देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ

छवि स्रोत,कल्याण राजधानी नाईट का चार्ट

तस्वीर का शीर्षक ,

தமிழ் xxc: देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ, लेकिन जब मम्मी ने डाँटा तो मुझे जाना ही पड़ा।मैं आटो से चली गई, जब मैं वहां पहुँची तो डाक्टर साहब एक मरीज को देख रहे थे.

बिहारी देहाती सेक्स वीडियो

मैंने उसके कंधे पर हाथ रखते हुए कहा- कोई बात नहीं भाभी, मैं हूं न आपका ख्याल रखने के लिए!उसने मेरी ओर देखा और हल्के से मुस्करा दी. सेक्सी पिक्चर चाहिए सेक्सी पिक्चर चाहिएमेरी जेठानी भी तब तक बैठ चुकी थी।मेरे जेठ ने जैसे ही मुझे बेड पर पटका.

सो किसी अजनबी से बात करके टाइम पास भी हो जाएगा और हर बात के लिए हर तरह से बची भी रहूँगी. पडोसी सेक्सउसने खुद को सही किया मतलब अपना लंड अन्दर किया और तौलिया लेकर दरवाज़ा खटखटा कर मुझे तौलिया पकड़ा दिया.

मैंने निशाना लगाया पर उनकी चूत छोटी होने की वजह से मेरा लंड फ़िसल गया.देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ: गीतिका मस्त हो गई और बोली- ठीक है, आज की रात तुम्हारी रात है, मैं तुम्हारे पास हूँ, जो भी करना है वह कर लो, और मेरे तनबदन की आग बुझा दो.

मैं आप लोगों को विश्वास दिलाना चाहती हूँ कि मेरी सेक्स कहानी को पूरी पढ़ने के बाद आप लोग अपने लंड को हिलाए बिना नहीं रह पाएंगे और मेरे नाम की मुठ मारे बिना भी नहीं रह पाएंगे.साले चोदू तेज कर भड़वे … साले मादरचोद … जोर से चाटो!मैंने अब अपनी जगह बदली और छोटी चाची के पास जाकर उनको घोड़ी की तरह बना दिया.

अंग्रेजी लड़कियों का सेक्सी वीडियो - देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ

”ना … बाबा … ना … आप तो रहने ही दो … अब दुबारा मैं आपकी बातों में अब नहीं आने वाली.मेरे साथ वाली लाइन पेंशन लेने वालों की थी, जिसमें ज्यादातर औरतें ही थीं.

मैंने इस मौके का फायदा उठाते हुए उसकी साड़ी ऊपर की और पैंटी हटा कर उसकी चुत में उंगली करने लगा. देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ उससे बात करते हुए मैंने अपना हाथ उसके हाथों में डाल रखा था और उसके कंधे पर अपना सर रखा हुआ था.

ये कहकर मैंने अपने धक्कों की स्पीड को बढ़ा दिया और उसे ताबड़तोड़ चोदने लगा.

देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ?

अगर आज की रात उस नर्स रूम में बने पीछे के कमरे में किसी अच्छी और खूबसूरत नर्स के साथ मेरा टांका भिड़वा दो, तो दो हजार और दूंगा. मेरे चेहरे पर चिंता के भाव देख बोली- क्या हुआ? किस टेंशन में डूबे हुए हो?मैंने हड़बड़ाते हुए कहा- कुछ नहीं. मैंने उसके चूतड़ों के ऊपर जोर से थाप मारी और बोला- साली रांड पहले अन्दर तो जाने दे.

तो मैंने जानबूझ कर उसको अपने मम्मों के दर्शन करवाए और 1000/- रुपये भी दिए. कविता बहुत कम समय में ही मुझे उत्तेजित कर चरम सीमा के पास ले आयी थी. मैं- तो क्या उसे बस खड़ा करके दिखाने के लिए ही खरीदा है?मैंने हंसते हुए कहा, जिससे वो थोड़ी खीज सी गयी.

तब उन्होंने मेरी गांड को फैला कर उसके छेद पर अपने लंड को रखा और बोले- मेरी जान, अब तेरी गांड की बारी है. ये कहावत कैसे बनी, आइए मेरे साथ इस कुंवारी Xxx चुत कहानी में जानते हैं. और जब लण्ड बाहर निकाला तो पूरा एक फुट लंबा लण्ड सपल सपल करके बाहर निकला और उसके साथ ही निकला ढेर सारा वीर्य और चूत का पानी.

