बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स बीएफ नंगी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन फॅमिली सेक्स: बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ, पूरे गलियारे में सन्नाटा पसरा हुआ था, किसी के कमरे से आवाज़ नहीं आ रही थी.

बिहार का बीएफ दिखाइए

वो अपनी साड़ी को हमेशा अपनी कमर से थोड़ा नीचे पहनती है और वो साड़ी भी हमेशा ज्यादातर जालीदार होती है तो उसके टाइट बूब्स हमेशा उनके बड़े गले से बाहर की तरफ आए हुए होते थे!एक दिन मेरी मम्मी ने मुझसे चाची के घर पर जाकर दही लाने के लिए कहा. देसी बीएफ सेक्सी देसी बीएफमम्मी ने मुझसे कहा था कि पहले चाचा के घर चले जाना, फिर वहां से रात को शादी में इकट्ठे एक साथ चले जाना.

अब बाहर सिर्फ़ तीन लोग बचे थे, मैं, मेरा दोस्त और रमेश … उसने बोतल की बची हुई ड्रिंक भी ख़त्म की. गांव की देहाती बीएफ हिंदीनेहा पूरी तरह से उत्तेजित थी और उसकी चुत की दीवारें भी कामरस से भीगकर बिल्कुल की चिकनी हो रखी थीं.

सबने मेरे बारे में पूछा कि ये हैंडसम जवान लौंडा कौन है? क्या बॉडी है साले की …और वे सब इसी तरह की बातें करते हुए मेरी शर्ट के अन्दर हाथ डाल कर मेरे सीने पर हाथ फिराने लगीं.बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ: वो मेरी चूत को कभी कभी धीरे धीरे चोद रहा था, तो कभी कभी मेरी चूत को चाट रहा था, जो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

अपने पति यानि तेरे चाचा के अलावा किसी और से सेक्स नहीं किया है, ना कभी ऐसा सोचा था.कौशल्या भी 6-7 बार अह अह के बाद एक जोर से आहह करती … अब उसका दर्द मजे में बदलने लगा था.

भोजपुरी बीएफ पिक्चर सेक्सी - बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ

पर अभी मुझे जगत ने और छत्तू ने कान में बताया कि थोड़ा सा तुझको टेस्ट कर लेना कि तू कैसी है.इसके बाद दो ड्राइवर मुझे चोदने के लिए मेरे साथ एक अलग कमरे में आ गए.

ये मुझे थोड़ा अजीब लगा, पर मैंने सोचा जाने दो, सबकी अपनी अपनी जिंन्दगी है … अपना अपना स्वाद है. बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ चाचा का रूम छोटा था, एक बेड पर बड़े चाचा चाची और मैं रज़ाई ओढ़के लेट गए और बगल में पड़े एक सोफे पर सुनीता चाची अकेले कंबल ओढ़ कर लेट गईं.

मैंने अपना बैग तैयार किया, उसमें दो ड्रेस रख लीं और जरूरी सामान रख लिया.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ?

थोड़ीदेरपहलेजिसकश्मकशमेंसलोनी थी, अबवोउससेवोबाहरआचुकीथी और किसीनिर्णयपरपहुंचचुकीथी. श्श्शशश … आआह्ह्ह …” की जोर‌ जोर से सिसकरियां भरते हुए अपनी कमर को भी जल्दी जल्दी ऊपर नीचे करने लगी. फिर मैंने सुमन को उस प्लास्टिक के लण्ड से काफी देर तक चोदा और साथ में ही सुमन की चूत को धीरे-धीरे चाटना शुरू किया.

तभी मैंने देखा कि उसकी पहली चूची, जिसको मैं अब तक चूस रहा था, उसका निप्पल बिल्कुल लाल हो गया था. कोई दस मिनट उसको चोदने के बाद वो ज़ोर ज़ोर से बोलने लगी और मुझे खींच कर चिपकाने लगी, उसके नाखून मेरी पीठ में चुभ रहे थे. फिर मैंने उसे बेड पर इस पोजीशन में लिटाया कि उसका सिर मेरी तरफ और पैर दूसरी तरफ थे.

