बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी

छवि स्रोत,मराठी सेक्सी वीडियो प्लीज

तस्वीर का शीर्षक ,

चोदा चोदी देना: बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी, वो बोल पड़ी- भईया, प्लीज अपनी बहन की चूत में डालो और प्लीज आज जल्दी मत झड़ना.

सेक्सी भाभी सेक्सी सेक्सी

फिर वो समय आ ही गया और मैं और नम्रता एक-दूसरे का हाथ पकड़े बैठे हुए थे. एक्स एक्स बीपी वीडियो सेक्सी वीडियोवहां आवश्यक फोर्मलिटीस के बाद मैंने ज्वाइन कर लिया और मेरी नौकरी शुरू हो गयी.

कॉलेज गर्ल सेक्सी कहानी में पढ़ें कि मेरी पड़ोसन की जवान बेटी मेरे पास प्रोजेक्ट के लिए आयी. सेक्सी नया मॉडलमैंने चूत में आठ दस चांटे प्यार से मारे और अपना दाना जल्दी जल्दी रगड़ने लगी.

पहले हल्का और फिर थोड़ा मजबूती से।मैंने उसे नहीं रोका क्योंकि उसके दबाने से मुझे अच्छा लग रहा था। मेरे 38 साइज़ के मम्मों को उसने पूरा ऊपर से नीचे और अगल बगल से हर तरफ से पकड़ कर सहलाया, दोनों मम्मों को अच्छे से दबा दबा कर उसने मज़े लिए.बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी: हम दोनों का ये पहली बार ही था इसलिए भैया मुझे धीरे-धीरे चोद रहे थे जबकि मेरा बॉयफ्रेंड मुझे तेज-तेज चोदता है.

मैंने बात बनाई, जिसमें मैं माहिर हूँ- चचा वो मैं चौराहे पर चाय पीने गया था … वहीं बैठ गया.चूत के नीचे तकिया लगाया और अपना लंड चूत के छेद पर लगाया, जो गीली हो चुकी थी.

सेक्सी पिक्चर वीडियो डाउनलोड करें - बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी

अब मेरे अंदर थोड़ी हिम्मत आ गयी थी और मैंने भाभी को बात करने के लिए रोक लिया.हीना कुछ देर धीमी गति से कमर हिलाती रही, फिर शांत होकर उसने मेरे सीने पर सर टिका दिया.

तभी वो अपनी सहेली से बोली- तू बाहर रुक जा … यदि कोई आता है, तो बता देना. बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी दोनों रानियों के लिए खीरा टमाटर मशरूम सैंडविच, फ़्रेश लाइम सोडा नमक वाला और मैंने मेरे लिए चिकन सैंडविच और बियर का रूम सर्विस में फोन करके आर्डर दे दिया.

और एक हाथ से दी ने अपना एक बूब थोड़ा ऊपर किया ताकि मैं पूरा साफ देख सकूँ.

बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी?

इसलिए अब मैं भी जल्दी करने में मूड में आ गया और तुरंत अपना पैंट और चड्डी नीचे करके लंड बाहर निकाल लिया. उसने मेरी आंखों में देखकर आंखों में ही पूछा- क्या?मैंने फिर कहा- रश्मि. ” रानी ने मुझे कन्धों से पकड़ के उठा दिया और पास की मेज पर रखे गिलास को उठा कर मुझे दिया.

मेरे अब्बू, अम्मी और बहन, सब मेरी ममेरी बहन के शादी में गए थे, मेरा बीए के तीसरे साल की परीक्षा होने के कारण मैं उस शादी में नहीं जा सका. अंकल जी के चुम्बन का जवाब मैं भी तत्परता से देने लगी और उनके होंठ चूसने लगी. फिर मैंने उनके होंठ चूसना शुरू कर दिए तो इस बार साली जी भी मेरा साथ देने लगीं; जल्दी ही हमारी जीभ आपस में अठखेलियाँ करने लगीं और फिर उसने अपनी जीभ मेरे मुंह में डाल दी जिसे मैं चूसने लगा.

पर मेरा लौड़ा शायद गोलियों की असर की वजह से और शायद इतनी बार झड़ने की वजह से अब तक झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. भाभी के कोमल हाथों का स्पर्श मेरी छाती पर हुआ तो मेरे अंदर एक सरसरी सी दौड़ गई. फिर उन्होंने कहा- आज तू अपनी चूची बाहर निकाल, ब्रा की जगह सीधे उसी पर माल गिरा देता हूँ.

नम्रता भी मेरे लंड को सहला रही थी और अंडकोष दबाने के साथ ही सुपाड़े के खोल को खींच रही थी. तो आप लोगों को क्या लगा? क्या मैंने सही फैसला लिया? या मैंने गलती की?आप अपनी राय मुझे जरूर बताना।[emailprotected].

