सोनाक्षी सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,एक्स व्हिडीओ फुल एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

लड़कियों के नंगे डांस: सोनाक्षी सेक्सी बीएफ, आपको मेरी आपबीती इंडियन इन्सेस्ट स्टोरी कैसी लगी, ये बताना मत भूलना.

हिंदी विडियो क्सक्सक्सक्स

महिला बहुत ही सुंदर थी, गोरी 5 फीट 6 इंच की हाइट, भरे हुए चूचे, पतली कमर, आह, मैं तो उसके हुस्न में खो सा गया. सेक्सी ब्लू ओपन वीडियोअब मैं चाची की चुची को नाईटी के ऊपर से चुसकने लगा और उनके निप्पलों को काटने लगा.

मैं पिंकी का इशारा समझ गया, रोशनी ने झट से कहा- ठीक है विक्की की लंबी ककड़ी घुसा देते हैं. एक्स एक्स एक्स देसी एचडीअब हम दोनों फोन पर बातें करने लगे, पहले प्यार भरी बातें, फिर रोमांटिक बातें और उसके बाद सेक्स की बातें भी फोन पर होने लगी.

उसका तना हुआ लंड मुझे अपनी गांड के छेद में गड़ता सा महसूस हो रहा था.सोनाक्षी सेक्सी बीएफ: मैं- मेनका आह… मेरा लंड आह या आह आह फॅट रा है आह… कुछ करो वरना मैं मर जाऊँगा… आह आ…मेनका- ऐसे ही थोड़ी मरने दूँगी मैं अपने राजा को… अभी तो इसे एक ज़रूरी काम करना है.

मैंने भी अब धीरे धीरे कंधों को दबाना शुरू कर दिया और फिर बांहों की भी मालिश करना शुरू कर दी.मैंने भी उसकी चूची मसलते हुए कहा- मुझे भी तुम जैसी मस्त माल को चोदने में मजा आने वाला है.

एक्स एक्स एक्स एक्स हॉट - सोनाक्षी सेक्सी बीएफ

यह ठीक है कि आपकी शादी से पहले मैं आपकी ओर आकर्षित थी लेकिन आपकी और दीदी की शादी के बाद मैंने आपको अपने दिल से दूर करने की कोशिश की थी.मैं उन्हें होटल ले गया और उनसे कहा कि मैं नीचे लॉबी में वेट करता हूँ, आप फ्रेश हो कर आ जाइए, फिर रेस्टोरेंट में लंच करते हैं और वहीं बात भी कर लेंगे.

कुछ वर्ष तो ठीक ठाक चला, पर जब मैं 35-36 वर्ष की हुई तो वो 50-51 साल के हो गए थे. सोनाक्षी सेक्सी बीएफ एक दिन मानवी नहा रही थी और मैं हर रोज़ की तरह मानवी से मिलने ऊपर चला गया.

मैं- अरे दीदी, आप मेरे पर गुस्सा क्यूँ कर रही हो, और इसका इलाज़ अभी नहीं करना, सही टाइम आने पर करना है.

सोनाक्षी सेक्सी बीएफ?

अब बर्दाश्त करना मुश्किल था तो मैं भाभी की चूचियों को मुँह में भर कर चुभलाने लगा और ममता भाभी का हाथ पकड़ कर अपनी पेंट के अन्दर घुसा दिया. संजय नीचे बैठ गया, उसने पहले मेरी चूत के आस पास हल्के से चुम्बन किए. मैंने अपने लंड को अन्दर बाहर करना शुरू किया, बड़ा आसानी से मेरा लंड उसकी चूत में रगड़ रहा था.

हमारी बातें अभी हो ही रही थी कि उसकी एक फ्रेंड आ गई और वो अपनी सहेली के साथ चली गई. ’ आरुषि ने मन में सोचा।इतने दिनों के बाद वो असली लन्ड देख रही थी; उसका तो मन हुआ कि अभी इस लन्ड को मुंह में ले ले और चूस-2 के खड़ा कर दे।वो कोई 2 मिनट अपने ससुर के लन्ड को घूरती रही। दिनेश का निशाना सही जगह लगा था, वो सोने का नाटक करते हुए अपनी बहू की सारी हरकतों को देख रहा था. मैं यह सब नहीं कर सकती।वो- क्यों चाची?मैं- क्योंकि अभी तक मैं कुंवारी हूँ और अभी तो तुम्हारे चाचा ने भी मेरे साथ कुछ नहीं किया.

