भोजपुरिया वीडियो बीएफ

छवि स्रोत,खूबसूरत जंगल

तस्वीर का शीर्षक ,

தமிழ் ஆண்ட்டி நுதே: भोजपुरिया वीडियो बीएफ, इसलिए उन्होंने किसी दूसरे मर्द से अपनी बीवी को सेक्स का सुख दिलाने का तरीका सोचा, पर इसमें उन्हें एक डर था कि कहीं समाज में उनकी जो इज्जत थी, वो न तार तार हो जाए.

सेक्स वीडियो जंगल वाला

लंड अंदर गया तो मौसी ने हल्का सा उई किया बस!मैं अब धक्के लगाने लगा, मौसी भी मेरे हर धक्के का जवाब अपने धक्के से दे रही थी. मीरा मिथुनमेरी चाची की भतीजी की शादी फिक्स हुई और घर में काम होने के कारण मुझे चाची के मायके बाइक से जाना पड़ा।मैं आपको बता दूं कि मैं पहले भी वहां जा चुका था.

मैं बोला- फिर तुम सबने मिलकर खुशी खुशी हम दोनों का निकाह शादी क्यों करवाया?ज़ोहरा आपा ने हंस कर अपने हाथ से मेरा लंड अपनी चूत से निकाला और बोली- चल अंदर चलते हैं. गुलामो का गुलामफिर जब बलविंदर का लंड अलीमा के गले से कुछ ज्यादा ही लगने लगा तो उसे भी अहसास होने लगा कि बलविंदर का लंड पूरा टाइट हो गया है.

मनमीत और गुरप्रीत जब भी आती हैं, अपनी चूत का प्रापर चेकअप जरूर कराती हैं.भोजपुरिया वीडियो बीएफ: देसी इंडियन लड़की चुदाई कहानी में पढ़ें कि सफर में दोस्त बनी लड़की को आखिर मैंने चोद ही दिया.

मैं मस्ती से कराहते रही- आह ओहह मेरी जान अक्षय … कितना मस्त चोदते हो … आज मेरी प्यास बुझा दो … आह आज के लिए मैं ही तुम्हारी औरत हूँ.इससे पहले कि वो कुछ बोलती मैंने उसके होंठों पर उंगली रख कर चुप रहने का इशारा किया.

कुत्ता कुत्ते वाली सेक्सी - भोजपुरिया वीडियो बीएफ

वो थोड़ा खुश हुई तो मैंने पूछा- तुम्हारा पति कब आएगा … अब तुम्हारी ऐसी हालत में तुम्हारा कौन ध्यान रखेगा?उसने बोला- क्यों तुम तो हो … क्या तुम मेरा ख्याल नहीं रखोगे?मैंने हां में सर हिलाया और ओके कह दिया.अब वो नीचे से अपनी कमर उठाकर अपनी चूत में लंड को अंदर तक लेने की कोशिश कर रही थी.

मैंने सोच लिया था कि उसके लंड को खड़ा करके अपनी चूत की प्यास तो मैं उसी के लंड से बुझवा कर रहूंगी. भोजपुरिया वीडियो बीएफ मैंने बोला- चिंता न करसाली रंडी, तेरी चूत की प्यास मैं अच्छे से बुझाता रहूंगा.

ओह … इसलिए वह नौकरानी मुझे देख कर मुस्कुरा रही थी।सीमा बता रही थी कि वो रात में अकेले में बहुत बोर होती है.

भोजपुरिया वीडियो बीएफ?

फुसा भारती- तुम मेरा हिला कर मुझे ठंडा कर दो न!इस पर मेरी मम्मी हंस दी. अब मैंने देर न करते हुए अमन के लिए अपने दोनों पैर खोल दिए और अमन मुझे किस करते हुए मेरे पैरों के बीच आ गया. मैंने पैग को एक घूंट में ही खाली कर दिया और जिया को पीछे से पकड़ लिया.

फिर उसने धक्कों की स्पीड इतनी तेज कर दी कि मुझे दर्द होने लगा तो मैं ऐसे धक्के लगते लगते ही पेट के बल लेट गई सीधी. अचानक से मेरा ध्यान बाथरूम के खुले दरवाजे पर गया तो मेरे होश उड़ गए. चार पांच मिनट तक मैंने दीदी की चूत चोदी और फिर मेरा माल दीदी की चूत में ही निकल गया.

