मोटी औरतों के बीएफ

छवि स्रोत,हिंदी सेक्स मूवी ब्लू फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

सास बहू की बीएफ: मोटी औरतों के बीएफ, वो बोलीं- क्या मैं इतनी खूबसूरत हूँ?मैंने कहा- गांव में किसी से भी पूछ लो?भाभी हंस कर बोलीं- तो अब आगे का क्या विचार है मेरे देवर जी?मैंने कहा- विचार तो बहुत ही नेक हैं … पर आपका डर लग रहा है.

सेक्सी बफ हिंदी वाली

असल में थैले में एक वन-पीस ड्रेस था वो भी बिना बांहों का, भले ही मुझे रेशमा के बदन का परफेक्ट नाप मालूम नहीं था पर मैंने किसी तरह से दुकानदार को समझाते हुए ये ड्रेस उसके लिए ख़रीदा था. हिंदी पिक्चर ब्लू फिल्म सेक्सीउसका यह सेक्सी अंदाज़ देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया और तौलिए को तम्बू बना चुका था.

पाठको, मैं राज शर्मामेरी पिछली कहानीपड़ोसन आंटी ने मुझे फंसाकर चूत चुदवा लीमें आपको अपनी पड़ोसन आंटी की चूत गांड चुदाई की कहानी बता रहा था. सेक्सी लड़की की बीएफउसकी गांड इतनी ज्यादा टाइट थी कि मेरा सुपाड़ा छिल चुका था और मुझे तेज जलन हो रही थी.

एक दिन मैं कंपनी में ओवरटाइम में काम कर रहा था, तभी ललिता भाभी का फोन आया.मोटी औरतों के बीएफ: मैंने उससे ये वादा भी कर लिया कि चाहे कुछ भी हो जाए, मैं तेरी और तेरे घर की इज्जत को बचाने के लिए कुछ भी कर सकता हूँ.

मैं इतना ही बोला और भाभी के होंठों को अपने काबू में करके उन्हें लिपलॉक किस शुरू कर दिया.उसने हम दोनों के लौड़े पर जोर जोर से उछलना चालू कर दिया- आअह उहह अम्म्मीईई आआ आहह फाड़ो जोर जोर से मेरा भोसड़ा मादरचोदो, रंडी बना दो मुझे उस सुअर के सामने, देख सलमान कैसे मैं आज दो-दो लौड़ों से चुद रही हूँ मादरचोद … हहह उफ्फ!रेशमा की चूत इतना पानी बहा रही थी कि पाटिल जी के लौड़े की चुदाई से उसकी भोसड़ी से पच-पच की आवाजें निकल रही थीं.

हिंदी ब्लू मूवी फिल्म - मोटी औरतों के बीएफ

अब तो भाभी जैसे पागल सी हो गई, उन्होंने मुझे 69 पोजीशन में आने को कहा.जब भी मुझे लंड की खुजली मिटानी होती थी, तब मैं अपनी फैक्ट्री की ही एक महिला श्रमिक सोनम को चोदने चला जाता था.

मैंने उसके सर को पकड़ा और बालों को खींचते हुए ऊपर उठाने का प्रयास करने लगी ताकि हम चुदाई शुरू करें!पर वो मेरी चूत से हिलने को तैयार नहीं था. मोटी औरतों के बीएफ मैं रात दिन बस सेक्सी पंजाबी भाभी चुदाई के सपने देखता रहता और लंड हिला कर कब सो जाता, कुछ पता ही नहीं चलता.

लंड में थोड़ी खुजलाहट हो रही थी तो वहीं खड़े खड़े लोवर के अन्दर हाथ डाल कर लंड खुजलाने लगा.

मोटी औरतों के बीएफ?

और ऐसे ही बातें करने लगे दो तीन पैग के बाद उसका मूड बनने लगा और उसको नशा होने लगा. रेखा भाभी की आवाज सुनकर तो मेरे रौंगटे खड़े हो गए, सारे शरीर में सनसनी सी होने लगी. 5 इंच का पूरा लंड अपने मुँह में लेने की कोशिश कर रही थी लेकिन पूरा नहीं ले पा रही थी तो आधा लन्ड मुंह में लेकर चूसने लगी।मुझे बहुत अच्छा लगा रहा था.

