इंसान जानवर की बीएफ

छवि स्रोत,सलमान खान बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

जनावराची सेक्सी: इंसान जानवर की बीएफ, तीन धर्मों का पवित्र पानी एक साथ मेरे अन्दर जाता, लेकिन क्या करूं?’‘वाह क्या मस्त बात की है कामिनी.

1 घंटे की सेक्सी बीएफ

मैंने उससे पूछा कि उसको मेरी सर्विस कहां पर चाहिए तो उसने बताया कि वह दिल्ली में ही मिलना चाहती है. बिहारी लड़की का बीएफ वीडियोअचानक भाभी ने मुझे मुट्ठ मारते हुए पूरा नंगा देख लिया और बोली-ये क्या है??मेरी तो गांड फट गई कि अब क्या होगा और मुझे ज्वाइनिंग के लिए उसी दिन शिप पर भी जाना था.

मैं- जब तुम ही मना कर रही हो, तो और कोई कैसे बन जाएगी?अवनी- चलो छोड़ो बताओ, कैसा जॉब चाहिए आपको?मैं- जिसमें प्यार और पैसा दोनों हों. सेक्सी बीएफ भाभी के साथमैंने भी उनका साथ दिया और फिर बेड पर ही एक दूसरे को अपनी जुबान निकाल कर किस करने लगे.

यह बात 4 महीने पहले की है, जब मैंने एक ऐप डाउनलंड की थी, जिसमें हम जिससे चाहें, उससे चैट कर सकते थे और वीडियो कॉल भी कर सकते थे.इंसान जानवर की बीएफ: कुछ ही देर में वो दुबारा झड़ गईं और मैंने खड़े होकर अपना लंड उनके मुँह में दुबारा दे दिया और उन्होंने भी अपने अनुभव का फायदा उठाते हुए मेरे लंड को चूस चूस कर पूरा खड़ा किया और उसे थूक से सराबोर करके तैयार कर दिया.

मेरी चचेरी बहन की चूत चाटते हुए जो कामरस बाहर निकल रहा था उसका स्वाद मेरे मुंह में आना शुरू हो गया था.मैंने कहा- मुझसे अभी भी गुस्से में हो यार?वह बोला- नहीं गुस्सा नहीं हूं.

बीएफ हिंदी भाषा में बीएफ - इंसान जानवर की बीएफ

मैं ओके कहा, तो वो झट से नीचे लेट गई और बोली- अब जल्दी से चढ़ जाओ और डाल दो.मैंने भाभी से पूछा- क्या प्रोफेसर साहब का इतना बड़ा नहीं है?तो भाभी कहने लगी- प्रोफेसर साहब तो नाम के ही आदमी हैं, बाकी उनमें कुछ नहीं है, उनका लंड तो बिल्कुल छोटा सा है, लगभग 3 या साढ़े 3 इंच का होगा और वह भी उनके टट्टों के अंदर ही घुसा रहता है.

फिर मैंने पोजीशन बनाई और अपने खड़े लंड को भाभी की गर्म चूत पर लगा दिया. इंसान जानवर की बीएफ मेरी मम्मी ने भाभी को मेरे लिए खाना बनाने और मेरा ख्याल रखने को बोला और वो गांव चली गईं.

उसने कहा- ठीक है, आज तो तुम अपनी पहली रात इसके साथ गुजारो, फिर सोचना.

इंसान जानवर की बीएफ?

यह बोलते बोलते मेरे लंड ने लम्बी पिचकारियों के साथ अपना गाढ़ा माल उनके मुँह में उगल दिया. जब मुझसे रहा नहीं गया तो मेरे मन में पता नहीं क्या आया कि मैंने सीमा की चूचियों को दबाना शुरू कर दिया. भैया भी मेरे पास आ के खड़े हो गए और मुझे और मेरे पूरे नंगे शरीर को देखने लगे.

देखने में संजीव भी अच्छा था मगर जो लड़का गाड़ी चला रहा था उसे देखकर तो मैं यही कहूंगा कि संजीव अगर 19 था तो उसके बगल वाला 24 था. अब मुझे ऐसा लगने लगा कि मैं थोड़ी ही देर में अपना सारा पानी उड़ेल दूंगी. सच में कितनी सुन्दर लग रही थी वो, बस उसके चेहरे पर हल्का सा डर का भाव था, साथ ही उसके चेहरे पर मिलन को लेकर हल्की सी मुस्कराहट भी थी.

