कोलकाता के बीएफ हिंदी में

छवि स्रोत,सेक्सी पिक्चर नंगा फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

आपकी सेक्सी: कोलकाता के बीएफ हिंदी में, मेरी लंड लेने की चाहत कैसे पूरी हुई और मेरी सील कैसे टूटी … वो सब आपको मेरी इस सेक्स कहानी में पढ़ने मिलेगा.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी 2018

मैं- आपकी चूत को पहले खूब अपने लंड को खिलाऊंगा भाभी … फिर आपकी गांड भी मारूंगा … हां भाभी प्लीज़ मना मत करना. एक्स एन एक्स एक्स एक्स सेक्सीमैं एक मिनट के लिए रुका और सोचने लगा कि साली ये तो सील पैक निकली … क्या अब तक इसने लंड का मजा लिया ही नहीं था!मैं मन ही मन खुश हो गया और मैंने धीरे धीरे फिर से अपने झटके शुरू कर दिए.

मैं उन्हें एक बार फिर से अपने बारे में बता देता हूँ कि मेरा नाम सन्दीप सिंह है और मेरी उम्र 26 साल है. पाकिस्तान सेक्सी डॉट कॉमलेकिन भाभी ने गोवा में शार्ट गाउन और भैया ने फ्रेंची अंडरवियर पहना था.

परिणाम स्वरूप मुझे हीना जैसी शानदार लड़की की चूत चोदने के लिए मिली.कोलकाता के बीएफ हिंदी में: रमेश ने उसे पकड़ कर ऊपर उठाया और उसके बालों से पकड़ कर उसे खींचता हुआ सोफे पर ले गया.

वह मेरे कान के पास अपना मुंह ले जाकर बोली- राज, अब करो ना, अंदर डालो.ताऊ जी के घर पर ही बस लग गई थी, सब आ गए थे।उस दिन भाभी बहुत ही अच्छी लग रही थी और उनके चेहरे पर कुछ अलग ही मुस्कान थी।भाभी मेरे पास आकर मुझसे बाते करने लगी और मेरी पढ़ाई के बारे में पूछने लगी.

सेक्सी हिंदी कुंवारी लड़की - कोलकाता के बीएफ हिंदी में

मैंने पूछा- आप कैसा महसूस कर रही हो?जबाव में उन्होंने एक प्यारा सा किस दिया और बोलीं- इस खुशी के लिए तुम्हारा धन्यवाद.दरअसल मेरे ऑफिस में मेरी एक महिला सहकर्मी थी जिस पर मेरा दिल आ गया था.

कुछ देर वो मेरी चूत में उंगली करता रहा और मैं चुदने के लिए तड़प उठी. कोलकाता के बीएफ हिंदी में मुझे जल्दी घर जाना है।रमेश- पर क्यों मेरी जान?रीता- घर पर मेरे पति मेरा इंतज़ार कर रहे होंगे।रमेश- वह भड़वा क्या इंतज़ार करेगा तुम्हारा? उसे तो मैं एक फ़ोन लगाऊंगा तो वह अपनी माँ भी चुदवा देगा मुझसे।रीता ने हंसते हुए कहा- और बच्चे? मेरे बच्चों को कौन संभालेगा?रमेश- तुम्हारा पति कब काम आएगा? वह सम्भालेगा उन्हें.

लोगों का मेरे अंगों को निहारना, मेरे सेक्सी फिगर से उन्हें उत्तेजित करना.

कोलकाता के बीएफ हिंदी में?

उसके बाद मेरे जितने भी नम्बर थे सब व्हाट्सएप और नॉर्मल कॉलिंग में ब्लॉक कर दिए गए. प्यार से चूसा।लण्ड मस्त हो चुके थे, घुसने को तैयार।हमने चुपचाप हाथ पकड़ के उन्हें खड़ा किया बिस्तर के पास।हमने अपने सारे कपड़े उतारे और हम तीनों बिस्तर पे घोड़ी बन गयी।अब पट्टी खोल दो. मैंने पांच या छह बार उसी अवस्था में उतने ही लंड को थोड़ा निकाल कर अन्दर डालना शुरू किया.

फिर मैंने आपकी सलवार खोल कर आपकी पेंटी के अन्दर चूत में हाथ डाल दिया, तो आपने मेरी गांड में अपनी उंगली डाल दी भाभी. अब मैंने अपने दोनों हाथों से उसकी चूचियों को मसला, फिर एक चूची मुँह भर चूसना शुरू कर दिया. वो जो पहले सो गया था, वो मेरी जांघ पर अपना हाथ फेर रहा था और शायद उसने कमरे की बड़ी लाइट बंद करके छोटी जला दी थी.

