सेक्सी बीएफ मालिश वाली

छवि स्रोत,बीएफ वीडियो फुल एचडी हिंदी

तस्वीर का शीर्षक ,

कलकत्ता सोनागाछी: सेक्सी बीएफ मालिश वाली, इसी के साथ आप मुझे ईमेल करके भी बताएं कि आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी.

सेक्स एचडी बीएफ सेक्सी

एक रात में मामा जी ने मेरे कच्छी को नीचे कर दिया और अपना लंड मेरी जांघों के बीच डाल कर अपनी प्यास बुझाने लगे थे. प्रियंका चोपड़ा के बीएफ एचडीआठ दस धक्के मारने के बाद उसका पानी निकल गया, नीरू फिर प्यासी रह गयी.

धारा की साड़ी और साये की दीवार भी शेखर के लंड को धारा की गांड की दरार को ढूँढने से रोकने में असमर्थ ही साबित हो रहे थे. रँडी का सेक्सी बीएफभाभी से रहा नहीं जा रहा था तो उन्होंने मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत पर दबा दिया.

चोद दो ना इससे मेरी चूत को … आह्ह … इसका स्वाद दे दो मेरी भट्टी को।कहते हुए मैंने अपना ब्लाउज़ और पेटीकोट भी उतार दिया और पूरी नंगी हो गई।उनका लंड मेरी चूत को खोदने के लिए तैयार हो गया था।मैंने लंड को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया और वे मम्मों को सहलाते हुए बोले- चूस छिनाल … चूस!वे बेदर्दी से मम्मों को निचोड़ते हुए अपना लंड चुसवा रहे थे.सेक्सी बीएफ मालिश वाली: जिसे मैंने तुरंत पहन लिया।रूपाली मेरे पास आयी- जाइये, नीतू आपका इन्तजार कर रही है.

दूसरे दिन कुछ रस्में होना शेष थीं और हम दोनों अकेले में मिलने को तरस रहे थे.मैंने अपनी इस शर्ट का ऊपर वाला एक बटन खुला रखा, जिससे मेरी चूचियों की घाटी साफ़ दिखे.

बीएफ मूवी देखने वाली - सेक्सी बीएफ मालिश वाली

मैंने प्रभा की पुस्तक आदि से भरा थैला पकड़ा और कक्षा से बाहर निकल आया.शेखर अब ज़्यादा देर रुक नहीं सकता था, उसने धारा की चूचियों को छोड़ा और उठा कर धारा के दोनों पैरों को अपने कंधे पर टिकाया और लगा बमपिलाट धक्के मारने.

मूसल लौड़े को अपने कोमल हाथों से मरोड़ के उसने गुस्सैल आवाज में कहा- क्या क्या करेगा बहनचोद? देख तो भोसड़ी के तेरा लौड़ा कैसे खड़ा है … शर्म नहीं आती? नाम क्या है तेरा?चपरासी बोला- जी, मानस नाम है मेरा … और मैं सच कह रहा हूँ मैडम, आप जो बोलेंगी, मैं वो करूंगा. सेक्सी बीएफ मालिश वाली भाभी सदैव टाइट ब्लाउज पहनती थीं, जिसमें से उनके आधे चूचे बाहर निकलते हुए दिखते थे.

मैंने कई बार सोचा कि मैं भी अन्तर्वासना पर अपनी सेक्स कहानी शेयर करूं.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली?

पिछले भागपरिवार में बेनाम से मधुर रिश्तेमें आप लोगों ने पढ़ा कि मैं, मेरा भाई शिवम, विवेक और लूसी एक दूसरे के साथ हुए सेक्स के बारे में जान चुके थे. मैंने धीरे धीरे अपनी जीभ उसके मम्मों की दरार पर फिराते हुए पहले उसकी ब्रा को निकाल दिया. अपनी गाड़ी पार्क कर शेखर लगभग दौड़ता हुआ अपने फ़्लैट में दाख़िल हुआ और सीधे अपने कमरे की तरफ़ हो लिया.

फिर कमरे में आकर दोस्त ने मुझको सारी बात खुल कर बताई और कहा- मुझको अपनी मां को किसी दूसरे मर्द से चुदते हुए देखना है … वह भी हमारे घर के बीचों बीच … वो भी पूरी घोड़ी वाले पोज़ में. समीर ने मेरी भी गांड चाट चाटकर ढीली की; फिर मुझे सीधे लिटाकर मेरे दोनों पैरों को उठा कर अपने कंधे पर रखा. 2-3 मिनट तक सोनू ऐसे ही आगे पीछे होती रही और फिर उसने एकदम से मेरे मुंह पर अपनी चूत को पूरी ताकत लगाकर दबा दिया.

