सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी सेक्सी अंग्रेजी

तस्वीर का शीर्षक ,

चुदाई बफ सेक्सी: सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में, ”पर इस समय आरुषि कुछ सुन नहीं पा रही थी उसे लन्ड चाहिए था जो उसकी चूत की आग को बुझा सकता- छक्के के बाप, डाल भी दे अब… या तेरे से भी नहीं होगा?वो चिल्ला उठी.

लाईव सेकस

साले उस दिन शकूर का लंड चुपचाप ले गए कि नहीं? उनका हथियार तो मेरे से ड्योढ़ा है. देवर भाभी के एचडी बीएफपापा बोले- मजाक कर रहे हैं आप!तभी भाभी के पापा बोले- आप उठो और देखो अपनी टांगों के नीचे… देखिए, फिर बोलिए!पापा तुरंत मेरी गांड से लंड निकाल कर उठे और मुझे सीधा किया, जैसे ही मेरे चेहरे को देखा, एकदम पापा चुप…मैंने तो शर्म के मारे आँखें बंद कर ली थी.

थोड़ी देर तक चूची चूसने के बाद मैंने अपनी जीभ उसके पेट में घुमानी चालू कर दी, जिससे उसे गुदगुदी होने लगी. ब्लू सेक्सी फिल्म फिल्ममुझे अपनी बहू की कैमल टो बहुत सेक्सी लगी तो मैंने अपना स्मार्ट फोन निकाल कर उसकी पैंटी की एक फोटो खींच ली.

अब जवानी के बादल रीना पर मंडराने लगे और अबकी बार इतना अधिक बरसे कि जैसे रीना की चुत से बरसाती नाला निकल रहा हो.सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में: इसे सोनी ने कुछ माइंड नहीं किया… पर मुझसे कंट्रोल करना अब मुश्किल हो गया था.

वे बार बार मेरी पीठ पर हाथ फेर रहे थे, पर वे कुछ कह नहीं पा रहे थे.अब तक आपने मेरी और मेरी मम्मी की एक साथ चुदाई की कहानीमेरी और मम्मी की चुदाई की क्सक्सक्स मूवी-1में पढ़ा था कि मेरी मम्मी उस नीग्रो का लंड चूस रही थीं और उनकी ब्लू फिल्म बन रही थी.

हिंदी में ब्लू फिल्म देखने वाली - सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में

कुछ पल बाद उसने अपने लंड को निकाला और मुझसे कहा इसे पकड़ कर मुँह में लो.अब आगे क्या करेगी मेरी छन्नो रानी?इसी तरह बातें होती रहीं और दिन भी बीतने लगे.

भौजी ऊपर से खुली हुई निढाल आँखें मींच रही थीं और मेरा दूसरा हाथ उनकी साड़ी के ऊपर से उनकी बुर को पनिया रहा था. सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में वो मुझे चाची जी कह कर बुलाता था। वो भी मेरे साथ जाने की ज़िद करने लगा।सकी माँ ने समझाया.

फिर मैंने उनसे दोस्ती करने की तरकीब सोची, जिससे मैं उसके और करीब जा सकूं और उसके साथ सेक्स कर सकूं.

सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में?

मैंने धीरे से उनके लबों को चूमा और उन्हें दीवार के पास खड़ा कर दिया. फिर सुबह मैं उठी, बाथरूम में जाने लगी, मेरी चूत और गांड में बहुत दर्द हो रहा था. मैं हर दोपहर को ऊपर मानवी भाभी के पास जाने के नए नए बहाने ढूँढता रहता.

संजय- भाभाजी आपसे एक बात कहूँ?मेरी आँखें उसे हर सवाल का हां में जवाब दे रही थीं. मम्मी पापा ने प्यार से दोनों बहनों का नाम रेहाना और शाहाना रखा था मगर अब वो अपने आप को रिया और शीना कहलवाना पसंद करती हैं. वो नाराजगी से पर हँसते हुए बोली- मजाक मत उड़ा, मेरी क्या हालत हुई है, मुझे ही पता है.

मैंने भाभी को संभलने का कोई मौका ना देते हुए तुरंत बेड पर खींचकर घोड़ी बनाया और एक तेज झटका मारते हुए पूरा लंड एक बार में पेल दिया. चाटो मेरी चूत को बहुत गर्म है आज ठंडी कर दो, तुम लोग बहुत अच्छे से चूत को चाटते हो. जैसे ही मेरे बूब्स देखे, दोनों अंकल ने एक एक बूब जोर से पकड़ लिया और बोले- आरती, तुम्हारे ये मस्त दूध हैं यार कितनों से दबवा चुकी हो?और मेरे दोनों बूब्स को पूरी ताकत से दबा दिये.