अब इधर उधर की बात करते करते मैंने बोला- आप भी बहुत सेक्सी दिख रही थीं. मेरी सांसें बहुत तेज हो गयी थीं, शायद बहुत दिनों बाद बदन को रगड़वाने वाली जो थी इसलिये. मैं उस पल को एहसास को कभी नहीं भूलना चाहता जब मैंने धीरे धीरे अपने लंड को आंटी की चूत की गहराई में उतारा था; मानो मैंने लंड चूत में नहीं किसी गर्म भट्टी में झोंक दिया हो!जैसे ही मैंने लंड अंदर किया, एक आह चाची के मुख से निकली जिसमें सुकून भरा दर्द था.

मैंने उसे बताया कि पूजा को मिरज से लाने जाना है … और हम दोनों ही उसे लेने जाएंगे. अब मैंने उनकी गांड के नीचे एक तकिया लगाया और उनके दोनों पैरों को फैला दिया.

इन दो घंटों में हेमा भाभी मुझे कई बार अपने छोटे मोटे काम के बहाने अपने घर नीचे बुला लेती थी.

मेरी फैंटेसी भी पूरी हो रही थी और साथ ही उसकी गांड चोदने का मज़ा भी मिल रहा था.

मगर मैं तो मौके का फायदा उठाना चाह़ता था, मैंने उससे फिर पूछा- साइट का नाम तो बता दो. पांच, दस, पंद्रह, बीस, पच्चीस … मिनट पर मिनट घड़ी की सुई भागती जा रही थी. अब मेरी बहन ने लंड को अपने मुँह के करीब किया और धीरे धीरे लंड का सुपारा चाटने लगी.

फंक्शन के दिन सुबह 10 बजे वह मुझे लेने आ गया और 15 मिनट में हम फ्लैट पर पहुंच गए. उसने मेरी जीन्स और टी-शर्ट को निकाल के फेंक दिया और मेरी फ्रेंची में हाथ डाल के लंड सहलाने लगी. मैंने उसके पास जाकर जोर से उसकी एक चूची को मसल दिया, जिससे प्रिया कराह उठी और उसने चीखते हुए कहा- उईईइ … मां शैतान … उखाड़ेगा क्या इनको?मैंने अब खड़े खड़े ही उसे अपनी बांहों में भर लिया और अपने हाथ आगे बढ़ा कर उसकी टी-शर्ट को पीछे से ऊपर करने लगा.

फिर मैंने चाची को घुमा दिया और पीछे की साइड में आकर उनकी नंगी पीठ और कमर को चूमते हुए उनके मम्मों को खूब दबाया.

मैं उसकी साइड में आके उसके बूब को चूसने लगा और एक हाथ मैंने उसकी पैंटी में डाल के उसकी चूत पे फिराने लगा. आपसे कोई दिक्कत नहीं है, यह समझिए कि गाड़ी में आप दोनों के अलावा कोई नहीं है. जब मैं पानी लेकर गई तो मामी उस मामा के पास चिपक कर बैठी हुई थी और कह रही थी- अजी, सुनो ना, क्या कर रहे हो.

अब मैं और आनन्द हम दोनों ने पूजा की चूत में एक साथ लंड डाले हुए थे. कुछ बाद मैंने पाली बदल ली और इस बार एकता को लंड और प्रमिला की तरफ गांड कर दी. मेरे दोनों हाथ उनके हाथों को जकड़े हुए थे और मैं उनकी गर्दन पर चाट रहा था.

किस करते समय मैं वंदना की गांड को दबा रहा था और कमर को सहला रहा था.

चाची की बात सुनकर मुझे अजीब सा लगा कि रात को ये मुझसे चुदने के मूड में थीं और अब पता नहीं ये ऐसा क्यों कह रही हैं. चलो‌ मेरे लिए ये तो अच्छा ही हो गया‌ था‌ कि नेहा और प्रिया को भी सुलेखा भाभी के बारे में मालूम हो‌ गया‌ था.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ मेरी चूत बहुत गीली थी, उसका जो रस निकला था मैक ने उसे जीभ से चाट लिया. बिल्कुल छोटी सी, कमसिन और चिकनी चुत थी उसकी और चूत की दीवारें रस से भरी हुई थीं.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ चाची बोलीं- पगले, अगर मुठ मारने में ही चुत या औरत का मज़ा मिल जाता तो सब लोग ऐसे ही काम ना चला लेते. इतने में चाची ने मेरी पैन्ट खोल दी और अंडरवियर के ऊपर से ही मेरा लंड पकड़कर दबाने लगी.

