भाभी देवर की सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सोते हुए लड़की

तस्वीर का शीर्षक ,

एचडी बीएफ हिंदी वीडियो: भाभी देवर की सेक्सी बीएफ, इस प्रक्रिया में नताशा के दोनों पैर बिल्कुल खुल चुके थे और आर्थर का हब्शी लंड उसकी नन्ही सी गांड में घुसा होने के कारण चौड़े होकर बेड से नीचे कारपेट पर लटक रहे थे, जिनके बीच में खड़े होकर एरिक ने चिड़िया की चोंच की तरह खुल चुकी उसकी चूत में अपना लंड ठेल दिया और लहरा-लहरा कर धक्के मारता हुआ चुदाई करने में व्यस्त हो गया.

दीपिका पादुकोण की चुदाई

ऋतु थोड़ा असहज महसूस कर रही थी लेकिन ‘मरता क्या न करता’ वाली स्थिति थी, सो वो झेलती रही. ब्लू पिक्चर सेक्सी ओपन वीडियोपूनम मेरे मुँह के ऊपर अपनी चुत को ले आई और मैं उसकी मरमरी चुत को सक करने लगा.

मेरा देवर कभी कभी मेरे बेड रूम में आता था तो मैं उसके साथ थोड़ी मस्ती करती थी और वो भी मेरे साथ बहुत मस्ती करता था. सेक्सी कैसे करेंमैंने उससे पूछा कि आज से पहली किसी से चुदवाया है?तो उसने मुझे किस करते हुए कामुक अंदाज में कहा कि तू ही पहला है साले, जो मुझे नंगी देख रहा है.

क्या क्या देखा?मैं- कितने प्यार से चोद रहा था आपको… और आप भी उसका साथ दे रही थीं.भाभी देवर की सेक्सी बीएफ: ”रोशनी ने धीरे से अपने पुट्ठों को उठाकर पिंकी की दूसरी रसभरी पर रखा.

[emailprotected]कहानी का अगला भाग:काजल की चुदाई: दूध वाला राजकुमार-7.वो थोड़ी देर वहीं दरवाज़े पे अलग अलग पोज देके मुझे दिखाती रहीं और फ़िर मटकते हुए मेरे पास आकर मेरी गोद में बैठ गईं.

सेक्सी बीडिओ - भाभी देवर की सेक्सी बीएफ

मैं पेपर पढ़ने के लिए सोफा में बैठ गया, अचानक मेरी नजर भाबी के ब्लाउज पर चली गई.पर मुझे मजा भी आ रहा था और फिर मैं अपनी उंगली को उनकी चूत में ही घुमाने लगा और फिर अन्दर बाहर करने लगा.

उसने स्लीवलेस टॉप जो उसके पेट से ऊपर तक था और नीचे मखमली लोअर पहना हुआ था. भाभी देवर की सेक्सी बीएफ थोड़ी देर आराम आराम से मॉम की चुत मसलने के बाद नवीन ने अपनी तीन उंगलियां एक साथ मॉम की चुत में घुसा दीं.

ये सब तुझे गर्म करने के लिए करती हूं ताकि तेरा लंड खड़ा हो जाए क्योंकि मुझे तुझे गर्म करने में बहुत मज़ा आता है.

भाभी देवर की सेक्सी बीएफ?

मैंने उसे समझाया कि पहली बार थोड़ा दर्द होगा, फिर मजे भी ज्यादा आएंगे. मैं दीदी के बड़े-बड़े चूचे दबाने लगा और दीदी कपड़ों के ऊपर से मेरा लंड मसलने लगीं. जीजा जी ने बाहर घूमने का प्रोग्राम बनाया था लेकिन दीदी जाने के लिए तैयार नहीं थी, मुझे बहुत बुरा लग रहा था और दीदी पर गुस्सा आ रहा था.

मैंने अपने दोस्त (जिसने मुझे यह सुझाव दिया था) के पास से मैंने डिपाजिट की रकम का इंतज़ाम करके डिपाजिट की रकम जमा कर दी. भाभी ने अपना हाथ बढ़ा कर मेरा लंड पकड़ लिया, तभी मैंने झुक कर उनके होंठों को चूमा, फिर चूसने लगा. मैं उससे बात करने की काफी कोशिश करता रहा, पर मैं जब सर घुमाता उसकी माँ मुझे टेढ़ी नजरों से घूर रही होती और मैं डर के मारे अपनी नजरें आगे कर लेता.

