दाई वाली बीएफ

छवि स्रोत,डॉक्टर सेक्सी फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

24 एक्स वीडियो: दाई वाली बीएफ, मैं लगभग 2-3 साल से अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स स्टोरी का मजा ले रहा हूँ.

विडमेट 2021

मुझे और जोश चढ़ा और मैं उसकी पूरी बुर को एक तरह से खाने लगा और पागलों की तरह उसकी बुर की सारी गंदगी को भी चाट गया. लङकी के फोटोअब मेरे दिमाग में बस चाची ही चाची थीं, मैं अब सिर्फ उनको भोगना चाहता था.

रुचिका मुझसे चिपक कर काफी रोई और बोली- सर मैं कालेज को और आपको हमेशा मिस करूँगी. गॅंग रेप सेक्स व्हिडिओबस लंड की ठोकर देते हुए कहने लगा कि अभी चुदाई पर ही ध्यान दो मेरी जानू.

जब दीदी बेसुध पड़ी रहीं तो धीरे से अपने हाथों को पजामे से बाहर निकाल लिया.दाई वाली बीएफ: शाम को मेरे दीपक भैया आते और मुझे उनके साथ अपने घर जाना पड़ा।पूरी रात ठीक से नींद नहीं आई, बस वही सब दिमाग में चल रहा था, कैसे भी रात कटी, ऐसे ही दूसरा दिन कटा!पर शाम को 6:30 बजे ठीक भाभी के पापा, वही राजेंद्र अंकल और उनके साथ एक बहुत हट्टा कट्टा आदमी था, आये.

मैं समझ गया था कि पसंद तो ये भी करती है मुझे, पर ऐसे एक दूसरे को देखते रहने से कुछ नहीं होने वाला है, बात तो आगे बढ़ानी ही पड़ेगी.एक एक पल ऐसे कट रहा था मानो जैसे एक दिन बेसब्री से इंतजार था मुझे कि कब दस मिनट हों और कब मैं इस हुस्न की रानी को बांहों में भर के प्यार करूं.

सास कि चुदाई - दाई वाली बीएफ

एक दिन ऐसे ही वो दोपहर में पानी लेने आया, तब मैं झीनी सी काली नाइटी में थी और रोज की तरह आज भी मैंने अन्दर कुछ भी नहीं पहना था.पर अब मुझे मजा कम और दर्द ज्यादा हो रहा था और उनसे छोड़ने के लिए बोल रही थी.

मैंने उसके लंड से हाथ हटाने की कोशिश की, पर वो मुझे किसिंग करते हुए जकड़े रहा. दाई वाली बीएफ मैंने उसके पैरों को थोड़ा सा और फैलाया और एक हाथ से लंड को पकड़ कर चुत के छेद पर टिका कर थोड़ा ज़ोर का धक्का मारा.

मैंने थोड़ी देर उसकी चुत में उंगली की, तो एक मिनट में ही उसका शरीर अकड़ गया और उसने मेरे हाथ पे अपना पानी छोड़ दिया.

दाई वाली बीएफ?

दो महीने बाद मेरी चुदाई हो रही थी तो मेरी चूत और गांड भी थोड़ी सिकुड़ गई थी और थोड़ा दर्द भी हो रहा था, पर मज़ा भी बहुत आ रहा था. अब तक की इस हिंदी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि पैसे के चक्कर में मैं किसी की फर्जी गर्लफ्रेंड बन कर गोवा पहुँच गई थी. रीमा- क्या हुआ?मैं- तेरे चुचे तो वैसे ही टाईट है, आसमान को देखते रहते हैं तो तुझे ब्रा पहनने की क्या जरूरत.

उसके पुष्ट स्तन मेरे सीने से दब गये और मैंने अपनी बाहों का घेरा उसके गिर्द कस दिया. चाची मेरे लंड को बड़ी लालसा वासना से निहार कर बोलीं- सच में अब तुम बच्चे नहीं रहे… जवान हो गए हो. यह स्टोरी एक भाभी की है जिनका नाम रिया है जो मेरे घर के पास ही रहती है.

अपनी 12वीं कंप्लीट करने के बाद इंजीनियरिंग की काउंसलिंग में मुझे पुणे का एक कॉलेज मिला. कामिनी ने जीन्स ली, कुछ टॉप पसंद किए जो कामिनी ने उसको पहन कर दिखाए और फिर उस बन्दे के किये कामिनी ने टीशर्ट और जीन्स वगेरह ली. मैं अब हवा मैं उड़ने लगी थी, न ज़ाने मेरे मुँह से ‘और चोदो और तेज चोदो.

वो दर्द से चिल्ला उठी और बोलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बाहर निकाल साले… फाड़ दी. मैंने एकदम से आवाज निकाली, तभी आर्मी वाले अंकल फिर मेरे होठों को चूसने लगे, मैं भी उनसे लिपट गई और बहुत एक्साइटेड हो चुकी थी.