अबकी बार चलने में मैंने चाची का सहारा नहीं लिया तो चाची बोलीं- अच्छा तो ये सब तेरा ड्रामा था. तभी सुरेश अंकल बोले- राजेंद्र, आरती का कंधा पकड़ कर जोर से दबा दो, थोड़ा दर्द होगा पर घुस जायेगा. मैंने पूछा- कौन है?तो पता चला कि मेरी सास का कॉल है औऱ पायल अपनी माँ से बात करने के लिए बाल्कनी में चली गई.

दो दिन बाद वह सुबह कपड़े धो रही थीं, तभी मेरा अपने घर के पीछे कुछ काम से जाना हुआ, तब मेरी नजर भाभी पे गई. मंजरी अब जवान हो रही थी उसका बदन खिलने लगा था, तो उसके दूर के एक मामा के लड़के पुलकित की नजर उस पर पड़ी.

उनकी चूत के हमले के आगे मैं टिक नहीं पाया और मेरे लंड ने अपना सारा पानी दीदी की चूत की गहराई में छोड़ दिया.

अब तक उसके जिस्म के लिए मैं इतना पागल हो चुका था कि मेरा एक एक दिन बड़ी मुश्किल से कट रहा था.

मुझे दीदी पर बहुत प्यार आ रहा था, मैंने कहा- दीदी, हम शादी नहीं कर सकते क्योंकि हम भाई बहन हैं, पर हम एक दूसरे से बचपन से प्यार करते हैं. उसके होंठों को चूसते हुए मैंने अपने हाथ उसके शरीर पर फिराना शुरू किया. थोड़ी देर बाद मैं जाने लगा तो आंटी ने कोमल को अपने रूम में जाने के लिए बोल दिया तो कोमल अपने रूम में चली गई और आंटी मुझे बाहर तक छोड़ने के लिए आईं.

उसने पहले थोड़ी थोड़ी जीभ लगाई, फिर जब उसे लगा कि ये उतना गंदा नहीं है, तो वो जोर जोर से लंड पर लगी क्रीम चाटने लगी. तभी मेरा हाथ दीदी की ब्रा की पट्टी पर लगा जहाँ हुक थे, मैंने कोई देर किए बिना हुक खोल दिया. तभी कमल ने यकायक अपने लंड को मेरी चूत से निकाल लिया और मैं झट से आगे की तरफ होकर बैठ गई.

बहूरानी, अब मैं झड़ने वाला हूं तुम्हारी चूत में!”झड़ जाइए पापा जी; मेरा तो दो बार हो भी चुका और तीसरी बार भी बस होने ही वाला है…”फिर मैंने आखिरी पंद्रह बीस धक्के और मारे, फिर बहू की पीठ पर झुक गया और मम्मे थाम लिये.

हम दोनों ने अपने कपड़े पहने, मैंने उसके माथे पर किस किया, उसको जोर से गले लगाया, एक चॉकलेट दी और उसको थैंक्स कहकर चुपचाप से निकल गया. वो आनन्द का सिर पकड़ कर उसके सर को दबाने लगी और अपने मुँह से आह आह सीत्कार निकालने लगी. उसने बोला- पांच मिनट रुको बस, आ गई!और मैं उसकी तलाश में जैसे इधर उधर देखने लग गया.

मैंने उसे लेटाया और चोदना शुरू कर दिया, उसे दर्द भी हो रहा था पर वो भी मजे ले रही थी और कह रही थी- और जोर से… हाँ!अब मैं जल्दी नहीं झड़ रहा था, करीब बीस मिनट की चुत चुदाई के बाद मैंने फिर से उसकी चूत में अपना वीर्य भर दिया।इस बार वो बहुत खुश लग रही थी।अब रात होने लगी थी, कॉलेज के टूर की वापिसी का टाइम हो रहा था तो अब हमने अपने अपने घर जाने की सोची. जैसे ही रसोई आई… वहां अंधेरा होने की वजह से आंटी आगे हो गईं और सिलिंडर रखने को कहा. उसने अपने रूम में ज़ीरो वॉट का बल्ब जला दिया, कमरे में हीटर उसने पहले से ही चला कर छोड़ा हुआ था तो कमरे में ठंड नहीं थी.

ज़ायरा- सच सच बता कि कितनी गर्लफ्रेंड हैं तेरी?मैं- कसम से भाभी… एक भी नहीं है यार.

लेकिन आंटी मुझे आपकी बेटी से भी प्यार है… आप मुझे उससे मिलने से मत रोकना. जब वो मेरे पास बात करने आई थी तो काम करने की वजह से पसीने से भीग चुकी थी, जिसके कारण उसकी साड़ी उसके बदन से चिपकी हुई थी.

