नोएडा की बीएफ

छवि स्रोत,मारवाड़ी खुली सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

जैकलिन बीएफ वीडियो: नोएडा की बीएफ, उन्होंने अपने होंठ जबरदस्ती मेरे होंठों से छुड़ाए और मुझसे कहा- मुझे वाइल्ड सेक्स में बड़ा मजा आता है.

ब्लू फिल्म mp3

मैं बहुत अधिक उत्तेजित हो चुकी थी, इस वजह से जब रवि का लिंग मेरी योनि से बाहर निकल रहा था, तो मेरी अंतरात्मा जैसे कहने लगी कि मत हटो, कुछ पल और रुक जाओ. देहाती ब्लू सेक्सउसके बाद मैं अपनी मॉम को फिर से किस करने लगा और उनके बालों पर हाथ फेरने लगा.

उसकी पैंटी को निकाला तो उसकी सांवली सी चूत मेरी आंखों के सामने नंगी हो गई. सेक्स क्यों किया जाता हैफिर उसने अपने लंड के सुपारे को मेरी चुत की फांकों में रगड़ा और फंसा दिया.

दीवार के इस तरफ यानि हमारी तरफ ऊपर की मंजिल पर जाने के लिए सीढ़ियाँ बनी हुई हैं।मेरा कमरा घर की पहली मंजिल पर है यानि मैं और मेरी बीवी दिन में कई बार उन सीढ़ियों का प्रयोग करके ऊपर नीचे आते जाते रहते हैं।अब असली मुद्दे की बात बताता हूँ.नोएडा की बीएफ: कुछ ही पलों मैं उसके लिंग से मेरी योनि में हो रही रगड़ से प्यार करने लगी.

उसके बाद उसने भाभी को फिर से पलटा और अपना खड़ा हुआ लंड भाभी की गांड में घुसाने लगा और आगे की तरफ हाथ ले जाकर भाभी के मोटे चूचों को दबाने लगा.फिर मैंने उन्हें चुप करवाया और आराम से पूछा- मैडम क्या हुआ?तब उन्होंने बताया कि उनका पति उन्हें तलाक देने की बोल रहा है क्योंकि मैडम प्रेग्नेंट नहीं हो रही हैं.

गर्भवती महिला के साथ सेक्स - नोएडा की बीएफ

मैंने चूत खोल दी थी तो उसने मेरी चूत की फांकों पर अपना लौड़ा टिका दिया.वो मुझे चूमते हुए धीरे धीरे धकेलने लगा और ठीक मुझे जमीन पर गिराते हुए वो मेरे ऊपर आ गया.

फिर मैंने उनसे इसका कारण पूछा।राजेश ने बताया कि उसकी पत्नी भले ही पैसे लेकर सेक्स करती है लेकिन वो खुद सेक्स के काबिल ही नहीं है. नोएडा की बीएफ राजेश ने एक कुर्सी अपने पास खींच ली और उस पर हमारे सामने ही बैठ गया.

उसने अपना लिंग जोर से एक बार आगे पीछे किया और फिर उसे मेरी योनि की छेद पर सटा कर आसन ले लिया.

नोएडा की बीएफ?

मेरी जान ही निकल गयी थी क्योंकि वो बहुत जोर जोर से धक्का मार रहा था. मैंने दो धक्के पूरे जोश में लगाये और पचर-पचर करते हुए लंड से वीर्य की पिचकारी उसकी चूत में गिरने लगी. मेरे मुँह से ‘आहह … आएहहह …’ की सिसकारियां पूरे कमरे में गूंजने लगीं.

उनके जाते ही मैंने दरवाजे को कुन्डी लगाई और अन्दर आकर देखा तो प्रिया खाना बना रही थी. कुछ देर बाद वो उठा अपने कपड़े सही किए और मुझे अपनी एक बांह के बगल पकड़ बाहर निकल गया. फिर मैंने जानबूझकर एक दो रंडियों से पूछा- तुम्हारा ये साइज कैसे बढ़ता है?उन्होंने बताया कि हमारी दिन रात चुदाई होती है … तो किसी भी लड़की का साइज चुदाई से बढ़ ही जाता है.

रेलगाड़ी में भी बहुत कम सफर किया था और हवाई जहाज में पैसे बहुत ज्यादा लगते है, वो अलग दिक्कत थी. यही प्यार था क्या तुम्हारा?वो बोली- छोड़ो मुझे विक्की, आंटी आ जायेगी. वो भी मेरे कूल्हों को अपने दोनों हाथों से दबा दबा कर मजा ले रही थीं, तो कभी हाथ नीचे करके लौड़े को मसल देती थीं.

