दिल्ली के हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,लड़का के सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी सनी लियोन की: दिल्ली के हिंदी बीएफ, उसने मुझसे कहा- प्लीज थोड़ा धीरे धीरे करना, मुझे बहुत दर्द होगा क्योंकि तुम्हारा यह बहुत लम्बा और बहुत मोटा भी है.

हिंदी सेक्सी गंदी बातें

वो ड्रेस मेरे ही नीचे थी और अवी मुझ पर उसी तरह पैर रख कर और हाथ रख कर लेटा था. सेक्सी ब्लू फिल्म हिंदी साड़ी वालीभाभी की फिर से एक जोरदार चीख निकल गई और भाभी की दर्द के कारण दोनों आँखें ही बाहर को आ गई थीं.

मैंने चचा जान की तरफ देख कर मना करना चाहा, पर मैं कुछ कहती उससे पहले चचा जान ने मेरे होंठों को अपने होंठों में भर के लिप लॉक कर लिया. बंगाली सेक्सी वाली सेक्सीमेरी इच्छा तो उसे हवा में उठा कर फ्लाइंग पोज़ में चोदने की थी लेकिन एड्रिआना की हाइट और वजन काफी था, जो मुमकिन नहीं था.

उसने अब अपनी एक और उंगली बहन की चूत में डाल दी और जोर जोर से अन्दर बाहर करते हुए अपनी उंगलियों से ही बहन की चूत की चुदाई करने लगा.दिल्ली के हिंदी बीएफ: थोड़ी देर बाद उनका लड़का पीछे जाकर दोस्तो में दारू पीने लगा और वहीं मस्त हो गया.

कहा और शाम के 7 बजे तक अपनी उस दिन की क्लाइंट्स को सर्विस दी फिर करीब 06:30 पर मैं अपनी बाइक लेकर सिमरन के घर के लिये निकल लिया.उसको बड़ी मुश्किल से काम के बारे में मनाया और अपने ऑफिस में उसको आने का न्यौता दिया ताकि कुछ और बातें हो सके और वो भी हमारे ऑफिस को देख ले.

नौकरानी मालिक सेक्सी वीडियो - दिल्ली के हिंदी बीएफ

दोस्तो, मेरी पिछली कहानीगर्लफ्रेंड की अदला बदली करके चुदाई की तमन्नाआप लोगों ने पसंद की उसका बहुत बहुत शुक्रिया.फिर वो 9 बजे स्टैंड पर मिली, मैं उसे लेकर कुछ दूरी पर नहर के किनारे एक अरहर के खेत में ले गया.

मैंने कहा- हां भाभी, अभी शिवानी की चूत में अपना लंड डाल कर उन्हें चोद कर आया हूँ. दिल्ली के हिंदी बीएफ जब मैं अपने गेट पर गया तब उन्होंने अपनी खिड़की से मुझे एक फ्लाइंग किस किया और होंठ हिला कर ‘आई लव यू.

फिर मैंने देखा कि वही लड़का जो मेरी मॉम से स्टेज पर चिपक कर डांस कर रहा था, मॉम को मिला और दोनों ने एक दूसरे को किस किया.

दिल्ली के हिंदी बीएफ?

मैंने अन्नू भाभी से पूछा- तुम थक तो नहीं गईं जान?अन्नू भाभी बोलीं- आज इतना मजा आ रहा है. पर मुझे स्लो मोशन में मज़ा नहीं आ रहा था तो मेरे दिमाग़ में एक आइडिया आया और मैंने एक बार फिर से जोश दिखाया और अपना लंड बाहर निकाला और पायल को गोद में उठाकर सीधा टेबल पर लेटा दिया. उन्हें दर्द भी हो रहा था मगर मैंने उनकी चिंता नहीं की और एक ही झटके से पूरा डंडा उसकी गांड में डाल कर रुक गया.

अपनी फ्रेंड दिव्या के ब्वॉयफ्रेंड ने मुझे गले लगने के एवज में महंगी ड्रेस गिफ्ट में देना तय की. उसका ड्रेस मैंने निकाल कर तौलिया में लपेट लिया ताकि चिपचिपा वाला भाग दिख ना जाए. दोस्तो, मेरी गांड चुदाई की कहानी की कल्पना पर अपने कमेंट्स कीजिएगा.

अब शिशिर मेरे गालों को चूमते हुए मेरी चुत के घने बालों को सहला रहा था और सलमा सुनील के लंड को सहला रही थी. आखिर जब रूचि से रहा नहीं गया तो वो बोली- चलो, अब बाकी का काम बेडरूम में करते हैं. फिर रश्मि भाभी कहने लगी- तुम्हारे बड़े लैंड की सोच कर ही मेरी चूत पानी पानी हुई जा रही है, मुझे तेरे लंड से चुत चुदाई करवानी है.

मैंने उसकी कमर पकड़ी और जोरदार धक्का लगाते हुए अपना लंड उसकी गांड की जड़ में पहुंचा दिया. कभी पिंकी को चोदता, तो रेखा से अपना लंड चुसवाता और रेखा की चुदाई करता तो पिंकी से अपना लंड चुसवाता.