चूत में तो मुझे बहुत मजा आया लेकिन गांड में कई दिन तक मुझे दर्द होता रहा.

एनिमल सेक्सी वीडियो न्यू

मैं अपने देवर को मना कर रही थी, लेकिन मैं चूंकि अपने पति से बहुत दिन से नहीं चुदी थी, इसलिए मैं भी गर्म हो गयी थी. हमेशा की तरह हम दोनों गप्पें मारने में व्यस्त थी कि तभी उसने बोला- अरे तुझे मैंने कल एक वीडियो भेजी थी … देखी तूने?मैं- नहीं यार वक्त ही कहां मिला मुझे … और वैसे भी तू पोर्न ही भेज सकती है. प्रमिला ने भी अपनी दोनों जांघों को मेरे सर के आजू आजू रख लिया और मैंने प्रमिला को उसकी कमर से पकड़ के अपनी तरफ चिपका लिया.

अगले 3-4 मिनट में हम लोग मेन रोड से अपने खेत जाने वाले कच्चे रोड की तरफ मुड़ते हुए बिल्कुल बेखौफ और ज़्यादा अश्लील हो गए. उसने मुझसे उसके घर का कम्प्यूटर ठीक करने के लिए पूछा तो मैंने फट से जवाब दिया- हां क्यों नहीं, मेरा तो काम ही यही है. तकरीबन एक हफ्ते बाद ऑफिस में मेरी थोड़ी तबियत खराब होने लगी तो मैं छुट्टी लेकर घर आ गया.

उन्होंने स्कर्ट की इलास्टिक पकड़कर पूरी नीचे उतार दी और बोले- यह समीज और अपना ऊपर की टी-शर्ट भी उतार दे.

तब वह मूछों वाले दादा साहेब अंकल बोले- पहले तो तुम मुझे अंकल कहना छोड़ दो, अभी हम लोगों को साथ रहना है. अनिल बोला- ले लो ना मेरी जान … इसे भी थोड़ा जन्नत का मजा मिल जाएगा. येबातसलोनीसमझगईतोउसनेअपनेहाथसेमेरासरपकड़केझुकायाऔरमेरेहोंठोंकोअपनेहोंठोंसे जोड़ दिया.

तुम जोर से चिल्लाईं- उई मरी रे … मेरी माँ … साले … गांडू … मादरचोद धीरे धीरे कर ना. कुछ देर बाद वो रोने लगी और बोली- मेरा नाम श्रेया है, मेरे पति का लंड केवल 3 इंच का है. हम दोनों अन्दर आ गए, चाचा ऑफिस गए हुए थे और उनका बेटा स्कूल गया था.

मैंने अपनी गर्लफ्रेंड (अब बीवी) को सॉरी कहा और वह 2-3 दिन में मान भी गयी. मैडम भी मीठे दर्द से भरी सिसकारियां ले रही थी ‘आह्ह अहह आह्ह्ह …’उसकी वासना से लिपटी हुई सिसकारियां मुझे और उत्तेजित कर रही थीं.

अन्दर सोनल को दादाजी के सुपारे को मुँह में लेकर चूसते देख कर उत्तेजना से मेरी आंखें बंद होने लगी थीं. साथ ही चुदाई के समय चूत को लगातार सिकोड़ती और छोड़ती रहती है, जिससे लंड पर चूत का तगड़ा ग्रिप बना रहता है. अच्छा जी … खानी है तो चुपचाप ये दवाई खा लो … नहीं तो चिल्लाकर अभी मम्मी को बुला लूँगी.

मुंबई में गर्मी काफी रहती है, तो किस करते करते ही हम सभी ने कपड़े भी निकालना चालू कर दिए.

मगर जैसे मैंने उनके होंठों को चूमा, भाभी ने झट से अपनी आंखें खोल लीं और दोनों हाथों से मेरी गर्दन को पकड़कर मेरे होंठों को अपने मुँह में भर लिया. सुमन ने मुझे देखा तो वो मेरे से चिपक गई और मैं भी उससे चिपक गई और हम दोनों एक-दूसरी को किस करने लगी. मैडम ने मुस्कुराते हुए कहा- हां सर, स्कूल काफ़ी अच्छा है और स्टाफ के लोग भी काफ़ी अच्छे हैं, काफ़ी मिलनसार भी हैं सभी.

