bhabhi के बीएफ

छवि स्रोत,चोदने वाला सेक्सी वीडियो हिंदी में

तस्वीर का शीर्षक ,

एक्सीडेंट सेक्स वीडियो: bhabhi के बीएफ, फिर मेरे मन में जाने क्या आया कि मैंने उसके चूतड़ों पर काट खाया, वो दर्द से कुलबुला गयी और उठ कर बैठ गयी.

सेक्सी व्हिडीओ इन मराठी

अपनी गोल गोल गांड को मटकाते हुए वो ऐसे चल रहा था जैसे तेंदुआ मस्ती में झूमता हुआ जा रहा हो. सेक्सी download comमैंने नीचे से एक झटका दिया और लौड़ा उसकी चूत में अंदर तक घुसा दिया.

करीब दस मिनट लगादार चोदने के बाद मैं झड़ गया और कंडोम निकाल कर आलिया के पास लेट गया. भूतों वाली सेक्सी वीडियोअब हम लोग अक्सर रोल प्ले करके तथा इमेजिन करके चुदाई कर लिया करते थे.

मैं सोच रहा था कि हम सब कल ही उन दोनों के बारे में बात कर रहे थे और आज वो हमारे साथ हैं.bhabhi के बीएफ: अचानक भैया को किसी का कॉल आया और उन्होंने भाभी से कहा- मुझे जाना अर्जेंट होगा … एक काम आ गया है.

उस वक्त मेरे निप्पल का घेराव छोटा सा ही था, जिस पर संदीप ने अपनी सारी कला का प्रदर्शन कर दिया.अब ममता ने भी परिस्थितियों से समझौता कर लिया है और वो अपनी जिन्दगी अपने हिसाब से जीती है.

सेक्सी वीडियो मां बेटे वाला - bhabhi के बीएफ

मीना नहाकर आई, उसने गुलाबी रंग का झीना सा गाउन पहना था जिसमें से उसके निप्पल्स झलक रहे थे.जैसे ही वो अंतिम छोर पर जा कर बच्चेदानी से छुआ मेरे मुंह से निकला- ऊऊऊ ऊऊईई ईईईई मम्मी!क्या हुआ मेरी जान? मोटा है क्या?”हाँ मोटा तो है ही … मेरी चूत में समा नहीं रहा.

दीदी- सुनो तुम दोनों घर की साफ सफाई कर लेना और कपड़े वाशिंग मशीन में डाल देना. bhabhi के बीएफ मेरी वीर्य का फव्वारा उनकी चुत में गिरते ही उन्होंने अपनी आंखें बंद कर लीं और मेरे शरीर पर ढेर हो गईं.

मीना को चोदते चोदते वो समय आ गया कि मेरा सुपारा फूलकर संतरे जैसा हो गया और मीना की चूत में मैंने अपने लंड का फव्वारा छोड़ दिया.

bhabhi के बीएफ?

उसने मुझे थैंक्स कहा।मैं जानती हूं कि आज के समय में भरोसा करना मुश्किल है लेकिन कभी-कभी आपको वह मिल जाता है जो आप दिल से चाहते हैं।मुझे भी थोड़ा भरोसा करने लायक एक दोस्त मिल गया था. फिर मैंने अपने हस्बैंड से चुपके से एक नंबर भी उसको दिया जिससे वह मुझसे बात कर सकता था क्योंकि मेरा व्हाट्सएप नंबर मेरे हस्बैंड चेक करते थे. आप मुझे नीचे दी गई मेल आईडी पर मैसेज करके अपना संदेश छोड़ सकते हैं.

मेरे पूछने पर सेवक राम ने बताया- नादान लड़की है बिना सोचे समझे इससे दोस्ती कर ली, अब वो परेशान कर रहा है. उसकी मस्त शेप वाली गोल मटोल जांघों में फंसी जीन्स की जिप के अगल-बगल लौड़े के करीब बनी पैंट की सिलवटें देख कर मेरी सांसें भारी होने लगीं. तभी विक्की ने मुझे सीधा करके मेरे गले पर किस करना चालू कर दिया और वो एक हाथ से मेरे मम्मों दबाने लगा.

