हरियाणवी बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,जंगल वाला सेक्सी पिक्चर

तस्वीर का शीर्षक ,

ससुर ने बहु को: हरियाणवी बीएफ बीएफ, पूजा जैसे ही बोलने को हुई, तभी मैंने जोरदार धक्का दे मारा, इससे पूजा की आवाज लड़खड़ा गई और चुदते हुए बोली- आ… आह…ती हूँपूजा आह आह…” करने लगी और मुझसे कहा- यार, जल्दी माल निकाल दे…पर मैं इतना जल्दी नहीं होने वाला था.

चाइनीस सेक्सी एचडी

फिर मैंने धीरे से उचका कर उसके कन्धों को हल्का सा नीचे को दबा दिया. फुल सेक्सी फिल्म एचडीफिर मैं उसके दूध पीने लगा और उसके लोअर में हाथ डाल के चुत को मसलने लगा.

किस्मत से उसने मुझे भी साथ चलने को कहा, मैंने पहले थोड़ी न नुकुर की फिर हां बोल दिया. मारवाड़ी फोटो सेक्सीमैंने उसके मुँह से अपना लंड निकाल कर, उसे पीठ के बल पलंग पर लिटा दिया और उसकी गांड के नीचे तकिया लगा कर मैं पलंग से नीचे उतर आया.

उसकी आँखें मेरे उस तम्बू पर पड़ीं और उसकी सौ वाट के बल्ब ऑन होने लगे.हरियाणवी बीएफ बीएफ: मेरी साली की जवान बेटी की कामुकता से भरपूर इस सेक्स स्टोरी के पिछले भागकहानी का प्रथम भाग:स्त्री-मन… एक पहेली-1स्त्री-मन… एक पहेली-5में आपने पढ़ा कि यौन पूर्व काम क्रीड़ा के चलते उसकी कामवासना पूरे चरम पर थी.

आख़िर इसमें किसी और कि नहीं, अपनी होने वाली बीवी की ही मदद कर रहा हूँ.तभी मेरे फ्रेंड का फ़ोन आया कि वो गेस्ट होटल पहुँच गए हैं, नीचे हैं, तू उनको देख कर रूम में सुला दे!मैंने कपड़े पहने और भाभी को ऊपर बेड पर लिटाया और बोला- मैं उनको छोड़ कर वापस आता हूँ! फिर बची हुई एक एक बियर पियेंगे और मस्त चुदाई करेंगे!तो भाभी बोली- मेरे अंदर अब हिम्मत नहीं बची… अब बस!मैंने कहा- जानेमन, अभी तो रात जवान हुई है, अभी आपकी गांड भी मारनी है.

गुजराती सेक्सी लड़की - हरियाणवी बीएफ बीएफ

मैंने उससे पूछा- सब लोग कहां गए?वह बोली- कोई खत्म हो गया है, सब वहां गए हैं.प्यार हो रहा था… कोई लड़ाई नहीं जिस में किसी के जीवन-मृत्यु का सवाल हो!आओ न…!” प्रिया कसमसाई और उस ने बिस्तर पर अपनी टाँगे खोल दी.

मुझे अब याद आ रहा था कि मां ने भी इधर आते वक्त एक दवा खा ली थी, शायद वो ही एक कारण था कि मां अब तक उन सभी के लंड का मजा ले पा रही थीं. हरियाणवी बीएफ बीएफ अब मैंने धीरे से अपने लिंग को प्रेस किया, उन्हें थोड़ा दर्द हुआ और वो बोलने लगीं- आह.

मैं तो बस उसको देख कर पागल सा हो गया और मेरी जीन्स के अन्दर मेरे लंड महाराज़ सलामी देने लगे.

हरियाणवी बीएफ बीएफ?

यह कहकर उसने मेरे घी को, जिसे वीर्य कहते हैं, अपनी छाती पर मलना शुरू कर दिया था. अब पारुल और मैं बिस्तर पर आ गए, मैंने अपनी शर्ट और पैंट निकाल दी, बस अपनी फ्रेंची ही पहनी थी, अब मैंने पारुल की शर्ट भी निकाल दी. वो मेरी आँखों में आँखें डाल कर बोला- मतलब?मैंने कहा- मतलब कि किसिंग विसिंग.

मैं जानबूझ कर ना तो प्रिया के वक्ष को अभी सीधे हाथ लगा रहा था और ना ही उसकी योनि को!पेट पर ऊपर की ओर गर्दिश करती मेरी उंगलियाँ ब्रा की निचली पट्टी को छूते ही और ऊपर को जाने की जगह दायें बायें बग़ल की ओर मुड़ जाती थी, ऐसा ही नीचे की ओर उँगलियों की गर्दिश करते वक़्त प्रिया की कैपरी के ऊपरी इलास्टिक को छूते ही और नीचे जाने की बजाए पेट पर ही इधर उधर हो जाती थी. इतनी देर में वही लम्बी गाड़ी आकर रुकी और मेरी बीवी उसमें बैठ कर निकल गई. जिसकी वजह से उसकी 32 इंच की कठोर चुचियां ऐसे ऊपर नीचे हो रही थीं, जैसे दो पहाड़ हिल रहे हों.