आआआहह … उसकी उंगली मेरी चूत के दाने से टच होते ही थोड़ी ही देर मैं में चरमसीमा पर पहुंच गयी.

अब उसने अनजान बनते हुए एक हाथ मेरे लंड पे रख दिया और मेरे लंड के कड़क होने का महसूस किया.

मैंने देखा कि भाभी अपनी गांड में लंड लग जाने के बाद भी कोई हरकत नहीं कर रही हैं, तो मैंने अपना लंड उनकी गांड में और अन्दर पेलने लगा. एक हफ्ते बाद मैं जो करना चाहूंगी, वो सब मैं करूँगी, बस तुम्हारा साथ चाहिये. उस वक्त तो मुझे बस उसकी चूत का स्वाद चखना था जो मेरा लंड उसकी चूत में जाकर मुझे उपलब्ध करवाने लगा था.

गहरे नीले रंग की इस पैंटी और ब्रा में अदिति काम की देवी लग रही थी, जिसको देख के कोई भी अपने आप पर से कंट्रोल खो देगा. कुछ पहले से ही सूजन थी ऊपर से जूली की कसी हुई चूत और साथ में सारा की चुदाई करके लंड लाल गाजर के जैसा हो गया था. थोड़ी देर में वो खुद आ गयी, बोली- मैं भूखी रह गयी, बाकी सभी को खाना खिला दिया.

फ़िर धीरे धीरे हमारी मुलाकातें बढ़ने लगीं और फ़िर हमने अपनी फैमिली के बारे में भी एक दूसरे को बताया, तो पता चला हम दोनों ही शादीशुदा हैं.

मैंने माँ को मैंने जगा कर उनसे पूछने की कोशिश की, मगर माँ गहरी नींद में सोई हुई थीं, तो माँ जागी ही नहीं. मैं उसके चेहरे और चूचियों को तब तक चाटता रहा जब तक उसका दर्द कम नहीं हुआ।साथ ही उसको दिलासा देता रहा।थोड़ी देर में दर्द कम हुआ तो उसने अपनी आँखें खोली और मेरे लन्ड को छोड़कर मेरा पीठ सहला रही थी।तभी उसके होंठों पर होंठ रखकर दूसरा धक्का मारा तो आधा से अधिक लंड उसकी चूत में उतर गया।फिर मैं वैसे ही रुक गया।मैंने फिर से कोशिश की और पूरा लन्ड एक बार में ही उसके अंदर डाल दिया. मैंने उसकी चूत में लंड के धक्के लगाना शुरू कर दिया और मेरे लंड व उसकी चूत के मिलन से फच फच… थप-थप… फट-फट… की आवाज होने लगी.

बायें हाथ से उसका हाथ पकड़ कर उसकी हथेली को मेरी पैंट की चैन पर रख दिया. चाची की गर्म चूत में मेरा गर्म लौड़ा जाते ही जैसे स्वर्ग सा मिल गया मुझे. अगले दिन सुबह जब मैं स्कूल जा रहा था तो वह लड़की मुझे फिर से दिखाई पड़ गई.

मेरे कूल्हे को जोर से काटते हुए बोली- मजा तो बहुत है।तो मैं बोला- हाँ बहन की लौड़ी, अगली बार मैं तुझे बताऊंगा कि कितना मजा है। साली इतनी जोर से कहीं काटते हैं क्या?शुभ्रा- सॉरी यार!कहते हुए उसने मेरे कूल्हे को फैलाया और जैसे ही उसकी गीली जीभ मेरी गीली गांड से लगी तो मुंह से निकला- उफ्फ…क्या बताऊं दोस्तो, पूरे जिस्म में जैसे 11000 किलोवॉट का करंट दौड़ने लगा.

आप लोगों के मेरी चाची के मेरी ये मदहोश कर देने वाली चुदाई की कहानी पढ़कर कैसा लगा मुझे इसके बारे में अपने विचार जरूर बतायें. मैं अपनी कुर्सी पर आई और अपने बैग से मूव निकाला और रवि को कुर्सी पर बिठाकर माथे पर लगाने लगी.

बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी तब भाई ने एक पोलीथिन मेरी तरफ फेंकी, जिसमें ब्लैक ट्रांसपेरेंट नाइटी थी. दरअसल नेहा इतनी सुंदर और सेक्सी थी कि उसको हाथ लगाते ही आदमी के लंड से पानी निकलने का डर रहता था.

बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी साड़ी के ब्लाउज में भी मेरी बड़ी-बड़ी चूचियां बाहर की तरफ उभरी हुई होती हैं. धीरे धीरे पापा डिप्रेशन में जाने लगे तो मैंने उन्हें डाक्टर को दिखाया तो उन्होंने माहौल बदलने की बात कही.

