टेबलेट बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो एक लड़की दो लड़का

तस्वीर का शीर्षक ,

नंगी नहाती वीडियो: टेबलेट बीएफ, सुबह 9:30 को जॉइनिंग थी तो जल्दी उठ कर तैयार हुआ और चूंकि नाश्ता फ्री था.

फुल सेक्सी वीडियो नई

उनकी कभी कभी वाली और जल्दी जल्दी वाली चुदाई से मेरी आग नहीं बुझ पाती थी. चूत चोदने वाला वीडियो सेक्सीइस बार मैंने उसे थोड़ा जोर से उसे अपनी बांहों में उठाया और अपने सीने से लगा लिया.

न्यू भाभी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे भैया की शादी बेहद खूबसूरत और सेक्सी लड़की से हुई। मेरा दिल भाभी पर अटक गया। मैंने कैसे उसकी चूत का मजा लिया?दोस्तो, मेरा नाम जय है। मैं एम. मराठी पिक्चर सेक्सी मूवीकोई बात नहीं डार्लिंग, मेरे लंड पर ही अपना गाढ़ा निकाल दे और मैं तेरी ही गांड में मेरा रस निकाल देता हूँ.

दीदी ने और बताया- रसोई में मुझे चोदने के बाद वो बोला कि भाभी भइया से चुदने के बाद रात में मेरे रूम में आ जाना.टेबलेट बीएफ: तो भाभी ने अपने हैट से लंड पकड़ के चूत के मुंह पर लगाया और मुझे डालने को कहा.

अलीज़ा की चूत ने इतना पानी छोड़ा कि उसकी पूरी टांगें चूत के पानी से भीग गईं.मैं एक कठपुतली की तरह बैठ गई और उसके अगले एक्शन का इंतजार करने लगी.

सेक्सी इंग्लिश विदेशी - टेबलेट बीएफ

किचन में, खाना खाते समय डाइनिंग टेबल पर भी उसे चोदा, टीवी देखते समय सोफे पर चोदा.उसने अपने दोनों पैर मेरे चूतड़ों से लपेट दिए और चुत में लंड लेने लगी.

मैं दीदी के ऊपर आ गया और दीदी को हग करते हुए उनके गले को चूमने लगा. टेबलेट बीएफ कुछ देर बाद हम दोनों छत से नीचे आ गए और साली साहिबा के रूम में घुस गए.

[emailprotected]मैरिड वूमन सेक्स कहानी का अगला भाग:पति की गैरमौजूदगी में मेरी अन्तर्वासना- 2.

टेबलेट बीएफ?

उन्होंने भी आव देखा ना ताव … फटाक से मुझे नंगा करके अपने बिस्तर में लेटा दिया. मैंने स्वाति से कहा- सुन स्वाति मैं जॉब के लिए इंटरव्यू देने जा रहा हूँ. हम दोनों बेहद गर्म हो चुके थे और एक-दूसरे को चुदाई का मज़ा दे रहे थे.

मैंने बिना रानी की इजाजत लिए नीचे बैठा और धीरे से उसके पेटीकोट को ऊपर करने लगा. मुझे ऐसा लग रहा था कि अर्शिया अपनी जांघों से मेरे लंड की मुठ मार रही हो. क्या मैं आपसे मेल पर आगे भी बात कर सकती हूं?मैं- हां आप बिल्कुल कर सकती हो.

कुछ देर बाद मैंने दीदी से कहा- दीदी मैं आज शाम घर चला जाऊंगा … एक बार मुझे आपकी गांड मार लेने दो. पर भाई मान नहीं रहे थे, वो जोर जोर से झटके ऐसे देते जा रहे थे जैसे कि मेरी गांड कोई खेली खाई गांड हो. उन दिनों गर्मी का टाइम था और अर्शिया अपने साथ कुछ भी कपड़े भी नहीं लाई थी.

