ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,लैंड दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी बीएफ एचडी फिल्म: ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर, लड़की की जात है, कहां पर क्या हो जाये कुछ भरोसा नहीं है, मगर मैं नहीं मानी.

नेपाली बफ वीडियो

लेकिन नहीं … पीछे से भी उसने लंड मेरी चूत में ही डाला और मेरे शरीर को अपने दोनों हाथों से दबाकर मुझे चोदने लगा।उसने मेरा बदन अपने बदन के नीचे दबा रखा था. कैटरीना कैफ की सेक्स वीडियोकोई जवाब नहीं आया।मैं सीधा उसके रूम पहुंचा तो वो वहां भी नहीं थी।मैंने उसे फ़ोन लगाया वो बोली- राज मैं बाहर आई हुई हूं, आज तुम घर मत आना.

फिर मुझे दोबारा से जोश आने लगा और मैं उसकी चूचियों को फिर से दबाने लगा. सीसीसीसीसीसीसीसीसीसीसीयहां कोई देखने वाला नहीं है मेरे अलावा!मैंने भी शर्म छोड़ी और बाथरूम से बाहर निकल कर आ गई.

तभी मैंने देखा कि राकेश भी शराब लेकर कमरे में आ गए और वहीं चेयर पर बैठ गए.ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर: मैंने सॉरी सॉरी बोलते हुए अपने तने हुए लंड को जैसे तैसे फ्रेंची के अन्दर अड्जस्ट करने लगा.

वीर्य की कुछ बूंदें प्रियंका के चूचों पर गिरते हुए उसकी नाभि तक गिरती चली गईं.मैंने कहा- ये सब क्या है, मैं नहीं करूंगी यहां पर!विपिन बोला- अरे दीदी नखरे मत करो … जल्दी से आ जाओ.

चोदा चोदा चोदा चोदा चोदा चोदा - ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर

उसके पैर मेरे ऊपर आ रहे थे क्योंकि उसने पीछे एक बैग रख दिया था, जिससे उसे पैर सीधा करते नहीं बन रहा था.यह सुनते ही मैंने अपने स्पीड बढ़ा दी और मैं साथ में भाभी की चूत में भी उंगली करने लगा जिससे उनका तीसरी बार भी पानी निकाल गया था.

जवानी से चरमराई अर्चना चुदाई से इतना मगरूर हो गई थी कि पांच मिनट में ऐंठने हुए गांड उठाने लगी और झड़ गई. ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर मैंने भी लंड सहलाया और भाभी से मिले चूत की चुदाई का मजा को याद करके एक सिगरेट फूंक कर ताजगी महसूस की.

मगर हमारे इस चुम्बन का बाहर खिड़की पर खड़ी शायरा पर शायद कुछ और ही असर हो रहा था.

ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर?

[emailprotected]फोन सेक्स चैट कहानी का अगला भाग:दोस्त की भतीजी की सील पैक चूत मिली- 1. पांच मिनट तक उसकी तरफ़ से कोई रेस्पॉन्स नहीं मिला तो मैं उठ कर चलने लगा. रास्ते में भाभी की दर्द भरी चीखों से बुरा भी लग रहा था और भाभी की साड़ी ऊपर हो जाने की वजह से उनकी नंगी चिकनी जांघ देख कर अच्छा भी लग रहा था.

अच्छा सुनो मैं आज शाम को 6 बजे घर आ जाऊंगा … तुम तैयार रहना मेरी जान … आज बहुत मज़े करेंगे. दरअसल शर्ट और पैंट साइज में टाइट होने के कारण, और लड़कियों के चूतड़ भारी होने के कारण, पैंट पीछे की ओर खिंच जाती है और सामने की सिलाई चूत के बीच दरार होने के कारण, अंदर की ओर घुस जाती है जिससे चूत की पुट्टीयां दिखाई देने लग जाती हैं. अब मेरी हालत चलने लायक नहीं रही थी इसीलिए मैं थोड़ी देर मनोज की बांहों में ही सो गई.

