कटरीना कैफ बीएफ

छवि स्रोत,www सेक्स video

तस्वीर का शीर्षक ,

फोरप्ले क्या होता है: कटरीना कैफ बीएफ, मैंने जाते ही भाभी के बिल्कुल पीछे खड़े हो कर अपना लंड उनकी गांड पर टच कर दिया.

अरबी मेहंदी दाखवा

इसलिए मैंने अपनी शर्ट को पैंट से बाहर निकाल लिया ताकि रीना की नजर पैंट में खड़े मेरे लंड पर न पड़ जाए. कर लो कदर हमारी करते हैं प्यार तुमसेमैंने अपनी दो उँगलियाँ उनकी गीली चूत में घुसा दीं, और अंदर बाहर करने लगा.

फिर जीजू ने मेरी टांगें मजबूती से फैलाकर थामी और दीदी ने मुझे कन्धों से दबा लिया. छोटी लड़की बड़ा लड़का सेक्सीमैंने उसे एक लम्बे अरसे के बाद देखा था तो पहले तो मैं उसको पहचान ही नहीं पाया.

मैंने प्यार से उनके एक स्तन को अपने मुँह में लिया और जीभ फिरा फिरा कर चूसने लगा.कटरीना कैफ बीएफ: इसी दौरान एक दिन ननकू अनायास ही गाँव आ गया, उसकी तबीयत कुछ नासाज़ थी.

तो मैंने कहा- हाँ जी, तुम देखना चाहती हो तो देख लो।पूनम ने अपना हाथ मेरे निक्कर के अन्दर डाला और लन्ड को अपने हाथों में भर लिया और धीरे से हिलाने लगी।पूनम बोली- तुम्हारा लन्ड कितना लम्बा है.10 मिनट के बाद अचानक उसने मुझे पकड़ कर बेड पर गिरा दिया और मेरे ऊपर आकर किस करने लगी.

सट्टा किंग में गली की खबर - कटरीना कैफ बीएफ

उनसे जब भी मिलता बस मन में एक ही कामना होती कि काश भाभी को चूम लूं बांहों में भर लूं और ले चलूं कहीं इस दुनिया से दूर, जहां मैं और भाभी हों और उनके हुस्न का भोग करूं।वो कहते हैं न कि भगवान के घर देर है अंधेर नहीं.पर तू किसी को बोलना मत … सर के ऊपर बात आ जाएगी नहीं तो!”अच्छा!” पिंकी खुश होकर बोली- ये तो अच्छी बात है … कोई बात नहीं … मैं तेरा इंतजार कर लेती हूँ यहीं … तेरे साथ ही चलूंगी!”मैं उसको भेजने के लिए बहाना सोच ही रही थी कि सर एक बार फिर बाहर आ गये.

मेरी चुत को पापा मसलने लगे और मैं पापा की बांहों में मचलने लगी। मैं भूल गयी थी कि जिनका हाथ मेरी फ़ुद्दी को मसल रहा है वो मेरे प्यारे पापा है. कटरीना कैफ बीएफ मुझे चोदने के बाद उस साले का लंड थोड़ी देर बाद फिर से तैयार हो गया.

वो सिख रेजिमेंट रामगढ़ जिले में सिपाही था और अब रिटायर्ड होकर यहीं अपनी दुकान से जीवन यापन कर रहा था.

कटरीना कैफ बीएफ?

तो बोले- हां तू चला जा, इस लड़की को यहीं छोड़ दे … क्योंकि ये तो अब हमसे यहां से चुदवा के ही जाएगी. राजे मेरे कुत्ते, अब उंगलियां चाट जल्दी से … कमीने, ले मज़ा इस बुर के रस का … पीकर दीवाना न हो गया तो कहना. ये सुनकर एक से रुका ही नहीं गया और उसने रिया की ब्रा खींच कर फाड़ दी और उसकी बॉडी से अलग कर दी.

मैंने अपनी जीभ बाहर निकालते हुए मेरे होंठों के पास ले जाते हुए उसकी चुत के रस को चाटा ‘उम्म … यम्मी …’उसके रस का स्वाद ने मुझे पागल बना दिया था. मगर कुछ ही पल के बाद मुझे बगल वाले कमरे के दरवाजे के खुलने की आवाज सुनाई दे गई. ’‘ठीक है, ऐसा करते हैं, मैं तेरी दीदी के सामने तेरी एक चुम्मी ले लूंगा.

