बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो

छवि स्रोत,ভোজপুরী ক্স

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी में बफ हद: बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो, मैंने आँख मारी और कहा- ओ हैलो … किधर नजर है?वो सकपका गया और झेंप कर बोला- आप बहुत सेक्सी लग रही हो.

पोर्न vdo

मैं बहुत घबराने लगी तो जगत उन गाड़ी वालों को इशारा करने लगे कि गाड़ी आगे बढ़ाओ. हिजड़ा सेक्स वीडियोवैसे तो यहां लोगों को एक-दूसरे के सुख-दुख से ज्यादा कुछ लेना देना नहीं होता मगर एक-दूसरे की टांग खींचने में दिल्ली के लोग शायद सबसे आगे होंगे.

फिर मैंने अपना हाथ थोड़ा सा साइड में कर के नीचे से उसके टॉप के अन्दर ले गया और उसकी ब्रा के ऊपर से उसकी चुचियां दबाने लगा. एक्स एक्स हिंदी देसीउन्होंने मुझे फिर गर्म दूध पिलाया और प्यार से मुझे अपने घर वापस भेज दिया.

अभी तक कुत्ते का लिंग थोड़ा बाहर था, पर अब उसका लिंग पूरी तरह बाहर आकर लाल दिख रहा था.बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो: एक दिन जब साहिल स्कूल आया तो उसे देखते ही मेरी बॉडी में करंट दौड़ने लगा.

वहाँ पहुँचा तो मैंने देखा कि मेरी बुआ की बेटी रिंकी भी वहाँ आई हुई थी.उसकी इन गर्म बातों को सुनकर मैं अपनी सहेली से बोली- मुझे भी किसी से चुदवाने का मन करता है.

देसी मसाज - बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो

उसकी बुर से पानी निकलने लगा था और चेहरे पर पसीना आने लगा था, गले से घुटी-घुटी आह निकलने लगी थी.हम दोनों एक दूसरे के इस राज को राज ही बने रहने देंगे और अपनी आग को भी बुझा लेंगे.

मदन- सब ठीक है ना शंकर सर, ओ हो आपको तो बहुत गर्मी लग रही है … लाइए मैं आपका कोट उतार देता हूँ. बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो उसके बाद पंकज ने मुझे फिर से नीचे गिरा लिया और मेरे होंठों को चूसने लगा.

तब उसने मुझसे कहा- भाई, क्या मैं आज तेरे साथ तेरे रूम पर चल सकती हूँ क्योंकि कल सुबह तो तू अपने घर चला जाएगा और पता नहीं उसके बाद हम दोनों फिर कब बात कर पाएंगे.

बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो?

वह आदमी बोला- तुम अगर मना करोगी, तो मैं चलकर सबको तुम्हारी पूरी करामात बता दूंगा कि तुमने झाड़ी के पीछे क्या क्या किया है. ’वो ऐसी बातें करता, तब मैं कभी उसकी गोद में बैठ कर अपनी चुचियां दबवा रही होती और कभी उसका लंड चूस रही होती. फ्रेंड्स मैंने इससे कभी पहले अपनी आपबीती लिखी नहीं है, तो इखने में हुई ग़लतियों को नज़रअंदाज़ कर दीजिएगा.

वो किचन से एक खीरा लायी और मुँह में लेकर ऐसे चूसने लगी जैसे लंड चूस रही हो. फिर हम अलग हुए तो उन्होंने कहा- अब बताओ न बाथरूम में क्या हिलाते हो?मैंने कहा- हां भाभी, सच में मैं आपके मम्मों और उभरी हुई गांड को देखकर एकदम से गरमा जाता हूँ और बाथरूम में जाकर मुठ मार कर अपने लंड को शांत करता हूँ. मैं उसके चूतड़ों को अपने हाथों से पकड़ कर उसका लंड अपनी चूत में धकेलने लगी.

उसके 2 बच्चे भी हैं मेरे साले को शराब पीने की बहुत ज्यादा आदत है, जिस कारण घर में क्लेश होता है. मुझे गाड़ी चलाने का बहुत अधिक तजुर्बा तो नहीं था, लेकिन मैं कोई सी भी गाड़ी चला सकता था. मगर मैं उसे कुछ भी नहीं कहती, बल्कि अब तो मैं उसे जलाने के लिए उसके सामने झुक कर ज्यादा काम करती.