उस दिन मैं शाम के करीब 6:00 बजे अहमदाबाद से अपनी कार लेकर माउंट आबू के लिए रवाना हुआ. जैसे ही हमारी नज़र मिलीं, हमारे चेहरे पर स्माइल आ गयी … मगर हम में से किसी ने कुछ कहा नहीं.

कमरे में कुछ देर मैंने अकेले ही बहुत सी बातें सोचकर आंसू बहाए … और बहुत सी बातों के लिए खुद की किस्मत को सराहा.

मुझे याद थे रानी के कहे हुए साफ साफ शब्द कि चुदाई की पूरी क्रिया उसके हिसाब से होगी.

संजय ने मुंह बनाते हुए अपने ऊपर के कपड़े पहने और धीरे से थोड़ा सा दरवाजा खोल कर वेटर से चाय की कैटल पकड़ ली और उसे वापस जाने को बोल दिया. वो बोली- आप मेरे काम के लिए अपना काम छोड़कर आए हैं, तो आपको कुछ तो लेना ही होगा. मगर अब मैं जवान हो गया थी तो मेरा मन भी विपरीत लिंग की ओर आकर्षित होने लगा था.

कुछ देर तक मैं भी उन दोनों को ही देखती रही, उसके बाद मैं नहाने चली गयी. मम्मी ने डाक्टर से पूछा- डाक्टर साहब, अल्ट्रासाउंड की रिपोर्ट में क्या आया?तो डाक्टर ने कहा- इसके दाएँ स्तन में गाँठ है जिसकी वजह से दर्द होता है. बस फिर क्या था … कविता मेरी जुबान को मस्ती भरे अन्दाज में चूसते हुए खेलने लगी और मेरे स्तनों को मसलने लगीमुझे ऐसा नहीं लग रहा था कि कोई औरत मेरे साथ सेक्स कर रही है, बल्कि कोई मर्द ही मेरे साथ मस्ती कर रहा है.

मुझसे रहा ही नहीं जा रहा था कि मौसी कब आएंगी और कब उन्हें चोदने का मौका मिलेगा.

घूमते ही गीतिका को मैंने अपनी बांहों में उठा लिया और काफी देर तक उसके प्लाजो में उभरी चूत के ऊपर लंड को अड़ाए रखा. Facebook id – Vivaan SrivastavaEmail id –[emailprotected]कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की सहेलियों संग रासलीला- 2. एक दिन की बात है कि दोपहर के समय एक गदराये जिस्म की भारी भरकम इंडियन लेडी हमारे स्टोर पर आई.

मेरी बॉडी एकदम शीशे की तरह चमक रही थी … क्योंकि मसाज का तेल मेरे शरीर पर चमक रहा था और मेरा चेहरा भी बहुत ग्लो कर रहा था. जैसे ही लण्ड अंतिम छोर तक जाता तो चूत और लण्ड के झांटों वाली जगह आपस में चिपक जाती थी जो अति आनंद देता था. वो- हां, उसने वो बैंक में मुझे फोन तो किया था … पर मुझे याद ही नहीं रहा.

उसने लंड को थूक से गीला किया और बैठ गई लंड सट्ट से अंदर चला गया। अब वो उछल उछल कर अपनी चूत से मेरे लौड़े को चोदने लगी।अब हम दोनों ही सिसकारियां निकलने लगी.

मेमरानी ने चूचियां जड़ से ऐसे दबायीं कि चूची का आगे का भाग सामने को फूल सा गया. मस्त चूचियां थी उसकी … रस से भरी हुई।वो लंड में बैठकर ऐसे उछल रही थी जैसे घोड़े पर सवार हो।अब मैंने फिर से उसे नीचे किया और ऊपर आ के चोदने लगा। गपागप गपागप लंड को अंदर-बाहर करने लगा.

देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ मैं गुड्डी के पीछे जाकर उसकी गर्दन को चूमने लगा और दोनों हाथों से चुचियों को दबाने लगा. तैयार होने के बाद मैंने नाइटी एक ऊपर एक और रेड रंग का फुल गाउन डाल लिया.

देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ अब नहीं आएगा।”फिर उसने 2 ग्लास निकाले और मेरे लिए भी वाइन बनाई।मैं अकेली रहती थी और कभी कभी वाइन पिया करती थी।उसने मुझे मेरा ग्लास दिया और जाम से जाम टकराने के बाद हम दोनों ने अपना ग्लास खत्म किया।वो मुझसे लगातार बात करता जा रहा था. पर एक चीज़ सामने आई कि पैसे के लालच में इंसान कुछ भी कर गुजरने को तैयार हो जाता है.

उसने मुझे होटल का नाम बताते हुए कहा- मुझे इस होटल के बाहर उतार दीजिएगा.

அண்ணி செஸ் வீடியோ

फिर उस दिन हम दोनों ऐसे ही नॉर्मल रहने लगे … लेकिन हमारे पति लोग नार्मल नहीं थे. अब रमेश खड़ा हो गया और अपना लंड रेहाना की गांड के छेद पर लगा कर पूरा उसकी गांड में उतार दिया. वो मुझे बुरी तरह से चूमने चाटने लगा और मैं भी उससे चिपक कर मजा लेने लगा.

क्या पार्क में घूमने गए थे? मुझे लगा कि तुम जम कर सेक्स कर रही होगी. पिक भेजने के बाद उन्होंने मुझसे पूछा- आपका मेरे बारे में क्या ख्याल है?मैंने कहा कि आपकी उम्र तो 40 के आसपास लगती है. !वो- ऐसा नहीं है … तुम न जाने क्या सोच रहे हो … ऐसा कुछ भी नहीं है.

कॉलेज गर्ल सेक्स स्टोरी हिंदी में पढ़ें कि मैं नयी नयी जवान हुई थी और जवानी के असर से खिलती ही जा रही थी.

अब हम बस में साथ होते, कॉलेज में पूरा टाइम होते और पढ़ाई में सबसे आगे रहते. फिर मैं उठा, तो विनीता मेरे पास आई और बोली- हाथ मुँह धो लो, मैं तुम्हारे लिए चाय बनाकर लाती हूँ. तभी धीरू अंकल ने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर रखा और धक्का देना शुरू कर दिया.

अब मेरा लंड उसके अंदर बच्चादानी में टकराने लगा।वो चीख पड़ी- ऊईई ईईई ऊईईईईई सीईईईईई मर गई बचाओ बचाओ मर गई।मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर आ कर चोदने लगा. कुछ ही देर में लंड ने चुत में जगह बना ली और मैं उन्हें पूरी रफ्तार से चोदे जा रहा था. मैंने उसे सीट पर एक साइड में लिटा दिया और दूसरी साइड में मैं लेट गया.

हम दोनों ने हंस कर हाथ मिलाया, तभी मैं वीणा को एक आंख मार के मुस्कुरा दिया. उनकी आँखों में लाल डोरे तैर रहे थे जो मुझे और भी ज्यादा उकसा रहे थे.

दर्द हो रहा था मुझे चूत में और मेरे मुंह से निकल रहा था- छोड़ दो … अब बस … ओह्ह … प्लीज रुका जाओ. मेरे आधे नंगे जिस्म को देख कर चाचा जी ने तुरंत मुझे अपने पास खींच लिया और मेरे पेट पर बेहताशा चुंबन करने लगे. इंडियन सेक्सी भाभी की वासना की कहानी में पढ़ें कि भाभी ने चालबाजी से बेटियों के सामने ही मुझे उनके कमरे में आने की इजाजत दे चुदाई का रास्ता साफ़ कर लिया.

एक बोला- शाही भाई, कहीं ये बाहर जाकर तो नहीं बता देगी?शाही सर बोले- नहीं बताएगी, पैसा बहुत कुछ कर सकता है.

वो बोलीं कि तुमको भी चाय पीनी है क्या?मैंने भी हां कर दी, तो वे बोलीं कि एक ही लाना … उसी में से मैं भी थोड़ी सी पी लूंगी. उनको देखने से अंदाजा नहीं लगाया जा सकता था कि उनकी उम्र 49 साल होगी. मुझे गुदगुदी हो रही थी और जब दर्द होता तो मैं दाएँ-बाएँ हिल जाती जिससे चैकअप सही से नहीं हो पा रहा था.

महंत का आठ इंच लंबा मूसल लंड गटकते ही दीदी की एक जबरदस्त चीख निकल गई. कविता के बारे में तो मैं जानती थी … इसलिए मुझे उसे लेकर कोई खास हैरानी नहीं थी.

