नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी

छवि स्रोत,नेपाली सेक्सी वीडियो फुल ओपन

तस्वीर का शीर्षक ,

मसाज ब्यूटी पार्लर: नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी, वो अपनी गांड पटक कर चूत को मेरे मुँह में ऐसे टिकाने लगी, जैसे वो भी मेरे मुँह को चोदना चाहती हो.

सेक्सी वीडियो गांव की औरतों का

मैंने पूछा- कौन है?चाची की आवाज आयी- मैं हूँ।मैंने दरवाजा खोला तो चाची सीधा अंदर आयी और बोली- वाह रे मेरे नंगे नौजवान!कंचन ने शर्मा कर चादर लपेट ली थी। चाची कंचन से बोली- शर्मा मत, लगता है मेरा सेवक तुम्हारी अच्छी खातिरदारी कर रहा है जो इतना शोर मचा रही हो।मैंने कहा- नीचे किसी ने सुना तो नहीं?तब चाची ने कहा- तेरे चाचा और दादाजी दोनों खाने का डिब्बा लेकर खेत में कब के चले गए. सेक्सी दूध पीनाडगशाई पहुँच कर वसुन्धरा मुझे रास्ता बताती गयी और हम लोग एक घुमावदार और सुनसान सी सड़क के सिरे पर स्थित वसुन्धरा के कॉटेज पहुँच गए.

रानी ने रफ्तार और तेज़ कर दी, उसे अहसास हो गया था कि मैं जल्दी ही झड़ सकता हूँ. देवर भाभी सेक्सी मराठीउन्होंने लंड बाहर निकालने की कोशिश की, पर मैं भी बहुत बड़ा चोदू हूँ, तो मैंने भी भाभी की मुंडी कसके पकड़ ली और उनको सर हटाने ही नहीं दिया.

भार्गव ने कार की सीट पीछे की ओर सीधा कर दिया, तो सीट बड़ी होकर बेड के जैसी हो गयी.नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी: मैंने रानी की चूत से मुंह पूरा गोल खोल के लगा दिया- हरामज़ादे, अपने आप नहीं बोल सकता था अमृत पीने को … अगर मुझे याद न आता तो चली जाती बाथरूम … फिर?मैंने कुछ जवाब नहीं दिया और रानी की अमृत धारा की प्रतीक्षा करने लगा.

बताइये क्या सामान लेकर आना है?भाभी बोली- बच्चा लाना है!यह कहकर भाभी ने मेरी तरफ आंख मार दी.मेरी आँखें कब बन्द हुई, मेरी दोनों टांगें कब राज की कमर पर लिपट गयी.

सेक्सी लड़की दिखाएं - नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी

वसुन्धरा का दायां हाथ उत्तेजना-वश मेरी पीठ पर रह-रह कर कस-कस जाता था और उसके मुंह से सीत्कारों का प्रवाह सतत जारी था.भाभी ने मेरी तरफ वासना भरी निगाहों से देखा और मेरी तरफ अपने रसीले होंठ बढ़ा दिए.

इसके बाद कहने को कुछ ख़ास नहीं है, इन्टर पास करने के बाद अंकल जी की सहायता से मैंने कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया साथ ही मैं पूरी मेहनत से कम्पटीशन की तैयारी करती रही. नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी मैं अपनी पत्नी अंशु की चूत चाट रहा था और उसके यार से गांड मरवा रहा था.

सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र सुर्रर्रर्र … यह आवाज़ सुन के लौड़ा और भी ज़ोरों से अकड़ गया.

नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी?

लहंगा और ढीला हो नहीं सकता था और मैं घूम कर पीछे नहीं जा सकता था क्योंकि मैंने दाएं हाथ में लहंगे के नाड़े के दोनों सिरे थामे हुये थे. मेरी कुछ सहेलियां पढ़ाई और जॉब करने के लिए मेरे शहर में किराये से कमरा लेकर रहती थीं. आधे घंटे की इस जीभ और मुँह से हुई चुदाई से मैं मदहोशी में बस मरने ही वाला था.

मैंने निहारिका से पूछा- तेरी ससुराल में कौन कौन रहता है?निहारिका ने बताया कि उसके सास ससुर साथ ही रहते हैं. उसके बाद हम जब भी मौका और समय मिलता, तो हम दोनों चुदाई कर लिया करते थे. उसने मेरे कूल्हे पर तड़ाक-तड़ाक कर के दो तमाचे जड़ दिए और कुप्पी को गांड के अन्दर डालने लगी.

