बीएफ सेक्सी दादा

छवि स्रोत,हिंदी सेक्सी बीएफ चलने वाली वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन बीएफ चलने वाला: बीएफ सेक्सी दादा, वैसे ही मैंने किस करना चालू किया। मैं अपने होंठों को मैडम के होंठों पर रख कर चूसने लगा, कभी ऊपर के.

भाई बहन के हिंदी बीएफ एचडी देहाती

वो बाद में लिखूंगा।आप अपने विचार मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected]. जल्दी बीएफतो नीलम देख कर वहाँ से चली जाती।मैं जब भी उसके पास जाने की कोशिश करता.

तो मुझे देख कर वो बोलीं- आप किसके पास आए हो?तो मैंने उनको बताया कि मैं यहाँ पर मौसी के घर आया हूँ।उन भाभी ने मेरी भाभी का नाम लिया और बोलीं- अच्छा तो तुम अंजलि के घर पर आए हो. बीएफ ब्लू सेक्सी हॉटपर मेरे होंठ से उसके होंठ सिले थे।तो उसके मुँह से सिर्फ ‘गूं गूं’ की आवाज़ निकल रही थी।मैंने एक और झटका मारा और मेरा लंड उसकी चूत में थोड़ा और अन्दर घुस गया। उसकी चूत इतनी तंग थी कि मेरा लण्ड आसानी से नहीं घुस पा रहा था। एक और धक्के में मेरा लण्ड उसकी चूत को फाड़ता हुआ अन्दर दाखिल हो गया।मेरे लण्ड पर मैंने महसूस किया कि उसकी चूत से खून निकल रहा है।मैंने सोचा इसकी तो फट गई.

मैं खाना लेकर आती हूँ।’ आपी ने किचन में वापस घुसते हुए जवाब दिया।मैं हाथ-मुँह धोते हुए यही सोच रहा था कि कल रात जो आपी को बहुत गिल्टी फीलिंग हो रही थीं.बीएफ सेक्सी दादा: जिसे उम्र में मैं उस वक़्त था।बस ऐसी ही सोच में उलझा-उलझा मैं नींद के आगोश में चला गया।अगली सुबह जब हमारी आँख खुली.

पर ऐसा मज़ा मुझे आज तक किसी ने नहीं दिया था।इसी जादू के चलते मैंने सोनाली से कहा- मैं झड़ने वाला हूँ सोनाली।सोनाली- मेरे अन्दर ही गिराना.तब मैंने एक जोरदार धक्का मारा। मेरा पूरा लण्ड उसकी चूत में घुस गया। वो और जोर से मचलने लगी.

बीएफ सेक्सी माधुरी - बीएफ सेक्सी दादा

मामा मेरे मुँह के सामने आ गए।अब मामा ने मुझे लंबी साँस लेकर रोकने को कहा।मैंने वैसा ही किया.’लाली मौसी की चूत बुरी तरह रस छोड़ रही थी, उनकी झांटें भी भीग गई थीं।मौसी वासना की आग में उत्तेजित हो कर.

मैं लगातार उसकी चूत पेल रहा था और फिर लण्ड निकाल कर उसकी गाण्ड मारने लगा।लेकिन फर्श में चुदाई करते नहीं बन रहा था और दीवान में सुरभि सो रही थी. बीएफ सेक्सी दादा यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !थोड़ी देर चूत चाटने के बाद उस लड़के ने अपना लण्ड लड़की की चूत में डाल दिया और धक्का मारने लगा और दूसरा लड़का अपना लण्ड लड़की के मुँह में डालकर उसका मुँह चोदने लगा। अब फिर से दोनों अपनी जगह बदली की और चुदाई शुरू की।मैंने भी अपना लण्ड बाहर निकाला.

तो आपी ने मेरे लण्ड को मुँह से निकाल कर एक ज़ोरदार सिसकारी भरी।‘अहह हाँ.

बीएफ सेक्सी दादा?

कि वो मुझ से भी चुदे।मैंने उसे आश्वस्त किया।उसने कहा- सोनिया और हम दोनों मिल कर ग्रुप सेक्स करेंगे. आह… रंडी बना दो मुझे!उन्होंने मुझे फिर पलट दिया… मेरी चूत में पानी आ गया था।एक लड़का फ़िर से मेरी चूत चूसने लगा ‘आहह… क्या मस्त चूत है ऊह्ह… ज़ीनत… मेरी जान… उम्म्म… उम्म्म्म… जितनी मस्त तुम हो उतनी ही तुम्हारी चूत भी. प्रॉमिस कुछ नहीं होगा।’मैंने यह कह कर फिर से आपी की चूत के दाने को अपने मुँह में ले लिया और अपनी फिंगर को आहिस्ता-आहिस्ता अन्दर-बाहर करने लगा।लेकिन मैं इस बात का ख्याल रख रहा था कि उंगली ज्यादा अन्दर ना जाए।आपी ने कुछ देर तक आँखें खुली रखीं और अलर्ट रहीं कि अगर उंगली ज्यादा अन्दर जाने लगे.

तो कहानी उसी टेक्निकल स्कूल की है। वैसे तो वहाँ दिन भर लड़कियों और लड़कों का हुजूम सा लगा रहता था. उसके बाद मैंने उससे कहा- वो चेंज कर ले और आराम से बिस्तर पर आ जाए।उसने कहा- जी ठीक है।वो अलमारी से अपने कपड़े निकाल कर बाथरूम में जा कर चेंज करने लगी।लगभग 5 मिनट बाद वो नाइट सूट पहन कर बाहर आ गई।अब वो और मैं एक साथ बिस्तर में बैठे थे, मैंने धीरे से उसके चेहरे को पकड़ कर अपनी तरफ किया और उसके माथे पर एक चुम्बन किया. तो आपी मुझे कंधे से पकड़ कर हिला-डुला रही थीं और उन्होंने दूध का गिलास पकड़ा हुआ था।वो अपने असली हुलिया यानि स्कार्फ और चादर पर वापस आ चुकी थीं।मैं फिर से आँखें बंद करते हुए शरारत से बोला- अब कभी गिलास से नहीं पिऊँगा.