ये हैं मेरे दोस्त रिजवान सुनील और प्रवीण!मैंने तीनों से हाथ मिलाया. एक बालकॉनी पीछे की तरफ थी जो मेरे और बचे पोर्शन के मास्टर बेडरूम के लिए इकट्ठी थी. मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके होठों पर लंड फिराने लगा वो गप से लंड अंदर ले गई और लोलीपोप के जैसे चूसने लगी।अब मैंने उसे बिस्तर में घोड़ी बनाया और अपना लौड़ा उसकी मखमली चूत में घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटकों से चोदने लगा.

जबरदस्ती एक्स एक्स एक्स

मैंने कम्बल को खींचा और गीत और नेहा को कम्बल में ले लिया और अपना मुंह बाहर निकाल कर संजय को कपड़े पहन कर चाय पकड़ने को बोला.

फिर 15 मिनट बाद मेरा निकलने वाला था, तो मैंने लंड को बाहर निकाल कर हाथ से अपना वीर्य नीचे फर्श पर गिरा दिया. नैना बोली- रमित मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ … बस जो भी पल या लम्हा तुम्हारे साथ बिताने का मिले, उसे भरपूर जी लेना चाहती हूँ. बीच-बीच में मैं भाभी के निप्पलों को अपने दांतों से हल्का-हल्का काट भी लेता था.

उस दिन रविवार था और रविवार को डाक्टर साहब दोपहर दो बजे तक मरीजों को देखते थे. फिर कुतिया की तरह चलकर इधर आ।रिया कुतिया की तरह चलकर रमेश के पास आ गयी. सेक्स हिंदी पिक्चर सेक्सवे मेरे कामुक बदन का जमकर भोग लगा लेना चाहते थे।मैं उनके नीचे थी और वह मेरे ऊपर थे.

सूरज मेरे से ब्रेकअप नहीं करना चाहता था, क्योंकि ऐसा होने पर कॉलेज में उसकी बदनामी हो जाती. मैं थोड़ी देर बाद बालकनी में जाकर बैठ गई तो देखा कि धीरू अंकल के दोस्त बालकनी में ही बैठे हुए थे.

मैंने कहा- मादरचोद, अब चोदेगा भी कि दूध ही चूसता रहेगा!मेरा इतना बोलते ही मेरा पालतू कुत्ता मेरी चुदाई करने लगा. मैंने उसे कह दिया कि मैं कोई फीस नहीं लेता, मैं यह काम शौकिया तौर पर करता हूँ. मैंने भाभी की चूत की पूरी दरार, आसपास और पटों पर फैला सारा रस अपनी जीभ और होठों से चाट कर साफ कर दिया.

मैंने पूछा- क्या?उसने बिना कुछ बोले अपने लपलपाती जीभ को मेरी गर्म चूत पर रख दिया और ऊपर से नीचे करने लगा. देसी आंटी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे पड़ोस की एक आंटी से मेरी दोस्ती हो गयी. मेरी बॉडी एकदम शीशे की तरह चमक रही थी … क्योंकि मसाज का तेल मेरे शरीर पर चमक रहा था और मेरा चेहरा भी बहुत ग्लो कर रहा था.

मैंने कहा- अरे क्या हुआ मोहन बाबू, अभी तो मज़ा आना शुरू हुआ था और आप उतर भी गए.

उसकी उंगली मेरी गांड में जाते ही मेरी आंखें अचानक से बंद हो गई और मैं जोर से मस्ती के मारे ‘अहह … आहहह विजय’ करने लगी. सेक्सी गांड Xxx स्टोरी में पढ़ें कि मामी की चूत चुदाई और लंड चुसवाने के बाद अब बारी थी मामी की गांड मारने की.

पैंटी का आगे का हिस्सा भी ट्रांसपेरेंट कपड़े का था, जिसमें से चुत की दरार दिख रही थी. अगर कहीं दीदी देख लेती तो पता नहीं क्या होता!और उनका लिंग तनाव में उठा हुआ था वे तो रात को अंडरवियर बनियान में ही सोते हैं।दोस्तो, एक बार पता नहीं कैसे मेरे पूरे शरीर में खुजली की बीमारी हो गयी. नैना मेरे सर को अपनी चूत पर दबा रही थी और कभी अपनी कमर उठा कर अपनी चूत को मेरे मुँह के साथ लगा देती थी.