फिर उसने मेरी गर्लफ्रेंड की ब्रा उतार दी और उसके मम्मों को अपने हाथों में भर कर जोर से दबाने लगा. मैंने बिन्दू को अपने ऊपर आने का इशारा किया, बिन्दू मेरे ऊपर आ गई और उसने अपनी बुर को मेरे लौड़े के ऊपर रख लिया. मुझे पूरा यकीन है कि इस सेशन के बाद जब तुम उससे मिलोगे तो वो ऐसे ही रिएक्ट करेगी और तुम्हारी सारी सेक्स इच्छाएं पूरी हो जाएंगी.

जब रात को सोने की बारी आयी तो मैंने पूछा- दवा खिलाई या नहीं?तो बोली- नहीं खिलायी. मैं बहुत उत्तेजित था क्योंकि करीब डेढ़ साल के बाद उसकी चूत चोदने को मिल रही थी.

पायल ने मेरी चोरी पकड़ ली और मुस्कुरा कर कहने लगी- आप अच्छे इंसान नहीं हो.

कुछ देर बाद मुझे याद आया कि मेरी स्कर्ट बहुत छोटी है और मैं इस तरह से बैठी हूँ कि मेरी गांड साफ़ दिख रही होगी.

पर मैंने देखा उसके साथ गुलाबो भी आ धमकी है।आप सोच सकते हैं मुझे मधुर और गुलाबो पर कितना गुस्सा आया होगा। साली यह किस्मत भी लौड़े लगाने से बाज नहीं आने वाली। अब मुझे अपनी गलती का अहसास हुआ। कल मधुर का भी फोन आया था तो मैंने उसे बंगलुरु जाने के प्रोग्राम के बारे में बता दिया था।ओह … तो यह सब उस मधुर की बच्ची का कारनामा है लगता है उसी ने गुलाबो को मेरे बंगलुरु जाने वाली बात गुलाबो को बताई होगी. मैं थॉमस के लंड पर झड़ने लगी थी और चूत का पानी निकालते ही मैं उसके खूंटे से खड़े लंड पर बैठ गयी. फिर मैं वापस आने लगा तो उसने कहा- अब कहां जा रहे हो? यहीं रुक जाओ यार … आज अकेली हूँ घर में कोई नहीं है.

पिताजी ने फोन पर मां से क्या कहा था और घर जाकर मेरी मां के साथ मेरी चुदाई का सिलसिला किस तरह से चला, ये सब मैं मेरी मां बेटा सेक्स स्टोरी हिंदी में लिखूंगा. उन्होंने कांपते होंठ मेरी ओर बढ़ाए … और मैंने उन्हें अपने होंठों से थाम लिया. फिर रमेश ने कहा- जीन्स भी उतार दो। रहने दो, रुको मैं ही उतार देता हूं.

जैसा कि आप जानते है मैं रायपुर छतीसगढ़ से हूँ, लेकिन मैं अभी कॉम्पिटिशन एग्जाम की तैयारी के लिए दिल्ली में रहता हूँ.

जो लेडी हमेशा अपने पति के छोटे लण्ड से ही चुदती रहती हैं उन्हें इस मज़े का पता ही नहीं चलता. कुछ देर होंठों की चुसाई के बाद अब मैं उसकी गर्दन पर आ गया और उसने मेरे सर को पीछे से पकड़ कर अपनी उंगलियां मेरे बालों में डाल दीं. ममा की चूचियां बड़ी हैं तो ब्लाउज से बाहर दिखती हैं जो किसी का भी लंड खड़ा कर सकती हैं.

करीब 4 बजे शाजिया ने अपने कपड़े पहने और बुर्का पहन के अपने घर के चली गयी. हालांकि वो लोग बहुत सिंपल थे, तो मैंने और भाभी ने उस जूस को पी लिया और मज़ा लेते रहे. एक मिनट देर बाद वॉशरूम का दरवाजा खुला और अन्दर से मामी निकल कर बाहर आ गईं.

भैया अंडरवियर फ्रेंची में थे और भाभी ब्रा पैंटी में थी।भैया बोले- मेरी जान आज दोनों साथ में नहायेंगे.

बिन्दू ने मेरी तरफ देखा और कहा- ठीक है मैं मम्मी को पूरा विश्वास दिला दूंगी, लेकिन आपने मुझसे फ्रेंडशिप नहीं तोड़नी है. और चुपचाप छत पे पहुँच गए।मैंने कहा- यहाँ कोई नहीं आने वाला सुबह तक! और लाइट भी ठीक है.

कोलकाता के बीएफ हिंदी में देख कर मुझे ऐसा लगा, जैसे उसने बहुत दिनों से चुत को साफ नहीं किया हो. साथ में कंडोम के पैकेट … केवाई जैली और दो रंग के गुलाब के ढेर सारे फूल लेकर घर आया.

