भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,छोटे बच्चे के जूते

तस्वीर का शीर्षक ,

इज्जत कैसे लूटी जाती है: भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी, मैंने अभी इतना ही कहा था कि वो मुझे जोर-जोर से मारने लगा और कहा- नाम मत ले उस रंडी का!तो मैंने कहा- भाई धीरे.

हिंदी सेक्सी मूवी एचडी वीडियो

वो मुझे रोकने लगी, कहने लगी- यहाँ नहीं… बेडरूम में चलो!हम दोनों बेडरूम में गये, जैसे ही बेडरूम में गये मैंने उनको अपनी बांहों में ले लिया और चूमने लगा. अंग्रेजों की सेक्सी फिल्म दिखाओजिससे अब तक दो बार वो झड़ चुकी थीं। मैंने भी उनकी फुद्दी की सारी क्रीम चाट ली और अपने लंड का रस भी उनके मुँह में छोड़ दिया, जिसे आंटी बड़े स्वाद लेकर खा गईं।फिर थोड़ी देर बार वो फ़्रिज़ से दो बियर लाई.

किसी न किसी काम से मैं मेरी कज़िन सिस्टर से बात करने के मौके ढूंढने लगा. हंसी मजाक की कहानियांपर मैं सिर्फ एक बार करूँगी फिर कभी नहीं!मैंने कहा- ठीक है।इस तरह आंटी सेक्स के लिए मान गई।दोस्तो आंटी के बारे में क्या बताऊँ उनकी उम्र 45 साल है और वो देखने में किसी माल से कम नहीं हैं।फिर मैंने झट से आंटी के होंठों को किस किया और हम दोनों ने एक-दूसरे को बांहों में भरकर देर तक चूमाचाटी की।माहौल गरमाने लगा.

क्या मस्त चूसती है तू, क्या बोलती है तू इसको?’ वो अपना लिंग हिलाते हुए बोला.भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी: ’नीचे के रूम की घिसाई हो गई थी, पर ऊपर के रूम का कुछ भी नहीं हुआ था.

मुझे आपके बिना रहना बहुत मुश्किल होने लगा है।3) मेरे दिल में बार-बार सिर्फ आपका ही ख्याल आता है। उस दिन के बाद आजतक मैं ठीक से सोई नहीं हूँ। मुझे आपके साथ टाइम गुजरना अच्छा लगने लगा है। प्लीज़ नाराज मत होना.ब्लाउज ऐसा कि क्लीवेज तो बस कहर ढा रही थी।रास्ते भर हम दोनों बात करते रहे। मैं उसको छेड़ता रहा, मैंने कहा- यार लेट्स सेलिब्रेट रोड साइड!कहती- पागल हो.

सेक्सी वीडियो छोटी - भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी

प्रिय अन्तर्वासना पाठकोअप्रैल 2017 में प्रकाशित हिंदी सेक्स स्टोरीज में से पाठकों की पसंद की पांच सेक्स कहानियाँ आपके समक्ष प्रस्तुत हैं…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए…पूरी कहानी यहाँ पढ़िए….तब भी बैठी रही। बार-बार गड्डे में गाड़ी गिरने से दादा जी के हाथों का कसाव और अधिक होने लगा।मैंने महसूस किया कि दादा जी का लंड खड़ा हो चुका था.

जब मेरा लंड शांत हुआ, मैंने अपना पजामा उठाया और वहाँ से निकालने की सोची. भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी तुमने मुझे अच्छा दोस्त समझा पर मेरे मन में तुम्हारे लिए पाप उमड़ा उसके लिए माफी चाहता हूँ। तुम अपनी जिंदगी में हमेशा खुश रहना, तुम्हारा सुधीर!मेरे पैरों तले जमीन खिसक गई.

फीमेल पाठिकाएं यह भी बता दें कि उनकी चूत गीली किस तरह की सेक्सी कहानी से होती है ताकि आने वाले समय में मैं वैसी कहनियाँ लिख पाऊं!अगर किसी के पास कोई ऐसी घटना है जो सेक्सी कहानी के रूप में लिखवाना चाहे तो भी वो मुझे बता सकते हो!आपकी ईमेल के इंतज़ार में.

भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी?

उसकी चूत नहीं।उसने नीचे खुद को देखा और शर्मा कर कमरे में चली गई। फिर वो तैयार होकर नीचे आई और बाइक पर बैठ गई।मेरी हालत खराब हो रही थी. यह हिंदी चुदाई स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!उसके बाद मैडम और आइस क्रीम खाने लगी. और मैं उसके ऊपर उलटा होकर चढ़ गया। अब मैं 69 में होकर उसकी चूत चाट रहा था.

मैं रुक गया और उसके दूध चुसकता रहा।वो फिर से मस्त होने लगी तो कुछ ही देर में मैंने अपना पूरा लंड अपनी बहन की चुत में घुसेड़ दिया। वो फिर चिल्ला उठी- मर गई. नताशा ने अपना मुंह पूरा खोल लिया और अनातोली भयानक रफ़्तार के साथ मुठ मारने लगा, चरम की ओर दौड़ते हुए तोली चिल्लाने लगा- मुंह खोलो. हम दोनों चूत चुदाई का खेल जरूर खेलते।मेरे पड़ोस में चूंकि वे लोग किराए से रहते थे। जब उसके पापा के तबादला हो गया तो शीला को परिवार सहित दिल्ली छोड़ कर ग़ाज़ियाबाद जाना पड़ा।आपको मेरी सेक्सी स्टोरी अच्छी लगी या नहीं, मुझे मेल कीजिएगा।[emailprotected].

सुनील ने पहले तो न नुकर किया और फिर सुनीता के ज्यादा जोर देने पर वाशरूम में घुस गया. वो मुठ मारती जा रही थी और बीच-बीच में सुपारे के ऊपर अपने नाखून गड़ा देती, मुझे बहुत मजा आ रहा था. जब मेरे छोड़ने का वक्त आया तो वो बोली- चुत में ही छोड़ो… आज अपने लंड के पानी से नहला दो मेरी चुत को…मैं भी उसकी चुत में झड़ गया.

फिर मैंने धीरे से उसके ऊपर हाथ रख दिया, वो शायद सो गई थी, मैंने धीरे से हाथ फिराना चालू किया. तो कुछ करके मरूं!मैंने आंटी को कमर से पकड़ लिया, वो एकदम से चिल्लाईं- यह क्या कर रहा है तू?मैं कुछ नहीं बोला और आंटी को उठा कर बिस्तर पर गिरा दिया।आंटी बोलीं- तू पागल हो गया क्या? ये सब क्या है?तो मैं बोला- चुप कर.