डिस्चार्ज करते समय जब लण्ड का सुपारा मोटा होकर अन्दर बाहर हो रहा था तो किरण सिसकारते हुए आह आह करते हुए एक ही बात दोहरा रही थी- बस करो विजय, बस करो विजय, बस करो विजयययय![emailprotected]. उसने मेरी चुत को और मैंने उसके लंड को अच्छे से चाट कर साफ कर दिया था. [emailprotected]देसी चूत सेक्स कहानी का अगला भाग:जमींदार के लंड की ताकत- 3.

वो बोला- अब आपका तो हो गया, मेरा कौन करेगा?मैंने कहा- ठीक है, मगर मैं थोड़ा सा ही करूंगी. जब वो थोड़ी चुदासी हो गयी तो मैंने दोबारा से अपना लंड पकड़ कर उसकी चूत के छेद पर लगाया.

काफी देर तक घूमने के बाद जब हम तीनों ही थक गए, तो हमने थोड़ा आराम करने की सोची.

बाहर रखे गमले के नीचे से चाबी निकाली और लॉक खोल कर आकांक्षा को अन्दर बुला कर अन्दर से दरवाज़ा बंद कर दिया.

उसके पापा भी साथ में जा रहे थे, पर जरूरी काम की वजह से उन्हें वापिस जाना पड़ा. बड़ी मम्मी ने लंड को पकड़ा और थोड़ा सा हिलाते हुए बोलीं- वाह … ये तो आज बड़ा जवान दिख रहा है. आप सब तो जानते हो कि इस मौसम में बारिश का कुछ भरोसा नहीं होता कि कब बादल बरसने लगें.

अंकल- नहीं टीना, मैं सब संभाल लूंगा और अंकल मुझे आंटी के पास ले गए. उसने मेरी मां की पैंटी को उसकी जांघों से खींच कर नीचे कर दिया और उसकी जांघों के बीच में मेरी मां की चूत पर अपना लंड सटा दिया. लिफ्ट में होने की वजह से रोहन ने सिर्फ़ उसके लंड को टटोल कर उसका नाप ले लिया.

आ आ आ … जल्दी चोद लो … ओह्ह … ध्रुव … उफ्फ … आह्ह फट गयी।मैं उसकी चूत में तेज तेज धक्के लगाता रहा।अब मैं भी अपनी चरम सीमा पर पहुंचने वाला था। फिर तेज तेज धक्के लगाते हुए मैंने अपना पूरा वीर्य उसकी चूत में निकाल दिया।उसके चेहरे पर संतुष्टि झलक रही थी। उसने मुझे बिस्तर पर लेटाकर मेरे पूरे मुँह को चूमना शुरू कर दिया.

फिर मैंने भाभी के साया की डोरी खोल कर साया को निकाल दिया और उनके जिस्म पर बची उनकी पैंटी को निकाल कर उनको बिल्कुल नंगी कर दिया. मैंने उसके टॉप को ऊपर करके निकाल दिया था और ब्रा के ऊपर से ही उसके कड़क मम्मों को मसल रहा था. उसको मैंने पेट के करीब से पकड़ा हुआ था और वो पानी में हाथ पैर मार रही थी.

जिस चूत के लिए मैं रोज रात मुठ मारता था, आज वो मेरे सामने खुली हुई थी और मेरे लंड को लेने को रेडी थी. तो मैं फिर से हाजिर हूँ आपके लिए यह नयी चुदाई स्टोरी लेकर!यह कहानी मेरी ससुर बहू की कहानी पढ़ कर ही एक अंक़ल ने मुझे अपनी आपबीती बताई. एक घंटे तक मसाज करने के बाद मैंने मनमीत से कपड़े पहनने को कहा और पूछा- कैसा लग रहा है?मनमीत ने कहा- फ्रेशनेस और चुस्ती फील कर रही हूँ.

ये भी अच्छा है कि वो लोग शहर में रहते हैं वर्ना अगर गांव में होते तो उसके ससुराल वाले जीना हराम कर देते.

बाजी ने अपना एक एक पैर उठाकर सलवार और पैंटी बिल्कुल निकाल दी तो मैंने बाजी के चूतड़ों से कमीज को कमर पर डाल दिया. मैं भाभी के पैर की उंगली को किस करने लगा और एक उनके अंगूठे को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा.