ज्योति- यार जोर की भूख लगी है, चल देखते हैं कुछ इंतजाम हुआ या नहीं. तभी मैं उसके पास गई और उसके होंठों पर एक जोर का किस किया और कहा- जाकर चुपचाप अपनी जगह पर लेट जाओ. ये हॉट वुमन सेक्स कहानी पिछले साल की है, मेरे पास एक लड़की मैसेज आया … तो कुछ देर उससे बात हुई और हमारी मीटिंग एक होटल में फ़िक्स हो गयी.

मेरी मम्मी ने इठलाते हुए कहा- आज तक कोई रस चूसने वाला मिला ही नहीं. हो भी क्यों न … चाहे कितनी भी महिलाओं को चोद लिया हो एक नए जिस्म के लिए लार टपकना तो स्वाभाविक है.

वो अपनी जीभ से चूत को चाटने लगा … संगीता हद से ज्यादा पागल हो रही थी.

मैं जैसे ही उनके निकट पहुंची, उन्होंने बैठे बैठे ही मुझे अपनी गोदी में खींच लिया.

मैंने उसको बोला- मुझे लगा नहीं था कि तुम पहली बार में अपने आप पर कंट्रोल कर पाओगे. पिंकी बोलने लगी- आहह आहहह ऊहह मेरे राजा … चोद अपनी भाभी को … बना दे आज मुझे रंडी!मैंने उसकी दोनों टांगों को चौड़ा कर दिया. कुछ देर बाद मेरा लौड़ा अन्दर ही झड़ गया और उसकी गांड में लंड घुसा कर उसके ऊपर ही गिर गया.

देसी वाइफ सेक्स कहानी पर अपनी राय जरूर दें।मेरा ईमेल आईडी है[emailprotected]देसी वाइफ सेक्स कहानी का अंतिम भाग:वासना की धारा- 5. बर्थडे सेक्स गिफ्ट की कहानी का अगला भाग:लंड चुत गांड चुदाई का रसिया परिवार- 7. मैंने उससे उसका फ़ोन ले लिया ताकि वो मेरे फ़ोन से कुछ भी ट्रांसफर न कर ले.

इतने में सूरज भईया बोले- मोना ये तुम्हारा देवर और मेरा ख़ास दोस्त जैसा भाई.

मैंने उससे कहा- फरियाल, मैं कार से आपके यहां आ रहा हूँ, तो कब आना है … ये बताओ. उसके मन में कई तरह के मिश्रित विचार आने लगे, कहीं सच में कोई अनहोनी ना हो जाए!सोचते सोचते लगभग 2 मिनट ही हुए थे कि उसे किसी के कदमों की आहट सुनायी दी और एक भीनी-भीनी सी ख़ुशबू उसे क़रीब आती हुई महसूस हुई. धारा- ह्म्म … आप दोनों ने इतनी सारी बातें की हैं कि पूरी पढ़ने में 1-2 घंटे लग जाएँगे.

मैंने उसके दूध चूसना शुरू किए तो वो उठ गई और मुझे देखकर शर्माते हुए कपड़े उठाने लगी. मैंने उसको खाना और रहने की जगह दी और उसको अपने घर में काम के लिए रख लिया. धारा- हम्म। हो सकता है आपको भी ये सुख मिल जाए?शेखर यह पढ़ कर बस मुस्करा दिया और उसने जवाब में भी बस एक स्माइली भेज दी.

उसने एक चीख और मारी और कुछ धक्कों के बाद अब वह आंख बंद कर मज़े से चुद रही थी.

उस दिन मैंने कोमल को दो बार रगड़ा और उससे किसी दूसरे मर्द के साथ मिल कर सैंडविच चुदाई की बात भी की. फिर बस धीरे-धीरे थोड़ी खाली होने लगी तो मुझे एक सीट मिल गई, वहां पर मैं बैठ गई.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली हम दोनों जल्दी से अलग हुए और मैंने सिगरेट जलाई और सामने सोफे पर बैठ गया. जाते जाते उसने रघु को कह दिया कि शायद वो आज रात वापस ना आए तो वो खाकर सो जाए.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली देवर ने अपने दोस्त को बताया तो दोस्त भी भाभी की चूत मारने की कोशिश में लग गया. मैंने धीरे से उसके दोनों गालों को अपने हाथों से पकड़ कर उसके गाल को चाटा.