फिर शाम को भैया का फोन आया कि उस दिन वो अपने दोस्त के साथ काम के सिलसिले में उसके घर पर ही रुकेंगे. भगवान तुम्हारे पति की आयु सौ साल करे! लेकिन हकीकत यह है कि तुम भी शारीरिक सुख से तो वंचित ही हो. मेरी आंखों में आंख डालकर संदीप ने कहा- गीत, मैं जानता हूँ, तुम मुझसे प्यार करती हो … और तुमसे कहीं ज्यादा मैं तुम्हें चाहता हूँ.

मैंने अपने दोनों हाथों से आंटी के दोनों मम्मों को भरा और जोरों से मसलने लगा. उसकी एक मीठी सी चीख निकल गई- उई माँ मर गई … लंड है या खीरा? उम्म्ह… अहह… हय… याह…मैंने ताबड़तोड़ चुदाई करना शुरू कर दी.

बच्चा होने के बाद हम दोनों ने सहमति से एक-दूसरे से दूरी बना ली और हँसी खुशी रहने लगे।लेकिन जब मेरा पोता स्कूल जाने लगा तो सायरा की वासना पुनः सर उठाने लगी और मुझे उसकी मदद करनी पड़ी.

अपने रूम में आकर मैं सोचने लगी कि इतनी देर में चाची की चूत को क्या मजा आया होगा!मगर चाचा-चाची की चुदाई देख कर मैंने अपने मोबाइल में पोर्न साइट खोल ली.

मैं सोच रहा था कि पता नहीं अब तक इसने कितने लड़कों के साथ सेक्स कर लिया होगा. हम दोनों ऐसे ही मस्ती कर रहे थे, तब तक बच्चों की बस आ गई और भाभी बच्चों को लेने चली गईं. अजहर- कैसी हैं मेरी आशना की चुचियाँ?मैं- मस्त हैं एकदम!अजहर- चोदोगे इसको?तभी आशना बोली- कैसी बातें कर रहे हो तुम आज ही शुरू में।उसका पति अजहर बोला- लड़का अच्छा लगता है.

उन दिनों फसल कटाई का काम चल रहा था तो सब लोग दिन भर खेतों में रहते थे. उसके जिस्म के साइज़ की बात करूं, तो दीदी की ब्रा की साइज़ 95 सेंटीमीटर की और पैंटी शायद 100 सेंटीमीटर की थी. उसने अपनी जांघों पर बहते रस को अपनी हथेली से पोंछा और उसको चाटने लगी.

तभी मैंने भी अपनी सलहज की चादर को अलग किया और उसे अपनी बांहों में भर लिया.

संदीप आंखें बंद करके ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाजें निकालने लगा था. राजन ने उसके होंठों पर एक प्यारा सा किस दिया और उसे लेकर बेड पर आ गया. इस दौरान दोनों ने मुझे संदीप के नाम से चिढ़ाया और उसे जल्दी पटाने की बात कही.

दोस्तो यह थी मेरी एक सच्ची सेक्स की कहानी जो मैंने आप अंतर्वासना पर लोगों के साथ शेयर की. अपनी प्रेयसी को अपने हाथ से खिलाना और उस के हाथ से खुद खाना इतना आह्लादकारी, इतना रोमांचक भी हो सकता है … इस से पहले मुझे इस बात का अंदाज़ा ही नहीं था. ड्राइवर ने ऑटो रोका तो सासू माँ ने उसे अपनी परेशानी बताते हुए लिफ्ट देने को कहा.

इस सेक्स कहानी के पहले भागफ़ेसबुक से वाली भाभी की जिस्म की आग-1में अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने फेसबुक के माध्यम से सपना नाम की भाभी को पटा लिया था और आज उसकी चुदाई के लिए कमरे में जा रहा था.