उनके बोबे दबा कर काटने लगा।चूत चोदते समय मैंने उनकी गाण्ड में उंगली जोर से डाल दी. कुछ देर बाद मैडम और मैं चुपचाप कॉफ़ी पीने लगे।अवि- मैडम आपसे एक बात कहनी थी।मैडम- हाँ कहो क्या कहना है अवि।अवि- वो वो. ? मुझे अब भी तलाश है और अफ़सोस भी कि मैंने अपनी गाण्ड का उदघाटन उससे क्यों नहीं करवाया।अब अगर वो मुझे मिल गया तो मैं उसे पूरा मज़ा दूँगा।आपको मेरी कहानी कैसी लगी.

मुझे मालूम नहीं था कि एक घरेलू लड़की की चूचियाँ भी इतनी सॉलिड हो सकती हैं।एकदम दूध सी सफेद. उसकी चूत से बहुत ज्यादा पानी निकल रहा था।शायद रीना काफ़ी समय से चुदी नहीं थी। आज तो मैडम भी झड़ने का नाम नहीं ले रही थी।मैडम भी मुझसे जोर-जोर से चुदवा रही थी ‘आह… आह.

मेरे और मेरी दोस्त साक्षी हम दोनों के कई बार और कई पुरुषों से शारीरिक संबंध रहे हैं। मतलब हम दोनों ही खेली खाई हैं।एक बार हम दोनों को एक कम्पटीशन का एग्जाम देने वाराणसी जाना था.

मैं कई बार खाली टाइम में इस साईट की कहानिया पढ़ता हूँ और जब भी मैं अन्तर्वासना की कोई कहानी पढ़ता हूँ.

’ निकली।आपी ने नर्मी से मेरे चेहरे को अपने सीने के उभार से उठाया और मेरे नीचे से निकल गईं और तकिया उठा कर मेरे चेहरे के नीचे रख दिया।मैं वैसे ही बेतरतीब सी हालत में उल्टा. पीयूष ने भी उनके दबाव से हाँ कर दी।उस रात दीपेश ने खुद मुझे पीयूष के पास सुला दिया लेकिन पीयूष ने अपने पेट पर हाथ रखवाने के सिवा कुछ भी न करने दिया क्योंकि अब वो मेरी सच्चाई जान चुका था।सारी रात ऐसी ही गुज़र गई. और न जाने कितनों ने तो उसे सपने में चोद-चोद कर उसकी चूत फाड़ दी होगी।खैर.

मैं टेप लगाते वक़्त उसके मम्मों को थोड़ा ज्यादा ही प्रेस कर रहा था।फिर मैंने उसे एक टिनी बिकनी दी और बोला- ये ट्राई करो. हम थोड़ा ठीक से बैठ गए और बातें करने लगे।तब उसने बताया कि उसका नाम सपना है और वो नागपुर की ही रहने वाली है. फिर पूछा- आप कहाँ रहती हो?उसने नागपुर कहा।मैंने पूछा- आपका कोई ब्वॉयफ्रेंड है?उसने कहा- नहीं.

34 की ही कमर और चूतड़ कम से कम 36 की या ज्यादा ही होगी।मतलब सुपर्णा का जिस्म एकदम सुडौल है, उसकी कदली और जांघें मोटी सी.

पर मैंने प्रीत को दबा रखा था और अब मैंने एक हाथ में तेल की शीशी को लिया. तो लड़के अलग अलग किस्म के कमेंट्स पास करते रहते थे। कोई कहता कि आज तो दूध पीने को दिल चाह रहा है. वो एकदम से गर्म हो गई है।मैं उसकी चूत को उसकी चड्डी के ऊपर से ही रगड़ रहा था। उसकी चूत और पानी छोड़ रही थी.

पहले कपड़े तो निकालने दो।मैं इतना गर्म हो गया था कि बस मैं उसे चोदना चाहता था। तभी वो मेरी शर्ट निकालने लगी और उसके बाद मेरी पैंट भी निकाल दी और मुझे पूरी तरह से नंगा कर दिया।मेरा खड़े लौड़े को देख कर बोली- कितना बड़ा है रे तेरा. लेकिन मज़ा बहुत आया।मैंने कंप्यूटर ऑन किया और ब्लू-फिल्म चालू की अपनी पैन्ट उतार कर मैं लण्ड हिलाने लगा।उतने में सपना ने दरवाजे पर दस्तक की और कहा- मुझे अकेले सोने में डर लग रहा है।मैंने तुरंत ब्लू-फिल्म बन्द करके पैन्ट पहन ली और दरवाज़ा खोल दिया।वो बोली- भैया मुझे आपके साथ सोना है।मैंने कहा- ठीक है।हम दोनों एक ही बिस्तर पर लेट गए।कुछ देर बाद मैंने देखा कि सपना सोई नहीं थी. आज जाकर मुझे तुम्हारा प्यार मिला है।फिर वो खड़ी हुई और मेरा लंबे लंड को मुँह में लेकर ऐसे चूसने लगी.

तो हम साथ ही देखा करेंगे।इस एग्रीमेंट से हम दोनों को ही फ़ायदा हुआ कि हम कभी भी मूवी देख सकते थे। कंप्यूटर ज्यादातर हम दोनों के ही इस्तेमाल में रहता था। हमारी बहनें कंप्यूटर में इतनी रूचि नहीं लेती थीं।साथ फिल्म देखने में हममें एक ही मसला था कि.

पर फिर वो सही सलामत घर पहुँच गई।जो कुछ मूवी हॉल में हुआ उसके बाद उसकी इन सब बातों से मेरी हालत और भी खराब हो गई थी।मैंने मन ही मन सोचा कि कैसे इसे पाऊँ और जल्द से जल्द एक ठिकाने का इंतज़ाम करने में लग गया।आखिर हमें एक दो कमरे का फ्लैट मिल ही गया और कुछ दिन बाद हम उसमें शिफ्ट हो गए।जब हम वहाँ शिफ्ट हुए तो मैंने मकान-मालिक से कहा- ये मेरी दूर की बहन है. तो उसने मेरी ज़ुबान और मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया।यह मेरी ज़िंदगी की पहली फ्रेंच किस थी और मैं अपने आपको किसी और ही दुनिया में महसूस कर रहा था।तकरीबन 5-6 मिनट तक हम किस करते रहे.

बीएफ सेक्सी दादा तो कसम से लण्ड खड़ा हुए बिना ना रहे।वो मुझसे बहुत अच्छे से बात करती थीं। मैं भी बस उन्हें चोदने की फिराक में कोई मौक़ा ढूँढता रहता था।एक दिन भाभी के यहाँ नई स्कूटी आई. अब तू कपड़े पहन ले।माँ ने कपड़े पहने।माँ बोलीं- रेखा बता तो तेरा रंडीखाना कहाँ है?तो आंटी बताने लगीं- अभी हमारा घर ही रंडीखाना है.

