दिल्ली की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू मूवी एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

हमेशा बीएफ: दिल्ली की बीएफ पिक्चर, मीन्स सेक्स का ना?टीना- हाँ फ्लॉरा कुछ ऐसा ही समझो।फ्लॉरा- ओ माय गॉड 5 लड़कों के साथ तुम अकेली.

तेरे सेक्सी वीडियो

उसकी चूत को मैं चोदूँगा, दोनों एक साथ उसकी चूत और गांड चोदेंगे जिससे मेरी बहना को एक साथ दो लण्ड का मजा मिले, बेचारी 6 महीने से लण्ड को तड़प रही है. नंगा सेक्सी वीडियो नंगा सेक्सी वीडियोमैं अपने आप पर काबू नहीं कर पाई, मैंने अपने देवर को उत्तेजित करने के लिए मेरी आहें निकालनी शुरू कर दी और अपने देवर को कहना शुरू कर दिया- यस कॉम ऑन आदी… और तेज़ मेरी चुदाई करो! अपनी भाभी की चुत को आज फाड़ दो!मेरे ये शब्द सुनते ही मेरे देवर में जैसे एक ताकत सी आ गई हो, उसने अपनी पूरी स्पीड बढ़ा दी और मेरी जबरदस्त चुदाई की.

दोस्तो, आज ये जो देसी कहानी आपको बताने जा रही हूँ, यह मेरे साथ हुई एक सच्ची घटना है. मारवाड़ी चुदाई सेक्सीऊपर से ठण्ड के मौसम का असर भी होने लगा था, हम दोनों ने बैठे बैठे एक ही कम्बल ओढ़ लिया था, लाइट भी बंद कर नाईट लैंप जला लिया.

आयेशा ने मेरी तरफ देखा तो मैंने उसे इशारे से साइड में बुला लिया, वो आते ही बोली- यार रोहन अकेले में मुझसे मिलना चाहता है.दिल्ली की बीएफ पिक्चर: दो मोटे-मोटे लंड कोमल-गुलाबी गांड में अन्दर-बाहर होने लगे, और रूसी गुड़िया हल्की-हल्की कराहट के साथ दोनों लंडों को अपनी गांड में लेना शुरू हो गई.

एक साल तक तो मैं उसके स्टडी सेंटर पर जाता रहा, इसके बाद मैं उसके घर पर बनी क्लास मे जाने लगा जहाँ पर बैच टाइम सुबह 7:00 था.फ्लॉरा के दर्द की उस जालिम को कहाँ कुछ परवाह थी, वो तो बस मज़े लेने में लगा हुआ था.

সানি লিওন কা বিএফ - दिल्ली की बीएफ पिक्चर

पूरे कमरे में भूकम्प आ गया था। उसके धक्के बहुत जोरदार और गांड फाड़ू हो गए थे। मेरी गांड बुरी तरह रगड़ी जा रही थी.वो क्या है और मुझसे क्या नहीं होगा?टीना- हमारी पार्टी में बियर पीना, डांस करना, चुदाई करना ये सब होता है.

सारा बोझ निप्पल्स पर आ गया और ऐसा लगा कि निप्पल चूची से अलग हो जायेंगे. दिल्ली की बीएफ पिक्चर फिर उसने अचानक ऐसी बात बोली कि मेरे दिमाग ने काम करना बंद ही कर दिया, उसने मुझे कहा- एक बात कहूँ, बुरा तो नहीं मानोगे?मैंने कहा- हाँ बोल ना, क्या हुआ?उसने बोला- क्या तुम मुझे सिर्फ एक दोस्त ही मानते हो?यह बोलते हुए मुझे उसकी आँखों में वासना दिख रही थी.

मगर चुत बहुत टाइट थी और दर्द की वजह से फ्लॉरा नींद में भी चीख पड़ी.

दिल्ली की बीएफ पिक्चर?

मुँह में पर्फ्यूम छिड़का ताकि बदबू ना आए और पापा को छोड़ने चला गया। तब पता लगा कि साथ में पूजा के पापा भी जा रहे हैं मगर तब भी उसने कोई सवाल ना किया और उनको छोड़ कर जब वो वापस आ गया तो उसकी नज़र दीदी और पूजा पर पड़ी, जो साइड में आराम से सोफे पर बैठी हुई थीं।संजय- अरे दीदी, आप इस वक़्त यहाँ? सब ठीक तो है ना और पूजा तुम अभी तक जागी हो क्या बात है?शारदा- अरे मैं लेकर आई हूँ यहाँ. तो तुझे पता नहीं था। अब तू बड़ी हो गई है तब मज़ा आ रहा है और जोर से करूँ तो और मज़ा आएगा तुझे।पूजा- आह. मोना- नीतू तू ऐसे डर क्यों रही है? मैं तुझे ज़्यादा काम नहीं दूँगी और ना ही तुझे गुस्सा करूँगी.

मोना रानी के शब्द आरम्भप्रिय पाठक पाठिकाओं को मोना का सप्रेम नमस्कार!बहुत दिनों से मेरे दिमाग में एक कीड़ा घुस गया था जो मुझे बार बार बेचैन कर देता था. अब मुझसे बिल्कुल भी सहन नहीं हो रहा था तो मैं उसके आगे गिड़गिड़ाने लगी तो उसके चेहरे पर एक कमीनी हँसी आ गई, उसने एक झटके में अपना पूरा लंड मेरी चूत में उतार दिया. कुछ सीनियर्स को मेरी गोरी छरहरी बॉडी पसंद भी आ गई। पूछा भी गया कि क्या एक्सरसाइज करते हो।एक सीनियर तो रात को मुझे अपने कमरे में ले गए.