मगर एक बात है, मैं जब भी यहाँ आऊं, तो आप अपनी सेवाएं मुझे ज़रूर दीजिएगा.

अब तुम्हारा निर्णय क्या है?मैंने सारी सीडी भाभी को सौंप दीं और केवल इतना ही कहा कि बस भाभी मैं आपका पक्ष जानना चाह रहा था.

”अगर मेरी प्रियतमा को ये सब छुप छुप कर करना पसंद था तो ठीक है… मैं जो उस को पसंद है वैसे ही करूंगा. मेरे नुकीली नुकीली चूचियां देखकर साहब पागल हो गए और ऊपर से उसे हाथ से दबाने लगे… मसलने लगे. जैसा कि अक्सर होता था उसका फोन आया, मैंने आने में अपनी असमर्थता बता दी और जल्दी ठीक होने पर मैं उसे फोन करूंगा, कह कर मैंने फोन काट दिया.

वो भी शर्माते हुए हां में सर हिला देती है और मैं उसे बांहों में भरके क्लिनिक के पिछले कमरे में ले जाता हूँ और उसे चूमता चाटना शुरू कर देता हूँ. बाथरूम में जाकर पहले अपनी चूत को अन्दर बाहर से साबुन से अच्छी तरह धो लो. मैं पता नहीं क्यों इतनी कामुक हो चुकी थीं बड़े लंड से डरने के बावजूद भी उसको मना नहीं कर पाई.

फिर थोड़ी देर में भाभी जी नॉर्मल हुईं और बोलने लगीं कि तू मेरे साथ ये सब क्यों कर रहा था?मैंने बोला- भाभी आप मुझे बहुत पसंद हो.

मैंने देखा कि दोस्त का लंड भी खड़ा हो गया था, वो जल्दी जल्दी ड्रिंक खत्म कर के बोला- यार, अब मैं चलता हूँ. कुछ ही पलों में वो फिर से गरम हो गई और बोली- अब बर्दाश्त नहीं हो रहा है. मैं होती तो इसको हमेशा मुँह में ले कर रखती और सुबह शाम इसकी आरती उतारती.

सर आपने मेरी गांड में रुई क्यों फंसाई है?”पिंकी वह इसलिए कि तेरे बाल चूत के जूस के साथ बहकर गांड में जाके खुजली कर सकते हैं. वो दर्द से चिल्ला उठी और बोलने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… बाहर निकाल साले… फाड़ दी. मैं बिना चुदे घर वापिस आ गई और अपनी किस्मत पर रोती रही, जिसने आज फिर मुझे धोखा दिया और मैं कल से ऑफिस में भी बदनाम हो जाऊंगी.

उसका गाँव दूर था तो रोज आना जाना सम्भव नहीं था इसलिए वो यहीं एक रूम किराए से लेकर रहता था.

उसने मुझसे रास्ते में पूछा- कौन सा फ्लेवर लूँ?मैंने मुँह बनाते हुए कहा- मत लो. देखो एक बात सीधे बोल रहा हूं तुम्हारे जिस्म को बिना भोगे नहीं जाने दूँगा.

दाई वाली बीएफ मैंने मना किया तो उसने कहा कि वो करेगा नहीं और दूसरी बात कंडोम से दर्द कम होगा. कुछ देर ऐसे ही करने के बाद मैंने धीरे से उसकी जांघ को सहलाना शुरू किया, तो वो काँप उठी और मुझे किस करने लगी.

दाई वाली बीएफ मेरी हाइट 5 फुट 11 इंच है तथा मैं फेयर कलर वाला अच्छा दिखने वाला एक आकर्षक बन्दा हूँ. उसका घर मेरे घर के पड़ोस में ही है, तो उसने अपनी माँ से कहा कि ठीक है.

उसने कोई औजार लेकर मेरी चुत की चमड़ी को बाहर खींच कर और नीचे मेडिकल वाले धागे से सिल कर मेरी चमड़ी से ही एक छोटा से माँस का टुकड़ा लेकर चूत का दाना बना कर मेरी चुत में सिल दिया और बोला कि अब दो तीन दिनों तक तुम यहीं मेरी देखभाल में रहोगी ताकि तुम चुत को किसी तरह से तंग ना करो.

सेक्सी पिक्चर खुला वीडियो

अब चाची लगातार मेरे लंड को देखे ही जा रही थीं, शायद उनकी काम वासना जाग उठी थी. वो भी लंड लेने के लिए मरी जा रही थी, सो उसने भी अपनी चुत को फैला कर लंड पकड़ लिया. मैं लगभग 2-3 साल से अन्तर्वासना पर हिंदी सेक्स स्टोरी का मजा ले रहा हूँ.