बीएफ सेक्सी दादा और हो सकता है कि आपी जल्द ही पूरी नंगी होने पर आमादा हो ही जाएँ।फरहान की आवाज़ पर मेरी सोच का सिलसिला टूटा. कोच में चढ़ जाएं और वहाँ पर टीटी को सैट कर लेंगे और जो भी होगा उसे वहाँ रिश्वत दे देंगे।यही सोचकर हम ए.

पर मैंने सोचा कि ये तो किसी को बोलेगी नहीं तो बिंदास हो गया।कुछ दिनों बाद वो मुझसे कुछ बात करने लगी।धीरे-धीरे मैंने उसको अपने कटघरे में उतार लिया.

सेक्सी बीएफ 2021 एचडी

जिससे मेरे और उनमें खूब जमती थी। वो हमेशा मुझसे मज़ाक करती थीं। कभी-कभी सेक्सी मज़ाक भी कर लेतीं और गर्लफ्रेंड्स को लेकर पूछतीं. जिसको देखकर वो घबरा गई।मैंने समझया कि पहली बार ऐसा होता है।फिर उसको सहारा देकर उठाया और बाथरूम में उसकी चूत को धोया. मज़ा आ गया।मैं आईपिल की गोली लेने चला गया।मैंने घर से काफी दूर जाकर गोली खरीदी ताकि कोई झंझट ना हो।फिर मैं वहीं से अपने फ्रेण्ड से मिलने चला गया। मैं करीब 9 बजे के बाद घर पहुँचा.

हाँ ये बिल्कुल ठीक रहेगी और फिट आ जाएगी।वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा दी।फिर हम जींस पैन्ट लेकर बाहर आ गए. सुरभि ने उसे फिर से अपने मुँह में डाल लिया।अब कुतिया लौड़े को ऐसे चूसने लगी थी कि जैसे साली को फिर कभी लौड़ा मिलेगा ही नहीं।थोड़ी देर मेरा खड़ा लण्ड चूसने के बाद वो मेरे लण्ड पर बैठ गई. इसलिए नहीं आ पाए।मैंने कहा- कोई बात नहीं… वैसे मैं भी नागपुर में ही रहता हूँ।उसने कहा- सच.

फिर मामा ने मेरा लंड चूस-चूस कर मेरा भी पानी निकाल दिया और उसकी एक-एक बूँद पी गए।मैं इतना थक गया था कि बिना कपड़ों के ही करवट ले कर सो गया। मामा भी मेरे पीछे चिपक कर लेट गए और मुझे बांहों में भर लिया।पांच मिनट में ही मामा का लंड खड़ा होने लगा.

इतना कह कर सन्नी बिस्तर पर चढ़ गया और पायल के ऊपर लेट कर उसके होंठ चूसने लगा. अब तुम दूसरा शिकार ढूँढ लो और आज आखिरी बार मेरी चुदाई कर लो। मेरी चुदाई करके मुझे गुरूदक्षिणा दे दो।मैडम के कहते ही में मैडम को चूमने लगा पर अब मैं धीरे-धीरे चूमाचाटी कर रहा था।मैंने मैडम की नाईटी निकाल दी. अब मैं हवा में झूल रही थी।वो जोर-जोर से धक्के मार रहे थे, उनके जिस्म से पसीना टपक रहा था.

मेरी चूत को फाड़ देगा।मैंने कहा- मज़ा भी बहुत आएगा।मैंने उसे सीधा लेटा दिया. मैं और जोर से उसके मोटे हथौड़े जैसे लंड को चूसने लगा, उसके हाथ मेरे सिर पर आ गए और वो मेरे मुंह को चोदने लगा।उसका जोश बढता जा रहा था. वो मैंने पी लिया और मैं लेट गया। वो भी मेरे बराबर में ही लेट गई और मेरे लौड़े को हाथ में पकड़ कर खेलने लगी।मुझे भाभी की चूत चोदने की जल्दी पड़ी थी और भाभी नखरे दिखा रही थी। बने रहिये मेरे साथ देखते हैं कि कब तक चूत सिकोड़ती है।कहानी जारी है।[emailprotected].

वो एक आवाज में ही भागता हुआ हमारे पास आया और बोला- चलो रेलवे पुलिस के पास. लेकिन इसे चटपटा और मजेदार बनाने के लिए थोड़ी काल्पनिकता का प्रयोग किया है। उम्मीद है कि आपको कहानी पसन्द आएगी।बात तब की है.

सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार!मेरा नाम साहिल है, मैं एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करता हूँ, मेरा क़द 6 फ़ीट है और मेरा रंग गेंहूआ है। मेरा शारीरिक अनुपात एक खिलाड़ी जैसा है, मेरे लिंग की लंबाई 6. और कुंवारा हूँ। लम्बाई 5 फुट 8 इंच और बदन औसत है। मैं सीधा-सादा सा इंसान हूँ, एक प्राइवेट कम्पनी मैं जॉब करता हूँ और जयपुर में रहता हूँ।मेरा लण्ड अच्छा खासा लम्बा और मोटा है. पर उसने ये कहके मना कर दिया- तुमने मेरी चूत चाटी है और मैं तुम्हारे होंठ नहीं चूसूँगी।बुरा तो मुझे बहुत लगा.

अभी रहने दे फिर देखती हूँ।मैंने ‘ओके जान’ कहकर फोन काट दिया।फिर 15 दिन तक भाभी की चूत मारने का कोई मौका नहीं मिला।हमारे खेत की कुछ जमीन भाभी के घर के साथ लगती थी.

सूरज देख रहा है।मैं समझ गया और बुआ ने अपना पल्लू ठीक कर लिया।खाना सबका हो गया था. लेकिन मैंने दरवाजे पर जाकर देखा कि आज अंकल के साथ एक और आदमी भी था।असलम अंकल- हाय शहनाज़ कैसी हो? इससे मिलो, यह मेरा दोस्त अकरम है!अम्मी ने धीरे से ‘हाय’ करके अपना हाथ आगे बढ़ाया था।‘और अकरम यह है मेरी प्यारी सी नन्हीं सी भतीजी ज़ीनत. सम्पादक जूजाहम भाइयों की जिद पर आपी ने अपनी कमीज उतार कर अपनी नंगी चूचियाँ हमें दिखाई और जब आपी क़मीज़ पहनने लगी तो हम उदास हो गए।तब आपी ने एक बार अपनी क़मीज़ ऊपर की और अपने खूबसूरत दूधों को नंगा करके दायें बायें हरकत देने लगीं।आह्ह.