उनका 38-34-38 का फिगर बड़ा ही जानलेवा दिख रहा था उनका ये फिगर उनकी झीनी सी नाईटी में पूरा साफ़ नजर आ रहा था. अन्नू और डॉली ने मुझे घर में शार्ट पहनने से मना किया हुआ था, तो मैं जॉन अब्राहिम वाली चड्डी में ही घर में रहता था. एक घंटे के बाद जब अलका ने डिनर के लिए डाइनिंग टेबल पर आने का न्योता दिया तो जूसी रानी हाथ धोने के लिए वाश रूम में गयी.

यह सब सुरेंद्र जीजा देख रहे थे और फिर सुरेंद्र जीजा बोले- अंकल, मुझे भी ड्रिंक करना है। मैं आपकी दारू पी सकता हूं क्या?अंकल बोले- हां बिल्कुल सुरेंद्र, तुम ले लो, सामने रखी है!सुरेंद्र जीजा गए और उन्होंने पूरा ग्लास दारू का भरा और पीने लगे. वो- तुम्हारे मन में चल क्या रहा है? कहीं ये चुदाई की बातें कर करके तुम्हारा मन भी कहीं…इतना कहकर उसने मेरा बेल्ट खोल दिया और मेरा लंड सामने आते ही आह कर के उसे हाथ में लेकर मसलने लगी.

फिर मैंने बेबस होकर बाथरूम में जाकर अपने आपको शांत किया और वापस आ गया.

चाची बोलीं कि ये हमेशा मैं तुम्हारे चाचा साथ करना चाहती थी लेकिन उन्हें वक़्त नहीं मिलता था.

मैं बनते हुए- छी… ये तो गन्दी जगह होती है!भाभी- कोई गन्दी नहीं होती! मैंने भी आपका मुँह में लिया न? चलो चूसो… वर्ना डालने नहीं दूँगी!मैं- ठीक है!और मैं भाभी की चूत को चूसने लगा, भाभी मेरे लण्ड को! थोड़ी देर में मेरा लण्ड फिर खड़ा हो गया और मैंने अपना पूरा मुंह चूत में घुसेड़ दिया और उन्होंने अपनी टाँग से मेरा सर दबा दिया. लंड के सामने आकर मॉम ने अपने दोनों घुटने भी हवा में उठा लिए और पैर के पंजों के बल बैठ गईं. फिर एक दिन उस ऑफिसर का कॉल आया, उसने मुझसे बोला कि कुछ डीटेल्स मिसिंग हैं.

जैसे ही मैं कमरे से बाहर जाने लगी, तो वो बोलीं- नहीं जा कहाँ रही हो, अभी तो कहना मानना है ना. इस पर पापा ने 50000 रूपए से विक्रम का तिलक कर दिया और इतने ही उसके पापा को भेंट देकर कहा कि यह रिश्ता अब पक्का हो गया है. और शीतल ने वादा किया है कि वो बढ़िया से बढ़िया लड़कियाँ देगी मुझे चोदने के लिए और उसके पैसे मम्मी को लोगों से चुदवाकर आएंगे और उसी से हमारा घर चलता रहेगा।लेकिन बाहरी लोग कंडोम लगा के ही चोदते हैं मम्मी को।अगली कहानी में आप देखेंगे कि कैसे मैंने मम्मी को गर्भवती किया एवं मेरीबहन के साथ मेरी चुदाईकैसी रही।दोस्तो, आपको मेरी माँ की चुत चुदाई का दूसरा भाग कैसा लगा, मुझे मेल करें![emailprotected].

मैंने फिर पूछा- भाभी, क्या हुआ?भाभी- देवर जी, तुम्हारी ये शु शु नहीं, अब लण्ड हो गया है तुम बड़े हो गए हो!इतने में भाभी ने लण्ड को पकड़ा तो उनके हाथ की मुठ्ठी में आधा आया और आधा बाहर ही था.

मैं जैसे ही उठा, देखा कि आंटी मेरे लंड को मुँह में लेकर चूस रही हैं. मैं उसके लंड को मुँह में लेकर चूसने लगा, वो मेरे बालों को सहला रहा था और कभी कभी मेरे मुँह में, पूरा लंड पेलने की असंभव कोशिश भी करता था. डेविड तो पहले ही नंगा था, मगर मेरी चुत को चोद कर उसके लंड का जोश खत्म हो चुका था.

तब मैं बोली- बिंदु, अभी इसे झिझक है, जब उतर जाएगी तो फिर तुम भी इस के साथ जो चाहो कर लेना, मगर अभी हमें अपने रूम में जाने दो. तभी मैं प्रीति की चूत के सामने आ गया और अपना लंड प्रीति की चूत पर घिसने लगा तो प्रीति सिसकारी भरने लगी. दोस्तों क्या बताऊं उनकी गांड इतनी गोरी और गोल गोल थी कि मन करने लगा कि अभी खा जाऊं, पर नहीं खा सकता था.