दीदी- देखो सन्नी, मैं करण की बेहन हूँ तो तुम्हारी भी बहन हुई ना! क्या तुम अपनी बहन को ऐसे बदनाम करते कभी?मैं जानबूझ कर नाटक करते हुए बोला- मेरी बहन ऐसा कोई काम नहीं करती कभी, और अगर करती तो मैं उसकी जान ले लेता. वो भी मुझे देखता पा कर वहाँ से चला गया।फिर रात को मैंने उसे अपने कमरे में बुलाया.

चूंकि पति से कुछ होता जाता नहीं था, इसलिए मेरी निगाह वरुण पर ही टिकी थीं.

मेरा दिमाग सुन्न होता जा रहा था मैं किसी तरह खुद पर कंट्रोल किये था पर मेरे लंड को रिश्तों नातों की क्या परवाह वह तो नयी चूत के सान्निध्य से और भी फूल के कुप्पा हो रहा था.

लेकिन उसके बाद वो दोनों बच्चे की देखभाल में लग गई और कभी कभी ही मुझ से चुदती. हाय राम रे…यही मेरे मुँह से निकल रहा था और वो था कि मेरी चूचियां ही दबाता चला जा रहा. और तब मैंने रोहण से कहा- रोहण, मेरे बदन में बहुत दर्द हो रहा है तुम मेरी वैक्स और मसाज कर दोगे?रोहण ने कहा- ओके माँ!फिर मैं वैक्स का समान ले आयी अपने बैग से और मैं बाहर स्विमिंग बेड पर लेट गयी.

मेरे मन में फिर से लड्डू फूटने लगे, पर पिछली बार जो हुआ था, उसका डर भी था. फिर उसने अपना एक हाथ निकाला और वही हाथ ऊपर की तरफ से डाल कर अन्दर वाला निकाला. फिर मैंने उसके तन से सारे कपड़े अलग कर दिए और अपने भी पूरे कपड़े उतार दिए, कुछ देर चूमा चाटी की, उसकी चूचियां चूसी, चूत में उंगली डाली तो मेरी उंगली बड़े आराम से उसकी चूत में घुस गई.

गान्ड का वादा किसी और दिन हो गया लेकिन मैंने दीदी की चूत को जबरदस्त तरीके से चोदा, दीदी की चूत 6 महीने में उसके पति ने इतनी नहीं फाड़ी होगी जितनी मैंने एक दिन में फाड़ दी.

मैंने बोला- क्या हुआ?उसने बोला- पता नहीं, क्या मैं तुम्हारे गले लग सकती हूँ?मैंने बाँहें फैला कर बोला- ज़रूर…उन्होंने मुझे हग कर लिया. जैसे ही ऊपर जांघों तरफ उनकी जीभ पहुंची, मैं बिल्कुल उत्तेजित हो गई, लगा बोल दूं कि अब नहीं बर्दाश्त हो रहा! प्लीज चोदो!पर पता नहीं कैसे ना बोल पाई, मेरी जांघों को अपनी जीभ से चाटते हुए और थोड़ा टांग फैला के मेरी चूत के बगल से जो झांट के बाल हैं, उन बालों को अपनी जीभ से सहलाने लगे, और जो मेरी चूत के बीच की रेखा होती है, उस पर भी जीभ से धीरे धीरे चाटने जैसे लगे. उन्होंने बोला- जान तुमने मुझे आज वो सुख दिया, जिसकी मुझे ज़रूरत थी.

तभी कमल ने अपना अंडरवियर उतार दिया, उसके लंड पर एक भी बाल नहीं था, उसने बालों को साफ किया हुआ था. मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए- रोशनी, जरा तुम इधर आओ और गोलू को दिखाओ कि कंडोम को खड़े लंड पे ही चढ़ाया जाता है. यह थी मेरी पहली हिंदी सेक्स स्टोरी… पसंद आई या नहीं, आप मुझे मेल कर सकते हो!धन्यवाद।[emailprotected].

मैंने आगे बढ़ कर उनके थिरकते जोबन को दोनों हाथों से थाम लिया और एक लम्बा किस किया.

इससे पहले के मंजरी इसके लिए तैयार हो पाती, पुलकित ने ज़ोर लगा कर अपना लंड मंजरी की चूत में ठेल दिया. मैंने उसी के तौलिये से उसे साफ़ किया, उसके हाथ खोल दिए और उसी के पास लेटा रहां.

सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में भाभी मेरे लंड को सहला रही थी और मैं उसकी एक चूची को मुँह में लेकर चूस रहा था. लेकिन मेरे साथ तो बहूरानी थी और हम लोगों का ट्रेन से दिल्ली जाने का एक ही उद्देश्य था – चुदाई चुदाई और चुदाई!अदिति बेटा, अब आजा फिर से!”क्यों आऊँ पापा जी… मैं तो यहीं ठीक हूं!”अरे आ ना टाइम पास करते हैं दोनों मिल के!”टाइम तो अच्छे से पास हो रहा है मेरा यहीं बैठे बैठे!”बेटा जी, इस कूपे का हजारों रुपये किराया दिया है हमने.

सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में मेरी नंगी माँ अपने निप्पलों को बारी बारी से मसल रही थी कि तभी फ़ोन कट हो गया और कुछ देर बाद फिर फ़ोन आया तो माँ ग़ुस्सा हो गयी बोली- अब मैं बात नहीं करूँगी!और उन्होंने फ़ोन कट कर के मोबाइल स्विच ऑफ़ कर दिया. मैं- क्या जॉब है? अभी मेरे एग्जाम हैं?अमित- बस 15-20 दिन ही काम है बाकी तुम फिर पढ़ाई कर लेना और एक दिन का 5 हजार मिलेगा, जो कम नहीं होता है.

वो तुरंत उठ कर आईं और पूछा कि चाय गिरने से कहीं मैं जला तो नहीं हूँ.

सेक्सी पिक्चर पिक्चर व्हिडिओ

कुछ वर्ष तो ठीक ठाक चला, पर जब मैं 35-36 वर्ष की हुई तो वो 50-51 साल के हो गए थे. साली कुतिया ना जाने कितने लंड खा चुकी होगी अब तक!खैर मुझे क्या… मेरे लिए तो ये दो दिन का मेला है, हंस खेल कर मजा ले लो!मैं कंडोम की दो डिब्बी खरीद लाया और घर आकर अंजलि को दिखाई. मैं- सर मेरी चूत आपकी है, आप कभी भी चोद दीजिए, पर ये ऑफ़िस है कोई आ गया तो बहुत बेइज्जती होगी.

बॉस ने अपना लंड पैंट से बाहर निकाल लिया और खड़े होकर मेरे मुँह में डाल दिया. संजय ने भी पोजीशन को समझते हुए चुत के अन्दर ही जीभ को लपलपाना शुरू कर दिया, जिससे मेरी चूत का मजा दुगना हो गया. कभी मेरा लंड चूसती कभी अपने स्तन मेरी छाती से रगड़ती, मेरे लंड पर अपनी चूत घिसती या लंड चूसने लग जाती.

मुझसे रहा नहीं गया और मैं संजय की तरफ घूम गई और संजय के होंठों को जोर जोर से चूसने लगी.

फिर सुबह मैं उठी, बाथरूम में जाने लगी, मेरी चूत और गांड में बहुत दर्द हो रहा था. जब सुपारे के पास का हिस्सा बचा, तब तक उसकी शर्म और घृणा जा चुकी थी. मैंने संजय की तरफ देखकर मना करना चाहा, पर मैं कुछ कहती उससे पहले संजय ने मेरे होंठों को अपने होंठों में भर के लिपलॉक कर लिया और अपनी उंगलियों से मेरी पेन्टी के ऊपर से सहलाने लगा.

उस दिन मैंने अपनी भाभी को 4 बार चोदा और इसी तरह 7 दिन तक लगातार चोदा. जैसा कि मैंने बताया उस टाइम सोनी अपने बीएससी लास्ट ईयर में थी, वो भी अपनी पढ़ाई पे खूब ध्यान देती थी. भाभी मेरे सामने ही अपनी दूसरी चुची को भी निकाल कर सोनू को दूध पिलाने लगीं.

”क्या सेक्स में ये सब करना पड़ता है?”नहीं, पर बहुत से लोग करते हैं. बताइये बाबूजी, आप पहले मेरी चूचियों का मजा लेना चाहते हैं कि मैं आपके इस खड़े लंड को चूस चूस कर इसको सम्मान दूँ?मोहन लाल- पहले मैं तुम्हारे इन रसीले होंठों का रस पियूँगा बहू.

भाबी को भी मजा आ रहा था, भाबी मेरी पीठ पर हाथ घुमा कर अपना मजा दर्शा रही थीं. फिर मैंने मेरी दो उंगलियां उसकी चुत में घुसा दीं… उसके मुँह से कराह भरी आवाज़ निकल गई. मोना ने कभी इतना लंबा किस मुझसे नहीं किया था पर आनन्द के साथ काफी खुली हुई थी ये सच था.

तू यहाँ सोएगी, या टीवी वाले कमरे में?”वो बोली- दीदी टीवी वाले कमरे तो टीवी देखते हैं, दीदी मैं आपके साथ सोऊँगी.

अब शादी ब्याह वाले घर में कई सारे पुरुष होते हैं पता नहीं कौन पिछली रात उनका शील भंग कर गया होगा… यही चिंता उन्हें खाए जा रही थी. अब वो दोनों हाथ को जमीन पर रख कर सिर्फ मुँह से मेरे लंड को चूस रही थीं. मैंने कारण जानने की कोशिश की, उससे पूछा तो उसने बताने से इन्कार कर दिया.

उसके बाद मैं उसके लंड पर थूक लगाती और फिर चूसती, पूरा गले तक ले लेती. फिर एक दिन सुबह चाची मेरे घर आईं और मेरी माँ से पूछा- राज कहां है? मुझे उससे कुछ सामान मंगवाना है.