गंदी गालियाँ और वो डर, जिससे मेरी भी गांड फटी जा रही थी कि कहीं पापा या अंकल ना आ जाएं।उसके दो दिन बाद ही मैं दिल्ली से वापस आ गया। फिर मैं आंटी से 2 साल बाद मिला, लेकिन इस बार आंटी ने चुदवाया नहीं, मैंने भी ज़्यादा कुछ नहीं बोला।तो दोस्तो.

मैंने कहा- फिर?कहती- तू साले मेरे मज़े ले!मैंने कहा- साली तू गंदी औरत… तू क्यूँ बता रही है?कहती- यार तुझपे भरोसा है, तू अपना खास दोस्त है.

वो बोलीं- हाँ, ऐसे ही!यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने फिर वही किया तो गांड उठा के बोलीं- ऐसे ही!फिर ऐसे ही कुछ धक्कों के बाद वो मुंह से आह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह करने लगी और गांड उछालने लगीं. फिर तो मुझे और मजा आने लगा, चाची ‘आआ ऊऊ आआआ चोद चोद और चोद…’ बोल बोल कर चुदवा रही थी. कुछ ही पलों में मेरा जॉकी कहीं दूर पड़ा था, मेरा 6 इंच का लंड कोमल के हाथ में था.

ये तो काफ़ी मज़ेदार है।भाभी मादक सिसकारियां लेने लगीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ दो मिनट में उनकी चुत से तरल पानी निकलने लगा और उस चुतरस की महक बहुत अच्छी थी। मैं भाभी कि चुत का रस चाटने लगा।फिर मैंने अपने कपड़े उतार दिए, मैं भाभी से बोला- अब आप मुझे भी मज़े दिला दो और मेरा लंड भी चूसो ना।उन्होंने लंड चूसने से साफ़ मना कर दिया। मैं भी कमीना था. जब जोहा पूरी तरह नींद के आगोश में थी तो मैंने उस मौके का फायदा उठाया, मैंने अपने हाथों से उसके कपड़े को चूतड़ के ऊपर कर दिया. अचानक उसने मेरा बोबा दबा दिया, मुझे कुछ हुआ, मैं लेट गई, वो ऊपर आकर चूमने लगा.

साथ ही उनकी खीर की कटोरी लेकर आ गया। मैं उसमें लंड डुबा कर मुठ मारने लगा। मैंने मुठ मारते हुए सारा वीर्य मामी की खीर में गिरा दिया। इसके बाद चम्मच से खीर को हिला दिया, इससे मेरा वीर्य खीर मिक्स में हो गया। फिर मैंने उसी जगह पर कटोरा रख दिया।मामी नहा कर आईं और बोलीं- बेटे खीर खाई?मैं बोला- नहीं.

और इन लोगों को आंख मार दी।भूमि मिनी स्कर्ट और डीप गले का टॉप पहन के आई. और इन लोगों को आंख मार दी।भूमि मिनी स्कर्ट और डीप गले का टॉप पहन के आई. उसके घर वालों से भी घरोबा हो गया और उसके मम्मी-पापा को भी मैंने सारी बात बता दी थी। अंजलि के साथ रहकर उसे भी मेरी सारी कहानी पता चल गई। फिर वो मुझे अच्छी फ्रेंड मानने लगी। हम दोनों इतने मिल-जुल गए कि पूछो मत।’‘फिर.

वो मेरे करीब वापिस आकर गुस्से में बोली- सुनो!मैंने कहा- बोल?बोली- दो चीजें कभी मत करना. ये विचार मेरे व्यक्तिगत विचार थे… हो सकता है पाठक इससे इत्तेफ़ाक ना रखते हों!कहानी जारी रहेगी. माँ अपने रूम में सोने चली गई तो उन्होंने कैमरा देखा और उसे उठा कर देखने लगी तो उसमें माँ और उनके यार का वो वीडियो चल गया.

दो मिनट बाद मैंने पिचकारी उसके मुंह में छोड़ दी और वो मेरा सारा पानी पी गई.

धकापेल चुदाई होने लगी।कुछ ही देर में वो एक बार झड़ गई थी। इसके बाद जब मेरा झड़ने का टाइम आया… तो मैंने उससे बोला- कहाँ निकालूँ?तो बोली- मेरी चूत में ही. तो गलत कहाँ है?‘लेकिन, वो सब लड़कियाँ हैं? लड़कियां कैसे एक-दूसरे से प्यार कर सकती हैं?’मैंने सवाल किया, तो वो बोली- देख अगर एक लड़की लड़के से प्यार करे तो सब जानते है यह प्यार है, मगर क्यों होता है यह प्यार? क्योंकि सबको जरूरत होती है अपने तन-मन की प्यास बुझाना.

भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी मैंने भी झट से अपने कपड़े उतार लिए और अपना लंड उनके हाथ में दे दिया. वो वहां से गई नहीं, मुझे लगातार देख रही थी, और फिर जब मैं नहा के लंड पौंछ रहा था तो उसके मुंह में पानी आ रहा था.

भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी मैं तुमको अपनी बांहों में भरना चाहता हूँ।वो बोली- आज रात स्टोर रूम में एक बजे मिलूंगी।मैं अपने कमरे में बेसब्री से एक बजने का इंतजार करने लगा। जैसे ही एक बजा, मैं उठा कर स्टोर रूम की तरफ गया। उससे पहले वो वहाँ पहुंच चुकी थी।वाह क्या माल दिख रही थी वो. उसके मम्मे अब और भी मस्त और बड़े हो गए थे।एक दिन हम सब पकड़म-पकड़ी खेल खेलने लगे, जिसमें बार-बार मेरा हाथ उसके मम्मों पर जाता और मैं उसके मम्मों को दबा देता.

तो यह थी मेरी सच्ची सेक्सी कहानी! मेरी इस पहली कहानी में आपको मजा आया? हो सकता है आपको मेरी यह कहानी अधूरी लगी हो लेकिन जो हुआ मैंने लिख दिया.

ester expósito hot

बस कुछ और चीज़ का बुखार चढ़ गया है।मैं उसकी कातिल मुस्कराहट से समझ गया कि उसको किस चीज़ का बुखार है। क्योंकि जब मैं उसको सहारा देकर उसके घर ले जा रहा था. तब मैंने सोचा कि हो सकता है ऊपर वाले ने शायद कुछ बेहतर ही सोचा होगा मेरे लिए और मैंने दोबारा कोई गर्लफ्रेंड इसलिए नहीं बनाई कि अब जब भी मेरी शादी होगी तब ही सही… पर मैं अपनी पत्नी के अलावा किसी और से संबंध नहीं बनाऊंगा. मानो ऐसा लग रहा था कि बुर की चुदाई की पूरी तैयारी से आई हो।मैंने जैसे ही अपना हाथ उसकी बुर पर लगाया.