इसके बाद मैं अपना हाथ को उसके लोअर के अन्दर ले गया और उसकी चुत को मसलने लगा. जैसे ही मैंने प्रिया का बायाँ हाथ उठा कर अपने ऊपर रखा तो प्रिया ने मुझे अपने साथ कस कर भींच लिया. मैं हाथ मुँह धोकर खाने की टेबल पर बैठ कर खाना खाने लगा और उनके पति रूम में जाकर टीवी देखने लगे.

पहले तो वो नॉर्मल रहीं, फ़िर ठंडक का अहसास होते ही भाभी उछल पड़ीं- भैनचोद, क्या डाला तूने चूत में.

उसकी आँखों में वासना की खुमारी थी, वो मुझे नशीले अंदाज में देख रही थी. आप जल्दी से फ्रेश हो जाओ और टेबल पर खाना रखा है, खा लो और अपनी पढ़ाई करो. मेरी चूत और गांड में से फच फच फच फच की आवाज निकलने लगी, पूरा रूम में फच फच गूंजने लगा।तभी अंकल दोनों हाथों से दूध पकड़ कर पूरी ताकत से दबाते हुए बोले- साली वन्द्या रंडी, तू पागल है, तेरी चूत तो कयामत है और जन्नत भी है। बोल साली कुतिया कितना बड़ा लन्ड चाहिए तेरी चूत को? लगता है हम दोनों के लौड़े छोटे पड़ गये।मेरे मुंह से अपने आप निकल गया- अंकल, जितने बड़े लन्ड डलवा सकते हो डलवा दो, सब घुसवा लूंगी.

मैं उसकी सलवार खोलने लगा, पहले उसने मना किया, लेकिन मैंने उसकी सलवार खोल कर उसकी चुत में जो लंड घुसाया, उसकी सिसकारी निकलने लगी. भाई का लंड होते हुए बैंगन चुत में घुसा लिया? यह बैंगन अभी का अभी निकालो और मेरा लंड अपनी चुत में डलवा लो. आओ जाओ जान… देखो तुम्हारे लिए मैं पूरे जमाने से बेइज्जती ले रहा हूँ.

उस दिन के बाद से मैं आए दिन रमेश के घर जाने लगा और उसके घर में एकदम घुल मिल सा गया. अजीब हालत थी मेरी… बिना अंडरवियर के मेरा लिंग पजामे को तम्बू बनाये हुये था.

फिर इतना मज़ा आएगा कि आज जो भी हुआ, उससे कई गुना ज्यादा मज़ा आएगा।उसको मेरे जाल में फंसते देर न लगी।‘और मज़ा…’ का सुन कर वो खुश होते हुए तुरंत बोली- आज का मज़ा तो वैसे भी मैं कभी नहीं भूलूंगी। लेकिन अब अगर ‘और मज़ा. मैं घुटने से नीचे झुक गई थी और वो मेरे बाल पीछे की तरफ खींच रहा था. अब मैंने आंटी की साड़ी और ब्लाउज निकाल कर उनके दोनों कबूतरों को खुला कर दिया.

मैं अपनी ज़ुबान से उसकी चुत चाटने लगा और उसकी चुत के होंठों को अपने होंठों में दबा के चूसने लगा.

अब मैं उससे उसकी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछती, बिस्तर में लेटे लेटे उसकी पीठ पर अपने बोबे दबाती, लेकिन उसे कुछ फीलिंग ही नहीं आती. हमारा सेक्स करने का तो पक्का नहीं था, पर मैंने ठान ली थी कि आज मैं चोद के रहूँगा. तो मैं बोलता हूँ कि कोई तुम्हारा दूसरा दोस्त नहीं है?तो वो कहती है कि मेरा कोई दोस्त नहीं है.

और उस घर में अकेले होने की वजह से मेरा मन कंप्यूटर में कम और जमीला में ज़्यादा लग रहा था. बड़ी देर कर दी?और अपने पति से बोली- मेरी सहेली का लड़का है, कल इसका एक्जाम है कानपुर में.

मतलब कुछ भी ऐसा नहीं हुआ, जिससे हम दोनों में कोई बातचीत शुरू हो सके. लेकिन मैं रुकने वाला नहीं था, मैं दीदी के मम्मों को फिर से चूसने लगा और दीदी का एक हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया और ऊपर नीचे करने लगा. काम्या का सेक्सी शो चालू था, वो एक एक करके बड़े कामुक अंदाज़ में अपने कपड़े उतारती जा रही थी.

रानी का सेक्सी वीडियो हिंदी

हैलो फ्रेंड्स मेरा नाम प्रणीता है, मैं 31 साल एक हॉट मॉल जैसी दिखने वाली विवाहित औरत हूँ.

वो- काफी टाइम लेते हो नहाने में?मैं- मैं सारे काम एन्जॉय करते हुए करता हूँ. जो तुम्हें देखते ही खड़ा हो जाता है।ये कहते हुए लण्ड को गाण्ड पर दबा दिया और गर्दन पर चुम्बन करने लगा।वो बोली- राज छोड़ो. मैंने उन्हें एकटक देखा ओर अपना मुँह मैंने ब्रा के ऊपर रख दिया जिससे उनकी सिसकारी निकल गई ‘ईश्श्शशहह.

