बीएफ पिक्चर मराठी में

छवि स्रोत,सेक्सी ब्लू पिक्चर के फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी बीएफ साउथ मूवी: बीएफ पिक्चर मराठी में, खाते-खाते मैंने उससे पूछा- ज़ारा!ज़ारा- हां?मैं- एक बात बताओ!ज़ारा- क्या?मैं- तुम्हें नहीं लगता कि तुम आजकल कुछ जल्दी ही झड़ जाती हो?ज़ारा- मुझे तो उतना ही टाइम लगता है! आप घोड़े हो गये हो!मैं- घोड़ा?ज़ारा- और क्या? टंगे ही रहते हो मेरे ऊपर!हम हंसने लगे.

रोशन भाभी की सेक्सी वीडियो

अबकी बार मैंने उनके गले पर किस कर दी और उनको सिर्फ किस के लिए मना लिया. होटल की सेक्सी चुदाईये उसका घर है? तू मरवाएगा क्या मुझे … अगर वो आ गयी तो जानते हो क्या होगा?”मैंने अभी तक ममता को बताया नहीं था कि ये किसका घर है, इसलिए उसने थोड़ा डरते हुए कहा.

मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे मना किया था कि बर्थडे पर कोई खर्चा नहीं करना. सेक्सी वीडियो दिखा वीडियोहम दोनों एक दिन जब डिनर ले रहे थे तो शेखर जी बोले- यह भूरा आपका बड़ा अहसानमंद है.

उसके मुँह से एक आह … निकली। मैंने धीरे-धीरे लिंग आगे-पीछे करना शुरू किया.बीएफ पिक्चर मराठी में: मैंने गुलजान के मुँह से अपना लंड निकाला और हेलीमा सीधा को लिटा दिया.

मैं भी उसे प्यार करता हूँ, रोज मुझसे कहती है कि कब लॉकडाउन खत्म हो और मैं उसे जमकर नए नए पोज़ में चोदूँ.उसने मुझे शादी का कार्ड तक नहीं दिखाया और न ही शादी कहां होगी … ये बताया.

रंभा की सेक्सी फोटो - बीएफ पिक्चर मराठी में

अब आगे ऑफिस गर्ल Xxx स्टोरी:मैंने धीरे धीरे से उसके पेट को सहलाना शुरू किया और हल्की मसाज करना शुरू कर दिया.उसके बाद तो जैसे चाची को चस्का ही लग गया था मेरे लंड का!वो लगभग हर रोज मेरे घर आ जाती थी या जब भी मौका मिलता था वो मुझे अपने घर बुला कर चुदवाती थी.

मेरा हाथ मसलते हुए बाबा ने मेरे हाथों को चूमा और मेरे उसी हाथ को मसलते हुए मेरी रेखाओं को देखने लगा. बीएफ पिक्चर मराठी में दिखा दी ना अपनी औकात … आज साबित कर ही दिया कि सब मर्द एक जैसे होते हैं.

उसी पुलिया पर बैठे भूरा ने पूछा- सर! आपका बहुत मोटा है?मैं- तुझे मरवानी है क्या? तेरी फट जाएगी।भूरा- सर करके देखें?मैं- अच्छा, कल देखेंगे।वह बोला- सर! यहीं जंगल में चलते हैं.

बीएफ पिक्चर मराठी में?

मैंने उसके ब्राउन कलर के निप्पलों को काट काट कर लाल कर दिया और उसके मोटे मोटे मम्मों के ऊपर अपने प्यार के निशान बना दिए. जिसे देखकर पहले तो मैं चौंक गयी और सोचने लगी- भारतीय मर्दों का इतना बड़ा और मोटा कैसे हो सकता है?लेकिन दूसरे ही पल मेरी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया. उस रात मैं बस यही सोच-सोच कर परेशान हो गया था कि मैं संभोग के लिए कितना नीचे गिर गया था.

’ मैंने बोला और उनके जाने के बाद गेट बंद करके फिर से अमेज़न प्राइम देखने लगा. चुदाई में तभी मजा आता है जब वो औरत खुद ही चुदवाने के लिए मन से इच्छा रखती हो. तो मैंने एक थोड़ा जोर से झटका मारा और आधा लंड भाभी की चूत के अंदर समा चुका था.

मुझे देखते ही उसने झट से दरवाजा बंद किया और मुझे गोद में उठा कर अपने बेडरूम में ले गया. जब शैली के गले से मादक सीत्कार आना शुरू हुई, तो मैंने धीरे धीरे अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू की. उसने मेरी कमर हो दोनों हाथों से पकड़ा और अपना सख्त लंड टिकाए हुए बोला- तैयार हो जा मेरी रंडी दीदी, अब तेज तेज चोदूंगा.

