बीएफ सांग

छवि स्रोत,सेक्सी वीडियो 20 मिनट का

तस्वीर का शीर्षक ,

xxx. सोनाक्षी: बीएफ सांग, मैं उसे इस्तेमाल करने की कोशिश पूरी करूँगा।मुझे चाची की चुदाई की कहानी लिखने के लिए बहुत जी करता है.

सेक्सी वीडियो जंगल में हिंदी

चूत चुदाई के शौक से मेरे काल गर्ल बनने की सेक्सी कहानी-1होटेल बहुत बड़ा था, मैं रिसेप्शन पर गई, रूम नंबर 418 बताया, रिसेप्शन की लड़की ने मुस्कुराते हुए मुझे रूम तक जाने का रास्ता बताया. सेक्सी भाभी का मजाउसके मम्मे अब और भी मस्त और बड़े हो गए थे।एक दिन हम सब पकड़म-पकड़ी खेल खेलने लगे, जिसमें बार-बार मेरा हाथ उसके मम्मों पर जाता और मैं उसके मम्मों को दबा देता.

मैंने उसके मम्मे को अपने होंटों से किस करना स्टार्ट किया तो वो आहें भरने लगी. फुल हिंदी वीडियो सेक्सीवो शर्मा गई और मुझसे नज़रें नहीं मिला पा रही थी।फिर वो नीचे ही सो गई.

ये कहकर वो रोने लगी और उनके आँखों से पानी आने लगा।मैं वैसे ही उनके ऊपर लेट गया और उनके होंठों को चाटते हुए कहने लगा- सॉरी जानू, फर्स्ट टाइम कर रहा हूँ इसलिए.बीएफ सांग: मैंने उसे जोर से पकड़ रखा था कि वो चाहकर भी दूर न जो जाये! किस में मैं उसके दोनों लिप्स को काटने लगा.

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज पढने वाले मेरे दोस्तो, आप सबको नमस्ते!मेरा नाम राज है, मेरी उम्र 21 साल है, मैं इंजीनियरिंग कर रहा हूँ.हम दोनों इतनी ठण्ड में भी पसीने से तरबतर हो रहे थे और मेरे धक्के बढ़ते ही जा रहे थे, आज मैं रुकने वाला नहीं था.

मराठी फिल्म सेक्सी वीडियो - बीएफ सांग

तभी बस वाले ने एक मोटेल में बस रोकी, बोला- बस 10 मिनट रुकेगी, फिर सीधे पूना रुकेगी।लाइट जल चुकी थी, हम दोनों ही अपनी दुनिया से निकल कर वास्तविकता में आ चुके थे पर कोमल नज़र नहीं मिला रही थी.सुनील के सामने बेपर्दा हुई सुनीता की जवानी की दूधिया चमक ने सुनील को भी बेपर्दा कर दिया, सुनील सुनीता के होंठों से उसकी जवानी का रस चूस रहा था, सुनीता भी सुनील का पूरा साथ दे रही थी.

उसका दुपट्टा और बैग वहीं पास में रखा था, दो लड़के उसको झुककर बारी बारी से चोद रहे थे. बीएफ सांग उसकी आँखें बंद थीं। मैं उसके बड़े-बड़े मम्मों पर होंठ लगा कर चूसने लगा। वो और गनगना गई.

तुमको कुछ तो कहने का मौका मिला।तो निशा ने शाम को मुझे सीरियसली बोला- तुम गंदे इंसान हो.

बीएफ सांग?

मौसी काम करने के बाद थक गई थी वो खाना खाकर आराम करने के लिए लेट गई. मेरी बॉडी कसरती है क्योंकि मैं बॉडी बिल्डिंग करता हूँ। मैं एक गाँव में तहसील में हूँ। मेरा लंड 6. तो अपने होंठों से लंड को रगड़ते हुए निचोड़ डालतीं।अब नशा रसीली भाभी की आँखों में भी भर गया था। मैं भी लंड चूत में डालने को बेताब था। मैंने रसीली भाभी के निप्पल पकड़ कर उन्हें खड़ा किया।‘देवर जी चूत लंड मांग रही है.

करीब एक घंटे के बाद अंजलि का फ़ोन आया- आप आ जाओ, मुझे वापस चलना है!मैंने पूछा भी- इतनी जल्दी? क्या हुआ?पर अंजलि ने कहा- कुछ नहीं, बस आप आ जाओ और मुझे ले चलो!मुझे लगा कुछ गड़बड़ है तो मैं तुरंत वहां से निकल कर होटल पहुंचा तो देखा कि अंजलि बाहर ही लॉबी में मेरा इंतज़ार कर रही थी और अपसेट भी लग रही थी, वो चुपचाप गाड़ी में आकर बैठ गई और मैंने गाड़ी चला दी. रूम साफ करने आया था।मैंने उसे आने दिया। जब तक उसने रूम साफ किया, तब तक सुरभि नहा ली।जैसे ही वो आदमी कमरे से बाहर गया. उसके बाद वह तो जैसे मर ही गई, इतनी ज़ोर से चिल्लाई- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मम्मय्यययी नहियीईईईईईई भैयाआआ निकालऊऊऊऊऊऊ!फिर मैंने उसके होंठ अपने होंठों में ले लिए और ज़ोर ज़ोर से हिलने लगा.

तो मैंने उसे पीछे से जाकर पकड़ा और धीरे-धीरे उसके मम्मों को दबाने लगा और गर्दन पर किस करने लगा।वो धीरे धीरे गर्म होने लगी और पलट कर किस करने लगी।हम दोनों चूमा-चाटी करते हुए धीरे-धीरे एकदम नंगे होकर बिस्तर पर आ गए। मैं उसके एक चूचे को दबा रहा था और दूसरे को चूस रहा था, वो मादक सिसकारियाँ ले रही थी अह. इसलिए मैं मना करने लगी।परन्तु मामा की ज़िद की आगे मुझे झुकना पड़ा और हम तीनों खेतों में चले गए। वहाँ जाकर पहले तो हम दोनों बहुत मस्ती की. आप सब मुझे लव बॉय कह सकते हो।वैसे तो मैंने मेरी गर्लफ्रेंड के साथ कई बार सेक्स किया है.

