जवान लड़की की बीएफ

छवि स्रोत,saxy न्यूज़

तस्वीर का शीर्षक ,

एकता कपूर सेक्सी: जवान लड़की की बीएफ, मैं उसको अपनी तरफ घुमा कर उसके चुच्चे को मुँह में लेकर चूसने लगा और एक हाथ से उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया.

इंग्लिश में ब्लू सेक्सी पिक्चर

आप ऐसे अचानक आ गए?वो बोला- अच्छा हुआ साली रंडी तूने सूसू नहीं किया. गंदा वाला सेक्सउसके बाद उसने तौलिये को गीला किया और अपनी टांगें फैलाकर चूत अच्छे से साफ की.

मैं दारू का पैग लेकर उसके बेडरूम में गया, तब भी वो बाथरूम में ही थी. चुदाई का खेलफिर वापस उसी तरह जीभ चलाते हुए नीचे की ओर बढ़ते हुए उसने लंड को गप से मुँह के अन्दर लेकर ओरल चुदाई शुरू कर दी.

जीजू, लो देख लो अपनी करतूत!” साली जी मुझे गीली लुंगी दिखाते हुए बोलीं.जवान लड़की की बीएफ: दोस्तो, आप सभी को यह चोदन स्टोरी कैसी लगी? अपनी प्रतिक्रिया मेरे ईमेल आईडी पर अवश्य दें.

शायद अपनी जिंदगी में पतियों की अदला बदली करने के इतने यारानों में मुझ सा यार तुम्हें कोई मिला नहीं। मैं तुम्हारे पति के अलावा तुम्हें चोदने वाला पहला इंसान हूं और शायद तुम्हें मुझसे प्यार भी है।रीना- ओहो … तो राजवीर ने तुम्हें भी हमारे सभी अदला बदली के जोड़ों के बारे में बता रखा है। यार उसको कोई नहीं समझ सकता.दीदी के बूब्स देखने की वजह से मेरा लंड पूरी तरह से खड़ा हो गया था और पैंट में बम्बू बन गया था.

चोदा चोदी चोदा चोदी चोदा चोदी - जवान लड़की की बीएफ

भाभी भी सोफे पर लेट कर भैया की फुल चुदाई और मेरी हाफ चुदाई की थकान उतार रही थीं.मैं, मनोज और जागृति हॉल में सो रहे थे और मनीषा बेडरूम में सो रही थी.

दोस्तो, ये थी मेरी अधूरी सेक्स कहानी का सच … आपको मेरी कार सेक्स पोर्न स्टोरी पसंद आई होगी ना? तो प्लीज़ मुझे मेल करना मत भूलना. जवान लड़की की बीएफ उसने आँखों को पानी से साफ़ कर लिया था, मुंह-हाथ धो लिया था, बाल भी संवार लिए थे.

अब मेरा मन बेकाबू हो चुका था, मैं पलंग से नीचे उतरकर उसके पास पहुंचा और उसके कूल्हे को कसकस कर मसलने लगा.

जवान लड़की की बीएफ?

मेरे चाचा पैसे कमाने के लिए सऊदी अरब में रहते हैं और साल में एक या दो महीने के लिए ही इंडिया आते हैं. उसने ब्रा दिखानी शुरू कीं तो चाची ब्रा उलटते पलते हुए मुझसे पूछने लगीं- बता न कौन से रंग की लूँ?मुझे ब्रा को लेकर कुछ समझ नहीं आया कि मैं क्या बोलूँ. तब मुझे याद आया कि कल रात पिताजी ने माँ की चुत से इसी पसीने को चाटा था.

वैसे हम दोनों रात 11 बजे तक टीवी देखती हैं लेकिन आज पता नहीं सुमीना को क्या हुआ, अभी दस बजे ही कहने लगी- भाभी, मुझे तो बहुत नींद आ रही है, मैं सोने जा रही हूँ. मैंने सुना था कि ऑफिस में किसी सुन्दर लड़की ने रिसेप्शनिस्ट की जॉब के लिए ज्वाइन किया है, लेकिन मैंने उसे देखा नहीं था क्योंकि मैं दो दिन से छुट्टी में चल रहा था. अगर तेरे यार ने सुन लिया तो वो समझेगा कि तू अपने जीजा से चुद रही है.