गीता की शादी को तीन साल होने के बाद भी उसकी चूत कुंवारी लड़की की तरह कसी हुई थी. उसने अपनी गांड खोल दी और मैंने उंगली गांड के अन्दर डालकर उसकी गांड को चिकना और ढीला कर दिया. मॉम भी अपनी चूत फंसा कर लौड़े पर बैठ गईं और अपनी गांड उठाकर चुदवाने लगी थीं.

मेरे पास लड़कियों की कोई कमी नहीं रहती इसलिए मैं अनजान लड़कियों से पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद ही संपर्क करता हूँ. उसके बाद मैंने फिर से अपनी मौसी के सामने मॉम को चोदा और मॉम ने मौसी की चूत को अपनी जुबान से चोदा. मैंने अपने एक हाथ से देविका की चूत की फांकों को दोनों तरफ फैला दिया और दूसरे हाथ से अपना लंड पकड़ कर लंड का सुपारा उसकी फांकों में सैट कर दिया.

नंदा बोली- मैं कुकर में रख आती हूँ, सीटी आएगी, तब गैस बंद कर देंगे. पर मैं अब कुछ नहीं कर सकता था, मुझे क्रॉसड्रेसर बनना था वरना फातिमा को हमेशा के लिए खो देता.

मुझे शर्माते हुए देखकर भैया ने कहा- तुम इन सबको अभी पहनो, उसके बाद केक काटना.

अब मॉम ने भी अपनी पैंटी उतार दी और अपनी चिकनी चूत मौसी के मुँह में लगा दी.

तो मिहिरा बोल पड़ी- इसको सुधारने से अछा है कि आप मेरे को नया लॅपटॉप ही दिला दो. धीरे धीरे उसकी चीखें अब मादक सिसकारियों में बदल गईं और दर्द से पीड़ित उसका बदन चुदाई से मिलने वाले सुख का मजा लेने लगा. लंड था कि पूरी गांड पर अपना क़ब्ज़ा जमा चुका था, एक सूत की भी जगह ख़ाली नहीं बची थी.

मैंने शिराज को थोड़ा दूर किया और साबिरा के दोनों पैर मेरे कंधे पर रखते हुए उसके बदन पर झुक गया. ऐसे ही एक भाभी की ईमेल का जवाब मैंने उन्हें दिया और बाद में चोद भी दिया. [emailprotected]ब्लोजॉब सेक्स का मजा कहानी का अगला भाग:दोस्त की बहन के साथ बितायी एक रात- 4.

कुछ देर उसी ब्लू फिल्म को देखते देखते मैं सोचने लगी कि इस लड़की को अपनी एक चूत में इतने सारे लंड लेने में कितना मज़ा आता होगा और इसके जैसी दूसरी रंडियों को भी बड़ा मज़ा आता होगा.

हल्के भूरे रंग के गोलाकार छेद की सिकुड़न ने अनायास ही शेखर का ध्यान अपनी ओर खींच लिया. मैंने आज पहली बार किसी मर्द का लंड चूसा है कितना जानदार और शानदार लंड है तुम्हारा. मुझे पता था कि जिंदगी को बंद कमरों में जीने वाली रेशमा के लिए मेरा ये तोहफा जरूर पसंद आएगा.

मैं उससे अलग हुआ और कहा- अब मुझे वापस लड़का तो बनवा दो, कॉलेज कैसे जाऊंगा. तभी उनके हाथ में मेरी ब्रा का हुक आ गया तो उन्होंने उसे भी खोल दिया और मेरी नंगी पीठ पर वो केक लगाने लगे. तभी मेरी बीवी बोली- जब आप एक ही क्लास में हो और एक ही जगह जा रहे हो, तो बाईक पर ही चले जाओ.

यह देख कर मैंने सोचा कि यहां भी मस्ती करने का पूरा इंतज़ाम है बस इन दोनों को थोड़ा सैट करने की देर है, फिर तो ये दोनों खुद ही मुझ पर टूट पड़ेंगे.

जब वो जाने के लिए खड़ी हुई, तब मेरे दिमाग में बस एक ही बात आई कि आज ही इसको जी भरके देख लेता हूं, पता नहीं आज के बाद ये हसीना फिर कभी मिले या ना मिले. मैंने हालचाल पूछे और पूछा- डैड क्या कर रहे हैं?मॉम बोलीं- डैड सो गए हैं.