कोलकाता के बीएफ हिंदी में मैंने उसे अपने जन्मदिन का हवाला दिया कि एक रात के लिए वो मान जाये, किसी को कुछ पता नहीं चलेगा. मैंने एकदम रोने वाला मुँह बना कर कहा- प्लीज मुझे जाने दो, गलती हो गयी.

फिर धीरे से उसने अपने थूक में लसड़ी एक उंगली मेरी गांड में डाल दी और मेरे से धीरे से कान के पास अपना मुँह ले जाकर बोला- शुरू में थोड़ी लगेगी … सह लेना भैया.

लेडीज कंडोम

उसके बाद मैंने नीचे आकर थॉमस का शॉर्ट्स भी उतार दिया और थॉमस के ऊपर आकर उसे चूमने लगी. चिपचिपी फूली हुई, हल्के रोयें से भरी चूत देख कर उसे अपनी बेटी रिया की याद आ गयी. इसके बाद अपनी जांघों तक मैंने ब्लैक रंग की स्किन पहनी उसके बाद मैंने थाई शू पहन लिए, जो जाँघ तक आते हैं.

वो सिहर उठीं, हालांकि उन्होंने अपने शरीर पर वैक्सिंग कराई थी, पर लंड की छुवन और वैक्सिंग का अहसास बहुत अलग होता है. ऐसा कह कर मैंने उसके हाथ को पकड़ा और अपनी तरफ खींच कर उसके लबों को अपनी लबों से जोड़ कर एक प्रगाढ़ चुम्बन लिया. मेरी पिछली कहानी थी:पत्नी प्रेम की नयी परिभाषाआज की ये कहानी थोड़ी अलग है.

अब आगे की कहानी:श्लोक के लंड को पकड़ कर वीना ने अपनी चूत पर लगाते हुए सेट किया और बैठने लगी.

मूतने के बाद जैसे ही मैं बाहर निकली, मेरे जेठ सामने सिर्फ लठ्ठे के कच्छे में खड़े थे. वो बार-बार मेरी जांघ पर हाथ मार देते थे और मेरा लंड न जाने कितनी देर से खड़ा हुआ था. उनकी ये बात सुनकर मेरी आंखें फ़ैल गईं कि इन कमीनों ने पुलिस वालियों की चुदाई देखने की जुगाड़ बना ली.

मेरे पास उसके रिश्तेदार का नम्बर था, मैंने फोन किया तो पता चला कि वो हॉस्पिटल गयी है, जब आ जायेगी तो बात करवा देगें. नीचे मिनी स्कर्ट होने के कारण से ये मेरे घुटनों के ऊपर तक ही आ रही थी, जिससे मेरी गोरी गोरी जांघें साफ़ दिख रही थीं. बुर ने पानी छोड़ दिया था जिस वजह से मेरी चड्डी भी कुछ गीली सी हो गई थी.

मैं तब से ही वेट कर रहा हूं कि किसी जवान लड़की की चुदाई या भाभी की चुदाई करने का मौका मिले. मैंने देखा उसकी चाल बदल चुकी थी वो पहले वाली निष्ठा जैसी नहीं रहीं थीं.

मैंने उससे कहा- जो होना था वह हो चुका है, अब सारी जिंदगी इसमें मजा ही मजा आएगा. मैं एक हाथ से आंटी की चुत सहला रहा था … दूसरे हाथ से उनके एक मम्मे को सहला रहा था. फिर भाभी ने मेरी गोटियां सहलाईं और कुछ तेज झटके के साथ मैंने अपना पूरा माल भाभी की चूत में डाल दिया.

फिर से … आह्ह चोदो मुझे … और जोर से!”अह्ह्ह्ह चाहत … मैं भी झड़ने वाला हूँ.

इससे पहले मैं कुछ और पूछती उसने पीछे वाले हाथ को आगे किया और एक खूबसूरत फूलों का गुलदस्ता मेरे सामने करते हुए कहा- हैप्पी मैरिज एनिवर्सरी भाभी जान!मैंने बिल्कुल नहीं सोचा था कि रॉकी मुझे इस तरह से सरप्राइज़ करेगा. मेरी प्रिय साली जी, सिर्फ चुदाई चुदाई और चुदाई; तुम्हारी ये मस्त रसीली चूत और मेरा ये लंड और इन दोनों का मस्त मिलन. उसने कहा- प्लीज़ पहले ये करो … कल से ही मेरी बुर गीली है … पहले इसको शांत करो.

