बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो

छवि स्रोत,सेक्सी मूवी हिंदी वीडियो एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीपी इंग्लिश: बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो, कुछ नहीं बहू, तुझे जीन्स टॉप पहने हुए पहली बार देखा न तो तेरे हुस्न के जादू में खो गया था, सच में तू इतनी सुन्दर और कमसिन सी लग रही है जैसे किसी कॉलेज की सेकेण्ड इयर की स्टूडेंट हो!” मैंने उसके मम्मों को निहारते हुए कहा.

सेकसी म्युजिक भोजपुरी

फिर बाद में तुम्हें दर्द की आदत पड़ गई और थोड़े समय बाद तुम्हारी चूत को लंड खाने की आदत पड़ गई। यह भी ठीक उसी तरह है, बस एक बार दर्द होगा फिर सब आराम से हो जायेगा. फैमिली ग्रुप सेक्सकुछ देर बाद मेरा मन उसके गुलाबी होंठों को चूमने को करने लगा तो मैंने उससे कहा- कभी किसी को किस किया है?अफ़रोज़- नहीं आपा … पर सुना है कि इसमें बहुत मज़ा आता है.

मुझसे अपनी मॉम का ये दुःख देखा नहीं जाता था और मैं हर वक्त उदास रहने लगा था. कॉलेज की लड़की की सेक्सी फिल्मआज की कहानी प्रकाश और अनीता की है।प्रकाश की सर्राफ़ा बाज़ार में पुरानी शॉप थी.

मम्मी बोलीं- लेट कर पेलेगा या कैसे करेगा?उसने मम्मी को कुतिया बनने को कहा.बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो: ब्रेस्ट मिल्क सेक्स कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने अतीत के बारे में कुछ बता देता हूँ.

उसकी पैंटी उतारते ही मैंने देखा कि बन्द लाइट में भी प्रभा की चूत बिल्कुल चांद की तरह चमक रही थी.वो शर्मा गई और बोली- अब तारीफ़ हो गई हो … तो मैं बैठ जाऊं!मैंने अचकचा कर कहा- अरे हां हां क्यों नहीं बैठो न … सॉरी मैं तुम्हारी खूबसूरती में इतना ज्यादा खो गया था कि मुझे कुछ ख्याल ही न रहा.

सेक्स व्हिडिओ क्लिप - बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो

बहार की चूची दबोचकर मैं उसके होंठ चूसने लगा जबकि बहार पूरी शिद्दत से मेरे लण्ड से अपनी बुर के मुखद्वार की मालिश कर रही थी.उसने तेज धक्के लगाने शुरू किए और वो लगातार बिना रूके मुझे चोदता रहा.

लेकिन वो कहते हैं ना कि तलब हो जिस चीज़ की, उसे किए बिना शांति नहीं मिलती. बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो एक घंटे बाद वो शाम के 5 बजे का समय था जब मैंने गीत के घर की बेल बजा दी थी.

अपना हाथ सलवार के अन्दर पैंटी में घुसा कर ममता की चूत मुठ्ठी में भर कर मसलने लगा.

बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो?

वो बोली- क्यों?मैं- फ्रेंड तो आप हो ही गयी थीं, जिस दिन से फेसबुक पर फ्रेंडशिप हुई है और सारी उम्र ही फ्रेंड बनी रहेंगी. उसे अब अपने पति के समय न देने की कमी से कोई गिला शिकवा नहीं रह गया था. मैं गर्मा गया तो मैंने दीदी के निप्पल को होंठों से दबा कर खींच दिया.

मैंने जाकर पहले दरवाजा बंद कर दिया और स्टोर रूम का ज़ीरो वाट का बल्व जला दिया. मेरी मौसी का काफी बड़ा सिलाई सेंटर है, जिससे उनकी काफी अच्छी कमाई हो जाती है. इस तरह से दोपहर एक बजे से चालू हुआ हमारे सेक्स का कार्यक्रम शाम 6:00 बजे खत्म हुआ.

मैंने भाभी को मस्ती से देखा, तो वह दोनों मर्दों के बीच में थीं और उन दोनों ने अपने जिस्म के बीच में उन्हें बहुत बुरी तरह से भी भींच रखा था. उन दोनों के कमरे में जाते ही मैं भी अपनी ब्रा पैंटी वही निकाल कर नंगी हो गई और उसी कमरे के दरवाजे पर आ पहुंची. सुरजन अपना लंड पकड़कर सहला रहा था।मस्ती और सेक्स से आंखें चढ़ रहीं थी मेरी। कामुक सीन था.