जब मैंने उसे हिलाया तो वह बोली कि मैंने पहली बार किसी का लंड देखा है.

खैर हमने उसे समझाया लेकिन उसके चेहरे मुझे समझ आ गया कि वो असली कहानी समझ चुकी है.

विवेक मुझे अपने एक दोस्त के घर ले गया, उसने अपने दोस्त को फोन कर दिया कि हम पहुँचने ही वाले हैं. विवेक के दोस्त ने हमें सोफे पर बैठने को कहा, तो मैं और विवेक वहीं बैठ गए. 10 मिनट बाद मैं झड़ने लगी, तो मैंने अपने भाई के पीठ में नाखून गड़ा दिए और उसके सीने में अपने दांत से काट दिया.

शुरुआत में उनके होंठ घबराहट के थरथरा रहे थे; शायद वो थोड़ा नर्वस थीं. जब उन लोगों में मुझे उकसाया तो मैंने गुस्से से कह दिया कि ‘भूत की माँ की चूत. अब मैंने धीरे धीरे धक्के मारने शुरू किए और मैं अपने हाथों से कभी उनके मम्मों को तो कभी उनकी बालों को चूमता हुआ उनके मस्त शरीर से खेल रहा था.

और मैंने जैसे ही धक्का लगाया लंड फिसल गया, क्योंकि चूत टाइट थी और मेरे लंड का टोपा फूल कर मोटा हो गया था.

फिर कुछ देर बाद मैंने दीदी की ज़ुबान को छोड़ दिया और अपनी ज़ुबान को दीदी के मुँह में घुसा दिया और दीदी एक मुँह में अपनी ज़ुबान को हर तरफ हर कोने में घुमाने लगा मेरी ज़ुबान दीदी के मुँह के अंदर दीदी की ज़ुबान से हल्की हल्की नोक झोंक करने लगी. अब मेरा लंड पूरी तरह से टाइट हो चुका था जो सलवार के ऊपर से ही अप्पी की गांड में घुसना चाह रहा था. वो वैसे भी बहुत गुस्से वाली हैं, बस इस वजह से कभी अधिक हिम्मत नहीं होती थी.

पायल भाभी बुरी तरह से काँप रही थीं और खुद को मुझसे छुड़ाने की कोशिश कर रही थीं, पर वो इतना थक चुकी थी कि बस चिल्लाने और रोने के अलावा कुछ नहीं कर पा रही थीं. जब तक मेरी भाभी मेरे साथ सेक्स नहीं करती, तब तक सारी भाभियां मेरे उस लंड को याद करके अपने हाथ से काम चलाओ जो वास्तव में लोहे की रॉड की तरह चूत का भेदन करता है. माया मन में सोचने लगी कि साले का लंड मतलब का हुआ तो ही इसको घास डालूंगी वरना इसने मुझसे पंगा लिया तो इस हरामी को ऐसा सबक सिखाऊंगी कि साला अपनी बीवी को भी आँख उठा के नहीं देख पाएगा.

यह जो सेक्सी स्टोरी मैं आपको बताने जा रहा हूँ, यह बात लगभग एक साल पहले की है, जब मैं इंजीनियरिंग के प्रथम वर्ष में था.

वो चूत चुदाने को इतनी प्यासी थीं कि उनको पता ही नहीं चला कि मैं ही आवाज बदल कर बात कर रहा हूँ. कुछ अच्छे लोग भी होते हैं। और बुरे लोगों को उनके किये की सजा भी मिल ही जाती है।छोटी अचानक हंसने लगी- सजा.

दिल्ली के हिंदी बीएफ अब एड्रिआना ने मुझे बिस्तर पर धकेला और मेरे कपड़े मेरे जिस्म से आजाद करने लगी. मैंने बातों बातों में उससे पूछा तो उसने बताया कि वो वलसाड से अहमदाबाद अभी आई थी.

दिल्ली के हिंदी बीएफ करीब 5 मिनट तक हम ऐसे ही किस करते रहे, उसके बाद विवेक ने अपनी पेंट खोल कर अंडरवियर नीचे कर दिया. उसने जैसे ही कदम जाने के लिए बढ़ाया, अमित ने माया का हाथ पकड़ लिया और झट से उसका पल्लू कंधे पे से नीचे खींच लिया.

फिर मेरी सास ने मेरे मुँह में अपना मुँह दे दिया और हम दोनों ने रिया का रस पी लिया.

खेत वाली सेक्स वीडियो

सविता ने ब्रा के ऊपर से निप्पल मसले तो मेघा के मुँह से सीत्कार निकल गई. मैंने जब से मामी को देखा है, तब से लेकर मामी को चोदने तक रोज उसके नाम की मुठ मारी है. परन्तु इस पर नियन्त्रण के कारण यह लोगों की सोच के केंद्र में आ गया है। जैसे इंसान को भूख लगती है, वैसे ही सेक्स की जरूरत महसूस होती है.

