xx.com बीएफ भोजपुरी

छवि स्रोत,बीएफ हिंदी चलने वाला

तस्वीर का शीर्षक ,

छठ के बीएफ: xx.com बीएफ भोजपुरी, चाची ने रबड़ी लगाकर चूत चाटना सिखायाइस सेक्स कहानी के लिए मुझे आप सभी का बहुत अच्छा रेस्पॉन्स मिला.

बीएफ सेक्सी बीएफ हिंदी में

अब वो पैंटी में थी।उसके बड़े बड़े बूब्स मेरे हाथों में नहीं आ रहे थे. इंडियन बीएफ सेक्सी दिखाओट्विंकल- सच … पर मुझे ये बताओ कि तुमने उसका लंड कहां और कैसे देखा?प्रिया- वो सब तुझसे मिलकर बताऊंगी.

दूसरी बार में ही उसने अपनी टांगों से मेरे गर्दन को जकड़ लिया और ऐसे ही पूरी ताकत से अपने बदन को लहराती रही. मराठी सेक्स पिसातुरेअब तक हमारे मुँह का पिज्जा खत्म हो चुका था … सो हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे थे.

कुछ देर बाद जब हम दोनों चरम सीमा पर पहुंचने वाले थे, तो मानवेन्द्र मेरा इशारा पाकर तुरंत अपना कंडोम हटा कर लंड चुसवाने की पोजीशन में आ गया.xx.com बीएफ भोजपुरी: प्रिया और मनीषा भी फ्रेश होकर शॉर्ट्स और टी शर्ट में ही आ गयीं थीं.

चुप करो … और ये प्यार-व्यार सिर्फ फिल्मों में होता है … या रोमांस की उपन्यासों में और पहले ही आपको बता दूं जनाब कि मुझे प्यार नाम के शब्द से ही नफरत है.मैं- हां, तो अब किसको चुदवा रही हो!प्रियंका- देखो … अच्छा ये बताओ कि आपको अनामिका कैसी लगती है?मैं- मैंने कभी ढंग से उसे देखा ही नहीं है.

2020 की हिंदी बीएफ वीडियो - xx.com बीएफ भोजपुरी

मैंने उससे कहा- तेरी शादी के बाद भी तो एक ब्वॉयफ्रेंड है उसका क्या?ये सुनकर वो पहले तो चुप हो गई.मैंने तेल हाथ में लिया और उसकी पीठ से लेकर उसकी कमर तक मालिश की शुरूआत कर दी.

पर सायरा … वो पूर्ण रूप से नग्न थी और अपनी चूची को दबाते हुए अपनी चूत में उंगली डालकर अन्दर बाहर कर रही थी. xx.com बीएफ भोजपुरी ऐसे ही एक बार तेल लगाते समय मामी का हाथ मेरे लंड में टच हुआ, मुझे अजीब सा मज़ा आया.

अब अजय और मनीषा दोनों ही क्रम नहीं तोड़ना चाहते थे तो अजय के हर धक्के का मनीषा भी मजबूती से जवाब धक्के से देने लगी.

xx.com बीएफ भोजपुरी?

फिर अगली सुबह जल्दी में उसके घर पहुंचा, तो उसके घर में मेरे जीजा ने मेरा स्वागत किया. अब मेरा गोरा बदन सिर्फ ब्रा और पेंटी में रह गया था जो उनके सामने बेड पर पड़ा था।उन्होंने शेरवानी निकाली और उसको एक तरफ डाल दिया. ये कह कर प्रियंका अनामिका का सर पकड़ कर अपनी चूत में दबाने लगी और वासना में बड़बड़ाने लगी- आअह्ह्ह जीजू … आपका लंड याद आ रहा है … आह कैसे मेरी चूत का भोसड़ा बनाया था आपके लंड ने … उफ़ आपके वो दमदार झटके … वो दमदार रफ़्तार … धक् धक् ढिचाक … धक् धक् ढिचाक … दो धीमे धक्के … और एक तगड़ा झटका आपका लंड सीधे मेरी बच्चेदानी से टकराता है जीजू … आह आपने मुझे दो बार जन्नत की सैर कराई है.

मैं- क्यों क्या हुआ?वो- कुछ नहीं बस … आज तुम अकेले जाओ, चाहो तो स्कूटी ले जाओ. पर मैंने भी अब सोच लिया कि प्यार नहीं सही, हम दोस्त तो बने रह ही सकते हैं. मैं अपनी चूत वाले हिस्से को उसके मुंह पर रगड़ने लगी ताकि उसकी नाक मेरी चूत से रिस रहे पानी की महक ले सके.