सोनाक्षी सेक्सी बीएफ मैंने सुबह सुबह ही चाची की चुत याद करके मुठ मार ली और नहाने चला गया. उसने बिना रहम किये मुझे ऐसा चोदा कि मुझे अधमरी कर दिया, अंकल बीस मिनट तक लगादार चोदने के बाद मेरी चूत में झड़ा, उसका वीर्य भी बहुत निकला था, वो थक गया था, जोर से सांसें ले रहा था.

सोनाक्षी सेक्सी बीएफ तभी निर्मला जी ने बोला कि उन्हें वाशरूम जाना है, फिर बोलीं आपके घर से फ्रेश होकर घर के लिए ऑटो ले लूंगी. छोटी वाली लड़की कल्याणी मेरी तरफ़ देख रही थी उसने पूछा- आप कहां थे?मैंने कहा- मैं दूसरे कोच में था!सब विदा होने लगे तो फिर से मिलने के लिए कहा और आंटी ने अड्रेस भी दिया.

कुछ देर बाद वो कमसिन जवानी उठी और बगल के खेत में अपना पेटीकोट उठा कर मूतने लगी.

मेरा दिल तोड़ने से पहले रिंगटोन

मैंने कपड़े पहने, मेकअप किया, लिप एंड आई लाइनर, लिपस्टिक आदि लगा ली ताकि यहाँ के लड़के भी मेरा जलवा देख सकें और बाहर आ गई. यह कह कर मैंने भाभी को ज़ोर से बेड पर पटका और उनकी टांगें चौड़ी करते हुए अपना लंड भाभी की चूत के छेद पर रगड़ने लगा. मैं आप सभी को उनके बारे में बता दूँ कि उनका नाम ज़ायरा (बदला हुआ) था.

जो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था, आज सपना ने मेरे हाथों को वहाँ तक पहुँचा दिया. एक शनिवार की दोपहर मैंने कहा- वरुण बेटे, यहां आज कितनी गर्मी है, सोचती हूँ कि नहा लूँ. जैसे ही मैंने भाबी की चुत पर एक किस किया, भाबी मछली जैसे तड़पने लगीं.

मेरी मम्मी ज्यादा पढ़ी लिखी नहीं हैं तो साधारण तरीके से ही बोलती हैं.

फिर वो मेरी चूत पर आ गया और वो मेरी चूत को भी मसाज करना शुरू कर दिया. आपको आंटी की चुत चुदाई की मेरी यह फ्री सेक्स स्टोरी कैसी लगी, मुझे मेल करना न भूलें. एक दोपहर को हम और दीदी पास पास सो रहे थे, अचानक दीदी ज़ोर ज़ोर से ‘म्म्म्मो.

फिर भाभी खुद ही मेरे पास बैठ कर मेरे पैर पे दवाई लगाने लगीं, उन्होंने जैसे ही पैर को छुआ, मैंने पैर पीछे खींच लिया. अब विवेक और मेरी बीवी में, बॉस और सबऑर्डिनेट के सम्बन्ध की जगह प्रेमी प्रेमिका का सम्बन्ध बन चुका था. अब तक उसकी कामुकता अपने पूर्ण चरम पर आ चुकी थी, वो अपने कूल्हे उचका उचका कर अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने की कोशिश कर रही थी.

मैंने दरवाजा बंद कर लिया, दोस्त वो ड्रेस एक पार्ट वाली थी मतलब उसमें टॉप और स्कर्ट अलग अलग नहीं थे. मैं थोड़ा उदास हो गया कि आज चौका मारने का अच्छा मौका था लेकिन हाथ से निकल गई, फिर सोचा कि चलो अब तो ये अपनी चूत दे ही देगी.

मैंने कहा- चचीजान, इसमें शुक्रिया वाली क्या बात ये तो मेरा फर्ज़ था. मैंने अपनी पैन्ट फिर से खोल दी और उसको अपने चूतड़ दिखाते बोला- लेट जाऊं?वह मुस्कराते हुए बोला- तेरी तो अभी चिनमिना रही होगी. जब मैंने कहा कि सफाई करवा लो तो बोलीं- नहीं अब ये हमारे प्यार की निशानी है.

फिर आंटी बिना कपड़े निकाले ही डॉगी स्टाइल में आ गईं और मैं उनके पीछे हो गया.

मैंने दीदी को फोन पर ही बोल दिया था कि मैं आऊंगा और आपको पूरी नंगी देखूँगा, रेडी रहना. मैंने अंजलि की चूत की दरार में अपनी जीभ घुसाई तो एक बार फिर अंजलि मचल उठी और उसके मुख से सीत्कारें निकलने लगी. मैं उसे रवि कह कर बुलाती थी।फिर हम लोग रात तक अम्बाला पहुँच गए। यहाँ से हमारी ट्रेन अगली सुबह की थी.