वह थोड़ी सी आगे बढ़ी और उसने खड़े हुए ही अपने घुटने मोड़कर मेरे लंड को अपनी चूत में डाल लिया और खुद ही चुदने लगी. उसकी हंसी तब भी बंद नहीं हुई, पर वह अपनी टांगों को सिकोड़ कर बुर को छिपाने की कोशिश करने लगी.

मेरा लंड उत्तेजना के कारण ऊपर नीचे हो रहा था।फिर मैंने उसका हाथ पकड़ कर लंड पर रख दिया और धीरे से आगे पीछे करने लगा और लंड अपनी फुल साइज़ में खड़ा था और दर्द कर रहा था.

वो बोला- अब नहीं रुका जाता, मैं बहुत दिनों से इस चूत का दीवाना बना हुआ हूँ, आज मुझे यह नसीब हुई है.

वह थोड़ी सी आगे बढ़ी और उसने खड़े हुए ही अपने घुटने मोड़कर मेरे लंड को अपनी चूत में डाल लिया और खुद ही चुदने लगी. पहले तो मैं हिचकिचाता रहा, पर उसकी घुड़की से मैं उसके सामने झुक गया और उसे अपने सेक्स सम्बन्धों के बारे में बताने लगा. भाभी एकदम पलट कर मुझसे लिपट गई और बोली- अब शुरू हो ही गए हो तो सामने से भी उठा लो.

सरदारजी का लिंग अभी तक मेरी योनि में था और मुझे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे कोई साँप दम तोड़ता है, वैसे ही अकड़न ढीली कर रहा. फ़िर एकदम से गीता ने वाणी की एक चुची को मुँह में ले लिया और चूसने लगी. उसके बाद रिशु ने जब दूसरा धक्का मारा तो मिशिका की चूत में पूरा का पूरा लंड उतर गया.

उसके मुंह से निकल गया- हाय राम, कितना बड़ा है ये!मेरा लंड पूरा का पूरा तना हुआ था जो कि चड्डी में से बाहर आने को आतुर था.

मैं गले से मैक्सी पकड़ कर फाड़ने लगा, तो वो बोलीं- ये क्या कर रहा है?मैंने भाभी की बात का जबाव न देते हुए उनको किस किया और भाभी की पूरी मैक्सी फाड़ दी. सभी लंड धारकों को टाइम पर चूत और सभी चुतवालियों को समय पर लंड मिल रहा होगा. जब मैंने अपनी जुबान उसकी चूत के आसपास फेरी, तो मुझे उसकी गीली चूत का कुछ अजीब सा स्वाद लगा लेकिन मैं मज़े से पागल हो रहा था.

मेरी चूत साफ करने के बाद डेविड उठकर कपड़े पहनने लगा, तो निक ने भी मेरी गांड से अपना लंड निकालकर मेरी चूत में घुसेड़ दिया और धक्के मारने लगा. वो मुझे अजीब नजरों से देख रही थीं … और शायद यहां से रूम में जाने का सोच रही थीं. तभी पटेल का दोस्त बोला- तू भाग … नहीं तो मरेंगे … इस बंध्या को मां चुदाने दे … अपन इसे बाद में कभी चोद लेंगे.

मैं एक दिन मामा के घर गया, तो मामी देख कर मुस्कुराईं और बोलीं- तुम्हें तो हमारी याद ही नहीं आती?मैं बोला- मामी आप कैसी बात कर रही हो, मैं सच में आप लोगों को बहुत मिस करता हूँ.

खैर, सिगरेट खत्म हुई, मैंने भी स्कूटर स्टार्ट किया और अपने कमरे पर चला गया. मैं अपने बॉयफ्रेंड के लंड पर कूदने लगी और वो मजे से मेरी चूत में अपना लंड डाल कर सेक्स का मजा ले रहा था.

बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो इधर अभी तक काम करते-करते मेरी जोरू नीना बरामदे और आंगन के बीच आ-जा रही थी. महेश भी सामने से आ गया और मेरे सीने के ऊपर चढ़कर उसने अपनी टांगें मेरे दोनों फैलाकर मेरे दूधों को पकड़ लिया.

बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो इसके साथ ही उसे नीना के चेहरे पर कातिल मुस्कान दिखाई पड़ी तो उसने एक झटके में ब्रा का हुक खोल दिया, जिससे दोनों आजाद कबूतर हवा में उड़ने लगे. उनके मुँह से ऐसी बातें सुन कर मुझे शरम आ गयी, तो मैंने सर झुका लिया.