मैंने एक लम्बी सांस खींची और अपने हाथों के सहारे अपनी कमर के ऊपर के हिस्से को उठा लिया. जहाँ कल मैं उसकी प्यार से चूत चोद रहा था वही आज किसी हब्सी की तरह उसकी चूत चोदने वाला था।धीरे धीरे मैं अपनी कमर को चलाते हुए उसकी चूत में लंड डालने लगा। मेरा आधा लंड उसकी चूत के अंदर जा चुका था तो मैंने उतने लंड से ही चुदाई करनी चालू कर दी।मैं मंद गति से धक्के लगा रहा था लेकिन हर धक्के के साथ लंड को उसकी चूत में थोड़ा और आगे बढ़ा देता.

मैंने स्पीड से स्कूटर चलाया, तो उसका बैलेंस बिगड़ गया और खुद को संभालने के लिए उसने मेरी कमर पकड़ ली.

आज की कहानी प्रकाश और अनीता की है।प्रकाश की सर्राफ़ा बाज़ार में पुरानी शॉप थी.

पापा प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं, जिस कारण से वो अक्सर शहर से बाहर ही रहते हैं. अब आगे बहू सेक्स की कहानी:आधे से ज्यादा मेहमान तो वरमाला होते रात में ही निकल लिए थे; बस वर वव्हू पक्ष के कुछ नजदीकी खास रिश्तेदार ही विदाई होने की प्रतीक्षा में रुके हुए थे. होंठों पर लाली, कानों में बालियां, सफेद रंग की टाइट कुर्ती, लाल दुपट्टा जो गले में लपेट रखा था.

मैंने हल्का सा जोर लगाया तो अभी सुपारा ही चुत की फांकों को चीर कर अन्दर गया था कि उसकी चीख निकल गई- आ … मर गयी मम्मी!उसके होंठों पर मैंने होंठ रखे और एक ही झटके में लंड उसकी चुत में डाल दिया. उसने पूछा- हैलो कौन!मैं बोला- आप कौन बोल रही हैं और आपको यह नंबर किसने दिया!उसने कहा- मुझको ये सिम मेरी एक सहेली ने दी थी, आप कौन बोल रहे हैं?मैंने उससे कहा- मैडम, ये मेरा सिम कार्ड है … आप प्लीज़ मुझे वापस कर दो. पूरा दिन मुकेश पास नहीं आये।अगली रात आई। सोचा आज बेशर्म होकर खेलूंगी, इनके तनाव को अपनी अदाओं से लाऊंगी।आज सेक्सी नाइटी पहनकर कमरे में गई।मुकेश फिर पीकर आये थे।मैं बड़ी अदा से उनके करीब गई और उनके सीने पर हाथ फेरते हुए बोली- जान इतनी मत पीओ, कल भी आप बेहोश होकर सो गए।उनकी आंखों में झांकते हुए मैं बोली- मेरा नशा करो ना … एकदम ताज़ा नशा है।वो मुझे भी पिलाने लगे तो मैंने मना कर दिया.

मुझे अपना नम्बर देते हुए मालिक की पत्नी बोलीं- भविष्य में किसी भी पेट्रोल पंप पर कोई दिक्कत हो तो आप मुझे कॉल करियेगा.

मैंने पूछा- चुप क्यों हो … क्या कहना है बोलो न!वो कहने लगी- साहिल जी मैं एक बात कहना चाहती थी. इस तरह हम तीनों रात भर चुदाई करते रहे और ऐसे ही मेरे छुट्टी ख़त्म होने तक हमने मजा किया. ’मैंने भी राजेश का लंड मुँह में ले लिया और उसे फैंटते हुए लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

मैं अब उसकी बुर में जाना चाहता था इसलिए मैं सीधा हुआ और उसके चूतड़ उचकाकर दो पिल्लो रख दिये. शन्नो चिल्लाने में लगी थी और मैं अपनी पूरी रफ्तार से उसे चोदने में लगा था. हॉट रंडी की जोरदार चुदाई हुई होटल में! असल में वो रंडी नहीं थी पर सेक्स की लालसा, जिस्म की भूख ने उसे गैर अनजान मर्दों से चुदने पर मजबूर किया.

आपका लंड चुदाई से भी ज्यादा मजा लेगा और चूत की मालकिन सभी लड़कियों की चूत से पानी की नदियां बहने की शुरू हो जाएंगी.

