पार्किंग सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,सेक्स बीपी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

पंजाबी सेक्सी कॉम: पार्किंग सेक्सी बीएफ, वो अपनी प्यास अब गाजर, मूली, ककड़ी से या फिर अपनी उंगलियों से बुझा लेती थी.

अंग्रेजी चुदाई सेक्सी वीडियो

मेरी उठती हुई गांड से वो समझ गया कि मैं उससे चुदने के लिए एकदम रेडी हूँ. राजस्थानी देसी भाभी की चुदाईमैंने कहा- बताओ तो क्या बात है?तब उसने बताया- ये मेरा ध्यान सही से नहीं रख पाते हैं.

इसीलिए शायद हमें कभी बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड की जरूरत नहीं महसूस हुई. एक्स एक्स एक्स सेक्सी मूवी इंग्लिश मेंमेरी मम्मी दारू के समय उनके सामने नहीं जाती थीं, तो मैं ही बार बार उनके सामने जा रही थी.

फिर तीसरे दिन मैंने उसे झुका कर सिस्टर की गांड में लंड घुसाया क्योंकि उसको अब लंड लेने की आदत हो चुकी थी.पार्किंग सेक्सी बीएफ: मैंने पूछा- आप के आंसू क्यूं निकाल रहे हैं?मॉम ने बताया कि उन्होंने पहले कभी इतना मोटा और बड़ा लौड़ा नहीं लिया.

बस ये बोल कर दीदी झुक गईं और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं.कार्तिकेय मेरी चुत खोदता हुआ बोला- साली मेरी कुतिया … अभी तो ये शुरुआत है … देखती जा मेरी छिनाल रंडी … कितना रगड़ूँगा तुझे मैं!मैं- आह रगड़ दो मेरी जान … मैं तुम्हारी ही कुतिया हूँ … अपनी जया कुतिया की चुत रगड़ रगड़ कर लाल कर दो … उफ्फ्फ अह्ह्ह ह्म्म उम्म आईए आह.

बस मे xxx - पार्किंग सेक्सी बीएफ

मैंने उसकी आंखों में आंखें डालकर देखा और पूछा- ये क्या है?वो बोला- मेरा फोन नम्बर.मैंने दीदी की आंखों में देखा, तो दीदी मुझे प्यार से देखती हुई मुस्कुरा रही थीं.

मैं जल्दी से बाथरूम से गीला कपड़ा लेकर आया और उसकी चूत और मेरे लंड से खून साफ़ किया. पार्किंग सेक्सी बीएफ लेकिन एक बात मुझे साफ़ लगी कि इतने समय तक अपनी गर्लफ्रेंड से दूर रहने के कारण उसके ब्वॉयफ्रेंड ने भी कोई और लड़की ढूँढ ली होगी जो उसको जवानी के सुख भी दे रही होगी.

मेरा ध्यान बार बार ना चाहते हुए भी नन्दिनी की चूचियों पर जा रहा था.

पार्किंग सेक्सी बीएफ?

खैर मेरी नज़र पड़ी तो मैंने देखा कि वो कुर्सी पर बैठा था और मेरी बीवी झुककर उसे अपने वश में करके एक हाथ उसकी जांघ पर रख कर … तो दूसरे हाथ से उसके गालों को मसल मसल टचअप कर रही थी. अगर तुम्हारी ना है, तो अभी के अभी मैं चला जाऊंगा, पर प्लीज रश्मि मैं चाहता कि बस आज रात के लिए मेरी बन जाओ. मैं उनके दोनों मम्मों को मसलने लगा और उनकी दोनों चूचियों को बारी बारी से पीने लगा.

अब जैसे जैसे मैं उसे उंगलियों से चुत चोद रहा था, वो भी मेरा लंड हिला रही थी. कुछ देर बाद हम दोनों ने रात का खाना खाया और उसके बाद हम रूम मैं बैठ कर सिगरेट पीने लगे. इस बार वो मुझसे चुदाई के लिए कहने लगे थे, तो मैंने मन बना लिया था कि अरविन्द जी से फिर से चुदने का मन बना कर ही जाना है.

