एसएस बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ 2030

तस्वीर का शीर्षक ,

क्सक्सक्स वीडियो हाईड: एसएस बीएफ बीएफ, सुरेश जी का वजन ज्यादा होने की वजह से अब मैं हिल भी नहीं पा रहा था.

बीएफ नंगी लड़कियां

उसके जाने के बाद मैं फिर से नहाई, लेकिन मुझे चलने में बहुत मुश्किल हो रही थी. कॉलेज के बीएफ हिंदीपूरे दस मिनट तक लंड चूसने के बाद उसने मेरे लंड से माल निकलवा दिया और उसने सारा लंड चाट कर साफ कर दिया.

मैं उसकी बॉडी को चूसते हुए नीचे की तरफ आ गया और उसकी चुत पे अपना मुँह रख दिया. बीएफ एक्स एक्स एक्स मूवी एचडीपैसों की वजह से इनसे शादी की, पर इनको सिर्फ पैसा दिखता है और कुछ नहीं.

ज्यादा से ज्यादा समय मिले इसलिये सुबह चार बजे ही निकलने का प्लान था.एसएस बीएफ बीएफ: एक अँधेरी रात में जैसे दो पंछी प्रेमविहार में डूबे हों, वैसा नजारा था.

चूत की जगह के बाल साफ थे किंतु चूत के ऊपर थोड़ा सा बालों की एक आकृति बनी हुई थी.बाथरूम में जाते ही मैंने सुरेश जी का तना हुआ लंड अपने मुँह में भर लिया और अपने सिर आगे पीछे करके उनके लंड को जोरों से चूसना शुरू कर दिया.

लड़की और जानवर के बीएफ - एसएस बीएफ बीएफ

मैं और रवि आपस में बहुत अच्छे दोस्त हैं इसलिए उसने मुझे ये सब बात बताई.वल्लिका असमंजस में पड़ गई और संकोच करते हुए बोली- बाबा नियम तो आपने बताए ही नहीं.

टेबल लैंप की रोशनीवासना को बहुत तीव्र करने वाली होती है इसलिए होटलों में बेड की दोनों तरफ टेबल लैंप रखे जाते हैं. एसएस बीएफ बीएफ उसकी उम्र 27 साल है और उसकी शादी उसके ज्यादा उम्र वाली लड़की से हो चुकी है.

इसे आप यहाँ से download करें!सेक्स से भरपूर मुम्बई की सेक्सी लड़की ऋचा से हिंदी और देसी अंग्रेजी में सेक्स चैट, वीडियो सेक्स करने के लियेदिल्ली सेक्स चैट गर्ल ऋचापर आयें और सेक्स की मजेदार बातें और वीडियो सेक्स करके मजा लें!आप मुझे इमेल करें।[emailprotected].

एसएस बीएफ बीएफ?

उसके बाद उन्होंने मेरा सर उठाया और एक लंबा किस करते हुए कहा कि मैं धन्य हो गई, आज तक किसी ने मेरी बुर नहीं चाटी थी. मैंने उसको बोला- आप इतनी खूबसूरत हो और आपनी जिंदगी ऐसे ही जाया कर रही हो?वो हंसने लगी कि बस मुझे कोई शौक नहीं है, हमको तो कमीशन मिल जाता है, बस उतना ही हमारे लिए काफ़ी है. कॉलेज में एंट्री करते ही 15 से 20 कदम की दूरी पर ही बुक लेने के लिए लाइन लगी हुई थी.

डर से तो गांड फ़टी जा रही थी लेकिन इस आनन्द के सामने मुझे इस डर में भी मज़ा आ रहा था।कुछ देर ऐसे ही सहलाने के बाद अर्चना के निप्पल कड़े होकर तन गए और अर्चना ने भी थोड़ी हरकत की. जब ऐसा लगा कि वो सहज हो गयी है, तो मैंने उसको धीरे धीरे चोदना शुरू किया. मेरी जवानी की हवस की कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मेरी कामवासना की आग ने मुझे कोई तगड़ा जानदार लंड खोजने पर मजबूर कर दिया.

जब लंड अंदर बाहर… अंदर बाहर… होने लगा तो वह भला आदमी एक पुराने एक्सपर्ट गांडू की तरह चूतड़ उचका उचका कर लंड के धक्कों का मजा ले रहा था. दूसरे का नाम चाचा ने दिनेश बोला, वह उन्हीं के परिवार का था, जो चाचा से उनका खेत खेती करने के लिए लिए हुए था. वो मेरी कुर्ती को निकालने को बढ़ा और पीछे से मेरी कुर्ती के हुक को खोलने लगा.

किस करते करते वो अपना लंड मेरी गांड पे रगड़ रहा था और मेरे मम्मों को मसल रहा था. रूबी ने प्रभु के सर पे अपना हाथ डाल के उसका मुँह अपनी चूत पे दबा दिया.