थोड़ी देर बाद मैं बस झड़ने वाली थी और तभी मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और कमल ने मेरी चूत का सारा पानी अपने मुँह में ले लिया. वो मेरी बीवी के कोमल और तने हुए स्तनों को दबाकर उसको और गर्म कर रहा था.

और अब ऐसे ही रात गुज़ार दोगे क्या? कुछ करना नहीं क्या?मैंने बोला- आज मैं तुम्हें सारे मज़े दूँगा मेरी पायल रानी. इस बार मैंने ताकत से झटका दिया और मेरा 4 इंच उसकी गांड में रगड़ता हुआ घुस गया. मैंने भाभी की गांड मारने का मन बना लिया था तो वे भी डरते हुए राजी हो गई और बोलीं- पहले क्रीम लगा लो.

दिसावर का सट्टा किंग आज का

एक दिन जब सारे लोग दोपहर को सो रहे थे, मैं और दीदी छत वाले कमरे में थे.

मीना जी दो गिलासों में ड्रिंक बनाकर लाईं और फिर पहले की तरह बैठ गईं. मैंने अपना चेहरा साफ किया और कमल के पास आ गई, उसने मुझे गले लगा लिया और मेरे कान को अपने दांतों से चुभलाते हुए बोला- सरिता आई लव यू. मैं भी चाचा का लंड उनके अंडरवियर के ऊपर से सहलाने लगी और हम दोनों फिर एक दूसरे को किस करने लगे.

दीदी की सिसकारियाँ भी तेज होने लगी और मैंने भी उंगलियों की स्पीड को तेज कर दी. कभी मैं उनके ऊपर के होंठों को चूमता, तो कभी नीचे के होंठों को काटता. एक्स एक्स एक्स पोर्न हिंदीएक दिन दिव्या के मोबाइल से मैंने अमित से मेसेज से बात की और उससे पूछा- क्या हुआ अब तो मिनी को गले से लगाने का मन नहीं करता है क्या?अमित- करता है यार… पर अब वो दूसरे की अमानत है और उसे अब वो भी गले लगा चुका होगा.

मेरे चूतड़ आंटी के आगे लग गए, कुछ इस तरह की स्थिति बन गई, जैसे कि आंटी मेरी गांड मारना चाहती हों. दीक्षा तो मुझे गुस्से से देख रही थी क्योंकि मेरी बात सिर्फ वो ही समझी और कोई नहीं.

दीदी भी एक हाथ से लंड को सहलाते हुए और दूसरे से बॉल्स को सहलाते हुए थोड़ा और ज़्यादा लंड मुँह में लेने की कोशिश करने लगी, मैंने भी दीदी के सर को हाथों में पकड़ा और लंड को हल्के से आगे पीछे करने लगा; मेरा लंड अब आधा दीदी में मुँह में जाने लगा था लेकिन दीदी के हल्के दाँत मेरे लंड पर लग रहे थे. इस बार मेरे लंड का सिर्फ टोपा अन्दर गया था, फ़िर भी वो काफी जोर से चिल्ला उठीं. संजय ने मेरे एक चूचे के निप्पल को मुँह में लेकर चूसना काटना शुरू किया.

अब मैं बॉस को किस करने लगी और बॉस ने मेरे टॉप के अन्दर हाथ डाल कर मेरी चुचियों को दबाना शुरू कर दिया. क्या देख रहे थे?मैंने कहा- भाभी, मुझे कहने में थोड़ी झिझक लग रही है. मेरे चूतड़ों पे करारी थाप मार कर सिराज बोला- साली तू तो एक नंबर की रंडी है यार… सब जगह से खुली हुई है.

आखिर मैंने उसी केमिस्ट से, जिस से मैंने प्रेग्नेंसी टेस्ट किट ली थी, बात की.

माँ तुम्हारा क्या होगा?” और आप क्या कर रही हो?”कौमुदी के बाद में जो भी होगा सो देखूंगी. फिर दीदी मुझे किस करने लगी लेकिन मैंने आज तक ये सब कुछ नहीं किया था इसलिए मैं थोड़ा हिचक रहा था.

फिर वो अलग हुईं और सॉरी बोल कर बोलीं- प्लीज़ इस बात के बारे में किसी से कुछ मत कहना कि मेरे हज़्बेंड ने मुझे क्या कहा… नई रिश्तेदारी है… मेरी क्या इज़्ज़त रह जाएगी. रीना की इच्छा को जान कर मैंने एक एक कर उसके दोनों 34 साइज के चुचों को पकड़ा और उन्हें मसलता और होंठों को चबाता रहा. हम दोनों एक दूसरे के लंड पकड़ कर हिलाते, एक दूसरे के गाल चूमते, साथ साथ घूमते खेलते पढ़ते.