मैं कुछ क्षणों तक उसकी रूपराशि निहारता रहा फिर उसके पीछे जाकर उसकी गर्दन से बाल हटा कर वहां चूम लिया और उसके दोनों बूब्स दबोच लिए और उसे मसलने लगा. फिर उन्होंने अपना लंड निकाल कर अपना सारा माल मेरी नाभि पर उड़ेल दिया और हांफते हुए एक साइड लेट गए … मैं भी वासना के वशीभूत होकर हांफने के बाद थक कर सो सी गई.

ब्रा नीचे गिरते ही थॉमस ने मेरी पैंटी की डोरी भी दोनों तरफ से पकड़ कर खींच दी और पैंटी भी सरकती हुई नीचे गिर गयी. बिन्दू की बड़ी- बड़ी मस्त चूचियां और उन पर बिल्कुल छोटे छोटे गुलाबी निप्पल गजब ढा रहे थे. कुछ देर तक पीछे से मेरी चूत में लंड पेलने के बाद सर ने मुझे सीधे किया और मेरे सारे कपड़े उतार तक अलग रख दिए.

सोनाक्षी के सेक्सी

आनन्द तो मुझे भी आ रहा था, पर मेरी हालत वैसी ही थी, जैसे हेलमेट पहने व्यक्ति को बाहर का शोरगुल कम सुनाई देता है और स्पीड में हवा की सरसराहट पता नहीं चलती.

फिर मेरी गर्लफ्रेंड को एक बॉस ने अन्तर्वासना पर एक सेक्स स्टोरी ओपन करके दे दी. क्योंकि मुझे कुछ करना नहीं पड़ता, बस गांड खोले चुपचाप औंधे, गांड चौड़ाए लेटा रहता हूं. मेरे पास उसके रिश्तेदार का नम्बर था, मैंने फोन किया तो पता चला कि वो हॉस्पिटल गयी है, जब आ जायेगी तो बात करवा देगें.

मैं देर रात तक उसके साथ ऑफिस में काम करता हूं और वहीं ऑफिस में उसकी चुदाई करने की प्लानिंग कई दिनों से कर रहा हूं. कुछ ही समय में मेरा स्टैंड आ गया और मैं उसे देखते हुए नीचे उतर गया. हिंदी असली सेक्सीमैंने उससे अपने हाथ छुड़ाए और उसके मम्मों को मसलता हुआ चुत में लंड पेलने लगा.

मैंने मीता की एक चूची की मुँह में भर लिया और बच्चों की भांति चूसने लगा. हॉट गर्ल Xxx स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरी उस देहाती गर्लफ्रेंड ने मुझे पूरी रात के लिए अपने घर बुलाया.

उसने मेरे बूब्स को फिर मुंह में ले लिया और उनको मस्ती में पीने लगा. तुम, तुम्हारी बेटी और तुम्हारा बिजनेस!रमेश ने रति को अपनी बांहों में कस लिया और बोला- अरे जानू … ग़ुस्सा क्यों होती हो. उसके गालों की लाली देख कर शर्म से झुका चेहरा देख कर मेरा दिल बागबां हो गया.

फिर हम दोनों ट्रायलरूम से बाहर आ गईं और सारा सामान खरीद कर वापस घर आ गईं. थॉमस भी अपने पूरे जोश में मुझे अपने लंड से चोद रहा था और मुझे मजा दे रहा था. रमेश- हाय रश्मि। आ जाओ, मैं कब से तुम्हारा वेट कर रहा हूं।रश्मि रूम के अंदर चली गयी.

मुझे तो लगा जैसे मैं स्वप्न में खोकर परी से बात कर रहा हूँ।वो खुशमिजाज थी जिसके कारण उसके गालों पर लालिम उभार थे.

मुझे विडियो कॉल पर आने में कोई दिक्कत नहीं है।मैंने फोन को बेसब्री से थाम रखा था. उसके बाद से वीना की मुझ में रुचि थी जोकि याराना के तीसरे भाग में अंजाम तक पहुंची थी।वीना संग श्लोक का कार्यक्रम सुनिए श्लोक के शब्दों में-मैं वीना के कमरे में घुसने के लिए चाबी गेट में लगा ही रहा था कि खटपट की आवाज सुनकर वीना ने ही लॉक खोलने से पहले दरवाजा खोल दिया। लेकिन उसे यह उम्मीद नहीं थी कि दरवाजे पर मैं यानि कि श्लोक हूंगा.

ऐसा लगता था कि पूरा बदन किसी अच्छे कारीगर के द्वारा बड़ी तल्लीनता से तराशा गया हो. तब अम्मी उस पर चिल्ला कर बोलीं- तुम दोनों सगे भाई बहन हो, तुम्हें शर्म ही आती है या नहीं!मेरी बहन बोली- तो आप कौन सी दूध की धुली हैं. वो एक ही मिनट बाद बाथरूम में से बाहर निकल कर आ गया और बोला कि आंटी इसमें तो पानी ही नहीं आ रहा है.