मेरा घर गुडगाँव से 20 किलोमीटर दूर है, इसलिए घर वालों ने कहा कि अपनी बुआ जी के यहां रह ले.

नवीन भी नींद से जग गया था; उसने सर उठा के देखा तो मॉम उसका लंड चूस रही थीं. हाथों में ट्रे लिए दो युवक हमारी दिशा में आ रहे थे, मैंने काले रंग की कॉस्टयूम और लाल रंग की टाई लगा रखी थी.

भाभी देवर की सेक्सी बीएफ धीरे धीरे प्यार परवान चढ़ रहा था हमारा, हम अक्सर ही बाहर घूमने जाया करते थे. ”ओके…”चलो तुम दोनों ने मुझे नंगी तो कर ही दिया है, अब मैं कपड़े पहन कर अन्दर चली जाती हूँ.

भाभी देवर की सेक्सी बीएफ मैंने उसे इशारा किया तो वो मुझे पानी पीने के बहाने पानी की टंकी के पास मिल गई. और जरा अपने साहब को खुल्ला करो, कब से इस टाईट फिट पेंट में कैद करके रखा है.

मैं दंग रह गई कि ये लड़का मनीष कब मेरे घर पर आया और उसने मेरी वीडियो भी बना ली.

सेक्सी नंगी पिक्चर इंग्लिश

डॉली ने कहा- अभी तो हम इस घोड़े की सवारी कर रहे हैं और फिर एकता भी आ गई है, तो अभी तो इस को छोड़ नहीं सकते. फिर उनका छोटा बेटा जो करीब डेढ़ साल का था, वो जग गया, भाभी ने अपना ब्लाऊज खोला, अपनी मांसल चुची बाहर निकाली और उसे दूध पिलाने लगी. भाभी अपना गाउन पहन कर बाहर आईं और बोलीं- मैं चाय बनाती हूँ, तुम बाहर बैठो.

ऐसे ही एक दिन मैं रात को पढ़ाई कर रहा था, तभी चाचा जी रात के एक बजे किसी काम से बाहर जा रहे थे, चाचा जी को दरवाजे तक चाची जी भी नीचे आई थी. अधखुले आद्र और गुलाबी होंठों में बालों पर चढ़ाने वाला काला रबर-बैंड और बालों में बिजली की गति से चलती दस लम्बी सुडौल उंगलियाँ।यकीनन मेरी कुंडली में शुक्र बहुत उच्च का रहा होगा तभी तो रति देवी मुझ पर दिल खोल कर मेहरबां थी. किस करते करते मैंने उसके साड़ी का पल्लू नीचे किया और उसे लिटा दिया.

उन्होंने पहले तो मना किया कि नहीं, मुझे बहुत दूर जाना है और बस अभी थोड़ी देर में आती ही होगी.

तभी एक बिजली का करंट जैसा मेरे टट्टों में लगा, मैंने एक सुपर पावरफुल शॉट ठोका और एक विस्फोट के साथ मैं अलका रानी अलका रानी की चीख मारता हुआ झड़ गया. मैं समझ गया था कि चाची अपनी सहेलियों के संग चूची और चुत में रंग लगा कर होली खेलने की बात कर रही थीं. दिल्ली में मेरी एक सहेली किराये पर रहती है और वो मेरे साथ कॉल सेण्टर में जॉब करने जाती है.

मेरी आयु 18 साल की थी और मैं +2 की परीक्षा के बाद मामाजी के घर गया था. मगर आप तो जानते ही हैं ना कि जब लंड चुत में चला जाता है तो फिर वो जंग के मैदान में होता है, वहाँ प्यार नहीं बंदूक चलती है. पड़ोस की अर्चना भाभी भी शाम को अपने मायके किसी कार्यक्रम के लिए पूरे परिवार के साथ मुंबई गई हैं.

फिर खाना खाने के बाद हम कार में बैठे और मैडम ने एक कार पार्किंग में कार को पार्क किया. तो हुआ यूँ कि मेरी नजरें उस लड़की से मिलीं, मैं अभी तक उसका नाम नहीं जानता था.

पापा को भी एक चूत की ज़रूरत थी क्योंकि उनकी पत्नी (मेरी माँ) भी संसार छोड़ कर जा चुकी थीं. मामी को भी मज़ा आने लग गया और वो उम्म्म्म… अहह… अहह… उम्म्म्ममम… की आवाज़ करने लगी. जैसे ही मैंने अपने होंठ उसकी पंखुड़ियों पे लगाए, एक मादक सीत्कार पूरे कमरे में फ़ैल गई- आआआ आ आ ईई ई उम्म्ह… अहह… हय… याह… ई ई ई!उसका पूरा शरीर रोमांच और उत्तेजना से कांपने लगा था.