मैंने देरी न करते हुए उसकी मस्त गुलाबी चूत को, जो पूरी बालों से घिरी हुई थी, उसको अपने मुँह में डाल ली और आराम से चूसने लगा. मेरा बहुत मन कर रहा था कि मैं भाभी को नहाते हुए देखूं, लेकिन मन मसोस कर रह गया. फिर उसने मेरी पेन्टी में हाथ डाल कर मेरी चुत पे अपनी कामुक होती उंगली फेर दी और धीरे धीरे संजय ने एक उंगली मेरी रस से तरबतर होती गीली चुत में डाल दी.

सनी लियोन का सेक्सी वीडियो मूवी

ये लो टॉप, पर पैसे क्यों? तुम्हारा टॉप तो लाई हूँ ना!दिव्या- अरे यार मुझे मत सिखाओ.

मैं मना करने लगा, लेकिन उन्होंने मेरी एक ना सुनी और फ़िर वो बाजार से कुछ लाने के लिए चली गईं. आज तक कभी किसी औरत को पटाने के बारे में नहीं सोचा था, वो भी सिर्फ सेक्स के लिए, तो समझ में ही नहीं आ रहा था कि उससे बात कैसे की जाए और अपना काम निकलवाया जाए. अंजलि भी मेरे पीछे पीछे ऊपर आ गई और मुझसे पूछने लगी- अंकित यार, तुम बाजार गए थे, कन्डोम तो ले आये होंगे?मैं बोला- शिट यार… मैं भूल गया, अभी लाता हूँ.

करीबन पन्द्रह मिनट तक भाभी को हचक कर चोदने के बाद मैंने कहा- भाभी मेरा होने वाला है. मैं घोड़ी बन गई। वो मेरी बैक पर आ गया। उसने अपने लण्ड को मेरी गाण्ड पर एड्जस्ट किया. इंडियन बीएफ हॉटउसको बिस्तर में इस्तेमाल करने की बड़ी आस मन में हमेशा से थी, है, और रहेगी.

ब्रा के अन्दर से मेरे चुचे बाहर निकलने को बेताब थे और उनकी बेताबी को जल्दी ही महेश ने दूर कर दिया. पर रोशनी से ये सहन नहीं हुआ, वो बोली- राहुल मैं तुम मुझसे प्यार करते हो.

मैंने 10 सेकेंड रुक कर एक और धक्का दिया मुझे तो ऐसा लगा मानो मेरी जान निकल जाएगी. कुछ मिनट तक भाभी के मम्मों को चूस कर मैं नीचे भाभी की चूत की ओर बढ़ने लगा. तो बॉस ने पूछा- क्या हुआ नेहा? तुमको अच्छा नहीं लग रहा है?मैं- सर अपको एक बात बतानी है.

मैंने फिर अपना लण्ड पूरी ताकत के साथ उसकी कुंवारी बुर में डाल दिया, वो बहुत ही जोर से चीखी लेकिन मैंने इसकी परवाह न करते हुए कई धक्के लगा दिए। उस बुर की सील टूट गयी थी, वो लगभग अधमरी से हो गयी थी, कुतिया वाली पोजीशन की वजह से हर धक्के के बाद वो आगे की तरफ गिर जाती. मुझे ऐसा देख कर चाची ने दोनों हाथ अपने होंठों पर रख लिए और आँखें बड़ी बड़ी करके लंड देखने लगीं. अमित वो हाथ की ड्रेस पकड़ कर ही दूर हो गया था, तो साथ में वो ड्रेस भी पूरी निकल गई.

मैं समझ गया कि भाभी मस्ती के मूड में हैं, मैं बोला- भाभी मैं एक बार आपके मम्मों को टच कर सकता हूँ?वो बोलीं- नहीं.

वो तब तक मेरा लंड चूसती रही जब तक कि मेरे लंड से मुठ का एक एक बूंद भी ना निकल गया. इस ड्रेस की ये खासियत थी कि इसे ब्रा के बिना पहना भी नहीं जा सकता था क्योंकि ये वहीं, मेरी चुचियों से शुरू हो रही थी और मेरे घुटनों तक नहीं पहुँच रही थी.

चोद लेना।”क्या चोदने दोगी?”जो तुम अब चोद रहे हो।”क्या चोद रहा हूँ?”मधु मेरी कमर पर चपत लगाते हुए ऊउऊ. मैं तो खुशी के मारे पागल सा हो गया और जोश में आकर उनके मम्मों को छोड़ कर, उनको दोनों हाथों से पकड़ कर घुमा के अपने सीने से लगा दिया. मैं ऐसे ही कुछ देर तक उनकी बड़ी सी गांड मारता रहा और वो मुझको सपोर्ट देती रहीं.