मैं बोली- साले, कभी मधु को मेरे पति के साथ सुला कर देख, फिर पता चल जाएगा. खुशी ने कहा- तुम पायल के साथ चले जाओ, तुम साथ में रहना, बाकी पायल सब संभाल लेगी. नए नए लौंडों से गांड मरवाने के मजे लूटते हैं … अपनी गांड में लंड पिलवाते हैं … उन्हें नमस्ते.

कोलकाता के बीएफ हिंदी में और मुझे तुम्हें चोद कर जन्नत नसीब हो रही है!”और हम दोनों हंस पड़े।तो क्या मेरे राजा का लंड अब और नहीं चोद पायेगा?” मैंने उसके शांत लंड पे हिलते हुए कहा. फिर रश्मि ने अपनी ब्रा और पैंटी को रमेश के हाथों में गिफ्ट की तरह सौंप दिया.

चाइनीस ब्लू

वो भी मेरे लंड से अपनी चुत की सील खुलवाने के लिए पूरी तरह से मन बना चुकी थी. मेरे मुँह से अपने आप निकलने लगा- आह साले फाड़ दे मेरी चूत को … उफ्फ भोसड़ा बना दे मेरी चुत का … आह अपनी रंडी बना ले मुझे साले … चोद … आह मेरी चुत के छितरे छितरे उड़ा दे. ऐसा कह कर मैंने उसके हाथ को पकड़ा और अपनी तरफ खींच कर उसके लबों को अपनी लबों से जोड़ कर एक प्रगाढ़ चुम्बन लिया.

”वो कैसे?” उसने चहकते हुए पूछा।अब थोड़ी देर के लिए तुम्हारे इन खूबसूरत पैरों को छूने का और मौक़ा मिल जाता पर तुम हो कि उसके लिए भी मना कर रही हो. उन्होंने मुझे चूमते हुए कहा- बहू, तू डेढ़ साल में अब तक मां नहीं बन सकी, पर आज जरूर तेरी कोख में मेरा बीज पड़ जाएगा. सेक्सी और सेक्सी सेक्सीकई बार गांड में अपनी मोटी उंगली घुसेड़ कर उंगली को आगे पीछे करने लगते.

वो सब हाथ जोड़कर कहने लगीं- हमारे कपड़े दे दो, हमें जाने दो … किसी को मत बुलाओ.

मैं तो पहले से ही गर्म थी और अब मेरे जिस्म की आग और भी ज्यादा भड़कनी चालू हो गयी थी. मैंने सोच लिया था कि अमेरिका में तो सेक्स मामूली बात है।मन ही मन मैं इस बात को लेकर बहुत एक्साइटेड हो रही थी कि अमेरिका जाकर खूब खुलकर चुदूंगी.

उसी पल उन्होंने बची हुई पूरी चॉकलेट मेरे लंड पर उड़ेल दी और मेरे लंड को चूसने लगीं. मैंने उससे बोला- सर यह तो आधी ही डील हुई है और बाकी आधी आपका दूसरा पार्टनर करेगा, जैसा इसमें लिखा है. लगभग 5 मिनट की चुदाई के बाद वह जैसे झड़ने को हुआ, उसने मम्मी की चूत में ही सारा पानी निकाल दिया और मम्मी को धक्का देकर आगे बिस्तर पर गिरा दिया और उनके ऊपर लेट गया.

”कैसा करेक्शन?”वो जो तुमने अलग-अलग कंज्यूमर प्रोडक्ट्स के डाटा दिए हैं अगर उनको ग्राफ की शेप में दिखाया जाए तो बहुत अच्छा रहेगा.

सही से रिंग भी नहीं हुई थी कि उसकी आवाज आ गई- हैलो … कहां पहुंचे!मैं- आ गया हूँ … फोन चालू रखो, जब बोलूंगा … तो दरवाज़ा खोल देना. मैं जल्दी तैयार हो गया था इसीलिए शादी वाली जगह पर चला गया।थोड़ी ही देर में और सब भी आ गए. फिर मैंने आपकी सलवार खोल कर आपकी पेंटी के अन्दर चूत में हाथ डाल दिया, तो आपने मेरी गांड में अपनी उंगली डाल दी भाभी.

सेक्सी फिल्म एचडी मेमैं उनके चूचों को सिर्फ सपनों में ही देख कर चूसता था, पर आज मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि असलियत में मेरे सामने उनके नंगे तने हुए चुचे हैं. उसने मेरे बूब्स को चूसना शुरू कर दिया और एक हाथ से मेरी चूत को उसके राजू के लंड के ऊपर से सहलाने लगी.