एक दो दिन में ऋषिका सहज हो गई, अब वो और रयान सुबह की चाय साथ पीने लगे. उसके बाद मैंने अपनी झांटों को कैंची से कुतर कर नाखून जितना कर लिया. वो मेरी साइड से गुजरता हुआ अपनी भारी सी गांड को अंदर की तरफ धकेलता हुआ अपनी सीट पर अंदर जाकर बैठ गया.

फिर गुस्से से बोलीं- जल्दी से मुझे चोद, अब रहा नहीं जा रहा है, सुन नहीं रहा है?फिर मैं मैडम के ऊपर आ गया, मैडम की चूची को मुँह में लेकर चूसने लगा, फिर मुझे नीचे धकेल कर कहा- अब जल्दी डाल इसे इसके घर में!मैडम मेरे लंड को पकड़ कर चूत में घुसाने की नाकाम कोशिश कर रही थीं. बस दीपा से मिलने आई थी।’आंटी ने ज्यादा बातें नहीं की और चुपचाप अपने घर वापस चली गईं।दूसरे दिन अंकल भी बड़े प्यार से बातें कर मस्का मार रहे थे। मैं उनके लंड को देख चुकी थी। अंकल को देखते ही मेरा मन मचल गया था। भले ही वो 2 बच्चे का बाप था.

यह कहानी मेरी एक दोस्त की है जिसको मैंने चोदा था, कैसे वो दोस्त बनी और कैसे मैंने उसको चोदा वो फिर कभी… अभी तो ये कहानी उसके रंडी बनने की कहानी है.

बस, मैंने आगे का दाव खेला और उसको बोला- देख मानसी, मैं ऐसा कुछ नहीं कर सकता.

??प्रेरणा ने मुस्कुराहट के साथ एक गहरी सांस ली और बताना शुरू किया:अरे यार. इसमें 10 भी हो तो बड़ी बात नहीं।मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं. मेरा हाथ अब पिंकी की छोटी सी योनि‌ पर था जो अभी तक प्रेमरस से भीगी हुई ही थी‌, पिंकी ने मेरे हाथ को अपनी योनि पर से हटाने की एक बार कोशिश तो की, मगर कामयाब नहीं हो‌ सकी‌।मैं अब उसकी कच्ची कुंवारी योनि को हथेली से सहला रहा था, मसल रहा था… मेरी उंगलियाँ भी योनि की दोनों फांकों के बीच योनिद्वार पर गोल गोल घूम रही थी तो कभी योनि की फांकों को सहला रही थी.

‘अंकल जी आप और कुछ तो नहीं करोगे न मेरे साथ में?’ उसने चिंतित स्वर में पूछा. मैंने मन में सोचा ये लड़कियाँ इतना भार अपने सीने पर संभालती कैसे हैं?अन्दर जाकर दोनों ने कपड़े बदल लिए और डिनर के टाइम पर दोनों आपस में बातें करती रही, फिर दोनों अपने रूम में चली गई. मैंने बाथरूम जाकर खुद को साफ किया मैंने वापिस आकर दारु की बोतल सीधे मुँह को लगाई और जब तक पेट में जलन नहीं हुई तब तक पीती गई.

रयान को तो डबल बेडरूम फ्लैट चाहिए था जिससे आज नहीं तो कल निष्ठा आ ही जाएगी वो आराम से रह सकें.

दोनों एक साथ झड़ गए, मॉंटी का पूरा रस सुमन की चूत पर फ़ैल गया, जिसे मॉंटी ने गौर से देखा. उस टाइम मैंने टाल दिया कि अभी वो लोग भी होली में व्यस्त होंगे इसलिए मैं शाम को उसके साथ यह बात छेड़ूँगी. तो सब को पता लग जाता समझी!पूजा- कैसे लगता मामू मेरे चिल्लाने से ना.

ये कहानी है मेरी दोस्त रुचिका, सुलेखा, नेहा, मनोज, अरमान और मेरी… रुचिका मनोज की गर्ल फ्रेंड है और मनोज उसे काफी समय से चोद रहा है, सुलेखा अरमान की पत्नी है और इनकी शादी को करीब दो साल हो चुके हैं, ये खुल कर सेक्स का मज़ा लेना चाहते हैं इसलिए इन्होंने अभी किसी बच्चे की प्लानिंग नहीं की है. जिसकी उम्र 25 साल की है और उसकी शादी तय हो चुकी है। उसका फिगर 36-32-36 का है, उसका रंग बिल्कुल गोरा है वो एकदम सेक्सी लगती है। उसको पहली नजर में कोई भी देखे तो उसका बस मेरी बहन को चोदने का मन करने लगे।ये बात उस छः साल पहले की है. थोड़ी देर बाद अँधेरे में अपनी आँखें जमाने के बाद मैंने देखा कि ऋतु अपनी चादर से बाहर निकल कर सो रही थी.

थोड़ी देर के बाद राजे ने करवट मेरी तरफ लेकर मेरा चेहरा प्यार से थाम लिया और फुसफुसाया- मोना रानी तूने बहुत मज़ा दिया चुदाई में… तू तो मेरी जान है मोनारानी… बहुत इश्क़ करता हूँ तेरे से!और फिर उसने मेरे होंठ चूम लिए.

अक्षिमा मेरे ऊपर एक चुदासी लड़की की तरह धीरे धीरे हिल रही थी, उसका एक हाथ बेड पकड़े हुआ था तो दूसरे हाथ से वो अपने सर को पकड़े थी और उसकी आँखें बंद थी, चेहरे के भाव बिल्कुल कामदेवी जैसे थे. मैंने देखा कई बार उसको अपना लंड एडजस्ट करते हुए… मैं समझ गई थी कि मेरा देवर अब मेरे बारे में सोचने लगा है।एक दिन जब मैं किचन में खाना बना रही थी तो देवर ने पीछे से आकर मुझे कस कर पकड़ लिया और मेरे गाल पर और कान पर किस करने लगा।मैं पागल हो गई मगर मुझे इतनी जल्दी नहीं ये सब करना था… नहीं तो देवर को शक हो सकता था.