मैं चचा के सामने अपना पजामा खोलने लगा तो चचा मेरी तरफ ही देख रहे थे. सरिता- हाँ है तो ठीक! लेकिन फिर हमारे पास तो केवल एक हमारा बेडरूम ही रह जायेगा और फिर छत पर भी हमारा आना जाना रहता है.

मैंने तभी सुरेश को फ़ोन पर बता दिया कि हम राजी हैं और वो हमें पचास हजार दे दे.

रचना मेरे मजबूत शरीर को देख कर बोली- राज, क्या मजबूत जिस्म है तुम्हारा … तुम्हारा सीना मेरे जिस्म को मेरे मन को तुम्हारी ओर खींच रहा है.

मैं खेली खाई हुई औरत हूँ; मुझे पता चल गया कि इसका अमृत अब आने वाला है. उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने उसको बांहों में भर लिया और बोला- भाभी, मान जाओ ना … एक बार बस?वो मुझे पीछे हटाने लगी लेकिन मैंने उसको और जोर से पकड़ कर उसकी गांड सहला दी. उसने अपने कपड़े पहने और अपनी जेब से चैक निकाल कर राकेश को दिया और बोला- सच में तुम्हेंमस्त बीवीमिली है.

मैं बोली- आगे भी मुझे ही बताना पड़ेगा या तुम भी कुछ करोगे?विपिन मुस्कुराया और बोला- नहीं दीदी अब मैं अपने आप कर लूंगा. कचनार की कली अर्चना अपने आनन्द के उन्माद में दोनों हाथों में तकिया भींच रही थी और दोनों टांगें ऊपर हवा में लहराते हुए चुत में जड़ तक सात इंच लंबा लंड के हरेक चोट को हलक में घोंट रही थी. भाभी मुझे सॉरी बोलने लगीं- आज प्लान किया था … लेकिन कुछ नहीं हो पाएगा.

संजीव ने अपनी जीभ को पूरी तरह बाहर निकाला और मेरी चूत के अंदर दे दी.

मैंने सोचा कि अब आएगा मजा, ये साला कुतिया बना कर भी चोदना जानता है. मॉम का पेट फूलने लगा था तो हॉट विडो मॉम ने मुझे भी अपने भरोसे में लेकर नमन से अपनेजिस्मानी रिश्तोंकी बात कबूल कर ली थी. मैं दरवाजा बंद करने लगी तो उन्होंने मुझे पीछे से बांहों में ले लिया और ब्लाउज के ऊपर से मेरे बूब्स दबाने लगे.

मेरे लोअर में लण्ड का उभार अभी भी बना हुआ था और लोवर पर चूत और लण्ड के प्रीकम के गीले निशान बने हुए थे. फिर दरवाजा खुला और मैंने हल्की सी आंख खोलकर सामने देखा तो कलावती मेरे कच्छे के तंबू की तरफ देख रही थी. चालीस इंच की गदरायी गांड को सहलाते हुए मैंने उसकी चड्डी नीचे सरका दी.

इस बार रचना की आवाज जोर से निकल गयी- उईई मां … मर गयी मैं … आह जानू जानू बहुत दर्द हो रहा है … आं बाहर निकालो!बेबी बाहर निकाला, तो फिर से डालने में दिक्कत होगी … तुम्हें कुछ नहीं होगा जान … थोड़ी देर दर्द होगा बस!”मैं उसको किस करने लगा, उसके आंसू पीने लगा.

मेरा लम्बा मोटा लंड देख कर अंकिता की आंखें ऐसे चमक उठीं मानो उसे उसकी बहुत दिनों से तलाश थी. स्नेहा नहा कर नीचे गई और दोनों बहनों ने खाना खाया और इधर उधर की बात करते हुए कब शाम हो गई, पता ही नहीं चला.

बीएफ पिक्चर मराठी में गरम सेक्स की कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरे मौसेरे भाई ने मेरी आगे पीछे से चुदाई करके मेरे साथ सुहागरात मना कर मजा दिया. मम्मी के मुँह से एक तेज आह की आवाज़ आई और मैंने उनकी चूत को मींजना शुरू कर दिया.