मुझे थोड़ा अजीब भी लगा क्योंकि पहली बार मैंने किसी दूसरे मर्द का लंड देखा था. यहाँ फ़ोटो में एक छोटी सी लुल्ली जैसा दिख रखा है और जरा सा नीचे एक छेद है, जिसे हम वेजिना कहते हैं. छोड़ो ना… कल रात को इतनी जोर से बजाने के बाद भी तुम्हारा दिल नहीं भरा क्या??मैं- जान, तुम चीज़ ही ऐसी हो कि दिल नहीं भरता.

‘ओके…’उसने कहा कि तुम होली के तीसरे दिन का आने का तय कर लो, मेरे पति छुट्टी पर आएंगे और होली के दूसरे दिन वापस चले जाएंगे. माँ उत्सुकता से पैकेट को खोलने लगीं लेकिन मैंने कहा- आप मेरे जाने के बाद इसे आराम से अकेले में देख लेना.

मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और मुझे भी गांड मारने और मरवाने का शौक है.

फिर उसे उल्टा कर उसकी टांगें चाटीं, घुटने के पीछे, जाँघों पर, कूल्हों पर भी खूब जुबान चलाई.

खिड़की खुली थी और बाहर ठंडी हवा चल रही थी, जिससे पत्तियों के सरसराने की आवाज के बीच एक चुप्पी सी छाई थी. मैंने उसकी चूत की लकीर को दोनों अंगूठों से फैलाया, फिर अपनी उंगली से ऊपर की परत को अलग किया. विनय अभी नहीं झड़ा था, इसलिए दो पल बाद उसने मुझे घोड़ी बना दिया और पीछे से लंड मेरी चूत में पेल दिया.

तभी जीतू चिल्लाता हुआ आ गया- भाभी जी, घर में हैं क्या?उसके एक हाथ में ऑरेंज जूस था और दूसरे में ब्राउन ब्रेड. उसने मेरा परिचय अपनी भाभी से कराया तो भाभी ने कहा- अच्छा ये वही हैं, जिनके बारे में बच्चे बात करते हैं. शायद हमें एक दूसरे से उस समय आँखों ही आँखों में प्यार हो गया, पर हम कुछ नहीं बोले.

यह सुन कर मैं जोश में आ गया और मैंने जोर जोर से आंटी के मम्मों को दबाना चालू कर दिया.

मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी, उसकी सिसकारियां और चूचों में से दूध साथ साथ निकल रहा था, जिससे उसकी चुचियां एकदम दूधिया सी हो गई थीं. फिर मैंने आइसक्रीम ली, उनकी काले रंग की चड्डी के अन्दर फंसी हुई चुत में डाल दी. लगभग दस मिनट के बाद उसका शरीर अकड़ने लगा और वो तेज आवाजें करते हुए झड़ गई.

मेरी भाभी का नाम ज्योति है, उनका रंग दूध की तरह गोरा है, हाइट में वो मेरे कान तक हैं. मेरी रोमांटिक कहानी के पहले भागस्त्री-मन… एक पहेली-1में अपने पढ़ा कि कैसे मेरी साली की युवा बेटी कम्प्यूटर कोर्स करने मेरे यहाँ रहने आ रही है. एक बार की बात है कि उनके पापा का एक्सिडेंट हो गया था और वो कोमा में चले गए.

इन दोनों के बाद अभी 2 दर्जन से ज़्यादा लड़के मेरी गांड मारने के लिए खड़े थे.

वो एकदम अपनी आवाज़ को दबा कर रखना चाहती थी, पर फिर भी उसके मुँह से धीरे धीरे ‘आआअहह. मैं कल सोचकर बताऊँगा। अगर मेरा जवाब हाँ” हुआ तो मैं अपना अकाउन्ट नम्बर भेज दूँगा। आप उसमें रूपए डलवा देना।मधु खुश होकर बोली- ठीक है बताओ कितने डलवाने हैं?जितने आपको ठीक लगें।”ओके.

हरियाणवी बीएफ बीएफ अब मेरा एक हाथ उसकी पीठ पे घूमते हुए उसे सहला रहा था, दूसरा हाथ उसकी कमर को अपनी तरफ खींचे जा रहा था. बुआ बोलीं- पिछवाड़ा मारोगे कि सामने की लोगे?मैं बोला- आपको क्या पसंद है?तो बोलीं- दोनों तरफ से लेना पसंद है.

