सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर वीडियो प्लीज

तस्वीर का शीर्षक ,

गाने वाला वीडियो सेक्सी: सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी, मैंने कहा- प्लीज़ हनी आज ये रहने दो, बहुत दिन बाद किया है नहीं झेल पाऊंगी.

देसी गांव की लड़की का सेक्सी वीडियो

जब मेरी नजर उन पर पड़ी तो मैंने देखा कि उन्होंने केवल एक अंडरवियर पहना हुआ था. सेक्सी फोटो सेक्सी सेक्सी सेक्सी सेक्सीमैंने कई बार अनुष्का की कामुक आवाजें वैन में सुनी थी मगर आज तो मैं खुद अपने मुंह से कामुक आवाजें निकालने पर मजबूर हो गया.

मेरे नितंब को अपनी हथेली में दबोचे हुए दूसरे हाथ को वो धीरे-धीरे पेट से ऊपर ले जाने लगे. गूगल तुम्हें क्या पसंद हैकभी कभी सलवार सूट पहनना होता था, तो वो भी गांव का ही सिला हुआ पहनती थी.

मुस्कुराते हुए बड़े प्यार से बोली- क्या दीदी, शक करने चल दी अपने पति पर? मैं तो उनको प्यार से खाना खिला रही थी.सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी: उसने अपनी जवान बेटी की खातिर मीना को दोबारा समझाया लेकिन मीना अपनी दुराचारी हरकतों से बाज नहीं आई.

चाची पूछने लगीं- तू ये क्या कर रहा है?मैंने बोला- तेल लगा रहा हूँ, जिससे लंड आराम से अन्दर चला जाए.पर मैं हमेशा यही प्रयास करती कि उसे किसी प्रकार प्रीति की भावनाएं समझाऊं, पर उससे खुल कर कह भी नहीं सकती थी.

सेक्सी करा करी - सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी

मैं जल्दी में उससे बात खत्म करके घर चली आयी, क्योंकि ज्यादा देर बात करने पर पता नहीं लोग क्या सोचने लगते.नवीन गैस स्टॉव के साथ में बैठकर खीरा छीलने में लगा हुआ था जिसके छिलके वहीं फर्श पर ही डाले जा रहा था.

जैसे ही शावर का ठंडा पानी मामी जी के ऊपर पड़ा, उनकी जोर से सिसकारी निकल गई और वे मुझसे कसके लिपट गईं. सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी मैं अपने लब उसके लबों पर रख कर किस्सिंग करने लगा और स्पीड के साथ उसको चोदने लगा.

फिर मुझे आशीष का वह एकटक देखना, उससे मेरा आंख लड़ाना, सब याद आ रहा था.

सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी?

मेरी चुत पर लगे पानी से चमकते बाल देख कर उसकी भी आंखों में चमक आ गयी थी. वो अपनी गांड उठा कर अपनी पूरी चूत मेरे मुँह में घुसेड़ देना चाहती थी. चाची भी सिस्कारियां भरने लगीं- आहह … आराम से कर … आअहह…मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था, मैंने धीरे धीरे चाची की चूत पर उंगली फिराना शुरू कर दिया.

फिर मैंने मोहिनी को आवाज लगाई- मोहिनी, मोहिनी ओ मैडम इधर आइएगा जी!मोहिनी- हाँ जी बोलिये, कुछ चाहिए था क्या?मैं- कुछ नहीं चाहिए, पहले आप इधर मेरे बगल में बैठिये. धीरे धीरे वो भी गर्म हो रही थी और उसकी सांसें भी गरम हो रही थीं, जिसकी वजह से वो कभी मेरे होंठों को काटती या फिर मेरे नेक पर काटती. मैं चाहती हूँ कि आप अपने सजेशन्स मुझे जरूर बताएं ताकि मैं अपनी चुदाई के और भी रंगीन किस्से आपको अच्छे से एक्सप्लेन कर पाऊं.

इतने में भैया की आवाज आई- भावना, देख तो अमित उठा या नहीं? नहीं उठा हो तो उसे उठा दे. फिर विनय जीजू, जो उसी बेड पर बैठे थे दीदी को चूमकर उन्होंने पूछा- कैसा लगा जान अनन्त का लन्ड?दीदी- बहुत पसन्द आया. जीजा जी ने मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया और मेरी चूत को चोदते रहे.

मैं उनको देखता तो मेरा मन करने लगता था कि उसको अभी अपने दबा के चोद दूँ. पांच मिनट हम दोनों वैसे ही लेटे रहे।फिर मामी जी ने कहा- शादी के बाद से आज अपनी जिन्दगी की सबसे अच्छी चुदाई तुमसे करवाई है.

मैंने उसको सुझाव दिया कि पहले एक बार अपनी सहेली को मुझसे चुदवा दो, फिर उससे भी जानकारी हो जाएगी.