मैं किचन में गया, कोल्ड ड्रिंक की बोतल लेकर आया तो देखा कि भाभी ने टेबल के ऊपर दो गिलास और एक वाइन की बोतल रखी हुई है.

अंकल ने पूछा- अक्सर लड़कियां कैब में आती हैं?मैंने कहा- नहीं, हमारे ऑफिस में लड़कियां डे शिफ्ट करती हैं और मैं नाइट में गाड़ी चलाता हूं. तीसरे दिन मैं बोली- मैं आपको सतना बस स्टैंड में मिलूंगी, आप आ जाना और अपने मकान मालिक के पास ले चलना।तीसरे दिन मेरे मन में फिर से वही सब ख्याल आने लगा कि आज मुझे चोदेंगे मकान मालिक, सिर्फ उन्हीं का सोच कर मेरे अंदर कुछ खलबली सी और गुदगुदी सी भी हो रही थी, वो जो बोलकर गये थे, वही सब सोच-सोचकर मैं बिल्कुल अंदर से ना जाने क्यूं उत्तेजित हो रही थी, मेरी पैंटी गीली हो गई. तब मैंने उससे कहा कि जब पति पत्नी पहली बार बिस्तर पर मिलते हैं तो वो जो करते हैं, वैसा तुम करो.

पायल भाभी पागल ही हो गईं और मेरे बाल पकड़ कर अपनी चूत में मेरा मुँह दबाने लगीं. अब तक मेरा दर्द भी कुछ कम हो गया था और बिंदु माँ ने मुझे पूरी तरह से छोड़ कर अपने बेटे के हवाले कर दिया था.

थोड़ी देर आराम करने के बाद मेरे दिल में अलका रानी के शरीर का स्वाद चखने की तीव्र इच्छा जाग उठी. फिर वे अपनी नाक को मेरी चुत के पास लाए और अन्दर की ओर तेज़ साँस ली. दीदी टांगें खोलकर टेबल पर बैठ गईं और मैं कंडोम उतार कर दीदी की चूत में लंड पेलने लगा.

जबरदस्ती xxxx

मैं भी जानता था कि दीदी गर्भ ठहर जाने के डर से कह रही है कि वो चुदाई से प्रेग्नेंट ना हो जाए.

इब हमके पैसा कमाए के चलते एको कम्पनी में असिस्टेंट की नौकरी कर के पडैयी।सब कर्मचारी आपन आपन काम खत्म करके निकल चुकल रहेले. कुछ एक धक्के लगाने के बाद ही सोनी की चूत ढीली हो गयी।अब मैंने लंड को बाहर निकाला और फिर सीधा लेट गया, मुझे रेशमा की चूत चाटने में बड़ा मजा आ रहा था, इसलिये मैंने रेशमा से एक बार फिर मेरे मुंह पर आने को कहा और सोनी को लंड पर बैठने के लिये कहा. मैंने हँसते हुए कहा- मैडम जी कॉफी पीकर थोड़ी बहुत नींद अगर आती होगी तो वो भी भाग जायगी… कोई तकलीफ नहीं होगी मुझे… मैं ब्रांडी साथ लेकर आ रहा हूँ… कॉफ़ी में ब्रांडी मिला के लेंगे तो बढ़िया नींद की मेरी गारंटी.

मेरी सेक्सी कहानी के पिछले भागकाजल की चुदाई: दूध वाला राजकुमार-6में आपने पढ़ा कि कैसे मैं काजल को सुबह सुबह रत्नेश भैया की दूकान पर ले गया और वहां भैया ने कया किया. मैंने देर ना करते हुए पूजा की पेंटी में हाथ घुसेड़ दिया और चूत में दो उंगलियां घुसा दीं. सेक्सी परअब तक मेरी सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि ड्राईवर से मन भर गया तो मैंने एक और नए लंड की तलाश की जो मुझे मेरे कॉलेज में मिला.

मेरा गारमेंट्स का बिजनेस कुछ ठीक नहीं चल रहा था, मैं हमेशा दुखी और चिड़चिड़ा रहने लगा था. फिर मैंने जबरदस्ती भाभी की सलवार को बाहर निकाल दिया और अंडरवियर भी निकाल दी.

जैसे ही मैंने साड़ी ऊपर करनी चालू की, तभी नीचे से मम्मी ने मुझे आवाज लगाई और मैं सब कुछ छोड़ छाड़ कर वहाँ से भाग गया. मैं अपनी इन तस्वीरों को देखकर दंग रह गई कि इतनी सारी फोटो उसने कब खींची. मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसके दोनों तरफ घुटनो के बल बैठ कर पीछे से हाथ डाल कर चूचे पकड़ लिए, हौले हौले से उनको सहलाया.