दोनों लड़कियाँ एक रोल प्ले कर रही है, स्वाति ऑफिस में बॉस और उसकी सेक्रेट्री बनी है निकिता…बॉस स्वाति अपनी सेक्रेटरी निकिता को मासिक हिसाब किताब की फाईल लेकर आने के लिए कहती है. क्या नाम है तुम्हारा बेबी?” उसने मेरा मिनी स्कर्ट ऊपर करके, मेरे नन्हे सफ़ेद चूतड़ों को अपने अंगूठी से भरे हाथ से सहलाते हुए कहा. फिर मैंने उसको टेबल से उतार कर टेबल को ही सटा कर घोड़ी बनाया और चोदा.

सच में माया मुझे तुम सब कुछ देने को तैयार हो?”अमित के बात करने के तरीके से माया को सब समझ आ गया कि ये चोदने के चक्कर में है लेकिन इस वक्त उसे वो फाइल चाहिए थी जो कि कंपनी के लिए बहुत महत्वपूर्ण थी.

और दूसरी कहानी में कैसे मेरे अपने अब्बू ने मुझे पूरी रात अपने बिस्तर में मेरी चुदाई करी।अब चलते है आगे की कहानी पर:2 दिन बाद अम्मी घर में नहीं थी, उस दिन कोई कारीगर भी काम पर नहीं आये थे, मैं नहा कर निकली तो मैंने बिना ब्रा पैंटी के बिना ऐसे ही गाउन अपने पूरे नंगे जिस्म पर डाल लिया था. पापाजी नमस्ते, कैसे हैं आप?”आशीर्वाद, मैं बिल्कुल ठीक हूं अदिति बेटा, तू कैसी है?”मैं भी ठीक से हूं पापा जी!”बेटा, रानी कह रही थी कि तुझे मुझसे कोई बात करनी है?” मैंने कहा. फिर मीतू ने मेरे कपड़े उतारे और मुझे लिप किस करने लगी, फिर मैंने उसे बेड पे खड़ा किया और पूरे शरीर पे चूमना शुरू किया, जैसे गर्दन पे, नाभि, कान, पेट!दोस्तो, ये सब करना बहुत जरूरी है, अगर आप कुंवारी चुत चोदने जा रहे हो तो!मैं अब अपनी एक उंगली से उस की चुत को रगड़ रहा था.

मेरा करीब एक तिहाई लंड चूत में घुस गया, जिससे पूनम को बहुत तेज़ दर्द हुआ और ‘आआऐय्य. वो बोली- बेबी आराम से… आज रात मैं तुम्हारी ही हूँ!मैंने ज़ोर का धक्का मारा और आधा लंड अंदर हो गया, अप्पी की तो चीख ही निकल गयी! फिर मैं धीरे धीरे अंदर बाहर करता रहा. तभी अंकल लोगों ने मेरी लैगी को नीचे उतार दिया और पैन्टी भी… पैंटी जैसे नीचे उतार रहे थे कि सुरेश अंकल पैंटी को चाटने लगे और बोले-साली की चूत बह रही है, देखो कितनी चुदासी है! तीनों बहुत दारु पिये हुए थे दारू की बहुत बदबू आ रही थी.

फिर मैंने उसको टेबल से उतार कर टेबल को ही सटा कर घोड़ी बनाया और चोदा. चुत का रस पीने के बाद भी मैं भाभी की चूत को चाटता रहा, इससे भाभी फिर से गरम हो गईं.

मैं जल्दी से फ्रीज़ में से बर्फ लेकर आया और उसके मम्मों पे धीरे लगाने लगा. मैंने उंगली को बाहर निकाला और अपने मुँह में भर के थूक लगा लिया और वापिस गांड में घुसा दिया, मेरी उंगली फिसल कर गांड में चली तो गई लेकिन दीदी की गांड बहुत टाइट थी और दीदी की टाइट गांड ने मेरी उंगली को जकड़ लिया था फिर भी उंगली थूक से चिकनी होने की वजह से हल्की हल्की अंदर बाहर होने लगी थी. उम्म्ह!पर अब मुझे विवेक का लंड लेने की आदत पड़ गई थी, तो दर्द भी कम होता था.

मैंने आपको बताया था कि ये हम दोनों का ही पहली बार था, हम दोनों ही नये थे और हमें नहीं पता था कि कैसे करना है.

मेरा दोस्त रात को लंड पेल कर जल्दी झड़ गया था, इसलिए मेरी गांड प्यासी रह गई थी. फिर मैं आहिस्ता आहिस्ता अपने एक हाथ को भाभी की चूत के ऊपर ले गया और पेंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को सहलाने लगा. इस पर अवनी बोली- सच में?मैं बोला- आजमा कर देख लो!इस पर अवनी मुस्कुराने लगी।मैंने पूछा- कब किया था सेक्स तुमने?अवनी- दो साल पहले।मैं- यार, इतनी कम साल में चुदवा ली, बड़ी सेक्सी हो तुम!इस पर वो मुस्कुरायी।अवनी अभी स्कर्ट पहने थी और ऊपर टॉप। वो बेड पर बैठी थी और मैं उसके सामने चेयर पर। मैं उसकी आँखों में आँखें डाले उसे लगातार देखने लगा.