मैं स्कूटी को स्पीड से तो चला ही रहा था … अब अचानक से मैंने जैसे ही ब्रेक‌ लगाए तो शायरा सीधा मेरे ऊपर आ गई. रेहाना अपनी उंगली से रमेश के वीर्य को गांड से निकाल निकाल कर चाटने लगी. फिर मैंने अपना सामान इकट्ठा किया और धीरे धीरे जरूरत की सारी चीजें जुटा लीं.

देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ उसने कहा- आज रात में यहीं रुक जाओ न!मैंने कहा- नहीं, मैं यहां नहीं रुक पाऊंगा. घोष बाबू ने एक बार फिर बात छेड़ दी और बोले- अरे भई, शिफ्ट करना भी तो पूरी मुसीबत है, कौन सा आसान काम है? पूरा एक महीना लग जाता है सैटिंग करने में। कभी प्लम्बर, कभी इलेक्ट्रिशियन और न जाने क्या क्या चाहिये होगा.

செக்ஸ் தமிழ் படம்

मैंने अनीता के बाल खींच कर उसे अपने ऊपर खींचा और बोला- यार, सर दर्द कर रहा है. तो मैंने भी अपने हाथ पीछे ले जाकर अपने चूतड़ों को फैला दिया और अपनी गांड का छेद धीरू अंकल के सामने नुमाया कर दिया. वास्तव में मुझे कभी ख्याल ही नहीं आया कि तुम मुझसे प्यार भी करती हो.

उसमें पीछे से मेरी ब्रा की दोनों पट्टियां दिखाईं दे रहीं थीं लेकिन मुझे मालूम नहीं था. मैंने कहा- मेरे लंड पर कब से नजर लगाए बैठी थी?वो बोली- जीजू जान मैं तो आज दोपहर को ही आपके लौड़े से चुदने के लिए राजी थी. 4 की सेक्सी वीडियोरमेश रिया से बोला- देख ले, अब से तू सिर्फ एक रंडी है और तेरा काम मेरी सेवा करना है.

दरअसल हुआ कुछ ऐसा कि मेरा एक दोस्त या भाई, आप कुछ भी कह सकते हैं, वह अमेरिका से आया हुआ था.

कुछ आधा मिनट के बाद मैंने कहा- और कितनी देर लगेगी?तभी मेरे होंठों पर किसी के होंठ टच हुए. कोरियर वाला- सर, ये शायरा जी‌ यहीं रहती हैं?मैं- हां … यहीं रहती हैं, पर इस समय वो घर पर नहीं है, कोई काम है?कोरियर वाला- ज्…जी … उनका ये कोरियर है, मैंने उनके‌ ऑफिस में फोन करके भी बताया था, वो यहीं मिलने वाली थीं … पर शायद अभी तक आई नहीं.

कहानी के पहले भागलॉकडाउन में मस्त पड़ोसन 1में अब तक आपने पढ़ा कि भाभी जी एक बड़ी हॉट सी ड्रेस में अपने मम्मों का मुजाहिरा करते हुए मेरे दरवाजे पर खड़ी थी और उनको गैस सिलेंडर बदलवाना था. उसी समय निशु के पास उसके एक ग्रुप के लड़के का कॉल आया, वो उससे बात करने लगा. मेरा मन करने लगा था कि अभी भाभी के मम्मों को दबा दूँ, लेकिन अभी मैं कोई ऐसी हरकत नहीं करना चाहता था.

मैं रश्मि के जिस्म से उतरकर उसके बगल में आ गया और रश्मि ने करवट बदल ली.

मैंने भी निशी की बात को ध्यान से सुना और सिक्के के दूसरे पहलू को देखना शुरू किया. फिर भाभी ने दादी से कहा- मेरे ध्यान में मेरे मामा का लड़का है जो बहुत अच्छा है. मालिश करते हुए मेरे नौकर श्यामू ने कहा- मालकिन, तेल से आपकी ब्रा खराब हो जाएगी, अगर आप बुरा न मानो तो इसको खोल दूं?मैंने भी अपने पालतू कुत्ते नौकर से कहा- तुझे जो भी खोलना है … खोल दे लेकिन मालिश बढ़िया से करना.

यूरोपियन सेक्स वीडियो”दादी, आप भी कैसी बातें करती हैं, बच्चों से कैसा पर्दा? वो भी कष्ट के समय में. घुँघराले बाल, लंबी गर्दन, पतली कमर कैटरीना जैसा फिगर देख कर लगता ही नहीं था कि कविता भाभी शादीशुदा होंगी.