फ़िर हम भरे मन से एक दूसरे से गले मिले और दुबारा मिलने का वायदा करके मैं वापस अपने घर के लिए निकल पड़ा. मेरा लंड उसकी चूत में अंदर घुस गया और वो भी मेरे गोद के मजे ले रही थी. मैंने भी पानी से उसकी चूत को साफ़ किया और बड़े से बाथटब में उसको लिटा कर उसकी चूत को चाटना चालू कर दिया.

मैंने भी बदले में उसे कस कर चिपकाते हुए उसकी गांड दबाते हुए चूम लिया. इधर अब्दुल मेरी चूत में अपने हाथी जैसे लंड से मेरी चूत की बेदम चुदाई कर रहा था.

पीछे गांड में उसका लंड चुभ रहा था और हाथ से मेरी चूत के पास दबा रहा था.

सारा काम छोड़कर उसने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और वो लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसते हुए अप-डाउन करने लगी.

उधर रिसेप्शन की तैयारी चल रही थी और शाम को रिसेप्शन के बाद एक बजे करीब भाभी को वापस रस्म बाकी रहती हैं, कुछ उसके लिए ले गए. फिर जब मेरे तीनों साथी चले गए, तो उससे मैंने मुस्कुरा कर पूछा- कैसी हो, मेरा काम कैसा लगा?तो उसने बड़ी बेबाकी से कहा- फौजी भाई, निन चन्ना माड़तिया. कुछ महीने बाद मुंबई से एक साक्षात्कार का प्रस्ताव आया और कुछ ही दिन बाद मुझे चुन लिया गया.

राहुल ठोकर पर ठोकर मार रहे थे और मेरी चूत फचफचा रही थी। राहुल मैं झड़ रही हूँ … आहह्ह्ह … ठोको अपना लंड … चोदो … फाड़ दो मेरी चूत. बाद में उसका दो बार कॉल आया, तो मैंने कॉल रिसीव नहीं किया और फ़ोन को साइलेंट कर दिया. वो अपना लौड़ा अपने हाथ से रगड़ते हुए मेरे सामने आ गया और अब्दुल से बोला अब्दुल भाई इसकी चुदाई जरा उठ कर करो.

ससुर और शौहर के जाने के बाद घर में लोग भी कम हो गए थे और इस कारण कपड़े भी कम ही होते थे जिनको हम नीचे बालकनी में ही सुखा देते थे.

एक बात है कि जितना मज़ा पूरे कपड़ों के साथ आता है, उतना मज़ा नंगे हो कर नहीं आता है. मेरे बॉयफ्रेंड ने दरवाजा खोला, तो पाया वो हम दोनों के लिए खाना लाया था. फिर मैंने उसकी नाइटी के ऊपर से ही उसकी चूचियों को दबाना और मसलना शुरू कर दिया.

मेरी आंखें खुल बंद हो रही थीं … क्योंकि मेरे पति ने मुझे कभी न तो मसला था और ना ही मेरी चूत को अपने हाथ या मुँह से छुआ था. उन्होंने मेरी चूत और गांड पोंछ पोंछ कर सब साफ कर दिए और मेरे कपड़े भी दिए. कुछ देर सोचने के बाद मैंने भाभी से कहा- मैं तो कंडोम लेकर आया था लेकिन आपने तो मेरे पैसे बचा लिए.

भाभी की आंखें पहले ही नशीली थी और जब उनके ऊपर सेक्स का खुमार चढ़ा तो उनकी आंखें बिल्कुल ही शराबी की तरह से हो गई.

सब लोग खुश हो गये और आंटी के साथ मैं उनके तबेले की तरफ गया जहाँ पर आंटी ने भैंसों को रखा हुआ था. बेशक उसका पहला ओर्गाज्म था, सफर लम्बा था मगर उसको एक लड़की होने का अधूरा अहसास तो हो ही गया.

इंसान जानवर की बीएफ जब एक बार यह तय कर लिया कि उन दोनों को छूट देनी ही है तो फिर मन से सब नैतिक अनैतिक निकाल दिया। कभी शादी से पहले यह सब वीणा ने भी किया ही था और मेरी बेटी भी इंग्लैंड में रह रही है तो क्या करती न होगी। यह सब जवानी की सहज स्वाभाविक प्रतिक्रियायें हैं जिनका आनंद सभी ले रहे हैं। मैं नहीं ले पाया तो यह मेरी कमी थी. मैंने देखा कि मिशिका के फोन में रिशु नाम के एक लड़के का मैसेज आया हुआ था.