ऐसा कहते हुए मैंने जोर से पुनीत का लंड पकड़ कर अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से चूसने लगी. वापसी के रास्ते में आते आते ही मैं उसे फेसबुक में सर्च करने लगा और वो मिल गई.

जब मैं अंदर गया तो मैंने उससे कहा- क्या जान, इतनी भी क्या जल्दी है जो तुमने अपने कपड़े भी बदल लिये?उसने कहा- बहुत टाइम से चुदी नहीं हूं नीलेश, और आज तो वैसे भी मुझे दो लंड के साथ चुदना है. मेरे हाथ पैर बंधे होने के कारण न तो मैं विरोध कर सकती थी और ना ही मैं चिल्ला सकती थी. प्रिया के जैसे ही नेहा को भी मुझे अब सारी बात बतानी पड़ी … तब जाकर वो मानी.

मराठी सेक्सी वीडियो बीपी शॉट

सोनल की खुलती बंद होती चूत को दादाजी ने अपनी एक हाथों की उंगलियों से खोल कर रखा था और दूसरा हाथ उसकी चूत की तरफ बढ़ा दिया.

एकता बोली- क्यों तेरा शोना नहीं मिला क्या इतने दिन?ये कह कर वो मुस्कुराने लगी. कार चलाते हुए मैं यही सोच रही थी कि कब मैं अपने पति से मिलूं और कब मैं उनके लंड को अपनी चूत में लेकर चुदाई करवा लूँ. मगरमैंनहींचाहताथाकिवोमुझेगलतसमझे, वह यह सोचे कि मैंनेउसकाफायदाउठाया.

कहीं न बैठने की जगह थी, न खड़े होने की और केवल दो ही कमरे थे और दोनों एक जैसे ही थे. मैंने कहा- असली इतनी देर नहीं लगाता … जितना तुमने मेरी चूत का बाजा बजाया है. हिंदी देसी सेक्स बीएफ वीडियोसच बताऊं तो मेरा बहुत मन कर रहा था कि अब्दुल अब बिना देरी किए अपना लम्बा मोटा लंड मेरी चूत में पूरा घुसा दे और फिर मेरे को जमकर चोदते हुए मसल दे.

साली रांड क्या मस्त लंड चूस रही थी … आह क्या बताऊं … हाय और दूसरी तरफ वो आनन्द का लंड हिला रही थी. मैंने लंड पर हाथ फेर कर उसे नीचे आने का इशारा किया, तो वो थोड़ा रुकने का इशारा करके अन्दर चली गयी.

यह कहकर दादा अंकल ने सीधे मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और मेरे होंठों की जोरदार चुम्मी ले ली. थोड़ी देर बाद मकान मालकिन मेरे पास आईं और बोलीं- चार्ली मैं बाहर जा रही हूं … दोपहर तक आ जाऊंगी … ऊषा अकेली है, तो थोड़ा ध्यान रखना. मैंने कहा- मादरचोद … क्यों चिल्ला रही है?बस मेरा इतना ही कहना था कि तुमने अपनी गांड ऊपर की और मेरे लंड को पूरा अन्दर कर लिया.

मैंने दरवाजा तो बन्द किया हुआ था मगर शायद प्रिया ने हमें खिड़की से देख लिया था. वो सूट पहन कर दोनों साइड में पैर कर के बैठी थी कि तभी रास्ते में गड्डे शुरू हो गए. इसके बाद सन्नी ने मेरी दोनों टांगें उठा कर अपना लंड मेरी गांड में पेल दिया.

मैंने उसको नीचे फर्श पर बैठा लिया और उस पर पेशाब की धार छोड़ने लगा.

मैंने किसी से कोई ज़बरदस्ती नहीं की, मैंने तुमसे भी तो कोई ज़बरदस्ती नहीं की, तुम भी मेरे करीब आई क्योंकि तुम्हें मुझमें कुछ अच्छा लगा. वह चीख उठी- साले, भोसड़ी के, हरामी की औलाद, चूत फाड़ दी मेरी…मादरचोद निकाल लंड को बाहर!मैंने बोला- क्यूं साली, लंड चाहिए था न? अब ले, तेरी चूत ही फाड़ देता हूँ.

