सेक्सी बीएफ में सेक्सी

छवि स्रोत,गाना वाला सेक्सी वीडियो दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ हिंदी में बताएं: सेक्सी बीएफ में सेक्सी, जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया कि रेखा ने तुरन्त ही अपनी कमर को उचकाना शुरू कर दिया.

देहाती सेक्सी सेक्सी देहाती

विशाल के शब्द:मुझे ज्यादा कुछ बनाना नहीं आता, लेकिन मैं कुछ डिशेस बना लेता हूँ जैसे कि ऑमलेट एंड कॉफी. सेक्सी फिल्म देसी चुदाई वीडियोमैं उसे उठाने के लिए उसके नजदीक गया और उसे आवाज़ दी, तो उसने झटके से मुझे अपने ओर खींच लिया और मेरे होंठ पर अपने होंठ रख कर फ्रेंच किस करने लगी.

वाह! क्या अहसास था वह … वो काफी देर तक मेरे लंड को मजे लेकर चूसती रही और मुझे भी मजे देती रही. तेलुगु सेक्स तेलुगु सेक्सी वीडियोमैं उठा, अपने कपड़े लिये और कमरे में आ गया क्योंकि अब मामा-मामी के भी जागने का टाईम हो रहा था। सुबह जब मैं सोकर उठा तो पता चला कि शुभ्रा की तबियत ठीक नहीं है इसलिये वो पढ़ने भी नहीं जा रही.

बस एक बात जो उनके घर में छ: साल बीतने के बाद भी संभव नहीं हो पाई थी, वो मेरे और मेरी ममेरी बहन शुभ्रा के बीच के संबंध की मधुरता थी.सेक्सी बीएफ में सेक्सी: इसलिए जब भी मेरा मन करता था, तो तब कॉलब्वॉय बुला लेती और बहुत एन्जॉय कर लेती.

वसुन्धरा का अपने माँ-बाप से इतर रहना, उसके व्यक्तित्व में समायी तमाम बत्तमीज़ी, दबंगई, ख़ुद-पसंदगी और उसके तनहाई-पसंद होने का और मेरे प्रति अनबूझे अनुराग़ का और अभी तक अविवाहित होने का कारण उसके पिता जी का उसकी मुझसे शादी के ख़िलाफ़ लिया गया एक फ़ैसला ही था.उसके बाद भी नम्रता ने खोल को पीछे किया और जो भी वीर्य कण लगा रह गया था, उसको भी अपने जीभ से खींचने की कोशिश कर रही थी.

सेक्सी विडियो एक्स एक्स एक्स - सेक्सी बीएफ में सेक्सी

मैं- आपने कुछ कहा नहीं?दीदी- हां मैं उससे बोली कि ये तुम क्या कर रहे हो … पागल हो गए हो क्या? मैं अभी मधु को बुलाती हूँ.इसके बाद हम लोग नहाए और नीचे रेस्टोरेंट में जाकर खाना खाया और फिर थोड़ा टहल कर रूम में वापिस आये तो मैं चुदने के लिए मरी जा रही थी.

अभी तक उसकी चुदाई करते हुए मुझे बीस मिनट हो गए थे और अब मैं झड़ने वाला था. सेक्सी बीएफ में सेक्सी वैसे हम दोनों रात 11 बजे तक टीवी देखती हैं लेकिन आज पता नहीं सुमीना को क्या हुआ, अभी दस बजे ही कहने लगी- भाभी, मुझे तो बहुत नींद आ रही है, मैं सोने जा रही हूँ.

कुछ ही पल के बाद भाभी ने मेरे कपड़े भी उतार दिये और मुझे भी पूरा नंगा कर दिया.

सेक्सी बीएफ में सेक्सी?

तो उन्होंने मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत पर सैट किया और बोलीं- धक्का दो. मैंने धीरे-धीरे अपनी कमर चला कर शलाका को दोबारा चोदना शुरू कर दिया. आज सीमा जी बैंक की जरूरी मीटिंग में शहर से बाहर गई थीं, तो पिंकी पूरी तरह से चुदने का मन बना कर आई थी.

रानी ने सुपारी की खाल पूरी पीछे कर के सुपारी नंगी कर दी और झुक के सुपारी की कई चुम्मियाँ ले डालीं. ओह हाय क्या बताऊं … क्या नज़ारा था कितनी मुलायम रबड़ी सी चूत भाभी बिल्कुल खुली पड़ी थी. मैंने रोज की तरह उसे बुर चाट कर गर्म किया और जैसे ही वो झड़ने को हुई उससे पहले उसकी बुर चाटना छोड़ दिया.