बीएफ पिक्चर मराठी में भाभी की चूचियों को बारी बारी से चूसने लगा और वो लंड पर उछलने लगी थी. मैंने उससे अपनी असहमति दिखाई, तो वो मुझे पलट जबरदस्ती मेरे होंठों को चूमने लगी.

कुछ ही देर में उन्होंने समर्पण कर दिया और वो बोलीं- ओके ठीक है, पर अभी ये सब नहीं.

गांड मारते हुए

वहीं हम लोग सब न्यू ईयर पार्टी की प्लानिंग कर रहे थे लेकिन किसी निर्णय पर पहुंचने में कामयाब नहीं हुए तो सुबह हम सब लोग अपने घरों को लौट आए. मेरा लंड ये नजारा देख कर खड़ा हो गया और मुझे मुठ मारने का मन हो गया. ‘मुझे तुझमें अपनी मां दिखती है!’हमारी सोच, विचार और आचार व्यवहार में बड़ा परिवर्तन आ गया था.

मेरा एक हाथ उसकी सलवार में गया तो पाया कि उसकी फुद्दी गीली हो गई थी. मैंने उससे कहा कि यदि तुमको मेरे आने से कोई दिक्कत हो तो मैं अभी के अभी चला जाऊंगा. मैंने मीना भाभी को चूत चुदाई करने के लिए बोला तो उसने कहा कि वो सब फिर कभी कर लेंगे, अभी देर हो रही है।मगर मैं मानने वाला नहीं था.

सोनी की चूत से कुछ खून जैसा बह रहा था हालाँकि वो काफी कम मात्रा में था.

फिर वो मेरे लंड पर बैठ कर चुदने लगी।कम से कम 20 मिनट की चुदाई के बाद भाभी अकड़ने लगी और बोली- दीपू, मेरा दूसरी बार हो रहा है! आअह्ह आआ हहए ओह्ह्ह मैं आ रही हूँ!मेरा भी होने ही वाला था, मैंने भी अपने स्पीड दुगनी कर दी और हम दोनों एक साथ स्खलित हो गये. मेरे तन पर बस नाम मात्र का यही एक झीना सा वन पीस था जिससे मैंने अपने दूध और चुत को बड़ी मुश्किल से छिपाया हुआ था. मैंने बाहें फैला दीं … और वो मेरे कंधे के ऊपर से अपने हाथ डालकर मेरे ऊपर चढ़ सी गई.

मैं वहां से आ गया लेकिन मैंने आज भाभी के चेहरे पर वो सामान्य मुस्कान की बजाय कामुकता वाली मुस्कान देखी. फिर मैंने उससे पूछा- जिससे आप मिलना चाह रही थीं, उससे मुलाक़ात हुई या नहीं?वह बोली- हां हुई. मैंने पूछा- अरे जानू क्या हुआ मार क्यों रही हो?राज तुम कल रात मुझे अकेली को जाने के लिए क्यों कह रहे थे?”अरे जानू, ऐसा कहना पड़ता है.

आपने कोई जीव या सांड को देखा हो तो बताइए कि क्या वो अपनी मां या बहन देखता है, तो बस चोदने के लिए ही चढ़ जाता है या नहीं! ये सारे नियम हम लोगों ने ही बना लिए हैं. उसके बाद उन्होंने मेरी मॉम को पकड़ लिया और एक ने मेरी मॉम के मुँह में लंड दे दिया.

वो अपने मम्मों के लिए फुकना यानि गुब्बारे शब्द का इस्तेमाल कर रही थी. वो फिर से हंस दीं और बोलीं- चैट से कैसे खा सकते हो?मैंने कहा- वीडियो चैट से कुछ तो हो ही सकता है. अंकल इतने में ही बड़े खुश थे, वो मुझे चूम कर बोले- बेटे, मैं आपको कुछ गिफ्ट देना चाहता हूँ.

उनकी आंखों में देखते वक़्त मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे उनकी आंखें मुझसे कह रही हों कि अब बस चोद दे.

मैं- ठीक है आपा जब आप इतना बोल रही हो कि सब्र का फल मीठा होता है, तो रात तक रुक जाता हूं. देसी चाची पोर्न कहानी में पढ़ें कि मैं मेरी चाची की भारी गांड मारना चाहता था. तभी पीछे से एक लड़के ने अपना लंड मेरी बीवी की गांड पर रख दिया और उसी समय सरदार ने मेरी बीवी के दोनों चूतड़ फैला दिए.