मैं दिखने में गोरा और 5’10” गठीला और छरहरा शरीर का हूँ, स्मार्ट और डैशिंग हूँ. अंजलि- किशोर क्या सोच रहे हो… तुम गिल्ट फील मत करो, जो कुछ हुआ वो मेरी वजह से हुआ क्योंकि मैं चाहती थी.

मैंने कल्पना के मुंह में अपने हाथ की उंगलियां डाल दी और वो चूसने लगी और शरीर में एक लहर के साथ ही मैं उसकी जांघों पर स्खलित हो गया.

जब मैं 12वीं में एक सरकारी स्कूल में पढ़ता था। अब तक मुझे बुर के दीदार नहीं हुए थे। यहाँ तक कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड भी नहीं थी खैर छोड़ो इस बात को, मुद्दे पर आते हैं।गर्मियों की बात है.

फिर प्रिया ने कहा- इतनी देर तक सो रहे हो?मैं हड़बड़ा गया! मैं कुछ नहीं बोल पा रहा था।प्रिया ने फिर कहा- इतनी देर तक क्यों सो रहे हो?मैंने कहा- ऐसे ही… आज नींद नहीं खुली।वो मेरे बगल आकर बैठ गई और हम इधर- उधर की बातें करने लगे।इतने में हिना चाय लेकर आ गई।मैं फ्रेश हो आया, फिर हमने साथ में चाय-नाश्ता किया. मैं उसदे बुल्लाँ ते अपने बुल्ल रख दित्ते!अस्सी दोवें 5 मिंट किसिंग कित्ती… इससे विच मैं ओहदे मोम्मे वी पटने शुरू कर दित्ते सी. उसकी इस खींचा तानी में इलास्टिक की रगड़ से लंड को सिहरन सी हुई और मेरा ध्यान इस बार अपने शॉर्ट्स पर चला गया जिसे वंदु अब भी निकालने की कोशिश में जुटी थी.

‘अब कुछ खाने की व्यवस्था है भी या नहीं?’‘क्यों नहीं राजकुमारी साहिबा! किचन में सब कुछ रखा है!’मैं किचन से दो कप कॉफी बना कर लाई और दोनों एक साथ बैठकर कॉफी पीने लगे. सुधीर ने अपने होंठों से ‘मैं भी…’ शब्द निकाले और मेरे वाटर कलर लिपस्टिक लगे गुलाबी होंठों से सटा दिया. मैं वहाँ पर पहले भी रह चुका था इसलिए मुझे वहाँ रहने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई, मैं आराम से रह रहा था.

आंटी नीचे झुकी तो मैं उनके बड़े बड़े बूब्स देख कर पागल हो गया, मेरा लंड मेरे हाफ पैंट में पूरा हार्ड हो गया, मैं उसको पैंट में सेट कर रहा था तो आंटी ने ये नोटिस कर लिया.

मैं भी जोश में आ गया और उनका ब्लाऊज निकाल दिया, दोनों बूब्स को दबा के चूसने लगा. रात के एक बजे मैं पानी पीने के लिए उठी तो देखा रेहान और हिना सोए थे पर बुआ नहीं थी. मैंने 15 मिनट तक उसके दुग्ध कलशों और उसके होंठों को गर्दन को पेट को चूमा और चूसा.

मैंने पहली बार अपने पति के अलावा किसी और से मस्ती भरी चुदाई की है। आपके भैया तो बस जल्दी जल्दी चूत में लंड हिलाकर सो जाते हैं। अब सोच रही हूँ आपके साथ पहले ही चुदाई करनी चाहिए थी और आप थे कि दूर भाग रहे थे।’मैंने रसीली भाभी को किस किया।‘आउच ऊऊऊऊ. चल अब खड़ी हो जा!उसने हाथ पकड़ कर अमिता को खड़ा कर दिया और उसको चूम कर चूतड़ों से खेलते हुए बोला- अमिता रानी. मैं समझ गया कि यह अब डर रही है मुझसे बोलने में… मैंने कहा- संध्या, तू मेरे पास आ!वह बोली- क्यों?मैंने कहा- आ तो सही!वह धीरे से मेरे पास आई, मैंने उसको बेड पर बैठाया और कहा- संध्या, तुझे सब पता है ना मेरे और कविता के सेक्स के बारे में?तो वह कहने लगी- भैया, मुझे कुछ नहीं पता है कसम से!वह उस समय डर गई थी.

पहले कभी भायकला आया है क्या?मैंने झूठ बोला- हाँ आया हूँ।बस फिर उन्होंने पूछा- तेरे घर पर कौन-कौन है?मैं बोला- माँ और 2 भाई बहन हैं।वो बोलीं- ओके, अच्छा है।मैंने भी पूछा- आपके घर पर कौन-कौन है?तो उन्होंने बोला- अभी तो फिलहाल कोई नहीं है।मैं समझ गया और मैंने सीधा बोल दिया- आऊं क्या मैं आपके घर?मुझे डर तो लग रहा था लेकिन उस वक़्त मुझे पता नहीं क्या हो गया था.

, वास्तव में मैं इतनी भी सुंदर या कामुक नहीं हूँ कि अप्सराओं का मुकाबला करूँ, लेकिन इतना तो है कि उस वक्त वो मेरे लिए साक्षात कामदेव और मैं उसके लिए अप्सरा बन गई थी।उसने मेरे ब्रा का हुक नहीं खोला… बल्कि कंधे की पट्टी को बाहों में सरका दिया जिससे मैं बंधी सी हो गई और वो मेरे कंधे, गले, गालों, लबों को चूमता चाटता रहा. उसकी पसीने की खुशबू में उसके वीर्य की हल्की गंध भी मिली हुई थी… लग रहा था जैसे सारी रात का लौड़ा खड़ा हुआ कामरस निकाल रहा था और सुबह वो सूख गया था जिसकी हल्की महक मुझे पागल कर रही थी.

बीएफ सांग यह देख मैं मस्त हो गया, मैंने नेहा को अपने पास बुलाया और नेहा को अपनी चूत मेरी मुँह पर रखने को बोला. ‘बापू मैं सच में यही चाहती थी पर डर भी रही थी इसिलए मना करने का नाटक कर रही थी.