भोजपुरिया वीडियो बीएफ मैंने भाभी के मुँह से लंड चुत चुदाई शब्द सुने, तो मैं भी खुल कर बोला- मेरी क्या जरूरत है … आपके पति तो हैं. भाभी की मुँह से निकलने वाली सिसकारियां मुझे और भी उत्तेजित कर रही थीं.

भोजपुरिया वीडियो बीएफ मैं- तुम्हारी गोल गुंदाज गांड … जिसे देख कर गांड मारने का मन करने लगा. वो कुत्ते की तरह मज़े से चूत चाटने लगा और अनु की चूत में जीभ डाल कर उसे चोदने लगा।अनु उसका सिर पकड़ कर सहलाने लगी और पागल हो गई- ओह कल्लू … बस कर … निकल गया … आह … आह … आह।अनु की चूत ने पानी छोड़ दिया.

मौसी की सिसकारी निकल गई- आह्ह …वो मेरे सिर को अपनी चूत में धकेलने लगी.

ॲनिमल्स सेक्स व्हिडिओ

” मैंने कहा और एक बर्गर उसे पकड़ा दिया साथ में चिप्स के पैकेट खोल के रख दिए. कुछ देर तक भाभी के दोनों होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने के बाद मैंने भाभी को बिस्तर पर गिरा दिया और उनके ऊपर चढ़ गया. मुझे अब मेरी वाइफ के साथ सेक्स में मजा नहीं आता है तो मैं और मेरा दोस्त जो मेरे साथ गांव में ही रहता है हम दोनों गांव की औरतों को खेतों में चोदा करते हैं.

ये सुनकर वो शांत हुआ और मुझसे बोला- उस दिन जब मैंने आपको कपड़े बदलते हुए नंगा देखा था, तब से मैं आपको चोदना चाहता था. शादी से दो दिन पहले हम पहुंच गए थे क्योंकि मेंहदी का कार्यक्रम भी हमें अटेंड करना था. फिर हमने अगले दिन घूमने का प्लान बनाया, तो वो भी साथ चलने के लिए तैयार हो गयी.

भाभी मेरे लोवर में हाथ डाल कर मेरे लंड को सहला रहा थीं और मैं मन में सोच रहा था कि आज किस्मत कुछ ज्यादा ही मेहरबान है, जो भाभी खुद चुदने के लिए तैयार हो गईं.

शादी के हफ्ते भर पहले दीदी रात को मेरे साथ मेरे ही बिस्तर में पूरे पांच दिन तक नंगी सोई थी. मैंने पूछा- कैसी सफाई?वो बोली- तभी तो कह रही हूं, रात को बात करेंगे, अभी यहां सारी बात नहीं बता सकती. मॉम जब बाथरूम से बाहर आईं तो उन्होंने ब्लैक कलर का गाउन डाला हुआ था.

मैं आपके रेस्पोन्स के आधार पर अगली कहानी जल्द से जल्द लिखने की कोशिश करूंगा. ससुर जी की आँखें उन्हीं चूतड़ों के बीच छिपे मेरी चूत के सुराख को तलाश कर रहे थे. बच्चे के जन्म के बाद मेरी बेटी ने मुझे और रुकने के लिए कहा, जिसे मैंने सहर्ष मान लिया.

इसके बाद मैंने आकांक्षा की दोनों टांगों को खोला और खुद बीच में बैठ गया. कुछ धक्कों के बाद अब उसकी आवाज धीमी होने लगी और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया.

मैं भाभी को चोदते समय की याद करके अभी भी बुरी तरह से कांप रहा हूँ और शायद आप पाठकों की हालत भी यही हो रही होगी. मेरे सामने ड्रेस चेंज करने की उसकी हिचक शुरुआती दो तीन दिनों में ही खत्म हो गई थी. अब दोनों ही पसीने से लथपथ हो गये थे लेकिन फिर भी चुदाई करने में लगे हुए थे क्योंकि पहली बार चूत और लंड का मिलन हुआ था.

मुझे एक दो के मुँह से तो ये भी सुनने को मिला कि लंगूर के मुँह में अंगूर आ गया.