मैं इस पिचकारी के लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थी और मुँह मेरा खुला हुआ था. कुछ देर तो मैंने बारिश रुकने का इंतजार किया, पर फिर बातों ही बातों में न जाने मुझे क्या सूझी. जब भी मैं उनके बदन की सॉफ्टनेस को फील करता मेरा लंड और भी ज़्यादा कड़क होता जा रहा था.

सेजल भाभी ने मेरी तरफ़ नाराज़गी से देखा- शर्म नहीं आती ऐसी हरकत करते हुए?उन्होंने गुस्से में आकर कहा तो मैं डर गया.

मैं रिक्शे से दूर थी, वो मुझे नहीं देख सका और रिक्शा लेकर आगे बढ़ गया. अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे सगे बेटे आशीष के दोस्त चंदर ने मुझे चोदने के बाद आशीष की माँ बिंदु को चोदने का मन बना लिया था और उसने रात को मुझे बिंदु के साथ आशीष से चुदते हुए देखा और बिंदु को धमकाते हुए चुदाई के लिए अपने कमरे में आने को बोला.

तभी दी ने मुझसे कहा- छोटू डेली मुझ पे चढ़ता है और जबरदस्ती मुझे चोदता है. पूनम तो एकदम से सिहर उठी और बोली- दीदी, बहुत अच्छा लग रहा है!और वो मेरी चूत को चाटने लगी. अगर आप चाहे तो हमें भी आपके जैसी ही कोई सुन्दर ब्लोंड, नीली आँखों वाली कमसिन दोस्त मिल सकती है!” आर्थर लड़की से मिन्नतें करने लगा.

वो बोली- बहनचोद भड़ुए… असली मर्द जब पिचकारी छोड़ते हैं, तो चूत से बहती रहती है. अपनी व्यस्तता के चलते मुझे पहले मालूम भी नहीं था कि मेरे पड़ोस में कौन रहता है. 5 फुट 4 इंच का भारतीय स्त्रियों का एवरेज क़द, सांवला रंग, बढ़िया नैन नक़्शे और मर्दों की क़ातिल फिगर.

भाभी देवर की सेक्सी बीएफ आंटी- तो फिर कौन से अच्छी लग रही है?मैंने कहा- मैं निकाल कर बताता हूँ. मेरी टी-शर्ट फाड़ दी तुमने तो…”आहह… जोर से दबाव…”आहह… तुम्हारा लंड मेरे पीछे चुभ रहा है हह…”तभी अंश ने मेरी लैग्गी भी फाड़ दी.

चुदाने वाली

दोस्तो, मेरा नाम आशु है और मैं हिसार, हरियाणा का रहने वाला हूँ। अभी पिछले कुछ महीने से ही मैं पंजाब से शिफ्ट हुआ हूँ। मैंने अन्तर्वासना पर लगभग सारी कहानियाँ पढ़ी है। आज मैं आप सब को मेरी आप बीती बताना चाहता हूँ, उम्मीद है कि आपको पसंद आएगी। गोपनीयता के लिए पात्रों और जगह के नाम बदल कर लिख रहा हूँ. वहां मुझे उस कंपनी के मैनेजमेंट की रिप्रेज़ेंटेटिव के साथ डील करनी थी. 5 इंच मोटा है, जो बहुत सारी लड़कियों और औरतों की प्यास बुझा चुका है.

कुछ ही देर में मेरा लंड अकड़ गया और उसका पैन्ट में रुक पाना दूभर सा लगने लगा. इसके बाद तो जब तक मम्मी वापस नहीं आईं, हमारा चुदाई का खेलभाई बहन का सेक्सचलता रहा और अभी भी चल रहा है. कैटरीना कैफ की सेक्सी फोटोसफिर एक दिन अचानक दोपहर में हम एक साथ बाथरूम गए और अन्दर जाने के बाद दोस्तों मैं बता नहीं सकता, दीदी की एक एक हरकत मुझे साफ महसूस होने लगी या शायद वो मुझे महसूस कराना चाहती थीं.

मेरी साली की जवान बेटी के साथ सेक्स की कामुकता भरी कहानी के पिछले भागस्त्री-मन… एक पहेली-3में आपने पढ़ा कि प्रिया मेरे घर में मेरे साथ अकेली है, रात हो चुकी है, वो मेरे बेडरूम में मेरे बेड पर है.

मेरा लंड जो फ्रेंची में नीचे सर करके उछल रहा था, उस वजह से तकलीफ़ हो रही थी, इसलिए मैंने उसे हाथ ऊपर करके सीधा किया. सब कुछ कैमरे में रेकॉर्ड हो रहा था और ये सब दो तीन एंगल से हो रहा था क्योंकि कैमरे फिक्स किए हुए थे.