मैंने लैपटॉप बिस्तर में रखा और उससे कहा- देख मुझे क्या मिला!फिर मैंने फाइनेंस फोल्डर को क्लिक किया जो खाली था. अब तक हमारी चाय खत्म हो चुकी थी और हम दोनों काफ़ी बातें कर चुके थे. मेरी बीवी अचानक मेरा हाथ छोड़ कर भीड़ की तरफ़ गयी, मैं उसके पीछे पीछे चला गया.

हैलो फ्रेंड्स, ये फेंटेसी Xxx स्टोरी एक कल्पना पर आधारित है, इससे किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने की मंशा नहीं है. फिर कॉलेज के लास्ट दिनों में जब श्रेया को अपने ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पता लगा तो श्रेया दूसरे वाले लड़के से मिली और उसके साथ कार में बैठकर उसको बहुत समझाया कि आखिरी दिन है.

मैंने मेज़ पर रखा तेल उठा लिया और हाथ पर लगा कर उसकी चुत में मलने लगा.

स्लीपिंग सिस्टर सेक्स कहानी मेरी मौसी की जवान बेटी के साथ सेक्स की है.

मैं भी उसकी मादक आवाजों को सुनकर उत्तेजित हो गया और उसे पूरी ताकत से चोदने लगा. श्याम- भैया, एक काम कर सकते हो क्या?मैं- बोलो श्याम, क्या बात है?श्याम- रानी को अपने पीहर जाना है और मुझे आज ही कंपनी के काम से 3 दिनों के लिए टूर पर जाना पड़ रहा है. ”मुमताज मेरे लिए तो तुम आज भी वही मुमताज हो, आओ, बुर्का निकालकर आओ और नन्हीं मुमताज की तरह मेरी गोद में बैठो, मुझे अच्छा लगेगा और तुम्हें भी.

पहली बार किसी रियल लाइफ की घटना गरम चुत की देसी चुदाई को बता रहा हूं इसलिए थोड़ा घबरा रहा हूं. शायद वो भी मेरी नजरों को थोड़ा थोड़ा समझने लगी थी लेकिन उस समय उसने मुझे इग्नोर कर दिया. कुछ मिनट बात करने के बाद बातों ही बातों में विक्की ने दीदी की कमर पर हाथ रख दिया.

लेकिन इस समय तो लण्ड का मजा लो, अब तो अच्छा लग रहा है ना?हाँ विजय, तुम जो कुछ भी कर रहे हो, अच्छा लग रहा है.

मैडम ने बताया- मेरा निकाह हो चुका है और मेरे शौहर सऊदी में रहते हैं. किसी का भी ज्यादा ध्यान ना देने का प्रमुख कारण हम दोनों का उम्र अंतराल भी था. उसने मेरी गांड के छेद में भी खूब सारा तेल भर दिया और अपने लंड पर भी खूब सारा तेल गिरा लिया.

मेरी तेज तेज हांफी चल रही थी और मेरी चूत में हल्का सा दर्द भी हो रहा था. ये सुनकर मैंने अपने लौड़े की रफ्तार बढ़ा दी और तेज़ी से लंड अन्दर-बाहर करने लगा. मतलब मैं जो कह रहा हूँ कि जरा मोटी सी थी … वो आपको उसकी फिगर को पढ़कर समझ आ गया होगा.

उन्होंने मम्मी को मुर्गा बनाने के लिए दे दिया और दारू की बोतल देते हुए मुझसे बोले कि इसे बाहर हॉल में रख दो और कुछ गिलास व पानी वगैरह भी सजा देना.

यदि सुशी जी पहले कह देतीं तो मैं कुछ पहले ही चुत से लंड निकाल कर उन्हें वीर्य पिला देता. रंगोली से रहा नहीं गया, वो बोली- भाई, मेरी आंख से रुमाल हटा दो और मुझे खोल दो.