मैंने महसूस किया कि दिव्या की सांसों में हल्की हल्की गर्मी थी।अब दिव्या की तपती जवानी पर बस अंतिम वार करना बाकी था।मेरे प्रिय पाठको, आपको मेरी यह कामुक कहानी कैसी लग रही है इस बारे में अपने सुझाव और विचार मुझ तक पहुंचाते रहें. गांड मारने वाला सिर्फ गांड मारने में भरोसा रखता है, वो लंड चूसना पसंद नहीं करता है.

यह मेरा बेचारा लंड तुम्हारी चुत का दीवाना अपना वायदा निभाता हुआ अनन्या की भाबी की चुत को उसी के भाई के बेड पर चोदेगा. मैंने आपा से पूछा- फिर से चुदवाने का इरादा है क्या?तो आपा बोली- हां और सिर्फ आज ही नहीं, पूरी जिंदगी भर तुमसे चुदूँगी, वो भी तुमसे निकाह करके तुम्हारी बीवी बन कर तुम्हारे लंड से चुदाई का मजा लूंगी. उसने धीरे से अपना सिर भी उसकी छाती पर टिका लिया जैसे कि वो कोई और नहीं बल्कि उसका पति ही हो.

सेक्स करने वाला सेक्स

फिर मैंने मुँह से ही उसकी पैंटी सरका दी और अपने हाथों से उसके चूतड़ों को सहलाने लगा.

हेलीमा अपनी बहन गुलजान की चुत चूसने में मस्त हुई तो उसकी गांड एक पल के लिए ढीली हुई. उसकी सीत्कार मुझमें जोश भर रही थीं और मैं पूरी तेजी से धक्के लगाने लगा. अंकल जबरदस्त तरीके से मेरी गांड में तूफानी स्पीड से चोदे जा रहे थे.

फिर मैंने अपने तने हुए लंड को देखा और शर्म का नाटक करते हुए उस पर तकिया रख कर उसे छिपा लिया. मेरी बीवी हंसने लगी, वो बोली- आगे से करने में किस लिए औंधा होना!ये सुनकर एक लड़के ने खड़े होकर मेरी बीवी को किस किया और उसकी चूचियां सहलाने लगा. सेक्सी वीडियो दो लड़की काजैसे ही दरवाजा खुला और सामने साक्षात रतिरूपी उस अप्सरा को साड़ी में देखा तो जैसे कामदेव ने बाणों की बरसात कर दी।दरवाजे से ही देख कर जाना है क्या?” उसने हँसते हुए कहा और धीरे से हाथ पकड़ कर मुझे अन्दर बुला लिया।उस दिन पहली बार उसने मेरे शरीर को छुआ था.

फिर धीरे-धीरे मेरी और मीना की भी बातें कम हो गयीं और हम अपने अपने रास्ते हो लिए।तो दोस्तो, ये थी उस गाँव की भाभी की चुदाई की सच्ची कहानी. उसके बाद हम दोनों ने खुद को सही किया और बाहर आकर फिर से एक ऑटो पकड़ ली.

उसकी चूत से पच पच हो रही थी मगर लंड डालने में अभी भी उतना ही मजा रहा था. सोचती थी कि वो मुझे एक टाइम पास रंडी की तरह चोदेगा या इन्सानियत दिखाकर प्यार से चोदेगा. मैं कभी उनके एक गाल पर होंठ रख कर चूमता तो कभी दूसरे गाल पर किस करने लगता.

वो भी मस्ती में टांगें खोल कर कमर उठाते हुए चुत चुसवाते हुए सिसिया रही थी- येस्स्स्स भैयाय्य्या ऐसे … यहीं पर और करो … आह. और हम दोनों तो बता कर आए हैं ना!मैं जानबूझ कर उसको परेशान करने के लिए नकली नखरे करती रही और उसे कुछ ऐसे ही टालती रही. पहले मेरी शर्ट उतारी और मेरे सीने पर चुम्बनों की बरसात करने लगी।फिर वो नीचे अपने घुटनों पर बैठ गई और मेरी आँखों में आंखें डालते हुए मेरी जीन्स और अंडरवियर को उतार दिया, जिससे मेरा लंबा मोटा लन्ड उसके होंठों के सामने फुंफकारने लगा.

मकान ‌मालकिन- क्यों क्या हुआ? घर क्यों जा रहे हो?मैं- वो कुछ दिन कॉलेज की छुट्टियां हैं और काफी दिन हो गए घर वालों से मिले … इसलिए यहां दिल नहीं लग रहा.

थोड़ी देर में अनामिका मेरे कान में बोली- जीजू, आप अपना लंड प्रियंका की गांड में डालो न. मैं राजी हो गया और शेखर जी को पेमेंट करने की बात कही मगर वो मना कर गये.