इधर मेरी चूत में उसकी उंगली ने भी कमाल दिखाया था, मेरी चूत भी झड़ गई थी. उनके 5 मिनट बाद ही दूसरा दोस्त भी झड़ गया, उसने अपना माल मेरी बीवी के स्तन पर निकाल कर हाथ से चारों ओर फैला दिया. मैं फिर से उन पर चढ़ते हुए बोला- रात का रात को देखेंगे, अभी मुझे सुबह का नाश्ता और दूध पीना है.

सोनाक्षी सेक्सी बीएफ ”दीदी ने अपनी शर्ट और स्लिप को उतार दिया और मुझे अपने ऊपर खींचने लगीं. और वह भी मेरा साथ दे रही थी… मैं उसके होंठों को चूसता और वो मेरे होंठों को चूसती.

फीमेल सेक्सी वीडियो

मैंने कान में पूछा- क्या जल्दी करूँ?कल्याणी बोली- वही जो मम्मी पापा का खेल होता है. दीदी अब बहुत गर्म हो गई थीं और कामुक मादक सीत्कारें निकाल रही थीं-अहहा. चाचा शादीशुदा थे लेकिन मैं उनको पसंद करने लगी थी क्योंकि वो मेरी बहुत देखभाल करते थे और कभी कभी वो मुझे अपने पैसों से मेरी जरूरत की चीजें मुझे लाकर देते थे.

मेरे मन में अभी तक नहीं आया कि चाची घर में अकेली हैं, सेक्स की जुगाड़ करता हूँ. शुरू में उन्हें रात में सुबह, मैं बिस्तर छोड़ने से पहले बोनस चाहिए होता था, अगर दोपहर में ऑफिस से आ जाते तो उस समय की भी बोनस चुदाई. সেক্স বাঙালি ভিডিও”ओके पापा जी!” बहूरानी बोली और उसने अपनी ब्रा पैंटी पहन ली और बर्थ पर जा लेटी.

वो बोली- अब फिर करोगे? इतनी सुबह सुबह?मैंने उसे अपने लंड की ओर इशारा करके दिखाया- इसे देखो, ये जिद कर रहा है!तो वो हंसती हुई बोली- बच्चों की सारी जिदें पूरी नहीं करते… नहीं तो बच्चे जिद्दी हो जाते हैं.

’मैंने देर ना करते हुए उसकी ब्रा उतार दी जिससे उसके सफ़ेद कबूतर उछल कर आज़ाद हो गए. यह सुनते ही पापा ने लंड की स्पीड बढ़ा दी और मेरी दोनों टांगों को ऊपर कर दिया और जम के लगे चोदने ‘आहह हउंह हह ओहह हहह मेरे राजा… और चोदो मुझे… फाड़ दो मेरी चूत को… पूरा डाल दो!और जोर से चिल्लाई मैं, मेरी चूत पूरी गीली हो चुकी थी, पूरे कमरे में फच फच की आवाज चुदाई की गूंज रही थी.

मेरा मन तो हुआ कि उनको अभी पटक कर यहीं चोद दूँ लेकिन चूंकि वो मेरी चाची थीं, इसलिए मैं संकोच कर गया. कुछ देर बाद मैंने सोचा कि चाची के रूम में झाँक कर देख लेता हूँ कि चाची सो गई होंगी तो अपनी लीड ले आऊंगा. वो मजे से गांड आगे पीछे करने लगी और कहने लगी- जान पूरा का पूरा लंड पेल दो.

मैंने फिर धक्का दिया, तो उन्होंने अपने नाख़ून मेरी पीठ में गड़ा दिए और होंठों को चूसने लगीं.

जोया सारा पानी पी गई और उसका लंड भी अच्छी तरह से चाट कर साफ कर दिया. क्या देख रहे थे?मैंने कहा- भाभी, मुझे कहने में थोड़ी झिझक लग रही है. मैं उसे मना कर रही थी, पर मेरी आंखें उसे साफ साफ हां में जवाब दे रही थीं.

सेक्स विदेओआज वो किसी परी से कम नहीं दिख रही थी, मैंने तरीफ की औऱ बात ही बात में मैंने उससे पूछा- आपकी शादी को कितना समय हुआ?छाया ने उत्तर दिया- सात साल हुए. ”यह सुन कर भाभी की आँखों में एक चमक दिखने लगी थी, भाभी ने कहा- तो तुम डॉक्टर्स को भी जानते हो और क्या मैं दिखाने आऊँगी तो तुम मुझे दिखवा सकते हो?मैंने तुरंत हां कर दिया और इसके बाद कुछ देर यूं ही गपशप के बाद मैं अपने कमरे में चला गया.