इंसान जानवर की बीएफ भाभी- अरे तुम भी ना चिंता मत करो … तुम इतने अच्छे हो, तो मेरा भी मन लग जाया करेगा … और खाने की दिक्कत भी नहीं है, मेरे यहां ही खा लिया करना. ये सब देख कर झा जी को जोर का झटका लगा और वो तुरन्त उठ कर वॉशरूम चले गए.

वो कहे जा रही थी- बहुत मजा आ रहा है मास्टर जी … आप तो कमाल हो … इहम्म आह्ह … आज से मैं आपकी हुई … काश ये सुख मुझे पहले मिलता, आज मुझे किसी असली मर्द से चुदाई का अहसास हुआ है.

मारवाड़ी सेक्सी चूत में लंड

सारिका की कामुक सिसकारियां और बढ़ गईं और वो अपने पैरों को फैला कर अपनी चूत को ऊपर उठाने लगी. ब्लाउज खुलते ही उसके कसे हुए मम्मे ऐसे बाहर उछल आए, जैसे दो कबूतरों को पिंजरे में रखने के बाद जैसे आजादी मिल गई हो और कबूतरों ने उड़ने की कोशिश की हो. हितेश और पापा जी के ऑफिस जाने के बाद मैं सीधा सासू माँ के कमरे में गयी … देखा वो कोई मैगजीन देख रही थीं.

कैसे लगी मेरी कहानी, आप कमेंट्स और मेल लिख कर मुझे अवगत कराएं!तब तक आप सभी चुतों को मेरे लंड का चुदाई भरा नमस्कार. मेरे प्यारे दोस्तो, मेरी सच्ची कहानी आपको कैसी लगी, मेल करके जरूर बताना, फिर मिलेंगे. एक तरह से ये पल मुझे ताकतवर होने का एहसास करा रहा था, जो मुझे अच्छा लग रहा था.

मैंने उस सेठ के लौंडे की तरफ देखा तो उसी ने उनको मेरे बारे में बताना शुरू कर दिया कि यही वह लड़की है, जो उस दिन स्टोर पर मिली थी और मैंने आपको इसी की फोटो दिखाई थी.

उसकी गांड का तो कहना ही क्या! इतनी सम्मोहित करने वाली गांड थी कि अगर कोई छक्का भी देख ले तो उसका भी औजार तनकर नब्बे डिग्री के एंगल पर खड़ा हो जाये।दिखने में भले ही वो कटरीना कैफ न हो परंतु सेक्सी इतनी थी कि उसे देखते ही उसकी गांड में अपना लंड डालने का मन हो उठे। वैसे मेरा और निहारिका के बीच सेक्स बहुत छोटी ही उम्र से चलता आ रहा था। मगर यह शरीर तक नहीं पहुंचा था. अब मैं जोश ने आकर बोल रही थी कि आह फाड़ दे मेरी आज गांड … मैं रंडी बन चुकी हूँ. इसके बाद मेरी नौकरी पक्की हो गई और उसकी सहेलियों के लिए मैं एक आइटम बन गया.

दोनों ने इस मस्त चुदाई के बाद कुछ देर आराम किया और कुछ देर तक एक दूसरे से चिपक करके यूं ही लेटे रहे. भाभी की गांड के अन्दर ढेर सारा सरसों का तेल डाल कर उंगली डाल के देखा आसानी से अन्दर बाहर हो रही थी. उसने कभी घोड़ी बन कर चुदाई नहीं करवाई थी, इसलिए इस अवस्था में उसकी बुर थोड़ी कस गई थी.

लेकिन शायद यह उम्र का फर्क होगा, मेरी बीवी उस समय 25 साल की थी और मीशा अभी 18 की है. हैलो फ्रेंड्स, मैं संजय सिंह, उम्र 32 साल, लुधियाना पंजाब का रहना वाला हूँ.

जहाँ उनके उछलने से मुझे लेटे लेटे ही चुदाई का आनन्द मिल रहा था, वहीं उनकी उछलती हुई बड़ी बड़ी चूचियां लंड में और उबाल ला रही थीं. रिशु इधर-उधर देखते हुए मिशिका के मुंह में लंड को अंदर बाहर कर रहा था. मैं मादक सिस्कारियां निकालने लगी और वो मेरी चूत को चाटने के बाद मेरे जांघों को मसलने लगा.

उन्होंने मुझसे पूछा- कब से हो इनके साथ?मैंने कहा- चार साल हो गए हैं.