हरियाणवी बीएफ बीएफ इस बार मैंने आंटी की टाइट गांड में आइसक्रीम डाल कर गांड को फाड़ दिया. एक दो महीने बीत गए, मैंने देखा कि कामिनी मेरे साथ सेक्स में उस गरम जोशी से सेक्स नहीं करती जिस तरह वो पहले किया करती थी.

हाँ वो बीमार हैं तो उन्हें देखने आयी थी।”ठीक है, देख लिया हो तो अब आ जाओ!” पूजा बोली.

सेक्सी वीडियो साउथ

मैंने बाकायदा केक पर कैंडल लगा कर जलाई और उसने कैंडल फूंक मार बुझाई तो मैंने कहा- केक काटो. वो मेरे पीछे आकर खड़ा हो गया।वो- चाची कोई क्रीम है क्या आपके पास?मैं- नहीं. उसने अपनी गोदी में मेरा सर रख लिया और अब वो मुझे अपनी शादी की बातें बताने लगी.

आंटी साड़ी पहनती हैं इसलिए आंटी की सेक्सी कमर और मम्मों के मजे सबको देखने मिलते थे. जब अंकल के रूम से निकलने लगी तो अंकल मुझसे लिपट गए और एक हजार रुपए और दिए बोले- जो मन हो खा लेना!और मेरे होठों को चूमने, चूसने लगे और फिर बोले- आज तक मेरी लाइफ में तुमसे हाट और सेक्सी लड़की नहीं देखी, ना मिली. मैं एकाएक उठा और उसकी साड़ी को उसके बदन से अलग कर दिया और उसका ब्लाउज खोलने लगा.

मैंने फिर अपने आपको प्रेशर डाल कर उसके मुँह में ही अपना माल झड़ाने लगा.

भाभी की ओर मेरी नज़र गई, वो मेरे लिए खुश तो थीं, पर उनकी प्यास दिख रही थी. सेक्स कैम गर्ल स्वातिफिर स्वाति ने चारों ओर घूम कर मुझे अपनी नंगी जांघों के साथ साथ पेंटी में कैद अपने सेक्सी कूल्हों को भी दिखाया. अभी तो हम दोनों एक-दूसरे के आगोश में थे लेकिन अब जिंदगी में कभी ऐसा मौक़ा दोबारा आएगा या नहीं… और अगर आएगा भी तो प्रिया पॉजिटिव रेस्पॉन्स देगी या नहीं, इस का जवाब तो भविष्य के गर्भ में ही था.

मैंने फिर कुछ बोला नहीं और धीरे से अपना हाथ उसकी गांड पर रख कर फिराने लगा. मुझे मालूम नहीं था कि ये लव था या आकर्षण था, लेकिन मैं उसको बहुत पसंद करता था. भाभी भी मेरा साथ ड़े रही थी चूमा चाटी में!फिर धीरे धीरे मैं भाभी की साड़ी उतारने लगा और अब भाभी ब्रा और पेटिकोट में थी.

लंड चूत के टकराव से बनने वाला म्यूजिक माहौल को अलग ही नशा दे रहा था. मैं- शादी के बाद कितनी ब्वॉयफ्रेंड बनाए?माँ- अच्छा पहले तुम ये बताओ तुम्हारी कितनी जीएफ रही हैं?मैं- दो.

मैंने उनका मूड ख़राब करना न चाहा और कहा- और कुछ बताओ ना भैया?इस तरह हमारी गन्दी बातें चलती रहीं. पारुल ने भी बोला- ठीक है, तुम जो चाहो ले लो!मैंने कहा- ठीक है!जैसे ही हम धारूहेड़ा पहुँचे, पारुल ने मुझे कहा- गाड़ी रोक लो!और 2000 रुपये दिए, बोली- एक विह्स्की की बोतल और 4 बीयर ले लो!दोस्तो अब तो मैं जन्न्त में घूमने लगा. अब भाभी मेरी अंडरवियर खींचने लगीं और जैसे ही मेरा अंडरवियर मेरे लंड से हटा, मेरा 7″ का लंड किसी गुस्साए हुए नाग की तरह फन उठा कर हवा में झूलने लगा.

मैंने फिर से एक और झटका मारा और इस बार मेरा लंड उसकी चूत को चीरता हुआ पूरा अन्दर चला गया.

आज का दिन मैं दिल खोल कर जी लेना चाहती थी क्यूंकि मैं जानती थी, मुझे दूसरा मौका कभी नहीं मिलेगा. ’ निकला… उसने अपना गरम पानी मेरी गांड के अन्दर निकालना शुरू कर दिया।मुझे तो एकदम बहुत दर्द हुआ. शाम को झाँसी से मस्ती करने के बाद में दतिया उनके बताए पते पर पहुंचा और दरवाजे की घंटी बजाई उन्होंने दरवाजा खोला और बोलीं- आधार तो ले कर आए हो ना?तो मैं बोला- पुरानी बैंक से आ रहा हूँ आधार, पैन सब तैयार है!और हम अंदर गए.