फिर खाने के बाद सबने पैग बनाये और म्यूजिक लगा कर बार में एन्जॉय करने लगीं. मैंने कहा- मेरी जान … मेरे होंठ तो आज सारा दिन खा लेना मगर अभी घोड़ी बन जा, तुझे पीछे से पेलना है. जब उसे मेरा बैग दिखाई नहीं दिया, तब पूछा- आपका बैग कहां है?मैंने बताया कि पीछे वाले कमरे में एक अलमारी है.

गाँव का नाम मैं नहीं बता सकता यहां पर!चूंकि हमारे वहां पर रोजगार के अधिक साधन नहीं है इसलिए मैं दिल्ली जैसे बड़े शहर में रहकर कमाई करता हूं. उसने लाल साड़ी पहनी थी और चेहरे पर उन्होंने नकाब जैसा कुछ बांधा था.

तो भाभी ने अपनी साइड में हाथ कर अपनी नाइटी उतार दी और उसे मेरे चेहरे पर फेंक कर मार दी और हंसते हुए अपने मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही दबाते हुए मुझे दिखाने लगीं.

तो बात उन दिनों की है जब मैं कॉलेज की पढ़ाई पूरी करके जॉब करने लग गया था.

फिर उसने मुंह खोला तो मैंने धीरे से पूरा लंड उसके मुंह में दे दिया और उसके मुंह को चोदने लगा. मैंने बिन्नी की दोनों जाँघों को पकड़ते हुए उसकी गुदाज़, चिकनी और रस से गीली चूत को अपने मुँह में भर लिया. पर उठ खड़ी हुई थी और रोहित पीठ के बल लेट गया था। उसका लिंग कुछ मुरझा गया था इतनी देर में।इसे पहले तैयार कर लो.

मैंने अपनी जीभ मीनू के मुंह में डाल दी और एक दूसरे की जीभ चूसने लगे।काफी देर तक हम दोनों स्मूच ही करते रहे. पिंकी बनावटी गुस्सा करते हुए बोली- अब मैं यहां नहीं बैठूंगी, मैं तो जा रही हूँ खाना खाने, मुझे भूख लगी है. उसने उसके चूचे छोड़ दिए और अपना हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूत में सीधी दो उंगलियां पेल दीं.

वो बोली- मैंने जिस दिन से तुम्हारे लंड को देखा था उसी को याद करके रोज रात में अपनी चूत में उंगली किया करती थी.

अब मैंने उसको उठाया और खुद घुटनों के बल खड़ा होकर उसके मुंह के सामने लंड कर दिया. मैं दर्द से रोते हुए चाचा जी से विनती करने लगी- आहह … प्लीज छोड़ दो मुझे … आहह … नहीं चाचा जी मैं बर्दाश्त नहीं कर पा रही … आहह … चाचा जी आहह … स्सी … स्सी. मासी के घर में मेरे और मासी के अलावा उनकी सास और उनका लड़का सोनू ही था.

धीरे-धीरे हम दोनों में थोड़ी बेतकल्लुफी बढ़ गई और वो मुझसे कुछ ज्यादा ही मजाक करने लगी. तभी जैक ने पीछे आकर थोड़ी सी जैली निशि की गांड में लगायी और उसकी गांड पर दो तीन चांटे मारे. चाचा जी बोले- बेटा सूरज, एकदम नहीं धीरे धीरे निकाल और धीरे धीरे डाल.

मैंने आज तक दो नहीं पेलीं और तू मेरी चुत को भोसड़ी बनाने पर तुली है.

उसकी चूत से लगातार रिस रहे रस ने उसकी गाँड और जाँघों के चारों ओर की जगह में एक सफ़ेद परत सी बना दी थी और गाँड का छेद भी पूरी तरह से रस सिक्त हो गया था. आह … वो जन्नत का दरवाजा मेरे सामने खुल गया था, जिससे होकर अभी तक कोई गुजरा ही नहीं था … उसकी उंगली तक नहीं.

xx.com बीएफ भोजपुरी चूंकि उनकी गांड मराने की बात खुल गई थी, जूते पड़े थे और लड़के चिढ़ाते थे. मेरी पिछली कहानीनए ऑफिसर के साथ गांड मारने मराने का खेलमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपने दोस्त और कनिष्ठ प्रभात की गांड मार के उठा था.

xx.com बीएफ भोजपुरी दोस्त की चुदासी बीवी की कहानी के दूसरे भागसेक्स में फंतासी की इन्तेहा- 2में अब तक आपने पढ़ा था कि रवि और पिंकी आपस में सेक्स करते हुए अनिल को शामिल करने की बात कर रहे थे. अब मेरे लंड का माल गिरने वाला था, तो मैं भाभी से बोला- मेरा माल गिरने वाला है.