रमेश ने गांड के अंदर ही थूक दिया। वो ये दृश्य देखकर जैसे मदहोश हो रहा था.

भोजपुरी सेक्सी फिल्म चोदा चोदी

मेरी नौकरानी को इस बात का पता भी नहीं चलता था कि मैं अपने बॉयफ्रेंड को अपने घर बुलाकर चुदवाती हूँ. तभी पवन ने अपना लगभग पूरा लंड बाहर खींचा और फिर एक जोर के धक्के से दोबारा मेरी गीली चूत में ठोक दिया। आनन्द और दर्द के मिले-जुले अहसास से मेरी चीख निकल पड़ी।अब पवन ने धीरे-धीरे अपने लंड से मेरी चूत में धक्के लगाने लगा और फिर पूरे जोश से मेरी फुद्दी को चोदने लगा। उसका लंड मेरे गर्भाशय तक छू रहा था. वो मुझे चुत देने की कहते हैं और धमकी भी देते हैं कि या तो तू अपनी चुत दे या किसी और की दिलवा दे.

फिर वह क्रम में बोलने लगी- रूई … कपड़ा … फूल … कपड़ा … रूई … कपड़ा … फूल … कपड़ा … कपड़ा … कपड़ा … रूई … रूई … फूल… फूल!और दोनों एक साथ झड़ गए. जब से मैंने भैया को देखा कि वह मेरे बदन पर नजर रखते हैं तो उसके बाद से ही मैंने भी भैया की हरकतों पर नजर रखना शुरू कर दिया. अब नम्रता मेरे इशारे के साथ ही मूत रही थी और मैं उसके गर्म पानी को पीकर मजा ले रहा था.

चुदाई करवाते करवाते उन्हें भी ना जाने क्या सूझी कि मुझे धक्का देकर फिर से भागने लगीं.

मैंने चाची से कहा- जब आप भीग ही गये हो तो मेरे साथ ही नहा लो!चाची बोली- हट्ट बेशर्म … अगर किसी ने देख लिया तो?मैंने कहा- यहाँ पर कौन है देखने वाला. नम्रता- अरे वाह, अगर ऐसी बात है, तो फिर जो तुम कहोगे … वो सब मैं करूँगी. उसने एक पल रुक कर लम्बी सांस ली और बोली- आह … सर … मुझे आपका लंड बिना बुरके के ही क़ुबूल है … क़ुबूल है … क़ुबूल है.

मैंने नींद का बहाने सिर खिड़की पर टिका दिया और थोड़ी देर बाद अपना एक हाथ मीना की जांघों पर रखा, तो उसने मुझे अज़ीब सी नज़रों से देखा. फिर उसने एक और झटका मारा, जिससे मेरी चूत में उसका लंड अन्दर चला गया. अचानक से अंकल पीछे हट गए, मुझे ऊपर से नीचे देखते हुए बोले- नीतू … आज पहली बार तुम्हें नंगी देखूंगा.

लावा भरा पड़ा था … शायद इसी वजह से कुछ 17-18 झटकों में मेरी पूरी गांड भर गई. मलाई जैसे लेस की एक बड़ी बूंद टोपे के छेद से निकली जिसे उसने जीभ से उठाया और पी लिया.

कुछ ही देर बाद मेरा बदन अकड़ने लगा, मैं अपने पैर छटपटाते हुए झड़ने लगी. उसको देखते ही लण्ड सलामी देने लग गया।मैंने उसे अंदर सोफ़े पर बैठाया और हम बातें करने लग गये। बातों बातों में मैं ड्रिंक ले आया और हम पीने लग गए. मैं बिल्कुल निढाल होकर बिस्तर पर फैल गया और अपनी उखड़ी हुई सांसों को काबू पाने की चेष्टा करने लगा.

मैं कभी-कभी मॉडर्न सलवार सूट पहन कर भैया के घर जाती थी जिसमें से मेरी ब्रा और पेंटी का रंग बिलकुल साफ़ दिखाई देता था.

”मतलब?”उपिंदर का बड़ा मन है तेरी माँ को गर्भवती करने का!”हाय राम!”घबरा मत, एक बार वो प्रेग्नेंट हो जाए, फिर सफाई करवा देंगे. मगर उसके बार बार कहने पर मैंने एक ऑटो वाले से बात की और उसने हमें एक पास के ही होटल में छोड़ दिया. क्योंकि मैं उसकी उस चूत को चाटने के लिए बेकरार हो रहा था, जिसमें अभी उसके कुछ मूत्र के अंश लगे थे.