कल्पना की आपबीती सुनने के बाद सच में मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि मैं क्या बोलूं क्योंकि उनकी कहानी सुनने के बाद मुझे भी फील हुआ कि उनके साथ धोखा किया गया है. रूपा खाना बनाने चली गई और भूरिया के साथ रमेश काका खाद लेने गांव चले गए. तो ये बोला- तो आ जा … और जीतू को भी ले आना साथ में … वरना वो गालियां निकालेगा कि सबने अकेले अकेले चोद ली.

तब नहलाती थी मैं तुझे, भूल गया क्या?मुझे वो दिन याद आ गया, जब मामी ने मेरी लुल्ली पकड़ी थी, जो कि अब लंड बन चुका था. एक और समस्या यह थी कि इस तरह हम औरतें पेशाब करती नहीं हैं, सो कुतिया की तरह झुक कर करना बहुत मुश्किल था.

मैंने कहा- मुझे भी गांड मरवानी है, मगर मेरा लंड भी बहुत अकड़ रहा है तो पहले इसका कुछ करो.

उसने बाद में बताया कि उसका पति चुदाई में इतना लंबा नहीं टिक पाता है उसे कभी बीवी के झड़ने की परवाह नहीं रहती.

अब मेरा लंड भी अकड़ रहा था और मैंने भी अपने लंड का रस उसके मुँह में गिरा दिया. ” मैं दरवाजे के पास चली गई और न जाने मुझे क्या सूझा और मैं पलट कर उन्हें बोली- और अगर आप जानबूझ कर भी उधर हाथ रखते, तो भी मैं आपसे गुस्सा नहीं होती. बीच बीच में भाभी मेरे लंड को अपने मुंह में भी लेकर चूसने लग जाती जिससे मुझे असीम आनंद की अनुभूति होती.

दस मिनट तक लंबे चुम्बन के बाद मैंने उसकी साड़ी को निकाल फेंका और ब्लाउज को उतार दिया. लंड बड़ा होने की वजह से चाची की चीख निकल गयी- आहह … मर गयी रे … आहह मेरी माँ … चोद दिया हरामी ने … आराम से डाल ना राजा … क्या करता है, मेरी चूत फाड़ेगा क्या … अब से रोज़ तुझे ही चोदना है, तो ज़रा आराम से पेल ना. सुखबीर तो जैसे पागल से हो गया, वो किसी औरत की भांति सिसकारियां लेने लगा.

बात कुछ ऐसे शुरू हुई कि एक दिन मैं सो कर उठा और जॉगिंग के लिए तैयार होने लगा कि अचानक मेरे पैर में दर्द सा होने लगा, तो मैं चाची के रूम के बाहर सोफे पर बैठ गया.

किंतु अगर उसका दिल न चाहे तो अच्छा-खासा पहलवान भी उसके सामने घुटने टेक देता है. तभी मेरी नज़र उसकी शोर्टी में से उभर रहे उसके अकड़े हुए लंड पर पड़ी और बस बिना पलके झपकाए हुए उसे देखता ही रह गया. तो भाभी हंस के बोलीं- किस पर इतनी मेहनत की है?मैं शर्मा के वहां से चला आया.

मैंने जीजू से पूछ लिया- क्या अजय अभी भी उनके घर आते रहते हैं?जीजू ने बताया- हाँ आता रहता है. और इतना सब होने के बाद भी तुम …इतना कह कर वो कुछ बोलते बोलते रुक गई. अभी तक आपने पढ़ा कि मैं अपनी सहेली कर घर में अपने आशिक के साथ नंगी हालत में पकड़ी गई और मुझे बदनामी का दंश झेलना पड़ा.

मैंने जैसे ही उसकी चूत के पास हाथ रखा, तो उधर उसका लोअर गीला हो चुका था.

मैं- कल्पना जी, जब आपने इतना बड़ा कदम उठा लिया है, तो अब झिझकिये मत … और खुल कर लाइफ के मज़े लीजिये. जोश में आकर मैंने भी उसका पूरा साथ दिया और एक बार उसके होंठों को काटा.

कटरीना कैफ बीएफ मेरे लंड में बहुत ज्यादा तनाव था क्योंकि पहली बार मैं किसी लड़की के साथ इस तरह का आनंद ले रहा था. उन्हीं दिनों एक दिन वो सफेद रंग का सूट पहनकर आयी और अन्दर उसने पिंक कलर की ब्रा और पेंटी पहन रखी थी.