फिर वो मेरी गोटियाँ चाटते-चाटते मेरी गांड चाटने लगी और अब मुझे गुदगुदी सी होने लगी तो मैंने कहा- ये क्या कर रही हो?उसने कहा- चुप …और वह फिर से मेरी गांड चाटने लगी.

सरोज भाभी लम्बी लम्बी सिसकारियां लेने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ तो मुझे लगा ये सही समय हैं मैंने बिना देखे ही 3 खतरनाक धक्के लगा दिए. और मैं अपनी मामी की चूत में झड़ गया और उनके नंगे बदन के ऊपर लेट गया. आखिर जो रंग मेरी बीवी पर चढ़ा है तो फिर सुधा को उससे वंचित क्यों रखा जाए भला? मुझे तो लगता है कि आग दोनों तरफ बराबर की लगी हुई है.

उन्होंने दोबारा बोला- अगर कोई प्रॉब्लम है तो तुम मुझे बताओ … जब तक तुम किसी से अपनी प्रॉब्लम शेयर नहीं करोगे, तो तुम्हारी समस्या कैसे खत्म होगी. मैं भी अपनी गांड के छेद का सत्यानाश करवाते हुए बोली- आह मेरे लाल आअह्ह … चोद दे … मेरी गांड को भी फाड़ दे … आअह्ह … उफ्फ्फ आई लव यू वंश माय बेबी … उम्म्महह!वंश बोला- आई लव यू टू मम्मी मेरी जान उफ्फ्फ… आआहह … क्या गांड मरवाती हो!गांड में उसके लंड के साथ मैं अपनी चूत के दाने को भी मसले जा रही थी. भाभी ने एक लंबी सांस ली और मुझे अपनी छाती के ऊपर हाथों से खींच लिया और ज़ोर से जकड़ कर आह … आह … करते हुए अपना पानी छोड़ दिया और टांगें सीधी कर दी.

सिर्फ नथ में गुलाबो बहुत सेक्सी लग रही थीफिर मैं उसके होंठो को चूमने लगा और वह भी मेरा साथ देने लगी फिर मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी और वह मेरी जीभ को चूसने लगी.

एक घंटे की फ़िल्म देखते हुए ही मेरी पैंटी मेरी चूत के रस से पूरी गीली हो गयी थी. फिर मैं जल्दी से चाची के पास गया और चाची की गांड मारने के लिए तैयार हो गया. मैंने कहा- तुम्हारे पापा की एज बहुत बड़ी है और उनका लंड भी बहुत छोटा है इसलिए उनका कम डिस्चार्ज होता है.

मुझे देखते ही दोनों ठिठके, अगले ही पल जीजू मुस्कराते हुए बोले- आओ रचना, बैठो!मैं उनके साथ बैठ गई. मैं थोड़ा कम नशे में था, तो मैं भाभी की ओर लपका और थोड़ी सी भागा-भागी के बाद मैंने उन्हें पकड़ लिया. मेरे पूछने पर उसने जेब से मोबाइल निकला और मेरी एक तस्वीर खींच ली, मेरे चुचे दबाए और हाथ से मोबाइल लेकर मेरा नम्बर अपने मोबाइल में ले लिया और धीरे से कान में बोला- दोपहर में चार बजे कॉल करूँगा।फिर उसने मेरे अब्बा से मिलने के लिए पूछा- क्या ये उन्ही की दुकान है, मुझे एक लहंगे में कारीगरी करवाना है.

वो मेरे से उत्तर पूछने लगी, तो मैंने उसे उत्तर बता दिए, पर उसको मेरे ऊपर विश्वास नहीं था.

नहीं नहीं … ऐसा नहीं … पर मीना तू मेरी मजबूरी समझ … मेरी तनखा इत्ती नई के वहां किराये का कमरा ले तुझे साथ रख पाऊँ. उसने अपने कोमल हाथों से मेरे लंड को पकड़ लिया और उस पर कॉन्डम पहना दिया.

सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी इतना कहते हुए वो अपने पेंट की चैन खोलने लगे, लेकिन मैंने उनका हाथ पकड़ते हुए उन्हें रोक दिया. तब दीपक ने कहा- ठीक है मेरे दोस्त, तुम्हारी यह तमन्ना बहुत जल्द पूरी हो जाएगी.

सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी तब वह जो बुजुर्ग सा लगुआ जो मवेशियों की भूसा डालने आया था, बोला- बेटी, पापा तुझे तुम्हें आज कपड़े ला देंगे, नाराज नहीं होना और इधर क्यों आ गई … कोई बैल गाय सींग मार देते तो या कोई सांप बिच्छू भी यहां आ जाते हैं. मैं बोला- कल के लिए सॉरी पायल, लेकिन तुम्हें देख कर कोई भी ऐसा ही करेगा.