मुझे डर भी लग रहा था क्योंकि मैं कभी अकेले अपनी बुआ के लड़के के साथ नहीं रही थी.

फिर भी मैंने चौंकते हुए कहा- मैं?तो वो बोलीं- अरे यार, यहां कोई और भी है क्या.

मैं कपड़े पहन कर नीचे जाने लगा, तो भाभी ने मुझे किस किया और थैंक्यू बोला. मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागसाठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-2में अपने पढ़ा कि मैं अपने चाचा ससुर का लंड देख कर पागल सी हो गयी थी, मैंने चाचा से चुदने के लिए प्रयास शुरू कर दिए थे, मैं उन्हें अपना बदन दिखाने लगी थी. मैंने उन्हें गुड मॉर्निंग बोला और रिपोर्ट उनके हाथ में दे दी- मैडम, प्लीज़ यह रिपोर्ट सर को दे देना.

तब सबने भैया से पूछा कि क्या सच में इसने चोद दिया?तब उन्होंने बताया- हां बे, और इसको बीच में डिस्टर्ब भी किया हमने, तब भी साला चुदाई में लगा रहा. फिगर ठीक ठाक थी, तगड़ी तंदरुस्त थी। नाक नक्शा उतना अच्छा नहीं था लेकिन जो ख़ास बात थी उसमे, वो यह कि वो खूब गोरी, एकदम झक सफ़ेद थी और उसकी तवचा भी काफी चिकनी थी।नाश्ते की ट्रे रखते हुए उसकी निगाह मुझसे मिली थी और एक लहर सी मेरे शरीर में गुज़र गयी थी। कुछ तो था उसकी निगाह में. जैसे मैंने दोनों हाठों सर उसके बूब्स दबाये तो क्या बताऊँ दोस्तो … इतने मुलायम उसके बूब्स थे कि क्या कहना!और वो तुरंत आहें भरने लगी, उम्म उम्म की आवाज़ करने लगी.

वह अपनी जीभ उसकी चूत में अन्दर तक डाल कर चूस रहा था और रितु उसको और चूसने के लिए कहा रही थी- माय डार्लिंग प्लीज सक मी एंड डीप, मोर डीप.

मैं- प्रिय श्लोक, हम चारों नई उम्र के वैवाहिक जोड़े घर में अकेले रहते हैं, चारों को एक दूसरे से प्रेम है, एक दूसरे से दोस्ती है और एक दूसरे को पसंद करते हैं. कुछ देर बाद मुझे ऐसा लगा जैसे मेरी चूत से कुछ बह रहा है, मैं बुरी तरह से तड़पने लगी, मैंने अपनी कमर से पापा का हाथ हटा दिया और पापा का लंड अपने चूत के नीचे रख कर अपनी चूत उनके लंड से रगड़ने लगी।मैं पूरी तरह से जल रही थी मुझे पहले कभी ऐसा कभी महसूस नहीं हुआ था. अब मैंने भी देर ना करते हुए अपना 7 इंच का लंड दीदी की चूत पर रख कर एक जोरदार धक्का दे मारा.

उन्होंने सेक्सी काली स्लीवलैस नाइटी पहनी थी जो कि उनके घुटनों तक ही आ रही थी. दरअसल दोनों बहनें थीं और जो बड़ी वाली थी, वो ऊपर वाली सीट पर सो गई, जो छोटी वाली थी, वो अविवाहिता सी लग रही थी. वाह क्या मुलायम और बड़े बड़े चूतड़ थे, जो न जाने कितने दिनों से मुझे दीवाना बना रहे थे.

मैंने जब टिकट लिया था तो वेटिंग में थी लेकिन मेरा टिकट कंफर्म हो गया, मैं अपनी सीट पर जाकर बैठ गया.

एक दिन मेरी शॉप पर कोई नहीं था, मैं किसी कस्टमर का इंतजार कर रहा था, वो नहीं आया, जिस वजह से मैं लेट हो गया. हम दोनों एक दूसरे को बहुत देर तक चुम्मा चाटी की और उसके बाद उसने मुझे अपने बिस्तर पर खींच लिया.

एसएस बीएफ बीएफ मैंने उसकी ब्रा से उसका एक दूध बाहर निकाल कर उसके निप्पल को चूसने लगा. जब उसने मुझे अपनी ओर खींचा तो उसका नंगा जिस्म और उसके बड़े गद्दीदार तने हुए स्तन मेरे सीने पर दब गए, मैं एक अजीब सी सिरहन से पागल हो गया, इससे बड़ा सुख मैंने अपने जीवन में कभी नहीं पाया था.