मोटी औरतों के बीएफ उन्होंने ही मुझ अनाथ को कूड़े घर से उठा कर अपने घर में आसरा दिया था. उसके मुँह से जैसे ही मैंने सुना कि वो अभी दुधारू माल है … मेरा लंड टनटन करने लगा.

मोटी औरतों के बीएफ उसने उन नाखूनों पर खूबसूरत लाल नेल पॉलिश लगा दी, इसी तरह से मेरे पैरों के नाखूनों पर भी पॉलिश लगा दी. अब धारा का गोरा नंगा जिस्म किसी चमकते हुए संगेमरमर की मूर्ति की तरह नज़र आने लागा.

अब तक मुझे बहुत मज़ा आने लगा था इसलिए मैंने अपनी दोनों उजली और भरी हुई जांघों को खोल दिया.

नेपाली ब्लू फिल्म बीएफ

वो मेरी बांहों में नंगी लेटी हुई मेरी छाती के बालों पर अपनी उंगलियों से नक्शा बना रही थी. उसने मेरे लंड का माल खा लिया और आंख मारती हुई बोली- यम्मी … मजा आ गया. नीता उठकर बैठ गयी और मेरे लंड को कामरस से लबालब देखकर अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

मैं उसके ऊपर से हटा, अञ्जलि को सीधा लिटा दिया, उसकी टांगों को खोल कर चूत चौड़ी की और आधा लंड उसकी चूत में डाल दिया. शिराज भी अब अपने बहन की चड्डी हाथ में पकड़ कर ले आया और बिस्तर के नीचे खड़ा हो गया. ह्म्म्म … ओह्ह्ह … ओह्ह … आह्ह … फाड़ दो शेखर … फाड़ दो इसे!” धारा उन्माद में बक-बक करती हुई ज़ोर-ज़ोर से उछल उछल कर अपनी गांड मरवाने लगी.

उसकी चीख निकलते ही मैंने उसके चेहरे को तकिए में दबा कर उसकी तेज आवाज को दबा दिया.

उसकी आंखों की चमक मुझे बता रही थी कि साली वो भी मेरा सुबह से इंतजार कर रही है. उसने अपने दोनों हाथों से मेरे चूतड़ों को पकड़ा और अपना लौड़ा मेरी गोरी गांड पर ऊपर नीचे घिसने लगा. जल्द ही उसने मुझे चाय बनाकर दी और फिर रात 9 बजे हम दोनों ने खाना खाया.

अगले दिन से हम लोग होटल से ही खाना ऑर्डर करते और दिन भर कभी सोफे पर कभी बाथरूम में कभी बिस्तर पर तो कभी जमीन पर ही चुदाई करते रहते. एक मिनट बाद ही वो आंखें मसलती हुई जब बाथरूम के पास आई तो मैं अपने लंड को हिला रहा था. एक रात को मैं अपने रूम में अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ रहा था तभी ललिता भाभी का मैसेज आया ‘क्या कर रहे हो?’मैंने कहा- कुछ नहीं … तुम्हारी याद में लंड हिला रहा हूं.

तभी मैंने अपना लंड भाभी के चूत के छेद पर ले जाकर अड़ा दिया और भाभी के ऊपर झुक कर उसके गुलाबी होंठों को चूसने लगा. इस वक्त भी बॉस मेरे घर पर ही था और चड्डी बनियान में बिस्तर पर लेटा हुआ मोबाइल चला रहा था.

धीरे धीरे अब मॉम का दर्द चला गया और वो लंड पर उछल उछल कर अपनी गांड पटकने लगीं. सुबह चाचा जल्दी ही काम पर निकल गए और उनके जाने के बाद चाची नहाने घुस गईं. मैं उस रूम में गया और देखा तो एक 30 साल के आसपास एक महिला पेट के बल लेटी हुई थी और उनने अपने ऊपर कंबल डाल रखा था.

उतने में ही भाभी के मुँह से एक तेज ‘अह मर गई … धीरे राजा …’ की आवाज निकल पड़ी.

वो दर्द से कराह उठी और मेरी पीठ पर अपने नाखून गड़ा कर ‘उह उन्ह …’ करती रही. तभी मेरे सर भी उठ कर आ गए और मुझे देख कर बोले- अरे पूनम तुम … इतनी बारिश में कैसे आ गयी?मैं बोली- सर ऑटो से. अब आगे डबल सेक्स का मजा:रात में घर वालों के होने की वजह से भाई मुझे ट्रेन में चोद तो नहीं पाया, पर वो कभी मेरे मम्मे सहलाता रहा तो कभी चूत में और गांड में उंगली करता रहा.