तो उन्होंने कहा- नहीं, तुम बाहर से आये हो तो गरमागरम खा लो, मैं रोटी बनाकर तुम्हें परोसती हूँ. उसकी चूत में से पानी निकलते हुए मेरे लंड को तरावट देते हुए बेड पर टपक रहा था. लण्ड को वो बमुश्किल आधा इंच ही अंदर बाहर कर रहा था।धीरे धीरे उसने अपनी रफ्तार बढ़ानी शुरू की। उसे अपने लण्ड पर गाँड का कसाव मूंग के हलवे की तरह लग रहा था। लण्ड का अहसास रिया को भी बहुत आनन्ददायक लग रहा था।गाँड के अंदर जो नर्व एन्डिंग्स होती हैं वहां पर रिया को लंड का घर्षण बहुत मजा दे रहा था.

खैर, अपने मन की करने के बाद मैंने अपने मुँह के अन्दर ढेर सारा थूक समेटा और फिर उसकी गांड के अन्दर उड़ेल दिया. उसके बैठते ही मुझे अहसास हुआ कि उसने बेहद हल्की लेकिन बेहद अच्छी किस्म की कोई पर्फ्यूम लगा रखी थी, जिसकी खुशबू मुझे पल पल मदहोश बना रही थी.

रिया के पास चीखें मारने के अलावा कोई विकल्प नहीं था। रमेश को उसमें बेहद आनंद आ रहा था।अब रिया की गांड चुदाई जोर से होने के कारण उसकी गांड से खीर भी बाहर गिरने लगी थी.

उसकी चूत थोड़ा थोड़ा पानी छोड़ने लगी थी, फिर अचानक से वो कड़क सी हो गयी और ‘आह आह आह आह औह.

चूत पर चुम्मा लेते ही भाभी मचल उठीं और बोलीं- तुझे चूत चाटनी आती है?मैं बोला- ब्लू फिल्म में देखा है. नम्रता हल्के-हल्के अपने नाखून गड़ाकर मेरे जिस्म के एक-एक हिस्से को चाटते हुए मुझे सुकून दे रही थी. जब भाभी आ गईं और मैं कुछ नहीं बोला, तो भाभी ने पूछा- क्या हुआ?मैंने अपना ध्यान उनकी चुचियों से हटा कर भाभी से बोला- पानी चाहिये.

मेरी गलती थी कि यदि मैं नेहा की शरीर की जरूरतों का प्रबंध कर देती तो आज ये रोहित हमारे लिए मुसीबत नहीं बनता. अब आगे:मैं चुत चूसने का बहुत ही शौकीन हूँ, तो मैं अब उनकी चुत चूसने लगा. लंड को चूत में जाने में आसानी हो गई थी और लंड धकापेल उसकी चूत के अन्दर बाहर होने लगा था.

दीपिका के कहने पर मैंने संजना और बनर्जी को साथ वाला फ्लैट दिलवा दिया और उन्होंने शिफ्ट कर लिया था.

और मेरी एक बात समझ लो कोमल … अगर जिंदगी में आगे बढ़ना है तो कहीं ना कहीं तो समझौता करना ही होगा. अगर आप और मुझे तकलीफ़ देना ही चाहते हैं तो मैं उसके लिए भी तैयार हूँ. जब भी मौका मिलता था, मैं उसकी साड़ी उठा कर उसकी पैन्टी नीचे कर देता था और नीचे बैठ कर कभी चूत चूमता, तो कभी उंगली से चूत के दाने को मसल देता था, तो कभी मेरे लंड से चूत के ऊपर रगड़ता था या तो मेरी जानू की कोरी चूत के अन्दर लंड डाल देता था.

मैंने उसके बालों को सहलाते हुए कहा- यार एक बात नहीं समझ में आयी, तुम्हारा एक बच्चा भी है, फिर भी तुमको अपने पति से शिकायत क्यों है?नम्रता- मेरा बच्चा तो मेरी नौकरी के चलते अपनी नानी के घर रहता है. उसने बर्फ से मेरी सूजी हुई चुत की सिकाई भी की व मेरे सर की भी मालिश की. मैं तेजी से उसकी चूत मारने लगा और 7-8 मिनट की चुदाई के बाद उसको बिना बताए ही मैंने उसकी चूत में अपना माल गिरा दिया.

मैं- एक बात सुन ले, मेरे इसे लंड कहते हैं और तेरी इसे बुर …उसकी बुर पर मैं हाथ घुमाते हुए बोला.