सुरेश ने झटके मारे तो सोनी चिल्लाने लगी- नहीं … अंकल नहीं … अंकल आह्ह … नहीं … बहुत मोटा है … प्लीज नहीं!सुरेश ने उसे समझाया- सोनी चुप … बस बस … हो गया है. हर धक्के के साथ अदिति के मुँह से मादक आवाजें निकल रही थीं- आस हं स् स्ह स् ऊंई उफ्फ ऊं ऊं ऊंई हाय आह हम हम हूँ हुं!पूरा बेडरूम मादक आवाजों से गूंजने लगा था. कुछ देर में मेरी चूत में खलबली मच गयी और उसने एक झटके में पानी छोड़ दिया.

उसने मेरी बात समझते हुए कहा- ठीक है … लेकिन ये सब आप कब और कहा करेंगे? और पंडित जी इस बात का किसी को पता चल गया तो!मैंने उसके मन को पढ़ लिया था कि भाभी जी पंडित जी से चुदने को रेडी हैं. ये देख कर मैंने भी उनकी पीठ पर हाथ फेरना शुरू कर दिया और उनको चुप करवाने लगा.

मैंने उन लोगों के बार में जानकारी की तो मालूम हुआ कि ये लोग गांव के लोग थे, जो काफी समय से यहां रह रहे थे.

वो मेरे हिप्स को रब कर रहा था।मैंने कहा- और जोर से रगड़ो मेरे हिप्स को।वो और जोर से मेरे हिप्स को रगड़ने लगा.

उसकी चूत की दोनों फांकों को हटा कर मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डाल दी जिससे वो जल बिन मछली के जैसे तड़प गयी. मुझे कहते हुए अच्छा तो नहीं लग रहा लेकिन फिर भी मैं तुझे दोस्त समझकर तुझे अपने दिल की बात बता रहा हूं. अगर विजय चाहता तो मुझे दोबारा दबोच लेता और पलंग पर पटक कर उसी वक्त मेरी चुदाई कर सकता था.

विपिन बोला- हां दीदी, प्लीज दीदी, मान जाओ ना!मैंने कहा- नहीं यार, यहां नहीं … कोई आ जाएगा तो मुसीबत हो जाएगी. कुछ देर बाद भाभी से रहा नहीं गया और उन्होंने मुझसे कहा- अक्की अब और मत तड़पा, जल्दी से चोद दे मुझे, बुझा दे मेरी टपकती चूत की प्यास!उनके मुँह से इतना कामुक सुनकर मैं थोड़ा आश्चर्य में आ गया और उत्तेजित भी हो गया. कुछ देर बाद मुझसे बोला- सच सच बताना, चुत की यह सफाई आज ही हुई है क्या! तुमने खुद की है न या तुमको रूपा ने कहा था!मैंने कहा- हां, रूपा ने कहा था.

उनका कुछ ऐसा था कि दोनों को ही दो तीन महीने से पहले देश वापस नहीं आना था.

उसका नाम विजय था। मैंने उसको गले से लगाया। मेरे लगाए हुए लेडीज़ पर्फ्यूम की खुशबू से वो मस्त हो गया।मैंने बिना कुछ सोचे समझे मुदित जी की पैंट पर धावा बोला और हुक व चेन खोलकर बड़ा सा लंड बाहर निकाल लिया।मैं जोर जोर से चूसने लगी।उधर विजय मेरे बालों पर हाथ फेरते हुए मेरे गालों को किस करने लगा. मेरे हर धक्के के साथ उसके मुंह से सिसकारी निकल रही थी- आह्ह … आह्ह … ओह्ह … हां … चोदो … ओह्ह … कितने दिन बाद लंड मिला है … आह्ह … आईई … आह्ह … जोर से … आह्ह … चोदते रहो. ’शायद रात गयी बात गयी इस रूल के हिसाब से चलना चाहिए और मुझे ही उसने आगे आकर बात करके एक नयी शुरूआत करनी चाहिये.

फिर मैं अस्पताल में अन्दर रूम में जा कर पंखुड़ी भाभी से मिला, तो बिखरे बालों में वो कमाल की लग रही थीं. हम दोनों एक दूसरे के बदनों को सहलाते हुए एक दूसरे के होंठों का रस पीने लगे. कुछ देर बाद मैं बोला- तेरी मां उठ गयी तो?वो बोली- मां दूसरे तीसरे दिन नींद की गोली लेकर सोती है.

मैंने अपने तने हुए लिंग को नारियल के तेल में डुबोकर लिंगमुण्ड उसकी गुदाद्वार पर रखा।वो शायद इस हमले से अंजान थी.