पहले तो चार-पांच दिन तक ऐसे ही नॉर्मल बात होती रही, फिर धीरे-धीरे जैसे-जैसे बातें बढ़ती गईं, उसने धीरे-धीरे खुलना चालू कर दिया. मैं आपको बता दूँ कि मेरी मौसी का तलाक उनकी शादी के पांच साल बाद ही हो गया था, तब से वह अपनी बेटी के साथ ही रहती हैं.

बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो अभय ने ममता के इतना बोलते ही एक के बाद एक पिचकारी ममता की कुंवारी बुर में छोड़ना चालू कर दीं. वो किसी रंडी की तरह मादक आवाज़ निकालने लगीं- आह आह आह मर गयी जान … आह मम्मी मर गयी.

बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो मम्मी बोलीं- लेट कर पेलेगा या कैसे करेगा?उसने मम्मी को कुतिया बनने को कहा. कुछ देर बाद जब मां ने कोई हरकत नहीं की तो मैं अपने पैर को भी मां के पैरों पर रख उनका पेटीकोट और ऊपर सरकाने लगा.

इस ग्रुप सेक्स को देख कर मेरे लंड का और मेरे दोनों दोस्तों के लंड का क्या हुआ.

सेक्सी वीडियो इंडियन की

मैंने हंस कर पूछा- कितना सॉलिड?वो भी हंस दी और बोली- वो छोड़ो और ये बताओ कि आपको मैं कैसी लगी?मैंने कहा- साफ़ साफ़ कह दूँ?वो बोली- हां कह दो … मैं आपसे साफ़ साफ़ ही सुनना चाहती हूँ. ममता धीरे धीरे चल कर भाई के पास जाकर खड़ी हो गई और गौर से लंड को देखने लगी. उस समय मैं स्कूल में पढ़ता था और जौनपुर में भैया और मां के साथ रहता था व उनके साथ वहीं रहकर पढ़ाई करता था.

साथ में उनकी चूचियों की घुंडी चुटकी में दबा कर हल्के दबाव से निचोड़ने लगा था. चाची- फिर तुमने करते करते क्यों एकदम से रुक गए थे?मैं- आप अचानक से टोक दिया था ना!चाची- सॉरी सॉरी. झड़ने के बाद चाची ने मुस्कुरा कर देखा और हम दोनों उधर ही जमीन पर लेट गए.

मीरा ये सब खेल बगल में लेटे हुए देख रही थी और रीमा के बूब्स दबा रही थी.

उस दिन उसके मम्मी पापा उसके मामा के घर गए हुए थे और उसके भाई, उसकी भाभी को लेकर मायके गए हुए थे. फिर मैंने उसके कंधों पर मालिश करते हुए उसके बालों की चोटी बना कर अपनी पकड़ बनाई और उसे हल्के से खींचा. मगर मैंने कुछ भी जवाब न देते हुए उसकी चूत में लिक्विड चॉकलेट भर दिया.

हम दोनों 69 की अवस्था में हो गए और मम्मी नीचे से अपनी गांड को उछालने लगीं और ‘आआआ … आह्हह …’ की कामुक आवाजें निकालने लगीं. मैं गांड उठाते हुए बोली- आह राजू … सच में प्राची और आपकी बीवी इतना मस्त आनन्द अकेली ही उठा रही थीं. भाभी भी बड़ी मजाकिया स्वभाव की थीं तो हम दोनों काफी फ्रेंडली हो गए थे और जल्द ही हमारे बीच सेक्स की भी बातें होने लगी थीं.

मैं- चाची बस करो … वरना बॉक्सर की तरह ये पैंट भी गीली हो जाएगीचाची ने खुश होते हुए कहा- ठीक है हो जाने दो. पहले विवेक के जाने की तय हुई और मैंने इससे कहा कि तुम बताना कि कोई बाहर है या नहीं.

हालांकि सीनियर्स ने अपनी रजामंदी नहीं दी थी क्योंकि इस टूर पर जाने के सभी को पैसे देने थे. मैंने उसी वक्त कहा- लंड यहीं चुसवाओगे कि कोई रूम भी है?वो मुझे रूम नंबर बताकर बोला- पन्द्रह मिनट बाद कमरे में आ जाना. हालांकि वो कभी मुझसे खुल कर कुछ नहीं बोलती थीं कि उनको मेरे लंड से चुदना है.

पहले तो आप सभी से मैं माफी चाहूंगी कि आप सबकी रिक्वेस्ट के बाद भी मैं कोई नई सेक्स कहानी नहीं लिख पाई.