शहर में मैं अपनी पत्नी मेघना के साथ अकेला रहता हूं और मेरी बाकी की फैमिली के सदस्य गांव में रहते हैं. उसको देखकर मैंने उनसे पूछा- ये क्या है भैया?तो उन्होंने बताया- ऐसे ही तुम्हारी याद आ रही थी तो सोचा कि हॉट सी लड़की को कुछ हॉट सा भेजा जाए, तो भेज दिया.

आसिफ ने बोला- तू अपने आपसे बाद में प्यार कर लियो, आज तेरे साथ मैं प्यार करूंगा. सबको चाय देकर देविका ने मुझे भी चाय दी और खुद लेकर मेरे पास बैठ गयी. तभी भाभी बोली- मैंने आज सुबह से कुछ नहीं खाया, तुम खा लो, फिर मैं भी खा लेती हूं.

इंग्लिश पिक्चर बीएफ व्हिडीओ

मॉम एकदम से बोलीं- अरे 4 दिन क्यों?मगर तब तक डैड ने हां कर दी- हां चार दिन से कम में मसूरी का क्या मजा आएगा.

मैं सोच रहा था कि काश ये मेरे साथ वाली सीट पर आ कर बैठ जाए, पर ऐसा हुआ नहीं. वो बोल रही थी कि चार महीने पहले आपनेमेरी सील तोड़ीथी, उसके बाद मैंने कई लड़कों से चुदवा लिया, पर किसी में मुझे इतना मजा नहीं आया, जो आपके साथ आया था … आंह जान मेरी चूत का सारा पानी निकाल दो और पी लो. उसके बाल छोड़ कर मैंने अब साबिरा का कुरता ब्रा समेत पूरी तरह से निकाल दिया.

तो मैंने कुछ ऐसा सिस्टम बना लिया था कि अतुल के स्कूल जाने के बाद मैं अपने घर में कोचिंग जाने के बहाने से निकल जाता था. मेरे हाथ का दारू का गिलास लेते हुए उसने एक ही घूँट में पूरा गिलास खाली कर दिया और फिर से मेरे लौड़े को चूसने के लिए मेरे सामने आकर बैठ गयी. भाभी देवर सेक्स मूवीमेरे काफी कहने करने पर भाभी जी लंड चूसने के लिए मान गईं और हम दोनों 69 की पोजीशन में आ गए.

मैं जमकर झटके लगाने लगा और वो भी अपनी गांड आगे पीछे करके मस्ती से चुदाई का भरपूर आनन्द ले रही थीं. मैंने भाभी के एक पैर को पकड़ कर उसे उलटा कर दिया और नंगा होकर भाभी की कमर से लग गया.

जोर जोर से सिसकारियां लेती हुई अब वो खुद अपनी गांड मेरे लौड़े पर पटकने लगी. मनीष ज्यादा देर तक मुझे झेल नहीं पाया और उसने जबरदस्ती मेरे मुँह से लंड निकाल कर मुझे किचन की स्लैब पर झुका दिया. फिर हम दोनों ने कुछ मिनट किस किया और मैंने उनके दूध चूसना शुरू कर दिए.

अंत में उसका हाथ मेरी चूची पर आ पड़ा, जिसको वो बार बार हल्का सा छू ले रहा था. मेरे पीछे आते ही रेशमा अब ख़ुद नीचे को झुक गयी और अपने दोनों हाथ से उसने अपनी मांसल गांड को छिपाए अपने चूतड़ मेरे लिए खोल दिए. खैर उसने लगातार अपना लंड रगड़ना जारी रखा … उसकी इस कोशिश ने अपना रंग दिखाना शुरू किया और अब धारा भी दर्द से राहत महसूस करते हुए शेखर की छाती पर अपनी हाथेलियों का ज़ोर देकर खुद अपनी गांड उठाने और दबाने लगी.

उसने अपने पैरों की गिरफ्त से मुझे आजाद कर दिया और अपने पैर सीधे कर दिए.