मैं उनकी दोनों चूचियों को बारी बारी से चूसने में मस्त था और बुआ धीरे धीरे अपनी कामुक आवाजें निकाल रही थीं- आह आ उह आह हां पी ले … आह कितना मजा आ रहा है … आह आज तो मार ही डाल … उम्म्म धीरे चूस. मैंने मैम को अपनी तरफ खींच कर फिर से उनके मुंह में अपनी जीभ घुसा दी और उनकी गांड को मसलते मसलते उनकी पैंटी उतार दी.

मैंने अपना लंड उसके मुंह में दे दिया और वो उसे मसल मसल कर चूसने लगी.

वो बोला- बड़ा मस्त भोसड़ा है तेरा!नवीन 69 में काफी देर तक मजा लेता रहा.

फिर हम दोनों पहले मेरे घर पहुंचे तो मैंने दरवाजा खोला और हम दोनों अन्दर आ गए. वो घबरा गईं और बोलीं- तुझे बिल्कुल डर नहीं लग रहा है?मैंने कहा- नहीं, जब मां साथ हैं यहां पर … तो डर किस बात का. अगर रंगोली मेरी बहन न होती, तो उसे मैं पूरे शहर की सबसे कड़क माल कह सकता था.

असल में मेरी बीवी रश्मि एक बहुत सुंदर फिगर वाली और रंग से फिरंगियों जैसी कामुक बला है. गांव देहात में लड़कियां चड्डी, ब्रा तो पहनती नहीं हैं इसलिए मेरा हाथ नाज की मुलायम बालों से ढकी बुर को सहलाने लगा. मैंने एक पैग और मारा … फिर उसको उल्टा करके उसकी गांड को जमकर किस किया और मसला.

फिर सीधा शीना की दोनों चूचियों को बारी बारी से मुँह में भरकर उसके गुलाबी निप्पल चूसने लगा.

अब मैंने उसके एक पैर को अपने कंधे पर रखा और लण्ड को पहले 3-4 मिनट तक चूत के ऊपर रगड़ता रहा. मुझे किस करते करते कब उसने मेरी शर्ट उतार दी और मैंने उसकी … ये पता ही नहीं चला. दोस्तो, इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगा कि कैसे मैंने अपनी ही सगी छोटी बहन स्वाति को चोदा … और चोदा ही नहीं, मैंने उसकीसीलपैक चूत फाड़ दी.

दो दो ग्लास व्हिस्की पीने के बाद मैं थोड़ा मूड में आ गया था और शायद वो भी. फिर जैसे ही उसने मेरे लंड पर हाथ लगाया, तो उसके हाथ में मेरा मोटा लंड आ गया. कुछ ही दिनों मैं अच्छे से गाड़ी चलाने लगी थी और अक्सर कभी मन किया तो अकेले ही लंबी ड्राइव पर अकेली ही निकल जाया करती.

ये सुनकर मैं और जोश में आ गया और लंड को तेज़ तेज़ अन्दर बाहर करने लगा.

दस मिनट की धुआंधार चुदाई के बाद जब मेरा माल निकलने की बारी आई … तो उसने कहा कि रस बाहर ही निकाल देना. लेकिन मेरे कुछ कहने पर वो मेरी बात बदल देती … और कह देती- तुम फालतू में शक कर रहे हो!इस बात पर हमारे बहुत झगड़े भी होते.

टेबलेट बीएफ मैं उसके साथ ही रहता था तो मुझे भी उसकी चुदाई हुई लड़की चोदने को मिल जाती थी. मेरा व्यवहार भी काफी अच्छा था; मैं जल्दी ही सभी से घुल-मिल जाता था.

टेबलेट बीएफ मैंने देखा कि अन्दर मां नीचे बैठ कर अंकल का लंड मुँह में लेकर चूस रही थीं. जैसे ही अंडरवियर नीचे आया … मेरा लम्बा लंड फट से झूलता हुआ बाहर आ गया.

चूसते चूसते वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरे हाथ अपने आप उसके गोल गोल सुडौल गांड को सहलाने लगे.