मुलीची सेक्सी व्हिडीओ

पहले पहल तो मुझे अजीब सा लगा, परन्तु फिर भी मैं उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी। काफी देर चूसने के बाद यश का लण्ड थोड़ा टाईट होने लगा। मैं उसे लगातार चूसती रही। यश मेरे सिर को पकड़कर आगे पीछे कर रहे थे और ‘आहें. पहले तो कहानी प्यार और मोहब्बत से शुरू हुई और धीरे धीरे 4-5 हफ्तों में चूमा चाटी का सिलसिला शुरू हो गया. इसलिए मेरी बहन सोनी सुबह सीधे कॉलेज जाती थी और कॉलेज से सीधा घर आती थी.

उसके मुँह से ये सुनकर अजीब सा लगने लगा कि इतने दिनों में उसने अपने दुखों का कभी जिक्र ही नहीं किया था. वो उठ कर घोड़ी बन गईं और मैंने भाभी की चूत पर अपना लंड रख कर जैसे ही धक्का दिया, मेरा लंड बड़े आराम से अन्दर चला गया. कुछ देर बाद जब अलग हुए तो देखा कि चादर हमारे कामरस से पूरी तरह भीग चुका था और हम दोनों के चेहरे पर संतोष का भाव था.

इसलिए सोचा किसी नाइट क्लब में जाकर डांस एन्जॉय करता हूँ। फ्राइडे की शाम मैंने थोड़ा बहुत इंटरनेट पर डांस क्लब्स सर्च किए. मेरे इतना कहने पर पायल भाभी ने मुझे अपने ऊपर खींचा और मुझे किस करने लगीं. तभी मैंने कहा- रोशनी तुम्हारी गांड से गुलाब, चमेली और गेंदे की खुशबू आ रही है.

फोन कट करने के बाद भाबी ने कहा कि भैया को कुछ काम के लिए ऑफिस जाना पड़ गया है, वो शायद रात को वहीं पर रहेंगे. उसको उल्टी सी आ रही थी पर अगर उस वक़्त मैं उसको रोक देता तो वो चूसना नहीं सीख पाती.

मैंने कामवाली ममता भाभी की दोनों चूचियों को पकड़ा और उसकी मस्त चूचियों के बीच में अपना लंड घुसा कर आगे पीछे करने लगा.

और मैं शोर्ट ब्लैक नाइटी वो भी ट्रांसपेरेंट पहन कर वाशरूम से बाहर आयी. देसी भाभी काफिर मैंने भाभी के गाउन को ऊपर कर दिया और उनकी ब्रा के ऊपर से ही उनके मम्मों को भरपूर दबाने लगा. एक्स व्हिडीओ मराठी बीपीहम हमारे अधूरे काम को कब पूरा करेंगे?ये पहली बार था जब संजय ने मुझे नाम से पुकारा था. वह- अब चोद भी दे मादरचोद… कितने दिन से चुदी नहीं हूँ!मैं- कितनी बार और कितने लड़कों से चुदी हो तुम?वह- कभी गिना नहीं… पर मेरा बॉयफ्रेंड मुझे हर हफ्ते में दो बार तो चोदता ही चोदता है.

बोल?शाकिर फिर से हँस दिया, अनजान बन कर बोला- क्या?इरशाद ने आगे बढ़ कर किवाड़ दुबारा लगा दिए और जोर से कहा- किवाड़ नहीं पैन्ट खोल.

सच में बड़ा मजा आ रहा था और जब मेरा रस निकलने को हुआ तो मैंने उससे मेरा लंड मुँह में लेने को कहा तो उसने मेरा लंड से कंडोम उतार कर अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से लंड चूसने लगी. फिर मुझसे रहा नहीं गया, मैं उधर ही अपनी लुंगी के अन्दर हाथ डाल कर मुठ मारने लगा. मैंने गेट खटखटाया तो एक मैसेज आया कि टेबल पर खाना रखा है, पहले वो खा लो, फिर ही गेट खुलेगा.