मैंने नीचे से झटके मारना शुरू कर दिया।अब उसका दर्द कम हुआ तो वो लंड पर उछल उछल कर अपनी चूत से मेरे लौड़े को चोदने लगी. वो मुस्कुराते हुए बोलीं- अरे यार, बड़े दिन बाद मेरी चुत में आपका लंड जा रहा है. अब तो उसका लंड भी मुझपे रगड़ मार रहा था।मेरे मन में ख्याल आ रहा था कि ये चोद के ही मानेगा.

इन दोनों से मुहब्बत का कोई सीन नहीं है … इन्हें तो बस अपनी चुत में लौड़े चाहिए. मैंने मैसेज करके बात की।अगले दिन मैंने उसे बोला कि मैं आ रहा हूँ तैयार रहना मिठाई के साथ।लोलिशा- ओके।मैं लोलिशा के वहाँ पहुँचा.

थोड़ी ही देर में बुआ की आंखों से आंसू बहने लगे और आंखें लाल हो गईं; उनके मुँह से गाढ़ी राल बाहर को बहने लगी थी और पूरा बदन जैसे कांपने सा लगा था. देखने में तो पूनम बुआ का सीना सपाट था … पर हल्के हल्के चुचे तो सभी महिलाओं के होते हैं और आप सभी ने कभी ना कभी ये अनुभव किया ही होगा. कुछ ही देर में निखिल ने रीमा की ब्रा और टी-शर्ट निकाल दी और उसके नंगे हो चुके मम्मों को मसलने लगा.

एक्स एक्स एक्स एक्स ब्लू फिल्म सेक्सी

मेरे ढीले लंड को देखकर वो फिर से गुस्सा हो गई और बोली कि गांडू तेरे से कुछ होगा भी!मैंने कहा- रंडी साली चुदुर चुदुर मत कर … तेरे में दम हो तो इसे खड़ा करके दिखा.

मैं- गुड गर्ल!और ये बोल कर मैंने फिर से अपना लन्ड शीना के मुंह के सामने कर दिया. मुश्किल से मैंने खुद को संभाला लेकिन इतनी चुदने के बाद अब मुझे अंदर से बहुत संतुष्टि हो रही थी।मैं वहां एक महीने रुकी और उन्होंने मुझे न जाने कितनी बार चोदा और मैं गर्भवती भी हो गई. कंडोम लेकर मैं वापस घर आया तो मां ने बिस्तर लगा दिया था और वो टीवी देख रही थीं.

आह्ह … य्ह्ह … हय्य।तभी उसकी चूत ने झटके के साथ लावा उगल दिया और उसकी सिसकारियां बद हो गई।नीतू झड़ कर ठंडी हो गई थी. इधर मेरा लंड उसके नाम की सलामी दे रहा था, मेरी समझ में ही नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूं. चाचा भतीजा शायरीमेरे पास कोई विकल्प भी नहीं था चुदने के अलावा।थोड़ी देर बाद मेरा दर्द कम हो गया और मेरी आंखें बंद हो गई.

तुम्हारी बड़ी बड़ी चूचियां और फूली हुई गांड ने मेरा लंड खड़ा कर दिया है. जब मुझे लगा कि भाभी जी को नींद लग गयी है तो मैंने भी नींद का बहाना करते हुए उनकी चुत से अपने लंड को सटा दिया और आगे पीछे होकर धीरे धीरे अन्दर डालने की कोशिश करने लगा.

चूत देख कर तो लगता है कि जिस भी लंड से चुदवाती है वो कोई मूसल जैसा लंबा चौड़ा मोटा लंड ही होगा. रात में आठ बजे उठी तो कुछ खाने का मन नहीं कर रहा था तो चाय बना कर बिस्कुट खाई और टीवी देखने लगी. रीमा ख़ुशी से मीरा के गले लग गयी क्योंकि कल रात के बाद अब वो खुल्लम खुल्ला निखिल के साथ चुदाई का खेल खेल सकती थी.

वो मुंह खोल कर लौड़े को गले तक अन्दर ले गई और लंड को लॉलीपॉप समझकर चूसने लगी. तुम जैसे स्पेशलिस्ट को क्यों बुलाती!मैं- ठीक है भाभी जी, जैसी आपकी इच्छा. कुछ देर बाद दीदी ने मुँह से लंड निकाला और इशारा किया कि अब चुदाई करो.

सेक्सी मौसी की चुदाई की हिंदी कहानी में पढ़ें मैं अपनी छोटी मौसी के घर गया था.