भैया मुझसे बोले- अमित पकड़ तो इसे … आज कुछ ज्यादा ही तेज भाग रही है.

हिंदी सेक्सी गावाला

माला की आंख बंद थीं, तो विजय ने उसकी टाँग उठाकर उसकी तड़फती चुत में अपना लंबा लंड पेल दिया. मैंने भी मौके का फायदा उठाकर दोनों हाथ उनके टॉप के अन्दर करके उनकी कमर और पीठ को सहलाने लगा. मैंने सोचा कि इतनी सुंदर और सभी को आकर्षित करने वाली महिला के साथ आखिर क्या वजह हो सकती है कि रिश्ते अच्छे नहीं हैं.

मैंने दोबारा पूछा- पिछली बार वो कब आये थे?मेरे इस सवाल पर जीजू थोड़े से घबरा गए मगर उन्होंने फिर भी जवाब दे दिया और मुझसे पूछने लगे- तुम ये सब क्यों पूछ रही हो?मैंने जीजू को बता दिया कि मैं उनके और अजय के बारे में सब जानती हूँ. उसका एक हाथ मेरी जांघों को सहला रहा था, तो दूसरा मेरे निपल्स को मसल रहा था, मैं आंखें बंद करके दबी आवाज में सिसकारियां भर रही थी. ”रहने दो … अगर मैं ना होती तो किससे लिपट के सोते … बहाने बना रहे है लिपटने के!”अगर तुम ना होती तो तकिये का सहारा लेते … पर अब तो तुम हो … और नींद तुम्हें भी नहीं आ रही … तो तुम ही लिपट जाओ शायद नींद आ जाए.

धीरे धीरे वो मेरी तरफ बढ़ने लगा और बड़ी ही उत्सुकता से मुझे आगे से पीछे से घूर घूर निहारने लगा.

तो बहुत देखे होंगे मगर आज मैं आपको पूरी पिक्चर दिखाने की कोशिश करूंगा. उसके बाद भी मैंने बहुत सी भाभियों को चोदा और अभी भी मौका मिलने पर चोदता हूँ. मैं डर के मारे कांप रही थी पर न जाने कौन सी उत्सुकता थी कि कदम कमरे तक पहुंच गये। दरवाजा बन्द था पर खिड़की पर किसी का ध्यान नहीं था.

गांव में हमारा एक बहुत बड़ा खेत है, जिसमें हम फल और सब्जियां उगाया करते थे. उस समय मेरी उम्र अपेक्षाकृत काफी बड़ी हो गई थी, इसलिए सभी लड़कियां मुझसे बहुत छोटी होती थीं. इससे पहले कि मैं कुछ भी बोल पाती, उसने मुझसे पूछा- क्या ढूँढ रही हो?मैंने कहा- कुछ भी नहीं.

मैंने उसको चूमते-सहलाते हुए फिर से गर्म कर दिया और कुछ ही देर में मेरा लंड भी दोबारा अपने आकार में आ गया. अगले कई मिनट की इस दमदार चुदाई में कब रात के 10 बज गए, पता ही नहीं चला.

माला विजय के पैरों में गिड़गिड़ाने लगी- मौसा जी, मुझे माफ कर दो, मैं आगे से ऐसा कभी भी नहीं करूँगी प्लीज़ मेरे घर वालों को ये सब मत बताना. मैंने भाभी को जल्द से चोदना बेहतर समझा और भाभी को नंगी करके चित लिटा दिया. यह सब सुनकर मैं मन ही मन बहुत खुश हो गया कि कल से माँ मेरी हो जाएगी.

इसका कारण यह था की मैं दिमागी तौर से पूरी सेक्सी बन चुकी थी गंदी किताबें और नंगी फोटो देख देख कर.

अन्तर्वासना पर लंड चुत की देसी चुदाई की कहानी का मजा लेने के साथ मुझे मेल भी करते रहो. भाभी ने मेरा पैंट उतारा और मेरे बाबूराव को हाथ में पकड़ कर उससे खेलने लगीं. फिर लस्त-पस्त होकर निढाल हो गई। अजय कब चले गये मुझे नहीं मालूम पर जब नींद खुली तो मैं उठ न सकी.

मैंने सोनू की टांगें पूरी चौड़ी कर दी और पहले सोनू की चूत में अपने बीच वाली बड़ी उंगली डाली. एक तो दवा का असर, ऊपर से मेरी नर्म गर्म बीवी … मैंने उसकी नाइटी खोली और उसकी बड़ी बड़ी चूचियों को चूसने लगा, जोर जोर से दबने लगा.