ज़रा स्टाइल से करना ताकि हमारा मज़ा दुगुना हो जाए और इस कुत्ते की अकड़ भी निकल जाए हा हा हा हा हा. ’ करती हुई लेट गईं।अब वो मेरे लण्ड को पकड़ कर खेलने लगीं।थोड़ी देर बाद मैं उठा और उनके ऊपर आकर उनके मम्मों को चूसने लगा और अपना लण्ड उनकी चिकनी चूत पर रख कर घिसने लगा।कुछ देर बाद उन्होंने अपना हाथ आगे लाकर मेरे लण्ड को पकड़ कर चूत पर सैट करके नीचे से एक तेज ठोकर मारी और ‘गप्प.

तो कभी हल्के से सहला रहा था। उसकी चूत के ऊपर निकले हुई मांस को पकड़ कर खींच दे रहा था. जिससे मेरा खड़ा फनफनाता लण्ड सुरभि की चूत में अचानक ही पूरा घुस गया. ’‘चोदेगा इण्डिया तभी तो बढ़ेगा इण्डिया…’इसी धुन को गाता हुआ मैं उनकी चुदाई करने लगा।मुझको थोड़ी दिक्कत होने लगी.

बीएफ सेक्सी व्हिडिओ गुजराती

मैं जन्नत में था… मैं भी उनका सिर पकड़ कर ज़ोर-ज़ोर से लंड को उनके मुँह में अन्दर बाहर करने लगा।॥कुछ ही पलों में मैं फ्री हो गया और उन्होंने मेरा सारा माल पी लिया।माल चूसने के बाद भी उन्होंने लगातार मेरे लंड को चूसा जिससे मेरा लवड़ा एकदम खड़ा होने लगा।।कुछ ही देर में मेरा लौड़ा वापिस 90 डिग्री पर खड़ा हो गया।मैंने उनको दीवार के पास खड़ा किया और उनकी एक टांग को टेबल पर रखा.

फिर उसने कहा- आप मुझे कम्प्यूटर चलाना सिखा दो।मैंने अपने हाथ में माउस लिया. लेकिन शायद घर की बंदिश के कारण ज्यादा कुछ हुआ नहीं होगा।उसकी बड़ी बहन उससे ज्यादा सेक्सी है. उसने मुस्कुरा कर मेरे लण्ड को अपने मुँह में भरा और उससे चूसने लगा।मैं मुक्कमल तौर पर अपने होश खो चुका था। मैं सोच भी नहीं सकता था कि ये चीज़ इतनी ज्यादा लज़्ज़त देगी। ऐसा सुरूर मैंने पहले कभी नहीं महसूस किया था।मैंने अपने हाथों से उसके सिर को थामा और कामरान के मुँह को चोदने लगा। कामरान के मुँह से घुटी-घुटी सी आवाजें निकल रही थीं।उसने मुझे इशारे से समझाया कि पानी निकलने लगे.

जब उसको कोई शर्म नहीं तो तू क्यों भड़क रहा है?टोनी की बात सुनकर पायल थोड़ा शर्मा गई. तब तक मेरी सहेली ने अपनी एक उंगली मुँह से निकाल कर मेरी गाण्ड के छेद में डालना शुरू कर दिया। आगे से कालू मेरे मुँह में अपना लण्ड डालकर आगे-पीछे करने लगा।फिर मेरी सहेली ने कालू से कहा- मैंने तुम्हारे लिए पिछवाड़ा तैयार कर दिया है. सेक्सी बीएफ पुलिस वालाजिसका ऊपर वाला हिस्सा हम लोगों ने किराए पर दिया हुआ है और के नीचे हिस्से में हम लोग रहते हैं। हमारी फैमिली में पापा मम्मी और मैं हूँ। मेरी उम्र 21 साल की थी.

क्या अदाएँ दिखा रही थी… साली चाची इस वक्त तो पूरी रण्डी दिख रही थीं. मुंह मैं ले ले मेरा लौड़ा!मैं भी इंतज़ार में ही था, मैं देर न करते हुए घुटनों के बल बैठ गया और प्रवीण की पैंट में खड़े लौड़े को होठों से चूम लिया।प्रवीण के मुंह से आह की आवाज़ निकली… बोला- साले तू तो दीवाना लग रहा है मेरे लौड़े का.

क्यूंकि मैं यहाँ इस छोटी सी जगह पर स्थिति बदलने के नहीं सोच रहा था. साथ में हल्के से काट भी लेती थीं।मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था। मैं भी मेरे दोनों हाथ से चाची के चूचों को दबाकर चाची का साथ दे रहा था।मैंने अब तक चुदाई नहीं की थी. जो औरत की इतनी अच्छी चीज़ को किस ना करूँ।मैंने अपना मुँह उसकी चूत के सामने लेकर गया.

इसलिए मैं कुछ नहीं कर पाया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !फिर काजल अपनी कोचिंग क्लास चली गई, जाते हुए उसने मुझे एक सेक्सी स्माइल देते हुए ‘बाय भैया. आप अन्तर्वासना से जुड़े रह कर इस कहानी का आनन्द लीजिए और मुझे अपने ईमेल जरूर भेजते रहिए।आपका विवान।[emailprotected]. और होना भी था क्योंकि ज़िंदगी में पहली बार वो दुनिया की हसीन-तरीन चीज़ को चूस रहा था।मेरे मुँह हटाते ही फरहान ने आपी के दूसरे उभार को भी हाथ में पकड़ लिया था और झंझोड़ने लगा था।मैंने आपी के दोनों होंठों को अपने होंठों से खोलते हुए सांस तेजी से अन्दर को खींची.

वो इसके लिए तैयार नहीं थीं। उनके मुँह से एक चीख निकली और उन्होंने मुझे धक्का देकर अलग कर दिया।वे रोने लगीं.