मैंने भाभी की बात से संतुष्ट होते हुए हां में सर हिलाते हुए कहा- ठीक है भाभी. आपको बस मेरी सेक्स कहानी के मेल लिखना है, जिससे मुझे आत्मिक शांति मिलती है.

उसने निखिल को दो चूतों की चुदाई के लिए तैयार करने के लिए उसके दूध में सेक्स पॉवर बढ़ाने वाली दवा भी मिला कर पिला देने की सोच रही थी. इसमें तुम उंगली कर सकते हो, चूत को चाट सकते हो, चूस सकते हो … लेकिन इसमें अपना लंड नहीं डाल सकते क्योंकि तेरी मम्मी की चुत पर मेरे लंड का अधिकार है. चलो एक बार फिर से पहले जैसी अपनी टी-शर्ट सही करना!उसने टी-शर्ट ठीक करने की जगह इस बार एक मादक अंगड़ाई लेते हुए कहा- टी-शर्ट को क्या करना है?मैंने एक झटके से उसकी चुचियों को खा जाने वाली नजरों से देखते हुए कहा- कुछ नहीं शमा डार्लिंग … तुम्हारी चूचियां बहुत हॉट हैं.

मैं बस अपनी आंखें बंद करके मजा ले रहा था और मां मेरे लंड से खेले जा रही थीं. कहने का आशय ये था कि अब मैं अपने मम्मी पापा के सामने पूरी तरह से खुल गया था. मैं- मां ये सेक्स की गोली है, इसे दूध के साथ पीने पर हमें रात भर मजा आएगा, आप दूध ले आओ.

बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो दूसरे दिन मैं नहा रहा था कि तभी चाची घर आ गईं और मम्मी से बोलीं- क्या हुआ मेरी जान, रात को चुदाई देखी थी?मम्मी ने कहा- हां देखी थी … मगर मुझे तुमसे बात नहीं करनी है तुम अकेले अकेले ही मज़ा ले रही हो, तुम्हें मेरा तो कुछ ख्याल ही नहीं है. मुझे ऑफिस से छुट्टी नहीं मिल रही!’लेकिन अगर इनके फ्रेंड सर्किल में कोई फंक्शन हो तो ये लाख काम छोड़ कर वहां जरूर ही जायेंगे.

हिंदी सेक्सी वीडियो म्यूजिक

वो भी मुझसे अच्छे से बात कर रही थी तो हम दोनों में सिम के अलावा भी बात होने लगी. और मैं मुड़कर उनके होंठों को चूमने लगी और हम खड़े होकर चुदाई करने लगे. मैंने बोला- क्यों बे साली रांड … मेरा लंड पसंद नहीं आया, जो अपनी बहन के ब्वॉयफ्रेंड का लंड चूस रही थी तू रंडी!ये कह कर मैं हिना के मुँह को पकड़ कर उसे चोदने लगा.

उसके जाते ही शहज़ाद ने मेरे सारे कपड़े फाड़ कर मुझे पूरे घर में दौड़ा दौड़ा कर बहुत ज़बरदस्त तरीके से चोदा. वो जानता था अगर लंड फर्स्ट टाइम सेक्स में इसकी चूत से निकाल लिया … तो ये कभी नहीं चुदवाएगी. चुड़ैल की फोटोवो चिल्लाई- ऊईई ऊईई ऊईई … निकाल बाहर … मैं मर जाऊंगी … राज निकाल … मम्मी बचाओ … मम्मी बचाओ … मर गई उईई उईई!मैंने लंड को रोक दिया और उसकी चूचियों को मसलने लगा और बोला- मम्मी नहीं आएगी बचाने।वो बोली- राज दर्द हो रहा है!मैंने कहा- रूको!और पास रखा नारियल तेल गांड में डाल दिया और कमर पकड़कर झटका दिया.

दादा जी- ठीक है बेटी, वो हम बात कर लेते हैं … और सुन हमें कल सुबह ही उसके घर जाना है.

शाम को 4 बजे दोनों की नींद खुली।फिर दोनों बाथरूम में साथ नहाने चले गए. मैंने कहा- क्या आप अभी मेरे घर आ सकती हैं, मुझे आपसे कुछ बात करनी है.

वैसे भी मीठा खाने से ज्यादा, उसे चूसने और चाटने में ज्यादा मजा आता है. मैंने उससे कहा- प्लीज़ तुम मेरे अन्दर से एक बार निकल जाओ, मुझे अपनी चुत पौंछनी है. मैंने उसकी साड़ी, पेटीकोट और पैन्टी उतारी और उसकी चिकनी चूत देखकर बावला हो गया.