दिल्ली की बीएफ पिक्चर उसे मजा आने लगा, वो मादक सिसकरियां भरने लगी, उसके चुचे सख्त हो गए थे. उनकी बात सुन कर मैं बोला- ठीक है चाची, आप जाकर अपने बाथरूम का पिछला दरवाज़ा खोल दो तब तक मैं इस कमरे को अन्दर से बंद करके मेरे बाथरूम के पीछे की सीढ़ियों से नीचे आता हूँ.

दिल्ली की बीएफ पिक्चर यह बोलते हुए उसने मेरी चड्डी अपने मुँह से खीच कर नीचे कर दी और बोली- वाह, सोचा नहीं था कि मेरे दोस्त के पास इतना अच्छा लंड होगा. ’ लंड अन्दर-बाहर कर रहा था। इधर वीरू भी उसके मुँह को चोदकर मज़ा ले रहा था। विक्की और साहिल दांए-बांए से उसके मम्मों का मज़ा ले रहे थे।कुछ ही मिनट में फ्लॉरा 2 बार झड़ गई.

उसको क्या खाक चोदूँगा। तुम शक कर रही हो ना अब बूढ़ी नहीं, जवान नहीं.

ब्लू में सेक्सी

तुझे एक ना एक दिन किसी से तो शादी करके चुदवाना ही होगा, तो मेरे से क्यों नहीं? तेरी माँ को तूने देखा था ना. मैंने कहा- तुम्हारी सहेली है ही इतनी पटाखा!यह सुनकर ऋतु जल उठी और मुझे नीचे धक्का देकर मेरे ऊपर आ गई और जोर जोर से मेरे लंड के ऊपर कूदने लगी. मैंने देखा कि चाची की आंखें बंद थी, मैंने अपने पैन्ट की चेन खोल कर लंड बाहर निकाल लिया और चाची के हाथ में सटा दिया.

तो वो बस उसको देखता जा रहा था और उसका लौड़ा अपने आप तन कर पूजा की बुर को सलामी दे रहा था. हैलो दोस्तो, अन्तर्वासना के सभी पाठकों मेरा नमस्कार, मेरा नाम रौशन है और मैं छपरा (बिहार) का रहने वाला हूँ. मॉंटी वहीं सुमन के सामने बैठ गया उसने बरमूडा पहना हुआ था और शायद अन्दर कुछ नहीं पहना था.

तभी मैंने एक तगड़े झटके से एक बार में ही अपना पूरा अन्दर लंड दीदी की चुत में पेल दिया.

पी ले मेरा पानी मेरी रांड, आज से तू मेरी कुतिया बन के रहेगी, पूरा पानी पी जा कुतिया, ले मेरा छूटा!और इसके साथ ही उसने मेरा मुँह उसके वीर्य से भर दिया, इतना कि मैं उसे पूरा भी निगल नहीं पाई. बातों बातों में उसने बताया कि फ़ोन पर बॉयफ्रेंड से बात करते करते वो गर्म हो गई थी तो उसने मेरे साथ सेक्स किया. पूजा- हाँ मामू मैंने भी गौर किया ये… और मेरे स्कूल के लड़के भी मुझे अब घूरने लगे हैं, पता है एक क्या बोला?संजय- क्या बोला बता तो मुझे भी?पूजा- वो बोला देख तो यार दिन पे दिन ये तो खिलती ही जा रही है.

मेरे पापा मम्मी को शायद इस बात की भनक पड़ गई और इसी चिंता को लेकर उन्होंने मेरी शादी करवा दी. डॉक्टर बोली- मेरी तो पिछले तीन साल की कसर निकल गई और मैं अब तुमसे एक महीना नहीं चुदुंगी. तब मेरा एक हाथ उसकी चूची पर आ गया था, एकदम नरम और ऐसी कि हथेली में समा ही नहीं रही थी.

5-7 मिनट बाद जब मेरा मस्ताना अकड़ से दर्द करने लगा तो मैंने रफीक को आगे झुकाया और पीछे से उसे चोदने लगा और फिर बिना लण्ड निकाले उसको घोड़ी बना के उसकी गांड चोदन लगा और रफीक को बेड के कोने पर खिसका लिया और चोदने लगा. आप जैसा कहोगे मैं वैसा ही करूँगी।तभी भैया ने अपने लंड की पिचकारी मारते हुए अपने लंड का रस मेरे मुँह में ही छोड़ दिया और मैंने भैया का सारा रस पी लिया। मुझे अच्छा तो नहीं लगा मगर मैं सारा लंड रस पी गई।भैया अब निढाल होकर मेरे ही ऊपर गिर पड़े.

मैं मना करती रही पर आकाश माना ही नहीं और फिर हम दोनों ने किस किया और मैं अपने घर आ गई!घर आकर शाम को मेरे पति के आते ही मैंने सारी बात उन्हें बता दी तो वो मुझे बोलने लगे- तुम्हारे तो मजे हैं, पैसे भी और चुदाई भी… पर मुझे तुम्हारी चुदाई देखनी है हर बार की तरह. ’‘तो आज तुम्हारे घर चलें, वहीं पर मस्ती करेंगे… मेघा भी शायद एन्जॉय कर रही है. अब लड़के ने लड़की के सूट के नीचे से हाथ उसकी छाती की तरफ बढ़ा दिया और उसकी ब्रा के ऊपर से उसके चूचों को मसलने लगा.

अब वो उठ कर पास के रूम से तेल की शीशी ले आया और मेरी बहन की चुत पर थोड़ा सा तेल डाल कर उंगली चलाई.