बीएफ सांग तो मैंने कहा- सोच ले फ्रेंड्स विद बेनेफिट का!कहती- भक्क साला!मैंने उसको बाहों में लिया और बोला- आगे बता!कहती- यार फिर मेरी ब्रा खोल के जो उसने चूसे मेरे उफ!उसका बदन कसमसाया. मेरे लिंग की लम्बाई काफी है, और मुझे सेक्स का काफी अनुभव और शौक है.

इसे सोचते ही मेरा तो रोम-2 सिहर उठता है!! मेरी प्यारी-नशीली नताशा ने क्या गज़ब का डबल एनल परफॉरमेंस दिया!!!‘अगर सच पूछो तो मेरी भी वही इच्छा है, जो कि तुम्हारी.

बीएफ हिंदी शब्द

‘हाँ… पर मुझे खाना तो बनाना है ना, हटो अब मुझे खाना बनाने दो!’ मैं उसे बाजु करने लगी तो उसने मुझे अपने पास खींचा और एक किस किया- मजा आया ना?मुझसे पूछा. मैं आपका मन बहलाने के लिए आपसे सारी रात बातें करूँगी।मैं भी बोला- कैसी बातें करोगी भाभी?भाभी थोड़ा हँस कर बोलीं- जैसी बातें करने का आपका मन होगा. ये तो ऐसे लग रहा था जैसे 24-25 साल का हो। उसकी बॉडी देख कर कोई ये नहीं कह सकता कि वो 18 साल का है।मैं उसे निहारती रही.

मैं अपनी ममेरी बहन की सहेली अन्नू के साथ एक ही बिस्तर में लेटा हुआ था और मैंने कांपते हाथो से उसको स्पर्श किया।अब आगे. जो कि पूरे हाथ में तो नहीं आती, लेकिन चुची का कुछ भाग आ गया।यह बहन की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!दीदी बोलीं- मूड बन गया है. सो बहुत ग्राहक भी नहीं आते थे, मतलब ज्यादातर समय मैं फुर्सत ही रहता था और अन्तर्वासना पर ही टाइम पास करता रहता था।एक दिन मैं बुर की चुदाई की सेक्सी स्टोरी पढ़ रहा था कि एक लड़की मेरे पास दुकान पर स्टेफ्री (बुर का ढक्कन) लेने आई। मैं तो उसे देखकर पागल सा हो गया और उसके तने हुए चूचे देख कर मेरा लंड मुझसे ज़्यादा कड़क हो रहा था।सच में यार.

मैंने मौसी का शर्ट निकाला और उनके ऊपर लेट गया तो मौसी ने कहा- बेटा, मेरे चुचों का सारा दूध पी ले… 4 साल हो गए, किसी ने इनको नहीं पिया है.

फिर थोड़ी हिम्मत करके मैं उसके बालों को सहलाने लगा और अभी मैं खेल ही रहा था कि उसने कहा- ये क्या कर रहे हो तुम?तो मैं बोला- कुछ नहीं. बस चुदाई की। उसने मेरी बॉडी के हर पार्ट से बहुत अच्छे से खेला और उसे बहुत मजा आया।आते टाइम हम दोनों एक-दूसरे को किस किया।‘क्या हम फिर कभी मिलेंगे?’‘पता नहीं अनूप. मैं आपसे कुछ बात करना चाहता हूँ अगर आपकी इजाजत हो तो?मैं- हाँ बोलिए?मनजीत- मेडम, आपको पैसे की ज़रूरत है क्या? जॉब नहीं मिल रही है क्या?मैं- हाँ बिल्कुल!मुझे ज़रूरत थी पैसों की क्योंकि बी.

वो कुछ देर शांत रही, फिर उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपने पेट के ऊपर रख लिया, शायद वो भी मुझसे वही चाहती थी जो उसने मेरे साथ किया. ! संदीप तुम तो सच में मेरे साथ हो, मुझे तो अब भी यकीन नहीं हो रहा है।उसके आकर्षक नाखून नेल पेंट से सजे थे, और उसकी खरोंच से मुझे जरा भी चुभन नहीं हुई, बल्कि एक अच्छा अहसास हुआ। अब यह उसका आकर्षण था या फिर सच में वो इतनी ही नाजुक थी? यह मैं नहीं जानता।फिर उसने फोन निकाला और हम दोनों ने उसी के फोन से अंतर्वासना की कहानियों पे कमेंट किये। कल्पना मुझसे समाजिक गतिविधियों, सेक्स, राजनीति, कौमार्य, फैशन. फिर मैं वापिस अपने घर आ गया तो मुझे भाभी का फ़ोन आया कि वो माँ बनने वाली हैं और घर में सब बहुत खुश है.

तभी कुछ करूँगा।वो टाइम से नहीं आई पर उसका मुझे मैसेज आया कि स्कूल में थोड़ा टाइम लग जाएगा, तुम प्लीज सेक्टर 17 आ जाओ, मैं सेक्टर 17 में ही मिलूँगी।मैंने ‘ओके. मुझे भी हँसी आ गई।आप लोग सोच रहे होंगे कि ये क्या…तो बता दूँ कि मैंने ऊपर भी लिखा है कि मैं अपनी जवानी का पूरा मजा ले रही हूँ।कॉलेज में मस्ती करने लगी थी, कॉलेज में मैंने 3 यारों के साथ अपनी जवानी रंगीन की थीं, एक तो कॉलेज का प्रोफेसर था.

साथ ही लंड से उसकी गांड का मजा लेने लगा।उसे पता चल गया था कि मैं क्या कर रहा हूँ. कुछ मिनट की आंटी की चुदाई के बाद मेरा निकलने वाला था, मैंने आंटी को बताया तो वो बोली- मेरी चूत में ही झड़ना!मैंने वैसा ही किया. उनको मैंने हर तरह से चोदा है।नेहा गनगना गई और मुझसे लिपट गई।मैंने नेहा को खूब चूमा.

मेरे पति ने मोहन को फ़ोन किया तो उसने बताया- वो दोनों आज काम पे नहीं आएँगे.

अंजलि मेरे को पिज़्ज़ा खिलाती और फिर उसी टुकड़े में खुद भी खाती!एक तरह से कहा जाए वो मुझे डॉमिनेट कर रही थी, जैसा वो चाह रही थी, वही हो रहा था. वहाँ पर मौसी और उनकी बेटी नीना थी, मौसी कोई 40 साल की होंगी और नीना 18 साल की थी. !अब वो थोड़े गुस्सा हुए और उन्होंने मेरी टांगें खोलते हुए अपने हब्शी लंड को मेरी छोटी सी चूत के आगे टिका दिया, फिर बोले- ले अब भोसड़ी की.