यह सोचते हुए मैंने तय किया कि क्यों न इसका वीडियो बना लिया जाए ताकि इसे मैं सबूत के तौर पर दिखा सकूं. वो मेरे ब्लाउज के ऊपर हाथ लगाने लगे और दूध को सहला सहलाकर दबाने लगे. करिश्मा का सेक्सीपर मैं समझ रहा था कि उसको बहुत तेज दर्द हो रहा था लेकिन मैंने उस पर किसी भी तरह का रहम करना उचित नहीं समझा और 3 इंच तक धीरे धीरे धक्के लगाता रहा.

क्योंकि कॉलोनी में सभी आस पास में रहने वाले लोग 11 बजे तक ऑफिस निकल जाते हैं. ”मैं नहीं जानता था कि वो इतनी ओपन माइंडेड हैं और इतनी जल्दी मुझे पकड़ लेगी.

मैंने कुछ दिन बाद जब उससे उसकी चूत की फ़ोटो मांगी तो उसने ये कहते हुए मना कर दिया कि मुझे शर्म आती है. अब अंजलि भी आधी बियर ले चुकी थी और मैं भी 2 पैग ले चुका था, अब हम दोनों को सरूर हो चुका था. नीति मैडम की शादी के बाद भी उसके साथ महीनों तक ये प्रोग्राम चला था लेकिन अब मैं उस दूसरी टीचर को चोदने चक्कर में था.

थोड़ी देर के बाद माँ मेरे ऊपर आ गईं और उन्होंने मेरा बॉक्सर उतार कर फेंक दिया. प्रिया को तत्काल इस का भान हुआ और उस ने मेरा हाथ अपने हाथ में जोरों से कस लिया और मेरा हाथ यहाँ वहाँ चूमने लगी. इस मैं इतना अधिक झुकी हुई थी कि उसको मेरे मम्मों की घुन्डियां भी दिख गई थीं.

मेरे शरीर का कोई ऐसा पार्ट नहीं होगा, जिसको वो पूरी तरह से निचोड़ कर ना रख दे.

लेकिन मेरे मन में कामुकता घर कर चुकी थी, मैं सोचने लगा कि क्या करूँ?तभी मैं उठ कर अपनी बहन के पास रसोई में चला गया और उस के पीछे जाकर खड़ा हो गया. उसने थोड़े दिन का टाइम लिया और मुझे बोली- राकेश, मैं तुम्हारे साथ रिलेशन में आ रही हूँ.

वो हंसने लगी और बोली- क्या तूने भी पहली बार किसी लड़की को चोदा था जो मुझसे कह रहा है. देख जब से मैंने तेरी बीवी की फोटो देखी है और वो कहानियाँ पढ़ी हैं, मैं सो नहीं पाया, मेरी तड़प तेरी बीवी से मिलने के लिए बढ़ गई है।”विशाल पूरी तरह से मेरी जाल में फंस चुका था, मैं भी ज्यादा ना नुकुर ना कहते हुए बोला- चल कोई बात नहीं, मैं अपनी बीवी को मना लूंगा… और तेरी बीवी को कैसे हैंडल करना है, मैं अच्छी तरह से जानता हूं. थोड़ी देर बाद मैं धीरे से उठा, मेरे पैर काँप रहे थे, कमरे का दरवाजा धीरे से खोल कर बाहर झांका तो ड्राइंग रूम की लाइट बंद थी.

उसने नीचे से अपने लंड से राजधानी एक्सप्रेस चला दी और चुत की धज्जियाँ उड़ानी शुरू कर दीं. वो अब भी मेरी गर्लफ्रेंड है और अब हम कितनी बार अलग अलग पोजीशन में सेक्स कर चुके हैं. एक दिन वो कोई बहाना बना कर आशीष के कमरे में रात को रहा और जैसे ही आशीष मेरे कमरे में दाखिल हुआ, वो दरवाजे पर इस तरह से खड़ा हो गया कि वो तो मुझे देख पाए मगर मैं उसको ना देख सकूँ.

दाई वाली बीएफ जब मैं मार्किट जाने को हुआ तो उन्होंने मुझे आवाज लगा कर मेरा नंबर भी ले लिया कि जब मेरा फ़ोन रिचार्ज हो जायेगा तो मैं आपको कॉल करके बता दूंगी. उसने लपक कर मेरा लंड पकड़ लिया और सहलाने लगी; अचानक उसने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया.