परंतु वो नहीं डरी और कहने लगी- डरो मत मेरी जान, आज तुमने अपनी बहन की सील खोल दी है. फ़िर वो रात को 11 बजे आई और एक लंबी सी सिसकारी लेते हुए मेरे गले से लग गई.

कद भी अच्छा लगभग 5 फीट 4 इंच का तो होगा ही… वो भी अपने कुत्ते को ले कर घूमने आती थी. जब वो मेरे चेहरे के एकदम करीब हो कर मुझे मदद सी करने की एक्टिंग कर रही थी तो मैंने उससे कहा- क्या इरादा है?उसने मुस्कुरा कर कहा- इरादा तो नेक है, दिल तो बहुत करता है, पर कोई मिलता ही नहीं है और डर भी लगता है. उसका पिंक कलर का 1 सेंटीमीटर का निप्पल खड़ा हुआ निप्पल देख कर तो मैं पागल हो गया और मुँह में लेकर उसे चूसने लगा.

फिशर क्या है

दीपिका को भी मजा आ रहा था- आह… हराम की औलाद बस इतना ही दम है तेरे में? एक चूत का पानी नहीं झाड़ सकता… आह… आह!दीपिका की बातों ने अपना असर दिखाया और केविन ने और तेज़ी से चुदाई शुरू कर दी.

मैं इस साईट पर नई हूँ, मैंने अभी कुछ दिन पहले से ही यहाँ एडल्ट स्टोरीज पढ़ना शुरू किया है. https://thumb-v3.xhcdn.com/a/hFL8FIv1Wu-gLjAbeCoqEA/011/125/053/526x298.t.webm. मैं- अच्छा अच्छा बोलो क्या करना होगा?महेश- अभी नहीं… छुट्टी के बाद ओके.

धीरे धीरे रात होने लगी, सब शादी की तैयारी करने लगे और मैं इस तलाश में था कि मॉम की चुदाई कैसे करूं. मैंने अपने दोनों हाथों से उसके दोनों नितम्बों को खोलते हुए उसकी गांड के छेद के दोनों दरवाज़ों खोला, वो थोड़ा सा खुला. सेक्सी चुदाई सेक्सी सेक्सी चुदाईरमेश, सुरेश और काजल के लिए मयूरी का ये व्यवहार समझ के एकदम बाहर था.

मेरी बीवी ब्लू फ़िल्म का नाम सुन कर चिढ़ जाती थी, आज वो ही देख रही थी. लेकिन मेरी मॉम 15 मिनट तक नहीं आई तो मैं सोचने लगी कि अब मेरी चालू चुदक्कड़ मॉम किसी और से तो चुदवाने नहीं चली गई.

मैं वहाँ पर अच्छा महसूस नहीं कर रहा था क्योंकि वहाँ बहुत गर्मी थी तो मैंने कहा- चलो अंदर कमरे में चलते हैं. मंजरी कमरे में आई तो पुलकित वैसे ही बेड पर लेटा था, उसका लंड ढीला सा हो कर एक तरफ को लटका पड़ा था और थोड़ा सा वीर्य उसके लंड से उसकी जांघ पर भी चू रहा था. कोई थोड़ी सी भी ज़बरदस्ती दिखाता, तुरंत डरने की एक्टिंग करते हुए चड्डी सरकाती हुई झुक जाती.

मैंने आकाश को बोला- आकाश मैंने तेरा क्या बिगाड़ा था जो तूने मेरे साथ ये सब किया?तब आकाश ने बोला कि तेरा घमण्ड तोड़ने की लिए तेरे साथ ये सब किया. फिर अगली बार डॉगी स्टाइल में चोदा और उनको मेरे ऊपर बैठा कर काफी लम्बे समय तक चुदाई का आनन्द लिया. कहा और शाम के 7 बजे तक अपनी उस दिन की क्लाइंट्स को सर्विस दी फिर करीब 06:30 पर मैं अपनी बाइक लेकर सिमरन के घर के लिये निकल लिया.

हम दोनों इतने मदहोश हो चुके थे कि रिश्ते नाते शर्म हया सब कुछ भूल कर उस पल का आनन्द ले रहे थे.

मैंने उस की गर्दन को दूसरी तरफ से टच करते हुए कहा- इधर से भी पी लूं पानी?उसने हँसते हुए कहा- पी ले, सब तेरा ही तो है. शादी तो दस दिसम्बर की है न!”अदिति बेटा, कोई ऐसी ट्रेन देख न जिसमें छप्पन घंटे लगते हों दिल्ली पहुँचने में!” मैंने कहा.

तब मैंने उसे आगे पढ़ने का सुझाव दिया जिससे मन लगा रहे और इधर उधर की बात में ध्यान ना लगे. अब उसकी चूत से खून निकल रहा था, जो प्रमाण दे रहा था कि हम अब वर्जिन नहीं रहे. जब वो थोड़ी सामान्य हुई तो मैं आगे पीछे होकर उसे धीरे धीरे चोदने लगा.