जब मस्ती से चलती थी तो अड़ोस-पड़ोस के आदमी उन्हें देखे बगैर नहीं रहते थे और पड़ोस की लेडीज उनसे चिढ़ती थी, परन्तु वह मस्त रहती थी. मीना ने मेरे गले में अपने दांतों को गाड़ कर मेरे अन्दर सोया हुआ वासना का भूत जगा दिया था. वैसे भी उस दिन संडे था मुझे भी स्कूल नहीं जाना था।भाबी सुबह 9 बजे मुझे उठाने आयी तो मैं बुखार का बहाना लगाकर फिर से सो गयी।शाम को 4 बजे मेरी आँख खुली जब तक चाचा जी भी जा चुके थे, मेरे दर्द में भी आराम था.

छोटी बच्ची की सेक्सी वीडियो हिंदी में

सोनम के जाते ही आशीष बोला- मैं यहां से अब एक दो दिन में अपने गांव चला जाऊंगा, पर तुम्हें नहीं भूल पाऊंगा.

मैंने पूछा- क्यों आपके हसबैंड?वो बोली- अरे यार, वो हमेशा अपने बिज़नेस में बिजी रहते हैं, कई दिनों तक घर नहीं आते, जब बेड पर आते हैं तो टेंशन और थकान की वजह से चुदाई नहीं करते. … सीईई …मैं मामी जी के स्तनों को मसलते हुए उन्हें कस-कसकर चोद रहा था, जिससे बाथरूम में जोर जोर से पच पच पच की आवाजें हो रही थीं. तब अजय आगे आकर बोला- कोई बात नहीं, मेरा लन्ड डलवा दो न?तभी मैं चिल्लाई- दीदी प्लीज मुझसे रहा नहीं जा रहा, लन्ड दिलवा दो मुझे …तब दीदी ने अजय को छूट दे दी.

इंटरव्यू के टाइम पर बोला था कि सैलरी 3 महीने बाद बढ़ेगी, लेकिन एक साल हो गया, अभी तक नहीं बढ़ी. उसका चुदना गलत नहीं है बल्कि उसके चूचों पे पड़ने वाला निशान गलत है और उसका इतना मज़ा लेना वो निशान पड़वाते हुए. करिश्मा कपूर का सेक्सी वीडियो एचडीकुछ मिनट तक उसके निप्पलों को चूसने के बाद मैंने फिर से उसकी पैंटी पर हाथ फेरा तो उसने मना नहीं किया.

पहले प्रसंग का लौड़ा लिया और अब मेरे कज़िन शोभन का तेरी चूत को चोदेगा. ममता ने उतावलेपन से पूछा- उसके बाद क्या हुआ?सुधा- अरे बता तो रही हूँ.

अब मैंने अपने लंड को उसकी चुत पे सैट करके एक तेज झटका दिया, जिससे मेरा लंड उसकी चुत में सरसराते हुए घुस गया और वो जोर जोर से कामुक आवाजें निकालने लगी- आह ओह मीनूऊऊ … और तेज चोदो … मुझे चोद दो … आह फाड़ दो मेरी चुत को … आह मजा आ गया … मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है … आह आज तो तुम मेरी चुत का भोसड़ा बना दो. सासू माँ- ठीक है बेटा, आराम से सोच ले इस बारे में, तेरा जो भी फैसला होगा, हमें वो सब मंजूर है. वह मचल रही थी और बार बार अपनी कमर उठा कर मेरे लिंग को अपनी योनि में प्रवेश करवाना चाह रही थी.

मैंने भाभी को लेटा लिया और उसकी टांगें अपने कंधों पर रखते हुए लंड सैट करके पहला झटका मारा. मामी वैसे ही हॉट लगती थीं, लेकिन तैयार होकर वे और भी ज्यादा सुन्दर लग रही थीं. कैसे हम दोनों ने अपनी अपनी वर्जिनिटी लूज़ की, अपना कौमार्य भंग किया, पहली चुदाई की.

इसमें मैं इसमें कुछ भी नहीं बदल रही हूं, नाम सहित सब सच जस का तस लिख रही हूं.

आज तक उसके सामने मैंने कई लड़कियों को यहां फार्म हाउस पर लाकर चोदा था. सलोनी- उई माँ … मर गई … धीर् रे …और मैंने फिर एक रिदम में लण्ड को धक्के लगाना शुरू किया। कुछ ही पलों में सलोनी दर्द भूलने लगी और मेरी सिसकारियां ट्रेन के शोर के साथ सुर मिलाने लगीं.

मैंने उनसे कहा इसमें मुझे कोई दिक्कत नहीं है, यह कमरा आप अपना ही समझो और मुझे आप अपना छोटा भाई समझो. मामी ने मुस्कराते हुए कहा- क्या तू अब खुद नहाने लग गया, मैंने सोचा कि मुझे आवाज देगा. उसके लिंग का उभार अंडरवियर पर साफ़ नज़र आ रहा था, मानो मेरे योनि को चीरने के लिए तैयार हो.