इंडियन सेक्सी ब्लू फिल्म एचडी में

मेरा ये इशारा शरद के लिए काफी था और उसने एक भी पल जाया ना करते हुए अपना लंड मेरी चुत पर रख दिया. उन्होंने मेरी चुनरी को मेरे सर से नीचे गिरा दिया और मेरे बालों को हाथ लगाते हुए बोले कि इस रूप में आज तक मैंने तुम्हें अपने इतने करीब नहीं देखा. नीचे लाल फूलों वाली पैंटी में अलीज़ा की बिना वालों वाली चूत गजब की फूली हुई लग रही थी.

उन्होंने फ़ौरन से मेरी पतली सी कमर को अपने मर्दाना हाथों से जकड़ लिया और अपनी ओर खींच लिया. कुछ मिनट तक उसे गले लगाने के बाद मुझे लगने लगा कि इसे भी मज़ा आने लगा है क्योंकि उसका विरोध खत्म हो गया था, उसकी सांसें तेज तेज चलने लगी थीं. उसने लंड हाथ में पकड़ लिया और आगे पीछे करके सुपारे को चमड़ी से आजाद कर दिया.

पर मेरा मन उन चाची को छोड़ने का नहीं कर रहा था मैं उनके साथ सेक्स करना ही जा रहा था.

कुछ मिनट चूत चूसने के बाद मैंने उठकर लोअर उतारा और उनसे कहा कि अब आप लॉलीपॉप के मजे लो. इस सबकी जानकारी सलमा को भी थी क्योंकि मैं सलमा के बिना अलीज़ा से नहीं मिलता था. अंकल भी मां को गाली देते हुए लंड चुसाए जा रहे थे- आह सुशीला चूस ले भैन की लौड़ी.

मैंने उससे कहा कि मैं आगरा आ जाऊंगा और उधर से साथ ही ग्वालियर आएंगे. मैं जल्दी से बाथरूम से गीला कपड़ा लेकर आया और उसकी चूत और मेरे लंड से खून साफ़ किया. पतली सी बांहें … प्रियंका चोपड़ा से होंठ और उसके जैसी ही रंगत लिए हुए रसभरे होंठ किसी की जान लेने को काफी थे.

उसने भी अन्दर अंडरवियर नहीं पहना था; चैन खुलते ही उसका बिना झांट वाला लम्बा मोटा और चिकना लंड बाहर आ गया. करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद मेरे लंड से मेरा कामरस निकलने वाला था.

अब आगे Xxx ब्रदर एंड सिस्टर कहानी:दीदी भी मादक सिसकारी लेते हुए अपनी दोनों टांगें फैलाती जा रही थीं, मानो कह रही हों कि मेरी चूत को भोसड़ा बनाने के लिए तुम्हारा स्वागत है वीरू. इस वजह से अंकल ने अपने दोनों हाथों को आगे करके मेरे दोनों स्तनों को पकड़ लिया और हौले हौले से मसलने लगे. उसने मेरे मम्मों को देखते हुए कहा- मैं नवीन हूँ, बैंक एजेंट हूँ और आपके पापा ने मुझे किसी काम से बुलाया था … उन्हें मुझसे कुछ बैंक का काम था.

उसने लाल रंग की नेट वाली साड़ी के साथ डीप नेक वाला ब्लाउज पहना हुआ था.

भरे हुए गाल थे भाभी के … इसके साथ ही 42 साइज की उनकी मोटी मोटी चूचियां थीं, जो देखते ही ऐसा आभास कराती थीं मानो उनके ब्लाउज को फाड़कर अभी ही बाहर निकल आएंगी. वहां एक घंटा पहले पहुंच कर हम ऊपर बंद पड़ी क्लास में चले गए और साथ मिल कर अपना प्रोजेक्ट बनाने लगे. फिर एक दिन मैं उसकी तरफ देख कर मुस्कुरा दी तो उसने हिम्मत करके मुझसे हाय कहा.