और जैसे ही मैंने हैलो कहा, तो उधर से एक मर्दाना आवाज़ आई- क्यों बे गांडू … कैसा है?एकदम से इस तरह की बात सुनकर मैं हक्का बक्का रह गया कि सोचने लगा कि कौन है … और ये सब क्या बोल रहा है.

”मेरे एड्रेस बताने पर बोलीं- आप तो पड़ोसी निकले, हम भी अशोक नगर में ही रहते हैं, गाँधी स्कूल के पास. ” मैंने कहा और आगे हाथ लेजाकर बहू को मम्में दबोच लिए और उन्हें चोदने लगा. मुझे कोई एतराज नहीं था क्योंकि मुझे कार से अकेला जाना था और सादिका का घर भी रास्ते में ही आता था.

गरम मसाला सामग्री मराठीहमारे बीच ये सब कैसे हुआ?प्रिय पाठको, यह सेक्स विद क्यूट गर्लफ्रेंड की मेरी सच्ची सेक्स कहानी है. वह जैसे लंड चुत से बाहर निकालने को तैयार हुआ, मैं सोचने लगी कि अफ़रोज़ अब मेरी चुत में लंड के धक्का लगाना शुरू करेगा, लेकिन यह तो ठीक उल्टा कर रहा था.

जबरदस्त सेक्सी कहानियां

ममता और भी पता नहीं क्या अनाप-शनाप बड़बड़ाए जा रही थी, पर अब वो जानबूझकर ऐसा कर रही थी … जिससे उसका ध्यान दर्द से हट जाए. इसलिये मैंने नीतू की बालों की चोटी को किसी घोड़ी की लगाम की तरह पकड़ लिया और दनादन उसकी गांड चोदने लगा. यदि तुम दोनों अपनी अम्मी के साथ मेरे लंड से चुदना पसंद करो तो ठीक है, नहीं तो मैं आज से इस घर में आना छोड़ दूंगा.

वो मेरे सर पर हाथ रख कर कह रहा था- आह आह शालू … यू आर अमेजिंग डार्लिंग … आह सक माय टूल!मैंने हाथ में उसका लंड पकड़ा और उसे ऊपर करके उसकी गांड के छेद को चाटने लगी. रास्ते में अभय बोला- कैसा लगा ममता? मजा आया?शर्माती हुई ममता ने खिड़की की तरफ मुँह फेर लिया … वो बोली कुछ नहीं. मां मेरे पास ही सोती थीं क्योंकि उनके लिए अभी ये जगह नहीं थी और उन्हें यह सब समझने में समय चाहिए था.

मैंने पूनम के निप्पल को फिर से हल्के से चूमते हुए खींचा, तो बुआ के बदन में जैसे कंपन सी हुई. मैं पढ़ाई में शुरू से ही होशियार हूँ और गणित तो मेरा मनपसन्द विषय है. अब उसके विरोध में बस नहीं नहीं आ रहा था लेकिन वो मुझे रोक नहीं पा रही थी।मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा.

बाम लगाने के दौरान मेरा ब्लाउज ऊपर को खिंच गया था, जिसकी वजह से मेरी गोलाइयां नीचे से भी झांक रही थीं. हम दोनों जैसे ही स्टोर रूम में पहुंचे, मैंने दीदी को कस कर पकड़ लिया और किस करने लगा, उनके मम्मों को दबाने लगा.

अगले दिन हम लोग भी पहुंच गए।वहां जाकर लोलिशा प्लान के मुताबिक तैयार थी.

मैंने लंड पर थोड़ा थूक लगाया और झुक कर उसकी चूत पर सैट करके धीरे धीरे फांकों में रगड़ने लगा. वीडियो सेक्सी हीरोइनउसके पूछने पर जसविंदर ने कल रात से लेकर आज शाम तक की सारी कहानी बयां कर दी. दे से नाम लिस्ट ladkiविवेक- अगर तुम बाहर जाकर मुकर गईं तो!हुर्रेम- मैं झूठ नहीं बोल रही हूं. ये सब बातें मुझे कुछ इशारे से महसूस होते थे कि बड़ी दीदी भी मेरे लंड से चुदना चाहती हैं.

चाची सिसयाने लगीं- प्लीज … आहह इस्स आहह … मजाह आ गया ऊऊह … आआह यार मेरी चुत और जोर जोर से चाटो.