पार्किंग सेक्सी बीएफ उसने फोटो लेने की बात कही तो डायरेक्टर ने मेरी बीवी की कमर में हाथ डाला और उसके साथ कुछ सेल्फ़ी फ़ोटो निकालने लगा. मैंने मॉम से कहा- एक नया सॉन्ग आया है, सुनना चाहोगी? मूड फ्रेश हो जाएगा.

पार्किंग सेक्सी बीएफ उसकी रसीली बुर का पानी बड़ा मस्त था, आज भी याद करके मुंह में पानी आ जाता है. डायरेक्टर खिड़की की तरफ़ आया और दरवाजे खोल कर देखने लगा कि क्या हुआ था.

मैंने एक एक करके सारे बटन खोल दिए और टॉप को उसके बोबों के आगे से हटा दिया.

सेक्सी फिल्म बीएफ हिंदी

मैं अपनी ही गर्लफ्रेंड अशी को किसी और के साथ चुदता सोच कर मज़े लेने लगा था. वो बोले- देखूंगी का क्या मतलब है जान!मैंने कहा- अच्छा ठीक है, मैं अपने मन के मुताबिक़ सब करूंगी. मैंने कहा- बहुत बार, क्या आपने भी कभी वन नाइट स्टैंड या नया कुछ एक्सिडेंटल सेक्स किया है?उन्होंने कहा- नहीं, मैंने कभी किया नहीं … पर मुझे ऐसे रोमांस सेक्स करने का बहुत शौक है.

बुर पर जीभ फेरने से मुमताज गमक कर चुदासी हो गई और बुर चटवाते समय चूतड़ उछालने लगी थी. फिर वो लंड से नीचे उतरी, तो उसकी गांड का छेद अन्दर तक लाल लाल दिख रहा था. इस सबके बाद हम दोनों ने ही अभी अभी जो हुआ, उसका कोई जिक्र नहीं किया.

मैं अपने लंड को धीरे धीरे उसकी गांड पर रगड़ने लगा लेकिन वो ज़रा भी नहीं हिली.

नीचे मैंने एक बहुत टाइट जींस पहनी, जिसमें पीछे से मेरी गांड एकदम गुब्बारा लग रही थी. उसने फोटो लेने की बात कही तो डायरेक्टर ने मेरी बीवी की कमर में हाथ डाला और उसके साथ कुछ सेल्फ़ी फ़ोटो निकालने लगा. अब हम दोनों एक दूसरे की प्यास को बुझाना चाहते थे पर कोई मौका नहीं मिल पा रहा था.

फिर मैंने अपना हाथ सीधे उनकी साड़ी में घुसा कर उनकी पैंटी के ऊपर से ही चुत को हल्के से सहलाने लगा. शाम को 5:00 बजे वह मेरे घर आ गए और मेरे अब्बू से कुछ बातें करने लगे. मेरा मन तो कर रहा था कि अभी लपक कर बहन चोद दूँ … पर मैं ये पहली चुदाई स्पेशल बनाना चाहता था.

नाज की चूत शबाना के मुँह पर टिकाकर मैंने शबाना की चूत में अपना लण्ड पेल दिया. मैं क्या करती, मेरी गांड की हालत उस बकरी जैसी हो रही थी जिसके सामने शेर खड़ा हो और कोई कहे कि हिम्मत रखो, कुछ नहीं होगा.

मैंने सोचा कि मैं तो सच में किसी से इस तरह की बात नहीं करती और भाई के दोस्त ने जो मुझे चोदा था, उसका मैसेज मैंने हटा ही दिया था. मैं बोला- अरे भाभीजी आप जब चाहो … तब दर्शन कर सकती हो और टेस्ट भी कर सकती हो. सुमन की बहन सरोज अपनी गांड आगे पीछे करने लगी और खुद चुदाई करवाने लगी.

तो मैंने कहा- ऐसे ही रगड़ती रहोगी या दिखाओगी कुछ?भाभी बोली- मुझे शर्म आती है, आप खुद देख लो.