इसके बाद मैंने 69 में होकर अपना लंड मामी को थमा दिया और मैं उनकी रसभरी चूत को चाटने लगा. मैंने भी हंसते हुए उनका हाथ पकड़ लिया- लगता है भईया जी, पैसे कमाने के चक्कर में अपने घर का खजाना लुटा देंगे … आप इतनी खूबसूरत हो भाभी जी, कौन मर्द भला, घर से बाहर रह सकता है. फिर उसने धीरे धीरे ऋतु को चोदना शुरू किया और बाद में अपनी स्पीड बढ़ा दी.

मैंने उसे टोकते हुए बोला- यार अब मैं सच की बात कर रहा हूँ और तुम वही पुरानी बात बता रही हो. शारदा ने कहा- आज से आप ही मेरी गांड के मालिक हो और मेरी चूत के दूसरे हक़दार भी.

उनका सामान गाड़ी में रखने के लिए तुझे हेल्प करनी है … वो कल शाम को वापस आएगी … समझा कुछ. मेरी पिछली कहानी थीअपने पड़ोसी के मोटे लंड से चुदीअब मैं अपनी कहानी सुनाने जा रही हूँ. मैंने अपने लंड के मोटे सुपारे को उसकी गांड के छेद पर टिकाया और उसके कूल्हों को ज़ोर से जकड़ कर एक ज़ोर का धक्का लगाया.

सेक्सी फिल्म फकाफक

चलो कोई बात नहीं मेरे गोलू मोलू अभी लिख कर भेजती हूँ, तुम भी अब एक काम करो अपने लंड पर मेरा नाम लिखो और फोटो भेजो.

अब मैंने अपना ग्लास उठाकर एक घूँट अपने मुँह में भर लिया और अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. उसने मिशिका के सिर को पकड़ लिया और उसके मुंह में तेजी से लंड को चुसवाने लगा. तभी डेविड ने फिर से धक्का मारा और अब उसका 2 इंच लंड और अन्दर घुस गया.

लगभग 20 मिनट तक उसने मेरी चूत की चुदाई की और फिर उसके लंड के धक्के और ज्यादा तेज हो गए. जब से मैं अपने पति के दोस्त से चुदी थी, तब से मेरा बहुत ज्यादा मन किसी दूसरे आदमी से चुदवाने का करने लगा था. इंग्लिश वीडियो बीएफ बीएफलेकिन अब धक्के ठीक से नहीं लग पा रहे थे … तो मैंने उसकी दूसरी टांग के नीचे से हाथ डाला और दोनों हाथों से उसको गांड से पकड़ कर उसे उठा लिया.

थोड़ी देर बाद वो वापस मुझे किस करने लगी और मेरे लंड के साथ खेलने लगी. पापा ने पलंग के नीचे देखा, फिर पलंग को हाथों से उठा कर उल्टा कर दिया.

उसने मेरा सिर दबा दिया और मैं उसकी चूत में जीभ रगड़ कर उसके गर्म-गर्म पानी का स्वाद लेता रहा. वो बोला- वन्द्या, तू बहुत सेक्सी है, जब तू चिल्लाती है, तब लगता है कि तुझे और जम के चोदूं. आंटी बोली- विकास आज तूने मुझे खुश कर दिया।बहुत दिनों के बाद उनकी चूत की खुजली शांत हुई थी तो आंटी भी काफी खुश लग रही थी.

यह मेरा काम थोड़े है दोस्त। बस शौकिया कर देता हूं अगर चीज पसंद आई तो … उम्मीद है कि मेरी बात समझेंगे।मेरे पते वही हैं:[emailprotected]https://www. फिर तो ऐसा हो गया कि वो जब भी अपने बेटे से मिलने के लिए आती थीं, तो मुझसे जरूर बात करती थीं. सच कहूँ तो एक बार मैं बुरी तरह से डर गई एवं अनहोनी की आशंका से मेरा रोम रोम कांप उठा क्योंकि उसके हाथ में एक प्लॉस्टिक का डिल्डो था जो कि बिल्कुल इंसान के लंड जैसा था.

वो मस्त हो गई और अपने दांत दबाते हुए अपने हाथों से अपने मम्मे को मेरे से चुसवाने का मजा लेने लगी.

तू वहां बारात की स्वागत में नहीं जा रहा … यहां सैटिंग के साथ जमावट जमा रहा है. बिस्तर ठीक करने के बाद बाथरूम में जाकर एक दूसरे के जिस्म पर लगे पानी को साफ़ किया.