कटरीना कैफ बीएफ अब उसकी चूत में मेरे लंड ने प्रेवेश करना चालू किया और आधा ही लंड गया था और मेरा वीर्य निकल गया. जब भी मैं भाभी के घर जाता, तो वो चिल्लाने लगता- चाचू, बता दूँ मम्मी को?मैं उसको किसी तरह चुप कराता.

मैंने टाइटली पकड़ा, उसने भी मुझको जकड़ लिया और मेरे सीने में अपना सर दबा लिया.

तेलगू सेक्स कॉम

चूत को चूमने के बाद मैंने उसके पिछवाड़े पे जोर की चपत लगाई, जिससे वो चिहुंक उठी. उधर सब लोग सामान्य बातें कर रहे थे, पर मैं अब भी उसी में खोया हुआ था. जब मैंने उनका घाघरा और ऊपर किया, तो मैंने देखा उसने पेंटी नहीं पहन रखी थी.

मुझे भी ऑफिस में प्रमोशन पाने के लिए अपने सीनियर सर लोगों को पटाना पड़ता है. मैं अपना निक्कर उतारने वाला ही था, तभी मोनिका बोली- रुको मैं उतारूंगी. और ये ले … तेरी पर्ची … इसमें से लिख लेना तब तक … मैं तुम्हारी क्लास में कहलवा देता हूँ … तुझे कोई नहीं रोकेगा अब नकल करने से!” कहकर उन्होंने मेरे गाल थपथपा दिए.

उसने बिना झिझक के ही मुझे पूछ लिया- मुंह में लोगे क्या?मैंने भी अब बता दिया- सिर्फ मुंह में ही नहीं … जहाँ देना चाहो वहां दे दो, मैं तो कब का प्यासा हूँ.

अब कोमल पूरी भीग चुकी थी और उसकी टी-शर्ट उसके बदन से एकदम चिपक गयी थी जिससे उसके बोबे और निप्पल साफ़ झलक रहे थे. और मैं आपसे माफी भी चाहती हूँ कि मैं सभी को कोमेंट्स या मेल पे रिप्लाई नहीं कर पाती क्योंकि बहुत सारे ई-मेल्स आते है और मेरे पास टाइम की थोड़ी कमी है कॉलेज की वजह से। अब तक आपने मेरी पिछली कहानियो के सारे पार्ट्स पढ़ ही लिए होंगे।चलिये कहानी पे आगे बढ़ते हैं। सेक्स शायद दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज़ों में से एक है और हमारे शरीर की जरूरत भी. मैं उसे पास के ही एक होटल में ले गया औऱ एक कमरा बुक करके हम दोनों रूम में आ गए.

आज अभी तू है ही मेरे पास … मैं तेरे भैया से बस मिली हूं, तब से ही सोच रही हूँ कि बस ऐसा होगा. वहां जाने के बाद उन्होंने बताया कि मुझे पता था कि ये होगा, इसलिए जब तुम आए तो मैं बादाम का दूध बना रही थी. मैं बार-बार उसके घर के पिछले आंगन की तरफ देखता रहता था, लेकिन वहां भी दिखाई नहीं दी.

कुछ देर बाद भैया उठे और बोले- मैं बाहर जा कर अमित के साथ दारू पीता हूँ … तू थोड़ी बहुत देर आराम कर ले. रमेश काका ने झूठी मुस्कान लाते हुए कहा- हां मालिक, वो रात की बात रूपा को भी पता चल गई है, पर यकीन कीजिए वो भी किसी को नहीं बताएगी.

मैंने मामी की तरफ देखा वो सो रही थीं, तो मैंने अपना हाथ उनके ब्लाउज के अन्दर डाल दिया, लेकिन उसके अन्दर ब्रा थी, जो बहुत ही टाइट थी, जिससे मेरा हाथ अन्दर नहीं जा पा रहा था. क्योंकि ये दोनों मेरे लंड को इसी दर्द का मजा लेने के लिए एक झटके में डालने का कहती हैं. मेरा नाम जोर्डन (बदला हुआ नाम) है, मेरी उम्र 27 साल है। इस समय में सीकर (राजस्थान) में रहता हूं। मेरी बॉडी एवरेज बॉडी है दिखने में ठीक ठाक हूँ और लण्ड का साइज 7.

घुंडियों को होंठों में पकड़ कर चूसने लगी, उन पर अपनी जुबान फिरा कर गुदगुदी करने लगी.