”खाना परोसने के दौरान मेरा सारा ध्यान कौशल्या की बड़े बड़े रसीले स्तनों पर ही था. मेरे पति ने पीछे से आकर अपनी पेंट और चड्डी एक साथ निकाल कर अपना लंड मेरी चुत की दरार पर रख दिया. मेरा मन खूब चुदवाने को कर रहा था तो मैंने बोल दिया- जाओ, बुला लाओ।मेरे पति सच में चले गए तो मैं एकदम से सहम गई, मैंने उन्हें आवाज लगा कर रोकने की कोशिश की लेकिन उन्होंने मेरी नहीं सुनी.

जैसे ही मेरे लंड का सुपारा उनकी चूत में गया … तो वो ज़ोर से चिल्लाने लगीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बहुत मोटा है … नहीं मुझे छोड़ दो … नहीं मैं मर जाऊँगी … आह … अपना लंड बाहर निकाल लो. मैंने भी भाभी के गाउन को उतार दिया उनकी ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स को चूसना शुरू कर दिया. मैं भी कहां पीछे रहने वाला था, मैं उसके कुर्ते के अन्दर हाथ डाल कर उसकी चुच्ची जोर के मसलने लगा.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ सोनू धीरे-धीरे उस स्कर्ट को अपने घुटनों तक खींचने की कोशिश कर रही थी परंतु छोड़ते ही वह फिर वापस वहीं चली जाती थी. उसके बाद अचानक उसने पैंटी फाड़ कर अपना मजबूत हाथ नेहा की चूत में डाल दिया.

सेक्सी पिक्चर आदावासी सेक्सी

उनकी रखैल बनने के बाद सारी उम्र राज करेगी और जैसे जीना चाहेगी जियेगी. फिर दुबारा थोड़ा तेल डाला और ज़ोर लगाया तो मेरा पूरा लंड मैम की गांड में अन्दर चला गया. फिर कुछ पल इसका आनन्द को उठाने के बाद मैंने अपने लंड को उसकी चूत से थोड़ा बाहर निकाला और चुदाई शुरू कर दी.

फिर किस छोड़ कर वो मेरे कान को चूसने लगी तो मैंने भाभी के कान में कहा- क्या आगे का काम नहीं करना है?भाभी ने कान चूसते हुए गर्दन हिला कर हां कहा और नशीली आंखें ले कर अपनी गर्दन आगे कर दी. सुबकियां भरते हुए नेहा का मुँह पूरा खुल और बन्द हो रहा था, इसलिए मेरा करीब एक चौथाई लंड नेहा के मुँह में अन्दर बाहर होने लगा. नेपाल के सेक्सी बीएफ वीडियोदोनों चाचियों से मेरा मज़ाक तो चलता था, लेकिन मेरे दिमाग़ में सेक्स या ग़लत बातें ज़्यादा नहीं होती थी.

पहले तो मैंने सोचा कि अब सुखबीर से दूरी रखूंगी, पर आधे घंटे तक दिमाग की माथापच्ची के बाद आखिर मैंने उसे फ़ोन किया.

मेरे पति अपना आधा लंड ही मेरी गांड में अन्दर बाहर करके मेरी गांड चोदने लगे. पर मैं वहां नहीं जाना चाहता था क्योंकि बड़े शहर मेरे गांव से काफी दूर थे और वहां से मैं जल्दी घर नहीं आ सकता था.

तू इसे हमेशा मेरी अन्दर चूत में डाले रहना, मैं तेरे लौड़े की दीवानी हो गई हूं. वह एकदम से कुतिया बन गई और फिर उसकी गांड मेरे सामने हिलने लगी जिसके कारण मेरे लंड से पानी निकलने को तैयार हो गया. तभी मेरी चूत को थोड़ा ज्यादा सा खोल कर उसने अपनी जीभ मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा.

उसकी गर्म चूत पर मैंने जैसे ही जीभ रखी तो वह तड़प उठी और उसके मुंह से सिसकारी निकल गई.

उस रात की चुदाई के बारे में सोचकर ही मेरा लण्ड चूत के लिए त़ड़पने लगता है।अगर इस कहानी में मुझसे कोई गलती हो गई हो तो मुझे करना।कहानी पर अपनी राय ज़रूर दें. मेरी उम्र 22 साल है, मैं जब जयपुर से दिल्ली जॉब करने आया, तब मैंने एक रूम किराये पर लिया था. कुछ देर बाद सरोज चाची चली गईं, उनके जाने के बाद मम्मी ने मुझे आवाज देकर बुलाया.