मैंने कुछ नहीं कहा, तब उसने फिर से पूछा- क्या मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ?मैंने कहा- तुम तो बहुत सुंदर हो, तुम्हें तो कोई भी अपनी जीएफ बनाना चाहेगा. हम जब मॉल के गेट से बाहर निकले तो सामान पकड़ने के लिए अवी ने हाथ बढ़ा दिया और सामान के साथ में मेरा हाथ भी पकड़ लिया. मैंने उनसे पूछा कि आप शादी में शामिल होने आए हैं तो यहां रूम क्यों लिया?उन्होंने बताया कि मैंने अपने रिश्तेदारों को स्वाति के साथ आने का नहीं बताया है, एक बार आपसे बात हो जाए तो तय करेंगे कि क्या करना है.

सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में मेरी चूत ने वरुण के लंड को लीलने की चाहत दिखा दी थी, मेरी चुत पानी छोड़ने लगी थी. फिर मैंने हिम्मत करके दीदी के कान में कहा कि दीदी आप बहुत सुंदर हो, मुझे आपसे प्यार हो गया है.

सेक्सी व्हिडीओ सोळा साल कि

तभी उन्होंने मेरा एक हाथ अपने मम्मों पर रख दिया, मैं भी जोश में आकर उनके मम्मों को दबाने लगा. मैं कभी कभी चाचा के लंड को उनकी पैन्ट में देखती थी क्योंकि वो जब भी मेरी चूची को देखते थे और मुझसे बातें करते थे तो उनका लंड खड़ा हो जाता था और मुझे भी अब लंड से चुदवाने का मन करने लगा था. अन्तर्वासना की कामवासना से भरी सेक्सी सेक्सी फ्री चुदाई स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मैं आज आपके सामने अपनी रियल सेक्स स्टोरी लेकर आया हूँ, मुझे पूरी उम्मीद है कि मेरी कामुकता से भरी चुदाई की कहानी आपको पसंद आएगीमैं रमनदीप, हिसार हरियाणा का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 19 साल है, कद 5 फुट 7 इंच, मेरे लण्ड का साइज 6.

मुझसे अब रहा ना गया… दोस्तो, झूठ नहीं बोलूंगा, कोई प्यार की बात नहीं हुई थी, मैंने सीधा ही उसके होंठों पर चुम्बन कर दिया था. और उनके लंड को अपने दांतों से इतने जोर से काटा कि वो जोर से आह करते ही उठ बैठे और मुझे देखते ही बोले- मेरे रानी बेटी को आज मेरी याद कैसे आ गई?पूरी कहानी सुन कर मजा लीजिये. भाई-बहन का बीएफ दिखाओथोड़ी देर बाद मुन्ना दूध पीते पीते सो गया तो भाभी ने अपनी चुची को ब्लाउज में डाला और सोनू को लेकर बेडरूम में चली गईं.

और फिर कुछ देर बाद माँ बोली- आज मैं यहीं सो जाती हूँ, यदि तेरे पापा का फ़ोन आया तो बात भी कर लूँगी.

आनन्द- तुम्हारा पति कुछ नहीं करता इस तरह?मोना- आह जानू, कभी भी नहीं. इतना कह कर उसने पास रखी बियर की बोतल उठाई, दांतों से ही उसका ढक्कन खोला और अंगूठे से बोतल बंद करके जोर से हिला कर उसका फव्वारा सीधा मेरे बदन पे चला दिया। ये सब इतनी जल्दी हो गया कि मेरे समझने से पहले ही बियर की पहली धार मेरे बदन से टकराई और उसके ठन्डेपन से मेरी रीड की हड्डी तक को जमा दिया। मेरे मुँह से न चाहते हुए भी लम्बी चीख निकल गयी.

मैंने टाइम ना गंवाते हुए एक और कस के झटका मारा, मेरा पूरा लौड़ा उनकी गांड में समा गया. मैंने फिर से हाथ फेरना शुरू किया, अब ज़ायरा भाभी मेरा हाथ नहीं रोक रही थीं. मेरी मम्मी ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं हैं तो साधारण तरीके से ही बोलती हैं.

फिर मैं बेड पर ही खड़ा हुआ और अपनी जीन्स एंव अंडरवियर को निकाल दिया और मेरा 6 इंच का खड़ा लंड उसकी आँखों के सामने आ गया, उसने शर्म से अपनी आंखें नीचे कर ली.

देवर जी मेरी चूत को फिर से चूसने लगे और मैं उनके लंड के ढक्कन को नीचे कर सुपारा का दीदार करने लगी. पर शायद किसी ने सच ही कहा है ऊपर वाला जब देता है तो छप्पर फाड़ के देता है. आहह हह …!” सच में बहुत अच्छा लगा मुझे, मैं जोश में लंड पूरा चूस रही थी.

भाई बहन बीएफयही मेरी किस्मत में लिखा था।दोस्तो, मेरे जीवन की इस होने वाली घटना से मुझे भविष्य में क्या हासिल होने वाला था. बिटिया की शादी में मैं पिछले महीने भर से चकरघिन्नी बना हुआ था, अब कितने काम होते हैं, लड़की के पिता को क्या क्या देखना होता है ये तो आप पाठक गण सब जानते ही हैं.