वह भी मेरी तरह स्लिम था, बहुत दुबला पतला, पर लंबा उसकी मंजी भूरी आंखें और मस्त सीना देखकर में गरम होने लगी. मैंने कहा- यार मैं तो तुमको पूरी नंगी तक देख चुका हूँ, इसमें कैसी शर्म?वो बोली- बस आती है. अगले दिन प्रीति से फिर मुलाकात हुई, मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?उसने मुझे बताया कि वो धीरे धीरे समय के अनुसार थोड़ा थोड़ा बात छेड़ने का प्रयास कर रही है.

कुछ देर बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और मैं जाने को तैयार हो गया. मैं चूत सामने देख कर एकदम से पागल हो गया और जैसे ही उसकी चूत नीचे आयी, मैं चाटने, चूसने लगा.

कुछ बेसब्री के इंतजार के बाद वो दिन भी आ गया, जिसका मैं बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहा था. थोड़ी देर चुप रहने के बाद उसने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेन्ड है?मैं- ना. घर में चुत मिल जाए तो क्या कहने, पकड़े जाने का डर नहीं होता और जब चाहो तब अपनी हवस मिटा लो.

मोटी औरत की चूत चुदाई

फिर मैंने अपना हाथ मामी के ब्लाउज के अन्दर डाल दिया और फिर ब्रा के अन्दर करके उरोजों को सहलाने लगा.

एक के साथ तीनों या तीनों के साथ एक!सुन के तो सबको मज़ा आ रहा था पर सबकी हालत ख़राब थी क्योंकि सब के लिए यह पहली बार था. हमारे फ्लैट की एक बात अच्छी थी कि हमारा फ्लैट पीछे की तरफ टॉप फ्लोर पर था. इस तरह से उसने मुझे उस रात तीन बार चोद कर पूरी चुदक्कड़ और लंड की दीवानी बना दिया.

दोस्तो, अभी के लिए इतना ही अलविदा आपसे बहुत जल्दी मुलाकात होगी अगर आप आगे क्या हुआ मैं कैसे जिगोलो बना जानना चाहते हैं, तो मुझे ज्यादा से ज्यादा मेल करके बताइए कि आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी. फिर मैंने पीछे से उन्हें चोदा और थोड़ी देर की चुदाई के बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए. सेकसी कहानी हिनदीमेरी चाची स्कूल टीचर हैं, जिस वजह से उनको रोज़ सुबह जल्दी उठना होता था.

मैं अपनी चूत को थोड़े से बालों से सजा कर रखती हूँ क्योंकि मुझे ऐसा करना अच्छा लगता है. चाची नीचे बैठ कर मेरे पैर की नस को दबा कर देख रही थीं, पर उस वक़्त मेरा ध्यान अपने दर्द पर कम और चाची के बड़े बड़े मम्मों पर ज़्यादा था.

जीजा जी इतनी देर से नई सील पैक फुद्दी को ठोक रहे थे तो कितनी देर रह सकते थे. मैंने मैडम की चुत पर जीभ लगायी, तो मुझे अजीब जैल जैसा कुछ महसूस हुआ. कुछ दिन बाद मैंने उससे कहा- अब सेक्स चैट बहुत कर लिया, अब ये सब कुछ मैं तुम्हारे साथ सचमुच में करना चाहता हूं.

उस दिन तो कुछ खास अनुभव नहीं लगा, कुछ भी पर अगले दिन पता नहीं क्यों, मैं उसी की दुकान में चली गयी. मैंने कहा- ठीक है, मैं ज्यादा फोर्स नहीं करूंगा, मगर तुम अंदर नहीं करवा सकती तो ऊपर से ही दिखा दो. फिर मैंने उसकी पेंटी पर हाथ फिराना शुरू कर दिया तो उसने मेरा हाथ फिर से हटा दिया.

वो भी बोल रही थी- चोद दे साले … ये रंडी तेरी है अब! आआह उम्म्ह ओह! मैं तेरे लण्ड की दीवानी हो गई हूँ।मैं उसको फुल स्पीड में चोद रहा था, पूरा कमरा मादक आवाजों से गूंज रहा था- आ आ … आ आ … आ!थोड़ी देर ऐसे चुदाई के बाद मैंने उसको घोड़ी बना लिया.

मेरी चुत पर लगे पानी से चमकते बाल देख कर उसकी भी आंखों में चमक आ गयी थी. बाकी समय हम दोनों ने सेक्स और घूमने फिरने में बिताया और फिर एक दूसरे से बिछड़ गए।तो यारो, ये थी मेरी और सलोनी के बीच बने सम्बन्धों की आपबीती, ये अलग बात है कि हमारे रास्ते अलग नहीं हुए.