दोस्तो, मेरा नाम पायल जैन है। अन्तर्वासना पर भेजी गई एवं प्रकाशित होने वाली यह मेरी तीसरी स्टोरी है और मैं उम्मीद करती हूँ कि यह आप सभी को बहुत पसंद आएगी।मेरी पहली कहानी थीजोधपुर की भाभी संग पहला लेस्बीयन सैक्सतथा दूसरी कहानीलेस्बियन सेक्स: भाभी और ननद का प्यारजिसे तमाम पाठकों ने पसंद किया था.

সেক্সি ফিল্ম ভিডিও

उसका लंड सीधे मेरी बच्चेदानी को छू रहा था, जो मुझे गड़ता सा महसूस हो रहा था. जब हेमा भाभी चली गई तो लता भाभी बोली- राज! आज तो इसे पक्का शक हो गया है. मैं जब 10 बजे आफिस गया, तो मैंने मैसेज देख लिया, पर रिप्लाई नहीं दिया.

इसके बाद हमारी कुछ फॉर्मल बातें हुईं और एक दूसरे को बाय बोल कर मैं अपने काम में लग गया. मैं तो जन्नत के मजे ले रहा था। फिर मैंने उसका सिर पकड़कर लंड को उसके मुँह में आगे पीछे करना शुरू कर दिया. मैंने आँखों पर हाथ रख लिया और आँखें खोलकर देखने की कोशिश की पर अंधेरे की वजह से कुछ ठीक से दिखा नहीं.

अन्दर पार्क करने के बाद वो कार से उतरी और मुझसे बोली- कार इधर ही खड़ी रहने दो और तुम अन्दर आओ.

मैं भी एकता की चुत पर थूक लगा कर अपना औजार को छेद के अन्दर डालने लगा. फिल्म खत्म हुई और सब निकलने लगे मैंने उससे ‘आई लव यू …’ बोला और किस करने को पूछा, पर उसने इस बार फिर मेरा दिल तोड़ दिया. मैं खुश हो गया … इसलिए नहीं कि मुझे लंड मिलने वाला था बल्कि इसलिए कि मेरा रात में रुकने का जुगाड़ हो गया था.

बस एक आधा मिनट की पुल्ल पुल्ल वाली चुदाई करके प्रीतम लुढ़क गए और सोने के लिए लेट गए. इतने में तो 4-5 घराती तरफ से लोग गए और बारातियों को बोले कि लड़कियों को क्यों छेड़ते हो, उन लोगों से बातचीत भी हुई. प्रिया ने भी ऐसे किया और उसने मेरी जींस में से मेरी निक्कर में हाथ डाल कर मेरे नितंबों को ज़ोर ज़ोर से मसलना चालू कर दिया.

उसके बाद मैंने जीभ के आगे वाले भाग को नुकीला बनाकर उसकी चूत के अंदर घुसेड़ दिया ताकि मेरी गर्म जीभ उसकी गर्म चूत के अंदर तक जा सके. मेरा संतुलन मेरे हाथ भाभी की कोहनियों को पकड़ कर संभला और मेरे लंड में थोड़ा दर्द भी हुआ.

पर न जाने क्यों अब भी मुझे एक अलग सी चाहत रहती है … मेरी वो चाहत है लंड की चाहत … जी हां फ्रेंड्स, मुझे लंड लेने की बड़ी चाहत रहती है. इन्हीं सब सवालों की उधेड़बुन और ऑफिस के कामों में मैं लगा रहा … और शाम को काम खत्म करने के बाद घर आ गया. इस ठहाके की भनक माधुरी और प्रशांत को भी लग चुकी थी और वे दोनों खिलखिलाते हुए भाग गए.

उसने अपनी ज़ुबान से मेरे होंठों पे और आस पास लगाई और मेरे मुँह में लगी अपनी मनी को चाटना शुरू कर दिया.

मैंने बाहर निकले हुए दीदी के चूतड़ मसले और पूछा- इनकी क्या साईज है?दीदी ने कहा- क्या इनकी इनकी कह रहा है … चूतड़ बोल न, चूतड़ अच्छा शब्द है … मेरे चूतड़ की साईज 44 इंच की है. एकता ने बोला- यार, इतना कड़क और सॉलिड लंड है … और फिर ये गांड भी बहुत अच्छी मारता है. आखिर शिखा ने ऐसे बिहेव क्यों किया आज?रात को जब दस बजे का टाइम हो गया तो दीदी की आवाज आई कि खाना रेडी हो गया है.