अगले पांच दिन तक मैंने कंपनी पर पूरा ध्यान दिया और मशीन के बारे में काफी कुछ सीख लिया.

सेक्सी वीडियो मारवाड़ी एक्स एक्स

शीना- अंकल सॉरी, मैंने आप और अपनी हॉट मॉम सेक्स वाला वीडियो भी देख लिया।मैं- कोई बात नहीं, ये भी अच्छा ही हुआ. फिर मैंने उसकी दोनों पिंडलियों पर बारी-बारी से लंड को चलाया, कोमल गुदगुदी वाली जगहों पर उनका और भी बुरा हाल हो जा रहा था. मैंने उसे कहा- ठीक है, लेकिन जब अंधेरा हो जाए और सब लोग सो जाएं तो बाथरूम में आ जाना.

फिर मैं बोला- इस उम्र में आप बिना पति के कैसे रह सकती हो … और उसने आपको छोड़ा, साला पागल था. मैंने फ़लक के मम्मे के निप्पल को मुँह में लेकर चूसना शुरू किया और बहुत देर तक दोनों मम्मों को चूसता रहा. शायद शेखर को इसका आभास हुआ, उसने खुद को धारा से थोड़ा अलग करते हुए थोड़ा पीछे होकर साये को धारा की कमर से नीचे उतारने की कोशिश की.

उसकी चूत में से सफेद गाढ़ा माल बहुत देर तक बाहर गिरता रहा जिसको वो अपनी चूत पर रगड़ती रही और मुस्कराती रही.

मैंने लंड चुत में पेल तो दिया मगर मुझे आंटी की चुत मारने में मजा नहीं आ रहा था … इसलिए मैंने लंड खींच लिया और चुदाई के लिए मना कर दिया. मेरे ब्वॉयफ्रेंड की बहन को लड़के का आइटम चैक करना था, लेकिन उस लड़के के घर से कोई नहीं आया था इसीलिए उसने मुझसे लड़के की ताकत को चैक करने के लिए कहा. मैं खड़ा था, रुचि घुटने के बल बैठ कर मेरा लंड चूस रही थी और चंचल मेरे होंठ चूस रही थी.

धारा- थोड़ा सब्र कीजिए जनाब, हो सकता है आपको उससे भी ज़्यादा रोमांच मिल जाए. उनका बेटा अभी भी आगे वाली कुर्सी पर बैठा हुआ था और हम दोनों पीछे थे. कभी पूरा लंड मुँह में भर लेतीं तो कभी लंड के सुपारे को जीभ से चाटने लगतीं.

ये सब बताने के बाद अनिकेत ने लूसी की चूत में लंड पेल दिया और उसको चोदने लगा. मैंने शिवम के लंड पर कूदते हुए उन दोनों की तरफ देखा तो विवेक ने लूसी को घोड़ी बनाया हुआ था और उसके ऊपर चढ़ा हुआ था.

आज पहली बार किसी से चुदाई के दौरान मेरा अपना हाथ अपनी चूत पर चला गया था. शेखर के मर्दाना हाथों की गर्माहट से धारा का बदन भी उतना ही उत्तेजित हो रहा था जितना कि शेखर का हुआ जा रहा था. आपकी सास एक हफ्ते के लिए नहीं हैं, आपके पति 10 दिन बाद आने वाले हैं.

आंटी लंड लेते ही एक बार सिहर उठीं और कलप गईं- आह मां के लौड़े … धीरे से पेल … साले तेरी आंटी की चुत है किसी बाजारू रांड की नहीं.

मगर जो कोई भी चूसता था, झड़ने के वक्त पर मुंह से बाहर निकाल देता था मगर रोहन ने ऐसा नहीं किया. इस समय भाभी मेरे बहुत करीब थीं, मुझे उनकी मादक खुशबू का अहसास गर्म कर रहा था. समय निकलता जा रहा था लेकिन समझ में नहीं आ रहा था कि शुरू कैसे करूं क्योंकि वो भाभी मेरे तरफ देखती भी नहीं थी.

मेरी चुत खुद खौल रही थी कि रोहित का नया लंड भी मेरी चुत में घुस कर मेरी चुत की खुजली मिटा दे. इस समय नीतू शून्य की तरह स्थिर थी तो रूपाली ने पहल करने की सोची।रूपाली नीतू के बदन को हल्के हाथों से सहला और दबा रही थी।फिर रूपाली ने धीरे से नीतू की गर्दन को चाट लिया; पहले एक बार, फिर दूसरी बार, फिर तीसरी.