मैंने झुके झुके ही अपनी गांड थोड़ा पीछे की और बोली कि चलो देखें, इस शेर में कितना दम है. देखती भी नहीं थी। उसका मासूम सा चेहरा आज भी मेरी आँखों में बसा पड़ा था। मैं फोटो देखते हुए यही सोच रहा था कि भगवान की माया भी निराली है.

अब मैं आपको रेखा के बारे में बता दूँ:रेखा की उम्र लगभग 35 या 37 साल के आसपास है वो एक विधवा औरत है. उसका एक हाथ मेरी साली के चूचे सहला रहा था और एक हाथ से उसने मेरी साली की सलवार का नाड़ा खोल दिया. बातों बातों में ममता ने मुझसे मेरी शादी के बारे में पूछा तो मैंने ‘अब तक सोचा नहीं!’ में जवाब दिया।उसने गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने उसे नहीं में जवाब दिया तो उसने मजाक में बोल दिया- तो फिर अपनी जवानी कैसे सँभालते हो?मैंने भी हंसते हंसते जवाब दिया- जैसे सब बेचलर सँभालते हैं, वैसे ही!वो हस पड़ी.

छोटे बच्चों की सेक्सी पिक्चर

फिर वो थोड़ी देर ऐसे ही घूमते रहे और मॉल के बाहर आ गये और गाड़ी की तरफ गए.

उस वक़्त हमारे घर में काम करने एक काम वाली आती थी, वो काफ़ी चालू थी. घर पर क्या कहोगी?उसने कहा- वो मेरी प्रॉब्लम है इससे तुम्हारा कोई लेना देना नहीं है. तभी आर्मी वाले अंकल, जिनका नाम सुरेश है, जेब से 2000 के दो नोट निकालें और मेरे हाथ में दे दिए- आरती, यह तुम्हारे बॉडी मसाज के लिए है.

ये देख कर मेरी मम्मी ने मुझसे पूछा- क्या हुआ मेरी बेटी?मैंने उन्हें शर्माते हुए कहा- मुन्नालाल सर बहुत गंदे हैं, उन्होंने मेरे साथ आज ये सब किया. कहीं घूमी गोवा में कि नहीं?मैंने दिव्या को किस करते हुए थैंक्स कहा और उसे सारी बातें बता दीं, बस नशा करने वाली और आखिरी रात को जो हुआ वो नहीं बताया. दिव्या भारती फोटो xxxजब कुछ देर बाद हमारी साँसें सामान्य हुईं तो हम दोनों साइबर कैफे से बाहर आ गए.

भले ही मैं सारी ज़िन्दगी उसे खुश करता रहूँ, लेकिन वो कभी भी इस चीज़ को नहीं समझेगी. इतना कहकर उसने मेरी शर्ट के बटन को खोल दिया और मुझे बिना शर्ट के पलंग पर बिठा दिया.

उसके आने के बाद भी हम दोनों एक दिन चुदाई कर ही रहे थे कि वो कमरे में आ गई. मैंने देखा कि कामिनी को उस बन्दे ने चिपका रखा है और वो उसको किस कर रहा है, कामिनी भी उसको किस कर रही है, और दोनों लिपटे हुए थे. पिंकी गांड में भी लौकी घुसाई है क्या?”नहीं सर अभी सिर्फ केला ही जा पाता है.

अपनी जीभ कभी चुत के अन्दर डालता, तो कभी उसके भगनासा पर ऊपर से नीचे तक जीभ फेर देता था. उन्होंने भी मेरे अंडरवियर में लंड को आइसक्रीम लगा दी और लंड को बियर से नहला दिया. आज मैं आपके सामने आगे की सेक्स स्टोरी पेश करने जा रहा हूँ, जिसका आप लोग बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे.

मैंने अन्दर आकर दरवाज़ा बंद कर दिया, फिर कुछ इधर-उधर की बात के बाद मैं उसको कंप्यूटर के बारे में कुछ कुछ बताने लगा.

जैसा कि अक्सर होता था उसका फोन आया, मैंने आने में अपनी असमर्थता बता दी और जल्दी ठीक होने पर मैं उसे फोन करूंगा, कह कर मैंने फोन काट दिया. उसमें भी गांड जब मेरी साली जैसी गोरी चिट्टी और एकदम साफ हो तो बात कुछ और ही होती है.