मजा तो मुझे भी बहुत आ रहा था, मगर शायद अंकल को मुझसे ज्यादा मजा आ रहा था. जैसे ही लंड बाबा, चूत बेबी से टच हुआ, मेरी जानू ने अपने हाथ से पकड़ कर उसे रास्ता दिखा दिया.

पहले मैंने अकेले जाकर एक रूम बुक किया और उसको फोन करके अन्दर बुला लिया.

तभी मैंने अन्तर्वासना पर सेक्सी स्टोरी पढ़ी और तब से ही मैं इसका नियमित पाठक बन गया हूं.

दीवार के इस तरफ यानि हमारी तरफ ऊपर की मंजिल पर जाने के लिए सीढ़ियाँ बनी हुई हैं।मेरा कमरा घर की पहली मंजिल पर है यानि मैं और मेरी बीवी दिन में कई बार उन सीढ़ियों का प्रयोग करके ऊपर नीचे आते जाते रहते हैं।अब असली मुद्दे की बात बताता हूँ. मुझे नहीं पता था कि किसी के मुंह में लंड को देकर चुसवाने में इतना मजा आता है. तभी होंठों को चूसते हुए मैंने अपना एक हाथ उनके ब्लाउज के ऊपर से ही उनके बोबों पर रख दिया.

मुझे देख कर प्रिय पाठिकाओं, तुम सब भी अपनी चूत में उंगली कर सकती हो … क्योंकि ऐसा मुझे बहुत सी लड़कियों ने और औरतों ने कहा है. सभी मर्द तैयार हो गए और इसमें हम महिलाएं उनका कोई साथ नहीं देने वाली थीं. रवि ने लिंग का सुपारा खोल कर हाथ से पकड़ा और निर्मला की योनि की फांकों पर कुछ देर तक ऊपर से नीचे तक रगड़ा.

नहाने के बाद वो कपड़े बदलने के लिए उसी स्टोर रूम में जाती थी और दरवाजे को अंदर से बंद कर लेती थी.

तभी मेरे पति ने कहा- ओ मेरी जान रोशनी … ले ले मेरा लंड यह तेरे लिए ही है … जितना इसका रस पीना है, पी ले … भर कर मैं हमेशा तुझे अपनी रण्डी बना कर रखूंगा … चाहे कुछ भी हो … आज की रात तो तुझे पूरी एक मस्त रंडी बना कर चोदूंगा. मैंने उनके होंठों चूसे और नाइटी के ऊपर से ही उनकी चूचियां भी दबाने लगा. फिर मैं खुद को कोसने लगा कि अब तक इंग्लिश की ट्यूशन शुरू क्यों नहीं की.

अंकल आंटी की शादी को अभी 7 साल ही हुए थे और उनके एक 3 साल का लड़का भी है।हमारे घर अगल बगल में ही है, तो हमारा उनसे संबंध घर जैसा ही है. लेकिन मेरे जोर देने पर फिर वो मान गई, बोली- अगर दर्द हुआ तो निकाल देना. सबको ही सबके ही बारे में पता रहता था कि किसने किस लड़के पर लाइन मारी, किस लड़के ने कौन सी सहेली को कहां पर ले जाकर चोदा, किस सहेली ने नया लड़का पटाया है और कौन सी सहेली दो दो लंड एक साथ ले रही है, कौन सी अपने बॉयफ्रेंड के साथ साथ उसके दोस्तों से भी चुदवा रही है.

फिर मैं उठा और दीदी को एक थप्पड़ मार कर बोला- चल साली, मेरे कपड़े खोल और मेरा लौड़ा चूस ले.

वो जोर से चिल्लाने को हुई, पर मैंने उसके मुँह पर हाथ लगाकर बंद कर दिया. जब मैंने अपने ग्रुप में ये बात कही कि मेरा भी अब जाने का मन नहीं हो रहा है.

नोएडा की बीएफ उसने मेरे कहने पर मेरे लंड को अपने कोमल से हाथ में भर लिया और उसको दबा कर देखने लगी. दो गिलास पेप्सी मतलब दो पेग व्हिस्की अन्दर हो गई तो मैं नमिता को लेकर बेडरूम में आ गया.