मैंने चारों ओर की छतों पर नजर दौड़ाई, पर आस-पास की छत पर कोई नजर नहीं आया. उसके होंठों को जोर से किस करने लगा और फिर एक झटके में अपना पूरा लिंग उसकी योनि में प्रवेश करा दिया।उसकी आंखों से आंसू चल कर बाहर गिरने लगे। फिर मैं उसी अवस्था में उसके ऊपर लेट गया। लगभग दो मिनट के बाद मैंने धीरे-धीरे धक्का लगाना शुरू कर दिया। मेरे धक्कों से धीरे-धीरे उसको मजा आने लगा और वह भी मेरा साथ देने लगी. मेरी उंगलियों पर उसकी चिपचिपी लार लग गई थी जिसे मैंने मुंह में लेकर चाट लिया.

फिर मैंने उसकी चूत में उंगली की, तो उसने दर्द के मारे ‘ऊईईइई उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई. मैं- चलो अब दर्द से ध्यान हटाओ औऱ मजे में ध्यान लगाओ, फिर तुम्हें दर्द महसूस नहीं होगा.

मूत्र विसर्जन के बाद वो किचन में गया और वहाँ से दूध की मलाई ले के आया.

घर जा कर अर्चना को याद कर के मैंने रात में तीन बार मुट्ठ मारी क्योंकि उसकी उठी हुई गांड और तने हुए बूब्स मेरी आंखों के सामने सपने जैसे चल रहे थे.

कमरे के बीच में टेबल रखी हुई थी जो सोफे सेट पर बैठने वालो के काम आती थी. मुझे उम्मीद थी कि मेरा पति बहुत ही स्मार्ट होगा और मोटे लंड से चोद-चोद कर मुझे जवानी का मजा देगा. घर में अकेले रहने के कारण मैं काफी गर्म हो गया था और मुझे मेरे लंड के लिए कोई चूत की तलाश थी.

मेरे पिताजी तो काम करके आते ही खाना खाकर सो जाते हैं क्योंकि वो काफ़ी मेहनत का काम करते हैं और उनकी उम्र भी हो चुकी है. पेग सिप करते करते बोली- तुम बुड्ढों में इतनी ताकत कहाँ से आती है?मैं बोला- मेरे करने से तू तो खुश है ना?वो बोली- आपको अब छोड़ने का मन नहीं करता. हैलो फ्रेंड्स, ये भाभी की चुत की मेरी पहली कहानी है, जो कि बिल्कुल सच्ची है.

चूची देख नहीं रहे हो, खरबूजे जैसी बड़ी हो चुकी हैं और मेरे निप्पल भी तुम्हारी गांड को भी टच नहीं कर पाएंगे.

इस बीच गुप्ताइन बोली- डॉली का तो अच्छा हो गया, गोलू की भी नौकरी लग जाती तो चिन्ता खत्म हो जाती. मैंने भी उसको ज्यादा जोर जबरदस्ती नहीं की … और उसको डॉगी स्टाइल में आने के लिए बोला. हां बीच-बीच में एक-दूसरे के जिस्म में समाने जाने का मौका मिल जाता था.

मैं- किससे … दोस्त से या सेक्स से या मुझसे!मीता- दोस्त से … मुझे उस पर विश्वास नहीं हो रहा है. बचते तो सिर्फ आदम और हव्वा के वंशज जो सामाजिक रिवायतों की परवाह किये बिना, युगों-युगों से एक-दूसरे में समा कर अपनी आदिमकाल की प्यास मिटाने की कोशिश में व्यस्त होते. भाभी ने कहा- पहले मुझे पूरी नंगी करो … लेकिन धीरे धीरे और मुझे चूमते हुए.

वो नीचे होते हुए मेरे लंड को अपने दोनों हथेलियों के बीच लेकर प्यार से सहलाने लगी और अपनी जीभ के अग्र भाग को लंड के अग्र भाग से टच करते हुए बोली- ओ मेरी चूत के दूल्हे राजा … छोड़ना नहीं अपनी दुल्हन को … पूरी दम लगा कर चोदना और चूत का भोसड़ा बना देना.

जूली के गीले बदन से चिपकने के बाद मेरी वासना भड़कने लगी थी, जूली भी मुझसे लिपट गयी. एक तो नशीले बदन की नशीली जांघें और ऊपर से उस पर लगी हुई नशीले अमृत की बूदें … आअह आआह बहनचोद क्या कहने !!!तभी बाली रानी कूद के मेरे पास नीचे आ गई और लिपट के मेरे मुंह पर चुम्मियों की झड़ी लगा दी.

जवान लड़की की बीएफ कुछ ही देर के धक्कों के बाद रंजना आनंद में मग्न होने लगी और मेरे लिंग के धक्कों के साथ ही मेरे लिंग से चुदाई करवाते हुए अपने धक्कों के साथ ताल में ताल मिलाने लगी।जब मैं अंदर डालता तो वह अपनी कमर उठा देती जिससे जबरदस्त धक्के लगने लगे। हमारे आनंद की कोई सीमा नहीं थी। वह जोर-जोर से आहें भर रही थी. मैं- तुम्हारा कोई ब्वॉयफ्रेंड है?दीपाली- हां, पर वो साऊथ इंडिया में रहता है.