उसका विकराल लंड अभी ढीला होने के बावजूद भी किसी मोटे सांप जैसा लग रहा था. मेरे पति नितिन पाटिल 32 साल के मुझसे 8 साल बड़े हैं, मेरे जितनी हाइट है और दिखने में गोरे और हैंडसम हैं, उनका खुद का बिज़नेस है, हमारी शादी को 2 साल हुए हैं।हमने अपना बंगलो पेंट करने का फैसला लिया और हमारे 4bhk बंगलो को रंगने का काम एक पेंटर को दिया, वो पेंटर कॉन्ट्रैक्ट लेता था और जरूरत के अनुसार दो तीन पेंटर भेज देता था, उसके और जगह पे भी काम चालू थे. मुझे पता था आप आज जल्दी आओगे क्यूँकि मैंने सुबह आपको बात करते सुन लिया था और मैंने आज छुट्टी ले ली.

उसकी आँखें बंद थीं। मैं उसके बड़े-बड़े मम्मों पर होंठ लगा कर चूसने लगा। वो और गनगना गई.

देवर जी बड़े शैतान हैं आपके दांत!मैं अब भाभी के ऊपर चढ़ कर उन्हें चूम रहा था. अमूमन इतनी जल्दी मैं झड़ता नहीं… लेकिन वंदु ने चुदाई से पहले मेरे लंड को इतना तड़पाया और सहलाया था मैं भी झड़ने के कगार पे आ चुका था ‘ओह्ह्ह… वंदु… उफ़्फ़्फ़्फ… मैं भी आयाऽऽऽऽ’और दो-तीन तेज़ झटकों के साथ मैंने वंदु की चूत में अपने लंड का उबलता हुआ लावा उगल दिया. मेरी हिंदी चुदाई स्टोरी में दो लोग हैं, एक मैं और दूसरी मेरी टीचर प्रिया!प्रिया बहुत ही सेक्सी लेडी थी जिसे देखते ही सबके होश उड़ जाते.

लेकिन मैंने उसकी माँ को नहीं बताया।फिर हमारी बात यूँ ही चलने लगी।एक दिन उसकी मम्मी से मैंने बोल दिया- जब मैं आपके घर आया था. वो लंड को गपागप करके चूसने लगीं। अब मेरा लंड बहुत टाइट हो चुका था।मैंने मौसी की चुदाई का अगला कदम बढ़ाने को कहा. मैंने आंटी का हाथ पकड़ कर रोका, तो वो तो बस गुस्से से लाल हो गईं और मुड़ कर मुझे एक और थप्पड़ मार दिया, जिससे मुझे गुस्सा आ गया।आज तक मेरे पापा ने मुझे नहीं मारा और इस साली ने मुझे दो झापड़ मार दिए।अब मैंने सोच लिया कि मरना तो है ही.

लेकिन तभी एक और उससे भी दमदार धक्के ने मेरी पत्नी की गांड को फाड़ दिया. यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो अपने पति को एअरपोर्ट छोड़ के आई और मुझे अपने साथ अपने घर ले गई.

मैंने उसे कहा- अपनी साड़ी पेटिकोट ब्लाउज और ब्रा उतार दो!तो उसने मना कर दिया. चाचा और चाची और मम्मी पापा ने मुझे कहा कि अब मनीषी का ख्याल मुझे ही रखना पड़ेगा जब तक वे लोग शादी से वापिस ना आ जाएँ!यह कह कर वो सब शादी में चले गये और वे अगले दिन दोपहर को ही आने वाले थे. फिर प्रिया ने कहा- इतनी देर तक सो रहे हो?मैं हड़बड़ा गया! मैं कुछ नहीं बोल पा रहा था।प्रिया ने फिर कहा- इतनी देर तक क्यों सो रहे हो?मैंने कहा- ऐसे ही… आज नींद नहीं खुली।वो मेरे बगल आकर बैठ गई और हम इधर- उधर की बातें करने लगे।इतने में हिना चाय लेकर आ गई।मैं फ्रेश हो आया, फिर हमने साथ में चाय-नाश्ता किया.

मैंने रीना को रूम में इस बहाने से छोड़ा कि मोबाइल में रिचार्ज करवाना है और सीधा नीचे एक वाइन शॉप पे गया.

तब मैंने उनकी उठी हुई गांड को ललचाई निगाहों से घूर कर देखा तो सुहाना भाभी को समझ में आ गया कि मेरी क्या मंशा है।उन्होंने तुरन्त बोला- बहुत ही गंदे हो तुम. आज स्कूल की छुट्टी का टाईम हो गया है, मयंक आता ही होगा, मैं तुम्हें सारी बात कल बताऊंगी।और हमने बाय-बाय करके फोन रख दिया।मैं उत्सुकता वश दूसरे दिन का इंतज़ार करने लगा।दूसरे दिन मेरा इंतजार 11 बजे खत्म हुआ, भाभी का काल आया- हाय संदीप कैसे हो. 5″ लंड खा गई, उसकी सील टूट गई, वो रोने लगी और कहा- मुझे नहीं चुदना… प्लीज इसे बाहर निकाल लो!मैंने उसको चूमना शुरू किया और चूमते चूमते लंड को आगे पीछे करने लगा और पूरा लंड अन्दर डाल दिया.

और कुछ देर बाद जब हम दोनों दोस्त वहीं बैठे उसे एक्टिव चलाते हुए देख रहे थे. मैंने उसके लंड को पकड़ कर हिलाना चालू कर दिया।मैंने कहा- तुझे और मज़े चाहिए?तो उसने हाँ कर दी.

वो मेरे फॉर्म में भरी जाने वाली डिटेल्स को बहुत ध्यान से देख रही थी. लेकिन 2 घन्टे हो गए, तब भी स्नेहा जोर से रोती ही जा रही थी। मैं फिर से उसके पास जाकर उसे शांत करने लगी. थोड़ी देर बाद मैं धीरे धीरे अपनी गांड को हिलाने लगा और उसकी चूत चुदाई करने लगा। वो धीरे धीरे सिसकारियाँ भरने लगी- अहह उम्म्ह… अहह… हय… याह… धीरे! धीरे!मैंने अपने झटके फ़ास्ट किये और जोर जोर से रिया को चोदने लगा, वो चिल्लाती रही परंतु मैंने एक न सुनी, अपने झटके चालू रखे.