चाय रखते समय मैं खास करके उसके सामने झुकी, जिससे उसको मेरे मखमली सफेद गुम्बदों के दीदार हो सकें. मेरी पिछली कहानी थी:ट्रेन में देसी चूत चुदाई अनजान लड़के के लंड सेये कजिन ब्रो सिस सेक्स कहानी आज से 5 साल पहले की है, उस समय मैं ताज़ी ताज़ी जवान हुई थी और 19 साल की कमसिन, कमचुदी चुत वाली लौंडिया थी. शेखर ने उस मद्धम सी रोशनी में अपनी दाहिनी ओर टटोलते हुए टेबल पर रखी उस पट्टी को ढूँढा.

एकदा सेक्सी

थोड़ी देर में लकी गहरी नींद में सो गया … मगर मैं लंड सहलाते हुए लकी की गांड मारने कि सोचता रहा.

ज्योति तो चिराग का हाथ लगते ही कांप उठी … और उसने एकदम से चिराग को जकड़ लिया. थोड़ी देर ऐसे ही मार खाने के बाद विशाल बोला- मैम, अब आप हमें छोड़ दो. जरा सा भी झुकने पर तो आप जानते ही हैं कि मर्द के लंड का क्या हाल होता है.

आहह … ओह राज … और तेज़ तेज़ चोदो मुझे … आह आहह … और तेज़ तेज़!” पिंकी की आवाज से मेरा जोश और बढ़ गया और मैंने अपने लौड़े की रफ्तार बढ़ा दी।अब थप थप थप थप की आवाज़ से कमरा गूंजने लगा।पिंकी ने मुझे कसकर पकड़ लिया और झटके के साथ दोबारा पानी छोड़ दिया. उसकी उंगलियाँ पूरे कंधे पर फिसलने लगीं और तब जाकर शेखर को अहसास हुआ कि शायद आज धारा उसी तरह के ब्लाउज़ में थी जैसा उसने कल उसे अपने लैपटॉप की स्क्रीन पर देखा था. फिल्म बीएफ चुदाईथोड़ी देर बाद मैं फिर से उसकी जाँघों को चाटने लगा।जिसका मुझे अंदाजा था … नीतू ने वही किया.

नमस्कार दोस्तो, मैं प्रवीण कुमार रायपुर से आपके सामने अपनी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूँ. उनका लंड चूसकर मेरी चूत तो पहले से ही बहुत गर्म हो गई थी तो मैंने उन्हें पकड़कर किस करना शुरू कर दिया और उनके हाथ अपने चूतड़ों पर रखवा दिए.

क्योंकि ये सच था कि उनका सेक्स करने का मन नहीं था लेकिन उन्होंने पैसे लिए थे, तो अपना काम भी अधूरा नहीं छोड़ सकती थीं. फिर एक दिन जब हम दोनों मिले, तब उसका चेहरा उतरा हुआ था और वह बहुत उदास थी. हम दोनों उनसे चुदती रहीं और एक बार तो दोनों को बच्चा भी ठहर गया था लेकिन दवाई खाकर हमने वो गिरा दिया.

पूरा लंड पेल कर वो अपनी पूरी रफ्तार से मुझे चोदने लगा और मैं भी उसके सुर में सुर मिलाते हुए ‘उफ़ हहहह यस आई लाइक इट … ओह्ह फ़क आह आह आह हहहहह … उफ़ उफ़ उई मम्मी … आह और तेज़ और तेज़. उसने अन्दर आते ही पूछा- किसके साथ पूरी रात चुदी है मेरी बहना?मैंने उसे सब कुछ बता दिया. धीरे धीरे उन दोनों को मैं अपने हुस्न के जलवे दिखा रही थी और वो दोनों उसमें फंसते भी जा रहे थे.

साड़ी खोलने के बाद मैंने उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया तो पेटीकोट नीचे सरक गया.

मैंने उनकी तरफ देखा तो उन्होंने इशारे से बुलाया और एक पैग पीने के लिए कहा. मैं फ़लक की गांड और चूतड़ों से हाथ फिराते हुए उसकी चूत में पीछे से उंगली डालने लगा.