फिर चाची ने मुझसे सीधा सवाल पूछा- तेरी कोई जीएफ नहीं है … तो ये किसके लिए रख कर घूम रहे हो?मैंने अचकचाते हुए कंडोम की तरफ देखा और चाची से बोला- ओह्ह … वो दोस्त के लिए लिया था, उसको देना था. काफी देर तक बुर सहलाने के बाद मैंने पूछा- चूचियां चूसने और बुर सहलाने से कुछ हुआ?हां दादू, मेरी बुर में कुछ कुछ हो रहा था.

bhabhi के बीएफ इससे मेरी हिम्मत बढ़ गयी और मैंने दूसरी बार फिर से अपनी कोहनी उसके मम्मों पर कुछ जोर से दबाई. दूसरे दिन फिर उसी तरह घुड़सवारी करते हुए फॉर्म हाउस आ गये, मालिश वाला लड़का आ गया.

bhabhi के बीएफ मुझे इस तरह चूत को देखते हुए देख कर उसने अपने हाथों से अपनी आँखें बंद कर ली. इसके बाद मैंने उसका लैपटॉप खोला, तो उसमें वीडियोज के फोल्डर में बहुत सारे पोर्न क्लिप्स थे और सब गे या लेस्बियन थे.

वो मुझे किस करते हुए मेरे लंड को अपनी चूत पर सैट करके लंड अपनी चुत में खा गईं और धक्के लगाने लगीं.

छोटी छोटी लड़कियों का सेक्सी पिक्चर

फिर दीदी ने अपनी एक टांग हवा में उठाते हुए अपनी गांड को अपने हाथों से फ़ैला दिया. सपना के मुँह से खुद के लिए पति सुनकर एक पल के लिए तो मैं अकबका गया. तब मैंने उनकी पैंटी निकाली और उसे चाट लिया और चाची की चूत का पानी पूरा साफ कर दिया.

दोबारा से कोशिश करते हुए मैंने उसके गाऊन में हाथ डाला और अपने हाथों को उसके बूब्स तक ले गया. मेरा मन तो बाँहों में लेने का था पर कण्ट्रोल करके सिर्फ शेक हैंड किया. वो लाल रंग की नाईटी में थी, जो सिर्फ एक डोरी से आगे से बंधा होता है.

अपने लंड बुर की हवस में मैं हम ये भी भूल गए थे कि घर का कोई सदस्य आ गया, तो क्या होगा.

मेरे वीर्य को पिंकी ने तुरंत ही एक कपड़े में पौंछ लिया और जो मुँह में रह गया उसको बाथरूम में मुँह धोकर गिरा दिया. मैंने भी अपनी एक टाँग उसकी कमर पर चढ़ा दी और अपने हाथों से उसकी पीठ को मसलने लगी. मैं अभी तक पहली बार झड़ा था, और चाची दो बार झड़ चुकी थी।फिर हम दोनों जरा शान्त हो कर लेटे रहे और एक दूसरे को किस करते रहे और मस्ती करते रहे।अब हम दोनों चुदाई के लिये तैयार थे.

दूसरे दिन मैं सुबह उठा, तब वहां कमरे में मेरे अलावा कोई भी नहीं था. गोरी गोरी चूचियां और उनके बीच में पहाड़ की चोटी के समान नुकीले गुलाबी निप्पलों को अपनी आंखों के सामने नंगे देखना किसी भी मर्द को उसकी जवानी का कायल बना सकता था. फिर अंकल दीदी की जांघों के बीच में बैठ गए और अपने लंड को दीदी की पानी छोड़ती हुई चुत पर रख दिया.

होंठों को दांतों ने फिर काट लिया और निप्पल को उंगलियों ने फंसा कर जोरों से खींच लिया. कामोत्तेजना के कारण चूत से निकलता रस उसकी चुत में चमक पैदा कर रहा था.

उसकी मोटाई भी 3 इंच हो चुकी है जो चूत को फाड़ कर रखने के लिए काफी है. अब वो मेरे चेहरे पर हाथ फेरते हुए मेरे हुस्न की तारीफ करने लगा और साथ ही मेरे बालों में मेरे मम्मों पर और मेरे गालों पर अपना हाथ घुमाने लगा. उसके डिल्डो में दोनों ओर लंड का सुपारे जैसा आकार था लेकिन मोटाई दो इंच के लगभग रही होगी.

मैं बोला- प्रोफाइल में तो कुछ और लिखा है?तो उसने बताया- वो मेरा ससुराल है.

मेरे हाथों ने डिल्डो को दीदी की चूत में अचानक ही अन्दर तक घुसेड़ दिया और सीधे जड़ तक पेल कर वहीं रोक दिया. मैंने उससे पूछा- क्या हुआ, उससे क्या बोल रहे थे?वो बोला- मैं उससे कंडोम की पूछ रहा था कि कहां रखे हैं. उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था जिससे उसकी पैंटी गीली दिखाई देने लगी थी.