मम्मी-पापा कहाँ गए हैं?मैं उठा और नीलम को चाबी देते हुए बोला- तुम्हारे मम्मी-पापा किसी रिलेटिव के घर गए हुए हैं शाम तक आ जाएंगे। मैंने देखा नीलम की नजरें मेरे तौलिये की तरफ थीं। मैं सोकर उठा था तो मेरा लण्ड बिल्कुल तन कर खड़ा हुआ था क्योंकि मेरे सिर्फ तौलिया पहने हुए होने के कारण वो कुछ ज्यादा ही बड़ा दिखाई दे रहा था।मैं तुरंत पलट कर बिस्तर पर बैठ गया और नीलम से कहा- और कुछ?वो बोली- नहीं. तो वो पूछने आई थी।टॉपिक था बच्चा कैसे होता है। मेल और फीमेल कैसे बनता है। मैं उस दिन घर पर अकेला ही था.

’ बोल कर वो अपने घर चली गई।बाद में मैंने बाथरूम में जाकर उसके नाम की मुठ्ठ मारी और शाम का वेट करने लगा।शाम को 7 बजे वो नाइट सूट में आई. और डरो मत मैं तुम्हारी इज़्ज़त नहीं लूटूंगा।इतना कहकर मामा हँसने लगे।चाँदनी रात थी और मुझे देर तक जागने की आदत थी. और उसके चूतड़ और पैर नीचे थे।मैं भी बिस्तर के नीचे ही खड़ा रहा। मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में आ गया और उसके एक पैर को अपने कंधों पर उठा लिया.

फिर तुम्हारे लण्ड में से रस निकल कर उसके अन्दर चला जाएगा और तुम्हें बहुत ज़्यादा मजा आएगा।फिर उसने मुझे सारी बातें समझाईं कि लड़की प्रेग्नेंट कैसे होती है और कन्डोम क्या होता है और उसे कैसे इस्तेमाल करते हैं।फिर वो मुझे अपने घर ले गया. ’ निकलने लगी।मैं भी उनकी चूत चाटने लगा।उनके जिस्म की महक मुझे मदहोश कर रही थी। चाची भी वासना में बह कर ‘अह हूँ. क्योंकि मेरी परीक्षा की डेटशीट आ चुकी थी।मेरी परीक्षा का सेन्टर बुआ के घर से मात्र 2 किलोमीटर दूर है.

बीएफ सेक्सी दादा अब इसे आज़ाद कर दो तो ठीक से देख सकूँ!सन्नी- इतनी भी क्या जल्दी है मेरी जान. और वैसे ही हमारी तरफ पीठ किए अपनी सलवार को नीचे खिसकने लगीं।सलवार का ऊपरी किनारा वहाँ पहुँच गया था.

सनी लियोन बीएफ सेक्सी सेक्सी

मैं तुम्हारे लण्ड को गीला कर देती हूँ।मैं मैडम के पास चला गया, मैडम मेरे लण्ड को अपनी जीभ से चाटने लगीं, फिर लण्ड को मुँह के अन्दर लेकर चूसने लगीं, मेरा आधा लण्ड मैडम के मुँह में था।दो मिनट तक चूसने के बाद मैडम ने लण्ड बाहर निकाल दिया।अब मेरी बारी थी मैडम को खुश करने की, मैंने लण्ड को एक झटके में आधे से ज्यादा मैडम की चूत में डाल दिया। मैडम की चीख निकल गई. इसलिए मैंने शॉर्ट्स पहनने से पहले मामा से पूछा- क्या मैं सिर्फ़ शॉर्ट्स में सो सकता हूँ?मामा ने कहा- यहाँ कौन सा कोई लड़की है. ताकि मैं रात भर अपनी गर्लफ्रेंड के घर रह कर मजे ले सकूँ।मैंने कहा- ओके.

और उस पर भी सोने पे सुहागा यह हो कि आपको इस अनावृत नग्न बदन को सहलाने मसलने का मौका मिल जाए. उसे तो सिर्फ़ बुआ को देखते ही पूरे 90 डिग्री की पोजीशन में खड़ा हो जाना रहता था।फिर एक दिन बुआ अपने घर जाने के लिए अपनी पैकिंग करने लगीं. डब्ल्यूडब्ल्यूई बीएफ सेक्सीताकि आपी फरहान की गाण्ड के सुराख को साफ देख सकें।आपी को दिखाते हुए मैंने अपनी एक उंगली को अपने मुँह में लेकर गीला किया और फरहान की गाण्ड के सुराख में डाल दी।फरहान हल्का सा मचला.

हमने उनको कहा- सर हमारा एग्जाम है और हमें वाराणसी जाना है।पर वो नहीं माना.

लेकिन अपने आपको रोके हुए थीं।मैं कुछ देर तेज-तेज फरहान के लण्ड को अपने मुँह में अन्दर-बाहर करता रहा और फिर लण्ड मुँह से निकालते हुए खड़ा हुआ और फरहान को इशारा किया कि अब वो चूसे।फरहान मेरी टाँगों के दरमियान बैठा और मेरे लण्ड को चूसने लगा। कुछ देर मेरा लण्ड चूसने के बाद फरहान ने मुँह नीचे किया और मेरी बॉल्स को अपने मुँह में भर लिया।वाउ. मन कर रहा था अभी चूसने लग जाऊँ।मैंने अपने अरमानों को रोकते हुए कहा- हाँ जी हाँ… मैं ही अर्जुन हूँ.

मेरे मालिक ने मेरा परिचय अपने फैमिली मेम्बरों से कराया और बताया कि मैं कम्प्यूटर पर एंट्री का काम करूँगा और साथ ही साथ मैं कार ड्राईव भी कर लेता हूँ।यह सुनकर सभी बहुत खुश हुए।उस घर में रहने वाले मात्र तीन लोग थे, एक बॉस. आयशा नीचे आई और मकान मालकिन से मुझको मिलाया।हम तीनों लोग थोड़ी देर नीचे बैठे. नाश्ता करने के बाद मैं कॉलेज चला गया।अब अक्सर ऐसा होता कि आपी सुबह कोई ना कोई काम की बात कर लेती थीं और जो सन्नाटा हमारे दरमियान कायम हो गया था.

अब वो भी मज़ा लेने लगे।मैंने महसूस किया कि वो भी अब नॉर्मल नहीं फील कर रहे थे। मैं पीछे से आगे को झाँक कर देखा.

यहाँ तक कि उसके मम्मों की भी तारीफ़ कर डाली।उसे बुरा नहीं लगा।मैंने उससे पूछा- तुम्हारे पास स्काइप एप्लीकेशन है।उसने कहा- हाँ।मैंने उससे कहा- तो चलो हम अभी वहाँ मिलते हैं।वो राज़ी हो गई।दोस्तो. पर उसकी इस हरकत से मेरे को भी बहुत गुस्सा आ रहा था इसलिए मैं भी अब मोहिनी पर कोई बहुत ज्यादा रहम के मूड में नहीं था।मैंने एक बार फिर लंड को बाहर निकाल कर पूरी ताकत लगाते हुए उसकी चूत में पेल दिया।‘गल्प्. इतनी गोरी जांघें तो मैंने आज तक किसी की नहीं देखी थीं।मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था.

