एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ

छवि स्रोत,xxx qr kód

तस्वीर का शीर्षक ,

बीपी+सेक्सी: एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ, सागर, मैं और भाभी हमेशा साथ में घूमते थे, हम तीनों ही ड्रिंक करते थे.

करवा चौथ में क्या-क्या बनाया जाता है

नेहा- आ … आ … आ … हां … मार दिया … आह … हाय … जान ही निकाल दी … ओ … मेरे … राजा … बहुत मजा आया … बहुत मजा … आया … हाय … मजा आ रहा है … हाय … अच्छा हुआ … साला रोहित चला गया … उसके साथ तो जिंदगी खराब करनी थी. বেঙ্গলি এইচডি বিএফमैं देर रात तक उसके साथ ऑफिस में काम करता हूं और वहीं ऑफिस में उसकी चुदाई करने की प्लानिंग कई दिनों से कर रहा हूं.

पर उसके बाद कभी मैंने उन्हें लिफ्ट नहीं दी क्योंकि मेरे पीछे लड़कों की फौज थी और नए व मोटे लंड की कोई कमी नहीं थी. साउथ इंडियन सेक्स फोटोवो दूसरे हाथ से मेरा पल्लू नीचे करके मेरी चुचियों का मानो नाप ले रहा था … मतलब दबा रहा था.

वाह क्या मदमस्त जिस्म था मेरी जवान सौतेली मां का … मैं नशीली निगाहों से उनका मस्त जिस्म देखने लगा.एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ: वे मेरे पास आयीं और बोलीं- इतनी जल्दी क्यों आ गए आप? मैं आप को वहाँ ढूँढ रही थी।मैं- जल्दी तैयार हो गया इसलिए! क्यों कोई काम था क्या?भाभी- नहीं बस ऐसे ही।मैं- वैसे अच्छी लग रही हो आप।भाभी- थैंक्यू भईया।इतना कह कर वो मेरे लन्ड से टच होती हुई निकल गईं।मुझे आज उनके इरादे कुछ अलग ही लग रहे थे जैसे कि वो भी मुझसे चुदना चाहती हों।फिर स्नैक्स खाकर और जयमाल की तैयारी थी.

मैंने धीरे धीरे अपने घुटने को उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत पर रगड़ना चालू कर दिया.यह सुन कर निष्ठा बहुत खुश हुई पर तुरंत ही उनके चेहरे का रंग उड़ गया और उदासी की रंगत भी उसके मुख पर दिखाई देने लगी.

जुदाई सेक्स वीडियो - एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ

वो खाना खा रहा था और मैं आगे का प्लान बना रही थी कि कैसे इसके लन्ड को मुँह में लेकर चूस सकूँ।मैंने बात आगे बढ़ाने के लिए उससे कहा- आज कुछ ज्यादा ही गर्मी है.मैं हल्के स्वर में चीख रही थी ‘आह फक मी जान!’लगभग 10 – 15 मिनट और चोदने के बाद थॉमस मुझे बेड पर ले गया और अपना लंड मेरी गांड से बाहर निकाल लिया.

फिर सर मुझसे बोले- आज पढ़ाई तो होनी नहीं है … तुम हॉल में चलो और अपनी प्रैक्टिस कर लो. एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ वो कहने लगी- मैं औरत हूँ … और अनुभवी भी, मैंने आपकी नजरों में अपने लिए प्रेम देख लिया है.

एक हफ्ते बाद एक रात को एक लड़का अमित, जो कि गांव का ही था, मेरे पास आया और बोला कि मेरे साथ चलो, तुमसे कुछ काम है.

एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ?

वो शॉवर के नीचे आ गया।अब उसके भीगी हुई चड्डी में उसका मोटा सांड सा लण्ड चिपका हुआ था। मौका देखकर मैंने भी अपनी ब्रा उतार दी और अपने 34 के चूचों को आजाद कर दिया. वो बोले- तुम बहुत खूबसूरत हो बेटा और तुम मुझे बहुत पसंद आये। मैं साठ साल का हो गया हूं लेकिन अपनी पूरी जिंदगी में तुम जैसा सुंदर लड़का कभी नहीं देखा।मैंने कहा- नहीं अंकल जी, ऐसी तो कोई बात नहीं है. शाम को मैं वापस अपने रूम पर आया, तो वो लड़की कमरे के बाहर ही खड़ी मोबाईल चला रही थी.