उन्होंने कहा- अब मेरी चुत चाटो!तो मैं अपने घुटनों के बल बैठ गया, उन्होंने अपने पैर फैलाये और मैं उंगलियों से दीदी की चुत में अपनी जीभ डाल कर चाटने लगा और एक हाथ ऊपर करके दीदी की चूची दबाने लगा. मैंने एक हाथ से अनिल भैया को हटने को कहा और दूसरे हाथ से बेडशीट को कसकर पकड़ लिया. मैंने सीमा को चोदते हुए उसके कान में कहा- देख डार्लिंग, लगता है मुस्कान की गांड फटने वाली है अब.

नाड़ा खोलकर सलवार को कमर से थोड़ा नीचे करके उसकी नाभि पर अपने होंठ फिराने लगा। मेरी इस हरकत पर सिसयाते हुए वो बोली- मैंने कहा था न कि मेरे से दोस्ती करेगा तो तुझे ज्यादा मजा आयेगा और तू है जो किताब पढ़कर अपने लौड़े को मरोड़ रहा था!मेरे मन में अब तक की जो शुभ्रा थी, वो कहीं खो चुकी थी. लेकिन मुझे मजा नहीं आ रहा था, इसलिए मैंने कुप्पी को झटके से बाहर निकाला, तो पेशाब छलकते हुए बाहर आ निकली और थोड़ी बहुत पेशाब, जो उसकी बुर के अन्दर थी, वो भी बाहर आ गयी.

मैं एक साधारण व्यक्ति हूं … मुझे अपने लिए इससे ज्यादा कुछ भी सुनना पसंद नहीं.

इस काम में नम्रता भी मेरी मदद करने लगी, इस तरह से उसकी गांड काफी फैल गयी और छेद नजर आने लगा.

पांच सात मिनट बाद बोली- आप का तो हुआ ही नहीं?मैं बोला- अब तेरा मुंह किस काम आएगा? आज से पहले किसी का पानी पिया है?मंजू बोली- मुझे इसका स्वाद अच्छा नहीं लगता. मेरी चूत टाइट थी मगर जीजा का लंड बासी ककड़ी की तरह यहां वहां चला जाता था. फिर मैं अपने मुँह में लगे हुए लंड रस को उंगली से समेटते हुए अपने बेटे के लंड के माल को चाटने लगी.

इसी बीच कब मेरी साड़ी का पल्लू नीचे सरक गया और कब मेरी 36″ की बड़ी-बड़ी रसीली चूचियां बॉस को दिखने लगी मुझे पता नहीं चला. इस तरह होंठ चूसते हुए उसने अचानक से अपनी जीभ निकाल कर मेरे मुँह डाल दी. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी सलहज की मदभरी जवानी के मजे-2.

वो बोले- अरे पगली, रो क्यूं रही हो? अगर ट्रान्सफर करवाना है तो पजामी तो तुमको मेरे सामने ढीली करनी ही होगी.

वो बोले- अरे यार … तुम तो ऐसे नाटक कर रही हो जैसे आज तक तुमने अभी तक ऐसा कुछ किया ही नहीं, तुम्हारे पति के साथ भी तो तुम ये सब कर ही चुकी हो, तो फिर मेरे सामने एक बार कर लोगी तो क्या फर्क हो जायेगा, चलो इतना मत सोचो, जल्दी से अपनी पजामी को खोलो मेरी जान।रोते रोते मैंने अपनी पजामी को खोलना शुरू कर दिया. इसके बाद वंश ने मुझसे बोला कि मम्मी आप रियली बहुत सुन्दर लग रही हो. ”सोनम बेटा, तू रियली बहुत ही सुन्दर है तन से भी और मन से भी!”सच्ची में अंकल जी?” मैंने खुश होकर कहा.

उन्हीं कहानियों में से एक है रणविजय की बीवी प्रिया की विक्रम के द्वारा चुदाई. वह घुटनों के बल बैठ गई और उसके सिर को पकड़ कर मैंने लंड को उसके मुंह में दे दिया। वो बहुत मजे से मेरे लंड को चूसने लगी. उनके स्पर्श में मर्दानगी थी, पर उस वक्त मुझे तकलीफ ना हो, उसका भी ख्याल वे रख रहे थे.

मैंने पहले भी लिखा है कि वो सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउज ही पहनकर मेरे साथ सोने आ गई थी और जब वो अपनी साड़ी उतार कर सिर्फ ब्लाउज पेटीकोट में मेरे बाजू में लेटने लगी थी.