एसएस बीएफ बीएफ नीचे कुछ हो रहा है क्या?भाभी बोलीं- हां यार, मेरी पेंटी भी गीली हो रही है. वो कहने लगी- सतीश तुम्हारा तो बहुत मस्त है यार, अब तो जिंदगी का मज़ा आ जाएगा.

मेरी चूत वास्तव में पूरी गरम हो गई थी और उसका लौड़ा छत को देख रहा था.

कुमारी लड़की का सेक्सी

कुछ देर बाद मुझे फिर से उनका लंड सख़्त होता महसूस हुआ और जब मैंने उनकी तरफ देखा तो उन्होंने धीरे से मुस्कुरा दिया. मैंने कहा- ठीक है फिर तुम कल से आ जाना और तुम्हें सेलरी अभी 15000 दे जाएगी अगर काम ठीक तरह से किया तो मैं इसको बढ़ा कर पहले 20000 और बाद में 25000 भी करवा दूँगी. अगर खुल कर कहूँ तो मेरे बाप ने अपनी वासना को बुझाने के लिए अपने पैसे के बलबूते पर तुमसे शादी की थी.

हम दोनों बिल्कुल साथ साथ रहने लगी, साथ साथ कैंटीन जाती, खूब बातें करती, खूब मस्ती करती कॉलेज में!मुझे स्विमिंग पूल में नहाना शुरू से ही बहुत अच्छा लगता था। मेरे चाचा के सरकारी बंगले में स्विमिंग पूल बना हुआ है, जिसमें मैं और चाचा अक्सर नहाया करते थे।क्या सोच रहे हो मेरे प्यारे पाठको… हाँ, मैंने और मेरे चाचा साथ साथ स्वीमिंग पूल में स्वीमिंग करते थे और साथ साथ नहाते थे, अठखेलियाँ करते थे. साथ ही कभी कभी सर मेरी स्कर्ट में हाथ डाल कर मेरी मखमली चूत में उंगली भी करके मुझे झड़ने पर मजबूर कर देते थे. ये एक ऐसा माध्यम है जिसमें हम अपनी आपबीती आप सबके आगे प्रस्तुत भी कर देते हैं और हमें किसी भी प्रकार का परिचय किसी को नहीं देना पड़ता है.

मैं कुछ नहीं बोला तो उसने मेरी तरफ देखा और चलती गाड़ी में मेरे गाल पे किस किया.

उसने मेरे करीब से निकलते वक्त मुझको देखा और देखकर ऐसे अंजान बनते हुए, जैसे देखा ही न हो. मैंने फिर थोड़ा सा धक्का और दिया और इस बार मेरा पूरा लंड उसकी गांड में चला गया. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरी अंतरंग डायरी: मेरी सेक्सी बहन की वासना-1.

लेकिन शायद किस्मत को कुछ और ही मंजूर था।जब रात को हम दोनों एक ही बिस्तर पर लेटे और वो बिल्कुल मेरे पास लेटी. लेकिन अब मेरी चुदक्कड़ भाभी मेरे पड़ोस से घर छोड़कर किसी दूसरी जगह रहने को चली गई हैं. तो दोस्तो, यह थी मेरी पहली सेक्स कहानी… आशा करता हूँ कि आपको पसंद आई होगी.

दोस्तो, एक बात में आपको और बता दूँ कि मैं और भाभी एक बार मिले तो थे लेकिन हम सेक्स नहीं कर सके थे. मेरी पिछली कहानी थीबीवी की चूत चुदाई उसके भाई सेआज मैं आप को अपना एक और किस्सा सुनाने जा रहा हूँ.

वो मेरे कपड़े खोलने लगी मैंने भी उसको बिस्तर पर धक्का दे दिया और उसके कपड़े खोलने लगा. उसकी सहेली काजल का कल एग्जाम है, तो वो अपनी नींद पूरी करना चाहती है. घड़ी मैंने देखा तो सुबह के आठ बजे हुए थे, मुझे कॉलेज जाने में देर होने वाली थी।मैंने नीचे जाकर देखा तो रसोई में संगीता कांच के टुकड़े इकट्ठे कर रही थी, मेज पर रखा कांच का जग टूट गया था।सॉरी दीदी, मेरे हाथ से छूट गया!” वह रोती हुई सूरत बनाकर बोली।कोई बात नहीं संगीता … मैं नया लेती आऊंगी!” मैं उसे बोली.

डिनर के बाद बेडरूम में मैं और पम्मी अकेले थे, जब तक निक्की काम खत्म करके नहीं आई थी.