मैंने कहा- क्यों भूख क्यों नहीं लगी?वो बोली- तुमको भूख लगी होगी, चलो मैं पहले तुम्हारे लिए कुछ खाने के लिए लेकर आती हूँ, फिर बात करेंगे. घर के बाहर वाले हिस्से में उनकी दूकान है जिसे चाचा(उनके पति) चलाते हैं.

पर अरविन्द जी के समक्ष अपने को मासूम साबित करने की कोशिश में मैंने अपने नंगे जिस्म को ढक कर लज्जा का प्रदर्शन किया था. मेरे लौड़े में हल्का हल्का दर्द हो रहा था मैंने तेल से मालिश की और गोली खा ली. मैंने एक आखिरी झटका मार कर उसकी चूत में अपने लंड को पूरा अन्दर तक घुसा दिया और उसके नर्म गुलाबी होंठों को प्यार से चूसने लगा.

सेकसी सेकसी सेक्सी

मुझे यहां मनचाही कहानियां पढ़ने को मिल जाती हैं। यह बहुत ही लोकप्रिय साइट है और पाठकों के लिए एक परिवार के जैसी है। सभी लोग यहां पर कहानियों के माध्यम से जुड़ते हैं और अपनी अपनी बात सबके सामने रखते हैं.

कैसे मैंने उसकी सील तोड़ी?देसी लड़की Xxx कहानी के पिछले भागजुम्मन की हसीं बीवी भी चुद गयीमें आपने पढ़ा कि मैंने नाज की अम्मी की चुदाई भी कर दी. किसी बंगालन के जैसे सेक्स के मज़े वो ही आपके लंड को दे सकती है … और कोई रांड भी आपको वैसा मजा नहीं दे पाएगी. शबाना, दुनिया जाने या न जाने, तुम तीनों जानती हो कि मैं तुम तीनों का शौहर हूँ और शौहर की हर इच्छा पूरी करना औरत का फर्ज है.

मैंने पूरी रात चाचा के घर में रह कर मौज मस्ती की, फिर मैं अपने घर चला गया. इस हॉट स्टूडेंट सेक्स कहानी में आपको एक जवान लौंडिया के साथ हुए सेक्स की गर्म दास्तान लिख रहा हूँ. डब्लू डब्लू सेक्सी पिक्चर वीडियोअब आगे जबरदस्त चुदाई की कहानी:मैंने उससे खाने पीने के लिए पूछा कि अब वो काम कैसे करेगी!उसने मेरी आंखों में देखा और अपनी आंखें बंद कर लीं.

मुझे समझने में थोड़ा सा भी वक्त नहीं लगा और बिना रुके मैं उनसे सटने की कोशिश करने लगा. ‘ऊह्ह ह्ह यस्सस आअह्ह मर गइईई ईश्श …’हम दोनों को बहुत ही मज़ा आ रहा था.

मैंने जवाब अपने फोन के मैसेज बॉक्स में लिख कर हाथ थैले पर टिकाकर उसको दिखाया. मैं उस बीच के हिस्से को सूंघने लगा जिसकी तलाश हर किसी मर्द को होती है. यह सेक्स कहानी आज से 3 साल पहले की है जब मैं कंपनी बदल करके पुणे से हैदराबाद नया नया आया था.

इसका अंदाजा मुझे था कि जेठजी के लंड का साइज़ मेरे पति से बड़ा होगा क्योंकि वो शरीर से ताकतवर हैं. अगले दिन जब मैं सुबह उठा तो वो तैयार होकर किचन में नाश्ता बनाने में लगी थी. वो कहने लगी- सौरभ छोड़ो … अभी नहीं … थोड़ी देर बाद!पर मैं रुकने वालों में से नहीं था.

मां मेरी काफी चुदक्कड़ थीं … ये मुझे जब पता चला जब मेरे डैड बिज़नेस के सिसिले से शहर से बाहर गए.

कुछ ही देर में सरोज थक चुकी थी, तो मैंने भी उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और ऊपर आकर चोदने लगा. फिर धीरे धीरे मम्मों की गोलाइयों को चूमने और उन पर दांत गड़ाने लगा, उसके दोनों मम्मों को पकड़ कर दबाने लगा और चूमने लगा.