रितेश जीजू ने चोद-चोद कर उसकी कमसिन जवानी को फूल की तरह खिला दिया था. दस मिनट की चुदाई में मुझे उसके साथ चुदने में मजा आने लगा और मेरा दर्द जाता रहा था.

नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी योनिमार्ग के साथ मेरा दाना भी रगड़ खाने की वजह से मेरी चुत फुरफुराने लगी थी. वो हंसते हुए मुझे धक्का देकर अलग करते हुए बोली- तूने मेरे दूध दबाने की अपनी इच्छा पूरी कर ही ली.

नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी मैं जब तक कुछ कह पाता, तब तक वो अपनी बात बोल कर बलखाती और गांड मटकाती हुई दूर भाग निकली. ”मैंने जैसे ही चूत में लंड डाला, भाबी के कराहने की आवाज निकलने लगी.

ऊँची आवाज़ में सी सी सी हाय हाय करते हुए कुतिया ने ज़ोर से अपने नितम्ब उचकाकर चरम आनंद का पूरा लुत्फ़ लेने की कोशिश की.

भाभी की चूत की कहानी

मेरे तने हुए निप्पलों को अब उन्होंने अपने होंठों में पकड़ लिया और अपना हाथ मेरी चुत पर ले आए. काफ़ी सारा अमृत मुंह में गया और काफ़ी सारा नीचे गुड्डी रानी पर, मेरी छाती पर और बेबी रानी की टांगों पर छलक गया. मजा देने से मतलब पत्नी और प्रेमिका में सेक्स के समय कौन ज्यादा आवाजें या पोजीशन बदल बदल कर अदा दिखा दिखा कर सेक्स करती है.

साथ ही उससे ये भी कह देना कि उस रईस की बीवी यानि कि मेरी बीवी भी तुम्हारे नीचे चुदने के लिए तैयार है. हमने एक दूसरे से अपने मोबाइल नंबर ले लिए थे और अब हम दोनों व्हाट्सैप पर भी एक दूसरे से जुड़ गए थे. बुर खुल चुकी थी लंड बाहर निकालते ही उसमें से खून की धार बाहर आने लगी.

तभी मुझे याद आया कि मेरे दोस्त ने जो मुझे वीडियो दिखाया था, उसमें एक आदमी अपना बड़ा सा लंड चुत में फंसाता है.

मैने उसकी चूची को नीचे बेस से पकड़ा था मगर धीरे-धीरे करके मैं उसकी चूची के शिखर तक पहुँच गया और उसकी पूरी चूची को ही अपनी हथेली मे भींच लिया।एक औसत आकार के सन्तरे से बड़ी चूची नहीं थी मोनी की. खाना खाते समय मैंने खाने की तारीफ की, तो वो बहुत खुश हुई और बोली- थैंक्स सर. आज अंग्रेजन गोरी की चुदाई करने का मौका था जिसके लिये मेरा लौड़ा बुरी तरह से अकड़ा हुआ था.

मैंने उसकी सलवार नीचे करके उसकी पैन्टी को भी नीचे कर दिया और पहली बार उसकी चुत के दर्शन हुए. मेरे इस रवैये से मौसी ने एक बार फिर मेरी तरफ देखा और हल्के से मुस्कुरा दीं. और जैसे ही उसने मेरा अंडरवियर खोल कर अलग किया, वह टूट पड़ी मेरे लौड़े पर और आईसक्रीम की तरह चूसने लगी.

मेरी चीखें निकलने लगी थी- अह्ह अह्ह येस अह्ह येस!और दिलिया चिल्ला रही थी- जोर से चोदो मुझे … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मजा आ गया,सारा भी दिलिया के साथ साथ उसे किस करती हुई घूम रही थी. गुड कुत्ते … तुझे शरीर सुरा का स्वाद चखाऊँगी राजे … धीरे धीरे देखता जा तू.

मैं बोली- मेरी कसम मत खा … चल बता मुझे कहां ले कर चलेगा?वो बोला- मम्मी आप तो ऐसे बोल रही हो, जैसे आप मेरी गर्लफ्रेंड हो. जब सारा उसकी जीभ को अपनी जीभ से चूसती थी तो चूत लण्ड को अंदर खींचने लगती थी जैसे चूत लण्ड को चूस रही हो. कोई बात है क्या?वह रूककर बोली- आपका बिस्तर गन्दा नहीं होगा?मैंने कहा- एक दिन में गन्दा थोड़े होता है.

गोलू को गये हुए 18-20 दिन हुए थे, दिन के ग्यारह बजे थे और मैं ऑफिस जाने के मूड में नहीं था.