मैंने पहली बार किसी औरत की चूत देखी, तो मैं दीवाना हो गया और उस पर टूट पड़ा. फिर रिया ने मेरी पैन्टी और सास ने मेरी ब्रा उतार दी, अब हम तीनों एक दूसरे के सामने नंगे थे कि तभी मेरी सास ने मेरी चूत में उंगली पेल दी और मैं चिल्ला उठी- ऊई… यूययू यूयययु ऊफफ आहहह क्या कर रही हो बस्स्स करो न!तभी मेरी सास ने रिया का लंड पकड़ा और कहा- मेरी जान, इतना बड़ा कैसे किया?और चूसने लगी. फिर रिया मेरी सास की चूत चाटने लगी और कुछ देर चूत चाटने के बाद रिया ने अपना लंड मेरी सास की चूत के छेद रखा और जोरदार झटका मारते हुये पूरा लंड सास की चूत में घुसा दिया.

दिल्ली के हिंदी बीएफ बाकी सब लड़के मुझसे एक या दो साल बड़े ही थे, दिखने में सभी स्मार्ट एंड हैंडसम थे. जब मेरी बीवी से अपनी कामुकता बर्दाश्त नहीं हुई तो उसने अमित को गाली देते हुए कहा- मादरचोद, अब घुसा भी दे अपने डंडे को मेरे छेद में!लेकिन अमित अब भी अपना लंड मेरी बीवी की कलित पर और चूत की दरार में ही रगड़ रहा था.

गूगल भाई साहब

मैं होश में नहीं थी, मैंने बोला- आप सब लोग अपनी बीवी बना लो मुझे या रखैल बना लो, मैं रंडी भी बन जाऊंगी तुम्हारी!अंकल ने जोर से लंड डाला और पूरा घुसा दिया. सागर- दीदी बुरा ना मानो तो एक बात कहूँ तुमको?मीना- बोलिए नासागर- तुम बाहर कोई ब्वॉयफ्रेंड क्यों नहीं रखती हो. मैं भाभी की कमर और पीठ को चूमते हुए मैंने अपने मुँह से ही उनकी ब्रा के हुक़ खोल दिए.

मैं भी झड़ने लगा और उनकी चुत में अपना लंड डाले हुए ही उन पर निढाल सा होकर लेट गया. अब उसने सोफे पर लेट कर मुझे चूत में लंड डालने का इशारा किया और कहा- आराम से डालना… बहुत बड़ा है!मैं उसकी टांगों के बीच में आ गया और चूत को मस्त डॉगी स्टाइल से चाटा, जिससे वो मस्ती में आ कर कराहने लगी और चुदासी सी बोली- और मत तड़पाओ यार… जल्दी से डाल दो. सेक्सी वीडियो जोधपुर कामैंने उसे ज़ोर से पकड़ा और दूसरा धक्का लगाया, लंड उसकी बुर में जा चुका था और वो जैसे बेहोश सी हो गयी और मुझे अपने से दूर धकेलने लगी.

वो मुझे देख कर बोली- क्या दीदी मुझे सच में लंड लेने की जरूरत है?मैं बोली- हां तुझे चुदवाना ही पड़ेगा.

मैं धीरे धीरे उसके कपड़े उतारने लगा अब वो बस ब्रा और पेंटी में ही थी. अंकित के झुकने से उसके लंड के ऊपर का हिस्सा माया की चूत के दाने को रगड़ने लगा.

दीदी ने मुझे नहीं रोका तो फ़िर मैं दीदी की चुची को दबाने लगा। दीदी दिखावे के लिए मेरे हाथ हटाने लगी लेकिन मैंने दीदी को पकड़ा और उसके स्तनों को दबाने लगा।वो मदहोश होने लगी। मैं दीदी के नंगे पेट पर भी हाथ फिराने लगा।दीदी की कामुकता जागृत होने लगी. तो उषा काकी के पति ने कहा- अरे आप बेझिझक इसे हमारे यहाँ भेज दो, बच्चे भी उसी वक्त में 6 दिनों की ट्रिप पर जा रहे हैं और मेरा भी नाइट शिफ्ट रहेगा तो उषा को कंपनी मिल जाएगी. नताशा ओमार और मोलेट के बीच जकड़ी हुई किसी नन्ही सी राजकुमारी के समान खिलखिला रही थी.

” कहते हुए ब्रायन ने मेरी मम्मी के चेहरे को पकड़कर उनके मुँह में अपना लंड दे दिया.