दोस्तो, मैं महेश अपनी सेक्स कहानी में शायरा की चुत चुदाई के बाद का एपिसोड लेकर हाजिर हूँ.

सेक्सी वीडियो फिल्म वीडियो में

वैसे अगर आज के लिए माफ कर दिया, तो कल वो दिन भी दूर नहीं होगा … जब मैं उसके रसीले होंठों पर भी किस करूंगा. ऐसी सुन्दर लड़की मुझे मिले, तो मैं एक सेकंड में ही शादी के लिए हां कर दूँ. मैं- अब मैं इन्हें कहां ले जाऊं!वो- वापस कर दो या तुम अपने पास रखो.

अब शादी के लिए वेन्यू ढूंढना था, तो हमने दोनों ने आपस में आदित्य और हरप्रीत से पूछना ही बेहतर समझा. उसे देख कर ऐसा लग रहा था कि वो किसी फंक्शन में जाने के लिए रेडी बैठी है. पिछले भागमेरी बीवी की बड़े लंड से चुदाई की लालसामें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरा दोस्त मेरे घर आ गया था और मेरी हॉट बीवी इस समय बड़ी ही माल जैसी सेक्सी लग रही थी.

मैं अपनी बहन को उसके किये के लिए सामने लाने के बारे में सोच ही रहा था कि उसी दिन बहन ने यह बात बताई कि वह अब चाचा के साथ ही रहेगी.

वो बोली- सिर्फ मेरा इंतजार या मेरे जैसे औरों का भी!मैंने कहा- एक से इंतजार का क्या फायदा … जो भी खूबसूरत माल या प्यासी चीज हमारे पास आएगी, हम तो उसे प्यार करेंगे ही. ये मेरा क्लब एक प्राइवेट क्लब है और इसमें केवल मैं और मेरा दोस्त ही हैं. मैं- तो असलम भाई अपने मजा लिया?असलम- हां कई बार उन्होंने मजा दिया, बिलकुल आप जैसा ही उनका मस्त हथियार था.

बिन्नी के पेट से होते हुए मैंने बिन्नी की दोनों जाँघों को चूमा और फिर चूत के ऊपर वाले भाग को जैसे ही चूमा बिन्नी का शरीर अकड़ने लगा. अनिल ने फिर हंसते हुए मुझे एक बार फिर से चूमा और मेरे कान के पास मुँह लाकर धीरे से बोले- मेरी जान, तुम्हें तुम्हारी पसंद का बड़ा लंड और मेरे सामने पराये मर्द के लंड से पहली चुदाई मुबारक! अब खुल कर मजे लो ताकि मेरे मन की इतने दिनों से पाली हुई तुम्हें रन्डी की तरह किसी दूसरे के लंड पर गांड उछाल कर चुदवाते हुए देखने की इच्छा पूरी हो सके. अब इससे ज्यादा रिस्क मैं नहीं ले सकती थी उसको अपने घर में रखकर।वो खुद भी मेरे पति की वजह से रुकना नहीं चाह रहा था और उसने जल्दी से अपने कपड़े पहन लिये.

मैंने उसकी जांघें पकड़ीं और अपनी जुबान निकाल कर सीधे उसकी योनि में नीचे से ऊपर तक फिरा दी. अपर्णा की चूत बहुत टाइट थी लेकिन तेल मैंने बहुत ज्यादा लगा दिया था.

दोस्तो, मैं महेश अपनी सेक्स कहानी में शायरा की चुत चुदाई के बाद का एपिसोड लेकर हाजिर हूँ. आज की सेक्स कहानी भी ऐसी ही एक चुदासी औरत की चुदाई की कहानी है, जो मुझे टिंडर पर मिली थी. एक दिन मुझे मेरी फेसबुक पर एक लड़की का फ्रेण्डशिप के लिए रिक्वेस्ट आया तो मैंने उसे स्वीकार कर लिया।वैसे उसका नाम अपर्णा (बदला हुआ नाम) था और वो इंजीनियर की स्टूडेंट थी.