सेक्सी बीएफ इंग्लिश वीडियो हिंदीतो मेरी उंगली क़रीब एक इंच तक अन्दर दाखिल हो गई।उसी वक़्त आपी ने तड़फ कर आँखें खोलीं. तो बुआ मेरे सामने सीधी बैठी हुई थीं।मुझे पता नहीं चला था कि कब बुआ झुककर खाना खाने लगीं। जब मैंने अपना सर ऊपर किया.

बुरचोदी वाला बीएफ

वरना मैं तो अपने लण्ड को भूल ही चुका था।अगले दिन से आपी अपनी यूजुअल ड्रेसिंग पर वापस आ चुकी थीं।उस वाक़ये का आज 24वां दिन था. लेकिन आज मुझसे बिल्कुल बर्दाश्त नहीं हो रहा था।ऐसा लग रहा था कि पूरा डिल्डो एक झटके में अन्दर डाल लूँ और अचानक ही मेरे हाथ के डिल्डो का सुपारा मेरी बुर के मुँह में एक इंच से अधिक अन्दर चला गया।मुझसे बिल्कुल बर्दाश्त नहीं हो रहा था. टास्क मैनेजर में मैंने देखा कि पोर्न मूवीज ओपन हुई थीं।मेरी आखें खुली की खुली रह गईं।मैं- आपने क्या ओपन किया था?सोनिया- कुछ भी तो नहीं.

लेकिन मैंने धक्के लगाना चालू रखे।थोड़ी ही देर में भाभी भी गाण्ड उठा कर मेरा साथ देने लगीं। अब मैं भी मस्ती से भाभी की चुदाई कर रहा था। कभी भाभी के बोबे दबाता. तो वो सोता ही रहेगा।अपनी बात कह कर आपी ने अपनी ज़ुबान बाहर निकाली और मेरे लण्ड को चारों तरफ से चाटने लगीं। मेरा लण्ड तो आपी के हाथ में आते ही खड़ा होने लगा था और अब आपी की ज़ुबान ने उस पर ऐसा जादू चलाया कि वो कुछ ही सेकेंड में अपने जोबन पर आ चुका था।आपी ने पूरे लण्ड को अपने मुँह में लेने की कोशिश की… लेकिन जड़ तक मुँह में दाखिल ना कर सकीं. सच बताओ?मेरी बात सुन कर आपी मुस्कुरा दीं और अपने कमरे की तरफ चल पड़ीं।फिर 4-5 क़दम बाद रुक कर पलटीं और मुझे आँख मार कर बड़े फिल्मी स्टाइल में कहा- एकदम झकास्स्स.

ताकि वो उठ ना सके। जल्दी से अपने लंड का निशाना उसकी पाव जैसी फूली गाण्ड पर रखा. मेरी कहानी कैसी लगी जरूर बताना।आपका प्यारा दोस्त सूरज[emailprotected]. अर्थात तीनों लोगों ने एक सर्किल बना रखा था।मैं तो अम्मी द्वारा चूत की चटाई से ही एक बार झड़ गई।थोड़ी देर बाद मैंने अम्मी से कहा- अम्मी.

खोल लिया और लण्ड को अपनी मुठी में पकड़ कर हाथ को आगे-पीछे करने लगी।फ़ौरन ही उसके लण्ड से भी गाढ़ा-गाढ़ा सफ़ेद पानी निकलने लगा. अंकल काफ़ी खुश नजर आ रहे थे, उनके हाथ में एक पैकेट था, वह पैकेट मेरी ओर बढ़ाते हुए अंकल ने कहा- यह तुम्हारे लिए है।मैंने पैकेट लेते हुए पूछा- इसमें क्या है?अंकल बोले- ऊपर चल कर आराम से खुद ही देख लो.

तो माँ ने उन्हें पानी पीने के लिए दिया और पूछा- रेखा तू कैसी है?‘मैं तो ठीक हूँ.

मैंने भाभी की बहन की तरफ देख कर आँख मार दी और वो भी चूत खुजाते हुए हंस दी।भाभी ने हमें बोला- आप लोग जाओ उस कमरे में चले जाओ।तो मैंने भाभी को बोला- आप भी आ जाओ. बीएफ वीडियो में सेक्सी सेक्सीकह कर उसने बाकायदा रोना शुरू कर दिया।रूही आपी ने मेरी तरफ देखा और कहा- इसे चुप करवाओ और शरम करो कुछ. बीएफ सेक्सी पिक्चर हिंदी में दिखाएंजो बिस्तर के दूसरे कोने पर उल्टा पड़ा सो रहा था।आपी ने मेरी नजरों को फरहान की तरफ महसूस करके मेरा लण्ड अपने मुँह से बाहर निकाला और बोलीं- सोने दो उसे. तो केवल कैपरी ही पहने रहते थे, उनके ऊपर का हिस्सा भी नंगा रहता था और ठीक यही हॉल दोनों आइटमों का भी था, उनकी बुर.

यह कहते हुए वो अपने नाखून से मेरी पीठ को खरोंचने लगी।दर्द तो मुझे भी बहुत हो रहा था.

जैसे वो बहुत करीब में हैं।उनकी क़मीज़ पेट से हट गई थी… मैंने पहली बार अपनी सग़ी बहन का पेट देखा था. मतलब वहीं रह कर पढ़ाई करता था।मेरे चाचा की नई नई शादी हुई थी और वो एक प्राइवेट जॉब करते थे. वो अपने छोटे भाई-बहन का ख्याल रखे और उन्होंने मुझसे भी कहा कि बेटा तुम भी हमारे बच्चों का ख्याल रखना.

और मुझे वहाँ से निकल जाने को कहा।भाभी को गुस्से में देख कर मैं बोला- भाभी मैं तो मज़ाक कर रहा था।कुछ देर में फिर से मेरे साथ हँस कर बातें करने लगीं।उसके बाद मैं एक बियर लाया. कोई भी लड़की या औरत तुम्हारे लण्ड से चुदवाने के लिए कुछ भी कर जाएगी. मैं तो बिंदास होकर लौड़ा चुसाने का आनन्द लेने लगा।अब मेरा पूरा बदन सिकुड़ने लगा, भाभी जी को मालूम हो गया और वो और जोर से चूसने लगीं।तभी मेरे लण्ड ने पिचकारी छोड़ दी.