सेक्सी बीपी फुल हिंदी

अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया तो मैंने बोला कि मैं तुम्हें घोड़ी बनाकर चूत मारूँगा, तुम घोड़ी बन जाओ. वैसे तो कई बार मैंने उंगली से खुद को ठंडा किया था, मगर आज जो सुख मिल रहा था, मैं बता नहीं सकती. जो लोग xxx पोर्न फिल्मों जैसा सेक्स करना चाहते हैं, पर शर्मिंदगी की वजह से या गंदे सीन की घृणा की वजह से यदि ऐसा नहीं कर पाते हों.

जो पाठक मुझे नहीं जानते हैं, उन्हें बता दूँ कि मेरा नाम रोहित है, मैं 28 साल का हूँ. लड़के का नाम सुनील था, वो दिखने में बहुत कमज़ोर और काले रंग का था, उसका कद होगा कोई पांच फीट चार इंच… और लड़की का नाम मानवी था, वो दिखने में एकदम पटाखा माल थी. मैं उसकी प्रतिक्रिया देखने के लिए वहीं खड़ा रहा तो वो बड़े गुस्से से मुझे देख रही थी.

हम कार में बैठ कर रुबीना के घर की और चल दिए, पूरे रास्ते रुबीना मुझे प्यार से देखती रही. उस दिन के बाद भी हम रोज xxx फिल्में देखने लगे और रोज चुदाई करने लगे. ”वो जोर जोर से चिल्लाते हुए बोल रही थीं- अह्हा… धीरे धीरे चोद भोसड़ी के.

”मैं- क्या आप दिखा सकती हैं?तब उन्होंने काले रंग का नाइट ड्रेस पहना हुआ था. सलवार थोड़ा सा ही नीचे हुई थी की ममता जी ने तुरन्त मेरे हाथ को पकड़ लिया और… नहीं… ये सब नहीं… अब बस्स…” कहते हुए मुझे अपने ऊपर से धकेल कर अलग कर दिया.

यह मेरी पहली हिंदी सेक्सी स्टोरी है, आपको यह कहानी कैसी लगी, अपने विचार मेरी मेल आईडी पर जरूर देना.

सुरेश ने काजल की टांगों को फिर से फैलाया और उसकी चूत के छेद पर अपना लंड सैट करके धक्का लगाना चालू कर दिया. सनी लियोन की जबरदस्ती चुदाईमुझे गुस्सा ज्यादा आ गया और मैंने बोल दिया कि मैं इससे प्यार करता हूँ और वो मेरी गर्लफ्रेंड है. हिंदी एक्स एक्स एक्स एचडी मूवीमैंने अपना हाथ बहन की टांग पे रख दिया और एक उंगली बहन की चुत में अन्दर बाहर करने लगा. अब बॉस का एक हाथ मेरे पीछे मेरे गांड को सहला रहा था और बॉस का दूसरा हाथ मेरी नंगी चूत सहला रहा था.

तुम तो ऐसा नहीं सोचती हो, चलो फिर कहीं मुझे ले चलो कोई मुझे कुछ नहीं कहेगा.

किशोर डर गया, उसे देख कर किशोर ने लंड निकाला चाहा, पर वर्षा की चूत इतनी टाईट थी कि लंड निकल नहीं रहा था. मैं अपने दोनों हाथ संजय के सर में डालकर अपनी चुत में जोर से दबा रही थी. किशोर ने दूसरा धक्का मारा, पर लंड उतना ही गया, मेरी अनचुदी बहन बहुत जोर से छटपटा रही थी.

अचानक लगा कि मेरे होंठों के पास कुछ है, मैंने आँखें खोलीं तो उसकी आँखें थीं. फिर मैंने भाभी के गाउन को ऊपर कर दिया और उनकी ब्रा के ऊपर से ही उनके मम्मों को भरपूर दबाने लगा. उससे मेरी काफी देर तक बात हुई और इस दिन के बाद से मैं उसके साथ ज्यादा टाइम बिताने लगा.

कैटरीना सेक्सी डॉट कॉम

उनकी चूत के हमले के आगे मैं टिक नहीं पाया और मेरे लंड ने अपना सारा पानी दीदी की चूत की गहराई में छोड़ दिया. मैंने कहा कि ये गन्दा है, मैं इसे मुँह में कैसे ले लूँ?उसने कहा- ये लड़कियां मुँह में लेकर मजा करती हैं. 30 बजे वो सोने की जिद करने लगी… मैंने कहा- ठीक है, नंगे ही सोयेंगे.

मैंने बिना कोई देर किए एक बूब को हाथ में पकड़ा और प्यार से दबा दिया, दीदी ने मेरा हाथ अपने बूब्स से हटा दिया तो मैंने दीदी से अपना हाथ छुड़ाया और अपने हाथ से दीदी के हाथ को पकड़ा कर साइड किया.