मैंने अपना लंड ताई के मुँह में दे दिया, ओह्ह … क्या आनन्द आ रहा था. मैंने पीने की इच्छा जाहिर की, तो जौहरा दारू की बोतल, गिलास, पानी और नमकीन आदि ले आई.

ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर भाभी- धत्त पागल … बताओ न क्या देख रहे थे?मैंने भाभी से बोला- यार भाभी आपका ब्लाउज थोड़ा गीला हो गया है, वही देख रहा था. उसकी योनि को देखकर कोई सोच भी नहीं सकता था कि वो कई वर्ष से विवाहिता स्त्री है.

ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर उसने कराहते हुए कहा- तुम्हारा डिक बहुत मोटा है … मुझे दर्द हो रहा है. जैसा कि मैंने पहले ही बताया था कि वो काफ़ी एडवांस लड़की थी, वो कई तरीक़े से मुझे किस करने लगी.

तो मुझे हल्का दर्द भी हो रहा था मगर उनके ऐसे करने से मुझे मज़ा भी बहुत आ रहा था.

भाजपा सेक्सी वीडियो

जैसे ही मैं अन्दर आया तो सामने रसोईघर में एक युवक सामने अपने नग्न गोरे नितम्बों को हिलाता हुआ एक महिला के ऊपर कुत्ते की तरह चढ़ा हुआ था. गोरा रंग, लम्बे काले बाल, गुलाबी होंठ और आंखें तो ऐसी कि जो उनमें देख ले उसका दिल घायल ही हो जाये. मैं आंटी की चूत का सारा खट्टा पानी पी गया और पानी चाट लेने के बाद भी मैं चूत चाटता रहा.

‘मुझे तुझमें अपनी मां दिखती है!’हमारी सोच, विचार और आचार व्यवहार में बड़ा परिवर्तन आ गया था. उसकी ख़ूबसूरती और आकर्षण से दूसरी लड़कियां उससे जलती थीं और टीम लीडर के कान भर देती थीं. मेरी आंखों में आंखें डाल कर भाभी ने पूछा- सच में आता है?आज भाभी की आंखों शरारत कुछ अलग ही थी.

नमन को अचानक से अपने सामने देख आकर मॉम पहले तो चौंक गईं फिर वो नमन से चिपक कर चूमाचाटी करने लगीं.

एस ये मानो जैसे स्टिंग ऑपरेशन होते हैं न्यूज़ चैनल्स के! इसी तरह कुछ लोग कैमरा छुपाकर हमबिस्तरी के वीडियो बना लेते हैं. दोस्तो, मीना की शादी को 7 साल हो चुके थे और उसके 2 बच्चे भी थे। उसकी उम्र 28 साल थी. मैंने कहा- क्यों पहले किसी ने नहीं किया?वो बोलीं- सच में तेरी कसम आज … पहली बार तूने ही नीचे किस की है.

थोड़ा जोर से धक्के लगाने से और उसकी चूत गीली होने के वजह से लंड बड़ी सुगमता से अन्दर घुसता ऐसे चला गया जैसे कोई सांप सरकता हुआ अपने बिल में घुस गया हो. तो उन्होंने कह दिया- ठीक है बेटा, तू शहर चला जा और अपनी बुआ का ख्याल रखना. वो मेरे लंड से खेल रही थी और मुँह में लेने के लिए उतावली हो रही थी लेकिन मैं जल्दबाज़ी में नहीं था.

तभी मैंने देखा कि राकेश भी शराब लेकर कमरे में आ गए और वहीं चेयर पर बैठ गए. युवक की चोदन गति देखकर लग रहा था कि उसको बहुत दिनों के बाद योनि सुख प्राप्त हो रहा है.

तो उन्होंने अपने लॉलीपॉप को निकाल लिया और कहा- कैसा लगा दूध?मैं रो रहा था, तो भैया ने मुझे मनाने के लिए चॉकलेट दी … पर मेरे मुँह अभी भी दर्द हो रहा था. मुझे उस पर बहुत ही ज्यादा गुस्सा आ रहा था और मैंने गुस्से में चिल्ला कर कहा- अगर तुमने यह नहीं किया तो मैं तुम्हें यहां से बाहर निकलवा दूंगी. पहले उसने मेरे होंठों को किस किया और फिर हाथ नीचे ले जाकर अपने लंड को पकड़ कर मेरी चूत का रास्ता ढूंढने लगा.