मैंने उनको समझाया, तो कुछ देर बाद मान गईं और बोलीं- कल उसको बिलासपुर आने को बोलूंगी, अगर आ गई तो ठीक है. उसने ट्रान्सपेरेंट (आर-पार दिखाई देने वाली पारभासी) नाइटी पहनी हुई थी. मैंने अब उसके पजामे में हाथ डालने की कोशिश की, तो उसने मना कर दिया.

कुछ घंटे बाद बारिश बंद हुई, मैं बाज़ार गया और सलहज के लिए एक स्वेटर खरीद लाया और साथ में एक ब्रा भी ले आया. फिर मैंने उसके पैरों को फैलाया और उसकी चूत को देखकर मेरा हाल बुरा हो गया … बिल्कुल साफ़ वाइट कलर की और उस पर पिंक कलर का क्लिट देख कर दिमाग़ खराब हो गया, उसने मेरे लिंग को देखा और बोली- वाह… इससे तो मज़ा आ जाएगा. कुछ ही देर में मेरी बीवी की भोसड़ी ने भी शायद पानी छोड़ दिया था, जिसकी वजह से चुदाई की आवाज कमरे में गूंज रही थी.

इंसान जानवर की बीएफ लेकिन अगर मैं उसे ये सब पहले बता देता तो शायद वो मुझे अपनी सील पैक चूत में लंड डालने नहीं देती. आह्ह … उसके होंठों को चूसते हुए उसकी चूचियां दबाने में जो मजा आ रहा था वह मैं शब्दों में यहाँ पर कैसे बताऊं! मैं तो जैसे जन्नत में था उस वक्त.

सेक्सी ब्लू फिल्म सेक्सी हिंदी

मैंने जानबूझकर बाथरूम का दरवाज़ा लॉक नहीं किया था ताकि भाभी मेरे बाथरूम में नहाने के लिए आए और मुझे इस हाल में देख ले. जब बात हम तक पहुंची, तो हमने भी सच का पता लगाने के लिए ऑफिस में बिना किसी को बताए कुछ जगहों पर कैमरे लगवा दिए. कुछ मिनट पश्चात् उसकी गति बढ़ गई और मेरी योनि में उसके मूसल लिंग का चोदन अपने चरम पर पहुंचने की दिशा में बढ़ने लगा.

वो पहले ही इतनी गर्म हो चुकी थी कि ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं पड़ी और वह भी मुझे जोर जोर से चूमने लगी. मैंने कहा- मेरी रानी, अब ये तुम्हारा भी है … आज रात इसके पूरे मजे कर लो. बीएफ एचडी वीडियो में हिंदीमैं- अरे परेशान मत हो आप, रुको व्हाट्सऐप में कुछ भेजता हूँ, जरा उसे देखना … फिर बताना.

जब हम दोनों एक साथ झड़े तो बहुत अच्छा लगा और वो वहीं मेरे ऊपर ही ढेर हो गयी.

जब वो शांत हुईं, तो मैंने उन्हें डॉगी पोज़िशन में होने को कहा और वो झट से हो भी गईं. आज मैं इसी को लेकर अपनी कहानी आपको बताना चाहती हूँ और आशा करती हूँ कि यह कहानी आपको पसंद आएगी.

मेरी चुचियां दबाते हुए मेरे गाल चूमने लगा और मेरे लहंगे का नाड़ा खोल दिया. मैंने उसकी साड़ी ऊपर को खिसका दी और वाणी ने और आगे खिसक कर लंड को अपनी चुत में घुसा लिया. मैं मस्ती से भाभी के मुँह को चोदने लगा और वो भी मेरा पूरा साथ देने लगीं.

लंबी सी ब्लू कलर की टाइट कुरती पहने थी, जिससे उसका पूरा भरा भरा फिगर दिख रहा था.

वो दोनों दुकान में काम करने वाले मुझसे बोले कि मैडम आपको आराम करना हो या बैठना हो तो बैठ सकती हैं. फिर अन्नू और डोली भी अपनी ट्रेनिंग पूरी करके दस दिन की छुट्टी ले कर मुंबई आ गईं. फिर मैंने अपनी जीभ को उनकी चूत पर लगाया और उनकी चूत को दाने को चूसने लगा, जिससे वो जल्द ही उत्तेजना के ज्वालामुखी पर सवार हो गईं.

एक्स एक्स एक्स बीएफ वीडियो बीएफमैं उनके सामने खड़ा हो गया और हमने एक दूसरे को सब कुछ भूल कर चूमना शुरू किया. कुछ तो मौसम और बारिश का असर था और कुछ पहले दिन का बढ़िया एक्सपीरियंस था जिसके कारण सोनू मेरा साथ देने लगी.