अब वो भी मेरी बातें सुन सुन कर अपने चाचा से चुदने के बारे में सोचने लगी. मजा आया होता तो क्या आज यहां नंगी लेटी होती चुदवाने को … वो तो अपना काम कर मुझे ऐसे ही छोड़ देता था. पीछे से उसके बालों को मैंने इस कदर खींच रखा था, जैसे घोड़े की लगाम पकड़ी हुई हो.

उसे कोई शंका न हो, इसलिए मैंने उससे कहा कि हमने अपने जीवन में बच्चे पैदा करने से लेकर आनन्द लेने तक सब कुछ कर लिया, हम दोनों को किसी भी चीज की कमी नहीं रही. मैंने कहा- घर पर कोई नहीं है क्या?वह बोली- हम सब लोग मुम्बई गए हुए थे मेरे भाई के यहाँ. मेरी चाची थोड़ी मोटी, पर बहुत सेक्सी हैं, उनके बड़े बड़े चूचे किसी भी आदमी का लंड खड़ा करने में पूरी तरह से सक्षम हैं.

कटरीना कैफ बीएफ उनके खुरदरे मोटे हाथ का स्पर्श मुझे अपने पेट पर बहुत कामुक अहसास दे रहा था. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मैंने अपनी पतिव्रता बीवी को जवान लड़के से चुदवाया-2.

लड़की की नंगी सीन

अब मीना पर शराब का असर उसकी डगमगाती हुई आँखों से देखने को मिल रहा था. मेरे साइज को जानकर आप भी अंदाजा लगा सकते हैं कि मेरे चूचे कितने बड़े होंगे. मामा बोले कि इतने साल में कभी बिजी नहीं हुआ और दो दिन में इतना बिजी हो गया?मामा का ये कहने का मतलब इसलिए भी था कि छोटे से बड़े साथ में हुए थे.

उसे कोई शंका न हो, इसलिए मैंने उससे कहा कि हमने अपने जीवन में बच्चे पैदा करने से लेकर आनन्द लेने तक सब कुछ कर लिया, हम दोनों को किसी भी चीज की कमी नहीं रही. तब वो बोला- झूठ ना बोलो, मुझे पता है कि तुमने पहले भी मेरी बुक्स उठाई हैं मगर मैं किसी से कुछ नहीं कह सकता था क्योंकि अगर किसी को कुछ पता लग जाता तो मैं किसी को मुँह दिखाने लायक नहीं रहता. తెలుగు సెక్సీ వీడియోउसने दोनों टांगें मेरी अपने कंधे में रखी और अपना मुँह मेरी चुत में फंसा कर इतना जोर से चाटने लगा, जैसे खा ही जाएगा.

वो मेरे साथ ऐसा बर्ताव कर रही थी कि जैसे हम बचपन से एक दूसरे को जानते हैं, पर बिछड़ गए थे और आज सालों बाद मिले हैं.

इसके बाद वो उठी और उसने अलमारी से एक बोटल निकाल कर दो गिलासों में एक एक पैग बना दिए. मेरे लंड से वीर्य की पिचकारियां मामी जी की गांड में निकल कर गिरने लगी थीं.

उस फूलमती की अधूरी चुदाई से मैंने एक सीख ले ली थी कि अपने आप को कैसे कंट्रोल करना है. मैं फिर दोबारा अपने घुटनों के बल भाभी की छातियों के ऊपर चढ़कर उनके मुंह में लंड देने लगा. बल्कि वो मेरे लंड को ऐसे चूसने लगी, जैसे सॉफ्टी आइस क्रीम चूस रही हो.

वहां मैंने धीरे धीरे उनके सारे कपड़े उतार दिए और उन्होंने मेरे कपड़े उतार दिए.

मैंने कहा- सारा काम बीच में ही छोड़ कर जा रही हो?सोनू कहने लगी- कोई बात नहीं, फिर कर लेना. यह सुन कर मैं उसकी गोद में जाकर बैठ गयी और बैडमैन को किस करने लगी, वो भी मेरे कुर्ते में हाथ डाल कर मेरी पीठ सहला रहा था. फिर उसे बहुत प्यार से चूमने लगा, उसके मोमे दबाये और चूत पर हाथ रख कर पूछा- कैसे हैं?तो बोली- बिल्कुल सूज गयी है, दुःख रही है.