आह आह ओह्ह ओह्ह बेबी और मार जोर से लंड अन्दर तक घुसा मेरी जान … आह यस यस यस बेबी ओह्ह याह स्वीटू योगू … अहह यस ओह्ह ओह्ह योगगु … जोर जोर से. बस कुछ ही पलों में मेरी कमर ने उठ उठ कर लंड को सलामी देनी शुरू कर दी थी और धकापेल चुदाई का मंजर बिस्तर की चादर को लाल रंग से भिगोते हुए अपनी छाप छोड़ने लगा था. शायद वो भी मेरी नजरों को थोड़ा थोड़ा समझने लगी थी लेकिन उस समय उसने मुझे इग्नोर कर दिया.

मैंने दस मिनट तक बिना रूके मालती की चुत को जमकर चोदा और दोबारा से वीर्य की पिचकारी मालती की बच्चेदानी में छोड़ दी. मैंने हम दोनों के लिए एक और पैग बनाया और वो भी मेरे काफी करीब मुझसे लिपट कर बैठ गए. मेरे दोनों हाथ उनकी दोनों चूचियों को मस्ती से दबा रहे थे … साथ ही मैं उनकी चुत को भी ऐसे चाट रहा था, जैसे कोई कुत्ता मलाई चाटता है.

टेबलेट बीएफ वो मुस्कुराते हुए कहने लगीं- अब मुझे चोदो राजा … मेरी चूत तेरे हवाले है. इंडियन एक्ट्रेस बॉलीवुड सेक्स देखने के बाद मैं वहां से निकल कर घर आ गया.

शिल्पा शेट्टी हॉट सेक्सी वीडियो

तो पाया कि सुबह जब मैं सोकर उठता हूँ, तो मेरा लंड मुझे झड़ा हुआ मिलता है. तभी कैमरामैन ने भी अपनी पैंट उतार दी और रश्मि के हाथ में अपना लंड दे दिया. सिस्टर Xxx सेक्स कहानी के पहले भागमेरी सेक्सी बहन मेरे दोस्तों से चुदती थीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मैं अपनी बहन के लैपटॉप में उसकी चुदाई की फिल्म देख रहा था.

उसे मैंने घोड़ी बनने को कहा तो वो घोड़ी बन गई और बोली- आ जा साले जाटनी चोद, अब जल्दी से चोद … फिर मुझे घर भी जाना है. चूंकि जब दोनों फ्री होते हैं, तो अंकल अक्सर पापा के साथ कमरे में ही बैठ कर बातें करते रहते हैं. औरत आदमी सेक्सीआज मुमताज के मुँह से यह सुनकर कि नाज बड़ी हो गई है, तो अचानक मन में नाज को लेकर पुलाव पकने लगा.

उसको मैंने लिटाया और एक उंगली उसकी चूत में घुसायी और एक हाथ उसके बूब्स पर रखा.

आज की सेक्स कहानी सरिता भाभी की अपने इसी नए पड़ोसी विजय के साथ की चुदाई की कहानी है. निशा ने चड्डी भी सफेद रंग की ही पहन रखी थी, जो आगे से पूरी तरह गीली थी.

जेठ बहू की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैं सेक्स के लिए अपने जेठ से सेट हो गयी. उस दिन हमारे बीच में क्या हुआ, मैं वह सब अपनी अगली सेक्स कहानी में बताऊंगी. इसके कुछ देर बाद अंकल जी ने मेरी पैंटी भी उतार दी और मेरी कमसिन चुत देख कर बोले- तुम अभी वर्जिन हो?मैं बोली- जी.

एक दिन मुझे मेरी कमर में दर्द हुआ तो मैंने अपने बेटे विराट से कहा कि किसी डॉक्टर को दिखाना पड़ेगा … बहुत दर्द है.