चिल्लाने वाली सेक्सी फिल्म

उसने मेरा टी-शर्ट अन्दर हाथ डाले और मेरे स्तनों को मसलने लगा और बोला- मेरी जान तेरे लिए मैं जान दे सकता हूं. पति बाहर काम करने जाता था, कई दिनों में आता था, तो पहली पत्नी की शिकायत पर मंजू की पिटाई करता था. ऋतु- क्या?मैं- क्या सर? गांड मारने का?रवि- हां …मैं- पर सर ऋतु ने आज तक कभी गांड नहीं मरवाई है.

मैंने कहा- अब क्या करना है, आपका दम तो सारा निकल गया?उसने फिर डरते हुए स्वर में कहा- मैं किसी और तरीके से आपको खुश करना चाहता हूँ. सोनू खुश हो गयी लेकिन उसका ध्यान बार-बार मेरे लोअर में उठे लंड की तरफ जा रहा था. तब उसने मेरी सीधी टांग को सिर के जोर से दबाया और दूसरी टांग को पकड़ अपने दूसरे हाथ के कांख में दबा कर जोर जोर से उंगली चलाने लगा.

कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए नीचे दी गई मेल आई-डी का प्रयोग करें. हम दोनों जब कंपनी से बाहर निकले तो शिखा कहने लगी कि उसके सिर में दर्द हो रहा है और उसका सिर बहुत भारी सा लग रहा है. उसकी गांड दबाते हुए मैंने उसे बिस्तर पर ले जाकर लेटा दिया और उसके ऊपर लेट गया.

मैं चुपचाप सर के लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी। मैं चाहती थी कि वो जल्दी-जल्दी मुझे फ्री कर दें। लेकिन सर ने मेरे मुंह को ही चोदना शुरु कर दिया. अभी थोड़ी देर बाद यह खुद ही जोर लगाने लगेगी और चूतड़ उछाल उछाल कर चुदवाएगी.

इस इवेंट से ये हुआ कि हम दोनों लड़कियों को चूत के लिए लंड लेने की आजादी हो गई.

दो औरतें और चार आदमी काम कर रहे थे, उसमें वो भीमजी अंकल न था, ये भी बहुत अच्छा हुआ. सील तोड़ने वाली बीएफ एचडीरेखा के लड़के सोनू को अपने आगे बिठाया और रेखा मेरे पीछे बैठ गई।थोड़ी दूर जाने पर मैंने रेखा को बोला- सोनू को ठीक से पकड़ कर बैठ जा।तब रेखा बोली- गाड़ी रोको. सोनाक्षी सिन्हा बीएफ वीडियोफिर ज़रीना भी उठी और मेरे लंड के ऊपर बैठ गयी, धीरे धीरे मेरा लम्बा लंड उसकी चूत में समां गया. आंटी कुछ ही देर के बाद जोर से चीखती हुई झड़ गई और मेरा लंड अब पूरी तरह आंटी की चूत के रस से नहा गया था.

भाभी मेरे बाथरूम में नहाती और मेरे रूम में ही कपड़े पहनकर निकल जाती.

जैसे लड़की मूवी में अपने बॉयफ्रेंड का लंड चूस रही थी, वैसे मैं भी उस जवान लड़के का लंड चूस रही थी. मैं समझ गया था कि आंटी मुझसे पक्का चुदवाएंगी तो मैं भी मौका ढूँढने लगा. मैं कुछ भी कहने की हालत में नहीं थी और वह मेरे पिछवाड़े में जोर से रगड़ने लगे.

फिर अपनी एक टांग उठा कर उसने खुद ही मेरा लंड अपनी चुत में घुसा लिया और धक्के मारने लगी. घर का दरवाजा खुला ही था, मैंने देखा कौशल्या ने लाल रंग टाइट नाइटी पहनी हुई थी. नाईटी भाभी के चूतड़ों को आधा ढके हुए थी और आधे चूतड़ दिखाई दे रहे थे.

सेक्सी चूत मारने वाली वीडियो

वो मेरे ऊपर बैठ गई और वो अपने दूध मेरे सीने से रगड़ कर मुझे कामवासना का अहसास दिलाने लगी. फिर अपना एक तरफ से आधा शरीर नंगा करके एक तरफ के चूतड़ और मम्मे दिखाने लगी, फिर जल्दी जल्दी पूरे बेड पर उलटने पलटने लगी. अब मेरी चूत बिल्कुल ऊपर उठ गई थी। मेरी चूत बिल्कुल छत की सीध में आ गई थी.