” मैंने अपने सूखे होंठों पर जीभ फेरते हुए जवाब दिया।वह लड़की मेरी बात सुनकर जोर से हंसने लगी।तू खाना कहाँ खाता है? मेरा मतलब है तू होटल में खाता है या खुद बनाता है?” उसने मेरी और मुस्कुरा कर देखते हुए पूछा।मेरी नौकरानी खाना बना के रख देती है. और उसके लंड को देख कर मेरी वासना और भड़क गई थी, मुझसे तो खुद पर काबू रखना मुश्किल हो रहा था, मैंने बिना कुछ और सोचे अपने होंठ खोले और उसके लंड का टोपा अपने मुंह में ले लिया।इसे जीभ से चाट!” वो फिर बोला. चुदाई के बाद से उसको पेशाब भी आ रहा था और वो अपना चूत में लगा खून और विक्रम के लंड से निकला हुआ माल भी साफ़ करना चाहती थी.

वो मुस्कुराई- बड़ा तगड़ा है रे तू बच्चे!उसके बच्चा बोलने से मुझे गुस्सा आ रहा था. मुझे ढीला पड़ते देख कर भाभी खड़ी हुईं और मुझे खड़ा करके किस करने लगीं.

उनकी किसी सेक्स पोजीशन को कल्पना कर कर मेरा लंड फिर से तनतनाने लगा. मैंने थोड़ा सा लंड पीछे किया उठा और फिर से धक्का दिया, अन्दर अवरोध महसूस होने लगा था. मैंने उसको होंठों पे अपने होंठ रख दिए और खूब मज़े से चूसना शुरू कर दिया.

இங்கிலீஷ் ப்ளூ ஃபிலிம் செக்ஸ்

तो वो बोली- कितने लड़कियों को डेट करते हो?मैं मुस्कुराने लगा, फिर उसने अपना नाम बताया तो मैं जोर से बोला- ओहो अरे तुम हो, कहां थी इतने दिनों से?तो वो बोली- ये बताओ तुम्हारे घर पर जगह है या कोई दोस्त का फ्लैट खाली है?मैं बोला- नहीं, ऐसी तो कोई जगह नहीं है.

दोनों ने एक-दूसरे की तरफ देखा और दोनों ने एक-दूसरे को गहरी मुस्कान दी. फिर मैंने देर ना करते हुए उसकी सलवार का नाड़ा खींचा तो सलवार भी माफ़ी मांगते हुए उतर गई. अपनी उंगलियों से उसके चूत के फांकों को फैलाते उसकी गुलाबी गीली चूत की गहराइयों में रस पीने लगा, उसकी चूत की गरमी अपनी ज़ुबान पे महसूस कर रहा था.

बापू कुछ देर बाद सभी पुष्पा की तस्वीरों को निकाल कर देखने लगा और उसकी और पद्मिनी की तस्वीरों को मिलाकर दोनों के बीच का फर्क देख रहा था. वो जल्दी से फ्रिज से दो पेप्सी की बॉटल निकाल कर लाया और बोला- पीजिए!पेप्सी पीते हुए मैंने कहा- बहुत ज़्यादा गर्मी है. बांग्लादेश बीएफ बीएफजैसे ही रूम में पहुंचे, मैंने दरवाजा किया बन्द किया और मुस्कान को गोद में उठा कर दीवार से लगा दिया.

एक बार झड़ जाने के बाद हम दोनों ही मानो चुदाई के आधे नशे से चूर हो हो गए थे, लेकिन अभी बहुत कुछ करना बाक़ी था. पद्मिनी का बाप अपने लंड को अपने हाथों से पैन्ट के अन्दर सीधा करते हुए पद्मिनी की जांघों को छूते हुए अपनी बेटी से बात करता गया.

उसने दरवाज़ा खोला और मैं अंदर गया तो उसने दरवाज़ा लॉक किया, फिर सारी खिड़की बंद की और मेरे पास आकर बोली- क्या खाओगे?मैंने कहा- जो तुम ले आओ! पर जल्दी लाना, हम लोगों के पास टाइम ज्यादा नहीं है. जितने दिन पापा थे, उतने दिन भर पेट चुदाई हुई मम्मी की … फिर हफ्ते भर बाद पापा बाहर चले गए!उसके बाद मैं और मम्मी घर पे अकेले थे, मुझे मम्मी के नंगे बदन को देखना था, उसके लिए मैंने बाथरूम के दरवाज़े में एक छेद बना दिया था. कुछ देर बाद उसके सारे शरीर के ऊपर हाथ फिराने के बाद और पूरी तरह से उसको गर्म करने के बाद, मैंने अपनी पैंट उतारी.

मैं उसके सर की तरफ़ पैर को रख कर लेट गया और मैं उसकी गांड की तरफ़ मुँह घुमा कर सो गया. फिर वो मुझसे अपनी टिकट दिखाते हुए पूछने लगी कि ज़रा देखो मेरा रिज़र्वेशन पक्का है कि नहीं?मैंने देखा उसका टिकट अभी कन्फर्म नहीं हुआ था. यह सुनकर वे अलमारी से दो गिलास ले आईं और पैग बना कर मुझे भी शराब पिला दी.