उसकी सिसकरियां बढ़ रही थीं- हाँ आमिर … जोर जोर से करो, ऐसे ही करते जाओ, बहुत अच्छा लग रहा है, प्लीज़ रुकना नहीं. वहां एक रात अचानक एक महिला से मिला और रात उसके साथ पहली रात बिताने के बाद उसके कहने पर मैं अगले दिन उसके घर पर रुकने चला गया.

जब बार-बार आपको कोई बात परेशान करने लगे और आपको उसका कुछ समाधान न मिले तो फिर वह बात आपके अंदर घर कर जाती है. उसने ऋतु के बाल पकड़ कर उसके मुँह को अपनी लंड की तरफ घुमा दिया और बोला- चल रांड लंड चूस … आज तुझे ज़न्नत का मज़ा दिलाता हूँ … रंडी साली … बहुत गांड मटका मटका कर चलती है … भैन की लौड़ी … आज तेरी गांड की सील तोडूंगा. रात के 1 बजे का समय हो गया था, मैं अपने कपड़े पहन कर लता भाभी के ड्राइंग रूम वाले दरवाजे से निकल कर चुपचाप अपने कमरे में चला गया.

बंगाली गेम

तभी वहां से मौसी निकल कर बोलीं- भाई बहन में क्या खुसुर फुसुर चल रही है.

उसके रूम मेट की कॉल आई और वो उसको साथ में पकड़ कर किसी तरह उसके फ्लैट पर पहुंच गई. भाभी कहने लगी- अब मैं तुमसे एक बात पूछती हूं, सच-सच बताना, झूठ नहीं बोलना है … क्या तुमने लता को चोद लिया है?”मैं पहले तो कुछ नहीं बोला और चुप रहा लेकिन भाभी ने मुझसे दोबारा पूछा- देखो राज! मुझसे झूठ नहीं बोलना, मैं अपना सब कुछ आज तुम्हें सौंप रही हूँ. इंदु स्वेटर पहन कर मेरे पास आ गयी मैंने पूछा- कैसा है?वो बोली- थोड़ा कस रहा है.

जगत अंकल बोले- राज, अब इधर ध्यान दे … और बता पहले कहां चलना है?मम्मी बोलीं- राज जीजा, सबसे पहले दुकान में ही चलो, पहले खरीददारी कर लेते हैं … फिर ही कुछ और सोचना या और कहीं चलना … नहीं तो दुकान बंद हो जाएगी. आज तक जितनी बार मैं चुदी, उसमें से इस चुदाई से मुझे फुल सेटिस्फेक्शन मिला, इसलिए मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. कन्नड बीपी सेक्सीउसे पता नहीं था कि लंड जब पहली बार चूत जाता है तो चूत में बहुत दर्द होता है, सील फट जाती है.

उसके हाथ उसकी चूत से हट चुके थे और अब मेरा लंड उसकी चूत पर मुँह मारने लगा था. आंटी ने मुझे देखा, तो वो मेरे पास आई और बोलने लगी कि मेरी एक हेल्प करोगे अजय?मैंने बोला- हां बताओ आंटी.

नीचे से उन्होंने अपने हाथ से लंड को पकड़ कर मेरी चूत के छेद पर रख दिया और टेबल की तरफ जैसे ही धक्का दिया उनका लंड गच्च से अंदर चला गया. मैंने दरवाज़े की आड़ ले कर उनसे पूछा- क्या हुआ जी?तो उन्होंने कहा- मुझे जोर की बाथरूम लगी है … और मेरे हब्बी नीचे हैं. वह जैसे मेरे करीब आया, मैंने झपट कर उसके काले लंड को पकड़ लिया और सुपारे पर ज़ुबान फेर दी.

उसने तुरंत मेरे पहले से ही खड़े लंड को हाथ में ले कर सहलाना शुरू कर दिया. मिसेज रॉय के ऐसा करते ही कुछ फ्रेंड्स को बड़ा अजीब सा लगा और वे मेरी तरफ आश्चर्य से देखने लगीं. यह तो कयामत माल है, तुमने जो फोटो दिखाया था, ये तो उससे लाख गुना ज्यादा मस्त माल है.