अब बारी मेरी थी, मैंने भाभी के और मेरे बाकी के कपड़े निकाल दिए और दोनों नंगे हो गए.

रोहण ने मेरा ब्लाउज खोला, उन्होंने मेरा पेटीकोट भी निकाल दिया अब मैं सिर्फ रेड ब्रा और पैंटी में थी. मैंने ब्लू फिल्म में लड़की की चुत चाटने का वीडियो देखा था, उसी तरह से ही मैं भाभी की चुत चाटने लगा. di ब्लू फिल्मवो एकदम से सिहर उठी और मेरा हाथ हटाने लगी, पर मैं नहीं माना और उसकी ब्रा हटा कर सीधा उसका राइट चूचे पकड़ लिया.

अब दीदी की कमर के नीचे मैंने तकिया लगाया, जिससे उनकी चूत फूल कर ऊपर को उठ गई. दीदी बड़े ध्यान से मेरी बातें सुन रही थी- अच्छा, सच में तू मुझे इतना लाइक करता है?मैं- हाँ दीदी, बहुत लाइक करता हूँ, कब से सोचता था कि कब आपकी चूत मारने के मौक़ा मिलेगा, कब आपके साथ मस्ती कर सकूँगा, और आज मौक़ा मिल गया. कुछ मिनट लंड चुसवाने के बाद मैंने अपना लंड उसकी चुत की दरार पर रखा.

मैं फ्रेश होने लगी और तभी अवी ने एसएमएस किया कि खाना मत बनाना और जल्दी से तैयार हो जाओ, मैं अभी थोड़ी देर में आ रहा हूँ ओके मेरी जान!मैंने भी कह दिया- ठीक है आओ मैं तैयार ही होने जा रही हूँ. उसको मालूम था कि मैं बहुत बड़ा रंगीला हूँ, तो उसने भी कपड़े बदलने का नाटक किया और अपने टॉप को खोल कर साइड में रख दिया और कहा- मेरा काम हो गया, अब तुम अपनी आँखें खोल सकते हो.

तो दोस्तो, आपको सीधा कहानी पर लेकर चलता हूँ।हुआ यूँ था कि मेरा एक दोस्त था जिसका पहले अपने घर के सामने वाली लड़की के साथ चक्कर चल रहा था जिसका नाम समीरा था और वो दोनों कम से कम साल भर साथ में रहे थे.

जब तक सिराज ने खुद को साफ़ किया, तब तक दो लोगों ने मुझे उठा कर आग के पास ले जाकर बिठाया। एक कम्बल ओढ़ दिया मुझ पे और व्हिस्की की बोतल खोल कर मेरे होटों से लगा दी. अब मैं बॉस का लंड चूस रही थी और बॉस मेरे टॉप के अन्दर हाथ घुसा कर मेरी चुचियों को मसल रहे थे. मैंने सोचा पता नहीं क्या हुआ, सो में उनको जगाने के लिए उठा, पर इतने में दीदी ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और ज़ोर से मुझे पकड़ लिया.

डब्ल्यू डब्ल्यू एक्स एक्स बीएफ मैं- आह आह मेनका, मेरा निकलने वाला है… आह आह अहहहह… मैं आह आह गया…मेनका- आह हा आह आह अहहहा आ जा मेरे राजा, मेरे अंदर ही आ जा… मैं भी गयी बस आह आह हा अह्हहह… गयी… आह आह आह… मेरे… आह आह राजा…और मैं और मेनका एक साथ आ गये. वो घोड़ी बनकर पलंग पर चढ़ गई और भैया ने बड़ी ताकत से अपना 8 इंच उसकी गांड में फंसा दिया.

ऐसे में रीना के दिमाग ने कम्प्यूटर से तेज काम किया और उसने रंजु को बुआ के पास सोने के लिए भेज कर एक फूलप्रूफ प्लान बना लिया, जिसमें बारी बारी से कोई एक बुआ के साथ रात में सोये और बाकी तीन चुदाई का आनन्द लें. मैं जैसे ही दीदी के चूतड़ चाटने लगा, वैसे ही वो ज्यादा हरकत में आ गईं. एक दिन सुबह जब मैं बरामदे में कपड़े धो रही थी, तो मुझे महसूस हुआ कि कोई ऊपर के कमरे की बाल्कनी में है, जो संजय के कमरे की थी.

कॉलेज की लड़की का सेक्सी वीडियो

फिर हम दोनों ने एक दूसरे के गुप्त अंगों को साफ किया और कपड़े पहन लिए. फिर मैं नीचे चली आयी और सो गई।इसी तरह अब तक भी वो मौक़ा मिलते ही मुझे चोदते हैं। पर अब इतना टाइम नहीं मिलता उनसे चुदवाने का।आप लोगों को मेरी यह पोर्न स्टोरी कैसी लगी, मुझे अपने विचार मेल करें![emailprotected]. ” महेश्श्श्श… इईईई… श्श्श्शशश…” कहते हुए ममता जी ने मेरे बालों को जोर से पकड़ लिया, ममता जी को एक झटका सा लगा था जिससे उनका पूरा बदन थरथरा गया और एक मीठी सी सुबकी के साथ उनकी दोनों जाँघे मेरे सिर पर कस गयी।उफ्फ्फ्फ़… क्या गर्म चूत थी, मानो किसी आग की भट्टी पर ही मैंने अपने होंठ रख दिये हों.