नोएडा की बीएफ नाइटी जरा चुस्त थी, तो भाभी के मोटे चुचे मानो जैसे अभी बाहर फट पड़ेंगे … ऐसा साफ़ दिख रहा था. मुझसे रुका नहीं गया तो मैंने उसके टॉप के अंदर हाथ डाल दिया और उसके चूचों को ब्रा के ऊपर से दबाने लगा.

मुझे हर तरीके से सेक्स करना और काफी देर तक पति के साथ सेक्स करना बहुत पसंद है.

भोजपुरी बीएफ देखने वाली

मैंने हिम्मत करके उसका फिगर पूछ लिया, तो उसने बताया कि उसकी बीवी का फिगर 36-30-38 का है. एक ही पल में उसने अपने लिंग को सीधा पकड़ा और राजेश्वरी की योनि में धकेलना शुरू कर दिया. मैंने फायदा उठाते हुए दीदी के पेटीकोट को थोड़ा ऊपर घुटने तक किया और लगाने लगा.

एक अन्जान नम्बर से फोन आया मेरे मोबाइल पर!मैंने फोन उठाया तो उधर से आवाज आई- हैलो!मैं सोचने लगा कि ये आवाज तो कुछ जानी पहचानी सी लग रही है. निर्मला ने वहां रखी खाली बियर की बोतलों में पानी भर दिया और फिर उसे रस्सी से बांध दिया. मैंने एक जोर का धक्का लगाया और पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया तो वो चीख पड़ी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’मैंने तुरंत उसके ऊपर लेटते हुए उसके होंठों पर होंठ रख दिये और उसके चूचों को हाथों से मसलने लगा.

फिर रात को असली खेल शुरू होने से पहले मां ने कहा- चलो, पहले नहा लेते हैं.

इस तेज झटके से मेरे लौड़े का सुपारा अन्दर डॉली की चूत में घुस गया था. ज़िन्दगी में मेरा पहला माल मेरी मैडम की चूत के अन्दर गिरा … अलग ही फीलिंग थी वो … जब मैंने अपना माल मैडम के अन्दर गिराया. मेरी बीवी की गांड में सुरेश का लंड जाने में उसे तकलीफ़ होती, तो सुरेश ऊपर से गांड पर थूक देता और चोदने लगता.

अब मेरा लंड सीधा उसके मुँह के पास था, तो मैंने अपना लंड उसके हाथ में पकड़ा दिया. मेरे मन में ख्याल आया कि चूत के अन्दर कितना गहरा गड्डा होगा, जो इतने बड़े लंड को भी गायब कर दिया. मैंने उसकी ब्रा को निकलवा दिया और उसके मीडियम साइज के गोरे चूचे जिनके बीच में भूरे रंग के निप्पल थे उनको अपने दोनों हाथों में ले लिया.

मैंने अन्तर्वासना पर बहुत सारी कहानियां पढ़ी हैं जिसमें लिखने वालों ने सेक्स की परिभाषा ही बदल दी तो मैंने सोचा कि मैं भी अपनी कहानी लिखता हूं और इसी वजह से मैं आपके साथ मेरी आप बीती साझा कर रहा हूं. मैं- ठीक है … चलते हैं … क्या उन लोगों को भी बुला लें?राज- उन लोगों को क्यों … वो हमारे साथ क्या करेंगे … वो तो अभी भी सो रहे हो गए होंगे.

इसलिए अंतरा ने भी अगले ही अपने हाथ उसकी पीठ पर ले जाकर नीचे से एक जोर का जबावी धक्का लगा दिया. कुछ पल और प्रयास करने के पश्चात निर्मला ने रवि के कमर को पकड़ कर उसे पीछे को धकेला और खुद से अलग कर लिया. इतना कह कर पहले तो उसने अपने चेहरे पर गुस्से और नाराज़गी के भाव दिखाए, फिर कुछ पल के लिए एकदम से चुप हो गई.

इसी बीच कविता ने उसी केक में से थोड़ा क्रीम लेकर रवि के लिंग पर लगाया और उसे चाटकर खा गई.

उससे दोस्ती होने के बाद हम दोनों कई बार साथ में ही बाहर घूमने के लिए भी चले जाते थे. उनके बूब्स एकदम नंगे थे क्योंकि उन्होंने अपनी नाइटी के सामने वाले बटन खोल रखे थे. अगली विजिट पर डॉक्टर साहब ने कहा कि तुम्हारी आरसीटी हो जाये फिर तुम्हारी कॉस्मेटिक सर्जरी करके तुम्हारे दाँत बहुत सुन्दर कर दूँगा.