ब्लू सेक्सी सीन वीडियो

मैं एकदम पागल सी हो गई थी।मुझे इससे पहले अपने चूचे दबवाने में कभी मजा नहीं आया था।हालांकि मुझे ये कहने में कोई गुरेज नहीं है कि मेरी चूत की सील खुली हुई थी जिसको मेरे पहले ब्वॉयफ्रेंड ने खोली थी.

फिर खुद बाइक पर मुझसे चिपक गई और मेरी जाँघों पर हाथ फेरने लगी।उसके ऐसा करने से मैं बहुत गर्म हो गया. मैं भी जोश में आ गया और उनका ब्लाऊज निकाल दिया, दोनों बूब्स को दबा के चूसने लगा. vip भी अन्तर्वासना वालों की है तो मैं इस साईट की क्वालिटी के बारे में आश्वस्त था, मैंने पैसे खर्चा करने में देर नहीं लगाई क्योंकि मुझे पता था कि मेरे पैसों से मुझे एकदम झक्कास मजा मिलेगा.

मैंने उसे उठाया और बताया कि उसकी बहन ने उसे नंगी देख लिया है, वो अपने कपड़े पहन तुरन्त नीचे चली गई और हम दोनों उसे पटाने लगे कि किसी को ना बताना!मैंने उसे कुछ रूपये भी दिये और घुमाने ले जाने और नये कपड़े का लालच दिया पर वो कुछ नहीं बोली. फिर कुछ दूर चलने के बाद उसने कहा- कहीं अकेले ले चलो जहाँ कोई न हो!तो मैंने कहा- ये मेरा शहर तो है पर मुझे ऐसी किसी जगह के बारे में नहीं पता!उसने कहा- ठीक है, तब हम स्कूटी पर चलते चलते ही बातें करते हैं. bhabhi सेक्सी’ की आवाज़ निकल रही थी।फिर मैंने थोड़ा लंड और अन्दर किया तो उनकी आँख बंद हो गईं। मैंने उनके कंधे पकड़ कर ज़ोर से धक्का मारा तो उनकी चूत से खून निकल पड़ा।दर्द की अधिकता से थोड़ा रुकने के बाद फिर से खेल शुरू हुआ। अब वे मुझसे लिपट गईं और होंठों को पीने लगीं।अब मैं उन्हें चोदे जा रहा था और वे ‘आअहह.

वो मेरी आँखों में आँखें डाल कर मुस्कुराने लगी। हम दोनों में मूक भाषा में बात हुई और हम दोनों ऊपर चले गए।एक कमरे में बैठ कर हम दोनों बात करने लगे। बात करना तो बस एक बहाना था. ‘भाभी मनीष जागेगा तो नहीं? वह अभी भी होगा रूम में?’‘सो रहा है वह गहरी नींद में!’ उसने मुदस्सर की गोद में बैठते ही उसके मुँह से मुँह लगा दिया, दोनों स्मूच करने लगे.

मुझे अपनी माँ के साथ चुदाई की कहानी को खुल कर लिखने में थोड़ा संकोच हो रहा था।आप मुझे मेरी सेक्स स्टोरी के बारे में मेल कीजिए।धन्यवाद।[emailprotected]. वीडियो की आवाज सुन कर मैं जल्दी से उनके रूम में आया और पूछा- अभी कोई आवाज सी आ रही थी?माँ कैमरा छुपाने लगी तो मैंने एकदम से कैमरा ले लिया और उनके सामने ही वीडियो चालू कर दिया. क्या आप एक बार देख लेंगे?मेरी वाइफ ने कहा- जाकर देख लीजिए।मैं तो बहुत खुश था कि अकेले में मिलने का मौका मिल रहा है। मैं उसके घर गया और कम्प्यूटर को खोल कर देखा तो काफी धूल जमा थी।धूल झाड़कर उसे ऑन किया तो ऑन तो हो गया, पर स्क्रीन में कुछ दिख नहीं रहा था। मैंने सीपीयू खोला और रैम को निकाल कर साफ़ करके लगा दिया.

मजा आया या नहीं, मुझे लिखना जरूर।मेरी यह चुदाई की कहानी जारी है।[emailprotected]. असली नाम नहीं बताऊँगा तो चलो उसका नाम मधु रख लेते हैं।दीदी की ननद मधु उस समय 25 साल की थी, पर अभी तक उन की शादी नहीं हुई थी. ‘बेटा तो नहीं है न? और इतना ही बेटा मानती हो तो उसे नौकरों की तरह क्यों रखती हो? फिर बेटा नहीं माँ के दुख दूर करेगा तो क्या दुश्मन करेंगे?’ तरन ने प्यार भरी आवाज़ में रमा से कहा।‘बोल तो तुम सही रही हो… मैंने उसके साथ बड़ा बुरा बरताव किया है पर दीदी मेरा दिल नहीं मानता.

’‘हाँ हाँ… तभी तो मैं मालिश कर रही थी… अगर तुम किसी को नहीं बताओगे तो मैं तेल लगा कर तुम्हारे नुन्नु की मालिश कर दूंगी!’‘मम्मी कसम नहीं बताऊंगा.

उसके नजदीक जाकर मैंने रशियन में उसका अभिवादन किया तो उसने मुझे बैठ जाने को कहा. मैंने उसकी शर्ट ऊपर की हुई थी और चुची चूस रहा था। वो बहुत गर्म हो रही थी.

और वो दोनों मेरे साथ मजाक करने लगी, मस्ती में उन्होंने कहा- अब तू जवान होने लगा है, कुछ नई चीज देखने मिलेगी तुझे. बहुत मजा आता है जब दो जवान लड़कियों के साथ सेक्स करो… जब दोनों तुम्हारे लंड के लिए लड़ती हैं… पागलों की तरह चूसती हैं… उसका अलग जोश और मजा आता है. मेरी व्यक्तिगत इच्छाएँ जब मुझ पर हावी हुई, तो मैंने हाथ बढ़ा कर मेरी इच्छाओं की पूर्ति का इज़हार तुमसे किया… क्योंकि में उस वक्त पूरी तरह से अपनी ही अनियंत्रित इच्छाओं की गिरफ्त में था और किसी भी तरीके उनको नियंत्रित करना चाहता था.