फिर जब मैं 21 साल का हुआ, तो आर्थिक तंगी के कारण एक कम्पनी में जॉब पर चला गया. एक बार तो लगा कि मैं ज्यादा देर तक उसके मुंह में टिक नहीं पाऊंगा लेकिन मैंने कंट्रोल बनाए रखा. कुछ मिनट बाद मिसेज पाटिल ने घुटनों के बल खड़ी होकर अपनी पेंटी भी निकाल दी.

सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी अपने कपड़े उतार लो प्लीज…वह बोली- नहीं, मेरे तो पीरियड्स चल रहे हैं अभी. उन्होंने मुझे कमर से पकड़ लिया और कहने लगी- मैंने सोचा कभी तुम बुरा न मान जाओ, इसलिए नहीं पकड़ रही थी.

बड़ी गांड वाली सेक्सी चुदाई

तब बृजेश बोला, मैं सुन कर हैरान ही रह गया, वो बोला- अरे ये तो बहती नदिया है, सब हाथ धो लो. मैंने उसका सिर मेरे सीने पर दबा के रखा, फिर जैसे हम मर्द स्तनों को चूसते हैं, वैसे ही वो मेरे सीने को चूसने और काटने लगी, मेरे निप्पल्स को दांतों से काटने लगी. वो नीचे से अपने लंड को मेरी चूत में डाल कर मुझे चोद रहे थे और इधर मैं उनके लंड की सवारी करने के साटी साथ अपनी चूचियों को सर के मुँह से चुसवा रही थी.

चुदाई के इस नाजुक मोड़ पर लंड में हल्का ढीलापन देखकर नीना बौखला उठी. हम दोनों अब सेक्स कर चुके थे, इसलिए हम दोनों लोग शांत हो गए थे और एक दूसरे की बांहों में हाथ डाल कर शांति से पार्क में घूमने का मजा ले रहे थे. सेक्सी गेम भेजोमैं ग्रेजुएशन के पहले साल की परीक्षा के बाद गर्मियों में मामा के घर छुट्टियां बिताने पहुंचा था.

फिर ऊपर आ के बोली- मुझे ये पसंद नहीं लेकिन सिर्फ इस बार के लिए!और आँख मारते हुए धीरे से मेरा लंड पकड़ के उसपे बैठ गयी और जल्दी जल्दी उछलने लगी.

आपने मेरे बारे में पूछा, मेरा साहस बढ़ाया, तब मुझे लगा कि आप वो शख्स हो सकते हैं जिसको मैं अपना पहला पुरुष मान सकूं, ऐसे में जब आप ने मेरा हाथ पकड़ा तो मैं पिघल सी गई क्योंकि इतने दिनों से अंदर की छिपी भावनाएँ, ज्वालामुखी बनकर सब बाहर आ गया और जब आप पहल करने में हिचकिचा रहे थे तो मुझे आप पर प्यार सा आ गया और बस फिर हो गया. वह बोली- क्यों, तुम्हारा मन नहीं भरा क्या अभी?मैंने कहा- तुम्हारा भर गया क्या?शिखा ने एकदम से मेरे गले में बांहें डाल दीं और फिर बोली- नहीं, मेरा मन भी नहीं भरा है.

निकुंज का गांड में और प्रेम का मुंह में, एक साथ दो लंड का मज़ा ले रहा था मै. मस्त चूचियां, पतली कमर, गदराया बदन, गांड भी पीछे से बहुत ही सुन्दर. मैंने भाभियों और सहेलियों से सुना था, वही मन में आ गया कि अब मामा मुझे चोदेंगे.

दस मिनट बाद फिर उसके पैरों ने जवाब दे दिया और वो मुझसे अलग होने लगी.

डॉली ये सब देख कर बोली- यार मस्त माल मिला है तुझे तो आज …वो नंगी होकर मेरे पास आ गई और मुझे किस करने लगी. मिसेज पाटिल मुझे सभी जगह चूमे जा रही थीं और एक वासना भरी निगाह से देख रही थीं. अंकल ने अपना एक हाथ मेरे पीठ पर लेकर आ गए और दूसरा हाथ मेरे सिर के पीछे ले आए.

हिंदी सेक्सी ब्लू ओपनफिर मैंने उसके चूचों को पकड़ा और तेज-तेज उसकी चूत में लंड को अंदर बाहर करने लगा. यह कहकर मैंने उसे बैड पर बिठा दिया और उससे कहा कि मेरे लंड को हाथ से हिला कर, अपनी चूचियों पर लगा कर, इसका रस अपने ऊपर डाले.