राहुल ने मेरी चूत को इतना चूसा कि बस चाहते हुए भी मैं राहुल के लंड को खाने के लिए मजबूर हो गई थी.

मेरे अन्दर समा गई, पर मैं पूरी मस्ती में मदहोशी में थी, तो चाचा का लौड़ा चूसने लगी और चाटने लगी. कीकु- क्या भाई, कैसे? अच्छा मज़ाक करते हो?भैया- तू किसी तरह हॉस्टल से निकल, रूम और लड़की का इन्तजाम मैं कर दूँगा.

वो बोली- हम वहां नहीं आएंगे, आप इस एरिया में एक रेस्टोरेंट है, वहाँ आइए. दोस्तो! जैसे लंड की शेप और साइज़ अलग अलग होता है ऐसे ही चूत भी अलग अलग होती है. जैसे तैसे करके मैं वहां से निकला, पर उनकी भोली शकल मेरे दिमाग़ में घूम रही थी.

चाचा ने एकदम से मेरे दोनों मम्मों को पीछे से पकड़ कर कसके दबाने लगे. अच्छा, तुम्हें मेरे शरीर में सबसे सुंदर क्या लगता है?”सच कहूँगा तो आप मुझे मारोगी. उसने भी अपने भाई को 20 रूपये दिए और अपने भाई को मेरे 10 रूपये वापस करने के लिए भेजा है.

एसएस बीएफ बीएफ मयूरी- तुम लोग मायूस मत हो… ईश्वर ने चाहा तो शायद माँ तुम दोनों का लंड एक साथ चूसे… और क्या पता मां भी ऐसा ही चाहती हो?विक्रम- क्या सच में… म… मतलब ऐसा हो सकता है क्या?मयूरी- हाँ. भाभी 15 मिनट तक मेरे लौड़े की सवारी करती रहीं और मैं उनकी चूचियों को दबा दबा कर पीता रहा.

सेक्सी ब्लू दिखाएं सेक्सी ब्लू

आखिरकार उनका लंड मुरझा गया तो सुरेश जी ने मेरी गांड से अपना लंड निकाल कर बगल में लेट गए. चलने पर उसकी चूचियां मस्त हिल रही थी और किसी का भी ध्यान आकर्षित करने की क्षमता रखती थी. मैंने पेंटी खीच कर अपनी जीभ को उसकी बुर के चारों तरफ़ घुमाना शुरू कर दिया.

सच तो यह है कि मैंने तेरी पूरी जनम कुंडली जान ली है और इसी लिए वह गाना तेरे लिए एकदम सही बैठता है. मैं बोला- आप रूको, अब गर्मी की छुट्टियाँ होने वाली हैं, तो मेरे घर में कोई नहीं होगा. बीएफ सेक्सी जेंट्सतुम वहाँ पर एक मासूम सी लड़की बन कर रहना और अगर कोई अच्छा लड़का तुम्हारी नज़र में हो, तो पहले मुझे बताना.

वाह… क्या खुशबू थी… मेरी बहन की चूत की खुशबू ने मुझे और पागल बना दिया, मैंने उसकी चूत को चाटना चूमना शुरू किया और उसके मुँह से ‘आह… उम्म… आह… की आवाज़ की सिसकारियां निकलने लगी.

थोड़ी देर तक ऐसे ही करने के बाद जब बड़ा भाई आश्वस्त हो गया कि उसकी बेहेन की चूत एकदम गीली हो गयी है तो वो रजत का लंड अपने हाथ में लेकर बोला- मेरे भाई, अब तुम ये अपना लौड़ा अपनी बेहेन की इस खूबसूरत और गहरी मगर टाइट चूत में पेल सकते हो. पहले उसके सर को चूमा, फिर आँखों को, फिर गालों को, फिर उसकी ठोड़ी को चूमा और नीचे आता गया.

वो नशे में मेरा सर पकड़ते और जम कर अपने लंड की शंटिंग करते हुए मेरे मुँह को दबा दबा कर चोदते. मैं ऐसी गिरी कि मेरा मुँह, सीधा अंकित के लंड से जा कर लगा और मैंने उसके लंड को अंडरवियर के ऊपर से ही मुँह में ले लिया. अब अच्छा लग रहा है।”यह सुन कर मेरे छेद की सलवटों में मसमसाहट होने लगी।उसने ढक्कन से भर कर और तेल छेद में उड़ेला और एक पूरी के साथ दूसरी उंगली भी थोड़ी-थोड़ी घुसाने लगा। अहाना ने भी इसे महसूस कर लिया था इसलिये अब उसकी सीत्कारें ठंडी पड़ गयी थीं।शायद वह दर्द के साथ एडजस्ट करने की कोशिश कर रही थी.