लंड चूत से बाहर निकालते ही वह पलट गई और लंड को जोर जोर से चूसने लगी. इधर से शेखर- अरे ऐसा नहीं है ललित भाई जो मैं धारा जी के ऊपर संदेह करूँ, मुझे यक़ीन है कि वो बढ़िया मालिश करती होंगी … मैं तो बस ये कह रहा था कि शायद मेरे नसीब में ये सुख नहीं है. मैंने देर न करते हुए वहीं पर अपने कपड़े उतार दिए और अंडरवियर में ही उन दोनों के पास जा पहुँचा.

कोई एक घंटे बाद भाभी उठीं और एक बोटल व्हिस्की और दो ग्लास लेकर आईं. अतः मैं अपनी स्कूटी लेकर बाजार गई तथा सभी सामानों की खरीदी के बाद एक जनरल स्टोर पर आई।यह जनरल स्टोर हमारे बिल्कुल पास में रहने वाले एक अंकल का था. इसी प्रकार की मस्ती करते हुए एक जगह से दूसरी जगह … फिर लंच के लिए एक अच्छे से रेस्टोरेंट में आ गए.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली रास्ते में मेरी और चाची की कोई ज्यादा बात नहीं हुई, हम दोनों बस एक दूसरे को देखकर मन ही मन खुश हो रहे थे. और फिर फोन काट दिया।मैंने पूछा- किसका ध्यान रखने की बात हो रही है?उसके मुंह से एकदम से निकला- तुम्हारा।मैं एकदम से चौंक गयी और बोली- मतलब?फिर अजय बोला- अरे कुछ नहीं … घर वालों का फोन था, वो बोल रहे थे कि रात में गाड़ी ध्यान से चलाना।मैंने कहा- ओह, अच्छा अच्छा!बीच बीच में मैं और अजय छुटपुट मज़ाक भी कर रहे थे.

इंडियन घरेलू सेक्सी

मुझे सच में लगा था कि वो गाल पर किस करेगा … क्योंकि लड़के भी लिप किस करते हैं, तब तक मुझे ये बात नहीं पता थी. मैंने उर्वशी से पूछा कि क्या कर रही हो आप?वो उदास होकर बोली- बेटा, तूने तो वैक्सिंग की नहीं, मैं खुद ही कर रही हूँ. कम भीड़ थी लेकिन वहां के पटोले, उनकी उठी हुई गांड कम भीड़ में ही ज्यादा मज़ा दे रही थी.

अब उस दिन के बाद से मैं उन दोनों पर नज़र रखने लगी और कुछ ही दिनों मैं मैंने पाया कि वो दोनों रिश्तेदार नहीं बल्कि अब दोनों एक दूसरे के साथ गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड के जैसे थे. तुम सबकी तो कॉलेज के टायलेट में देखी हैं, पर ठीक से देख नहीं देख पाई. सेक्सी बीएफ हिंदी फुल मूवीतो भाभी बोलीं- आज मेरे हाथ की चाय पीकर देखो … न जाने चाय से क्या दुश्मनी पाल रखी है.

विजय का जोर जोर से गांड में धक्का देने से … और मम्मों को पकड़ कर मींजने के कारण जया को दर्द होने लगा था.

अंकल ने मेरे दोस्त की गांड भी मारी और अब हम तीनों लोग मिल कर फ्लैट में अपनीरातें रंगीन करने लगेथे. जहां भी मौका मिलता, हम दोनों किस कर लेते और मैं उसके बूब्स दबा देता.

अचानक हुए इस हरकत से मैं घबरा गया लेकिन मेरा भी मन करने लगा था कि उसको किस करूं. अब मेरा नंगा लंड उनके सामने था तो मैंने उनका हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया. कम भीड़ थी लेकिन वहां के पटोले, उनकी उठी हुई गांड कम भीड़ में ही ज्यादा मज़ा दे रही थी.

वरना ससुराल जाने के बाद तो मेरी तरह इसकी भी ज़िन्दगी बेकार हो जाएगी.

मैं मन में ये भी सोच रहा था कि इस बार कोमल के साथ थ्री-सम चुदाई करने का सपना भी पूरा हो सकता है. मैं मम्मी की बात सुनकर हां में सर हिलाते हुए मन में सोचने लगी कि आज तो मैं अपना काम करवा कर ही लौटूंगी. कुछ दूर पहुंचने पर एकाएक बारिश शुरू हो गयी, तो मैं एक पेड़ के नीचे खड़ी हो गयी.