जवान लड़की की बीएफ मेरी चूत उसका पूरा लंड अन्दर ले रही थी और वो जोर जोर से धक्के मेरी चूत में मार रहा था. चूत में लंड उतरते ही मेरी कमर ने ऊपर नीचे होते हुए खुद ही उसकी गर्म चूत की चुदाई शुरू कर दी.

जब पढ़ा कर आया, तो देखा कि आज तो अर्चना भी कुछ अलग ही कयामत ढाने पर तुली है.

बीएफ वीडियो बड़ा वाला

शोना भी अब आंखें बंद करके लेटी हुई थी, शायद इंतज़ार करते करते उसकी आंखें लग गयी थीं. अनिल की छोटी वाली साली जिसका काल्पनिक नाम मैं मंजू रख लेता हूँ, उस उम्र 19 साल की थी. एकदम फ्रेश कुंवारी बुर थी … मैंने मन लगा कर बुर पर मुँह लगाया और ज़ोर ज़ोर से बुर चूसने चाटने लगा.

मुझे पता था कि अब वो मेरी गांड को चाटने वाले हैं … क्योंकि मूवी में मैंने देखा था. मौसी भी जैसे इसी बात की इंतजार में थीं और मेरा इशारा पाते ही तुरंत मेरी तरफ मुँह करके मेज़ पर बैठ गईं. मेरी और दीपाली की मुलाकात एक प्रशिक्षण केंद्र (ट्रेनिंग सेंटर) में कुछ इस तरह हुई थी.

फिर मैंने उसकी सफ़ेद ब्रा को भी निकाल फेंका और जब मैंने उसकी उठी हुई चूचियों को देखा, तो मेरा लंड बिल्कुल अकड़ गया.

वो तो तेरी दिन भर की छेड़ छाड़ से ही मैं समझ गई थी कि तू कच्चा खिलाड़ी नहीं है. लण्ड को वो बमुश्किल आधा इंच ही अंदर बाहर कर रहा था।धीरे धीरे उसने अपनी रफ्तार बढ़ानी शुरू की। उसे अपने लण्ड पर गाँड का कसाव मूंग के हलवे की तरह लग रहा था। लण्ड का अहसास रिया को भी बहुत आनन्ददायक लग रहा था।गाँड के अंदर जो नर्व एन्डिंग्स होती हैं वहां पर रिया को लंड का घर्षण बहुत मजा दे रहा था. घुटने के बल बेड पर खड़े हुए भैया मेरे मुंह को अपने लंड पर धकेलने लगे.

दिशा अपनी पूरी चूत खोल कर अपनी चूत पर मेरा सर दबा कर सीत्कार भरने लगी- आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… जीजाजी प्लीज धीमे चाटो … आह बर्दाश्त नहीं हो रहा. मैंने पास रखे कपड़े से उसकी बुर से निकल रहे खून और अपने लंड पर लगे खून को साफ किया और फिर उसकी बुर पर आराम से लंड घुसा दिया. गुस्से में रकुल बोली- जब तुमने मेरा सौदा कर ही लिया तो अब पूछ क्या रहे हो? तुम्हारे लिये तो मैं एक रंडी हो गयी हूं जिसकी तुम दलाली करने लगे हो.

वैभव हैंडसम है और रोमांटिक भी, इसलिए मैंने भी उसे लिफ्ट देना शुरू कर दिया. नम्रता ने अंदाज लगाया कि मेरा मुँह खासकर होंठ का हिस्सा उसकी चूत पर सैट नहीं हो रहा है, तो उसने अपनी गांड के नीचे तकिया रखा.

इस बार जब मैं नीचे आती, तो वो अपना लंड और अन्दर धकेल देता और जब मैं ऊपर उठती, तो वो भी पूरा लंड बाहर निकाल देता. एक दिन मैंने और मेरे एक दोस्त ने उसके घर पर ब्लू फिल्म चला कर देखी. फिर मैंने उसके पैरों को पकड़ लिया और धीरे-धीरे उसकी गांड पर अपने लंड का दबाव बढ़ाने लगा.

उसने अपना पिछवाड़ा मेरी तरफ कर रखा था, मेरी जब नजर उधर गयी, तो मैं उसके नाजुक और मुलायम कूल्हे को सहलाने लगा.