ससुर जी ने मम्मी की हाफ पैंट को उतार दिया, अब मम्मी के जिस्म पर सिर्फ एक शर्ट था वो भी सामने खुला हुआ। ससुर जी में मम्मी अपने ऊपर बैठा रखा था, एक हाथ से उनकी चूत को सहला रहे थे।ससुर जी मम्मी से बोले- रंजीता, तुमने कितने लोगों से चुदवाया है?मम्मी बोली- अपने पति के अलावा अपने ननदोई जी से!मम्मी की यह बात सुन कर मेरी हालत खराब हो गयी कि फूफा जी मम्मी को चोदते थे.

मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उसे बैड पर फिर से घोड़ी बनाया और उसकी गांड में अपना लंड पेल दिया, उसकी गांड और मेरी कमर की टकराहट से जोरदार आवाजें आने लगी।थोड़ी देर बाद मैं बेसब्र हो गया और अपना लिंग निकाल कर उसकी चूत में पेल कर जोरदार चुदाई करने लगा. वो अपने होंठों को दांत से दबा कर खड़ी हो गईं, फिर झटके से नाइटी उतार कर मेरे मुँह पर फेंक दी. पहली नज़र में तो वो पहचान में ही नहीं आई; घुमक्कड़ बंजारिनों जैसे कपड़े पहन रखे थे उसने… लहंगा चोली ओढ़नी और मैचिंग चूड़ियां वगैरह और उसके होंठो पर सजती वही मीठी मुस्कान.

जापानी बीएफ चुदाई वीडियोमैंने एक दिन भाभी के फिगर की तारीफ कर दी तो बोलीं कि लगता है विहान पढ़ाई में ध्यान नहीं है तुम्हारा?मैं जरा मुस्कुरा दिया तो फिर बोलीं कि मजाक कर रही हूँ और थैंक्स कह दिया. तू उम्र को क्या चूत से चाटेगी, तुझे तो लंड से मतलब है कि उम्र से चल.

सेक्सी फिल्म बताएं सेक्सी

लेटने के बाद मैंने मेरी वाली के ऊपर धीरे से हाथ डाल दिया (माफ़ी चाहूंगा, इस सत्यघटना में मै किसी का भी नाम लेकर उसके लिए परेशानी खड़ी करना नहीं चाहता) उसने मेरा हाथ हटा दिया. मैं आज ही भैया से कहती हूँ कि आपका साला यहाँ पर क्या क्या करता है और भाभी से भी कहती हूँ कि ज़रा आओ और देखो इसकी करतूत को. !”इसमें अब क्या शर्त? बोलो क्या शर्त है?”तुम्हें भी मेरे जैसा होना पड़ेगा.

फिर मैंने अपना लंड हाथ में पकड़ कर बीवी की चुत के छेद पर सैट करके हल्का सा धक्का मारा. अब तुझे क्या हो गया? पहले तो मेरे बूब्स छूने का कोई मौका नहीं छोड़ता था, अब जब चुदाई का मौका है तो मुझे चोद ना. उसकी आंखों में आंसू थे और मेरा लिंग खून से लथपथ होकर लाल रंग का हो चुका था.

कुछ देर बाद रात घिरने लगी, ये सर्दी की रात थी इसलिये सभी लोग अपनी बर्थ खोल कर लेटने की तैयारी करने लगे. एक घंटे यूं ही बातें होती रहीं, फिर उसने फोन पर खाने का आर्डर दे दिया और मैं फिर से उसको पकड़ कर बेडरूम में ले गया. मौसी मेरी बहुत ही सुन्दर थी, गजब का फिगर था उनका… उनका फिगर 32-30-32 है.

वो मेरे होंठ चूसते हुए ही चुदवा रही थीं और मादक आवाजें निकाल रही थीं- आहह आ मुउउः ऑश. कुछ पल के लिए भाभी शिथिल हो गईं उनकी आँखें तृप्ति के नशे से बंद हो गईं.

कभी कभी वो मेरी चूचियों को अपने दांतों से काट लेता, जिससे मेरी आवाज़ निकल जाती ‘आह आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आई.

वो हँसी- हा हा !!! टेस्ट भी नहीं लेने दिया अच्छे से, सारे सड़का सीधे गले में उतार दिया. इंग्लिश सेक्सी ब्लू फिल्म बीएफदिनेश मेरे मुँह के अन्दर लंड डाल कर बहुत तेजी से अन्दर बाहर कर रहा था और जमके मेरे मुँह को चोद रहा था. बीएफ सेक्सी सीन वालीमेरी पिछली कहानीससुर और बहू की कामवासना और चुदाईके प्रकाशन के उपरान्त मुझे बहुत सारे ईमेल सन्देश मिले. फिर मैंने सोचा कि कहीं ये फिर से गुस्सा ना हो जाए, तो मैंने उससे कहा कि यार मुझे तुम्हारी रात में बहुत याद आती है.