मेरी कराह निकली- उउइइ म्म्मा …और वो समझ गया कि मैंने चरमसीमा का अनुभव किया है. रात की ट्रेन थी, अगले दिन मुझे ज्वाइन करना था तो वहां पहुँच कर हम स्टेशन पर ही वेटिंग रूम में फ्रेश हो कर तैयार हुए और हम ठीक दस बजे ब्रांच जा पहुंचे.

सेक्सी बीएफ में सेक्सी अब लड़की की चूत की कहानी:मैं एक मकान की तीसरी मंजिल के एक कमरे में रहता था. मैंने दीपिका के घुटनों को थोड़ा और मोड़ा और लण्ड को जोर से मारा तो लण्ड अंदर बच्चेदानी को जा लगा और दीपिका जोर से मजे में चिल्लाई- हाय … माँ, मार दिया जालिम ने.

सेक्सी बीएफ में सेक्सी आखिर चाल बिगड़ती भी क्यों नहीं, जिस बुर में कभी उंगली तक नहीं गयी थी, आज उसमें वो पूरा का पूरा लंड लेकर बैठी थी. इसके बाद वो दोनों अलग हो गए और कुछ देर बाद तैयार होकर ऑफिस को निकल गए.

शिखा ने खुद ही मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मेरे लंड को अपनी चूत पर टिका कर मुझे किस करने लगी.

देसी देवर भाभी की सेक्सी

अचानक उन्होंने उंगली चुत से बाहर निकाली, तो मैं व्याकुल हो गयी और नाराजगी से उनकी ओर देखा. लंड घुसवाते ही मुझे बहुत दर्द हुआ … क्योंकि बहुत दिनों के बाद मेरी चूत ने लंड लिया था. भाभी की छोटी सी योनि पर किस करते ही भाभी ने मेरे मुंह को उनकी योनि पर दबा दिया और कहने लगी कि इसे चूस लो.

दो तीन दिन यों ही बीत गए लेकिन इन दो तीन दिन में उनकी गांड और हाथ कई बार मेरे लंड से टच हुए और उनके बार बार झुकने से उनके बूब्स भी दिखे पर मैंने कुछ किया नहीं! क्योंकि मुझे डर लग रहा था कि कहीं यह मेरा वहम निकका की वो मुझे उत्तेजित कर रही है. वो बिलबिला गई उम्म्ह… अहह… हय… याह… मेरी पकड़ से छूटने के लिए जद-ओ-जहद करने लगी. जैसे ही मैंने चीनी उतारी, मेरी नज़र भाभी की नज़रों पर पड़ी, जो मेरा लंड देख रही थीं.

फिर खुद ही झुक कर अपना खूबसूरत एक स्तन मेरे मुँह में दे दिया और कमर चलाने लगी.

मैंने लंड पेलने के बाद जैसे ही उसका मुँह खोला, वो रोने लगी- अंकल नहीं, निकाल लो इसे, मैं नहीं सह पाऊंगी. फिर मैंने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए और उसके ऊपर चढ़ गया. उनकी पत्नी की उम्र करीब 36 साल लेकिन उनको देख कर कोई नहीं कह सकता कि उनकी उम्र 36 है.

मेरे चाचा पैसे कमाने के लिए सऊदी अरब में रहते हैं और साल में एक या दो महीने के लिए ही इंडिया आते हैं. उन्हीं दिनों गाँव में एक शादी थी, तो दादा दादी को 10-12 दिनों के लिए गाँव जाना था. अगले दिन सुबह उठकर हमने अपने सारे कपड़े बैग में पैक किए और जाने से पहले एक आखरी चुदाई की।और फिर मैंने कार से सुमन को उसके घर पहुंचा दिया।रास्ते में सुमन ने कहा- जिस चीज की मुझे प्यास थी, तुमने पूरी कर दी.

अंकल ने अपना हाथ मेरी पैंटी पर रखा, यह एक तूफान की शुरूवात थी, जो मेरे अन्दर पैदा होने वाला था. अनिल भैया ने पास ही के ड्रावर में से लिग्नोकान नाम की ट्यूब निकाली और मेरी गांड में उसकी पाइप को अन्दर तक डाल कर दवाई को अन्दर तक डाल दिया.

मैं तो सच में खुशी से पागल होता जा रहा था क्योंकि अब इतनी खूबसूरत लड़की को चोदने का मौका मिलने वाला था. वो मेरा कमीज उतारने लगा, तो मैंने उसे रोक कर बेडरूम की ओर इशारा किया. दरअसल नेहा इतनी सुंदर और सेक्सी थी कि उसको हाथ लगाते ही आदमी के लंड से पानी निकलने का डर रहता था.