वो मुझसे छूटकर गुस्से में बोलीं- ये तुम क्या कर रहे हो तुम्हारे मामा से बोलूंगी … रुको!मैं बोला- वो मैं ही हूँ डार्लिंग … जिसका तुम अभी वेट कर रही थीं. मैंने रसोई से थोड़ा अलग होकर उनके कान में पूछा- नजमा दीदी ने क्या करने के लिए बोला था तुम्हें?इस सवाल पर वो शर्मा गयी. कुछ छोटी छोटी बातें और हैं जिन्हें मैं इस सच्ची कहानी में संक्षेप में लिख रहा हूं.

मैंने सोच लिया था कि अबकी बार जब घर जाऊंगी उसका लंड चूत में लेकर ही रहूंगी. कुछ देर बाद उसने मेरा हाथ अपने लंड पर रख दिया और मैं उसका लंड सहलाने लगी.

फिर जैसे ही उसकी नज़र अपनी चूत पर पड़ी और बेड शीट पर खून पड़ा दिखाई दिया तो वो रोने लगी. वो खुद एक हाथ से मेरी गर्दन को अपनी तरफ घुमाकर मुझे किस करने की कोशिश करने लगी और मैंने उसका साथ दिया. अब मैं भाभी के मुँह लंड आगे पीछे करता हुआ उनके रसीले मम्मों को मसल रहा था.

मजेदार वीडियो डाउनलोड 2020

अपने घर में भी उसने सबको कुछ अलग कहानी बना कर मुझे साथ ले जाने के लिए बोल दिया.

वहां जाकर मुझे पता चला कि उनके घर में केवल वो और उनकी बेटी ही रहती है. एक बार पापाजी घर आए हुए थे, तो मम्मी ने कहा- चलो शिखर जी घूमने चलते हैं. वो सुबक रही थी तो मैंने उसके ठोड़ी को पकड़ कर उसका सर उठाया और उसके होंठों को किस करना शुरू कर दिया.

टी टी ने कहा कि वो टिकट नहीं बनाएगा और मेरे शौहर को अगले स्टेशन पर अरेस्ट करवायेगा. उसके बाद मैं बाजी की बात मान गया और हम लोग वहां से ऊपर चुपचाप छत पर आ गये. सेक्सी वीडियो हिंदी मूवी वीडियोजितना जोर वो मॉम की चूचियों पर लगाता उतना ही जोर फिर उसके लंड पर मॉम के दांत लगा देते थे.

मैंने कहा- मैंने तुम्हें तैरना सिखाया है, मुझे कुछ गिफ्ट नहीं दोगी क्या?वो बोली- क्या चाहिए तुम्हें?मैंने कहा- मैं बस एक बार तुम्हें बिना कपड़ों के देखना चाहता हूं. मैं मदहोश थी … और अमन का मुझे इस तरह बीच राह में छोड़ जाने से बहुत गुस्सा आ गया था.

पिछली बार कानपुर गया था, तो वहां मात्र कुछ मिनटों के लिए हेमा चाची से मुलाकात हो पाई थी. फिर थोड़ी देर मैंने उसके दोनों निप्पलों को बारी बारी से चूसा और किस किया. ये सेक्स कहानी मेरे और मेरी मामी के बीच हुई एक सेक्स घटना पर आधारित है.

वो कुत्ते की तरह मज़े से चूत चाटने लगा और अनु की चूत में जीभ डाल कर उसे चोदने लगा।अनु उसका सिर पकड़ कर सहलाने लगी और पागल हो गई- ओह कल्लू … बस कर … निकल गया … आह … आह … आह।अनु की चूत ने पानी छोड़ दिया. जब तक रोहन के लंड से पानी नहीं निकला, तब तक उसने अपने चेहरे से रजक लाल का सारा पानी उंगली से लेकर चाट लिया. वो तुरन्त बोलीं- आप कौन हैं और क्या चाहते हो?मैं आवाज बदल कर बोला- आप वादा करो और कसम खाओ कि मुझे जानने के बाद आप कोई रिएक्ट नहीं करोगी और मेरी बात मान लोगी.

मैंने लंड उसकी चुत से निकाल लिया और उसको डॉगी स्टाइल में होने को बोला.

फिर मैंने जाकर हम दोनों का बोर्डिंग पास बनवा लिया और सीट भी आसपास की ले ली, साथ ही लगेज भी जमा करवा दिया. उससे मैंने पूछा- कुछ बात हुई है क्या मौसी?वो बोली- हां, तभी तो तुझे याद कर रही थी.