फिर भी कुछ बातें तो करनी ही थीं …निष्ठा, आज अस्पताल चलोगी अपनी दीदी को देखने?” मैंने यूं ही प्रश्न किया. मैंने दिमाग लगाया और उन पुलिस के लोगों को डरा कर भगाने के बाद पुलिस वालियों की चुदाई करने की बात कही. मैंने मामा से बात की, तो वो बोले कि हां फैक्ट्री मालिक का काम सही नहीं चल रहा है, तो उसने एक महीना का वेतन एड्वान्स देकर बोला है कि आप लोग कहीं और जगह जॉब ढूंढ लो.

उन्होंने मेरे होंठों को पीना शुरू कर दिया और मेरी चूत को नीचे से सहलाने लगे. मैंने उसके लंड को वापिस मुँह में लिया और उसे चूस चूस कर 5-10 मिनट में दुबारा से मेरी चुत को चोदने के लिए खड़ा कर दिया. भाभी जी की गांड में ऐसा जादू था कि मरीज सिर्फ़ उनकी गांड देखने के लिए बार बार आते थे.

उसका आधे से ज्यादा लंड मेरी चुत में चला गया और मैं जोर से चिल्ला उठी ‘आह सर. लेकिन अंकल प्लीज़ आराम से करना।रमेश ने ज़ोर से अन्दर डाला तो उसका आधा लंड रश्मि के अन्दर जैसे कुछ चीरते हुए अन्दर घुसता चला गया.

मैंने कारण पूछने पर नीलम ने बताया कि उसका पति जब भी घर आता है तो उसके फोन को चेक करता है और मैसेज भी कर लेता है.

तो मैं अपनी चिकनी नंगी चूत लेकर खड़ी हो गयी उसके सामने।आपकी सुहानी चौधरी[emailprotected]कॉलेज गर्ल की नंगी चूत की कहानी का अगला भाग:कभी कभी जीतने के लिए चुदना भी पड़ता है-3.

इसमें कोई शक नहीं था कि मीता जिस तरह से लंड चूस रही थी, शायद ही कोई कुंवारी लड़की चूस सकती होगी. अगले दिन रिया रश्मि से मिली और पूछने लगी- अपने डैड से चुदवा कर कैसा लगा?रश्मि- क्या बोल रही है? मैं अपने डैड से क्यों चुदवाऊंगी?रिया- मुझे मालूम है कि कल तुमको मेरे डैड और तुम्हारे डैड ने जी भर कर चोदा है. इससे उसका हौसला बढ़ गया और वो पहले तो धीरे से … फिर कुछ तेज़ से मेरी गांड को टच करने लगा.

थॉमस ने अपना लंड मेरे मुँह में दिया और मैंने कंडोम के फ्लेवर का स्वाद लेते हुए उसे चूसा. मैंने सबको मिलवाया, ये मालिनी मेरी मम्मी, ये शैली मेरी बहन, ये सुलेमान, अरबाज़ और कुरैशी।मैं सबके लिए पेग बनाने लगी।मम्मी बोली- आज पहली बार ऐसा हुआ कि चुदवाने के बाद चोदने वाले का नाम पता चला. उसके मुख से निकली ध्वनियां इतनी कामुक थीं कि वो कामदेव का रस भी लंड से बहा दें.

वो मेरी चूचियों को देखता हुआ बोला- मुझे बताओ तुम यहां क्या कर रही हो?मैंने उसे कोई जवाब नहीं दिया.

उसकी शादी हो रही है, ऐसा उसे देखकर कह पाना मुश्किल था।इन सबके बावजूद जब मैंने गहराई से सोचा तो खुशी के साथ मेरी प्यार वाली फीलिंग का पलड़ा भारी मिला। उनसे बातचीत के बाद मैं खुद ही हंसता और खुश होता, एक तरह से मैं बावला हो गया था।उस दिन मैं इंतजार करता रहा पर रात को खुशी का कोई मैसेज नहीं आया. फिर मैंने डेज़ी से कहा- तुम उल्टा लेट जाओ … और पीछे से अपने चूतड़ों को उठा लो. चूंकि एक दिन पहले मुझे उससे कुछ देर की बात में ये मालूम चल गया था कि ये उसका रोज का जॉब टाइमिंग था, वो नर्स थी और घर जाने के लिए 4 बजे इधर रोज आती थी.

उसने मेरी शर्ट के बटन खोलना शुरू करके उसको दो ही पल बाद उतार कर फेंक दिया. रश्मि की नंगी चूची देख कर जैसे उसको कोई पुराना गड़ा हुआ खजाना मिल गया हो, कुछ ऐसी चमक आ गयी थी उसकी आंखों में।धीरज खोकर उसने रश्मि की चूचियों को अपने हाथों में भर लिया और उनको आराम आराम से भींचना शुरू कर दिया. पहले तो कुछ देर तक अंकुश मेरी नंगी चुत को देखता रहा, फिर अपने कड़क लंड को मेरी नंगी चुत पर रगड़ने लगा.