सेक्सी बीएफ देहाती ब्लू फिल्मइसके बाद रिक्शावाले ने नेहा के मम्मों पर पानी डाल कर उन्हें साफ़ किया. फिर मैंने नेहा आंटी को वहीं सोफे पर लेटाया और उनकी चूत को चाटने लगा.

फिल्मी सेक्सी वीडियोस

उन्होंने मेरे बारे में पूछा तो मैंने कहा कि मेरे पति पुलिस ऑफिसर हैं. फिर करीब दस मिनट बाद हम दोनों सेक्स करते करते दुबारा झड़ गए और थकान के चलते वो मेरी गांड पर ही ढेर हो गया. जब तक मालती दूसरा डिल्डो निकाल कर उसकी बेल्ट पूरी तरह से बाँधती, मेरी चूत फिर से अपनी पुरानी शक्ल में आने लगी.

मैम ने अपना मेरे लंड पे रख दिया और वे पैंट के ऊपर से ही मेरा लंड मसलने लगीं. मैंने पीछे से सोनू के चूतड़ों में अपना लंड लगाया और उसको बांहों में ले लिया. प्रमिला ने देखा और कहा- ओय साले की गांड भी?एकता ने बोला- साले की एक एक चीज टेस्टी है.

कुछ देर नेहा की चूचियों से खेलने के बाद मैंने अपना हाथ धीरे से उसकी मुनिया की तरफ बढ़ा दिया. वो भी मजे में मूड में हंस कर बोली- लो अब मैंने क्या किया मास्टर जी?कौशल्या जी आपके हाथ की चाय मुझे हमेशा मेरी पत्नी की याद दिला देती है, इसी लिए मैं हमेशा चाय पीने आपके घर आ जाता हूँ … आपको परेशान करने. मैं- क्यों नेहा चड्डी गीली हुई या नहीं?नेहा- मेरी की छोड़ो … अपनी बताओ?मैंने हंसते हुए कहा- बस ये समझ ले कि तुम्हारे अलावा अगर कोई लड़का होता यहां … तो अभी मैं उससे चुदवा रही होती.

उसने थोड़ी मायूसी से जवाब दिया- क्या करूँ सर … वो फौज में है, साल में कुछ दिन या एकाध महीने के लिए ही आते हैं. कुछ ही देर में एक बॉटल दूध और निकालने के बाद मैंने देखा कि उसको आराम मिल रहा है और उसके चेहरे पर हल्की हल्की सुकून की मुस्कान लग रही थी.

लंड की चुभन ने भाभी को कुछ अहसास दिलाया और उन्होंने मेरी ओर प्यार से देखा.

फिर जब मेरे घर पति आ गए तो उसने फ़ोन करना बंद कर दिया और केवल वॉट्सएप्प पर संदेश भेजता रहा. बीएफ मूवी एचडी हिंदीबस इसके बाद उन्होंने तुरंत ही मुझे चूम लिया, तो मैंने भी उनको चूम लिया. सेक्सी हिंदी बीएफ एचडी मेंमैंने महसूस किया कि मेरे हाथ निकलने पर भी उसने अपना ब्लाउज बंद नहीं किया था. मैंने मजबूरी का हवाला दिया और कहा कि जल्दी ही मैं नया कमरा देख लूँगा.

उनका खड़ा हुआ लंड देखकर वह बहुत ही उत्तेजित हो गई थी, उसकी नजरें अभी भी दादाजी के किसी बड़े आंवले के जैसे सुपारे पर ही टिकी हुई थीं.

और फिर पापा उठे और मॉम की जाँघें फैलाकर अपना मुरझाया हुआ लण्ड चूत में पेलने लगे लेकिन पापा का लण्ड मॉम की चूत में ठीक से घुस भी नहीं पा रहा था क्योंकि उनका लण्ड ठीक से खड़ा नहीं होता था. भाभी का हज़्बेंड बिल्कुल भी आकर्षक नहीं था, जबकी कोमल भाभी एक बहुत ही कड़क माल थीं … एकदम हॉट एंड सेक्सी. मैं आने रूम में आ गया, लेकिन बड़ी देर तक सोचता रहा कि भाबी मुझे सिग्नल दे रही है या गुस्सा है.