जिम करने वाली सेक्सी वीडियोवो छत का दरवाजा बंद ही करने वाली थीं, पर मैं भी वहां पहुंच गया और दरवाजे को जोर से धक्का दे कर छत पर पहुंच गया. क्या बताऊं उसकी भारी भरकम गांड देख कर तो लंड का पानी ऐसे ही छूट जाए.

हिंदी सेक्सी वीडियो मां बेटे की

मैं बिल्कुल पागल होकर उसके दोनों तरफ गर्दन में अपनी टांग कैची करके फंसा दी और बोली- आह मर जाऊंगी आशीष अब मुझसे नहीं बर्दाश्त हो रहा आशीष … अब तू चोद डाल … अपना लंड डाल दे … मेरी फाड़ दे चुत को … नहीं मैं पागल हो जाऊंगी. अब मेरा भी लंड जवाब देने वाला था, मैंने भी जोर जोर से धक्के जारी रखे और आहह हहह उहहह हहह करते इंदु और मैं दोनों एक साथ ही झर गये. मैंने कहा- राजन, रास्ते में बारिश आ गई थी इसलिए मेरे कपड़े गीले हो गए हैं.

मैं आगे बोला- आपके गुलाबी नर्म गुलाब की पंखुरियों जैसे होठों का रस चूसना शुरू करे तो रूकने का नाम ही न ले। मैंने आज तक तुम जैसी सेक्सी लड़की नहीं देखी! आय लव यू जान! तुम बहुत अच्छी लग रही हो! आज मैं अपनी दुल्हन को प्यार करूंगा और तुम्हारी सील तोड़ दूँगा!मेरी ऐसी बातों से गुलाबो पागल हो गयी, उसकी गर्म बांहों में मेरा शरीर जल रहा था. वो जब मेरे अंडरआर्म्स के बालों को खींचने लगी, दांत में पकड़ के खींचने लगी. मेरी चुत को और गीला कर रहे थे, मेरी उंगलियों को अपनी ओर खींच रहे थे.

मैं डर के मारे कांप रही थी पर न जाने कौन सी उत्सुकता थी कि कदम कमरे तक पहुंच गये। दरवाजा बन्द था पर खिड़की पर किसी का ध्यान नहीं था. तो मैंने उससे पूछा- आपको कैसा सेक्स पसंद है?उसने बताया कि मैं आज हर तरह का सुख लेना चाहती हूँ, लेकिन इससे पहले तुम मेरी मसाज कर दो. मुझे अचानक आया देखकर दोनों घबरा कर अलग हो गये और फिर मुझे दोनों ने अपने पास बुला लिया.

दो मिनट तक वो ऐसे ही करते रहे और मेरे मुँह को अपने मुँह से बंद करके फिर एक बार जोर का शॉट मारा तो इस बार मैं बेहोश सी हो गई. मेरी सांस अब तेज होने लगीं, ऐसा लगने लगा था कि पूरी जिंदगी भर उनकी बांहों में पड़ी रहूँ.

मैं हड़बड़ा कर उठी तो देखा भाभी थी, भाभी से पूछा- तुम कब आयी?तभी अम्मी आ गयी और भाभी बोली- अभी आयी हूँ पांच मिनट पहले! तेरे भाई जान छोड़ कर काम पर गए हैं.

मैंने धीरे से अपना हाथ जो मामी की कमर पर था, उसे ऊपर बढ़ाना शुरू किया. इंडियन मॉम सेक्सभाभी की प्यासी चूत अंदर से चिकनी होने के कारण मेरे लंड का सुपारा जल्दी ही अन्दर चला गया. डिसला कैमरानीचे की तरफ अनन्त ने दीदी की चूत में अपनी उंगली डाल दी और उनको अंदर बाहर करने लगे. मैंने कहा- तो फिर बना लो, नहीं तो शादी के बाद पति को कैसे खुश रख पाओगी?वो- उसके लिए बायफ्रेंड की क्या जरूरत है.

उसके बाद मैंने प्रीति को लगभग 20 मिनट तक और चोदा और फिर मेरे लंड ने कॉन्डम के अंदर ही वीर्य निकाल दिया.

यकीनन मुझे अपने पिताजी से जलन होने लगी कि उनको इतना अच्छा माल चोदने को मिला है. करीब दस मिनट की चुदाई के बाद मेरा फिर से छूट गया और भाभी भी तब तक झड़ चुकी थी. मैं सीमा के साथ में लेट गया तो सीमा ने लेटने के तुरंत बाद ही मुझे किस करना शुरू कर दिया.