तो लीजिये हाजिर है मेरी ताजा कहानी: कड़कती बिजली तड़पती चूतसरकारी विभाग में प्रतिष्ठित पद पर मेरी नौकरी लगने के एक वर्ष के भीतर ही मेरा विवाह शर्मिष्ठा से हो गया.

फिर अचानक से मैंने उसकी चूत की फांकों में अपने लंड को रख कर एकदम से दे मारा. चूंकि मैं अब जाग रही थी, लेकिन आंखें मूंदे हुए थी, तो उसे ये बात नहीं पता थी.

एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ थॉमस ने अपने मोटे लंड से लगातार 30-35 मिनट मेरी चुत की जमकर चुदाई की. अब मैं 26 अगस्त को उसके यहाँ अचानक पहुँच गया तो पता चला कि वो तो 23 को बाँदा चली गयी.

एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ मैं रोहन के ऊपर लेटी हुई थी और उन्होंने अपना लंड मेरी चुत में डाल रखा था. साथ में कंडोम के पैकेट … केवाई जैली और दो रंग के गुलाब के ढेर सारे फूल लेकर घर आया.

मेरे गाल चिकने थे दाढ़ी मूंछ का कोई निशान नहीं था … न ही कहीं शरीर पर सिर के अलावा कहीं बाल थे.

பாகிஸ்தான் செக்ஸ்

” मैंने कहा और उसके ऊपर इस तरह से हो गया कि मेरा मुंह चूत की तरफ हो गया और मेरी पीठ निष्ठा के मुंह की तरफ हो गयी. मीता की कुंवारी चूत का दर्द उसके अधरों से निकल पड़ा- उईईई मांआअ … मरर गई … अहाआअ … मर गई … अंकल हाय दर्द हो रहा है!मैं रुका नहीं … जिससे उसकी संकरी अधखुली चूत में मेरी मोटी उंगली चूत के रस से भीगी, सटासट अन्दर बाहर होने लगी. वो मेरे रूम के अन्दर आ गई और बटन बंद करते हुए बोली- ये लास्ट वाली बटन पानी के पम्प की है.

दोस्तों ये इतनी आसानी से इसलिए कर पा रहा था, क्योंकि मैं 6 फीट का हूँ. कुछ ही पलों में थॉमस का लंड मेरी चुत के अन्दर सरसराता हुआ घुसने लगा. मैं उस मम्मे के निप्पल को अपनी उंगली और अंगूठे से धीरे धीरे मसलने लगा.

तुम फरवरी में अपना समय निकाल के रखना तुम्हें आना ही है।मैंने भी खुश होते हुए हाँ कहा और उसे अग्रिम बधाई भी दी.

हमने देर न करते हुए एक दूसरे के कपड़े उतारे और बेड पर कूद कर चादर में घुस गये. फिर मैंने उसे समझाया कि लंड की लम्बाई के अनुसार अंदाज़ से कमर को इतना ऊपर उठाना है कि लंड चूत से बाहर न निकलने पाए. करीब 3 – 4 मिनट इसी पोजीशन में रहने के बाद लण्ड बैठकर चूत से बाहर आ गया.

उस ट्रेन के खाली डिब्बे में मैं किसी रंडी की तरह दो मजदूरों के लंड से चुद रही थी और मेरे मुँह से बस ‘अह्न्हन्हं … उफ़्फ़ … आहहह …’ की आवाज निकल रही थी. उन्होंने मुझे चूमते हुए कहा- बहू, तू डेढ़ साल में अब तक मां नहीं बन सकी, पर आज जरूर तेरी कोख में मेरा बीज पड़ जाएगा. आप लोगों को मेरे नादान पति के सामने ब्वॉयफ्रेंड से चुदाई के मजे की कहानी कैसी लगी … प्लीज मुझे हैंगआउट्स पर मैसेज करके जरूर बताएं या आप मुझे ईमेल भी कर सकते हैं.

हिंदी स्टोरी अन्तर्वास्सना में पढ़ें कि मुझे काम से बंगलूरू जाना पड़ा. मैंने अपनी गांड उठा कर उसे हरी झंडी दे दी और उसी पल मेरे छोटे भाई ने मेरी सीलपैक बुर में लंड ठोक दिया.