जैसे तैसे ये पैग भी पिया और करीब दस मिनट तक भाभी की चूत को खूब जबरदस्त तरीके से पूरे अन्दर तक जीभ डाल कर चूसा. देसी गांड चुदाई कहानी में पढ़ें कि ओरल सेक्स के बाद मैं मौसी की जेठानी की गांड मारना चाहता था. आराम से कर लेना, मैं तुम्हारे लिए हर वक़्त हाजिर हूँ, जब बुलाओगे आ जाऊंगी क्योंकि मुझे भी तेरी लत लग गयी है.

कहानी के पिछले हिस्सेचिकनी चाची के बदन को पाने की चाहतमें आपने जाना कि मैं अपनी चाची के साथ सेक्सी सपना देख रहा था, तभी मेरे लंड ने रस छोड़ दिया था. वो मुझे एक मकान में ले गयी और कहने लगी कि तेरे खिलाफ शिकायत आयी है. मैंने उसके नर्म नर्म होंठों को किस करना शुरू किया और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

सेक्सी वीडियो बाप

सर्दी का मौसम था और मैं रोज सुबह जल्दी उठकर जॉगिंग करने जाने लगा था. फिर बहू की चूत ने मेरे लंड से एक एक बूंद निचोड़ कर खुद सिकुड़ गयी और लंड को बाहर धकेल दिया. कॉलेज में जब भी तीन चार दिन या अधिक की छुट्टी होती तो संगीता अपने घर चली जाती.

मां- अआह हहहह उम्म …मैंने अपनी जीभ मां की चूत में डाल दी और चूत को अपनी जीभ से चोदने लगा.

मैं यहां बता दूं कि पूनम बुआ को एक बेटी और एक बेटा थे, जो उस समय छोटे ही थे.

मेरी मम्मी की चूचियां भी सामन्य आकार की थीं मतलब ज्यादा दबाई नहीं गई थीं … इसलिए बड़ी या ढीली नहीं थीं. हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम नीरज है और अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली सेक्स कहानी है. सेक्सी वीडियो हिंदी मूवी फिल्मकुछ ही देर में वो दोनों निखिल के लंड को चूमने लगीं और एक दूसरी की चूत में भी उंगली करने लगीं.

वो मेरी चूत में गुलाब जामुन धकलने लगा, जिससे गुलाब जामुन टूट गया और उसका कुछ अंश मेरी चूत में भी चला गया. मेरा लंड खड़ा होने लगा तो मैंने भी अपना लंड बाहर निकाल लिया और मां के हाथों में दे दिया. मैं प्राची का फ़ोन लेकर बाथरूम में चली गई और उसके लंड के फोटो देखते हुए अपनी चुत रगड़ने लगी.

दादाजी- हां बोलो बेटा क्या हुआ?मैं- दादाजी मैंने झूठ बोलकर आपसे साइन करा लिए हैं. मेरी ईमेल आईडी है[emailprotected]सेक्स विद सिस्टर इन लॉ की कहानी जारी रहेगी.

और फिर उसकी सासू माँ मुझसे यह बात छेड़ेगी कि ग्वालियर की शादी में जाना है; अभिनव तो जा नहीं पायेगा; आप कहो तो बहू को जाने दें? अगर आप भी चले जाते तो और भी अच्छा रहता; किसी को कोई शिकायत नहीं रहती.

नहीं तो सारी रात ऐसे ही तरसते तड़पते गुजर जायेगी; फिर कल सुबह विदाई के बाद हमें निकलना होगा, शाम को दिल्ली से तेरी फ्लाइट जो है. उसको मेरा लंड बहुत पसंद आया।सेक्सी चैट करते तो काफी टाइम हो गया था; अब बारी थी हम दोनों के मिलन की. वो मेरी चुप्पी देखती हुई बोलीं- कोई जवाब तो दो?फिर मैंने हिम्मत करके कह दिया कि मैं आपको लाइक करता हूँ.

छोटी छोटी लड़कियों की सेक्सी वीडियो फिर सलोनी घर का दरवाजा बंद करके मुझे अपने मम्मी पापा के रूम में ले गई. सुरजन ने जुबान चूत में घुसा कर ज़ोर ज़ोर से मेरी चूत चूसनी शुरू कर दी.