सेक्सी वीडियो सेक्स एक्स एक्स एक्स एक्स

मैं तुम्हारे साथ कुछ नहीं करूँगा क्योंकि मैं अपने ऑफिस की किसी भी लड़की से ऐसे कुछ भी करने की नहीं सोच सकता. अब इस ऑफर में भैया के बॉस का मूड था वो आपको अगले और अंतिम भाग में जानने को मिलेगा. उसे ये पता था कि आख़िर पिंजरे का पंछी कहाँ उड़ कर जाएगा, वो बोली- डार्लिंग, तुम्हें मैं दुनिया की असलियत दिखा रही हूँ.

माँ ने बताया कि मौसा जी की तबियत खराब होने के कारण वे चार-पांच दिन के बाद आ पाएंगी. मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि मैं अपनी सेक्स स्टोरी आपके साथ शेयर करूँगा पर आज वो मौका मिल ही गया. करीना कपूर के सेक्सी फिल्ममैंने उस की कोई बात नहीं सुनी और मैं उसकी स्कर्ट उतारने की कोशिश करने लगा.

मैं अपने हाथ से उसके ब्लाउज के ऊपर से ही उसकी मोटी मोटी चुचियों को दबाने लगा.

अब मैं फोन रखती हूँ और बात करके बताऊँगी।”ओके दीदी।”दूसरे दिन मधु का फोन आया- मैंने बात कर ली है और यश कल सुबह निकलेगा।मैं बोला- ठीक है. वो सब मेरी तरफ आए, मेरे करीब आकर ठहरे, इतने करीब कि मैं एक लड़के की तो साँसें महसूस कर सकती थी और तभी वे मुझे देखकर पलट कर वापस चले गए.

रात को जब वो डिनर करके वापिस जाने लगा तो मैंने उसको बाहर तक छोड़ा और उसके इतना पास चिपकी सी रही कि अपने मम्मों की रगड़ भी उसको लगाती रही. फिर उन्होंने मेरी चूत पर अपनी जुबान टिका दी और सपर… सपर… मेरी चूत को चाटने लगे!मैं सिसकारियां लेने लगी- आआह… शजज्ज… उमसस्स… चाट लो… मेरी… चूत का आआआ… रस स्स्साह!एक चिल्लाहट के साथ मैंने अपनी चूत के पानी को छोड़ दिया, मेरे जमाई जी अपनी सास की चूत के अमृत को पीने लगे. फिर मैंने उसके कन्धों को थोड़ा और उचकाया, और इस बार थोड़ा और नीचे तक दबा दिया.

उसका लंड अभी भी मेरे हाथ में था और जैसे ही मैंने अपने मोबाइल की टॉर्च जलाई मैं हैरान हो गया क्योंकि वो लंड वैसा ही था जैसा मैं सपनों में अक्सर देखा करता था!बहुत ही लंबा और सीधा लंड जिसके गुलाबी टोपे पर स्किन की एक परत थी पर लंड का छेद साफ देखा जा सकता था.

फिर थोड़ी देर बाद उसने आँख खोलीं और बोली- भैया आपको नींद नहीं आ रही है क्या?अब उसको कैसे बोलूँ कि तुम पास में ऐसी हरकत करोगी तो कैसे नींद आएगी. मैंने उसे उठाया उसको पैंटी और जीन्स वापस पहनाई और उसने मेरा कंडोम उतार के एक पैकेट में डाल दिया. कामिनी ने जीन्स ली, कुछ टॉप पसंद किए जो कामिनी ने उसको पहन कर दिखाए और फिर उस बन्दे के किये कामिनी ने टीशर्ट और जीन्स वगेरह ली.

desi49 कॉममैं सबके सामने नंगा खड़ा था, सबके सब आँखें फाड़ कर मुझे देख रहे थे. मैं कौन सा और इंतज़ार करने के मूड में था, फ़ौरन ही अलका की टाँगें फैलायीं, एक कुशन उसके चूतड़ों के नीचे टिकाया और लौड़ा पकड़ के चूत के मुहाने पर सुपारी लगा दी.

इंग्लिश सेक्सी फिल्म फुल मूवी

मेरे पति का लंड बहुत बड़ा और मोटा है जो किसी की भी चूत को फाड़ कर उसकी चूत का साइज़ बड़ा कर सकता है. ये उसने बाद में बताया कि उसको अपनी फुद्दी पर छोटी छोटी झांटें डिजायन में रखना पसन्द हैं. जैसा कि मैंने बताया कि हम काफी समय से अच्छे दोस्त थे और सब तरह की बातें आपस में शेयर करते थे.

विक्रम ने पीछे से उसकी चुत में अपना लंड डाल कर उस पर चढ़ गया और उसके मम्मों को बुरी तरह से दबाने और मसलने लगा. वो बोली- डार्लिंग आज तुम्हें मैं पूरा लाइव शो दिखाऊंगी, तू भी क्या याद करेगी कि किससे पाला पड़ा है. भाभी मुझसे कहने लगीं- मुंदे लंड, मेरी प्यास बुझाएगा भोसड़ी के!मैंने कहा- साली रंडी, सब कुछ करूँगा लेकिन पहले अपना माल दिखा, भैनचोदी.