ये तो बोलो?तब वो बोली- मैंने पिछले 6 महीनों से सेक्स नहीं किया है, मेरा ब्रेकअप हो गया है.

मैं मन में सोच रहा था यार अगर उसकी दोस्त उसके साथ नहीं होती, तो कुछ बात भी करता. जैसे ही मुँह में लंड पूरा घुसा कि एकदम गरम गरम लंड रस की पिचकारी मेरे अन्दर तक घुस गई और उसे मैं ना चाहते हुए भी पी गई. उसके बाद पद्मिनी एक मादक आवाज़ में बोली- बापू बस भी करो अब, यहाँ आओ मेरे पास.

उसके बाद कुछ लम्हों के बाद बापू ने प्यार से पद्मिनी के चेहरे को अपने हाथों में लिया और उसकी आँखों में अपनी में देखते हुए बोला- तू बापू से बहुत प्यार करती है ना?पद्मिनी ने बहुत ही नर्म धीमी आवाज़ में जवाब दिया- इसमें कोई शक है क्या बापू, दुनिया में सबसे ज़्यादा आपसे ही तो प्यार करती हूं. कुछ देर बाद आंटी उठ गईं, मुझे देखकर बोलीं- अरे सोये नहीं क्या?मैं बोला- नींद नहीं आई. मैं कुछ नहीं बोला तो उसने मेरी तरफ देखा और चलती गाड़ी में मेरे गाल पे किस किया.

देसी भाभी का सेक्सी वीडियो एचडी

उन्होंने इस बात को छुपाने के लिए एक शर्त रखी और मैं उनकी शर्त पूछ ही रहा था, तभी निशा का कॉल आ गया. अब बारी मेरी थी, तो मैं भी भाभी को किस करने लगा और भाभी के मम्मों को चूसने लगा. उसकी आंखों से आंसू आने लगे, लेकिन वो चिल्लाई नहीं, हालांकि उसको बहुत तेज दर्द हो रहा था.

देर तक बैठे रहने से स्वाति को जरा नींद सी आ गई और वो मेरे कंधे पर सर रखकर सो गई.

एक बार तो मनोरमा का दिल भी बेईमान हो गया था कि इससे चुद लूँ मगर उसने अपने मन को काबू में कर लिया.

सुरेश जी के तेजी के कारण उनके लंड ने पानी जल्द ही छोड़ दिया और वो निढाल हो कर मेरे ऊपर ही लेट गए. ऐसा करने से मैं और गर्म हो गया और कुछ ही पलों में भाभी की चूत में ही झड़ गया. हिंदी बीएफ सेक्सी दिखाइए वीडियोमैंने कमलेश सर के लंड को हाथ में पकड़ा तो बहुत गर्म लगा, बहुत ही गर्म होता है लंड.

उसने भी मुझे पूरी ताकत से बांहों में अपने जकड़ लिया और मेरे दूध को भी अपने मुँह में भर लिया. अगले कुछ ही पलों में वो मेरी पेंटी के ऊपर से ही मेरी चूत पर अपना हाथ फेर रहा था. पूरा बेड हिल रहा था चू चू की आवाज़ के साथ… उसका मखमली जिस्म मेरे जिस्म से चिपका था, हम दोनों पसीने के सने चिपके पड़े थे, थप थप की आवाज़ पूरे रूम में गूँज रही थी.

लालजी उन तीनों ने इतना चोदा और ऐसे चोदा कि मुझसे सच में चलते नहीं बन रहा है. फिर उन्होंने धीरे से कहा- देखो, तुमने मेरी मुनिया का क्या हाल करके रखा है!तो मैंने कहा- रेशमा मेरी जान, इस मुनिया की मैं अच्छे से सेवा करूंगा.

पर मैंने अपने हाथ और होंठ चलाने जारी रखे।फिर पीछे से नितिन भी अपने दोनों हाथ चलाने लगा.

फिर 9 बजे भाभी का फोन आया, उन्होंने कहा- किधर हो?तो मैंने बोला कि घर पर ही हूँ, आपकी राह देख रहा हूँ. उधर से मैं बोरीवली पहुँच गया और वहाँ से उसके बताए नंबर पर फोन किया. मैंने जब उस लड़की को देखा तो देखता रह गया, वो बहुत सुन्दर थी और उसकी 36-32-36 की गदरायी फिगर तो और भी ज्यादा सेक्सी थी.