अब तो हम दोनों उससे बिल्कुल सट गयी और फिर से गिड़गिड़ाने लगी- सर, आप जो कुछ बोलो वो हम करेंगी मगर थाने नहीं जाना है सर!दो हॉट सी लड़किया चिपकने के बाद कौन नहीं पिघलेगा?और वैसे ही हुआ. फिर वो उठकर बाथरूम जाने के लिये बैड से उतरने को हुई लेकिन उससे उतरा न गया क्योंकि उसकी चूत कई जगह से कट फट गई थी तो मैं उसे गोद में उठाकर बाथरूम तक ले गया और उसकी चूत को मैंने अंदर तक उंगली डाल कर गरम पानी से साफ की और फिर अपने लंड को साफ किया।उसके बाद गीतांजलि और सिमरन ने नंगी रह कर ही खाना बनाया और हम तीनों ने नंगे ही खाना खाया. मैंने तो अभी बारहवीं पास की है, पढ़ने के लिए माँ के साथ आ गए। हमारे साथ हमारा भाई भी आया है.

हिंदी सेक्सी भेजो सेक्सीमैंने देखा कि मम्मी ने अपनी साड़ी घुटनों तक ऊपर कर रखी थी और अब उस नीग्रो के होंठ चूस रही थीं और ब्रायन एक हाथ से मम्मी की मोटी मोटी जांघें सहला रहा था. पहले वहाँ पर दूसरी लड़की थी पर अब मुझे नई लड़की से मिलना था, उसका नाम सोनी था.

करवा चौथ की कहानियां

मैंने ब्रा के ऊपर से ही मम्मों को किस किया और हाथ नीचे करके चूत पे उंगली लगाना शुरू किया… तो देखा चूत गीली हो चुकी थी. वो मज़े से लंड ले रही थी, मैंने थोड़ा स्पीड बढ़ा दी, वो और सेक्सी आवाजें निकालने लगी. मेरे मुँह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकल गई कि तभी सास बाथरूम से निकल आई और बोली कि मैं भी हूँ.

पापा ने मुझसे कहा कि मिनी तुम कल बंगलौर जा रही हो अपने भैया के पास. अब उन सर ने कस के मेरी कमर को पकड़ा, मैं इतनी छोटी थी कि मेरी कमर उनके दोनों हाथ में आ गई थी. मैंने उससे कहा- मैं तुमसे मिलना चाहता हूं!उसने मेरी इस बात को इग्नोर किया.

मैं बहुत इंजवाय करने लगी, क्या मस्त खुशबू थी उनके लंड की!सुरेश अंकल बोले- अपन तीनों पूरे नंगे हो जायें, तब और जबरदस्त मजा आयेगा अपने को भी, आरती को भी!तीनों ने झट से अपने कपड़े और अंडरवियर उतारे और मेरे नंगे बदन से लिपट गये. कुछ देर बाद हम दोनों 69 पोजीशन में आ गए, मैंने पहले अंजलि की चूत पर पैंटी के ऊपर से ही किस किया, उसमें से हल्की सी खुशबू आ रही थी जो मुझे उत्तेजित करने के लिए काफी थी. अब मैंने घर से ब्लू कलर का टॉप और ब्लैक कलर की फुल स्कर्ट पहनी हुई थी.

चचा जान मेरे होंठ गाल कान और गरदन पे बेतहाशा चूम रहे थे और अपनी दो उंगलियां मेरी रस भरी गीली चुत में अन्दर बाहर कर रहे थे. दस बारह मिनट की मिशनरी पोजीशन की चुदाई के बाद मेरे दोस्त में मेरी बीवी को घोड़ी बनाने को कहा.

भाभी दिखने में तो किसी हिन्दी फिल्म की नायिका से कम नहीं लगती थीं, मैं हमेशा से उन पर नज़र रखता था.

उसने मुझे गालों पर किस किया और फिर मैंने उसको बांहों में लेक़र उसके होंठों पर किस किया. बाया सेक्सी व्हिडिओमैं रात को मामी के घर पहुंचा, मामी मुझे देख कर बहुत खुश हुईं, उन्होंने दरवाजे पे ही मुझे किस कर दिया. देहाती लड़की का सेक्सीदोपहर को जब मैं वापस आया तो मैंने देखा कि घर पर अन्नू भाभी जी नहीं हैं और भैया जी किसी लड़की को लेकर आये हुए थे. सिर्फ एक 25-26 साल की लड़की के जो एक रेड कलर की साड़ी में थी, जो बहुत ही कमाल लग रही थी, जिसे देखकर मेरा लंड जीन्स में खड़ा हो गया, मतलब मेरा मन उसे चोदने को करने लगा.

फिर मैंने उसे लिटाया और उसकी चूत पर लंड का टोपा रखा और जोर लगाया, वो पूरी तरह से कुँवारी थी तो उसे थोड़ा दर्द हुआ.

मैं कभी कभी रात को चोरी छुपे खिड़की से झांक कर मॉम डैड की चुदाई भी देख लेता था. अगर पैसे लेकर करने देती तो मैं दे देता, जितना वो लेती पर वो तुम्हारी सहेली है और सीधी भी है. जब भी जाती भाभी के पास… तो मैं उनकी सेक्स भारी बातें सुनने की कोशिश करती, वो कहती- तू सीधी सादी है री… अभी तेरा वक्त नहीं आया ये बातें सुनने का!यह कह कर भगा देती.