मैंने उनका मूड ख़राब करना न चाहा और कहा- और कुछ बताओ ना भैया?इस तरह हमारी गन्दी बातें चलती रहीं. थोड़ी देर ऐसे करते करते मैंने अपना एक हाथ उसकी स्कर्ट के अन्दर डाल दिया. अब मैं बहुत ज्यादा थक चुकी थी और मेरी पकड़ लगभग ढीली ही हो चुकी थी, पर चिंटू और परीक्षित ने मुझे कसकर पकड़ रखा था.

मुझे नहीं पता कि वो अभी तक सील पैक थी या नहीं, उसके दर्द से लग रहा था कि जैसे पहली बार चुद रही हो लेकिन उसकी चूत से कोई खून नहीं निकला था और उसकी हरकतें भी चुदी चुदाई लड़कियों जैसी ही थी. मेरी चूत और गांड में से फच फच फच फच की आवाज निकलने लगी, पूरा रूम में फच फच गूंजने लगा।तभी अंकल दोनों हाथों से दूध पकड़ कर पूरी ताकत से दबाते हुए बोले- साली वन्द्या रंडी, तू पागल है, तेरी चूत तो कयामत है और जन्नत भी है। बोल साली कुतिया कितना बड़ा लन्ड चाहिए तेरी चूत को? लगता है हम दोनों के लौड़े छोटे पड़ गये।मेरे मुंह से अपने आप निकल गया- अंकल, जितने बड़े लन्ड डलवा सकते हो डलवा दो, सब घुसवा लूंगी.

कामिनी बोली- यार, मूड मत ख़राब करो, वो अंदर है!विवेक बोला- तो क्या कर लेगा?कामिनी बोली- ज्यादा हीरो मत बनो?वो बोला- जानू, आज तो तुम्हारी ले के ही जाऊंगा!बोली- पागल हो क्या? आज नहीं!मैं समझ गया कि मेरा शक ठीक था, ये दोनों मजे करते हैं.

वो नजारा अच्छे अच्छों का पानी छुड़वा देता है। मैं भी इस लड़की का पूरा मज़ा ले रहा था। बचपन से आज तक मुझे लड़कियों की कमर के नीचे का हिस्सा बहुत पसंद है। सबकी नजर चेहरे, बूब्स या गांड पर होती है. लेडीस कंडोमथोड़ी देर के बाद एक औरत घर से बाहर आई और बोली- जी आपने ही अभी फोन किया था?मैंने हां में सिर्फ सिर हिलाया क्योंकि मैं उन्हें देखता ही रह गया. अंग्रेजी नंगी पिक्चरदेवर भाभी सेक्स कहानी के पहले भागदेवर भाभी की कामवासना और चुत चुदाई-1में आपने पढ़ा कि पड़ोस की एक सुनयना भाभी मुझे एक अन्य भाभी की उनके देवर से सेक्स की आप बीती कहानी सुना रही थी. जब वो पूरा 7 इंच का हो गया तो भाभी ने अपनी साड़ी ऊपर की और मेरे लंड पर एकदम से बैठ गईं.

हां जब पहली बार चुदोगी तो टांका टूटने से कुछ खून की बूंदें भी आ सकती हैं, मगर उतनी नहीं, जब असली सील टूटती है.

पर उसका लंड बार बार मेरी चूत से फिसल रहा था, तो फिर मैंने ही उसके लंड को पकड़कर मेरी चूत में डाला और फिर धीरे धीरे पूरे लंड को अपनी चूत के अन्दर तक डाल लिया. मैंने उससे अपने लंड की साइज़ के बारे में पूछा तो उसने कहा कि इसका नाप चुत ही जानती है यदि तुम अपने लंड को मेरी चूत में पेलो, तो अभी जानकारी मिल सकेगी कि लंड का साइज़ कितना हुआ है और कितना होना अभी बाकी है. वो बोली- तुम क्या खाना पसंद करोगे?मैं- कोई स्पेशल पसंद नहीं है बस जो तुम चाहो.

मैं सुबह नौ बजे ही घर से निकल गया दिल्ली से ऋषिकेश तक चलने वाली सीधी बस में बैठ गया दस बजे बस चली और शाम को पांच बजे के करीब ऋषिकेश पहुँच गया. मैंने कहा- मुझे नहीं चाहिए…उसने कहा कि कुछ नहीं है, बस इससे तुम्हें ताकत मिलेगी. मैं उठी और फ्रेश हो कर तैयार हो गई क्योंकि कुछ देर बाद मुझे निकलना था.