बच्चे वैसे भी अब स्कूल जाने लगे थे तो कोई दिक्कत नहीं थी।घर से दूर व पति से दूर तो आ गयी थी मैं. उसे देख कर मेरे दिल में एक अरमान जगा कि काश ये लड़की मेरे साथ ही मेरे ऑटो में बैठ जाए. ‘ओहह आहह यू आर बेस्ट फकर ऑफ़ दि वर्ल्ड’ कहते हुए उसने अपने उरोजों को जोरों से भींच लिया और झड़ कर शिथिल होने लगी.

और एक दिन उसने अपने उसी दोस्त को बुला कर उसके सामने ही …दोस्तो, मैं राकेश कालगर्ल चुदाई कहानी के अन्तिम भाग के साथ हाजिर हूं.

मैं- मीता मेरी रानी … मैं इसका पूरा ख्याल रखूंगा कि तुमको कम से कम दर्द हो. मैं घोड़ी बनी, तो उसने पीछे से अपना लंड मेरी चूत में घुसा दिया और मुझे किसी कुतिया की तरह चोदने लगा. दूसरे हाथ से तकिए के नीचे से मैंने के वाई जैली निकाली और चूत से उंगली निकाल कर उसमें जैली लेकर चूत के अन्दर तक लगाने लगा.

आंटी अपनी जिन्दगी के बारे में बात करते करते कुछ ज्यादा ही भावुक हो गईं और वे रोने लगीं. उफ्फ जीजू, गाल मत काटो नहीं तो दांत के निशान पड़ जायेंगे; फिर मैं दीदी को कैसे मुंह दिखा पाऊँगी?” निष्ठा ने आशंकित होकर कहा और अपना गाल सहलाने लगीं.

ये देखकर जेठ जी ने मुझे गोद में उठाकर बिस्तर पर धकेल दिया और अगले ही उन्होंने एक हाथ से अपना कच्छा उतार दिया. पीछे 34 इंच की उठी हुई गांड … और गांड के ऊपर 30 इंच की एकदम मक्खन सी कमर. [emailprotected]insta id- funclub_badचूत म लंड की कहानी का अगला भाग:वाइफ शेयरिंग क्लब में मिली हॉट माल की चुदायी- 2.

madan सेक्सी वीडियो

मेरी चुत काफी दिन बाद चुद रही थी और इतना मोटा सुपारा मेरे पति का नहीं था तो मेरी सीत्कार निकल गई और मुझे हल्के से दर्द होने लगा.

अब आगे की परिवार सेक्स की कहानी:तो दोस्तो, वैसे तो हम दोनों अब रोज ही सेक्स के मज़े ले लेते थे. उसने मुझे बताया कि उसका घर भी मेरे घर से करीब दो किलोमीटर और आगे है. इस प्रकार धीरे धीरे मुझे मामी से बात करने की आदत सी पड़ गई और हम लोग घंटों बात करने लगे थे.

तो मैं आज अपनी एक और पुरानी अन्तर्वासना ट्रेन में चुदाई की कहानी आप सबके सामने रख रही हूं. फिर मैंने दरवाजा खोला तो उसने गेट से ही कपड़े मुझे पकड़ा दिए और पैसों को बोला. लव कुश कांड दिखाएंये सोच कर मैं उठ गया और मैंने धीरे से वॉशरूम के पास जाकर उसके दरवाजे की एक झिरी से अन्दर देखने की कोशिश की.

मैंने नेहा के दोनों हाथों को ऊपर उठाकर उसे अपनी बांहों में ले लिया और उसके होठों पर जोर से किस किया. मैंने प्रतिभा से खुद को छुड़ाया और कहा- मैंने कहा था ना … मुझे अपनी तारीफ बिल्कुल पसंद नहीं.

मेरा दोस्त नसीम से गांड मरा कर थोड़ी देर गांड सहलाता रहा, फिर नॉरमल हो गया. उन्होंने मुझसे कहा कि यहां पर इस खेत में 4 महिला पुलिस वाली और कुछ पुरुष पुलिस वाले हैं, जो आपस में चुदाई कर रहे हैं. जो साथी मेरे बारे में नहीं जानते हैं, उनको मैं अपने बारे में बता देता हूँ.

बिन्दू आई और उसने मुझसे कहा- शाम को जब मैं घर गई तो मम्मी ने बहुत डांटा, कहने लगी कि इतनी देर तू कहां रही? खबरदार यदि देर से रात को कहीं इधर उधर गई है तो पिटाई करुंगी. प्रतिभा ने लंड को आधा मुँह में ठूंस लिया और मैंने भी नीचे से कमर उचका दी. ” वह बोली और गाड़ी पर बैठ गई।मैं उसे लेकर आगे बढ़ गया।काफी पियोगी?” मैंने पूछा।पी लेंगे.