पूजा ने मेरे लंड को पूरा बाहर निकाला और अपना मुंह खोलकर लंड को जोर से हिलाने लगी. रोहित काफी उत्तेजित हो गया, उसने भी अपने हाथों से मेरी चूचियों को उमेठना शुरू कर दिया. आज तो मेरे लंड को पूरी रात चुत चोदने को मिलेगी उहह उहह अभी तो एक नई चुत भी चोदनी है आह.

पतिव्रता बीवी की चुदाई गैर मर्द से करवाने की तमन्ना-3अब तक आपने मेरी इस बीवी की चुदाई सेक्स स्टोरी में पढ़ा कि मैं अपनी सेक्सी देसी बीवी को एक बूढ़े से चुदवाने की सोचने लगा था और मुझे मेरे ऑफिस के एक बुजुर्ग कर्मी गुप्ता जी का ख्याल आया, जो मेरे ऑफिस में सहायक अभियंता के पद पर हैं।अब आगे. वो भी मुझे देखकर कभी-कभी हंस दिया करती थीं। इस सब से मुझे लगता था कि ये लोग मेरा मुँह देखकर हंस रही हैं क्योंकि मैं चूतिया सा लगता था ना.

फिर मुझे भी वापस दुकान जाना है।मेरे प्रिय पाठको, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं. रफीक अपने होंठों पर जीभ फिराते हुए बोला- अब आ ही गई हो सबीना तो शर्माना छोड़ो और आओ मजे लो, मुझे पता है तुम बहुत तड़प रही हो और मैं भी तड़प रहा हूँ तेरी रसीली के लिए, राजेश भाई रुको थोड़ी देर और अपना मस्ताना निकालो पहले बहन को लिटा लूँ फिर तुम बहना को मेरी गांड चुदाई दिखाना. रह तू अकेली यहाँ मोहाली में!मानसी- नहीं रे जस्सी, मेरा वो मतलब नहीं था.

क्सक्स बफ हिंदी में

दीदी की चूचियाँ देखते ही मेरा लंड तो मानो लोहे की रॉड की तरह खड़ा हो गया.

मैंने कहा- ये कब से कर रही हो?मॉम- जब मैं 18 साल की थी।मैं- मतलब पापा को भी बेवकूफ बनाया?मॉम- तेरा बाप था ही हिजड़ा… पहली रात ही उसका राज खुल गया था और उसने मुझे पूरी आजादी दे दी थी।मैं- फिर मैं कैसे पैदा हुआ?मॉम- तू मेरे बॉयफ्रेंड का बेटा है।अब मैं रोने लगा. मैं अकेले में उसे गर्लफ्रेंड ही कहता था जैसे- हेलो गर्लफ्रेंड! कैसी हो?फिर एक दिन मैंने मौका देख कर गर्लफ्रेंड के गालों की एक चुम्मी ले ली और वो भागते हुए बाहर चली गई. फिर तो जैसे मुझे कोई नशा सा चढ़ गया, मैं अपनी पूरी जीभ सेअपनी बहन की बुरकिसी आइसक्रीम की तरह चाटने लगा.

मैं कॉमर्स का छात्र हूँ और कॉलेज हॉस्टल में रहता हूँ जो दूसरे शहर में है. उसकी बात सुन कर मैंने कहा- अम्मा, तुम जैसा ठीक समझो वैसा ही प्रबंध कर दो. x वीडियो मूवीऔर रिश्ते में मेरी मॉम के दूर के भाई लगते हैं। मेरी मॉम और मामाजी एक-दूसरे को भाई और बहन कह कर बुलाते हैं। हर राखी के त्यौहार पर मेरी मॉम मामाजी को राखी बांधती थीं, अब नहीं बांधती.

इनको मैंने दो-तीन बार खाने के समय देखा भी था… हाँ ये वहीं लड़के हैं… मुझे याद आ गया. उसके दर्द को देखकर मैं कुछ देर के लिए रुका और कहा- बाबू प्लीज थोड़ा सा बर्दाश्त कर लो, बाद में बहुत अच्छा लगेगा.

मैं जमीला की चुचियों में मुँह देकर और जमीला मेरा मस्ताना पकड़ कर सो गए. क्या कर रहा है?’ भाभी सिसियाईं।मैं- तुमने ही तो चोदने को कहा।भाभी मदहोशी से मेरे होंठों को चूमने लगीं। मेरे सीने के नीचे उनके बोबे बुरी तरह से दबे हुए थे। ये सब बहुत ही शानदार आनन्द था।भाभी- चुदाई के समय लंड-चुत, चुदाई, चोदना, गांड. उसने वीडियो देखा तो वो मुझे गाली देने लगी और वीडियो डिलीट करने को कहा.

उसको क्या खाक चोदूँगा। तुम शक कर रही हो ना अब बूढ़ी नहीं, जवान नहीं. उसके जघन-स्थल के बाल बिल्कुल रेशम की तरह मुलायम थे और उसकी योनि डबल रोटी जैसे फूली हुई थी तथा उसका भगांकुर एक मटर के दाने जितना मोटा था. उनके दोनों हाथ मेरी कमर और मेरे काले घने रेशमी बालों में घूम रहे थे.

वह एक छोटा सा गाँव था… जब मैंने गाँव के बाहर से उसे कॉल किया कि मैं तेरे गाँव आ गया हूँ.

कोई तकलीफ तो नहीं?मैंने कुछ नहीं कहा।फिर बोला- थोड़ा तेज करूं?उसने धक्कों की स्पीड और पावर बढ़ा दी और फिर धक्के और जोरदार धक्कों में बदल गए। मैं इतना पुराना गांड मराने वाला था. रास्ते में अक्षिमा ने बताया कि उसके होस्टल में रात 10 बजे बात प्रवेश नहीं दिया जाता तो उसको जाना होगा.