वो किसी कॉर्पोरेट वोमेन बॉस के जैसी लकदक रौबदार छवि लिए वो सजधज कर तैयार थी. उस मकान में जब से हम गये उसी दिन उसमें कोई न कोई मर्द आता जाता रहता था. पर मेरा प्लान तो कुछ और ही था दोस्तो!तो आगे क्या हुआ? अगले भाग में बताऊंगा। मेरी बाप बेटी चुदाई की कहानी कैसी लगी आपको? कमेन्ट करें.

वो तो अच्छा है कि मैंने म्यूज़िक चला रखा था, नहीं तो उसकी चीख सुन कर पड़ोसी आ सकते थे. वो उसकी बहन की चूत चाटने लगी और इधर में आरती की चूत में लंड डालने की कोशिश करने लगा. माया ने पूछा- हां, ऐसा क्यों करते हैं वो!मैंने कहा- तुम्हें देख कर वो अपनी अंडरवियर में हाथ डालके अपने लंड को हिलाया करता है.

भोजपुरिया वीडियो बीएफ प्लीज आप थोड़ा कष्ट और कर लीजिये मेरे लिए!” वो अत्यंत मीठी आवाज में बोली. तब वॉक के कारण माया को थोड़ा पसीना आया हुआ था और वो स्लीवलैस टॉप में इस समय काफी सेक्सी लग रही थी.

गाना में सेक्सी फिल्म

सबसे मिलने के बाद संजय का दोस्त बोला- यार भाभी तो बड़ी मस्त हैं … तुझे इतनी सुंदर बीवी कहाँ से मिली … हमें भी बता दो वहां का पता. मेरी दीदी दिखने में एकदम राबचिक पटाखा माल है लेकिन मैं दीदी की चूत के बारे में नहीं सोचता था. मेरी उम्र 20 साल है औऱ मैं गोरे रंग का एक साधारण दिखने वाला लड़का हूँ.

फिर ऐसे ही आपा बोली- वैसे तेरी बीवी शनाज़ हर महीने गोलियां खाकर कुछ अच्छा नहीं कर रही!मैं- क्या बताऊँ आपा … शनाज़ अभी औलाद नहीं चाहती. सामने ही मां के रूम का दरवाजा खुला हुआ दिख रहा था जिसके अंदर सामने बेड था. सेक्स वीडियो डॉट कॉम फुल एचडीलगभग 9 बज चुके थे, किरण की पसन्द के हिसाब से मैंने खाना आर्डर कर दिया.

वो मेरी सलाह पर एक मोबाइल ले गयी, लेकिन अपनी मधुर और सेक्सी छाप मेरे दिलो दिमाग पर छोड़ गई.

किस करते करते मेरे हाथ कब उनकी चूचियों पर चले गए पता ही नहीं चला।उसकी मुलायम और रूई जैसी नर्म चूचियों को मैं जोर जोर से कपड़ों के ऊपर से ही भींचने लगा. भाभी के दोनों पैरों को फैलाकर मैंने उनकी चूत पर एक किस किया और उनकी चूत के अन्दर अपनी जीभ डालकर चुत चूसने लगा.

उनकी चुत गीली होती जा रही थी, इसलिए लंड पेलने में मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. माय हॉट सिस सेक्स स्टोरी आपको कैसी लगी इस पर अपनी राय देना न भूलें. मैंने फिर से मौसी की चूत की पप्पी ली और अपने लंड से उनकी चूत पर थपकी देने लगा.

मैंने कहा- बाजी मुझे काम पर नहीं जाना कल छुट्टी है।बाजी बोली- तुम्हें नहीं जाना.

इस बार उसने बिना रुके तीसरा झटका भी साथ में ही दे दिया और उसका सात इंच का पूरा लंड मेरी चूत में समा गया. देसी इंडियन लड़की चुदाई कहानी में पढ़ें कि सफर में दोस्त बनी लड़की को आखिर मैंने चोद ही दिया. मैं अन्तर्वासना पर पहली कहानी लिख रहा हूँ … अगर कुछ गलती हो जाए तो माफ कीजिएगा.

कार्टून सेक्स वीडियोसअगले दिन दोपहर में पुलिस इंस्पेक्टर का कॉल आया- क्या हुआ मैडम … आपने कुछ सोचा?मैंने बोला- सर, मुझे आपसे कुछ बात करनी है … क्या हम मिल सकते हैं. फिर मैंने लंड पर थोड़ी सी क्रीम लगायी और दुबारा से लौड़ा सैट करके चुत पर दबाव डाला तो सुपारा फंस गया.