असलम- हां यह बात तो उनसे मराने वाले सभी नहीं, तो अधिकतर लौंडे कहते हैं.

तो फिर मैंने भी ज्यादा ज़िद नहीं की और उसको नीचे बिठाकर लन्ड चुसवाने लगा. अब मैं धीरे-धीरे अपने दोनों हाथ ऊपर ले जाता गया और उसे चूचों पर ले गया. मुझे उसके घर के नजदीक जाने में डर भी बहुत लग रहा था, पर हिम्मत करके उधर आ ही गया.

उसके कपड़े इतने टाइट थे कि उसके शरीर पर होने वाली कोई भी हरकत वो आसानी से महसूस कर सकती थी. दरअसल उस कॉलेज में ममता जी पढ़ाती थीं, उन्हीं की सिफारिश से मेरा दाखिला उस कॉलेज में हुआ था.

मैं कभी उसकी उठी हुई गांड पर फेरता, तो कभी उसकी पूरी पीठ को महसूस करता. मैं रात होने का इंतजार करने लगा।रात को 11 बजे मैं उठा और घर की दीवार कूदकर निकल गया. इसी तरह नाचते हुए किसी ने मेरे होंठों को चूमने की शर्त रखी, फिर किसी ने मेरे चूचों को पीने की बात कही.

नेपाली सेक्सी वीडियो दे

बारहवीं के बाद मैंने दिल्ली के कॉलेज में प्रवेश लिया, किराये के कमरे में रहने लगा.

ये रोहिणी और निशि की डर्टी सेक्स की फैंटेसी थी, जिसमें उस दिन मैं भी शामिल हो गयी थी. आह्ह …आहिस्ता से यार … उफ्फ उफ्फ …’ करने लगी।फिर मैंने उसे अपनी ओर कर लिया और उसके स्तनों को मुंह में लेकर चूसने लगा. स्वाति मुझसे अपने सेक्स सम्बन्धों को लेकर हर तरह से खुल चुकी थी और उसे मुझसे किसी भी बात के करने से कोई गुरेज नहीं रह गया था.

मैं बोला- हां मुझे पता है शादीशुदा रंडी को कैसे चोदा जाता है, तू एक बार मिल तो सही … कैसे तेरी चूत और गांड का भोसड़ा बनाता हूं. ऐसा लग रहा था मानो किसी ने मेरे गर्मी से झुलसते जिस्म पर बर्फ की धार बौछार कर दी हो. रवीना टंडन की बीएफ सेक्सीमैं खड़ी हुई तो वो मेरे मम्मों को खूब जोर जोर से दबाने लगा और मुझे धक्का देकर बेड पर सीधे लिटा दिया.

मैं- देखो कल जो हुआ उसके लिए सॉरी बोला है, दोस्ती में इतना तो चलता है. पिंकी ने अनिल को दवाई के लिए फोन किया तो अनिल बोला कि उसने दवाई तो ले ली है पर उसे दे कैसे.

मैं अपनी बहन को उसके किये के लिए सामने लाने के बारे में सोच ही रहा था कि उसी दिन बहन ने यह बात बताई कि वह अब चाचा के साथ ही रहेगी. उन्होंने अपने थूक से मेरी गांड को पूरा गीला कर दिया था।वे अपनी उंगली से धीरे धीरे मेरी गांड को चोदने लगे।चाचा जितना अपनी उंगली मेरी गांड के अंदर डालते … उतना ही मैं उनका लंड मुँह में निगल रहा था।काफी देर तक लंड चूसने के बाद उन्होंने मुझे अपने ऊपर लिटा लिया. वो छटपटाने लगी लेकिन मैंने उसपर कोई दया नहीं दिखाई और दो तीन तेज शॉट लगा कर उस रुकावट को फाड़ दिया.

जब से एकता ने तुम्हारे आने का कहा था तब से सोच रही थी कि जी भरकर चुदूंगी. हालांकि रूम हीटर चल रहा था, पर आज सर्दी कुछ ज्यादा थी और काफी देर से दरवाजा भी खुला हुआ था जिस वजह से रूम गर्म नहीं हो पाया था. उसने मेरे लन्ड को जीभ से चाटकर साफ कर दिया और इस तरह हमारा पहला राउंड पूरा हुआ.