अब मेरी चूत में जलन होने लगी तो मैंने यह बात रोहन को बताई तो उसने मेरी चूत से लंड निकाल लिया और मेरी गांड में डाल दिया. मेरे साथ ही मनोज भी सुलेखा को घोड़ी बना कर चोद रहा था, अरमान भी नेहा की चूत को चोदने में व्यस्त था. गौरव का लंड गोरा था मोटाई लगभग ढाई इंच रही होगी, सुपारा लंड की मोटाई से बहुत ज्यादा नहीं था, पर सुपारा बहुत लंबी दूरी तक फैला था, पर उस साले का लंड साफ नहीं था, उसके सुपारे के कोने में सफेद-सफेद लंड का ही मैल जमा था और कुछ बूँदें वीर्य की थी लेकिन पेशाब की गंध के अलावा पसीने की भी गंध आ रही थी.

शादी से पहले मुझे मेरे चचेरे भाई ने मुझे बहुत चोदा, मुझे भी अपने भाई से चुदे बिना चैन ही नहीं आता था, रोज़ की ही आदत सी पड़ गई थी. पर अब बताऊं तो उनका फिगर 34-30-36 का था। कुल मिला कर वो सेक्सी व आकर्षित करने वाली माल थीं। उनके एक 3 महीने का लड़का भी था।जैसा मैंने बताया कि मैं रवि के साथ ही खेलता था. कॉम पर यह मेरी पहली फैमिली सेक्स स्टोरी है जिसमें मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपने मामा की बेटी को उसकी शादी के कुछ दिन पहले चोदा.

दिल्ली की बीएफ पिक्चर बॉस 6’1″ से ज्यादा ऊँचा बहुत ही आकर्षक युवक था, उम्र अधिक से अधिक 28 साल होगी. मोना- अच्छा कितने साल की है और दिखने में कैसी है? गोपाल को पसंद तो आ जाएगी ना वो लड़की.

साउथ इंडियन ओपन सेक्स वीडियो

’ और मैंने लाइट जला ली क्योंकि इससे पहले जितनी बार लड़की चोदी है रोशनी में ही चोदी. करीब दस मिनट के बाद दूध वाले ने लंड का रस मेरे मुँह में छोड़ दिया और मैं उसे पी गई. कुछ देर तक होंठों एवम् जीभ के इस आदान प्रदान के बाद मैंने माला को अपनी बाजुओं में उठा कर अपने कमरे में ले जा कर बिस्तर पर लिटा कर पास में लेट गया.

तीसरी उससे बिल्कुल विपरीत दुबली पतली और चुचे ना के बराबर पर उसके कूल्हे काफी भरे हुए और गुदाज दिख रहे थे. पढ़ाई से थक जाते तो घूमते-फिरते मस्ती करते, असल में कैरियर के टेंशन का सबसे बड़ा टेंशन एक्जाम ही रहता था। चूमा-चाटी लपटना आदि सब नॉर्मल था. नई सेक्सी ब्लू फिल्मतब मैंने माला की चूचुक को मुंह में ले कर चूसने लगा और अपने हाथ की बड़ी उँगली को उसकी योनि में डाल कर अंदर बाहर करने लगा.

अब जिस काम के लिए मुझे बुलाया है वो तो मुझे ठीक से करने दो न… देखो स्नेहा, अगर तुम ठीक से कोआपरेट करोगी तो सब कुछ अच्छे से होगा, तुम्हें भी अच्छा लगेगा और मुझे भी.

तब चाची मेरे ऊपर आ गई और मेरे लिंग को अपनी योनि के अंदर डाल कर उछल उछल कर संसर्ग करने लगी. यह कह कर वो मुझे किस करने लगा तब मैंने उससे कहा- छोड़ो यार, कोई देख लेगा.

हेलो फ्रेंड्स, मेरा नाम शीला है, मैं चौबीस साल की एक लड़की हूँ, एक सुन्दर जवान लड़की!आज मैं आपको अपनी जिन्दगी की एक कहानी बताने जा रही हूँ जो एकदम सच्ची है और मेरी जिन्दगी में एक अहम् कहानी है. मेरे और मनोज का मुंह आमने सामने था, मनोज ने मुझे हाथ से इशारा किया तो मैंने भी उसे वैसा ही इशारा कर दिया. इस पर मरियम बोली कि उसकी एक बार और लंड को चूत में लेने की इच्छा हो रही है और वो चाहती है कि इस बार भी सुधा साथ रहे.

वो भी उसके मजे लेने लगी, वो पहले से ही उत्तेजित थी तो झड़ने में ज्यादा वक़्त नहीं लगा.

’ की आवाज़ निकालते हुए मज़े ले रही थी। मैं उसके गले से होते हुए कानों के इर्द-गिर्द किस करना शुरू किया और हाथों से उसे और जोरों से दबोच लिया। अब उसकी चूचियां मेरे सीने से रगड़ खा रही थीं। प्रिया भी गर्म हो चुकी थी, वो भी खुद से मेरे सीने में अपने मम्मे दबाने लगी।इस बीच प्रिया ने अपने दोनों पैरों से मेरे कमर को जकड़ लिया। उससे हुआ यूँ कि मेरा लंड जो तन कर जीन्स से बाहर आने को तैयार था. अब भी ऐसे ही बैठूंगी। आप मेरे प्यारे मामू हो ना।संजय- अरे उस टाइम तू छोटी थी अब मोटी हो गई है हा हा हा हा. थोड़ी देर में ही दरवाजे की बेल बजी और मैं भाग कर गया, दरवाजा खोला तो ऋतु अपनी सहेली पूजा के साथ खड़ी थी.