उसने कहा- बड़ा अजीब सा स्वाद है इस कोल्डड्रिंक का!मैंने कहा- हां ये इस एरिया की अलग वाली है… पी ले.

मैंने किस करते करते ही फिर से विपिन का लंड पकड़ लिया और उसको हाथ से ऊपर नीचे करके सहलाने लगी. मैंने उसके सिर को अपनी जांघों के बीच में लेकर दबा दिया और उसको चाटने के लिए कहा. खिड़की पर तेज धूप के कारण नीले रंग का सा प्रकाश अलग ही‌ नजर आ रहा था.

जैसे ही मैंने हाथ को ऊपर नीचे किया तो सरिता बोली- राज! तुम्हारे हाथों में तो बड़ी जान है, तुम तो बच्चे नहीं हो, थोड़ा ऊपर तक कर दो. तभी अम्मा जी बोलीं- राज, एक काम है बेटा!मैंने कहा- हां बोलिए अम्मा?वो बोलीं- ललिता को जरूरी काम से जयपुर जाना है, विनीता को साथ जाना था, पर उसे बुखार आ गया.

चारों उंगलियों को उसने मेरी गीली चूत के पानी से भिगो दिया और दुबारा से मेरी पैंटी में से हाथ निकालकर चारों उंगलियां अपने मुंह में लेकर मेरी चूत के पानी को चाट लिया. इससे वो एकदम से गर्मा उठीं और अलग होकर मना करते हुए बोलीं- इससे बड़ी सनसनी हो रही है. सब कुछ सही तरीके से हो गया और फिर पति के जाने के दिन का इंतजार होने लगा.

पूजा सेक्सी फोटो

दोस्तो, जैसा कि मैंने पहले भी बताया था कि भाभी ज्यादा सुंदर तो नहीं थी लेकिन उसकी बॉडी बहुत ही आकर्षित करने वाली थी.

मैंने इससे और आगे जाने के बारे में नहीं सोचा और लंड हिलाने का मजा लेते हुए रस झाड़ कर सो गया. फोन सेक्स ही कर लिया करो कभी? तुम्हारी चूत चाटने और तुम्हें चोदने का बहुत मन करता है. जब ट्रेनिंग का आखिरी दिन बचा था तो मैंने संजीव को बुलाकर पूछा- तुम मेरे लिये क्या कर सकते हो जो मैं तुम्हें इस जॉब के लिए रखूं?वो बोला- कुछ भी, मैं कुछ भी करने के लिए तैयार हूं मैडम.

शायरा ने पता नहीं‌ क्या कर दिया था कि वो मेरे दिमाग से निकल ही नहीं रही थी. अदिति अपने दोनों हाथों से मेरी गांड को सहलाने लगी और साथ में अपनी उंगलियां मेरी गांड के छेद पर फिराने लगी. रिंगटोन भेजोदोस्तो, मेरी वर्जिन वाइफ हनीमून सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको उसकी गांड चुदाई की कहानी के बारे में लिखूँगा.

उसे अपनी बांहों में कसके एक पल को छुआ और दूसरे ही पल मैंने उसे घुमा कर उसे पीछे से बांहों में कस लिया. मैंने उससे मिलने के लिए चेन्नई से बैंगलोर जाने के लिए बस की टिकट करवाई और मैं पूनामल्ली नाम की जगह पर बस का इंतजार करने लगा.

वह एक हाथ से मेरा बूब्स दबाने में व्यस्त हो गए औऱ दूसरे को मुँह में लेकर एक छोटे बच्चे की भांति चूसने लगे. मैंने फट से अपनी टी-शर्ट को ऊपर कर दिया औऱ मेरे दोनों बूब्स ले जाकर उन के मुँह के पास रख दिए. हैलो फ्रेंड्स, मैं जय फिर से आपकी चुदाई की आग को ठंडा करने के लिए हाजिर हूँ.