क्योंकि दूसरी बार की चुदाई से पहले कुछ देर तक हम दोनों ने ओरल सेक्स का मजा सोफे पर बैठ कर लिया था. तभी उसने कहा- जवाब दो?मैं- नहीं है … इसके लिए कभी समय ही नहीं मिला!मनीषा- इतनी अच्छी बॉडी है तुम्हारी … तुम पे तो हर कोई मर मिटे!यह बोल कर वो हँसने लगी. मैं और मेरी पत्नी बहुत खुले विचारों के हैं, हमको अगर कोई लड़की या शादीशुदा औरत इस तरह की मिलती है तो हम दोनों ही साथ में उसकी चुदाई करते हैं.

सेक्सी लेडीज पिक्चर

इस तरह की बातों के खुलासा होने के बाद मैं और मेरी सहेली का भाई, हम दोनों एक दूसरे के बहुत करीब आ गए थे. उसने मुझे देख कर हाथ हिलाया कि क्या हुआ, मैंने गर्दन हिलायी- कुछ नहीं. उसके लिंग का आकार मेरे अपेक्षा के अनुसार बढ़िया दिख रहा था, मोटाई और लंबाई बिलकुल सही थी.

महेश मेरे दोनों दूध पकड़ के जोर जोर से इतना दबाने लगा कि वहां भी दर्द होने लगा.

भाभी के जालीदार ब्लाउज के नीचे उसकी लाल रंग की ब्रा की भी झलक मुझे दिखाई दे रही थी.

फिर तुम्हें इस बात से अवगत भी कराया कि जो भी हो जाए, मेरी शादीशुदा जिन्दगी पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ना चाहिए. जिस कारण से थोड़े टाइम के बाद रुबीना का परिवार दिल्ली छोड़ कर चला गया. जंगल बीएफ हिंदीमेरी चीखें इतनी तेज थीं कि अगर कोई भी खिड़की या दरवाजा जरा सा भी खुला हुआ होता तो बाहर से लोग अन्दर आ गए होते कि पता नहीं इस घर में क्या हुआ है.

करीब एक घंटे तक उसने उस दिन बात की और मुझे सुबह दुकान पर दूध लेने आने का पूछा. वैसलीन की चिकनाहट की वजह से उनका लंड मेरी गांड में फिसलता हुआ आसानी से घुसता जा रहा था. इसके अलावा आपको मुख चुदाई की कहानी कैसी लगी, क्या मेरी भाषा शैली सही है.

उधर बाहर मैं अपना गाउन ऊपर उठा कर मेरे चुत के दाने को ज़ोरों से घिसना शुरू कर दिया था. अब क्या है? हाथ छोड़ मेरा … मेरे पास क्या है? जा उसी के पास …” प्रिया ने जोर से गुस्सा करते हुए कहा, मगर मैं भी उसके‌ हाथ को‌ पकड़े‌ रहा.

बिस्तर पर बैठकर सुलेखा भाभी ने अब पास में ही पड़ी हुई अपनी पेंटी को उठा लिया और अपना मुँह दूसरी तरफ करके उस पेंटी से अपनी चुत व नितम्बों को साफ करने लगीं.

मुझे लोन की बहुत ज़रूरत है। उसके बदले आप कुछ भी माँग लो।मैं उसका इशारा समझ गया था पर कुछ कहने से डर रहा था।मैंने उससे विदा माँगी तो वो बोली- आप ऐसे नहीं जा सकते … अगर आप मेरे पति से मिलना चाहते हो तो ठीक है आप मिल लेना. उसके बालों में हाथ फेरते हुए मैंने पूछा- क्या मुझे अब और आगे जाने की परमिशन है?उसने मेरी छाती पर प्यार से मुक्का मारते हुए कहा- अब इस सवाल का क्या मतलब है? मजाक करना ही था तो अन्दर घुसेड़ कर पूछते कि आगे बढ़ने की इजाजत है. मैंने सरोज चाची को अपने पीछे बिठाया और चाची ने मेरी कमर में हाथ डाल कर मुझे पकड़ लिया.

ओपन बीएफ ब्लू फिल्म लेकिन मेरे को नींद नहीं आ रही थी कि इतना मस्त माल मेरे पास लेटा हुआ है और मैं कैसे सो सकता था. कुछ देर बाद सोनल ने अपना मुँह ऊपर उठाया और अपने होंठ दादाजी के होंठों पर रख दिये.