आह्ह ऊऊ … अंदर गिराओगे ना अपना गाढ़ा मुठ? अपनी रंडी बेटी को दे दोगे ना अपना मीठा मुठ डैडी? अपना ताजा ताजा मुठ मुझे पिला दो डैडी … आह्ह मैं बहुत प्यासी हूं. फिर उसने लंड को बाहर खींच लिया और उसकी पैंटी रिया की गांड में ठूंस दी.

तो कभी किसी जोक पर भाभी भी मेरे ऊपर पूरा गिर कर मुझे गर्म कर देती थीं. जिस बुर में अभी अभी बाल आने शुरू ही हुए थे, उसमें मेरा मोटा लंड अन्दर तक घुस कर सवारी कर रहा था. एक दूसरे को किस करने के बाद बांहों में बांहें डाल कर सो से गए और आराम करने लगे.

सेक्सी वीडियो जंगल में चोदने वाली

” मैंने हंसते हुए कहा।और फिर मैं रसोई से दो कप चाय बना कर ले आया। मेरा मकसद उसे सहज (नॉर्मल) बनाने का था।मुझे लगता था उस दिन मोबाइल का लोक ओपन करने के पासवर्ड वाली बात उसे जरूर याद होगी। और मैं तो इस संबंध में कोई जल्दबाजी करने के मूड में कतई नहीं था अलबत्ता पूरी योजना बनाकर ही इस प्रोजेक्ट को पूरा करना चाहता था।पर अभी थोड़ी देर तो सुहाना के प्रोजेक्ट की बात करनी जरूरी थी।लो भई.

इतने में उन्होंने मुझे फिर सीधा किया और मेरे मुँह में लंड देकर रस झड़ा दिया. यह सुनकर भाभी ने मेरी पैंट में तने हुए मेरे लंड को ऊपर से ही छू लिया और अपने हाथ से सहलाना शुरू कर दिया. उसके लंड का टोपा इतना बड़ा था कि मेरी गांड के अन्दर जा ही नहीं रहा था.

मैंने माँ से पूछा कि माँ ये आपकी टांगों के बीच में क्या है?माँ ने मुझसे ‘कुछ नहीं है. वो मेरे सीने को, मेरे निप्पल को चाटते हुए मेरी नाभि की तरफ बढ़ रही थी. मोनालिसा की सेक्सी वीडियो भोजपुरीउसे नहीं पता था कि मैंने कामवर्धक गोली खा रखी है और मेरा लंड दो घण्टे तक नहीं बैठेगा.

गुप्ताइन ने शर्मा कर आँखें नीचे कर लीं लेकिन लण्ड पर से हाथ नहीं हटाया. आज भी जब मुझे किसी चीज की जरूरत पड़ती है, चाहे वह चुदाई की हो … या चाहे वह पैसों की हो … या फिर चाहे किसी और भी चीज की, तो मेरी यह दो रखैलें हमेशा मुझे मदद करती हैं.

मैंने भाभी की गांड पर अच्छे से थूक लगा दिया और अपने लंड को चांदनी भाभी की गांड के छेद पर सेट कर दिया. मनोज और जागृति पूरा दिन घर पर खेलते रहते थे जबकि मनीषा घर का छोटा-मोटा काम कर लेती थी. ”अंकल फ्रिज की तरफ गए और दो टॉफी ले कर मेरे पास आए, उसमें से एक मुझे देखर बोले- ये लो, ये तुम खाओ … जब मैं तुम्हारी चुम्मी लूंगा, तो मुझे मीठा स्वाद आना चाहिए …मैंने उस टॉफी को खोल कर मेरी मुँह में डाला, चॉकलेट मेरी सबसे फेवरेट चीज है.

मैं- तुम्हारा साथ देने के लिये मैं तो तैयार हूँ, लेकिन हुआ क्या?नम्रता- मेरी ससुराल में किसी दूर रिश्ते में शादी है और सभी लोग उस शादी में जाने के लिये तैयार बैठे हैं, लेकिन मैंने स्कूल का बहाना बनाकर घर वालों को शादी में न जाने के लिये मना लिया. जब भी वह उठती तो उसकी तनी हुई चूचियां देख कर मेरे लंड में वासना की एक लहर सी उठ पड़ती. उस मस्त कामवाली के इतना करने के बाद मैं उसके साथ चिपक गया और उससे कसकर लिपटकर बिस्तर पर रोल करने लगा.

ये सेक्स कहानी आपको रोमांचित कर रही है या नहीं … आप अपनी राय इस पते पर दे सकते हैं.

मैंने पूछा कि सब कहां गए, तो उसने कहा कि सब लोग मार्केट गए हुए हैं. बारी बारी से दोनों चूचियों को चूसते हुए मैंने सलवार के ऊपर से उसकी चुत में हाथ लगा दिया.