सोनाक्षी नंगी फोटो

नेहा बोली- मम्मी आ जाएंगी और जल्दबाजी में ठीक नहीं रहेगा, आराम से फिर मिलते हैं. ”अगले दिन गुरजीत कॉलेज जाने के लिए अपने घर से निकली और मेरे घर आ गई. चुद चुदाई देसी ग्रुप स्टोरी में पढ़ें कि मैं गांडू लड़का खुद को लड़की मानता हूँ.

उसके दोस्त ने मुझे चुप कराया और मैं उसके साथ उसकी बाइक से हॉस्पिटल आ गयी. बस इसी सोच के चलते लगा कि शाजिया की चुदाई करने का कुछ मौका मिल सकता है. नेहा के सुंदर चिकने और हाथी की सूंड जैसे पट और उसके नीचे पांव की बनावट, पांव की उंगलियां, हाथों की उंगलियां देख कर ऐसा लग रहा था मानों नेहा स्वर्ग की अप्सरा हो.

उसकी खुरदरी जीभ का अहसास पाते ही मैं भी ‘आहा ऊउंह ऊम्मंह आहाआ ऊउन्न्ह ऊम्म्ह. ”मैं सानिया को लिए अन्दर आ गया।मैं पहले सफाई कल देती हूँ बाद में आपके लिए नाश्ता भी बना दूँगी. मैं- जब मैंने तुम्हारी बुर में हाथ लगाया था, तो देखा वो कितनी गीली थी.

com/chudai-kahani/general-lingeshwar-ki-kal-bhairvi-1/नामक कथा जिसमें सलोनी नामक कमसिन बाला के प्रेम प्रसंग का वर्णन था।ओके … कोई बात नहीं … तुम्हें जैसे पसंद हो वैसे ही करेंगे. इसमें मेरी दर्द भरी आपबीती, जैसे जैसे मेरी फोन पर बातें होती थी, उसी की रिकॉर्डिंग सुन के सब वैसे ही लिखी गई है.

दोस्तों के लौंडिया के चुदाई कार्यक्रम निबट कर जाने के बाद इन महान गांड प्रेमी दोस्तों ने मेरी गांड उसी कमरे में प्रेम से मार कर गांड मराई को ही श्रेष्ठ माना.

रवि अब इसे तू अपनी बेटी ही समझ कर चोद।रवि मन ही मन बोला- सोचना क्या है साले, ये तो असल में ही मेरी बेटी है. डब्लू डब्लू आदिवासी सेक्सीकुछ देर वो मेरी चूत में उंगली करता रहा और मैं चुदने के लिए तड़प उठी. सेक्सी चाची की सेक्सी चुदाईउसके सामान्य होते ही मैंने उसे बिस्तर से उठाया और मैंने खुद को नीचे लिटाते हुए उसे अपने ऊपर ले लिया. मैंने अपने चूतड़ हिलाए, तो उसने लंड पर दबाव देते हुए एक धक्का लगा दिया.

जैसे ही पुलिस की गाड़ी गई, मैं अपने रूम में जाने लगा तो नेहा की मम्मी सरोज मेरा हाथ पकड़ कर कहने लगी- नहीं राज, ऐसे कैसे जा सकते हो, तुम अंदर आओ.

मेरी किसी तरह की कोई प्रतिक्रिया न होने पर उसने अपना हाथ मेरी कमर पर रख दिया और मेरी प्रतिक्रिया का इन्तजार करने लगा. ये देखकर मेरे लंड से भी वीर्य का बड़ी मात्रा में फव्वारा छूट पड़ामैं- आह्ह … मेरा हो गया आरूषि! तुम्हारी सिसकारियों को सुनकर मैं अपने वेग को रोक नहीं पाया. लेकिन वो कहानी भी मैंने अन्तर्वासना पर नहीं पढ़ी थी।मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था, मैंने कहा- अगर अन्तर्वासना में नहीं पढ़ी तो फिर कहां पढ़ी मैंने तो और कहीं भेजी ही नहीं?उसने फिर कहा- अरे बुद्धू, मेरी एक सहेली है जो अन्तर्वासना की दीवानी है.

अब उसने भी मेरी टी-शर्ट निकाल दी और साथ में मेरा लोअर भी निकाल दिया. मैंने कहा- मैं चाहता हूं कि तुम मेरे सामने किसी और मर्द के साथ शारीरिक संबंध बनाओ और मुझे देखने दो. मैं तो कामिनी की गांड मारूंगा, बाकी मेरे दोनों यारों को शैली मज़े देगी.