‘आप थके होंगे, थोड़ा आराम करेंगे या पहले चाय बना दूं?’वो मुस्कुराया- थोड़ी शराब पियूँगा और नहाऊंगा.

पर मैं क्या कर सकती थी … कभी वो मेरे चेहरे पर अपने हाथ से हल्के से चांटा मारता, कभी मुझे जकड़ कर चूसने लगता. उसके लिंग ने एक तेज़ धार छोड़ दी, जो सीधा मेरी बच्चेदानी से जा टकराई.

तब भैया बोले कि देखो तुम तौलिया तो लाई हो ना, तो एक काम करो … अन्दर ब्रा और पेंटी के ऊपर तौलिया लपेट कर अन्दर आ जा. जब वो लंड निकाल कर मेरी चूत चूसने लगता तो मैं पीछे हो कर उसका लंड भी चूस लेती थी. मैं उसके पीछे खड़ा हुआ और उसकी दोनों चुचियों को मसलते हुए उसे नहलाने लगा.

मैंने उसे एक धौल जमाते हुए कहा- नहीं बे … उसकी नीचे की उसमें शॉट मारने की बात कर रहा हूँ. यहां तो वैसे ही तरसी हुई चूत में आग लगी हुई थी। डर लगा कि नया लड़का है, कहीं उतावलेपन में फिर जल्दी न झड़ जाये तो यह सोच कर उठ गयी और नीचे हो कर उसके लंड को चूत से सटाया और उस पर बैठती चली गयी। एकदम गीली चूत थी और लंड भी गीला. मैं माफी चाहता हूँ, थोड़ा बिज़ी था, इसलिए आप सबसे मुखातिब होने में जरा देरी से आ पाया.

बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो शायद मेरी झिल्ली फट चुकी थी और इधर मेरी बहन की चूत से भी खून बह रहा था. मेरी जो क्लोज सहेलियां थीं, उन्होंने मुझसे कहा- सच बता वन्द्या, मौसी के यहां तूने बहुत ऐश की क्या … कोई ब्वॉयफ्रेंड बना लिया और उसे सब कुछ करने की इजाजत दे दी, क्योंकि तेरे दूधों के साइज बड़े हो गए हैं और पीछे गांड में भी बहुत उठान आ गया, जो अलग ही दिख रहा है.

सेक्सी फिल्म दिखाओ वीडियो में

इन सब के बीच में उसके रसीले होंठों को भी चूमता, कभी उसकी अर्धविकसित चूचियों को मुँह में भर कर चूसने लगता. मैं उसको मना करने लगी कि कोई आ जाएगा, लेकिन वो मेरे होंठों को चूमे ही जा रहा था और मेरे बूब्स को मसल रहा था. अब तो मैं दिखने भी वैसी ही लगी हूं कि किसी भी मर्द में खुद को कंट्रोल करने की हिम्मत शायद ही रह जाती हो.

मुझसे रहा भी नहीं जा रहा था तो मैंने कुर्सी में बैठी रंजना दीदी की गर्दन थोड़ा सा घुमा के उनके होंठों को अपने होंठों से चूमने लगी. कुछ महीने बाद मुंबई से एक साक्षात्कार का प्रस्ताव आया और कुछ ही दिन बाद मुझे चुन लिया गया. चाची चुदाई वीडियोइस दौरान मेरा बायाँ हाथ उसके बालों पे था, जिससे मैंने उसकी गर्दन को पीछे को खींची हुई थी.

मिशिका ने उठकर रिशु को अपने ऊपर खींच लिया और उसके होंठों को चूसने लगी.

यह कहकर उसने लंड फिर निकाला और मैं नीचे लेट गया और वह मेरे ऊपर चढ़ गयी. वह जैसे मेरे करीब आया, मैंने झपट कर उसके काले लंड को पकड़ लिया और सुपारे पर ज़ुबान फेर दी.

हालांकि उसकी और मेरी उम्र में 8-9 साल का अंतर होगा फिर भी हम दोस्तों की भान्ति व्यव्हार करते हैं. उधर सुजाता भी गांड उचकाते हुए लंड पर कूद कूद कर चुदने का मजा लेने लगी. वो मेरे लंड को मुँह में भर के चूसने लगी और लंड खड़ा होते ही वो मेरे लंड पर बैठ कर अपनी चूत में डालने की कोशिश करने लगी.