सेक्सी बीएफ इंडियन चुदाईये कहते हुए भाभी ने अपना हाथ मेरी पैंट पर दोनों टांगों के जोड़ पर रख दिया और मेरा लंड सहलाने लगीं. जैसे ही मैंने उसकी चूत पर अपनी जुबान लगाकर चुत चाटना शुरू किया, वैसे ही उसके मुँह से मदभरी सिसकारी निकल गई.

सेक्सी वीडियो चाइना चाइना

मुझे उनका साइज़ तो नहीं पता, पर उनके चूचे बहुत बड़े हैं और कमर पतली है. अब आगे हॉट आंट सेक्स कहानी:दूसरे दिन मैंने साहिल को बोला- आज मुझे मार्केट में कुछ काम है तो मैं कंपनी नहीं जाऊंगा. जैसे ही निखिल मुठ मार कर वासना की दुनिया से असली दुनिया में आया, तो वो कमरे में रीमा को देख कर हड़बड़ा सा गया.

थोड़ी देर बाद भाभी शांत हुईं तो मैंने फिर से एक जोरदार धक्का दे मारा. उनकी मोटी मोटी गांड को देख ऐसा मन किया कि साली को अभी जाकर नंगी कर दूँ और अपना 7 इंच का लंड उनकी चूत में पेल दूँ. भाभी- क्या, अपनी भाभी को चोदोगे?मैं- हां भाभी मुझे आप बहुत अच्छी लगती हो, मुझे आपसे प्यार है.

कुछ देर बाद अंजू भाभी ने मेरे लंड को पैंट से बाहर निकाला और हाथ में लेकर सहलाने लगीं. उसने एक एक करके मेरे सारे कपड़े उतार कर मुझे एकदम नंगी कर दिया और मुझे उसी सोफे पर लिटा दिया. लंड चूत से बाहर निकालते ही वह पलट गई और लंड को जोर जोर से चूसने लगी.

मेरा लंड चमक उठा था उसकी चुसाई से!तमन्ना- अब आया मजा?वो मेरे साथ लेट गयी. तभी हंसते हुए रोमिल बोला- राज भाई, आज तुम अपनी भाभी को खुश कर दो।मैंने फिर से झटके मारना शुरू कर दिया और बोला- रोमिल भाई, आप सो जाओ मैं भाभी को बिल्कुल खुश करके ही रूकने वाला हूं आज!अब मेरी शर्म जा चुकी थी, मैं बोला- पिंकी, अब तू जल्दी से लेट जा!और मैं उसके ऊपर आ गया और चोदने लगा.

मतलब यह हुआ कि धारा शेखर के गठीले बदन को देख भी सकती थी और उसे महसूस भी कर सकती थी मगर शेखर अब भी बस उसके शरीर की गर्मी ही महसूस कर सकता था लेकिन उसे देख नहीं सकता था.

अब वो पूरी तरह से गर्म हो गयी थीं लेकिन मैं अभी उनको और ज्यादा गर्म करना चाह रहा था. मंगल सेक्सी बीएफहम दोनों कुछ मीटर की दूरी पर थे लेकिन हमारे जिस्म एक दूसरे में समा चुके थे. हमारा बीएफउन्होंने बताया कि जो हमारे पड़ोस में एक शर्मा जी का परिवार रहता है, उनकी माता जी की मिट्टी यानि मृत्यु हो गयी है. आंटी हंस दीं और वो लंड को मुँह में लेकर उसे लॉलीपॉप की तरह चूसने लगीं.

अब शेखर की उंगलियां धीरे-धीरे सरकते हुए ठीक धारा की चूत के ऊपर पहुँच चुकी थीं.

यह आवाज नीतू की थी ये हाथ नीतू के थे अरे ये नीतू ही तो थी।मैं अपने बिस्तर पर उठ कर बैठ गया और नीतू से पूछा- क्या हुआ?तो नीतू ने बताया- मैं अभी मूतने के लिए बाथरूम गई थी तो वापस आते समय रूपाली के कमरे से कुछ आवाजें सुनाई दी. मैसेज का टाइम देखा तो पता चला कि बस 15 मिनट पहले ही उसने मैसेज भेजा था लेकिन फिलहाल वो थी ऑफ़-लाईन. हमारे होंठ धीरे धीरे एक दूसरे को छू रहे थे और सांसें एक शरीर से दूसरे शरीर में जा रही थीं.