एक मिनट के बाद उसने पूछा- तुम दोपहर को मेरी तरफ काफी देख रहे थे … क्या बात थी?उसके ये कहते ही मैं पहले तो घबरा गया और चुप बना रहा. फिर अचानक से उनके लंड में एक तेजी सी आ गई और कुछ समय बाद उन्होंने अपना मलाईदार रस मेरे मुँह में छोड़ दिया. मैं लाल रंग की गीली पैंटी में उसकी फूली हुई चुत देख कर एकदम पागल हो गया और मैंने देर न करते हुए उसकी पैंटी को उतार फैंका.

दोस्तो, आपको मेरी जूनियर गर्ल सेक्स कहानी अच्छी लगी या नहीं? मुझे कमेंट्स में बताएं. हैलो फ्रेंड्स, मैं आपके सामने अपनी एक और मस्त सच्ची सेक्स कहानी के साथ पुन: हाजिर हूँ.

ऐसा नहीं था कि समय सीमा सुनकर सिर्फ मैं ही आतुर थी; उसके भी हाथ का जोर मेरी गहरी योनि पर बढ़ता जा रहा था. मैंने मुमताज को लिटा दिया और उसके चूतड़ों के नीचे एक तकिया रखकर मुमताज की चुदाई विधिवत शुरू कर दी. वो जाने लगा तो मैंने उससे कहा- शाम को कब और कहां मिलोगे, अपना नंबर दे दो … जिससे सही पता चल जाएगा.

हिंदी सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो

अभी सेक्स कहानी अधूरी है, इसमें मेरी दोनों बहनें मेरे आशिक के लंड से कैसे चुदीं, उसका वर्णन भी आएगा.

अभी मैं कुछ बोलता, उससे पहले ही मैं अन्दर देखा तो मम्मी बेड पर बेडशीट ठीक कर रही थीं और अंकल अन्दर आ गए थे. मैं खड़ा हुआ और उसके पास गया लेकिन उसने कहा- थोड़ा सब्र करो यार!वो मेरे बैग लेकर अपने बेडरूम की ओर चली गयी और जाते जाते बोली- जब मैं बुलाऊं, तब आना. मैंने जानबूझ कर अपना एक हाथ उनकी तौलिया के अन्दर कर दिया और उनकी गांड पर मालिश करने लगी.

दस मिनट बाद मैं ज़ीनिया के मुँह में ही झड़ गया और वो मेरे लंड का सारा रस पी गयी. एक तरह से मैं डिप्स लगाते हुए दीदी की गांड तक अपना मुँह ले जा रहा था. भोजपुरीxxxxxउठे हुए मस्त गोल गोल चूतड़ों को देख कर मन करता है कि अभी दांत से काट लूं … पर किसी तरह कंट्रोल कर लेता हूँ.

लेकिन साथ ही में हमें अपना घर और यहां के दोस्त और ज़िन्दगी छोड़ कर जाने का गम भी था. भाई ने मेरे घर पर बोल दिया कि मैं नाली में फिसल गया था, तो मेरे पांव में लग गई है.

अब अंकल मां की गर्दन पर धीरे धीरे किस कर रहे थे और मां उनके बालों को सहला रही थीं. मैंने मौके की नजाकत को समझा और मैंने धीरे-धीरे उनके चूचों को दबाना शुरू कर दिया. अब आगे नंगी लड़की होटल Xxx कहानी:अपने सामने कोमल को यूं देख कर मुझसे बर्दाश्त नहीं हुआ तो मैंने उसके तन से ब्रा और पैंटी को निकाल दिया.

उसने मुझे थका सा देखा तो वो बोला- क्या हुआ बे … कोई बात हो गई है क्या?मैंने आंख मारी और अरुणिमा को खींच कर अपनी गोद में बिठा लिया. उसका टांका साहिल बस से भिड़ा था या मेरे और भी दोस्त मेरी बहन की चुदाई का मजा लेते थे, मेरे लिए ये जानना अभी बाकी था. फिर चुदाई के बाद श्रेया ने उस लड़के से कहा कि आज के बाद हम कभी नहीं मिलेंगे … और वो सच में आज तक उससे नहीं मिली.