सेक्सी डांस वीडियो

रोहन जैसे माशूक लौंडे की नज़र बिगड़े भी क्यों नहीं, वो साला रजक लाल दिखता भी इतना सेक्सी था कि क्या कहें. मैंने बाथरूम में जाकर मोबाइल में पोर्न देख कर मुठ मारी और आकर सो गया. फिर हमने अगले दिन घूमने का प्लान बनाया, तो वो भी साथ चलने के लिए तैयार हो गयी.

संयोग से उस दिन अलीमा के मम्मी पापा घर पर नहीं थे और अलीमा बाथरूम में स्नान कर रही थी. मैंने फिर से एक जोर का झटका मारा, इस बार पूरा लंड चूत को चीरता हुआ अन्दर जा चुका था. अब आकांक्षा की पकड़ मेरे हाथ पर ढीली हो गई थी, जिससे मैं उसकी चूत को और अच्छी तरह से मसलने लगा.

अंकल के लंड का सुपारा मेरी चुत को फाड़ता हुआ अन्दर घुस गया और मेरे मुँह से एक लंबी दर्द भरी चीख निकल गई- आई मेरी मां मर गई … आउऊजाग चुउगगगमेरी हालत की परवाह ना करते हुए अंकल ने पूरी ताकत से धक्के मारकर अपना लंड चुत की जड़ तक घुसेड़ दिया. घर में मेरे मम्मी पापा, मेरी पत्नी, भाई और भाभी हैं और एक तीन साल की बिटिया है, लोरी नाम है उसका!”क्या मुनीम? बट मुनीम लोग तो ऐसे सूट टाई पहिन कर एयर ट्रेवल नहीं करते और ना ही ऐसा लाख रुपये वाला आई फोन हाथ में लिए रहते हैं, रहने दो आप बना रहे हो मुझे!” वो बोली और परे देखने लगी. कभी मैं उसके निप्पलों को जीभ से चाट रहा था तो कभी उनको दांतों से काट लेता था.

और उसकी चूत पर किसी भी लंड ने आज तक दस्तक नहीं दी है।मन ही मन मुझे लगा कि संगीता झूठ बोल रही है क्यूंकि आज के दिन 30 साल की उम्र तक तकरीबन कोई भी लड़की बिना चुदे नहीं रहती।फिर हमने साथ में खाना खाया और थोड़ी देर वहीं रूककर वापिस मैं उसे रिवाड़ी छोड़ने के लिए चल पड़ा।उस दिन हमारे बीच ऐसा कुछ नहीं हुआ।फिर उसके बाद हमारा मिलना बढ़ गया. मैंने लौड़े को बिना बाहर निकाले उसके मम्मे चूसे उसके होंठों का रसपान किया.

मैंने फिर से धीरे से पूछा- कैसा लग रहा है तुझे? दर्द तो नहीं हो रहा?वो मेरी गर्दन से लिपटते हुए बोली- हो रहा है भैया … बाहर निकाल लो प्लीज!मैं बोला- तू घबरा मत … थोड़ी देर ही होगा.

उसने मेरी आंखों में देखा और फिर मैंने दोबारा से उसके होंठों पर होंठ रख दिये. देखने वाली सेक्सी फिल्मउसने कहा- क्यों ना हम साथ में सोसाइटी की कैंटीन में कॉफी लें?मैं कुछ बोलता, उससे पहले माया ने हां बोल दिया और कहा- मुझे भी अभी कॉफी की जरूरत महसूस हो रही है. रावण tattooऐसी सुंदर अप्सरा मेरे नसीब में कहां!भाभी बोली- सुंदरता को बाहर से ही देखा है या अंदर के नजारे भी लिये हैं. सुरभि की जवानी और उसके बदन की खुशबू ने मुझे ऐसा पागल किया कि मैंने उसका हाथ पकड़ लिया.

नमस्कार दोस्तो, मैं विक्की एक बार फिर से अपनी सेक्स कहानी में आपका स्वागत करता हूं.