तो छुट्टी लेकर मैडम के साथ हो लिया।नीना को सजते संवरते दो घंटे लग गए और हम लोग हॉस्पिटल करीब एक बजे पहुंचे। डॉक्टरों के हर केबिन में खचाखच भीड़ थी. फ़िर अपने बैग से वाइब्रेटर निकला और उनके पास जाकर घुटनों के बल बैठ गया. कमरे में नाइट बल्ब जल रहा था, मैंने देखा कि उसके मम्मे ऊपर नीचे हो रहे हैं.

जैसे ही मैंने उन्हें टावेल पकड़ाया, उन्होंने मेरे हाथ पकड़ कर अपने तरफ खींच लिया.

इससे हुआ ये कि मैं और गरमा गया और ज़ोर ज़ोर से पैन्ट के ऊपर से ही बिंदास अपने लंड की मुठ मार रहा था. प्रिया को इसका बराबर एहसास था और वो अपनी आँखें बंद कर के इस स्वर्गिक आनन्द के अतिरेक की अभिलाषा में बेसुध सी हो रही थी. मैंने उसको दस हजार रुपए भी यह कहते हुए दिए कि मैं आपके लिए और भाभी जी के लिए कोई गिफ्ट नहीं लाया हूँ.

साथिया टूकुछ दिनों के बाद जूसी रानी को दस दिन के लिए अपने मायके जाना था, तो मैंने सत्येन को भी एक लम्बे टूर पर रवाना कर दिया. मैं थोड़ी देर रुक गया और भाभी के लबों को किस करने लगा, फिर जैसे ही मुझे लगा कि अब उन का दर्द कम हो गया है, मैंने फिर एक शॉट दे मारा.

हरियाणा की चुदाई वीडियो

और थोड़ी देर बाद मैंने नीचे झुक कर मौसी की तपती चूत पर अपना मुंह लगा दिया और उसे चाटने लगा. स्वर्ण रस के छेद की खाल को ज़रा सा ऊपर खींच कर छेद को नंगा कर दिया और अपनी जीभ अकड़ा के ज़ोर से छेद पर टुकुर करके मारी. रात में तुम्हारे बॉस कब गए थे?वो बोली- विवेक?मैं बोला- अरे वो बॉस से विवक हो गया?वो बोली- ज्यादा दिमाग मत लगाया करो.

मेरी सेक्सी कहानी में आपने अभी तक पढ़ा कि मेरी कम्पनी में मेरा असिस्टेंट नया आया था. सच में दोस्तो, जो भी पति अपनी पत्नी को किसी और पुरुष के साथ देखना चाहते हैं, वो ही इस आनंद को महसूस कर सकते हैं जो मैं महसूस कर रहा था. फिर अपने होंठ उसके होंठों से मिलाएं और फिर उसकी एक चूची को अपने हाथ में लिया, उसके पैरों को अपने पैरों में लपेटा और एक हाथ से लंड को उसकी चूत पर सेट करके चूत पर सेट करके धीरे से धक्का लगा दिया.

धीरे धीरे नीचे आकर के मैंने उसकी चूचियाँ अपने मुंह में लेकर के चूसनी चालू की. मैंने अपने बैग से मुँह पे बाँधने वाली पट्टी निकाली जिसमें आगे बॉल लगा हुआ था. तभी उसका फ़ोन बजा, उसके घर से फ़ोन था, रात होने की वजह से उसे घर बुलाया जा रहा था.

उसकी गांड बहुत टाइट थी और और लंड घुसेड़ने में मेरी गांड फटी जा रही थी. कुछ ही देर में उसको मजा आने लगा और उसकी गांड ने मेरे लंड को जज्ब कर लिया था.

भाबी के पति रमेश भैया पेशे से इंजीनियर हैं और सविता भाबी हाउस वाइफ हैं.

करीब पन्द्रह मिनट तक उसके होंठ चूसने के बाद मैंने उसकी गर्दन कंधों को किस करते हुए, उसके बूब्स और उसके पेट को किस किया. चोदा चोदी कोमॉम ने अपनी गति को तेज़ कर दिया और तेज़ तेज़ नवीन के लंड पर उछलने लगीं. चोदते हुए दिखाओ वीडियोभाबी- मेरी ननद रानी, इतना क्यों शर्मा रही हो… कल से तुमको यही कपड़े पहने हैं. पूजा बोली- पापा, मैंने अन्तर्वासना पर कई सेक्स कहानी पढ़ी हैं और तब मुझे ये लगता था कि ये सब कहानियां काल्पनिक हैं, रिश्तों में चुदाई कैसे संभव है.