मैं तो अपनी जीभ निकाल कर उसकी चुत के दाने और उसकी लिसलिसाती चुत का रस पान करने लगा. उसके मुँह से मुझे चोदने की बात सुन कर मुझे जितनी खुशी हुई, मैं कह नहीं सकती थी, मगर मैंने आशीष के लंड को अपने चूतड़ों से उठाते हुए कहा- चंदर मुझ पर रहम करो, मैं कोई बाजारू लड़की नहीं हूँ. जैसा कि हम दोनों ऑटो की तरफ जा रहे थे, मैं तेज़ी में था लेकिन उसे देखा तो अपनी गति धीमी करके उसके पीछे चलने लगा.

फिर हमारी कॉमन वाइफ अपने बाएँ हाथ से कंस्ट्रक्शन” को थामे धीमे-2 अपनी चूत के अन्दर घुसाने की कोशिश करने लगी, लेकिन दोनों टोपे अत्यधिक मोटे होने के कारण छेद पर निशाना नहीं साध पा रहे थे. अभी थोड़े दिन पहले की इंडियन सेक्स कहानी लिखने जा रहा हूँ कि किस तरह मैंने एक अमीरज़ादी की चुत की प्यास मिटाई. हर धक्के के साथ उसके चेहरे पर एक सुख और दर्द के भावों को देखता रहा.

हरियाणवी बीएफ बीएफ सच में पिंकी जैसी पिंक थी वो, उसके निप्पल एक छोटी सी पिंक कलर की गोल गोल रसभरी जैसे थे. वो नजारा अच्छे अच्छों का पानी छुड़वा देता है। मैं भी इस लड़की का पूरा मज़ा ले रहा था। बचपन से आज तक मुझे लड़कियों की कमर के नीचे का हिस्सा बहुत पसंद है। सबकी नजर चेहरे, बूब्स या गांड पर होती है.

सेक्स व्हिडिओ इंडियन

अब मैंने फाइनल झटका दिया, तो नाज़ को देख कर ऐसा लग रहा था कि उसकी आंखें बाहर आ जाएंगी, 10 मिनट तक वो बिना हरकत किए पड़ी रही और मैं जूही को किस कर रहा था. मुझे नहीं पता था कि आशीष और उसके दोस्त, जिसका नाम चंदर था, में आपस में कौन सी खिचड़ी पक रही थी. वो- काफी टाइम लेते हो नहाने में?मैं- मैं सारे काम एन्जॉय करते हुए करता हूँ.

उनके पति को दो महीने बाद आना था तो तक तक मैं देसी भाभी के साथ पूरी सुरक्षा के साथ यानि कन्डोम लगा कर सेक्स करता था. वो बोली- तुम भी अपना शर्ट उतारो ना… नंगे जिस्म से चिपकाने में मजा आयेगा. सेक्स सेक्स हिंदी मूवीजब मैंने उनसे पूछा की सब कहाँ गए हैं तो कहने लगी- सब एक शादी में गए हैं, शाम तक आएंगे।मैंने पूछा- आप नहीं गयी शादी में?तो कहने लगी- आज आपको अपनी गर्लफ्रेंड को गिफ्ट भी तो देना है तो साइज देने के लिए रुक गयी थी।यह सोच कर मैं हैरान रह गया… मैं वही सोफे पर बैठ गया.

चूँकि मैं उनके साथ रहना नहीं चाहता था, इसलिए पापा ने मुझे यहाँ पढ़ाई के लिए भेज दिया है.

ऐसा तीन चार बार करने से ही उनका पानी निकल गया और वह झड़ गईं, पर मेरा पानी निकलना जरूरी था. उस दिन मैंने जानबूझ कर ढीले कपड़े पहने हुए थे, जिसमें से उसको मैं मम्मों की दूधिया घाटी और अपनी चड्डी की झलक भी दिखा सकूँ.

हां, कभी कभी जीजा साली सेक्स के बारे में सोच कर उसके नाम की मुठ जरूर मार लिया करता था क्योंकि मेरी बीवी को सेक्स में ज्यादा रूचि नहीं है और जबरदस्ती करना मेरा स्वभाव नहीं है. एक बार तो मुझे मेरी आँखों पर ही भरोसा नहीं हुआ यार, मैं जिसे ढूंढने के लिए पार्क में जाया करता था, वो तो मेरे पास ही रहती थी. भाभी भी मुझे गर्म मूड में दिखीं, शायद इससे पहले वे कोई चुदाई का हसीन सपना देख रही थीं, जिस कारण उनकी आँखों में मुझे वासना दिख रही थी.

अगर तुम्हारी तरफ से पूरी तरह ना हो जाए तो मैं उसी को उस लड़के से चुदवा दूँगी.

मैंने उसकी बुर और अपने लंड को साफ किया और अब उसे डॉगी स्टाइल में खड़ा कर दिया. उस वक़्त हमारे घर में काम करने एक काम वाली आती थी, वो काफ़ी चालू थी. थोड़ी देर बाद मैं उठा और निशा से बोला- उठो और अपने आप को साफ़ कर लो.