सेक्सी पहली पहला बीएफ मैं बता दूँ कि मेरा लंड लगभग साढ़े पाँच इंच का लम्बा और बहुत मोटा है. मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से मेरी बहन की शादीशुदा जिंदगी में कोई तूफान आए.

लेकिन जिस सुधा ने मुझे ये कहानी भेजी थी, वो इस सेक्स स्टोरी को एकदम सही कह रही थी. अन्दर, और अन्दर वो चलता गया, नूरी खाला दर्द के मारे चिललाने लगी- आहह आमिर उउइइ ओह्ह्ह्हह बहुत दर्द हो रहा है! प्लीज इसे बाहर निकाल लो, मुझे नहीं चुदना तुमसे! तुम बहुत जालिम हो! यह क्या लोहे की गर्म रॉड घुसा डाली है तुमने मुझमें! निकालो इसे! बहुत दर्द हो रहा है, मैं दर्द से मर जाऊँगी. हमने प्लान किया कि दोनों शादी में चलते हैं और रात को वहीं शादी अटेंड करके वहीं होटल ले लेंगे.

तेरे नाल प्यार हो गया सोनी

मैंने भाभी को गोद में उठाया और बेडरूम में ले जाकर नंगी कर दिया और उनके चूचों पर किस करने लगा. अब गांड में दिनेश का लंड जड़ तक पहुंचने लगा, जिससे मैं बिल्कुल पागल हो गई और चिल्लाने लगी- आह. एक दिन मौका पाकर पूछने लगे- वन्द्या तुमने वो बुक्स पढ़ी और मैगज़ीन देखी?उनकी इस बात से अब मैं शरमाने लगी, मैं कुछ नहीं बोली.

विकी से मिलने से पहले मुझे ऐसा लग रहा था कि मेरी ये भूख कभी नहीं मिटने वाली है. अभिलाषा कहने लगी- मैं आपसे वहां से बात नहीं कर सकती थी इसलिए आपके कमरे में आई हूँ और जूली के बारे में ही बात करने आई हूँ.

तभी मैंने अपना पैर कार्पेट पर फंसा कर गिरने का नाटक किया और मैं जा कर अंकित के ऊपर गिरी.

रात को 1 या 2 बज रहे होंगे, तभी नींद में मेरा एक हाथ तुषार भैया की कमर पर चला गया और मैं उनसे चिपक कर सोने लगा. मैं समय से पहुंच कर कुर्सी पर बैठा था कि चाची अन्दर से आईं और बोलीं- अरे पवन तुम कब आ गए?मैंने गौर किया कि चाची को बाल गीले थे. वो मुझसे सिर्फ एक साल छोटा था पर मेरे साथ ही खेलता, कभी पढ़ता हम दोनों ज्यादा वक्त साथ ही रहते.

मैंने उंगली हटा कर अपने लंड को बुर की फांकों में फंसाया तो वो लंड की गर्मी से समझ गई कि लंड बुर में जाने वाला है. मैंने पूछा तो बोला- मेम साब इतनी अच्छी औरत हैं और इस रंडवे को यहां वहां मुँह मारने से फ़ुर्सत नहीं है. उसे फिर से दर्द हुआ और चीखने लगी लेकिन मेरी किस की वजह से उसकी चीख वहीं सिमट गयी.

हमारा घर भी आमने सामने ही था और मुझे पढ़ाई में कोई हेल्प चाहिए होती थी तो मैं बेहिचक उससे हेल्प ले लेती थी.

एसएस बीएफ बीएफ: लेकिन हमारे बीच में 250 किमी की दूरी था, जो हर वक्त तोड़ना असंभव था. मैं उसके पेट को सहला रहा था, उसकी नाभि में उंगली कर रहा था, उसकी गांड पर लौड़ा घिस रहा था.

उसने मुझे पीछे से पकड़ा हुआ था, जिससे उसने मेरी नंगी हो चुकी गांड को पहले ही देख लिया था. मैंने और भाभी ने मिल कर ये फैसला किया और हम दोनों इस कामुकता की आग से बाहर आ गए. आप जो चाहे मुझको बोल सकती हैं, मैं आप से छोटी हूँ और आपका हुक्म मानना ही पड़ेगा.

अपना काम खत्म करके मैं वापस आ रहा था कि घर से फोन आया कि अपने चाचा की लड़की को भी साथ में लेते आना.

मंजू जिस गोद में बैठ कर अभी तक मजे कर रही थी, अब वो उसी गोद से आजाद होने की कोशिश करने लगी. उन दीदी की चूत गर्म गर्म थी और वो आंखें बंद करके बस लंड के घुसने इंतजार कर रही थीं. इसके बाद सब उठ कर नीचे जाने लगे, तो वो थोड़ा सा लेट होकर जल्दी से मुझे एक किस करके चली गईं.