मैं उसके घूरने पर मुस्कुराती हुई बर्थ से उठी तो वह फ़ौरन मेरे पास आया और मुझसे चिपक कर मुझे बोसे देने लगा. मैंने बिना टाइम गंवाते हुए उसकी लैगी खींच कर उतार दी और उसकी चूत में उंगली डाल दी. उसकी भाभी से मेरी पहली ही मुलाकात थी तो मैंने उनसे बात की कि मुझे कुछ देर के लिए जूही से बात करनी है.

सेक्स मूवीस पिक्चर

कुछ मिनट के बाद हम पसीने से नहा चुके थे और मेरा लंड का काम होने वाला था, मैंने कहा- मेरा होने वाला है. फिर उन्होंने मेरी आने सर को नीचे की और मेरी गर्म चूत में अपनी जीभ को रख कर बड़ी बेताबी से चूत चाटने लगे. उसने कसके मुझे चिपका लिया, अब उसका लंड मेरे पेट में घुसा जा रहा था और जैसे वो लगातार बड़ा होता जा रहा था.

इस बार चूत पर अपना लंड सैट करके फिर से मैंने एक जोरदार धक्का लगा दिया, जिससे मेरा लंड 3 इंच तक घुस गया.

वो जोर से चिल्लाई- भाभी ये क्या हो रहा है?रश्मि भाभी डर गईं और डर के मारे उन्हें पसीना आ गया.

हम दोनों गए और उन्होंने मुझे दिव्या को अलग बैठा कर कॉपी से लिखवाया, जब तक पूरा पेपर नहीं हो गया. फिर वो 9 बजे स्टैंड पर मिली, मैं उसे लेकर कुछ दूरी पर नहर के किनारे एक अरहर के खेत में ले गया. सेक्सी वीडियो भाभी नंगी‘हम्म…’उन्होंने मुझसे पूछा- क्या तुम ये सब करके देखना चाहोगे?मैं बोला- पर मेरे साथ करेगा कौन? मुझे तो ये सब नहीं आता.

मैं मन में खुश हो गया था कि आज तो वो मौका मिल रहा है, जो मैं कब से ढूँढ रहा था. पर क्या करूँ?तो मामी ने मुझे कहा- मुझे प्यार करता है तो आज भर के कर ले प्यार… ले तेरी मामी आज तेरी है. अमित- यार, तो जो मैंने एक बार कहा था, वो करवा दो ना मेरे लिए!मैं- क्या करवाने का कहा था.

इकलौती होने की वजह से मम्मी डैडी के लाड़ प्यार के कारण मैं बचपन से ही बिगड़ैल हो गई थी. मेरी इच्छा है कि मैं बाथटब में लेटा हुआ हूँ और मेरी भाभी मेरे शरीर पर पीठ करके लेटी हुई हो.

मुझे ये सब नोनवेज कारनामे देख कर मजा आ रहा था, लेकिन पिंकी की वजह से मैं उसे ठीक से नहीं देख पा रहा था.

एक दिन भाभी अपने कमरे में आराम कर थीं तो मैं भी उन के पास चला गया और हँसी मजाक करने लगा. तो फिर मैंने उसके टॉप के अंदर हाथ डाला अचानक से उसने मेरे हाथ को पकड़ लिया और बाहर निकालने की कोशिश करने लगी, वो बोली- मैंने यह सब कभी नहीं किया, तो प्लीज मुझे अभी भी या नहीं करना!पर मुझे तो पता था कि वह साली रंडी है. उसने मन में सोच लिया बाद में उसने आंटी की बड़ी लड़की को देखा तो उसे वो भी भा गई, कुणाल की अन्तर्वासना जग गई.

सेक्सी हिंदी जंगल वाली जो होगा देखा जाएगा।मैंने जाकर देखा कि आंटी बिस्तर पर लेटी हैं और उनका हाथ उनके पेटीकोट में था, शायद वे अपनी उंगली चूत में डाल कर हस्त मैथुन यानी फिंगर फकिंग रही थीं।जब मैं कमरे के अन्दर गया. मैं रेणुका भाभी को सीधा करके उनके मोटे मोटे मम्मों से दूध पीने लगा.

आरजू ‘अहह हह हहहा आहहा आआअ विनीत आआह हहह हहहा आराम से करो!’ बोले जा रही थी. मैं सलमा से बोली- अरे सलमा, तुम क्या हम लोगों को ब्लू फिल्म की तरह देख रही हो? अरे क्यों मजा खराब कर रही हो. मैंने अपने होंठ अप्पी के होंठों से मिला दिए और उनका रस पीने लगा जिस से उसके हाथ की पकड़ ढीली होने लगी और वो पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी!मेरा हाथ तुरंत मेरी बहन की पैन्टी में प्रवेश कर गया, वहां तो पहले से ही सैलाब आया था, उसकी चूत पूरी तरह से भीग चुकी थी और अब तो बस वो चुदने को बिल्कुल तैयार थी! मैंने जैसे ही चूत पे हाथ रखा… क्या बताऊँ यारो, वो फूली हुई गुजिया जैसी चूत थी जिसे मैंने कस कर रगड़ा.