इस पर प्रियंका बोली- इसके आम जैसे हैं … उठे हुए निप्पल्स भी कड़क रहते हैं … अनामिका, क्या तुम जीजू को अभी अपने आम दिखा सकती हो!अनामिका- अरे जीजू अब तो आप आओगे … तब पूरे दर्शन कर लेना.

कभी प्रियंका मेरे सीने की घुंडियों को अपने दांत से काटती … तो मैं भी उसके चूचे मसल देता. शायद उसका बॉयफ्रेंड भी रंगीला रहा होगा जिसने उसको लंड के साथ खेलना अच्छे से सिखा रखा था.

इस तरह सब सैट करने के बाद कमल से मुझे कान में कहा- आप तो चालू हो जाओ … तब तक मैं बाहर सब सैट कर देता हूँ. दर्द से मेरी आंखों में आंसू आ गए और अगले ही पल मैंने रोना भी चालू कर दिया. संजू ने भी फ्रेश होकर एक नाईट ड्रेस को पहन लिया था और कमरे का दरवाजा बंद कर दिया था.

आप में से बहुत से पाठकों ने यह सुझाव भी दिया कि जब बच्चा स्कूल जाने लगा है, तो एक बार मुझे और मेरी बहू को भरपूर समय मिला होगा. मैंने एक दो दिन में ही उसे मुम्बई बुलाने का आश्वासन दे कर फोन बन्द कर दिया. फिर उसने मेरा फोन नंबर लिया और जल्द ही मिलने का वादा करके अपने घर की ओर चली गई।मैं भी मैट्रो पकड़ कर अपने रूम पर आ गया।मेरा एक बार स्खलन हो गया था.

xx.com बीएफ भोजपुरी फिर अन्दर ही अन्दर अपनी उंगलियां अनामिका की चुत में घुमाने लगी, जिससे अनामिका पागल हो उठी और जोश में प्रियंका के चूचों पर काटने लगी. सनी ने मेरी मां की फ़ोटो मेरे दोस्तों को भी दिखा दी और मेरे दोस्त मेरी मां को फ़ोन करके बोलने लगे थे कि आंटी हम भी हैं.

जाट को काबू कैसे करें

मैंने पूछा और तुम्हारी खाट किस तरफ है?वो- पहले मेरी खाट है, फिर मां और भाई की खाट है और सबसे आखिर में मेरे पापा की खाट पड़ी है. मैंने बिना एक पल गंवाए उस प्रीकम को चाट लिया और लौड़े को पूरा गीला कर दिया. कमर पर मालिश करते हुए मेरे हाथ उसकी पतली कमर पर नीचे तक जाने की कोशिश कर रहे थे.

उसके आते ही मैंने उसे बेड पर गिरा लिया और उसकी टीशर्ट उठाकर उसकी चूचियों को जोर जोर से पीने लगा. उसने दिल से ये वादा किया और तभी अनिल को फ़ोन करके कहा कि अनिल अब तुम हमारी जिन्दगी से हमेशा के लिए दूर हो जाओ. बुर विडियोउसकी व्यथा सुनकर मैंने नीरू से कहा- कोई बात नहीं जानम, ये सब आम बात है.

मैं- तुम बेफिक्र रहो, आज के बाद शर्म क्या होती है … वो तो तुम खुद भूल जाओगी … सिर्फ़ याद रखोगी तो वो मेरा प्यार.

मैंने उसकी दोनों टांगें फैला कर मैं अपना लंड उसकी बुर पर घिसने लगा. फिर उन्होंने मेरी चूची को जोर से दबाया तो मेरा मुँह खुल गया और चाचा जी ने उसी पल मेरे मुँह में अपना लंड घुसा दिया.

फूल को कोई कैसे कुचल सकता है, फूल से तो प्यार किया जाता है, फिर मैं कैसे कुचल देता … और वो भी फूल जब गुलाब का हो, इसलिए मैंने भी प्यार ही किया. तुम्हारे साथ चुदाई के समय उसकी कामुक सीत्कार सुनकर तो मैं पागल हो गया हूँ. फिर मैं और तेजी से उसकी चूत में जीभ चलाने लगा और एकदम से उसकी चीख निकल गयी.

अब आगे वाइफ स्वैप स्टोरी:मोहित, निधि और आलोक के चले जाने के बाद घर में मैं और स्वाति भाभी ही बचे थे.