फ़िर रमन ने मेरे सर को पकड़ा और लंड को मेरे मुँह में डाले हुए ही मुझे फर्श पे लेटा दिया और वो मेरे ऊपर लेट गए.

मैं बहुत डर गई और मैं सुरेंद्र जीजा को बोली- प्लीज मेरे साथ चलना, प्लीज जीजा आप मेरे साथ रहना, वरना मैं अपने आपको नहीं छोडूंगी और भाग जाऊंगी।तो जीजा बोले- मेरा मन तो नहीं करता पर तुम कहती हो तो चलो तुम्हारे साथ चलूंगा।और जीजा कैसे भी तो तैयार हुए. जिसमें से बाकी के तो उसे मिलेंगे ही… और बताई हुई रकम से भी 10% निकाल लेगी. उसने ये कहते हुए मेरे 7 इंच के लंड को अपने लबों की गिरफ़्त में ले लिया और जीभ से चाटने लगी.

फिर मैं अपनी गाड़ी धीमी कर देता और वो बड़े आराम से मेरा लंड निगल जाती. दोस्तो, मैं बता नहीं सकता, सिर्फ इतने सब में मैं दिन भर उनको याद कर करके खूब मुठ मारता रहा. मगर तब भी उसने शालीनता के साथ कहा- मैडम, आपको केवल पजामी ही हटानी थी.

चूत में लंड

मैंने उसे बेड पर चित लिटाया और उसके दोनों पैर मेरे कंधे पर रख कर उसे चोदने लगा. अब मौसी ने मुझे ऊपर खींच लिया तो मैंने मौसी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए. अभी तक इस कहानी के पहले भागकोचिंग क्लास की कामुक यादें-1में आपने पढ़ा कि सरिता की कोचिंग क्लास की सहेली शिखा ने अपने दोस्त सतेंद्र के द्वारा चोदन का आनंद लिया।अब आगे की कहानी सरिता की ही ज़ुबानी.

खाने से बाद पानी पिया, और एक सेब लेकर सीट के पास ही खड़े हो कर खाने लगा.

मैं अभी भी सुबह की घटनाओं में ही डूबा हुआ था और मॉम मुझसे सवाल पूछ रही थीं.

मरीयम मैडम ने मुझसे पूछा- कुछ अपने में बताओ?मैंने बोला- मैं सैफ दिल्ली से हूँ. उस दिन अर्पिता ने स्कर्ट पहनी हुई थी, जो पानी के कारण ऊपर हो रही थी. कुर्ती कपड़ामैंने खुलते हुए कहा- ठीक है अगर तुम अनचुदी हो तो मैं किसी को कुछ नहीं बताऊंगा.

वह आज अस्पताल में होने की वजह से नहाया भी नहीं था इसलिये मस्त गाँव के जवान मर्द की खुशबू उसकी कड़क चुदाई होने का एहसास दिला रही थी. और कुछ देर बाद ही दीक्षा की चूत ने भी काम रस छोड़ दिया।उसके बाद मेरे लंड और पोते चूसने की कमान दिशा ने संभाल ली और उसके दूध प्रीति दबाने और चूसने लगी, दीक्षा ने दिशा की चूत पकड़ ली, उसमें एक उंगली डाल कर अंदर बाहर करने लगी और चूत के दाने पर अपनी जीभ चलाने लगी जिससे दिशा भी सिसियाने लगी. मेरी जान की कल्पनाएँ और फंतासियां, जो भैया पूरी नहीं कर पाए, वो मुझसे बता कर पूरी करने को कहती हैं… और मैं अपनी भाभी को चोद कर उनकी कामनाओं को पूरा कर देता हूँ.

उन्होंने पहले तो मना किया कि नहीं, मुझे बहुत दूर जाना है और बस अभी थोड़ी देर में आती ही होगी. मैंने उनकी टाँगों को मेरे कंधे पर रखा और लंड उनकी गांड के छेद पर सैट कर दिया.

मेरा किस करना शुरू हुआ तो भाभी भी मुझे चिपक गईं और किस में मेरा साथ देने लगीं.

बिस्तर की चादर पर मुट्ठियाँ कस रही थी, रह रह कर बिस्तर पर पाँव पटक रही थी, ऊँची ऊँची सिसकारियाँ ले रही थी, लम्बी लम्बी सीत्कारें भर रही थी. मैंने टांगें चौड़ी कर लीं, तो उसने दारू की बॉटल में से एक पैग निकाल कर मेरी चुत को चौड़ा करके उसमें डाल दिया. तीसरे दिन आंटी किसी काम से मेरे घर पर आईं और गलती से मैं उनके सामने आ गया.

देसी लंड की फोटो मैं उनको मना नहीं कर पाया और खाना खा कर अपने घर आकर दिल्ली के लिए तैयारी करने लगा. हम दोनों एक दूसरे को लगातार गरम करते रहते थे… लेकिन चुदाई का खेल नहीं हो पा रहा था.