और मैं मन ही मन में बोला कि बुआ आपको क्या पता … आपके लिए मैंने कितनी बार मुठ मारी है. मैं सीमा की चूत में अपने वीर्य की बौछार करने लगा, कुछ देर बाद मैं सीमा के ऊपर से उठा और अपने कपड़े पहन लिए. मैं धीरे धीरे पूरा लंड बाहर निकालता और फिर फुल स्पीड से मनजीत की चूत में धकेल देता.

मैंने उनकी ड्रेसिंग टेबल से केश तेल की शीशी उठा ली और उनकी गांड के छेद पर शीशी से तेल टपकाने लगा. फिर उसने चुदासी सी आवाज में बोला- जान अब देर ना करो … डाल दो अन्दर. खासकर रिश्तों में फैमिली सेक्स Xxx कहानी पढ़ना मुझे बहुत अच्छा लगता है.

सन ऑफ सरदार मूवी

इसी तमन्ना को पूरी करने के लिए मैंने एक एस्कॉर्ट ब्लो जॉब देने के लिए ऑनलाइन बुक कर रखी थी ताकि जिंदगी में एक बार ही सही लंड चुसवाने का आनंद तो मिल ही जाय. जब हमने पार्क में वॉक करना शुरू किया तभी मैंने देखा कि वो बाल्कनी वाला आदमी वहां पर एक्सरसाइज कर रहा था और उसने भी हमें देख लिया था. उन्होंने बोला- बेटा मेरा काम हो गया है, मैं तुम्हें फोन नहीं कर पाया.

एक मेरा अनजान दोस्त से आज मैं चुद रही थी, मैंने अपना जिस्म उसको दे दिया था.

जो भी मेरी इस सेक्स कहानी को पढ़ रहा है, उन सबसे गुजारिश है कि आप सभी मेरी पिछली सेक्स कहानी भी जरूर पढ़ें.

मंजुला का विरोध अब न के बराबर ही था और वो परकटी हंसिनी सी निढाल, काम के वशीभूत मेरे बाहुपाश में निश्चेष्ट सी बंधी चुदने को प्रस्तुत थी. मेरा उसके साथ एक अटैचमेंट सा हो गया था। होता भी यही है स्टार्टिंग में मुझे उसके पर भरोसा नहीं था लेकिन जैसे बाद में मुझे ऐसा लगा कि बंदा बहुत अच्छा है इसके साथ मैं खुल सकती हूँ. हॉलीवुड सेक्सी वीडियोसबेडरूम में जाकर मैंने उसको बेड पर गिरा दिया और ऊपर से मैं भी उसके ऊपर ही चढ़ गया.

मनजीत का मुँह वीर्य से भर गया और कुछ वीर्य उसके होंठों से बाहर आ गया. मेरे धक्कों से उसकी चूतरस के छींटें उचट कर मेरे पेट पर महसूस हो रहे थे और मैं पसीने से भीग हो चुका था. मैं इस बीच दो बार झड़ गयी और फिर वो भी मेरी चूत में ही माल छोड़कर मेरे ऊपर लेट गया.

मॉम गुस्से से बोलीं- तू पागल हो गया क्या … मेरे सामने दारू पी रहा है!मैं बोला- मॉम, हम सब एंजाय करने आए हैं. रूम को भी थोड़ा साफ किया और सिगरेट जला कर आराम से बैठ कर जो हुआ, उसके बारे में सोचने लगा.

माला आंटी का फिगर आज भी इतना मस्त है कि अच्छे अच्छों का लंड खड़ा हो जाए और बस यही मन में आए कि इन्हें यहीं पटक कर चोद दिया जाए.

उसकी ये कामुक बातें सुन सुनकर अब मैं और तेज़ तेज़ झटके मारने लगा।फिर मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और दोनों टांगों को चौड़ा किया और लंड घुसा दिया. तब भी उसके मन में कहीं न कहीं बलविंदर की हरकतें भी अच्छी लगने लगी थीं. दो बजे जैसे ही कम्पाउंडर ने मेन गेट बंद किया, मैं पीछे वाले कमरे में पहुंच गया.

पंजाबी का सेक्सी वीडियो उफ्फ्फ … राजा … धीरे धीरे!”फिर हमारी चुदाई एक्सप्रेस धीमी गति से आगे बढ़ती हुई पूरी रफ़्तार पकड़ गयी. मैं बस शांत था … कार चलाता रहा, मुझे पता ही नहीं चला कि कब फ्लैट आ गया.