‘आअह्ह जोर जोर से आआहह उह बेटा … चोद चोद बेटा आअह …’वंश बोला- हाँ मम्मी आअह्ह ले ना. फिर एक उंगली जैसे ही उसकी दो पहाड़ियों के बीच में रखी, वो इस तरह से फिसली जैसे कोई पर्वतारोही किसी बर्फीली चोटी से अनायास ही फिसल रहा हो. मुझे तो अपना दोस्त ही समझ… मैंने भी तो तुझे अपनी कितनी बातें बताई हैं.

हिंदी पिक्चर फिल्म बफ

उन्होंने गुलाबी कलर का ही ब्रा को पहना था, जो उनके गोरे बदन पर एकदम जंच रही थी. मैं- मैडम यहां ऑफिस से घर जाने के बाद पार्ट टाइम काम करने की हिम्मत बिल्कुल भी नहीं हो पाएगी. इस बार भी मैंने पैग बनाने में वही चालाकी की और भैया को हार्ड हार्ड पैग देता रहा.

उसने निरोध पहना और मेरे योनि पे अपना लिंग रगड़ने लगा, मैंने भी अपनी टांगों को उसकी कमर पे लपेट दिया.

पार्टी भी समाप्त होने को थी, सभी ने डिनर किया, एक दूसरे को गुड बाय किया और अपने अपने घर को निकल पड़े.

चार पांच दिनों के बाद वो पार्टी का दिन भी आ गया, मैं भी कोट पैन्ट पहन कर टिपटॉप तैयार हो गया. जिस हिरोइन की मैं बात करने जा रहा हूँ वह क्रिकेट प्लेयर की गर्लफ्रेंड भी है. राजस्थानी लड़कियों की सेक्सी पिक्चर”उनकी बातें सुनकर मेरी मन में लड्डू फूट रहा था, चेहरे के नीचे मतलब क्या था अंकल का?तुम कल आ रही हो, सुनकर मेरा बहुत बड़ा टेंशन खत्म हो गया, मैंने जानबूझ कर वहां पर हाथ नहीं रखा, गलती से चला गया.

अब उसकी आँखों में चमक और होंठों पर स्माइल थी। फिर मैं उसे धीरे-धीरे चोदने लगा और फिर मैंने उसकी टाँगों को अपने कंधे पर रखकर लंड को पूरा बाहर निकाला और जोर से एक ही बार में पूरा लंड चूत में डाल दिया. जैसे जैसे वो मेरे लंड को जोर जोर से चूसती, वैसे वैसे मैं भी उसकी चुत को जोर जोर चाटने और काटने लग जाता. दीदी ने मेरी तरफ देखा और अजय से पूछा- इतनी रात को कैसे आना हुआ?अजय ने बताया कि वह किसी काम से यहाँ पर आया हुआ था मगर काम करते हुए रात में देर हो गयी इसलिए उनके पास चला आया.

उसकी चड्डी के अंदर हाथ डालकर मैं उसको छूना चाहता मगर उसने मना कर दिया. मैंने कहा- आप मेरा नम्बर लेकर क्या करोगी?उसने कहा- आपने मेरी हेल्प की, आप मुझे बहुत अच्छे इन्सान लगे.

मैंने कल बताया था न!फिर वो आशीष से बोली- भैया, यह मेरी फ्रेंड बंध्या है, हम दोनों साथ रहते हैं एक ही क्लास में पढ़ते हैं.

मुझे सेक्स के बारे में ज्यादा कुछ नहीं पता था लेकिन अनन्त और विनय जिस तरह से कुसुम दीदी को अपने नीचे लेटा कर उसके बदन को भोग रहे थे. तभी मुझको याद आया तो मैंने उससे पूछा- अमीषी तुम्हारे पापा? वो कहां रहेंगे?वो बोली- उनको होश ही नहीं रहता, वे दारू में टुन्न रहते हैं, उनकी कोई दिक्कत नहीं है. और सच बताऊँ तो मुझे बहुत ही मजा आने लगा और अपने हाथों से चाचा जी के सिर को चुत पर दबाने लगी। वे अपनी जीभ से कभी चुत के होंठों पर फिराते, कभी जीभ को चुत के अंदर तक घुसा देते.