फिर उसने मेरे पीछे आकर उसने हाथ से अपने लिंग के सुपारे को पकड़ कर मेरी योनि में गपा दिया. इस लिए सभी पति पत्नी के लिए यह सही राय है कि वे प्रसव के तीन महीने तक संयम बरतें, उसके बाद सब कुछ सामान्य रहने पर ही सेक्स शुरू करें … वो भी सीमित मात्रा में जैसे सप्ताह में एक बार …डिलीवरी के कुछ माह बाद स्त्री का मासिक धर्म शुरू हो जाता है लेकिन यह अनियमित रहता है इसलिए दोबारा गर्भ धारण से बचने के लिए गर्भ निरोध के साधन इस्तेमाल करने चाहिए.

उसके बाद मैं बाथरूम में चला गया और काव्या भी अपने कपड़े ठीक करके बैठ गयी. तो दोस्तो, मिलते हैं बिंदास ग्रुप की सदस्या की पहली कहानी के साथ, बहुत ही जल्द। अगले अंक में आप लोगों के बीच में होगी मेरी निजी जिन्दगी और चुदाई की कहानी।मैं बिंदास सोनम वर्मा जल्दी ही अपनी पहली बिंदास कहानी के साथ लौटूंगी. उसने थोड़ा सरसों का तेल एक कटोरी में लिया, कमरे में आकर उसमें थोड़ा ठंडा तेल मिलाया और मुझे बैड पर धक्का दिया.

सेक्सी बीएफ फिल्म खुला वीडियो

उसके गोरे गाल, मस्त गहरी नाभि और गुलाबी होंठ, काले लंबे खुले हुए बाल थे.

मगर सच में करना कल्पना को निभाते हुए उसका परस्पर निदान भी करना होता है. मुझे मालूम है कि उसको भी लंड की जरूरत है, वो भी जवानी की आग में सुलग रही है. उसने अपने घुटने को जांघों तक मोड़ लिया था और मैंने भी अपनी टांग उसकी जांघों पर चढ़ा दिया था.

वो मेरे ऊपर झुक कर अपना लिंग मेरी योनि में घुसाते हुए पूरी तरह से मेरे ऊपर आ गया. उसकी कमर से उसके बालों को हटा कर मैंन उसकी ब्रा के सारे हुक खोल दिये. छाती से दूध आनालेकिन मैंने मन ही मन ये सोच लिया था क़ि अपन साली को अब जल्दी ही चोदना है। मुझे मन ही मन अपनी चचेरी साली पर बहुत गुस्सा आ रहा था, अगर आज वो ना होती तो आज ही मैं अपनी साली के साथ चुदाई का मज़ा ले लेता.

उस पर से कंडोम हटाया और उसको सोफे पर लिटा कर उसके मुँह में अपना पूरा लंड डाल दिया. मगर मैंने उनकी चिल्लपौं को अनसुना कर दिया और उनके ऊपर छाते हुए पूरा लंड चुत में पेल दिया.

उसने यहां पर छिपे होने का कारण पूछा तो मैंने बहाना बना दिया कि मैं अपने भाई से झगड़ा करके यहां पर छिपा हुआ था. मगर जब लंड डालने की कोशिश करता था तो जैसे लंड बीच में ही कहीं अटक जा रहा था. मुझे पता नहीं क्या हो गया कि मैंने अपना मुँह अन्दर घुसा दिया और चूत के गुलाबी होंठों को चूसने लगा.

मेरा बॉयफ्रेंड जगेश मुझे बिस्तर पर ले गया और मेरी चूची को चूसने लगा. मैं खुद ही अपनी पूरी जांघें खोल कर उसे भरपूर जगह देने लगी कि वो आराम से मुझे धक्के मारे. मैं खड़ा हो गया था तो लंड भी लोअर में हल्का सा तना हुआ दिखाई देने लगा था.

उसका सीधे सीधे ये कहना था कि हम पाँचों में कविता की योनि सबसे कसी हुई थी.

अब हमारे एक ग्रुप में मैं पीहू, अल्पना और सनी और वरुण साथ थे और दूसरे ग्रुप में सोना, रुचि, वरुण और राज थे. उसने मुझसे कहा कि मैं हवाई जहाज से चली जाऊं, पर मैं तो आज तक केवल बस और ऑटो से ही घूमती आयी थी.