दीदी- मम्मी … उम्म्ह… अहह… हय… याह… उह …साकेत भैया अपना लंड दीदी की बुर में पेलने लगे. सच में आलिया इस समय इतनी हॉट लग रही थी, मानो अभी मैं उसको प्रपोज कर डालूं.

सपना- अब बताओ … चाय या कॉफी और नाश्ते में क्या खाओगे?मैं- मैं चाय पियूंगा और नाश्ता जो तुम खिला दो … चलेगा … वैसे मैं कच्चा दूध पीता हूँ … वो भी सीधे थन से मुँह लगा लगाकर. उसके बाद उन्होंने सही निशाना लगा कर मेरी चूत में एकदम से लंड को घुसा दिया. मैंने उसको बांहों में कस लिया और उसके होंठों के रस को निचोड़ने लगी.

सेक्सी फिल्म एक्स फिल्म

फिर उसने अपना लंड मेरी गांड में से निकाल कर मुझे अपना लंड चूसने को कहा।शुरू में मैंने उससे मना किया लेकिन उसकी जिद करने पर मैं अपनी गांड से निकला हुआ लंड मुंह में लेकर चूसने लगी.

खैर इस समय ममता प्रकाश को याद करके अपना समय खराब नहीं करना चाहती थी. मैंने उससे पूछा- तुम्हारा बच्चा कहां है, दिखाई नहीं दे रहा?उसने बताया कि उसने अपने बच्चे को दो दिन के लिए नानी के यहां भेज दिया है. तेरे बारे में जो गांव के लड़के और बुड्ढे बात करते हैं सब बिल्कुल सही है कि तू हमारे गांव की ही नहीं पूरे एरिया की सबसे सेक्सी और सबसे चुदासी लड़की है.

दूसरे दिन मैं सुबह उठा, तब वहां कमरे में मेरे अलावा कोई भी नहीं था. काफी देर तक हम दोनों एक दूसरे के सेक्स अंगों को चाटते और चूसते रहे. तू मेरा हीरो भोजपुरीपर आज मैंने संदीप के लंड को महसूस करने की ठान ली थी, इसलिए पहले से थो़ड़ा बड़ा केला चुना था और उसे अपनी चूत की गहराईयों में पहुंचाने का मेरा फैसला भी अटल था.

तभी मैंने दीदी की एक सहेली का कमेंट्स पढ़ा- हां यार, शिवम तो तेरा ही है. मैंने नहा कर एक टीशर्ट और कैपरी पहनी और अपने कैमरे का किट बैग ले कर स्टूडियो में चला गया.

जैसे ही मैंने पानी छोड़ना शुरू किया, उसने अपना लंड चूत पर रख दिया और मेरे चूत रस से अपने लंड को गीला करने लगा. मैंने ज्योति को गोद में उठा लिया और बेडरूम में ले आया, पलक झपकते ही उसको नंगी कर दिया. गुरू के डैडी तो हमेशा दुबई में रहते हैं और यहां मेरी जवानी तड़पती रहती है.

ज़ाहिर सी बात थी वो एक इक्कीस साल की भरपूर जवानी से लबरेज़ लड़की थी और मैं एक तजुर्बा कर मर्द था. आपने मेरी शैदाई बन चुकी गीत की कलम से इस सेक्स कहानी के पिछले भाग में पढ़ रहे थे. इसके बाद मैं 69 की पोजीशन में आकर उसकी बुर चाटने लगा और उससे कहा कि मेरा लण्ड मुंह में ले ले.

इससे पहले कि नीरज कुछ बोलता, मैंने स्पष्ट किया कि देखिए हम लोग भी आपकी तरह रोल प्ले करते हैं और संजू आपके बारे में फैन्टेसी सेक्स भी कर चुकी है.

फिर उनका लंड खड़ा हो गया और उन्होंने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और खाने वाली मेज पर ही हमने दिल खोल कर सेक्स किया. अगले दो मिनट तक मैंने श्वेता की चूत को ऐसे ही उंगलियों से चोदा और फिर उसकी चूत को अपने दोनों हाथों से खोल कर अपनी जीभ की नोक उसकी चूत के द्वार पर हल्का हल्का फिराना शुरू कर दिया.