(तुम एक अच्छी चुदक्कड़ हो)वो- थैंक्स मास्टर …उसने झुकी नजरों वाली इमोजी के साथ भेजा।मैं- ह्म्म्म!मैं- व्हाट आर यू वेयरिंग? (क्या पहन रखा है तुमने)वो- गाउन मास्टर. हाइवे पकड़ते ही तुषार ने भार्गव से कहा- अरे यार सीट को सीधा कर दे, तो सीट बड़ी हो जाएगी. मैं अंशु, मेरी पिछली कहानीमुँह बोली साली को पटाकर चोदाआपने कुछ दिन पहले पढ़ी होगी.

उनके जाने के बाद अब मेरे मामा के घर पर मेरी मामी, उनकी बड़ी बेटी मनीषा और उससे छोटी बेटी जागृति व सबसे छोटा बेटा मनोज रहते थे. दोस्तो, यह थी मेरी और अदिति की प्रेमकहानी … इसके बाद हमारे बीच कई बार सेक्स हुआ, उसकी कहानी फिर कभी लिखूंगा.

फिर वो अपनी टांग को मेरी टांग पर चढ़ाकर मेरे लंड को अपनी चूत पर घिसने लगी और लंड को चूत के अन्दर लेने की कोशिश करने लगी. धीरे-धीरे सुमन भी सेक्स कहानी पढ़ने लगी, पर खुशी पढ़ती थी या नहीं … ये पता ही नहीं चला. उस वक्त मैं उनकी भीगे ब्लाउज से चिपकी हुई मस्त चुचियों को देखता रहता था.

बीएफ वीडियो प्ले सेक्सी

मैं सब कुछ समझ रही थी मगर फिर भी पूछ लिया- क्या करना होगा मुझे सर?तो वो बिना किसी शर्म के बोले- तुमको मेरे साथ सेक्स करना होगा.

हालांकि मानसी की चुदाई करके मैं कुंवारी चूत को भी भोग चुका था लेकिन हेतल की शादीशुदा चूत को चोद कर मुझे अलग ही अहसास हुआ. मेरी टाइट चूत को चोद कर उनका लंड भी शांत रहता था और उनका महान लंड मेरी चूत को भी अच्छी तरह खुश रखता था. मैं कोशिश कर रहा था कि अमृत को अच्छे से मुंह में घुमा कर पूरा ज़ायका लेकर निगलूं, परन्तु धारा इतनी तेज़ आ रही थी कि मुंह में घुमाने का मौका नहीं था.

हल्की सी कामुक मुस्कान के साथ उसने सर फिर से झुका लिया।लिफ्ट ऊपर जाते ही मैंने उसे पॉज कर दिया। वो घबराई। मैंने उसे अपनी तरफ खींचा. मैंने उसकी ही पैंटी से अपना और उसका मिक्स वीर्य के साथ निकला खून साफ किया. ब्लू पिक्चर देखना सेक्सीमेरे प्रिय दोस्तो, मैं फिर से हाजिर हूं अपनी सेक्सी कहानी का अगला भाग लेकर।अभी तक आपने पढ़ा कि मैंने और सुमन ने पंचमढ़ी के होटल के कमरे में चूत और गांड की चुदाई का कितना मजा लिया.

”उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी लुंगी पर रखा, उस वक्त मुझे करंट सा लगा. आख़िर भगवान ने एक दिन मेरी सुन ली और मुझे उनकी चुदाई देखने का मौका मिल गया.

वह बोली- क्यों, तुम यहाँ भी मुझे अपना लंड चूसने के लिए बोलोगे क्या?मैंने गैस को बंद कर दिया और उसके बाद शिखा को नीचे बैठा दिया. मैंने जीजा से सब झूठ ही कहा था क्योंकि उन्होंने मुझे मजबूर कर दिया था. आपकी खातिरदारी में कोई कमी रह गई, तो हम जीजू को क्या मुँह दिखाएंगे.

वो आज बहुत ही ज्यादा गर्म थी और मेरे लंड का सारा पानी अपनी चूचियों पर डलवा कर मम्मों को खूब मसला. मैंने उसकी पैंटी को उसके मुँह के अन्दर डाला और उसका मुँह हाथ से दबा लिया. अब मैं झटके लगाने के साथ उसके चूचे पूरी बेदर्दी से मसलता जा रहा था.

क्या हुआ विपुल? इस तरह क्यों देख रहे हो? मैं अच्छी नहीं लग रही क्या?”आप तो बहुत ही सुन्दर लग रही हो … भैया आपसे इतने दिन दूर कैसे रह लेते हैं, मुझे समझ नहीं आता.