मैं दबे पांव बाथरूम पहुंचकर गेट से ही उसकी चूत को निहारकर सीसी की मधुर आवाज को सुनने लगा. आगे उभरे हुए उसके स्तन, पीछे निकली हुई गोल मटोल गदरायी सी गांड और उसकी 34-30-36 की फिगर देखकर मेरा लंड तनाव में आ गया था.

जैसे जैसे हम नीचे उतरते गए, मुझे रेशमा की मादक सिसकारियां सुनाई देने लगीं. ससुर जी ने मुझे अपनी तरफ घुमाया और मेरा एक पैर उठाकर पलंग पर रख दिया और अब सामने से चूत में लंड डाल दिया. अब मेरा मन दुकान या पढ़ाई में बिल्कुल नहीं लगता, दिन भर बस सोनी के बारे में सोचना या उसके कॉल का इंतजार करना, यही मेरा काम रह गया था.

इतने में ही सुजय सर मुझे बाहर से सौम्या-सौम्या कहकर बुलाने लगे, पर पानी की आवाज़ की वजह से मैं उनकी आवाज़ को नहीं सुन पाई. कार चलाती हुई वो बोली- तुम्हें थैंक्स किस तरह दूँ चन्दन … समझ नहीं आता. इतना बोल कर उन्होंने ने रेशमा को सच में किसी रंडी की तरह चोदना चालू कर दिया.

मोटी औरतों के बीएफ सुबह 8 बजे मेरी नींद खुली तो मैं जल्दी से तैयार होकर ड्यूटी चला गया. मैंने स्कर्ट थोड़ी और ऊपर की और खुद को थोड़ा ठीक करके दरवाज़ा खटखटाया.

कुंवारी लड़की का सेक्स बीएफ

ये अपनी बड़ी मौसी को खुश कर रहा है … और वैसे भी जवानी में इसको घर में ही मज़ा मिल रहा है. बीच में मुन्ना भैया की चुदाई वाल सीन आ गया और रीना ने टीवी बंद कर दिया. हमारे सबके पापा नौकरीपेशा थे तो वो सब दिल्ली में अपनी नौकरी करने निकल जाते थे.

मैंने फिर से मोबाइल चालू किया और देखा तो वो दोनों फिर से चुदाई कर रहे थे. नमस्कार दोस्तो, हिन्दी सेक्स कहानी पर सभी लंडधारियों और चूत वालियों का मैं आपका राज शर्मा स्वागत करता हूं. डॉक्टर का बीएफबहन- मगर ऐसा ही चलता रहा और तू हिलाता रहा, तो तेरी सेहत पर इसका बुरा असर पड़ेगा.

मैं- हां भाभी क्या हुआ?भाभी- बाबू, वो जो वीडियो तुम्हारे वॉट्सएप ग्रुप में आया था, मुझे भी सेंड करो न!मैं- क्या बात है भाभी, लगता है आज आपको भैया की कुछ ज्यादा ही याद आ रही है.

आज की इस मस्त ऑफिस फ्रेंड सेक्स कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने मेरी सहकर्मी की चुदाई की. थोड़ी देर बाद मॉम भी आ गईं और पूछने लगीं- तनु क्या कर रहा है?मैं मुस्कुराते हुए लंड में हाथ फेरते हुए बोला- मां बेटी की चुदाई की सच्ची कहानी पढ़ रहा हूं.

ललिता कितनी किस्मत वाली है साली … जब चाहती है, उसे लंड मिल जाता है. मैं वैसे ही उसका सर ऊपर करते हुए मेरा मुँह साबिरा के सीने की तरफ ले गया और साबिरा का एक बोबा अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. उन्हें आजाद करके मैं उसके एक चूचे को चूसने लगा और निप्पल पर दांतों से काटने लगा.

थोड़ी देर बाद मॉम भी आ गईं और पूछने लगीं- तनु क्या कर रहा है?मैं मुस्कुराते हुए लंड में हाथ फेरते हुए बोला- मां बेटी की चुदाई की सच्ची कहानी पढ़ रहा हूं.

मैं अतिउत्तेजना में कभी कभी उनके निप्पल को काट लेता, जिससे मौसी उत्तेजित होकर मेरे सर को अपनी छाती पर दबाते हुए सिसकारियां लेने लगतीं. वो मेरे लंड को अंडरवियर से निकाल कर सहलाने लगी जिससे मेरी भी आह निकल गयी. मैंने कहा- मेरे मम्मे कितना गजब माल हैं, जरा बताना तो?इस पर वो बोला- अगर ये मुझे मिल जाएं तो बस …इतना बोल कर वो शांत हो गया.