मुझे कमरे में आया देखकर वो हड़बड़ा गयी और बोली- क्या हुआ?मैंने कहा- लैपटॉप देने आया था … हो गया मेरा प्रेजेंटेशन पूरा. मैंने ध्यान दिया तो देखा कि नीचे उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी. मैंने पल भर के लिए हाथ पलटा और इस पल में मेरी उंगलियों के टपोरियां उसके लिंग की जड़ पर आ गई थीं.

चुदाई वाली हिंदी में सेक्सीजैसे जैसे मैं उनकी चूची दबा रहा था, वैसे वैसे मुझे अहसास हो रहा था कि उन्होंने आज अन्दर ब्रा नहीं पहनी है. चुदाई की बातें पढ़ कर मेरा मन चुदाई के लिए मचलने लगा था जबकि पहले मुझे चुदाई के नाम से ही बहुत डर लगता था.

नवीन हिंदी सेक्सी

दोस्त की बीवी की चूत गांड की चुदाई की मैंने। वो पहले भी मुझसे चुद चुकी थी. मैंने उसे अपने सीने में भर लिया और एक बार फिर से चुदाई का दौर शुरू हो गया. उनकी उम्र 40 साल की थी, पर उनके 34 के दूध इतने मस्त उठे हुए थे कि लंड की क्या औकात जो उनको खड़े होकर सलामी न दे.

मैंने देर न करते हुए उसकी कुर्ती को ऊपर किया और उसकी गर्दन से निकालते हुए अलग को फेंक दिया. अब मैंने उसके एक पैर को अपने कंधे पर रखा और लण्ड को पहले 3-4 मिनट तक चूत के ऊपर रगड़ता रहा. मैंने कहा- हां जी, बोलिए?उन्होंने कहा- मैंने तुम्हारा हाथ पकड़ा, तो तुम्हें कैसा लगा?मैं चुप रही.

जेठ जी कमरे में आए, उन्होंने मुझे दुल्हन सा बैठा देखा तो मेरे पास बेड पर आ गए. दोस्तो, मैं ऋषि मेहता आपको अपनी मौसी की अतृप्त चुत चुदाई की कहानी में एक बार फिर से स्वागत करता हूँ. मेरे लंड का साइज 6 इंच है और मेरी सेक्स क्षमता 30 मिनट से भी ज्यादा है.

इतने में मेरी पत्नी का फोन आया कि मैं रूपा भाभी के साथ उनके मायके जा रही हूँ. अब तो मैंने आराम से अपने होंठ खोले और उसके कोमल हाथ को अपने होंठों से चूसने लगा.

मैं जब दीदी के पास पहुंचा, तो दीदी ने मेरे लिए नाश्ते पानी का इंतजाम किया और कुछ ही देर बाद उन्होंने मेरे साथ मार्केट चलने की बात कही.

फिर से अब्बू ने अपने लण्ड पर थूक लगाई और मेरी बुर के लबों को फैलाकर अपने लण्ड का सुपारा लबों के बीच में फंसा दिया और अपनी कमर को नीचे धकेलने लगे. सेक्सी वीडियो कुत्ता वाला वीडियोमेरी पिछली कहानी थी:ईमेल वाली गर्लफ्रेंड की चूत चुदाईमैं एक बार फिर से अपनी एक नई सेक्स कहानी के साथ हाजिर हूँ. वीडियो सेक्सी फिल्म राजस्थानीये सब चलते चलते पूरे कमरे में उसकी मादक सिसकारियों और मनमोहक खुशबू फ़ैल गई थी. अब मैं अपनी सहेलियों के बीच सेक्स की बातों को सुनकर काफ़ी मज़े लेती हूँ.

अब घर में फ़ालतू था तो मैंने सोचा कि क्यों ना मैं भी अपना अनुभव सभी के साथ शेयर करूं.

मैंने उसके एक पैर को सोफे से नीचे लटका दिया ताकि अन्दर का नज़ारा लिया जा सके. वह खाने के दौरान मेरी पसंद के खाने की बात करने लगी थी और जो-जो मुझे पसंद था, अलीज़ा वो ही मेरे लिए बना कर लाने लगी थी. उन्होंने मुझसे मेरी पढ़ाई के बारे में पूछा तो मैंने मैडम को बता दिया.

