस्सा आया और मैंने उसको बोलने के लिए उसकी तरफ अपना सर उठाया, तो मेरा सारा गुस्सा गायब हो गया और मेरी गांड फट के हाथ में आ गई … क्योंकि ये पूजा नहीं थी कोई और थी … जो सिर्फ उसके कपड़ों को पहने हुए थी. जी में तो आ रहा था कि तबियत से झाड़-झपड़ करूँ इसकी … लेकिन मेहमान थी, सो तहज़ीब का तकाज़ा था इसलिये चुप ही रहा मैं.

10 साल की लडकी

मुझे आपके यहां कब और कैसे आना है?उसने मुझे बताया- पंकज आप आज ही 3 बजे तक मेरे घर आ जाओ. चाय पीने के दौरान हुई बातचीत में पता चला कि जो लड़की गुप्ताइन के घर आई हुई है उसका नाम बेबी है. मेरे ख्याल से मेरी ऐसी बेलगाम कामुकता मेरे अवचेतन मन की अतृप्त और दबायी गयी ख़्वाहिश … प्रिया की ख़्वाहिश का ही नतीजा था.

कुछ देर तक बाहर गांड के छल्ले पर उंगली चलाने के बाद उसने एक उंगली मेरी गांड में अंदर डाल दी.

हां शादी के बाद मैंने कभी किसी परपुरुष से सम्बन्ध नहीं बनाए (इस सत्य कथा के लेखक सुकांत जी को छोड़कर)मुझे अपने पति से सिर्फ एक शिकायत थी कि वो मेरी चूत कभी नहीं चाटते थे और न ही कभी अपना लण्ड चूसने के लिए मुझसे कहते थे जबकि चूत चटवाने की मेरी बहुत इच्छा होती पर मैं लाज के मारे उनसे कभी कह न सकी.

मैंने ऐसी माल, ऐेसी चुदक्कड़ लड़की अपनी जिंदगी में कभी नहीं देखी थी. मैंने अपने बेटे को अपने जवान जिस्म के कुछ जलवे दिखाए और उसके साथ शिमला घूमने जाने का कार्यक्रम बना लिया. ಸಕ್ಸಿವಿಡಿಯೋभाभी को और ज्यादा मजा आने लगा और वो अपने हाथों से मेरी गांड को अपनी चूत में धकेलने लगी.

तब मेरा स्वप्न टूटा और मैंने हाथ से छूटते हुए मौके के चौके को ऐसे कैच किया कि यह कैच मेरे प्यार की पिच पर काजल को क्लीन बोल्ड करने का एकमात्र अवसर है।मैंने तुरंत हां कर दी. ई … ई … ई!वसुन्धरा रह रह कर दांत किटकिटा सी रही थी और उसके मुंह से निकलने वाली सीत्कारों का कोई ओर-छोर नहीं था. कुछ टाइम के लिए मैं फिर से रुक गया और मौसी की हालत ठीक होने का इंतजार करने लगा.

भगवान ने जाने क्यों मेरे बदन में सेक्स की प्यास औसत से कुछ ज्यादा ही दे रखी है. दूसरे! मेरे बहुत सारे पाठकों को मुझ से शिकायत है कि मैं बहुत धीरे या कम लिखता हूँ … बोले तो! मेरी कहानियों के बीच में एक-एक साल से ज्यादा का अंतराल होता है.

मेरा खुद का एक परिवार था, बीवी थी, बच्चे थे, समाज में मेरा एक मुकाम था और प्यार के नाम पर इन सब को दांव पर नहीं लगाया जा सकता था.

नम्रता- अरे यार क्या लड़कियों वाली बात करते हो, तुम्हारे जैसे पार्टनर के साथ गाली बककर अपनी चूत चुदवाने का मजा अलग है. मैं मुस्कुराया और मतवाली चाल से अपनी गांड हिलाते हुए उनके पास जा बैठा. खैर वो भी पियक्कड़ थी इसलिए उसके लिए बियर पीकर कार चलाना कोई नई बात नहीं थी.

बीएफ बीएफ फोटो बीएफ मुझे लगता था कि इसके पति की गैरमौजूदगी में यदि ये पेट से हो गई, तो हमारा प्यार बदनाम हो जाएगा. मैंने अपनी बहन आतिशा को एक बार अपने दो दोस्तों के साथ चुदाई करते हुए देखा था.

मैंने उसका सामान पकड़ने के लिए पूछा तो मेरे कहने पर उसने अपना सामान मुझे दे दिया. उसकी बहन से मेरी ज्यादा बात-चीत नहीं हुई मगर उसकी बेटी मेरे साथ काफी घुल-मिल गई थी. अंकल बड़े ही शातिर थे, उन्होंने मेरी बुर को बहुत ही पास से जुबान अन्दर घुसेड़ घुसेड़ के चूसना जारी रखा … तो पता नहीं कब मैंने भी उनका लंड अपने मुँह में ले लिया.