देवर भौजाई की सेक्सी हिंदी

मैं वहीं बेड पर पड़ी हुई सोच रही थी कि मेरी फुद्दी का आज उद्घाटन हो गया है. फिर ऊपर आ के बोली- मुझे ये पसंद नहीं लेकिन सिर्फ इस बार के लिए!और आँख मारते हुए धीरे से मेरा लंड पकड़ के उसपे बैठ गयी और जल्दी जल्दी उछलने लगी. आप सब ने मेरी पिछली कहानीराजस्थानी भाभी की चुदाई-1को बहुत प्यार दिया, बहुत मेल आए.

तब मैंने उससे पूछा- क्या हुआ?उसने मुझसे पूछा- क्या इस उम्र में संभोग, रतिक्रिया की कामना करना गलत है?मैंने उसे उत्तर दिया- अगर कोई स्त्री पुरुष स्वेच्छा से शारीरिक आनन्द उठाना चाहते हैं, तो इसमें गलत क्या है. स्लीपर कोच बस में सफ़र करते हुए एक फिल्म चालू थी ‘हम दिल दे चुके सनम’उसे देख कर मुझे अपनी कहानी नज़र आने लगी. जैसे ही मैंने उसकी पेंटी निकाली, उसकी मस्त सी चूत मुझे दिखाई दी जो हल्की-हल्की गीली हो चुकी थी.

तभी मेरा हाथ आहना के स्तन पे आ गया और मैं उसके स्तन उसके ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने लग गया. तांत्रिक ने कहा- तुझे अपने बेटे से शादी करनी होगी और इसको जीवन भर इसको पति के हर सुख देने होंगे. तभी चाची ने अपनी पेंटी को, जो कि अब तक गीली होकर उनकी चूत से चिपकी थी, उतार दिया और पलट कर आवाज दी- कितनी देर लगाएगा, जल्दी कर ना!मैंने कहा- चाची मैं तो कबसे देने को खड़ा हूँ, आप लो तो.

मैंने अपनी उंगली अन्दर बाहर करनी शुरू की, फिर दूसरी उंगली भी भाभी की चूत में डाल दी, जिससे उसका शरीर अकड़ने लगा और वो छटपटाने लगी. मैं समझ गया कि आज आहना की वासना उसपे हावी है और उसे किसी की जरूरत है.

मगर वह तेजी से अपने चूतड़ों को आगे की तरफ धकेल रहे थे और पूरा लंड दीदी के गले में उतार रहे थे.

अब मेरा भी लंड जवाब देने वाला था, मैंने भी जोर जोर से धक्के जारी रखे और आहह हहह उहहह हहह करते इंदु और मैं दोनों एक साथ ही झर गये. जुदाई फोटो सेक्सीतू बस ये बता जब मेरा माल तेरी चूत में गिर रहा था, तुझे ऐसा लगा कि नहीं कि गर्म गर्म कुछ चूत में जा रहा है औऱ जलती चूत को बहुत सुकून दे रहा है? तुझे मजा आया कि नहीं मेरे से चुदवाकर या चाचू के लंड के नीचे आकर भी प्यासी रह गयी?वो- हां सही कहा आपने … मेरी चूत को सुकून तो बहुत मिला और आपसे चुदवाकर मजा भी बहुत आया. కేరళ సెక్స్ కేరళ సెక్స్मैंने कहा- मुझे तो आपके साथ बहुत कुछ करने का मन था लेकिन मेरी बात संजीव से हुई थी और आप मेरी तरफ देख भी नहीं रहे थे इसलिए मैंने कुछ करना ठीक नहीं समझा. वह कहती रही कि एक बार निकालो, मेरी जान निकल रही है, बहुत जलन हो रही है, ऐसा लगता है जैसे चूत के अंदर सबकुछ फट गया है.

मुझे पता चल चुका था कि चुदाई से पहले लड़की को कैसे ज्यादा गर्म किया जाता है और उसको कैसे ज्यादा मजा दिया जाता है.

मैंने उसकी बात पर कोई उत्तर नहीं दिया, तो उसने पूछा कि अगर आपको प्रॉब्लम न हो, तो उसको भी चोद दो. ये बोल कर मैंने अपनी कैपरी की जेब से रंग का पाउच निकाला और हाथ में रंग और पानी ले कर भाभी को जोर से पकड़ा. वह लंड लेने के लिए पागल हुई जा रही थी जिसका अन्दाजा मुझे उसकी बार-बार ऊपर उठती गांड से होने लगा था.

इतना सुनते ही मैंने कंप्यूटर पर ‘तुम मिले …’ फ़िल्म के रोमांटिक गाने लगा दिए. मैं- चल अब शिकवे गिले छोड़ और उस लंड को चूस भी ले, जिसे तूने फोटो में देख देख कर बहुत बार अपनी चूत में उंगली की है. भला लंड को किसी की परमिशन की जरूरत थोड़े ही पड़ती है खड़ा होने के लिए! लंड महाराज ने अंडरवियर सहित ही चूत का रास्ता खोज लिया था.