वो बार-बार अपने चूचों को दबाती हुई मेरे लंड की चुदाई का आनंद लूट रही थी. हालांकि बाद में मुझे रेस्टरूम में जाकर मुठ मार कर खुद को शांत करना पड़ता था.

में परीक्षा के बाद एक इंटरव्यू दिया, जिसमें मेरा सिलेक्शन हो गया और मेरी नौकरी तय हो गई. भाभी अपनी उंगली धीरे धीरे नीचे ले गईं और मैं भी अपने होंठों के साथ नीचे सरकता गया. मैंने कहा- मगर आप किसी और के साथ करने के लिए तैयार हैं क्या?चांदनी- वही तो समस्या है.

मेरे छोटे बेटे अनिल की शादी हुई उस समय उसकी छोटी साली की भी शादी साथ में ही थी. चुदाई के वक्त फिर से आ गया तो हमारा मज़ा खराब हो जाएगा।रिया जब उठी तो उसको गाण्ड में दर्द महसूस हुआ. एक सिप वाइन से तो खैर नशा क्या होता मगर रानी के मुखरस जो वाइन में मिल गया था उसने ज़रूर मुझे सरूर चढ़ा दिया.

जवान लड़की की बीएफ मैं खड़ा होकर उसके पास चला गया और घुटने के बल बैठ कर दिशा की चुत चाटने लगा. चलो सर … ” मैं शर्मा सर के आंखों में आंखें डाल कर मीठी आवाज में बोली.

पंजाबी चुदाई वाली बीएफ

मैं तो गर्म हो चुका था मगर शिखा भी अब गर्म होने लगी थी और उसको खाना बनाने में परेशानी होने लगी. जैसे ही वसुन्धरा अपना बैग लेकर कार से उतरी तो मैंने कहा- अच्छा … वसुन्धरा जी!क्या मतलब?”मैं चलता हूँ वसुन्धरा जी! मैंने बहुत दूर जाना है. लंड कितना अंदर गया ये तो नहीं कह सकता लेकिन शुभ्रा ने कस कर पलंग के सिरहाने को पकड़ लिया.

फिर तेरी ऐसी चुदाई करूँगा कि तूने कभी सोचा भी न होगी … और मैं भी वैसा कभी कर नहीं पाया होऊंगा. दोनों अदल बदल कर दोनों लड़कियों की चूतें चोद रहे थे।इधर मेरी गोद में बैठ कर चुद रही सीमा के मैं कभी मम्में चूसने लगता और कभी उसके होंठों को चूसता. सुहागरात के बारे में बताइएमैंने सम्मोहित हो कर उनकी लंड पर हाथ रखा, तो मुझे मानो करंट लगा हो.

रुमित बोला- अरे आशना अब किससे शर्मा रही हो … मुझसे या तुषार से?तब मैं शरम के मारे कुछ नहीं बोल सकी.

कुछ पल की कोशिश के बाद उसने प्रयास करना बंद कर दिया।उसकी चूत के रस को चाटते हुए, नाभि से होते हुए उसके दूध को पीते हुए मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. पूरा वीर्य मेरी चुत में निचोड़कर अंकल थक कर मेरे ऊपर लेट गए, मैं भी सेक्स की वजह से चूर हो गयी थी.

उंगली करते हुए पति देव बोले- नम्रता वहां पर दूसरों को अपनी बीवी के साथ एन्जॉय करते देख कर मुझे तुम्हारी याद बहुत आ रही थी. ये सुनते ही वो बहुत खुश हो गया और हम दोनों कार में पीछे की सीट पर चले गए. इसके बाद मैंने भी उसकी बुर पर अपने दोनों होंठ टिका कर खूब बुर चुसाई की थी.

साड़ी के ब्लाउज में भी मेरी बड़ी-बड़ी चूचियां बाहर की तरफ उभरी हुई होती हैं.

वह भी झड़ चुकी थी और उसके 1 मिनट के बाद ही मैंने भी अपना माल उसकी गांड में उड़ेल दिया।1 घंटे तक चली इस चुदाई में हम तीनों ही पस्त हो चुके थे और तीनों बिस्तर पर गिर गए. हम दोनों लोग बिना एक दूसरे से कुछ बात किये एक दूसरे के कपड़े निकाल रहे थे. मैंने भाभी के बूब्स को दबाते हुए कहा- भाभी जान … आपकी कसम किसी को नहीं बताऊंगा.

ब्लू पिक्चर दे दीजिएजिस गांव में मैं पढा़ने के लिए जाया करती थी वह गांव शहर से 25 किलोमीटर की दूरी पर था. मैंने देखा कि पवन का लंड अब फिर खड़ा होकर झटके मार रहा था। उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रखवा दिया.