उफ्फ्फ़… उछलती चूचियों को मुँह में भरना आअह्ह!कोमल की सांसें उखड़ने लगी तो मैंने उसको फिर से पलट दिया, उसके ऊपर आकर मिशनरी स्टाइल में चूत में लंड घुसा दिया. अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था, मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और सलवार को सामने से नीचे खींच दिया.

कुछ देर में फ्रेश होकर रूसी दढ़ियल भी बाहर आ गया और हम तीनों ने बियर की बोतलें खोली. ब्यान करना मुश्किल है कि मैं किस एहसास से गुज़र रहा था, जिन्होंने यह सुख भोगा है उन्हें पता है उस वक़्त की मनोस्थिति!ख़ैर, थोड़ी देर यूँ ही अपने जीभ से उस लाल सुर्ख़ हो चुके सुपारे को चाटने के बाद वंदु ने अपने होंठों को थोड़ा खोला और सुपारे को अपनी गिरफ़्त में ले लिया. वो थोड़ा पीछे हुआ और मेरे गोरे शरीर को निहारने लगा, वो मेरे पैरों को घुटनों तक नंगा देख चुका था, अब वो मेरी नंगी जांघें, नाजुक कमर को देख रहा था, मेरे सफ़ेद पेट, गहरी नाभि देख रहा था.

हिंदी बीएफ फिल्में

दो दिन तो बहुत घूमा, पर तीसरे दिन बहनोई और बहन को अचानक जोधपुर जाना पड़ा।अब मैं उनके घर में अकेला था.

खैर इन दोनों चुची से तो मैं तब से खेल रहा हूँ जब ये सिर्फ़ एक सेब जितनी थीं। पिछले 3 सालों में 28 इंच से बढ़ कर 38 हो गईं. रह रह कर लंड फुदक फुदक के लावा उगल रहा था… मेरा जिस्म हल्का होता चला गया. तुमको जब मैंने अपने लबों से पहली बार लबबद्ध किया, तो तुमने अपने लबों के चुम्बन से मुझे मेरी ही जैसी तुम्हारी हसरतों का अहसास करवाया.

‘चलो मेमसाब आप को दिखा ही देता हूँ!’ ऐसे कह कर उसने अपना हाथ फ्रेंची के अंदर डाला. पूरा लंड अन्दर डालो।’‘आज तेरी चुत की हालत बहुत खराब होने वाली है साली कुतिया. सेक्सी वीडियो 18 साल की लड़कियों कीमैंने भी देर न करते हुए उसकी दोनों टांगों को ऊपर उठा कर उसकी बुर में उंगली डाल दी तो और वो भी मस्त हो गई.

लेकिन मैं उसकी चूत देखने को बेचैन था तो मैंने उसे दोबारा कहा और उसने धीरे धीरे अपनी पेंटी अपनी जांघों से सरका कर पैरों से निकाल दी. तो मैं बड़ा खुश हो जाता था। कुछ देर बाद मैं भी जान-बूझकर कभी-कभार ब्रेक मार देता तो भाभी मुझसे चिपक जातीं।जब मैं ये बार-बार करने लगा तो भाभी ने कहा- क्या बात है देवर जी.

अब मैं उन्हें बहुत ज़ोर ज़ोर से फक कर रहा था और उनकी आहें तेज़ होती जा रही थी. हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम अरमान अंसारी है, अपनी पहली सेक्स स्टोरी में मैं अपनी पड़ोसन स्कूल गर्ल की कुंवारी बुर की चुदाई की घटना का वर्णन किया है. वो बहुत खुश रहती हैं।भाभी ने कहा- हाँ वो सब लकी होंगी।तो मैंने भी कहा- क्यों?तो उन्होंने कहा- आज का डिनर तुमने जिस तरीके से मुझे ट्रीट किया.

उसने अपने हाथों से मुझे कंडोम पहनाया फिर वो मेरे ऊपर बैठ गई और लंड को अपनी चूत में सेट करने लगी. मेरा लंड तैयार था और उसकी चूत लंड लंड पुकार रही थी, मैंने उसके ऊपर आकर उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया, कोमल ने भी साथ दिया, एक हाथ नीचे ले जा कर लंड को चूत की दरारों में घिसना चालू किया तो कोमल के तन में भी जान आ गई, उसकी कमर उचकने लगी, मैं समझ गया कि वो अब तैयार है. कब हमें नींद आ गई, हमें पता भी नहीं चला!लगभग 5 बजे मैं उठा, रिया को भी उठाया, उसको लम्बी किस की.

’‘हा हा हा डफ्फर… तेरा तो लौड़े से भी बड़ा हो जायेगा, मेरे भोन्दु तेरा पूरा तम्बूरा है तम्बूरा… देखना तू मालिश के बाद कितना बड़ा हो जायेगा.

खैर सुबह भी हो गई और मैंने सबसे पहले खेत में घूमने का प्लान किया और निकल पड़ा. हम दोनों में चोदा चोदी होनी शुरू हो गई थी, दादा जी का जब मन होता, वे मौका देख कर मेरी चुदाई करते और हम दोनों शांत मस्त हो जाते।दोस्तो, यह थी मेरी चुत की सील तोड़ चोदा चोदी की सेक्सी स्टोरी.

11:30 पे चाची खाना लेकर आ गई, हम दोनों कमरे में बैठ गए, मैं खाना खाने लगा, चाची मेरी तरफ देख के बोली- तेरी किस्से नाल सेटिंग ए? मतलब तेरी किसी के साथ सेटिंग है क्यामैंने कहा- नहीं चाची, मेरी इतनी किस्मत कहाँ!मैं भी पूरा निडर हो गया, बोला- चाची आप ही बताओ क्या करूँ?कुछ सोच के चाची बोली- मैं क्या बताऊँ?. यह बात उस वक़्त की है जब मैं स्कूल ख़त्म करके आगे इंजिनियरिंग की तैयारी कर रहा था. ’ करने लगी, वो बहुत खुश थी, उसे मजा आ रहा था… तो मैं और ज़ोर से चाटने लगा और फिर थोड़ी थोड़ी उंगली भी की। मुझे मज़ा आ रहा था। फिर मैंने उसे किस किया और उसके होंठों को खूब चूसा.