मेरे मुंह से ये बात सुनके कोमल थोड़ा मुस्कुराती हुई बोली- तुम भी कुछ कम नहीं लग रहे हो. ”इतना कहकर मैंने मुमताज की चोली की डोरी खोल दी और बड़े संतरे के साइज की चूचियां दबोच लीं. सिस्टर की गांड की कहानी के पिछले भागचचेरी बहन मेरा लंड देखती थीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरी बहन ने मेरा लंड की मुठ मार कर ये जता दिया था कि वो मेरे लंड से चुदने के लिए रेडी है.

किन्नर हिजरा सेक्सी

जहां तक कि मैं शरद को जानती थी, वो इन चार दिनों में मेरी भरपूर चुदाई करने के इरादे से मुझे वहां लेकर गया था. ये सुनकर मैं और जोश में आ गया और लंड को तेज़ तेज़ अन्दर बाहर करने लगा. मैंने उसकी चुत चोदते हुए कहा- सरोज, तू रात में क्यों आई?वो बोली- राज, दो दिन से मेरी चूत तेरे लौड़े के लिए तड़प रही थी.

आज से मेरा आप लोगों से रिश्ता खत्म!वो पांव पटकते हुए उधर से चली गई.

ये सब कैसे हुआ?दोस्तो, मैं अंकित एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी में आपका स्वागत करता हूँ.

हम दोनों का जैसे सपना टूट गया हो हम एक दूसरे से न चाहते हुए भी अलग हुए और अपने को ठीक करते हुए नीचे आ गए. हैलो, मैं रोहित एक बार फिर से आपके सामने अपनी चचेरी बहन की सीलपैक गांड मारने की सेक्स कहानी को आगे लिख रहा हूँ. सतना सेक्सी वीडियोमुझे प्रियंका ने यह भी बताया कि:अशी गमन के काफी करीब आ गयी थी लेकिन जब उसको अशी और गमन के बारे में पता चला तो गमन ने अशी को छोड़ दिया.

दोस्तो, मैं ऋषि मेहता आपको अपनी मौसी की अतृप्त चुत चुदाई की कहानी में एक बार फिर से स्वागत करता हूँ. पहले तो एकदम से कड़क लंड हाथ में आ जाने से वो थोड़ा घबरा गई और उसने हाथ हटा लिया. कभी कभी नील की गांड बहुत जोर से मेरे लंड को कस लेती … और धीरे से ढीली हो जाती.

ठीक साढ़े पांच बजे मैं उनके घर पहुंच गया तो उन्होंने मुझे अपने घर के अन्दर खींचते हुए अपना दरवाजा बंद कर दिया. मैंने जल्दी से अपनी पैंट और अंडरवियर एक साथ उतार दिया और उनकी गांड से नीचे को सरकी हुई पैंटी को एक झटके में निकाल फैंका.

मेरे दोनों दूध चूसने के बाद वो आगे बढ़ा और मुझे खड़ा करके मेरी जींस और पैंटी नीचे करके मेरी चूत चाटने लगा.

मैंने लौड़े पर खूब सारा साबुन मला और रूपा भाभी को याद करके अपनी कल्पना में उनको चोदने लगा. प्रिय पाठको, आपको मेरी पोर्न फॅमिली हिंदी कहानी कैसी लगी मुझे जरूर बतायें. रंगोली जोश में अपने होंठ चबाने लगी औऱ उसने चादर को हथेली से भींच लिया.

तेल लगाकर चोदने वाली सेक्सी हमारे होंठ एक बार फिर एक दूसरे से जुड़ गए और इस बार मैंने अपनी जीभ को उसके मुंह में डाल दिया. जेठ जी ने कहा- आखिर मैं इस चेहरे को इतना प्यार करता हूं, इसके लिए मैं सारी मर्यादा भूल चुका हूँ.