मैं फिर से चौंकते हुए बोली- तो इससे तेरा क्या फायदा होगा!वो बोला- मेरी जान, उसकी बहन को मैं चोदूंगा और वो मेरी बहन को. आखिर लंड चुसाने के बाद चाचा जी मुझे सोफ़े पर धक्का दे दिया और मेरी पैंटी खींच कर नीचे से निकाल दी. मेरे दिल में शंका तो थी, मगर फिर मैंने उसे छूने के लिए अपना एक हाथ आगे बढ़ा दिया, जिससे शायरा तुरन्त पीछे हो गयी.

अंग्रेजी सेक्सी चोदा चोदीमैं बोला- प्रियंका सुरभि को लेने गयी है, तुम भी चलो … आंटी के यहां से दीवान ऊपर लाना है. आखिर मेरी पैंटी को चुराने की काफी हिम्मत है तुम्हारी इन गोटियों में।फिर मैं खड़ी हो गयी और अपनी टांगों को फैला लिया.

जापानी तेल के फायदे प्राइस

एक बार भाभी ने मेरे लंड का मजा ले लिया था, तो आगे की उनकी प्यास मेरे लंड से बुझने लगी. मैं भाभी से बोला- पता नहीं क्यों … उसने बस मुझसे बात करना छोड़ दिया है. मैंने उससे कहा- अच्छा अब जाओ … तुम्हारा ज्यादा लेट होना सही नहीं होगा.

मेरी तरफ देखते हुए डॉक्टर बोला कि तुम्हें 10-12 दिनों तक रोज आना पड़ेगा ताकि तुम्हारे मम्मे तुम्हारे चाहत के शेप ले सकें. अब आगे गर्ल्स लेस्बियन सेक्स स्टोरी:आंटी से बात करने के बाद शाम को प्रियंका का फोन आया- जीजू, मैंने आंटी को बोला, तो वो बोलने लगीं कि यहां मेरे पास पड़ा है … लेकिन उसे तुम्हारे कमरे में कौन रखवाएगा. अब आगे हॉट लड़की की वासना की कहानी:मैंने उठकर खिड़की से रोहन को जाते हुए देखा.

उसकी इस हरकत से अब मुझे भी मज़ा आने लगा, जिसके चलते मैं उसका कोई विरोध नहीं कर पाई. मैं भाभी को किस करने लगा और भाभी ने मेरा लंड को अपने हाथों से हिलाने लगीं. चाचा जी बोले- बेटा सूरज, एकदम नहीं धीरे धीरे निकाल और धीरे धीरे डाल.

मैंने भी अब देर न करते हुए अपने लन्ड को अपर्णा की चूत पर टिका दिया. यह न्यू स्टोरी ऑफ़ सेक्स आपको कैसी लगी मुझे कमेंट्स में बताना न भूलें.

मैंने जैसे ही कमरे में एंट्री ली और दरवाजे से एंटर हुआ, किसी ने मुझे पीछे से दबोच लिया.

मैंने जैसे ही कमरे में एंट्री ली और दरवाजे से एंटर हुआ, किसी ने मुझे पीछे से दबोच लिया. सनी लियोन का सेक्सी बीएफ बीएफउसकी रूममेट, जिसको इन्होंने सुरभि मैम के रूम में रात के लिए शिफ्ट कर दिया था. चोदा चोदी वीडियो में बीएफअब आजकल मैं जब भी अपनी बहन की गांड को चोदने के बारे में सोचता हूं तो मैं दिल्ली सेक्स चैट पर अपनी गर्लफ्रेंड रोजी के पास चला जाता हूं. अब मेरे पास कोई बहाना तो था नहीं, इसलिए मैं भी अपना सामान लेकर दिल्ली पहुंच गया.

संजू- आह … अह … हह जरा धीरे से … मेरी जान … आज चुत खा जाने का इरादा है क्या!मैंने कहा- हां.

वो- मैंने बनाया तो अब पनीर तुम्हारा फेवरेट बन गया?मैं- कसम से झूठ नहीं बोल रहा, चाहो तो मेरी भाभी से फोन करके पूछ लेना. उसकी चूत गीली हो जाने की वजह से अब साली ठप ठप ठप की आवाज़ भी आने लगी थी. लंड की चुभन से उसकी किलकारी निकल गई, पर मैंने उसके मुँह पर हाथ रख दिया.

मेरी मां इतनी तेज तेज़ सनी का लंड चूस रही थीं कि सनी जल्दी ही झड़ गया. इसी सोच के साथ मैं उठ कर पड़ोसन भाभी के दरवाजे को ठोकने के लिए चल पड़ा. इसलिए उसने आंखें खोल कर एक बार मेरी तरफ‌ देखा, जैसे कि मुझे वो अब कुछ देर रुकने को‌ कह रही हो.