तब तक वो दो बार झड़ चुकी थी।मैंने कहा- कहाँ निकलना है?उसने कहा- अपनी बीवी से कोई पूछता है कि कहाँ निकाले? अब अपने बच्चे की माँ नहीं बनाएगा क्या?वो ऐसे बोली तो मैं उसके बोलते बोलते झड़ गया … मेरा सारा माल उसकी प्यासी चूत के अंदर ही निकल गया. मैंने जल्दी से अपना मुँह उनकी चूत पर लगाया और उनका सारा पानी पी गया. बीस मिनट तक उसके जिस्म के साथ खेलने के बाद वो पूरी तरह से गर्म हो गयी थी.

अपनी बहन की चूत में लंड देने में ऐसा सुख मिलेगा मैंने कभी नहीं सोचा था. देख! ना मत कर वसु … आइंदा जिंदगी में फिर ये मौका नसीब नहीं होने का … !”मेरे स्वर में गहरी गुहार का पुट पाकर वसुंधरा ने दो पल मेरी आँखों में एकटक देखा और फिर वसुंधरा के होंठों के कोरों पर एक गुप्त सी मुस्कान प्रकट हुई. अंकल ने अपने लंड को दीदी की चुत पर सटाया और एक जोर से झटका दे मारा.

bhabhi के बीएफ काम विहार की प्रत्याशा में वसुंधरा का निचला होंठ थरथराने लगा और वसुंधरा के मुंह से मंद-मंद काम-किलकारियां निकलने लगी ‘उफ़्फ़ … फ़. मैंने उसका हाथ पकड़ा और बोला- मेरे लंड को प्यार नहीं करोगी?मेरा लंड चूसने का इशारा समझ कर वो बोली- नो … मैंने कभी मुँह में नहीं लिया और ना ही लूँगी … इसकी जगह मेरी चूत में है, वही अच्छा है.

सेक्सी 7 सेक्सी

पर नौकरी की मजबूरी … उन दोनों के बीच ये तय हुआ कि हर 15 दिनों में दो रात के लिए राजन लखनऊ आया करेगा. वो बोली- मैं अगर तुम्हें राजन कहूं तो तुम्हें बुरा तो नहीं लगेगा?राजन ने उसका कन्धा थपथपा दिया. मोनिका ये सुनकर बहुत खुश हो गई और बोली- क्या तुम मेरी तारीफ कर सकते हो, जो मुझसे हर बार करते थे.

दिन भर दो-तीन राउंड लगाने के बाद दोनों ही थक कर नंगे ही सो गए और उनकी आँख शाम को बेटे की वैन की डोरबेल बजाने से खुली. मैंने उससे पूछा- अपना पासवर्ड बताओ मोबाइल और लैपटॉप का … और चुपचाप सो जाओ. ముంబై సెక్స్उसने भी मुझे पहचान लिया था क्योंकि मैंने पहले ही बता दिया था कि मैंने किस रंग के कपड़े पहने हैं.

भाभी का नाम सपना था (बदला हुआ नाम) उसने तीन मैसेज में लिख कर मुझसे कुछ जानना चाहा था.

चुत की मांग में एक छोटा सा चना बराबर मांग टीका अपनी छटा बिखेर रहा था. मुझे ऐसे करते देख उसने मेरी चूत में ही अपना वीर्य छोड़ दिया और कुछ देर मुझसे ऐसे ही चिपका रहा.

साथ ही मैंने खाला से रात सबके सो जाने के बाद ज़ेबा से मिलने की इच्छा जताई. हम दोनों के नंगे बदन एक दूसरे से चिपके हुए थे और हम दोनों एक दूसरे के बदन से खेलते हुए सो गए. इसी बीच मैंने उस लड़की की माँ पर भी साथ साथ डोरे डालने शुरू कर दिए थे।पर आखिर एक दिन भगवान ने मेरी सुन ली, उसकी माँ मार्केट गई थी सब्जी और घर का राशन लाने और वहां बहुत तेज बारिश हो गई.

मेरी सलहज मेरे साले का लंड चूस रही थी और मेरा बड़ा साला आंखें बंद करके आह-आह कर रहा था.