ஆன்ட்டி வீடியோ செக்ஸ்

मगर इतनी सुबह मेरी और उसकी चुदाई की कहानी सुनने के लिए फ़ोन किया है या फिर कुछ और बात है?रमेश- यार, अपने उस दल्ले रत्न लाल से बोल कर मेरे लिए आज रात के लिए कुछ नया इन्तज़ाम करवा।रवि- क्यों वह रिया नहीं चलेगी?रमेश- नहीं, कुछ अलग बोल उससे।रवि- ठीक है. बातों बातों में मेरे हाथ से गलती से एक ऐसा झटका लगा कि मौसी के हाथ से दाल की कटोरी उनकी साड़ी पर गिर गयी. और जब हम दोनों का ही पानी निकल गया तो नहा कर बाहर आ गए।फिर हम दोनों ने खाना खाया और उसके बाद शुरू हुई मोनिका की असली चुदाई।मैंने उसे बेडरूम में ले जाकर नंगी बिस्तर पर लेटा दिया।मैं फ़्रिज से रात का बचा हुआ केक से क्रीम लाकर उसकी पुद्दी और निप्पल पर लगा दिया।और बारी बारी से क्रीम चाटते हुए उसकी पुद्दी और निप्पलों को चूसता रहा।जब वो अच्छी तरह से गर्म हो गई तो इस बार मैंने उसे अपने ऊपर लिटा लिया.

शायरा के चुभने में नर्म और दिखने में सख्त मम्मे मेरी पीठ पर लगे तो मेरी मस्ती बढ़ गई. वो मेरे बालों में हाथ फिरा रही थी, होंठों को दांतों में दबाए गर्म सिसकारियां ले रही थी. मुझे मेरी पिछली सेक्स कहानी के लिए बहुत सारे मेल्स आए और मैं बहुत खुश हूँ कि आप सबको मेरी कहानियां इतनी पसंद आती हैं.

तू मेरे घर आ जा!मैं शाम को उसके घर पढ़ाई का ड्रामा करने के लिए बैग लेकर गया. धीरे धीरे अन्दर बाहर होने की जगह तेज़ी से चुदाई की रफ्तार बढ़ा दी गई. अब आगे:मैं शायरा के होंठों को तो चूस रहा था, पर मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी कि मैं अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दूँ.

अनामिका- जीजू … वो कैसे! और तुझे उनसे चुद कर क्या सच में मजा आया?प्रियंका- देख ज्यादा डिटेल न पूछ … मतलब की बात यह है कि मुझे तो बहुत मजा आया. [emailprotected]होमोसेक्सुअल स्टोरी का अगला भाग:मेरा प्रथम समलैंगिक सेक्स- 3.

होटल स्टाफ के बारे में भी बताया और कहा- अभी शादी के कारण सबकी ड्यूटी बढ़ा दी गई है।मैंने कहा- ज्यादातर जगहों में लड़कियां ही काम करती नजर आ रही हैं, ऐसा क्यूँ??खुशी की शादी में मेरी यानि संदीप की लोफरगिरी की कहानी जारी रहेगी.

और मेरे गोल मटोल चूतड़ और मदमस्त गांड में हर मर्द अपना फनफनाता लंड पेलना चाहता है. नेपाली व्हिडीओ सेक्सीमैंने कहा कि बस आप देखते जाइए … भरोसा रखिए, मैं आपको निराश नहीं करूंगा. हिंदी सेक्सी फुल हदमौसी बोलीं- तू कह कर जल्दी से चला ही गया, अगर कुछ देर रुक जाता तो कल ही चुदवा लेती. कुछ देर कैंची चलाने के बाद अनु ने मेरी गर्दन को नीचे कर दी और ट्रिमर से कान तक के बाल हटा दिए.

तभी अन्नू बोली- हां यार, अरमान के लंड से बड़ा लंड तो बस केवल मूवी में ही दिखता है.

मेरे डिस्चार्ज का समय करीब आया तो मेरा लण्ड फूलकर मूसल जैसा हो गया. मैं- तुम्हारे साथ?वो- क्यों मेरे साथ कोई प्राब्लम है?मैं- मुझे तो अब दिल्ली की बसों में भी जाने में डर लगता‌ है और फिर तुम्हारे साथ तो बिल्कुल भी नहीं. मेरा मन लालच से भर गया और मैं उसे चाट लेने को झुकी, पर कविता ने मुझे रोक लिया.