मेरी जीभ चूत के निचले सिरे पर जाती, तो मुझे भाभी की गांड के छेद से आने वाली मदमस्त महक आने लगी, तो मैंने भाभी की गांड के छेद को भी चाटा और सूंघा. मैंने दूध मसलते हुए कहा- भाभी अब आप कुछ नहीं बोलोगी, मुझे मेरे मन की कर लेने दो. फिर मैंने उनको नीचे किया और ऊपर से लंड पेल कर चुदाई की स्पीड तेज कर दी.

सेक्सी चुदाई चाची की चुदाई

[emailprotected]हॉट मौसी सेक्स कहानी का अगला भाग:पड़ोसी को पटा कर चुत चुदवा ली- 5. जैसे जैसे मेरी जीभ उनके लंड पर नाचती गयी वैसे वैसे उनका लंड और ज्यादा फूलकर एक मोटे तंदुरूस्त साढ़े सात इंच लम्बे लौड़े में तब्दील होता चला गया. फिर प्रिया ने जया की चुत में अपनी 4 उंगलियां एक साथ डाल दीं और अंगूठा बाहर से ही उसकी क्लिट पर रगड़ने लगी.

फरियाल मेरा लंड ऐसे चूस रही थी, जैसे वो मेरे लंड को पूरा चूस कर खा ही जाएगी.

मुझे तो, खैर कोई भी माल हो, उसकी बस चुत चूची और गांड ही दिखाई देती हैं.

पांच मिनट बाद शन्नो ने ‘आहह आहहह आहह …’ करके चूत से पानी छोड़ दिया. फिर वो वासना से बोली- यार, तुम मुझे पहले क्यों नहीं मिले, मैं कब से इस तरह के लंड से सेक्स करना चाह रही थी. गर्भवती महिला के बीएफक्यूट न स्वीट गर्ल सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं तब तक कमसिन और कुंवारी थी.

मैंने सुनीता की सलवार के साथ साथ उसकी चड्डी को जल्दी से निकाल दिया और पीछे से उसकी चूत को चूसने लगा. तुम्हारे निमंत्रण को मैंने इसीलिए स्वीकार किया कि विनीता मैम भी फ्री पीरियड में कई बार जिक्र करती थीं कि हमारे डॉक्टर साहब चढ़ जायें तो फिर उतरते ही नहीं, हफ्ते में चार बार चढ़ने न दो तो मुँह फुला लेंगे और चढ़ा लो तो कमर के बल निकाल देंगे. उसके कमेंट्स से मैं अन्दर से शर्मिंदा महसूस करने लगा और मेरे अन्दर का मर्द जाग गया.

कभी वो अपनी उंगलियों से आगे की तरफ़ टटोलता तो कभी पीछे ले जाकर पीठ की तरफ़ बटन ढूँढता. इसके बाद अब मम्मी का या मेरा कोई भी काम होता, तो मैं ही उसके पास जाती.

उसके लिए चूत और गाँड के उभार पर दोनों तरफ से हलचल हो रही थी।अब एक बार फिर मैंने दांतों से नेहा की पैंटी पकड़ कर उसे उतारने की कोशिश की.

फ़लक- धीरे धीरे पूरी …मैं- उंगली से कितनी बार किया?फ़लक- मुझे नहीं पता. सच में बड़े गज़ब का स्वाद था शहज़ाद के लौड़े का … और इतना बड़ा और मोटा लंड को अपने मुँह में लेकर मैं खुद को बड़ी किस्मत वाली समझ रही थी. गांड चाटकर उसने उसकी गांड में अपना लन्ड एक ही बार में बड़ी बेरहमी से घुसा दिया जिससे अनामिका की गांड से खून भी निकल गया और उसकी हालत एकदम अधमरी सी हो गयी.

भाभी की चुदाई बीएफ वीडियो शेखर ने अपने हाथ में पकड़ा ग्लास एक ही साँस में गटक लिया और तेज़ी से कीबोर्ड पर अपनी उँगलियाँ चलाने लगा- हैल्लो ललित भाई… कैसे हैं?इस बार भी शेखर ने वही तरकीब अपनाई जो उसने दोपहर में यह जानने के लिए किया था कि उस तरफ़ ललित है या फिर धारा. थोड़ी देर तक तो दोनों मेरे बूब्स और मेरे होंठों से खेलते रहे, फिर अमित मेरे बायीं और साहिल मेरे दायीं और लेट कर दोनों एक एक चूचा मुंह में लेकर चूसने लगे.