दिव्या ने तो जैसे मेरी मुस्कराहट को पढ़ लिया था; तुरंत मुझे चिढ़ाते हुए बोली- लगता है मौसी का मैसेज है. अब मैंने उसके हाथ से दिया ले लिया और उसको सीधा आंखें बंद करके लेट जाने को कहा. एक बार मैंने उसकी नजरों से नजरें मिलाईं और अर्चना के मुँह से सांस खींचते खींचते लंड महाराज कसी बुर चीरते हुए आधे से अधिक समा गए.

मगर ममता जी हिन्दी की प्रोफेसर थीं, इसलिए उनकी जगह एक हिस्ट्री के प्रोफेसर को भेज दिया गया. मैंने और विक्रम ने आश्चर्य से एक दूसरे को देखा और पूछा- लेकिन इसका क्या करोगी?पर संजू ने इसका कोई जवाब नहीं दिया. मैंने कहा- भाभी उसके दो ही कारण हो सकते हैं कि या तो भैया जानवरों जैसा प्यार करना पसंद करते होंगे, या उनमें दम ही नहीं होगा.

बीएफ पिक्चर मराठी में मैंने काफी देर तक उसकी चूत को चाटा और उसके नमकीन और कसैले पानी को पिया. वो राजी हो गईं … या ये उनकी नारी सुलभ लज्जा थी जो एकदम से पूरी खुलना नहीं चाह रही थीं.

सनी लियोन का नंबर

इस सबसे अनामिका से रहा नहीं गया और वो कामातुर होकर बोली- जीजू, मेरी चूत पानी पानी हो रही है. चाट ले सारा रस मेरी चूत का … आज ये चूत तेरी हुई!” मैं मस्ती के मारे बड़बड़ा रही थी।विजय मेरी चूत का रस अपनी जीभ से निकालने की भरपूर कोशिश कर रहा था जिससे मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।मैंने भी विजय के लंड को चूस चूस कर निहाल कर दिया।अब उसका लौड़ा मेरे मुंह में फूलने लगा और मुझे अहसास हो गया कि विजय के वीर्य की धार अब आने वाली है और मेरी भी चूत किसी भी वक्त पानी छोड़ सकती थी. मैंने देखा कि पड़ोसन भाभी मेरी मां के पास आई थीं, उनके घर में लाइट नहीं आ रही थी, तो वो बोल रही थीं- लाइट देखने के लिए आप अपने बेटे को मेरे साथ रूम पर भेज दो.

प्रीति पूरी मस्ती में कराह और सिसक रही थी और कविता के चेहरे पर खूंखार भाव दिख रहे थे. मैंने अब लंड को अंडरवियर से बाहर ही निकाल लिया और फिर से उसका हाथ पकड़ने लगा. किन्नर की सेक्सी वीडियो दिखाइएमैंने देखा तो मेरी चूत से उसके लंड का पानी बाहर निकल रहा था और बेड पर गिर रहा था.

फिर उसने अपनी मां की ओर देखा और धीरे से दरवाजा ढाल कर खुद भी बाथरूम में आ घुसी.

अब आगे थ्रीसम चुदाई की कहानी:कुछ देर की चुदाई के बाद प्रियंका की एक कसक भरी आवाज निकली- आह … जीजू मेरी चुत टपकने वाली है. थोड़ी देर ऐसा करने के बाद अंकल ने मुझे अपने आपसे लिपटा लिया और मेरे पूरे बदन को अपने बदन से चिपका लिया.

मैं- अच्छा मैं अब चलता हूँ … और इस स्वीट से नाश्ते के लिए शुक्रिया, आज तो लंच और डिनर करने का दिल नहीं करेगा. जल्दी ही एक और सेक्स कहानी के साथ आप सबसे रूबरू होऊंगा, तब तक आप सब अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें और कोरोना नियमों का पालन करें. अभी दो ही महीने हुए थे कि सोनल का बीबीए करने के लिए बंगलौर के एक कॉलेज में एडमिशन हो गया.

मुझे अहसास हुआ कि उसके नितंब कितने कोमल और माँसल हैं। उसके नितंबों को आहिस्ता-आहिस्ता दबाना और सहलाना शुरू किया तो रेनू की मादक आहें बेडरूम को संगीतमय बनाने लगीं।उसने वासना के वशीभूत होकर अपने वक्षस्थल को अपने ही हाथों से दबाना शुरू कर दिया.