कुछ देर बाद सर ने मेरी स्कर्ट ऊपर उठा कर मेरी गांड के अपनी नाक गांड पर लगा दी और गांड की महक सूंघने लगे.

चल ठीक है आज दोनों मिलकर निकाल देते हैं इस रंडी की हेकड़ी।इतना कह कर रवि अपनी शर्ट उतारने लगा. मैं किसी मेरा दुःख कैसे बताऊं … अगर मेरी मां या बहन होती, तो उन्हें बता सकती थी.

फिर वापस घर आने के क्रम में उन्होंने मेरा हाथ गाड़ी में पकड़ा और मुझे अपनी तरफ खींचा. मैं बोला- मीता तुम आज इतनी खूबसूरत और सेक्सी लग रही हो कि मेरा मन डोल गया. मैंने अनिकेत को एक किस की, तो बदले में वो भी मेरी जीभ को चूसने लगा.

उसकी भूख ऐसे मिटानी थी कि विन्नी को मज़ा भी पूरा आये, भूख भी मिट जाए लेकिन आगे के लिये भी उसकी भूख फिर से बढ़ जाए. मेरा लंड खड़ा होने के कारण लुंगी में तंबू बन गया था, तो मैंने लंड को नीचे दबाया और ऊपर अखबार लेकर पढ़ने का नाटक करने लगा. मामी ने मुस्कुराते हुए मेरे लंड को अंडरवियर से सहलाया और अगले ही मेरा अंडरवियर मेरे बदन से अलग नीचे फर्श पर पड़ा था.

एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ रिसेप्शनिस्ट ने मुझे स्विमिंग पूल की तरफ ले गई और उसने मुझे मेरी स्विमिंग ट्रेनर से मिलवाया. मामी ने मुझे अपने कमरे में ले जाकर बेड पर बिठाया और मेरे सामने कोल्ड ड्रिंक और नमकीन की प्लेट रखते हुए कहा- अतुल तू ये खा … जब तक मैं नहा कर आती हूँ.

सुमन भाभी सेक्सी वीडियो

इस वक्त मेरी गांड बहुत जोरों से आगे पीछे हिल रही थी और मेरी चूचियां भी बहुत जोर से रोहन के सामने हिल रही थीं. मैंने डीपी देखी, तो ये वही फेसबुक वाली फोटो थी … मैं समझ गया कि आज मैडम ने मूड बना लिया है. सरोज का शरीर थोड़ा भरा हुआ और चब्बी था जिससे वह इतनी सेक्सी लगती थी कि दिल करता था उसको पकड़ कर कभी भी चोद दो.

अब आगे पढ़ें मेरी दोस्त की भाभी की कहानी:दोस्तों मैं कामवर्धक के सेवन के बारे में चर्चा कर रहा था, मुझे जब लगातार और बहुत बार चुदाई करनी होती है, तभी मैं कामवर्धक टैबलेट का सेवन करता हूँ, वैसे हीना की चुदाई के वक्त मैंने टैबलेट नहीं खाई थी. और फिर सिर्फ होंठ चूसना ही तो मेरा लक्ष्य नहीं था। मुझे तो इसकी चूत पीनी थी।अब अगला कदम सिर्फ इंतज़ार करना था. गांव की लड़की का सेक्सीउसकी तरफ देख कर मैंने अपना सीना फुलाया, तो उसने मेरे दूध देख कर बोला- मुझे सेब भी बहुत पसन्द हैं.

उसकी पीठ को मैंने अपने सीने से लगा कर बिठाया और पीछे से उसके मम्मों जोर से दबाने लगा.

अब मेरी मम्मी को कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था तो उन्होंने कहा- जल्दी से डालो यार … मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. कुछ देर तक मोटे लंड से खेलने के बाद मैं बेड से नीचे उतर गयी और थॉमस को बेड के दोनों तरफ पैर कर बैठा दिया.

इस बात की भनक भी मैंने कभी कुसुम को होने नहीं दी थी।एक बार ऐसे ही बहुत दिन बीत गए. तो वो थोड़ा सा उदास होकर बोलने लगीं कि सच बोलूं तो मेरी शादी तो एक बूढ़े से हो गई है. तूने मस्त करंट वाली माल जैसी लौंडिया को मेरी झोली में डाल ही दिया, थैंक्यू.

इससे मेरी चुत के लिए कई लंड उपलब्ध हो गए थे और मुझे चुत की आग के साथ अपनी गांड मरवाने का सुख भी मिलने लगा था.