मेरी भावनाओं को समझते हुए उसने तुरन्त मेरा लंड अपने मुख में ले लिया और चूसने लगी. अब मैंने अपने कपड़े निकाले और सिर्फ अंडरवियर में उसके पास बैठ कर उसकी कमर से मालिश शुरू की. तो कभी उसकी एक टाँग अपने कंधे पर रख कर चुत पेलता, उसको मम्मों को और होंठों को बारी-बारी से चूसता हुआ उसको चोदता।उसको भी मजा आ रहा था।करीब दस मिनट बाद वो अकड़ गई और झड़ गई.

बीएफ सांग दो-दो लंड के टोपे गोरी लड़की के मुंह को चौड़ा करते हुए उसके होठों के बीच अन्दर-बाहर होने लगे. इस तरह करते हुए बोले- सुहाना, मैं आ रहा हूँ, और उसी समय मुझे मेरी चूत के अन्दर गर्म गर्म पानी सा गिरता हुआ महसूस होने लगा था.

एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो पिक्चर

मामी की लड़की की चुत का पानी मैंने खुली छत पर चांदनी रात में निकाला. एक बार मेरे कूल्हे पर बड़ा सा फोड़ा हुआ, जिसके कारण मैं चल नहीं सकता था, न ही बैठ सकता था. कल चार-पाँच बार मुठ मार-मार के एक गिलास भर मुझे अपना वीर्य पिला दो बेटे.

मैं रिफ्रेश हुआ और लंच बुक किया। लंच करने के बाद 2 बजे का वेट करने लगा. कार में बैठकर हमें करीब 15 मिनट इंतजार करनी पड़ी और राजू अपना बैग लादे पहुँच गया. कुंवारी लड़कियों की हिंदी सेक्सी वीडियो!चाचाजी- बस तुझे प्यार कर रहा हूँ।मैं- ये कैसा प्यार है?चाचाजी- तुम 3 दिन पहले मुझे देखकर क्यों भागी थीं?मैं- क्या.

तभी उसने मुझे एक किस किया और ‘आई लव यू…’ कहा तो मुझे तो मानो मुझे मेरी मेहनत का फल मिला हो!मैंने उसे पकड़ा और किस करने लगा… वो अब मेरी मेरी क़ैद में थी.

पर मैंने बात घुमाते हुए कहा- मुझे तुम अच्छी लगती हो!तो वो शरमाई वो कप किचन में रखने चली गई. मुझे डर लग रहा था कहीं वो दांत से ना काट ले!लेकिन मेरा सोचना था कि उसने कच्च से दांत काटा और मेरा लंड दर्द होने लगा!मगर उसके बाद भी वो चूसती रही, मुझे मजा आने लगा, मैंने कहा- यह बेईमानी है, मैं भी चूसूंगा.

‘मेमसाब, वो कैरी बैग देना!’मेरे पैरों में एक कैरी बैग पड़ी थी, मैंने उसे वो उठा के दी, वो बेडरूम के दरवाजे के पास खड़ा था, बीच में एक सीढ़ी थी और मैं बेड के पास खड़ी थी. मुदस्सर अमिता की गांड में झड़ चुका था, उसका लंड अभी भी उसकी गांड में ही मौजूद था. पेट चूमते हुए भाभी की चुत पर आ गया।मैंने देखा कि भाभी की चूत मस्त बालों वाली चुत है।मैंने पूछा- भाभी आप झांटें साफ नहीं करती हो?तो बोलीं- आजकल तुम्हारे भैया को तो टाइम ही नहीं मिलता.

बस सर नीचे करके खाना खाता रहा।कुछ देर बाद लकी, उसका दोस्त और मैं बियर पीने के लिए एकांत में चले गए।जब हम बियर पीकर वापिस आ रहे थे, तो वो लड़की अपनी एक सहेली के साथ अचानक मेरे सामने आ गई। वो सिर्फ मुझे देख रही थी.

यह सुनते ही मैं आंटी की बेरहमी से चुदाई करने लगा और थोड़ी देर बाद उनकी चूत में ही झड़ गया।कुछ देर हम दोनों नंगे ही पड़े रहे और फिर उठ कर मैंने कपड़े पहने।आंटी ने मुझे चाय पिलाई और मैं अपना सामान लेकर अपने घर चला आया।उस दिन से अब जब भी मौका मिलता है तो मैं अपने आपको आंटी की चूत चुदाई के महासमुद्र में डुबा लेटा हूँ।दोस्तो, मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लगी. वो ‘आआआह्हह फ़क मी प्लीज़ उम्म्ह… अहह… हय… याह… उस्स स्सआआह ह्ह्ह…’ की आवाजें कर रही थी और मेरा सर अपनी चूत पे दबा रही थी. मेरी चुत फाड़ डालो।मैंने भाभी की चूत को पेलना शुरू कर दिया।उस दिन मैंने 2 बार भाभी की चुदाई की और फिर साथ ही नहाने चले गए।इसके बाद भाभी की चुदाई का सिलसिला 20 दिसम्बर से लेकर 2 जनवरी तक पूरे 12 दिन चलता रहा। मेरी छुट्टी 5 जनवरी को खत्म होनी थीं.

खान सेक्सी फोटोभाभी ने मुझे हटाया और कहा- अभी घर का काम करना है, उसके बाद प्यार करेंगे. इतने में मेरी बेल बजी, मैंने देखा कि यह तो रिया है, मैंने दरवाजा खोला, वो अंदर आ गई उसने मुझे लंच के लिए पूछा.

गुजराती में बीएफ वीडियो

तेरे लिए तो कुछ भी कर सकता हूँ।गगन- संगीता ने चिठ्ठी भेजी है।मैं तो थोड़ी देर के लिए हक्का-बक्का रह गया। मेरा दोस्त अपनी ही बहन को पटाने को बोल रहा है। फिर मैं थोड़ी देर बाद बोला।मैं- अबे वो तेरी बहन है. उन्होंने मयंक को बोला- सीख अपने दोस्त से… अगले टेस्ट में मुझे तेरा स्थान क्लास में 1 से 10 के बीच में चाहिये… वरना तू अपना सोच लेना!तब मयंक की मम्मी मेरे पास आई और बोली- तुम दोनों साथ में पढ़ लिया करो ताकि अच्छे नंबर ला सको. मैडम ने मेरे शॉर्ट को देखी और हंस कर बोली- क्या हुआ समीर, लगता है तेरा ध्यान पढ़ाई में नहीं है?मैंने कहा- हाँ!और फिर कहा- क्या मैं घर जा सकता हूँ?मैडम बोली- रुक जा समीर, बाहर बहुत बारिश हो रही है, मैं तेरे घर फोन करती हूँ और तेरी मम्मी को बोलती हूँ.