नेहा ने स्नेहा की तरफ इशारा करते हुए कहा- इनके लिए बढ़िया से बढ़िया ड्रेसेस दिखाओ … जिसमें जींस, स्कर्ट, टॉप, लेगिंग और शॉर्ट्स ब्रांडेड लेटेस्ट डिजाइन में और मेरे लिए भी. अब वो अपने सख्त हाथों से मेरे मखमली बदन को मसलते हुए मेरी पीठ, कमर और मेरी उभरी हुई गांड को भी मसलने लगा. चाची- आह मर गई रे … दीपक आह धीरे करो … मैं कई दिनों से नहीं चुदी हूँ.

स्कूल गर्ल फ्रेंड सेक्सी वीडियोपापा ने आंटी को चोदना चालू कर दिया था और मम्मी ने इन्द्रेश अंकल का लंड सहलाना शुरू कर दिया था. मेरे चुच्चे देखकर उन्होंने अपने लंड को पकड़ लिया और बोले- मैं अभी आ रहा हूँ तुझे चोदने के लिए!तो मैंने अपनी टीशर्ट नीचे करके उन्हें मना कर दिया और बोली- अब आप अंदर जाओ.

दीपिका पादुकोण पोर्न

मैं पार्क सेक्स कहानी के अगले भाग में बताऊंगी कि किस तरह से मैंने उन दोनों बाबाओं से अपनी चूत गांड का बाजा बजवाया. अब आगे नंगी चुदाई कहानी:अनामिका बोली- आह निकाल निकालो … बर्फ निकालो न प्लीज जीजू. मैंने उसकी गर्दन पर चूमकर कहा- मैं कुछ नहीं करूंगा नीता, बस ऐसे ही खड़ा रहूँगा … तुम अपना काम करती रहो.

तो मैंने और सवाल किया- मेरे सारे कपड़े उतारकर ही करोगे न?कपड़े उतार सकती हो तो उतार देना. मैं अनामिका की चुत के अन्दर पड़ा बर्फ के टुकड़ा को मुँह में भरकर खेलने लगा. अभी तक की मेरी पहली चुदाई की कहानीघर का किराया मेरी बुर ने चुकाया- 1में आप लोगों ने पढ़ा कि किस तरह से मुंबई शहर में मुझे नौकरी मिली.

भाभी की चूत की कहानी में पढ़ें कि भाई की बीवी को एक बार चोद लेने के बाद उसके जिस्म का नशा मेरे ऊपर चढ़ गया. अनामिका गाली देते हुए बोल रही थी- कमीनी जीजा चोद … तेरी बार मैंने कुछ बोला था!उन दोनों की नोक-झोंक में यहां मैंने चुदाई की रफ़्तार बढ़ा दी. मैंने अपना मेकअप किया और मैंने मनोज की गिफ्ट की हुई ड्रेस को पहन कर बाहर आ गई.

आह्ह … चोद दूंगा तुझे … फाड़ दूंगा ये छेद।इसी तरह 15 मिनट तक चोदने के बाद भाभी झड़ गयी. जैसे ही लंड अन्दर गया, वो गांड उछाल उछाल कर लंड को अन्दर करवाने लगी.

फिर फोन आने पर भारी मन से बनारस से कार्यक्रम स्थल पर पहुंचा और वहां पहुंच कर मैंने देखा कि संचालक के पास वाली कुर्सी पर दिव्या बैठी हुई थी.

एक रोज कोचिंग सेन्टर से आने के बाद मैं बायोलॉजी की किताब को खोल कर पढ़ रहा था. जेठालाल एंड बबीता सेक्सी वीडियोमैंने मौके की नजाकत समझते हुए उससे कहा- लेकिन तुम्हारी लड़की 18 साल की होनी चाहिए?यामिना- हाँ सर, अभी पिछले महीने ही 18 पूरे हुए हैं. देसी गुजराती सेक्सी बीपी वीडियोअब उन्होंने मुझसे कहना बंद कर दिया और मेरे सामने ही नमन को लेकर कमरे में चुदने चली जाती हैं. यहां कोई देखने वाला नहीं है मेरे अलावा!मैंने भी शर्म छोड़ी और बाथरूम से बाहर निकल कर आ गई.

मैंने खाना खाया और रात में भाभी से बातें करके अपने रूम में आकर सो गया.