मैंने धीरे-धीरे भाभी के मम्मों को दबाना शुरू किया। भाभी का एक चुचा मेरे मुँह में था और दूसरा हाथ में!भाभी की मादक सिसकारियां निकली पड़ रही थीं। मैं भाभी के मम्मों को जब अपने दाँतों से काट लेता तो भाभी के मुलायम मम्मों पर लाल निशान बन जाता।फिर मैं जीभ से उसे चारों ओर चाटता और चूसता था. कितनी जल्दी हम दोनों कितने करीब आ गए।फिर दिमाग वही सब फिल्म की तरह चला कि हमारी छेड़-छाड़ से हुई शुरुआत. नींद तो आ रही है।मैं मुंडी खुजाने लगा।उसने मुझसे भी कहा- तुम भी यहीं पे सो जाओ।मैंने झट से कह दिया कि अगर कुछ हो गया तो मुझे मत कहना कि तुमने ये किया या वो किया।तो वो हंस कर बोली- ऐसा क्या करोगे तुम.

भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी उसकी चूत फट गई… मैं कुछ देर रुका, फिर उसे किस करने लगा, जब वह कुछ शांत हुई तो मैं फिर धक्के देने लगा।अब वो कुछ कुछ मस्ती में आने लगी- उम्म्ह… अहह… हय… याह…अब वो खुद अपनी चूत, चूतड़ हिला हिला कर लंड अन्दर बाहर कर रही थी- ऊउह्ह्ह ह्हम्म… मज़ा आ रहा है. पता नहीं उस वक्त मुझे क्या हो जाता था।मैंने कहा- सो डोंट यूँ एंजाय गेटिंग फक्ड?तो कहती- मुझे नहीं पता कि इसे लड़कियाँ पसंद करती हैं या नहीं… मुझे इतना मालूम है कि वे जोर जबरदस्ती पसंद नहीं करती हैं।मैंने कहा- आज फिर पूरी रात तुम्हारे साथ चुदाई करूँ?तो कहती- पूरी रात.

एक्स एक्स एक्स सेक्सी भाभी की चुदाई

प्रिय पाठको,मेरी बहन है सनी लियोनी से भी ज्यादा सेक्सी चुदक्कड़कहानी को मिले अच्छे कमेंट्स के बाद पेश है हॉर्नी लंड की तरफ से एक और हिंदी चुदाई की कहानी।यह बात तब की है. मित्रो, क्या बताऊँ, जैसे ही मैंने उसकी चुत को छुआ वो एकदम सिहर कर काम्प गई और जोर से मुझे अपनी बांहों में भींच लिया. पहली बार जल्दी पानी निकल जाता है।अगले कुछ मिनट तक हमने बातें की और एक-दूसरे को किस भी किया। कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से तैयार हुआ और उस रात हमने 3 बार और देसी तरीके से चुदाई की.

और फिर दीदी बाथरूम चली गई और थोड़ी देर बाद कपड़े पहन कर आई तो मैंने देखा कि ब्रा और पेंटी उनके हाथ में ही थी. ? सब लोग दोस्त ही तो होते हैं।मैंने कहा- भाभी मैं उससे प्यार भी करता हूँ. हीरोइन सेक्स हीरोइन सेक्सउसने मुझे कमर से उठाया और मेरे पेट के नीचे तकिया रख दिया और चोदने लगा, मैं यहाँ उफ्फ हम्फ अफ कर रही थी.

मैं धीमे से दरवाजा खोल कर बाहर निकल गया, और पड़ोस वाले रूम का दरवाजा खोल कर अन्दर घुस गया.

’मैं भी अपने होश खो बैठा और जोर से झटके मारने लगा। वो भी मजे ले-ले कर चुद रही थी। पूरा कमरा उसकी कामुक आहों से गूंज रहा था। ऐसा लग रहा था। जैसे मैं जन्नत में हूँ।सोमी फिर से झड़ चुकी थी। फिर मैंने लंड बाहर निकाला और उसके मुँह में पेल दिया, वो बड़ी मस्ती से मेरा लंड चूसने लगी।फिर मैंने उसको घोड़ी बनाकर चोदा।‘आ आ. मुझे भी नहाने जाना है।कुछ देर में मैं तैयार हुआ तो मामी बोलीं- अब मैं नहाने जा रही हूँ.

अंजलि- क्या यार, आप बैठ क्यों गए? कितना अच्छा डांस करते हो आप!मैं- अंजलि, बहुत हो गया, अब हमको घर चलना चाहिये!अंजलि- नहीं हम सुबह घर जायेंगे… क्योंकि हम ड्राइविंग नहीं कर सकते, पुलिस पकड़ सकती है. लेकिन रीना कहाँ मानने वाली थी। उसने मुझे चुदाई करने को कहा क्योंकि इसके बाद उसे भी तो चुदवाना था। साली की चुदी-चुदाई चुत कुलबुला रही थी. अब उसकी रूममेट मेरा लंड चूस रही थी और मेरी गर्लफ्रेंड उसकी चूत…थोड़ी देर इसी पोज़िशन में रहने के बाद मेरी गर्लफ्रेंड मेरे लंड पर चढ़ गई और कूदने लगी… और मैं उसकी रूममेट का दूध पीने लगा.

अभी हमारे पास पूरा दिन है।मैंने साड़ी खींच कर निकाल दी। वो फिर खुद को छुपाने लगी।मैंने कहा- कहर ढा रही हो.

विदेशी समाज ने इस बे सिर पैर की सोच को बहुत पहले ही खत्म कर दिया था. यह बात उन दिनों की है जब मैं इंजिनियरिंग के पहले साल की पढ़ाई कर रहा था. क्योंकि 10 साल बाद मशीन चुदने जा रही है।वो बोलीं- नहीं यार, ऐसे ही करो।मैंने बोला- सोच लो मैडम बहुत दर्द होगा?तो बोलीं- मैं कितना भी चिल्लाऊँ.

भीम की पिक्चर‘आपने बैडरूम तो बहुत अच्छे से सजाया है मेमसाब!’ वो हमारे किंग साइज बेड की तरफ देखते हुए बोला. मेरे साथ एक मस्त हसीना जो बैठी थी। उसके चूतड़ मुझे अहसास दे रहे थे कि काश इसे चोद पाऊँ.

நீக்ரோ செஸ்

अब ये देख कर मुझे उनका लंड किसी बच्चे की लुल्ली जैसा लगेगा।उसने ज़ोर लगाया और उसके लंड का टोपा मेरी चूत में घुस गया… उम्म्ह… अहह… हय… याह… पूरा टाईट. उसने फिर एक धक्का मार कर अपना आधा लंड अंदर घुसेड़ दिया, उसने अपने उंगली से मेरी क्लिट को छेड़ा तो मेरी चुत फिर से गीली होने लगी, उस गीलेपन की मदद से उसने एक ही धक्के में अपना बाकी लंड अंदर घुसेड़ दिया. अब उसकी चूत से पानी निकालने लग गया था, ऐसा लग रहा था कि वो दो-तीन साल के बाद चुदाई करवा रही हो.