मैंने दिलिया को चूमना शुरू किया तो वह गर्म हो मेरी किस का जवाब देने लगी. लेकिन एक बात तो पक्की थी कि वो राधिका नहीं थी, क्योंकि राधिका को मैं अच्छे से पहचानता था. फिर तेरी ऐसी चुदाई करूँगा कि तूने कभी सोचा भी न होगी … और मैं भी वैसा कभी कर नहीं पाया होऊंगा.

गुड्डी रानी चिल्लाई- तू हट परे रंडी … मस्त धक्के लग रहे हैं … बाद में पिलाइयो अमृत. वो कभी कभी अपना लंड पूरा बाहर निकाल कर मेरी चूत को चाट लेता था और उसके तुरंत बाद अपना लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को चोदने लगता था.

एक दिन वो मेरे साथ जा रही थी, तो वो मेरे हाथ में हाथ डाल कर बोली कि कल मम्मी दिन में घर पर नहीं रहेंगी और भाई भी स्कूल जाएगा. अंकल जी के चुम्बन का जवाब मैं भी तत्परता से देने लगी और उनके होंठ चूसने लगी. मन तो ऐसा किया कि पैन्टी को खड़े खड़े ही नीचे कर दूँ और उसका लंड पकड़ कर यहीं अपनी चूत में डाल कर खड़े खड़े ही चुद जाऊं.

अपने नाम का डीजे सॉन्ग बनाने वाला ऐप्स

घर जाने के बाद मैंने अपनी चूत को साफ़ किया और उसके बाद नहा कर मैं सो गयी.

मैंने पूछा- घोष बाबू में से कैसी गंध आती है?दीपिका- सुबह आपके पास भेज दूंगी, सूंघ लेना. मैंने उसको थोड़ी देर इंतज़ार करने को कहा क्योंकि भैया बिल्कुल साइड में थे. यूं लगा कि वसुन्धरा इससे खुश नहीं हुई और वसुन्धरा ने इसका विरोध अपनी कमर, अपनी योनि को मुझसे अच्छी तरह सटा कर जताया.

कहकर उसने अपनी सलवार का नाड़ा खोला और कुर्ती को ऊपर करते हुए अपनी पैन्टी नीचे करके मूतने के लिये बैठ गयी।इतने में ही मेरी नजर उसकी गोल-गोल चिकनी सेक्सी गांड पर पड़ गयी।मूतने के बाद वो उठी और अपने कपड़े को सही करते हुए बोली- ओए बहन चोद. मम्मी इस बात से इतनी परेशान हो गई कि एक रोज वो मुझे एक लेडी साईकोलोजिस्ट डॉक्टर के पास ले गई. हिंदी सेक्सी वीडियो साड़ी वाली भाभी कीइस नंगी कहानी के पहले भागप्यासी चूत और भूखे लंड की कहानी-1में अब तक आपने पढ़ा कि मुझे टेम्पो में जाते समय एक रश्मि नाम की प्यासी औरत मिल गई थी और उसकी चूत का भोसड़ा बनाने की नियत से मैं उसे अपने दोस्त के कमरे पर ले गया और उसके साथ चूमाचाटी में लग गया था.

घर पहुंचकर मम्मी ने दो कप चाय बनाई और मुझे अपने कमरे में बुलाया और बैठा कर बोली- देखो बेटी, आज मैं जो बता रही हूं ध्यान से सुनना. दस मिनट की चुसाई के बाद मेरी चुत तो वैसे ही चिपचिपी हो गयी थी, तो अंकल के लंड को अन्दर बाहर होने में मदद ही हो रही थी.

वो बोले- अभी नहीं साली रंडी, अभी तो मुझे तेरी चूत में लंड भी डालना है. मैरी बोली- मैंने पहली बार किसी इंडियन का डिक (लौड़ा) अपनी चूत में लिया है. सरिता- नहीं नहीं अंकल मैं नहीं चिल्लाऊंगी, पर जरा आराम से अन्दर डालना.

और तुम सिर्फ होटल में बैठी थीं … कुछ और तो नहीं करने गई थी ना!मीता- नहीं, मैं उससे सिर्फ बात करने गई थी … थैंक्स. मैंने उसकी चूत पर एक किस किया और एक झटके में अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया. मगर मैंने अपने मन को समझा लिया कि मैं तो उनकी मदद करने के लिए उनसे बात करना चाहता हूँ.