इस बीच मेरी गांड उठ कर उसके लंड को भी अपनी चूत की चाशनी चटा रही थी.

भाभी बोली- जब स्कूटर पर बैठा कर जान-बूझकर झटके मारते हो, तब तो नहीं शरमाते.

मौका देख कर मैंने उसके बाक़ी के कपड़े उतार दिए और उसकी चूत में उंगली डाल दी. हम दोनों ने कैसे चुदाई की और आज भी कैसे चुदाई करते हैं, ये सब मैं आज आपको अपनी इस सेक्स कहानी में बताऊँगी. अंग्रेजी सेक्सी एचडी बीएफसुबह उठा तो देखा कि रिंकी अपने मायके यानि मेरी बुआ के घर जाने की तैयारी कर रही थी.

हल्के से झटकों के साथ ही आंटी भी मुझे चूमने लगी, कहने लगी- चोद सौरभ … मुझे चोद दे … चोद-चोद कर अपने वीर्य से मेरी चूत का कुँआ भर दे. अब मेरी सलहज फिर से गर्म होने लगी और पीछे से गांड हिला हिला कर लंड लेने लगी. शाम को जब मैं बाहर दिल बहलाने के लिए जाने लगा तो दीदी ने मुझे चाय पीने के लिए टोक दिया.

ज्यादातर में साड़ी ही पहनती हूं, लेकिन कभी कभी विलायती पहनावे वाले कपड़े जैसे जींस शर्ट, लॉन्ग स्कर्ट, लॉन्ग वन पीस ड्रेस, भी पहन लेती हूं. सबसे ज्यादा मज़ा मुझे इसी पोज़ में आता है। उन्होंने फिर अपना लण्ड मेरी चूत के मुँह पर रखकर एक जोर का धक्का मारा.

मैंने धीरे से हाथ नीचे ले जा कर उसके ब्लाउज़ के सारे हुक खोल दिये और उसकी चुचियो को मसलते हुए उसके निप्पलों को खींचने लगा.

वह मेरी बात सुनकर हँसता हुआ बोला- अच्छा! इतनी तारीफ तो मेरी गर्लफ्रेंड ने भी नहीं की मेरी. हल्के से झटकों के साथ ही आंटी भी मुझे चूमने लगी, कहने लगी- चोद सौरभ … मुझे चोद दे … चोद-चोद कर अपने वीर्य से मेरी चूत का कुँआ भर दे. मैंने उनसे पूछा- मैं आने वाला हूँ, कहाँ निकालूँ?तो उन्होंने कहा- चुत में मत गिराना!तो मैंने उनसे कहा- अपना मुंह खोलो, आपको मलाई पिलाता हूँ.

हिंदी बीएफ सेक्सी चुदाई वीडियो किस करते करते मैं उसकी गर्दन को भी चूमने लगा और उसके कान पीछे चूमने लगा. क्या मस्त लग रही थी वो … कुर्ते के नीचे उसकी नंगी गोरी गोरी जांघें बहुत सेक्सी लग रही थीं.

लेकिन फिर भी पहली चुदाई में होने वाले दर्द से डर कर मैं बोली- मैं हाथ जोड़ती हूं अंकल मुझे जाने दो. वह अपने हाथ से अपनी बुर को मींजे जा रही थी तथा मुँह से अजीब अजीब आवाजें निकाले जा रही थी ‘आआआह … ऊउम्म्म म्म्मम … आईईई … सीईईईईसीई. अगले 3 दिन बाद क्या हुआ और मैंने क्या गिफ्ट दिया सलहज को … और उसने मुझे कैसे खुश किया, वो सब अगली कहानी में बताऊंगा.

বেঙ্গলি সেক্সি ব্লু

उसने मुझे हग किया, जिससे उसके टाईट बूब्स मेरी छाती में गड़ गए और मेरे जिस्म का भी उसने नाप ले लिया. इस बार चुदाई का खेल लम्बा चला और आंटी ने अपनी चूत की खुजली मिटवा कर ही छोड़ा. मामा भी पापा के साथ ही बातें करने में लगे हुए थे और माँ मेरी मामी के साथ बातें कर रही थी.