तभी वो अपनी सहेली से बोली- तू बाहर रुक जा … यदि कोई आता है, तो बता देना.

मैं अपनी जांघों को कस कर भींच कर उस चुनचुनहाट पर काबू पाने की कोशिश कर रही थी. सोनल अन्दर से ब्लैक कलर की मोटे कपड़े की पट्टी लेकर आई और उसने मुझे पट्टी बांध दी, जिससे मुझे कुछ नहीं दिख रहा था. मैंने पास ही रखी नारियल तेल की शीशी की उठाई और उसकी गांड पर तेल लगा दिया.

मैं एक हाथ से उसकी बुर में उंगली कर रहा था और दूसरे हाथ उसकी चूचियों के निप्पल की घुंडी मसल रहा था. मैं उनके पीछे पीछे … वो आगे आगे … भागते भागते कभी रूम में, कभी हॉल में … फाइनली भाभी अपने रूम का दरवाजा बन्द ही कर रही थीं कि मैंने उन्हें धकेल कर पकड़ लिया.

मेरे मुँह में उसकी खुद के चूची के निप्पल पर जीभ चलाते हुए देख कर पानी आने लगा था. मैंने जब पूछा- तुम्हारे हस्बैंड के आने का कोई चांस तो नहीं?तो उसने कहा- आप उसकी चिंता छोड़ दो, वो अपनी सीट नहीं छोड़ सकता. और वो एक के बाद एक ऐसे करते हुए मुझसे सब मोबाइल के बारे में जानने लगी पर मेरी नज़र उनके बूब्स पर ही थी और मेरा लंड वापिस तन गया था जो दी ने देखा.

जबरदस्ती हॉट सेक्सी वीडियो

मैं उसके पैरों के बीच में बैठा और उसके चूतड़ों को किस करने लगा, जो बहुत गोरे थे.

वो बोली- नहीं मुझे पहले अपना एम बी ए पूरा करना है … फिर शादी करूंगी. उसके ज़ोर ज़ोर से धक्का देने से मेरी चूत में दर्द के साथ साथ मज़ा भी आ रहा था … और मेरी ‘आआहह …’ निकलना बंद ही नहीं हो रही थी. लगभग बीस मिनट की ज़ोरदार प्यार की जंग के बाद मीना एक ज़ोरदार चीख के साथ झड़ गयी, पर मुझमें अभी भी जान बाकी थी और मैं लगातार धक्के लगा रहा था.

इसके साथ साथ मुझे यह भी अनुभव हुआ कि क्यों मर्द शादी के बाद भी अपनी प्रेमिका के साथ सम्भोग करना पसंद करते है. मैंने देखा कि अब शलाका भी खुद ही अपनी गांड को मेरे लंड की तरफ धकेल रही थी. सेक्सी पिक्चर सील तोड़नाअभी तक तुम्हारे अन्दर की गर्मी शांत नहीं हुई है क्या? जो फिर से मुझे उकसाने के लिए मेरे पीछे पड़ी हो.

एक दिन जब मैं सोकर उठा तो देखा कि चांदनी भाभी मेरे घर में आई हुई है. अब तक आपने पढ़ा था कि नम्रता और मैं खुली छत पर नंगे घूमने का मजा लेने लगे थे.

झड़ने के बाद वो मीरा के बाजू में बेड पे लेट गया और अपनी सांसें काबू में करने लगा. उस स्टोर रूम में सिर्फ अम्मी एवं अन्य घर के सदस्य को छोड़कर कोई नहीं जाता है. शादी के दिन से ही उनके मोटे लंड की जोरदार चुदाई से मैं संतुष्ट होती आ रही हूँ.

मैंने अपना अंडरवियर भी उतार दिया और अपना गर्म लौड़ा उसके हाथ में दे दिया. मैंने अपनी जुबान से उनकी चुत का दाना भी खींचते हुए चूस दिया, इससे वो बिलबिला उठीं. ओके सर!” मैं धीमी आवाज में बोली और रवि सर के सामने पड़ी कुर्सी पर बैठ गयी.

फिर चूत से गांड की तरफ, फिर कूल्हों को मसलते हुए कूल्हों को फैला दिया.