बफ हिंदी मूवीकुछ सेकेन्ड बाद लड़की ने अपनी सलवार की गांठ खोल दी और लड़के ने उसकी सलवार में हाथ डाल दिया. पापा 5 साल पहले एक दुर्घटना में मर चुके थे। मेरी मॉम एक ब्यूटी पारलर पर जॉब करती थी पर मॉम ने कभी मुझे एक बाप तरह प्यार किया।अब असली कहानी पर आते हैं दोस्तो!हम सब दोस्त एग्जाम की टेंशन में थे.

सुहागरात वाली सेक्सी फिल्म

किसी तरह मैंने खुद को संभाला और उठकर चला तो चक्कर आ गया, एक-एक कदम चलना जैसे घायल गांड में जैसे नमक छिड़के जाने का अहसास करा रहा था. उसके बाद वह दादा जी और दादी जी के कमरे में चली गई और मैं अपने कमरे में जा कर अपने सभी कपड़े उतार कर नग्न ही बिस्तर पर लेट गया. सही है आप ही बताओगे।मोना को इतना बौखलाया देख कर काका भी टेंशन में आ गए। वो समझ गए जरूर कोई बड़ी बात है.

मैंने कहा- हरामज़ादी चुदक्कड़ रांड, तू तो बाईस सालों से चोद रही है उसको और इससे ज़्यादा खुल के चुदाई क्या बहनचोद बीच बाजार में करेगी?तो रेखा ने कहा- नहीं मोना, अब तक तो मैं छिप छिप के चुदा करती थी. फिर रफीक बोला- भाई राजेश, तुम मेरे और मोहन के गेस्ट हो इसलिए बोलो जमीला को कैसे चोदोगे?मैं बोला- भाई, मैं जमीला को योगिराज की सवारी करवाऊंगा और घोड़ी बना के शावर के नीचे चोदूँगा।फिर उधर रफीक जमीला को चोदने लगा और जमीला बोलने लगी- हय राजेश, ऐसे ही चोदो अपने योगिराज से!इधर मैं कोमल को घोड़ी बना कर चोद रहा था. अनु आंटी के बारे में क्या बताऊँ… 40 की उम्र है पर आज भी 30 की लगती है, उसका फिगर साईज 34-28-36 उसके मम्मे मानो सांचे में ढाल कर बनाये गये हों, एकदम गोल गोल और बड़े कि एक हाथ में तो समाये ही ना.

उसे मजा आने लगा, वो मादक सिसकरियां भरने लगी, उसके चुचे सख्त हो गए थे. करीब दस मिनट के बाद दूध वाले ने लंड का रस मेरे मुँह में छोड़ दिया और मैं उसे पी गई. अब हमने पोज बदलने का फैसला किया, एंड्रयू ने रशीयन रंडी की गर्दन जकड़ कर अपना लौड़ा गांड से निकाल, नर्म चूत में शिफ्ट कर दिया.

उसने मेरा माथा चूमा और कहा- यह बहुत लंबा विषय है, इसके बारे में जितना बताऊंगी उतना कम है, अभी तो मैंने तुम्हें तुम्हारी उम्र के हिसाब से मोटी-मोटी बात ही बताई हैं। और तुझे भी तो प्रेरणा के यहाँ जाना है ना, देख ग्यारह बज रहे हैं।अब मुझे समय का ध्यान आया मैं ‘ओह. मैंने कुछ सेकेन्ड्स बाद देखा तो लड़की ने उसके लंड पर हाथ रखा हुआ है और लड़के की टांगें पहले की अपेक्षा थोड़ी फैल गईं थी और हवस के कारण उसके होंठ खुले हुए थे.

उसने मुझे फिर बिस्तर पे लेकर दो बार और चोद दिया और हम दोनों वहीं बिस्तर पर एक दूसरे की बाहों में सो गए.

मेरा तो लंड खड़ा हो रहा है। भाभी की एकदम सांचे में ढली हुई 38-30-38 की नशीली फिगर थी।फिर मैं भाभी के पूरे शरीर को चूमने चाटने लगा। भाभी भी काफ़ी हॉट हुई जा रही थीं।मैंने भाभी को उल्टा लेटाया और पास रखी आयिल की शीशी से तेल निकाल कर उनकी पीठ पर डाल दिया. आदिवासी एक्सवो एक अमीर माँ-बाप की बिगड़ी हुई औलाद थी और जिद करके हॉस्टल में आई थी; क्योंकि जब वो घर पर थी तो उसके माँ-बाप ने उस पर तमाम पाबंदियाँ लगा रखी थी. मारवाडी xxxक्या बात हुई तुम लोगों के बीच में?रोहन ने कहा- मम्मी मैंने उससे बातों में पूछा कि तूने कभी किसी नंगी औरत या नंगी लड़की को देखा है. मुझे चाची के होंठों में व्यस्त हुए अभी पाँच मिनट ही हुए थे जब उन्होंने मेरे एक हाथ को पकड़ कर अपने एक स्तन और दूसरे हाथ को अपने जघन-स्थल पर रख दिया.

प्रिय अन्तर्वासना के पाठको, मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सी सेक्सी कहानी पढ़ी हैं, कुछ अच्छी भी लगी और कुछ काल्पनिक…लेकिन दोस्तो, मेरी यह कहानी बिल्कुल सच है, यह मेरी पहली कहानी है, अगर कोई लिखने में कोई गलती हो जाए तो माफ करना!मेरा नाम नदीम है, मैं मुम्बई का रहने वाला हूँ, मेरे लंड का साइज़ 6.