मैं सीधा लेट गया और पूनम ने मेरे सोये हुए लंड को अपने मुंह में भर कर फिर से चूसना शुरू कर दिया. मैंने आंखें खोलीं, तो सामने शर्मा सर ने अपना लंड बाहर निकाल लिया था. इसका गला भी इतना खुला हुआ था कि उसमें से मेरे मम्मों की क्लीवेज साफ़ दिख रही थी.

उसने अंदर से कहा- आ गए जनाब!मैंने कोई जवाब नहीं दिया और बेड पर लेट गया।थोड़ी देर बाद जैसे ही बाथरूम का दरवाजा खोल कर रीना बाहर आई, मुझे पलंग पर देखकर एकदम से हैरान हो गई. उसके बाद फिर से मैं उसके मुँह में धक्के लगाने लगा और आखिरकार मेरा वीर्य मेरे टट्टों से चलकर मेरे लंड से होता हुआ बाहर आने को हुआ तो मैंने जूली के मुंह को पीछे की तरफ करके अपने लंड को हाथ में ले लिया. वो जिस चूची को चूस रहा था, मेरी उसी चूची को खूब चूसने के बाद संतरे जैसी गोल गोल चूची को अपनी हथेली में भर कर दबाने लगा.

बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी अब रणविजय और रीना की चुदाई उन्हीं के शब्दों में:हम दोनों एक दूसरे के चुम्बन में मदहोशी के साथ डूब गए। उसने नाइटी के अंदर कुछ नहीं पहना था। मैं नीचे लेटा हुआ था और चुम्बन करते हुए ही हम दोनों एक दूसरे से लिपट गये. तभी मेरी नजर बॉस की पैन्ट पर गई, वहाँ उनका लड़ बिल्कुल टाईट था क्योंकि मुझे उभार नजर आ रहा था.

8 साल की लड़कियों के सेक्सी वीडियो

मैंने खूब जोरों से माँ की चुत का रसपान किया और इसके बाद लंड पेल कर माँ को चोद दिया. दीपाली- नहीं … मुझे सिर्फ चुत ही चटवाना है, क्योंकि मेरी वर्जिनिटी सिर्फ मेरे बॉयफ्रेंड की है. फिर भैया ने पूछा- कैसा लग रहा है?‘ठंडा!’मेरी बचकानी बात से भैया हंसने लगे और बोले- ठीक है ये ठंडक अब अन्दर तक जाएगी.

हालांकि मानसी की चुदाई करके मैं कुंवारी चूत को भी भोग चुका था लेकिन हेतल की शादीशुदा चूत को चोद कर मुझे अलग ही अहसास हुआ. उनके रूम के बाहर ही आंगन में मेरा बिस्तर लगा था, तो मैं वहीं लेट गया. गांव वाली हिंदी सेक्सी वीडियोलेकिन मैं क्या बताऊं दोस्तों, मेरी गांड इतनी फटती थी कि कहीं मैंने कुछ किया और भाभी ने मुझे नहीं झेला तो क्या होगा.

अमीषी- अअअ उम्म्ह… अहह… हय… याह… अअअअ वो माँ फाड़ दी रे अपनी बहन की चूत बहनचोद!मैं ये सुन कर जोश में लंड पूरा अन्दर बाहर करने लगा.

तभी साली जी ने खड़े होने की कोशिश की पर तुरंत ही कमर पकड़ कर बैठ गयीं. मैं जान गया कि ये खेली खाई है और ज्यादा नखरा नहीं करेगी चुदवाने में। फिर ऐसे ही हमारी बातें होती रहीं और सेक्स और फेंटेसी के बारे में भी चर्चा होने लगी थी.

ये देख कर नम्रता बड़ी खुश हुई और फिर उसके बाद कुप्पी को गोल-गोल घुमाते हुए उसने कुप्पी के लम्बे भाग को पूरा अन्दर पेल दिया. जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया कि रेखा ने तुरन्त ही अपनी कमर को उचकाना शुरू कर दिया. अब मेरे अंदर थोड़ी हिम्मत आ गयी थी और मैंने भाभी को बात करने के लिए रोक लिया.

इस घटना के बाद हम दोनों घर में मौका मिलते ही घर में सेक्स कर लेते हैं या होटल में जाकर सेक्स का मजा ले लेते हैं.

हर बार उसके स्पर्श से मैं सिहर उठती और मेरे पूरे जिस्म में वासना की लहर दौड़ जाती. फिर मैंने बोला- मीता बोलो न … क्या तुमने उसका लंड देखा है? या उसने तुम्हारी चूचियों को दबाया है?मीता फिर भी चुप रही. वो मेरी एक चूची को अपने मुंह में लेकर पी रहे थे और दूसरी को अपने हाथ से दबा रहे थे.