ऑनलाइन लड़कियां बुकिंग मैंने उससे पूछा- कैसा लगा?उसने कहा- मुझे बहुत अच्छा लगा, पर तुम्हारा दोस्त होता तो और मज़ा आता. उसने पूछा- तू संजीव को कैसे जानता है?मैंने उसे बताया कि इंटरनेट पर हमारी बात हुई थी और मैं ऐसे ही उससे मिलने के लिए आ गया.

फिर जब मैं 21 साल का हुआ, तो आर्थिक तंगी के कारण एक कम्पनी में जॉब पर चला गया. उसे घर के बाहर ही छोड़ कर मैं जाने ही वाला था कि उसने मुझे रोकते हुए कहा कि अन्दर नहीं आओगे?मैंने बोला- नहीं … आज देर हो गई है. दोस्तो, मैं आपकी अपनी अर्चना मैडम। उम्र 40, कद पाँच फीट 3 इंच, रंग गोरा, सीना 40 कमर 38 और हिप 42.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी एक्स एक्स एक्स

देख मेरा लंड कितना ताव में है!यह बोलकर अनन्त ने अपनी जाँघिया उतार दी।बाप रे! ये क्या था, मैं देखती रह गई. चूत के अन्दर लंड के अलावा सिर्फ मर्द की जीभ जाते ही लड़की का पागलपन झलक जाता है. मैं अपनी चूची चुसवाते हुए मैनेजर सर के बालों में अपना हाथ फिरा रही थी.

उसके बाद उन्होंने मेरे जूते मोज़े उतार कर पैंट निकाल भी के एक साइड में डाल दी. मेरा लंड मेरे अंडरवियर में खड़ा था और ट्रैक पैंट उतरते ही उसने जोर का झटका दिया और मेरे अंडरवियर को उछाल दिया.

फिर मुझे आशीष का वह एकटक देखना, उससे मेरा आंख लड़ाना, सब याद आ रहा था.

थोड़ी देर सुस्ताने के बाद मैं वाशरूम जाने के लिए जाने उठा, हलचल से कल्पना ने एक बार आंख को खोला, फिर आंखें बंद करके अंगड़ाई लेने लगीं. यह सोचकर मैं खिल गयी।पापा ने मुझे अपनी बांहों में उठाया और बेड पे लेजाकर मेरे कपड़े उतारने लगे. कुछ देर तक चुदाई करने के बाद मैंने उसकी चूत से लंड को बाहर निकाल लिया.

उसने अपना लंड गांड के छेद पर टिकाया और धीरे धीरे चीरते हुए मेरे अन्दर डाल दिया. मैंने ही वासना से उत्तेजित होकर उसके कूल्हों पर जोर से थप्पड़ मार दिया था. मैंने अपनी उंगली अन्दर बाहर करनी शुरू की, फिर दूसरी उंगली भी भाभी की चूत में डाल दी, जिससे उसका शरीर अकड़ने लगा और वो छटपटाने लगी.

सोनू पहले तो झिझकी लेकिन फिर उसने सुपारे को अपने हाथ में लेकर दबाया.

कटरीना कैफ बीएफ: मेरी चाची का घर हमारे घर से थोड़ी ही दूर था, तो मैं अक्सर खाली समय में वहाँ जाया करता था. मामी जी भी पीछे की ओर अपनी गांड मेरे लंड पर दबा कर अपने चूतड़ों की दरार में लंड महसूस करके मस्त हो रही थीं.

मामी भानजा की यह चुदाई बीस मिनट तक चलती रही होगी।फिर उसके दस मिनट के बाद मैंने उनसे कहा- मामी जी, मैं भी झड़ने वाला हूं. तब तांत्रिक ने कहा- रो मत बालिके तेरी परेशानी का हल है मेरे पास, पर तुझे इसके लिये कठिन कष्ट होगा. उसने भी रेसपोंड किया, वो भी अपनी जीभ को हलचल में लायी और कुछ ही पलों में हम दोनों की जीभ लड़ने लगी.

जोश के मारे मेरा लौड़ा तनकर खड़ा था, उसके छेद से चिपचिपा पानी निकल रहा था.

उसने निरोध पहना और मेरे योनि पे अपना लिंग रगड़ने लगा, मैंने भी अपनी टांगों को उसकी कमर पे लपेट दिया. जब उससे बर्दाश्त नहीं हुआ तो उसने कह ही दिया- आह्ह … दीपक, अब और नहीं रुका जा रहा. मैंने जल्दी से अपनी सलवार को बांध लिया और आराम से मुंह खोलकर लेट गई.