मंत्र-मुग्ध होकर नम्रता उठी और गोल-गोल होकर नाचने लगी, उसकी पायल की झनकार मेरे कानों में रस घोल रही थी. जब बाल कैंची से कटना बंद हो गए, तब मैंने उसकी चूत को रूई से पैक किया और रिमूवर को अच्छे तरह से लगाकर कुर्सी को एक किनारे हटा कर नम्रता को घुमा कर उसके कूल्हे को चितोरने लगा.

उस वक्त हरकेश बिस्तर पर लेटा हुआ था और सुमन उसके लंड पर कूद रही थी. मैं उनके पीछे पीछे … वो आगे आगे … भागते भागते कभी रूम में, कभी हॉल में … फाइनली भाभी अपने रूम का दरवाजा बन्द ही कर रही थीं कि मैंने उन्हें धकेल कर पकड़ लिया. मुझे पापा का पार्सल लेकर एयरपोर्ट जाना था, तो मैं एयरपोर्ट निकल गया.

जी भर के कूल्हे को मसलने के बाद मैंने उसके कूल्हों को फैलाया, तो उसकी काली-भूरी गांड का छेद खुलकर सामने आ गया. उसने बताया उसका पति एक अखाड़े का पहलवान है, उसका लंड बहुत बड़ा और मोटा है. सीमा की कामुक सिसकारियों की आवाज से कमरा जल्दी ही गूंजने लग गया।सीमा की चूत को मैंने लगभग 25 मिनट तक अपने खीरे जैसे लंड से रगड़ा.

सेक्सी बीएफ में सेक्सी अपनी कुंवारी बेटी को अपना लंड चुसवा कर मुझे कितना मजा आ रहा था, मैं बयां नहीं कर सकता. ’मेरी सीत्कार सुनकर उसने मेरी बांहों में अपनी बाहें डाल दीं और पूरे मज़े से मुझे चोदने लगा.

𝐭𝐞𝐥𝐮𝐠𝐮 𝐬𝐞𝐱

जब वो मेरे बदन के साथ चिपक कर लगी हुई थी तो मेरे अंदर की हवस और ज्यादा जागने लगी थी. उसके द्वारा की जाने वाली चुंबन के बरसात से मेरे तन में वासना की आग ज़ल उठी और मेरा लंड इस्पात की तरह कठोर होता चला गया. मेरी चूत को सूंघने के बाद वो मेरी चूत को पेंटी के ऊपर से ही सहलाने लगा.

जो वहां से कुछ दस मिनट की पैदल दूरी पर था।वहां पहुंच कर मैंने देखा कि नवाजू दिन सिद्दीकी की मदारी फिल्म लगी थी. इसमें मेरे चूतड़ों के उभार हिल रहे थे और साथ ही में मेरी पेंटी की इलास्टिक भी साफ़ नुमाया हो रही थी. सेक्सी बीपी पोलीसउसको इस बात का अहसास हो गया कि उसका लंड खड़ा होने लगा था, तो वो मुझसे छूटने की कोशिश करने लगा, लेकिन मैंने उसको और जोर से अपनी छाती से लगा लिया.

अपने दोनों हाथों की तर्जनियों और बड़ी उँगलियों के बीच वसुन्धरा के दोनों कानों की लौ ले कर हल्के-हल्के सहलाने लगा.

सीमा और नील की चुदाई की कामुक स्टोरी ने वाकई मेरा लिंग कड़ा कर दिया था. पानी गर्म करने के लिये वो एक बर्तन नीचे की शेल्फ से निकालने के लिये झुकी, मैंने झट से उसकी गांड घिसाई झट से कर दी.

नमस्कार दोस्तो, मैं आपका दोस्त प्रतोष सिंह हाज़िर हूं एक और चूत और लंड को कड़क कर देने वाली कहानी के साथ!और इससे पहले कि मेरी दो कहानियाँगर्लफ्रेंड की गांड गार्डन में चोदीबस स्टॉप के पीछे गर्लफ्रेंड को चोदाप्रकाशित हो चुकी हैं जिन्हें आप सब ने पढ़ा और सराहा. तब मुझे मेरे दोस्त ने अपने मोबाइल में एक वीडियो दिखाया और उसने बताया कि औरतों की टांगों के बीच में चुत होती है. एक बार तो मेरा मन हुआ कि आज ये मस्ती के मूड में है, दबा कर देख ही लेता हूँ.

अब मेरी सास रोज़ ताने मारती कि मेरे पापा ने कोई दहेज़ नहीं दिया और सिर्फ थोड़े से पैसे लगाए शादी में.