बीएफ हिंदी पिक्चर्स

!मैंने कहा- हाँ क्यों?उसने कहा- मेरे पति ने तो आज तक मेरी चूत में किस तक नहीं किया।मैंने कहा- मैं आपका पति नहीं. दरवाजा खुला छोड़ कर मैडम जोर-जोर से सिसकारियाँ भर रही थी ‘आह…आह इइ इइ इइ…’यह सुनकर हमें पता ही नहीं चला कि रीना हमारे कमरे में कब आ गई और छुपकर हमें देखने लगी।मैंने मैडम को पूरी नंगी किया और मैडम ने मुझे नंगा कर दिया मैडम ने मेरा 8″ का लण्ड मुँह में ले लिया और चूसना शुरू कर दिया।मैडम की चूत पूरी तरह गीली हो गई थी. और उसके ऊपर वैसे ही चढ़ गया। मैंने उसकी टी-शर्ट ऊपर उठाकर उसकी सफ़ेद ब्रा से उसके मम्मों निकाल लिया और चूचे दबाते हुए चूसने लगा.

नहीं तो लोगों को शक हो जाएगा।सर के रूम से बाहर जाने के बाद मोना का भाई अन्दर आ गया।मोना- मोना चलो.

उसके सोने के बाद फिर से उसके पास जाकर उससे चिपक गया और रात भर उसको प्यार किया।उस घटना के बाद वो एक बार फिर मुझे अपने दोस्त के रूम पर बुलाकर चोद चुका है और मैंने भी अपनी गांड उसके नाम कर दी है।इस कहानी पर अपनी राय जरूर दें.

क्या मस्त चूचियाँ थीं। इससे पहले मैंने कभी अपनी लाईफ में नंगी लौंडिया नहीं देखी थी। उसकी चूची के ऊपर हल्के भूरे रंग का एक रुपये के सिक्के जितना एरोला था।मैंने हथेली से वहाँ दबाना शुरू किया. मेरे घर में आ जाती तो उधर कोई नहीं था।मेरा दोस्त भी शादी में आया था. सुहागरात वाली बीएफ सेक्समेरे घर के सामने वाले घर में एक अकेली किराएदार लड़की जिसका नाम दीपा है वह बहुत खूबसूरत थी। उसकी चूचियाँ बहुत मोटी और बहुत उत्तेजित करने वाली थीं।उसे देखने पर मेरे मन में एक ही ख्याल आता था कि किसी तरह उसको फ्रेण्ड बना कर उसकी चूत को किसी तरह मारी जाए।इसी ख्याल से मैंने उससे हाय हैलो करनी शुरू की और उससे बात होने लगी।उसने बताया कि वह यहाँ एमटेक करने आई है.

लेकिन होंठ बंद होने के कारण आवाज निकल नहीं पाई और उसकी आँखों से आंसू आ गए और मेरी पीठ पर नाख़ून गाड़ने लग गई, वो मुझे धक्के देने लगी।लेकिन मैं ऐसे ही पड़ा रहा और उसको किस करता रहा. तब लण्ड को बाहर निकाल लेना और लण्ड पर तेल लगा कर मेरी गाण्ड के छेद से रगड़ना।जैसे कल तुमने मेरी चूत मारी. वह मेरे मम्मों और निपल्स को बारी-बारी से चूस रहे थे।मैंने अपने दोनों हाथों से अंकल का चेहरा पकड़ लिया.

क्योंकि अगर आवाज़ होती तो किसी न किसी के जागने का डर था।अब मैं अपना हाथ उसकी चूत पर उसकी पैन्ट की ऊपर से ही घुमा रहा था उसके नितंबों को सहला रहा था।उसका हाथ भी अब मेरे लण्ड पर आ गया।मैंने उसके कान में धीरे से कहा- तुम अपनी पैन्ट खोल लो।उसने मना कर दिया. मैंने सारा माल थूक दिया। फिर मैंने पूछा- ये सफ़ेद चिपचिपी चीज़ क्या है अंकल जी?उसने मुझे बताया- सागर इसे माल.

अब वो मेरे नीचे थी।मैंने खुली हुई ब्रा को उसके बदन से अलग कर दिया। वाह.

इस बार मैंने उसे घोड़ी बना कर चोदा।वो भी मुझसे बहुत मज़े ले रही थी, वो बोली- मैं आपके साथ बहुत खुश हूँ।मैंने भी उसे ‘लव यू’ कहा. तो बुआ चौकी पर बैठी पूरी तरह से नंगी थीं और अपनी झाँटों पर पानी डाल रही थीं।तो मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और मैं भी पूरा नंगा हो गया।बुआ ने कुछ देर अपनी झाँटों पर पानी डालने के बाद अपनी बुर को अच्छी तरह से साबुन से रगड़ कर झाग युक्त कर दिया और झाँटों को रेजर से साफ करने लगीं।ऐसा करते हुए बुआ की बुर से सफेद सफेद गाढ़ा चिपचिपा सा रस निकलने लगा। जब पूरी उनकी झाँटें पूरी तरह से साफ हो गईं. अंकल काफ़ी खुश नजर आ रहे थे, उनके हाथ में एक पैकेट था, वह पैकेट मेरी ओर बढ़ाते हुए अंकल ने कहा- यह तुम्हारे लिए है।मैंने पैकेट लेते हुए पूछा- इसमें क्या है?अंकल बोले- ऊपर चल कर आराम से खुद ही देख लो.

सेक्सी वीडियो बीएफ 2020 ’चाची ने अपनी चूत खुजाते हुए कहा- चल तेरी भूख का मैं इंतजाम करती हूँ. साथ ही वे अपने चूचों की मालिश कर रही थीं।दोनों हाथ से बुआ दूध को मसल रही थीं और साथ ही कुछ अपने मुँह से कुछ सिसकारते हुए बोल रही थीं- आह.

तो वो भी मैंने दे दिया।मेरे हथियार का फोटो देख कर बोली- क्या कड़क सामान है अजय. सम्पादक जूजाआपी रात को करीब तीन बजे मेरे कमरे में आई और मुझे जगा कर मेरी टाँगों के बीच बैठ कर मेरे लोअर को नीचे सरका कर मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ लिया।मैंने अपना लण्ड आपी के हाथों में महसूस किया. जो कि काफ़ी झीनी थी। मैंने उससे पूछा- ये क्यों नहीं ट्राई की?तो वो शर्मा गई और बोली- ये मैं शादी के बाद पहनूँगी।मैंने कहा- ऐसा क्यों?तो वो कुछ नहीं कह पाई.