भाभी ने मेरे लौड़े को अब कसकर दबा दिया और उसको भींच लिया अपनी मुठ्ठी में. उन्होंने मुझसे मेरी पढ़ाई के बारे में थोड़ी बहुत बातें की और कहने लगी- ठीक है. तब तक के लिए आप लोग मस्त चुदाई करें और स्पर्म की बारिश करते रहें।मिलती हूँ जल्दी ही।मैं उम्मीद करती हूँ आप लोगों यह कहानी जिसमें एक सेक्सी लड़की की चुत चुद गयी, पसन्द आयी होगी। आप लोगों को मेरी यह आत्मकथा कैसी लगी। आप अपनी राय कमेंट्स में बता सकते हैं।.

शायद वो भी मुझे प्यार करने लगी थी, लेकिन ये सारे रास्ते ख़त्म भी तो उसने ही किए थे.

पर मुझे इस बात की कोई फिक्र नहीं थी कि किसको कितना दर्द हो रहा है या फिर कितनी तकलीफ हो रही है. फिर मैंने उसकी सलवार में हाथ घुसा लिया और उसकी चूत में उंगली दे दी.

एक बात तो मुझे बहुत सही लगी कि अपने से बड़ी उम्र की औरतों के साथ सेक्स करने का मजा ही कुछ और है. तब भी वो माने नहीं थे, उन्होंने मुझसे कहा था- तुम मुझसे गांड मरवा लो, मैं तुम्हें पैसे दूंगा. मैंने उसे कामवर्धक गोली और पैन किलर दे दी … ताकि उसे दर्द कम हो और वह मूड में आ सके.

मगर मैं सजग था, अपनी तरफ से कुछ भी ऐसा जाहिर नहीं कर रहा था कि मुझे बुआ के साथ कुछ करने का मन है. मैं अब उसकी चूचियों को जोर जोर से दबाते हुए उस भाभी की जोरदार चुदाई करने लगा. मैंने उसे जमीन में लिटाया और उसकी साड़ी ऊपर करके बिना फोरप्ले किए अपना लौड़ा उसकी चूत में उतार दिया.

ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर मैं और अनामिका साथ में दीवार के सहारे फर्श पर शॉवर के नीचे बैठ गए थे. मैंने पहले भी कुछ जोड़ों के साथ सेक्स किया हुआ है, तो ये मेरे लिए अजीब बात नहीं थी.

एक बार चुदाई

मैं चिल्लाया- आआ … ईई … धीरे … धीरे!वे थोड़ा ठहरे और मेरे से बोले- सॉरी. यह सारी सेक्स कहानी समीना की बेटी को हमारी चुदाई देखने की पहले की है. इधर भाभी उठ कर अपनी चादर नीचे करने की कोशिश कर रही थीं ताकि उनकी चूत छुप जाए.

पर बड़ी हिम्मत थी उसमें … उसने पूरी कोशिश से अपनी आवाज को रोका हुआ था. औरतें काउबॉय पोजीशन में खुद को काबू में नहीं रख पाती हैं और लौड़े का पूरा मज़ा लेती हैं. इंडिया समरसभी घर वाले और मौसी के परिवार वाले मुझसे कह रहे थे- तुम्हारी नई नई शादी हुई है, तुम दोनों को आना ही होगा.

स्नेहा अपनी जगह से उठ कर नेहा के पास आते हुए- मैं हूँ ना आपकी चूत चाट कर ठंडी कर दूंगी, पहले की तरह.

कहानी के पहले भागकुंवारी दुल्हन के साथ पहला सेक्समें अब तक आपने पढ़ा था कि मैंने रचना की चूत चुदाई का मजा उठा लिया था और अब हम दोनों नहाने के लिए बाथरूम में आ गए थे. इसी तरह वो कुछ देर में मेरे मुँह में ढेर हो गया, मैंने उसकी रबड़ी खा ली और लंड चाट कर साफ़ कर दिया.

इस तरह से सब कुछ ठीक ठाक हो गया और अगले हफ्ते ही अनन्या और मनोज की शादी हो गई. पहले मैं आप सब को इस कहानी की हीरोइन अपनी पंखुड़ी भाभी से मिलवा देता हूं. मैंने गिड़गड़ाते से स्वर में कहा- निलेश जी, क्या ये डाल सकता है आपकी गांड में? उसके बाद अगर चाहें तो आप भी इसकी ले सकते हैं.