लंड से पिचकारी मारती धार निकली, जिसे प्रतिभा ने मुँह खोल कर सीधे अन्दर ले लिया और कुछ अमृत बूंदें जो बिखर गईं. दरअसल तीनों ही मां बेटियों की चूचियां और चूतड़ बहुत ही शानदार और बड़े थे. जंघाओं पर गांड पर पीठ पर कंधे पर सभी जगह लंड की सैर कराते हुए मैं प्राची भाभी को और बेचैन कर चुका था.

तमिल की सेक्सी वीडियोपर मन ही मन मैंने जितने लोगों से चैट की थी, सबके कनेक्शन खुशी से जोड़कर देखने लगा. मैंने भाभी को बेड पर पटक लिया और उसकी चूत में मुंह देकर उसकी चूत चाटने का मजा लेने लगा.

மலையாள ப்ளூ ஃபிலிம் வீடியோ

उसके बाद मैं भाभी की छाती के ऊपर बैठ गया और उनकी दोनों चूचियों को इकट्ठा करके उनके अंदर अपना लंड पेलने लगा. मगर जेठ जी ने मेरी चुत का दर्द नजरअंदाज किया और वे अन्दर धंसाते चले गए. कुछ ही देर में मेरी बहुत बुरी हालात होने लगी थी, पर मैं भी घाट घाट के लंड खाए बैठी थी, बिल्कुल रंडी की तरह उछल उछल कर उसके लंड से चुद रही थी.

वहां से कुछ सामान खरीद लिया, फिर कपड़ों की दुकान पर जाकर ममा ने अपने लिए एक साड़ी खरीदी एक रेडीमेड ब्लाउज लिया. दोनों रेल के इंजन की तरह आगे और पीछे से रश्मि की चूत और गांड को पेल रहे थे. मैंने पलट कर देखा तो सामने एक खूबसूरत सा चेहरा एक कातिल सी मुस्कान लिए मीता खड़ी थी.

उनके जांघों वाले हिस्से में मैंने एक दो झटके से महसूस किये और उसके बाद वो हिले ही नहीं. फिर मुझे भरोसे का आदमी जानकर ही उसने रियल आई डी से बातचीत शुरू की है. लेकिन मैंने उससे कहा- तुम भी अपना लंड हिला कर खड़ा कर लो, अगला नम्बर तुम्हारा ही है.

हैलो फ्रेंड्स, मेरी देसी Xxx सेक्स कहानी के पिछले भागजेठजी ने मेरा चुदाई काण्ड कर दिया- 2में आपने पढ़ा कि मैं अपने जेठ के साथ एक बार चुदवा कर उनके लम्बे और मोटे लंड से दुबारा चुदने का मन बना चुकी थी और उनके वापस आने का इन्तजार कर रही थी. वे आश्चर्य करके बोले- किससे?मैं लखन की बात तो छिपा गया, पर उन्हें बताया कि सलीम से … उसने एक रात खलिहान में मेरी मार दी थी.

इसके बाद उन्होंने खुद भी कपड़े पहन लिए और मुझसे कहा के चलो मार्किट चलते हैं.

थोड़ी देर बाद उसने मेरी गर्लफ्रेंड की टांगों को हवा में उठा कर उसकी चूत को पेलना स्टार्ट रखा … और जोर जोर से चोदने लगा. सेक्स फुल एचडी हिंदीआखिर मैं भी देखना चाहती थी कि अर्जुन ने क्या प्लान किया है।मैम, मैं समीर … अर्जुन सर ने ये आपके कमरे में रखने को कहा है. राजस्थान में सेक्स वीडियोमुझे मालूम था कि सुबह मेरी मुनिया का उद्घाटन होना है इसलिये साफ सफाई जरूरी थी. उनकी उम्र करीब 40 साल से ज्यादा की नहीं थी, वो हट्टे-कट्टे मर्द थे.

रॉन के जाने के बाद मैंने नेहा को बांहों में भर लिया और कहा- थैंक्स जान … तुमने मेरी विश पूरी कर दी.

उसने अपनी चुत को मेरे लंड पर घिस दिया था और हम दोनों को चुदाई का पहला स्पर्श अन्दर तक झनझना गया था. तभी राजू ने सनम को सीधा लिटाया और उसके मुंह में लंड डाल दिया और उसके मुंह में झटके देने लगा. मैंने झट से लण्ड को पैंट के अन्दर किया और भाभी के पीछे नीचे उतरने लगा.