भावना ने मजे से आंखें बंद कर लीं और कुछ देर वैसे ही बैठे रह कर उसने खुद को ब्रा के बंधन से आजाद करा लिया. इतने में जीजू बेशर्मी से बोले- अरे मेरी रानी … अगर तू बोल तो तेरी दीदी के सामने तुझे पटक कर चोद दूं. मुझे नहीं मालूम था कि वो कौन है, इससे पहले मैंने उसे कभी नहीं देखा था.

सेक्सी एचडी सॉन्ग

इतने में जीजू बेशर्मी से बोले- अरे मेरी रानी … अगर तू बोल तो तेरी दीदी के सामने तुझे पटक कर चोद दूं. स्टेशन दस बीस किलोमीटर की दूरी पर होते थे … तो ये समस्या आड़े आ रही थी. मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उसके होठों पर लंड फिराने लगा वो गप से लंड अंदर ले गई और लोलीपोप के जैसे चूसने लगी।अब मैंने उसे बिस्तर में घोड़ी बनाया और अपना लौड़ा उसकी मखमली चूत में घुसा दिया और तेज़ तेज़ झटकों से चोदने लगा.

आंटी ने मुझसे कोई कपड़ा मांगा तो मैंने पैंट में से अपना हैंकी निकाल कर दे दिया.

कमरे में खिड़की से बाहर की स्ट्रीट लाइट से थोड़ी रोशनी आने लगी जिससे हम एक दूसरे को साफ़ देख पा रहे थे.

और जब मुझसे भी रहा ना गया, तो मैंने भी कमर उछाल कर भावना को नीचे से ही चोदना शुरू कर दिया. फिर धीरे धीरे चाचा जी के हाथ मेरे स्तनों यानि बूब्स की तरफ बढ़ने लगे और वो उन्हें ब्रा के ऊपर से हल्के हल्के भींचने लगे. गांव सेक्सउसने अपनी टांगें हवा में उठा दीं तो मैं समझ गया और मैं उसकी पैंटी उतारने लगा.

फिर मैंने अपने लौड़े को थपथपाते हुए उससे कहा- चल यार, जहां इतने दिनों तक चूत के लिए तरसा है, कुछ समय तक और अपने आपको रोक ले. इस पर मनीषा भाभी बोलीं- कपिल हफ्ते में एक बार ही मेरा ध्यान रखता है. कभी कभी समय की कमी के चलते मैं सभी पाठकों को जबाव नहीं दे पाती, इसके लिए क्षमा चाहती हूँ.

मैंने भाईजान के लंड को मुंह में लिया और चूस चूसकर पूरा गीला कर दिया. मैं मर जाऊँगी अगर आपने मुझे बिना कपड़ों के देखा तो!” साली जी फिर से घबराते हुए बोली.

इस सेक्स कहानी के अगले भाग में लंड चुत के प्रेम और सेक्स कहानी को रसीले अंदाज में लिखूंगा.

कुछ देर तो उसके घर से कोई आवाज नहीं आई … मगर मेरे दोबारा दरवाजा बजाते ही शायरा ने दरवाजा खोल दिया. आंटी ने फिर कहा- तुम्हें इनमें से जो भी भैंस पसंद हो पहले उसकी गर्मी तुम निकाल देना. एक दिन मैं रोज़ की तरह खिड़की के पास ही बैठा हुआ था कि तभी मेरे मकान के सामने वाले घर की छत पर एक महिला घूमती हुई नज़र आयी.

सेक्सी फुल एचडी वीडियो देहाती मैंने भी वादा किया- मेरी वजह से तुम्हारे जीवन में तुमको कोई तकलीफ नहीं होगी. पहनने के बाद देखने में ऐसा लग रहा था जैसे गीत की चूत पर एक लंड उग आया हो.

उन्होंने सीत्कारते हुए कहा कि तुम जितना मजा फोन पर करवा देते थे, उससे ज्यादा मजा तो अभी आ रहा है. मैं बोली- क्या बोल रहे हो जीजू … मेरी कुछ भी समझ में नहीं आ रहा है … आप साफ साफ बोलो, घुमाओ मत. इससे पहले वो कुछ बोलती मैंने उसको अपनी बांहों में भरा और उसे दीवार से लगाकर उसके होंठों को चूमने लगा.