इससे आंटी को बेहद चुदास चढ़ गई थी और वो मेरे लंड को हाथ से सहलाने लगी थीं.

मैं उसकी चूचियों को चूसते हुए नीचे आने लगा और उसके पेट को चूमते हुए उसकी चूत को लोवर के ऊपर से ही चाटने और काटने लगा. प्रियंका अनामिका के नजदीक जाकर उसके कान में बोली- मेरी जान, अभी तो बहुत मजा आना बाकी बचा है, तू बस जीजू के हाथों को एन्जॉय कर. अगस्त का महीना चल रहा था, एक दिन सोनी का मैसेज आया कि उसने जिस कंपनी में आखिरी बार इंटरव्यू दिया था, उसमें उसका सिलेक्शन हो गया.

चैन की डिजाइनउस साले हरामी सुरेश ने उसके पेट को अपने मोटे लंड से इतना भर दिया था कि सोनी की गैस निकल गयी. रात तो भी यही प्रोग्राम चला और मैंने भाभी से बहुत सी सेक्सी बातें की.

आदिवासी स्टेटस इन हिंदी

पूजा बुआ के बड़े बड़े 36 नाप के चुचे, बलखाती कमर 30 इंच की और 42 की गांड ऐसी थी कि मां कसम किसी के भी लंड का पानी एक झटके में निकाल दे. लंड को देख कर मेरी मम्मी घबरा गई थीं, वो बोलीं- ये इतना बड़ा … मैं नहीं ले पाऊंगी. रचना ने मेरी तरफ गुस्से से देखा और वो बाकी लोगों को प्यार से समझाने लगी- नहीं, राज यहां अकेला है.

मैंने उसके कान के पास जाकर कहा- मेरी जान, सॉरी … रुक जाता और फिर बाद में करता, तो बहुत ज्यादा ही दर्द होती. लॉकडाउन में सब घरों में ही रहते थे और किसी तरह से अपना टाइम पास कर रहे थे. मम्मों पर उसका पारदर्शी दुपट्टा जो उसके डीप गले को ढकने की नाकाम कोशिश कर रहा था.

वह जब बिल्कुल शांत हो गई तो मैंने धीरे से अपनी कमर ऊपर उठाई ताकि लंड को अन्दर बाहर कर सकूं. ये कहकर उन्होंने तुरंत मेरी गांड के नीचे एक तकिया लगाया जिससे मेरी बुर ऊपर उठ गई. उसकी नाइटी एक ही झटके में उसके बदन से अलग करते हुए मैंने रेशमा को फिर से नंगी कर दिया.

मेरे पास उसके पापा की तबीयत के बारे में पूछने का बहाना तो था ही, इसलिए उसी शाम मैं उसके घर उसके पापा का हालचाल पूछने पहुंच गया. जब वो हमारी टीम में आयी तो पूछने पर मालूम हुआ कि वो लुधियाना से है और उसका नाम परमजीत कौर है.

फिर सबने नाश्ता किया और मनीष उठते हुए बोला- अच्छा भाई, मैं तो चला अपने काम पर.

उसकी आंखों में वासना और प्यास के डोरे तैर रहे थे।उसकी साड़ी को उसके मादक जिस्म के आगोश से मैंने अलग किया. छोटी बहू काइसलिए मैंने वैसे ही अपने लंड को थोड़ा सा बाहर खींचकर एक धक्का फिर से लगा दिया. बाल कृष्ण वॉलपेपरउसने नीचे मकान मालकिन के पास भी आना बन्द कर दिया, जिससे मकान मालकिन को तो शक भी हो गया कि वो ऐसी क्यों हो गयी है. मैंने उसे थोड़ी सी जगह दी, तो वो मेरे लंड को आगे पीछे करते हुए लंड की मुठ मारने लगी.

इधर चिराग और स्नेहा ने कॉलेज पहुंच कर अपनी बाईक पार्क की और सीधे कैंटीन में आ पहुंचे, जहां उनके अच्छे वाले बेस्ट फ्रेंड उन्हीं का इंतजार कर रहे थे.