मैंने एक अच्छा सा फॉर्मल पैन्ट और शर्ट पहना और परफ्यूम का स्प्रे मारकर तैयार हो गया. हमेशा नये नये कपड़े पहनती थी और अपने जिस्म को संवारने में बहुत खर्च करती थी. पर बाजार हमारे घर से थोड़ा दूर था और मेरा निकलना भी उचित नहीं था।हमारे घर से एक गली छोड़ कर ही मेडिकल स्टोर था, वो मेरी जान पहचान वाले का ही था.

पंजाब की सेक्सी दिखाओ

लगभग 3:00 बजे के करीब भाभी मेरे कमरे में आई और बेड पर मेरे साथ बैठ कर बोली- राज क्या हाल है?मैं- आप सुनाओ, कुछ ढीली सी लग रही हो, तबियत कैसी है?भाभी- बस … वही, नीचे लाल झंडी आई हुई है, उसी वजह से तीन चार दिन परेशानी रहती है. इस समय भले में कहने को ही चिकना नहीं हूँ, पर उस वक्त मैं सही में चिकना लौंडा था. मैंने बिन्दू से कहा- बिन्दू तुम घर पर स्कर्ट पहन कर रखा करो और उसके नीचे पैंटी नहीं पहनी है क्योंकि स्कर्ट उठाकर करने में टाइम नहीं लगता और निक्कर को निकालकर अलग रखना पड़ता है तो फटाफट उसको पहनने में दिक्कत हो सकती है.

गुड़िया भी पूछ बैठी कि तुम्हारे पास कोई है क्या?मैं- हां मेरे कुछ दोस्त हैं, जो थोड़ी दूर पर बैठे आपस में बात कर रहे हैं.

उन्होंने बदले में आश्चर्य से पूछा- क्या तेरे पास सिगरेट नहीं है?मैं- अंहह … हह … कुछ नहीं … अभी लाता हूँ.

मैंने नेहा की चूत को एक बार दोबारा से किस किया, उसके क्लीटोरियस को उंगली से रगड़ा और अपना मोटा सुपारा नेहा की चूत के छेद को थोड़ा फैला कर रख दिया. धीरे धीरे मेरे लंड ने मुझे जागृत करना शुरू किया … तो ये एहसास होता चला गया कि अब मुझे अपने एयरोप्लेन को किसी एयरपोर्ट पर लैंड करवाना ही पड़ेगा, नहीं तो ये कहीं क्रॅश हो जाएगा. मेवाती गानाउसका गर्म लंड मेरे हाथ में आते ही मेरे अन्दर एक झनझनाहट सी महसूस हुई.

रमेश- अच्छा इतना पसंद आया मेरा लंड तुम्हें?रश्मि- बिल्कुल अंकल।उस रात रमेश ने रश्मि को किसी गली की कुतिया की तरह रात 3 बजे तक अलग अलग पोजीशन में चोदा. साथ ही डाक्टरों ने बताया कि सेक्स करते समय आदमी की दिल की धड़कन बढ़ जाती है और उस काम में मेहनत भी होती है, अतः सेक्स से पूरा परहेज रखना है. मैंने तुम्हारी जींस को खोल दिया था और कच्छे के बाहर से ही लौड़े को चूसने लगी थी.

आज दोपहर एक बजे हल्दी की रस्म और शाम चार बजे से मेंहदी की रस्म होने वाली थी. धीरे धीरे पता ही नहीं चला कि ये एडल्ट जोक, सेक्स की बातों में कब बदल गए.

इस तरह से मेरे ससुर ने मेरी चूत की सील तोड़ी और मुझे सही मायने में शादीशुदा बनाया.

लेकिन मेरा पूरा लंड सट्ट से एक ही बार में उसकी कसी हुई चूत में चला गया. मैंने कहा- बिल्कुल ठीक है, तुम मेरे कमरे में जब भी आओ तो अपनी पैंटी निकाल कर आना जिससे मैं जल्दी से लण्ड अन्दर पेल सकूँ. मैं दर्द से कराहते हुए उससे बोली- उन्ह … दांत से मत काटो यार … नहीं तो मेरे पति को पता चल जाएगा.

गुजराती सेक्स हिंदी में अर्जुन सर इज टू लकी!”मैंने उसका इशारा अच्छे समझा, मैंने थैंक्स कहा और जिम वाले फ्लोर पे निकल गयी।मेरे जिम में घुसते ही जैसे, मानो जिम का माहौल थोड़ा अलग हो गया हो. और मेरे लण्ड के प्रहार से बेहाल गुरजीत की चूत भी थक गई थी तभी तो गुरजीत बार बार कह रही थी- बस करो, विजय.