भाभी और देवर की हॉट सेक्सी वीडियो

तुम एक साथ दोनों छेदों की चुदाई का मज़ा लेना चाहती हो, तो आज प्रैक्टिस कर लो. यानि उसने मेरे तने हुये लंड को अपनी फुद्दी के नीचे इस तरह से सेट किया कि वो उसकी दोनों जांघों की गहराई में बड़े अच्छे से फिट हो गया।मैंने उस से पूछा- तुम्हें पता है कि इस वक़्त किस चीज़ पर बैठी हो?उसने हाँ में सर हिलाया।मैंने पूछा- क्या है?वो धीरे से बड़ी मीठी सी आवाज़ में बोली- लंड।कितनी मिठास थी उसकी आवाज़ में। अब मुझे बड़ी तसल्ली सी हुई कि ये भी पूरी तरह से मन बना कर आई है. कैसा लग रहा है? मतलब कोई दिक्कत तो नहीं है ना?” उन्होंने नितंब पर अपनी पकड़ थोड़ी ढीली करते हुए कहा।जी … नहीं…” मैंने जवाब दिया … मेरी टाँगें काँपने सी लगी थी.

मैंने जल्दी से अपनी सलवार को बांध लिया और आराम से मुंह खोलकर लेट गई.

पूनम ने माँ से पूछा- मुझे कुछ सामान लेना है तो क्या मैं हैरी को अपने साथ ले जाऊं?तो माँ ने हाँ कर दी.

फिर मैंने माँ की गांड के छेद में अपने लंड को ज़ोर से दबाकर घुसाया, तो मेरे लंड का सुपाड़ा वैसलीन की चिकनाई से अन्दर तक घुस गया. आशीष बोला- रुक थोड़ी देर … मेरा चोदने से ज्यादा मन तेरी चुत चाटने का है. सिरसा मधु की सेक्सी वीडियोमैं भाभी को पकड़ कर चूम रहा था, चाट रहा था, मेरा लंड भाभी की चुत चाट रहा था.

भाभी ने मेरे सामने ही उसको फोन कर दिया कि कल आ जा तेरे लिए लंड का इंतजाम हो गया है. जैसे ही दरवाजा खुला, उसका कज़िन शोभन अंदर आ गया और उसने बिना मेरी तराफ़ देखे आरती को गले लगा कर उसके मम्मे खींचने शुरू कर दिए और बोला- बता ना कौन सी नई चूत का इंतज़ाम किया है अपने इस लंड के लिए जो ठुमके मार रहा है जब से तुम्हारी बात सुनी है. एक दिन मैंने उससे पूछा- कभी किस किया है?वो बोला- नहीं … नहीं किया अभी तक.

’मैंने मोनिका को उसी पोजीशन मैं उठाया और वहाँ पड़ी टेबल पर बिठा कर उसे चोदने लगा. मैं उनकी बात समझ गयी और बोली- हाँ पापा बहुत भूख लगी है।उन्होंने मुझे मेरे होंठों पर एक लंबा किस दिया और मैं उनकी सीने से लिपट कर अपनी चूची को उनसे रगड़ने लगी।पापा मेरे छोटे गुलाबी कमसिन होंठों को चूसने लगे, अपने हाथों से अपनी बेटी के छोटे छोटे दूध को दबाने लगे उनका साइज पता करने लगे।मुझे बहुत मज़ा आने लगा, मेरी चुत गीली होने लगी और मेरे अंदर आग बढ़ने लगी.

तब कमलेश सर ने बोला- तुम अब जवान हो गई हो और यह सब हर लड़की करती है.

सर ने अपने होंठों पर जीभ फिराई और पिंकी की ओर देख कर धीरे से बोले- इसको तो भेज दिया होता. चार दिन के बाद मैंने दुकान खुली देखी, तो दूध वहीं लेने चली गयी क्योंकि बगल से लेती, तो शायद सुखबीर बुरा मान जाता. उसके लंड के घर्षण से मेरी गांड में इतना आनंद आ रहा था कि गद्दे पर रगड़ लगते-लगते मेरे लंड ने नीचे पिचकारी मार दी और मैं उससे पहले ही झड़ गया.

बुर की कहानी … सॉरी नीतू, गलती से वहां पर चला गया, तुम उठ जाओ अब, आज का कोर्स पूरा हो गया. मैंने कहा- तुम्हारी चूत पर इतने सारे बाल थे?उसने कहा- नहीं मैं तो अपनी चूत के बाल हर महीने निकालती हूँ, पर आज मुझे लंबा ओर मोटा लंड लेना था, तो चूत मैंने अच्छे से साफ करवा ली ताकि तुम्हें अच्छा लगे.