एक के बाद दूसरी चूची बदल बदल कर बियर डाल डाल कर चूसने लगा और साथ में नीचे से उंगली करता रहा.

वहां पता चला कि परीक्षा बहुत टाइट होने वाली है। मैं मन ही मन घबराई हुई थी क्योंकि वैसे भी मुझे इंग्लिश में कुछ आता नहीं था. बेल बजाई तो दरवाज़ा एक आदमी ने खोला- मुझे समझ आ गया कि ये संध्या का पति होगा. उम्र में वो काफी बड़े थे लेकिन उनके साथ सेक्स करने में जो मजा आ रहा था वो मैंने कभी सोचा भी नहीं था.

ইন্ডিয়া সেক্স মুভিमैंने भाभी की पेंटी को अपने बैग में पैक किया और बिना कुछ बोले घर से बाहर निकल गया. मैं बोली- हां … वन्द्या नाम है मेरा … मैं अभी मौसी के यहां उनकी बेटी की शादी में आई हूं … कनका गांव है, वैसे सतना जिले की हूं.

सट्टा किंग गली का आज का रिजल्ट

रोज रोज एक जैसे लंड से चुदाई का अहसास अच्छा नहीं लगता, इसे बदलते रहना चाहिए. मैं बुरी तरह से उत्तेजित और कामुकता से भर गई थी, अब मुझसे बर्दाश्त करना असंभव हो रहा था. उन्होंने अपनी चूत को मेरे लंड के ऊपर कुछ बार रगड़ा, जिससे मैं पागल हो गया और फिर माँ से अपने लंड को उनकी चुत में डालने की भीख माँगी।मम्मी मुझ पर हंसी और फिर मेरे लण्ड को सीधे हाथ से पकड़ कर धीरे-धीरे बैठने लगी जब तक उनकी चूत ने मेरे लण्ड को गहराई तक नहीं निगल लिया। मम्मी धीरे-धीरे ऊपर-नीचे हो रही थी। मम्मी के 36″ आकार के स्तन उनके साथ ऊपर-नीचे हो रहे थे.

अब उसने मुझे बेड पर लिटाया और मेरी दोनों टांगें अपने कंधों पर रख लीं. धीरे धीरे मैं अपने हाथ को उसकी कमर से नीचे उसके चूतड़ों तक ले गया और उसके चूतड़ों को दबाने लगा. इस दौरान भाभी को पता भी नहीं चला कि मैंने कब उनका पेटीकोट उतार दिया.

ऊपर से शॉवर से पानी गिर रहा था और हम दोनों चिपके हुए बियर पी रहे थे. मैं और वो लड़का हम दोनों लोग आज भी सेक्स करते हैं, लेकिन अब हम दोनों लोग पहले की तरह सेक्स नहीं करते हैं क्योंकि हमारे पड़ोस में कुछ लोगों को शक हो गया है कि मैं उस लड़के से चुदवाती हूँ. आंटी बोली- विकास आज तूने मुझे खुश कर दिया।बहुत दिनों के बाद उनकी चूत की खुजली शांत हुई थी तो आंटी भी काफी खुश लग रही थी.

उनके होंठों को चूसते हुए मैंने आंटी के ब्लाउज के अंदर हाथ डाल दिया. फिर मैं नीचे पीठ के बल लेट गया और सारा की चूत को अपने मुँह पर खींच लिया.

ऊपर से उन्होंने जो पर्फ्यूम लगाया था, वो मुझे भी मदहोश किए जा रहा था.

काफी टाइम से उससे बात भी हो रही थी तो मुझे वह पसंद भी था और भरोसा करने के लायक भी लग रहा था. ફુલ સેક્સप्रिया का दूध से ज्यादा सफेद, चिकनी बगलें, साफ़ बेदाग़ बदन देख कर मेरा तो भेजा ही आउट हो गया. देवर भाभी का सेक्स हिंदी मेंउसका लंड अब पहले से ज्यादा टाइट हो गया था और बिल्कुल मोटे डंडे की तरह तन कर सख्त लगने लगा था. दोनों लड़ते हुए कुतिया के ऊपर चढ़ कर उसकी सवारी करना चाह रहे थे, पर कुतिया एक से ही चाहती थी.

मुझे तो इतना गुस्सा आया, जिसने डोरबेल बजाई होगी उस पर कि अभी जाके उसकी गांड में डंडा घुसेड़ दूँ और गांड फाड़कर उसके हाथ में दे दूँ.