फिर मैंने कहा- गांड मारने का बहुत मन है क्या?इस पर उसने कहा- लाजवाब खूबसूरत गोरी गदराई नंगी गांड सामने हो, तो गांड मारने का मन तो करेगा ही, तुम्हारी उछलती गांड देखकर ना जाने मैंने कितनी बार मुठ मारी है. अपनी आत्मकथा शुरू करने से पहले मैं अपने बारे में कुछ और जानकारी देना चाहूंगी. मैं बीच बीच में उसकी गर्दन पर भी चूम और काट रहा था जो उसकी कमजोरी थी.

भाभी और देवर की सेक्सी व्हिडिओमैंने अपनी दोनों बाहों का हार बना कर संदीप के गले में डाल दिया और उसका वरण कर लिया. देखेंगें … !” वसुंधरा ने खुद को पूर्ण रूप से मेरे आगोश में ढीला छोड़ कर जवाबी चोट की.

मारवाड़ी सेक्सी चुदाई सेक्सी वीडियो

लेकिन उनकी बातों और व्यवहार से मैं थोड़ी देर में नॉर्मल हो गई। उन्होंने मुझे रूम में चलने के लिए पटा लिया. थोड़ी देर मेघा ने मेरा लंड मुँह से निकाला और हम दोनों की पोजीशन में थोड़ा सा और बदलाव किया. फिर मैंने घर पर आदी को कॉल करके बता दिया कि हम पहुंच गए हैं, मम्मी को बता देना.

जब मैं पूरी तरह झड़ गयी, तब उसने खूब सारा थूक मेरी गांड की छेद पर लगा दिया. मैंने उसे अपने सीने से लगा कर पूछा- क्या तुम भी वैसा करना चाहोगी?मेरे पकड़ते ही उसके माथे पर पसीने की बूंदें छलक आयी थीं. आंटी- आह मनोज … उम्म्ह… अहह… हय… याह… मनोज आह आह आह उह!आंटी की कामुक आवाज़ों ने तो मेरा भी लंड खड़ा कर दिया.

हमेशा की तरह उसने मुझे फोन करके बुलाया तो अपने मीटिंग प्वाइंट पर पहुंच गई. गालों पर, माथे पर, कंधे पर, गले पर, पता नहीं … हम एक दूसरे को कितना दबाना चूमना चाह रहे थे. हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे और मैं उसके सर के बालों पर हाथ घुमा कर प्यार करती रही.

वो कुछ बोल नहीं रही थीं … लेकिन अपने होंठ दबाते हुए मेरी हरकतों का पूरा मजा ले रही थीं और सीत्कार रही थीं. मैं बोली- तो मैं ये ले जाऊं या फिर पहनोगे?उसने अपनी नज़र नीचे कर ली और कुछ नहीं बोला.

प्रीत ने आदी से कहा- कल रात में तुमने मेरी आंख पर पट्टी बांध कर मेरा लंड चुसाई की थी … आज बिना पट्टी के लंड चूसना चाहोगे?ये सुन कर आदी मेरी तरफ देखने लगा.

जब चाची चौथी बार झड़ीं, तो मैंने अपना लंड उनकी चूत से निकाल कर उन्हें पेट के बल लिटा दिया और साइड करके पीछे से उनकी चूत में लंड डाला और एक हाथ आगे ले जाकर उनकी चूत के दाने को रगड़ने लगा. सेक्सी पिक्चर नंगी राजस्थानीवो बोली- हाँ! पर …फिर मैंने मौका देख के पूछा- व्हाटसऐप नंबर क्या है आपका?तो बोली- क्यों?तो मैंने कहा- उसमें चैट करने में अच्छा लगता है. ப்ளூ பிலிம் செக்ஸ்ய் வீடியோउन्होंने कहा- अब दिमाग पर ज्यादा जोर मत दो … आज दिन में हम दोनों बहनों ने बहुत ऐश की थी … और उसी समय से तुम दोनों को भी किसी दिन चोदने की प्लानिंग हो गई थी. मैंने इशारे से गर्दन हिला कर पूछा- क्या हुआ?उसने भी बस इशारे में ही सिर हिला दिया- कुछ नहीं.

मुझे मोटे चूचे और पीछे की ओर निकली हुई गांड वाली भाभी और चाची बहुत पसंद आती हैं.