मैंने पहले ही ऋषिकेश होटल बुक कर रखा था, रितिका से मिलते ही मैंने उसे हग किया और फिर सीधे होटल पहुंच गए. जवानी में क़दम रखता हुआ एक लड़का, जिसने सिर्फ चूत का नाम ही सुना हो, जिसके यार दोस्तों ने भी कभी चूत के दर्शन न किये हों, उसके हाथ अगर चूत के जूस से तरबतर हो जाएँ तो उसका क्या हाल हुआ होगा. कपड़ों के ऊपर से ही उसकी चूत पकड़ कर अपने मुँह में दबा ली और उसको चूसता गया.

इंडियन सेक्सी इंडियन सेक्सी फिल्म

आज मेरी चूत को फाड़ दो, आज कुछ भी हो जाए लेकिन मेरी चूत फाड़े बगैर मत झड़ना … आआह और ज़ोर से … उउउईईई अम्मी … आहह. माला को पिछले एक महीने से लंड की खुराख नहीं मिली थी, तो वो वैसे ही चुदवाने को मचल रही थी. कैसे हुआ ये ऐसा?मैंने कहा- तुमको याद कर करके मुठ मारने से ऐसा हो गया है.

उसके बाद मैंने उसे चुदाई की पोजीशन में किया और चूत खोल कर लंड को छेद पर सैट किया और एक झटका दे मारा. मैं पढ़ने में बहुत अच्छा रहा हूँ और देखने में एथलेटिक बॉडी है क्यूंकि मैं जिम, स्विमिंग, ट्रैकिंग, रनिंग इत्यादि सब करता हूँ.

मैंने अपने लंड के बाहर निकले हिस्से पर थूक लगाया और उसके दोनों पैरों को फैला दिया.

मैंने बिस्तर के गद्दे के नीचे से कंडोम निकाल कर अपने लंड पर चढ़ा लिया. जैसे ही वो अंदर गया ऐसे लगा कि जैसे किसी ने गर्म तपती हुई लकड़ी मेरी चूत में घुसा दी है. इन चार महीनों में मेरा केवल 3 बार पति के साथ संभोग हुआ, पर हर बार मेरी कामाग्नि अधूरी ही रही.

खूब बड़ी बड़ी गोल गोल चूचियां, हल्के से भूरे रंग के नुकीले निप्पल और थोड़े गहरे भूरे निप्पल के दायरे. उन्होंने गुलाबी कलर का ही ब्रा को पहना था, जो उनके गोरे बदन पर एकदम जंच रही थी. मेरे पूरे बदन में चींटियां सी रेंगने लगीं और मैं जैसे आसमान में उड़ने लगी.

”रहने दो … अगर मैं ना होती तो किससे लिपट के सोते … बहाने बना रहे है लिपटने के!”अगर तुम ना होती तो तकिये का सहारा लेते … पर अब तो तुम हो … और नींद तुम्हें भी नहीं आ रही … तो तुम ही लिपट जाओ शायद नींद आ जाए.

सेक्सी हिंदी में बीएफ सेक्सी: ममता बोली- सही कहती है मामी …सुधा बीच में ही ममता को टोकते हुए बोली- अरे, आगे की बात तो सुन. मुझे पूरा होश आया तो मैं पसीने से लथपथ थी, मेरी चूत खून से लथपथ और चेहरा थूक और आंसुओं से लथपथ था।मेरे होश में आते ही दीदी बोली- रचना, तेरी बुर की सील टूट चुकी है, अब तुम मजे ले सकती हो।मैं भी एक बहादुर लड़की की तरह अपनी परवाह किये बगैर मुस्कराकर बोली- सील तो टूट गई, अब मेरी चुदाई की इच्छा भी पूरी करो।मेरी बात से अजय जी बहुत खुश हुये और मेरे होंठों को अपने होंठों में जकड़कर कमर चलाने लगे.

इस घटना के बाद बात इतनी अधिक बढ़ गई कि हम दोनों का कॉलेज साथ में जाना छूट गया. फिर वंश के लंड के लड्डुओं पर आकर मैंने एक लड्डू को अपने मुँह में भर लिया. लन्ड झड़ने से जीजू का जोश शान्त पड़ गया और जीजू अलग हट गये, मैं न जाने क्यों चिल्लाते हुये कमर पटकने लगी.

कुछ दिन पहले हमारे शहर में सीएनजी वालों ने रेट की माँगों को लेकर हड़ताल कर दी थी.

मैं रितिका को बोला- डार्लिंग, क्या बात है … चादर लाल कर दी तुमने!तो वो शर्मा गयी. उस दिन तो मैं भाभी को ज्यादा समय तक चोद नहीं पाया था तो मुझे खुद पर गुस्सा आ रहा था. वो बोली- दूद्दू चूसना चाहते हो क्या?मैं बोला- आपको कैसे पता?वो बोली- साले तेरे जैसे कई देखे हैं, पहले तो मना कर रहा था अब तुझे सब चाहिए.