घोड़ा और लेडीस की सेक्सी वीडियो

हालांकि इस दौरान इन्होंने काम पर जाना बन्द नहीं किया था क्योंकि वो भी बहुत जरूरी है. फिर हमने थोड़ी देर बात की लेकिन बात खत्म होने वाली थी तब मैंने उसको फोटो के लिए कहा. जब उसका लंड कुछ देर तक खड़ा नहीं हुआ तो मैंने दोबारा से उसके लंड को मुँह से चूसना शुरू कर दिया.

ये मेरी एकदम सच्ची चुदाई की कहानी है, आपको कैसी लगी मुझे मेल जरूर करें.

उनका दूसरा दोस्त मां की साड़ी ऊपर करके नीचे से उनकी गोरी गोरी जाँघों पर अपने हाथ फेरते हुए चूमने और चाटने लगा.

फिर मैं अपनी जीभ उसके कान से गले तक फेर रहा था और हल्के से किस भी कर रहा था. सेजल भाभी ने दो चाय के कप भरे और एक मुझे दिया और एक से खुद चाय पीने लगीं. सेक्स करता हुआ वीडियो दिखाइएतभी भाभी बोलीं- मुझे वाइल्ड सेक्स और गालियों के साथ मज़ा आता है, पर तुम्हारे भैया सीधा करके सो जाते हैं.

”अच्छा अपना हाथ लाओ और नाभि पर छूके बताओ कि मेरी नाभि तुमको कहां से अच्छी लगी?”उहह… स्सस्स… इधर से बड़ी मस्त लगी. पहले तो भाईसाहब ने मना कर दिया, पर बाद में बोले कि आप चलिए मैं आता हूँ. मैंने मैडम से बोला कि आज मेरे जन्मदिन के अवसर पर 2 पैग वोडका के ले लेते हैं.

उनके मुँह से लगातार ‘आहह्ह्ह आहह ऊह्ह्ह आऔऊ आहह्ह…’ की आवाजें आ रही थीं. ये सुनते ही मैंने उनको अपने नीचे पटका और चाची से कहा- चाची कंडोम है क्या?वो बोलीं- देखो वहीं अलमारी में पड़ा होगा.

हमने पूछा कि वो कैसे, तो बोला- एक की चुत में लंड डालूँगा और दूसरी की चुत को मुँह से चूसूंगा.

और फिर दोनों अंदर बाहर एक साथ गांड में और चूत में अपना लन्ड करने लगे, मुझे बहुत तकलीफ हो रही थी।इतने में अंकल ने मेरे नीचे चूत की तरफ देखा और बोले- अरे यार सुरेंद्र, मैं कितना लकी हूं, यह वन्द्या तो सच बोल रही थी, उसको आज तक किसी ने नहीं चोदा, मैं बहुत भाग्यशाली हूं जो आज मैंने वन्द्या की सील तोड़ दी. लेकिन वे अपनी जिस्मानी खूबसूरती को लेकर बेहद संजीदा हैं, इसलिए जिम और योगा सेंटर बिना नागा रोज जाती हैं. पहले मैंने उससे बोला- अपने हज़्बेंड की ड्रिंक की बोतल दे, आज भेजा घूमा हुआ है.

लड़कियों की वॉलपेपर इस तरह से मैंने अपनी चुत का इंतज़ाम तो कर लिया मगर अभी उससे चुदवाने के लिए भी पक्का करना था ताकि कभी हम से उसका झगड़ा भी हो गया तो भी वो किसी को कुछ ना बोल पाए. मेरी पहली चुदाई की कहानी के पहले भागचुदाई की कहानी जादूगरनी आंटी की-1में आपने पढ़ा कि मेरे घर के पास रहने वाली एक जादूगरनी आंटी ने मुझे फंसा लिया, मैं उसके घर चला गया रात में और आंटी मेरे साथ चूमाचाटी करने लगी.

मुझे बहुत डर लग रहा था और मैं उसी अवस्था में आँखें बंद करके लेटा रहा. बुआ और जोर से हंस पड़ीं और बोलीं- तेरा पहली बार है इसलिए आधी बातें जानता है. मैंने कहा- रुको, मैं कंडोम पहन लेता हूँ, उसके बाद फिर से करूँगा… जिससे मुझे और तुम्हें भी कोई चिंता नहीं रहेगी.

सेक्सी वीडियो मारवाड़ी चुदाई वाला

तो दोस्तो, उस रात के बाद मैंने सोचा कि अब चाहे कुछ भी हो जाए, मुझे एक दिन तो लड़की की ड्रेस पहन कर बाहर जाना ही है. मुझे फिगर का अनुमान लगाने में देर न लगी क्योंकि हम लोग कॉलेज में अधिकतर लड़कियों को देख के फिगर का ही अनुमान लगाते फिरते थे. कुछ देर ऐसे ही करने के बाद मैंने धीरे से उसकी जांघ को सहलाना शुरू किया, तो वो काँप उठी और मुझे किस करने लगी.