जैसे-जैसे मैं भाभी की चूत पर जीभ चला रहा था वैसे-वैसे भाभी का सेक्स के लिए पागलपन बढ़ता ही जा रहा था. मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सभी लोगों को मेरी कहानी जरूर अच्छी लगेगी. कमला अपने पैर फैला कर मेरा लौड़ा अपनी चूत के छेद में रख कर दबाने लगी.

”थोड़ी देर आराम से लेटने के बाद मैंने उसे अपनी तरफ घुमाया, उसे गोद में उठा कर खड़ा हो गया. सुबह उठा तो देखा कि रिंकी अपने मायके यानि मेरी बुआ के घर जाने की तैयारी कर रही थी. सलोनी के हाथों का जादू था मेरे लण्ड पर, पर सिसकारी मेरे मुँह से निकलने ही लगी.

हिंदी पिक्चर फिल्म सेक्सी वाली

फिर दो मिनट बाद हम दोनों लोग सेक्स करते करते झड़ गए और हम दोनों लोग का पानी निकल गया. उसकी पैंटी को हाथ से सहलाया तो पता चला वह पहले से ही गीली हो चुकी थी. हमारी जब मुलाकात होती थी, तब वो मुझे देख के हल्का सा मुस्करा देती थी.

उसने मुझसे कहा- हां चलो, मैं तुम्हें छोड़ देती हूँ, पर जाने से पहले तुम मेरे साथ चाय तो पी लो.

बचा यह महेश, तो यह अपना लंड या तो इस वन्द्या के हाथों में और या इसके दोनों दूधों के बीच में डालकर रगड़ लेगा.

बस दो मिनट में वाणी बोली- मेरे बारे में भी सोचो … इस कुतिया को तो ऐसे ही मज़ा आता है इसलिये ये हमारे मर्दों को उकसाती है और हर बार मैं ही सूखी रह जाती हूँ. दो घंटे की पार्टी के बाद मुझे कुछ तबीयत ठीक नहीं लगी, तो मैं डॉली को बोल के रूम में चल दिया. साइको बॉयकाफी देर लंड चूसने के बाद वो अपनी टांगें फैला कर बोलीं- आ जा जमाई राजा.

मैंने पूछा- कितने देर में आ रहो आप?उसने कहा- बस पहुंच ही रहा हूं … तुम कहां पर खड़े हो?मैंने कहा- मैं यहीं हुड्डा मेट्रो स्टेशन के नीचे ही खड़ा हूँ।उसने कहा- ठीक है, मैं गाड़ी लेकर बस 5 मिनट में पहुंच रहा हूँ।लगभग 10 मिनट बीत जाने के बाद फिर से फोन रिंग करने लगा, मगर अबकी बार किसी दूसरे नम्बर से फोन आया था. एक दिन मैं ऐसे ही घर पर था और मेरी माँ किसी से फोन पर बात कर रही थी. अभी तक कल्पना ने स्कार्फ़ निकाला नहीं था और उन्हें देखने के लिए मेरी उत्सुकता वैसे ही बनी हुई थी.

दस मिनट तक ये स्टाइल ही चली, मैं चाटते चाटते नीचे से अपने लंड को भी देख रहा था. … मर गई …मैंने उसकी चीख को अनसुना किया और फिर से जोर से लंड दे ठोका.

मुझे जब उसके घर में कोई नहीं दिखा, तो उसने बताया कि सभी घरवाले शादी में गए है, जो सुबह तक लौटेंगे.

मैं तो था ही नशे की हालत में, थोड़ा उटपटांग बोल गया- पत्नी क्या … मैं तो अपनी सहकर्मी (देवी) को भी बहुत खुश रखता हूँ भाभी जी, कभी आप भी मौका दीजिये सेवा का. उसने मेरे सिर को पकड़ लिया और अपने लंड को मेरे मुंह में घुसा दिया और मेरे मुंह को चोदना शुरू कर दिया. इस दौरान भाभी को पता भी नहीं चला कि मैंने कब उनका पेटीकोट उतार दिया.