मैं भी थोड़ी देर बाद अन्दर घुसा और वो मुझसे लिपट कर मुझे किस करने लगीं.

मैंने झट से अपना हाथ उसके मम्मों पर रख दिया और धीरे धीरे दबाने लगा. उस दिन उनके पति जिनको मैं चाचा कहता हूँ, दुकान का सामान खरीदने के लिए भिवानी की मार्केट में गये थे.

हम दोनों बराबर से धक्का लगाने लगे और थप थप्पप थप की आवाज़ तेज हो गई थी. मालती की चूत ने पानी छोड़ दिया तो फच्च फच्च फच्च करके लंड तेज़ी से अन्दर-बाहर होने लगा. वो अपनी टांगें सामने टेबल पर पसारती हुई बोलीं- अंश एक सिगरेट सुलगाओ.

चूसते चूसते वो मेरे ऊपर आ गयी और मेरे हाथ अपने आप उसके गोल गोल सुडौल गांड को सहलाने लगे. एक मिनट बाद ही उसकी कामुक सिसकारियां निकलने लगी और वो अब गर्म आवाजों के साथ बड़बड़ाने लगी- आह इईई … उउहह अऔर तेज करो … संजू मजा आ रहा है … आह और जोर से चोदो … आह आज मेरी बुर को फाड़ ही दो … अआआह. वो भले ही हष्ट-पुष्ट लंबा पूरा था, पर मेरे अधेड़ उम्री मांसल गदराए शरीर के सामने वो मेरा बच्चा ही प्रतीत हो रहा था.

पार्किंग सेक्सी बीएफ उसके नीचे गुलाबी रंग लिए चूत की झिरी … जिसके ऊपर छोटे गुलाब की पंखुड़ियों की तरह दो पत्तियां चूत के गुलाबी छेद को बंद किये हुए थीं. दीदी बोलीं- क्यों मम्मी की चुदाई नहीं की क्या?मैंने कहा- अरे मम्मी की चुदाई तो करने मिल जाती थी … लेकिन आप जैसी प्यारी दीदी की चुत चोदने के लिए मेरा लंड बेचैन था.

नौकरानी की बीएफ हिंदी

तभी मेरे मोबाइल पर उसका मैसेज आया कि मम्मी पापा शाम को शॉपिंग जाएंगे, आज संडे है. मगर बाई ने मुझे इशारा करके अपनी तरफ बुलाया और मुझे अपने पीछे कर लिया … मेरा लंड उसके पिछले पहाड़ से टकराने लगा. उसकी बड़ी-बड़ी चूचियां मेरे हाथों में आ गई थीं, मैं बेरहमी से मसलने लगा.

मगर जिस तरह से टीवी पर आने वाले सीरियल तारक मेहता का उल्टा चश्मा में एक पंजाबी सोढ़ी को अपनी पारसी बीवी रोशन के साथ मस्ती करते हुए दिखाया जाता है. उसने देर नहीं की और अपने दोनों हाथों से मेरे अंडरवियर को खींचती हुई उतार कर अलग कर दिया. ब्लू पिक्चर भेजो ब्लू पिक्चरउसने उसी समय मेरे होंठों अपने होंठ बड़ी सख्ती से जमा दिए और लंड को दाब दे दी.

कुछ देर बाद वह मेरे मुँह से हटे और रसोई में जाकर मेरे लिए नींबू पानी लेकर आए.

उस एक्टर को देखते ही पब्लिक मानो पागल हो गई और इसी वजह से उस होटल में काफी भीड़ हो गयी थी. रविवार को शरद, किरणदीप और सुरजीत अक्सर ड्रिंक्स लेते और कभी कभी मैं भी उनके साथ कुछ पैग लगा लेती थी.

मेरा तो पानी निकला नहीं था … तो लौड़ा रह रह कर उसकी चूत को ठोकर मार रहा था. थोड़ी देर के बाद वह अपने होंठों को सीधे मेरे लौड़े पर ले आई और अपना पूरा मुँह खोल कर उसने लौड़े को जड़ तक अपने मुँह में घुसा लिया. क्योंकि मम्मी पापा को किसी शादी में जाना था और मेरे प्रेक्टिकल चल रहे थे जिस कारण से मैं मम्मी पापा के साथ नहीं जा रही थी.