उन दोनों ने एक दूसरे की पेंटी उतारने के साथ मेरी अंडरवियर भी निकाल दी. सभी फूहड़ डांस करते हुए अपने अपने ब्वॉयफ्रेंड को किस कर रही थीं और उनसे चिपक रही थीं. मैं उसे ये कहते हुए गोदी मैं उठाकर बाथरूम लेकर गया कि आओ साफ़ करते हैं.

व्हिडिओ सेक्सी पॉर्न

दरवाज़ा बंद करते ही राहुल मुझसे लिपट गया और मेरी गर्दन पर ज़ोर-ज़ोर से किस करने लग गया. मैंने उससे पूछा पर वो इठलाती हुई वहां से अपने कपड़े ले कर दूसरे कमरे में भाग गयी. उस दिन मैंने घर का सारा काम खत्म किया और शाम के करीब 7 बजे जाने की तैयारी कर ली.

मामा कभी बाइक पर खड़े हो जाते, तो कभी बैठ जाते, तो कभी एक हाथ पीछे लेकर मेरी छाती के उभार को मसल देते. और उसकी ठुमकती हुई गांड जैसे मुझे बुला रही हो कि आ जाओ और पकड़ लो मुझे।कभी कभी हमारी नज़र टकरा जाती तो वो मुस्कुरा देती थी.

कुछ देर उसी स्थिति में रुकने के बाद जब मैं कुछ सामान्य हुई तो उसने फिर एक ज़ोरदार झटका मारा और उसका पूरा लंड मेरी चूत में जा चुका था.

उसका छोटा सा लंड मेरी तोंद से रगड़ कर मेरे नाभि के छेद को छू रहा था, बड़ा मज़ा आ रहा था. मेरी सहेली का पति मेरी चूची चूसने के बाद मेरे नाभि को चाटने लगा था. उन्होंने उस दिन मेरे दर्द को समझते हुए अपने लंड से मेरी चुत का भी मजा नहीं ले पाया था.

तेरी स्मार्टनैस और बॉडी देखकर सच में उसी दिन ट्रेन में ही सोच लिया था, तेरे से चुदने के लिये. मैं- जेठ जी, मैंने आपको तो कब का माफ कर दिया है, अब मुझे आपके मूसल लंड से मेरी चुत की कुटाई करवानी है, जल्दी से आ जाओ, अब मुझे मत तरसाओ. वह बोली- चोदेगा आज … या ऐसे ही तड़पा कर मुझे मार डालेगा?मैंने नीचे बढ़ते हुए उसकी चूत पर फिर से जीभ लगा दी.

कहानी को मजेदार बनाने के लिए मैंने कुछ मसाला अपनी तरफ से जोड़ा है और नाम सारे काल्पनिक रखे हैं.

बीएफ बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ: नहाने के लगभग दो घंटे बाद मैंने मेरी आगे की बालकॉनी से नीचे देखा, लता बाहर खड़ी थी. पुनीत ने भी आँख दबाकर कहा- वन्द्या तू मुझसे शादी कर ले, मेरी बीवी बन जा तुझे रानी बनाकर रखूंगा.

उम्म्ह… अहह… हय… याह…तब महेश बोला- कुछ नहीं होगा, दो मिनट सब्र रख ले. भाभी बोली- देवर जी, ऐसा हुस्न देखा है कभी?मैं भाभी की कमज़ोरी पहचान गया था. मैंने फिर से गांड में उंगली कर दी और अपनी बाहें उसकी कमर में लेट कर उसको भींच लिया- हांआ.

शायद नेहा चर्मोत्कर्ष के करीब पहुंच गयी थी … इसलिए मेरे लिए उसका ये इशारा था कि मैं भी अब अपनी जुबान की हरकत को तेज कर दूँ, जिसको मैं बखूबी समझ गया और अपनी जुबान की हरकत को और भी तेज कर दिया.

वो अचानक मुझे रोककर और मुझे बेड पर धकेलकर खुद मेरे ऊपर आ गई और पूरी तेज़ी और जोश से धक्के मारने लगी. एक बार मेरी सहेली के पति ने मेरे हाथ को अपने हाथ में लिया, तो मैंने कोई आपत्ति नहीं की. गदराया हुआ शरीर, बड़े-बड़े मम्मे और मोटी गांड लेकर जब चलती है तो लोगों का लंड खड़ा होने में देर नहीं लगती.