ऐसे चोदूँगा कि मेरे नाम की दीवानी हो जायेगी।फिर हमारी थोड़ी सी बातचीत हुई जैसे कि ‘मुझे मैसेज क्यों भेजा था?’ और ‘मिलना क्यों चाहते थे?’तो मैंने कहा- तुमसे दोस्ती करना चाहता हूं.

सो मैं अपनी जीभ के साथ-साथ अपनी उंगली को उसकी चूत के अन्दर डालता और निकालता. व्हाट दा फ़क … मेरा मन कह रहा था कि भाभी पूरी की पूरी नंगी खड़ी है मेरे सामने.

अब दो मूसल जैसे लंड उसकी गांड और चूत में घुसे हुए थे।उसकी आहें अब चीख में बदल चुकी थी. मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरे लिये चादर ही किसी बुर से कम नहीं है और मैं शुभ्रा की चूत चाटने के साथ-साथ अपनी कमर उठा-उठाकर लंड को सेट कर रहा था. मेरी हाइट 5 फुट 8 इंच है, मैं शरीर से स्वस्थ हूँ और मेरी बॉडी एथेलीट टाइप है.

मैंने उसके सामने देखा … और हम दोनों एक दूसरे के सामने मुस्कुरा दिए. प्रेशर रिलीज होने की वजह से बहुत अच्छा महसूस हो रहा था और मेरी आंखें अपने आप ही बंद हो गईं. दोस्तो, आपको मेरी भाभी की चुत की सेक्स कहानी पसंद आई या नहीं, प्लीज़ कमेंट जरूर कीजिए.

नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी अब तक हम दोनों ही समझ चुके थे कि मैं उसको सेक्स की मौज मस्ती के लिए अपना घर उसको दे रहा हूं. यह थी मेरा पहली बार किसी पराये मर्द के साथ सम्भोग की दास्ताँ!पराये मर्द के साथ सम्भोग के समय मुझे जो महसूस हुआ.

राजपूत बाईसा

वो सुपाड़े के खोल को खोलते हुए मेरे मुलायम सुपाड़े पर अपनी जीभ फेरने लगी. घर आकर हम सभी ने थोड़ी देर बात की और अपने अपने कमरे में सोने के लिए चले गए. वो चिल्लाने को हुई तो मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ जमा दिए, जिससे उसकी आवाज दब गई.

दूसरे दिन पिंकी की सहेली नीता आई और उसने नितिन को छत पर अंडरवियर में कसरत करते देखा, तो उसे देखती ही रह गई. मैंने ज्यादा देर ना करते हुए अपने लंड को पीछे से उसकी चूत में डाल दिया और धक्के देने लगा. देसी जंगल में सेक्सीमैंने बिना एक सेकंड की देरी करते हुए संजना के होंठों को चूम लिया … पर तब तक भी उसने मेरा लंड अपने हाथों से नहीं छोड़ा था और वह मेरा लंड हिला रही थी.

फिर मैनें ब्लू फिल्म की तरह जीभ और उंगली दोनों से भाभी की चूत को चोदना शुरू किया.

एक दो मिनट तक उसके चूचों को अपने मुंह में भर कर उनका आनंद रस लेता रहा. मैं बोली- हाँ मेरे राजा … आज तू मेरा पूरा मज़ा ले ले … मैं तेरे बिस्तर की रानी हूँ.

इसके बाद वंश ने मुझसे बोला कि मम्मी आप रियली बहुत सुन्दर लग रही हो. जब मैंने चाची को पहली बार चोदा था तो उसके बाद से मैं भी काफी बोल्ड हो गया था. मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और पिछले कई साल से अन्तर्वासना पर प्रकाशित कहानियां पढ़ रहा हूँ.

मेरे लंड को अपने हाथ में दबोचते हुए बोली- बहनचोद साले, इतना मजा आ रहा था मम्मी पापा की चुदाई और मेरी गांड में तेरा लंड रगड़ने में … लेकिन तू बहनचोद बीच में छोड़कर मूतने चला आया?मैं लंड छुड़ाते हुए बोला- पेशाब बहुत तेज आ रही थी इसलिये चला आया। और ये बता साली रंडी तू कब मेरे पीछे-पीछे चली आयी?उसको दीवार से टिकाकर उसके कपड़े के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाते हुए मैंने पूछा.

यूं लगा कि वसुन्धरा इससे खुश नहीं हुई और वसुन्धरा ने इसका विरोध अपनी कमर, अपनी योनि को मुझसे अच्छी तरह सटा कर जताया. मैं थोड़ी देर गुस्सा से अपनी चुत में उंगली करती रही और अपने पर्स से सिगरेट निकाल कर खुद को शांत करती रही. जब दीपाली का दर्द कम हुआ, तब उसने अपनी गांड उठा कर आगे बढ़ने का इशारा दिया.