खून खच्चर बीएफलेकिन जब ऊपर वाले को मिलाना होता तो वो कोई ना कोई घटना पैदा कर देता है. इस कारण अब पाटिल जी का लौड़ा पूरा अन्दर तक चोट करने लगा था और रेशमा किसी कुतिया की तरह कुईं-कुईं करने लगी.

नागपुरी बीएफ वीडियो

करीब दस मिनट चुदाई चलने के बाद मैंने पोजीशन बदल दी और भाभी को उल्टा लेटा दिया. फिर मैंने आंटी को बिस्तर पर लिटा दिया और दोनों टांगों को फैला कर चूत चोदने लगा. फिर मैंने कूल्हों और हिप्स पर पैड लगाकर पैंटी पहनी, जिससे मैं एकदम किम किर्दिशियान जैसी फिगर वाली माल लौंडिया लगने लगी थी.

बेचारी वो भी तो तड़प रही थी, उसका शौहर भी तो कब से दुबई में था और वैसे साबिरा की अम्मी अभी बूढ़ी तो थी नहीं, तो स्वाभाविक है उसकी पुरानी भोसड़ी भी अब लौड़ा मांगने लगी थी. किरण- आपको जैसे चाहिए, वैसे मुझे चोद लो मालिक, मैं तो उस मादरचोद नामर्द के सामने भी आपकी पालतू कुतिया बन कर ही चुदवाऊंगी. इस वक्त भाभी मानो मुझे चोदने लगी थी और मैं उसकी चूचियों को पूरी दम से दबाने लगा था.

आंटी बोलने लगीं- आह राज मजा आ रहा है … और तेज चोदो मुझे … मेरी चूत कब से लंड के लिए तरस रही थी … और इतना मस्त लंड मेरे इतने पास था. आइये आज आपको मैं एक ऐसे सफर के बारे में बताता हूं जिसकी मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी. उसे लगा जैसे अभी थोड़ी देर पहले जिस छेद को देख कर उसे चूसने और चाटने की तमन्ना जगी थी उसकी पूर्ति धारा के होठों से ही कर लिया जाए!लेकिन उसकी ये तमन्ना भी अधूरी रह गयी … क्यूँकि धारा ने अपने होठों को शेखर के होठों की जकड़ से छुड़ा लिया और अपनी एक उंगली शेखर के मुँह में डाल दी.

ऐसा मैं हर बार करती थी मगर आज तक मैंने अपनी उंगली को अन्दर नहीं किया था. ताकि जब तुम ना हो तो मैं उसको चूस के उसका रस पी सकूं!मैंने प्रिया को बोला कि वह खुद ही नए बॉयफ्रेंड बना ले ताकि उनका लन्ड चूस सके.

मैं बाथरूम में नंगा नहाने लगा और मैंने चाची को याद करने लंड सहलाना शुरू कर दिया.

अपनी चुदाई करवाने में मुझे भी अब काफी मज़ा आने लगा था, इसलिए अब मैं हमेशा चुदवाने के लिए तैयार रहती थी. इंग्लिश एक्स एक्स बीएफपर किरण कहीं दिखाई नहीं दे रही है वो कहीं गई है क्या?आंटी बोलीं- हां वह बाथरूम में नहाने गई है. नंगी पिक्चर नई वालीमैंने अपने लंड पर थूक लगाया और एक ही झटके में पूरा का पूरा लौड़ा अन्दर डाल दिया. देसी गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे लड़की जवान हुई तो उसकी जवानी की उमंग में सेक्स करने की इच्छा भी बलवती होने लगी.

मैंने ललिता को उठाकर बिस्तर के किनारे लिटा दिया और उसकी एक टांग अपने कंधे पर रख कर चोदने लगा.

घोड़ी बनी ललिता की गांड में और लंड पर घी लगाकर झटके से गांड में लंड डालकर चोदने लगा. सबके लंड से फ्री में चुदवाऊंगा … तेरी गांड मरवाऊंगा … और तुझे कोठे पर बेच दूंगा रांड. जैसे ही भाभी की चूत से लंड बाहर निकाला, तो मैंने देखा कि भाभी की चूत से लावा बाहर निकलकर बिस्तर पर टपकने लगा था.