फिर आवाज़ तेज़ होने लगी- चाहत चाहत उठो!हाँ?” मैं अचानक से उठी- क्या हुआ अर्जुन?कुछ नहीं मेरी जान … उठना नहीं है? तुम्हें जाना नहीं एग्जाम देने?”व्हाट … कितना टाइम हो गया?” मैं हड़बड़ा के पूछने लगी. हम लोग नहा भी चुके थे, वैसे तो रोज ही जब नहाता था तो चड्डी ही जिस्म पर होती थी. मामी मेरे सामने सिर्फ़ पेटीकोट में खड़ी थीं और मैं मामी के सामने अपने जींस टी-शर्ट में था.

বেঙ্গলি ফকিং ভিডিও

तुम लोगों ने रोहित के साथ मार पिटाई की है, इसने तुम्हारी पुलिस में कंप्लेंट की है. मां के ऐसा कहते ही उनकी चुत रस छोड़ने लगी और मैं भी जोर-जोर से धक्के मारने लगा. थॉमस ने मुझे बेड पर लेटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ कर मेरे मम्मों को चूसने और मसलने लगा.

अब वो मेरे शहर का ही था, तो मैं हर रोज़ उससे कंडोम लगवा कर चुदने लगी. मेरी इन हरकतों का परिणाम ये हुआ कि कुछ दिन के अंदर ही मेरी मस्त जवानी के आसपास कई भंवरे घूमने लगे.

इससे मुझे बहुत दर्द भी हो रहा था, मगर उसके मोटे लंड से मुझे लज्जत भी मिलने लगी थी.

वो कहने लगे- आप लोग तो जा रहे हैं मगर रचिता वहां जा कर क्या करेगी? आप ऐसा करिये कि उसे हमारे यहाँ छोड़ सकते हैं. इस पोजीशन में मेरा लंड चूत और गांड के बीच दस्तक दे रहा था और भाभी की मादक सिसकारियां बढ़ने लगी थीं. प्रतिभा की शानदार मखमली अनुभवी चूत पाकर लंड भी बावला हो गया और इसी बावलेपन में उसने बवाल ही मचा दिया.

वो मेरे पीछे पीछे सीढ़ियों से उतरने लगा। हम टीवी हॉल में पहुंचे और उसे सोफे पर धक्का दे दिया।वो सोफे पर अपने लण्ड को सहलाते हुए बैठ गया।मैंने टीवी ऑन किया और एक गाने पर उसके सामने थिरकने लगी. वे बोले- कुछ अपॉइंटमेंट कैंसिल करने हैं … उनकी लिस्ट दो, मैं बताता हूं. वो 4 पुलिस वाले 4 महिला पुलिस वालियों के गले लगे हुऐ थे और किस कर रहे थे.

मानो पूछ रही हो कि कौन आया है?मैंने उसे इशारों में समझाया- रुको मैं देखता हूँ.

एक्स एक्स एक्स एक्स बीएफ बीएफ: मेरी तो सांस हलक में अटक गई … ये लड़की थी या बवाल थी- अहह ऊउफ्फ्फ मीईईईईता … आ आ आह चूसो मेरी जान. ऐसे चोदोगे तो कहीं तुम भीग न जाओ मेरे मूत में अर्जुन!”हा हा हा … दोनों जोर से हँसे।मैं उठ कर जाने लगी.

उसने अपने लंड को उसकी नर्म नर्म गोरी गांड की दरार में घुसा लिया और उसकी चूचियों को भींचते हुए उसकी गर्दन पर किस करने लगा. भाभी जोर से आवाजें निकालने लगीं- ओहो … हए ह्म्म … आ … जोर से … आंह और ज़ोर से करो. मगर वो मुझे समझाते हुए कह रहा था- उसने ज्यादा जोर से तो नहीं मारी? लगी तो नहीं … दो चार धक्के ही लगाए होंगे … माल तो साले ने सारा बाहर निकाल दिया.

वे ड्रेसिंग टेबल के सामने केवल एक सुंदर लाल पैंटी और टॉप में खड़ी थी और उनका लंहगा नीचे जमीन पर उनके पाँव में पड़ा था.

अब रॉन ने कहा- सक इट …! (चूस लो इसे!)नेहा ने शर्म के मारे एक बार मेरी ओर देखा. मैंने मामी को बिस्तर पर लिटा दिया और फ़्रिज़ से एक आइसक्यूब लाकर उनके होंठों से लेकर उनके पैरों तक उस आइसक्यूब को अपने मुँह में लेकर फिराया. एक वो जिससे मैं अन्दर आया था, दूसरे दरवाजे से एक दूसरे कमरे में एंट्री थी.