सेक्सी वीडियो मराठी पिक्चरअगर चूत से बच्चियां निकालतीं तो शायद चूत का चौबारा हो जाता लेकिन ऑपरेशन के कारण चूत की कसावट ज्यों की त्यों सलामत रही. नम्रता अब तेज गति के साथ धक्के लगाती जा रही थी, जितनी तेज वो धक्के लगा रही थी, उतना ही मुझे मजा आ रहा था.

सेक्स मोबाइल नंबर

जब लौड़ा चाची की चूत के मुंह पर अच्छी तरह से लग गया तो चाची ने अपना वजन मेरे लंड पर दे दिया और उनकी चिकनी चूत में मेरा लौड़ा उतर गया, या यूं कहें कि उनकी चूत मेरे लौड़े पर बैठती चली गयी. उसे मेरे मुँह से एडल्ट जोक्स सुनकर बड़ा अच्छा लगता था और वो मुझे धौल जमाते हुए मजा करती रहती थी. मुझे औरतों का आत्म सम्मान कुचल कर उन्हें चोदने में बहुत मजा आता है.

मैंने बोला- दोनों को एक साथ में चोदूंगा … चुदेगी?वो हंस दी और उसने हामी भर दी. मैं तुरंत वापस आ गई और डर कर सोफे में बैठ कर बॉस को आवाज लगाई- सर चाय बन गयी है. पर एक दो कदम आगे गयी थी कि नीचे पड़ी स्कर्ट में मेरा पैर फंसा और मैं बेड पर गिर गई.

उसने मेरी छाती की घुंडियों चूस चूस कर लाल कर दिया और मेरे निप्पलों पर बाईट करके निशान भी डाल दिए. अभी तक उसकी चुदाई करते हुए मुझे बीस मिनट हो गए थे और अब मैं झड़ने वाला था. मनीषा ने मेरे लंड को सहलाना शुरू कर दिया लेकिन वो बार-बार मनोज और जागृति की तरफ देख रही थी.

उसके मुंह से एक शब्द ना निकला।मगर मैं ये सब छोड़ कर उसके रूप को निहारने लगा. मैंने अभी मेरी पढ़ाई खत्म की है और नौकरी की तलाश में इंटरव्यू आदि दे रहा हूँ.

अंकल ने अपना लंड दो तीन बार चुत के दरार पर रगड़ कर अंदाजा लिया- नीतू रानी … तैयार हो ना?तैयार … किस चीज … के लिए … आहआ आहह.

उसकी एक लम्बी सी सिसकारी ‘सश्स… ससीईइ’ निकल गयी और मेरी बांहों में सिमटती गयी. अंग्रेजों की सेक्सी फिल्म नंगीमैंने पूछा- क्यों भला? क्या आपने ब्रा में साइज़ टैग नहीं देखा था?उन्होंने जिद सी करते हुए कहा- मैंने ध्यान नहीं दिया था … तुम बताओ न प्लीज. सेक्सी विडियो रेपये द्रव्य एक तरह से महकता हुआ सेक्सवर्धक लेप होता है, जो बहुत ही महंगा आता है. मेरे पास पहुंचते ही उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और मुझे अपने आगोश में ले लिया.

धड़ाम … धड़ाम!!!! इतनी ज़ोर की आवाज़ आयी कि जैसे बिजली सामने सड़क पर ही गिरी हो.

एक तो चाची की जवानी मस्त और ऊपर से वे बड़े ही चुस्त कपड़े पहन कर अपने जिस्म की नुमाइश कुछ इस तरह से करती थीं कि उनको देखने वाला आदमी अपने लंड को हिलाए बिना रह ही नहीं पाता था. मेरे सिर में साली जी अपनी अँगुलियों से कंघी सी कर रहीं थीं और मैं लंड को पूरे वेग से उनकी चूत में से बाहर तक निकाल निकाल का फिर पूरे दम से घुसा घुसा कर अन्दर बाहर कर रहा था. वो बोले- कल से ही आ जाओ!मैं खुश होकर बोली- जी जरूर!और फिर मैं घर आ गई, घर में भी सब लोग बहुत खुश थे.