उनकी गर्दन पे किस करते करते मैंने उनकी ब्रा को निकाल दिया और उनके 34 डी साइज़ के बूब्स को बड़े मज़े से चूसने लगा. मैंने बस यही सोचा था कि रवि भैया कितने खुशकिस्मत हैं जो इस बला की खूबसूरत लड़की को चोदने को मिल रहा है उन्हें !खैर मैं अगले दिन चंडीगढ़ पहुँचा और चाची और भाभी ने मेरा स्वागत किया. कुछ तुमको ही सिखा देती हूँ।हम दोनों भाभी के घर चल दिए।मैं वहां जा कर सोफे पर बैठ गया और वो मुझे बाजू में बैठ कर पढ़ाने लगीं। उस वक्त भाभी नाइटी पहन कर आ गई थीं.

दिन का समय था। मैं टीवी देखने लगा और वो मेरे आगे आकर लेट गई।थोड़ी देर बाद कहने लगी- मुझे सूट चुभ रहा है।मैंने उससे कपड़े बदल लेने के लिए कह दिया। मौसम में गर्मी थी. अपनी ममेरी बहन की कामुकता देख कर कुछ देर तो मुझे समझ नहीं आया कि करूं तो क्या?पहले तो सोचा कि जब लड़की खुद ही चूदाई के लिए आ रही है तो मैं क्यों पीछे हटूं?मैंने मुड़ कर उसको किस करना शुरू कर दिया और वो बहुत मज़े से मेरा साथ देने लगी. जिससे वो पागल सी हो गई थी।वो भी मेरे लंड को पकड़ कर हिला रही थी। फिर मैंने लंड को मुँह में लेने का कहा तो मानो वो इसी बात का इन्तजार कर रही थी। उसने लपक कर मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया और चूसने लगी थी। मुझे तो जैसे चरम आनन्द मिल रहा था।वो लंड को जोर-जोर से हिला रही थी। मैं झड़ने वाला हो गया था और मैं उसके मुँह में ही झड़ गया.

दूसरे हाथ से माला की चोली खोल उसकी गोल-गोल मुलायम नंगी चुची दबाने लगा।माला को भी मजा आ रहा था, वो मुस्करा कर उसकी तरफ देख रही थी- हय रे! तू तो चुदाई में पूरा उस्ताद लगता है। लगता है शहर में रह कर खूब चुदाई की है।’ माला ने उसका कच्छा खोल कर नीचे खिसका दिया और उसका बड़ा मोटा खड़ा लंड हाथ में पकड़ लिया- वाह राजू. वैसे ही वो मेरे ऊपर पैर रख के मुझसे चिपक गई। उसकी उभरी हुई छातियां और मेरा चौड़ा सीना एकदम से चिपक गए।मैंने धीरे से अपनी आँखों को खोला तो देखा कि उसके होंठ बिल्कुल मेरे नजदीक हैं, मैंने उसके होंठों से अपने होंठों को मिला कर किस कर लिया।उसने बिना प्रतिरोध के अपनी आँखें बंद कर रखी थीं। मैं उसके होंठों को अपने अधरों से दबाते हुए उसकी प्रतिक्रिया का इंतज़ार कर रहा था.

मेरा तो मानो बुरा हाल हो गया। मैंने आज तक कभी किसी लड़की की नंगी चुची असल में देखी ही नहीं था, बस ब्लू-फिल्मों में सन्नी लियोनी की चुची को देख कर ही मुठ मार किया करता था।मैंने कुछ देर तक भाभी की चुची को खूब मसला.

‘जाने से पहले मेरा मुँह मीठा कर दो!’ उनका मुँह मीठा करना मतलब सेक्स करना!‘हे भगवान… अभी एक घंटे पहले मुझे पेंटर ने जमकर चोदा था, इतनी जल्दी मैं कैसे सेक्स करने वाली थी, मेरा तो जान ही जानी बाकी रह गई थी, पर ना बोला तो उनको शक होगा!’ मैंने मन ही मन सोचा. horse सेक्सवो जीभ लगाने से ही झड़ चुकी थी। फिर मैं उसके ऊपर सीधा लेट कर लंड घुसेड़ने की तैयारी करने लगा।उसकी चुत बहुत टाइट थी. आदिवासी सेक्सी आदिवासी सेक्सीमैंने एक खास दोस्त को फ़ोन करके सारी बात बताई तो वो बोला- मैं तो मुम्बई से बाहर हूँ, तुम चाहो तो मेरे बगल के घर से चाभी लेकर वहां ड्रिंक्स वगैरह करते हुए टाइम पास कर सकते हो! चूंकि मुझे चार से पांच घंटे गुजारने थे तो मैंने उसका ऑफर स्वीकार कर लिया और उसके घर चला गया और रिलैक्स होकर टीवी देखते हुए ड्रिंक्स लेनी शुरू कर दी. उस दिन भी ऐसा ही हुआ, मेरे बगल में शाहीन बैठ गई तो मैं उसकी चोटी खींचने लगा, फिर उसने मेरे बाल खींचे.

अच्छा अभी एक नई स्टाइल से और चुदाई करवाना चाहोगी?वो बोलीं- कैसी है.

दोपहर को भाभी मेरे घर पे आई और शक्कर लेकर चली गई, लेकिन मेरी ओर बड़ी अंतरवासना भरी निगाहों से देख कर…फिर मैं हिम्मत करके उनके घर गया, उन्होंने मुझे बैठने को कहा और वो थोड़ी देर बाद जूस लेकर आई. ‘घूर क्या रहे हो? हटो रास्ते से… मुझे माँ से कन्डिशनर लेना है!’ तनु ने उसे हिलाते हुए कहा।‘सॉरी, मेरा ध्यान कहीं और था!’ राहुल ने रास्ते से हटते हुए कहा।उसके अंदर का वासना से भरा हुआ मर्द अपने सामने एक रूपवती कन्या को देखकर जाग गया था… उसका लंड फिर से कड़क हो गया था. ‘उसने मुझे पीछे से जोर से पकड़ लिया और मेरे कान में बोला- बहुत बड़ा आर्डर मिला है, मुझे दिल्ली जाना पड़ेगा.