झीनी सी साड़ी में लिपटी हुई दिल को धड़कनें बढ़ाने वाली इस नायिका से मैं पहली बार रूबरू हुआ था. अब विपिन ने जोर जोर से मुझे आगे पीछे धक्के मारते हुए चोदना शुरू कर दिया और मेरी जोर जोर की ‘आहह … आहह … मर गई आई … मम्मी रे आई … धीरे आहह … स्सी …’ की चीखें निकलने लगी थीं. फिर वो अपनी कमर हिलाने लगे जिससे लंड मुँह में अंदर बाहर होने लगा।मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मुझे उल्टी हो जाएगी.

उन्होंने मेरे सामने अपने कुक भूरा और एक दूसरे युवक सुनील की गांड मारी. सोनी की सहेली ने तो यहां तक कहा कि अगर वो चाहे तो वो खुद जाकर उसके पापा से बात कर सकती है. दोस्तो, उस रात को सारी रात मैं उनकी याद करता रहा और उनकी फिगर को याद करता रहा.

राजस्थानी लोकगीत

मेरे तन पर बस नाम मात्र का यही एक झीना सा वन पीस था जिससे मैंने अपने दूध और चुत को बड़ी मुश्किल से छिपाया हुआ था. उनका लंड बहुत बड़ा था और उनके लंड के नीचे दो बड़े आकार के गुल्ले लटक रहे थे. मैंने भाभी का हाथ पकड़ा और अपने कच्छे में अंदर घुसाकर उसके हाथ में लंड पकड़ा दिया.

मेरे मन में मॉम को लेकर कामुकता भरी हुई थी मगर माँ बेटे के रिश्ते को लेकर मैं अपनी मॉम को चोदने में हिचक रहा था.

मैं भी तुम्हें छोड़कर कहीं नहीं जाने वाला!उसने अजीत को फोन कर मटन लाने को बोल दिया.

रास्ते से मैंने विपिन से पूछा- सेक्स करने के लिए तुम अपनी गर्लफ्रेंड को ट्यूबवेल पर ले जाते होगे ना!विपिन बोला- हां कभी कभी … वरना ज़्यादातर तो गन्ने के खेत में ही कर लेता हूँ. ऐसा नहीं था कि वो मुझे प्यार नहीं करते थे, वक़्त के साथ साथ हम दोनों ही काफी घुल मिल गए।चुदाई के साथ साथ एक दूसरे की परेशानी को समझना और दूर करना, अब एक अलग रिश्ता सा बन गया था हम दोनों के बीच में जो न तो पति पत्नी का था और न ही बॉयफ्रेंड गर्लफ्रेंड वाला।मगर जो भी था मुझे भी अच्छा लग रहा था. सेक्सी वीडियो लंदन कीमेरी सच में गांड फट गई थी क्योंकि मैं अपनी गांड बहुत दिनों बाद चुदवा रही थी.

मैंने फिर से दोनों को बारी बारी से किस किया और उनकी चुचियाँ दबाने लगा जिससे वो दोनों फिर से गर्म होने लगीं. धीरे धीरे उसने एक दो बार ऊपर नीचे चूत का मुहाना रगड़ा और उसके दरवाजे में सटा कर हल्के हल्के ऊपर को सरकने लगा. मैंने उसे हल्के से किस किया और बिना कुछ कहे उसे अपने मुँह के अन्दर लेकर ऊपर नीचे करके चूसने लगी.

भाभी इस बात को जानती थीं तो उन्होंने मेरे लंड को चूस चूस कर फिर से खड़ा कर दिया. उसे भी पूरा मजा आने लगा था।अब मैंने उसे बिस्तर के नीचे किया और झुकाकर गांड में लन्ड डालकर चोदने लगा।चुदाई की आवाज कमरे में तेज हो गई थी। कुछ देर चोदने के बाद मेरे लंड की नसें फूल गयीं और मेरे लंड का कड़ापन अपने चरम पर आ गया.

आज चूत भी रेडी थी और लंड भी … दोनों तरफ लगी हुई आग शोला बनकर धधक रही थी.

आज मैं वहशियाना तरीके से जोरदार झटके मारकर भाभी की चुदाई कर रहा था. वहां पर ट्रैफिक काफी होता है इसलिए कार से चलने में काफी समय लग जाता है। हम लोग ड्राइव करते हुए आ रहे थे. इस सबमें आगे क्या क्या हुआ था ये सब जानने के लिए अन्तर्वासना के संपर्क में रहें.

सेक्सी वीडियो देखने वाला फाइल पोर्न मूवी और अन्तर्वासना से जो कुछ भी सीखा था, वो सब आज प्रैक्टिकल करने का मौका मिल रहा था. उनके चौड़े सीने के सामने मेरे दोनों दूध तने हुए थे।वो मेरी आँखों में देख रहे थे.