बीएफ का वीडियो भेजो

लेकिन मैं अभी यह नहीं समझ पा रहा था कि मानसी की जगह हेतल कैसे आ गई. सी आह … ह … ह … ह!”आह … ह … ह …!!”मैंने कुछ देर बाद उसकी उँगलियों को अपने मुंह से खुद ही जाने दिया और वसुन्धरा की आँखों में झाँका! प्यार, डर, समर्पण,शर्म, ख़ुशी … जाने कितने ही भाव थे उन आँखों में. मस्त तने हुए ठोस 36 इंच के चूचे, सपाट पेट और थोड़ी सी बाहर को निकली हुई 34 इंच की गांड!जब मैंने उसे पहली बार देखा था, तभी मेरा उस पर दिल आ गया था.

मौसी ने चेहरा भले ही दूसरी तरफ कर लिया, पर मेरा हाथ अपने चुचे पर से हटाया नहीं था, जो कि मेरे लिए आगे बढ़ने का संकेत था. जब सारा उसकी जीभ को अपनी जीभ से चूसती थी तो चूत लण्ड को अंदर खींचने लगती थी जैसे चूत लण्ड को चूस रही हो. तो हुआ यूं कि मेरी मामी की भाभी यानि मामा की सलहज (मामा के साले के पत्नी) की हार्ट अटैक से मौत हो गयी थी, तो मैं उनके मायके गया था.

ठीक है … अब बस करते हैं … पर चूत के अन्दर तो करने दोगी ना?” कहकर अंकल मेरी चुत को सहलाने लगे. आपकी तबियत भी तो गड़बड़ है ना?पिंकी और नितिन कार से डॉक्टर के यहाँ निकल पड़े. करीब पन्द्रह फोटो लेने के बाद काजल की आवाज आई- अब मैं दूसरा सैट ट्राई करती हूँ.

एक दिन वो मेरे साथ जा रही थी, तो वो मेरे हाथ में हाथ डाल कर बोली कि कल मम्मी दिन में घर पर नहीं रहेंगी और भाई भी स्कूल जाएगा. हम दोनों चुदाई करते करते इतनी मदहोशी में डूब गए थे कि हम दोनों को ये भी पता नहीं चला कि शाम कब हो गयी.

इस तरह मैं उसकी एक चूची को चूस रहा था, दूसरी को ब्रा के ऊपर से ही दबा रहा था.

मेरा मन भी तुमसे मिलने का था, पर उस साले ने पी नहीं रखी थी, दिक्कत ये थी. पीरियड कैसे आता है videoतभी हम दोनों ने एक दूसरे की आंखों में देखा और किस करना शुरू कर दिया. ऐश्वर्या राय का सेक्समैंने उसे अपनी तरफ खींचा और उसकी सलवार का नाड़ा खोल कर उसको अपने ऊपर खींच लिया. उसको बहुत अच्छा लग रहा था, वो मेरे सर को जोर से अपने चूत में खींच और दबा रही थी.

मेरे मुंह से अनायास ही निकल पड़ा- आह्ह … चाची … आप तो कमाल हो!चाची ने अपनी नजर उठाई और मेरी तरफ आंख मारकर फिर से मेरे लंड को लोअर के ऊपर से ही चाटने लगी.

मैं पूरी मस्ती में आ गयी थी … मेरी दोनों आंखें बंद हो चुकी थीं … और मैं चुदाई के पूरे मज़े ले रही थी. अमीषी ने अपने हाथ मेरे सीने पर रखे और सिर्फ अपनी गांड हिला हिला कर लंड पूरा अन्दर बाहर करने लगी. नहीं सर … बिल्कुल नहीं … आहह … अब रुको मत … और तेजी से चोदो!” मैं कामवासना में बहकी बहकी बातें करने लगी थी.

जिस पड़ोसी की मैं बात कर रहा हूँ वह रिश्ते में उस लड़की के मामा लगते थे. इतने में हरकेश ने अपना लंड बाहर निकाला और उसकी गांड के छेद में टिका दिया. मैंने बोला- क्या हुआ?वो गुस्से में- जानवर हो क्या तुम ऐसे दबाता है कोई?मैंने कहा- जानवर हूं या नहीं … यह तुम अब जाते वक्त बताना.

बीएफ सेक्सी मूवी एचडी हिंदी में

तू तो जानती ही है कि एक मदहोश औरत की चुदाई में चूत सहलाना … मतलब आग में पेट्रोल डालने के बराबर होता है. ”अच्छा? पर आप दोनों को देखकर ऐसा लगता ही नहीं। आप दोनो तो ऐसे लगते हो जैसे शादी को 2-3 साल ही हुए हैं. हम दोनों लोग पड़ोसी हैं लेकिन हम दोनों के बीच में एक परिवार की तरह प्यार है.