सेक्सी चोदने वाली हिंदी वीडियोइसलिए उसका क्लेम पास होने के बाद उसने मुझे बहुत बार फ़ोन करके धन्यवाद दिया. अब मैं भाभी के गाउन के बटन खोल रहा था और साथ ही साथ उन्हें चूम भी रहा था.

अमेरिका सेक्सी वीडियो अमेरिका

मैं आश्चर्य से शुभ्रा को देख रहा था, लेकिन उसके चेहरे पर कोई हाव भाव नजर नहीं आ रहे थे जबकि मेरे लिये वो कहानी इतनी उत्तेजित करने वाली थी कि अगर शुभ्रा मुझे नहीं टोकती तो दो पल बाद मेरा लंड पानी छोड़ ही चुका था।कहानी की किताब देखने के बाद शुभ्रा नंगी लड़कियों वाली मैगजीन देखने लगी।फिर मुझे हड़काकर बोली- चल यहाँ (उसके बगल में) आकर बैठ. वसुन्धरा ने धीरे से मेरा हाथ अपने दोनों हाथों में लिया और बोली- मैंने अपने सारे अधिकार, सारे इख़्तियार, खुद मैं … मेरी जिंदगी और मेरी जिंदगी से बावस्ता सारे फ़ैसले और उन फैसलों के सारे नतीज़े … मैंने बहुत साल पहले आप के नाम कर दिये थे, बस! आपको बताया ही नहीं था. इस कहानी में आपको मेरे पहले सेक्स कहानी बड़ी भाभी के साथ चुदाई की पढ़ने को मिलेगी, इसलिए आप अपने लंड को थाम कर तैयार रहिए.

बाद में अंकल सोसाइटी के चेयरमैन बन गए, फिर तो शाम को सेक्युरिटी को किसी काम के लिए बाहर भेज कर पार्किंग के पास एक बंद कमरे में हमारा चुदाई का कार्यक्रम चलने लगा. वह गुस्से में बोली- थोड़ी देर रुक नहीं सकते हो क्या?मैंने कहा- कुछ नहीं कर रहा. लेकिन मैंने धीरे धीरे स्पीड बढ़ा दी और एक टाइम ऐसा आया कि उसका सारा दर्द गायब हो गया.

जीभ से चाट कर जीजा ने मेरा पानी तो निकाल दिया लेकिन लंड की चुदाई की प्यास तो लंड ही बुझा सकता है. दोनों मिलते ही काफ़ी घुल मिल गए और अपने कॉलेज और पढ़ाई की बातें करने लगे. बगल में सोये दूसरे लोगों के उठने का भी डर था क्योंकि मां तो सुबह में जल्दी ही उठ जाती थी.

कुछ देर बाद मैंने फिर से छत पर जा के देखा कि मेरी पैंटी उधर नहीं थी. थोड़ी देर ज़ोर ज़ोर से धक्का देते देते उसने अपना वीर्य चूत के अन्दर छोड़ दिया.

इस कहानी में बताया गया है कि परिवार में शारिरिक बनावट और सेक्स वंशानुगत होता है.

मेरा भी निकलने वाला था, नीचे से झटके मारते हुए मैं उसकी चूत में ही झड़ गया. सेक्सी विडीयो मारवाड़ी”मतलब?”उपिंदर का बड़ा मन है तेरी माँ को गर्भवती करने का!”हाय राम!”घबरा मत, एक बार वो प्रेग्नेंट हो जाए, फिर सफाई करवा देंगे. छोटे-छोटे बच्चों वाली सेक्सी”सच में नीतू दो दिन में बहुत अच्छा सीख गई हो, तुम्हें तो इनाम मिलना चाहिए. ”मेरी बात पर पहले तो वह खिलखिला कर हंसने लगी और फिर किसी नव-विवाहिता की तरह लजा गई।एक बात बोलूँ?”हाँ … श्योर?”मिसेज माथुर ने भी फिगर बहुत अच्छा मेन्टेन किया हुआ है?” उसने मेरी आँखों में झांकते हुए कहा।तेज साँसों के साथ उसकी आँखों में लाल डोरे से तैरने लगे थे और कानों की लोब और उसका ऊपरी हिस्सा तो जैसे रक्तिम हो चला था।ओह … हाँ … थैंक यू मिसेज बनर्जी.

तभी मैंने अपनी जीभ उसकी चूत की दरार में डाल दी और उसकी चूत चाटने लगा.

मैंने फटाक से उनका पजामा नीचे सरका दिया और उन्हें मेरी तरफ मोड़ दिया और उनकी चूची चूसने लगा. डॉक्टर के जाने के बाद सारा मेरे ऊपर आ गयी और मैंने उसे चोदा उसके बाद उसके अंदर पानी छोड़ा और तीनों सो गए. क्योंकि तीसरी बार क़ुबूल है कहते ही अगले एक झटका दे मारा और पूरे लंड को गटक गई.