हिंदी हॉट पोर्न टीना भी रुक गई और उसने मेरा लंड मुँह में लेके काफ़ी देर तक चूसा और तभी छोड़ा, जब मैं उसके मुँह में झड़ गया. जब वो गर्म हो गयी तो मैंने उनकी ब्रा को पूरा खोल दिया।भाभी कहने लगी- तुम तो बहुत तेज हो, सीधे मेरे मम्मे दबाने लगे।मैंने कहा- भाभी आप बहुत खूबसूरत हो और मैं आपको कबसे चोदना चाहता था.

मेरी योनि से चिपचिपा तरल, तेज़ी से रिसता देख सरदारजी का लिंग अकड़ने लगा. उसने जैसे ही अपनी गांड ढीली की, मैंने लौड़ा उसकी गांड के अन्दर घुसा दिया. आज समझ पाया हूँ कि पापा सेक्स के मामले में मम्मी के लायक नहीं थे, इसीलिए मम्मी ने अपने जिस्म की भूख मिटाने के लिए अपने ही भाई को चुना।शायद इसलिए कि उनका काम भी बन जाएगा और घर की बात घर में ही रह जाएगी.

सेक्सी व्हिडिओ दिखाओ

मैंने पूछा- अब नहीं है मतलब? तो पहले था क्या!उसने कहा- हाँ, कॉलेज में तो था. वो भी अपनी चूत की फांकों में लंड के सुपारे की गर्माहट का मजा लेने लगी. यही कोई दोपहर को 2 बजे के आसपास का समय था, तभी मेरे मोबाइल पर एक अन्जान नंबर से कॉल आया.

पानी पीने के बाद मैंने उनको पीछे से कसकर पकड़ लिया और कहा- मामी अब नींद नहीं आ रही है. अब अड्रेस नहीं बता रहा हूँ … वरना मिर्ज़ापुर के कुछ रंणबांकुरे उसके घर तक़ पहुंच जाएंगे.

डेविड बोला- अगर तू बोलेगी तो जितना पैसा मांगेगी, मैं तुमको दे दूंगा.

मैंने बारी बारी उसके दोनों चूचे चूसे और उनको दबा दबा कर काटता भी रहा. लेकिन उनका कमरा सेक्टर में नहीं बल्कि सेक्टर के साथ लगते एक गांव में था. फिर मैंने दीदी से पूछा- दीदी आपका नाम क्या है?तो उन्होंने अपना नाम कोमल बताया.

मैंने अपने गर्म लब उसके पंखुड़ी जैसे सॉफ्ट और गर्म लबों पर टिका दिए. मेरे हाथ को उसकी चूत बहुत गर्म लगी और साफ पता लग रहा था कि उसकी पानी छोड़ चुकी थी. इस का मतलब … ये लंड भी इसमें पूरा चला जायेगा?” उसने हैरानी से पूछा.

उसने मेरी चुनरी उतार फेंकी, जिस वजह से मेरे पहाड़ जैसे चूचे और उनके बीच का चीर … और चीर के बीच मेरा लॉकेट खेल रहा था.

बीएफ वीडियो ब्लू फिल्म वीडियो: उनके हाथ मेरी पीठ और और चूतड़ों पर चल रहे थे।तभी अचानक राहुल बोले- रुको भाभी … उन्होंने मुझे अपने ऊपर से उठाया और उन्होंने वो संतरा और अंगूर उठाए. शौहर के जाने के बाद मुझे बहुत दिनों के बाद मेरे हाथों ने लंड को छुआ था.

मैंने भाभी से कहा- ऐसा क्यों पूछा?तो उन्होंने बोला- मेरे कपड़े रोज़ खराब कर रहा है तू!मैंने सिर नीचे झुका दिया. फ़िर बाहर आ कर हमने फ़िर थोड़ा खाना खाया और बिस्तर पर लेट कर पैग लगाने लगे. आखिर कल से दो दिन की छुट्टी थी और आज बारिश की वजह से जल्दी छुट्टी कर दी गयी थी.

मैंने पूछा- तुमने तीन लोगों का खाना पैक क्यों करवाया?वह बोली- यही तो सरप्राइज है.

भाभी बोली- हाँ ज़रूर …और उसके बाद दूधवाला मुझे किस करने लगा और बूब्स दबाने लगा. यह कहानी मेरी दोस्त नेहा जी की सहेली की कहानी है जिन्होंने अपने पति के साथ मिलकर चुदाई करवाई. आज तो लगता है मैं मज़े से मर ही जाऊँगी … मेरे राहुल, आप मुझे चोद कर कितना मज़ा दे रहे हो.