उसने कहा- तुझे भाभी को चोदना है, तो अन्तर्वासना पर कहानी पढ़, वहां पर ऐसी बहुत सी सच्ची कहानी हैं.

करीब दो तीन मिनट तक अपनी चूत और चूचियों की इसी पोज में रगड़ाई करने के बाद उसने पोज बदला और पेट के बल लेट कर खीरे को अपनी जांघों में दबा लिया तथा अपनी छाती को जैसे ही ऊपर उठाया तो उसका मुंह मेरी ओर हो गया और उसने मुझे मेरी बालकोनी में कैमरा लिए हुए देखा.

मैंने एक टेबल बुक कर ली थी। वहां से मैं उसे सीधे उस रेस्टोरेंट में ले गया जहाँ हमारी डेट थी. मेरा ऐसा करने से दीपाली इतनी गर्म हो गयी थी कि उसके बाद दीपाली सोफे पर ही अपना पजामा उतारने लगी. सेक्सी देखने से क्या होता हैतभी वसुन्धरा की पेंटी में अटका हुआ उस की चुनरी का सितारा, पेंटी के फैब्रिक से आज़ाद हो गया जिसका एहसास तत्काल वसुन्धरा को भी हो गया.

मैंने उससे पूछा कि हम कहां जा रहे हैं?उसने बताया कि वो मुझे अपने घर ले जा रही है. मैं उसे उठाने के लिए उसके नजदीक गया और उसे आवाज़ दी, तो उसने झटके से मुझे अपने ओर खींच लिया और मेरे होंठ पर अपने होंठ रख कर फ्रेंच किस करने लगी. मैंने चाची को बेड पर ले जा कर धक्का दे दिया और उनकी चूत पर हाथ फिराते हुए उनके होंठों को चूसने लगा.

इस औरत में इतना सेक्स भरा था कि रात भर में 4 बार चुदने के बाद भी भाभी सुबह सुबह अपने पति का लंड चूसने लगीं. मैं उसके गुलाबी होंठ चूसते निप्पल पर आया और एक निप्पल को अपने होंठों में दबा आकार चूसने लगा.

मैंने उनका साथ देना शुरू कर दिया क्योंकि मेरे पति असम में तैनात थे और दस दिन के बाद आने वाले थे.

अब रिया भी गांड में लंड के दिये दर्द से निकल कर आनंद की चौखट को चूम रही थी. कुछ देर बाद बाद जब दर्द कम हुआ तो अनिल भैया ने मुझे घूमने को कहा … ताकि वे देख सकें कि हुआ क्या था. मैंने दोबारा उसके होंठों को चूसा तो उसने भी बदले में मेरे होंठों को चूस लिया.

देसी बुर की चुदाई अब हम बस फिल्म देख रहे थे। फिल्म ख़त्म हुई। हम हॉल से बाहर आये। वो वाशरूम गयी, फिर हम उसी काम्प्लेक्स के मॉल में शॉपिंग करने गए। हम पति-पत्नी की तरह हाथ में हाथ डाले चल रहे थे जैसे वो मेरे साथ डेट पे आयी हो।वहाँ पर हमने कुछ शॉपिंग की। उसने मेरे लिए 2 टी-शर्ट ली, अपने लिए उसने कुछ नहीं लिया क्योंकि उसे अगले 2 दिनों तक कुछ पहनना ही नहीं था. सच में दोस्तो, ये कोई बहाना नहीं था, आज मुझे हक़ीकत में नींद आ गई थी.

मैंने दीपिका से पूछा- तुम संजना को लेकर मेरे बेडरूम में बैठी थी?दीपिका- राज, दरअसल, आप और आपके रूम में से मुझे एक मर्दानेपन की खुशबू आती है, बहुत ही सेक्सी गंध है, आपकी बॉडी स्मेल बहुत ही सेक्सी है, इसलिये जब आप टूर पर गए थे तो मैंने आपकी अलमारी खोली थी. मैं अनिता की टांगें खोल कर उसकी चूत पर से बाकी बची चॉकलेट को चूस चूस कर खाने लगा. जहां नितम्बों की गोलाई ख़त्म होती है, वहाँ जहां गुदा और योनि के बीच की जगह पर वसुन्धरा की पेंटी में वसुन्धरा की चुनरी का सितारा अटका हुआ था.