जब कुछ मूत उसने चाट लिया तो मैंने उसकी गांड पर जोर से चपत मारी जिस से वो नीचे गिर गई। नीचे गिरते ही उसने मेरी तरफ देखा तो मैंने उसको एक फ्लाइंग किस दी तो उसने जवाब में ऐसे किया कि जैसे वो मेरा लंड चाट रही हो नीचे से ऊपर तक। फिर मैंने उसको बोला कि जान मैं अब तुम्हारी चूत को चूसूंगा. इस दौरान भाभी को पता भी नहीं चला कि मैंने कब उनका पेटीकोट उतार दिया.

बस कभी कभी मन होता था कि चली जाऊं उनके पास और बिछ जाऊं उनके सामने, वो मुझे बेरहमी से अपने आगोश में लें, मेरी योनि को अपने लिंग से भेदें, अपने मर्दाना हाथों से मेरे नितंबों को मसल दें, मेरे कूल्हों को बेरहमी से निचोड़ दें, मुझे अलग अलग आसनों अच्छे में पूरी बेरहमी से चोदें और मैं बस सिसकारियां लेती रहूं, आहें भरती रहूं और झड़ जाऊं.

उसने पूछा कि क्या करना है आगे?मैं बोला- जो तुम चाहो, मैं सब कर सकता हूं. कुछ देर तक चुप रहने के बाद … मैं- जब आपको सब पता था, तो क्यों किया आपने ये सब मेरे साथ, जब आपके लड़के को लड़कियों में कोई इंटरेस्ट है ही नहीं … तो क्यों मेरी जिंदगी बर्बाद की आपने?इतना बोलते बोलते मेरी आँखों से आंसू निकलने लगे. आप यकीन मानिए कि पूरे 25 मिनट तक वो मेरे लंड को चूसती रहीं और इस दौरान उनका पानी खुद की चूत में उंगली कर लेने से निकल गया था, जिस वजह से वे पूरी मस्ती से मेरे लंड को सुख दे रही थीं.

वो भी मेरे साथ उठी और उसने मेरे लंड और अपनी चूत को कपड़े से साफ किया. यदि तुम बिना गिव एंड टेक के मेरा काम करवा दो तो ये मेरे लिए और भी अच्छा होगा. यार मैंने जब उन्हें देखा तो माशाअल्लाह क्या बताऊँ … वो तो बला की खूबसूरत थी.

मैं समझ गया कि मैडम को सर्विस चाहिए- ओके, बोलिये कब और कहां मिलना पसंद करेंगी आप?कल्पना- विज्ञापन के जरिये मुझे आपके बारे में काफी कुछ पता चल गया है, बस अभी तक आपकी फोटोज नहीं देख पायी हूँ, क्या मैं आपकी तस्वीर देख सकती हूं?मैं- हाँ, जरूर … बोलिये मैं आपके साथ अपनी फोटोज कैसे शेयर करूँ?कल्पना- आप अपना व्हाट्सएप नंबर दीजिये, मैं आपको सामने से मैसेज करती हूं, फिर आप अपनी फोटोज भेजिए.

इंसान जानवर की बीएफ: लेकिन इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता, उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर नाइटी के ऊपर से ही अपनी चुत के ऊपर रख दिया और दबाने लगी. मैंने ये अंदाज ऐसे लगाया क्योंकि उसके पास कोई एंड्राय्ड फोन नहीं था.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम सम्राट है और अन्तर्वासना की कहानियाँ पढ़कर मुझे भी अपनी सच्ची दास्तान सुनाने की इच्छा हुई. उसने कोई विरोध नहीं किया।मैं उसका गाउन कमर तक ऊपर करके उसकी गाण्ड पर हाथ फेरने लगा। वो और भी गर्म होकर मुझसे चिपक गई। फिर मैंने उसका हाथ पकड़ कर नीचे मेरे बरमूडे के ऊपर से मेरे 7″ के बाबूराव पर रखा. मुझे कल्पना ने जिस बिल्डिंग का नाम बताया था, वो 21 मंजिल की एकदम शानदार बिल्डिंग थी.

उसकी मोटी सी टांगों की वजह से आंटी की संकरी चूत में मेरे मोटे लंड को अन्दर जाने में मुश्किल हो रही थी.

ऐसा कहते हुए उसने मुझे और तेज जकड़ा और पीछे से पकड़ कर मेरी गांड से लिपटने लगा. उसने मेरी तरफ देखा और उसे एकदम से न जाने क्या हुआ कि उसने बड़ी हिम्मत करके मेरी चूत को देखना शुरू कर दिया. पापा बोले- वर्षा तुम मेडीकल से माया के लिए दर्द की गोली और मुंदीचोट वाली मलहम ले आना, गोलियां अभी खिलाना होगा.