मैं निशा की बांहों से थोड़ा ऊपर हुआ और मैंने उसकी चुत से लौड़े को बाहर खींचना चाहा लेकिन ऐसा लग रहा था जैसे चूत लौड़े को बाहर आने ही नहीं देना चाहती थी.

उससे रहा नहीं गया और उसने मेरे लंड को मुंह में भर लिया और उसे कुल्फी की तरह चूसने चाटने लगी. मैं जल्दी से पार्लर हो आयी थी और मैंने अपने थोड़े से बाल कुछ अलग अंदाज से सैट किए थे. मुझे इतना मजा आ रहा था कि मेरी आंखें बंद हो गईं और मैं बस ऊपर देख रहा था.

ट्रिपल एक्स सेक्सी व्हिडीओ बीपीफिर मैंने वासना से बुआ को देखा और उनकी आंखों में चुदास साफ़ दिख रही थी. वो कहने लगी- सौरभ छोड़ो … अभी नहीं … थोड़ी देर बाद!पर मैं रुकने वालों में से नहीं था.

नंगी पिक्चर करते हुए

फिर सक्सेना ने मेरा टॉप उतार दिया और मेरे मम्मों को मसलने और चूसने लगा. मैंने उसे नीचे बिठाया और लंड उसके मुँह के सामने करके उसके मुँह में घुसाने लगा. पहले तो वो थोड़ी हिचकिचाईं … उन्होंने मुझे हल्का सा धक्का देना चाहा.

मेरी सहायता करते हुए उसने अपना जींस उतारकर नीचे कर दिया और मैं भी उसकी चड्डी उतारने लगी. अब अंकल मां के पास लंड को ले गए और मां ने इना समय गंवाए लंड को चूसना चालू कर दिया. हम लोग डांस फ्लोर पर आ गए और तब समझ में आया कि बंगाली लोग डांस कितना अच्छा करते है.

मैंने लंड निकाल लिया और हम दोनों बाथरूम में जाकर एक दूसरे को साफ़ करके फिर से बिस्तर पर आ गए. हम तीनों बहनों की चुचियां और गांड इतनी ज़्यादा भर गई थीं कि क्या बताऊं. कुछ देर बाद वो बिस्तर से नीचे उतर गई और बोली- राज तुम मुझे दुल्हन बनाकर चोदो.

इसके होंठ तेरे लंड का पानी निकाल देंगे … बड़ी मस्त लंड चूसती है ये रांड. हम दोनों एक दूसरे के सामने नंगे खड़े थे और मेरा लौड़ा टनटना कर उछाल मार रहा था.

जब मैंने उसके माथे पर चुम्बन दिया तो उसकी आंखों में खुशी के आंसू साफ नजर आ रहे थे.

फिर कुछ देर में रिपोर्ट भी मिल गयी, जिसको ले कर हम दोनों बाहर आ गए. राजस्थानी बीपी सेक्स वीडियोऑफिस से हम सभी 6 बजे तक निकल गए ताकि तैयार होकर समय से पब पहुंच सकें. सेक्सी हिंदी वीडियो ब्लू पिक्चरइस घटना से इतना जरूर हुआ कि रमा मैडम का व्यवहार मेरे प्रति दोस्ताना हो गया था. थोड़ी देर बाद में चाचा मार्केट से आ गया और मोटो चाची मेरे घर की तरफ देखती हुई अपने घर के लिए चली गई.

डॉटेड कॉण्डोम के डॉट्स जब बुर से रगड़ने लगे तो सलमा की बुर ने पानी छोड़ दिया.

‘आहह आहह श मुहह मुहह आहह यस्स ऑश योगुऊ आहह आ बेबी मुहह मुहह ओहो यस यस योगु … क्या मस्त है तेरा लंड. मुझे लगने लगा था कि इस डिब्बे से निकल कर किसी दूसरे डिब्बे में चले जाना चाहिए. इससे पहले मैं कुछ समझ पाता कि भाई ने मुझे हाथों को जोर से पकड़ कर उल्टा कर दिया और अपने लंड को मेरी गांड के छेद पर चांप दिया.