बुर चाटने वाला सेक्सी बीएफ

कुछ पल की कोशिश के बाद उसने प्रयास करना बंद कर दिया।उसकी चूत के रस को चाटते हुए, नाभि से होते हुए उसके दूध को पीते हुए मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. उसकी चुत पर हाथ लगते ही वो सिटपिटा गयी और मुझे धक्का देकर खुद को मुझसे आज़ाद कर लिया. उन्होंने मेरी गांड को दबाते हुए मेरी लोअर को नीचे करने की कोशिश की और अंडरवियर समेत मैंने अपनी लोअर अपने घुटनों तक निकाल दी.

मुझे उसकी बगलों को सहलाने में बड़ा मजा आ रहा था।थोड़ा सा और आगे झुकने के बाद मेरी नजर जब उसकी चिकनी चूत पर पड़ी तो मुझे लगा कि वास्तविक खजाना तो अब दिखाई पड़ रहा है। क्या उभारदार गुलाबी रंग की चूत थी उसकी!अब मैं आगे की तरफ आया और अपने घुटनों पर बैठ गया. सुधा ने अपनी सहेली से कोने में से बाहर आने दिया और उसी को बाहर खड़ा कर दिया.

शुरू में उन्होंने ना नुकुर की पर मैं जिद पर अड़ गयी और उन्हें अपनी कसम दे दी तो वो सहमत हो गए.

अचानक मीना के बदन में कंपन होने लगा और वो ज़ोर से मेरे लंड को पकड़ कर निढाल हो गयी. जब तक तेरे मुंह से गाली गलौच नहीं निकलेगी, तब तक मुझे कुछ मजा नहीं आने वाला!अब मैं समझ चुका था. उन्होंने गुर्रा कर बोला- रंडी साली अभी तो आधा लंड घुसा है … अभी से तेरी चीख़ें निकल रही हैं … ले भैन की लौड़ी पूरा लंड ले.

एक रात को मामा और मामी की चुदाई देखते हुए मैंने शुभ्रा की गांड में लंड लगा दिया और उसको अपने रूम में नंगी कर लिया. और उसके साथ ही नताशा ने अपनी मुट्ठियाँ भींच की। उसका शरीर हिचकोले से खाने लगा और उसके मुंह से एक घुटी घुटी सी चीख पूरे कमर में गूँज उठी।आआआईई ईईईईई …”गांड सेक्स की कहानी में आपको मजा आ रहा है या नहीं?[emailprotected]गांड सेक्स की कहानी जारी रहेगी. हाय मर जाऊंगा … आआह्ह आआह्ह!रानी ने मेरे होंठ चूसते हुए फुसफुसाते हुए कहा- राजे, माँ के लौड़े … अभी देती हूँ तेरे संड मुसण्ड को इनाम … तूने अमृत पीकर अपनी रानी को बहुत खुश किया … अब से तू अपनी बाली रानी का गुलाम पिल्ला बन के रहेगा.

बाद में अंकल सोसाइटी के चेयरमैन बन गए, फिर तो शाम को सेक्युरिटी को किसी काम के लिए बाहर भेज कर पार्किंग के पास एक बंद कमरे में हमारा चुदाई का कार्यक्रम चलने लगा.

जवान लड़की की बीएफ: तू क्या देख रहा था?मैं- बहन की लौड़ी, जो तू मुझे करते हुए देख रही थी. पर उसने बोला- डरो नहीं मुझसे, रात होने को है, अगर कहीं जाना है तो बता दो, नहीं तो कोई बात नहीं!मैं सोचने लगी कि बात तो सही है कि रात होने वाली है.

पूरे हाथों में मम्मे और चुटकियों के बीच निप्पलों की मसलाई शुरू हो गयी. उन्होंने बताया कि इधर नानी चाहती हैं कि मैं कुछ दिन यही रुकूं … तुम्हारे पापा आ रहे हैं. भाभी बगल में चारपाई पर लेट गईं, जिससे भैया बाहर जाकर और लोगों के साथ सो गए.

अब मुझे उनकी पत्नी के सामने बहाना बनाना पड़ा कि मैं उनके घर पर चीनी लेने आई थी.

तो उस वक्त मैंने रेड कलर की साड़ी और काले कलर का ब्लाउज पहना हुआ था. मैं मामा मामी की चुदाई वाला सीन और शुभ्रा को वहीं छोड़कर जल्दी से अपने रूम में भागा और बाथरूम में घुसकर पैन्ट की जिप खोलकर लंड बाहर निकाला और हिलाने लगा. फिर वंश बोला- मम्मी … डैडी जब से नहीं रहे हैं, उसके बाद से आज मैं आपको खुश देख रहा हूं.