माँ नहाने गई हुई थी और मैंने उनको बोला था कि मैं दोस्त के यहाँ जाऊंगा तो उन्हें लगा कि घर पर कोई नहीं है, वो भी बड़े आराम से नहाने लगी. सारे लड़के उस पर लाइन मारते हैं। उसे सेक्स के बारे में बहुत कुछ पता है और वो इस बारे में मुझे भी बताती है। कभी-कभी तो वो मुझे नंगी भी कर देती है और मेरे चूचे दबाने लगती है, तो कभी मेरी चूत में उंगली करने लगती है। इस सब में मुझे भी बड़ा अच्छा लगता है।मेरे भाई का एक दोस्त था राहुल. अगर आप लोगों को यह कहानी पसंद आई तो फिर भाभी के बहन की चुदाई की कहानी भी बताऊंगा। आप जरूर बताइएगा.

अभी तो तुम बस मुझे चोद दो।भाभी की चुदाई इच्छा बढ़ती जा रही थी तो मैंने उसे चित लिटाया और लंड पेल कर चुदाई शुरू कर दी।लंड घुसा. तो मैं किसी से नहीं कहूँगा।उसने बताना शुरू किया कि उस फ्लैट में नम्रता नाम की एक आंटी रहती हैं. ‘पति का चूसने से भी ज्यादा मजा आ रहा है कि नहीं?’ उसने मेरे मुंह से लिंग बाहर निकाला.

पतली कमर, गोरा बदन और चेहरे पे बिखरी जुल्फें…मेरा लंड भी अकड़ सा गया. भाभी ने अपनी उंगली अपने मुँह में डालकर गीली की और उससे भैया के पिछवाड़े वाले छेद को रगड़ने लगी.

औरों के जैसे उसके बूब्स पर नहीं देखते हो।मैंने कहा- अभी तो तुम्हारे देख कर करता हूँ।तो हँस पड़ी.

तो मैं जल्दी से उठा और बाथरूम के दरवाजे के एक छेद में से देखने लगा। उन्होंने अपने सारे कपड़े उतार दिए थे और वे नीचे अपनी गांड हिला रही थीं, ऊपर अपने एक हाथ से अपने दूध दबा रही थीं. वीडियो सेक्सी फोटो सेक्सी वीडियोबड़ी गर्मी लग रही है।भाभी आगे-आगे चल दीं, मैं पीछे-पीछे उनकी पिछाड़ी पर नजरें गड़ाए हुए चल रहा था। टाइट नाइटी में भाभी की क्या गांड मटक रही थी. ब्लू सेक्सी हिंदी में चोदा चोदीतो मैंने आंटी को पलटा और उनकी गांड को दबा दिया। आंटी ने स्माइल देकर जैसे गांड मारने की हामी भर दी हो।फिर मैंने कैसे आंटी की गांड मारी और उनकी बहन को भी चोदा. उसकी हालत देखते हुए अब मैंने झुक कर उसकी एक चूची को अपने होंठों में भरा और अपने लंड को बिल्कुल एक हल्की रफ़्तार लेकिन ज़ोर के साथ उसकी चूत के पूरे भीतर तक गाड़ दिया… बिल्कुल वैसे जैसे इंजेक्शन देते वक़्त सुई हमारे बदन में घुसती है.

इतना होने पर भी मेरी चूत मांगे चुदाई चुदाई और चुदाई!फ्रेंड्स मेरी ये चुदाई की स्टोरी कैसी लगी.

जब मैं नजरें चुराता हुआ आगे बढ़ने लगा तो वो अपनी मर्दाना आवाज़ में बोला- कित का है मानस…(कहाँ से है भाई)मैंने अपने मौहल्ले का नाम बता दिया. मित्रो, हिंदी चुदाई स्टोरी साईट अन्तर्वासना पर लड़की की चुत में लंड डाल कर चोदा चोदी की यह मेरी पहली कहानी है. जो बिना ‘आई लव यू’ कहे बिना इजहार के और बिना सेक्स के हो गया था।मैं मन ही मन सुधीर को चाहने लगी थी.

लौंडियाँ मेरे आकर्षक शरीर पर जल्दी ही फ़िदा हो जाती हैं।सभी लोगों की तरह मेरा भी मन सेक्स करने में लगता था. जब मैं क्लास 12 में पढ़ता था। मैं और मेरा दोस्त बाइक पर मस्ती करने निकले थे। उस दिन हम घूमते हुए ज्यादा आगे आ गए थे. तो भाभी बोलीं- क्या हुआ?मैंने कहा- ये दूध अच्छा नहीं लग रहा है।वो मुस्कुरा दीं और बोलीं- ये अच्छा नहीं लग रहा है तो देवर जी को कौन सा दूध चाहिए?मेरे मुँह से एकदम से निकल गया- आपका.

लियोनी बीएफ

बहुत बार दीपा ने मेरी गांड मारी और मैंने रोहित की चूत मारी।आपको मेरी ये काल्पनिक चुदाई की कहानी कैसी लगी. नेहा ने आते ही उसे हग किया और उसे जूस का गिलास देते हुए बोली- जूस पी लो और फटाफट फ्रेश हो जाओ।आशु बोला- इतनी जल्दी क्यों?तो नेहा बड़े स्टाइल से बोली- आज तुम्हारा दोस्त भी तो आ रहा है पीछे पीछे, अब उसके सामने तुम वाशरूम में हुए और मुझे अकेला देख कर उसकी नीयत खराब हो गई तो?आशु हंस कर बोला- उसकी नीयत तो बाद में खराब होगी, मुझे तो तुम्हारी नीयत खराब दिख रही है. इतना सब हो जाने के बाद भी शर्माता है।मैंने कहा- नहीं मेरी कई फ्रेंड नहीं है.