मैं उत्तेजना में उसके बालों को कसके पकड़ कर ऐंठन लेने लगी और टांगों से उसे जकड़ने का प्रयास करने लगी. उसके बाद जब मैं कांतिलाल को केक खिलाने गई, तो उसने मुझे मना कर दिया. इसलिए उनसे दोबारा कांटेक्ट नहीं हो पाया और ना मैं दोबारा मिलने गया वहां, क्योंकि राजेश ने मुझे बताया था कि वो करोल बाग़ रहते हैं और द्वारका सोसाइटी फ्लैट में तो बस कभी-कभी वीकेंड पर ही आना होता है.

अंदर जाते ही भाभी ने बल्लू की शर्ट और पैंट उतरवा दी और फिर सोफे पर उसको बिठा दिया. उसके हाथ मेरी गांड पर पहुंच गये और वो मेरी गांड को अपनी चूत की तरफ खींचने लगी. चाची- हरामजादे किसी लड़की से नहीं किया क्या कभी … या लड़कों की ही मारता रहा?मैं- भोसड़ी की, तेरी तो आज गांड ही बजेगी.

नोएडा की बीएफ फिर एक दिन काजल ने मुझे बताया कि उसकी तीन दिन की छुट्टी है और उसने ये बात घर नहीं बताई है … क्योंकि वो सील तुड़वाकर अपनी जिंदगी की सबसे बड़ी खुशी मनाना चाहती है, अपनी प्यासी जवानी को तृप्त करना चाहती है. सन 2009 में मेरी एक गर्ल फ़्रेड थी दूसरे धर्म की… और उसकी शादी जून में उसके भाइयों ने कर दी क्योंकि उनको मेरे और उनकी बहन के संबंधों के बारे में पता लग गया था.

हिंदी सेक्सी बीएफ देहाती चुदाई

मैं अपने बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स करने के साथ सिसकारियाँ भी ले रही थी. वो फिर से मेरे सीने में समा गई और सरगोशी से मेरे कानों में बोली- तुम भी बहुत हॉट हो. उन धक्कों की वजह से निर्मला की कराहने की आवाज कम हो गई और वो मादक सिस्कियां लेने लगी.

कामुकता से भरपूर इस सेक्स कहानी के पांचवें भागखेल वही भूमिका नयी-5में अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी सहेली के पति ने मुझे रात तीन बजे तक रौंदा था, जिस वजह से मुझे बड़ी थकान हो गई थी. अगर इस दौरान कोई एक साथी स्वार्थी बन गया, तो फिर इस मिलन में आनन्द खो जाएगा और केवल औपचारिकता ही रह जाएगी. सिंह सेक्सऐसा लग रहा था जैसे भूखे शेरों के सामने कोई मांस का टुकड़ा डाल दिया गया हो.

उसने मुझे रोकते हुए कहा- सब कुछ यहीं करोगे क्या? चलो कमरे में चलते हैं.

काफी देर तक लिंग चूसने के बाद रवि ने रमा को बाजू पकड़ कर उठाया और बिस्तर पर एक किनारे पीठ के बल लिटा दिया. उधर राकेश चुपचाप कुर्सी पर बैठ कर हम दोनों को एक दूसरे के होंठों के साथ खेलते हुए देख रहा था.

आंटी एक बहुत ही सुन्दर शरीर की मालकिन है आंटी का फिगर 34-32-36 है आंटी जब चलती है तो उनकी गांड और बोबे हर किसी को अपना दीवाना बना लेती है।मैं शुरू से ही आंटी को बहुत पसंद करता हूँ आंटी हमारे घर आती जाती रहती थी इस कारण मेरी भी उनसे अच्छी बात-चीत होती थी. मुझे तो पहले से पता था कि आज की रात क्या होने वाला है, सो मैं बस इन्तजार में थी. लेकिन हम दोनों को ही भाई बहन का रिश्ता एक अनजानी सी डोर से बांधे हुए है.

क्या देखा था मैंने?दोस्तो, मेरा नाम अभि है और मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ.

एक दिन तो मैंने मां से पूछ भी लिया- आपको अगर पापा के साथ खुशी नहीं मिलती है तो मैं कुछ मदद करूं आपकी?लेकिन उस बात को सुन कर मेरी मां को इस बात पर गुस्सा आ गया कि मैं चुपके उन दोनों के बीच की बातें सुनता रहती हूं. जब लिफ्ट बंद होने लगी तो आंटी ने मुझसे पूछा- ऊपर जा रहे हो या नीचे?एकदम से उनके सवाल करने पर मैं कुछ जवाब न दे सका और मैंने कहा- अम्म … मैं … ऊपर जा रहा हूं. जब वो मेरी ऊपर के होंठ चूसता, तो मैं उसके नीचे का होंठ चूसती और जब वो मेरा नीचे का होंठ चूसता … तो मैं उसके ऊपर का होंठ चूसने लगती.