बहुत अच्छा काम है आपका, और शब्द भी बहुत छांट कर लाए हैं आप!” नताशा मुस्कुरा कर बोली. मैंने आपको अपनी पिछली कहानीमेरे दोस्त का भाई मेरा पति बन गयामें बताया था कि मैं अमित जी से कैसे चुदा. तब आंटी भी आ गई और फिर मैं घर आ गई।[emailprotected]कहानी का अगला भाग:मेरे टीचर ने की मेरी पहली चुदाई-2.

सनी लियोन का सेक्सी मूवी

वह अपना सिर दाएं बाएं हिला रही थी जिससे उसके लम्बे बाल इधर उधर झटक रहे थे. पेट का काफी भाग साड़ी के पल्लू के पीछे से दिख रहा था और आधी पीठ तो नंगी थी ही. एक दिन उसने मुझे अपनी दिल की बातें बताई और बोला कि वो मुझे पसंद करता है लेकिन मैंने उसकी बात को हंस कर टाल दिया.

तो मेरे मन में बस एक बात की चिंता थी कि पता नहीं आंटी क्या काम कराएगी… मैंने आंटी से पूछा- बोलिए आंटी, क्या काम है?आंटी बोली- तुम्हें मुझे खुश करना है!यह बात सुनकर मेरी तो मानो आंखों में चमक ही आ गई, फिर ये सुनते ही मैंने उन आंटी को अपनी बांहों में ले लिया और उनके लाल लाल होंठों को चूसने लगा, उनकी चुचियों को मसलने लगा. भाभी घबराते हुए बोलीं- पानी गरम करने वाला गैस गीजर नीचे गिर गया और मैं घबरा गई.

मैंने कहा- पर तुम कुछ भी कहो, तुम्हारी चूत अगर अनचुदी होती तो इतनी ढीली नहीं होती, मेरी उंगली आसानी से अन्दर बाहर हो रही थी.

एक बहुत छोटा सा स्कर्ट और ट्रांसपेरेंट टॉप उसके साथ ब्लैक ब्रा पेंटी थी. मैंने जानबूझ कर इसे शब्द का प्रयोग किया था क्योंकि मैं उससे थोड़ा खुलना चाहता था. मैं तो मानो बेहोश होने वाला था लेकिन उसने मुझको संभलने का मौका नहीं दिया और एक लास्ट झटका दे मारा.

मुझे बाद में पता चला कि सर की वजह से प्रिंसिपल की बेटी को गर्भ ठहर गया था. दीदी ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी गीली चूत के छेद पर लगाया और मुझे जोर से धक्का मारने को कहा. भाबी ने मेरी हालत को भांप लिया और मुझसे पूछा कि अब तक कोई लड़की पटाई है या नहीं?मैंने ना में सर हिलाया, फिर वो किचन की ओर जाने लगीं.

मैंने उनकी टाँगों को मेरे कंधे पर रखा और लंड उनकी गांड के छेद पर सैट कर दिया.

भाभी देवर की सेक्सी बीएफ: दस मिनट तक भाभी की चुत चुदाई के बाद मुझे अब उनकी गांड मारनी थी, तो मैंने उनको डॉगी स्टाइल में आने को बोला. फिर हम दोनों जॉब से छूटने के बाद बाहर आए, मैं उसकी बाइक पर बैठ कर उसके साथ चल दिया.

क्या एजेंसियां इस बात की जांच करती हैं कि सिर्फ उन पुरूषों को आपका फ़ोन नंबर मिले, जो युवक सुन्दर हैं और अच्छी तरह से बात करने में माहिर हैं? नहीं. रश्मि गजब की सुन्दर 34-35 साल की पैसे वाली लेडी थी, जो गोरी और थोड़ी ‘चबी’ यानि गदराये बदन की थी. इस तरह से मैंने अपनी चूत को पूनम से चटवा कर साफ कराया और पूनम की चूत को साफ किया.

उसकी जो उंगली मेरी गांड को सहला रही थी, वह एकदम से मेरी गांड में घुसा दी.

पर मैंने उसके होंठों पर कोई रहम नही किया… मैं ज़ोर ज़ोर से उसके होंठ चूम रहा था और वो भी ज़ोर ज़ोर से मेरे होंठों को अपने मुख में ले रही थी. शावर से ठंडा पानी निकलते ही कामिनी विवेक से चिपक गई और बोली- बहुत बद्तमीज हो यार. तभी मुझे रिझाने के लिए वो अपनी सैंडल ठीक करने के बहाने झुकी, तो उसकी गांड देखने लायक थी.