उर्वशी सेक्स

पिछली कहानी में मैंने भोला सिंह को बताया कि कैसे मामा के भतीजे की शादी में पहली बार मुझे चार लंडों का मजा मिला. मैं बोली- तू जी भर के चोद बेटा … मैंने आपरेशन करा लिया है … डर मत बस अपनी आग शांत कर ले. पर हाथ से वो मज़ा नहीं मिल रहा था, जो मज़ा मुझे सौरव के लंड से मिलता था.

फिर बातों बातों में मैंने उससे पूछा- हिना जी, आपकी पुसी पर एक भी बाल नहीं है, क्या लगाती हो आप?तो वो बोली- पंकज जी, ये तो ऊपर वाले का उपहार है, जिसकी वजह से मेरी पुसी पर आज तक एक भी बाल नहीं आया … में कुछ लगाती भी नहीं हूँ, बस फेयर एंड लवली क्रीम लगाती हूँ. काजल का भाई कुणाल! उसका 7 इंच का लम्बा लंड उसकी जांघों के बीच में तन कर दायें-बायें झूलता हुआ उसकी जांघों से टकरा रहा था.

सुबह उठने के बाद दीदी जब बाथरूम में फ्रेश होने के लिए गयी हुई थी तो जीजा जी ने मुझे आकर दबोच लिया.

फिर दिशा और सोनल ने बारी-बारी से मेरा लंड चूसा और मैं राधिका को घोड़ी बनाकर उसकी गांड मारने लगा. मैंने मन ही मन सोचा कि सुमित, आंटी की गांड पर हाथ तो लगा दे … एक बार शुरूआत तो करके देख, उसके बाद फिर देखा जायेगा जो होगा. लेकिन इसके बाद उसने एक बार में ही अपना पूरा लंड मेरी चूत में पेल दिया और मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मेरी चूत को चोदने लगा.

महेश अक्सर ड्रिंक भी करता था और उसने बताया था कि उसकी बीवी भी साथ में ड्रिंक करती है. जब वो चल रही थी, तो उसकी पतली कमर के साथ हिलते चूतड़ बहुत सेक्सी लग रहे थे. उधर से उसके पति महोदय बोले- नम्रता ये आह-आह क्या हो रहा है?नम्रता भी बड़ी मादक आवाज में बोली- जान, मेरी चूत तुम्हारे लंड के इंतजार में बेसब्र हुई जा रही थी, सो मैं अपनी उंगली को तुम्हारा लंड समझकर अपनी चूत में डाल रही हूं.

नम्रता- चल मेरे राजा, बर्दाश्त कर लो, पर सड़का मत मारो, अपना यह पूरा गुस्सा मेरी चूत के लिए बचाकर रखो, परसों मेरी चूत चोद-चोदकर पूरा गुस्सा निकाल लेना.

वीडियो में हिंदी बीएफ वीडियो: चूचियां छाती से रगड़ रही थीं और ट्रेन चल पड़ी थी, थोड़ी देर में ही ट्रेन ने रफ्तार पकड़ ली. मेरे पापा ने कहा- तुम यहां घर पर रह कर पढ़ाई तो करती नहीं हो, इससे अच्छा है कि तुम अपने मामा के घर जा कर पढ़ो.

वरूण ने आंटी के मुंह में लंड दे दिया और मैंने आंटी की चूत में लंड डाल दिया. जब दो-तीन बार ऐसा ही हो गया तो भाभी ने खुद ही मेरे तने हुए लौड़े को अपने हाथ में लेकर अपनी चूत के मुंह पर सेट करके मुझे अपने ऊपर खींचा और लंड अंदर उनकी चूत में चला गया. मैं- तो क्या किसी दूसरे को तंग करोगे? अपने घर में ही करो, आपके लिए अच्छा रहेगा.

मैं उसकी मस्त चूचियों को देख कर इतना ही बोल पाया- वाओऊऊ क्या मस्त चूचियां हैं … लगता है ऊपर वाले ने बहुत प्यार से इनको बनाया है.

हम दोनों ही पसीना पसीना हो चुके थे, वो बिना रुके बिना थके लगातार बस चोदे जा रहा था. उसको इस रूप में देखते ही मेरे अंदर का हवसी शैतान जाग उठा और मैंने उसको खींच कर बिस्तर गिरा लिया. अब मैंने उसकी चूत में उंगली डाल दीं और तेजी से उसकी चूत को अपनी उंगलियों से चोदने लगा.