मेरे पति के दोस्त ने मुझे नंगी करके मेरे बूब्स पर चुम्बन की बौछार कर दी. मैं कुछ ज्यादा ही सोच रहा था कि तभी शुभ्रा की आह-ओह, सी सीईई ईई की आवाज़ से मेरी तंद्रा भंग हुई तो मैंने देखा कि शुभ्रा भी आंखें बन्द किये हुए मेरी जीभ का मजा ले रही थी, जबकि उसकी सलवार और पैन्टी अभी भी कमर के नीचे थी. कुछ ही पलों में आनन्द का सैलाब बढ़ा, तो हीना ने अपने पैरों को और फैला दिया.

सेक्सी गुजरइसके बाद उसने लंड चूत के मुँह पर सटाया और हल्के से अपना लंड मेरी चुत पर रगड़ने लगा. मैं कभी-कभी मॉडर्न सलवार सूट पहन कर भैया के घर जाती थी जिसमें से मेरी ब्रा और पेंटी का रंग बिलकुल साफ़ दिखाई देता था.

संजय दत्त सेक्सी वीडियो

फिर मैंने उसे सहारा देकर खड़ा किया और वाशरूम में ले गया और उसे पट्टे पर बैठा कर उसकी जांघें दायें बाएं खोल दीं फिर गीजर के गुनगुने पानी से उसकी चूत को आहिस्ता आहिस्ता धो दिया और कुछ देर गर्म पानी से सिकाई भी कर दी जिससे उसे काफी आराम मिल गया. मेरी दीदी की चुत में मेरे पति का लंड कैसे घुस सका, ये आपको मैं अपनी जीजा साली सेक्स कहानी के अगले भाग में लिखूंगी. मैंने उनके कूल्हों के दोनों और अपने दोनों पैर टिकाए और गांड को उनके मुँह के पास लाकर खड़ा रहा.

तभी मैंने कार से बाहर निकलते हुए भार्गव से कहा- अरे यार मेरे मोबाइल की बैटरी ही नहीं बची है … उसे चार्ज करना होगा … अब क्या करेंगे?भार्गव बोला- तुम चिंता मत करो … कार में केबल है, उससे तुम चार्ज कर लो. मैंने भी मजाक करते हुए कहा कि दिखने में तो पहले जितने ही बड़े दिखते हैं, लेकिन दबा कर देखने से सही मालूम चलेगा. उनकी शादी को दस साल हो चुके थे मगर अभी तक भाभी को बच्चे का सुख नहीं मिल पाया था.

मेरी दोनों बेगमें पूरी गर्म हो गयी, दोनों की चूत पूरी गीली हो गयी, दोनों ने अपना चूत रस मेरे लण्ड पर लगा कर उसे चिकना कर दिया. मैंने कहा- कहां यार तीन-चार राउन्ड ही तो हुआ है?नम्रता- हां तुम्हारा बस चलता तो मेरे बुर का भोसड़ा बना देते, वो तो कुदरत की देन है कि दुबारा तैयार होने में समय लगता है. मेरे काम का समय दस से नौ का होने के कारण मैं यहां कोई गर्लफ्रेंड नहीं बना पाया था.

मेरे लिए ये भी एक अनोखा अनुभव रहा कि आप झड़ भी रहे हैं … और कोई आपको निरंतर चोद रही है. वो बोली- जैसे ही तू मेरे पीछे से हटा और दौड़कर कमरे की तरफ आया, मैं भी तेरे पीछे-पीछे आ गयी.

फिर खुद ही अपने ब्लाउज के बटन्स खोलने लगीं और जल्दी ही 2-3 बटन्स खोल कर अपना हाथ हटा लिया.

और जब बेटी ने बाप से गांड मरवाई होगी तो दोनों को कितना मजा आया होगा?दोस्तो, मैं राकेश अपने दोस्त रमेश और उसकी बेटी की गांड मरवाई कहानी का अगला भाग आपको बताने जा रहा हूं. बिहार वाली भाभी की सेक्सीअंकल जी ने तो चुदाई का इंतजाम कर दिया था बस अब मुझे हिम्मत करके उनसे चुदने जाना था. वीडियो सेक्सी भेज दोउन्होंने हंसते हुए कहा- काश रात में भी तुम अपनी दीदी की जगह की आ जातीं. मेरी ये सेक्स कहानी ज्यादा पुरानी नहीं है, इसे बस एक महीना ही हुआ है.

मगर मैंने अपने मन को समझा लिया कि मैं तो उनकी मदद करने के लिए उनसे बात करना चाहता हूँ.