उस वक्त मुझे ऐसा लगा कि कोई बहुत बड़ी चीज मेरी गांड से बाहर निकल गई हो. मैंने उनसे पूछा- आपका अगला प्रोग्राम कब जाने का है?पति ने बताया कि एक हफ्ते के बाद 3 दिनों के लिए उन्हें रामगढ़ जाना है. तो भैया ने मेरा सिर पकड़ के जोर से झटके मारे, जिससे लगभग 2 इंच के तकरीबन लॉलीपॉप मेरे मुँह में घुस गया होगा.

bhabhi का

उन सभी को मोहल्ले में की शादी में जाना था, सभी लोग जाने वाले थे इसलिए मैं अकेला घर में कैसे रहूँगा, यह प्रॉब्लम थी. मेरी चूत उसके लंड का स्पर्श महसूस कर पा रही थी लेकिन अंडरगार्मेंट्स की दीवार अभी बीच में थी. मगर उनके मुँह से यही निकल रहा था कि अब बस अब बस … मगर खुद ही अपने गालों को मेरे सामने करती जा रही थीं.

इनमें पुराने जैसा सिस्टम नहीं है … बल्कि एक मोटर लगी है, जिससे कंपन पैदा होती है. कैसे? वो मैं आपको अपनी अगली चुदासी पड़ोसन भाभी चुदाई स्टोरी में बताऊंगा.

मैं उसके लंड को पकड़ कर मुट्ठ मार रही थी और उसकी गर्दन को बेल्ट से पकड़ कर खींचे हुए थी.

कभी वो दोनों अपनी बहन अर्चना की हर बात में मीन मेख निकालते थे, अभी गुलाम की तरह अनु दीदी के आदेश का अक्षरशः पालन करने लगे थे. मैं नीचे बैठ गया और उनकी नाभि, चूत के इर्द-गिर्द के भागों को चूमने लगा. पर आंसू तो नहीं रोक सकता था … उसके आंसू बह निकले!वह कुछ कहना चाहती थी और शायद मैं जानता था कि उससे बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

उसकी दोनों टांगों को घुटनों से मोड़कर थोड़ा सा चौड़ा कर दिया और उसकी योनि को होंठों से चूसना शुरू कर दिया. मैं कुछ बोल ही नहीं पा रही थी।उसने मुझे अच्छे से सोच समझ कर जवाब देने के लिए कहा और फ़ोन काट दिया।मैं सारी रात उसकी बात को याद करती रही। अगली सुबह मैं ऑफिस चली गई. मैं काफी देर तक सुधा की चूत को चाटता रहा था, जिससे कि वो बहुत ज्यादा गर्म हो गई थी.

मैं उसके होंठों पर अपने होंठ लगाए हुए उसे चूम भी रहा था, तो वो इसी चुम्बन में कभी कभी बर्फ का टुकड़ा मेरे मुँह में भर देती थी … और कभी मैं उसके मुँह में ठेल देता था.

बीएफ पिक्चर मराठी में: मगर वो घर में सभी के साथ रहती थीं तो मुझे उनको चोद पाने का मौका नहीं मिल पा रहा था. मैं बाजार से हर एक वो चीज़ ले गया जो आज की चुदाई में रंग डालने के लिए जरूरी थी.

फिर उसने मुझसे घर जाने के बारे में पूछा, तो मैंने कहा कि हां मैं तुझे इसी बात को लेकर फोन लगाने वाला था. Email id –[emailprotected]नंगी चुदाई कहानी का अगला भाग:गर्लफ्रेंड की सहेलियों संग रासलीला- 7. अब वो मेरे सीने पर हाथ घुमाने लगी और मेरे एक निप्पल को जीभ से कुरेदती हुई चूसने लगी.

दोस्तो, मैं आपका दोस्त अविनाश एक बार फिर से आगे की चुदाई कहानी के साथ वापस आ गया हूं.

बीवी बोली- वो सब तो ठीक है, मगर मुझे लग रहा है कि उसे पैसों की नहीं बल्कि हमारी बेटी की जरूरत है. फिर उसने सोनी को पेट के बल लिटा लिया और अब सोनी की पीठ और गांड सुरेश के सामने थी. वैसे तो मेरी बीवी पूरी आश्वस्त थी कि हमारी बेटी की चूत सुरेश के लंड को झेल लेगी मगर फिर भी मुझे अंदर ही अंदर एक डर सता रहा था.