मैं आज भी पैंटी में थी और रोहण सो गया और मैं फिर आज उदास होकर सो गयी. मैं- दिव्या रहती है, मैं कैसे लगा पाऊँगी?अमित- तुमको जब समय मिले तो मेरे कमरे पर 20 मिनट मालिश करवाने आ जाया करना बस फिर देखना क्या कमाल हो जाएगा. कैसे हो कुणाल?कुणाल ने घर के अन्दर दाखिल होते हुए ही आंटी के होंठों पर गहरा चुम्मा ले लिया और उसने गाना गाया- आपने बुलाया और हम चले आए…आंटी बोलीं- अभी अभी तुम्हें ही याद कर रही थी मैं!उनकी बड़ी लड़की कौमुदी आ गई और बोली- मम्मी, तुमने अड्रेस दिया लेकिन फोन नंबर क्यों नहीं लिया था.

सेक्सी सेक्सी वीडियो पंजाबी

पता होता तो रोज़ तेरे बाप को छोड़ कर तेरे से ही चुदती!और यह कहते हुए उन्होंने लंड के सुपारे को अपने दाँतों से काट दिया. मैं झट से कुत्ता जैसा बन गया और दीदी के सामने जीभ लपलपाता हुआ भौंकने लगा. इसके बाद तो रोज का नियम सा बन गया था कि मैं दीदी की सेवा करता और वे मुझे तरह तरह से प्रताड़ित करते हुए मुझे अपनी चूत की चुदाई करवा लेतीं.

वो तो मोना को किस करे जा रहा था और मोना के जिस्म को सहला भी रहा था.

मम्मी ने अंजलि को कहा- अंजलि बेटा, तू आ जा हमारे पास लेट जा, आराम कर ले!लेकिन अंजलि बोली- मामी, मुझे आप बड़ों की बातें सुन कर क्या मजा आयेगा, मैं भी अंकित के साथ ऊपर वाले रूम में जा रही हूँ.

मैं- दीदी थोड़ा और लो ना इसको अपने मुँह में!दीदी ने मुँह को खोला और थोड़ा ज़्यादा लंड मुँह में लिया और अपने दोनों हाथों को लंड पर रख के मुट्ठी में पकड़ लिया, वो दोनों हाथों को लंड पर हल्के से चला रही थी और बाकी के बचे लंड को मुँह में लेके चूस रही थी जो सिर्फ़ 2-3 इंच ही था. मैंने उन्हें वह फोल्डर बता दिया, जिसमें ब्लू फ़िल्में थींइसके बाद मैं निकल गया. xxxxमराठीचाचा जब भी मेरे घर आते थे, वो मुझसे मजाक करते थे और हम दोनों लोग कभी कभी एक दूसरे के साथ खेलते भी थे लेकिन मैं चाचा के बारे में कुछ गलत नहीं सोचती थी.

मतलब जो मेरी गांड बजा रहा था, वो अब चुत चोद रहा था और जो चुत मार रहा था, वो अब मेरी गांड ठोक रहा था. मैं उन दोनों की बकचोदी सुन रहा था और इरशाद के लंड का मजा ले रहा था. वो मेरे पास आई और मुझे हिलाते हुए कहा- कहां खो गए जनाब?मैं होश में आया और कहा- तुम बहुत सुंदर हो स्वाति.

मैंने दरवाजा खोला तो अवी ही खड़ा था!अब मैं क्या करूँ, कुछ समझ में ना आया. उत्तेजना इतनी अधिक थी कि हम दोनों एक दूसरे से बात ही नहीं कर पा रहे थे, बस हम दोनों ही हवस की नज़रों से एक दूसरे को देख रहे थे.

वरुण मेरे से थोड़ा ऊँचा है, वो 5 फुट 10 इंच का एक मजबूत कद काठी वाला मर्द जैसा लगने लगा है.

कुछ देर धक्के देने के बाद ही जोया के मुँह से हाँफने की आवाजें आने लगीं. इसका इलाज भी था मेरे पास… मुझे पहले ही पता था कि ऐसा होगा, मैं अपने साथ लिए नारियल के तेल की शीशी लाया था. वो मेरे मम्मों के साथ खेल रहे थे और मैं उनके लंड के साथ मचल रही थी.

सेक्सी पिक्चर खपाखप खपाखप मैं समझ गया कि भाई के काम की वजह से भाई भाभी को रोज मजा नहीं दे पाते. इईईई… श्श्श्शश… महेश्श… अआआ… ह्हह…” कहते हुए बल से खाने लगी…ममता जी मदहोश सी होकर मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ सी भर रही थी.

मेरा पूरा लंड सुकुमारी भौजी की चूत घोंट गई और दर्द ने सुकुमारी भौजी को रोने पे मजबूर कर दिया. मेरी हालत ख़राब होने लगी और बस मैं भगवान से यही प्रार्थना कर रहा था कि माँ रात वाली वीडियो ना देख ले. बस अगले दस मिनट तक मेरी चमड़ी लाल हो गई लेकिन मजे की बात ये थी कि मुझे इस खेल में मजा रहा था.