देसी इंडियन सेक्सी वीडियो

क्योंकि ठंड बहुत है और कोई वेटर भी नहीं दिख रहा है मैं किसी वेटर को देख रही थी कि उससे मंगवा लूं!लड़का- आप गलत कह रही हैं … ठंड आपको लग ही नहीं सकती. मैं एक ही झटके में और बहुत जल्दी से अपनी बात खत्म करके अपनी सांसों पर काबू पाने की भरपूर कोशिश कर रही थी. मैं बोली- ठीक है, बस तुम इतना ही करना और कुछ करने की जरूरत नहीं है.

एक तरफ तो वो दर्द की वजह से अपने नाख़ूनों से मेरी पीठ को खरोंच रही थी और दूसरी तरफ कह रही थी कि मुझे दर्द नहीं हो रहा.

ये कहते हुए अनामिका ने अपनी टी-शर्ट खुद उठा दी और मेरी तरफ देख कर मेरी आंखों में आंखें डाल कर बोली- अब बोलो जीजू … कैसे लगे मेरे आम, इनका रस पियोगे ना! मेरे आम आपके मुँह में जाने के लिए बहुत तड़प रहे हैं.

देखते ही देखते लण्ड का सुपारा चूत की दीवारों को फैलाते हुए उसमें समाने लगा. फिर मेरा माल भी निकलने वाला था; मैंने पूछा- कहां निकालूं?तो वो चूत में निकालने को ही बोली. डब्ल्यू डब्ल्यू सेक्सी बीएफ हिंदी मेंमैं तो पहले से ही उस पर फ़िदा था, मगर बहन होने के कारण मैंने कभी हिम्मत नहीं की थी.

दोस्त बन कर ही सही, कम से कम इस बहाने मैं शायरा को थोड़ी बहुत ख़ुशियां तो दे ही सकता हूँ. इतने में प्रियंका ने शॉवर जो बन्द था, उसे चालू कर दिया … और हम दोनों साथ में भीगने लगे. पिंकी बोली- मौज क्या हुई होगी … चूत का भोसड़ा बन गया होगा, अगले दो-तीन दिन तो वो सीधे चल भी नहीं पायी होगी.

जब औरत शराब पिए हुए हो, तब वो दुनिया की लोकलाज छोड़ कर सब भूल जाती है. वो खुश होकर बोला- अरे यार दो दिन बाद ही बिजनेस के सिलसिले में मेरा वहां का टूर है.

वो- अब तुम्हें कैसे बताऊं, तुम पीछे पड़ गए, तो वो मैंने ऐसे ही बोल दिया था.

कल्पना मामी मेरे मुँह से ऐसा सुन कर बोलीं- वाह राहुल, मामी से सीधे कल्पना. मैं जोश में आ गया और बोला- बस अब आगे क्या करना है?वो बोली- मेरी तो नीचे वाली भट्टी में आग लग गयी है यार … कर ले जो करना है. मेरे खुले बाल उसके सिर के ऊपर झूल रहे थे और मैं ‘आहह … आहह … सूरज … पता है कब से इंतज़ार था मुझे तुमसे चुदवाने का … आहह … मेरी जान … तुम जल्दी चोदना सीख लो, फिर तो रोज़ चुदाई करा करेंगे … आई लव यू जान.

बीएफ नंगी वाली भाभी हंस पड़ीं और उसके बाद उन्होंने मेरे सारे कपड़े अपने हाथों से उतार दिए. फिर वो धीरे धीरे मेरी चुत को सहलाने लगा, जिससे मेरे अन्दर की ज्वाला भड़क रही थी.

मुझे बहुत शर्म भी आ रही थी।चाचा जी मुझे देखकर हंस दिए, कहने लगे- बहुत सुन्दर लग रहे हो।मैंने चाचा जी से पूछा- क्या मैं इस लंगोट को अपने पास रख लूं?चाचा जी ने कहा- ठीक है, यह लंगोट मेरी तरफ से तुम्हें गिफ्ट। अब रात हो गयी है और चलो सो जाओ।मैंने कहा- चाचा जी, आप मेरे कमरे में ही आकर सो जाइये। वैसे भी आज मम्मी पापा रात को आने वाले नहीं।तो चाचा जी ने कहा- ठीक है. सही समय देख कर मैंने उससे पूछा- कितना पैसा और लगाया जाए, तो तुम्हारे बेटे की दुकान अच्छी चल पड़ेगी?वो बोली- दो लाख पर्याप्त होंगे. मैं फिर सोचने लगी कि काश मोहित कुछ ऐसा मेरे साथ करता, मैं अपना सब कुछ उस पर लुटाने के लिए तैयार बैठी थी, लेकिन वो संध्या पर फिदा था.