आम दिनों में मैं अपने मम्मों को एक बहुत ही चुस्त पट्टे से और बनियान से दाब कर रखती थी. आंटी- ऊईई ऊईई आह आह चोद और चोद मुझे मेरी चूत फ़ाड़ दे … कब से मेरी चुत लंड की भूखी थी. मैंने मनीष के गले में हाथ डाल कर उसको पकड़ लिया और टांगों को ज्यादा से ज्यादा उठा कर उसके चूतड़ों पर चढ़ा दिया ताकि उसे अपना लंड मेरी चूत में घुसाने को ज्यादा से ज्यादा जगह मिल सके.

सर की बीएफ

आप लोगों ने मेरी कहानीक्यूट भाभी को चोदकर प्यार हो गयाको इतना पसंद किया, उसके लिए दिल से धन्यवाद देती हूं. मैं भी उठकर दारू का जाम भरने लगा और रेशमा का ये नया रूप देख कर मजे लेने लगा. रेशमा ने आज वही कल का वन-पीस ड्रेस पहना था, ऑफिस के सारे लोग उसको खा जाने वाली नज़रों से देख रहे थे कि क्या माल आया है.

मैंने कोई विरोध नहीं किया और धीरे धीरे उसका लौड़ा मुँह में लेकर आगे पीछे चूसने लगी.

कुछ देर बाद लच्छो झड़ गई लेकिन मैं अभी भी उसे लगातार चोदे जा रहा था.

कुछ ही देर में मेरी लुल्ली से पानी की धार, जो प्रीकम का चिकना पानी होता है, टपकने लगा. जब मेरा पूरा पानी निकल गया तो मैंने लंड बाहर निकाल लिया और उससे बोला कि जाओ बाथरूम में साफ कर लो. md सेक्स वीडियोउधर पाटिल जी ने रेशमा की चूत को बाजारू रंडी की चूत की तरह रौंदना जारी रखा था.

किरण के बाल पकड़ कर उन्होंने उसको रेशमा के ऊपर से अलग किया और खुद रेशमा को अपने बदन के नीचे दबोच लिया. अब जैसे हम बाहर निकले तो मैंने देखा वही लड़का, जिसने ऑटो में मेरे मज़े लिए थे, वो शॉर्ट्स और टी-शर्ट में खड़ा था. उस किताब में तो काले नीग्रोज के बड़े बड़े लंड गांड में घुसे हुए दिख रहे थे.

मैंने धीरे धीरे करके अपना पूरा लंड उसके मुँह में घुसा दिया और उसके बालों को पकड़ कर उसका मुँह चोदने लगा. करीब 15 मिनट बाद भाभी की बड़ी बहन फिर से मेरे लंड को चूसने लगीं और भाभी ने अपनी चूत को मेरे मुँह पर रख दिया.

पर सपना ने नीचे जाकर अपनी मम्मी को दर्द के बारे में बताया, तो उसकी मम्मी ने पूछा- क्या हुआ?सपना ने बताया कि वो गिर गई.

फिर उसने अपना सर उठाया और मुँह नजदीक लाकर किस करने की कोशिश करने लगी. मैंने तय कर लिया था कि आज फॉर्म भरने जाने के साथ साथ अपने हर छेद को भी भरवा कर रहूँगी. मैंने कहा कि मैं क्या करूं … क्या मुझे कोचिंग के बाद घर चली जाना चाहिए?इस पर उन्होंने कहा- हम दोनों आज तुम्हारा जन्मदिन कोचिंग पर ही मनाते हैं.

सेक्सी हिंदी एचडी सेक्स एक दिन बाजार जाते समय एक प्रचार वाले ने मुझे एक पर्चा पकड़ा दिया, जिसको घर आकर मैंने देखा. भाभी हंसने लगीं और बोलीं- उनका मन उकता गया होगा, या आपका मन भर गया?मैं हंसने लगा.

मेरी लॉ ब्रांच की स्टूडेंट और अभी अगले महीने इसका 12 वीं का एग्जाम है. मैं इसका आनन्द लेती हुई मनप्रीत सिंह जी के अपार्टमेंट के सामने आ पहुंची. इसके बाद बॉस मेघना की चूत के पास पहुंच गया और मेरी बीवी की चूत को हाथ से फैला कर चाटने लगा.