इतवार का दिन था, ममता आज की छुट्टी ले चुकी थी, इसलिये मैंने खुद ही ब्रेड ऑमलेट बनाकर नाश्ता किया और चाय का मग लेकर ड्राइंग रूम में आ गया. क्या मस्त उसके चूचे थे … एकदम गोरे गोरे गुलाबी निप्पल!मैंने तुरंत अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. पर आज सब कुछ मेरे लिए था, बेपर्दा था, बेइंतिहां था और मैं इसी अहसास से ही मदहोश होने लगी.

फिर परमीत ने हमारे सामने हाथ जोड़ लिए और हमारी बातों को मानने के लिए तैयार हो गई. अगले भाग आप पढ़ेंगे कि कैसे आलिया मेरे प्रपोजल को स्वीकार कर लेती है और फिर हम दोनों के बीच रोमांस शुरू होता है. परमीत ने इठलाते हुए कहा- तेरी चूत का तो पता नहीं, पर मेरी चूत में तो चला जाता है.

राजस्थानी सेक्सी फिल्म करने वाली

मैं गुस्से में बोला- मादरचोदी जल्दी से आ जा … मेरे लवड़ा तुझे याद कर रहा है. मनु और मैंने कॉलेज से ही संदीप के घर जाने का प्लान बनाया था, क्योंकि परमीत ने अपने जाने के लिए पहले ही मना कर दिया था. कसम से इस वक्त क्या मजा आ रहा था, ऐसा लग रहा था कि मैं उसे नहीं … वो मुझे चोदना चाहती है.

वो सामने चेयर पर बैठने लगी तो राजन ने कहा कि यहीं आ जाओ और बेड पर सरक कर जगह बना दी.

उसके बाद मेरा मन लंड को हिलाने के लिए करने लगा क्योंकि उत्तेजना तो पहले से ही थी.

उसके शरीर से एक भीनी भीनी खुशबू आ रही थी जो मुझे पागल किये जा रही थी. मैंने भी उसे और तड़पाना उचित ना समझते हुए अपना लंड, जो कि पूर्णतः नब्बे डिग्री की अवस्था में खड़ा था, को अपनी बीवी की चूत में डाल दिया. चपाती बनाने की मशीनमेरी अन्तर्वासना कह रही थी कि आगे बढ़ कर अपने भाई के होंठों पर होंठों को रख दूं.

मेरा जीजू कमल भी भूखे शेर की तरह मेरे जिस्म को खाने के लिए उतारू लग रहा था. भाभी जैसा कह रही थीं, मैं करता जा रहा था … लेकिन दूध पीने के बाद मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. अगर मैं ऐसे ही एकदम से चूत में लौड़े को घुसा देता तो वो दर्द के मारे मना कर देती.

मैंने रिक्वेस्ट करते हुए कहा- प्लीज बाबू … एक बार और मुंह में ले लो. पापा के बेडरूम में एक छेद है जो विण्डो एसी की साइड में है, वहां से पूरे बेडरूम का एक एक कोना दिखता है.

फिर मैंने जैसे ही लेगिन्स उतारने लगी, वैसे ही वो पीछे आया और मेरी लेगिन्स भी फाड़ दी.

फिर सुमित बोला- तू ही बता दे ना यार?उसने कहा- भाई मैं तो कभी कभार वैसे ही चला जाता हूं, मैं फीस-वीस नहीं देता. मेरा कॉलेज मेरे घर से दूर था इसलिए मेरे पेरेन्ट्स ने कहा कि मैं चाचा-चाची के घर रह लूं. मैंने कहा- अब से आप मेरी वाइफ हो गई हो … जब चुदवाने का मन हो, बुला लेना.

बीपी सेक्सी ब्लू ओपन उसने आदी को किस किया, तो आदी भी उसका साथ देने लगा और उसने एक हाथ से कॉलब्वॉय टॉमी का लंड पकड़ लिया. बॉस ने भी मुझे अपनी बांहों में कस लिया और कहा- रानी जब तक गांड नहीं मरवाओगी, तब तक चूदाई पूरी कहाँ होगी तेरी!दीदी के बॉस का लंड अभी भी मेरी चूत के अन्दर ही था.