आंटी की इस उम्र में भी उनकीचूत बहुत टाईट थीक्योंकि अंकल का लंड छोटा था और वो आंटी को कभी कभी चोदते थे. शेखर- धारा, एक बात कहूँ? बुरा मत मानना!धारा- अरे बोलिए ना, मैं बुरा नहीं मानूँगी. मुझसे तो साली ने कहा था कि वो चंचल को थ्री-सम सेक्स के लिए बुला रही थी.

सेक्सी कहानी कहानी कहानी

जब भी चाची कुछ बोलती या पूछती तो मैं नजरें नीची करके जवाब देता रहा. भाभी जी की चुदाई के पहले भागजिस्म दिखाकर देवर को सेक्स के लिए पटायामें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे देवर ने मुझे चोद दिया था और अब वो अपने एक दोस्त रोहित के साथ मिलकर मुझे चोदना चाहते थे. तन्वी- हम्म …पल्लवी- पर चाची की चुदाई कैसे देख ली तूने?तन्वी- दो साल पहले गर्मी की छुट्टियों में एक बार मैं और समीर चाचा, चाची के घर दिल्ली घूमने गए थे.

फिर देखूँगी कितना दम बाकी है तुममें!मनीष भी हँसता हुआ उठा और शॉर्ट्स टी शर्ट वहीं उतारकर वाश रूम में शावर लेती दीपा से चिपट गया।दोनों चिपट कर नहाने लगे।ऊपर पानी नीचे आग लगाती चूत और लंड की गर्मी …दीपा को नहाते नहाते पेशाब आया तो वो लिहाज में मनीष से एक्सक्यूज मी कह कर टॉइलेट सीट की ओर जाने लगी. शन्नो ने पास रखी ब्रा और पैंटी पहन ली और बोली- राज, मेरी मैक्सी तेरे पास है … उसे छुपा लेना.

उसकी गांड में लंड ने पिचकारी छोड़ दी और गांड से वीर्य बाहर निकलने लगा.

तभी उसने एक झटके में अपना लंड बाहर निकाल लिया और मुझे सीधा बिठाकर मेरे मुंह में लंड दे दिया और झटके देने लगा. मैं भाभियों का दीवाना हूँ इसलिए सबसे पहले सभी भाभियों को मेरा प्यार. मेरे झटकों से उसकी चूत ने कुछ ही देर में पानी छोड़ दिया और उसका बेलन नीचे गिर गया.

भाभी ने भी ये नोटिस कर लिया और पूछने लगीं- क्या देख रहे हो?मैं शर्मा गया और बोला- कुछ नहीं. ऐसे कैसे सो जाएगी? आज तो रात भर तेरी चूत की मालिश करूंगा। और उसके साथ साथ तेरे पिछवाड़े की भी!” जीजा ने गांड दबाते हुए बोला. अन्दर से एक ख़ुशी भी थी कि शहजाद मेरे लिए अपने दिल में कितनी केयर रखता है.

साली तेरी दीदू चुद गई थी … जो तू आ गई थी … नहीं तो आज मेरी सुहागरात ही हो जाती जानेमन.

सेक्सी बीएफ मालिश वाली: इसी तरह गंदी गंदी बातें करते हुए चाची ने अपनी कमर उठा दी और झड़ने लगीं. एक-दो बार पोर्न भी देखा था और गांड मारने की बातें भी सुनी थीं, पर कभी लड़के के बारे में नहीं सुना था … और ना ही पोर्न में किसी लड़के की गांड चुदाई देखी थी.

मैंने उसकी मरमरी जांघों को सहलाते हुए पैंटी निकाल कर एक बार सूंघी और दूर फैंक दी. अब तो उसको खुद को ऐसे लग रहा था जैसे किसी ने उसके शरीर से सब कुछ खींच कर बाहर निकाल लिया है. फिर उन्होंने कोई क्रीम मेरी गांड में लगाई, जिससे कुछ देर में मुझे पता ही नहीं चल रहा था कि मेरी गांड में क्या हो रहा है.

कभी वो मेरी गोद में बैठ जाती, मेरे गाल चूम लेती, कभी-कभी तो मेरे लंड को भी पकड़ लेती.

इतना कह कर वो पूल से बाहर निकली और साईड में बने शॉवर रूम की तरफ चली गई. फिर भी बड़ी हिम्मत करके मैंने कहा- मुझे माफ़ कर दो भाभी, गलती हो गयी. मैं चाहता था कि वो दिन भर नंगी रहे, चूत को हवा लगे तो उसे पुरुष की जरूरत महसूस हो.