फिर वो बिस्तर पे लेट गई, मैं उसकी चुची मसलने लगा, चूसने लगा! वो सिसकारियाँ ले रही थी… मेरे सर पर हाथ घुमा रही थी!मैं बीच बीच में उसके निप्पल काट रहा था जिससे वो तड़प उठती!फिर मैं नीचे गया, उसकी नाभि को चाटने लगा.

शायद वो दोनों तरफ की चुदाई की वजह से जल्दी झड़ने वाली थी… वो बड़बड़ाने लगी- उउहह संदीप… आहहहह… जान… क्या मस्त लौड़ा पाल रखा है.

इस तरह वो अपनी चुत में उंगली करते हुए चिल्ला कर मुझे सुनाने लगीं।जैसे ही मामी सीत्कार भरते हुए दरवाजे के पास आईं. मैं नीचे बैठ गई उसके नितम्ब अब मेरे सामने आ गये, उसका लिंग हिलाने के समय मेरा होठों का घर्षण उसके अंडकोष और नितम्ब के बीच की जगह में होने लगा, मैंने बैलेंस बनाने के लिए मेरा हाथ उसके नितम्बों पे रखा तो गलती से मेरा हाथ उसके नितम्ब के छेद को लगा. सेक्सी वीडियो 10 साल लड़की केबड़े बड़े बूब्स, गोरा चिट्टा रंग, बड़ी सी गांड… सबसे अच्छी बात इसके होंठ बहुत रसीले हैं.

लेकिन दवा के जोश में मैं रूका नहीं, चोदता ही रहा।फिर मैंने उन्हें घोड़ी बना दिया और फिर चोदना शुरू कर दिया।चाची बोलीं- राकेश बस करो. मौसेरी बहन की चुदाई की यह बात तब की है जब मेरे घर वाले बाहर गये हुए थे. 30 से पहले नहीं आ पायेगा।नेहा बाइक पर बैठती हुई बोली- कहाँ चल रहे हो?रवि मुस्कुरा कर बोला- तुम्हारे घर!रास्ते से नेहा के कहने पर रवि ने समोसे लिए और दोनों घर पहुँच गए।घर के अन्दर आते ही रवि ने नेहा को कस के भींच लिया।नेहा हंसती हुई बोली- जल्दी क्या है, अभी तो दो घंटे तुम्हारी हूँ.

मर्दाना स्पर्श से मेरे रोंगटे खड़े हो गए थे, मैं कुछ विरोध ना करते हुए उस पल का मजा ले रही थी, वो सेक्स मैं एक निपुण खिलाड़ी के तरह मुझे उत्तेजित कर रहा था. मेरी झांटें सुलग गईं, मैं मन ही मन में भाभी को चोदने के सपने देखने लगा था। मैं सोच रहा था कि भाभी दूसरे दूसरे रूम में मैं क्या कर लूंगा सिवाए भाभी आपके नाम की मुठ मारने के अलावा और कुछ नहीं हो सकेगा।मैंने मन मसोस कर कहा- ओके.

मैं अभिषेक, मेरी उम्र 24 वर्ष, दिखने में स्मार्ट हूँ, जिम जाने की वजह से बदन से सुडौल हूँ.

इसलिए मैंने वो सीक्रेट फोल्डर ओपन कर दिया, जिसके अन्दर और भी बहुत सारे फोल्डर बने थे।मैंने कांपते हाथों से पहला फोल्डर ओपन किया। उसमें एक वीडियो था. आपको बताते चलूँ कि औरत के कंधे और कान की लटकन पर किस करने और काटने से उनके अंदर सेक्स की उत्तेजना काफी तेजी से जागृत होती है. पल भर का भी समय गँवाए वंदु उठ कर खड़ी हो गई और मुझे लगभग धक्का देते हुए बिस्तर पे पूरी तरह से गिरा दिया.

सेक्सी कहानियां सुनना है वे दोनों बहनें साथ सोती थीं।अब क्या माजरा था, वो मुझे क्यों घूर रही थी, आगे क्या-क्या हुआ. ऐसे में उसके सहकर्मी ने उसकी कामवासना को भड़का कर उसकी चूत में लंड उतार दिया.

बस अब चोदने की तड़प थी और उसे भी चुदने की चुल्ल हो गई थी।घर मैं ज्यादा लोग होने के कारण मैं अपने ही घर में रिस्क नहीं लेना चाहता था. मैं हड़बड़ा कर तौलिया उठाकर रूम में चला गया और गेट अन्दर से लॉक कर के कपड़े पहनने लगा। मैं सोचने लगा कि चाची क्या सोच रही होंगी।थोड़ी देर बाद चाची ने बाहर से गेट खटखटाया. जैसे ही सुनीता वापिस ड्राइंग रूम में वापिस आई तो पंकज ने उठ कर सुनीता को बाँहों में ले लिया और उसकी गाल पे एक सच में किस कर दिया, जिससे सुनीता के गाल गुलाबी हो गए और गर्म हवा मदहोशी के सागर में डूब गई.

बीएफ इंग्लिश वीडियो सेक्सी

’ की आवाज़ से और अपने हाथ से उसका सिर घुमाने लगी। उसके बाद वो खड़ा हो गया और उसने मुझे अपना लंड चूसने को कहा।मैंने पहले तो लंड चूसने से मना किया, लेकिन फिर उसके और मेरी फ्रेंड के कहने पर लंड चूस लिया, मुझे सच में बहुत मजा आया।फिर मेरे कजिन ने मुझे लिटा कर मेरी चुत का बाजा बजा दिया. फिर मैंने अजय की गांड मारी और अपना वीर्य भी पिलाया।हमारी चुदाई खत्म होने के बाद अजय ने बताया कि उसे गांड मरवाने और लोड़ा चूसने का बहुत मन करता है, यह उसका पहली बार था।फिर अजय ने कहा- आगे भी वह मुझसे मरवाना चाहता है. आओ तुमने मना किया था कि नहीं आओगे लेकिन आ गए तो मैं थोड़ा शॉक हो गई।विक्की सीधा मुझे उठा कर बेडरूम में ले गया और बिस्तर पर मुझे पटक दिया और बोला- आज तो कसम से पटाखा लग रही हो।और वो मुझे पर टूट पड़ा.