छोटी की गांड का साइज कम जरूर लग रहा था पर चपटी हुई या बेडौल बिल्कुल नहीं थी।छोटी ने अपना दुपट्टा निकाल के किनारे रख दिया और अपने हाथों से मेरे सीने को सहलाने लगी. वो बोलीं- अमित मुझे डर लग रहा है, किसी को पता चल गया तो?मैं बोला- दीदी कुछ नहीं होगा, किसी को पता नहीं चलेगा.

और मुझे गले से लिपटा लिया और मेरे होंठों को चूमने लगे, बोले- आज से तुम मेरी वाइफ हो आरती!मैं बोली- आज से तुम मेरे ब्वायफ्रेंड हो.

भाभी अगर आप नंगी भी सामने खड़ी हो जाएंगी तो हम तो दो बार सोचेंगे कि आपको ढकना है या आपको चोदना है. उसके बाद से वो जब कॉलेज आती तो मैं उसे देखता रहता, उसने भी ये नोटिस किया। कॉलेज में अब मैं उससे थोड़ी बात भी करने लगा था। फिर मुझे लगा वो भी मुझे कुछ देखने लगी है. मेरे मूड थोड़ा ख़राब हो गया, फिर मैंने सोचा कि पहला चान्स आया है, क्यों छोड़ूँ, मैंने कहा- कोई बात नहीं जी, हमसे मालिश तो करवाइये!उसने तरस खा के पूछा- आखिर तुम्हें चाहिए क्या?तुम्हें चोदना…”यह सुन कर तो उसकी आँखें खुली की खुली है रह गई.

मैं कभी अपने दाँतों से उनकी चुत के दाने को काटता, तो कभी अपने हाथों से उनकी चुचियों के निप्पल को जोर से मसल देता. भाबी छूटने की पूरी कोशिश कर रही थीं, लेकिन मेरी पकड़ भी बहुत मजबूत थी. ये मिनी स्कर्ट की तरह थी लेकिन इसमें पेट खुला या पीठ का कुछ भी खुला नहीं था.

मगर मुझे लंड को टच करना अच्छा लगने लगा और धीरे धीरे मैंने सुपारे को मुँह में भर लिया और चूसने लगी.

सेक्सी बीएफ डाउनलोड हिंदी में: अब मैंने भी चाची को अपनी बांहों में भर लिया और चाची ने मेरे लंड को सहलाना शुरू कर दिया. चचा माँ माल मेरी चूची और पेट पर गिरा जिसे चाचा ने मेरी ही पेंटी से पौंछ दिया.

ममता जी के मुँह से अब कराहों के साथ हल्की हल्की सिसकारियाँ निकलने लगी थी और वो अब अपने हाथों को छुड़ाने का या फिर मुझे हटाने का भी प्रयास नहीं कर रही थी। मैंने भी अब उनके हाथों को छोड़ दिया और यह सही मौका जान कर ममता जी की चूची को चूसते हुए ही अपना हाथ नीचे उनके पेट पर से होते हुए चुत की तरफ बढ़ा दिया. मैं बोली- क्यों?वो बोली- क्योंकि तुम मुझे उकसा रही हो अपने जैसा बनाने के लिए. महेश ने मुझसे कहा कि बर्थ डे उसके साथ मनाऊं और किसी तरह उसके साथ रुक जाऊं, वो उस दिन कुछ खास करना चाहता था.

मेरी उम्र चौबीस वर्ष की है, यह जो अपने जीवन की सच्चाई बताने जा रही हूँ वह तब की है जब मैं बीस साल की थी और बी एस सी फर्स्ट इयर की स्टूडेंट थी। मेरे बड़े भाई की ससुराल मेरे शहर से बीस किलोमीटर की दूरी पर एक गाँव में है। उस समय मेरा साइज़ कमर 28 सीना 32 और हिप्स 34 की रही होंगी.

मुझे ये तब पता चला जब वो मेरे ऊपर लेट कर मेरे चुचे चूस रहा था और उसका डंडा मेरी जाँघों में घुस रहा था. सुरेश का लंड रमेश के लंड से बड़ा होने की काजल के लिए फिर से थोड़ा मुश्किल हो रहा था, पर ज्यादा उत्तेजना के कारण वो फिर से झड़ गई और उसका चूत पानी से भर गया. अंकित ऊपर की ओर उठा और माया का एक चुच्चा अपने मुँह में भर के चूसने लगा.