लेकिन गौरव को रोक कर विकास मेरी गांड फाड़ने आगे बढ़ गया, मैं डर के मारे गिड़गिड़ा उठी- नहीं विकास, प्लीज तुम नहीं. अब आप जान ही गए कि चुदक्कड़ तो मैं पहले से ही थी लेकिन शादी के बाद बहुत बंधन हो गया. इस तल पर तो तुम्हारे मम्मी-पापा और बुआ के कमरे है, उनमें से कोई भी जाग गया तो हम परेशानी में पड़ सकते हैं.

अरमान थोड़ा आगे को हुआ और उसने नेहा को पहले जैसी पोजिशन में किया तो नेहा ने अब अरमान का केक लगा लंड अपने मुंह में ले लिया. उस रात आप बिना कपड़ों के मेरी लूली से खेल रही थीं ना? आपको क्या लगता है ऐसे में कोई सो सकता है. उसके बाद दोनों ने अच्छी तरह से लंच किया और टीवी के सामने बैठे एक-दूसरे को देख कर मुस्कुराने लगे।गोपाल- क्यों जानेमन, अब क्या इरादा है.

देसी अश्लील

गुलशन- क्यों मेरी रानी बहुत जल्दी झड़ गई ना तू… मज़ा आया तुझे?अनिता- आपका हमला ही इतना ख़तरनाक था. आधा एक ही झटके में अंदर… उफ्फ… एकदम से मुझे शॉक लगा और मैं कसमसा गई. जमीला ने सबीना की चूत पर किस किया और उसको अपने भाई के साथ मजा लेने की इजाजत देके खुद बेड पर ऐसे लिटा दिया कि उसका मुंह बेड के किनारे पर… अब रफीक सबीना के ऊपर लेट गया 69 में और उसको तसल्ली नहीं हुई उसने सीधा अपना मुँह सबीना की रसीली चूत पर टिकाया जो पहले ही पनिया रही थी, उसको चाटा और नमकीन चूत रस का आनन्द लिया.

बुरा मत मानना जब तू तेरे पापा से चिपकी तो उनका लंड खड़ा हुआ था या नहीं?टीना की बात सुनकर सुमन को वो पल याद आ गया, जब उसके पापा का लंड उसकी नाभि में चुभा था और फिर उसने लुंगी में बना हुआ तंबू भी देखा था.

जब हम दोनों ही बहुत उत्तेजित हो गए तब चाची बिस्तर पर सीधी लेट गई और अपनी टांगें फैला कर मुझे उसके साथ संसर्ग करने का न्योता दे दिया.

बाद में हम दोनों साथ में रेस्ट करेंगे।पूजा खुश हो गई और संजय उसको सच्चे मन से पढ़ाने लगा। उसने सोचा अभी कोई बुरा ख्याल नहीं. सबकी आंख बचा के साड़ी का पल्लू गिरा देती, अपनी गर्दन को सहलाती या बालों को झटका देकर पीछे को करती. पंजाबी नंगी सेक्समैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डाली और उसे चूसना शुरू कर दिया और जल्दी ही उसका रस बहकर मेरे मुंह में आने लगा और वो हल्के से चिल्ला कर झड़ने लगी.

गुलशन- बड़ी तेज हो गई है तू आज तुझे मैं चोद कर अपनी रानी बना लूँगा. और कुछ दिन ऐसे ही गुज़र गए।एक दिन मैं छत पर बने अपने रूम में सोकर देर से उठा. बताती हूँ।भाभी थोड़ी देर में छत पर आईं। उनके छत पर कपड़े सूख रहे थे तो हम दोनों ने वहीं चेयर्स पर बैठ कर बात शुरू की। भाभी ने बताया कि भैया भाभी दोनों हॉस्पिटल में हैं और घर पर वो अकेली हैं।मैंने पूछा- तो रात को मिलूँ?उन्होंने स्माइल दी.

दोस्तो, भाभी के मुख से वो जोश भरी बातें सुन कर मैं बहुत गर्म हो गई थी और तभी उन्होंने मुझसे बोला कि मैं एक बार उन्हें अपनी चूत दिखाऊँ. भाड़ में गई कसम… मैं वापस लेती हूँ अपनी कसम… भगवान् से माफ़ी मांग लूंगी.

उसका लंड मुझे ऐसे महसूस होने लगा कि जैसे पायजामे से बाहर हो मुझे बहुत मजा आने लगा था.

जैसे उनको शहद का मज़ा मिल रहा हो।आंटी ने लंड को चाट-चाट कर पूरा चिकना कर दिया और मुझे किस करके बोलीं- तूने तो आज बहुत मज़ा दिया साहिल!मैं बोला- मज़ा तो आपने मुझे दिया थैंक्स आंटी।उसके बाद हम अपनी-अपनी जगह पर जाकर सो गए।तब से दोबारा कोई और आंटी नहीं मिलीं. मुझे लगा कि मामा मेरी चूत तो अभी ज़रूर चाटेंगे और रात की चुदाई का मामा के लंड और मेरी चूत का रस तो मेरी चूत में ही लगा होगा, मैंने सोचा कि मैं अपनी चूत धोकर आती हूँ, मैं मामा से बोली- मैं आती हूँ थोड़ी देर में!तो मामा बोले- मुझे चुदाई करनी है, अभी मत जाओ. रियल में हम दोनों कोमल को चोद रहे थे और रफीक जमीला को चोद रहा था।25-30 मिनट चुदाई करके सब सुस्ताने लगे तो जमीला ने मुझ से कहा- आपको मेरी चुदक्कड़ चूत की कसम, कोमल दीदी के यहाँ से मेरे पास ही आना हमारे यहाँ आप 3 दिन रुकोगे ये आपकी जमीला रंडी का आपको आदेश है!और हंसने लगी.

सनी लियोन सेक्सी एक्स एक्स इतनी बात सुन कर तो मेरी हवा सरक गई, मेरी गांड फट गई… दिमाग ने काम करना बंद कर दिया. मुझे क्या हुआ है जो आप गोली दे रहे हो?जॉन- अरे बेबी तुम बारिश में भीगी थी.