बीएफ एक्स एक्स एक्स एचडी में

’ उसके मुँह से एक सिसकारी निकली।अब तेज़ रफ़्तार से मैंने चोदना शुरू किया, पूरा लण्ड बाहर निकालता और फिर से पूरा पेल देता।‘आआह्ह्ह आह्ह्ह हहह. अंकल ने अपनी आँखें खोलीं और मेरे सुनहरे घने बालों में अपना दुलार भरा हाथ फिराया। हम दोनों एक-दूसरे को देख कर मुस्कुरा रहे थे।उन्होंने अपना लण्ड मेरी चूत से बाहर खींचा. मैं मालिश करने के बहाने काफ़ी देर दीदी की पीठ सहलाता रहा, मैं उसकी पैंटी को छू कर रहा था.

तो उसने लैपटॉप को एक गोल स्टूल पर रख दिया, अब सही से दिख रहा था।मेरे दोनों पैर जो सीधे थे. क्यूंकि उनके घर में डिश टीवी लगा है।मैं उनके घर हॉल में बैठ कर टीवी देख रहा था.

जो जिल्द के शफ़फ़ होने की वजह से बहुत वज़या था।आपी ने अपने दोनों हाथों को अपनी कमर की साइड्स पर रखा.

’ वो सिसकारियाँ भरने लगी।मैं किसी प्यासे की तरह उसकी चूचियों को पिए जा रहा था। कुछ पलों के बाद मैं उसके पेट से होकर उसकी चड्डी के पास पहुँचा और ऊपर से ही उसकी चूत चूमने लगा। वो इतनी गर्म हो गई कि अब उससे रहा नहीं जा रहा था।मैंने उसकी भावना को समझते हुए अपना काम शुरू कर दिया।मैंने लण्ड को चूत की फांकों के बीच सैट करते हुए धक्का लगाने की कोशिश की और मेरा जरा सा लौड़ा घुसते ही उसकी चीख निकल गई. जैसे सब अंजाने में हो रहा हो।वो भी स्माइल देकर वापस ड्राइव करने लग जाती. और सुरभि की चूत को चूसते हुए अपनी उंगली से भी पेलने लगी।इधर मेरा लौड़ा धीरे-धीरे अन्दर-बाहर होने लगा.

डरते हुए ये सब करने का मज़ा ही अलग है।’ मैंने कहा और आपी को देखते हुए अपनी पैंट की ज़िप खोली और लण्ड बाहर निकाल कर अपने हाथ से सहलाने लगा।आपी के साथ-साथ फरहान भी तकरीबन उछल ही पड़ा- ये क्या है भाई. मैं ये ही रूही को बताने ऊपर जा रही थी कि दरवाज़ा बंद कर ले। कब से ऊपर जाकर बैठी है. घुटनों के बल बैठा और दोनों हाथों से लाली मौसी की कमर पकड़ ली और अगले ही पल मेरे होंठ मौसी के मादक नितंबों पर जा लगे।अपनी गाण्ड पर अपने बेटे की उम्र के भतीजे के होंठों का स्पर्श महसूस करते ही लाली मौसी के शरीर में कंपकपी छूट गई.

मैंने सर से अलग होते हुए फटाफट पैंट ऊपर बांधी और बैग की तरफ लपका।तब तक सर ने भी अपनी पैंट बांध ली थी और दरवाजा खोलते हुए बाहर निकलकर बोले- हाँ भाई.

बीएफ सेक्सी दादा: वो मेरा सारा वीर्य पी गई।हम दोनों फारिग होकर 5 मिनट तक ऐसे ही पड़े रहे।वो मुस्कुराते हुए मेरे बदन पर हाथ फिराए जा रही थी. मैंने अपने कपड़े उतारे और फरहान का हाथ पकड़ कर बिस्तर की तरफ चल पड़ा।आपी की नजरें मेरे नंगे लण्ड पर ही जमी हुई थीं.

मैं जल्दी ही आशा की टांगों के बीच में आ गया और उसकी चूत के छेद में अपना लण्ड टिका दिया, उसके होंठों को अपने होंठों की गिरफ्त में ले लिया।अब मैंने धीरे से दबाब डाला और मेरा लण्ड उसकी चूत में घुसता चला गया। वो छूटने की बहुत कोशिश कर रही थी. पर साथ ही मैं प्रीत के चूचों को भी दबा रहा था और उसके पूरे बदन को भी सहला रहा था।अब मैं खड़ा हुआ और प्रीत को घुटनों के बल बैठा दिया और फिर उसके मुँह में अपना लण्ड डाल दिया। प्रीत मेरे लण्ड को खूब जोर-जोर से चूसने लगी थी। मैं तो मानो किसी स्वर्ग की सैर कर रहा था।मैं बोले जा रहा था- यस बेबी. आंटी ने मेरी कमर अपनी टाँगों से जकड़ ली, फिर आंटी अपनी गाण्ड ऊपर करके मेरा लण्ड अपनी चूत में लेने की क़ोशिश करने लगीं।मेरा लण्ड आंटी के थूक से और क्रीम से तर था और आंटी की चूत भी पानी छोड़ रही थी। मैंने सांस खींच कर एक ज़ोरदार शॉट मारा.

सच में कितना चमक रहा था और सबसे ज्यादा जो चीज़ मुझे परेशान कर रही थी.

और सबसे ज्यादा कामुक है नारी के जिस्म की मालिश करना…यह सच में बहुत ही उत्तेजक अनुभव होता है. तो वो उदास हो जाएगा।हम होटल में कमरे में आ कर जैसे पहली बार डेटिंग की हो. मैं पलटा और देखा कि वो मैडम मुझे आवाज़ लगा रही है।मैं उनके पास गया और पूछा- हाँ मैडम अब क्या काम है?तो उसने बोला- क्या हर बार काम ही रहेगा क्या?मैं कुछ समझा नहीं था कि वो क्या बोलने जा रही है।फिर उसने बोला- क्या तुम मेरे साथ शॉपिंग करने चलोगे?मेरे मन में लड्डू फूटने लग गए और मैंने ‘हाँ’ कर दिया। उसके साथ उसका लड़का था.