गेम खेल दिखाइए

मैं थॉमस के लंड को जोर जोर से चूस रही थी और उसकी गोटियां सहला रही थी. एक दिन उसके मम्मी पापा बाहर गए हुए थे और उसका भाई भी साथ में बाहर गया हुआ था. मगर अगले ही पल उन्होंने मेरी चूत पर अपने होंठ रख दिये और मेरी चूत को चूसने लगे.

हम दोनों के बीच में ऐसा माहौल है कि हम दोनों मां बेटी न होकर दोस्त हैं.

अब मैं सिर्फ आहें भर रही थी। चूचियों को दबाते हुए वह अपना लण्ड मेरी गांड पर दबा रहा था, मेरी चूत से पानी रिस रहा था।मैंने पीछे से ही उसका लण्ड मुट्ठी में ले लिया और हिलाने लगी। उसका लण्ड भयावह रूप धारण कर चुका था।उसने मेरी चूचियों से हाथ हटाया.

हैंगआउट्स पर बात करना ज्यादा आसान रहता है, इसलिए मुझे ज्यादा मैसेज हैंगआउट्स पर ही करें. उन्होंने लंड निकाला और मेरी गांड में अपनी उंगलियों को बड़ी देर घुमाया. सेक्सी देहाती नयादोस्तो, आपको मेरी यह X स्टोरी इन हिंदी कैसी लगी मुझे मेरी ईमेल आईडी पर मेल करके जरूर बताएं.

पर पता नहीं क्यों मैं उसे मना नहीं कर पाई क्योंकि मुझे उस दर्द में ही मजा आ रहा था।उसकी उंगलियां हरकत कर रही थी. चलो आओ मेरे पास!रमेश को उसका खूबसूरत चेहरा देखने की लालसा बढ़ गयी थी. प्रकाश भाई ने लंड पर खूब सारी क्रीम पोती, थूक मला और लौंडे की गांड पर टिका कर कहा- ढीली रखना … लगेगी नहीं, वरना नहीं डालूंगा.

साथ ही उसने मेरी गर्लफ्रेंड का एक हाथ उठा कर अपनी पेंट के ऊपर लाकर पेंट के ऊपर से ही लंड पर रखवा दिया. नेहा हर झटके पर आ … आ … आई … हाय … चोदो … फाड़ दो … मेरी … हाय … राज … पहले कहां थे … अब मैं हर रोज चुदूंगी तुमसे … बोलो … चोदोगे ना … मुझे …मैंने कहा- हाँ मेरी … रानी … मैं तुम्हें.

मेरी कुंवारी साली निष्ठा उन दिनों अपने ग्रेजुएशन के सेकंड इयर में थी.

फिर उन्होंने बताया कि वो भी यहां भोपाल में अकेले रहते हैं और एक सरकारी बैंक में मैनेजर हैं. ”सच्ची?” सानिया के चहरे पर आई मुस्कान तो ऐसी थी जिसे लाखों रुपये देकर भी नहीं पाया जा सकता।और फिर मैंने अपने पर्श से सौ-सौ के दो नोट निकाल कर सानिया को पकड़ा दिए। उसने पहले तो गौर से उन नोटों को देखा और बाद में उन्हें जोर से अपनी मुट्ठी में भींच लिया।और हाँ. सच कहूं तो निष्ठा से ज्यादा असमंजस में तो मैं खुद था और जैसे तैसे होली खेलने की इस रस्म को निभा कर चलता बनने की इच्छा थी मेरी.

सेक्सी फिल्म भोजपुरी में हिंदी में किस करते समय वो एक हाथ से गर्लफ्रेंड के मम्मों को और दूसरे हाथ से उसके बालों को सहलाने लगा. अब अपने बायें हाथ की पहली उंगली से उसने चूत के क्लिटोरिस को रगड़ा और जोर जोर से सिसकारने लगी.

मैं महाराज राज बिलासपुर छत्तीसगढ़ से आप लोगों के सामने फिर एक सच्ची घटना लेकर आपके सामने आया हूँ. मेरी जान, तुम्हारी बिना झांटों वाली चिकनी चूत देख कर खुश हो रहा हूं, तुमने तो कहा था कि वो क्रीम तुमने कमोड में बहा दी?” मैंने उसका बायां निप्पल दबा कर कहा. अंकुश ने एक झटके में अपना लंड शेफाली की चूत में पूरा घुसा दिया और शेफाली चीख पड़ी.

sex कैसे करे

मैंने उसकी पैंटी को उतारने का प्रयास किया तो उसने बिना कुछ बोले ही अपने चूतड़ उठा कर सहमति दे दी. मैंने लंड को चूत के छेद पर लगाया और अपने हाथ नीचे लेजाकर साली जी के दोनों मम्में थाम लिए और लंड को चूत में धकेल दिया. मेरी मन्नत की ऑफिस सेक्स स्टोरीज आपको कैसी लगी … प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं.