इंडियन में सेक्सीजिधर भी उसको मेरे साथ मौका मिलता तुरंत मेरा लंड चूस कर खड़ा कर देती और अपनी सलवार नीचे गिरा कर चुत खोल देती थी. मैंने कहा- क्यों नहीं, पर क्या भैया मानेंगे?भाभी बोलीं- वो तू मुझ पे छोड़ दे.

न्यू गोल्डन मटका बॉस

जिसकी वजह से उसकी 32 इंच की कठोर चुचियां ऐसे ऊपर नीचे हो रही थीं, जैसे दो पहाड़ हिल रहे हों. नताशा ने पूरे मनोयोग से उसके टोपे, अंडे इस तरह चाटने शुरू कर दिए कि कहीं कोई शिकायत न रह जाए!खूब अच्छी तरह से अपने चाकू पर मेरी पत्नी की जीभ से धार लगवाने के पश्चात् आर्थर ने नताशा को अपनी कलाइयों पर ऊपर उठा लिया और अपने ऊपर छत की तरफ तने लंड के चौड़े टोपे पर बैठा दिया. अब हफ्ते में एक दिन हम दोनों का ये रुटीन बन गया था कि जगह तलाश कर चुत लंड का खेल खेल लेते थे.

मैं अपनी हथेली पर प्रिया के जवान और मदमस्त जिस्म की झुलसा देने वाली गर्मी साफ़ महसूस कर रहा था. मां जोर जोर से चिल्लाने लगीं- धीरे करो, दर्द हो रहा है…वो दोनों कहां रुकने वाले थे. उसका लंड कोई ज़्यादा बड़ा लंड नहीं था, बस छह इंच लंबा और दो इंच मोटा था.

हालांकि इस दौरान इन्होंने काम पर जाना बन्द नहीं किया था क्योंकि वो भी बहुत जरूरी है. शायद अगर मैं उनको एक हल्का सा भी इशारा कर देती तो उस दिन तो मेरा ग्रुप चोदन हो जाना था. मैं उनकी टाँगों के बीच में था और उनके होंठों पर होंठ रख कर ज़ोर से चूसने लगा.

ठीक आठ बजकर पांच मिनट पर ट्रेन ने बंगलौर स्टेशन से रेंगना शुरू कर दिया और जल्दी ही प्लेटफोर्म और शहर की लाइट्स पीछे छूटने लगीं और खिड़की के बाहर अँधेरा दिखने लगा. सबसे पहले मैंने दोबारा अपना फ़ोन चैक किया कि वीडियो रिकॉर्डिंग चालू है कि नहीं, रिकॉर्डिंग चालू थी, सब कुछ ठीक चल रहा था.

तभी शैलेश नाम के एक लड़के ने मुझे उल्टा पटक दिया और मेरे पैरों को मोड़ कर मेरे पेट से जोड़ दिया.

”मेम- कोई बात नहीं, इस एज में होता है लेकिन मैं तुम्हारी टीचर हूँ, कोई गर्लफ्रेंड नहीं हूँ. आस चौथ की कथादीदी अपनी दो उंगलियां वी शेप बना कर अपनी चुत के दोनों फांकों पर रख दीं और उंगलियों को फैला कर चूत को पूरा खोल दिया. सेक्सी हिंदी एचडी फिल्मथोड़ी देर में तुम्हारी चूत दोनों हैम्स की अभ्यस्त हो जाएगी और आराम से उन्हें अडॉप्ट कर लेगी!तुम ठीक कह रहे हो जानू… लेकिन मैं उठक-बैठक करने की हालत में नहीं हूँ! मैं कोई पहलवान तो हूँ नहीं… मैं तो तुम्हारी नाजुक बदन पत्नी हूँ!!ठीक है… रुको!” मैं बोला और मैंने नताशा के पीछे से उसके कन्धों को पकड़ लिया. फिर पूरा दिन हम दोनों ने मैसेज में बात की और रात को एक बजे उसका कॉल आया.

शरमाना क्या?मैं अब सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में बाथरूम में उसके सामने खड़ी थी और वो सिर्फ़ अंडरवियर में था.

मैं भोपाल का रहने वाला हूँ, मेरी हाइट 5 फीट 6 इंच है, बॉडी एथलेटिक है, देखने में स्मार्ट हूँ, बहुत आकर्षक तो नहीं पर अच्छा दिखता हूँ. पर फिर भी मैं उनकी चुत चाटता रहा और नतीजा ये हुआ कि थोड़ी ही देर में भाभी जी ने फिर से पानी छोड़ दिया. वो बोली- डार्लिंग आज तुम्हें मैं पूरा लाइव शो दिखाऊंगी, तू भी क्या याद करेगी कि किससे पाला पड़ा है.