तो मैंने लंड रोक दिया, तो वो अपनी आवाज समेटते हुए बोली- राज तुम रूको मत … लगे रहो. मतलब मैं जो कह रहा हूँ कि जरा मोटी सी थी … वो आपको उसकी फिगर को पढ़कर समझ आ गया होगा. अब मेरी हालत बिना पानी की मछली के जैसे हो गई। मैं वासना के मारे तड़प रही थी.

बांग्ला सेक्सी वीडियो पिक्चर

मैंने पूछा- मां आज कहीं बाहर जा रही हो क्या?मां ने कहा- तू मूवी देखने चला जाएगा तो मैं घर पर अकेली क्या करूंगी … इसलिए मैं अपनी सहेलियों के साथ शॉपिंग को जा रही हूं. ऐसा नहीं है कि उनका इस कदर छूना मुझे पसंद नहीं आया, पर एक शादीशुदा औरत होने की वजह से मैं अन्दर से थोड़ा झिझक भी रही थी. उनका लंड मेरे मुँह के अन्दर पूरा समा गया था, मेरी सांस ही नहीं आ रही थी.

वही हुआ पांच मिनट में ही उसके लंड का माल मेरे मुँह में लबालब भर गया. मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था, मुझे बस अर्शिया के बोबों को नंगा देखना था.

शायद वो भी मेरा मन भांप चुकी थीं, मगर मेरे मन में अब भी एक डर सा था.

एक बच्चे की माँ बन गई हैं … मगर आज भी देखने में एकदम कुंवारी दुल्हन सी ही लगती हैं. शुरू में तो निशा ने साथ नहीं दिया, पर हौले से जब मैंने अपना जोर उसकी गर्दन पर बनाया तो वह नीचे झुकने लगी. फिर न जाने कैसे मैंने मैडम से पूछा कि आपकी उम्र कितनी है?उन्होंने बताया- मेरी उम्र 27 साल है … क्यों पूछ रहे हो?मैं सिटपिटा गया मगर वो हंस दीं, तो मैं शांत हो गया.

काफ़ी लड़कियों से मिल चुका हूँ और कुछ बार चुदाई करने का मौका भी मिला. उस मोटी उंगली और मेरे कपड़ों के मेल से बना कृत्रिम लिंग, मेरी फैली योनि को छेदने में कामयाब रहा. लेकिन मैं बहुत ही शर्मीले स्वभाव का हूं इसलिए किसी से बहुत कम ही बात करता हूं.

निशा अब मेरे ऊपर आ गयी और उसने अपनी दोनों टांगों को खोलकर चूत मेरे मुँह के ऊपर कर ली.

टेबलेट बीएफ: मैं जब भी मेस में जाती, वो मुझे खूब घूर घूर कर देखता था; कई बार वो मुझे छूने का प्रयास भी करता. मैं पूरी जीभ को अन्दर करके करीब 10 मिनट तक चुत को चूसता रहा और मैंने चुत को खूब चाटा.

अब मैं रुकने वाला नहीं था क्योंकि बड़ी मशक्कत के बाद ऐसा आनन्द आ रहा था. मैंने उसकी आंखों में झांकते हुए पूछा- क्या खाओगी?वो मेरी बात को शायद समझ गई थी इसलिए नजरें नीचे करके बोली- जो तुम खिलाना चाहो. पीठ पर लैपटॉप बैग, एक हाथ में लड़कियों का पर्स … और एक हाथ में एक छोटी ट्रॉली.

जरा सा ही झुकने पर मेरे सारे मम्मों की गहराइयां और गोलाईयां साफ़ दिख जाती थीं.

चुत के दाने को धीरे से रगड़ा और चूत की दोनों फांकों को अलग करके लंड घुसाने का रास्ता बनाया. वो जल्द ही नीचे हाथ फेर कर मेरी पैंटी के ऊपर से मेरी चुत सहलाने लगा. पहले उसने उठ कर इधर उधर देखा, तब तक उसने शायद सोफे पर सोते हुए मैं नहीं दिखा था.