मुस्कान की चूत को चोदता हुआ सतीश बोला- आजा तू भी देख ले इसे चोद कर … तुझे खुद पता चल जायेगा यार. थोड़ी देर बाद उनकी चूड़ियों और पायलों की झनकार मुझे सुनाई देने लगी. रमेश की बीवी रति उसको गांड नहीं देती थी जिसकी सारी कसर उसने रिया की गांड से पूरी की.

ब्लू पिक्चर खुला

वसुन्धरा जी! आपने मेरे सवाल का जवाब नहीं दिया?”इतनी अच्छी शाम, इतना अच्छा साथ … आप कोई और बात कीजिये न प्लीज़! ” वसुन्धरा का मन नहीं था उस टॉपिक पर बात करने को और ऐसी बातों में ज़ोर-ज़बरदस्ती नहीं चलती. मैं लगातार उसकी दोनों चूचियों और उनके नर्म गुलाबी निप्पलों को अपने हाथों से मसले जा रहा था. मैं आपसे सिर्फ इतना चाहती हूं कि आप किसी भी तरह मेरा ट्रान्सफर यहां से करवा दीजिये.

एक बार तो मैंने उनको बख्श दिया और फिर जब वो नहीं मानी तो मैंने उन पर पानी डाल दिया।चाची के सारे कपड़े गीले हो गये.

मैं उनके पीछे पीछे … वो आगे आगे … भागते भागते कभी रूम में, कभी हॉल में … फाइनली भाभी अपने रूम का दरवाजा बन्द ही कर रही थीं कि मैंने उन्हें धकेल कर पकड़ लिया.

मेरा लंड पहली बार किसी औरत के मुंह में गया था इसलिए मैं जल्दी ही अपना संयम खो बैठा और मैंने भाभी के मुंह में वीर्य निकाल दिया. ऐसी धमाकेदार चुदाई और चरम आनंद प्राप्ति के बाद नींद आ जाना स्वाभाविक ही है. सेक्सी फुल चुदाई वाली वीडियोफिर रात को निहारिका का फोन आया और मुझे निहारिका की चुदाई की आवाज़ साफ साफ सुनाई दे रही थीं.

जैसे ही मैंने भाभी की गांड में लंड को अंदर धकेला भाभी की चीख निकल गई. थोड़ी देर में मेरे लंड ने एक जोर से वीर्य की पिचकारी निकाली और सीधी बाथरूम की सामने की दीवार पर गई. तभी वो बोली- लाला, लंड को अन्दर बाहर करो।बस फिर क्या था, धीरे-धीरे लंड अन्दर बाहर होने लगा और फिर अपने ही आप अन्दर बाहर होने में स्पीड आ गयी। बहन की चूत और मेरे लंड के मिलन से पैदा होने वाली मधुर आवाज- फच-फच छप की ध्वनि आना शुरू हो गयी.

मेरी गांड से बदबू आने लगी, चूंकि गांड चुदाई में ये सब नार्मल सी बात होती है. मेरी कार सेक्स पोर्न स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी सहेली के दो दोस्तों से चलती कार में अपनी चूत की चुदाई करवाई.

उसने अपने पैरों की कैंची बनाकर मेरी कमर में फंसा दी और अपने को एडजस्ट करते हुए लंड को अपनी चूत के अन्दर लेकर मेरे होंठों को चूसते हुए धक्के लगाने लगी.

कुछ ही देर बाद हम दोनों लोग की चुदाई से पूरा रूम में आवाजें गूँज रही थीं. उन्होंने मेरे दूधों को जोर से चूसना शुरू कर दिया और मैं तड़पने लगी. दस मिनट में ही वेटर खाना ले आया जो उसने टेबल पर सजा दिया और सलाम करके चला गया.

सेक्सी भाषा में चूंकि रंजना के साथ संभोग करने का यह मेरा पहला अनुभव था इसलिए लिंग चुसवाने और योनि चाटने का मेरा मन नहीं किया और न ही मुझे उसके आनंद के बारे में कोई ज्ञान था. ”ओह … और आपका खाना कौन बनाएगा?” मैंने पूछाकोई पक्का नहीं बेटा, होटल में खा लूंगा या फिर कभी कभी खुद भी बना लूंगा; थोड़ा बहुत आता है मुझे!” अंकल जी ने कहा.

अंकल जी ने मेरा निचला होंठ चूसना शुरू कर दिया और मेरे दोनों स्तन दबोच लिए और मसलने लगे. उसने अपनी ड्रेस न पहन कर वार्डरोब से मेरी एक शर्ट पहन ली थी और नीचे सिर्फ पैंटी में थी. फिर मेरी चूत को नाईटी के ऊपर ही सहलाते हुए मेरे मम्मों से खेलने लगे और फिर मुझे अपने से चिपकाकर मुझे सूंघने लगे.