सेक्सी चित्र दिखाफिर मैंने उनको दीवार से लगाया और उनके होंठों पर एक जोरदार से किस कर दिया. प्रिया ने लंड चूसने से मना किया, तो उसने प्रिया के मुँह पर चांटा जड़ दिया.

बीएफ कुत्ता चुदाई

कुछ पलों के धक्कों में मैं फिर से गर्म होने लगी और मेरी कमर अपने आप चलते हुए लिंग पर योनि धकेलनी लगी. मैं तो बिस्तर पर बैठी, तो ऐसा लगा … जैसे मखमल के गद्दे पर बैठी हूँ. भाई को देख कर मुझे भी अपने मोबाइल में पोर्न देखने का मन किया तो मैं अपने मोबाइल में पोर्न देखने लगी.

मेरी शादी को दो साल हुए हैं, मेरी उम्र 40 साल है और कद 6 फुट, भुजाओं की माप 17 इंच है, छाती 44 इंच की है और कमर 34 की है. मैं बहुत खुश हो रहा था कि सोनी को एक पराये मर्द के साथ सेक्स की बातें करके कितना मजा आ रहा है. मैंने कहा- तो क्या तुम्हें मजा आया?वो बोली- हां सर, अब मुझे समझ आया कि वो लड़की हमारे कॉलेज के ड्राइवर से ऐसे मजे लेकर क्यों चुदाई करवाती है.

उनकी मुस्कराहट से मुझे समझ में आ गया था कि वो शायद मेरी हालत समझ चुके हैं क्योंकि वो मेरे पापा की उम्र के थे और इन सब चीजों से गुजरे हुए थे. नमस्ते मेरे प्यारे पाठको … मेरा नाम रिया है, मेरा कद सवा पांच फुट है. मुझे लगा उन्हें दर्द हो रहा है … क्योंकि मैंने पहले कभी सेक्स नहीं किया था.

लगभग नंगे हो जाने पर उससे रहा ही नहीं गया और उसने मेरी ब्रा पकड़ कर खींच दी. आपको ससुर बहू की चुदाई की गंदी कहानी के बारे में कुछ प्रतिक्रिया देनी हो तो मुझे मेल करें या फिर गंदी कहानी के नीचे दिये गये कमेंट बॉक्स में कमेंट करके मुझे बतायें.

उन दोनों ने मेरी बीवी को दरवाज़े की तरफ मुँह करके घोड़ी बना दिया और उसकी गांड के छेद पर थूकने लगा.

नमस्कार दोस्तो! अभी तक की सेक्स कहानीगोवा टूर में ग्रुप सेक्स का मजा- 2में आपने पढ़ा था कि मुझे मेरी सहेली के बॉयफ्रेंड विवेक ने चोद दिया था जिससे मुझे अपनी चुत में ठंडक पड़ गई थी. तृषा कर मधु का एक्स वीडियोवो फिर से मेरे सीने में समा गई और सरगोशी से मेरे कानों में बोली- तुम भी बहुत हॉट हो. लंड बुर लंडइससे डॉली की मादक सिसकारियां अब और तेज हो गई थीं ‘अहहह्ह्ह्ह … स्सीईईई … आहाहा. ये खीरा बहुत बड़ा था, वो उस खीरे को बड़ी नजाकत से चूत के अन्दर डाल रही थीं.

भाभी की चूत से गर्म पानी का मानो फुहारा सा निकल पड़ा, जिससे मेरा लंड एकदम सटासट अन्दर बाहर होने लगा.

वो इसी शहर में रहती है और मुझे लगता है उसका तेरे में इंट्रेस्ट भी है. मैं दिखने में गोरा हूँ और लंड का साइज भी ठीक है … लेकिन ये थोड़ा सा मोटा ज़्यादा है, जिससे आम तौर पर चूत चुदने के बाद बेहाल सी हो जाती है. मैंने बड़ी ही सावधानी से अपने लंड को धीरे धीरे अंदर डालना शुरू किया.