अजय ने पूछा- कौन कौन इसकी गांड मारेगा?साले सबके सब तैयार हो गए, सबने तीन तीन के झुण्ड बना लिए. मैंने स्पीड बढ़ा दी, करीब 20-25 धक्कों के बाद वो चीख कर झड़ने लगीं और कुछ मुझे भी लगा कि मैं भी जाने वाला हूँ, तो मैंने उनको पलट कर बैठा दिया और उनके मुँह में लंड पेल दिया कर जोर जोर से सजा भाभी का मुँह चोदने लगा. मैं उसकी चूत चूसने लगा और उसके मुँह में मैंने फिर से अपना लंड डाला.

सेक्सी फिल्म अंग्रेजी हिंदी

अभी तक उसे मम्मों के दबाने के मज़े के बारे में तो पता था लेकिन मम्मों को चुसवाने के मज़े का पता नहीं था।मेरे मम्मे चूसते ही वो जन्नत में पहुँच गई और अब धीरे-धीरे मुँह से बड़बड़ाने लगी- आह राजेश. उसने मेरे लंड को अपने मुँह में डाल लिया और मैं उसकी चूत में अपनी जीभ डाल कर चाटने लगा. मुझे नीट शराब बड़ी कड़वी लग रही थी तो मैंने सिगरेट लेकर शराब की कड़वाहट खत्म करने की कोशिश की.

मैंने उनके दूध को जोर से खींच कर चूसा और कहा- भाभी ऐसी भी क्या जल्दी है.

भाभी ने कहा- हां, मुझे लगता है कुछ दिन बाद मेरा पीरियड आने वाला है, मुझे मालूम हो जाएगा.

अब मैं उसकी बुर से अपना लंड निकालने लगा तो देखा कि उसकी बुर और मेरे लंड में सफेद सफेद उसका ढेर सारा पानी ने जम कर किसी सफेद सर्फ के झाग की तरह पूरे बालों को ढक लिया था. मैं- क्या बात है… क्या सोच रही हो? तुम्हें क्या हासिल हुआ आज तक? सिर्फ तड़प!वो- आज तक किसी गैर मर्द को इस नजर से देखा भी नहीं है. लंदन से लाएंगे रातभर डीजे बजाएंगेआज मैं अपनी बीवी को पक्का चुदवाने वाला था तो मैंने उसे फोन करके बोल दिया था कि जब हम दोनों घर आएं तो वो बिल्कुल नंगी मिले और कपड़े बदलने का नाटक करे.

मेरे पति का लंड बहुत बड़ा और मोटा है जो किसी की भी चूत को फाड़ कर उसकी चूत का साइज़ बड़ा कर सकता है. मॉम ने पैर टेबल पर रख कर अपने मुँह से थोड़ा सा थूक निकाल कर अपनी चुत पे लगाया. मैं सबके सामने नंगा खड़ा था, सबके सब आँखें फाड़ कर मुझे देख रहे थे.

वो मुझे चूमते हुए बोली- चलो देखते हैं कितना बड़ा गेम बजाने वाला आइटम है. भाभीजान ने हमें दूध दिया, हम दोनों ने पिया और फिर मैं अपने घर आ गया.

अब उस लड़के ने ऊपर से ही मेरी साली के चूचे चूसने शुरू किए, जिसका मेरी साली थोड़ा विरोध कर रही थी, पर वो वैसा ही विरोध था जैसा लड़कियां अक्सर करती हैं, पर वो भी उसका मजा ले रही थी.

लेकिन अब काम्या बहुत ज़्यादा तड़प गई थी और गालियां देने लगी थी- डाल मादरचोद, अन्दर डाल बहनचोद… डालता क्यों नहीं है. कुछ देर बाद मेरे बगल में एक लड़की आ कर बैठी, एक साइड में वो थी बीच में मैं था और एक साइड में एक और आदमी बैठा था. अब मेरा लंड उसकी गांड में अच्छी तरह से चल रहा था और उसे भी मज़ा आने लगा.

न्यू सेक्सी एचडी उसने अपने अपार्टमेंट का अड्रेस बताया और हम उसके फ्लैट वाले अपार्टमेंट में पहुँच गए. मेरी सहेली की चुदाई की पूरी कहानी मेरी सेक्सी आवाज में सुनें और मजा लें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिये सर्वोत्तमब्राउज़र क्रोम Chrome है.

और तभी भाभी मेरे लंड को कस कर पकड़ कर चाटने लगी, मैं समझ गया कि भाभी झड़ने वाली हैं और मैंने उनकी चुत को चाटने का काम जारी रखा और भाभी मेरे मुख में ही झड़ गयी. मुझे उसके लंड चूसने के तरीके और हाव भाव से पता चल गया था कि ये साली उतनी शरीफ है नहीं, जितनी शकल से दिखती है. मैंने भैया से कहा- भैया, भाभी को भी तो पीने दो, अगर आपको मुझसे संकोच है तो मैं चला जाता हूँ.