चलो एक काम करते हैं, मैं जाकर उससे पूछती हूँ कि क्या वो हमारे सामने मुठ मारने को तैयार है और उसके बदले में क्या चाहिए. मैंने देखा कि वो दोनों उठ चुकी हैं और दोनों के मुंह एक दूसरी की चूत में चिपके हुए हैं. जब रयान ने उनसे कहा कि इतनी बड़े मकान का वो क्या करेगा, तो मकान मालिक ने जो बुजुर्ग थे, कहा- चलो तुम किराया कुछ कम दे दो.

मराठी हिंदी बीपी

’ की आवाज आई और मैं रो पड़ी। उन्होंने मुझे अपने सीने से लगाए रखा और धीरे-धीरे प्यार से हाथ मेरे पीठ को सहलाने लगे। सामने कूलर की हवा भी आज गर्म करने लगी। मैं पसीने से तर होती गई और वो वैसे ही लंड को अन्दर डाले रहे।करीब 5 मिनट बाद मैं शांत हुई. गुलशन- सुनो अनिता, मैं कल सुबह 11 बजे आऊंगा, तब तक तुम अपना फैसला मुझे बता देना. कुछ समय पहले मोना रानी ने एक ऐसा कारनामा अंजाम दिया जिसका विवरण पढ़ के आप लोग हैरान रह जायेंगे.

मैं दबे पांव उसके रूम में गया और उसके बेड के किनारे जाकर खड़ा हो गया. जैसे साँचे में ढाल कर बनाए गए हों और उसके मम्मों पर एकदम छोटे हल्के भूरे रंग के निप्पल जैसे कोई बटन टंके हों.

उसकी बात सुनकर मुझे बहुत ख़ुशी हुई कि चलो उसके साथ कुछ तो अच्छा हुआ.

और मेरा लंड उसकी पेंटी के ऊपर से उसकी चुत को टच करने लगा था।सच में मुझे तो बहुत मजा आ रहा था, मैंने उसकी पीठ सहलाते हुए उसकी ब्रा के हुक खोल दिए. वो दोनों मेरे लंड को बाँसुरी की तरह बजा रही थी और मेरे लंड को अपने मुंह में रखकर दोनों ने फ्रेंच किस करना शुरू कर दिया. फिर मैं चाची के कान के पास जा कर धीरे से बोला- जान अब ठीक है?चाची बोली- बस अशोक बस! अब बस करो! निकाल लो इसे! बहुत दर्द हो रहा है.

हम दोनों की उत्तेजना बढ़ती ही जा रही थी और ऐसा लग रहा था कि किसी भी पल मेरे लौड़े से गरम लावा निकल पड़ेगा. आपका तो मेरे गर्भाशय के अंदर भी घुस गया है तभी तो बहुत ज्यादा दर्द हो रहा है. मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और जब मैं झड़ने वाला था तो थोड़ा सा घूम कर अलमारी की तरफ हो गया और खड़े होकर अपनी धारें मारनी शुरू कर दी.

रयान ने उसका हाथ पकड़ लिया और उसे प्यार से बेड पर बिठाया और चाय देते हुए बोला- गलती मेरी थी!ऋषिका मस्त लड़की थी, बोली- चलो हिसाब बराबर…दोनों ने हंसते हुए चाय पी.

दिल्ली की बीएफ पिक्चर: दो मिनट बाद मैं अन्दर उसके सामने आकर मुट्ठी मारने लगा। वो ये देखकर हैरान रह गई और गरम हो गई।वो मेरे लंड के पास आई. उस दिन से तो हम सेक्स करने का मौका ढूढ़ने लगे, पर उसके टीचर होने की वजह से उसको छुट्टी नहीं मिल रही थी.

बताओ कि क्या करूँ?मैडम ने तुरन्त जवाब दिया- मेरी चूत में ही झड़ जा!मैं पूरी ताकत से धक्के लगाने लगा और फिर जोर से मैडम को पकड़ लिया और एकदम से झड़ गया ‘हाई… ई… उम्म… मीरा मेरी डार्लिंग … आई लव यू…’ और मैं उनके ऊपर ही ढेर हो गया. भाभी की बहन के साथ ये अगली चुदाई कैसे हुई, वो फ्री सेक्स स्टोरी में अगली बार लिखूंगा. उसने खुद ही अपनी दोनों टाँगें खोली और मेरे लुल्ले को पकड़ कर अपनी दोनों टाँगों के बीच में रखा.

मैंने सिलसिला आगे बढ़ाते हुए पूछा- क्या पहना है तूने?मानसी- नाईट सूट.

तब तक संदीप जाकर दारू पीने लगा… गांड पर हाथ फिरा रहा रहे दोस्त से संदीप ने पूछा- क्यों जग्गी, कैसी है इसकी गांड?जग्गी बोला- बहुत नर्म है साले की, चोदते हुए मज़ा आएगा. सुमन आ रही है वो सुन लेगी।अनीता- हाँ मेरी बातें तो आपको बकवास ही लगेंगी ना, अच्छा मैं चलती हूँ, मुझे तो नई ब्रा लेनी है, आप जाओ अपनी प्यारी बेटी के साथ।गुलशन- रूको तुम सही कह रही हो, सुमन को भी नई ब्रा-पेंटी ले लेनी चाहिए। मैं पानी लेकर वहाँ खड़ा हो जाऊंगा, तुम उसको साथ ले जाना और जो चाहिए उसको दिला देना।अनीता- ये हुई ना बात. फोन के बाद सुमित सोच में डूब गया, कहने लगा कि ये तो हरामज़ादा मेरे पीछे से भी तुझे चोदने की बात कह रहा है.