उसने अपनी गांड उठाकर सलवार निकलने में अपना सहयोग दिया।अब वो केवल पैंटी में थी।उसकी पैंटी भूरे रंग की थी तथा इलास्टिक के पास थोड़ी फटी हुई थी। उसके काम रस के कारण उनकी पैंटी बुर के पास पूरी भीग चुकी थी। कुँवारी बुर की चुदाई के लिए तैयार हो रही थी. वो बोली- वो कैसे?मैंने कहा- जब मैं तुम्हारी चूत की फांकों को हाथ से हटा कर उसमें उंगली करता था तो आराम से उंगली चली जाती थी लेकिन जब मैं उसमें अपना मोटा लंड डालता था तो झांट आपस में उलझ कर लंड को रोक लेते थे. तभी उसकी मम्मी का कॉल आया और वो उसे घर वापस आने के लिए बुलाने लगीं.

गैलरी सेक्सी बीएफ वीडियो

फिर शाम तक यूं ही चलता रहा और रात को मैं सोते हुए सोच रहा था कि आज तो बच गया, कुछ नहीं हुआ. युक्ता के कोमल हाथ का लंड पर स्पर्श होते ही मुझसे रहा न गया और मैंने अपना लंड चेन खोल कर बाहर निकाल लिया. उसने राजेश्वरी को बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी टांगें फैला कर बोला- ये जो तुम्हारी चुत है, ऐसा ही छेद तुम्हारी दीदी का भी है … और जैसा मेरा लंड है, वैसा ही मेरे भइया का है.

दीदी की चुदाई की इस सेक्सी स्टोरी में पढ़ें कि दीदी के मोबाइल से मुझे पता लगा कि उनकी चूत सेक्स के लिए मचल रही है.

करीब 5 मिनट के इस फोरप्ले के बाद मेम ने कहा- अब नहीं रहा जाता … चोद दो.

मेरी साली और उसकी चचेरी बहन घर में थीं वो दोनों मेरे कमरे में मेरे ही बेड पर सो रही थी. कुछ देर बाद जब वो चुप हुई, तो थोड़ा मेरी तरफ खिसकती हुई आयी और बोली- क्यों डर गए थे न तुम … सच बताना?उसकी इस बात से मुझे कुछ राहत मिली और मैंने कहा- हां मैं सच में डर गया था, चाहो तो अपने कान लगा कर मेरे दिल की धड़कन सुन लो … ये अभी भी तेजी से धड़क रहा है. क्सविडिओस कॉममेरी फर्स्ट टाइम सेक्स की ट्रू स्टोरी मेरे ब्वॉयफ्रेंड के साथ उस वक्त की है, जब उसने मुझे पहली बार लंड के नीचे लिया था.

मैंने बाथरूम में बहाने से जाकर मुट्ठ मारी तब जाकर कहीं लंड थोड़ा शांत हुआ. अब तक मेरे दिल में कुछ भी गलत बात नहीं थी, पर एक झटका ऐसा लगा कि कुछ हुआ हुआ यूं कि उसका हाथ मेरे हाथों से जा टकराया. राजशेखर वहीं खड़े खड़े अपने लिंग को हाथ से सहला रहा था कि उसकी नजर मुझ पर पड़ी.

मम्मी हंस कर बोलीं- अच्छा बच्चू … अब तू इतना बड़ा हो गया है, जो अपने पापा की कमी पूरी कर देगा … और तू कैसे करेगा अपने पापा की कमी पूरी, जरा बता तो?इस बात पर मैंने अपने होंठों को मम्मी के होंठ रख दिए और उनको जोरदार किस करने लगा. मॉम फिर से आवाज निकालने लगीं- आआह अई अई आह मर गई मैं तो!कुछ देर तक गांड चाटने के बाद मैंने अपना लौड़ा उनकी गांड में दे दिया और उनकी गांड चोदने लगा.

शायद वो झड़ने के क्रम में खुद पर संतुलन न रख पाती होगी, पर करीब 4-5 बार ऐसा हुआ था.

और एक दिन सोनाली को नहाते हुए देख ही लिया। वो हमेशा बाथरूम में नहीं नहाती थी. उसने मुझे भी चिप्स खाने के लिये कहा तो मैंने भी दो-तीन चिप्स निकाल ली और उसके साथ बैठ कर ही खाने लगा. हल्की फ़ुल्की बातें और हंसी मजाक करते हुए, जिसको जहां जगह मिली, सो गए.