हिंदी पिक्चर बीएफ ओपन

हम कभी कभी साल में एक बार हम बिस्तर होते हैं और विजय को भी बुला लेते हैं, दोनों बारी बारी से मुझपे चढ़ते हैं और चुदाई का मौसम शुरू हो जाता है।तो कैसी लगी यह Xxx सेक्सी हिंदी कहानी?अपने पत्रों में जरूर बताइएगा. कहानी के पहले भागपड़ोसी लड़के लड़की को गांड गांड खेलते देखामें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने सपना की गांड में लंड पेला तो उसे दर्द हुआ और वो चिल्ला उठी. एक बार हुआ यूं कि मैम एक क्लास रूम में रो रही थीं और मैं उसी समय वहां से गुज़र रहा था.

अपने दोनों हाथ बिस्तर पर टिका कर अपनी पूरी रफ्तार से उसके चूतड़ों पर धक्के मारने लगा. मैंने काफी टाइम तक उनके लंड को चूसा, उनके अंडकोष दो मोटी गेंदों जैसे थे, जिनको चूसने में मुझे इतना मजा आया कि मैं बता नहीं सकता.

आप इस देसी गर्लफ्रेंड रोमांटिक कहानी पर अपनी राय मुझे मेरे ईमेल आईडी पर बता सकते हैं.

मैं अपनी कंपनी के काम से 5 दिनों के लिए दूसरे शहर जाने के लिए निकल गया. मैंने मना कर दिया और कहा- भाभी बदलना क्यों है, अभी और नहीं करना है क्या?भाभी हंस कर बोलीं- ठीक है. उसके बाद एक दिन उसने मेरे पूछने पर बताया कि उसकी शादी को लगभग तीन साल हो चुके हैं लेकिन अब तक वह अपनी शादी वह खुशी नहीं पा सकी है जिसके लिए सभी लड़कियां ख्वाब देखती हैं.

ये सब तो वो शुरू से करते आए थे लेकिन अब कुछ ज़्यादा और अजीब तरीकों से वो मुझे छूने लगे थे. सर मेरी गांड चोद रहे थे, उन्होंने अपना वीर्य मेरी गांड में ही छोड़ दिया और दूसरे वाले ने मेरी बुर के मुहाने पर रस टपका दिया. मैं- अरे … आपकी तो शादी हो चुकी है न!कोमल- हुई थी लेकिन अभी मैं अकेली रहती हूँ.

अब आगे हार्ड फक़ नेक्स्ट डोर गर्ल का मजा:मैंने उसे देखा तो लगा कि आज पहली बार देख रहा हूं.

मोटी औरतों के बीएफ: कुछ पल के बाद एक 40 साल के आस पास का नाटे कद का भरे बदन का आदमी बाहर आया. इसके बाद तो मैं रोज ही पूनम को रूम पर जाकर उसकी दो तीन बार चुदाई कर देता था.

भाभी शाम को ऊपर टहलने आया करती थीं तो कभी कभी बात भी हो जाया करती थी. वह इतनी हवस भरी नज़रों से बिना पलकें झपकाए मेरे शरीर और मेरे लोवर में कैद लंड को देख रही थी. अब बिना रुके मैंने दस मिनट तक उसे चोदा लेकिन इस बार न वो झड़ी और न मैं.

उन्होंने ही मुझ अनाथ को कूड़े घर से उठा कर अपने घर में आसरा दिया था.

अब मैं देविका के स्तन चूसने लगा और देविका अपने दोनों हाथों से मेरी पीठ, कमर और गांड को सहलाने लगी. तो रमन ने कहा- एक रात और रुक जाओ, कल चली जाना, जहां कहोगी वहाँ छोड़ आऊंगा।दो चुदाई से मेरी भी प्यास कहां बुझने को थी, मैंने चेहरे की खुशी छुपाते हुए हां कर दी।हां करने की देरी थी, रमन फिर मुझे चोदने को तैयार थे।उन्होंने मेरे भीगे बदन से तौलिया खींच फेंका, अपने बेडरूम में मुलायम बिस्तर पर धकेल दिया और मेरी चूत में उंगली करने लगे. चाय नाश्ता परोसने के बाद होने वाली भाभी और आरती हमारे सामने ही बैठ गई थीं.