फिर हमारी कॉमन वाइफ अपने बाएँ हाथ से कंस्ट्रक्शन” को थामे धीमे-2 अपनी चूत के अन्दर घुसाने की कोशिश करने लगी, लेकिन दोनों टोपे अत्यधिक मोटे होने के कारण छेद पर निशाना नहीं साध पा रहे थे. इतने में उसने मेरा लंड शॉर्ट्स के बाहर निकाला और उसे प्यासी नज़रों से देखने लगी.

माँ- ऐसा तो कुछ नहीं है, तुम्हें ऐसा क्यों लगता है?मैं- बस ऐसे ही लगता है कि आपसेक्स की भूखीहैं और आपके पति आपको समय नहीं देते हैं.

बिंदु की चुत का काम तो मेरे पापा की मुसीबत खत्म होते ही ठीक हो गया. मालिश करते करते हमारा फिर मूड़ बन गया और हमने फिर सेक्स किया और फिर मैं आकर अपने कमरे में सो गया।सुबह मैं उठा तो डिम्पल मुझे देख कर खुश हो गई।मैंने रात के बारे में पूछा तो उसने कहा- बहुत मज़ा आया?तो दोस्तो, यह थी मेरी पहली कहानी… अगर कोई गलती हो गई हो तो माफ करना।आपको मेरीसेक्स कहानी हिन्दी मेंकैसी लगी, मुझे मेल जरूर करें![emailprotected]. क्योंकि वो लोग गुरुग्राम आते रहते हैं और घर पड़ोस में होने के कारण मैं उसको जानता हूँ लेकिन मेरी पारुल से कभी बात नहीं हो पाई थी.

’ बोलने लग जाती है और मैं बिना कम्पलीट हुए रह जाता हूँ।मेरी पहली कहानी मेरे गाँव की है। एक लड़की जिसने मुझे बहुत तड़पाया, लेकिन फिर उसी ने इतना मज़ा दिया कि क्या बोलूँ।उसका नाम शकुंतला है। मेरे घर के पास में ही उसका घर है। वो मुझे एक साल छोटी है. अब भाभी हिल भी नहीं पा रही थीं और रो रही थीं, गाली दे रही थीं- आह… निकाल कुत्ते… मेरी गांड फाड़ दी!पूजा भाभी के पास आकर बोलीं- अमित, इनको बता दे कि दूसरे के लंड पर नजर नहीं रखते, चोद भाभी को… और इतना तेज़ी से चोद कि भाभी की गांड फट जाए!भाभी मना कर रही थीं और पूजा बोल रही थी. दीदी लिविंग रूम से किचन में आ रही थीं, वो अभी भी फोन पे किसी से बात कर रही थीं और बीच बीच में कहकहे लगा कर हंस रही थीं.

मेरे हाथ उनके मम्मे के पास पहुंच चुके थे, नाइटी और उसके अन्दर ब्रा इतने अधिक मुलायम कि जैसे उनके मम्मे बिना कपड़ों के मेरे हाथ में हों.

दाई वाली बीएफ: जितने अपने काम के लिए आप चाहो। अगर विश्वास न हो तो अपना अकाउन्ट नम्बर भेज दो। मैं पहले ही डलवा दूँगी।’उसकी आवाज में उदासी सी आ गई। मैंने सोचा एक बार देखता हूँ कि ये सही में रूपये देने को तैयार है या फिर बस मजे ले रही है। मुझे अभी तक विश्वास नहीं हुआ था कि कोई मुझे चुदने के लिए पैसे देने को तैयार है।मैं बोला- अब रात काफी हो गई है. विक्की बोला- पर सर आपने तो हमें सिखाया ही नहीं कि लौड़े को अंग्रेजी में क्या बोलें?मैंने कहा- ओके हम कल इस विजुअल डिक्शनरी से शरीर के अंगों के इंग्लिश शब्द सीखेंगे.

जीतू ने मुझे गरम होता देखकर अपना लंड सहलाना चालू कर दिया और मुझे लिटा कर मेरी चुत के मुँह पर अपना लंड रख दिया. मेरे सर को अपने कंधे पर रख लिया और वो तीनों मेरी गांड फैलाने में लगे हुए थे. फिर मैंने उसके दोनों हाथ पकड़ लिए और कहा- मैं तुम्हें चोरी के इल्जाम में गिरफ्तार करता हूँ.

आज उसने लाइट पिंक कलर की टी-शर्ट पहनी थी और उसके मम्मे सच में तम्बू जैसे खड़े हुए लग रहे थे.

मैं किसी ऑटो के इन्तजार में था, तभी मेरा ध्यान बाजू की गली से निकली एक खूबसूरत सी लड़की जो कि ऑटो की तरफ जा रही थी, पर पड़ी. इधर मेरा लंड एकदम कड़क हो गया था, मैंने पूछा कि क्या हुआ?वो बोली कि सूजन आ गई है. वो कंप्यूटर के माउस को को चलाना सीख रही थी, उसको थोड़ी प्रॉब्लम हो रही थी.