घर परिवार मूवी

अगले दिन हम सबका घूमने जाने का प्लान बना तो सब घूमने निकल गए, नायडू सर भी हमारे साथ थे, मुझे देख कर उन्होंने आंख मार दी और मौका देखकर मेरे चूतड़ दबा दिए। फिर वो भी मेरे साथ मेरे पीछे पीछे चलने लगे और मौका देख कर वो मुझे सबसे बचाते हुए पेड़ों के बीच जंगल से में ले गए. मैं भाभी के सामने शर्मिन्दा सा हो गया और भाभी मुझ पर हंस पड़ीं और कपड़े पहन कऱ चली गईं. मैंने खुद को हल्का नीचे किया, मेरा लंड चूत के ऊपर था, मेरे नीचे होते ही लंड की टोपी चूत में घुस गई और दीदी ने अपना हाथ हटा कर एक तेज आहह भरी सिसकारी निकाली और मैंने भी लंड को थोड़ा और अंदर घुसा दिया लेकिन लंड अंदर नहीं जा रहा था क्योंकि दीदी की चूत मेरे लंड के लिए थोड़ी टाइट थी.

मैंने इस आधार पर सोचा था कि नहीं उनके बीच कुछ नहीं होता है, वो कुछ नहीं करती है. वो मेरे छाती के बालों से खेलती रही और बोली- आज तुमने मुझे बहुत मजा दिया है.

मैं उसकी गांड पर चपत लगा रहा था, जैसे मैं किसी रंडी को चोद रहा हूँ.

मैंने बाथरूम में हाथ धोते समय अपनी शर्ट भिगा ली और भीगी शर्ट के साथ ही बाहर आ गया. उसमें बहुत एसएमएस आ रहे थे तो मैंने खोल कर देखा, जो उसके बॉयफ्रेंड के थे. ऊपर से चूमते हुए नीचे तक आने लगा, पहले गर्दन को, फिर कन्धों को चूमा.

मैं भला ऐसी रसदार चुत को क्यूँ छोड़ता, उसकी चुत को फैला के अपनी जीभ के करतब दिखने लगा. मैंने पीछे से ही रानी के हाथों से बेलन ले लिया और चकले पर बेलन चलाने लगा. फिर मैंने पूछा- भाई साब 6 महीनों में आते हैं, तो आप कैसे करती हो?उसने कहा- कुछ नहीं.

कोई और क्यों तेरे पापा के दोस्त ही कई बार मदद के बहाने मुझे बुला चुके हैं.

दिल्ली के हिंदी बीएफ: उसने संजय को साइड में करके चादर लपेट के बाथरूम में जाते हुए संजय को तिरछी नजरों से देखा और चादर को गिरा कर बाथरूम में घुस गई. मैंने कहा- क्या मुस्कुराहट है आपकी साली साहिबा!कविता बोली- फ्लर्ट करना बंद करो यार!और हम दोनों चाय पीने लगे।चाय पीने के बाद मैं फ्रेश होकर आराम करने लगा और सो गया, शाम को कविता ने मुझे जगाया तो मैंने देखा उसके हाथ में दो कप चाय के थे.

तभी मैंने पूनम की ब्लैक साड़ी को खींच कर निकाल दिया और उसे बेड पर लेटा कर उसकी नाभि को चूमने लगा. आकांक्षा अपने जीभ से मेरे लंड को ऐसे चाट रही थी जैसे कोई लोलीपॉप या चुस्की गोला हो और उसने अपने इस कलाकारी से मेरे लंड के टोपे के साथ साथ मेरे पूरे लंड को लाल कर दिया था, अब मेरे लंड की एक एक नस खिंची हुई और साफ़ साफ़ नज़र आ रही थी. और इस तरह सेमुझे चोदना पड़ा दोस्त की चुदक्कड़ बीवी को!आज भी जब मौका मिलता है, तो हम दोनों हचक कर चुत चुदाई करते हैं.

अवी का लंड अमित की ही तरह था, पर इसमें लाल रंग का सुपारा बाहर वाला नहीं था, जो अमित के में निकला हुआ था.

फिर जबसे मैंने एक बार माँ और बेटे की चुदाई का वीडियो देख लिया तब से तो बस मैं अपनी मॉम को लेकर कामुक हो गया था, मुझमें बहुत ज्यादा सेक्स फीलिंग यानि वासना आनी शुरू हो गई थी. कुछ देर उसकी केले के तने जैसी चिकनी जांघें चाटने काटने के बाद मैंने उसकी चूत के चबूतरे पर अपनी जीभ से हमला बोल दिया और हौले हौले दांतों से कुतर कुतर के चूत के ऊपर चाटने लगा. जब भी जाती भाभी के पास… तो मैं उनकी सेक्स भारी बातें सुनने की कोशिश करती, वो कहती- तू सीधी सादी है री… अभी तेरा वक्त नहीं आया ये बातें सुनने का!यह कह कर भगा देती.