प्रिंसीपल सर ने कहा कि वे अपने दोस्त से इस बारे में बात करके देखेंगे. फिर कुछ देर टीवी देखने के बाद मां बोलीं- चलिए मैं खाना लगाती हूँ … नौ बज गए हैं. मेरे प्रिय दोस्तो, मैं फिर से हाजिर हूं अपनी सेक्सी कहानी का अगला भाग लेकर।अभी तक आपने पढ़ा कि मैंने और सुमन ने पंचमढ़ी के होटल के कमरे में चूत और गांड की चुदाई का कितना मजा लिया.

2020 के नए सेक्सी वीडियो

मुस्कान बोली- इनकी फुदियों में लंड डाल दो, नहीं तो ये ऐसे ही बक बक करती रहेंगी दोनों!मोनू बोला- फुदियों में नहीं, फिर तो इनके मुंह में लौड़े देने पड़ेंगे. नाश्ता करके जीजू ऑफिस के लिए तैयार होने के लिए अपने रूम में चले गए और दीदी किचन में कुछ काम करने लगी. जब मुझे लगा कि वो फुल गर्म हो गयी है तो मैंने उसको किचन की टेबल पर बैठाया और उसके सामने खड़ा होकर अपना लंड उसकी चूत पर सेट कर दिया.

उनको हम तीनों के रिश्ते के बारे में ना वो जानती हैं और ना मैंने उन्हें बताया है.

एक तो रिया की गांड में नैचुरल मक्खन जैसा टेक्सचर था और अब खीर उसमें क़यामत ढहा रही थी।वो बोला- पता है तुम्हारी गांड लाखों में एक है.

वह फिर से कुछ चिढ़ गई … शायद उसकी शादी शुदा होने की बात इस वक्त उसे नहीं सुननी थी. मैंने देखा कि भाभी अपनी गांड में लंड लग जाने के बाद भी कोई हरकत नहीं कर रही हैं, तो मैंने अपना लंड उनकी गांड में और अन्दर पेलने लगा. अनुष्का शेट्टी सेक्सी बीपीमैंने दर्द से बिलबिलाते हुए कहा- जानू बहुत दर्द हो रहा है … बाहर निकाल लो प्लीज़.

तो मैंने भी एक तेज धक्का लगाया और मेरा लंड उसकी फुद्दी में अन्दर चला गया. ” ऐसा बोलकर अंकल मेरी टांगों के बीच बैठ गए और मेरी चुत की पंखुड़ियों पर एक किस किया. मैंने फोन में मेसेज और फोटो देखी तो …अब आगे की कॉलेज गर्ल सेक्सी कहानी:मैं बंगलुरु ट्रेनिंग के प्रोग्राम के बारे में सोचने लगा। साली यह किस्मत भी अजीब है जिन्दगी झंड हो गई है। एक बेचारा दिल और चार राहें। अजीब इत्तेफाक है चारों दिल फरेब हसीनाएं सामने खड़ी MPK(मुझे प्यार करो) बोल कर जैसे ललचा रही हैं।मैं अभी अपने ख्यालों में खोया हुआ ही था कि मोबाइल की घंटी बजी.

मीता- हम्म … पर …मैं- देखो … मुझे पता है कि तुम मेरे घर क्यों आ रही हो … और वहां क्या करोगी. इसलिए सबूत रखने के लिए मैंने तुरंत ही अपना छोटा सा कैमरा उठाया और उसकी फोटो लेनी चाही.

इसी आनंद का लुत्फ उठाते हुए मैं उसकी योनि में ही झड़ने लगा और सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ने के बाद उसके ऊपर लेट गया।दो मिनट तक लेटे रहने के बाद हम दोनों उठे और एक-दूसरे को किस किया। काफी देर हो गई थी और खेत में किसी के आने का भी डर था.

उनके जाने के बाद अब मेरे मामा के घर पर मेरी मामी, उनकी बड़ी बेटी मनीषा और उससे छोटी बेटी जागृति व सबसे छोटा बेटा मनोज रहते थे. जिसमें से एक में रसोई घर है और दूसरा कमरा बाकी सभी रहने सोने खाने के काम में आता है. मैंने अपने उतारे हुए गीले कपड़े पॉलिथीन में लपेट कर सूटकेस में रखे, जूते पहने, आकर टेबल पर से अपना कॉफ़ी का मग क़ाबू किया और वसुन्धरा के सामने वाले सोफा-चेयर पर बैठ गया.