”क्या पहनेगी?”अब बाहर जा रही हूँ तब तो …”ऐसा कर टाइट टॉप और जीन्स पहन ले। कौन से सड़क पे घूमना है। गाड़ी में जाना है, आ जाना है. आप उस पर ज्यादा ध्यान न दो और कहीं कोई खूबसूरत औरत के साथ सेटिंग कर लो और जिन्दगी का मजा लो. आपको कुछ बुरा लगा हो तो माफी!आगे क्या हुआ कुकोल्ड सेक्स स्टोरीज इन हिन्दी के अगले भाग में!तब तक के लिए धन्यवाद.

मेरी जांघ को चाटते हुए मेरे आड़ू को भी मुंह के अन्दर भर लेती थी।मुझे भी बहुत मजा आ रहा था। इतना करते करते मुझसे बोली- लाला, जरा घूम तो सही, मैं भी तो देखूं कि गांड में कैसा मजा होता है. मेरे साथ उसने भी पानी पिया और फिर वो डायनिंग टेबल के पास खड़ी हो गयी. मेरा लंड उसकी चुत को छू रहा था और हम दोनों की गर्म सांसें एक-दूसरे के मुँह पर टकरा रही थीं.

ब्यूटीफुल साड़ी

दूसरी बिल्डिंग में जो कोई एक-दो लोग दिख भी रहे थे, वो भी बारिश की वजह से छत से चले गए थे. चुदाई करवाते करवाते उन्हें भी ना जाने क्या सूझी कि मुझे धक्का देकर फिर से भागने लगीं. उसने मेरे कूल्हे पर तड़ाक-तड़ाक कर के दो तमाचे जड़ दिए और कुप्पी को गांड के अन्दर डालने लगी.

उधर मैं उसके आने की सोच में डूबी थी और इधर अभी हम दोनों चुदाई में मस्त थे और अभी तक हम दोनों का पानी सिर्फ दो बार ही निकला था.

हां कहते हुए मैंने अलमारी खोल दी और मेरी बीवी ने उन कपड़ों को जिस जगह छुपाकर रखा था, वो हिस्सा दिखाते हुए बोला- इसमें जो पसंद आए ले लो.

वो बोलीं- हां मैं यहां हूँ … क्या हुआ आज बहुत खुश दिख रहा है हर्षद!मैं उनके पास जाकर बोला- हां मां … मुझे जॉब मिल गयी है. फिर मैंने उससे पूछा- दूध पीयोगी?पहले वह ना बोली, फिर अपने आप बोल दी- थोड़ा सा ले लूंगीवो किचन में जाने लगी तो मैंने कहा- आप रुको, मैं ला देता हूँ. सेक्सी पिक्चर भेजो चोदी चोदालंड पर मीना की जीभ का अहसास पाते ही मैं अपने आपको हवा में उड़ता हुआ पाने लगा.

मुझे कुछ दाल में काला लगा कि दीदी मेरे पति के साथ अकेली किचन में क्या काम कर रही है. उसका शौहर इस जन्नत के छेद को बीच में ही छोड़ कर इस दुनिया से चला गया था. वास्तव में कोई भी लड़की उसे देख लेती थी, तो वो उसी पल नितिन की दीवानी हो जाती थी.

लेकिन दोनों में चुदाई की भूख इतनी बढ़ गयी थी कि वो अब ज़्यादा समय तक अकेले मिलना चाहते थे और सेक्स का मज़ा लेना चाहते थे. लेकिन मैं यह नहीं दिखा सकती थी कि मैं अपने मजे के लिए ये सब कर रही हूँ.

मैं बहुत देर तक बड़ी भाभी की चूत में दोनों उंगलियां चलाता रहा और अपना लंड हिलाता रहा.

उस समय मुझमें नई नई जवानी भर रही थी और मेरी कामुकता अपने चरम सीमा पर थी. तीन बजकर पचास मिनट पर मनोज अपने दोस्त के घर क्रिकेट खेलने के लिए चला गया. ये तो मेरे साथ खड़े लंड पर धोखा था, तो मैंने उन्हें फिर से दबोच लिया और उनके मम्मों को मसलने लगा.

ब्लू पिक्चर सेक्सी नंगी तस्वीर पर उनको कुछ फर्क नहीं पड़ा, वे मेरे दोनों हाथों को मेरे सर के ऊपर ले आये और अपने एक हाथ से पकड़ लिया, दूसरे हाथ से मेरा स्तन मसलते हुए हल्के हल्के धक्के देना शुरू कर दिया. अह्ह्ह माआआ आआआ अर्जुन … फ़क मी हार्ड … आह्ह्हह!”अब एक दूसरे को चूसना बहुत हो चुका था मेरी चूत एक जोरदार चुदाई मांग रही थी।मैं झट से अर्जुन के ऊपर आ गयी उसके लंड को अपने चूत पर सेट ही कर रही थी कि अर्जुन ने गांड उठा कर मेरी चूत में अपना लंड पेल दिया.