ओकेएक्सएक्स

नशे में होने के बावजूद भी उसे बहुत मजा आ रहा था लेकिन उसे यह नहीं मालूम था कि बुर चाटने वाला उसका पति नहीं बल्कि उसके पति का दोस्त है।मुझे बहुत ही मजा आ रहा था, मैंने अगले ही पल उसकी जांघों के बीच अपने लिए जगह बना कर अपने लंड को उसकी बुर के मुहाने पर रख दिया और धीरे धीरे उसे अंदर डालने लगा. लड़कियां पूरे एक महीने तक मुझसे चुदवा कर भोसड़ी वाली बन जाती हैं, उनका बदन भर जाता है और वो मस्त माल बन जाती हैं. हां जब पहली बार चुदोगी तो टांका टूटने से कुछ खून की बूंदें भी आ सकती हैं, मगर उतनी नहीं, जब असली सील टूटती है.

जीजा बोले- वन्द्या मान जाओ प्लीज!और मेरे ऊपर चढ़ गए इस बार… मैं फिर से उनसे छुड़ाने लगी लेकिन इस बार जीजा मेरे बिल्कुल पेट के ऊपर दोनों टांगें इधर उधर करके ऐसे चढ़ गये कि मैं कुछ भी कर के नहीं उठ सकती थी न ही छुड़ा सकती थी. इसे मिटा दोगे?वो- हाँ चाची उसी के फेर में मैं इतनी देर से हूँ।मैं- तो ठीक है.

आने वाले चंद घंटे मैं पूर्ण तौर पर आप की अर्धांगिनी की तरह गुज़ारना चाहती हूँ.

प्रिया का कंप्यूटर कोर्स भी अपने अंतिम चरण में था, पांच-छह दिन की और बात थी, 02 नवंबर को प्रिया ने घर लौट जाना था. वो बोला- आशीष, दोस्ती गई भाड़ में, मैं अभी अंकल से बोलता हूँ कि यहाँ पर क्या हो रहा है. अर्पिता- इस बार प्लीज मत तड़पाना, मैं नहीं सहन कर पाऊँगी!मेरी जान, इस तड़प का मजा ही कुछ और है, क्यों मजा नहीं आया?”अर्पिता- पर इतना तड़पाना भी अच्छा नहीं होता।अच्छा बाबा नहीं तड़पाऊँगा.

मेरे पाठक दोस्तो, मेरा नाम राज है और मैं भी आप ही की तरह अन्तर्वासना सेक्स कहानी का नियमित पाठक हूँ. उसी नशे में मैंने लंड सेजल भाभी की चूत के छेद पे रख के एक ज़ोरदार धक्का दे मारा. मैं उनकी स्कूटी के पास गया, तो वो नीचे उतर कर एक तरफ हो गईं और उन्होंने मुझे स्कूटी दे दी.

मैंने माल उसके मुँह में निकलने से रोका और लंड बाहर खींच कर कपड़े से पोंछ कर फिर से लंड चूसने के लिए बोला.

हरियाणवी बीएफ बीएफ: वहां पे एक पैकेड ब्रश रखा था, मैं समझ गया कि ये सेजल भाभी ने मेरे लिए रखा है. मैंने अनसुना करके अपनी पेंट उतार दी और अंडरवियर भी निकाल दी, अपना लंड भाभी की चूत पर सैट किया और एक ही झटके में उनकी चूत में पूरा पेल दिया.

दिल कर रहा था कि मैं इन जवान जिस्मों को चूम लूं और उनके जिस्म की मस्तानी महक को अपने अंदर भर लूँ. एक दिन उसने टी-शर्ट पहनी हुई थी, पहली बार मैंने उसके उभारों को सौ वाट के बल्ब जितना रोशन महसूस किया. अलका रानी लंड चूसने के साथ साथ मेरे अंडे भी बड़े हल्के हल्के हाथ से सहला रही थी.

फ़िर मेरी पैंट की तरफ़ देखा और अपने दोनों हाथों से पकड़ के झटके मारते हुए खींचने लगीं.

थोड़ी देर तक बात करने के बाद भाभी हमारी किचन में खाना बनाने के लिए चली गयी और वो बीच बीच में मुझसे बात भी कर रही थी, आवाज लगा कर मुझसे रसोई के सामान का भी पूछ रही थी कि कौन सा सामान कहाँ रखा है. फिर अगले दिन ही सभी विद्यार्थियों को कमरे अदला बदल करने को कहा गया और उसी दिन शाम में सभी को दूसरे कमरे आबंटित भी कर दिए गए. कुछ देर बाद मैंने अपना लंड उसकी चूत से निकाला तो मेरा रस उसकी चूत से बाहर को बहने लगा.