सेक्सी वीडियो बिहार का लड़की इसके बाद उसने लंड चूत के मुँह पर सटाया और हल्के से अपना लंड मेरी चुत पर रगड़ने लगा. तो उसने बोला- सर आप भी साथ में चलिए न?मैंने बताया- नहीं आप जाइए, मैं आज टिफिन नहीं लाया.

कुछ पल बाद जब उसने मेरे होंठ छोड़े, तो मैंने उसे पलट कर अपने नीचे कर लिया और मैं उसके ऊपर आके उसकी गर्दन को चूमने लगा. काफी सारा थूक अपनी हथेली पर लगाकर मैंने उसकी गांड के छेद को चिकना कर दिया. ये सुन कर सहेली के पापा ने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और मैं मादक सिसकारियां भरने लगी.

सेक्सी सेक्सी बुर

वो मेरे दर्द को समझ तो रहा था लेकिन वो इस बात को जानता था कि एक बार लंड के एडजस्ट होते ही दर्द खत्म हो जाएगा. फिर नम्रता ने खड़े होते हुए और कुछ कदम पीछे होकर अपने दोनों हाथ और पैरों को फैलाते हुए कहा- मेरी जान तुम्हें भी मेरी चूत देखने की तमन्ना थी, लो जी भर के देख लो. इसलिए उसका क्लेम पास होने के बाद उसने मुझे बहुत बार फ़ोन करके धन्यवाद दिया.

अगले कुछ ही मिनटों के बाद हम बेड पर एक दूसरे के जिस्मों को चुदाई का मजा दे रहे थे. ना वो कभी मुझसे पूछती हैं … और ना ही कभी संजना या शीना के सामने यह बातें कहती हैं.

मैं सोच रहा था कि ये रोएगी और बोलेगी अब मैं तुम्हारे साथ नहीं आऊंगी, पर इसको तो मजा आ रहा है.

काफी सारा थूक अपनी हथेली पर लगाकर मैंने उसकी गांड के छेद को चिकना कर दिया. गिलास भर कर उसे रिया के हाथ में दे दिया और बोला- ये ले रंडी, पी ले इस अमृत को सारा, तेरा सारा खाना हजम हो जायेगा. जब मैं अंदर गया तो पूनम पोछा लगा रही थी और उसके शर्ट से उसके चूचे आधे बाहर आये हुए थे.

थोड़ी देर बाद जब होश आया, तो अंकल नैपकिन गर्म पानी में गर्म कर कर के मेरी चुत की सिकाई कर रहे थे. मैंने आनन्द के भंवर में खुद को खो जाने दिया और खुद को हीना के हवाले कर दिया. वह बात करके तो आ गया मगर उसने आकर मुझे कुछ भी नहीं बताया कि आखिर डॉक्टर से उसकी क्या बात हुई.

श्लोक तो मेरा भाई था लेकिन सच कहो तो तुम्हारे साथ मुझे ऐसा आनंद आया था जैसे कि तुम मेरे आशिक हो और मैं तुम्हारी प्रेमिका।इतना कहकर रीना ने अपने होंठ मेरे होंठों पर दबा दिए।कहानी अगले भाग में जारी रहेगी.

बीएफ एक्स एक्स एक्स मराठी: सर्र सर्र सर्र की मधुर ध्वनि करता हुआ रानी का चूतामृत मेरे मुंह से होता हुआ गले के नीचे जा रहा था. गहरे नीले रंग की इस पैंटी और ब्रा में अदिति काम की देवी लग रही थी, जिसको देख के कोई भी अपने आप पर से कंट्रोल खो देगा.

मुझे कुछ दाल में काला लगा कि दीदी मेरे पति के साथ अकेली किचन में क्या काम कर रही है. जब मैं पहुंचा तो रंजना पहले से ही अरहर के पौधों के बीच में खड़ी हुई मेरा इंतजार कर रही थी. थोड़ी देर तक दोनों एक दूसरे के होंठ चूसते रहे और एक-दूसरे के मुँह के अन्दर अपनी-अपनी जीभ डालकर अन्दर घुमाते रहे.

उस दिन उसने जीन्स टी-शर्ट पहनी हुई थी और मैंने पीला सूट डाला हुआ था.

तो आते हैं दर्द भरी चुदाई की कहानी पर!थोड़ी देर पार्क में बैठने के बाद मैंने उसका हाथ पकड़ कर अपने हाथ के ऊपर रख दिया और उसे धीरे-धीरे रगड़ने लगा. क्या चिकनी चूत थी दोस्त … मस्त मुलायम डबल रोटी की तरह फूली हुई चूत मेरे लंड को आतंकवादी बनाने पर तुली हुई थी. ऐसे ही एक लोकल गे डेटिंग साइट के जरिये मेरी बात एक लड़के से शुरू हुई.