बाथरूम में नहाते हुए दिन प्रतिदिन मेरा आकर्षण हॉट श्रेया आंटी की तरफ बढ़ता ही जा रहा था. मेरे पति और मैंने उनको पति की कमी के बारे में बताया भी है लेकिन वो इस बात को नहीं मानती.

शायद मुझे उन 3 औरतों की फिक्र थी, जिनसें मैं पहले कभी नहीं मिली थी. वो बोले- क्या राहुल और रोशनी इस चीज के लिए मान जाएंगे?मैंने कहा- मैं कल रोशनी से बात करती हूँ. फिर नेता गिलास बगल में रखते हुए बोला- चल अब चोदने दे, मस्त माल है तू … तो मजा देगी न अच्छे से?मैं भी बोली- हां साहब, आपके लिए ही तो आयी हूँ, ऐसा मजा दूंगी कि दोबारा किसी औरत को नहीं देखोगे.

कॉलेज की लड़कियां बीएफ

फिर उन्होंने मेरी दोनों टांगों को उठा कर अपना लिंग मेरी योनि में झटके के साथ अन्दर डाल दिया और धुँआदार चुदाई चालू कर दी. अब जो कि मामा बाहर जा रहे हैं तो मामी की चूत चुदाई का रास्ता भी मेरे लिए आसान हो जायेगा. इस दौरान राजेश्वरी के मुँह से हांफने और कराहने की आवाजें लगातार निकलती रहीं, जिससे ये अंदाज लग रहा था कि उसे कितना आनन्द आ रहा.

उन्होंने कचरे के चार बड़े बैग एक-एक करके लिफ्ट में रखना शुरू कर दिया. क्योंकि जब आप गोवा जैसी जगह जा रहे हों और आपका बॉयफ्रेंड साथ न हो तो गोवा सेक्स, मस्ती अधूरी रह जाएगी.

वो भी चुदाई के नशे में थी और मैं भी!मैं वियाग्रा लेता उसको पिल्स खिला कर उसके अंदर ही झाड़ देता.

काफी देर तक चूमा-चाटी के बाद मैंने उसकी पैंट को निकलवा दिया और उसको एक साइड में खड़ी करके उसकी टांग उठा कर अपना लंड उसकी चूत पर सेट करके उससे चिपक गया. जिनकी बुकिंग नागालैंड से मेरे पास आई वो दरअसल 32 साल की एक महिला थी. सब क्रोधित भी होने लगे, पर कमलनाथ ने सब से माफी मांगते हुए इसे एक तरह का केवल खेल बता कर स्थिति नियंत्रित कर ली.

फिर उसने मेरे पीछे आकर उसने हाथ से अपने लिंग के सुपारे को पकड़ कर मेरी योनि में गपा दिया. मुझे लगा उन्हें दर्द हो रहा है … क्योंकि मैंने पहले कभी सेक्स नहीं किया था. मेरे पति और मेरे घर वाले सब लोग ऑफिस चले जाते थे, तो मैं सुरेश के रूम में जाकर चुदवा लेती थी.

कांतिलाल के निर्देशानुसार मैं लिंग पर सीधी बैठ थी और आगे की तरफ अपने चूतड़ों को धकेल धकेल कर संभोग करने लगी थी.

नोएडा की बीएफ: सोनू के मुंह से एक मीठी आहह निकली और उसने मेरे सिर को पकड़ कर अपने दूधों पर दबा लिया. कांतिलाल उधर कभी मेरी योनि के दाने को जोर से काटता, तो मैं हाय हाय करती रह जाती.

तभी सोनाली ने मेरे सिर के पीछे से मुझे अपनी पूरी ताकत से अपनी ओर खींच लिया. एक पिचकारी ऊपर हवा में जाने के बाद बाकी का माल युक्ता के हाथ से होता हुआ उसकी उंगलियों में भर गया. लेकिन तू साली चुदक्कड़ यहां दूसरे के लंड के साथ रंगरेलियां मना रही है.

मुझे उसके फीगर का नाप बाद में पता चला था जब मैंने उसके साथ सेक्स किया था.

रुचि का बॉयफ्रेंड नहीं था, लेकिन रुचि और वरुण की काफी अच्छी अंडरस्टैंडिंग थी. हमारी कहानी हर लड़की की जिन्दगी में हुई असली घटनाएं हैं जिनको हम आप तक लेकर आयेंगी. और फिर जब आज मैंने देखा कि तुम्हारा लंड तो मेरे पति के लंड से कहीं ज्यादा लंबा और मोटा और ताकतवर है.