उसकी बीवी ने सिर्फ एक पैग लिया था लेकिन हम दोनों ने जल्दी ही 2-2 पैग खींच लिए थे. बेचारे आखिरी बटन पर उसके भरे हुए आमों का इतना ज्यादा दबाव आ गया था कि वो उसी दबाव से ही टूट गया और उसके दोनों गोल गोल गोरे मुलायम मम्मे मेरे सामने झूलने लगे. करीब 11 बजे मैं नहा कर सिर्फ एक टॉवल बांध कर ऊपर कपड़े सुखाने गयी तो देखा कि मेरे घर के तरफ दो चन्दा मांगने वाले बाबा थे.

थोड़ी देर बाद छोटी लड़की बाहर आई और मुझे बाल्कनी के पास झुक झुक अपने बड़े बड़े चुचे दिखाने लगी. वह हाथ उठा कर उसे मारने ही वाला था कि मैंने पीछे से उसका हाथ पकड़ लिया. राकेश को भी इस सेक्स फॉर मनी से कोई प्राब्लम नहीं है क्योंकि मैं इतनी Xxx मनी कमाने लगी हूँ कि हमारी सारी जरूरतें पूरी होने लगी थीं.

दिल्ली दिसावर 2018

वो राजी हो गई और पूछने लगी- कहां मिलोगे?मैंने उसे एक होटल का एड्रेस दे दिया. जब वो चलती है तो उनकी गांड के दोनों पलड़े जबरदस्त हिलते हैं जिनको देख कर बूढ़े के लंड में भी जान आ जाए. चाची गेट बंद करके साथ में क्रीम ले आईं और फिर से मुझे लोवर उतरने के लिए बोलीं.

पूरे शरीर को अच्छे से वेक्स भी कर लिया जिससे मेरा जिस्म एकदम चिकना हो गया था.

उधर भाभी बताती जा रही थीं कि वो छिनाल औरत उनके पैसे के चक्कर में उनके साथ लगी रहती है.

रूबी- आह … मादरचोद … मैं मर गयी साले कुत्ते … आह बस एक बार तो निकाल ले … फिर डाल लिए भैन के लंड. लेकिन मैं कुछ भी सोचने की हालत में नहीं थी क्योंकि मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था. বিএফ ভিডিও বইनेहा- कमाल है यार, मेरी चूची मसल रही है और कहती है कि मैं ये नहीं कह रही.

जैसे जैसे हमारी वासना की रफ़्तार बढ़ने लगी, वैसे वैसे ट्रेन ने भी मुंबई की तरफ अपनी गति बढ़ा दी. मकान‌ मालकिन से बात करके जब मैं वापस जाने लगा, तो एक‌ नजर मैंने शायरा की तरफ भी देखा … मगर मेरे देखते ही उसने अपना चेहरा छुपा लिया. अपने लौड़े की तारीफ सुन कर मैं बोला- आदमी का ही है, जानवर थोड़ी हूँ? अपने मियां का भी तो देखा होगा आपने?इस पर निराशा भरे स्वर में रेशमा बोली- काश उसका भी इतना होता, आपसे आधा ही होगा.

मैं समझ गया था कि मेरी बीवी की चुदास भड़कने लगी है और वो गैर मर्दों के लंड लेने के लिए राजी हो गई है. शायरा के वापस दिल्ली आते ही मैंने अब फिर उससे दोस्ती बढ़ाने की सोची.

एक बार फिर से मेरे होंठों को चूमते हुए मेरे बदन से कपड़े लगभग उधेड़ते हुए मुझे एकदम नंगी कर दिया.

कुछ देर की चूमाचाटी के बाद मैं खुद उठ खड़ी हुई और उसके बिठा कर उसकी गोद में बैठ गयी. [emailprotected]भाभी सेक्स पोर्न कहानी का अगला भाग:सलहज और बीवी के साथ ससुराल में सेक्स- 3. मुझे इससे कुछ फील हुआ कि भाभी को चोदने के लिए जितनी आग मेरे अन्दर लगी है, भाभी के अन्दर भाभी उतनी आग लगी है.

खोज पोर्न वीडियो मम्मी ने उस औरत से पूछा- खरबूजे कहां लगे हैं?उसने इशारा करके बताया- मालकिन उस वाले खेत में लगे हैं. अगर कोई आ जाता तो?वो बोली- अबे साले तुझे मजा आया कि नहीं बोल!मैं कुछ बोल ही नहीं सका.