देव सेक्स वीडियो

यह बात उस समय की है जब मैं अपनी मौसी के घर से अपनी बहन के साथ ट्रेन में बिहार से अपने दिल्ली वाले घर पर लौट कर आ रहा था. मंजू जब घर से फरार हुई थी तो उस घटना का मैंने गोपनीय रूप से पता लगाया था. चाची ने कहा- रुक … लंड पर कंडोम चढ़ा ले, उससे ये आसानी से मेरी गांड में जायेगा।फिर मैंने नीचे से कंडोम लाकर लंड पर चढ़ा लिया और फिर चाची की पीठ पर लेटकर लंड गांड में रख कर धक्के से आधा घुसा दिया.

फिर आधे घंटे बाद उसने देखा 4 बजने वाले हैं, तो वो उठा और मीरा को चूम कर कपड़े पहनने लगा. मैं थॉमस से अपनी चुत को कुछ मिनट तक चटवाने के बाद अब बस झड़ने वाली थी.

पर वो अपनी गांड मटका-मटका कर मुझे चूत और गांड चाटने के लिए इशारा कर रही थी.

मैं फिर बोला- तुम्हें पता है तुम्हारी चूत तुम्हें यहां तक ले आई है. ये सुन कर सहेली के पापा ने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और मैं मादक सिसकारियां भरने लगी. फिर मैंने आवाज़ लगाने के लिए जैसे ही मुँह खोला, वैसे ही अमित मेरे मुँह को दबाकर मेरे से रिक्वेस्ट करने लगा कि प्लीज दीदी ऐसा मत करो.

दो-तीन धक्कों के बाद ही मेरा लंड और लंड के साथ साथ पूरा शरीर जैसे अकड़ने लगा. नम्रता आयी और उसने लंड को अपनी चूत के अन्दर लेकर अपने कूल्हे को मेरी जांघों पर टिका दिया. नम्रता ने अपनी बात खत्म की, तो मैं नम्रता से बोला- यार तुमने जो कहानी सुनाई है, उसको सुनते हुए मैं अपने लंड को भींच रहा था, मेरा रस निकलने वाला है, पीने का इरादा है क्या?पर यह क्या, तभी घंटी बज गयी और हम दोनों को वापिस अपने अपने क्लास में जाना पड़ा.

मैं यूनिवर्सिटी से दो पीरियड छोड़कर 10:30 बजे निकल लिया और ठीक 11:00 बजे घर पर पहुंच गया.

नंगी सेक्सी बीएफ हिंदी: फिर मैं फ्रेश हुई और एक शॉर्ट गाउन निकाल कर उससे बोली- वंश मैं ये पहन लूँ?वंश बोला- मम्मी, आप तो लेडी की जगह गर्ल बन के रहने लगी हो. वसुन्धरा का अपने माँ-बाप से इतर रहना, उसके व्यक्तित्व में समायी तमाम बत्तमीज़ी, दबंगई, ख़ुद-पसंदगी और उसके तनहाई-पसंद होने का और मेरे प्रति अनबूझे अनुराग़ का और अभी तक अविवाहित होने का कारण उसके पिता जी का उसकी मुझसे शादी के ख़िलाफ़ लिया गया एक फ़ैसला ही था.

लंड का सारा माल निचोड़कर पीने के बाद भी चाची ने मेरा लंड चूसना नहीं छोड़ा, इसका नतीजा ये हुआ कि मेरा जवान लंड फिर से उनके मुँह की गर्मी पाकर खड़ा हो गया. फिर वो मुझे अलग करके अपने कपड़े पहनने लगी और अपनी सलवार का नाड़ा बांधने लगी. उसने मीरा से कहा- काश हम हर रोज ऐसे ही जम के चुदाई कर पाते तो कितना मज़ा आता.

कुछ ही देर में भाभी अपनी चूत को सहलाने लगी और बोली- बस मनीष, अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है.

आप ऐसे अचानक आ गए?वो बोला- अच्छा हुआ साली रंडी तूने सूसू नहीं किया. मेरे पैर राज की कमर से उतर बिस्तर पर इस तरह गिर पड़े जैसे पेड़ से कोई शाखा टूट गयी हो. मैंने फोन उठाकर देखा और बात की तो आशीष बोला- कहां चली गई थी तुम? चार-पांच मिनट से तुम्हारी आवाज नहीं आ रही थी.