उस स्थिति में अगर पूरी ट्रेन के मर्द मेरी चूत से अपनी प्यास बुझा लेते तो भी मुझे अफसोस नहीं होता. [emailprotected]कॉलेज गर्ल की वासना की कहानी का अगला भाग:पापा के दोस्त से पहली मस्त चुदाई- 2. मेरा लंड भी दर्द करने लगा क्योंकि भाभी की गांड बहुत ही ज्यादा टाइट थी.

बीड़ी पीने से क्या होता है

मैंने कहा- उनकी मृत्यु का कारण क्या था?राजेश बोला- वो सांप के काटने से मर गयी. देसी GF सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं हॉस्टल से घर आया तो पड़ोस में एक जवान लड़की से मुलाक़ात हुई. मैं भी नजमा दीदी के घर जाता हूं।मैंने राबिया को कहा- थोड़ा और चूस दो प्लीज!राबिया ने मेरा लौड़ा चूसा और पानी निकाल दिया।फिर मैं आसिफा के घर गया और पाया कि दोनों जीजा जी चुके थे.

मैंने उसको चोदना शुरू कर दिया और उसने मेरी पीठ पर अपने हाथों से मुझे जकड़ लिया. पर पैर धोते समय सास के स्तनों की गहराई ठाकुर साब की नजरों में आ भी गई और उन्हें भा भी गयी.

रूम तक पहुंचने से पहले ही उसने मेरी मां को पीछे से दबोच लिया और उसकी दोनों चूचियों को जोर से दबा दिया.

अरे एक मिनट रुकिये!” वो बोली और लगभग दौड़ती हुई रसोई में गयी और लौट कर एक पैकेट मुझे देती हुई बोली- आपके लिए खाना है इसमें, दिल्ली पहुंच कर खा लेना और खाते टाइम मुझे विडियो कॉल करना जरूर भूलना मत!” वो कातर स्वर में बोली. मुझे भी उस चूत को पेलने में मजा आ रहा था जिस चूत से मैं खुद बाहर निकला हुआ था. बाहर ठकुराईन अपनी चुत में उंगली घुसा घुसा कर रस जमीन पर टपका रही थीं.

मैंने छाती से अपना हाथ तुरंत बुआ की गर्दन के पीछे ले गया और उनको अपनी तरफ खींचते हुए उनके होंठों को अपने होंठों से जकड़ कर किस करने लगा. एक दिन की बाद है … जब वो घर में स्लीवलैस टॉप और टाइट शॉर्ट्स पहनी हुई थी. फिर मैं उसकी चूत को चाटने और चोदने के सपने संजोता अपना लंड सहलाने मसलने लगा.

मैंने कहा कि मैं कुछ देर पहले ही अपनी चाची की बुर को पेल कर आ रहा हूं.

भोजपुरिया वीडियो बीएफ: उसके बड़े बूब्स की लाइन पूरी पसीने से भीगी हुई थी उसके बूब्स से नीचे उसकी कमर में एक चैन डाली थी और कमर पर वो बल पड़ना और पेट के बीच में एक गहरी नाभि और उस नाभि में एक रिंग डाल रखी थी. जिस कॉलोनी में मैं रहता हूं वहीं पर एक घर में एक किरायेदार रहने के लिए आये.

सबकी जिन्दगी के सफर में ऐसे किस्से कभी कभी घटित होते हैं और फिर याद बन जाते हैं. वो बोला- कुर्ती और ब्रा निकाल कर केवल चुन्नी डाल ले और आगे वाली सीट पर लेट जा।मैंने वैसा ही किया. क्या मैं उसकी गांड मार सका?प्यारी सेक्स कहानी के पिछले भागआखिर सहयात्री को चोद ही दियामें आपने पढ़ा कि मैं हवाई यात्रा में बनी दोस्त को एक बार चोद चुका था.

उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये और अपनी गांड हिला कर उसके लंड को पैंट में ऊपर से ही रगड़ने लगी.

मैंने दारू की बोतल बैग से निकाली और उससे पानी, गिलास नमकीन आदि लाने का कह दिया. मैंने धीरे से उसके पैरों पर पैर रखा, जब कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई … तो मैंने धीरे से उसकी जांघ पर अपना हाथ रख दिया और उसको चलाने लगा. जिया ने लंड हिलाना शुरू किया और कुछ ही मिनट में मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.