कुछ देर बाद आर्डर लेकर वेटर हमें सर्व कर गया, तो मैंने नजर घुमा कर हॉल में बैठे लोगों की तरफ देखा तो पाया कि हमारी टेबल के सामने वाली टेबल पर एक दाढ़ी-मूंछ वाला फोरेनर बैठा बियर की चुस्कियां ले रहा था. भाभी के हाथ मेरी पीठ को अपने नाखूनों से गड़ाते हुए मेरा जोश बढ़ा रही थीं।‘देवर जी जरा इन दूध के कलशों को भी अपने शैतानी दाँतों से मजा दो ना. वो थोड़ी देर में चेंज कर के आई तो उसको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया, वो एक लाल रंग की नाईटी में जो उसके घुटनों के ऊपर तक थी, पहन कर आई थी, मेरे बगल में बैठ गई, बोली- क्या देख रहे हो?मैं बोला- बहुत सेक्सी लग रही हो तुम!बोली- बस देखना ही है क्या?और एक सेक्सी मुस्कान के साथ आँख मार दी.

ఫారిన్ సెక్స్ వీడియో

शादी का मामला है, और ना जाने कोई मिल ही जाए!मैंने ऑफिस से छुट्टी ली और अपनी ससुराल पहुंच गया. सुनीता कुछ ही देर में चाय लेकर सुनील के पास आई और सामने टेबल पे चाय की ट्रे रख कर फिर बोली- ‘ओह, आपके तो कपड़े भी काफी भीग चुके हैं!सुनीता ने इसी बात का फायदा उठाते हुए उसे कहा कि अगर वो चाहे तो वाशरूम में जाकर उसके भाई की लोअर टी शर्ट पहन ले. आज से मैं आपको प्रमिला भाभी ही कहूंगा।मैंने मुस्कुरा कर कहा- ठीक है।वो चला गया।मैं रात को सोते समय सुदीप के ही बारे में सोचती रही और रात को दो बार उसके नाम से अपनी चूत में उंगली भी की और अपने आपको शांत किया।अगले दिन फिर दोपहर दो बजे सुदीप आया.

वहाँ से जब भी मैं छुट्टियों में आता और डैड घर पर नहीं होते तो मेरी और माँ की चुदाई चालू हो जाती.

भाभी ने मुझे कस के पकड़ लिया और मुझे रुकने का इशारा किया… पर अब मैं कहाँ रुकने वाला था, मैंने एक और धक्का लगाया तो भाभी की आँखों में आँसू आ गए- मादरचोद… हरामजादे मेरी चुत है… आराम से चोद ले मादरचोद.

मैंने एकदम नजर हटा ली और आगे जाने लगा, आज मेरी मुड़कर देखने की हिम्मत नहीं हुई. और आपके वादे के मुताबिक आपको अपनी जिन्दगी की सारी बातें बतानी हैं।तो तनु भाभी ने कहा- हाँ हाँ बताऊंगी पर आज नहीं. राजस्थान सेक्सी वीडियो मारवाड़ीनंगी सुमन अप्सरा से कम नहीं लग रही थी, उसकी उसकी लाल रंग की ब्रा और पेंटी मुझे बहुत परेशान कर रही थी, मैंने उसको भी निकाल दिया और मैं उसके निप्पल को सहलाने लगा, उसका दूध पीने लगा.

आपको चूत चुदाई लू मेरी सेक्सी कहानी कैसी लगी… कृपया अपने बहुमूल्य विचार मुझे मेल से बताएँ. इसके बाद सारे रास्ते हम लोग हंसी मजाक करते हुए चुहलबाजी में लगे रहे. थोड़ी देर बाद दर्द का आलम रहा, फिर ठीक लगने लगा।मैंने और प्रेशर दे दिया और थोड़ा अन्दर घुसेड़ा.

जब हम सब फ्रेंड्स ने मिल कर गोवा घूमने का प्लान बनाया था।हम सब रेडी हो गए था लेकिन क्या हुआ कि जिस दिन जाना था, उसके एक दिन पहले ही मुझे कोई जरूरी काम आ गया।मैंने सबको बोला- तुम चले जाओ. मुझे लगा कि पहली बार है तो शर्मा रही होगी, पर अब तक मैं अपनी चड्डी उतार चुका था.

30 पर चौराहे पर मिलेगी रवि को!दोपहर बाद आशु का भी फोन आया कि शाम को में थोड़ा लेट हो जाऊँगा, 7 बज जायेंगे।असल में सारा गेम रवि ने प्लान किया था। सपना शाम को 6 बजे लगभग आ रही थी, तो रवि ने आशु को बोला- मैं तो नहीं जा पाऊँगा, सपना को तुम रिसीव कर लो और घर छोड़ देना.

कैसे कहूँ। पिंक पेंटी में वो मदमस्त माल लग रही थी।आप कल्पना कीजिएगा कि एक कमसिन मदमस्त लौंडिया केवल गुलाबी पेंटी में मेरे लंड से चुदने के लिए सोफे पर चित्त पड़ी हो. फिर भूमिका वापस पलटी और उसके हाथ से ट्रे छूट गई और वो ट्रे को उठाने नीचे झुकी तो उसकी मिनी स्कर्ट ऊपर उठ गई और उसकी गदराई गांड और गुलाबी चड्डी दिखने लगी. मेरा नामर्द पति 3 साल में मेरे सील भी नहीं तोड़ पाया।उसने पीछे हाथ करके मेरे दूध दबाए और कहा- अब तुम कभी प्यासी नहीं रहोगी।वो मुझे घर छोड़ कर चला गया।हम दोनों अभी भी सेक्स करते हैं, उसने मुझे कभी चुदाई के लिए नहीं तरसाया, जब भी मैंने चुदाई की चाह की, उसने मेरी चूत की चुदाई की.

मारवाड़ी सेक्स वीडियो ओरिजिनल फिर सुबह चुदाई का दौर काफी लम्बा चला उसके बाद मैंने उसको ऑफिस के पास छोड़ दिया और मैं अपना काम करने लगा. भाभी गुड नाइट।मैं दूसरे कमरे में जा कर बिस्तर पर लेट गया। मैं यह सोच रहा था कि क्या करूँ.

उसने मेरा पानी अपनी जीभ से साफ करा और अब मुझे किस करने लगी, अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने लगी जिससे मेरा लंड खड़ा होकर 7 इंच का हो गया. !मैंने उसकी गांड पर अपने लंड का प्रेशर बनाया और बोबा मसलते हुए कहा- मना लूँगा।इतने में उसकी फ्रेंड कमरे में आकर बोली- ओये लव बर्ड्स. मेरे पहुँचते ही उसने मुझे किस करना शुरू कर दिया, मैं इस उसके इस हमले से हक्का बक्का रह गया मुझ पर भी सेक्स सवार हो गया, मैंने उसकी कमीज उतार दी.