कुछ देर लंड चलाने के बाद उन्होंने खुद को मेरे नीचे लिटाया और खुद मुझे लंड पर हिलने को कहा. भाभी ने मुझे बताया कि बहुत सालों के बाद किसी ने उन्हें ऐसा चोदा है. हमने बहुत कुछ खाया बहुत पिया … और फिर से 2 दिनों तक लगातार बस यही सफर चलता रहा.

आम्रपाली दुबे सेक्सी

उसने मैसेज में रिप्लाई किया- ठीक है, लेकिन आराम से करना, कहीं रितेश जीजू को पता न लग जाये. अपनी साली दिशा का इतना हॉट फिगर देखकर एक बात तो पक्की थी कि आज मैं दिशा को पूरी रात चोदने वाला था. मैंने कुछ देर बाद उसकी जींस को भी उतार दिया और उसकी फुद्दी को पैंटी के ऊपर से मसलने लगा.

मुझे बोले- जल्दी यहाँ आकर बैठो और इस फाइल में जो लिखा है, उसको बताओ, मैं सब जल्दी से इसमें लोड कर दूँ. तभी साली जी ने खड़े होने की कोशिश की पर तुरंत ही कमर पकड़ कर बैठ गयीं.

दादा दादी के जाने के बाद वो जब भी मुझसे बात करतीं, तो मुझसे डबल मीनिंग बात किया करती थीं.

मैंने जैसे ही लण्ड का सुपारा चूत के छेद पर लगाया, दीपिका ने अपनी आंखें बंद कर लीं और नीचे का होंठ दाँतों से दबा लिया. मुझे उसके इस तरह लेटने उसकी आधी से ज्यादा चूचियां बाहर को निकलती दिखाई देने लगीं. मैंने ऊपर आकर सारा की चूत पे लण्ड रख कर धक्का दिया, लण्ड थोड़ा सा अंदर चला गया और दिलिया की चूत पर उंगली करने लगा.

फिर बेड पर धुली हुई बेडशीट बिछा दी और तकियों के गिलाफ बदल दिए और साली जी को आराम से बिस्तर पर लिटा दिया और चादर उढ़ा दी. थोड़ी देर बाद मैंने उसके कुर्ते में हाथ डाल दिया, उसकी ब्रा के ऊपर से चूची को दबाने लगा. हम दोनों ही सुध बुध खो कर पूरी तल्लीनता से चुदाई का मजा लेने में लगे थे.

भैया ने मुझे गांड से बिना लंड निकले धक्का दिया, तो मैं बेड पर लेट गया और भैया मेरे सामने आ गए.

सेक्सी बीएफ में सेक्सी: उसके बाद आखिरी चुदाई बेड पर हुई जब भैया ने मेरी गांड के नीचे तकिया लगा कर मुझे चोदा. वो जिस घर में रहता है, उसका मकान मालिक घर खाली करवा रहा है, तो क्या हम उसे अपने घर का ऊपर वाला कमरा, जो खाली पड़ा है, दे दें?थोड़ा मनाने पर पिंकी राजी हो गई.

सफाई करते करते वहाँ मुझे कंडोम का पैकेट मिला और एक 72 घंटे के अन्दर खाने वाली गर्भनिरोधक गोली का पैकेट मिला. घर जा कर अर्चना को याद कर के मैंने रात में तीन बार मुट्ठ मारी क्योंकि उसकी उठी हुई गांड और तने हुए बूब्स मेरी आंखों के सामने सपने जैसे चल रहे थे. उसकी आंखों में आंखें डाल कर बोला- अभी वापस जाना है क्या?उसने शर्म से आंखें नीचे कर लीं, मगर बोली कुछ नहीं.

आधे घंटे की इस जीभ और मुँह से हुई चुदाई से मैं मदहोशी में बस मरने ही वाला था.

इतना सुनने के बाद मैं उसके मुँह की तरफ आया और उसके सिर को अपनी हथेली पर लेकर उठाया और लंड को उसके मुँह पर ले गया. बस राज बस! मेरे लिए आपकी आँखों में आंसू आये, मैंने दोनों जहां पा लिए. घर जाने के बाद मैंने अपनी चूत को साफ़ किया और उसके बाद नहा कर मैं सो गयी.