उसके मुंह से सिसकारियां निकल रही थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… और तेज … कमॉन … आह्ह चोदो. उसने आते ही मम्मी से पूछा- आंटी कैसी हैं, प्रिया कहां है?मम्मी- हां बेटा मैं ठीक हूं. अगर गुस्सा कर जातीं और किसी से बात शेयर कर देतीं, तो मेरी बड़ी बदनामी हो जाती.

नोरा फतेही सेक्सी पिक

वो बोली- मैं घुड़सवारी करूंगी तो मुझे भी मालिश करानी पड़ेगी?मैं बोला- हाँ, अगर मालिश कराओगी तो घोड़े पर तुम्हारा कन्ट्रोल रहेगा. जिया आकाश की बहन निकली और भाग्य से दूसरे दिन जिया और उसका पति नीरज, जो कि नताशा का भाई था. राजन ने ममता से पूछकर सिगरेट जलाई और हँसते हुए उसकी ओर भी डिब्बी बढा दी तो ममता ने एक सिगरेट निकाल ली.

लेकिन मैंने जल्दी करना सही नहीं समझा क्योंकि लड़की हो, आंटी हो या भाभी हो … आराम से उसकी चुदाई करना चाहिए. इसके बाद मैंने बाथरूम में जाकर अपने सारे कपड़े उतारे और ब्रा-पेंटी और ब्लाउज पेटीकोट पहन लिया.

फिर आख़िरकार उसने एक चुंबन मेरी फुदी के होंठों पर भी छोड़ दिया और फिर मेरी फुदी को नोच नोच कर चूसने लगा.

श्वेता- नहीं आंटी, मम्मी इंतज़ार कर रही होंगी, मैं उनसे बोल कर आई थी कि जल्दी आ जाऊंगी और एक घंटे से अधिक हो गया है. इसको चोदने में जो मजा है वो किसी और में कहाँ!और मेरे होंठों को चूमने लगा. उससे मैंने पूछा- क्या तुमने इससे पहले भी किसी का पेनिस मुंह में लेकर सक किया है क्या?वो बोली- नहीं, इससे पहले मैंने कभी ऐसा नहीं किया था.

फिर उसने अपने पर्स से 5000 रुपये निकाल कर मुझे दिए और बोला- यह मेरी तरफ से तेरी चूत को।उसके बाद वह चला गया. ये कह कर मैंने उसकी दोनों टांगों को फैला कर उसके पेट की तरफ मोड़ दिया. वो वैसे भी देखने में भी किसी हूर से कम नहीं थी, वो नाचती भी मस्त है.

वो सर हां में हिलाते हुए बोली- मेरा मुँह उस समय खुला हुआ था, सो थोड़ा सा अन्दर चला गया.

bhabhi के बीएफ: ”बेटा चूसना छोड़ने का मतलब होता है कि अब चाहती हो कि मुंह से निकालकर बुर में डाल दो, समझ गई? चलो फिर से मुंह में ले लो. क्योंकि प्रीत का जब मन होता, तो वो हम दोनों को अपने फार्महाउस पर बुला लेता.

अंशी बोली- तुम बहुत बड़ी कमीने हो, पहली ही बार में अपना पानी ऊपर डाल दिया. मैं जिस शहर में जॉब करता हूँ … वहां हम लोगों के आग्रह पर मेरी वाईफ संजू के बड़े भाई नीरज और भाभी प्रियंका का आने के प्रोग्राम तय हो गया. फिर उनका लंड खड़ा हो गया और उन्होंने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और खाने वाली मेज पर ही हमने दिल खोल कर सेक्स किया.

इसलिए मैं लड़कियों के साथ ज्यादा टाइम बिताने की कोशिश किया करता था ताकि उनकी चूचियों का ऊपरी हिस्सा देख कर ही मजा ले सकूं.

मैंने पूछा- मगर हुआ क्या?वो बोली- जब मैं खुद सब कुछ कर रही हूं तो तुम्हें इतनी जल्दी क्या पड़ी है. ये कह कर भाभी ने अपना ब्लाउज हटा दिया और वे पेट के बल बिस्तर पर लेट गईं. उसके बाद भाभी ने मेरे मुख पर फाउंडेशन लगाया और मेरे चेहरे को एकदम गोरा बना दिया, जिससे मेरा चेहरा और चमकदार हो गया.