राजस्थानी सेक्सी चाची

!‘ओह विक्की तुम?’विक्की- और क्या किसी और का वेट कर रही थी क्या?मैं- नहीं नहीं. मगर जब से अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ने लगा हूँ, तब से मेरी चुदाई करने की चाहत और बढ़ गई।मुझे अन्तर्वासना पर प्रकाशित हिंदी में चुदाई की कहानी में ज्यादातर रिश्तों में चुदाई की कहानी पढ़ना बहुत पसंद है। कई बार तो मैंने इन कहानियों को पढ़ कर मुठ भी मारी है।मैं अक्सर अपनी चाची का नाम लेकर ही मुठ मारता हूँ। मुझे पहले तो अपनी चाची की चुदाई में कोई इंटरेस्ट नहीं था. मैं भी उसे अच्छे से समझा नहीं पा रहा था।मैंने किताब एक तरफ रखी और अपने घुटनों के बल बैठ कर उसे ‘आई लव यू’ बोल दिया।उससे बहुत अच्छा लगा.

तो मैंने आंटी को पलटा और उनकी गांड को दबा दिया। आंटी ने स्माइल देकर जैसे गांड मारने की हामी भर दी हो।फिर मैंने कैसे आंटी की गांड मारी और उनकी बहन को भी चोदा. माँ का प्यार पा राहुल भी रो पड़ा।दोनों को एक दूसरे की ज़रुरत थी पर दोनों के मन में एक दूसरे के असीम प्यार भी पैदा हो गया था।राहुल की टयूशन का टाइम हो रहा था, उसने जल्दी से खाना खत्म किया और टयूशन भागा।शेफाली ने आज सब बच्चों की छुट्टी कर रखी थी, ऊपर से घर पर कोई नहीं था, वो जानती थी कि इससे अच्छा मौका उसे नहीं मिलेगा.

रात के करीब 12 बजे मयंक सो गया था, मुझे पेशाब करने की इच्छा हुई तो मैं बाथरूम की ओर गया और बाथरूम करके जैसे ही उसकी बुआ के कमरे के आगे से निकला, खिड़की खुली थी और जीरो वाट का बल्ब जल रहा था.

मैंने उसके पूरे बदन को इतना किस किया कि वो जोर जोर की आहें भरने लगी- आआह्ह्ह ऊह्ह्ह्ह पलीज़्ज़ चोदो मुझे… अब मत तड़पाओ!फ़िर मैंने उसे बोला- डार्लिंग वेट करो, तुम्हारी सारी इच्छा पूरी करूँगा. वरना ज्यादातर तो चुदी चुदाई शादीशुदा महिलायें ही मेरे नसीब में थी…अंजलि कमसिन थी, कुंवारी थी… यह सोच कर ही मेरा लंड बावला हो चुका था. दोस्तो वो मेरा लंड ऐसे चूस रही थी जैसे एक छोटा बच्चा लोलीपोप चूसता है.

मैंने उसकी गांड पर अपना लंड लगाया और झटका दे दिया, पर लंड अन्दर नहीं गया।उसके बाद उसने मना कर दिया कि रहने दे यार, बहुत दर्द होगा।पर अब मैं गर्म हो चुका था. पहले तुम अपना लंड मेरी चुत में डाल दो।मतलब चाची फ़टाफ़ट वाली देसी चुदाई चाह रही थी. वे सारा दिन काम करते हैं, तुम उन्हें समय पर खाना बनाकर देना आदि आदि।मैं भी यही जवाब देती कि अम्मी मैं यह सब कर रही हूँ। फिर वह कहतीं कि ठीक है.

राहुल ने कच्छा पहन लिया पर उसका लिंग था ही इतना बड़ा और ऊपर से तना हुआ झट से कच्छे के छेद (जो पेशाब करने के लिये बना होता है) से बाहर आ गया.

भोजपुरी सेक्सी बीएफ सेक्सी: ले! राजू एक हाथ से चूची मसल रहा था और दूसरे से माला की चूत का दाना रगड़ रहा था।माला मदहोशी में थी… उसने ऐसी उतेज़ना, ऐसी चुदास कभी महसूस नहीं की थी, वो मस्ती में चिल्ला रही थी- हाई… हाई… मार दे. मैंने कहा- वो कैसा होता है, मुझे दिखाओगी?वह थोड़ा रूक कर बोली- देखोगे क्या छू कर समझ सकते हो।ऐसा कहते हुए उसने मेरा हाथ अपने गुप्त अंग पर रख दिया.

तब मैंने उसे कहा कि अब अपनी चूत में कोई चीज डालो!उसने पूछा- क्या डालूँ? तुम अपना लंड डाल दो ना!मैंने कहा- काश कि ऐसा हो पाता!मैं इधर उत्तेजना से अपनी मुठ मारे जा रहा था. और 10 मिनट बाद वो मुराद भी पूरी हो गई, दूर से एक बाइक आती हुई दिखाई दी. तो वो चुप होकर मुझे देखती रही। उसकी आँखें कुछ ऐसे कह रही थीं कि मन की बात ज़ुबान पे नहीं ला रही हो।हमारी चुम्मा-चाटी शुरू हो चुकी थी, मैं ऑफिस में भी उसके साथ ये सब कभी भी कर लेता। जो लोग उसको या मुझे नहीं जानते थे, उन देखने वालों को लगता था कि वो मेरी बीवी है।एक बार मैंने उसे लिफ्ट में चूमा तो बहुत खुश हुई, कहती है कि मेरा ब्वॉयफ्रेंड भी ऐसे ही करता था.

वो थोड़ा पीछे हुआ और मेरे गोरे शरीर को निहारने लगा, वो मेरे पैरों को घुटनों तक नंगा देख चुका था, अब वो मेरी नंगी जांघें, नाजुक कमर को देख रहा था, मेरे सफ़ेद पेट, गहरी नाभि देख रहा था.

आंटी की इस अदा पर मैं फिदा था।फिर मैंने उनको पकड़ा और लेटा दिया और उनके ऊपर आकर पैर को थोड़ा हिलाकर उनके चूत की जगह थोड़ा जगह करके अपना लंड घुसड़ने की कोशिश करने लगा, पर समझ में ही नहीं आ रहा था कि क्या करूँ।फिर आंटी ने मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत पर सैट किया और बोलीं- फ़क मी. सो मेरा हाथ उसकी नंगी चुची को ही पकड़ कर मसलने लगा।वो मुझसे बोली- तुम्हारा वो देख सकती हूँ?यह सुन कर मैंने अपने सारे कपड़े उतार फेंके। वो मेरा खड़ा लंड देख कर बोली- इतना मोटा. उसके बाद मैंने अपनी बहना की चूत चाट कर उसे पूरा मजा देकर चरम आनन्द तक पहुंचाया और उसके बाद हम सो गए.