ब्लू पिक्चर सेक्स ब्लू पिक्चर

मैं कहने लगी- छोड़ो जीजू … प्लीज मुझे छोड़ दो।जीजू ने एक नहीं सुनी और मेरी लोवर उतार दी. उसकी चुत का नमकीन स्वाद मुझे कामांध करने लगा और मैंने बिना किसी बात की परवाह किए, पूजा की चुत को चूसना चालू कर दिया. फिर मैंने पीछे से हाथ ले जाकर दोनों ओर से उसकी चूचियों को आगे की ओर भींच लिया और उनको हल्के हल्के दबाना शुरू कर दिया.

कविता भाभी अपने फ्लैट की तरफ चल दीं और मैं ऐसी ही हालत में उनके किचन में चला गया. मैं जब चाय के कपों की ट्रे उठाने लगा तो दीपिका ने मेरे हाथ से ट्रे छीन ली.

वो कभी उसकी चूत की साइड की फांकों पर जीभ फेर कर उन्हें चाटता और कभी उसकी चूत के अंदर से उसकी चूत को चाटता.

फिर रमेश ने रेहाना को लिटा कर उसके दोनों पैरों को हवा में उठा कर उसके सिर के ऊपर मोड़ दिया और रेहाना की गांड अपने आप हवा में उठ गयी. राहुल ने सोनम की गर्म चुत में लंड पेला और अपनी बहन की चुदाई करने लगा. ऐसा मैं नहीं कहती, यह सब तो उन मर्दों की आँखों में पढ़ लेती हूँ, जो मुझे घूर घूर कर अपने लंड को हाथ से दबाने लगते हैं.

उसने मेरे नंगे बदन को अपने ऊपर खींच लिया। मैं भी उसकी गोद में बैठ गई। नीचे मेरीगाण्ड पर विजय का लण्ड सर उठा कर अपनी दस्तक देने लगा था।पर मैं और विजय अब दोनों बहुत थक चुके थे … और हम दोनों नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर पलंग पर सो गए।सुबह मैं 11 बजे उठी तब उसका लण्ड बिल्कुल कड़क अपने पूरे शवाब पर तना हुआ था. फिर मुझे लगा कि अब शायद मेरी जान निकल जाएगी क्योंकि मुझे सांस लेने में बहुत परेशानी हो रही थी. दीपिका के चूचों, चूत के डिज़ाइन और उसके हुस्न को देखते ही मेरे लौड़े में कसाव आना शुरू हो गया, जिसे दीपिका देखने लगी थी.

ट्रे लेते समय मेरे हाथ दीपिका के नर्म हाथों से अच्छी तरह से टच हो गए और हम दोनों के शरीर झनझना उठे.

देसी बीएफ दिखाएं देसी बीएफ: मैं उस दर्द को भूल जाऊं, इसके लिए वो मुझे प्यार करती, मेरे गालों, गले और स्तनों को चूमने लगती. अनु दीदी दोपहर से जानती थीं कि महंत का लंड बहुत मोटा और तगड़ा है इसलिए बड़ी उमंग से उन्होंने वर्जिन महंत को नंगा लिटाया.

उसने मुझे गोद में उठाया और उछाल उछाल कर चोदने लगा।उसने मुझे तीन बार चोदा और मेरी चूत का बाजा बजा दिया था. मैंने कहा- आप जानबूझकर थोड़े ही बैठीं थीं? कोई नहीं, आप ज्यादा मत सोचो, सब चलता है।इससे वो थोड़ा सहज हुईं और ऐसे ही बातें चलने लगीं. मैंने जैसे ही टॉप को हटाना चाहा तो रानी चिल्लाई- हटा नहीं इसको … तेरी मालकिन का है.

इस समय हम तीनों ही तैयार थीं और हमको देखकर कोई नहीं कह सकता था कि हम तीनों लड़के हैं.

सलोनी भाभी मेरे लंड को अपनी छूट में जड़ तक डाले हुए दोनों टांगों को मेरी कमर में लपेटे मेरी बांहों में हवा में झूल रही थीं. तभी सामने मेरी कामवाली लड़की शमा न जाने कैसे आ गई थी और हम सबको सेक्स के खेल में लिप्त देख रही थी. अगली सुबह इतवार था तो सुबह उठ कर मैंने दीदी की दो राउंड चुदाई और की.