तभी पीछे से एक लड़के ने अपना लंड मेरी बीवी की गांड पर रख दिया और उसी समय सरदार ने मेरी बीवी के दोनों चूतड़ फैला दिए. उस रात मैंने उसे तीन बार चोदा और हम दोनों सुबह 4:00 बजे तक सेक्स का मजा लेते रहे. फिर कई दिनों बाद मैंने डॉक्टर के यहां हॉस्पिटल ज्वाइन कर लिया क्योंकि हर महीना राकेश कि जॉब में कुछ ना कुछ प्राब्लम होती ही रहती थी.

ओपन सेक्सी व्हिडिओ इंग्लिश

हल्के गीले बाल, आंखों में काजल, प्यारे गुलाबी होंठ, उसमें से आती बहुत ही मनमोहक खुशबू और कंधों पर वही नई ब्रा की स्ट्रैप. ”ममता ने गहरी सांस लेते हुए कहा‌ और मेरे एक गाल को जोरों से चूम लिया. तब अशोक ने कहा- तुम रात को अनन्या के साथ रहो, ताकि उसको कोई प्राब्लम ना हो.

आशा करता हूं कि आपको मेरी यह रियल हिन्दी सेक्स स्टोरी पसंद आयेगी और आप इसका पूरा मजा लेंगे. बस तभी लंड ने अपना मुँह खोल दिया और चुत के अन्दर अपना फुआरा छोड़ दिया.

इधर मुझे बड़ी बुआ का फोन आया, तो मैंने उन्हें रात में हुई चुदाई की कहानी को सिलसिलेवार बता दिया.

अगले ही पल उसने मुंह खोला और वो मेरे लंड को अपने मुंह में गप्प से अंदर ले गई. सोनी का हाथ सुरेश के कच्छे के उभार पर आकर रुक गया और तभी सुरेश ने अपने एक हाथ से सोनी का दायां हाथ पकड़ा और अपने कच्छे के अंदर घुसा दिया. वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगी थी पर मैंने उसे ज़ोर से पकड़े रखा था.

मेरी बीवी ने इसके बाद सोनी के हाथ में वैसलीन की एक छोटी डिब्बी दी और कहा कि इसे सुरेश अंकल को दे देना।बीवी ने उसे बता दिया कि वो आज की रात सुरेश अंकल के साथ ही सोयेगी. मेरी चूत में अपना लंड सैट करके मेरे पास अपने होंठ ले आया और मुझे चूमने लगा. उस दिन जब मैं उस चित्र को देख रहा था तो मेरे लोअर में मेरा लौड़ा तना हुआ था.

इस पर उसके दूसरे साथी भी हंसने लगे और बोले- सही कहा सर, ये बहुत नमकीन है और लौंडियाबाज भी.

ओपन सेक्स बीएफ पिक्चर: चलो अभी तो अपने कपड़े उतारो, मैं तुम्हारी चुत का पूरा इंतज़ाम करके ही आई हूँ. उसे कुछ दर्द हो रहा था लेकिन कुछ ही देर में चुत ने लंड के लिए जगह बना दी थी और उसने भी नीचे से ठुमके लगाना शुरू कर दिए थे.

मैंने कहा- जाने दो जानू, पहले तुम्हारी चूत की सील तोड़ी … और अब गांड को फाड़ना अच्छा नहीं. मैंने उससे कहा- आज मैं तुम्हारी चूत के होंठों के साथ फ्रेंच किस करूंगा. करीब 4 बजे नींद में किसी औरत की कराहने और रोने जैसी आवाज मेरे कानों में पड़ी.

उसकी बीवी ने सिर्फ एक पैग लिया था लेकिन हम दोनों ने जल्दी ही 2-2 पैग खींच लिए थे.

आप सभी अन्तर्वासना की देसी हिंदी सेक्स कहानी पढ़ने वालों को मेरा नमस्कार. मां की बड़ी चुचियों और फैली हुई गांड ने भाई के लंड को फिर से खड़ा कर दिया था. हैलो, मेरा नाम अक्षिता है। आप अंतर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरी साईट पर पर मेरी दो कहानियांहोटल रूम में मैं खुल कर चुदीलॉकडाउन खुलते ही मैं भी खुल गयीपढ़ चुके हैं।अंतर्वासना पर यह मेरी तीसरी कहानी है।मेरा जिस्म एकदम भरा हुआ है.