और अपने पांव ऊपर उठा कर मेरे लंड के सुपारे को अपनी झंटियल चूत के खांचे में चार पांच बार ऊपर से नीचे रगड़ कर लंड को अपनी चूत के प्रवेश द्वार पर दबा दिया और हल्के से अपनी कमर को उचकाया. फिर मैंने दीदी को घुटनों के बल बैठा दिया और लंड उनके हाथ में देकर चूसने का इशारा किया. आपको कल रात का बुरा तो नहीं लगा ना?मेरी मां शर्माती हुई बोलीं- अरे इसमें बुरा मानने वाली कौन सी बात है बेटा, मैंने तो बचपन में तुझे पूरा नंगा देखा है और मैं समझती हूं कि तू अब जवान हो गया है.

छक्के सेक्सी वीडियो

राजू बोला- साली रंडी, समझ ले अब से तेरी भी किस्मत चमक गयी है … तुझे भी जब चाहिए होगा, मेरा लंड मिल जाएगा. मैं थोड़ा रुका, फिर मैंने वापस अपने हाथों को मां के दूध से हटा कर उनकी जांघों पर रख दिया और उनकी जांघों को मसलने लगा. शायद ख्यालों में मेरी चुदाई कर रहे थे … है ना भैया?अभय- नहीं, ऐसी बात नहीं है.

फिर उन्होंने मोबाइल में मुझे एक फिल्म दिखाई, जो बहुत सेक्स वाली थी. इसके बाद उस बंदे ने पूरी रात मेरी चूत और गांड की अच्छे से बैंड बजायी.

उसे अब भी यकीन नहीं था कि मैंने उसकी चुत को चोद कर इतनी चौड़ी कर दी है.

कुछ देर बाद दीदी अपने ब्वॉयफ्रेंड से बोलीं- अब तुम यहां से जल्दी चले जाओ, कोई आ जाएगा तो बड़ी दिक्कत हो जाएगी. अब आगे फ्री मॉम सेक्स कहानी:मैंने अपनी गर्म हो चुकी मां का हाथ अपने लंड पर रख दिया. चाची- क्या देखते हो?मैंने उनके मम्मों की तरफ देखते हुए उन्हें बताने की कोशिश की.

अदिति बेटा, आई लव यू टू!” मैंने बहू के दोनों मम्में दबोच कर कहा और उनके दोनों गाल चूम लिए. मुस्कुराते हुए हुर्रेम के गुलाबी होंठ देख कर मैं अपने आप पर काबू नहीं कर पा रहा था. ग्रुप में ओपन सेक्स की कहानी में पढ़ें कि मैं अपनी पड़ोसन भाभी के साथ तीन जवान लड़कों के साथ थी.

मैंने कहा- तेरी बहन तेरे ब्वॉयफ्रेंड का भी लंड लेती है … वो मुझे पता है, लेकिन मैं उसके साथ अभी तक इसलिए था क्योंकि मुझे तेरी गांड मारनी थी रंडी!अब मैंने नगमा को खड़ा किया और उसकी सलवार को फाड़ दिया.

बीएफ वीडियो हिंदी एचडी वीडियो: अब भी क्या कसावट थी, जिस अंग को जहां जैसा कड़क होना चाहिए … वैसे ही एकदम व्यवस्थित था. थूक थूक कर गीला करती और उसकी लारें चाटती और उनको अपने गालों पर मसल देती.

मेरी अन्धी कामुकता की कहानी में पढ़ें कि जब मुझे लगा कि मेरी बहू से मिलने का अवसर प्राप्त हो सकता है. फिर फुर्ती से उसकी जीन्स और पैंटी घुटनों तक खिसका दी और उसके चिकने गुलाबी गोल गोल नितम्ब सहलाने लगा और उन पर चपत लगाने लगा. फिर करीब आठ दिन बाद कुच्ची ने कहा- चल आज एक दावत में जाना है, तैयार हो जा!मेरे पूछने पर उसने बताया कि शब्बो के गांव में ही चलना है.

मजा लीजिए सेक्स विद हॉट आंट का:शनिवार के दिन साहिल के अब्बा को काम से सावनेर जाना पड़ा.

भाभी पागल हुई जा रही थी; वह ‘आह आह आह’ की आवाज निकाल रही थी और सी … सी … सी … कर रही थी. ममता लंड मुँह से निकाल कर बोली- ऐसे क्या देख रहे हो? क्या किसी ने इस तरह तुम्हारा लंड नहीं चूसा? वैसे मेरी रगों में भी वही खून दौड़ रहा है. उसने मुझसे मैक्सी का पूछा और बैग से निकाल कर मैक्सी पहन कर दरवाजा बंद करके नीचे आ गई.