न्यू सेक्सी फुल

मैं यही कल्पना करती रहती हूं कि एक दिन मेरा बॉयफ्रेंड भी मुझे इसी तरीके से चोदेगा. इस कारण हमारी अच्छे से आपस में बनने लगी। करीब दो महीने बाद हम काफी क्लोज आ गए।मैं दिखने में अच्छा हूं. वो मेरे पास आ गया और हम दोनों ने एक दूसरे को बांहों में भर लिया और बेड पर लेटते चले गये.

मैं खुद यही सोचता था कि इसके दूध दबाने को मिल जाएं, तो जन्नत मिल जाए. फिर उसने भी अपना माल मेरी चूत के मुँह पर छोड़ दिया और हम दोनों कुछ देर तक वैसे ही नंगे लेटे रहे.

जैसे ही भाभी उसके होंठ चूसने लगीं, मैंने एक जोरदार शॉट मारा, इससे मेरा पूरा लंड ट्विंकल की टाइट चुत की गहराई में समा गया.

मैं चौड़ा तो था ही और सीट छोटी थी तो मेरी कोहनी उनके बूब्स से टच होने लगी. मैं आज से सिर्फ तेरी हूं, ऐसे चोद दे मुझे कि मुझे किसी की जरूरत ही ना पड़े. वो पानी की बोतल रख कर जा ही रहा था कि तभी वो फिर से पीछे मुड़ा और बोला- और कुछ तो नहीं चाहिए मैडम … अगर चाहिए हो, तो मुझे बता दीजिएगा.

लम्बा मोटा लंड देखते ही उसकी आंखें खुली की खुली रह गईं और वो बोली- ओ माय गॉड … यह तो बहुत बड़ा और मोटा लंड है. हड़बड़ाहट में उसने जेब से मेरी पैंटी निकाली और उसको एकदम से फर्श पर फेंक दिया. बेड के सिरहाने पर लोहे की रॉड लगी थीं, इससे उसके हाथों को मैं आसानी से बांध सकती थी.

बिन्नी के पीछे खड़े खड़े मैंने उसके नर्म गुदाज़ पेट को सहलाना शुरू किया और धीरे धीरे अपने हाथ को उसकी स्कर्ट के इलास्टिक तक पहुंचा दिया.

xx.com बीएफ भोजपुरी: तब तक आप मुझे लड़की की गांड की कहानी के अंत में कमेंट्स करके और मुझे मेल करके जरूर लिखें कि आपको सेक्स कहानी कैसी लगी. मगर दस बीस धक्कों के बाद मेरे वीर्य की धार निकली और उसकी चूत को मैंने अपनी सफेद रबड़ी से भर दिया.

पर सायरा … वो पूर्ण रूप से नग्न थी और अपनी चूची को दबाते हुए अपनी चूत में उंगली डालकर अन्दर बाहर कर रही थी. फिर मैंने एक ऑनलाइन फूड डिलीवरी एप से खाना ऑर्डर कर दिया और हम लोग मेरे घर आकर आराम करने लगे. अब मैं अपर्णा की दोनों टांगों के बीच आ गया और उसके पैरों को अपने कंधे पर रखा.

इंडियन देसी गर्ल गांड कहानी में पढ़ें कि बॉयफ्रेंड के चाचा से बुर की सील तुडवाने के बाद जb उन्होंने मेरी गांड मारने की ख्वाहिश जाहिर की तो मैंने क्या किया?हैलो, मैं सुहानी चौधरी, आप मेरी चुत चुदाई की कहानी का मजा ले रहे थे.

इस बीच में उसका पति वाशरूम चला गया, तो बीवी झटके से उठकर पति के दोस्त की गोद में बैठ गयी और दोनों के होंठ मिल गए. मेरा मन भी उसका साथ देने के लिए उसके कंधों को पकड़ कर उसके होंठों को मेरे होंठों की खुली आज़ादी दे रहा था. बिस्तर पर तो बस हवश पूरी होती है … मगर बांहों में रखने से प्यार बढ़ता है.