थोड़ी देर बाद जब सब नार्मल हुआ तो रमा मैडम ने मुझसे कहा- मुझे ऐसा अनुभव पहली बार हुआ है … जब मैं एक ही समय में बार बार झड़ी हूँ. उसके बाद क्या हुआ?नमस्कार दोस्तो, मैं राज शर्मा हिन्दी सेक्स कहानी की इस मस्त साईट पर आपका स्वागत करता हूं. मैंने उसके हाथ को झटके से एक तरफ किया और अपने बदन को होटल की सफ़ेद चादर से ढकने लगी.

मारवाड़ी नंगी चुदाई

उनके ऐसा करने से अब मैं उनकी सांसों को बहुत आराम से महसूस कर सकता था जो कि अब बहुत गर्म हो चुकी थीं. वो जल्दी से मेरे ऊपर आ गए और उन्होंने सीधे मेरे होंठों पर होंठ रख दिए. उस दिन उनके पति जिनको मैं चाचा कहता हूँ, दुकान का सामान खरीदने के लिए भिवानी की मार्केट में गये थे.

[emailprotected]कुंवारी लड़की Xxx कहानी का अगला भाग:जुम्मन की बीवी और बेटियाँ- 2.

ऐसा मजा तो आज तक मुझे कभी नहीं मिला था, जैसा इस जवान छोरी ने मुझे दे दिया था.

मैं उनकी चुत को चाटते हुए कभी कभी अपनी जीभ को उनकी गांड में भी डाल दे रहा था. मेरा लंड तो खुशी से फूलकर अपनी औकात में आ गया और उसकी चूत की गर्मी को महसूस करने लगा था. क्सक्सक्स हिंदीमैं इठला कर बोली- हां क्यों नहीं!वैसे भी मुझे चुदने की आदत हो गई थी.

मुझे इतना ज्यादा मजा आ रहा था कि मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसका हाथ मेरे पेटीकोट के अन्दर मेरी चूत में पहुंच गया. मेरे मन में अपनी बहन को लेकर विचार आने लगे कि क्या मैं भी रंगोली के साथ …तो अब मजा लें माय हॉट सिस्टर सेक्स कहानी का!हालांकि ऐसा नहीं था कि मैंने कभी ऐसा सोचा नहीं था. कुछ देर बातों का सिलसिला चला और अब हमारी ट्रेन मंजिल पर पहुंचने वाली थी.

वो कमर हिला कर लंड चुत में लेने की कोशिश करने लगीं और मैं उन्हें तड़पाने लगा. भले ही किसी को यह कपोल कल्पित लगे या कोई बोले कि मैं बस एक इमेजिनेशंस की दुनिया में रह रहा हूं … पर ही मेरे साथ हुआ है, तो मैं जानता हूं कि यह मेरे साथ सच में हुआ था.

कुछ पल में ही अनन्या सीधे लेटी थी और उसके ऊपर कामवाली बाई, उसके स्तनों को बार बार दबा रही थी.

अर्शिया को शर्म आ गई, वो बोली- अच्छा ऐसा क्या खास है इनमें?मैंने बोला- तेरी चुत एकदम अमेरिकन लड़की की चुत जैसी है गोरी गोरी … और तेरे बोबे भी किसी मक्खन के गोले से कम नहीं हैं. उसके बावजूद अपनी परेशानी दूर रख कर वो मुझसे मेरे बारे में पूछ रहे थे. मैं एकदम से गनगना गया और मैंने उनकी दोनों चूचियों को पकड़ कर मसलना शुरू कर दिया.

देहाती बफ हिंदी में अब आंटी बोलने लगीं- योगी बहुत हो गया … अब तू अपने इस विशाल लंड को मेरी चूत में डाल दो. वह भी मेरी पीठ पर हाथ फेरती हुई अपने होंठों से मेरे होंठ चूस रही थी.