ट्रिपल सेक्स वीडियो में

लगभग दस मिनट इसी तरह चोदन के बाद मैं बोला- माँ, मैं झड़ने वाला हूँ!तो माँ बोली- मेरी चूत में ही निकाल बेटा, मेरा भी होने वाला है!और मैं ‘फ़च… फ़च… फ़च…’ मां की चुत में धक्के मारते हुए उनकी चूत में ही झड़ गया और वो भी मेरे साथ में ही झड़ गयी।झड़ने के बाद मैं उनको पकड़ कर ऐसे ही कुछ देर उनकी चूत में लंड डाल के सोया रहा, फिर कुछ देर बाद मैं फिर से लंड को अंदर बाहर करने लगा. आप लैपटॉप मंगा लो। मैंने यश से बोला तो वो दूसरे दिन ही खरीद लाए। फिर धीरे-धीरे मेरी दोस्त ने फेसबुक, चैट आदि करना सिखा दिया।”गुड. फक मी आयुष फक मी हार्ड…’मैं भी कहां रुकने वाला था, तो ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाता रहा.

मेरे पास खिसक आने से बहूरानी की जांघें खुल गयीं थीं और उसकी पैंटी में से चूत की झलक दिखने लगी थी. उसके बाद मैं उनके मम्मों से खेलता रहा और वो मेरे लंड से खेलती रहीं.

उसमें कूलर लगा हुआ था, गर्मी बहुत थी और मैं और दीदी शतरंज खेल रहे थे.

अब मेरी उससे ऐसे ही सामान्य बातचीत कुछ पढ़ाई को लेकर और कुछ ऐसे ही इधर उधर की भी होती रही. मैंने सीधा अपने होंठों को उसके होंठों पर रख दिए और मम्मों को दबाते हुए उसके होंठों को चूसने लगा. ”यह सुन कर भाभी की आँखों में एक चमक दिखने लगी थी, भाभी ने कहा- तो तुम डॉक्टर्स को भी जानते हो और क्या मैं दिखाने आऊँगी तो तुम मुझे दिखवा सकते हो?मैंने तुरंत हां कर दिया और इसके बाद कुछ देर यूं ही गपशप के बाद मैं अपने कमरे में चला गया.

जैसे ही लेटा मैं तो हैरान रह गया क्योंकि उसने अपने आप ही मेरे लंड को पकड़ा और सीधा मुँह में ले गई. कभी मेरा लंड चूसती कभी अपने स्तन मेरी छाती से रगड़ती, मेरे लंड पर अपनी चूत घिसती या लंड चूसने लग जाती. उसने कुछ कहा तो नहीं लेकिन अपना एक हाथ मेरे गालों पर रख कर सहलाने लगी.

जब और सुबह जब मैं उठी तो मेरी हालत खराब हो रही थी, इस चुदाई के कारण मैं दोपहर तक दिक्कत में रही.

सोनाक्षी सेक्सी बीएफ: कितनी बार वो उसकी ब्रा पैंटी को चोरी-छुपे छू कर मजे लेते लेते मुठ मार लिया करता था. उसको मैं धक्के मार कर दूर करती पर वो इतना ताकत वाला था कि उसने मुझे एकदम से जकड़ लिया और मुझे चोदता रहा.

तभी माँ उठ गयी और कमरे का लाइट ऑफ़ करके नाइट बल्ब जला दिया और मेरे पास आकर बोली- उठ कर बैठ तू!तो मैं डर गया और कुछ नहीं बोला तो उन्होंने कस के डाँटा. उसने मेरी जींस के चैन खोली और लंड को बाहर निकाला, उसे हाथ में लेते ही वो बोली- ये तो इतना लंबा है रे!मैं समझ गया था, वो इतना लंबा मूसल लंड सहन नहीं कर पाएगी, मेरा लंड 7 इंच लंबा 3 इंच मोटा था. पर मेरी फट रही थी तो मैंने फिर से उसे अपने से दूर किया और जाने लगा.

उनका भरा पूरा शरीर देख कर लगता था उनकी सेक्स की भूख बहुत ज्यादा होगी.

फिर मैंने प्रिया भाभी से पूछा कि भाभी अगले बेबी की प्लानिंग कब कर रही हो?यह सुन कर वो उदास सी हो गईं. उन जूतों में बहुत गांड फाड़ लगती है छोरी।तुरंत ही किसी ने मेरे घुटने तक पहनने वाले बूट एक एक करके पहना दिए. अलग होते वक़्त प्रिया की आँखों में वही बिल्लौरी चमक और होठों पर वही कातिल मुस्कान थी.