मेरे दोनों घुटने बेड पर टिके थे और मेरे लंड के ऊपर नेहा अपनी चूत के सहारे टंगी थी. मैं- आह आह भाईसाब … बहुत मोटा है … गांड फट रही है … बहुत दर्द हो रहा है … जल्दी निकालो.

गर्ल्स Xxx हिंदी स्टोरी में पढ़ें कि मैं किराए के कमरे में रहता था तो कैसे ऊपरी मंजिल पर रहने वाली एक लड़की से मेरी दोस्ती हुई और एक रात वो मेरे कमरे में आ गयी.

गुरजीत की कमर पकड़कर अपना लण्ड अन्दर बाहर करते करते एक बार मैंने जोर से ठोंका तो मेरा लण्ड गुरजीत की चूत की गहराई तक उतर गया. लगता है बहुत आगे जाएगी।’इतने में सुनील ने कहा- मेरी मदद करो इन गद्दों को फर्श पे डालने में. लण्ड का टोपा भाभी ने अपनी ओर किया हुआ था अतः पिचकारी भाभी की छाती और चेहरे पर लगी.

रश्मि सिसकारने लगी- आह्ह डैडी… आह्ह… चूसो … चाटो… आह्ह!रमेश- ये ले रवि, इसने तो सच में तुझे अपना बाप बना लिया!रश्मि- रमेश सेठ, जब तू अपनी बेटी समान लड़की की चूत चोद कर मजा ले सकता है तो फिर ये अपनी बेटी समान रंडी की चूत नहीं चोद सकते क्या?रवि- बात तो सही कह रही है रमेश ये।रमेश- हां बहुत ही चुदक्कड़ लग रही है. मामी ने पूछा- तुम फोन पर जैसे हो … रियल में वैसे क्यों नहीं लगते?मैंने थोड़ा संभलते हुए कहा कि नहीं मामी … ऐसी कोई बात नहीं है. उसकी ये फ्राक घुटनों के ऊपर तक ही थी, जो सीट पर बैठने से और ऊपर सरक गई थी.

हाय मेरी चूत को फाड़ दो… कहां रह गए थे … पहले क्यों नहीं मिले? सारी जिंदगी छोटे से लंड से चुदती रही.

कोलकाता के बीएफ हिंदी में: उन्होंने पूछ ही लिया कि बहू इतनी देर कहां लगायी तूने?मैंने उन्हें बताया- मुझे डर लग रहा था कि कहीं मां जी न आ जाएं!जेठ जी अपने मोटे लंड को धीरे धीरे सहला रहे थे. फिर वो मुझसे सुहागरात के बारे में पूछने लगी तो मैंन सब सच बता दिया कि उसका भाई मेरी सील नहीं तोड़ पाया.

सोहन मेरे पास आ कर बैठ गया, उसने अपना लंड मेरे मुंह के पास किया।उधर रोहन ने मेरी फुद्दी में अपना लंड डाला और इधर सोहन ने मेरे मुंह में अपना लंड घुसेड़ दिया. थोड़ी देर में चाय पकौड़े आ गये, हमने खाये, तब तक बारिश भी रुक गई और हम लोग घर पहुंच गए. वो बोला- इतना बड़ा लंड देखकर डर गयी क्या?मैंने बिना जवाब दिये अपने पेट पर से केक लेकर उसके लंड पर लगा दिया.

रमेश का कहा मानकर रश्मि ने अपनी आँखें खोलीं लेकिन इस बार उसकी नज़रें रमेश के टॉवल में बने तंबू से चिपक कर रह गयीं.

मैंने अब भी कुछ नहीं कहा, तो वो मेरी कमर को दबाने और सहलाने लगा और फिर कमर से हाथ आगे मेरी नाभि पर लाकर उसमें उंगली करने लगा. और कुछ कमरे हैं जो मैंने हमेशा बंद ही देखे हैं। रहने के सब कमरे ऊपर।मैं वहाँ पहुँचा तो किट्टू मुझे नीचे ही मिल गयी।मैंने मौका देख कर एक हल्की सी थपकी उसकी गांड पर मारते हुए उसकी पप्पी ले ली।वो थोड़ा सकपकाई तो मैंने उससे बाथरूम के लिए पूछा।मेरे इरादों का जरा भी ज्ञान ना होते हुए उसने बाथरूम की तरफ़ इशारा किया. आज मेरे भाई ने मेरी बुर में एक बार अपना लंड पेल दिया था, तो अब मुझे उसी के लंड से अपनी प्यास बुझानी थी.