निशा ने अपने दोनों हाथों को मेरी पीठ पर जोर से कस लिया था मानो वह अब जल्दी से जल्दी अपनी चूत में लौड़ा घुसवाना चाहती हो. ये सब कुछ ही क्षणों का खेल था, जितनी सी देर बस के ब्रेक से झटका लगा. हमने कहा कि ये क्या कर रहे हैं, आज हमारी सुहागरात है, आज ये क्या कर रहे हैं.

देवर भाभी का सेक्सी वीडियो बताओ

मैंने रिप्लाई किया- टू मच सेक्सी!हमने दोपहर का खाना भी पैक करवा लिया. मेरा लम्बे मोटे लंड को देखते ही वो उछल पड़ी और बोली- मैंने जिंदगी में कभी इतना बड़ा लंड नहीं देखा. मौसी कभी कभी इतवार को मेरे घर आ जाती हैं और सारा दिन यहीं रुकती हैं.

किस करते करते रघु ने अपना एक हाथ उसकी ब्रा में डाल दिया और उसका एक दूध बाहर निकालकर चूसने लगा. एक नया शो शुरू होने वाला है, उसमें कुछ अच्छे रोल हैं … लेकिन उसका डायरेक्टर हरामी है.

भाभी के घर में आते ही मैंने सामान का बैग उनके सामने रखा और उनसे कहा- भाभी क्या इस समय अमित घर में आ सकता है?उन्होंने कहा- तुम उसकी चिंता मत करो.

फिर कुछ देर में रिपोर्ट भी मिल गयी, जिसको ले कर हम दोनों बाहर आ गए. मैंने पीछे से लौड़ा चूत में पेला और एक बार में ही पूरा लंड चूत में ठोक दिया. मुझे पता था कि अगर फिर से कोमल के पास गया तो शायद मैं खुद को रोक नहीं पाऊं … इसलिए मैं सोफे पर ही लंड हिला कर सो गया.

रात को मैं अपने रूम में नंगा ही बिस्तर पर लेटकर हमेशा की तरह चुदाई की कहानी पढ़कर मज़ा ले रहा था. लंड का टोपा उसके मुँह में ठीक से एडजस्ट नहीं हो पा रहा था लेकिन फिर भी वो मुँह में खींच खींच कर लंड चूस रही थी. शायद इतने दिनों बाद किसी के छूने का अहसास था या उनके लिए मेरे मन में जो इज्जत थी.

मैं उसके मम्मों को दबा रहा था और पीछे से इतनी जोर से पकड़ा हुआ था कि उसका छूटना नामुनकिन था.

पार्किंग सेक्सी बीएफ: इस फेंटेसी Xxx स्टोरी में मैंने तारक मेहता का उल्टा चश्मा वाले सोढी और उसकी बीवी की गांड चुदाई की कल्पना की है. उसने मुझे थका सा देखा तो वो बोला- क्या हुआ बे … कोई बात हो गई है क्या?मैंने आंख मारी और अरुणिमा को खींच कर अपनी गोद में बिठा लिया.

इस सेक्स कहानी के अगले भाग में मैं आपको बताऊंगा कि किस तरह से मैंने अपनी चचेरी बहन नीतू की गांड मारी. इस बार मुझे दर्द कुछ कम था, तो मैं भी अपनी गांड चुदाई में उसका साथ देने लगी. मैंने मैम को अपनी तरफ खींच कर फिर से उनके मुंह में अपनी जीभ घुसा दी और उनकी गांड को मसलते मसलते उनकी पैंटी उतार दी.

मैं फ़ोन काट कर उनके पास गया और उन्हें उठाने लगा पर वो उठ नहीं पा रही थीं.

पर इस बार खिड़की खुली थी और मुझे रश्मि की आवाज़ साफ़ सुनायी दे रही थी. डॉक्टर ने कहा- हाँ, इसको पाँच महीने का गर्भ है और तन्दुरुस्त बच्चा है. मेरी ये तीनों हरकतें मेरी बहन आरू के लिए आग में घी का काम कर रही थीं.