दोस्तो, बातों बातों में हमारी चुदाई भी पूरी हो गई थी, और बाकी बात सुनीता ने बाद में ऐसे बताई:उसे रह रह कर सुनील का लंड याद रहा था और वो सोचने लगी थी कि काश उसके बॉय फ्रेंड का लंड भी ऐसा ही हो!उसके बाद इस बात को काफी दिन निकाल गए. मुझे भी मजा आने लगा। मैं उसके होंठों का रस पिए जा रहा था और उसके मम्मों को दबाए जा रहा था।मैंने उसका स्कर्ट ऊपर करके देखा… तो उसकी बुर दिख रही थी, साली ने पेंटी भी नहीं पहनी थी।कम्प्लीट चुदासी थी रंडी!मैंने उसका स्कर्ट और टी-शर्ट दोनों खोल दिए। उसका गोरा और चिकना बदन मेरे सामने नंगा था। मैं उसकी बुर पर हाथ फिराने लगा, उसकी बुर एकदम सफाचट थी। उसकी बुर क्या नमकीन लग रही थी.

वेटर के लंड की बड़ी बेरहमी से मार जो पड़ी थी उसको।अब मैडम का मिला-जुला रिएक्शन था.

मौसेरी बहन की चुदाई की यह बात तब की है जब मेरे घर वाले बाहर गये हुए थे. बिना ब्रा के तो बहुत जबरदस्त दिख रही हैं।मैं हँस पड़ी और उससे ज़्यादा कुछ नहीं कहा।उसने हिम्मत करके पूछा- तुम्हारा साइज क्या है?मैंने उसे अपनी चुची का नाप बता दिया. पर ये सब मैंने नहीं सोचा था!मैं- तुमको यह नहीं लगा कि मैं तुमसे उम्र में काफी बड़ा हूँ और तुम बहुत कमसिन सी हो?कोमल- मुझे अपने से उम्र में बड़े लोग पसंद हैं, मेरे पति भी मेरे 11 साल बड़े हैं.

बस में काफ़ी भीड़ थी। मैं तीन सवारी वाली सीट पर बैठा था और सोच रहा था कि यदि कोई मस्त सी लड़की आएगी तो मैं उसको सीट दे दूँगा, जिससे मेरा सफर सुहाना हो जाए।जैसे ही बस रोहतक पहुँची. तो उसने मुझे सीट पर कुतिया बना कर पीछे से लंड डालना शुरू किया। इतना मोटा लंड मैं पहली बार ले रही थी. ’उसका मजबूत शरीर, जंगली जैसा मेरे शरीर से खेलना, गन्दी बातें करना और सबसे ज्यादा अपने विशाल लंड से जोरदार और न रुकते हुए धक्के लगाना… इन सबसे आगे में कब तक टिकने वाली थी?और मैं जोर से झड़ गई, मैं अब ठीक से खड़ी भी नहीं रह सकती थी, मेरी पूरी ताकत खत्म हो गई थी, मैंने अपना पूरा शरीर उसकी बांहों में छोड़ दिया.

मेरी हालात तो ऐसी थी कि राजधानी की रफ़्तार से वंदु की चुदाई करके उसकी चूत और अपने लंड का पानी निकाल देना ही सही था, लेकिन फिर भी मैं संयम बरतते हुए हल्के धक्कों से ही उसकी मख़मली चूत का मर्दन करता रहा.

बीएफ सांग: और उसके बाद जब जिसका मन होता तो टाइम निकालकर फिर शुरू…बस इस कहानी में इतना ही लिखूंगा, बाकी चुदाई का तरीका तो सब कहानियों में एक सा ही होता है, मैंने भी उसी तरीके से भाबी की चुदाई की तो मैं कुछ लिख नहीं रहा हूँ क्योंकि वो फालतू में टाइम लेती है।भाभी की चुदाई की कहानी पर मुझे अपने विचार भेजें[emailprotected]पर!. उन्होंने मेरी चूत में अपनी लंबी जीभ डाल दी और जीभ से चूत को चोदने लगी।मैं- आहह.

मैं अजीब कशमकश में था… मेरा दिमाग मेरा साथ नहीं दे रहा था, साथ ही अंजलि की कमसिन जवानी का नशा मुझे कुछ सोचने नहीं दे रहा था. मैं समझ गया कि यह अब डर रही है मुझसे बोलने में… मैंने कहा- संध्या, तू मेरे पास आ!वह बोली- क्यों?मैंने कहा- आ तो सही!वह धीरे से मेरे पास आई, मैंने उसको बेड पर बैठाया और कहा- संध्या, तुझे सब पता है ना मेरे और कविता के सेक्स के बारे में?तो वह कहने लगी- भैया, मुझे कुछ नहीं पता है कसम से!वह उस समय डर गई थी. और मैंने वो खोलकर देखा तो उसके फोन में 6 ब्लू-फिल्म पड़ी हुई थीं।मैंने फोन रख दिया।जब हम दोनों खाना खा लिया और सोने गए.

फिर उनकी ब्रा भी उतार दी। ब्रा खुलते ही भाभी के दूध आजाद होकर उछलने लगे।मैं तुरंत एक आम को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा।भाभी भी एकदम मस्त हो चुकी थीं, उनकी भी हालत ख़राब होने लगी थी।अब मैं अपना हाथ धीरे-धीरे नीचे ले गया और ऊपर से ही उनकी चुत को मसलने लगा।भाभी ‘उह आह.

मेरी नंगी भाभी ने अपनी दो उंगलियाँ चूत में डाली हुई थी और दूसरे हाथ से वो अपना दाना रगड़ रही थी. तो तुम उसकी वाइफ के चक्कर में हो?’‘बेकार की बातें छोड़ो, पहले मुझे जाकर उससे बात करने दो तब हमें सही बात का पता चलेगा!’ मैंने थोड़ा खिन्न होकर नताशा की बात काटी और जोड़ा- मुझे दूसरों की वाइफ में कोई दिलचस्पी नहीं है, सिर्फ अपनी वाइफ में है. मेरी तो अब 3 दिन ऑफिस से छुट्टी है।तो मैंने कहा- ठीक है मस्ती से 3-4 दोस्त मिल कर दारू पिएंगे।‘आज क्या होगा?फिर मैंने कहा- आज 4 दोस्त नहीं पर हम 3 दोस्त जरूर मिल सकते हैं.